पंजाबी भाषा बीएफ

छवि स्रोत,काली फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू पिक्चर की सेक्सी: पंजाबी भाषा बीएफ, उसने बड़ी अदा से सिगरेट का कश खींचा और धुंआ के छल्ले उड़ाते हुए कहने लगी- आज कई साल बाद बियर पी रही हूँ … पहले बार हस्बैंड ने पिलाई थी … उनके साथ ही पी लेती थी.

सेक्सी भेज दे भाई

मगर उसकी जवानी को देखते हुए मुझे लग नहीं रहा था कि ये मुझे आसानी से छोड़ेगी. वीडियो में राजस्थानी सेक्सीमैंने उसे इतना डरा दिया था कि वो रात को सोता भी था तो मेरी बुर या गांड के पास मुँह लगा कर सोता था.

मॉम- आह आह आह … चोदो मेरे राजा फाड़ दो इस चूत को … बना दो इस का भोसड़ा … चोदो मेरे राजा … चोदो बहुत प्यासी है यह चूत. सेक्सी पिक्चर विद्याइसके लिए मैं शायरा के रसीले होंठों का रस पी रहा था ताकि अपने लंड को एक्सट्रा एनर्जी दे सकूँ.

वैसे तो थोड़ी देर पहले हुई चुदाई के कारण उनकी चुत अभी तक गीली ही थी.पंजाबी भाषा बीएफ: लेकिन मेरी नजर अब भी उसके लौड़े पर अटकी हुई थी और विजय ने ऐसा करते हुए मुझे कई बार पकड़ लिया.

उसने हंस कर कहा- अच्छा जी, कौन सा गाना याद आ गया … ज़रा मुझे भी सुनाओ.मैंने अपने लण्ड पर वेसेलिन लगायी और मालविका की गांड में अपना लण्ड पेल दिया।मालविका की गांड में मैंने पूरा लण्ड एक बार घुसा दिया जिससे कि मालविका का पहना हुआ डिल्डो 7 इंच तक सौरभ की गांड में घुस गया।सौरभ की गांड फट गई उसकी चीख निकल गयी, वो मालविका को गाली देने लगा।उसने पीछे देखा कि मैंने मालविका की चुदाई शुरू कर दी है, मैं मालविका को धक्के लगाता, गांड सौरभ की फट जाती.

पंजाबी ब्लू सेक्सी पंजाबी - पंजाबी भाषा बीएफ

उधर से मस्त महक आ रही थी, उसकी बगलें साफ़ नहीं थीं … थोड़े से छोटे छोटे बाल थे.वे मेरे लंड को हाथ से पकड़ कर ऐसे देखने लगे, जैसे नाड़ी चैक कर रहे हों.

ऊपर से शायरा मेरे लंड की ताक़त और बढ़ाने के लिए मुझे अपने पूरे जोश के साथ किस कर रही थी. पंजाबी भाषा बीएफ मैं एक छोटे गांव से था और मेरा कॉलेज गांव से कुछ दूर एक बड़े शहर में था.

इसलिए मैं तो यही कहूँगी कि हो सके तो अपनी कुँवारी चूत को अपने पति के लिए बचा कर रखे।शादी से पहले कुँवारी लड़की का कौमार्य ही उनके लिए बहुत कुछ होता है.

पंजाबी भाषा बीएफ?

रंग से काली थी, मगर भरा-पूरा बदन देखकर लगता था कि बहुत लंड ले चुकी है. वो गांड को ऐसे चला रही थी जैसे वो लंड को चोद रही हो।दोनों की सिसकारियों से पूरा कमरा गूंज उठा. मैंने अपने हाथों से प्रीति का मुँह खोला और अपना लंड प्रीति के मुँह में दे दिया.

राहुल का लंड दिखने में मेरे लंड जितना ही था … शायद इसलिए मुझे कभी शिल्पा की चुत चोदते हुए पता नहीं चल पाया कि इस चुत में मेरे अलावा और किसी का लंड भी घुस रहा है. मेरे दोनों दूध भी दबाओ, मेरी गांड भी मारो और मेरी चूत में भी अपना रस डाल दो पूरा. हालांकि उसने कपड़े पहने हुए थे लेकिन उसके बदन की कोमलता मुझे अपने बदन पर अलग से महसूस हो रही थी और उसके जिस्म की ये छुअन मुझे उसकी जवानी को निचोड़ देने के लिए उकसा रही थी.

मुझे शायरा की‌ अब गोरी चिकनी नंगी गर्दन महसूस हो रही थीं मगर ना तो शायरा कुछ बोल रही थी और ना ही मैं कुछ बोल रहा था. मैं रंगोली को आईने में देख रहा था कि चुदाई देखते देखते उसका चेहरा लाल होने लगा था. इतनी चिकनाई होने के बाद भी जब लौड़ा उसकी चूत में घुसने लगा तो उसकी आंखों से पानी बह निकला.

मुझे हिलता देखते ही अनामिका तुरंत लंड छोड़ कर फिर से सोने का नाटक करने लगी. लेकिन पता नहीं वह सच बोल रही थी कि झूठ?या फिर पहले से ही दोनों की प्लानिंग थी?दोस्तो, आप लोगों को क्या लगता है? आप लोग मुझे मेल करके बताना।जब उसकी मामा की लड़की अन्दर कमरे में गयी तो उसकी नजर मेरी पुरानी वाली ब्रा पैंटी पर पड़ी.

ऐप इंस्टाल कैसे करेंअब तक आपने मेरी इस सेक्स कहानी में पढ़ा कि मेरी ऑफिस में मेरे सतह काम करने वाली एक लड़की शिवानी ने मुझे एक पैकेट दिया.

वो भी मेरा लंड अपनी प्यासी चूत में डलवाने के लिए गांड हवा में उठा रही थी.

वीर्य से सनी दादी की चूत साफ करके मालू ने दादी से पूछा- दादी मैं थोड़ी देर के लिए बगल वाले कमरे में जाऊं. अब मैंने सोच लिया था कि मुझे इसके साथ अपनी फंतासी पूरी करनी है, जिसके लिए जल्दी जीएफ़ भी रेडी नहीं होती है. वहां पर उसके मामा की लड़की भी तो है।दीदी के घर से रोहित का कमरा करीब चार पाँच किलोमीटर दूर था.

मैं चाहता था कि वो मुझे अपना माने और उनके दिल में मेरे लिए थोड़ा प्यार रहे … इससे शारीरिक सुख कई गुना बढ़ जायेगा. दोस्तो, उसका लन्ड चूसना भी क्या लाजवाब था। वो जीभ से सुपारे को छूती और फिर गले में पूरा अंदर तक डाल लेती।लन्ड मुंह में डालते वक़्त सावधानी रखती कि कहीं रगड़ न लग जाये।ये सब बातें मैं उसे बताता जा रहा था।2 मिनट में ही मुझे वह आनंद आने लगा जिसके लिए मैं 1 घण्टे से मेहनत कर रहा था।मैं चरम पर पहुंच गया और मेरा माल निकलने को हो गया. पता नहीं क्यों … शुरू से ही मेरे पीछे बहुत लड़के पड़े थे लेकिन मैं किसी को भी घास नहीं डालती थी।जब भी मैं अपनी दीदी की ससुराल में रहने के लिए जाती तो रोहित खूब मिलता बातें करता!उसने मुझे बहुत सारे गिफ्ट भी दिये.

मैंने कहा- क्या करते हैं?वो बोली- सेक्स।अभी मैं उसको लंड देने के मूड में नहीं था.

आरिषा- क्यों नहीं पी सकते … और वैसे भी तुम अभी क्या कह रहे थे कि भाभी अगर कोई प्राब्लम हो, तो बताइए. मैं उसको चूमते हुए उसके उभारों को चूसते चबाते हुए उसकी चुत पर जैसे ही अपने होंठों को रखा, रिचा जल बिन मछली की तरह तड़प उठी. मैं तो नहीं पहचान पाया किंतु वो मुझे देखते ही पहचान गयी।उसने खुद सामने से बोला- अरे … तुम सनी हो न? कैसे हो? इतने दिनों बाद दिखे हो.

मुझे घर पहुंचने से ज्यादा दूसरे दिन का इंतजार रहता ताकि मैं डॉक्टर से मिल सकूं. उसका लंड अब तक अपने पूरे शवाब पर था, जिसको उसने मेरे सामने बाहर निकाल कर पूरी तरह से आज़ाद कर दिया था. सपना आहें भरने लगी थी।अब मेरे अंडरवियर को अंशिका ने उतार दिया। उसके बाद मैंने अंजू की चूत के अंदर जीभ डाली.

उस औरत ने घाघरा घुटनों तक किया हुआ था और वो आदमी कभी घाघरे में हाथ डाल कर उसकी चूत में उंगली कर रहा था.

कैसे? मैं अपनी चूचियां बड़ी करवाने डॉक्टर के पास गयी तो उसने मेरे जिस्म से खेल कर मेरी वासना जगाई और मेरी बुर खोल दी. वह रूम में चाय लेकर आया और बोला- शालू चाय पी लो!हम दोनों ने साथ बैठकर चाय पी और काफी देर तक बातें की.

पंजाबी भाषा बीएफ मैं ये भी सोच रहा था कि कहीं इसका कोई नकारात्मक परिणाम तो नहीं निकलेगा. फिर उसने मुझे एकदम से पलटा और मेरे पेट पर हाथ बांधकर मेरी गर्दन पर पीछे से किस करने लगा.

पंजाबी भाषा बीएफ डॉक्टर साहब ने पूछा- भाई साहब आजकल कहां हैं? इधर कब आए?डॉक्टर साहब ने मुझसे शिकायत की कि मिलते ही नहीं हो. मैंने बोला- खुद से क्यों … मैं तो हूं!मेरी सास ये सुनते ही बोल पड़ीं- अगर प्राची को पता चल गया तो?प्राची मेरी पत्नी का नाम है.

अपने दोनों हाथ मेरे पीछे लेजा कर ब्रा की हुक भी उन्होंने खोल दी और मेरे दूध आजाद होकर उनके सामने तन गए.

बीएफ हिंदी बीएफ वीडियो बीएफ

प्लेट रख कर वो पलट कर चली गई और मैं उसकी उभरी हुई गांड को देखने लगा. कुछ देर तक करने के बाद उसने अपना हाथ लंड की तरफ बढ़ा दिया और फिर वहीं मैंने उसे अपना लंड चुसवाया. मैंने उस पर पूरा झुकते हुए उसके होंठों को अपने होंठों की गिरफ्त में लिया और लंड को हल्का सा दाब दिया.

हिंदी सेक्सी चुदाई कहानी मेरे नयी नवेली भाभी के साथ चूत चुदाई की है. आज उसने अपनी चूत स्पेशल वेक्सिंग कर ली, पता नहीं मनोज क्या बवाल बना दे और उसे सुनील के साथ …खैर 12 बजे करीब मनोज का फोन आ गया कि उसने सुनील को रिसीव कर लिया है. मैं शाम को चार बजे उठा, चाय पीकर सीधा ट्रेवल वाले से मिला और हनीमून का प्रोग्राम सैट करके वहां से एक निकला.

मुझे नहीं पता था कि ऐसा भी हो सकता है कि कोई लड़की अपने मम्मों को भींचते हुए मालिश करे.

पिंकी अलग हुई, पर उसे अहसास था कि कोई भी अलग नहीं हुआ है और ऐसे में लाईट खुलना पता नहीं ठीक होगा या नहीं!तो उसने एनाउन्स किया- मैं लाईट खोल रही हूँ. कुछ ही देर में वो कामुक आवाजों में आह आह की मधुर ध्वनि निकालने लगा. मैंने उसके मम्मों को हाथ से दबाया, तो उसने मेरे हाथ को अलग कर दिया और मेरी टी-शर्ट को ऊपर करने लगी.

मैंने भी देरी ना करते हुए बचे हुए दोनों हुक खोले और इससे पहले कि वो हाथ पीछे करके ब्लाउज को शरीर से अलग करतीं, उनके ब्रा से बाहर निकले हुए स्तनों के हिस्से पर भूखे भेड़िये जैसा टूट पड़ा. आप लोगों के सामने में अपनी नई सेक्स कहानी लेकर दोबारा आऊंगा, जब मेरी मॉम और एक जिम के मालिक के बीच चुदाई हुई. मगर हमें जल्दी थी क्योंकि ज्यादा वक्त होता नहीं था हमारे पास।फिर मैंने उसे लेटाया और अपने लंड पर कंडोम चढ़ाया.

मैंने भी उसी हिसाब से खुद को एडजस्ट किया और दुबारा से अपने चेहरे को उनके चेहरे के पास ले गया. राकेश ग्राहक ले आता है, ये मेरे से माशूक है, मरवा लेता है … कमा लेता है.

पूरा अन्दर घुसा डाला … अह्ह्ह … उह्ह्ह … सी … हां!थोड़ी देर बाद भाभी पूरी मस्ती में मुझ से लिपट गई, उनकी चुचियां मेरे सीने में दब गईं. मैं भी पागलों की तरह ‘अहह अहह …’ करते हुए सर को अपने मम्मों का मजा देने लगी. मॉम मेरे लंड को ऐसे चूस रही थीं मानो वो लंड को किसी कुल्फी की तरह चूस रही हों.

मैं स्टडी रूम मैं अपने प्यारे नमकीन दोस्त के उसी के आग्रह पर उनकी गांड मार रहा था कि उनके चाचा आ गए.

उसी समय कंप्यूटर और इंटरनेट आया तो मैं मनोरंजन के लिए इंटरनेट पर बैठने लगा. एक मिनट बाद जब मॉम का दर्द बंद हुआ, तो मॉम भी अंकल को किस करने लगीं. अब आगे हॉट इंडियन भाभी सेक्स कहानी:मैं पीछे की तरफ से भाभी के पास आ गया और पीछे से उन्हें अपनी बांहों में जकड़ कर उनके मम्मों को दबाने लगा.

वो लंड चूसने में इतनी एक्सपर्ट थी कि 6 – 7 मिनट में ही मुझे लगा मेरा निकलने वाला है. मैं बोली- आपका भाई तो बड़ा उतावला हो रहा है, कब से तौलिये मैं अपने लौड़े को तंबू बनाकर मेरे सामने ही बैठा है और इशारों इशारों में मानो ऐसा कहना चाह रहा है कि आजा शालू … बैठ जा मेरे लौड़े पर!भाभी बोली- आये हाय … मैं मर जाऊँ … लगता है आज मेरी ननद मेरे भाई का लौड़ा खाकर ही मानेगी.

चाची के लंड चूसने की वजह से लंड खड़ा हो गया और चाची लंड के ऊपर बैठ गईं. दोनों इतनी देर से एक दूसरे को चोद रहे थे लेकिन दोनों में से कोई अभी तक झड़ने को तैयार नहीं था।सुमन अपने पूरे छिनालपन के साथ सिसियाते हुए पंकज को गाली दे रही थी. मैंने कहा- क्या मतलब?वो बोली कि इसे किसी मस्त लड़के के लंड से चुदवा दूँ.

औरत और कुत्ते का सेक्सी बीएफ

मैंने सर से पूछा- क्या देख रहे हो सर?उनका बेख़ौफ़ जवाब मिला- तुम्हारे बूब्स.

मैंने बिन्नी से फिर पूछा- अब कैसा लग रहा है?बिन्नी- अब कुछ ठीक लग रहा है, आपने तो आज जान ही निकाल दी थी. वो भुनभुनाते हुए निकल गई- मैं नाश्ता बना रही हूं, जल्दी तैयार होकर नीचे आ जाना. अंशिका पहले से ही ज्यादा उतेजित होने की वजह से ज्यादा देर तक टिक न पाई और उसने मेरे मुंह पर अपनी चूत से पिचकारी छोड़ दी.

उसने ये भी बताया कि बड़े चाचा ने उनके मांसल शरीर और बड़े स्तन और बड़ी गांड देखकर ही शादी की थी।मजे की बात तो ये थी दोस्तो कि शादी फिक्स होने के बाद सगाई से पहले बड़े चाचा ने बड़ी चाची कोखेत में चोदाथा. ” महेश ने अपने लंड को बाहर खींच कर फिर से अंदर ड़ालते हुए कहा।उम्म्ह… अहह… हय… याह… पिता जी, ऐसे ही करते रहो … मजा आ रहा है. देसी सेक्सी वीडियो चुदाई कीरामू- भाभी अगर आप बुरा ना मानें, तो मैं एक बात पूछ सकता हूँ?आरिषा- हां बोलो रामू.

वो दो मिनट बाद दीवार के पास आयी और बोली- मरवावगा कती! (मरवाएगा तू तो बिल्कुल)धीरे से मैंने कहा- नहीं, तू मर गई तो मेरा क्या होगा … बस एक किस दे दे और फिर मैं चला जाऊंगा. मामी बोलीं- जैसे तुम्हारी मर्जी राजा … वैसे चाट लो मगर चोद दो मुझे.

मैं जितनी बार चुदती … मेरे मम्मे और चूतड़ उतने बड़े होते जाते।शुरुआत में मेरा शरीर ऐसा नहीं था. वरना कोई न कोई पड़ोसी आ धमकता कि क्या हुआ?अपने मुंह पर हाथ रखकर रेखा ने खुद को चुप कराया और अपने गाऊन से अपने आँसू पौंछ लिये. आज मैं आपको अपने जीवन की दास्तान बताने जा रहा हूँ, आशा है आपको पसंद आएगी और जो लोग अपने जीवन में कुछ नया करना चाहते हैं उन्हें कुछ जानकारी प्राप्त हो सकेगी.

मैंने दरवाजे से कान लगाए तो बस हल्की आवाज में सिसकारियों की आवाजें आ रही थीं. पायल- हां, मुझे दीपाली के सारे राज पता हैं, मैं उससे कह दूंगी, तो वो मॉम को बोल देगी कि मैं उसके घर में हूँ. क्या वो सब सही था? क्या मुझे आगे भी इस तरह की क्रिया में हिस्सा लेना चाहिए?मुझे आप लोगों के सुझावों का इंतजार रहेगा.

अगले दो दिन तो मेरे डर में ही गुजरे, पर जब कोई बात नहीं हुई, तो मुझे समझ में आ गया कि सब कुछ ठीक है.

कुछ महीने बाद हालात कुछ ऐसे बने कि मैंने अपने बच्चे को अपनी मां के पास भेज दिया. फिर उसकी उंगली ने मेरी गांड की दरार में से पैंटी हटाई और उसकी उंगली मेरी गांड के छेद में घुसने की कोशिश करने लगी.

ऐसा करने के बाद उसने मेरी पत्नी के कपड़े उतरवाने में भी मदद की और खुद उसके पास जाकर अपने हाथ से मेरी बीवी के कपड़े उतारने लगी. रामू मदहोश नजरों से भाभी की आंखों में देखता हुआ बोला- तुम टेंशन ना लो मेरी जान. मुझे और भाई को तो घर से निकलने में कोई परेशानी नहीं थी क्योंकि भाई और मेरा रिश्ता तो भाई-बहन का था.

मैं भी उसकी चूची के निप्पल को खींच खींच कर चूसते हुए बुदबुदाने लगा- हां मेरी जान … आज मैं इन दोनों आमों का सारा रस पी जाऊंगा … आह बहुत प्यारी है तुम्हारी चूचियां. मैंने उसका टॉवल खींच कर साइड में रख दिया और उसे नंगी को ही अपनी गोद में बिठा लिया और उसके चुचों को सहलाते हुए कहा- आशा, तुम्हारी चूत सच में ही बहुत लाजवाब है. वो- अच्छा, अभी बताती हूँ तुझे … रुक तू … बड़ा आया बीवी वाला!शायरा मुझे मारने के लिए फिर से दौड़ी मगर तब तक‌ मैं ऊपर अपनी सीढ़ियां चढ़ गया.

पंजाबी भाषा बीएफ हम दोनों ने मम्मी पापा के पैर छुए, फिर सारे लोग ऑटो में बैठ गए और वे लोग चले गए. मैं मोटे लंड से दर्द के मारे जोर जोर से चिल्लाने लगी थी- आह मर गई … ओह आह माह!रवि ने मेरे दोनों दूध पकड़ कर मसले और कहा- अभी तो सिर्फ आधा लंड ही गया है … अभी तो आधा बाकी है.

बीएफ सेक्सी पंजाबी ब्लू फिल्म

इसी तरह कुछ देर मुझे प्रिंसिपल ऑफिस में ठोकने के बाद अभिषेक ने मुझे खिड़की से बाहर किया और खुद भी बाहर आ गया. मैं खींच तान कर उसे अपनी बड़ी चूतड़ों के ऊपर ला पाई।पैंटी मेरे चूतड़ों की दरार में ही फंस कर रह गई. मैंने बोला- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … प्लीज अपना लंड जल्दी से अन्दर डाल दो.

अब आगे:शिवानी ने यह सब मुझको बता दिया और मैं भी तैयार थी ऐसे मौके के लिए. अपनी चुत पर एक गैर मर्द की जीभ का अहसास पाते ही संजू के मुँह से ‘ओहअ … आह … इस्स. पोर्न सेक्सी बीपी वीडियोमैंने उसकी बातें सुनते हुए तौलिया अपने हाथ में ले लिया और उसकी पीठ का हिस्सा पौंछने लगा.

’फिर हम दोनों उठाकर वॉश लेने चले गए, जहां और एक बार अपने प्यार का इजहार कराते हुए डीप स्मूच किया.

उसने बोला- आप बस नीता को मसाज लेने के लिए तैयार करो, बाकी काम मैं कर दूँगा. ऐसा लग रहा था, जैसे जन्नत की हूर ने मेरे लंड को अपनी बुर में जगह दे दी हो.

तुम बाम लगा दोगे?रामू- अगर भाभी आपको कोई दिक्कत नहीं है, तो मैं लगा दूंगा. इतनी मीठी सिसकारियां!इतनी मीठी आहें!इन पर तो जान भी वार दूं तो कम है!कुछ देर बाद ज़ारा ने मेरे कंधों से मुझे नीचे धकेला. उसने आते ही मुझे किस किया और हम दोस्त के घर के लिए निकल लिए, जहां पर हमें चुदाई का नेक काम करना था.

अंदर जाकर मैंने अपने कपड़े उतार दिये और केवल ब्रा और पैंटी में बैठ गयी.

मैं विजय से बोली- हाँ विजय, मुझे पता है तुम्हारा दिल मेरे लिए धड़क रहा है!ऐसा कह कर मैंने उसके गाल पर एक किस कर दिया और उठ कर खड़ी हो गई।जैसे ही मैं खड़ी हुई विजय ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मैं उसकी तरफ घूमी तो उसने एक झटके से मेरे हाथ को खींच कर मुझे अपने ऊपर गिरा लिया. बाहर दरवाजे पर एक 22-23 साल का मस्त, कसे हुआ बदन वाला, गोरा-चिट्टा एक लड़का खड़ा था. मेरे फोन वो दोनों रुक गए और शिल्पा ने उधर ही पड़ा अपना फोन उठा लिया.

सेक्सी वीडियो देहाती देहाती सेक्सीइसके अलावा आप सब से निवेदन है कि कहानी पूरी पढ़िये और अंत में मैंने आप सब पाठकों के लिए एक संदेश भी दिया है तो उसे भी जरूर पढ़ें, ज्यादा बड़ा नहीं है संदेश … पर हाँ कहानी कुछ लोगों को लंबी लग सकती है. साथ ही उनके चेहरे पर मुझे हल्की सी शरारती मुस्कान सी भी दिखाई दे रही थी जिससे‌ मुझे अब झटका‌ सा लगा क्योंकि यह तो शायद स्वाति भाभी की तरफ से मेरे लिये खुला ही इशारा था।मैंने अब भी देर ना करते हुए सीधा ही बाथरूम के दरवाजे को पकड़ लिया और उसे खोलने के लिये अन्दर की तरफ धकेल दिया.

चोदने वाली सेक्सी बीएफ चोदने वाली

आरिषा भाभी की लाइफ अच्छी चल रही थी, पर वो पिछले कुछ दिनों से उदास सी रहने लगी थीं. कुछ देर बाद मैंने उसे पीठ के बल लिटाया और उसकी टांगें ऊपर करके उसकी कच्छी उतारने लगा. रात में दीदी और श्वेता दीदी दोनों ने मिलकर खाना बनाया और हम लोग खाना खाकर सो गए.

जब भाभी ने अपनी साड़ी ऊपर की, तो रामू आरिषा के चिकनी टांगों को देखता रह गया. जब जब उसके हाथ ऊपर बढ़ते, तो वो समझ जाता कि मुझे अच्छा लग रहा है, पर दोनों अपनी मज़बूरी में आगे नहीं बढ़ पाते. मैं भी कामुक हो उठा था तो मैंने भी मज़ा लेते हुए भाबी के मम्मों को चूसना और दबाना शुरू कर दिया.

सेल्सगर्ल- नहीं, सर यहां एटीएम तो नहीं मगर कोई नहीं हम कार्ड से भी पेमेंट लेते हैं. मगर मुझे ये भी मालूम था कि लंड अन्दर जाते ही ये दर्द के मारे चुदाई भूल जाएगी. जाने का उसका मन भी नहीं था और मेरा भी नहीं था … मगर मुझे तो ऊपर होटल में जाकर अपनी वाली के साथ भी शिफ्ट लगानी थी.

अब मैं जोर जोर से सिसकारियां ले रही रही थी- अहह अंह … ओम्हा … उंहमाँ … और चूसो … मेरे बेटे … आह इतने दिन से तुझे क्यों नहीं पा सकी … आह. ऐसे ही बातें करते करते हमने डिनर किया, फिर मैं ऊपर अपने कमरे में आ गया.

मुझसे जो भी जुड़े हैं या मैं जिनसे भी मिला हूं, मैं उनकी गोपनीयता भंग नहीं कर सकता हूँ.

यह सर्दियों का समय था, भाभी मेरी तरह जाग नहीं रही थी … वह रजाई में आराम से सो रही थी. सेक्सी सरकाररिचा भी खुलकर पूरी मस्ती में अपनी गांड मेरे लंड से रगड़ रही थी और मैं भी अपना लंड उसके चूतड़ों की दरार पर रगड़ रहा था. सेक्सी कहानी जीजा साली कीजब मेरे लंड ने सरनी की फुद्दी को टच किया, तो वो फिर से खड़ा होने लगा. मुझे मालूम था कि आप किस ट्रेन से आ रहे हैं, तो मैं आपकी ट्रेन की लोकेशन अपने मोबाइल से चैक कर रही थी.

उस दिन जब मैं वापस अपने रूम में आया तो मेरा साथी मुझे छेड़ते हुए बोला- क्या बात है यार, आजकल बाजार में तेरी डिमांड बहुत बढ़ रही है.

वे अपना फनफनाता हुआ लंड मेरे मुँह के पास लाये और मुझसे लंड चूसने का बोलने लगे. अमित- जान, जब तुम दो दो मर्दों से चुदाई का मज़ा लोगी तो कितना मज़ा आएगा. फिर जैसे कि ज्यादातर हर लड़कियों वाला सवाल ‘ये बहुत बड़ा है, अन्दर नहीं जा पाएगा.

कुछ देर हम दोनों यूँ ही प्यार मुहब्बत की बातें करते रहे और मुहब्बत की सभा समाप्त हो गई. जिसकी मुझे कोई परवाह नहीं थी … क्योंकि मम्मों का असली मालिक सिंगापुर में था और मेरी चूचियां और चुत किसी और से अपना इलाज करवा रही थीं. उसने मेरे सिर को पकड़ा और जोर से अपनी चूत में दबाया और नीचे से अपनी चूत भी उठा दी.

इंग्लैंड की बीएफ दिखाएं

तो वो बोले- तुमने कुछ सोचा चुदाई के बारे में?उनके मुंह से चुदाई शब्द सुनकर मैंने झटके से उन्हें देखा और मेरी हंसी निकल गयी. मकान मालकिन- क्यों … ऐसा क्या कर दिया था तुमने?मैं- वो ना … उसकी‌ साड़ी एक कील में फंस गई थी. मैंने कॉन्डम उतार कर गांठ मारी और उसे एक कागज में लपेटा और जेब में डाल लिया.

इसके बाद से जब भी मुझे मौका मिलता, तो मैं अपनी सास कोबाजारू रंडीबना कर चोद लेता हूं.

मेरा लंड अब उसकी गान्ड में चुभने लगा।मैं दोनों हाथों से उसके बूब्स दबाने लगा और वो उसकी गान्ड मेरे लौड़े पर रगड़ने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया और तेल की कटोरी से उसकी गान्ड के छेद में तेल की बूंदें डालकर उंगली से चोदने लगा.

कुछ स्नैक्स वगैरह की कच्ची तैयारी कर ली, बियर फ्रिज में लगा दी और अपने को परफेक्ट कर लिया. मैं तुम्हें बहुत प्यार से पूरा मजा देकर चोदूंगा और अभी आरव के भी आने का डर है. 4k सेक्सीमैं पहनने के लिए अपने कपड़े उठाने लगी, तो अभिषेक बोला- इससे क्या फायदा … वैसे भी अभी कपड़े गीले हैं और ऊपर भीगना ही है.

चूंकि अहाते में कोई आता नहीं था और सब जानते थे कि मैं उधर रह कर पढ़ाई कर रहा हूँ … इसलिए कोई नहीं आता था. कुछ देर बाद मैंने अपना गीला चमकता लंड उसके मुँह के पास किया तो उसने मुँह खोल दिया और मैं लंड अन्दर घुसेड़ने लगा. उस रात में चार बार उसकी चुदाई करने के बाद मैं सो गया और वो भी पता नहीं कब मेरा लंड चूसती हुई कब सो गयी, पता ही नहीं चला.

फिर उसने मेरा चेहरा ऊपर उठाया और किस देते हुए लंड चूसने की रिक्वेस्ट की. ”बात तो मुझे भी करनी थी पर चलो पहले इसकी सुन लेते हैं मैंने कहा- जी बोलें?प्रेम एक खुशखबर है?”क … क्या?”प्रेम मेरा ट्रांसफर पुणे हो रहा है। दरअसल मैंने ही इसके लिए HRD से रिक्वेस्ट की थी।”हूं …”भोंसले आज बड़ा खुश नज़र आ रहा था वरना तो हर समय उसके चेहरा राऊडी राठोड़ ही बना रहता है।वो दरअसल पारू को पुणे में मेडिकल में सीट मिल गयी है.

मैंने उस दिन आंटी से काफी बातचीत की और उनके व्यवहार से मुझे लगने लगा कि मुझे अपना बाकी के समय में से कुछ समय इन लोगों के साथ भी बिताना चाहिए.

जब दादी गर्म होकर पूरे जोश में आ गई तो बोली- एक बार चूत में डाल दे विजय. अगले दिन सोनाली की चूत दुखती रही और मैंने उसको दर्द की गोली लाकर भी दी. मैंने भी उसके बदन पर कपड़ों के ऊपर से ही हर जगह हाथ फिराया और कसके उसके निप्पल मसल दिए.

इंडियन सेक्स वीडियो एचडी सेक्सी पास में खड़ी दिव्या ने भाई को नीचे से नंगा होकर मेरी चूत में लंड डालते हुए देखा तो वो भी अपनी जीन्स को निकाल कर अपनी चूत में उंगली करने लगी. तो ये भी मान गयी और उसके बाद इसने ही ये सब प्लान किया और मैं कल शाम को ही बस से यहां आकर होटल ले लिया।मैंने नीरू के कान में पूछा- हम इसके सामने सेक्स कैसे करेंगे?नीरू- तुम उसकी चिंता छोड़ दो, चलो अब तुम्हारा दूसरा सरप्राइज़ खोल देती हूं.

दो साल पहले मेरे जन्मदिन की एक रात पहले मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे रात को कॉल किया और बोली- कल आपके लिए सरप्राइज है. मीरा ने झट से सीमा की सलवार और पैन्टी उतार दी और फिर कुर्ता व ब्रा उसके शरीर से अलग करके उसे पूरी तरह से नंगी कर दिया. संजू ने जैसे ही लंड को फुंफकारते हुए देखा, वो उसकी विशालता को देख कर आश्चर्यचकित हो गई.

हिंदी में बीएफ जानवर वाला

मैं पागल सा होने लगा और बोला- आह्ह … अब मैं मसाज कैसे करूं जान?वो बोली- मैं ही करूंगी अब जो करना है. यह घटना उस समय की है जब मैं अपनी स्नातक की पढ़ाई के दूसरे वर्ष में था. पर अचानक डॉक्टर ठहर गया और मेरी दोनों चूचियों को बारी-बारी से पीने लगा.

जब मैंने उन्हें कसके गले से लगाया, तो इस उम्र में भी उनके चूचे मुझे काफी टाइट लगे. वो कौतूहल से पूछने लगी- तो इतना बड़ा छोटे से छेद में कैसे जाता होगा!मैं- जब किसी के साथ सेक्स करोगी, तो सब पता लग जाएगा.

तो अब अगली बार इस प्रेम और सेक्स कहानी में आगे लिखूंगा कि क्या हुआ.

मेरा मन कर रहा था कि अभी जाकर अपने मुँह में मामी की गांड को भर लूं और सुबह तक चाटता रहूं. वो पूछने लगी- लोशन किसलिए?तो मैंने कह दिया- चूत की आग को आज में उंगलियों से शांत करूंगा. थोड़ी ही देर में मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। फ़िर हम दोनों ही एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे। उसके बाद नहा कर अपने कपड़े उठाये और नंगे ही ऊपर कमरे में चले गए।हम नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर बातें करने लगे और प्लान करने लगे कि कल जब मौसी चली जायेगी तो उनके जाने के बाद क्या करना है.

तो मैं थोड़ा कड़क आवाज़ में बोला- तो क्या तुम्हरी पिशाब की नाली में कुछ फंस गया था जो तुम उंगली डाल रही थी?वो डर के मारे कांपने लगी. मैं- वैसे मैं तो अब भी तैयार हूँ … आप चाहो तो!मैं भी उनके साथ मस्ती के मूड में बात करने लगा था. मैं चूत को अपनी जीभ से रगड़ रहा था। पहले जीभ को ऊपर से नीचे लाता, फिर नीचे से ऊपर लेकर जाता.

हुआ यों कि कॉलेज खत्म होने के बाद में एक कॉम्पटीशन का एग्जाम देने अजमेर गया था.

पंजाबी भाषा बीएफ: कभी होंठों पर, कभी गाल पर, कभी कान पर, कभी गरदन पर … मैंने उसे बहुत चूमा … सच में बड़ा मज़ा आ रहा था. डॉक्टर साहब अपने स्टाफ से बोले- तुम लोग जाओ, मैं क्लीनिक बंद कर लूंगा.

सन्नी उसकी गर्दन और कान के ऊपर चूम रहा था और उन पर लव बाईट ले रहा था. चार पांच धक्कों के बाद वो जोर से ‘आह आह ओह ओह साहब जी … मैं गयीईईई …’ बोल कर झड़ गयी. वैसे इसके लिए मैंने अपनी भाभी को फोन करके बताया भी … मगर भैया के बिना वो भी कुछ नहीं कर सकती थीं.

इमरान हाशमी ने अब अपनी टी-शर्ट उतार ली थी और वो मल्लिका शेरावत की स्कर्ट को ऊपर खिसकाकर अपने‌ होंठों व हाथों से उसकी‌ गोरी चिकनी‌ जांघों को सहलाने लगा था.

लौंडियां भी चुत की खुजली से लंड की तलाश में रहती हैं और वो सबसे ज्यादा आसानी से सुलभ लंड की तरफ खुद ब खुद झुक जाती हैं. उसने जल्दी से मेरे सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए और कहने लगा- मौसी, आराम से करने का समय नहीं है. फिर धीरे धीरे मॉम ने अंकल के लंड को पूरा मुँह में लिया और चूसने लगी.