भोजपुरी बीएफ इंडियन

छवि स्रोत,नॉर्मल सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ गाली वाली: भोजपुरी बीएफ इंडियन, मनीष सीटी बजाते हुए- क्या बात है साली जी … मुझे नहीं पता था हमारी आधी घरवाली इतनी ब्यूटीफुल है.

सेक्सी डबल सेक्स

अब मैं उनका लंड चूस रही थी और वो मेरी चूत चाट रहे थे।मैं भी उनके लंड के साथ साथ उनके टट्टे भी चाट रही थी. नंगी सेक्सी चालूऑफिस गर्ल Xxx स्टोरी पर अपनी राय देने के लिए आप मुझे नीचे दी गए ईमेल पते पर मैसेज करें.

अब जय का लंड भी राज के धक्कों के साथ ही मेरी गांड में अंदर बाहर होना शुरू हो गया. साली जीजा की चुदाईमैंने कहा- हां, तभी तो तुम्हारी बहू और तुम मेरे लौड़े की दीवानी हो।हम दोनों कुछ देर तक एक दूसरे अंगों को सहलाते रहे.

जब शैली के गले से मादक सीत्कार आना शुरू हुई, तो मैंने धीरे धीरे अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू की.भोजपुरी बीएफ इंडियन: मैंने बुआ को देखा और ढेर सारा तेल लेकर उनकी चूत की दरार में डाल दिया और हाथ से बुआ की चुत को रगड़ना चालू कर दिया.

मैंने अपने लौड़े पर खूब सारा तेल गिराया … और ‘जय हो चूत चमेली की …’ बोल कर उसकी गांड में धीरे धीरे लंड डालना शुरू कर दिया.इससे भाभी की मदभरी सिसकारियां निकलने लगीं ‘आह उफ़्फ़ सीई आहह …’मैं धीरे धीरे भाभी की गर्दन को चूमने और चाटने लगा.

पंजाबी सेक्स पंजाबी सेक्सी - भोजपुरी बीएफ इंडियन

हम दोनों ने बहुत देर तक बातें की, फिर मुझे नींद आने लगी … तो सो गया.अंकल ने सजावट को लेकर खर्चा जानना चाहा, तो मैंने उनसे ही पूछा- आप किसी मैरिज प्लेस के लिए कितना खर्चा मान कर चल रहे थे?अंकल ने कहा- मैंने दस लाख की चैक तो तुम्हें एडवांस के लिए दी ही थी बाकी और जो लगता … वो अलग से.

और जब कभी वो घर पर होती तो उसके मम्मी पापा हमेशा रिश्ते की ही बात करते. भोजपुरी बीएफ इंडियन वह इस सेक्स कहानी के माध्यम से आप सभी से जानना चाहती है कि उसने मेरे साथ सेक्स करके सही किया या नहीं.

काम खत्म करके हमने दिन में जयपुर घूमा और रात का खाना खाकर होटल आ गए.

भोजपुरी बीएफ इंडियन?

मैं तब तक लंड हिलाता रहता जब तक कि मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी न निकले. मैं तेजी से सिसकारने लगा और वो भी जोर जोर से आह्ह … आह्ह … साब जी … आपका लौड़ा … आह्ह … ओह्ह … क्या मजा दे रहा है … आह्ह … हाय. मैं- अच्छा मैं अब चलता हूँ … और इस स्वीट से नाश्ते के लिए शुक्रिया, आज तो लंच और डिनर करने का दिल नहीं करेगा.

मुझे आज शादी में जाना है।इतने में वो बोला- ठीक है मेम, आप फेस एंड हैंड पे आज करवा लो. मैंने एक उंगली उसकी गांड के छेद पर सैट की और गोल गोल घुमाते हुए अन्दर डालने की कोशिश की. अब जब बंगलौर में भाई रहता हो तो बहन हॉस्टल में क्यों रहे?मैं और सोनल एक ही फ्लैट में रहते हैं, दिन में वो कॉलेज में रहती है और मैं अपने ऑफिस!रात हमारी एक ही बिस्तर पर कटती है.

मेरे मन में मॉम को लेकर कामुकता भरी हुई थी मगर माँ बेटे के रिश्ते को लेकर मैं अपनी मॉम को चोदने में हिचक रहा था. संजीव देखने में बहुत भोला था और इस वजह से मेरे मन में उसके लिए एक स्नेह वाली भावना आ गयी थी. दोस्तो, मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी ये देसी GF सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी.

उन्होंने मना कर दिया, मगर मैंने जबरदस्ती अपना नंबर दे दिया और वहां से निकल गया. मैंने उसके दोनों चूचे हाथ में पकड़कर होंठों से होंठ मिलाकर एक करारा धक्का मारा और उसके नाखून मेरी पीठ पर आ गड़े.

मेरी तरफ से तो हमारी शादी से पहले भी हाँ थी और आज भी मेरी तरफ से हां ही है.

जाते जाते उसने पूछा- पंडित, ऐसा प्रेत बार बार भी करेगा तो भी कोई दिक्कत नहीं है.

संजू बड़े चाव से वीर्य को पी गई, लग रहा था कि संजू को भी अब वीर्य पीने में मजा आने लगा था. उन्होंने मुझसे फिर से कहा- तुम प्रॉमिस करो कि यह सब बातें जो हमारे बीच हो रही हैं, वह किसी से नहीं कहोगे वरना कभी भी मैं तुम्हारे साथ नहीं बोलूंगा … और ना ही कभी भी तुम्हें चीज दिलाऊंगा. मैं बोला- मैंने कहा था ना … ऐसी नंगी चुदाई करूंगा कि कभी भूल भी नहीं पाओगी और ना भूलना चाहोगी.

समीना खांसने लगी पर मैंने उसे पानी पिलाया और कहा- कोई बात नहीं … बस हो गया. अब सोनम आगे की कहानी को बतायेगी:दोस्तो, मैं सोनम आगे की स्टोरी बता रही हूं. भूरा बाथरूम की ओर हाथ के अंगूठे से इशारा करते हुए आंखों में शरारत भर कर बोला- सर जी! मैं अब भी तैयार हूं, चलें?मैं- तू नमकीन तो है पर अब चिकना कहां रहा ज्यादा, तू चालू हो गया है.

मेरी पत्नी मेरे बेटे को लेकर मायके गई हुई थी क्योंकि मेरे बेटे की भी छुट्टियाँ चल रही थी.

उन्होंने मुझसे कुछ नहीं बोला, तब मैं समझ गया कि शायद अब मुझे संभोग करने की हरी झंडी मिल गयी. अगले ही पल उसने मुंह खोला और वो मेरे लंड को अपने मुंह में गप्प से अंदर ले गई. हम दोनों ने अपने अपने कंबल ओढ़ लिए क्योंकि बस में बहुत ठंडक हो गई थी.

दोस्तो, थ्रीसम चुदाई की कहानी के पिछले भागगर्लफ्रेंड की सहेलियों संग रासलीला- 6मैं विवान अपनी गर्लफ्रेंड आयशा की दोनों सहेलियों के साथ चुदाई करते हुए आप सभी को थ्री-सम चुदाई का मजा दे रहा था. अब मैं फिर से उस पर भूखे भेड़िये की तरह टूट पड़ा। उसकी चुदास को मैं फिर से भड़काना चाहता था कि वो खुद ही चुदने के लिए मचल उठे. आह्ह … चोद दूंगा तुझे … फाड़ दूंगा ये छेद।इसी तरह 15 मिनट तक चोदने के बाद भाभी झड़ गयी.

कोई पांच मिनट की किसिंग के बाद मैंने उससे कहा- सिर्फ़ किस ही होगा … या और कुछ भी होगा?उसने कहा- किसी ने आपको रोका है क्या? जो करना है कीजिए, पूरी छूट है.

आपकी लड़कियों की टीम तो कल ही वापस हो गयी थी और आप वापस भी नहीं गईं?वो बोली- मैं हॉस्टल की खिलाड़ी हूँ. मैं उसकी इस कामुक इच्छा के आगे झुक गया और उसकी वर्जिन पुसी चूमने के लिए आगे बढ़ा ही था कि तभी कमरे की घंटी बज गई.

भोजपुरी बीएफ इंडियन अब मुझे चोदने से ज़्यादा अपनी बीवी को अपने सामने किसी और से चुदते हुए देखने में बहुत मज़ा आता है. मुझे पूरी नंगी कर के वो भी नंगा हो गया और 69 के पोज बना एक दूसरे की चुत और लंड की चुसाई शुरू हो गई.

भोजपुरी बीएफ इंडियन ज़ारा- तभी तो मेरी सारी बातें मान लेते हो!मैं- अच्छा चलो ठीक है, रात में करेंगे चुदाई! जबरदस्त वाली!ज़ारा- आपसे कान खुश करवा लो बस!मैं- पक्का!ज़ारा- छोड़ो भी!मैं- वादा!ज़ारा- मुकर तो नहीं जाओगे?मैं- नहीं मुकरुंगा जान!अब वो हुयी थोड़ा पीछे और मेरे गाल पर चूम लिया तो मैंने भी उसे चूमकर रात की चुदाई पर मोहर लगा दी. गोलगप्पे की तरह फूली हुई मेरी बुर में अपना थूक लगाते हुए वो मुझसे बोले- बोल? तैयार है न तू?मैं भी उस वक्त बहुत गर्म हो गई थी.

मुझे लगा कि मैंने उससे मदद के लिए कहा भी, तो कहीं वो अभी मुझे ही पकड़ कर गाली ने दे दें.

सेक्स वीडियो बीएफ फुल एचडी

नेहा पीछे से स्नेहा को मारते हुए बोली- क्या आप भी … इसकी बातों में आ जाते हो. गेट वे ऑफ इंडिया, मरीन ड्राइव, जूहू बीच चौपाटी होते हुए एक मॉल में आ पहुंचे, जहां मनीष के एक मित्र भावेश भाई का शोरूम था. मैंने हेलीमा और गुलजान से पूछा- भाभी की चुदाई कैसी लगी?वो दोनों बोलीं- शानदार.

एक बात और कहना चाहता हूं कि आपके जो भी मेल मुझे प्राप्त होते हैं उनको पढ़कर बहुत अच्छा लगता है. मुझे थोड़ा अटपटा सा लग रहा था क्योंकि मैं कंबल के अन्दर सिर्फ़ अंडरवियर में था. पता नहीं आज ये कैसे हो गया?मैं उसे पाना तो चाहता था मगर उसे खोना नहीं चाहता था … क्योंकि शायरा थी ही‌ कुछ ऐसी.

मेरे मुँह से अपनी तरीफ़ सुनकर फिर से उसके चेहरे पर हल्की सी मुस्कान आ गयी- इतना भी कोई कुछ खास नहीं है … बस नॉर्मली आलू के परांठे ही तो बनाए हैं.

अगली सुबह उसका फोन आया कि मुझे ‘वो’ (पोर्न) वाली फिल्म देखनी हैं तेरे फोन में. वो मेरे सर पर हाथ रख कर मुझे दबाते हुए मना कर रही थीं- आह मत करो … गुदगुदी होती है. सामने कल्लू को देखा तो बोली- आज तुम नहीं दिखे तो मैं ही दूध देने चली आई.

पर मुझे क्या पता था, तुम यहाँ मुझे ऐसे मिलोगे और मेरा आधा काम आसान कर दोगे. जब भाभी मेरे लंड को चूस रही थीं, तब मेरी नज़र उन दोनों बहनों पर पड़ी. हम दोनों ही एक दूसरे को पसंद करते थे लेकिन कभी हमारी आमने सामने बात नहीं हुई थी.

मैंने जरा सा लंड बाहर निकाला और फिर से पेला मगर चुत बहुत ही ज्यादा कसी हुई थी. चाहे वो किसी रूप में करे, गुरु बनकर या रति के रूप में। मेरे लिये वो एक मार्गदर्शक बन गयी।मगर इतने वर्षों के बाद आज भी हम दोनों आपस में बेहद खुले हुए बहुत अच्छे मित्र थे किंतु फिर भी बात नहीं कर पाते थे।यही सोचता रहा कि मित्रता पर वासना का बोझ पड़ गया तो वो संबंध कहीं टूट न जाये.

विजय ने मेरी पैंटी में हाथ डाल दिया और मेरी चूत को अपने हाथों में भर लिया. मैं उनकी बातें सुनकर खुश हो गया, लेकिन मैंने अपनी ख़ुशी को संभाला और फूफा जी से कहा कि फूफा जी, मैं अपने घर पर बात करके बताता हूँ. आप लोग मुझे बताएं कि मैं अपनी मॉम को पकड़ कर चोद दूँ या उनके सामने ही किसी लौंडिया को लाकर चोदूं, जिससे मैं भी अपनी मॉम की तरह घर में बिंदास मजा ले सकूँ.

उसके दर्द को देखकर मेरी आंखों में पानी आ गया- जानू इतना दर्द हो रहा था तो रात को क्यों नहीं बताया?रचना ने पहले मेरे आंसू पौंछे और बोली- चलो फिर से चुदाई शुरू करते हैं.

फिर बिना कुछ कहे मेरे होंठ उसके प्यारे लाल सुर्ख होंठों से टकरा गए और हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूमने लगे जैसे कि ये पहली और आखिरी बार का प्यार हो. मेरी बेटी ने सुरेश का कच्छा खींचना चाहा मगर उसके कच्छे के इलास्टिक के साथ ही उसका लण्ड भी खिंचता चला गया. मैंने उसे खुद से ही सटा लिया और अपने बदन से सटा कर उसकी चूचियों को थाम लिया.

तो भाभी ने धीरे से हाथ मेरे लौड़े पर रखा तो लौड़ा पूरे जोश में उछल गया. उधर मेरा मन है कि वो किसी नीग्रो के लम्बे लंड से अपनी चूत का भोसड़ा बनवाए.

मेरा लौड़ा पूरे उफान में था और मेरे अंडरवियर में तोप की तरह मुंह उठाये हुए था. अब उन्होंने मेरे लोअर के अन्दर हाथ डालकर मेरे लंड को दबाया और उसे आगे पीछे करने लगीं. रात को खाने के वक्त मैं खामोश रहा और सरिता आँटी मुझे ललचाई नजरों से देखती रही.

एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी वीडियो

फिर उस लौंडे ने अपने लंड का सारा माल मेरी बीवी के मुँह में ही निकाल दिया.

नहीं तो मेरी‌ ऐसी किस्मत कहां? पर देखो ना उसका नाम लेते ही ये कैसे खड़ा हो गया है. दोस्तो, मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी ये देसी GF सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी. वो मुझे गाली देते हुए बोली- साले कमीने मादरचोद जीजू … अब चोदो मुझे भोसड़ी वाले.

मैंने जैसे ही मैसेज खोलकर देखा तो शशि का मैसेज था जिसमें लिखा था- मैं कम से कम एक घंटा नहीं आऊंगी. उन सभी को मोहल्ले में की शादी में जाना था, सभी लोग जाने वाले थे इसलिए मैं अकेला घर में कैसे रहूँगा, यह प्रॉब्लम थी. सेक्सी वीडियो चुदाई वाली हिंदीउसने मेरी लोअर को खींच दिया और मेरे अंडरवियर का तंबू उसके सामने था.

मित्रो, आप इस सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी बीवी ने अपनी भाभी को मुझसे चुदवायामें मेरी बीवी और सलहज के साथ सेक्स का मजा ले रहे थे. मैं मुस्कुरा दी और मैंने कहा- तू भी दे दिया कर … गाली के साथ चुदाई में ज्यादा मजा आता है.

उसने मेरे हाथ पैर के … और चूत के बाल निकाल कर मुझे एकदम चिकना कर दिया. कार में उसने बताया कि वो मुझे एडमिशन के दिन से चाहती है और मुझसे चुदना चाहती थी, पर कभी बोल नहीं पायी. भाभी अब बहुत ज़ोर से आवाज़ करने लगीं, जिससे हेलीमा और गुलजान का ध्यान हम पर आ गया.

इस पर मैंने जल्दी से अपने आपको अलग किया और भैया से कहा- मेरा मुँह दर्द हो रहा है. उन्होंने मेरी कमर को जोर से थामा और मेरी गांड में कस कस कर शॉट मारने लगे. जौहरा को चोदने के साथ साथ मैं उसके मम्मों को भी जोर जोर से मसल रहा था.

वो मेरी तरफ देखने लगी और बोली- तुम्हें भी … मतलब, मैं समझी नहीं?मैंने कहा- वो मधुर आवाज सुनकर मुझे भी मजा आ गया.

फिर मैंने पैंटी निकलवा दी और दोबारा से उसको अपनी ओर खींच कर अपनी चूत पर उसके होंठों को टिका दिया. मेरी आंखें मदहोशी में बंद हो गईं और वो मेरे एक एक अंग को चूमता हुआ नीचे जा रहा था.

उसने कहा- इस लोशन से थोड़ा मसाज कर दोगे?मैंने कहा- ये तो मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी. वो देखने में अच्छी थी, पर मैंने ध्यान नहीं दिया क्योंकि मैं भी काफी थका हुआ महसूस कर रहा था. वो मेरी बात को समझ नहीं पाई और पूछने लगी- हां तो बताओ कि कल सुबह कितने बजे आओगे?मैंने बोल दिया- एक दिन के लिए जरूरी काम से बाहर जा रहा हूँ.

ट्रेन पूरी रफ्तार में चली जा रही थी और उन दोनों ने भी अपनी चुदाई की ट्रेन मेरी चूत और गांड में चली दी थी. मैंने मज़ाक में कहा- चलो अच्छा है अब मैं तुम्हारे बच्चे की मां बन जाऊंगी. अगले दिन मुझे अपने घर के लिए निकलना था, तो विपिन मेरे पास उस वक्त आया, जब मेरे आसपास कोई नहीं था.

भोजपुरी बीएफ इंडियन वो साड़ी नीले रंग की जालीदार थी।मैंने पहले 1 सेक्सी सी ट्रांसपैरेंट ब्रा पहनी. उसका एक हाथ मेरी चूत पर था, दूसरा हाथ मेरे बूब्स को जोर जोर से मसलने में लगा हुआ था.

झारखंड के बीएफ वीडियो

मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसको धीरे से अपनी और खींचा, तो वो फट से मेरी बांहों में आ गयी और मुझसे चिपक गयी. पैसे देने की बात करोगी, तो मैं तुम्हें बाईक पर लेकर नहीं जा पाऊंगा. मैंने प्रियंका की गांड में जैसे ही लंड डाला … वो मजे से कराह उठी- आह जीजू … बहुत अच्छा लग रहा है.

मैंने उसकी चूत को चूमा, ठीक उसके छेद के ऊपर जीभ को फेरा … तो उसकी तो जैसे सांसें अटक गई थीं. मुझे देख कर मामी ने मुझसे आँखों के इशारे से पूछा कि हो गयी अर्चना की चुदाई?मैंने भी आँखों और होंठों से संतुष्टि का इशारा किया. नंगी वाली ब्लू फिल्ममैं रास्ते में हूं और तेरी तरफ आऊं हूं बाइक लेकर।कुछ ही दूरी पर मौनी मुझे मिल गई और मैं उसको बाइक पर बिठाकर होटल में ले गया.

फिर हमने ऐसी पोजीशन ली कि मेरा लण्ड उसके मुंह में चला गया और उसकी चूत में मेरी जीभ चली गयी.

उन्हें मेरी कोई फ़िक्र इसलिए नहीं थी क्योंकि मैं सुबह से ही कॉलेज की कह कर निकल गया था मगर मैं उस दिन मॉम को लेकर काफी गर्म था तो वापस आकर उन्हें बाथरूम में नंगी नहाते देखने लगा था. मुझे लगा कि कल की घटना की वजह से वो मुझसे नाराज हो गयी होगी या मेरे लिए उसके मन नकारात्मक विचार आ गए होंगे.

मैं उससे मिन्नत करने लगी- जानू, मेरी जान निकल जाएगी ऐसे तो … मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूँ. दोस्तो, मैं कान्हा साहू आपको अपने दोस्त की मदमस्त बहन पीहू की चुदाई की कहानी सुना रहा था. भैया ने मुझसे कहा- लॉलीपॉप को तुम्हें मुँह में लेकर आगे पीछे करना है और करते रहना है, जब तक इसमें से दूध नहीं निकल जाता.

मुझे कमरे में देख कर वो थोड़ा सकपका गई और बोलने लगी- तुम यहां क्या कर रहे हो?मैंने भी बोल दिया- मुझे आंटी ने तुम्हारे रूम में घास चरने भेजा है.

मेरा भी सब्र खत्म हो चुका था और मैंने उसके सिर को पकड़ कर अपने होंठों से लगा दिया. मैंने चुत को देखा तो बुआ ने कनखियों से मुझे ताड़ा और कुछ पैर और फैला दिए. हम दोनों की कमर की रफ्तार बढ़ने लगी और मैं जल्दी जल्दी झटके लगाकर ललिता भाभी की गांड में अपना लंड अन्दर बाहर करके चोद रहा था.

तेल मालिश सेक्सी वीडियोहम दोनों ने दो दो पैग पीए और खाना खाने के बाद मैंने एक सिगरेट जलाई. संजू के गदराए हुए चुचे जोर जोर से हिल रहे थे और संजू मस्ती से चिल्ला रही थी- आह … ओह … ओय मम्मी धीरे से … ओह विक्रम!उन दोनों की चुदाई का हरेक शॉट इतना जबरदस्त था कि संजू की गांड और मांसल जांघें भी पूरी तरह से हिलोरे खा रही थीं.

बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी

हाय दोस्तो, मैं योगी मैं फिर से हाजिर हूँ आप लोगों ने मेरी भतीजा बुआ सेक्स कहानीखेत में चुदाई करके मिटाई बुआ की चूत चुदासको बहुत पसंद किया. अब सुरेश का एक हाथ सोनी की चूची दबा रहा था और दूसरा हाथ उसकी जांघ को सहला रहा था. तो दोस्तो, इस बार आपको सेक्स कहानी में कैसा लगा … प्लीज़ मेल करना न भूलिएगा.

यदि चाची को बैठ कर उठते टाइम देखा जाए, तो उनकी गांड की दरार कपड़ा फंस जाता है जो चाची खींच कर निकालती हैं. आपकी रूपा रानी[emailprotected]विडो सेक्स कहानी का अगला भाग:इस चुत की प्यास बुझती नहीं- 6. वो मेरी चूची दबाने लगा और कुछ देर के मज़े के बाद हम वहां से मेले के पीछे की तरफ चले गए.

जिससे चाची जोर जोर से कामुक सिसकारियां भरने लगीं और हम दोनों 69 की पोज़िशन में एक दूसरे को चाटने लगे. इसका अर्थ ये ही था कि कहीं ना कहीं भगवान भी मुझे उससे मिलवा ना चाहते थे. कुछ देर में मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने उसकी कमर पकड़ी और तेज-तेज झटके देने लगा.

सुहागरात में क्या और कितनी बार चुदाई हुई … ये सब एक दूसरे से शेयर कर चुकी थीं. मैं अन्दर गयी और उसको खोला तो वो उसने एक वन पीस था, जो कि आगे से काफी डीप गले का और बिना बांह का था.

मैंने भाभी को देखा, तो बोलीं- कैसी लगी मेरी सरप्राइज?मैंने कहा- जानेमन मस्त … तुम और प्लानिंग दोनों मस्त.

फिर प्यार से मेरे मूसल को पकड़ा और फिर धीरे धीरे … आहिस्ता आहिस्ता … अपनी गर्म चूत में उतरवा लिया. பெங்காலி செக்ஸ் வீடியோफिर मैं उसको अलविदा कहने लगा तो उसने एक बार मुझे गले से लगाकर थैंक्स कहा. मूवी नंगीमैंने खाना खाया और रात में भाभी से बातें करके अपने रूम में आकर सो गया. अब तो कमरे में ताई की मादक सिसकारियां गूँजने लगीं- आह चोद दे मेरे अमन आह … न जाने कितने दिनों से मेरी चूत की मालिश नहीं हुई.

उसने भी मेरा सर पकड़ा और मेरा मुँह अपने दूध पर दबाते हुए लगाकर मुझे जोर से खींच लिया.

कुछ देर बाद शैली नहा कर बाथरूम से बाहर निकली तो उसने तौलिया लपेट रखा था. मैंने अवकाश में संभोग का प्रबंध करने के लिए अपना नाम पता और मोबाइल नंबर एक ऑनलाइन वेबसाइट में रजिस्टर किया था और चुत मिलने की आस में उस साईट का भुगतान भी किया था. तो मिलते हैं अगली चुदाई कहानी में, तब तक खुश रहिए, मजे लेते रहिए और मजे देते रहिए.

पर मैंने सोचा कि जब भाभी की चूत में आग लगी है और वो सामने से हाथ में लंड पकड़ रही हैं, तो मैं क्यों मना करूं. उसके साथ मैंने क्या किया और मेरे साथ क्या हुआ?दोस्तो, मेरा नाम आतिफ आलम है और मैं अन्तर्वासना का बहुत पुराना पाठक हूँ. विपिन भी हल्के हल्के से ‘आहह … आहह …’ कर रहा था क्योंकि उसे भी अन्दर डालने में थोड़ा दम लगाना पड़ रहा था.

सेक्सी बीएफ वीडियो जानवर वाला

काफी देर तक समीना को एक ही पोजीशन में चोदने के बाद मैंने पोजीशन बदलने को कहा. तभी उन्होंने लंड फिर से मुँह से निकाल कर मेरी टांगों को अपने कंधों पर रख कर मेरी गांड में डाल दिया और फिर से मेरी गांड मारने लगे. लगता है तू आज वापस घर नहीं जाने देगा? मेरी जान‌ यहीं निकालेगा … आह.

वो किसी से ज़्यादा घुलती मिलती नहीं थी … इसलिए ही शायद इतनी चिड़चिड़ी भी हो गयी थी.

पांच मिनट के बाद हम लोग उठकर बाथरूम में आ गए और बढ़िया शॉवर लेने लगे.

मैं उससे मिन्नत करने लगी- जानू, मेरी जान निकल जाएगी ऐसे तो … मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूँ. काफी देर अपना लंड चुसाने के बाद उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ कर अपने नीचे लिटा लिया और खुद मेरे ऊपर चढ़ गया. भाभी एक्स एक्स एक्स वीडियोभूरा के मुंह से बार बार यही निकल रहा था- सर जी … थोड़ा धीरे … आह्ह … धीरे करिये न … आह्ह।ऐसी कामुक आवाजें सुनकर मैं बेकाबू सा हो रहा था.

बाहर पटाखे फूटने शुरू हो गए और सबने मिलकर अधनंगे बदन से न्यू ईयर का वेलकम किया. उसने मेरे शॉर्ट तौलिये को मेरी गांड के ऊपर कर दिया जिससे मेरी गांड पूरी तरह नंगी हो गई और मुझसे चिपक कर निकर के ऊपर से अपना लण्ड मेरी गांड में दबा दिया. इस घटना से उसके अहम् को काफी धक्का लगा और वो क्लास के बाद वो मेरे पास आकर माफी मांगने लगा और फिर से एक चान्स देने की बात कहने लगा.

आपने ये बात इतने दिनों से क्यों नहीं बोली कि आपको अकेले सोने में अच्छा नहीं लगता है. सरिता कहने लगी- वो तो ठीक है, लेकिन जल्दी ही कोई दूसरा जुगाड़ कर देना.

फिर वो अपनी बीवी सरिता की ओर देखकर बोले- ऐसे करते हैं जबतक कोई इंतजाम नहीं होता तब तक यह अपने ऊपर वाले कमरे में ही रह लेगा.

इतना मजा आ रहा था कि मेरे मुंह आह्ह … आह्ह … निकलने लगी और मैं उसके बालों को सहलाता हुआ लंड चुसवाने लगा. ललिता भाभी की चूत ने रसधारा छोड़ दी थी और अब हर झटके से फच्च फच्च फच्च की आवाज आने लगी. मेरे बालों को अपने मुट्ठी में भर कर वो मेरा सर और भी ज्यादा अपने मुँह में दबाने लगी.

देवर भाभी की चुदाई पिक्चर तभी मीना के पति का दोबारा फोन आया और वो पूछने लगा कि कहा पहुँच गयी?मीना ने उसे बताया कि करनाल से निकल चुकी है और अपनी दीदी के घर पहुंचकर फोन कर देगी।फिर मीना मुझसे वहां से जल्दी निकलने के लिए बोलने लगी।मगर अभी मेरा काम पूरा नहीं हुआ था. उनकी मुस्कुराहट के पीछे क्या राज था, वो तो बाद में पता चलने वाला था.

उनका रंग एकदम गोरा है, शरीर एकदम पतला सा और चूचियां भी छोटी छोटी हैं. जैसे-जैसे लिंग अंदर जा रहा था, लिंग को उतनी ही मेहनत करनी पड़ रही थी. हैलो फ्रेंड्स, मैं आपकी रीना चतुर्वेदी एक बार फिर से आपके सामने अपनी सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ.

देसी देसी बीएफ पिक्चर

लण्ड पता नहीं कहाँ समा गया था और फिर दोनों कुछ देर तक बुत की तरह खड़े रहे. ‘आह वीरूऊऊ मैं गईइ …’ कामुक आवाज लगाती हुई रेशमा की फुद्दी का रस मेरे चेहरे पर बहने लगा. फिर कोई बीस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैं और जौहरा एक साथ झड़ गए.

मैंने थोड़ी देर लंड चूत पर रगड़ा और उसके छेद की तरफ करके धीरे से दबाव बनाया, जिससे वह धीरे धीरे अन्दर जाने लगा. ” हां राज, पर जब तक मैं न बुलाऊं … तब तक तुम कमरे में मत आना!”लगभग 15 मिनट इंतज़ार के बाद रचना ने मुझे अन्दर बुलाया.

कचनार की कली अर्चना अपने आनन्द के उन्माद में दोनों हाथों में तकिया भींच रही थी और दोनों टांगें ऊपर हवा में लहराते हुए चुत में जड़ तक सात इंच लंबा लंड के हरेक चोट को हलक में घोंट रही थी.

उसने पूछा- आप क्या करते हो?मैंने बताया- वैसे तो मैं जॉब करता हूँ … लेकिन साइड में ज्योतिष और कर्मकांड, वास्तुशास्त्र का भी काम करता हूँ. अंकल जबरदस्त तरीके से मेरी गांड में तूफानी स्पीड से चोदे जा रहे थे. अपना खड़ा लंड मैंने उसके मुँह में घुसा दिया और मैं खुद उसकी चूत पर टूट पड़ा.

वो बोली- आज रात यहीं रुकूंगी, फिर मैं कल सुबह की फ़्लाइट से दिल्ली चली जाऊंगी. उसके दोस्त ने थोड़ी सी जगह बिल्कुल साफ की हुई थी और वह थोड़ी सूखी घास पर एक दरी डाल रखी थी. राजा साहब शिकार व मनोरंजन के लिए प्रेमिकाओं व दरबारियों के साथ यहां आते थे.

मुझे अन्तर्वासना की हिंदी देसी सेक्स कहानी पढ़ना बहुत पसंद हैं … तो मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी अपनी एक सच्ची सेक्स कहानी आप सबके सामने पेश करूं.

भोजपुरी बीएफ इंडियन: लण्ड चूंकि लंबा था अतः लोअर में सीधा नहीं हो रहा था फिर भी आँटी की चूत पर अड़ गया था. अब मैं खड़ा हो गया और उसका हाथ अपनी कमर पर रख दिया।वो मुझे चूमने लगी.

एक मिनट बाद उसकी चुत एकदम साफ़ हो चुकी थी और मैं एक मस्त मदांध प्रेमी की तरह उसे देखने लगा. लण्ड पता नहीं कहाँ समा गया था और फिर दोनों कुछ देर तक बुत की तरह खड़े रहे. काफी देर तक उसके होंठों का रस पीने के बाद मैं उठा … और उसके पेटीकोट का नाड़ा खींच कर पेटीकोट को निकाल दिया.

पिछले साल मई में सोनी के पापा को मुम्बई से सटे एक उपनगर में एक लड़का पसंद आया.

इस पोज में हेलीमा भी गुलजान की चुत चाट सकती थी, सो वो अपनी बहन की चुत में अपनी जीभ चलाने लगी. सुहागरात में क्या और कितनी बार चुदाई हुई … ये सब एक दूसरे से शेयर कर चुकी थीं. मैं उन्हें कमरे में ले गया और उनको खड़ा करके उनकी पैंटी उतार कर पूरी नंगी कर दिया.