बीएफ में चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर चुदाई वाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

मायजिओ को चोदा: बीएफ में चुदाई, मेरा मन कर रहा था कि अभी अन्दर जाकर भाभी को उल्टा करके उसकी गांड में पूरा लंड घुसा दूँ.

सन 2021 के सेक्सी बीएफ

मैं यह भी जानता था कि उसकी लाइफ में कोई और भी नहीं है क्योंकि अगर होता तो मुझे पत लग जाता. बाप बेटी के सेक्सी बीएफकरीब ऐसे ही 10 मिनट तक घमासान चुदाई के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा, तो मैं समझ गया कि अब वो झड़ेगी.

चाची जी धीरे से बोलीं- तुमने मुझे आज जो खुशी दी है, वह मुझे आज तक नहीं मिली, आज के बाद से मैं तुम्हारी दीवानी हो गई हूं. हिंदी सेक्सी बीएफ साड़ी वाली चुदाईमैं भाभी के साथ बात करने लगा- आप ऐसे कैसे डर गई हो?तो वो बोलने लगीं- अचानक ही कपड़ा आ कर खिड़की पर लग गया, इसलिए डर गयी.

मैं अपने लंड से उसकी चुत को रगड़ रहा था और जब वो अपने आप को बिस्तर से कमर वाले हिस्से को ऊपर उठा कर नीचे गिरती तो चारपाई की एक टाँग नीचे फर्श पर लगती तो आवाज़ आती।अब नेहा के बर्दाश्त से बाहर हो रहा था, वो कह रही थी- अब और नहीं रहा जाता, अब पेल दो!और अब मुझे भी समझ आ गया था कि समय आ गया है.बीएफ में चुदाई: मैं और तेरे ससुर जी दोनों कल शाम को ही तुम्हारे घर आ जाते हैं।अगले दिन जब मेरी सास और ससुर जी दोनों घर पर आए तो मैंने सासू मां से बोला- मम्मी, मुझे कुणाल की बहू के लिए पोशाक और कुणाल के लिए अपने घर की तरफ से कुछ कपड़े और सामान लेना है तो आप मेरे साथ मार्केट चलो.

कहीं गई है क्या?भाभी- अर्चना और उसके अंकल सुबह जाते हैं और शाम को आते हैं.दूसरे दिन जब मैं और मम्मी उनके घर गईं, तो आंटी बहुत शांत शांत सी थीं.

एक्स एक्स बीएफ सेक्सी भोजपुरी - बीएफ में चुदाई

चूंकि मानसी की गांड से अब मैं महरूम हो गया था इसलिए लंड के अंदर ललक उठने लगी थी.पुष्पिका- आजकल के लड़कों को सिर्फ लड़की के साथ कुछ टाइम बिताना होता है.

मैंने अपना लण्ड उसके मुंह में दे दिया तो मजे से चूसने लगी, कुछ देर में बेबी थक गई तो बोली- कितनी देर लगाओगे?अभी कहाँ?”मेरी जान लेनी है क्या?”नहीं, गांड लेनी है. बीएफ में चुदाई सुमन मेरी तरफ देख के बोली- तुम्हें नंगी लड़कियाँ पसंद हैं क्या?मैंने भी बोल दिया- मुझे सिर्फ तुम को नंगी देखना है.

मेरी मां तड़प उठी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’इससे पहले कि वो चिल्लाती … अंकल ने उसे किस करना शुरु कर दिया.

बीएफ में चुदाई?

पहले तो उसने थोड़ा विरोध किया, शायद सिगरेट की गंध उसे बुरी लगी हो, लेकिन मैंने उसे एक लम्बा किस किया. संगीता ने पहले तो एक प्यारी सी मुस्कुराहट से राहुल का स्वागत किया और कहा- चाय तैयार है. वो बोली- अच्छा, तो बात यहां तक आ गई है!कहकर उसने मेरी चड्डी खोल दी और मेरा लण्ड हाथ में पकड़ लिया.

उसके दो साल के बेटे लालू के साथ खेलता रहता था और भाभी को देखता रहता था. कोई 15-20 झटकों के बाद नैना आआह ऊ उ उ ओ ओ हह करके मेरे सीने से चिपक गई. मैं- भाबी प्लीज़ मेरी बात पर यकीन कीजिए … मैंने आज आपको आवाज़ दी थी, आपने नहीं सुना था, तब मैंने परदा हटा कर देखा था, तो आप सो रही थीं.

बस मेरी बीवी की इस छूट का भरपूर लाभ लेने के लिए ही मैंने सोनम और सोना की दोस्ती करवाई. वो बोली- बाप रे इतना बड़ा और गर्म है तुम्हारा ये …मैंने कहा- इसका कोई नाम भी होता है. चाय पीते हुए उसी ने बात शुरू कि वो यहां पे एम बी ए करने आयी है और उसका नाम अदिति है.

मैं पहली बार ट्रक में बैठा था, तो उसने जैसे ही स्टार्ट किया, तो गियर के झटके से मैं एकदम गिरने सा लगा. वो मुझसे बोलीं- सब यहीं करोगे क्या?मैं उन्हें अपनी गोद में उठाकर बेडरूम में ले गया और उन्हें बिस्तर पर लिटाकर उनके ऊपर चढ़ गया.

जब बीयर का हमारा पहला ग्लास खत्म हो गया तो मैं दूसरा बनाने के लिए उठा तो उसने कहा- एक ही बनाना, अब दोनों एक में ही पियेंगे.

कभी बाहर घूमने चले जाते तो कभी साथ में आइसक्रीम खाने के लिए निकल जाते थे.

फिर हम दोनों ने बातें करनी शुरू की, तो उसने फिर से वही सब बताया कि वो जोधपुर में जॉब करके टाइम पास करती है. मैंने भाभी से कहा- क्या सच में आपको मुझसे बेबी चाहिए?तब शायना भाभी ने कहा- हां जी … सच में!मेरी ख़ुशी का ठिकाना ही न रहा. मेरी माँ दूध देने के लिए दूसरे कमरे में गईं, तो अनुषी ने मुझे चकोटी काट ली और बोली- क्या देखना भी भूल गया?तभी मेरी माँ आ गई.

हालांकि इससे पहले मैंने उसे कई बार अपनी बाईक पे बिठाया था, लेकिन आज सब अलग सा था. मैं, भाभी और सोना उसको फुसलाने लगे, मैंने पूछा- सोनम जी, क्या आपका कोई ब्वॉयफ्रेंड है?उसने कहा- नहीं … अभी तो नहीं है, एक था, पर वो बहुत ही बेवकूफ़ था, इसलिए मैंने उससे ब्रेकअप कर लिया. खाना खाकर पहले की तरह ही मैं टीवी चालू करके बैठ गया और मोनी बर्तन आदि साफ करने लग गयी। मोनी अभी भी मुझसे बात नहीं कर रही थी.

मैंने पूछा- कॉलेज में आपका कोई ब्वॉयफ्रेंड था?मामी बोलीं- पहले तुम बताओ?मैंने कहा- जी हां एक जीएफ थी.

मैं घर में बोर हो जाती, माँ से भी कितनी बातें करती, छोटा भाई भी अपने खेल कूद और स्टडी में बिजी रहता. एक बार तो उन्होंने मना किया,लेकिन मेरे दोबारा बोलने पर मेरी रज़ाई में आ गईं. जब उसने उस फोल्ड किये हुए कपड़े को खोला तो मैंने देखा कि वो एक लड़की की पैंटी थी.

मेरा खड़ा लंड देखकऱ वो हैरान हो गईं और बोलने लगीं- हाय रब्बा … तुहाडा किन्ना वड्डा ए जी. सामने से वह औरत बोली- अरे आपको लगी तो नहीं … बहुत जोर से दरवाजा बंद किया उसने. एक दिन उसने मुझसे पूछा- सुना है फर्स्ट टाइम बहुत दर्द होता है?मैं- पता नहीं, मैंने कभी महसूस नहीं किया!सुन कर तेज़ी से हंस पड़ी.

उनकी मैक्सी का गला इतना बड़ा होता था कि अगर भाबी कभी झुकी हुई दिख जाती थीं, तो मुझे उनकी दोनों चुचियां बाहर आती हुई दिखने लगती थीं.

अब तुझे जो करना है सो खुद कर, मैंने तुझे सही रास्ता दिखा दिया है बस!” डॉली ने बात ख़त्म की. गिन्नी अपनी सीट से उतर कर ड्राइविंग सीट पर आई तो मैंने सीट थोड़ा सा पीछे खिसकाई और अपनी टांगें फैलाकर बीच में उसको बैठा लिया.

बीएफ में चुदाई मैं रोजाना रात को बाहर घूमता और सुमन भी अपनी बहनों के साथ घर के बाहर बैठ जाती थी. इधर मेरा हाथ उसकी जांघों से होता हुआ चूत पर पहुंच गया और मैंने उसके क्लिट को सहलाना शुरू कर दिया.

बीएफ में चुदाई फिर मैंने अपने हाथ को साफ करने के बाद अपने लंड को भी साफ किया और मैंने लंड को वापस जिप के अंदर डाल लिया. वो बोली- वापस कर मेरे कपड़े।मैंने तकिये के नीचे से भाभी की कच्छी निकालते हुए कहा- भाभी, ये तो अब मैं वापस नहीं दूंगा।भाभी बोली- क्यों, अब तू औरतों की कच्छी पहनेगा क्या?नहीं भाभी” मैंने कच्छी को सूंघते हुए कहा.

मैंने शर्ट को ठीक किया और जाने लगी तो अंकल ने वापस मुझे पीछे से पकड़ा- नीतू … एक बार फिर से पास आओ ना.

काजल राघवानीxxx

छोटा भाई स्कूल गया था और वो छह बजे लौटने वाला था, मम्मी भी बाहर जाने के लिए तैयार हो रही थीं. मैंने उसके निप्पल को होंठों में दबाया और एक छोटे बच्चे की तरह उसे चूसने लगा. जहाँ चाह वहाँ राह … तीसरे दिन ही वो महिला बॉलकनी में तौलिया फैलाती दिख गई.

पिछले 36 घंटे के बाद मेरे सीने में एक बार फिर से उंगली चली, तो स्वाभाविक रूप से मेरे लंड महराज फुदकना शुरू हो गए. कुछ ही मिनट बाद अंकल जी का लण्ड आराम से सटासट अन्दर बाहर होने लगा और मेरा मन होने लगा कि मैं भी अपनी कमर को ऊपर की तरफ उठा के चुदाई का मज़ा लूं. उसकी पलट कर देखने की वजह से मैं एकदम से हड़बड़ा गया और मैंने खिसयानी हंसी से नजरें झुका लीं.

एक दिन की बात है, उसकी तबियत ठीक नहीं थी, उस दिन वो बाहर अकेली बैठी थी.

वो हंसते हुए बोली- तुम 22 साल के हो चुके हो, तो क्या तुमने अभी तक जवानी के मजे लिये ही नहीं?मैंने कहा- अभी तक मौका ही नहीं मिला. मोटे और बड़े लंड के कारण भाभी चीखने लगीं- ओये माँ … थोड़ा हौले से करो ना … दर्द हो रहा है. दूसरी चूची को उसने 8-10 बार ही चूसा, फ़िर पीछे हो मेरी केले के खम्बे सी चिकनी रानों को चीर दिया.

एक तो ये प्यासी जवानी और उस पर अंकल ने बदन में लगाई हुई आग, मुझे व्याकुल कर रही थी. जब मेरा छेद अच्छे से तैयार हो गया तो एक झटके में सुपारे को मेरी गांड में डाल दिया. चाची- क्या मस्त बॉडी बना ली है जीशान … जिम जाता है क्या?मैं- हां चाची!चाची अब मुझे अपने नीचे करके चूमने लगीं.

मैं उनसे जब भी कुछ कहती हूं, तो मुझे मारते हैं गाली देते है, छोड़ने की धमकी देते हैं. सुनीला- ओके, मैं 11 बजे आकर तुम्हें कॉल कर लूँगी, तुमको मैं होटल के बाहर मिल जाऊंगी.

ऊपर बढ़ते हुए मैंने उसकी चूत पर देखा, तो उसकी बिना चुदी चूत हल्की झीनी सी कैप्री में फूली हुई नजर आ रही थी. मैंने उसे देखा तो मन खुश हो गया- अरे तुम क्यों ले आयी? मैं नीचे आ जाता!नेहा- पागल … ज्यादा हीरो मत बन! कब से चिल्ला रही हूँ, सुनता ही नहीं है. अंकल ने अपना जांघिया उतारा, हथेली में तेल लेकर अपने लण्ड पर मला और मेरी टांगों के बीच आ गये.

मुझे लगा कि बैंक की तरफ से कोई गलती हो गयी होगी।क्यूंकि बैंक अभी होने वाला बंद था तो मैंने अगले दिन पता करना उचित समझा।रात को डिनर करने के बाद मैं और रीना सो रहे थे।तभी मैंने पूछा- रीना क्या बात है आजकल बड़ी गुमसुम रहती हो? पहले तो खूब बोलती थी.

दूध पीने के बाद हमने कुछ देर तक टीवी देखा और फिर आधे घंटे के बाद सब लोग सोने के लिए तैयार हो गये. उसने मुझसे मैसेज करके पूछा कि तुम कौन हो … मैं तुमको नहीं जानती, तुम मुझसे क्या चाहते हो?मैंने लिखा- तुम मेरे लिए क्या कर सकती हो. दिन में तो पापा भी जॉब पर चले जाते हैं, किसी का कोई डर ही नहीं रह गया था.

उस आनंद के लिए आप तैयार रहें जो आपको याराना के अगले भाग में आने वाला है. हम दोनों भी बहन सेक्स करने को एकदम से बेहाल हो चुके थे, लेकिन मजबूरी थी कि चुदाई नहीं कर पा रहे थे.

एक-दो बार तो ऋतु को दर्द महसूस हुआ लेकिन फिर वो भी अजय से अपनी गांड चुदाई का मजा लेने लगी. मैंने बोला- डू यू लाइक इट स्लट ( तुम्हें पसन्द आया मेरी रंडी)उसने हामी में सर हिलाया. उनके घर पर केवल एक ही कमरा था जहाँ वो और में सो रहे थे। लेकिन दोनों में से किसी को नींद नहीं आ रही थी। उन्होंने बात शुरू की और वहाँ आने का कारण पूछा।बात करते-करते वो मेरी गर्लफ्रैंड के बारे में बात करने लगी और अपने बोरिंग हस्बेंड के बारे में बताने लगी। मुझे उस समय ये पहली बार लगा कि शायद वो मुझ से कुछ और भी चाहती है।धीरे-धीरे वो मुझसे खुलने की कोशिश कर रही थी.

नेहा के सेक्सी वीडियो

जब मैं उसकी फैमिली से बात कर रहा था तब उसकी नज़र सिर्फ ऋतु के बदन पर ही थी.

मैंने उसकी तरफ देखा कि ऐसा कौन सा नया खेल है, जिसके नियम बताना पड़ रहा है. तो मैंने उससे कहा- मोनिषा, अगर मैं आपकी कोई हेल्प कर सकता हूं तो आप मुझे बताओ?वो मेरी तरफ बड़ी वासना भरी नजरों से देखने लगी. आंटी ने भी अंकल को कस कर पकड़ा हुआ था और नीचे से अपनी कमर उठाकर धक्के लगा रही थीं.

मैंने सीमा भाबी के कमरे के बाहर खड़ा होकर उन्हें आवाज़ दी, पर भाबी की कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई. इस बार अंकल को उन पर दया आ गयी और दो चार तेज धक्के लगाकर उन्होंने अपना लंड बाहर निकाला. एक्स एक्स एक्स बीएफ बांग्लामेरी गांड पर ज़ोर से चांटे जड़ दिए और पीछे से मेरी चुत में लंड डाल दिया.

उनकी सांसें मुझे जोर-जोर से मेरे चेहरे पर लग रही थीं और मुझे उत्तेजित कर रही थीं. अंकल उन्हें लेके नीचे आने लगे, तभी मैं रूम में सोने की एक्टिंग करने लगा.

मैंने कन्फर्म करने के लिए उससे पूछ ही लिया- मैंने उसको इसके पहले कभी कोचिंग सेंटर में नहीं देखा. मेरा लंड उनकी चुत को चीरते हुए सीधा घुस गया और भाभी की हल्के से चीख निकल गयी. इधर मैं हेतल की बातों को सुनकर हैरान हो रहा था कि वह मेरे बारे में इतना कुछ जानती थी.

रीना ने मेरी आँखों में वासना का अनुभव किया फिर इतराते हुए बोली- उन्होंने मेरी कुर्ती उतार दी, मैं गुलाबी ब्रा में थी। वो पागलों जैसे मेरे बूब्स दबाने लगे, फिर मेरी ब्रा खोल दी और मेरे बूब्स चूसने लगे, मेरे निप्पलों को हल्के हल्के चाटने लगे और बीच-बीच में काटने भी लगे. ये सब देखते मैं उत्तेजित हो उठा, वासना की लहर सी दौड़ गयी मेरे शरीर में. विक्की ने एक मिनट के लिए लंड बाहर निकाला, तो मेरा मन होने लगा कि मैं अपनी चूत में लंड ले लूँ.

मेरी पहली कहानीमेरी प्यासी चुत में मोटा लण्डको पढ़कर सभी साथियों ने मेल करके जो धन्यवाद और प्यार दिया है.

मैं उठा और बेड से नीचे आकर पैंट को वहीं निकाल कर फर्श पर छोड़ दिया. मगर मैं ज्यादा आगे नहीं बढ़ना चाहती थी क्योंकि हिरेन के नींद से जाग जाने का डर था.

वो फिर से बोल पड़ी- मास्टर प्लीज फ़क मी … (कृपया मुझे चोद दे मेरे मालिक)हम्म. चाची ने उससे बोला- देखो, वो तुम्हारे बाप के समान हैं, दूसरे घर के होकर भी पूरे दिन खेतों में देख रेख करते हैं. वसुन्धरा जी! मैं आप से कुछ कहना चाहता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि आप मेरी बात पर गौर जरूर करेंगी.

अब आगे:मैं नीना के घर गई और उसके बाप से इंगलिश पढ़ने की बात कही, तो वह मुझे सोफ़ा पर बिठाकर नीना से बोला- बेटी तुम्हारी सहेली को पढ़ा दूँ, तुम अन्दर जाओ. हम दोनों ने अपनी अपनी आंखें बंद कर ली थीं … और एक दूसरे के जिस्म की गर्मी को महसूस करने लगे थे. वसुन्धरा जी! जिंदगी में एक्सीडेंट्स भी हो जाते हैं कभी लेकिन जिंदगी तो चलती ही रहती है.

बीएफ में चुदाई ”शाम को हम दोनों शोभा के घर पहुंचे। मैं जीन्स और टॉप में और मम्मी साड़ी में। हॉल में 6 लोग बैठे हुए थे। तीनों औरतें हट्टी कट्टी, रोज़ जिम जाने वाली और तीनों मर्द लंबे तगड़े। सब शराब पी रहे थे। हम भी बैठ गए। हल्की फुल्की बातें होती रहीं। शराब का नशा सबको चढ़ने लगा।फिर शोभा खड़ी हुई हाथ पकड़ के मुझे खड़ा किया- चलिए मैं सबका परिचय करवा दूं. मैंने मना करते हुए कहा- आपने जो मुझे मज़ा दिया, मेरे लिए वही बहुत है.

रवीना टंडन का सेक्स वीडियो

कुछ देर मौसी जी ने मेरी पढ़ाई के बारे में पूछा, फिर सोने को बोलकर सो गयीं. उनको मैंने अपना टारगेट इसलिये बनाया था क्योंकि मैं बहुत दिन से देख रही थी कि उनकी कामुक निगाहें हर पल मेरा पीछा करती हैं. जब उसे पता चला कि मैं छोटी मौसी के यहां रहने वाला हूँ, तो वो भी मेरे साथ रहने वहीं आ गई.

जैसा मैंने आपको पहले ही बताया मैं यानि मैं मादरचोद तो हूँ, मैं गंदे इशारे करता हूँ … मगर जबरदस्ती नहीं करता हूँ. उसके बाद मैंने उसको दोबारा से नीचे पटका और दूसरा धक्का दिया तो सोनू की चीख निकलने को हुई और मैंने उसके मुंह पर हाथ रख कर उसके चूचों को काटा और फिर उसके होंठों को चूसने लगा. सरिता भाभी की सेक्सी बीएफलेकिन मैंने उसको ऐसा करते हुए देख लिया और एक कातिल मुस्कान उसकी तरफ छोड़ दी.

थोड़ी देर तक मैं अपने लंड को घिसता रहा, फिर लंड ने एक बारगी फव्वारा छोड़ना शुरू किया, जो सीधे नम्रता के चेहरे से टकराने लगा.

पांच-सात मिनट की चुदाई के बाद ही मेरा पानी निकलने की कगार पर पहुंचने को हो गया. मेरी छाती पर बैठ कर फिर खुद आगे की तरफ सरक गयी जिससे उसकी चूत मेरे मुँह पर आ गई। चूत को मेरे मुंह पर लगाने के बाद सुचिता ने जोर-जोर से अपनी चूत को मेरे मुँह पर रगड़ना शुरू कर दिया.

मॉम डैड कोई काम से गांव गए थे और भाई अपने दोस्तों के साथ घूमने और फ़िल्म देखने गए थे. अचानक से बरसात बहुत तेज की होने लगी तो मैंने हाईवे पर गाड़ी चलाने के बजाय गाड़ी को सड़क के किनारे खड़ा करके पार्किंग लाइट ऑन कर दी और गाड़ी के कांच पर वाइपर चालू कर दिए. उसका लंड पूरा का पूरा मेरी चूत में फंसा हुआ था जो अंदर तक जाकर मेरे पेट से लग रहा था.

मैंने कहा- चाची अब कुछ नहीं हो सकता, अब हम लोग बहुत दूर निकल आए हैं.

मेरी पहली कहानीमेरी प्यासी चुत में मोटा लण्डको पढ़कर सभी साथियों ने मेल करके जो धन्यवाद और प्यार दिया है. चूँकि भाभी मुझसे अभी इतनी नहीं खुली थीं, तो वो कहीं और चलने की ज़िद करने लगीं. राधिका- देख राज … मुझे पता है कि यह गलत है, लेकिन जितना प्यार में तुमसे करती हूं, उतना ही प्यार वो दोनों तुमसे करती हैं.

बीएफ वीडियो एचडी वालीआपने कल जोर से चोद दी।उस दिन भाभी ने अपनी चूत नहीं चुदवाई।मगर दिन में अब भाभी मेरे मोटे और लम्बे लंड से ही चूत को चुदवाने लगी. भाबी भी मज़े से अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चुत चुदवाने का मजा लूट रही थीं.

आलिया सेक्सी सेक्सी

जब कुछ पल बीत गए तो उसने खुद ही मेरा हाथ पकड़ा और नीचे ले जाकर अपनी पैंट के ऊपर से ही अपने लंड पर रखवा दिया. पता नहीं क्या हो गया था कि इतनी उत्तेजना हो गई थी कि मेरा पानी वहीं पर निकल गया. उसने कहा- नहीं, फिर कभी!मैंने कहा- नहीं!और मैं बैठा रहा और उसे भी बैठना पड़ा.

कुछ देर में ही हम तीनों ने खाना खाया, फिर ट्रक के अन्दर आकर लेट गए. फिर अंकल जी ने लण्ड को जरा सा पीछे खींचा और फिर पूरी ताकत से मेरी चूत में धकेल दिया, पीड़ा के मारे मैं छटपटा उठी और अंकल जी को परे धकेलने लगी और रो रो कर उन्हें हट जाने को कहने लगी. सीमा ने पूछा- टू पीस वाला लूं या सिंगल पीस फ्रॉक स्टाइल में?राहुल हंस पड़ा, बोला- जिसमें तुम्हें शर्म नहीं आये, वो ले लो.

ये जुलाई का महीना था, मानसूनी मौसम था, सो कुछ ही देर में बारिश होने लगी. मैंने उसके मुंह को अपनी तरफ किया और जोर से उसके होंठों को चूस लिया. हां बताओ तलाक क्यों हुआ?मैं बोला- जिससे मेरी शादी हुई थी, वो किसी और से प्यार करती थी, ये बात उसने मुझे पहली रात ही बता दी थी.

मैंने दोनों हाथों से उनकी चूचियाँ मसलनी शुरू की और दनादन धक्के देने लगा। बहुत दिनों बाद चूत में लण्ड जा रहा था तो बड़ा मजा आ रहा था। चंडीगढ़ जाने के बाद तो मेरे लिए जैसे चूत का अकाल ही पड़ गया था। वहां की सारी कसर मैं अभी भाभी की चूत में निकाल रहा था।भाभी की चूचियों को पकड़ पर भींचते हुए मैं अपने लंड को भीगी हुई गीली भाभी की चूत में पेलने लगा. उसके हिलते हुए मम्मों को मैं अपने दोनों हाथों से पकड़ कर मसल रहा था.

मैंने अपने लंड को चाची के होंठों के और करीब कर दिया और चाची ने लपक कर मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और जोर से चूसने लगी.

इस वाकये ने मेरी पूरी जिन्दगी में उथल पुथल करके रख दी।मेरे अब्बू के घर में मेरी अम्मी के साथ ही मैं और मेरी बीवी रहते हैं। मेरे अब्बू की उमर 50 साल है. हॉट सेक्सी एक्स एक्स एक्स बीएफफिर बाहर जाकर कुछ स्नैक्स और बीयर और रेड वाइन की बोतल ले आई और मुझे कहा सर्व करने को!और वो वाशरूम में चली गयी. लड़की की बीएफ हिंदीशुरू में जब भाभी आई, तो मैंने उसी दिन उनकी पत्नी यानि भाभी को देखा, तो मुझे देखने में ही वो बिल्कुल देहाती और गंवार औरत सी दिखी. कुछ ही देर में दरवाजे की घंटी बजी तो मैं समझ गयी कि मसाज वाला आ गया है.

उसने अपने हाथों में मेरी दोनों टांगों को उठा लिया और मेरी चूत में जीभ को अंदर घुसा-घुसा कर मुझे मजा देने लगा.

भाभी मेरे लंड को मसलते हुए उसे बार-बार अपने हाथ में लेकर दबा देती और फिर उसके टोपे को छेड़ देती थी. मैंने नेट से भोपाल के बाहर ग्रीन व्यू रिसॉर्ट में 3 दिनों के लिए एक सुइट बुक कर दिया. मैं आगे भी आपके लिये हम भाई-बहनों की चुदाई की अन्य कहानियां लेकर आता रहूंगा.

मैंने जो हाथ से चूत को फैलाया, तो वह खुश होकर जीभ को चूत में घुसेड़ने लगा. अब काम कम हो रहा था और एक दूसरे की अंगुलियों और हाथों से छूने का काम ज्यादा हो रहा था. मेरा एक हाथ उनके मम्मों पे जम गया और दूसरा हाथ उनकी पैंटी में घुसने की कोशिश करने लगा.

भतीजे के लिए शायरी

उसमें गोरी विदेशी लड़कियां काले मोटे साउथ अफ्रीकन लौड़ों के साथ चुदाई करते हुए दिखाई गई थी. मैंने भी उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और फिर एक लम्बा चुम्बन किया. बट डॉली यार, तू मेरी बात समझ ठीक से, अरे मेरा दिमाग चौबीसों घंटे चूत में ही घुसा रहता है.

तभी सुमन भाभी बोलीं- आज न जाने क्यों मेरे पांव में बड़ा दर्द हो रहा है.

उसने पीछे मुड़कर देखा तो एक आदमी उसके पीछे खड़ा था। उसका लन्ड मेरी मां की गांड में चुभ रहा था जो अभी पूरा कड़क नहीं हुआ था।मेरी मां थोड़ी आगे खिसक गई मगर भीड़ की वजह से वह फिर पीछे धकेल दी गई। अब फिर उस आदमी का लन्ड मेरी मां की गांड पर रगड़ खाने लगा.

उसको सिर्फ पेंटी में ले आने के बाद मैं उसके एक दूध को अपने मुँह में रख कर उसके निप्पल के साथ खेल रहा था, निप्पल चाट रहा था. आज मैं आप लोगों को एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ, जो एक ईमेल से शुरू होती है. बीएफ सेक्सी 2021एक बार तो भैया ने मना कर दिया था लेकिन वो लोग फिर बहुत ज्यादा जोर देने लगे.

आपने मेरी पहली कहानीदुबई में बेटे के साथ मनाया हनीमूनमें पढ़ा था कि कैसे मैंने अपने पति की मौत के बाद अपने आप को संभाला और किस तरह उसके बाद मैंने अपने बेटे रोहन के साथ सेक्स का मजा लिया. जब तक मैं वहां पर रहा मैंने भाभी की चूत को चोद-चोद कर चौड़ी कर दिया. जबकि वह खुद भी इसका पूरा मजा लेती हुई अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल रही थी.

मैंने कहा- भाभी आज बहुत दिनों बाद नींबू देखे हैं, उन्हें चूसने का दिल कर रहा है।भाभी मुस्कुराने लगी। भाभी भी मुझ से मजे लेने लगी।बोली- देवर जी, नींबू का पेड़ भाई साहब का है। उन से पूछ लो और नींबू चूस लो।मैं- ना जी, हम तो पेड़ से ही पूछेंगे। वो अपने नींबू चुसवायेगी या नहीं।जब मैं छोटा था तो उन भाभी के घर पर ही रहता था। बहुत बार मैंने उन्हें किस भी किया था और उनके मम्में भी दबाये थे. एक दो बार हमने जल्दबाजी में चुदाई करने की कोशिश भी की, पर मेरे अनुभवहीन होने के कारण तथा जल्दबाजी और डर के कारण की कोई आ ना जाए, हमारा मिलन नहीं हो पाया.

अंकल थोड़ा रुक गए, फिर हल्के हल्के पूरा लंड अम्मी की चूत में चला गया.

तब उस आदमी को और हिम्मत मिली और वह मेरी मां की कमर पकड़कर उसकी गांड पर लंड रगड़े जा रहा था। मेरी मां भी अब उसका साथ देने लगी. कई फिल्मों में तो एक लड़की को दूसरी की पोट्टी खाते हुए भी देखा था लेकिन इस तरह से अपनी आंखों के सामने मैंने चूत से निकलने वाला पीरियड का ब्लड नहीं देखा था. बस यही तो मैं चाहता था … मैंने देर ना करते हुए कान से लीड निकाल कर उसको फ़ोन दे दिया.

मां की चोदाई बाथरूम में करते हुए बीएफ उसने अपने हाथों से तकिया को भींचना शुरू कर दिया और इतने में ही अजय ने ऋतु की पैंट का बटन खोल दिया और उसकी छोटी सी जिप को खोल कर उसको नीचे खींच दिया. लोगों की धक्का मुक्की हो रही थी और इसलिए हर एक आदमी दूसरे से बिल्कुल सटा हुआ था। मेरा लंड बार-बार भाभी के मोटे-मोटे नितम्बों से रगड़ रहा था.

अजय को भी ऋतु के बर्ताव से शायद ये अंदाजा हो गया था कि मेरी बीवी को हाइ-फाई लाइफ पसंद है. आहह … उफ्फ उम्म … आहह ओह बेटा आह आह चोद दे अपनी रंडी माँ को चोद … फाड़ दे मेरी चूत … आह बेटा आआह …”वंश बोला- साली तुझे जिन्दगी भर रखैल बना कर रखूंगा. यह देख कर मैं समझ गया था कि ताऊ जी का गर्म वीर्य चाची के चूत में गिरने वाला है.

लड़की कंडोम

मैंने उसके बाल पकड़ के उसके सर को आगे सोफे पे दबाया और चूतड़ों पे चपत लगाई, मैं बोला- नो वर्ड्स (एक शब्द नहीं बोलोगी तुम)वो दर्द भरी वासना से कराहते हुए नशीली आवाज में बोली- आहह उम्म्म ओकेकके मास्टर!मैंने उसी हालात में एक झटके में लंड उसकी चुत में ठूंस दिया. मैं बोला- अरे यार तुम पादती नहीं तो मुझे तुम्हारी गांड मारने का ख्याल भी नहीं आता. एक बार तो मेरा मन भी सुमिना के उस टॉप में उठे उसके उरोजों को देखकर जैसे वहीं पर ठहरने सा लगा था.

देख सोनम, अंकल लोग सेक्स के मामले में अनुभवी होते हैं, उन्हें सब पता होता है कि उनकी पार्टनर को पूरा मज़ा कैसे देना है और सबसे बड़ी बात कि अंकल लोग शादीशुदा होते हैं, इनकी अपनी फैमिली, अपनी इज्जत होती है सो इनसे किसी लड़की को कोई धोखा खाने की सम्भावना होती ही नहीं है. नेहा- तुम्हारी है?मैं- अभी तक तो नहीं!धीरे धीरे हमारी बात बढ़ती गयी.

पूरे हॉल में आंटी की कामुक सिसकारियां ‘सी सी उम्म्ह… अहह… हय… याह… उई.

आगे कहानी उन्हीं की ज़ुबानी:मैं अर्पित आपके लिए अपनी प्रेम कहानी को लेकर हाजिर हूँ. उसने अपनी एक टांग कुछ इस तरह से राहुल की टांग के ऊपर रखी थी कि राहुल का लंड उसकी चूत से टकरा रहा था. उनके घर पर केवल एक ही कमरा था जहाँ वो और में सो रहे थे। लेकिन दोनों में से किसी को नींद नहीं आ रही थी। उन्होंने बात शुरू की और वहाँ आने का कारण पूछा।बात करते-करते वो मेरी गर्लफ्रैंड के बारे में बात करने लगी और अपने बोरिंग हस्बेंड के बारे में बताने लगी। मुझे उस समय ये पहली बार लगा कि शायद वो मुझ से कुछ और भी चाहती है।धीरे-धीरे वो मुझसे खुलने की कोशिश कर रही थी.

करीब 5 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उठकर उन्हें अपनी ओर खींच लिया. मैं तो सोच रहा था कि पता नहीं भैया इस सेक्स की प्यासी भाभी के सामने कैसे टिक पाते होंगे. ऐसे में कई दिन सोचने के बाद मैंने एक कठिन फैसला लिया कि मैं बच्चा पैदा करुंगी.

कहानी पर अपनी राय देने के लिए नीचे दिये गये कमेंट बॉक्स के जरिये अपने विचार जरूर बतायें.

बीएफ में चुदाई: जब मेरी चूत की फांकों पर चलते हुए उसकी जीभ अन्दर तक जाती, तो मेरा पूरा बदन झनझना उठता. जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने जागने का नाटक किया और एकदम उठ कर बैठ गया.

फिर मैं हिम्मत कर के भाभी के गालों पे लगे आंसू पौंछने लगा, इस पे भाभी ने मेरा हाथ चूम लिया. राहुल खड़ा खड़ा कसमसाता रहा और सीमा के घुंघराले बालों में उंगलियाँ फिराता रहा. एक-दो बार तो ऋतु को दर्द महसूस हुआ लेकिन फिर वो भी अजय से अपनी गांड चुदाई का मजा लेने लगी.

उसने कहा- यार सॉरी बाइक खराब हो गयी, रास्ते में ही मैकेनिक के पास खड़ी कर दी.

उन्होंने डार्क ब्लू खुला खुला टॉप पहना था और नीचे काली टाइट फ़्लेक्सिबल जींस. मैंने उंगली को उसके लबों पे फेरा, तो वो मीठी आहों के साथ बस इन खुराफातों का मजा ले रही थी. इसी के साथ ताऊ जी ने अपने दोनों हाथों में कोमल की चूचियों को मसलना शुरू कर दिया.