आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो फिल्म दिखाना

तस्वीर का शीर्षक ,

डीएफएक्सएक्स sixteen: आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ, इसी बात से उत्तेजित होकर मेरा वीर्य भी छूट गया और मौसी का पूरा हाथ मेरे गाढ़े वीर्य में सन गया.

बूढ़ी सेक्सी वीडियो

उसके कातिलाना नैन नक्श और मस्त उभारों से लग रहा था कि उसकी चूची की साइज 36 इंच की तो होगी ही. सेक्सी पंजाबी फिल्म वीडियोमुझे ये तो नहीं पता था कि उन दोनों का सामान कैसा है … लेकिन बस मुझे प्रीति को सबक सिखाना था.

धक्के लगाते हुए मां मुझे फिर से चोदने लगी, या यूं कहें कि अपने आप ही चुदने लगी. कपूर का पेड़ कैसा होता हैकोशिश मैंने पूरी की है कि आपको सारी फीलिंग्स का मजा मिला हो लेकिन फिर भी रियल में करने में बहुत अंतर होता है.

फिर अगले ही पल मैंने मामी की चूत को भी चूम लिया और उस पर मुंह लगा कर उसको जोर जोर से चूसने लगा.आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ: कुछ देर बीतने के बाद मैंने अपना थका और मुरझाया हुआ लण्ड चूत से बाहर निकाला तो मुझे कड़ कड़ जैसी हवा निकलने की आवाज आयी.

मेरे मुंह में भी बाल चले गये मगर पापा के निप्पलों से आ रही एक अलग ही गंध मुझे काफी मजा दे रही थी.मौसा जी ने मैडम को नीचे जाकर बताया कि किस तरह जरूरत के कारण उन्हीं के किचन से दूध लेकर हमने चाय बनाई.

हिंदी सेक्सी देखना चाहते हैं - आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ

मैं अब सड़क के किनारे एक पराये मर्द के साथ एकमद से नंगी लेटी हुई थी.अम्मी ने अपने दोनों चूतड़ों को हाथों से फैला रखा था और उनकी आंखों से आंसू आ रहे थे.

एक दिन की बात है, मैं दोपहर को खाना खा कर बाहर अहाते में सोने आ गया. आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ मेरा दर्द अब मजे में बदल गया और मैं जोर जोर से सिसकारियां भरने लगी- आहहहह उन्ह.

10 मिनट तक मैंने भाभी की गांड चुदाई की और फिर मैं भी उनकी गांड में ही झड़ गया.

आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ?

मगर आप ये ध्यान रखना कि कभी हम दोनों को एक दूसरे से अलग करने के बारे में सोचना भी नहीं. आंटी ने भी मेरा लंड अभी ही देखा था तो आंटी के मुँह में भी पानी आ गया. इसके बाद मेरे हाथों का नंबर आया।उन्होंने मेरी कोहनी के थोड़ा ऊपर तक मुझे अच्छी तरह से मेहंदी लगा दी.

यह सुन कर अलीज़ा पहले तो गुस्सा हो गई और बोली कि मैं कोई ऐसी वैसी रंडी नहीं हूँ … पुलिस वाली हूँ. भाभी के साथ आगे क्या हुआ … वह मैं दूसरी हिन्दी सेक्सी कहानी में बताऊंगा. फिर मैंने सेक्सी नंगी चूत की चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और मैं पूरे जोश में भाभी चूत चुदाई करने लगा.

अब मैं अपनी उंगलियों से उनकी चूत को छूने की कोशिश करने लगा और मैं कामयाब भी हो गया. चूत और लंड के मिलन और दोनों के वीर्य के मिश्रण से नीचे का एरिया पूरा गीला हो गया. एक बार लंड का स्वाद चख लिया तो रोज ही मेरे लंड से खुद ही चुदने लगोगी.

महीने, पन्द्रह दिन में जब उसकी इच्छा होती है, अपनी गर्मी उसी तरह से उड़ेल जाता है जैसे पीकदान में लोग थूक कर चल देते हैं. फिर वो शांत हुई तो मैंने एक आखिरी धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.

कुछ ही देर में मामी मेरे लंड को बहुत तेजी से अपने मुँह में लेकर आगे पीछे करते हुए लंड चूस रही थीं.

उनके मम्मों के चूचकों को मैंने दोनों हाथों से मसलते हुए एक निप्पल को अपने मुँह में ले लिया.

ऐसा करते ही उसकी चुचियां हवा में आज़ाद हो गयीं, मानो कह रही हों कि है कोई मुझ से मुकाबला करने वाला … है कोई जो मेरा दर्प कुचल सकता है. मैंने कहा- अगर ऐसा है, तो जब आपकी सास और पति जाएं, तो मुझे उनके जाते हुए की फोटो लेकर भेज देना. बाथरूम में नहाने के दौरान मैं निगार आंटी पर फिर से चढ़ गया और धकापेल चुदाई शुरू कर दी.

अब आगे आंटी की सहेली की चुदाई की कहानी:निगार आंटी भी चाहती थीं कि उनकी कोख़ भी हरी भरी हो जाए, उसके लिए इज्जत भी गंवानी पड़ी, तो भी वो तैयार थीं. जिसके कारण उसकी पढ़ाई में भी बाधा आयी।उसने बताया कि वह आगे पढ़ना चाहती है पर आर्थिक स्थिति उसे ऐसा करने से रोक रही है. आप लोग मुझे मेरी ईमेल पर मैसेज करें कि आपको बस में चुदाई की कहानी कैसी लगी? मुझे सभी पाठकों के रेस्पोन्स का इंतजार रहेगा.

और उसके आसपास कहीं या फिर गाड़ी में या फिर झाड़ियों में काम करेंगे.

जब मैंने स्कूल की पढ़ाई खत्म की थी तब से ही मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक बन गया था. उस रात को सोचते हुए मन ही मन ख्याल भी आ जाते हैं कि काश कोई ऐसा दोस्त हो जिसके साथ मैं अपने मन की सारी बातें शेयर कर सकूं, जिस तरह से मैंने अपनी मनोदशा इस कहानी में शेयर की है. कभी कभी मुझे लगने लगता था कि मेरा प्लान फेल हो रहा है, शायद आंटी को मैं खिड़की से नजर नहीं आता हूं.

एक बार तो सोचा कि काफी देर हो चुकी है और मैं लवली को फोन कर देता हूं. कुछ देर बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके पैरों को अपने कंधे पर रख लिया. ताई की चूत बहुत गर्म थी ऐसा लग रहा था जैसे उनकी चूत से गर्म गर्म भांप निकल रही हों.

अम्मी ने मनोज से कहा- थैंक यू! लेकिन ऐसी जवानी का कोई फायदा नहीं जब उससे कोई प्यार करने वाला ना हो.

चूंकि मेरी चूत में किसी मर्द की उंगली जाने का यह पहला मौका था इसलिए मेरी हल्की चीख निकल गयी. फिर मैंने उसको बेड पर लिटाया और अपना मोटा लंड उसकी चूत पर लगा दिया.

आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ दोस्त की सास- आह चोदो … आह मज़ा आ रहहा है … आह आह उम्म!अब उनकी चूत से फच फच की आवाज़ आने लगी थी. पहुंचते पहुंचते आखिरकार मेरे हाथ निशा की जांघों पर फंसी चड्डी से जा टकराया.

आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ फिर मैंने अपनी स्पीड काफी तेज कर दी और धकापेल चाची की चूत चोदने लगा. साथ ही मैंने दीदी की साड़ी को और पेटीकोट की डोरी को एक साथ खोल दिया.

गोली खा लेगी तो कुछ नहीं होगा तुझे रांड।उसके बाद हमने उस दिन दो बार और चुदाई की.

टाइगर श्रॉफ सेक्सी वीडियो

मैंने जैसे जैसे उसकी चूत चाट रहा था उसके मुँह से कामुक आवाज़ें उतनी ही तेज़ निकलना शुरू होती जा रही थीं. मेरे दोस्त की मम्मी की सिसकारी निकल गई- अह्ह … मर गई … अम्म्म … सीईई. तभी जीजा जी भी अपने शर्ट पैंट उतार कर स्विमिंग पूल में आ गए और वे दीदी के पास आकर उन्हें किस करने लगे.

वैसे तो ऑफिस वाले कुछ और दिन का काम बता रहे हैं, पर वो करवाचौथ आ रही है तो मुझे आपकी बहू के पास जाना पड़ेगा. हम दोनों थोड़ा पास खड़े थे, तो मैंने मौके का फायदा उठाया और उनकी गांड पकड़ कर उनको अपनी ओर खींचा. आगे की कहानी में आपको पता चलेगा कि जिया मेम के साथ और क्या क्या हुआ.

मॉम बोलीं- मंजू बना देगी न!मैं- नहीं, मैं बना लूंगा … मंजू खाना बना रही होगी.

मैं रोज फैमिली सेक्स की वीडियो देखा करता था जिसमें पोर्न स्टार एक मॉम का रोल प्ले करके अपने बेटे से चुदवाती थी. यस … फक … आहह।जिया मेम बहुत ही गर्म हो गयी थी और उनकी चूत से पानी भी निकल गया था. चूत चुदवाने के बाद मजा तो बहुत आया लेकिन उसके मोटे काले लंड ने चूत में दर्द भी कर दिया और गांड का बाजा भी अच्छी तरह से बजा दिया.

मैं तो पहले से ही रेडी था … तो मैंने कहा- ठीक है आंटी … आप बताइए बाथरूम कहां है, मैं जाकर तौलिया पहन लेता हूँ. बुआ ने हंस कर कहा कि अगर तुम मुझे 2-3 महीने तक रहने दोगे, तो कोई बात नहीं … मैं तुम्हारे पास रह लूंगी. उस समय मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरे लंड में उस चुदाई से सूजन आ गयी हो.

अमिता उठ कर बैठ गई, उसका सर गले तक दिखाई दे रहा था और वो हमारी तरफ नहीं देख रही थी. मुझे लगने लगा था कि कोई मेरी गांड में कोई मोटा डंडे जैसी चीज घुसा दे … मगर ये मैंने कहा नहीं.

अब मैंने अपनी बीवी की चूत की आग को भांपते हुए उसके लिए एक भरोसेमंद लंड का जुगाड़ करने की सोची ताकि घर की बात किसी को बाहर न पता चले और मेरी बीवी की चूत की प्यास भी शांत हो जाये. प्रीति ने मुझसे पूछा- किस बात की पार्टी है?मैंने कहा- पहले पार्टी एन्जॉय करो … फिर बताता हूं. मेरी आंखों के सामने जैसे मेरी मां की चुदाई का वो सीन अभी भी लाइव चल रहा था.

पूरी तरह टाइट और आसमान को सलामी देते हुए मेरे लंड ने हुंकार भरना शुरू कर दी थी.

फिर भी …दोस्तो, आज मैं आपको एक मजेदार अन्तर्वासना स्टोरी हिंदी में बताने जा रहा हूँ. पिताजी ने एक पुराने दिखने वाले पक्के घर के आगे अपने वाहन को रोका और मुझे अपना सामान लेकर उतर जाने को कहा. मैंने खोला, तो वो अपनी जीभ से ढेर सारा थूक मेरे मुँह में डालने लगा.

उन्होंने मेरे लंड को मुंह में ले लिया और मैं पापा सिर पकड़ उनके मुंह को चोदने लगा. मेरा प्लान ये है कि हम जिया के साथ एक टास्क खेलेंगे जिसमें जीत हमारी होगी जिसके बदले आज हम जिया की गांड मारेंगे.

मैंने तेज तेज झटके मारे और दोस्त की मम्मी की चूत में ही सारा वीर्य निकाल दिया. मोहित अंकल- दीपक बेटा, चुपचाप मेरे लंड को चूसते रहो और ज्यादा आवाज़ मत करो … वरना मुझे तुम जैसे लौंडों को कंट्रोल करने के और भी कई तरीके आते हैं. आंटी के झड़ जाने के बाद मैं अपने कपड़े उतार कर सिर्फ अंडरवियर में उनके ऊपर चढ़ गया और लिप किस करते हुए चूमाचाटी करना शुरू कर दिया.

बरोथेर सिस्टर लव शायरी

साथ ही वो मेरे लंड को और उसकी गोटियों को अपने हाथों से सहला भी रही थी.

मैंने पूछा- इतना क्या हो गया … ऐसा क्यों कर रही हो?वो कुछ नहीं कह रही थी बस उसकी आंखों से आंसू निकले जा रहे थे. बाथरूम में नहाने के दौरान मैं निगार आंटी पर फिर से चढ़ गया और धकापेल चुदाई शुरू कर दी. अब लंड थोड़ा आसानी से गांड में घुस रहा था, पर उसका लंड इतना मोटा था कि मुझे बहुत दर्द हो रहा था.

मैंने मुंह खोल दिया और उन तीनों ने मेरे मुंह में पेशाब किया जो मेरे मुंह में भर कर मेरी चूचियों से बहता हुआ नीचे गिरने लगा. मेरा लंड फूलने लगा था और मैं अपनी बुआ की नजरों को बचा कर लंड सहलाने लगा था. हॉट एंड रोमांटिक सेक्सी वीडियोमैं कल चौबीस दिन के लिए बाहर जा रहा हूं … तुम अपनी आंटी का थोड़ा ध्यान रखना.

अन्दर मैंने बुआ को बेड पर गिरा दिया और कमरे की अन्दर से कुंडी को लगा दिया. 10 मिनट तक मैंने भाभी की गांड चुदाई की और फिर मैं भी उनकी गांड में ही झड़ गया.

प्रिया ने मुझे बधाई दी और पूछा- प्रीति का क्या हो रहा होगा?मैंने कहा- प्रिया ये बात तुम अच्छी तरह से जानती हो कि प्रीति मेरा इस्तेमाल कर रही थी. साथ ही मैं मन में यह भी सोच रही थी कि मैं ऐसे हवस में बह कर ये क्या कर रही हूं! मगर चुदने की ऐसी लालसा थी कि मैं सब कुछ पीछे छोड़ती जा रही थी. मौसा और मौसी की चुदाई को देख कर मुझे पूर्ण विश्वास हो गया था कि अगर मेरी चूत का उद्घाटन कोई करेगा तो वो मेरे मौसा ही करेंगे.

मुझे माँ बेटा का सेक्स कहानी पर आप लोगों के फीडबैक का इंतजार रहेगा. चूंकि दारू का नशा था और उस नशे में आदमी ज्यादा भावुक और रोमांटिक हो जाता है. चूंकि ये मेरा पहली बार था तो मुझे ज्यादा पता नहीं था कि कैसे करते हैं.

कुछ देर लंड चुत में फंसाए रखा और उसके बाद बाहर निकाला, तो आरज़ू ने मेरा लंड चूस कर साफ़ कर दिया.

मैंने वीर्य वाले कंडोम को डस्टबिन में फेंक दिया और दीदी के पास लेट गया. हम दोनों ने बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था क्योंकि मौका नहीं मिल रहा था.

मैंने भी अपने दोस्तों से इस बारे में काफी सुना था लेकिन यकीन तब हुआ जब मेरे साथ भी ऐसी ही मजेदार चुदाई की एक घटना हो गयी. पर आंटी की बेहोशी की हालत से मुझे डर भी लग रहा था कि कहीं इनकी तबीयत ना बिगड़ जाए. मैं भाभी के मम्मों को चूसते हुए उनके गोरे पेट पर आ गया और उनकी नाभि पर जीभ फिराने लगा.

जब मेरी ओर से कोई विरोध नहीं हुआ तो उसने मेरी चूचियों को अपने हाथों में कस कर जकड़ लिया. मैं अपने रूम में मंजू का वेट करने लगा और जैसे ही वो सफाई के लिए रूम में आई, तो मैंने उसे पकड़ लिया और उससे लिपट गया. उस समय मंजू के पास मेरा माल पीने या न पीने का कोई भी विकल्प नहीं था.

आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ फिर मैंने उनके होंठों को चूसते चूसते कहा- आंटी मैं आपका पूरा बदन चूसना चाहता हूँ. मेरे धक्कों की स्पीड तेज होने के साथ ही जिया की सिसकारियां भी तेज हो गयीं.

सविता भाभी की कहानी

तो मामी कहने लगीं- क्यों मैं तो हूँ, तुम मेरे साथ होली नहीं खेलोगे? और अभी मैं बिल्कुल अकेली हूँ … तो बोर भी हो रही हूँ. आंटी कुछ भी नहीं बोल रही थीं … वो बस आंह आह … करके बेड पर पड़े मज़े ले रही थीं. मेरी चुदाई की कहानी में पढ़ें कि मैं मेरी सहेली को डिलीवरी के लिए अस्पताल ले गयी.

ये इंडियन भाभी के साथ इंडियन सेक्स कहानी मेरे एक स्टूडेंट से जुड़ी हुई है. और रही बात कंडोम की … तो कौन सा नीता प्रेग्नेंट हो जाएगी बिना कंडोम के चोदने से? क्यों नीता?मानव ने मुझे आंख मार कर बोला।क्यों नहीं, एक बार तो ट्राई कर ही सकते हो।” मैंने भी आंख मार कर बोला. किन्नर कैसे बनाते हैं संबंधमोनिका मेरी तरफ देख कर ऐसे मुस्कुरायी, जैसे वो मुझे खाने के लिए इंतजार कर रही है.

उसकी लोअर नीचे होते ही लंड बाहर निकल आया और मैंने उसके गर्म गर्म लंड को हाथ में भर कर पकड़ लिया और उसके लंड की मुठ मारने लगी.

चल राज, जल्दी से अपनी दीदी की प्यास बुझा दे, कब से तेरी बहन तुम्हारा लंड चुत में लेने के लिए तड़प रही है. मैं उनके बंगले के सामने पहुंचा, तो मैंने कैब के ड्राईवर से हॉर्न देने का कहा.

फिर हम दोनों मां बेटी ने मिल कर सक्सेना के कपड़े उतार दिये और दोनों बारी बारी से उसका लंड चूसने लगीं. अगली सुबह फिर दोपहर तक डॉक्टर ने हम लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी और मैं सहेली को उसके घर ले गयी. मेरा थूक सीमा की चूत पर से फिसलते हुए मेरे लंड के दोनों ओर से होकर नीचे जाने लगा.

मैंने बेख़ौफ़ कहा- चाची, आप इतनी सुन्दर हैं कि आपको तो कोई भी देखना चाहेगा.

मैंने सलोनी को कस कर जकड़ लिया, मेरा लावा सलोनी की चूत में 5-6 पिचकारी में बह निकला. पांच मिनट के बाद तिवारी पसीना पौंछते हुए उठा और सामने की तरफ आ गया. उन्होंने मेरे लंड पर अपना हाथ रख कर कहा- आह ये काफी बड़ा है … बड़ा सख्त और मोटा लंड है तेरा आशीष … तू मुझे पहले क्यों नहीं मिला रे … आज काफी मजा आने वाला है.

बुर चुदाई वाला सेक्सीमैं उसके चूचों के उभार को देख रहा था जो ट्यूब से बाहर आना चाह रहे थे. उसकी चूत दिखते ही मैं बेकाबू हो गया और मैंने अपने लंड को बाहर निकाल कर मुठ मारना शुरू कर दिया.

रियल सी 35

वो दर्द से तड़फते हुए कहने लगी- यार बहुत दर्द हो रहा है, बाहर निकाल लो. मेरी मां की तबियत ज्यादा ठीक नहीं रहती है इसलिए घर का काम हम दोनों बहनें ही करती हैं. मौसा ने मैडम को अपने घुटनों में नीचे बैठा लिया और उसके मुंह के सामने अपना अंडरवियर उतार दिया.

मैंने कुछ देर की चुदाई के बाद लंड खींचा और उसको डॉगी स्टाइल में होने को बोला. दो मिनट तक उसके बूब्स को चूसने और पीने के बाद मैंने उसके पेटीकोट भी खोल दिया. अब मैं सिसकारी भरने लगी थी- आह्हह … ऊऊयम्म … सीसीस … आह्हहय … या … ह्हह … करके मैं अपनी चूत और गांड चटवाने का मजा ले रही थी.

मैंने पूछा- किधर चलना है?मामी ने कॉलोनी में होली के प्रोग्राम के बारे में बताया. मैंने भी जल्दी से ड्रिंक खत्म की और बताया कि इसी होटल के किसी कमरे में चलें?मेरी सलहज ने हामी भर दी लेकिन मुझसे कहा- कमरे का पेमेंट मैं करूंगी. मैंने एक हाथ से उनके मुँह को दबाया और दूसरे हाथ से उनकी कमर को कसकर पकड़ लिया.

मेरी सच्ची सेक्सी कहानी हिन्दी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्त ने पढ़ाई के लिए कमरा किराये पर लिया. तभी भाभी ने अपनी ननद को आवाज़ दी- बन्नो, घर नहीं जाना है क्या?फिर मैं स्वीटी को बाथरूम से बाहर लेकर आया.

नजमा आंटी हमारे घर भी आती रहती थीं और मेरी अम्मी भी उनके यहां आना जाना करती थीं.

मेरा मन तो बहुत था कि मैं मेम की गांड भी चोद दूं लेकिन मैं सर के सामने कहने में हिचक रहा था इसलिए मैं चुप ही रहा. नाते पाक हिंदी मेंवो दोनों हाथों से मेरा सिर दबाते हुए मेरे होंठों को अपनी चूत पर दबाने लगी. टाइट सेक्सी वीडियोशायद भाभी ने भी ये बात नोटिस कर ली थी और उनकी नजर मेरी पैंट पर पड़ गयी थी. मैंने बनावटी गुस्सा दिखाते हुए रघु को डांट कर दूसरे कमरे में भागने के लिए कहा.

मेरा मन फिर से जिया की चूत चोदने का हो रहा था लेकिन उसने सोने के लिए कह दिया.

और देखते ही देखते लंड को अम्मी की चूत में पूरा उतार दिया और जोर जोर से धक्के मारने लगा. वैसे ये भी ठीक ही रहा, नहीं तो मैं अपनी मां को अपना नहीं बना सकता था. उसके गले लगने से पोजीशन ऐसी बनी कि उसकी चूचियां मेरे सीने से और और मेरा लंड उसकी दोनों जांघों के बीच चूत की जगह में फंस गया.

दीदी मेरे खड़े लंड को अपनी कमर से दबाते हुए मेरी ओर देखकर मुस्कराने लगीं. मैं गोवा के होटल देखने लगा जहां मैं भाई बहन की चुदाई की कहानी आगे बढ़ा सकूँ, उसके साथ मस्ती कर सकूं. वहीं पर बाथरूम में खड़े हुए मैंने एक बार फिर मुठ मारी और फिर से वीर्य निकाल दिया.

दीदी सेक्स

किस करने के बाद मैंने उनको छोड़ा नहीं, बस यूं ही उनकी तरफ देखने लगा. मैं- ओह … याद आया … आप हैं … आपको कैसे भूल सकता हूँ जान … बोलो क्या काम है?आंटी कामुक आवाज में बोलीं- अधूरा काम पूरा नहीं करोगे?मैंने बोला- हां जरूर करूंगा. अब मैं धीमे धीमे अपनी भाभी की सेक्सी नंगी चूत में लंड को चलाते हुए धक्के लगाने लगा.

मैंने मामी की चुत पर जैसे ही अपनी जीभ फिराई, तो मुझे ऐसा लगा जैसे मैंने किसी गर्म तवे पर अपनी जीभ फेर दी हो.

मैंने दराज को ओपन किया और कंडोम का एक पैकेट निकाल कर अपने कमरे में आ गया.

घर आते ही पापा का एक ही सवाल होता था- डिनर किया?मैं भी हां या ना में जवाब दे देता था. मुझे अच्छा लग रहा था जब किसी और की बीवी अपने पति की बजाय किसी गैर मर्द की तारीफ कर रही थी. മലയാളം സെക്സ് സ്റ്റോറിयदि मुझे जिया मेम की गांड चुदाई का मौका मिला तो सर के लिए भी रास्ता खुल जायेगा.

लड़की बड़ी है और लड़का छोटा। जबकि मेरे परिवार में मां पापा के अलावा हम दो भाई हैं. मैंने थोड़ी और हिम्मत की और उसकी चड्डी को लांघ कर मेरा हाथ उसकी चूत को छू गया. [emailprotected]मेरी नंगी गांड मारने की कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की चूत तो नहीं मिली पर … -2.

साथ ही चूचे भी छाती से मिल जाते हैं और लंड व चूत के बीच में सिर्फ बदन पर पहने कपड़ों की ही दीवार रह जाती है. मैंने कहा- मैंने तुम्हें ख्वाब में देखा कि तुमने मेरे लंड को पकड़ कर निचोड़ दिया है.

मैंने केल्कुलेशन लगा कर देखा कि मौसा पन्द्रह साल तक और इसी तरह सेक्स बखूबी कर सकते हैं।आप को एक महत्वपूर्ण बात बताना तो मैं भूल ही गयी.

जो आदमी मेरे रहते में मेरी वाईफ को एक रंडी समझ कर मेरे ही सामने अपने चमचों के साथ चोद सकता है. हमारे मुहल्ले में रहने वाले मीतेश का लिफाफा खोला तो मैं दंग रह गया. मैं समझ रहा था कि ये मजाक कर रही है … अपने पति का लंड खा चुकी है, तो इसे लंड से क्या दिक्कत होगी.

भारत की सेक्सी हिंदी में कहाँ तो मैं गर्लफ्रेंड की चुदाई के ख़्वाब देख रहा था!मैंने गर्लफ्रेंड के मुंह को अपने हाथ से ढक दिया ताकि उसके चूं-चा बाहर न निकले और सारा खेल बिगड़ न जाये. मैंने उसकी तरफ से खुद को नजरअंदाज करते हुए अपनी गर्ल फ्रेंड की चुदाई करना शुरू कर दी.

दीदी मेरी आँखों में देखती हुई बोली- तो फिर पी लो ना … रोका किसने है?मैंने उनके दोनों होंठों को अपने होंठों के अंदर लिया और उनके होंठों से लिपस्टिक को अपनी जीभ से चाट गया। उसके बाद पता नहीं कितनी देर तक मैं दीदी को वहीं खड़े खड़े चूसता रहा. मैंने उसके कंधे को सहलाते हुए कहा- तो भूमि के साथ तुम क्या क्या करते थे?वो बोला- क्या मतलब?मैंने कहा- ज्यादा बनो मत. कुछ देर के बाद मुझे ऐसी आवाज आई कि जैसे कोई अपनी स्लीपर से नीचे उतर रहा है.

बाप बेटी सेक्स मूवी

मैं भी दीदी के पीछे पीछे दूरी बना कर जाने लगा। मेरे घर के पीछे, चार घर बाद एक कच्चा मकान था जो गिर गया था. जल्दी ही दोनों गर्म हो गये और उठ कर मैंने अपनी मैक्सी और ब्रा को नीचे कर लिया. आज तुम पूरी की पूरी मेरी होने जा रही हो, मैं तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगा.

अपने चूचों को छेड़ते हुए मैं उस आनंद के ज्वार को बर्दाश्त करने की कोशिश करने लगी. जैसे ही मैंने पेट पर मुँह रखा, वो अजीब सी मदहोशी भरी आवाजें निकालने लगी- हहहह ओह्ह.

मैं- नहीं …इतना कहकर मैंने दीदी को फिर से लेटा दिया और उनके फोन को बाजू की डेस्क पर रख कर बिना देर किए लंड को चुत में घुसा दिया.

एक आदमी आगे जाकर उसके सामने घुटनों के बल बैठ गया और उसके पेट और कमर को चूमने लगा. अपनी यात्रा के लिए मैंने एक प्राइवेट बस में स्लीपर की नीचे वाली सीट बुक करवाई थी. कुछ देर बाद बस चल पड़ी और हम बस में छत से लटकने वाली रॉड पकड़ कर खड़े हो गए.

मैंने अन्तर्वासना पर पहले भी ऐसी अनेक कहानियां पढ़ी हुई थीं … इसलिए मुझे समझते हुए ज़रा भी देर नहीं लगी कि अन्दर क्या चल रहा होगा. सच में दोस्तो, मेहंदी लगवा कर मैं अपने आप को किसी परी से कम नहीं समझ रही थी।मेहंदी के थोड़ा सूख जाने पर लड़कों ने एक घोल मेरे हाथ और पैरों की मेहंदी पर ब्रश से लगाया. मगर उसका फोन आया था कि काम बन गया है और उसे उधर पन्द्रह दिन रुकना पड़ेगा.

उन्होंने मुझसे पढ़ाई के बारे में पूछा, फिर मेरे गेम्स के बारे में … क्योंकि मैं हैंडबाल और बेडमिंटन भी कालेज की तरफ से खेलता था.

आसामी सेक्सी वीडियो बीएफ: ललिता तो चुदासी हो ही रही थी, मैं भी कुंवारी चूत चोदने को उत्सुक था इसलिए मैंने ललिता को गोद में उठाया और उसके बेडरूम में ले आया. साथ ही मैंने दीदी की साड़ी को और पेटीकोट की डोरी को एक साथ खोल दिया.

मैं दीदी को कभी किस करता, कभी उनकी टी-शर्ट में हाथ डाल कर ब्रा खींचता. फिर वो एक तरफ हो गयी और मौसा ने मुझे पकड़ कर अपने ऊपर कर लिया और खुद नीचे लेट गये. भाभी की चुत की फांकों में लंड का सुपारा फंसते ही मैंने जोर का धक्का दे दिया.

फिर भाभी ने मेरा अंडरवियर खींच दिया और मेरा लंड उसके मुंह पर जाकर लगा.

मेरी सास कहने लगीं कि निगार बेटा मैं रविवार को में अजमेर दरगाह पर जा रही हूं … बेटे को अपने साथ ले जा रही हूं. मैंने जोर जोर से चोदना शुरू किया तो सरला की कसमसाहट उसके आनन्द को बयान कर रही थी. और मैं ये स्टोरी आपको बताने पर मजबूर हूँ क्योंकि वो रातें मैं नहीं भूल सकता.