पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,जीजू के लिए शायरी

तस्वीर का शीर्षक ,

maidamjob कॉम: पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी, ‘क्या तुम रोज़ एंजोय करते हो…?’‘अरे कहाँ विनोद… सप्ताह में एक बार या फिर दो सप्ताह में…’‘इच्छा तो रोज होती होगी ना…’‘बहुत होती है… हाय राम… तुम भी ना…’ अचानक वो शर्म से लाल हो उठी.

ब्लू पिक्चर साड़ी

यह पहली बार तो नहीं था कि मैं किसी लड़की को चूम रहा था पर फिर भी इतने नर्म होंठ मैंने कभी चूमे नहीं थे. सेक्स इंग्लिश ब्लू पिक्चरमुझे अगले दिन भाभी के घर जाना था मगर मैं पूरा दिन और सारी रात सोनम के बारे में और उसके बारे में मम्मी को कैसे बताऊँगा, यही सोचता रहा क्योंकि सोनम मुस्लिम थी और मैं हिंदू बनिया.

मैं दिखने में स्मार्ट लगता हूँ और कोई भी जवान लड़का मुझे देखे तो मेरी गाण्ड मारने के लिए बेताब हो जाये।अब आप ही सोचो कि मै कैसा लगता हूंगा !यह बात उन दिनों की है जब मैं बारहवीं कक्षा में पढ़ता था। तब मेरी उम्र थी 18 साल और कद 5′. रानी मुखर्जी सेक्सीउन्होंने मुझसे पूछा- घर चलना है?मेरे हाँ कहते ही उन्होंने कार का दरवाजा खोला, मैं उनके बगल की सीट पर बैठी और थोड़ी ही देर में घर पहुँच गई.

भाभी के तबादले से पढ़ाई में मेरी मदद करने वाला भी कोई नहीं बचा था इसलिए मैं पढ़ाई में ज्यादा ध्यान देने लगा.पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी: प्रेम गुरु की कलम से …मैं जानता हूँ कोई भी लड़की हो या फिर औरत पहली बार गांड मरवाने में बड़े नखरे करती है और कभी भी आसानी से गांड मरवाने के लिए इतनी जल्दी तैयार नहीं होती। और फिर बुंदेलखंड की औरतें तो गांड मरवाने के लिए बड़ी मुश्किल से राज़ी होती हैं। खैर….

!तो मैंने पूछा, तो उसने बताया कि उसने ‘यह’ पहली बार देखा है, पर उसकी दूसरी सहेलियाँ उनके बॉय-फ्रेंड्स के साथ इससे खेलती हैं और बताती है कि खूब मजा आता है.मैं भी बस झड़ने वाला था फिर हम दोनों ने एक-दूसरे को कस के पकड़ किया और फिर अपना अपना पानी एक दूसरे में मिला दिया और उसके बाद हम एक-दूसरे में समा गए.

पति-पत्नी का सेक्स - पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी

मैंने सिर को कस के पकड़ा और दबाया- बहुत दिनों से तड़पा रही हो अपनी चूची और चूतड़ दिखा-दिखा कर.उत्तेजनावश तान्या ने मेरी टी-शर्ट फाड़ दी और मेरी पेंट की ज़िप खोल दी और मेरा लण्ड बाहर निकाल कर चूसने लगी.

मेरा गर्म माल आंटी की चूत में जाते ही आंटी का भी चूत ने पानी छोड़ दिया और आंटी वहीं पर ही थक कर झुक कर आराम करने लगी. पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी गर्ल फ्रेंड नहीं पर महिमा मुझे अच्छी लगती है…”अच्छा… और उसे तुम अच्छे लगते हो ?… ”हाँ मैम… मुझसे बात भी करती है और मुझे ललचाई नजरों से देखती है ”ठीक है… कल मैं उसको यहाँ बुलाती हूँ…या कल तुम उसे यहाँ ला सकते हो?मैम ऐसे कैसे मैं ला सकता हूँ उसे? आप ही बुला लो यहाँ !वो चुद जाएगी तुमसे ?अगर आप हेल्प करोगी तो वो जरूर आ जायेगी.

पर मोटे लौड़े का मज़ा लेने की सोच कर मेरी चूत और गीली हो गई। उसकी उंगली अब मेरे दाने को सहला रही थी और मैं उसके बड़े से लौड़े को हिला रही थी.

पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी?

बात तब की है जब मैं अपने दोस्त की शादी में उत्तर प्रदेश गया था, गाँव ही था एक तरह से वो. तब उसने कहा- संभल कर! मेरी चूत कुँवारी है… खून निकलेगा!मैंने फिर चूत के छेद पर अपना सुपारा रखकर एक धक्का मारा… उसे दर्द हो रहा था. वो अपने कमरे में गई और वापस आकर मेरे हाथ में दो हज़ार रुपये दे कर बोली- आज तुमने मुझको खुश कर दिया, ये रख लो.

वो मछली की तरह छटपटा रही थी- आ आह ऊ उई ईई ईई म्म म्म म्मह की आवाजों से कमरा गूंज रहा था. मैंने उसके दोनों स्तनों को ज़ोर से पकड़ लिया और धक्के लगाते हुए झड़ गया और उसके ऊपर ही निढ़ाल पड़ गया. पेंटी की मादक सुगंध मुझे दीवाना कर रही थी।फिर विश्रांती अपने हाथ मेरी पैंट के ऊपर से लंड को सहलाने लगी….

अनीता दीदी नेहा से पूछ रही थी- हाय नेहा, ये कहाँ से मिली तुझे? ऐसी किताबें तो तेरे जीजा जी लाते थे पहले, जब हमारी नई-नई शादी हुई थी!अच्छा तो आप पहले भी इस तरह की किताबें पढ़ चुकी हैं?”हाँ, मुझे तो बहुत मजा आता है. इसके विपरीत गौरी बेशर्मी से मेरे सामने खड़ी हो कर अपनी चूत खोल कर अपनी दो अंगुलियों को चूत में डाल कर अन्दर-बाहर कर रही थी. और आज मैंने सोच लिया था कि आज में बाल खोल कर स्कूल जाऊँगी…कपडे पहन तैयार होने के बाद जब खुद को मैं आईने में देखने लगी तो कुछ कमी लग रही थी.

वाऽऽऽ ! अब भाई मेरे दोनों स्तनों को बारी बारी चूसने लगा। वो मेरे चूचकों को जोर से काटने लगा. ठीक है- तीनों ने माना।फिर मैंने परची डाली और पिंकी से कहा- इनमें से एक उठाओ ! जिसका नाम आयेगा वो राज लेगी….

मैंने गांड फैला कर उसके छिद्र में थूका और ऊँगली को घुमाते हुए धीरे धीरे ऊँगली अन्दर करने लगा। आधी ऊँगली अन्दर जाते ही उसने कहा.

?तो मैं आपको बता दूँ कि बिना मर्ज़ी के सेक्स में मज़ा नहीं आता और यह जो चड्डियों वाला नया काम हमने किया, उसमें अपना अलग ही मज़ा है.

हम दोनों एक दूसरी की हमराज़ हैं मुझे सब पता रहता है कि आजकल उसका कितने लड़कों से चक्कर है किस किस से चुदवाती है और उसको मेरा सब कुछ पता रहता है. चाची ने अपनी एक अंगुली में थूक लगाया और उसे धीरे से मेरी गाण्ड के दरार के बीचोंबीच छेद पर रख दिया. उस दिन पापा ने मुझसे कहा कि वो दिन में मम्मी के साथ शोपिंग पर जायेंगे और अभिषेक भी देर से आएगा इसलिए घर पर 2-3 घंटे मुझे अकेले रहना पड़ेगा.

मेरे पूछने पर उसने बताया कि जल्दी में कार्यक्रम बन गया और मुझे मम्मी-पापा के साथ निकलना पड़ा. मुझे लगता है उस वक्त मेरे लंड ने जितनी पिचकारी निकली होगी उतनी पहले कभी नहीं निकली. बहादुर ने हाथ थोड़ा ऊपर सरका दिया- बेबी, अब कुछ आराम आया?रीटा सरसराते स्वर में बोली- नहीं, थोड़ा सा और ऊपर करिये तो बताती हूँ.

जब राजू लौड़े को बाहर खींचता तो रीटा अपनी चूत की फाँकों को ज़ोर से सुकौड़ कर लौड़े को पकड़ सा लेती.

दीदी स्वाति और चित्रा के साथ सेक्स का मजा लेने और दीदी के साथ सेक्स करने की आजादी मिलने के बाद मैंने काफी दिनों तक उनके साथ सेक्स किया. !?’मैं उसके चूतड़ सहला रहा था, उन्हें दबा रहा था। फ़िर दोनों चूतड़ों को दो हाथ से फैलाया. माँ बिस्तर पर सिर्फ पेंटी में लेटी थी, मैं माँ के ऊपर आ गया और उन के गोरे बदन से खेलने लगा.

अन्दर घुसकर दरवाजा बंद किया तो तौलिया लपेटे अमित मेरे सामने आ गए, शायद नहाने जा रहे थे. वो मुझे आज तक पता नहीं चला कि जब लड़के युवा होते हैं तो उनके साथ क्या विचित्र होता है…???खैर. दोस्तो,स्वीटी और जानू का मिलन-1में आपने पढ़ा कि मैंने श्रेया की चूत नहीं चाटी।अब आगे पढ़ें कि मैंने चूत क्यूँ नहीं चाटी….

मुझे अपने कानो पर विश्वास नहीं हो रहा था पर वो सच में मेरे सामने थी और मुझसे मिलने की बात कर रही थी.

मेरे मुँह से आवाज निकल गई- आह! मैं मर गई! अरे मनोज, धीरे! बहुत दर्द हो रहा है!ये बोले- तब ही तो मजा आएगा!थोड़ी देर में मजा आने लगा. वो मेरा सारा माल पी गई।फिर हमने एक बार और चूत चुदाई का खेल खेला और वापस आ गए!अब मैं जब भी गाँव जाता हूँ तो रीना को अलग अलग तरीकों से चोदता हूँ जिस से उसे भी खूब मजा आता है!आपको मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें।[emailprotected].

पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी बीच में अपने दोनों होठो से उसने मेरे गालों पर कई चुम्बन जड़ दिए, कई बार उसने गालों को काट भी खाया. मुझे सोचने तो दे…मेरी बात काटते हुए …वो बीच में बड़बड़ाने लगा।मैं चिल्ला के : तू चुप करेगा.

पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी देर से ही सही … इतनी ज्यादा सेक्स में मजबूर होने के बाद ही सही पर अंत यही था कि उसने अब्बास से अपनी आज की दुर्दशा और अपनी ननद के दैहिक शोषण का बदला ले ही लिया था।अपनी हालत पर थोड़ा बहुत काबू पाते हुए मोना किसी तरह अपने कमरे तक जाने के लिए टॉर्चररूम के गुप्त रास्ते से निकली … उसकी हालत वाकयी में काफ़ी बुरी लग रही थी. इस बात पर मैंने हंसते हुए बारिश का कुछ पानी उनके मुँह पर फैंका तो उन्होंने भी बदला लेने के लिए ऐसा ही किया.

पापा मार दो गाण्ड… जरा जोर से मारना… मेरी गाण्ड भी बहुत प्यासी है…अह्ह्ह्ह्ह”मैंने लण्ड खींच के निकाला और दबा कर अन्दर तक घुसा डाला… कोमल ने अपने होंठ भींच लिये… उसे दर्द हुआ था…हाय राम… मर गई… जरा नरमाई से ना…”ना अब यह जोश में आ गया है… मत रोको इसे… मरवा लो ठीक से अब!”दूसरा झटका और तेज था.

सनी लियोन फुक्किंग वीडियो

शैली बड़ी जोर से चिल्लाई!मैंने कहा- कुतिया! आज तू जितना मर्जी चिल्ला ले! तेरी आवाज़ सुनने वाला कोई नहीं है आज!फिर मैंने एक जोरदार झटका मारा और 5 इंच लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया. मुझे अब होश कहाँ! मैंने उसके चूतड़ अपने दोनों हाथों से दबा लिये और खुशी के मारे सिसकने लगी. तभी तान्या की आँखें खुल गई और उसे पता चल गया कि मैंने उसे चूमा किया है, मैं घबरा कर पीछे हो गया.

हाय राम… चुदने की इच्छा तो मेरी ही थी, पर ऐसी नहीं कि वो मेरी चटनी ही बना दे…आप बतायेंगे पाठकगण, कि मैं उससे पीछा कैसे छुड़ाऊँ? ना… ना… चुदना तो मुझे उसी से है… पर इतना नहीं…. जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैं वहाँ पर एक मॉल में चली गई, वहाँ जाकर मैं सीधी जैंट्स बाथरूम में चली गई. मेरा लण्ड बहुत सख्त हो चुका था और नीचे से लम्बा हो कर चाची के हाथ में धीरे धीरे मसला जा रहा था.

फिर मैंने धीरे से उसकी पेंटी उतार दी और उसे बिस्तर पर लिटा दिया और फिर मैंने जैसे ही उसकी चूत पर अपना मुँह रखा वो सिसकारियाँ लेने लगी और रुकने के लिए बोलने लगी.

मैंने उन्हें बाहों में उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और वो मेरा लंड चूसने लगी फिर मैंने उनको घोड़ी बनने के लिए कहा. चूत !और उसे चाटने लगे !चूत वैसे भी काफी गर्म हो रही थी और वो पानी छोड़ने लगी। मैंने कहा- अब आप ऊपर आ जाओ !वे शरारत से बोले- साफ बोलो कि मुझे क्या करना है?मुझे पता था अब ये मेरे मुँह से बुलवाकर छोड़ेंगे इसलिए मैंने जल्दी से अपनी आँखे बंद कर के कहा- आप मुझे चोद दो !पर वे कौन से कम थे, बोले- मैंने सुना नहीं ! जरा जोर से बोलो !मैं जोर से उन्हें अपने ऊपर खींचते हुए बोली- मुझे चोद दो ! चो…. जैसे ही मैंने बाथरूम के दरवाजे को धकेला तो मैं अंदर का नजारा देखता ही रह गया, अंदर मनीषा नहा रही थी और उसने उस वक्त कुछ भी नहीं पहना हुआ था.

फिर मैंने अपने होंठो से उसके पेट को चूमा और नीचे चूत तक चूसता रहा और पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को चूसने लगा. ‘आह भाभी… प्यार से सहलाओ!’उन्होंने कहा- अरे, मैंने तो सुना था कि मर्द को दर्द नहीं होता…? तुम्हारा बहुत लम्बा और मोटा है… तुम आज मुझे बर्बाद करके छोड़ोगे…मैंने कुछ नहीं कहा और उनके गोरे पेट को सहलाते हुए जीभ से गीला करने लगा. उत्तेजनावश तान्या ने मेरी टी-शर्ट फाड़ दी और मेरी पेंट की ज़िप खोल दी और मेरा लण्ड बाहर निकाल कर चूसने लगी.

आजकल सोशल साईट का जमाना है … मेरी प्रोफाइल पिक्चर देख कर सब लोग मेरे फ्रेंड बनना चाहते थे।मैं नाम से सेक्सी श्रेया आहूजा और फिगर तो पंजाबन वाली लम्बे बाल गोरा चिट्टा रंग …पीले रंग की टॉप में गोल गोल मम्मे और वक्ष-रेखा पर तिल! नीचे शॉर्ट-स्कर्ट. आज मैं आपको वो दास्तान सुनाने जा रही हूँ जो अपने अंदर और कई दास्तां छुपाए हुए है। मैंने अपनी ज़िंदगी में जो कुछ किया, जो पाया, जो खोया सब आपके सामने रखूंगी। यह मत समझिएगा कि यह कोई गमगीन दास्तान है.

मैं साधारण कद काठी का हूँ पर बचपन से ही जिम जाता हूं इसलिए अभी भी मेरी बॉडी अच्छे आकार में है. ‘दीदी… प्लीज, बुरा मत मानना… मुझे करने दो!’‘आह विनोद… यह क्या कर रहे हो… मुझे तुम दीदी कहते हो…?’‘प्लीज़ दीदी… ये तो बाहर वालों के लिये है… आप मेरी दीदी तो नहीं हो ना. और फिर हम दोनों कम्बल तान कर नींद के आगोश में चले गए।बस अब और क्या लिखूँ ? अब तो मैं अपने प्रेम की रानी नहीं महारानी बन गई हूँ !-मधुरदोस्तो ! आपको हमारी यह दूसरी सुहागरात कैसी लगी बताएँगे ना ?आपका प्रेम गुरु.

मैं एक दोस्त से विश्वासघात करने का दोषी था…कुछ साल बाद एक अच्छा रिश्ता देखके कशिश के घरवालों ने उसकी शादी कर दी…उसके पति का तबादला हो के वो लोग अब हमारे शहर में ही रह रहे हैं.

आधे घण्टे तक चली होगी यह चुदाई और अकेले अमित ही मेरी नीना की चूत गर्मी शान्त करता रहा. चाची की बेटी भी स्कूल में थी!ऐसे में मैं घर पर अकेला था, न जाने क्यूँ मेरा दिल हुआ कि आज बारिश में नहाया जाए!मैं नहाने के छत पर पहुंचा तो देखा चाची भी बारिश के मज़े ले रही थी. क्या??अरे मैं मैदान के लिए… पर मेरा लोटे का पानी गिर गया है…प्लीज मेरी मदद करो, …कहीं से पानी ला दो…‘अब यहाँ पानी कहाँ है ? कुछ और मदद करूँ क्या…’ थोड़ा और पास आकर मैं बोला।क्या??? वो परेशान थी।मेरा रूमाल ले लो, इसी से काम चला लो… अँधेरे में मैं रूमाल हाथ में लिए उसके पास पहुँच गया।छी….

मैंने उसके टोपे की चमड़ी को नीचे किया तो उसका गुलाबी सुपारा ऐसे चमकने लगा जैसे कोई मशरूम हो !मैंने झट से उसका सुपारा अपने मुँह में भर लिया, मैं उकड़ू बैठ गई और ज़ोर ज़ोर से उसके लण्ड को चूसने लगी।वो तो आ. ज़ब हम गेट के पास पहुँचे तो उसने फिर से मुझे पकड़ लिया और एक प्यारी सी पप्पी दी और बोली- अगली बार और मजे करेंगे.

और दूसरे हाथ से अपना लंड पकड़कर उसके अग्रभाग को नेहा के हल्के से खुले हुए योनिद्वार पे लगा दिया…इस बार जैसे ही वो अपनी कमर को पीछे खींचकर आगे लाई… लंड का सुपाड़ा पट्ट से अंदर चला गया. खैर, जहाँ चाह वहाँ राह!वीना आंटी ( अमित की पत्नी ) कुछ दिनों के लिए अपने मायके गई. राजू ने रीटा की चीख को दबाने के लिये रीटा के होंटों को फिर अपने होंटों में दबा लिया और चूसने लगा.

हिंदी bf xxx

पापा…बस ना… अब नहीं…”चुप हो जा रे… मेरा निकलने वाला है…”पर मेरी तो फ़ट जायेगी ना…”आह आअह्ह्ह रे… मैं आया… आह्ह्ह्ह्… निकल रहा है… कोमलीईईईइ” मैंने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया.

प्रेम अंगों को चूमना और चूसनाआंटी ने पहले ही बता दिया था कि प्रेम (सेक्स) में कुछ भी गन्दा नहीं होता। मानव शरीर के सारे अंग जब परमात्मा ने ही बनाए हैं तो इनमें कोई गन्दा कैसे हो सकता है। मेरे प्यारे पाठको और पाठिकाओं, अब मुनिया और मिट्ठू (लंड और चूत) की चुसाई का सबक सीखना था। मेरी बहुत सी पाठिकाएं तो शायद नाक-भोंह सिकोड़ रही होंगी। छी … छी … गंदे बच्चे…. बिखरे उलझे बाल, आँखों का फैला काज़ल और मेकअप, गीली चूत, रिसती गाण्ड, चुसे हुऐ चुच्चे और सूजे होंट तो देखते ही बनते थे. मेरे पूछने पर उसने बताया कि जल्दी में कार्यक्रम बन गया और मुझे मम्मी-पापा के साथ निकलना पड़ा.

यह पहली बार तो नहीं था कि मैं किसी लड़की को चूम रहा था पर फिर भी इतने नर्म होंठ मैंने कभी चूमे नहीं थे. जहाँ लड़कों की बास्केटबाल टीम अभ्यास कर रही थी… मुझे अनिरुद्ध ने आवाज़ लगाई …अनिरुद्ध लड़कों की टीम का कप्तान था. अंग्रेजी में ब्लूमेरे सामने नन्ही मुन्नी सी गुड़िया नंगी लेटी थी और मैंने उसे पकड़ लिया। और जब अब पकड़ ही लिया था तो चोदना तो बनता ही है न !”मुझे उसकी हरामीपने की बातें सुन कर शर्म आ रही थी मगर मुझे उसके धक्कों से मजा भी आ रहा था।आह्ह्ह्ह ….

फिर मैंने अपने कपड़े पहने और हस्पताल चली गई,रात को मैं अकेली ही घर होती थी इस लिए वो अनिल और सुनील दोनों रात को मुझे हस्पताल से घर ले जाते और सारी रात मेरी चुदाई करते, सुबह होते ही वो दोनों लोगों के जागने से पहले निकल जाते और मैं बाद में हस्पताल आ जाती. ” राहुल ने कहाहाय रे… यानि रीता साहिल के पास और मैं राहुल के पास… ” कामिनी ने आह भरते हुए कहा.

तान्या ने मुझे कुछ देर इन्तजार करने के लिए कहा जो मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगा मगर और कोई रास्ता ना होने के कारण मैंने इन्तजार करना ही ठीक समझा, मैंने सोचा चलो एक दिन की ही बात है. मेरा लंड प्रचंड हो चुका था… पूरा लोहे का गरम रॉड… असाधारण और अनियंत्रित। मुट्ठ मारने की तीव्र इच्छा हो रही थी. एक बार रात को मैं बाथरूम जाने के लिए उठी तो देखा मम्मी पापा के कमरे की लाईट जल जल रही थी, उत्सुकता से खिड़की की झिर्री से देखा कि मम्मी नंगी लेटी हुई हैं और पापा अपने लंड पर कंडोम चढ़ा रहे थे.

पर आजकल तो प्यार को सिर्फ जिस्मानी मिलन का रूप दे दिया है…उसकी रश्मि वाली बात सुन कर मुझे उसकी कोई बात सुनाई नहीं दे रही थी … मन ही मन मैं रश्मि को कोस रही थी. बस मज़ा आ जाए !क्या चुसवाती भी हो ?अब तो यही करना पड़ता है वो साला तो २ मिनिट में ही टीं हो जाता है।कमर कितनी होगी ?कमर है ३२ इंच !और स्तन ?वो तो बड़े मस्त हैं ३६ साइज़ के गोल मटोल बिलकुल ठां लगती हूँ !ठां बोले तो ?ओह …. श् श् श् करके सिसकारियाँ लेने लगी। मुझे पहली बार चुदाई का आनन्द हो रहा था।मैंने पूरी रात चाची की चुदाई की।उस दिन के बाद हर रोज मेरा नंबर लगने लगा।.

‘आह भाभी… प्यार से सहलाओ!’उन्होंने कहा- अरे, मैंने तो सुना था कि मर्द को दर्द नहीं होता…? तुम्हारा बहुत लम्बा और मोटा है… तुम आज मुझे बर्बाद करके छोड़ोगे…मैंने कुछ नहीं कहा और उनके गोरे पेट को सहलाते हुए जीभ से गीला करने लगा.

और कहा,’एक बात कहूँ?’मैं भी आगे झुक गई और कहा,’कहो!’मेरे वक्ष मेरे टॉप के गले से पूरे के पूरे दिख रहे थे और आलोक की निगाहें सीधे वहीं पर थी।आलोक धीरे से उठ कर मेरे साथ एक ही सोफे पर बैठ गया और मेरे कान के पास फुसफुसाकर कहा- मैंने आज तक तुम जैसी सेक्सी हाउस वाइफ नहीं देखी. मैं हाथ पैर मारने लगी……तो कमल ने वहीं कबाड़ से एक पुरानी साड़ी उठा कर मेरे दोनों हाथ पीछे करके बाँध दिए….

पिछला भाग:जीजू के साथ मस्त साली-1जीजू मेरी गांड मारने लगे, मैं बोली- जीजू, रहम करो! आप मेरी गांड को बख्श दो, मेरी फ़ुद्दी चोद लो!मुझ बावली को क्या पता कि मेरा जीजा तो चाहता ही यह था. मेरे पति अधिकतर व्यवसायिक यात्रा पर रहा करते थे, उनकी अनुपस्थिति में एक गोमती ही थी जो उनकी कमी पूरी किया करती थी. मेरी आँखें बंद थी, इस वकत सुनील पता नहीं क्या कर रहा था मगर उसने अभी तक मुझे नहीं छुआ था.

यह प्रैक्टिस तो सिर्फ़ इसलिए कि तू शो में खुलकर एक्टिंग कर सके… अब चलो दो दिन तक मन लगा कर खान अंकल से एक्टिंग सीखो … बायखान सर- चलो अब तुम सुमित इसे ज़मीन में गिराकर एक ज़ोरदार किस करो!सुमित मुझे जमीन पर लिटा कर मेरे गालों को चूमता है …खान सर- साले किस मतलब जानता है…? होंठों पर दे चुम्बन … ठहर, मैं दिखाता हूँ. पर तू भी वादा कर… मुझसे बात करनी बंद नहीं करेगा…!?उसने मेरे चोट वाले हाथ पे हाथ रख दिया और मैंने भी उसके दूसरे पर दूसरा हाथ रख दिया. अब मैं उसे मेरे दोस्तो से चुदवाता हूँ और वो मेरे लिये नई नई आण्टियाँ चोदने के लिये दोस्ती कराती है.

पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी कोमल… चल टांगें और खोल दे… अब चूत का मजा लें…” कोमल ने आंसू भरे चहरे से मुझे देखा और हंस पड़ी. फिर शराब का सहारा किस लिए ? वैसे भी डॉक्टरों का मानना है कि शराब लिंग के लिए उत्तेजक नहीं बल्कि एक अवरोधक का काम करता है। शराब के बाद पुरुष सेक्स के बारे में बातें तो बहुत कर सकता है पर उसकी पौरुष शक्ति कमज़ोर हो जाती है और कई बार वह सम्भोग में विफल भी हो सकता है।हाँ, एक और बात….

भोजपुरी एक्स एक्स एक्स वीडियो एचडी

फिर मैंने बिना देर किये उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और फिर हम प्रगाढ़ चुम्बन करने लगे। करीब दस मिनट तक तक हम एक दूसरे को चूमते रहे। चूमते चूमते मैंने उसकी जांघ पर हाथ रखा और धीरे धीरे अपना हाथ उसकी चूत के ऊपर रख दिया और उसको दबाने लगा। उसकी चूत काफी फूली हुई लग रही थी ऊपर से।ऐसा करने से उसकी साँसें और तेज़ होने लगी और वो मुझे और जोर जोर से चूमने लगी. करीब 5 मिनट चूसने के बाद मैंने आंटी को कहा- आंटी, मेरा निकलने वाला है!तो आंटी ने कहा- मुंह में ही झर जाओ!मैंने अपना सारा का सारा पानी आंटी के मुँह में निकाल दिया. कहते हुए मैं उसकी बांहों को अपनी ऊँगली से हल्के हल्के नीचे से ऊपर और ऊपर से नीचे सहलाने लगा। उसके कंधे पर दबाव बढ़ाते हुए फ़िर से उसके गालों पर कान के ठीक पास में चूमा और जीभ से उसके कान को सहलाया.

एक बात पूछूं ?”बोलो ?”फिर वो तुमने चीका को थप्पड़ क्यों मारा था ?”मैं एक भारतीय नारी हूँ कुछ तो भारतीयों जैसा करना पड़ेगा ना इस लिए ? वो सब चीका और डाइरेक्टर का प्रायोजित ड्रामा था यार !”कैसे ?”तुम भी अक्ल के दुश्मन ही हो… अरे बाबा उस शिल्पा को इऽच लो, साली हरामजादी रांड उस फिरंगी (गेर) के साथ एक चुम्मा देकर कितना फेमस हो गई थी ? और. दर्द के बारे में बताने पर देवर मुझे उसी पोज में अपने ऊपर लिटा कर खुद ही नीचे से धक्के मारने लगा. जानवर ब्लू फिल्मकोई है जो इनके हुस्न को अपने सीने से लगा कर और इनका मद भरा रस अपने गर्म होंठों से लगा कर पीना चाहता हो.

आँखों से आंसू निकल आये लेकिन बेदर्दी ने अपना लंड जड़ तक पहुँचा कर छोड़ा!खून से सफ़ेद चादर पर दाग पड़ चुके थे.

फिर मैं अपने कमरे से एक पतला वाला बैंगन उठा लाई और बाहर जहाँ मेरी पड़ोसियों की बाइक खड़ी थी, वहाँ चली गई. मैंने अपने होंठ उसके क्लीनशेव संतरे की फांक जैसी सुर्ख लाल चूत पर टिका दिए और उन्हें चूसने लगा.

बहुत खूबसूरत बन कर आई हो साली साहिबा?”हाँ, जब जीजा का दिल आ गया है तो मेरा भी कुछ फ़र्ज़ है!”यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं. तभी अंकल ने चूचियाँ दबाते दबाते मम्मी के लहंगे के अन्दर हाथ डाल दिया और उनकी बुर को छूने लगे. ”(मीना कुछ नहीं कहती)तुम्हारे मम्मी-पापा कितने अच्छे हैं… दोनों अभी भी जवान लगते हैं … !”(मीना ज़रूर मुस्कुराएगी)कुछ देर उसके माँ-बाप, भाई-बहन की तारीफ करने के बाद ….

घर पहुँचे…साढ़े छह बज चुके थे…दरवाजा खोलकर अंदर आये और अंदर आकर जैसे ही दरवाजा बंद किया नेहा मुझसे ऐसे लिपट गई जैसे बरसों बाद मिली हो….

शालू- बहनचोद… अ आ आह और चाट साले! तेरी माँ की चूत!मैंने मुँह हटा कर उसकी चूत में उंगली डाल दी और मैं भी गाली देने लगा. यही नहीं, जीजू ने अपना एक हाथ मेरी छातियों पर रख दिया और दूसरे हाथ से मेरे चूतड़ों को मसलना शुरू कर दिया. जल्दी ही अपनी नई कहानी में बताऊँगा कि कैसे मैंने अपनी रंडी बहन को अपने दोस्तों का बिस्तर गर्म करने के लिए भेजा.

ब्लू पिक्चर नंगा नंगासहलाओ ना! वक्त कम है ना!उन्होंने सीधे 69 पर आते हुए अपना लौड़ा चुसवाया और मेरी चूत चाटी. निकाले जा रही थी।उसे देख कर मेरीऔर सोनू कीरफ़्तारमें बेतहाशा तेजी आ गई, चुदाई के मारे सोनू का बुरा हाल था, अब उससे रुका नहीं जा रहा था- जीजाजी, मेरा तो बस होने वाला है, मैं गई, मैं गई ! आह्ह्हह्ह ….

लड़की का नंगा

पर शायद वो गहरी नींद में थी, मेरी हिम्मत बढ़ी, मैंने उसकी पेंटी के ऊपर हाथ फिराया तो पाया उसने नेपकिन लगाया हुआ है, और पता नहीं कब नींद आ गई. चोद ऐसी आवाज़ें मेरे मुँह से अपने आप ही निकलती जा रही थी।मैंने कुल तीन बार कमल से गाण्ड मरवाई।आगे की कहानी अगली बार ……………॥. ”मैं गुस्से से पागल हो गई और वहीं दरवाजे के सामने खड़े हो कर बोली- तू कौन सा शरीफों वाला काम कर रही है…….

आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताएं!आपका अपना मित्र-साथी राज[emailprotected]. जब बहादुर अन्दर आया तो ताज़ी ताज़ी नहाई रीटा ड्रेसिंग टेबल के सामने बैठी अपने बालों को संवार रही थी. अब मैंने कहा- मामी, अब आप उल्टी हो जाओ, मैं आपको डौगी स्टाइल में चोदूँगा।मामी पेट के बल लेट गई, मैंने उनकी चूत में डाल कर ऐसा झटका मारा कि उनकी चीख निकल गई, वो बोली- कुत्ते ! कुतिया स्टाइल में चोद रहा है तो क्या कुत्ता बन कर चोदेगा क्या ? आराम से कर राजा ! अब तो मैं सिर्फ तेरी हूँ !थोड़ी देर करने के बाद मामी ने कहा- वासु, अब मैं झड़ने वाली हूँ ! बस आआअ….

मैंने अपने हाथ उसकी कमर में डाल दिए और उसने अपने दोनों हाथ मेरे गले में ! और हम एक दूसरे की आँखों में आँखे डाल कर हल्के-हल्के डांस करने लगे. मैं अब एक हाथ से निधि कि चूचियां दबा रहा था और दूसरे से उसका स्कर्ट उपर करके उसकी जाँघों को मसल रहा था. मेरी खूब फ़ूले हुए कूल्हों पर! फिर मेरी गोरी और खूब सेहतमंद जांघें जिनके बीच हर मर्द की पसंदीदा जगह मेरी नन्ही सी नाज़ुक सी चूत.

प्रेषक : रिन्कू गुप्ताप्रिय पाठको,मेरा नाम रिंकू है जैसा कि आप लोग पहले से ही जानते हैं. अचानक उसका हाथ मेरी पेंटी में घुसता चला गया… मेरी सिरहन सर से पैर तक दौड़ गई लेकिन अब तक मैं बेबस हो चुकी थी…उसकी ऊँगली मेरी चूत की खांप में चलने लगी, मेरे शरीर में चींटियाँ ही चींटियाँ चलने लगी, मेरे हाथ उसके खोपड़ी के पीछे से मेरे बोबों पे दबाने लगे… मेरे मुँह से अनर्गल शब्द निकल रहे थे… आं… ऊँ हाँ… और जाने क्या क्या…मैं मिंमियाई सी कुनमुनाने लगी, मेरी चूत से पानी निकलने लगा.

‘भाभी, देखो तो आपकी टांगें चुदने के लिये कैसी उठी हुई हैं… अब तो चुदा ही लो भाभी…!’‘देवर जी ना करो! भाभी को चोदेगा… हाय नहीं, मुझे तो बहुत शरम आयेगी…!’‘पर भाभी, आपकी टांगें तो चुदने के लिये उठी जा रही है’ उसने लण्ड को मेरी चूत की तरफ़ झुकाते हुये कहा.

उसके बाद मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और सोनम को एक बेड पर लिटा दिया और वो किया जो मैंने टी. करीना कपूरsexवो भी क्या करता? बड़े दिनों से सेक्स का भूखा था और इस प्रसंग का पूरी तरह से रस लेना चाहता था… और बेचारी मोना अब्बास क नीचे दबी हुई अभी भी हिम्मत कर रही थी निकलने की… इस बार मोना ने महसूस किया कि अब्बास ने अपनी टांगों की मदद से मोना की दोनों टांगें खोल दी थी…. सेक्सी डिक्शनरीमैंने फिर एक जोरदार झटका मारा और अपना 7 इंच का लौड़ा अपनी प्यारी बहन की चूत में डाल दिया. मैंने कहा- अब तो यह तेरी चूत का बाजा बजा कर ही निकलेगा!फिर क्या था, रात भर हम दोनों भाई बहन ने ऐसी जम कर चुदाई की कि चिंकी की चूत का सुबह तक भोसड़ा बन गई.

” दुल्हन किसी बेशर्म वेश्या की तरह गन्दी-गन्दी बातें बके जा रही थी।झंडे ने और भी जोरदार धक्के मारने शुरू कर दिए, बोला,”ले धक्के गिन मेरी जान, पूरे-पूरे सौ धक्के मारूंगा। ….

!!!मैं- वो तेरे आदेश का पालन कर रहे थे और अगर मैं साथ न देती तो तू उनका क़त्ल करवा देता ! मेरी वजह से किसी बेक़सूर की जान जाये, यह पाप मैं अपने सर नहीं ले सकती. आंटी जोर से बोली- सागर, निकालो इसको! दर्द हो रहा है!मैंने कहा- अब मजा भी आएगा!और मैं जोर-जोर से लंड को उसकी गांड में ठोके जा रहा था. मेरा लण्ड दुबारा खड़ा हो गया तो मैंने अपना लण्ड उसकी चूत के ऊपर रगड़ना चालू किया पर उसने मना कर दिया- कुछ भी कर लो पर मुझे मत चोदो! मैं नहीं चुदना चाहती.

?” करेन ने मेरे कंधों पर घुमाकर अपने हाथ रख दिये।और जब आज रात इतना सब हो चुका, फ़िर भी तुम यहाँ पर तौलिया लपेटे बैठे हो ?”करेन की इस बात से मैं सहमत था। मैं खड़ा हुआ, तौलिया नीचे गिर जाने दिया और वापस बैठ गया। मेरा लिंग पूरी तरह से उत्तेजित नजर आ रहा था।अब ठीक है?” मैंने कहा।हाँ नग्न ही रहना है तो ऐसे बेहतर है. ऐसे ही करते रहो ! मुझे चुदाई से ज्यादा मज़ा आ रहा है। पर यह आपकी अंगुली या मेरे पति की अंगुली से ही आता है। मेरी खुद की अंगुली अच्छी नहीं लगती।फिर वे दो अंगुलियाँ डाल कर मेरी चूत में चलाने लगे, मेरे मुँह से सी…. सभी के जाने के बाद मैं दीदी के कमरे की तरफ बढ़ा मगर तबीयत खराब होने की वजह से दीदी सोई हुई थी.

ಸಿಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋಸ್

दीदी का बॉस श्यामलाल और कंपनी का मैंनेजर अब्दुल दोनों मेरी बहन को बड़ी बेदर्दी से चोद रहे थे और मैं कुछ नहीं कर पा रहा था. रीटा अपनी स्कर्ट पीछे से ऊपर उठा कर अपने गोरी गोरी गाण्ड पीछे उचका कर साईकल के डण्डे के निशान बहादुर को दिखाती बोली. और मेरा दुर्दांत लंड कहीं दिख न जाये…लंड शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा था। जब लहरें उठी मैंने गोता लगाया…ऊपर आने ही वाला था कि मेरे लंड पे एक किसी के हाथ का कसाव महसूस हुआ। ऊपर आकर देखा कोई नज़र नहीं आया….

मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?वो कहने लगी- तुम बहुत गंदे हो! मैंने मना किया फिर भी पीछे डाल दिया.

पिछले तीन सालों से मुझे लड़कों का चस्का लगा है, घर में माहौल ही ऐसा था कि कदम खुद ब खुद बहकने लगे थे.

पर मम्मी का लेक्चर अभी भी चालू था…!!और अगर कभी ज्यादा रिसाव हो तो सावधान रहना कि कपड़े गंदे न होने पाएँ… और खून देख कर घबराना नहीं. तीनों के ये बड़े-बड़े लंड … शहरी लड़कों के छोटे और पतले होते हैं पर ये तो विशाल आकार के लण्ड थे।एक ने अपना लंड मेरे मुँह में डाला और एक मेरे मम्मों को चूसने लगा।तभी एक झटका मेरी चूत पर लगा …. अंगूरी भाभीपर फिर भी मैं उनसे इतनी दूरी पर थी की उनकी क्रियाएँ देख सकूँ… वो दोनों पास वाले बगीचे में घुस गए कुछ देर बाद मैं भी वहाँ पहुँच गई.

सुबह सवेरे अगर लौड़ा मिल जाये तो काम देव की आराधना भी हो जाती है, और फिर पूरा दिन मस्ती से गुजरता है. मैं भी पूरी गति से चोद रहा था और वो जोर जोर से चिल्ला रही थी- और जोर से! और जोर से! ऐसे ही! मुझे जीभर कर चोदो मेरे राजा. मैंने उसके गालों पर फ़िर से चूमते हुए उसके कान में कहा- रागिनी मैं तुम्हें प्यार करता हूँ.

वो कुछ देर तक वैसे ही बैठी रही और फिर अचानक मेरी हाथ को खींच के अपने नन्हे बोबों पे रख दिया. मेरे साथ वाली सीट खाली देख सोनम मेरे पास आकर बैठ गई और बात करने की कोशिश करने लगी.

मैं उसकी गांड को दबाते हुए उसके होंठो पर झुका और उससे कहा- रागिनी मेरा होने वाला है.

थोड़ी देर में मुझे मजा आने लगा, मेरा दर्द कम हो गया और मैं धीरे धीरे अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा. इस बीच मैं उसके बहुत चक्कर लगा लेती हूँ, पर कभी ऐसा कोई मौका ही नहीं आया कि विपिन पर डोरे डाल सकूँ. चल जल्दी से बता!”तुम पहले वादा करो कि तुम किसी को भी नहीं बताओगी!”अरे बाबा, मुझ पर भरोसा रखो, मैं किसी को भी नहीं बताऊँगी.

देसी भाभी की फोटो प्रेषक : अजय कुमारदोस्तो, मेरा नाम अजय है मैं 29 वर्ष का हूँ, मैं भी आपकी तरह इस साईट का दीवाना हूँ और जब भी मुझे मौका मिलता है तो यहाँ कहानियाँ पढ़ता हूँ. उसका नाम प्रीति था, वो गज़ब की सुंदर थी, गोरा बदन, उठी हुई चूचियाँ, उभरी हुई गांड, मानो कि स्वर्ग से अप्सरा उतर आई हो.

वो चिल्लाती, उससे पहले मैंने अपना मुँह उसके मुँह पर रख दिया और उसके होटों को चूसने लगा. मैंने योगी के घर पहुँच कर घण्टी बजाई तो आयशा ने घर का दरवाजा खोला और मैं घर के अंदर आ गया. अब उसके बदन पर सिर्फ़ ब्रा-पैंटी ही थी…मैंने उसके बदन पर मेरी निगाह डाली तो देखता ही रह गया.

शादी की सालगिरह फोटो

मैंने उससे कहा- बेटे जल्दी कर… बेटे के साथ वैसे नहीं चिल्ला सकते और मैंने जान बूझ कर अपनी चूत को भींच लिया जिस वजह से उसके लण्ड पर दबाव पड़ा और तीन चार धक्कों में ही हा आआ आआआआ करते हुये वो मेरे से चिपक गया. उसने कहा ‘मैडम आप गेट बंद कर लीजिये मैं कुछ देर में आता हूँ तब आपका टिकेट चेक कर लूँगा. मुझे समझते भी देर ना लगी कि ज्योति ने कल किसी के साथ चूमा-चाटी की है मगर उस निशान को छोड़ मैंने ज्योति को आवाज़ लगाई जिसे सुनकर वो जग गई.

एक दिन रेस्तरां में कॉफ़ी पीते पीते अमित अंकल बोले बहुत दिनों से पिक्चर देखने का मन हो रहा है, अगर कहो तो कल चलें, रानी मुखर्जी की नई फिल्म लगी है. ‘आह भाभी… प्यार से सहलाओ!’उन्होंने कहा- अरे, मैंने तो सुना था कि मर्द को दर्द नहीं होता…? तुम्हारा बहुत लम्बा और मोटा है… तुम आज मुझे बर्बाद करके छोड़ोगे…मैंने कुछ नहीं कहा और उनके गोरे पेट को सहलाते हुए जीभ से गीला करने लगा.

रीटा समझ गई कि बहादुर जाल में तो फंस गया है पर बहादुर का डर को दूर करने के लिये कुछ करना पड़ेगा.

पर हाँ उनका लण्ड दूसरों की अपेक्षा छोटा है, यानि राहुल, रोशन, गोवर्धन, गोविन्द के लण्ड से तो छोटा ही है. उसके होंट जैसे ही मेरे होंटों से लगे, मेरे पूरे शरीर में एक बिजली सी फ़ैल गई और मैंने उसे हटा दिया. है… चाय पीओ गर्म गर्म…अनिल- भाभी, मगर मुझे तो वोही गर्मी चाहिए जो बस में थी…मैं शरमाते हुए अपने बाल ठीक करने लगी.

भाभी के तबादले से पढ़ाई में मेरी मदद करने वाला भी कोई नहीं बचा था इसलिए मैं पढ़ाई में ज्यादा ध्यान देने लगा. मर गई…आज मेरी भी जन्मों की प्यास बुझ रही थी, मैं भी अऽऽ आय… आआऽऽ आआअ ऊऊऊऊउ… कर रहा था और कह रहा था- साली अब तुझे नहीं जाने दूंगा, तू कितने दिनों से मेरे लंड को भड़का रही थी… साली आज में तेरी माँ-बहन एक कर दूंगा…वो अभी भी चीख रही थी- माय… उ. मैंने पूछा-कहाँ गया?तो आयशा बोली- भैया तो अभी कुछ देर पहले ही मम्मी-पापा के साथ खाटू श्याम जी के दर्शन के लिए चले गए.

मैंने सोच लिया कि आज रात को मैं उन्हें जरूर चोदूँगा इसलिए मैं मम्मी और पापा के सोने का इंतज़ार करने लगा.

पंजाबी भाषा में बीएफ सेक्सी: आह्ह्ह्ह्… ये क्या… जीजू का कड़क लण्ड मेरी उतरी हुई जीन्स के बीचोंबीच स्पर्श करने लगा. भाई! यह मत पूछना कि आगे क्या हुआ? वैसे समझ लो कि जो हर चुदाई में होता है, वही नीना की चुदाई में भी हुआ- चूमा चाटी, कपड़े उतारना फिर चूची चूसना, चूत चाट कर मस्त कर देना और फिर लंड-चूत का खेल.

अब मेरी बहन के चुदने का वक्त हो गया था, मैंने उससे कहा- मेरी बहना, तैयार हो जा!तो बोली- किस लिए?मैंने कहा- चुदने के लिए!अब मैं उसका लोअर उतारने लगा तो उसने मुझे रोका. रीटा ने सोचा काश बहादुर की लेडी सायकल होती और वह शान से बहादुर के लण्ड पर बैठ कर स्कूल जाती. मुझे बहुत डर लग रहा है। तुम आज रात को हमारे यहां आ कर पढ़ लो।मैं तो चाहता ही यही था इसलिए तुरंत ही तैयार हो गया और दो चार किताबें उठा कर उनके साथ हो लिया।उनके घर में घुसते ही मैंने देखा आंटी का टी.

मैं बहुत खुश था- आखिर दो चूतों का स्वाद जो मिला था मेरे लौड़े को!उसके बाद जब भी जिस भी बहन के साथ मौका मिलता, मैं सेक्स के मज़े लेता.

मैंने एक झटके में अपनी मैक्सी ऊपर उठाकर नीचे कर कहा- देख क्या रहे हो? गांड में दम है तो आओ. मैं तड़प उठी…मैंने अपने हाथ से एक लण्ड छोड़ राजा के हाथ पर हाथ रख दिया और जोर-जोर से भींचने लगी. क्यों कामिनी… ”तुम्हे साहिल चोदेगा और मैं कामिनी को… तो साहिल हो जायें चालू… ” राहुल ने बिना शरमाये समझा दिया.