देसी गांव की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ हिंदी ऑडियो में

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी सेक्सी वीडियो हॉट: देसी गांव की बीएफ पिक्चर, लेकिन तेरे जैसा लंड नहीं मिल सका आह…पवन- अभी तो तुझे कई लंड लेने है रंडी.

जबरदस्ती बीएफ सेक्सी जबरदस्ती

फिर वे मेरी तरफ गांड करके झुकी और बड़ी सी गांड हिलाने कर बोलीं- पहले तू मेरी छूट और गांड चूस. गर्लफ्रेंड के बीएफनीला ने अपने हाथों का दबाव बढ़ाया और पूछा- तुम पानी में देर तक साँस रोक सकते हो तो तुमको ये मजा अभी मिल सकता है.

साले हरामी मार डालेगा क्या? जा जाकर अपनी बीवी की गांड मार भोसड़ी के…पंकज ने धक्का मारते हुए कहा- अरे जान, स्मिता तो चूत भी सही से नहीं देती. सेक्सी बीएफ साड़ी वाली औरत कीउस अहसास को शब्दों में बयां करना मेरे बस की बात ही नहीं है, बस इतना समझ लो कि ये मेरे मन की बड़ी मुराद के पूरी होना जैसा था.

आते ही मैं जैसे ही लेटी, मुझे नींद आ गई क्योंकि पूरी रात उसने जगा कर रखा था और फिर जम कर चुदाई भी हुई थी.देसी गांव की बीएफ पिक्चर: वैसे और भी लड़के हैं, जो मेरी चुत में डालने के लिए अपना लंड खड़ा किए रहते हैं मगर वो कम पैसे देते हैं, इसलिए मैं उनसे नहीं चुदवाती हूँ.

जब भाभी और मैं एक दूसरे से मिलते थे तो उन्होंने मुझसे कहा कि उनकी शादी को 4 साल हो गए हैं, पर उन्हें अब तक कोई बच्चा नहीं है.प्रिया की योनि के पद्म दल फिर से सिकुड़ कर योनि की गुफा को फिर से अत्यंत संकरा बना चुके थे, इसी कारण मेरी उंगली प्रिया की योनि के जरा सी अंदर जाने से प्रिया के मुंह से दर्द भरी सिसकारी निकली थी.

बीएफ देखने वाला एप्स चाहिए - देसी गांव की बीएफ पिक्चर

अंजलि ने पीछे मुड़ कर देखा तो वो बोली- क्या हुआ भाई साब, रसोई में क्यों आ गए, यहाँ बहुत गर्मी है.सबकी नजर बचा के भाभी ने मुझसे आंख मार कर पूछा- इसने कुछ किया भी है या बस ऊपर ऊपर ही खेलता रहा?और हँसने लगी.

पर वो नहीं मान रही थी तो मैंने उससे कहा- ठीक है तो मैं बीच में आ जाता हूँ. देसी गांव की बीएफ पिक्चर इस वक्त मेरा लंड बहन के मुँह में था और उसके मुँह में मेरा पानी निकल गया था.

इस बीच वो अपना लंड मेरी साली को हाथ में थमाना चाहता था, पर मेरी साली उसे पकड़ने को तैयार नहीं हुई तो उस लड़के ने उसकी पेंटी को घुटनों तक उतारने की कोशिश की.

देसी गांव की बीएफ पिक्चर?

ये सब सुन कर मैं और जोश में आ गया और फिर उसके 10 मिनट बाद मेरा भी पानी निकल गया. ” कहते हुए मैंने भी कुछ भावुक हो गया और प्रिया को अपने अंक में समेट कर उस के माथे पर प्यार की मोहर लगा दी. तेरी मेरी दोस्ती यहीं तक… चल बाय…ये बोल कर दीदी झूट मूठ का खामोश हो गईं.

पूरा रूम में उनकी मादक कराहों और सीत्कारों से गूँज उठा- आह… फक्कक… मी… आह… बहुत मजा आ रहा है… आह…उनकी आवाजें आ रही थीं. अब उन्होंने अपनी मैक्सी ठीक की और मुझसे गुस्सा होते हुए बोलीं- क्या चाहता है तू? मैं मॉम हूँ तेरी. अब उस लड़के ने ऊपर से ही मेरी साली के चूचे चूसने शुरू किए, जिसका मेरी साली थोड़ा विरोध कर रही थी, पर वो वैसा ही विरोध था जैसा लड़कियां अक्सर करती हैं, पर वो भी उसका मजा ले रही थी.

अन्तर्वासना के पाठक एवं पाठिकाओं से निवेदन है कि अधिक से अधिक मेल करें. अब मेरा उससे ब्रेकअप हो गया है और वो जयपुर में रहा कर अपनी पढ़ाई कर रही है. मैंने उनसे पूछा- मैं कुछ हेल्प करूँ?पहले उन्होंने मुझे देखा, फिर बोलीं- नहीं आप परेशान मत हो.

हमारा सफ़र धीरे धीरे अपने मुकाम की तरफ पहुँच रहा था कि तभी मुझे सोनी ने रोक दिया और बोली- बस नवीन, अब इससे ज़्यादा नहीं हो सकता. उन्होंने मस्त कराह निकाली और दूध दबाने के लिए अपना दूध आगे को कर दिया.

भाईसाहब बोले कि रूम में तो चलिए फिर दिखाते हैं कि साठा कितना पाठा है.

मैं आंटी को उलटा लेटा कर उनकी गांड में लंड डालने लगा और कुछ ही दर्द के बाद मेरा पूरा लंड आंटी की गांड में हाहाकार मचाने लगा.

जब भी कोई पूछे कि वन्द्या क्या हुआ तो मैं उसे बोलती कि बस से पांव फिसल गया और गिर गई तो थोड़ा चोट लग गई थी।और फिर 10 दिन बाद मेरा फिर अपने आप फिर से बहुत मन करने लगा और वही अंकल और जीजा ने जिस तरह से किया था बार-बार वही सब दिमाग में और ख्यालों में चलने लगा. आ जाओ।मैं उसके कमरे में डाबर हेयर आयल की बोतल लेकर चली गई।मैंने दरवाजा लॉक कर दिया. तो मैंने पूछा- भाभी, क्या हुआ?तो भाभी कहने लगी- तुम्हारे भईया ने तो आज तक मेरी चुत को नहीं चूसा है तो अजीब तो लगेगा ही ना।फिर हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए.

मुझे नींद नहीं आ रही थी तो मैं बेड पर करवट लेकर लेटा हुआ माँ बेटे की चुदाई स्टोरी पढ़ रहा था. पर मैंने सोचा ये ठीक नहीं होगा, इससे तो ऐसा होगा जैसे मैंने साली के साथ जोर आजमाइश की और मैं फंस जाऊँगा. इतने में माँ को मेरी मौसी का फ़ोन आ गया कि मौसाजी की तबियत अचानक खराब हो गई थी.

माँ ने एक पल के लिए अलग होकर अपने सभी कपड़ों को मुक्ति दे दी और मेरे कपड़ों को भी खींचते हुए अलग कर दिया.

इसके बाद भी काफी दिन नार्मल ही बीते, पर धीरे धीरे अब वो भी मुझे प्यार करने लगी थी. हम दोनों एक रेस्तरां में मिले, वहां मैंने उनको दो-तीन शर्तें बोलीं. मेरी साली ने उसे अपने हाथ से हटाने की कोशिश की मगर उसने हाथ नहीं हटाया तो मेरी साली ने अपनी कोशिश छोड़ दी और वो अब चूचे दबवाने के मजे लेने लगी.

वो मुझे दूध पिलाते हुए बड़बड़ाने लगी- आह मेरी जान, साले पी जा, मेरी चूचियों को खा जा कमीने… कितने दिनों से मन होता था कि तुझे अपना दूध पिला दूँ… आह निचोड़ ले साले… मजा आ रहा है…मैंने भी उसकी एक चूची को अपने मुँह में पूरा भर लिया और दूसरी चूची को अपने हाथ से मसलते हुए उसकी जवानी के रस का मजा लेने लगा. मैं थोड़ा अचकचाया।आप को मेरी कसम… अब के जो तरसाया तो…!” प्रिया के लफ़्ज़ों में मनुहार के साथ साथ आदेशात्मक गूंज थी. विनय मेरी झूलती और थिरकती हुई चुचियों को मुँह में लेकर पीने लगा, जो मुझे और उत्तेजित कर रहा था.

यह इरोटिक सेक्स स्टोरी तब की है, जब मैं अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कम्प्लीट करके मुम्बई में नौकरी ढूंढ रहा था.

तो बोली- कितनी भाभियों को पानी पिलाया है अपना?मैंने कहा- एक मिली थी जब दिल्ली में रहता था, नीलू नाम था उनका, उनके भी दो बच्चे थे, बंगाली थी लेकिन भाभी, सही कह रहा हूँ उनकी जैसी खिलाड़ी मुझे आज तक नहीं मिली. उस दिन भी शाम को मैं रोज की तरह से ऑफिस से निकला और ऑटो लेने के लिए रोड पर आकर एक ऑटो में बैठ गया.

देसी गांव की बीएफ पिक्चर सेक्सी वीडियो देखने के कारण आंटी पहले से गरम हो चुकी थीं और काफी समय के बाद कोई प्यार करने वाला मिला, इसलिए वो अपने आपको रोक नहीं पाईं. मुझे उसका लंड अच्छा लग रहा था, काफी बड़ा और मोटा हो गया था तो थोड़ा ही मुँह में घुस रहा था.

देसी गांव की बीएफ पिक्चर और मैं अंजलि की तलाशी लेने का नाटक करने लगा और उसके पूरे बदन के कपड़ों के ऊपर से दबा दबा कर देखने लगा. कुछ देर बाद एक नौकर आकर कर हमें कोल्ड ड्रिंक सर्व कर गया और कुछ काजू बादाम आदि की प्लेट रख गया.

फिर मैंने बहूरानी की नाइटी उसके बदन से छीन के बर्थ पर फेंक दी; नाइटी के भीतर तो उसने कुछ पहना ही नहीं था तो उसका नग्न यौवन मेरे सामने दमक उठा.

फर्स्ट टाइम बफ

”नहीं सर में पहले चूत में मोमबत्ती डालती थी, फिर धीरे धीरे केला, फिर बैगन और अब लौकी भी घुसा लेती हूँ. उसके बाद मेरी सौतेली मां का सगा बेटा किसी लड़की के साथ शादी करके कनाडा चला गया अपनी माँ को छोड़ कर!अब आगे. उसके बाद उस जन्मों की प्यासी दिखने वाली रुचिका ने दुबारा मेरा लंड पीना स्टार्ट कर दिया.

तो उसके नीचे से कमर हिलाने से मुझे भी जोश आ गया तो मैंने भी धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू कर दिया जिससे मेरे और मिंकी के धक्कों की प्रतियोगिता सी होने लगी. लगभग 10 मिनट बाद मेरे पास कोई मर्द आया और आवाज़ की- हूँ…मैंने ऊपर देखा तो वही मर्द मेरे पास खड़ा था… मेरे देखने पर वह धीरे से बोला- चल कहाँ चलना है?मेरी तो मानो लाटरी लग गयी थी उसकी बात सुनकर…जब मैंने उसके लंड के उभार को देखा तो वहाँ लंबा सा कड़क खीरे जैसा लंड उसकी सिली हुई पेंट में से साफ़ दिखाई दे रहा था. फिर मैं अपनी रफ्तार बढ़ाता रहा, अब आंटी की फुद्दी पूरी तरह से खुल और खिल चुकी थी.

हम दोनों कुछ देर बेड पर पड़े हांफते रहे, भाभी मेरी पीठ को सहलाती रहीं और मुझे गर्दन पर चूमती रहीं.

फ़िर मैंने एक बार और मुठ मारी और बहुत मुश्किल से खुद को शान्त कर पाया. मुझे थोड़ा अजीब सा लगा लेकिन मन में एक जोश भी था और मेरी कामवासना भी काफी बढ़ी हुई थी तो मैंने उसका पूरा लंड अपने मुंह में ले लिया. मैं बोली- नहीं चाहिए प्लीज, मुझे नहीं चाहिए!पर उन्होंने पैसे मेरे हाथ में रख दिए। अंदर से मेरा मन था, मुझे पैसे लेकर बहुत खुशी हुई, मैंने सोचा कि ये तो बहुत अच्छे हैं.

अब मयूर की नौकरी बचाने के लिए मैं मुख्यमंत्री तक से जुगाड़ लगा दूंगा. मगर अगले दिन आकर बोली- यार मैं कहना तो नहीं चाहती थी मगर मेरी भी मजबूरी है. एक भाई अपनी सगी बहन को रक्षाबंधन के दिन चोद रहा था और वो बहन मजे से चुदवा रही थी.

अब हम रोज रात रात भर बात करते और सुबह क्लास के बाद दोनों साथ नाश्ता करने किसी होटल या रेस्टोरेन्ट में जाते. यह सुन कर कुछ संतोष हो गया कि अगर वो एक बार हमारे चक्कर में फंस गया तो कोई उसे रोकने वाला नहीं होगा.

वो- काफी टाइम लेते हो नहाने में?मैं- मैं सारे काम एन्जॉय करते हुए करता हूँ. कई एक लड़कियां, जो अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुद के प्रेगनेन्ट होने के संदेह में दोपहर में चुपके से पिछले दरवाजे से आती हैं, उन्हें मैं उनका झूठा ही अल्ट्रा साउंड करके बोल देता हूँ कि बच्चा रुक गया है. चाची अब तेज आवाज में सीत्कार करने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चोद दे.

अब मेरा भी रस गिरने वाला था तो मैंने उसकी चूत में ही पानी छोड़ दिया.

मैंने उसको किस किया और उसके हाथ पकड़ कर अपना लंड उसकी चूत पर सैट किया. वो और भी ज्यादा गर्म हो गईं और मादक आवाजें निकालने लगीं- आआह्ह्ह आअह आकाश क्या कर रहे हो… मुझे कुछ हो रहा है आह्ह ऊओह्ह्ह…मैं- चाची आज जो हो रहा है, हो जाने दो… मैं बहुत दिन से इस दिन का इन्तजार कर रहा था. मैंने उसे हाय बोला तो उसकी मुस्कराहट से पता चला कि वह मेरे घर ही आ रही थी.

मुझे अब समझ आने लगा था कि नीला ने मुझसे नदी पर चल कर नहाने के लिए क्यों कहा था. वो घबराते और शर्माते हुए बोलती है कि डॉक्टर किसी को पता तो नहीं चलेगा.

मैं सबके सामने नंगा खड़ा था, सबके सब आँखें फाड़ कर मुझे देख रहे थे. उन्होंने बिना कुछ कहे अपनी गांड मेरी तरफ कर दी और मैंने बिना देर किए उनकी गांड को अपने मुँह में भर लिया और चूत में उंगली करने लगा. वहां पहुँची तो जमाई जी रजाई में थे।मैंने कहा- रचना बेटी मेरे पास आकर बोली कि वो वहाँ लेटेगी, तो वो वहां लेट गई.

सेक्सी गीते

काफी देर तक मेरे दोनों निप्पलों को चूसने के बाद विनय ने निप्पल चूसते हुए ही मेरी जींस के बटन को खोल दिया और निकलने लगा.

मैंने शोर्ट(निक्कर) और टीशर्ट पहनी हुयी थी और मेरी कजन अंजलि ने घुटनों तक की स्कर्ट पहनी हुई थी. उसने माउस को छोड़ कर मुझे जोर से पकड़ लिया और मैंने उसके गले और कंधे पर बहुत सारे किस किए. गार्ड को अपने बारे में बताया और अन्दर आ गया।अन्दर वाले गेट की बेल बजाई तो एक 18 साल की लड़की ने गेट खोला; शायद वो उनकी नौकरानी थी।इतने में ही मधु आ गई। मधु के आते ही वो लड़की चली गई।मैंने मधु की तरफ देखा तो देखता ही रह गया क्योंकि अब तो वो कॉलेज टाइम से भी ज्यादा सुन्दर लग रही थी। तब बिल्कुल पतली सी थी.

फिर मैंने दो उंगलियां घुसेड़ीं, फिर तीन और फिर अपना हथियार ठोक दिया. वो मेरे पास आईं और बोलीं- मैं प्रेग्नेंट तो नहीं हो जाऊंगी ना?मैंने उन्हें मना कर दिया- नहीं ना कविता दीदी. रूस की सेक्सी बीएफजब वो झड़ी तो मैंने उसके पानी को नीचे बह जाने दिया और उसके बाद मैंने उसकी चुत को कपड़े से साफ़ किया.

पर डर लगता था कि एक तो मैं लड़की नहीं हूँ, उस पर से उसका लंड कितना मोटा होगा, ये मालूम नहीं था. मैंने उससे अलग हो कर अपने कपड़े भी उतार दिए थे और मैं सिर्फ़ अंडरवियर में आ गया था.

आ जाओ।मैं उसके कमरे में डाबर हेयर आयल की बोतल लेकर चली गई।मैंने दरवाजा लॉक कर दिया. फिर अम्मी ने मेरी पैंटी उतार कर मेरी चूत का पूरा रस चाट चाट कर साफ कर दिया और मुझे 69 पोजीशन में लेटा कर बोली- मेरी चूत चाट!मुझे बड़ा अजीब सा लगा, लन्ड तो कई बार चूसे थे पर चूत चाटना बड़ा गंदा लग रहा था. उन दिनों मनीषा और अंकिता के ब्वॉयफ्रेंड्स थे, वो दोनों भी दिखने में काफी हॉट थीं.

मैंने मार्केट से बियर की बॉटल, सिगरेट, आइसक्रीम और कुछ फ्रूट लिए और घर आ गया. वे अपने हाथ से मेरे हाथ को छूते हुए मेरे गले तक आए और धीरे धीरे वो मेरे सीने पर हाथ लगाने लगे. वहां पे एक पैकेड ब्रश रखा था, मैं समझ गया कि ये सेजल भाभी ने मेरे लिए रखा है.

उसने मेरे पीछे से अपने हाथों को मेरे मम्मों पर रख दिया और उन्हें दबाने लगा.

दोस्तो, मैं भी आपकी ही तरह से इस लाजवाबकामवासना हिंदी स्टोरीवेबसाइट का एक नियमित पाठक हूँ. एक बात बताओ कि तुमने मेरी किस सहेली को चोदा था?मैंने बताया- रोमी आंटी को.

तभी मुझे लगा कि दीदी जाग रही हैं और अपनी चुत को जोर जोर से सहला रही हैं. तभी उन्होंने मज़ाक में कहा- दोस्त कभी हमें भी गांड मारने का सुख दिलाओ, कैसे मारी जाती है, कभी हमें भी सिखाओ. अब मेरा दायाँ हाथ प्रिया की पीठ पर धीरे धीरे दायें-बायें, ऊपर-नीचे फिर रहा था.

अब उस लड़के ने अपनी पेंट की ज़िप खोल कर पेंट को घुटनों तक उतार दिया, तो उसका 4-5 इंच लम्बा और 1. मैंने पूछा- क्या हुआ?भाभी ने कहा- आज मैं काफी दिनों बाद इतना हंसी हूँ. अचानक मेरे निचले होंठ पर किसी मधुमक्खी ने डंक मारा हो जैसे… मैं एकदम से हड़बड़ा गया और बैडरूम प्रिया की खनकदार हंसीं से गूँज उठा.

देसी गांव की बीएफ पिक्चर फिर जब पूरा पानी निकल गया तो मेरी टांगें और हाथ खोल कर बोला कि बाथरूम में जाकर सफाई कर लो, सुबह ऑफिस भी जाना है. अब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हो रहा था, मैंने कहा- चाची अब मुझे आपको चोदना है.

एक्स एक्स एक्स वीडियो चोदा चोदी वीडियो

जिससे मेरा हाथ सीधा उसकी हिंदी चुत पर चला गया। चूत बिल्कुल चिकनी थी. दिन भर गधा मजदूरी करने के बाद रात को किसी को होश ही नहीं आया, जो जहां जगह पा रहा था, सो जा रहा था।मैं छत पर चला गया जहाँ कोई नहीं था, मैंने अकेले ही अपना बिस्तर लगाया और लेट गया लेकिन पैरों में बहुत दर्द हो रहा था और नींद नहीं आ रही थी. अपनी ही बहन को आज नंगी करके उसका भोग लगाने का मुझे जो अवसर मिला था, मैं उसे गंवाना नहीं चाहता था.

मैंने उससे और कोई बात नहीं की और अपने कमरे में जाके फ्रेश होने चला गया. शर्ट की ऊपर की दो बटन खुली हुई थी इसके अलावा सिला हुआ पेन्ट, पैरों में बैराठी की चप्पल… फ़ोन पर बात करते हुए बार बार जर्दा थूक रहा था… मतलब कुल मिलाकर गाँव वाला चोदू लग रहा था. 2022 की बीएफ नईआपकी भेजी हुई मेल्स मुझे बताएंगी कि आपको मेरी लिखी हुई स्टोरी कैसी लगी.

उनके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और गले को भी दांतों से काटने लगा.

मैंने अलका रानी के होंठ छोड़ के उसकी तरफ देखा, वो भी अब गरम हो चली थी, उसने आधी मुंदी हुई मस्त आँखों से मेरी तरफ बड़े प्यार से देखा, दोनों हाथों मेरा चेहरा पकड़ा और फिर अपनी तरफ खींच के मेरे होंठ चूसने लगी. मैं हंस दिया और कहा- साली जी, शादी के मजे तो अभी भी बिना शादी के लूट सकते हैं.

फिर क्या था, मैंने भी बात छेड़ी और कहा- तो यार, हमें भी तो कभी अपने घर बुलाओ. मैं कहा- आंटी अब देर न करो लंड आपके मुँह में जाने के लिए मचल रहा है. इन तीन महीनों में आप ने मुझ से कभी कोई छिछोरी हरक़त नहीं की और आज शाम को आप का आखिरी इम्तिहान था.

अब मैं पक्के में समझ गया था कि मेरी माँ के किसी दूसरे के साथ जिस्मानी ताल्लुकात हैं.

भाभी को ऐसा देख कर मैं बिस्तर पर कूद पड़ा और सेजल भाभी के पैरों की तरफ़ मुँह करके एक साइड पे लेट गया. फिर बोला- ओके अब तुम जल्दी से नहा लो, मैं तुम्हारे कपड़े और 30000 वहीं छोड़ कर कहीं जा रहा हूँ. बालों को लड़कियों जैसे बना कर सिंदूर लगा लेता और गालों पर पाउडर लगाना तो आम सी बात होने लगी थी.

आदिवासी बीएफ दिखाएंफिल्म देखते हुए मेरे मम्मों को दबाना और मेरी चुत पर हाथ रखना, उसके लिए आम बात थी. मैंने भी उनको दोनों हाथों से पकड़ लिया और दूध पिलाने लगी- पी लीजिये साहब… आप मेरे मस्त मस्त आम पी लो… पर मयूर के पक्ष में बयान देना कि गलती से ऐसा हो गया.

बीएफ पिक्चर दो

वो मेरे खड़े होते लंड को देख कर मुस्कुराने लगी और बोली- शैतान कहीं का!मैंने काव्या को फिर से अपनी बांहों में भर लिया और उसे चुम्बन करने लगा और इस तरह वहीं सोफे पर हम दोनों ने एक बार और चुत चोदन का खेल खेला. आज तूने अपनी बहन को खुश कर दिया, आज मुझे मेरा राखी का गिफ्ट मिल गया, मैं खुश हो गई. रेड कलर की ब्रा और पेंटी उनकी लिपस्टिक में पूरी तरह से मैच कर रही थी.

उन्होंने मुझे 3-4 थैले पकड़ा दिए और कहा कि आप देख लीजिये, मैं अपनी समझ में सही लाई हूँ. थोड़ी ही देर में वो चाय लेकर आई तब तक मैंने वो xxx वीडियो चैक कर लिया और उसे सेफ्टी के लिए अपने गूगल ड्राइव पे सेव कर लिया. भाभी भी मुझे गर्म मूड में दिखीं, शायद इससे पहले वे कोई चुदाई का हसीन सपना देख रही थीं, जिस कारण उनकी आँखों में मुझे वासना दिख रही थी.

आंटी हैरान रह गईं और बोलीं- ये क्या है विकी?मैंने कहा- आंटी, बियर और सिगरेट है. इससे पहले हम लोग नॉर्मली ही बातें किया करते थे, थोड़ी बहुत मस्ती भी हो जाती थी. अब मुझे भी लगने लगा कि थोड़ी देर में मेरा निकल जायेगा, मैंने पारुल को उठाया और डॉगी स्टाइल में किया.

मेरा शरीर तो लंड का साथ दे रहा था पर मस्तिष्क विरोध करते हुए कहने लगा कि भैया ये क्या कर रहे हैं?वे शरारत से पूर्ण मुस्कुराते हुए बोले- आपने ही तो गरमा गरम खाने पर बुलाया है और पूछ रही हैं कि क्या कर रहा हूँ. फिर पंकज ने अपने पूरे कपड़े उतार दिए और रेखा को भी पूरी नंगी कर दिया.

जैसे ही उसने दरवाजा खोला, मेरी जानम मेरे सामने थी, मैंने एकदम से उसको धक्का देते हुए दरवाजा बंद करके उसको अपनी बांहों में लिया.

एक घंटे बाद मैंने भाभी को उनके कमरे में रखी बड़ी टेबल पर लिटाया और नीचे खड़ा होकर मैंने एक बार फिर उनकी चुत में लंड डाला. शिवपुर बीएफमैंने उसके ऊपर हो कर उसके हाथों को पूरा टाइट करके पकड़ा हुआ था क्योंकि मेरे किस करते ही वो पलट कर सीधा होने की कोशिश कर रही थी. बीएफ पिक्चर इंग्लिश में दिखाएं‘इसस्स… स्स्स्शहह… इसस्स्स्स… स्स्स्शहह… आआहह…’ और मेरा भरपूर साथ भी दे रही थी. फिर उसने नशे में ही उठकर मेरे मुँह में लंड दे दिया, जो पूरा चला गया.

फिर उसका एक हाथ नीचे मेरे लोअर के ऊपर से ही मेरे लंड को टटोलने लगा.

मैंने उससे कहा- गांड मार लेने दे,वो नहीं माना, मैंने उसको पैसे का लालच दिया तो वो मान गया. मैं- शादी के बाद कितनी ब्वॉयफ्रेंड बनाए?माँ- अच्छा पहले तुम ये बताओ तुम्हारी कितनी जीएफ रही हैं?मैं- दो. भाभी बोली- आज तक एक दिन में इतनी बार कभी नहीं चुदी!दोस्तो, कैसी लगी मेरी कहानी? प्लीज मेल जरूर करना![emailprotected].

फिर मां लेट गईं और उन्होंने अपनी टांगें पूरी तरह से खोल दीं, जिससे उन की चूत का नजारा साफ़ देखने लगा. नवीन ने फ़ौरन अपने लंड पे थोड़ा सा थूक लगाया और अपने लंड का सुपारा मॉम की चुत पे टिका कर मॉम की गांड पकड़ कर हल्का सा दबाव डाला. मैंने पिंकी के पैरों को पकड़ के फैला दिया, फिर मैंने रुई को थूक से गीला करके उसके मोटे गोल पुट्ठों को ऊपर उठाया और उसकी गांड के छेद में रख कर उंगली से थोड़ा घुसा दिया.

गांड वाला बीएफ

उसकी चूत के ऊपर के और साइड के सारे बाल साफ़ करने से उसकी चिकनी मासूम सी कली अच्छे से नजर आने लगी, पर उसकी चूत का छेद नजर नहीं आ रहा था. फिर मैं उसकी स्कर्ट उतारने लगा तो उसने अपनी गांड ऊपर उठा के स्कर्ट उतारने दिया. बरहराल… दीदी चलकर किचन काउंटर के पास आकर खड़ी हो गईं और फोन पे बात करे जा रही थीं.

मैं उन भाभियों का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मुझे अपनी अगली कहानी लिखने के लिए बार बार मेल किये; और मैं माफी चाहता हूं कि अपनी कहानी लिखने में लेट हो गया.

मैं नज़रें फेर कर चुप सा ही रहा और प्रिया अपनी गहन दृष्टि सर मेरे चेहरे के भाव पढ़ती रही.

फिर मैंने उसे ज़ोर से चोदता हुआ उसके ऊपर लेटकर उसकी चुचियों में टपकते हुए दूध को पीने लगा. अब मुझे भी लगने लगा कि थोड़ी देर में मेरा निकल जायेगा, मैंने पारुल को उठाया और डॉगी स्टाइल में किया. बीएफ चुदाई करते हुए दिखाइएकुछ समय बाद दोनों एक साथ झड़ गए मैं खड़े खड़े ही उनको पकड़ कर निढाल हो गई, न पकड़ती तो गिर ही जाती.

उसकी ये नाइटी काफी पारदर्शी थी जिसमें से उसकी ब्रा पेंटी भी साफ़ झलक रही थी. ऊऊऊ ऊऊहह ऊऊऊ…” अपने मुंह से किसी गाय का पीछा करते सांड जैसी धवनि निकलता आर्थर जवान, कमसिन, अलौकिक सुन्दर लड़की की गांड के अंदरूनी हिस्सों को अपने सुपर लंड से छिन्न भिन्न करता चला गया. मैंने नीचे होई कर उसकी पैन्त्य्य उतार दी और मैं उसकी चूत को चाटने लगा, पहले तो उसने मुझको खुद से दूर करने की बहुत कोशिश करी लेकिन मैं भी कहाँ मानने वाला था, तो मैं उसकी चूत को चाटता रहा और फिर वह 5 मिनट में ही सामान्य हो गई थी, धीरे धीरे सिसकारियाँ भरने लगी थी.

अर्पिता की गर्दन से होता हुआ मैं उसके कानों पर किस करने लगा, वैसे भी कानों के पास का हिस्सा बहुत संवेदनशील होता है, गर्दन से गाल, ठुड्डी और चेहरे पर किस करने लगा. दिव्या ने खुद से अपनी टाँगें चौड़ी की और मेरा लंड अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत पर लगाया और मुझे धक्का मारने के लिए कहा.

उसके स्कर्ट पहनी हुई थी, मैंने उसकी स्कर्ट को ऊपर करके उसकी चूत पर अपना हाथ लगा दिया तो पहले तो वह बहुत मचली, मेरी बांहों से निकालने की कोशिश करने लगी लेकिन जल्दी ही उसकी वासना ने उसके दिमाग पर काबू कर लिया.

मैंने करवट लेने के अंदाज में पलटते हुए अपने हाथ सीधे मां के ऊपर रख दिया तो भौंचक्का रह गया. मैं रोजाना जिम करता हूँ… जिसकी वजह से मेरा शरीर बहुत ही गठीला और मजबूत हो गया है. मैं घुटने से नीचे झुक गई थी और वो मेरे बाल पीछे की तरफ खींच रहा था.

इंग्लिश बीएफ हिंदी पिक्चर स्वाति- ठीक है, मैं समझ सकती हूँ।मैं- तो अभी कोई गुस्सा नहीं है ना?स्वाति- नहीं प्रिय… माफ़ कीजिये मेरी स्वामी!ऐसे बोल कर स्वाति हंसने लगी. उसके साथ साथ मैं उनके निप्पल अपनी चुटकी में लेकर बेरहमी से मसल रहा था.

मेरा ईश्वर गवाह है कि आप मेरे जीवन में आये प्रथम पुरुष हैं और उस रात के बाद से मैंने हमेशा आप को अपने पति के रूप में ही देखा और चाहा है. हम दोनों पूरी मस्ती में आ गए थे और एक दूसरे के गालों पर लगी क्रीम को चाटते हुए एक दूसरे को प्यार करने लगे. अब भाभी के ऊपर अन्तर्वासना की कहानी का असर होने लगा और बीयर भी अपना रंग दिखने लगी.

बीएफ एचडी ओपन

इन दोनों के बाद अभी 2 दर्जन से ज़्यादा लड़के मेरी गांड मारने के लिए खड़े थे. इन तस्वीरों को देख कर डेविड गरम होने लगा था क्योंकि उसका लौड़ा पैन्ट से बाहर निकालने की कोशिश करने लगा था. पर जैसे ही ये सोचा कि मुझे बाहर जाना है, ये सोच कर मेरी हालत खराब हो गई.

भले ही मैं सारी ज़िन्दगी उसे खुश करता रहूँ, लेकिन वो कभी भी इस चीज़ को नहीं समझेगी. दो मिनट के बाद मैंने लंड उसकी चुत पर सैट किया ही था कि वो बोली- प्लीज़ डॉगी स्टाइल में करो.

अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे कैसे दीदी को चोदा और हमने सेक्स किया.

लखनऊ से कानपुर की दूरी ज्यादा नहीं है इस वजह से मैं जल्द ही कानपुर पहुंच गया. वो बीच बीच में मेरे सिर को पकड़ कर मेरे मुँह में अपने लंड को अन्दर बाहर करता रहा. वो मेरे घर अक्सर आया करती थी तो मैं उसे सेक्स के बारे में बताती और कहती कि आज मेरे पति ने किस तरह से मेरी मस्त चुदाई की.

उसने हंस कर पूछा- क्यों?मैंने कहा कि तुम्हारी खूबसूरती को देखकर सोचता हूँ कि काश तुम मेरी बीवी होती. मैंने उस चीज को हाथ से महसूस किया तो पता चला कि दीदी ने अपनी चुत में एक बैंगन घुसा रखा है जिसको वह अन्दर बाहर कर रही थीं. अचानक मेरे कानों में प्रिया की आवाज़ सुनाई दी…मैंने आप से एक बात करनी है.

फिर हमारी कॉमन वाइफ अपने बाएँ हाथ से कंस्ट्रक्शन” को थामे धीमे-2 अपनी चूत के अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगी, लेकिन दोनों टोपे अत्यधिक मोटे होने के कारण छेद पर निशाना नहीं साध पा रहे थे.

देसी गांव की बीएफ पिक्चर: जब वो कमर मटका कर चलती थी तो सभी लड़कों की नज़र उसकी थिरकती गांड पर ही होती थी. पापा के स्कूल टाइम के सबसे अच्छे करीबी दोस्त कमलेश अंकल ने मुझे की सेक्सी कहानियों की एक बुक दी और बोले- इसे अकेले में पढ़ना, कोई ना देखे!और फिर गंदी गंदी सेक्स करते की फोटो वाली मैगजीन दिये.

तभी जीतू चिल्लाता हुआ आ गया- भाभी जी, घर में हैं क्या?उसके एक हाथ में ऑरेंज जूस था और दूसरे में ब्राउन ब्रेड. पता नहीं चला।ठीक 5 बजे मधु का फोन आया तो मेरी आँखें खुली।वो बोली- कहाँ हो भईया?फरीदाबाद में ही हूँ।”ठीक है जल्दी आना. मैंने उसे समझाया- अदिति, सच बात ये है कि मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ और अब मैं तुम्हारे साथ नार्मल फ्रेंड बनकर नहीं रह सकता.

उनके आदेश का पालन मैं कैसे नहीं करती, मैं तो खुद लंड चूसने के लिए मरी जा रही थी। पर मैं अनायास ही बाल के गुच्छों वाले लंड के सामने बैठ गई और उन झांटों को सहलाते हुए कौतुहल से उस साधक की ओर देखा, उस साधक ने एक मुस्कान दी और यूं ही खड़ा रहा।तब साध्वी ने मेरे मन की बात समझ कर कहा- इन तीनों के लंड पर बाल इसलिए हैं क्योंकि इन्हें खास लोगों की पसंद और मांग को पूरा करना होता है.

उसके होंठों पे अपने होंठों को रख दिए और 5 मिनट तक उसे गेट पर ही जबरदस्त किस किया. न केवल मेरा शरीर बलिष्ठ है बल्कि मेरा लंड भी पूरे 8 इंच लंबाई का है और मोटा भी किसी लड़की की कलाई जितना है. शाम को कॉलेज से आते टाइम मैंने मैनफ़ोर्से कंडोम का एक 20 पीस वाला पैकेट ले कर रख लिया, क्योंकि मुझे पता था कि अब कभी भी कुछ भी हो सकता है.