16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,पाकिस्तानी सेक्सी पिक्चर नंगी

तस्वीर का शीर्षक ,

साली के साथ सेक्सी: 16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो, अगले ही पल में मेरा पूरा लंड उसके मुँह में था और उसकी गोल-गोल चूचियाँ मेरे हाथों में…….

आदावासी सेक्सी हिंदी में

मेरी बगलों से लंड-रस बह रहा था, चूचो पर महामंत्री जी अपने हाथों से घुन्डियाँ घुमा कर मुझे मीठी सी टीस दे रहे थे, हाथ वाले लण्ड, मैं अभी भी जोर जोर से हिला रही थी, और पहलवान मेरी गाण्ड फाड़ रहा था।उस पर चोट खाए राजा ने जोर से एक झटका मारा और मेरी चूत फाड़ डाली।मेरी चूत से खून नहीं निकला तो राजा बोला- तू तो खेली-खाई है, तो भी तेरे इतने नखरे हैं… ये ले …!!!कह कर उसने एक और ज़ोर से झटका मारा…. सेक्सी वीडियो 17 साल की लड़कीअन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार और ढेर सारा प्यार! कहानी के बारे में जानने के लिए कहानी के पिछले भाग जरूर पढ़िए, मैं उम्मीद करता हूँ कि आप मित्रों और लड़कियों को मेरी कहानी जरूर पसंद आएगी.

पेटीकोट का कपड़ा पूरा फ़ैल गया।मेरे होंठ उसकी जांघों पर पहुंचे पेटीकोट के ऊपर से ही. सेक्सी फिल्म नंगी सेक्सी सेक्सीतभी उसने अपनी अंगुली मेरी चूत में घुसा दी और मेरे पास आकर मेरे स्तन उघाड़ कर चूसने लगा.

मैंने उसके दोनों झूलते हुए स्तनों को दबाना शुरू किया और रानी मेरे ऊपर अपनी कमर हिला-हिला कर अपनी चूत से मेरे लंड को चोदती रही… मगर इस आसन में रानी को ज्यादा तकलीफ़ हो रही थी.16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो: शब्द अधूरे ही रह गए क्योंकि तब तक मोना ने एक कराटे का वार अब्बास के मुँह पर किया, अब्बास दूर जा कर गिरा और वो उठता इससे पहले ही मोना ने अपने पैरों से पीटने की बरसात लगा दी…।अब्बास संभल भी नहीं पा रहा था कि मोना उसको पीट-पीट के लाल कर रही थी….

भाभी ने कहा- यह क्या?और मेरे लण्ड को गौर से देखा। इतना बड़ा नौ इंच लब्बा और दो इंच मोटा? हैं?मेरा लण्ड देख कर कोई भी यही कहेगा जो भाभी ने कहा….बरबस ही मुख से निकल पड़ा- विपिन, यूँ मत कर, मैं तो तेरी भाभी हूँ ना…’मेरी बेकरारी बढ़ती जा रही थी.

संगीत वाली सेक्सी फिल्म - 16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो

बैठते ही रीटा की फुद्दी ने फीच्च शीऽऽऽऽऽऽ से पिशाब का शिशकारे की मस्त आवाज सुन बहादुर के लण्ड ने ‘चोद डालो, चोद डालो!’ के नारे लगाने शुरू कर दिये.‘वाआवऽऽ वाहट ए लवली लौड़ाऽऽ!’ चूत के हमदम का आकार देख कर रीटा की चूत की धड़कन तेज हो गई.

बस यही सोच थी जो मुझे बाहर किसी लड़के से अपनी ख्वाहिश पूरी ना करने देती थी। मैं क्या करूँ? किस तरह अपनी बदनकी आग सर्द करूँ? समझ नहीं आता था. 16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो मैंने पूछा- कौन हो तुम और रात के इस अँधेरे में यहाँ क्या कर रही हो?तो वो शरमा कर बोली- साहब मेरा नाम रीना हैं और मैं आपके ही गाँव की हूँ … हमारे यहाँ शौचालय नहीं हैं इसलिए हम लोग नहर की तरफ आते हैं।मैंने कहा- तुम मेरी गाड़ी में आ जाओ, मैं तुम्हें घर तक छोड़ दूंगा!रीना आकर मेरे बगल वाली सीट पर बैठ गई.

उधर जिसने मेरी चूत में अपना लंड डाल रखा था उसने भी नीचे से धक्के बढ़ा दिए और जल्दी ही मेरी चूत में उसके वीर्य की बाढ़ आ गई.

16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो?

क्या पता फिर मौका मिले ना मिले? मैं उनके मम्मे चूसे ही जा रहा था और एक हाथ से चूत सहला रहा था. मेरी बात मानो, अभी के लिए इसको भूल जाओ, कहीं ऐसा न हो कि यह यहीं आपको मार डाले, इसका कोई भरोसा नहीं है।अब्बास- बस कर साले…. नहीं आप झूठ बोल रही है ?पर गुरूजी तो ऐसा ही कहते हैं।ये गुरूजी कौन है ?इसीलिए तो मैं कहती हूँ तुम एक नम्बर के लोल हो !जरा खुल कर बताओ !तो फिर प्रेम आश्रम में क्या गांड मरवाने जाते हो ?वो.

आंटी ओह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह्ह उईईई सीईईईई की आवाजें निकाल रही थी और कह रही थी- चोदो सागर जोर से! और जोर से! आज मेरी चूत का भोसड़ा बना दो!करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद आंटी ने कहा- मैं झरने वाली हूँ. वो मेरा सारा माल पी गई।फिर हमने एक बार और चूत चुदाई का खेल खेला और वापस आ गए!अब मैं जब भी गाँव जाता हूँ तो रीना को अलग अलग तरीकों से चोदता हूँ जिस से उसे भी खूब मजा आता है!आपको मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें।[emailprotected]. अभी तो हमने अच्छे से बातें भी नहीं की!‘अब तो मैंने तुम्हें अपना फोन नम्बर दे दिया है, रात को जब जी चाहे फोन कर लेना.

शर्माने की कोई बात नहीं है ! जाओ बैठो, मैं नाश्ता देती हूँ।”आप जाइए, मैं चड्डी धोकर डाल दूँ, फिर आता हूँ. धीरे-धीरे मैं मनीषा के वक्ष की तरफ बढ़ने लगा और उसका एक चूचा अपने हाथ और दूसरा अपने मुँह में ले लिया. आंटी ओह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह्ह उईईई सीईईईई की आवाजें निकाल रही थी और कह रही थी- चोदो सागर जोर से! और जोर से! आज मेरी चूत का भोसड़ा बना दो!करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद आंटी ने कहा- मैं झरने वाली हूँ.

तो उस दिन के बाद किसी और को नहीं देख पायेगा तू…!!!मेरी आँखें भर आई थी… पर साथ साथ होंठों पर मुस्कान भी थी. आह्ह्ह्ह्… ये क्या… जीजू का कड़क लण्ड मेरी उतरी हुई जीन्स के बीचोंबीच स्पर्श करने लगा.

सोमा ने मुझे देखते हुए कहा।कमल ने बिना देरी किये अपना सात इंच का मूसल मेरी चूत में रखा और मेरे दाने को रगड़ने लगा।मैंने आँखे बंद कर ली………फिर कमल ने अपना सुपारा मेरी चूत में घुसाया तो मैं मचल गई …….

कुछ ही देर में मैं झड़ने वाला था, मैंने उससे पूछा- अपना अमृत कहाँ गिराऊँ ?उसने झटपट मुझसे कहा- मेरे मोम्मों पर गिराओ !ऐसा कहकर वो लेट गई और मैंने उसके ऊपर चढ़कर चूचियों के बीच अपना सारा माल डाल दिया….

”मेरा लौड़ा तो चिकना हो ही रखा था, मैंने जैसे ही लगाया, मुझे लगने लगा कि आज मेरा लौड़ा छिल जायेगा क्योंकि ६-७ इंच का बड़ा लौड़ा भी छिद्र तक नहीं पहुँच रहा था, बस इतनी मोटी दरार में ही फँस गया ……और पारुल जान ने सिर्फ 2-3 धक्के ही मारने के लिए गांड आगे पीछे की थी कि मेरी पिचकारी छुट गई……और पूरा माल गांड से बाहर बहने लगा।चाची ने फिर मुझसे वादा लिया,” बेटा, मुझे हमेशा चोदोगे न…. उस दिन तो डर के मारे सिकुड़ गया था पर आज नरम नरम चूतड़ो का स्पर्श पा कर, चूत की खुशबू पा कर कैसा फ़ड़फ़ड़ाने लग गया था. मैंने कहा- ऐसा नहीं हो सकता!तो आंटी ने कहा- क्यों?मैंने पूछा- अंकल नहीं करते क्या आपके साथ?तो आंटी ने कहा- करते हैं पर तुम बताओ कि करोगे या नहीं?तो मैंने कहा- ठीक है!फिर मैंने कहा- आज नहीं, फिर कभी!उन्होंने कहा- आज क्यों नहीं?तो मैंने कहा- बस ऐसे ही!फिर आंटी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरे होंठो पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूसने लगी.

वहाँ ना जाने से तुम्हें जितना नुक्सान होगा मैं तुम्हें हर महीने उस से दुगना दे दूँगी …. ये मैना तो मर ही जायेगी तुम्हारे बिना” मुझे लगा जैसे मैं रो ही पडूँगी।मैं जानता हूँ आपने मुझे वो सुख दिया है जो मधु ने भी नहीं दिया पर मेरी विवशता है ?ऐसी क्या मजबूरी है ? ओह. हम लोग तो काफी घबरा गए थे पर हमारे पड़ोसी यानि कि मेरे मुँहबोले जीजाजी ने सब कुछ सम्हाल लिया.

कोमल ही एक स्त्री के रूप में मेरे सामने थी, वही धीरे धीरे मेरे मन में छाने लगी थी.

प्रेषक : अजय कुमारदोस्तो, मेरा नाम अजय है मैं 29 वर्ष का हूँ, मैं भी आपकी तरह इस साईट का दीवाना हूँ और जब भी मुझे मौका मिलता है तो यहाँ कहानियाँ पढ़ता हूँ. चूत !और उसे चाटने लगे !चूत वैसे भी काफी गर्म हो रही थी और वो पानी छोड़ने लगी। मैंने कहा- अब आप ऊपर आ जाओ !वे शरारत से बोले- साफ बोलो कि मुझे क्या करना है?मुझे पता था अब ये मेरे मुँह से बुलवाकर छोड़ेंगे इसलिए मैंने जल्दी से अपनी आँखे बंद कर के कहा- आप मुझे चोद दो !पर वे कौन से कम थे, बोले- मैंने सुना नहीं ! जरा जोर से बोलो !मैं जोर से उन्हें अपने ऊपर खींचते हुए बोली- मुझे चोद दो ! चो…. इतना ही काफी था मुझे घुमाने के लिए!मैं भी उसके लंड से खेलने लगी, लण्ड दोबारा खड़ा होने लगा तो मैंने चूस कर उसको पूरा खड़ा कर दिया.

मैं बहुत खुश था- आखिर दो चूतों का स्वाद जो मिला था मेरे लौड़े को!उसके बाद जब भी जिस भी बहन के साथ मौका मिलता, मैं सेक्स के मज़े लेता. प्रेषिका : अंजलिमेरा नाम सुमित है 19 साल उम्र है। चुदाई का बहुत प्यासा रहने वाला लौंडा हूँ, देखने में भी अच्छा ही हूँ।यह बात उन दिनों की है जब मैं बी. मैं मुंबई का रहने वाला हूँ, मेरा कद 5 फ़ुट 9 इन्च है। मेरे शरीर का रंग गोरा है और 7″ का लंड है.

पर गलती से सी-डी गिर गई … इससे पहले कि मैं कुछ करता, वो सी-डी उठाने के लिए नीचे झुकी ! झुकने के कारण उसके आधे से भी ज्यादा स्तन दिखाई देने लगे….

शर्माने की कोई बात नहीं है ! जाओ बैठो, मैं नाश्ता देती हूँ।”आप जाइए, मैं चड्डी धोकर डाल दूँ, फिर आता हूँ. आह अआह आहाह आः आह आह की ध्वनि फ़ूटने लगी।मैंने उसके टॉप को निकाल दिया और उसके स्तनों को ब्रा के ऊपर से चूसने लगा। उसकी सेक्सी आवाजें ओह आह आह आहा आह आह ….

16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो वो मेरे लंड को आगे पीछे करने के बजाए दबा रही थी, मैं गरम हो कर बोला- चाँदनी, चूस ना मेरा!तो वो बोली- ‘क्या’तो मुझे लगा कि पहले इसको समझा देना ज़रूरी होगा कि सेक्स कैसे करते हैं ताकि मजा आए. सभी के जाने के बाद मैंने अंदर से दरवाजा बंद कर दिया और सोनम की तरफ देखा तो सोनम के चेहरे पर एक शर्म थी जो मुझे बहुत अच्छी लगी.

16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो वो भी हंसी मजाक में कभी कभी मेरे चूतड़ों पर हाथ मार देते थे, कभी मेरी पीठ पर हल्के से मुक्का मार देते थे. जब तक मैं मोना के साथ रहा, हमने सेक्स के बहुत मज़े लिए पर उसी बीच एक ऐसी बात हो गई जिसने मुझे बहुत डरा दिया.

मैं स्वाद ले लेकर चुसाई कर रही थी और मेरे मुंह से बहुत सेक्सी आवाजें निकल रहीं थीं.

ब्लू पिक्चर हॉट

बात करते करते अंकल मम्मी के और करीब आ गए और मम्मी को इशारे में कुछ कहा पर मम्मी ने मेरी ओर इशारा किया. मैं देख कर आती हूँ।सोनिया- क्या नाम है तेरा?चौहान” उनमें से एक बड़ा अकड़कर बोला।दूसरा बोला- चौधरी।सोनिया- सुनो चौहान और चौधरी के बच्चो…. क्या नितम्ब थे उसके! बिल्कुल गोल-गोल और कसी हुई स्कर्ट में वो और भी सुंदर लग रहे थे.

इसीलिए मामा को ही बुला लिया। अब तो हम सब गोला बना कर भी एक दूसरे की गांड मार सकते हैं. मैंने कभी भी मोना आंटी को गलत नज़र से नहीं देखा था, मैं उनके घर अक्सर आता जाता था. मुझे लगा कि उसे मज़ा आ रहा है तो कुछ देर और चूस लेती हूँ क्यूँकि उधर मुझे भी चूत चटवाने में मज़ा आ रहा था.

तब लण्ड रीटा के दाने को रगड़ता हुआ रीटा की बच्चेदानी से टकरा कर रीटा को गुदगुदा जाता तो हरामी रीटा मजे से दोहरी हो प्यार में अपने चूचों को राजू के सीने से रगड़ कर राजू के मुँह पर चुम्बन जड़ देती.

उसे देख मैं भी रुक गया, मगर थोड़ी देर बाद मैं आगे बढ़ा और उसके पास चला गया और उसे बात की. मैं पूरे जोर से उसके मुँह में झड़ गई, वो सब चाट गया।फिर उसने अपना लौड़ा मेरी चूत के मुंह पर रख कर रगड़ना शुरू किया। मैं फिर से गीली होने लगी। मैं तैयार होती इसके पहले ही उसने पूरे जोर से अपना लौड़ा मेरी चूत में दे मारा !दर्द से मेरे आँसू निकल गए। पर उस पर तो जैसे पागलपन सवार था, कुछ सुन ही नहीं रहा था, बस चोदे जा रहा था। उसका एक एक झटका मेरी जान ले रहा था. गया…क्या?’दीपू ने मेरी बात का कोई जवाब नहीं दिया और मुझे चोद रहे राजू के कान में आ कर कुछ बोला और कूपे से बाहर निकल गया.

कुछ देर इन्तजार करने के बाद श्यामलाल ने मुझे अंदर बुलाया और मुझे अपनी बेटी से मिलवाया. मैं अगले दिन सुबह 8 बजे छत पर जाने वाला था पर कोहरा होने के कारण मैं 9-30 पर छत पर गया…अपनी नहीं रक्षिता की. मैं भी उसका साथ दे रही थी… मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी… नीचे उसने लुंगी और कच्छा पहना हुआ था… उसकी लुंगी भी मैंने खींच कर निकाल दी।अब उसका कच्छे में से बड़ा सा लण्ड मेरी जांघों में घुसने की कोशिश कर रहा था…उसने भी मेरा कुरता उतार दिया और मेरी सलवार भी उतार दी…अब में ब्रा और पैंटी में थी और वो कच्छे में.

उसके बाद धीरे धीरे मैंने अपना पूरा लण्ड उसकी गाण्ड में घुसा दिया और हम दोनों फिर से बिस्तर पर लेट गए. तन और मन में आते बदलाव, कुछ कुछ होने जैसी अनुभूति होती थी चेहरे पे सदा रहने वाली मुस्कान.

कुछ ही देर में हम दोनों सामान्य हो चुके थे… और एक दूसरे को प्यार भरी नजरों से देख रहे थे… हम दो बार झड़ चुके थे…पर तरोताजा थे… थोड़ी देर के बाद हमने कपड़े पहने और फिर मैं अपने कमरे में आ गया. यह तब की बात है जब बुआ की बड़ी लड़की की शादी थी और मैं शादी के इंतजाम के लिए एक महीना पहले चला गया था. मैं देखना चाहता था कि आखिर ये दोनों करते क्या हैं?मैं जब अंकल के घर के पास पहुँचा तो घर का दरवाजा अन्दर से बंद था पर अन्दर से बात करने की आवाज़ आ रही थी.

!’‘जी?’ मैं मुस्करा रही थी।उसने मेरी हाथों की ऊँगलियों को सहलाते हुए कहा,’तुम्हारे ये लंबे नाख़ून, ये गहरे लाल रंग का नेल-एनेमल इन गोरी-गोरी ऊँगलियों पर कितनी सेक्सी लग रहा है…’ मुझे आलोक का सहलाना और ऐसी बातें करना बहुत ही अच्छा लग रहा था…‘नताशा, तुम अपने सौन्दर्य का बहुत ध्यान रखती हो!’.

आप तो मेरे स्वामी हो! मुझे जैसा और जितना चाहो, चोदो, जब चाहे चोदो!इस बीच टीवी में जो सीन था वो देखकर चाँदनी फिर टीवी से चिपक गई. उसने कहा ‘मैडम आप गेट बंद कर लीजिये मैं कुछ देर में आता हूँ तब आपका टिकेट चेक कर लूँगा. पहले तो मुझे बहुत शर्म आ रही थी, फिर मैं हिम्मत करके एक दुकान से तीन पेंटी और एक ब्रा खरीद कर ले आई.

मुकेश ने मेरी चूचियों को मसलते मसलते एकदम टीशर्ट को खींच दिया जिससे टीशर्ट फट गई और मेरे दोनों स्तन आज़ाद हो गए. मैंने उन्हें बाहों में उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और वो मेरा लंड चूसने लगी फिर मैंने उनको घोड़ी बनने के लिए कहा.

वो तो अभी तक नंगी ही थी, सीधे ही वो बिस्तर पर चढ़ गई और अपने चूतड़ ऊपर करके घोड़ी बन गई. एक तरफ नीना मेरे लंड पर सवार थी तो पीछे से अमित उस चूत में अपना घोड़े के लंड जैसा मूसल लंड डाल दिया. मुकेश का लौड़ा मुझे गांड में ऐसा लग रहा था जैसे कोई जहाज समुन्दर को फाड़ता हुआ जा रहा हो.

बफ इंग्लिश

अब उसके बाद मैंने उसके हाथों को पकड़ कर अपनी कमर पर रख दिया और उसकी कमर को अपनी तरफ और कस दिया और उसके होंठों को और चूसने लगा.

बलवंत_सीडी: अभीक्या कर रहे होबलवंत_सीडी: फिर से बतानाबलवंत_सीडी: नम्बरबज़!!!!अनामिका : मैं जा रही हूंबलवंत_सीडी: नम्बर बता दोबज़!!!!बलवंत_सीडी: हेलोअनामिका : *************बलवंत_सीडी: कितनी देर में काल करूंअनामिका : मैं बस नहाने जा रही हूंअनामिका : १० मिनट बाद करोबलवंत_सीडी: कितनी देर में काल करूंबलवंत_सीडी: हेलोबज़!!!!0357. मैंने अनजान बनते हुए अपने गले की तरफ़ देखा और हँसते हुए कहा- कहाँ यार… मैंने ब्लाउज पहना ही कहाँ है ये तो ब्रा में रखा हुआ है. ? मज़े लो ना ! फिर कहाँ मौका मिलेगा …उसने मेरा स्कर्ट ऊपर किया और पैंटी उतारने लगा …नहीं अखिल ! आह.

मैंने लण्ड को बाहर निकाले बिना चाची को अपनी बाँहों में लिया और मैं सीधा लेट गया और चाची को मेरे ऊपर लिटा लिया।चाची पूरी तरह से थक चुकी थी और वो लगभग सो गई थी लेकिन मैं नहीं सोया था…. पापा को ट्यूशन से बहुत नफरत थी इसलिए मैं वो भी नहीं लगवा सकता था तो भाभी से मदद मांगी तो उन्होंने मदद करने के लिए हाँ कह दी. छोटी लड़की का सेक्सी वीडियो हिंदी मेंराज अंकल ने कहा- बड़ा मीठा दूध है तेरा!उधर राहुल अंकल बाजी की गांड को सहला रहे थे.

भले मुझसे नहीं किसी और से सही… जब रश्मि ने उसके सामने अपना वक्ष- प्रदर्शन किया क्या उसका मन नहीं किया उन्हें छूने का. वाह! क्या मजा था उसके होंठों का! एकदम मीठा-मीठा जैसे अभी अभी वो कोई मिठाई खा कर आई हो.

बाकी चार लोग पीछे ही रुके थे जो भागने वालों पर नज़र रखने के लिए थे।दरवाजे के करीब पहुँचते ही एक सिपाही ने जोर से पैर से धक्का मारकर दरवाजा खोल दिया और अंदर जाते ही सोनिया बोली- कोई चालाकी नहीं… जो जहाँ है वो वहीं खड़ा रहेगा… तुम को पुलिस ने चारों ओर से घेर लिया है !गुंडों ने उनकी एक नहीं सुनी और अपने हथियार निकालकर फायर शुरू कर दिया…. 15 से लेकर सुबह के तीन बजे तक चुदाई की और चादर धोकर सोने चले गये।सुबह दीदी ने हमे 8. वो… वो तो राते आवै है… कोई आठ बजे, बाकी तो साथ को नी रेहवै…”मतलब…?”म्हारे इनके हिस्से के पांती आयो है… सो अठै ही एकलो रहवा करे!”मैं अपने बिस्तर पर आराम कर ही रहा था कि मुझे छबीली की चीख सुनाई दी.

पूरे लंड को उसने चाटा, फ़िर से मखन लगाया।मैंने उसे खड़ा किया और बेड पकड़ कर झुकाया।इस तरह खड़े होने से उसके चौड़े और उभरे हुए चूतड़ बहुत ही सेक्सी दिख रहे थे। गांड का छेद और चूत दोनों उभर आए थे। मैंने पहले उसके चूत और गांड दोनों पर लंड को बहुत अच्छे से रगड़ा और पहले मैंने उसकी चूत के ऊपर मेरा लंड टिकाया और उसकी पतली कमर को जोर से पकड़ कर दबाया. जैसे ही हम अलग आये तो सोनम ने मुझे एक लाल गुलाब पकड़ाया और मुझे ‘आई लव यू ‘ बोलकर मेरे गले लग गई. आह्ह्ह की आवाज आने लगी जिसे सुनकर मैं बेकाबू हो गया और फिर मैंने अपने शेषनाग को बिल में प्रवेश कराया तो आवाज आई….

लड़कों की मेरे स्तनों पर पड़ती तिरछी निगाहें अब मैं भांपना सीख गई थी… छेड़-छाड़ भी आम सी बात हो गई थी.

‘ये लो मेरी जान… ‘ जीजू ने अपना शरीर ऊपर उठाया और मेरी चूत के लबों पर अपना लण्ड रख दिया. मैं अपनी पैंटी और ब्रा भी हटाई, मेरी फुद्दी और कांख के बाल देख वो नाराज़ हो गया !उसने तुरंत अपने बार्बर से शेव करवाया … और दो लोग अच्छे से मुझे मालिश कर रहे थे ….

मैंने अपना मुँह उनकी गुलाबी चूत पर रख दिया और कभी उसको चाटता तो कभी अपनी जीभ उनकी चूत में डाल देता. करीब आधा घंटा की चुदाई के बाद अब वो अकड़ने लगी और अब मैं भी झड़ने वाला था। दस पन्द्रह झटकों के बाद हम दोनों एक साथ ही झड़ गए।उसके बाद मैंने उसे कई तरीकों से चोदा, वो फिर कभी बताऊंगा…. वो कह रही थी- पी जाओ मेरा सारा दूध! जोर जोर से चूसो! ओह्ह्ह उईईईए मीईईए अह्ह्ह्ह सीईईई!मैंने फिर एक हाथ को उसके पेट से सरकाते हुए उसकी सलवार को उतारा और पेंटी के ऊपर से ही हाथ फ़िराने लगा, वो मेरे लंड को पैंट के ऊपर से ही सहला रही थी.

मैंने उनके गाल पर चूम कर उन आँसुओं को अपने होंठों से पी लिया और अपनी बाहों में भर लिया. निर्लज्ज नंगी रीटा ने बहादुर की गदर्न में बाहों का हार डाल कर बहादुर को जबर्दस्ती अपने ऊपर खींच कर बहादुर की कमर अपनी सुडौल व गुदाज़ टांगों का ताला लगा दिया. फिर हम लोग एक गोला बना कर खड़े हो गए। इस बार मैं अपनी दादी का और दादी मेरी मम्मी की गांड मार रही थी। मेरी मम्मी अपनी साली की और उनकी साली यानी मेरी मामी मेरी चाची की गांड मारने के लिए तैयार थी।क्या नजारा था.

16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो ‘शरमाओ मत… मुझसे कहो दीदी… तुम्हारा भैया है ना… एकदम कुंवारा…!’मैंने सोनू का हाथ धीरे से पकड़ लिया. प्रेषक : जोर्डनसोनिया ने चार गुंडों को घायल किया था और शायद उनमें से दो मरने की हालत में थे… अब करीब 6-7 गुंडे और बचे थे जो फायरिंग कर रहे थे जिसकी वजह से दो हवलदार भी घायल थे। सोनिया ने पीछे छोड़े चार पुलिस वाले भी वायरलेस पर मेसेज देकर अंदर बुला लिए। उन्होंने भी आते ही फायरिंग शुरू कर दी और बेचारे गुंडों के सारे आशाएँ खत्म हो गई….

सेक्सी डीजे

मैंने हिम्मत करके अपने सीने पर ब्लाऊज का ऊपर का बटन खोल दिया था, ताकि उसे अपना हुस्न दिखा सकूं. मैं बरामदे का दरवाजा बन्दकर गहरी सोच में डूब कर खड़ी हो गई कि अब तो कल की तरह चुदवाना भी मुश्किल हो गया है…तभी देवर मेरे बेडरूम की खिड़की से इशारा कर मेरा ध्यान हटाया और मैं उसके पास चली गई. ए (म्यूजिक) कर रही हूँ, कॉलेज के कार्यक्रमों में मेरी प्रस्तुति होती ही होती है पर मैं एक बहुत गरीब घर की लड़की थी, पिता का साया नहीं था, जब मैं आठ साल की थी, तब वो काम के लिए आबूधाबी गए लेकिन वापस नहीं आये। शुरु के दस महीनों के बाद ना कोई फ़ोन आता, ना चिट्ठी, ना पैसा।हम तीन बहनें थी, हमारा भाई नहीं है, मेरा नंबर दूसरा है, बड़ी दीदी ने बी.

मैंने घर पर फोन करके बता दिया कि मैं एक और महीने तक जयपुर रुकूँगा और भाभी उसके बाद नौकरी छोड़ देंगी और हमेशा घर पर ही रहेंगी. उसने मेरी गर्दन पर अपने दांत लगा दिए और काटने लगी। शायद वो भी गर्म हो गई थी, उसकी चूत भी गीली हो गई थी। मैंने एक ऊँगली अंदर दाल दी और फिराने लगा। उसने और तेज काटना शुरू कर दिया। मेरी हालत भी खराब हो गई थी!फिर उसने कहा- बस करो ! मुझे कुछ हो रहा है !शायद उसे लंड चाहिए था। तभी फिल्म ख़त्म होने लगी, हम ठीक होकर बैठ गए।शेष कहानी अन्तर्वासना डॉट कॉम पर अगले भाग में ![emailprotected]. होली की चुदाई सेक्सी वीडियोदुकानवाला माफ़ी मांगते हुए बोला- अरे, मैं तो मजाक कर रहा था! ही…ही…ही…स्कूल का कार्यक्रम ख़त्म होने के बाद मैं स्कूल के गेट के बाहर खड़ा हो गया.

उसकी जुबान मेरी चूत में हरक़त करती तो मैं पगला जाती!उसने मेरी दोनों टाँगें चौड़ी करवा ली और अपना लंड मेरी चूत पर टिकाते हुए रगड़ा तो मस्ती से मेरी आंखें बंद हो गई.

चल जल्दी से बता!”तुम पहले वादा करो कि तुम किसी को भी नहीं बताओगी!”अरे बाबा, मुझ पर भरोसा रखो, मैं किसी को भी नहीं बताऊँगी. बाद में जब सब अपने पलंग पर चले गये तो मैंने उससे कहा- ये क्या छोटे छोटे सेब खिला रही हो!तो वो बोली- अगर बड़े सेब खाने हैं तो घर आना पड़ेगा! फिर तुम्हें असली मुलायम और बड़े सेब खिलाऊँगी.

मैंने उसकी चूत के पट खोल डाले और अन्दर गुलाबी चूत में लण्ड को घिसा… उसका दाना लण्ड के सुपाड़े से रगड़ दिया. उसकी बात सुन कर मुझे भी हंसी आ गई और फिर उसका विचार भी सही था इसलिए मैंने तुरंत हाँ कर दी।मैं भी इस फिराक में था कि लड़कियों के साथ रात में शायद कोई नज़ारा देखने को मिल जाए या फिर कोई जुगाड़ ही हो जाये. है… चाय पीओ गर्म गर्म…अनिल- भाभी, मगर मुझे तो वोही गर्मी चाहिए जो बस में थी…मैं शरमाते हुए अपने बाल ठीक करने लगी.

फिर धीरे से मैंने आगे को झुक कर उसके चुचूक को मुँह में ले लिया और जोर से चूसने लगा.

उसकी तेज होती साँसों की गूंज… होंटों के किनारे पर रबर-सी लचीली स्तन की कली की छुअन…. स्कर्ट उसकी गोरी मखमली टांगों से ऊपर उठ कर जांघों तक तक़रीबन चड्डी से कुछ ही सेंटीमीटर नीचे रह गई थी. वो मेरे पड़ोस में रहने वाली 18 साल की लड़की है जो कक्षा 11 या 12 में पढ़ती है और शाम में कॉलोनी के बाकी बच्चों के साथ छुपा छुपी खेलते समय अक्सर मेरे घर में या आस-पास आकर छुप जाती है.

करीना का सेक्सी फिल्म?उसने कहा- खेल कपड़ों अदला बदली का है।मैंने कहा- इसमें ऐसी क्या बात है? ठीक है, मैं तैयार हूँ।वो मुझे अपनी मम्मी के कमरे में ले गया। वहाँ मैंने अपने कपड़े उतरने शुरू किये. रेशम सी मुलायम चूत तन्दूर सी गरम और दहक रही थी और पहली चुदाई के पानी से अभी भी पच्च पच्च गीली थी.

आलिया भट्ट xxx com

भेनचोद छोड़ ! बाहर निकाल … मैं मार जावाँगी… उईईईईईईई !”दर्द के मारे मेरा पूरा बदन ऐंठने लगा था, ऐसा लग रहा था जैसे कोई गर्म लोहे की सलाख मेरी गाण्ड में डाल दी हो।मेरी बुलबुल ! कुछ नहीं होगा…. देखो ये सुन कर मेरा लण्ड तो खड़ा होने लगा है !”यदि आपने ये सब किया तो फिर चोद लेना मुझे ?…. हाँ तैयार हूँ !फिर मैंने जोर का धक्का देकर लंड पिंकी के चूत में धकेल दिया। लंड चूत में जाते ही आऽऽ आऽ आहह्हह्ह ! पिंकी चिल्ला उठी।फिर थोड़ी देर बाद मैं लंड अंदर-बाहर करने लगा। पिंकी मदहोश होकर चुदाई का आनंद ले रही थी।पिंकी अब बस करो ! अब रेशमा को चोदने दो… वो तरस रही है !ठीक है ! पिंकी बोली और कविता के बगल में जा बैठी।रेशमा डार्लिंग आओ.

इसके बाद मैंने रिया को सीधा लिटा दिया और उसकी टांगों को ऊपर उठा कर अपना लंड उसकी चूत से सटा दिया, मैं अपने लंड को उनके दाने पर मलने लगा… जो ख़ुशी मुझे मिल रही थी उसको मैं बयान नहीं कर सकता. ‘आआह्ह हा आदित्य आह्ह्ह्ह्…’लेकिन मेरा सिर उन्होंने अपनी छाती पर दबा लिया। ऊऊफ़्फ़ धीरे! इतने ज़ोर से मत दबा!’मैंने कुछ सुना नहीं, बिस्तर पर धकेला… उनके पैर नीचे लटक रहे थे…मेरा तो लंड अब बेकाबू होने लगा…. मेरी सहेली मेरी ही तरह गांव में पड़ोस में रहने वाली विधवा युवती गोमती थी जो मुझसे पांच साल बड़ी थी.

उसने इतनी जोर से मेरी पेंटी को खींचा कि वो फट गई पर सब कुछ भूल के वो बस मेरी चूत सहलाने में लगा था … मैं तो मज़े से मरी ही जा रही थी … झड़ने ही वाली थी कि उसे दूर धकेला … झट से नीचे उतर कर उसके लौड़े को अपने मुँह में ले लिया. आज जब एक बार फिर से मैं अन्तर्वासना की साईट पर गया तो फ़ैसला किया कि एक बार तो अपना अनुभव मैं भी लिखूँ. बोरीवली स्टेशन पर उतरने के बाद वो लोग ऑटो में चले गए, मैं उन्हें जाता देखता रहा पर अफ़सोस अनु से मैं उसका फोन नंबर नहीं ले पाया.

दर्द से मैं कराहने लगी, बीच बीच में मैं चिल्ला भी पड़ती थी मगर उसे कुछ फ़र्क नहीं पड़ रहा था। उसने तो आज अपनी बहन की चूत फ़ाड़ने का सोच ही लिया था…वो मेरे निप्पल चबाने लगा, मैं मदहोश हो चुकी थी पूरी तरह. गले से क्या लगाया, सबने अपनी छाती से मेरे चूचों को दबाया…मैं समझ गई कि ये सभी ठरकी हैं, अगर किसी को भी लाइन दूँगी तो झट से मुझे चोद देगा।मैं खुश हो गई कि कहाँ एक लौड़ा मांग रही थी और कहाँ चार-चार लौड़े आ गये…पापा उनके साथ अन्दर बैठे थे और मैं चाय लेकर गई… जैसे ही मैं चाय रखने के लिए झुकी तो साथ ही बैठे राठौड़ अंकल ने मेरी पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- कोमल बेटी.

जब वो नहा रही थी…” वो शर्माता भी जा रहा था और मैंने देखा कि उसका मुंह लाल हो रहा था.

मैंने दोनों से बदला लेने की कसम खा ली।उसी शाम की बात है मैं छत पर गई तो उसी कमरे से सोमा के हँसने की आवाज आई…मैं फिर दबे पांव वहाँ पहुंची तो कमल की आवाज भी आई। मैंने खिड़की से झाँका तो मजा आ गया।सोमा ने अपने लहंगे को कमर तक चढ़ा रखा था और कमल खड़े खड़े अपना लंड उसकी चूत में पेल रहा था। दोनों मेरे बारे में बातें कर रहे थे।साली को मारने में बहुत मजा आता है” …स्स्स्स …. जापानी का सेक्सी वीडियोउस चीज के लगते ही उसके मुँह से एक जोर की सिसकारी- ईईईईईईए आआआआआम्मं स्स्स्सीईईई निकल गई. सेक्स सेक्सी ब्लू हिंदी मेंछोटे-छोटे रसकूप (उरोज)। होंठ इतने सुर्ख लाल, मोटे-मोटे हैं तो उसके निचले होंठ मेरा मतलब है कि उसकी बुर के होंठ कैसे होंगे। मैं तो सोच कर ही रोमांचित हो उठा। मेरा पप्पू तो छलांगे ही लगाने लगा। उसके होठों के दाहाने (चौड़ाई) तो 2. वो एक साथ तीन तीन उँगलियाँ मेरी चूत में डालता और फ़िर चाटता रहता…मैं भी तेजी से बॉस के लंड को चूस रही थी… राहुल ने मुझे पूरी तरह से मस्त कर दिया था।अब मेरी बुर तरस रही थी चुदाने के लिए… मैं मन ही मन खुश हो रही थी.

लड़कों की मेरे स्तनों पर पड़ती तिरछी निगाहें अब मैं भांपना सीख गई थी… छेड़-छाड़ भी आम सी बात हो गई थी.

? तो तू क्या है? रण्डियो की रानी? जब सिपाही तुझे मसल कुचल रहे थे, तब कहाँ था तेरा सतीत्व. मैं और वो सुबह सोकर उठे, मैंने सोचा कि चिंकी मम्मी से मेरी शिकायत करे, उससे अच्छा है कि मैं इससे माफ़ी मांग लूँ. कॉलेज की प्रतिभा कि खोज निकालना और मौका देना मेरा काम है यार… इससे ही तो हमारे कॉलेज का नाम रोशन होगा। चलो अभी मैं व्यस्त हूँ.

आंटी जोर से बोली- सागर, निकालो इसको! दर्द हो रहा है!मैंने कहा- अब मजा भी आएगा!और मैं जोर-जोर से लंड को उसकी गांड में ठोके जा रहा था. ” सोनिया मस्ती में चीख रही थी।मैं भी मस्ती में जोर जोर से धक्के लगा कर सोनिया की कुंवारी चूत का भुर्ता बना रहा था।ओह्ह. फिर मैंने अपनी साइड बदल कर उसकी तरफ मुँह कर लिया और उसके मोमे जोर जोर से दबाने लगा.

दीपिका पादुकोण का सेक्स वीडियो

उस दिन मेरे मन में अपार संतुष्टि थी…!!!कुछ पलों के लिए इस प्रेम कथा को द्वितीय विराम देते हैं !आपको क्या लगता है. ? मैंने पूछा तो पिंकी ने कहा- कॉलेज को छुट्टी है तो तुम्हारे साथ कुछ खेल खेले ऐसा सोचकर हम चली आई ! तू भी तो अकेला है…क्या खेलें…. बातों ही बातों में उसने बताया कि उसका नाम रिया शर्मा है जो मैं पहले ही उसके कंपनी आईडी कार्ड में देख चुका था.

दोस्त को तो जगह मिल गई, मुझे जगह नहीं मिली तो बगल वाली छत से आवाज आई- जगह नहीं है तो हमारी छत पर आ जाओ.

धीरे धीरे इसी तरह हम बड़े होने लगे समय बीतने लगा… समय के साथ उसका कद 4 फुट से 5 फुट हो गया.

उसकी ब्रा को नीचे किया तो उसके उरोजों को गुलाबी रंग के चूचुक काफी सुंदर लग रहे थे. उसकी गाण्ड से खून छलक गया… उसकी गाण्ड का छेद फ़ट चुका था… रानी इतनी थक गई थी कि चिल्ला भी नहीं सकती थी. अच्छी वाली सेक्सी हिंदी मेंयहाँ बाहर मेरी हालत ऐसी हो रही थी जैसे मैं तेज़ धूप में खडा हूँ, मैं पसीने पसीने हो गया था और मेरे लंड की तो बात ही मत करो एक दम खड़ा होकर सलामी दे रहा था.

और बोलकर आकृति और मैं हँसने लगे…फिर आकृति ने बात को संभालते हुए बोला- चंडीगढ़ दिखाने गया था…तो मैंने भी बोला- हाँ. ‘बहुत बड़ी रण्डी बन रही हो जानेमन श्वेता… लण्ड चूसने का तुम्हें बहुत शौक है!’‘ये लण्ड तो मेरी जान हैं… राजेश जी… भले ही विनोद से पूछ लो?’ मम्मी का एक हाथ विनोद के लण्ड पर ऊपर नीचे चल रहा था. ’‘चलो अब भोजन कर लो… म्हारे तो यो देखो, कैसी सूजन आ गई है, बट एन्जॉयड वेरी मच!’‘अरे तुम तो अन्ग्रेजी जानती हो?’‘माय डियर आय एम ए पोस्ट ग्रेजुएट इन बोटेनी!’ वो इतरा कर बोली.

मैं बहुत शर्मीला था मगर मेरे चरित्र में बदलाव किस तरह हुआ वो मैं बताने जा रहा हूँ. उसका लंड भी तो निचुड़ जाता है, उसे चूस कर ही छोड़ती है यह चूत…तो ऐसी ही खूबसूरत प्यासी चूत मेरी भी है.

’उसके बात सुनते ही मैंने सोचा कि ऐसे लंड का पानी तो चूत की जगह मुंह में लेना चाहिए.

उसने शायद पूरा खड़ा और चोदने को तैयार लंड पहली बार देखा तो उसका मुँह खुला और आँख फटी रह गई…मैं मौका देख कर खिड़की के पास जा कर मुठ मारने लगा और लौड़े को उसको हर तरफ से दिखाने लगा और जल्दी ही मैं झड़ गया और मेरा वीर्य सीधे पिचकारी मारता हुआ उसके घुटने में जा लगा…वो मेरे चेहरे और लंड को मिले सुकून से मुस्कुरा दी तो मैंने उसको बोला- अंदर आ जाओ. रात को करीब 8 बजे जब ज्योति घर पहुंची तो वो खाना खाकर सीधा अपने कमरे में चली गई और फिर आयशा भी अपने कमरे में सोने के लिए चली गई और मैं टी. बारहवीं कक्षा पास करने के बाद जब मैंने कॉलेज में दाखिला लिया तो वहाँ नई सहेलियाँ बनीं.

ससुर बहू की ब्लू सेक्सी औरऽऽ और ऽऽ जैसी आवाजें निकाल रही थी। मैंने और जोर लगाया और पूरा लंड अन्दर डाल दिया, वो चीखी लेकिन उन्होंने मुझे नहीं रोका। मैंने अब अंदर-बाहर, अंदर-बाहर करना शुरू किया।मैंने उन्हें 20-25 मिनट चोदा, मेरा वीर्य निकल आया और भाभी का भी. तब से उसके एक स्कूल के टीचर के साथ उसकी अफ़वाहें उड़ने लगी थी… मैंने भी उन्हें होटल में, सिनेमा में, गार्डन में कितनी ही बार देखा था.

तब चित्रा ने स्थिति को संभालते हुए कहा- मैंने कहा था! हम आगे से ऐसा कुछ दोबारा नहीं करेंगे. राजा अब झड़ने वाला था… राजा ने एक झटके से अपना लण्ड फिर मेरी चूत में पेला और झड़ने लगा…आगे बढ़ कर मेरे होंठ चूसने लगा… उसने मेरी चूचक मसले … और मेरे अन्दर ही झड़ गया… उसके बाद वो मुझ पर से हट गया. कि तभी अचानक राजा ने लण्ड निकाल कर मेरी गाण्ड में पेल दिया…राजा अब झड़ने वाला था… राजा ने एक झटके से अपना लण्ड फिर मेरी चूत में पेला और झड़ने लगा … आगे बढ़ कर मेरे होंठ चूसने लगा.

सेक्सी डांस सेक्सी डांस सेक्सी

’जो आखरी बचा हुआ था वो मेरी गाली सुनकर भड़क गया और जल्दी से अपना खड़ा लंड ले कर मेरी चूत के पास आया और मेरी चूत पर लंड टिकाते हुए बोला ‘ ले. तो यह बात है… रश्मि। यही तो मैं सोच रहा था कि तुम्हारे जैसी बला की खूबसूरत लड़की इतनी आसानी से कैसे तैयार हो गई।खैर मैंने रश्मि से कहा- चलो, आज मैं तुम्हारी अतृप्त वासना की इच्छा पूरी करता हूँ।अगली कड़ी में समाप्य !. मैंने उनकी टांगों पर हाथ फेरना शुरु कर दिया और धीरे धीरे उनकी स्कर्ट के अन्दर हाथ डालना शुरु कर दिया.

मैंने उसके होंठो को चूसते हुए उसके पूरे चेहरे को चाट-चाट कर गीला कर दिया और दोस्तो, आप तो जानते ही हैं कि कड़कियों के गले पत चूमने और चाटने में उनको कितनी उत्तेजना होती है. प्रेषक : संदीप शर्मामैं चाची को धक्के लगा लगा कर जोर जोर से चोद रहा था और चाची हर धक्के पर वाह मेरे राजा ….

जीजू के जाने के बाद मैं हर मर्द को उसी नजरिये से देखने लगी, 18 साल का लोंडा हो या 50 साल का बुढ्ढा, मेरी निगाहें हमेशा उसकी कमर के नीचे होती, निगाहें तलाशती रहती कि इसका लौड़ा कैसा होगा, कितना लम्बा या मोटा होगा और अगर यह मेरी चूत में होता तो कैसा लगता.

”मैंने आंखें बंद कर ली और कह डाला,”आई लव यू !”और उसने बहुत ही सहजता से जवाब दिया,”मैं भी !”और इस बार मैंने पहला कदम उठाया. शेष कहानी अगले भाग में!आपकी उषा रांडसाथियो, कहानी कैसी लगी?अपनी प्रतिक्रिया[emailprotected]पर जरूर भेजें।. तेरा बाप फिर तेरी माँ नै उठा उठा कर चोदे सबेरे तैं …मैं : चलो मौसी यहाँ से …हम दोनों वहाँ से वापिस चलने लगे …मध्य रात थी …मैं : मौसी … मौसा जी भी तो हट्टे कट्टे है वो भी तो …मौसी : बस देक्खण मां ही …कुछ ना होत्ता उसतै ! फिस्सड्डी साला ! … ब्याह की पैल्ली रात नै मैं बूझ गी ती … मन्नै मज़ा देणा इसके बसकी बात नी …मैं : क्या ? सच में ?मौसी : हाँ … है के उसकै धोत्ती मै? जरा सा डण्डी सा.

निकला। फिर मैंने उसकी नाक पर फीता रख कर नाप लिया। इस दौरान मैं उसके गाल छूने से बाज नहीं आया। काश्मीरी सेब हों जैसे। उसकी नाक का नाप भी 7 से. अंकल, अब मारो जोर से…” गौरी गौर से मेरे लण्ड को राधा की चूत में घुसा कर देखने लगी. उसके मुँह से हल्की-हल्की आह आह निकाल रही थी।झांटें बनाने के बाद चूत एकदम से चमक गई तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया और उसकी चूत का चूमने और चूसने लगा।उसको मज़ा आने लगा और वो आहें भरने लगी तो उसकी आहें सुनकर मेरा जोश बढ़ने लगा तो मैं उसे और जोर जोर से उसकी चूत को चूसने लगा और मैंने अपनी जीभ उसकी चूत मैं डाल दी तो उसकी हालत ख़राब होने लगी.

मैंने देखा तो गौरी भी अपने कपड़े उतार कर अपनी चूचियाँ मल रही थी, एक अंगुली अपनी चूत में डाल रखी थी और आहें भर रही थी.

16 साल की लड़की की चुदाई बीएफ वीडियो: हेल्लो ?हाय कैसे हो ?आप कौन बोल रही हैं ?क्या बेहूदा सवाल है ?क्या मतलब ?अच्छा क्या कर रहे थे ?वो …. फिर आंटी ने कहा- बेटा, मैं अब झुक जाती हूँ, तू पीछे डाल!मैंने कहा- ठीक है!मैं पीछे से आंटी की गाण्ड में लण्ड डालने लगा तो आंटी बोली- यह क्या कर रहा है? चूत में डाल!और मोना ने मेरा लण्ड पकड़ पर चूत में डलवा लिया.

उसने शायद पूरा खड़ा और चोदने को तैयार लंड पहली बार देखा तो उसका मुँह खुला और आँख फटी रह गई…मैं मौका देख कर खिड़की के पास जा कर मुठ मारने लगा और लौड़े को उसको हर तरफ से दिखाने लगा और जल्दी ही मैं झड़ गया और मेरा वीर्य सीधे पिचकारी मारता हुआ उसके घुटने में जा लगा…वो मेरे चेहरे और लंड को मिले सुकून से मुस्कुरा दी तो मैंने उसको बोला- अंदर आ जाओ. मैंने अपना मुँह उनकी गुलाबी चूत पर रख दिया और कभी उसको चाटता तो कभी अपनी जीभ उनकी चूत में डाल देता. मैं चुपके से उस घर चली गई जहाँ भाई ने सिर्फ दोस्तों के रुकने का इंतजाम किया हुआ था.

’मुझे सु सु आने लगी थी। मैंने अपनी गांड ऊँची की और उसके मुंह में पेशाब की धार छोड़ दी । उसने अपना मुँह बंद कर लिया, आंखे भी बंद ली। मैं अब उसके पूरे शरीर पर पेशाब करने लगी। वो पूरा भीग गया। महिमा भी उत्तेजित हो चुकी थी.

हाँ तैयार हूँ !फिर मैंने जोर का धक्का देकर लंड पिंकी के चूत में धकेल दिया। लंड चूत में जाते ही आऽऽ आऽ आहह्हह्ह ! पिंकी चिल्ला उठी।फिर थोड़ी देर बाद मैं लंड अंदर-बाहर करने लगा। पिंकी मदहोश होकर चुदाई का आनंद ले रही थी।पिंकी अब बस करो ! अब रेशमा को चोदने दो… वो तरस रही है !ठीक है ! पिंकी बोली और कविता के बगल में जा बैठी।रेशमा डार्लिंग आओ. मैं अभी भी अपने लंड को आगे-पीछे करने को जद्दोज़ेहद में लगा था…एक बार बहुत जोर से मुझे भींचने के बाद जब वो निढाल सी हो गई तो मैंने उसे वैसे ही पकड़कर… अपना लंड उसकी चूत में फ़ंसाये हुए… बमुश्किल चलता हुआ बिस्तर पर ले आया…. वह शरमाई तो मैंने देर नहीं की और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और अपनी बाहों में भर लिया.