सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,राजस्थानी सेक्सी पिक्चर भेजो

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्स मूवी बीएफ: सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ, … प्लीज … जल्दी से डाल ना … आआह्हह … उम्म्म् फ़क मी हार्ड … आज मेरी गांड फाड़ दे, मेरी चूत का भोसड़ा बना डाल आज तो…बस नितिन आ गया अपनी वाली औकात पे, उसने चूत पर अपना लंड सैट किया और एक ही बार में पूरा लंड घुसेड़ दिया.

क्ष्विदेओ

तो वो बोली- अर्पित प्लीज आज मैं तुम्हें पा के बहुत खुश हूँ, आज मुझे मत रोको मुझे और शैम्पेन पीनी है, चलो और ले के आएं. नेपाली लव शायरीइतनी ज्यादा चुदाई से तंग आकर रिया परेशान हो गयी और काफी थकी थकी रहने लगी.

उनका एक हाथ मेरे छाती पर था और वह मेरे स्तन मसल रहे थे, दूसरा हाथ मेरी चुत पर रख कर मेरी चुत के दाने को छेड़ रहे थे. कुत्ता वाली सेक्सी वीडियोउसने अपनी ड्रेस न पहन कर वार्डरोब से मेरी एक शर्ट पहन ली थी और नीचे सिर्फ पैंटी में थी.

हम तीनों लटक कर एक दूर से उलटे घूम कर चूत में पेंच की तरह लण्ड को कस और ढीला कर रहे थे.सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ: तीन बजकर पचास मिनट पर मनोज अपने दोस्त के घर क्रिकेट खेलने के लिए चला गया.

अमेरिका में काफी व्यस्त जिन्दगी हो जाती है मेरी इसलिए काफी समय के बाद मैं ये अपनी नयी और रीयल सेक्स स्टोरी लिख रहा हूं.मैंने वहीं बैठी एक महिला के पास जाकर कार्ड दिखाया तो उसने मुझे 1 नंबर रूम में जाने को कहा.

डिजाइन दिखाएं - सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ

मगर जो मज़ा उसके छूने में था, वो मुझे खुद हाथ से करने में नहीं आ रहा था।अगले दिन मैं कॉलेज गई, उससे मिली भी … हम दोनों अब और भी करीब आ गए थे। कॉलेज में भी जब कहीं मौका मिलता हम एक दूसरे को किस करते, वो मेरे मम्मे बहुत दबाता। बल्कि एक बार तो मैंने उसके ज़ोर देने पर उसे अपने मम्मे बाहर निकाल कर भी दिखाये.दो मिनट मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेटा रहा, गर्दन, आँखों, कानों पर चुंबन लेने लगा.

उसके बाद हम जब भी मौका और समय मिलता, तो हम दोनों चुदाई कर लिया करते थे. सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ उन्होंने जो नाईटी पहनी हुई थी, उससे पूरा सिनेमा साफ साफ नजर आ रहा था.

थोड़ी दूरी पर उसने एक वाइन शॉप पर कार रोक दी और मुझे व्हिस्की लाने को कहा और साथ में सिगरेट भी.

सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ?

किचन की स्लैब पर मीरा ने हाथों को टिका कर अपनी पूरी चूत रितेश के लिए खोल दी. उनका दूध सा गोरा बदन देख के मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि वो मेरे सामने ऐसे खड़ी हैं. इससे पहले मैं कुछ कहता, साना ने मेरे ऊपर आकर मेरे होंठों को चूस लिया और मुझे बेड पर लेकर लेट गई.

बिन्दू ने अपना हाथ मेरी तरफ मिलाने को बढ़ाया और बोली- प्रॉमिस?मैंने भी उसके हाथ को मिलाने के लिए पकड़ा और कहा- प्रॉमिस. मौसी- सोनू टाइम पास मत कर, अगर कोई आ गया तो प्रॉब्लम हो जाएगी, ये सब बाद में कभी आराम से करेंगे, अभी बस जल्दी अपना काम खत्म कर. फिर भी मेरा मन नहीं माना, मैं चुपचाप दबे पाँव कमरे से निकल कर चल दी और धीरे-धीरे गेस्ट हाउस की खिड़की के पास पहुँच कर कान लगाकर सुनने लगी.

वो कूल्हे उठा कर चल रही थी। रिया गाण्ड को मटकाती हुई सीधी बाथरूम की तरफ़ चली गई।रमेश आराम से लेटा हुआ था. फिर मैंने एक हाथ नीचे डाल कर अपना अंडरवियर नीचे खिसका दिया, जिससे मेरा नंगा खड़ा लंड उसकी चूत के पास के एरिया में पहली बार टच हुआ. इसलिए मेरी शादी इस घर में पक्की हो गयी क्यूंकि ये लोग कुछ नहीं मांग रहे थे.

जब बाल कैंची से कटना बंद हो गए, तब मैंने उसकी चूत को रूई से पैक किया और रिमूवर को अच्छे तरह से लगाकर कुर्सी को एक किनारे हटा कर नम्रता को घुमा कर उसके कूल्हे को चितोरने लगा. राधिका अपनी चूत में उंगली कर रही थी, वो बोली- ओके … सबसे पहले किसकी सील खोलोगे, अपनी बहन का या अपनी साली की?मैं- किसी की भी खोल दूंगा.

तभी भार्गव ने धीरे से अपना हाथ मेरी जांघ पर रखा और बोला- यार आशना … एक बात कहूँ … आज तुम्हारे उछलते हुए मम्मों को देखकर और तुम्हारी पतली और लचीली कमर को देखकर मेरा भी मन कर रहा है कि मैं तुम्हें मेरे लंड का स्वाद चखाऊं.

मैंने पीछे सर में हाथ लगाया और बालों को पकड़ कर लंड हाथ में लेकर उसके मुँह में डालने लगा.

और इतना कहते कहते उसका गाउन ऊपर उठाया, पैन्टी नीचे खिसकाई और पेल दिया. मैने उसकी चूची को नीचे बेस से पकड़ा था मगर धीरे-धीरे करके मैं उसकी चूची के शिखर तक पहुँच गया और उसकी पूरी चूची को ही अपनी हथेली मे भींच लिया।एक औसत आकार के सन्तरे से बड़ी चूची नहीं थी मोनी की. प्रियंका मेरे से एक साल बड़ी है … जबकि वनिता मेरे से एक साल छोटी है.

मैं उसको ये पता नहीं लगने देना चाहती थी कि मेरी चूत में मेरे जीजा का लंड जा रहा है. मगर वहां जो शावर वाला स्थान इतना बड़ा नहीं था जिसमें तीन लोग फिट भी हो जाते और चोद भी लेते. मुझे अजीब सी गुदगुदी हो रही थी उसकी जीभ लगने से मगर उसके गर्म मुंह में जाकर जैसे लंड को राहत सी मिलने लगी थी.

”मैंने जैसे ही चूत में लंड डाला, भाबी के कराहने की आवाज निकलने लगी.

मैंने महसूस किया कि जीजा जी चूत चाटने में पहले के मुकाबले ज्यादा माहिर हो गये थे और उन्होंने दो मिनट के अंदर ही ऐसी तरह से मेरी चूत चाटी कि मेरे मुंह से सीत्कार निकलने लगे. तुम फ्रेश होकर चुत को अन्दर से ठीक से साफ़ करना … बाकी बाद में मैं तेरी झांट के सब बाल निकाल दूंगा. लंड को थोड़ा सा बाहर निकाला और फिर एक जोरदार झटका मारा लंड उसकी बुर फाड़ता हुआ आधा अन्दर घुस गया.

अंकल ने अपना लंड दो तीन बार चुत के दरार पर रगड़ कर अंदाजा लिया- नीतू रानी … तैयार हो ना?तैयार … किस चीज … के लिए … आहआ आहह. मैं जानता हूं कि तुम किसी ऐसे मर्द के साथ चुदाई में सहज नहीं हो सकती हो जिसको तुम जानती तक नहीं, लेकिन वो मेरे पीछे पड़ा हुआ है. मैंने अपने खड़े लंड को पैंट के अन्दर सैट किया, चैन बंद की और उसको एक किस करके बिना कुछ बोले वहां से निकल गया.

मगर दीपिका की सहेली संजना को हम दोनों पर सौ प्रतिशत शक था और वह हमेशा मुझे देखकर मुस्करा कर लाइन देती रहती थी.

” सुहाना तो बस मुस्कुराती ही रही।शायद वो मुंह में रखी च्युइंगम चबा रही थी। एक मीठी सी महक मेरे स्नायु तंत्र को जैसे शीतल सी करती चली गई। सुहाना सोफे पर बैठ गई और हाल में इधर उधर देखने लगी।चलो ठीक है … आज का नाश्ता तो हम दोनों साथ ही करते हैं।”सर. मैं उसके दूध के बिल्कुल ऊपर बैठा हुआ था और अपनी गांड से उसके दूध को रगड़ रहा था.

सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ मैं एक तरफ अपनी जुबान से संजना की चूत चाट रहा था और दूसरी तरफ अपने लौड़े से नीचे शीना की चूत की धज्जियां उड़ा रहा था. क्यारा के मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं- आहह आहह ईइस … आस्स्स्सा… आहह!उसकी आवाज से लग रहा था, जैसे वो कई दिनों से लंड के लिए तरस रही थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ मैंने अपने एक हाथ से खुद ही चूत को मसलना शुरू किया और जीजा की तरफ गुस्से से देखते हुए चूत को सहलाने लगी. उन्होंने मेरे दोनों हाथों को पीछे ले जाकर अपने हाथ से पकड़ लिया और दूसरे हाथ से फिर मेरी चूत को छेड़ना शुरू कर दिया.

कहीं कुछ उल्टा सीधा हो गया तो … और मुझे अभी तक उस पर विश्वास भी नहीं हो पाया है.

सेक्सी के वीडियो गाने

मेरी बात सुनकर बोली- ओके मूत के आओ, तब तक मैं हम दोनों के लिए दूध बनाती हूं. जब तक नम्रता की बात खत्म होती, तब तक उसकी चूत साफ होकर ऐसे खिल उठी, जैसे कि कमल की एक-एक पंखुड़ी हो. मेरी उम्र 28 साल है। मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ और पिछले काफ़ी समय से अमेरिका की एक केमिकल कंपनी में काम करता हूँ।जो लोग मेरे बारे में जानते हैं उन्हें तो पता होगा कि मेरे लंड का साइज़ 9 इंच का है। मैं एवरेज देसी बॉडी का बंदा हूँ।पहले तो मुझे सेक्सी भाभी की चुदाई करने में ज़्यादा मज़ा आता था मगर गुजरते वक्त के साथ अब तो सेक्स का बहुत चस्का लग गया है.

मैं उठा, अंडरवियर और अपनी जीन्स पहन के अदिति को आवाज़ लगाई, तो वो बालकनी में खड़ी बारिश को निहार रही थी. एक दूसरे को चूमते चूमते हम अन्दर सोफ़े तक पहुंचे, तो पता चला कि हम दोनों के ऊपर एक धागा भी नहीं बचा था. कुत्ता अपनी तरफ जोर लगाने लगा और कुतिया उस कुत्ते को अपनी तरफ खींचने लगी.

मेरे इस रवैये से मौसी ने एक बार फिर मेरी तरफ देखा और हल्के से मुस्कुरा दीं.

वैसे तो मुझे लंड चूसना पहले अच्छा नहीं लगता था, पर अब अच्छा लगने लगा है. मैं घूंट लेने के लिए आगे बढ़ी तो उसने गिलास को मेरे होंठों से लगा दिया और मुझे शराब पिलाने लगा. मैंने कई बार देखा है कि उन्हें जो भी पहली बार देखता है, वो अपना लंड सहलाने लगता है.

लाओ दो न डैडी।रमेश- सब्र करो रंडी रानी, तुमको मीठा फल मिलेगा। पहले अपनी गांड की चुदाई तो करने दे।रमेश ने उसको करीब पांच मिनट और चोदा. आआआहह … उसके लंड की रगड़ मुझे बहुत हॉट बना रही थी … मैं अपनी आंखें बंद करके उसके लंड को मेरी चूत पर महसूस कर रही थी. मैं उसके शरीर पर जैसे लता पेड़ से चिपकती है वैसे चिपक चुकी थी और हमारे होंठों के बीच केवल कुछ सेंटीमीटर का फासला था.

भाभी बोलीं- तेरी कोई जीएफ नहीं है क्या?मैं बोला- नहीं भाभी … लेकिन मैं किसी को लाइक करता हूँ. चाची दो पल बाद मुझे सहलाते हुए बोलीं- तेरा माल बहुत ज्यादा निकलता है.

चूँकि हमारे सामने के गेट अलग थे इसलिए कोई यह अंदाजा नहीं लगा सकता था कि पिछली बालकॉनी में जन्नत के दो दरवाजे खुले रहते थे. ज्यादा उल्टियां आने पर सीमा ने नितिन से कहा- इसे लेकर डॉक्टर के यहाँ जाना पड़ेगा. ”अंकल बहुत ही नॉटी बातें कर रहे थे और अब तो मेरी तरफ से भी उन्हें ग्रीन सिग्नल मिला था.

तो कभी किसी जोक पर भाभी भी मेरे ऊपर पूरा गिर कर मुझे गर्म कर देती थीं.

मन कर रहा था उसकी योनि को अपने लिंग से ऐसे ही भेदते हुए दिन-रात उसका चोदन करता रहूं. कुछ देर में उसने 69 की पोज़िशन बनाने को कहा और हम एक दूसरे को चूसने लगे. मेरा मन भी तुमसे मिलने का था, पर उस साले ने पी नहीं रखी थी, दिक्कत ये थी.

थोड़ी देर तक मैं उसकी बंद पाव जैसी चूत को देखता रहा, जो बादामी रंग की थी. मैं जानता था कि रात को छेड़ने के बाद जब उसने कुछ नहीं कहा तो वह लव-लेटर भी आसानी से ले लेगी.

जैसे ही मेरे मुँह से एक तेज़ आह निकली, संजना ने वैसे ही मेरा पूरा लंड अपने मुँह में घुसा लिया. आप लोग तो जानते ही हो कि अगर सरकारी काम कहीं भी करवाने जाओ तो बिना रिश्वत के तो कोई काम होने से रहा. फिर अचानक एक दिन उसका फोन आया और मैंने उससे कहा- जानू, मैं तुम्ह़ारे बिना रह नहीं सकता.

एक सेक्सी वीडियो डाउनलोड

मेरी पिछली सेक्स की कहानी थीविदेशी लंड से लहंगा उठाकर चुदीपर क्या करूं यार … मैं अभी तक किसी नए लंड को नहीं ढूंढ पायी थी.

तभी सारा ने हमारे पैर ऊपर उठा दिए हम दोनों घूमने लगे मैं घड़ी की दिशा में घूमा और दिलिया घड़ी की उलटी दिशा में घूमने लगी. उसके बाद उसने तौलिये को गीला किया और अपनी टांगें फैलाकर चूत अच्छे से साफ की. दोनों रानियों के लिए खीरा टमाटर मशरूम सैंडविच, फ़्रेश लाइम सोडा नमक वाला और मैंने मेरे लिए चिकन सैंडविच और बियर का रूम सर्विस में फोन करके आर्डर दे दिया.

उसने मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसा और फिर उससे चुदने के लिए बुरी तरह से तड़पने लगी और मुझे खुद ही अपने ऊपर खींचने लगी. उन्होंने मेरी नाभि को चूसा और फिर मेरे चूचों को दबाते हुए मेरे टॉप को ऊपर करने लगे. सूजी का चिल्लाइसी बीच कब मेरी साड़ी का पल्लू नीचे सरक गया और कब मेरी 36″ की बड़ी-बड़ी रसीली चूचियां बॉस को दिखने लगी मुझे पता नहीं चला.

मैं अपने नये बॉस को सोच-सोचकर दोनों मोटी-मोटी जांघ खोलकर नंगी बिस्तर पर पड़ी थी. नम्रता से इतनी बात होते-होते कब दो घंटे बीत गए, मुझे पता ही नहीं चला.

थोड़ी देर संतोष जी ने मेरे ऊपर चढ़े रह कर मेरे मम्मों को दबाया चूस चाटा. अब अंकल ने आगे की तरफ झुककर मेरे दाने को अपने मुँह में पकड़ा और हल्के से खींचते हुए काटा, फिर उसे होंठों में पकड़ कर मस्ती से चूसने लगे, अपनी जीभ से छेड़ने लगे. अब मैं हवा में उड़ रहा था, वो भी मेरे ऊपर बैठकर ऊपर नीचे अपने शरीर को कर रही थी.

काजल का हाथ पैन्ट पर महसूस होते ही मेरा लंड ताव में आ गया और विकराल रूप में आने लगा. मैंने उसे खींच कर चोरी चोरी बस में ले गया और वहां बैठ कर हम दोनों बातें करने लगे. दी ने खाना खा लिया और जहाँ मैं बैठा था, वहाँ एकदम बाजू में आकर लेट गई, कहने लगी- मैं 5-10 मिनट आराम कर लेती हूं, उसके बाद झाड़ू और पौंछा लगाती हूँ.

भाभी ने वाइन के लिए मना कर दिया तो मैंने वाइन का ऑर्डर कैंसिल कर दिया.

मेरे जबड़े का भी दर्द गायब हो गया … जो कि उसके मूसल लौड़े को चूसने की वजह से हो रहा था. उसके बाद उसने गैस स्टोव को भी बंद कर दिया और सही पोज में मेरे सामने झुक गई.

घड़ … घड़ाम … घड़ाम! जितनी ज़ोर से बाहर बिजली ग़रज़ी, उस से कई गुना ज़्यादा मेरे अंदर कड़की!कुछ पल को तो मेरे मस्तिष्क ने काम करना बंद कर दिया था. पैसे की कोई कमी नहीं थी, इसलिए मुझे क्लब वगैरह में जाने शराब और सिगरेट आदि का शौक भी खूब लग गया था. जैसे ही पैंटी मेरी बदन से अलग हुई, शर्मा सर ने उसे मेरे हाथों से छीन कर अपनी जेब में डाल लिया.

जीजा जी की जीभ मेरी चूत की खुदाई करने में लगी हुई थी और कुछ ही देर के बाद मेरी चूत से कामरस का फव्वारा फूट पड़ा. उसके इस तरीके से मुझे अपनी चूत में बड़ी राहत सी मिल रही थी, साथ ही मेरी चूत का पूरा दर्द भी खत्म होता हुआ सा महसूस होने लगा था. नौकरानी ने मुझसे बोला- ठीक है, मैं शाम को काम करने के लिए तभी आऊंगी.

सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ अब टास्क देने की बारी राधिका की थी- राज, मैं चाहती हूँ कि तुम दिशा की चुत और उसके सुंदर चूतड़ों पर किस करो. इन तीन दिनों में हमारा काम केवल और केवल खाना खाना और चुदाई का खेल खेलना ही था.

స్వాతినాయుడు బిఎఫ్

अब पूरा कमरा, मीना की आनन्दमयी सीत्कारें और मेरे शॉट की आवाजों से गूँज़ रहा था. नम्रता पूरी तरह झड़ चुकी थी, लेकिन मेरे लंड की खुजली मिट नहीं रही थी. थॉमस ने मेरा पूरा मुँह अपने पानी से भर दिया था … और मैं बिना किसी शर्म के थॉमस का सारा पानी रोहन की नजरों के सामने पी गयी.

तो मैं कुछ दिन की छुट्टियों में गांव आ गया। गांव आने के बाद भी गलफ्रेंड से अकेले मिलने का कोई प्लान नहीं बन पा रहा था मैंने उसे अपने अकेले मिलने को बोला पर वो ही कुछ बहाना नहीं बना पा रही थी।अब तो यहाँ भी मेरे लंड को धोखा होने वाला था।आखिर में जब सिर्फ 5 दिन रह गये मेरे वापस जाने में … तब गर्लफ्रेंड की कॉल आई और मैंने कॉल उठाई. हम दोनों ने लिपट कर खूब एक दूसरे पर बॉडीवॉश लगाया फिर फुव्वारा फुल स्पीड पर चला कर काफी देर तक मैं और रानी एक दूसरे के बदन पर फिसलते रहे. भोजपुरी बिहारी सेक्सी वीडियोमीता- अच्छा किस तरफ से?मैं- हर तरफ से … ऊपर से नीचे तक तुम बहुत ही सुन्दर हो.

मेरी कराह निकली- उउइइ म्म्मा …और वो समझ गया कि मैंने चरमसीमा का अनुभव किया है.

फिर उठ कर उसने खुद को साफ़ किया और खून देख कर उसने मुझे प्यार से देखा. मीरा ने कहा कि कोई और तरकीब लगानी पड़ेगी, जिससे हम खुल के चुदाई का मज़ा ले सकें.

जैसे ही मैंने धक्का दिया तो मेरा लंड सट से चूत के अन्दर सरक गया और चूत से फ़च की आवाज़ आई. वो ऐसा ही करती है, शादी नहीं हुई उसकी अभी इसके लिए उसका भाई ही अब पति है. कुछ ही देर ये खेल चला होगा कि भैया को अब बस झड़ना था … क्योंकि जैली की वजह से उन्हें ज्यादा मजा नहीं आ रहा था.

फिर मैंने उसकी कान की लौ को जैसे ही चूमा, तो अदिति की आंखें एकाएक सिहरन से बंद हो गईं और उसके मुँह से ‘इस्स अस्स …’ की आवाज़ आने लगी.

उसने अपनी छाती और मुँह बेड पर टिका दिये और चुदते हुए तरह तरह की आवाजें करने लगी- आह … आह … उम्म्ह … आह … मार दिया जालिम … फाड़ दी मेरी चूत … एक ही दिन में सारी जिंदगी की कसर निकाल दी. फिर टुकुर टुकुर टुकुर … टुकुर टुकुर टुकुर …मज़े से मै ज़ोर से चिल्लाया- आह आआह आआह!फिर उसने ब़ड़े दुलार से लौड़ा मुंह में लिए लिए सुपारी के चारों तरफ जीभ घुमाई, लंड को बाहर निकाला, खाल पीछे करके टोपा पूरा नंगा कर दिया. भाभी ने कुछ ही मिनटों में मेरे लंड का वीर्य अपने मुंह में निकलवा दिया.

जानवर वाली सेक्सी जानवर वाली सेक्सीरिया- तुम्हारे थूक और मुठ ने भी डैडी।रिया चाट चाट कर पूरा लंड साफ कर गयी. जब भी दो कहता था उसकी चूत मेरे लण्ड को भींच लेती थी और लण्ड में बहुत दर्द होता था मैं दर्द और आनंद से कराहने लगता था.

करवा चौथ वाली सेक्सी

मगर अंतर्वासना पर पाठकों के साथ अपनी उलझनें और अपने जीवन की घटनाएँ आसानी से शेयर की जा सकती हैं इसलिए यह मेरी पसंदीदा साइट है. मैंने झट से अपने लिंग को पैंट से बाहर निकाल लिया और शिखा के मुंह में दे दिया. सतीश ने कुछ देर उसे चोदने के बाद उसकी चूत से लंड निकाला और उसकी गांड के ऊपर अपना रस निकाल दिया।मुस्कान मेरे लंड को बहुत स्पीड से चूस रही थी जिससे मेरे लंड में फिर से जान आने लगी थी.

मौसी वैसे ही मेरे लंड को ऊपर नीचे करती रहीं और बीच बीच में इधर उधर भी देख लेतीं कि कहीं कोई हमें देख तो नहीं रहा. उसकी चुत को चाटने का मन तो बहुत था, पर टाइम की कमी थी … इसलिए बस एक बार उसकी चुत पे मुँह लगाकर चुत की घुंडी को अच्छे से चूस लिया. वो इतनी जोर से मेरे लंड को चूस रही थी कि जैसे मेरे लंड को खा ही जायेगी.

मैंने अपने लंड को वहीं पर रोक कर पहले शलाका के दोनों चूचे कस कर दबाये. तब तक मेरे मन में ऐसा कुछ नहीं था, पर अब मुझे अपनी सलहज काजल का पूरा जिस्म मेरे आंखों के सामने आ गया, जिसमें मेरे लाए ब्रा और पैन्टी पहन कर वो मेरे सामने खड़ी थी. बाहर से तल्ख़, ठंडी, कठोर वसुन्धरा के अंदर अनछुये एहसासों का, प्यार की प्यासी भावनाओं का एक धधकता हुआ ज्वालामुखी छुपा हुआ था.

उसने मुझे देखा और कहा- जवाब सुनने के लिए इतना सज धज कर आये हो?मैंने उसे कहा- नहीं यार, ऐसी कोई बात नहीं है. अचानक उन्होंने उंगली चुत से बाहर निकाली, तो मैं व्याकुल हो गयी और नाराजगी से उनकी ओर देखा.

मैंने धीरे से उसकी चूत में अपने लंड का टोपा अन्दर धकेला, तो उसकी आह निकल गई और वो चिल्ला दी.

थोड़ी ही देर में चरम शिखर पर पहुंच गया और पजामे के अन्दर ही मेरा पानी निकल गया. आरती कुमारी… अपना पानी मुझे पिला दे आज।दस मिनट तक और मैंने उसकी चूत को जमकर चोदा और फिर मेरा पानी निकलने को हो गया. देहाती हिंदी सेक्सीमैंने कहा- तुम्हें दर्द हो रहा है क्या?वह बोली- हाँ, शुरू में हो रहा था. करीब 5 मिनट तक मैं उसके ऊपर ऐसे ही पड़ा रहा, लंड को जरा भी हरकत नहीं दी.

वो नहाकर शिफान की लाल साड़ी पहनकर और मांग में लम्बा सा सिन्दूर भरकर दुल्हन की तरह सज संवर कर आई थी.

मैं तुरंत भागने लगा, कहीं मम्मी ने फोन उठा लिया और उधर से किसी दोस्त ने कुछ अनाप शनाप बोल दिया तो … साले दोस्त होते ही हरामी हैं. दीदी को लगा कि मैं थक गया हूं और सच में मैं थक गया था तो वो मेरे ऊपर से नीचे उतरी और बाथरूम में चली गई. वो तो मेरी निगाह दीवार पर लगी घड़ी पर चली गई, तब मुझे टाइम का अहसास हुआ.

मेरी कमसिन बेटी की आँखों से आंसू बहने लगे, वो रोने की मुद्रा में थी. एक बार हमने फाइव सम भी किया था, वो ग्रुप सेक्स कहानी मैं आप लोगों को अगली बार की कहानी में बताऊंगा. लंड चूत को दो पल तक चाटने चूसने के बाद हम दोनों फिर से चुदाई करने में लग जाते थे.

पूनम पांडे सेक्सी मूवी

मैंने उतने ही माप के धीरे-धीरे धक्के‌ लगाने शुरू कर दिये जिससे मोनी अब हल्के-हल्के टसकने लगी।मोनी ने अपना मुँह जोरों से भींचा हुआ था इसलिये उसके मुँह से कराहटें तो नहीं निकल रही थीं मगर कराहटों की जगह हल्की हल्की टसकने की सी आवाज निकलना शुरू हो गयी थी। पता नहीं मोनी ऐसे ही टसक रही थी या‌ सही में उसको तकलीफ हो रहा थी? मैं उस वक्त इस बारे में किसी निर्णय पर पहुंचने में सक्षम नहीं था. उन्होंने अचानक कहा- कोमल, तुम बहुत सुन्दर हो!मैं कुछ नहीं बोली, बस थोड़ा मुस्कुरा दी. मैंने उसके निप्पलों पे बारी बारी किस किया, तो अदिति हम्म … आह करने लगी.

मेरी पड़ोस में बहुत सारी सहेलियां हैं और वो लोग भी मुझे पसंद करती हैं.

”अंकल ने मेरे चेहरे पर हल्के दर्द के भाव को देखकर बोला, सच में उनको मेरी कितनी फिक्र थी.

दूसरी धार उनकी मूंछों और होंठों पर, तीसरी धार केवल होंठों के नीचे ही पहुंची. आओ, हम दोनों लोग अपने दिमाग के फितूर लगाते है और सेक्स का मजा लेते हैं. वीडियो सेक्स फुल मूवीरिया की गांड चुदाई करते हुए रमेश उसकी गांड पर थप्पड़ मार मार कर पूरी लाल कर देता था.

सोच रही थी कि लंड बस अब घुसने ही वाला है मगर वो बार-बार इधर-उधर फिसल जा रहा था. उसके बाद जब मुझे आभास हो गया कि अनिता पूरी तरह से गर्म हो चुकी है तो मैंने फिर से उसकी चूत चाटी और अपने लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा. कोई 5 मिनट तक उसने मेरी चुत को चूसा और मुझे भलभलाने पर मजबूर कर दिया.

मैंने कुछ देर बाद अपनी पकड़ ढीली की और प्रतिभा से पूछा- तुम किसी निशा के साथ आने वाली थीं, वो कहां है?प्रतिभा को संभलने का थोड़ा मौका मिला, तो उसने पहले कहा- अरे … बाप रे … तुम तो बहुत बचैन हो. इसलिये रायपुर से आगे हमें बस से जाना पड़ा और ग्यारह बजे के करीब हम‌ मोनी के घर पहुँच पाये।मोनी के घर के बारे में क्या बताऊं मैं … वो घर तो क्या था, बस चार दिवारी के अन्दर एक कमरा ही था जिसमें सामान के नाम पर बस सोने के‌ लिये एक बेड पड़ा था.

फिर मैं वापस उसके साथ किस करने में व्यस्त हो गया और मैं दोनों हाथों से उसकी गांड को मसलने लगा.

हीना अपनी चुत चूसने से जितनी बेचैन होती, वो लंड को मुँह के उतने ही ज्यादा अन्दर डाल कर चूसने लगती थी. रात को नींद लेने के बाद अब सेक्स करने के लिए फिर से नई ताकत आ गयी थी. अंकल अपनी उंगली अन्दर बाहर करते समय चुत से निकल रहा रस अपनी जीभ से चाट रहे थे, कभी कभी उनकी जीभ मेरे चुत के दाने को टकरा जाती, तो मेरे पूरे बदन में बिजली दौड़ जाती.

लंड चूत की कहानी दी जब नहाकर बाहर आई तब मैंने देखा कि उन्होंने मेरा एक शर्ट और नीचे पजामा पहना है. मैं दीपिका के ऊपर छा गया और अपनी दोनों कोहनियों को उसके दाएं बाएं रखकर उसे अपनी बाजुओं में जकड़ा और उसके होंठों पर अपने होंठ रखकर एक झटके में पूरा लण्ड उसकी टाइट चूत में उतार दिया.

बेबी रानी ने सलाह दी कि चलो बाथरूम में शावर के नीचे चुदाई करते हैं. मेरे ऐसा बोलते ही वो मेरे से लिपट गई और बोली कि मैं भी तुझसे प्यार करने लगी हूं और रात को भी अब तेरे बारे में ही सोचती रहती हूं. जब लौड़ा चाची की चूत के मुंह पर अच्छी तरह से लग गया तो चाची ने अपना वजन मेरे लंड पर दे दिया और उनकी चिकनी चूत में मेरा लौड़ा उतर गया, या यूं कहें कि उनकी चूत मेरे लौड़े पर बैठती चली गयी.

सेक्सी लुगाई की

खैर दो मिनट बाद पानी गर्म हो गया और उस बर्तन को लेकर रसोई से बाहर आ गयी. अभी तक आपने पढ़ा कि पहली बार मैंने चाची को फिल्म देखने के बाद कैसे चोदा. कौन सा तरीका है? क्या बताया आपकी दोस्त ने?चांदनी- अगर मैं किसी और पुरूष के साथ संबंध बना लूँ तो मुझे बच्चा हो सकता है.

जैसे ही लंड खड़ा हुआ उसे मुँह से निकाल कर उनको उल्टा लिटाकर मैं चाची के पीछे पीठ पर लेटा और लंड चाची की गांड पर रख दिया. बाली रानी ने सारा वीर्य पी लिया था और फिर उसने लौड़े को नीचे से ऊपर तक चाट चाट कर अच्छे से साफ किया.

मैं भी चूतड़ उठाते हुए लंड पेलने की कोशिश करता हुआ बोल रहा था- आह मेरी संगीता डार्लिंग … मेरा ये लंड भी पहली बार किसी की बुर में गया है.

इतना कह कर मैंने उसके मम्मी की नाइटी पहन ली और उसके पापा के बेडरूम में चली गई. हम दोनों लोग जिस बिस्तर पर सेक्स कर रहे थे वो बिस्तर भी हम दोनों की चुदाई से गर्म हो गया था. तुम्हारे ही ख्याल से मैंने उसको अन्जान होने का वास्ता दिया लेकिन वो बोला कि जब मैं अपनी बीवी तक को चुदवाने के लिए तैयार हूं तो एक बार आप भी अपनी बीवी से बात कर लीजिये.

नितिन ने आव देखा न ताव, घर में घुसते ही सीमा, जो कि क़यामत की हद तक खूबसूरत थीं … उनको कस कर आलिंगन में भर लिया. पहले मैं उस चूत से आपका परिचय करवा देता हूँ जिसके बारे में यह कहानी मैं बता रहा हूँ. लगता था कि मुद्दत से अंदर रखा अवसाद आज बरसों बाद बाँध तोड़ कर आँसुओं के साथ बाहर निकला था.

लंड को पूरा का पूरा अंदर ले जाते हुए चाची की बहन मेरा लंड चूसने लगी।कई मिनट तक लंड चुसवाने के बाद जब हम दोनों पूरे गर्म हो गये तो मैंने उसके कपड़े उतरवा दिये.

सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी सेक्सी बीएफ: दीपिका ने फोन उठाया और स्पीकर ऑन करके बोली- हाँ संजना, कैसी हो?संजना- तुम बताओ, सब सेटिंग हो गई?दीपिका- हाँ, सब हो गई. मैंने दीदी कम भाभी इस लिए बोला … क्योंकि मैं जब स्कूल में पढ़ता था, तब वो मेरे साथ ही मेरे स्कूल में पढ़ती थीं.

जब हम मिले तो ऐसा लगा कि हम कई जन्मों से एक दूसरे के लिए प्यासे हैं. जब इतनी सारी चुसाई के बाद और चुसाई के बाद मेरा लौड़ा 5 मिनट में खड़ा ना हो, तो मैं मर्द किस काम का. अगले ही पल मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये और उन्हें चूसने लगी। शुरूआत में उसे पता ही नहीं चला कि क्या हो रहा है पर मेरे होंठ उसके होंठों पर रगड़ खाते ही वे जोश में आ गया और मेरा साथ देने लगा।हम दोनों जोश में एक दूसरे को चूमने लगे, मेरा हाथ उसकी पैंट के ऊपर से उसके लंड को जोर जोर से मसलने लगा.

उसकी एक लम्बी सी सिसकारी ‘सश्स… ससीईइ’ निकल गयी और मेरी बांहों में सिमटती गयी.

दोस्तो, आप सभी को यह चोदन स्टोरी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रिया मेरे ईमेल आईडी पर अवश्य दें. मैंने उसके होंठों को चूम लिया, तो वो मेरे सर की तरफ खिसक कर मेरे लिप्स पे किस करने लगी. सुरेश अंकल मेरे जीवन में प्रथम पुरुष थे जो मुझे अच्छे लगे थे तो अब मैं उन्हें अपना बेस्ट से बेस्ट देना चाहती थी.