हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल

छवि स्रोत,न्यू नंगी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

नेहा कक्कर सेक्सी वीडियो: हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल, बहूरानी को भी इस खेल में मजा आने लगा तो उसने अपनी पैंटी खुद ही उतार फेंकी और मेरे और नजदीक पैर खोल के बैठ गयी.

इंडियन सेक्सी मराठी भाषा

मोहन लाल की पत्नी के पिता यानि के मोहन लाल के ससुर भी उसको उतना ही प्यार करते थे, जितना वो उसको करता था. बालवाडी सेक्सीअब मैं उन्हें सही करने लगी और पर्स से लिपबाम निकाल कर लगाई तो कुछ नमी आई, पर अहसास वही सूखेपन का हो रहा था, जो किस की वजह से था.

तो मैं गाण्ड हिलाने लगी। यश मेरा इशारा समझ गया और झटके मारने लगा। मुझे अलग ही नशा सा छा रहा था और मैं यश से लिपटती जा रही थी। परन्तु मेरे भाग्य में चुदने का पूरा सुख नहीं लिखा था।”क्यों अब क्या हुआ?”थोड़ी देर बाद मुझे अपनी चूत में कुछ गिरता हुआ महसूस हुआ और यश मेरे ऊपर हाँफते हुए लेट गया। मैं नीचे से गाण्ड उचकाती रही. चाइनीस सेक्सी वीडियो फुल एचडी मेंमैंने जल्दी से अपने कपड़े पहने और करवट बदल के सोने की कोशिश करने लगा.

कभी कभी हम किस करते, वो मौका देख कर मेरे मम्मों को दबा देता तो मैं भी उसके लंड को सहला देती.हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल: उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैं उनकी नाइटी को धीरे धीरे ऊपर उठाने लगा और जो भी जगह दिखती जाती, वहाँ चूमने लगा.

मैंने पूछा- क्या हुआ?उसने कहा- मुझे नहीं पसंद…मैंने कहा- कुछ भी करना था लेकिन सनी का इगो हर्ट नहीं करना था.ओ के पापा जी!” बहूरानी बोली और फिर लाइट्स ऑफ हो गयीं, कूपे में घुप्प अँधेरा छा गया.

सेक्सी पिक्चर बताओ हिंदी - हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल

वो धीरे धीरे कर रही थी… मेरे लम्बे और मोटे लंड के माप को भाम्प कर वो… शायद वो घबरा गयी… उसके हाथ कांपने लगे.चाटो मेरी चूत को बहुत गर्म है आज ठंडी कर दो, तुम लोग बहुत अच्छे से चूत को चाटते हो.

हम दोनों गरम हो चुके थे लेकिन मैं भाबी को तड़पते हुए देखना चाहता इसलिए मैं चुत में उंगलियां करने लगा. हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल खुद से घृणा हुई, वो बेचारी मर जाती तो!मेरी किस्मत में किसी को सुधारना तो नहीं लिखा, अब मैं उसे मेरी तरह बिगाड़ूँगी नहीं, नहीं तो सचमुच वो भी मेरी तरह लंड की अधीन हो जायेगी और लंड के लिये तड़पेगी, और कभी ना कभी बेचारी बदनाम हो जायेगी, इसलिये मैं अब मैं उसे किसी भी तरह ने नहीं उकसाती.

जब मैंने उनके नाईटी निकालनी चाही, तो उन्होंने कहा- अभी नहीं, पहले शावर लेते हैं और साफ सफाई कर लेते हैं.

हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल?

मैंने उससे कहा कि मूवी हॉल में कोई जानकार न देख ले, मेरे दोस्त के रूम में चलते हैं. ‘आई लव यू…’मैं बस देखता ही रह गया और दीदी ने मेरे लबों पर चुम्बन कर दिया. उसके गीले चमकते हुए गोल गुलाबी नितम्बों का जोड़ा मेरे सामने था जिनके बीच बसी चूत का छेद किसी अंधेरी गुफा के प्रवेश द्वार की तरह लग रहा था.

चाचा जब भी मेरे घर आते थे, वो मुझसे मजाक करते थे और हम दोनों लोग कभी कभी एक दूसरे के साथ खेलते भी थे लेकिन मैं चाचा के बारे में कुछ गलत नहीं सोचती थी. तभी उसने अपने हाथों से मेरे टॉप को थोड़ा ऊपर कर दिया और हाथ से रगड़ने लगा. उसने एक जगह का नाम बताया और मैं वहां पे पहुंच गया पर अभी तक वह आई नहीं, मैं राह देखते देखते थक गया और मैंने उसे कॉल किया कि मैं जा रहा हूँ, मुझे बहुत लेट हो रहा है.

देवर जी के लंड ने सरसराते हुए योनिद्वार को फाड़ कर अन्दर तक भेद दिया. इसी लिए तो आपसे ये टिकट करवाई है, अगर वो होते तो…इतना कह कर वो अटक गईं. इधर मैं अपने लंड को सहला सहला कर चरमोत्कर्ष की स्थिति में आते ही छोड़ देता, लंड की नसें फूल गई थीं.

मुझे तो विश्वास नहीं हो रहा था, पर ये सच था कि उसको आनन्द अच्छा लगने लगा था. फिर उसने धक्के मारना शुरू कर दिया, मैं जोर जोर से आहें भर रही थी और फिर मैं थोड़ी ही देर बाद झड़ गयी।पर वो अभी नहीं झड़ा था, वो लगातार धक्के मार रहा था.

एक दिन मेरे पूछने पर उन्होंने मुझे डांटते हुए कहा- तू सिर्फ अपनी पढ़ाई पे ध्यान दे और मुझे मेरे ऑफिस का काम करने दे.

अब किशोर धक्के मारने लगा, वर्षा आँखें बंद किए किशोर की पीठ पर प्यार से हाथ फेर रही थी, जैसे कि वो उसे धन्यवाद दे रही हो.

बॉस ने उसको बोला- किसी को पता नहीं चलना चाहिए और दुबारा ऐसा मत करना. इधर रमेश एक हाथ से काजल की चूत पर हमला किया जा रहा था और दूसरे हाथ से उसने उसकी एक चुची को संभाल रखा था. उधर टॉप में आधी पीठ तो खुली ही थी, जहां कपड़ा बिल्कुल भी नहीं था और बाकी हिस्से पर वो हल्का वाला था, जिसमें बॉडी दिखती रहे.

अब तो सिर्फ निकिता का इंतजार है… छोटा एटम बम है, पर आवाज बड़ी करेगा. ऐसे में रीना के दिमाग ने कम्प्यूटर से तेज काम किया और उसने रंजु को बुआ के पास सोने के लिए भेज कर एक फूलप्रूफ प्लान बना लिया, जिसमें बारी बारी से कोई एक बुआ के साथ रात में सोये और बाकी तीन चुदाई का आनन्द लें. बाकी के तीनों अंकल मेरी चुदाई देख कर फुल जोश में आ गए और अपना अपना लंड अपने हाथों से रगड़ने लगे.

नीचे खड़े किड ने बिना ज्यादा सोचे अपनी जीभ मेरी क़ानूनी पत्नी के मुंह में घुसेड़ दी, जिसे गोरी वेश्या लपालप चाटने लगी.

हम और तुम दो इसके पति हो जाएंगे।सुरेश अंकल बोले- ठीक है, मंजूर है। मैं 15 दिन में कर के बताता हूं. कुछ देर ऐसे अपनी चूत चूसवाने के बाद वो झड़ गयी और अपना सारा पानी मेरे मुँह में ही निकाल दिया. मैंने विनोद को कुछ देर रुकने को कहा, पर वो कहने लगे कि स्वाति उसके सामने खुल नहीं पाएगी, इसलिए वो नहीं रुकेंगे.

मैंने भी ज़्यादा फोर्स करना सही नहीं समझा क्योंकि मुझे डर था कि कहीं घर पे ये बात किसी को मालूम ना पड़ जाए. मैंने फटाफट अपना गिफ्ट और चॉकलॅट ली और मम्मी से छुपाते हुए भाभी के घर की तरफ चल पड़ा. मैदान साफ देख मैंने रीना को बेड पर पीठ के बल लिटाकर उसकी चुत पर सवार हो एकदम से मस्त चुदाई करने लगा.

मैं नारी शरीर के उस अत्यंत गोपनीय अंग को निहार रहा था जिसको कभी सूर्य चन्द्रमा ने भी नहीं देखा था.

फिर मम्मों के ऊपर ही मेरे हाथ को दबाकर बोलीं- बंटी राजा, बहुत देर कर दी. उस सफ़र में कोई बात तो खास नहीं हुई लेकिन वो मेरा हाथ रास्ते भर पकड़े रहा.

हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल फिर दो मिनट के बाद मैंने फिर से एक धक्का लगाया तो उसको थोड़ा मज़ा आने लगा. अब बारी थी कुछ और करने की तो हम 69 हुए और एक दूसरे को फिर से एग्ज़ाइट करने लगे.

हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल ”पर इस समय आरुषि कुछ सुन नहीं पा रही थी उसे लन्ड चाहिए था जो उसकी चूत की आग को बुझा सकता- छक्के के बाप, डाल भी दे अब… या तेरे से भी नहीं होगा?वो चिल्ला उठी. मैंने कहा कि ये क्या कर रही हो?तो बोलीं- तुम इसे ज़ोर से सहलाओ मुझे बहुत अच्छा लगेगा.

मेरे पास मेरे फोन में छाया का फोन नम्बर नहीं था तो मैंने पूछा- कौन?त़ो आवाज आई- मैं हूँ छाया.

सेक्सी फिल्म वीडियो नंगी

वो नाराजगी से पर हँसते हुए बोली- मजाक मत उड़ा, मेरी क्या हालत हुई है, मुझे ही पता है. दो बजे छुट्टी के बाद मैं निकल रहा था कि निर्मला जी ने आवाज दी- अतुल रुको, मुझे कमला मार्केट जाना है कुछ सामान लेना है, मैं स्कूटी नहीं लाई हूँ, तुम अपनी गाड़ी से ले चलो. उन्होंने कहा- यस…मैं- ओके जी… वैसे आपका नाम क्या है?उन्होंने कहा- ललिता…‘ओके नाइस नेम… वैसे आप इतनी सुन्दर और सेक्सी हो तो आपके हज़्बेंड कहाँ गायब हो गए हैं.

फिर उसी वक्त मैंने मोना को कॉल किया और उसको बोला- मैं 30 मिनट में आ रहा हूँ. जब मुझको लगा कि उसका दर्द कुछ कम हुआ है, तो मैंने बहुत धीरे धीरे अपना लंड हिलाना शुरू किया ताकि उसकी चूत मेरा लंड खाने लायक चौड़ी हो जाए. कुछ देर के बाद मैंने बहन का दूसरा मम्मा दबाने के लिए अपना हाथ बहन के दूसरे मम्मे पर ले गया तो मैंने महसूस किया कि बाजू वाला लड़का मेरी स्वाति बहन का दूसरा मम्मा दबा रहा था.

अब प्रेरणा गांड मराने में माहिर हो गई थी, फिर भी मैंने थोडी सी क्रीम उसके गांड के छेद में लगाई और लंड पेल दिया, प्रेरणा ने हल्की कराह के साथ लंड झेल लिया।हमारी घमासान चुदाई चलती रही, छोटी थोड़ा होश में आई तो उसने अपने उरोज मेरे पीठ में रगड़ने शुरू कर दिये, उसका तो हो चुका था पर वो हमारा पूरा साथ देना चाहती थी.

इतने में पूजा रूम में आ गई, उसने पिंकी को इस हाल में देखा तो हैरान हो गई. मैं जब बाइक लगा कर उसके रूम में गया तो देखा कि लिविंग रूम में कोई नहीं था. और उस रात हमने तीन बार कमरे को ‘फ़च… फ़च…’ की आवाज़ से भर दिया था।और तब से हमेशा हम माँ बेटा इसी तरह एक दूसरे के साथ चुत चुदाई का मजा लेने लगे जब तक मेरे पापा घर नहीं आ गए।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी माँ की चुदाई की यह कहानी?आप ज़रूर बताइएगा।जल्द ही मैं अपनी दूसरी कहानी लेकर आपके पास आऊँगा.

उसके बड़े और मोटे लंड के सुपारे के घुसते ही मेरे मुँह से कराह निकल गई- आउच. उसने अपने रूम में ज़ीरो वॉट का बल्ब जला दिया, कमरे में हीटर उसने पहले से ही चला कर छोड़ा हुआ था तो कमरे में ठंड नहीं थी. संजय- कहिये ना भाभीजी आपको कैसी लगी?मैंने शर्माते हुए कहा- बहुत अच्छी.

ऐसा बोल कर मैं कंडोम लेता हुए सैंडी के यहां गया, तो वो बोला- मेरा कूलर उनके घर ले जाओ, या नहीं तो हमारे यहां ही चुदाई कर लो, मुझे कोई तकलीफ नहीं है. मैंने उसे कुतिया बना कर सीट से चिपका दिया और पीछे से उसकी चुत में लंड लगा दिया.

पूरी नंगी होकर मम्मे मेरी तरफ तानकर बोली- सर कैसी लग रही हूँ मैं आज?आह. मैं पूरा का पूरा उसे पी गया, मुझे एक अजीब सी मदहोशी आने लगी और मेरा लंड और तन गया. मैंने अन्दर आकर बैग खोला तो हैरान रह गई क्योंकि उस ड्रेस में सभी चीजें थीं, मतलब सैंडल से लेकर नेलपॉलिश तक.

”मतलब 4 बारिश पहले के करीब; मैंने मन ही मन कैलकुलेशन किया और बहुत खुश हुआ क्योंकि अब मुझे कुंवारी जैसी चूत का मज़ा जो मिलने वाला था.

मैं बोला- दीदी, मैंने कभी किस नहीं किया, मुझे नहीं पता कि किस कैसे करते हैं. भाभी की चूत चुदाई के कारण इतनी गर्म हो रही थी कि मेरे लौड़े को भी उनकी चूत खा जाना चाहती थी. यही सैम ने उधर बता दिया और कहा कि 2 घंटे में मेरे रूम में पहुँचा देना.

मुझे लगा कि कहनी साली चालू माल ना हो, चुदक्कड़ हो और मेरा इस्तेमाल अपनी कामवासना पूर्ति के लिए कर रही हो. दीदी- ना बाबा ना, चूत में इतना बड़ा मूसल घुसा कर मेरी चूत का भोसड़ा बना दिया तूने और मेरी गान्ड की तो सील भी नहीं खुली अभी तक, गान्ड में तेरा मूसल लेके मरना है क्या मुझको!मैं- सच में दीदी? आपकी गान्ड ने अभी तक किसी लंड का स्वाद नहीं चखा है क्या?दीदी- नहीं सन्नी… अभी तक मेरी गान्ड में लंड क्या उंगली भी नहीं घुसी है किसी की.

मैंने तो ये कहा कि पहला इम्प्रेशन इस सीने का ही होता है हम लड़कियों पर; मर्द का चौड़ा मजबूत सीना हम फीमेलज़ को सेक्सुअली अपील करता है. फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी जीन्स के ऊपर से ही उसकी चूत के ऊपर रखा और जीन्स के ऊपर से ही उसकी चूत रगड़ने लगा. दोपहर में जब मैंने बहन को चोदा था, तब से ही उन्होंने पेंटी नहीं पहनी थी, ये बात मुझे मालूम थी.

मुस्लिम एक्स एक्स एक्स

मैंने उनके होंठों को अपने होंठों से दबा दिया ताकि माँ को न सुनाई दे.

कमल ने अपने लंड को पकड़ कर मेरी चूत के छेद पर रखा और थोड़ा सा धक्का लगाया. भाभी बोलीं- यहां कोई आएगा तो नहीं ना?मैं बोला- आप जब तक बस नहीं बोलोगी. चूंकि हमने कभी एक दूसरे को देखा नहीं था तो मैंने उनको फ़ोन पर बताया कि मैं स्टेशन के बाहर गाड़ी पार्किंग मैं उनका इन्तजार करूंगा.

मैंने अपने लंड को उसकी बुर पर सैट करने के बाद उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठों को खोल कर अपनी और उसकी जीभ को लॉक कर लिया ताकि उसकी चीख ना निकले. जय लक्ष्मी जी, जो हमारे बैंक में एक महीने के लिए इंटर्न के लिए आई थी मतलब पोस्टिंग से पहले ट्रेनिंग के लिए. लोगों का सेक्सी वीडियोमुझे चोदने वाले दोनों थोड़ी ही देर पहले मेरे अंदर अपना पानी गिरा चुके थे तो जाहिर था कि वो अब की बार जल्दी नहीं छूटने वाले थे.

लेकिन वे लोग कसाईयों के हाथ में फंसी बकरी जैसे, कराहते हुए मेरी बीवी को पागलों की तरह उसके दर्द की परवाह किये बगैर चोदते जा रहे थे. मैंने जबसे सेक्स के बारे में जाना है, तब से मुझे इन भाभी को चोदने की इच्छा थी, पर सैटिंग ही नहीं बन पा रही थी.

इतने में ही अदिति भी चाय लेकर आ गई और हम तीनों ने हल्की फुल्की यहाँ वहाँ की बातें करते हुए चाय खत्म की. फिर सुबह मैं उठी तो कमरे में अकेली थी। मैं नहा-धो कर तैयार हो गई और नीचे आई। कुछ मेहमान चले गए थे और कुछ जा रहे थे। दोपहर तक घर में बस हम तीन (सास, ससुर और मैं) और दो नौकरानियाँ रह गए।”फिर?”फिर कुछ काम नहीं था. तो फ्रेंड्स कैसी लगी मेरी प्यासी भाभी की चूत चुदाई की रियल कहानी… कुछ गलती लगी हो तो माफ करना और मुझे मेल जरूर करना.

मैंने चाची को डॉगी स्टाइल में होने को कहा, तो वो झट से गांड उठा कर कुतिया बन गईं. निवेदन है कि सभी पाठक गण अपनी अपनी प्रतिक्रिया, सुझाव इत्यादि नीचे लिखी मेरी ई मेल आई डी पर जरूर भेजें. मैंने दीदी के लिप्स को किस करना चाहा लेकिन दीदी ने मुँह दूसरी तरफ घुमा लिया तो मैं अपने मुँह को दीदी के बूब्स की तरफ ले गया और बूब्स को मुँह में भर के चूसने लगा और हाथ को दीदी की चूत की तरफ ले गया.

फिर वो मेरे बूब्स पर आ गया और उसने मेरे बूब्स भी मसाज करना शुरू कर दिया.

मैं मेनका के ऊपर आ गया और फिर उसने अपनी चूत को अपनी दोनों उंगलियों से खोल कर कहा- अतुल, अब मत तड़पाओ, चोद दो मुझे… मेरी चूत मैं अपना लंड डाल दो… बना लो मुझे अपनी रानी… मेरे राजा… बजा दो मेरा बाजा… फाड़ दो मेरी चूत को आज… अपने अजगर से…मैं अपना खड़ा लंड मेनका की चूत में धीरे धीरे डालने लगा. यह कहानी है 19-20 साल की एक लड़की मंजरी की जिसके घर में उसकी माँ माधुरी, नानी और एक भाई माणिक हैं.

मेरे बैग में पानी की बोतल थी, मैंने सीमा को कहा- बैग में से पानी की बोतल निकाल कर इसे धो ले!लेकिन उसने बोतल निकाल कर तौलिया गीला करके उससे मेरा लंड पौंछ कर ही मुंह में ले लिया और चूसने लगी. वो बहुत तेज तेज आवाजें निकालने लगी क्योंकि घर पर कोई नहीं था तो हमें कोई डर नहीं था. फ़िर शनिवार को शाम में वो अपने समय से जल्दी ही आ गई और अपना काम करने लगी.

फिगर का नाप कितना है, वो तो मैंने कभी टेप लेकर मापा नहीं है, पर ले देकर कहा जाए तो वो बहुत खूबसूरत है. नीचे जाकर देखा तो गाड़ी अन्दर से बंद हो गई थी और चाभी भी अन्दर ही रह गई थी।मैं भी क्या करता आते वक्त मैं हड़बड़ाहट और ख़ुशी में चाभी निकालना ही भूल गया था।अब क्या था. मैंने अपना नाम शालू बताया तो उसने रूम से बात की और मुझसे कहा कि वो आपका ही इंतजार कर रहे हैं.

हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल मैं आपका प्रिय दोस्त रौनक राजस्थान की एक मिडिल क्लास फैमिली में रहने वाला, बहुत ही गठीले सुडौल बदन वाला हूँ, दूर से देखते ही लड़कियाँ मेरी कद काठी सुंदरता के आकर्षण का शिकार हो जाती हैं. ”मैंने भी ज्यादा परेशान नहीं किया और चूमते हुए धक्के तेज कर दिए और मधु की चूत को पेलने लगा। कुछ देर बाद फिर मधु ने मुझे कसकर पकड़ लिया और निढाल पड़ गई। उसकी बरसों की प्यास शान्त होने से खुशी से उसकी आँखों से आँसू निकल आए।मैं समझ गया कि वो झड़ गई है। थोड़ी देर बाद मधु बोली- प्लीज जल्दी करो.

सनी लियोन सेक्सी वीडियो पिक्चर

फिर उसने मेरे बूब्स को मसाज करना शुरू कर दिया, फिर वो मेरी चूत पर आ गया और उसने मेरी चूत भी मसाज कर दी. चाची तौलिया ले कर बाथरूम में चली गईं और मैं अपने लिंग की पकड़ सोचने लगा कि कैसे शुरुआत करूं. उसको बिस्तर में इस्तेमाल करने की बड़ी आस मन में हमेशा से थी, है, और रहेगी.

प्रिया के बायें उरोज़ के निचली ओर हल्के से बाहर की ओर, सफेद त्वचा पर शहद के रंग का एक बर्थ-मार्क था, दाएं उरोज़ के निप्पल के बादामी घेरे के बिलकुल ऊपर साथ में सफेद त्वचा पर एक काले रंग का तिल था. छोटी के लिए दो साल बाद एक अच्छा रिश्ता मिला, तब तक मैंने सभी की मौके मौके पर अलग अलग से चुदाई की। मैं आज भी आँटी और प्रेरणा की नियमित चुदाई करता हूं।तनु और छोटी की भी चुदाई का मौका कभी कभी मिल ही जाता है।इस तरह सभी की लाईफ चल रही है. गुजराती सेक्सी व्हिडिओ गुजरातीवे मेरी चुचियों को अपने दोनों हाथों से मसलने लगे, मसल मसल कर उन्होंने मेरी चूचियों को पहले तो नर्म कर दिया, फिर वासना से उत्तेजित होकर मेरी चूचियाँ और मेरे निप्पल सख्त हो गए.

कुछ ही देर में दीदी की सिसकारियाँ फिर शुरू हो गई और जो हाथ मेरे बालों को कस के खींच रहा था, उसने मेरे सर को सहलाना शुरू कर दिया था और दूसरे हाथ ने मेरे हाथ को पकड़ कर तेज़ी से चूत में आगे पीछे करना शुरू कर दिया था, दीदी फिर से मस्ती में आ चुकी थी.

मैंने अपनी जीभ को जैसे ही उसकी बुर पर लगाया, वो सिहर उठी और मेरे सर को पकड़ कर बुर की ओर करने लगी. दोस्तो सच बताऊँ तो उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी, शायद उसका पानी निकल गया था.

मैंने जैसे तैसे अपने आपको कंट्रोल किया और चाची को बोला- आप मेरे कंधे पे हाथ रख कर रूम तक चलो. मैं- क्या मैं आपको तेल की मालिश कर दूँ?मामी- ये आईडिया बहुत अच्छा है. रजनी ने मुस्कुरा कर कहा- चलो एक काम करते हैं, तुम मुझे अपनी जीएफ बना लो.

मैंने उसके चीखने की चिंता नहीं की, गाड़ी सुनसान जगह पर थी, सो मैंने बेपरवाह होकर लंड घुसा दिया.

मेरे दोनों चूचे संजय के हाथों में खेल रहे थे और उसके गीले होंठ मेरी मखमली गरदन को मसाज दे रहे थे. जाते वक़्त दीदी ने मुझे अपने गले लगाया और कहा- मैं भी तुझसे बहुत प्यार करती हूँ. वो के निचले हिस्से से अपनी जीभ को रगड़ता हुआ मेरी चूत के दाने तक जीभ को फेर रहा था.

सेक्सी फोटो दिखाओ सेक्सी फोटोहमारी बातें अभी हो ही रही थी कि उसकी एक फ्रेंड आ गई और वो अपनी सहेली के साथ चली गई. उस दिन पूरी रात मुझे नींद नहीं आई और सोनी का वो मासूम चेहरा मेरी नज़रों के सामने घूमता रहा.

की चुदाई हिंदी में

उनकी पीठ मेरी तरफ़ थी और फिर मैं ब्रा के ऊपर से ही भाभी के चूचों को दबाने लगा. कभी कभी वो मुझे किस भी कर रहे थे और हमारी चुदाई की कामुक आवाजें कमरे में गूंज रही थी. खाना पैक कराने के बाद मैंने कुछ कंडोम के पैकेट और वियाग्रा का एक पैक खरीद लिया.

मैंने अपनी बीच की उंगली पर उसकी चूत का पानी लगाया और धीरे से उंगली अन्दर खिसका दी. मुझे देखकर कुणाल ने परिचय कराया- ये है मेरा जिगरी दोस्त, बहुत सीधा सादा मानुष है. मैंने दीदी से कहा- प्लीज़ मेरे लंड को अपने हाथ से सहलाओ न, अपने हाथ से मजा नहीं आता.

उन दिनों काम की वजह से भाई रात को देर से आते थे और कभी कभी उन्हें अपनी साईट पर 2-3 दिन रहना भी पड़ता था. बहुत मोटा है इस नीग्रो हब्शी का… अपनी मासूम बच्ची को बचा ले राधिका. मैं अन्तर्वासना का पक्का पाठक हूँ तो इसलिए में भली भांति जानता था कि एक बार झड़ने के बाद स्टेमिना बढ़ जाती है.

उसका कद भी पांच फीट चार इंच तो होगा ही, उसकी फिगर 34-28-34 का था और उसका रंग एकदम दूध जैसा सफेद था. यही सोच कर पहली बार मिलने जयपुर का प्लान बनाया, वहां पहुँचते ही हमने पहले फ़िल्म देखी, उसके बाद खाना खाया, फिर उसको कार में बिठा के लॉन्ग ड्राइव पे ले गया.

नमस्कार दोस्तो, इस एडल्ट कहानी के पिछले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि हम बाबा जी का पाखंड जानने आश्रम में श्रद्धालु बनकर पहुंचे थे.

मेरे लंड का साइज 6 इंच है, छोटा है पर मैं किसी को भी संतुष्ट कर सकता हूँ. 10 सेक्सी फिल्मकुछ ही पलों में वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में ही रह गई थी और मैं अंडरवियर में था. सेक्सी वीडियो गाने बताओऔर मुझे बाँहों में भर कर मुझे चूमने लगा, मेरे होंठ अपने मुंह में चूसने लगा, उसके मुख से बीड़ी की दुर्गन्ध आ रही थी, मैंने मुंह फेर लिया. आप सभी के उत्तर देने का भरसक प्रयास करता हूँ पर खेद है कि मैं सभी के उत्तर नहीं दे सका.

साली रांड, कुतिया बना कर चोदूँगा तुझे!”अरे, वो तो देख लेंगे, पहले इस बच्ची को तो तो कुतिया बनाओ और अपना लंड इसके मुँह में दो.

जैसे ही वो घर से बाहर निकला, मैंने बहूरानी का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचा तो वो मेरी गोद में आ गिरी. क्या मस्त सीन था, ऐसा आज तक मैंने सिर्फ कंडोम के एड में ही लड़की को लंड के लिए इस तरह तड़पते हुए देखा था. उसके बाद मैंने देर न करते हुए सीधा उसके होंठों पर होंठ रख दिए औऱ उसके होंठ चूसने लगा.

उनके सपने ऊंचे है क्योंकि वे अपने रिश्तेदारों को देखते हैं तो उनका मन भी वैसे ही रहन सहन को करता है. फिर मैं भाभी की चुत की तरफ को हुआ तो देखा कि चूत एकदम लाल हो गई थी और उसमें से पानी आ रहा था. आज मैं उसके रहते ही अपने बेडरूम में लंड निकाल कर उसका नाम लेकर धीरे धीरे से हिलाने लगा और उसका इंतजार करने लगा क्योंकि मुझे पता था कि जाने के पहले वो मेरे कमरे में जरूर आएगी.

ब्लू फिल्म ब्लू ब्लू ब्लू

तो दोस्तो, आपको सीधा कहानी पर लेकर चलता हूँ।हुआ यूँ था कि मेरा एक दोस्त था जिसका पहले अपने घर के सामने वाली लड़की के साथ चक्कर चल रहा था जिसका नाम समीरा था और वो दोनों कम से कम साल भर साथ में रहे थे. उस टाइम हमारी कोई बात नहीं हुई, हम दोनों क्लास में आए, लेक्चर स्टार्ट हो गया था. फिर मैं अपने होंठों को उसके होंठों के पास ले गया और हम दोनों स्मूच करने लगे.

इस बार जैसे ही वो बैठी मेरा लंड उसकी चुत के दरवाजे खोलता हुआ उसमें उतर गया.

फिर तब मैंने संजना को फ़ोन किया और उसे घर आने को कहा।संजना मेरे घर आ गयी।मैंने संजना से कहा- यार संजना, यह गलत नहीं होगा राजीव के साथ?संजना ने कहा- कुछ गलत नहीं होगा यार… और तुम कौन सा राजीव को धोखा दे रही हो?मैंने कहा- संजना, अगर किसी को पता चल गया तो मैं किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं रहूँगी.

उस वक्त जब मेरी छुट्टियां होतीं तो मैं अपने घर से अपनी ताई के घर चला जाता था क्योंकि उनका घर मेरे घर से सिर्फ आधा घंटे की दूरी पर था. आह… इस वक्त चाची क्या मस्त माल लग रही थीं; उनका भीगा बदन एकदम मस्त दिख रहा था; उनके चूचे ब्लाउज में से साफ तने हुए नजर आ रहे थे. सेक्सी देखने जानामुझे मालूम था कि इस तरह की लड़कियों को गांड मरवाने का बड़ा शौक होता है.

तो दीदी ने मुझे सोफे पर बिठा कर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं. मैंने पूछा- हम वास्तव में कहां जा रहे हैं?कुणाल- ट्रेन वाली आंटी के घर. विक्की बोला- सर, मैंने अभी चोदना नहीं सीखा, आपने हटा दिया, मैं एक बार दीदी को चोद सकता हूँ.

जब मेरी नताशा ने उसके टोपे को खूब अच्छी तरह धार दे दी, तो उसने अपने अण्डों को इकठ्ठा कर हाथ में जकड़ते हुए उसके मुंह में धकेल दिया, जिसे सुन्दर लड़की अपनी गुदगुदी जीभ द्वारा चाटने को मजबूर थी. शुरू में भाभी मेरे लंड को लोवर के ऊपर से ही सहला रही थीं, फिर उन्होंने मेरे कपड़े उतार कर फेंक दिए.

मेरे मन में तो ये सोच कर ही लड्डू फूट रहे थे कि जब कोई मालिश के लिए कहे तो उसका क्या मतलब होता है.

अब फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे रोकने की कोशिश की लेकिन मैं रुका नहीं और उसका लोअर उतार ही दिया. उसके बाद हमने एक दूसरे के बारे में पूछा और फ़ोन पर ही काफी देर तक सेक्स चैट किया. पापा बोले- मजाक कर रहे हैं आप!तभी भाभी के पापा बोले- आप उठो और देखो अपनी टांगों के नीचे… देखिए, फिर बोलिए!पापा तुरंत मेरी गांड से लंड निकाल कर उठे और मुझे सीधा किया, जैसे ही मेरे चेहरे को देखा, एकदम पापा चुप…मैंने तो शर्म के मारे आँखें बंद कर ली थी.

देहाती आंटी का सेक्सी लंड के रास्ते इतना ज़्यादा मजा मुझे कभी नहीं आया था इतना उस समय दूसरे धक्के में आया क्योंकि पहले धक्के में मुझे भी बहुत दर्द हुआ था. मैंने उसकी प्रोफाइल चेक की तो वो मैंने शहर से थोड़ी दूर वाले शहर की ही रहने वाली थी। मैंने उनकी फोटोज देखी तो उनमें वो बहुत सुन्दर लग रही थी।तो मैंने उसे ‘हाय’ लिख कर मेसेज भेजा तो उसने भी रिप्लाई कर दिया।मैंने उससे चैट करनी शुरू कर दी। उससे की गयी चैट से मुझे पता चला कि वो एक 27 साल की शादीशुदा भाभी है। वो एक काफी बड़े घर की बहू है.

थोड़ी सी हिचकिचाहट के बाद निर्मला ने अपने होंठ थोड़े से खोले और ज़रा सा सुपारा होंठों में दबा कर उसे प्यार करने लगी. करीबन पांच मिनट में भाबी ने ढेर सारा पानी मेरे मुँह पर छोड़ दिया और भाबी शांत हो कर पसीने से लथपथ बेड पर पड़ी रहीं. मुझे लड़कों में बहुत पहले से ही इंटरेस्ट है लेकिन इस घटना से पहले मैंने किसी से भी गांड नहीं मराई थी.

जीजा साली सेक्सी वीडियो

कुछ देर बाद फूफा जी हाँफने लगे और आआह की आवाज के साथ झड़ गए और मम्मी के बगल में लेट गए. मम्मी ने होटल में काम करते करते अपनी साड़ी ऊपर की होगी और किसी टूरिस्ट का मन ललचाया होगा. उन्होंने बताया कि वो और उनकी पत्नी साथ में ही अन्तर्वासना साइट पर कहानियाँ पढ़ते हैं.

तुम बहुत अच्छी हो बस एक कमी है, जो दूर हो जाए तो तुम बहुत अच्छी लगने लगोगी. आप लोगों तक मैंने अपनी सच्ची घटना को पहुंचाने की कोशिश की है, धारा प्रवाह में गलतियां हों, तो उसे मिला कर पढ़ने का कष्ट करें.

मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि जिस चाची को मैं इतना सीधी सादी समझता था, वो इतनी चुदक्कड़ हैं.

इसलिए मैंने कार जल्दी से बढ़ा दी।रास्ता भी लगभग 25 माइल्स का था इसलिए हमारे पास काफी टाइम था। बातों ही बातों में रोशनी ने बताया कि वो यहाँ यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्सास में मास्टर ऑफ़ साइंस का कोर्स करने आई थी और उसकी जॉब भी यहीं लग गई है।हम बातें करते रहे और उसका घर आ गया. ललिता पागल हो गईं और मेरा सिर पकड़ कर बोलीं- जान मेरी जान ले लोगे क्या?मैंने एक स्माइल दी और बोला- क्यूँ जब मेरी दोनों गोलियां खींच रही थीं, तो बड़ा मज़ा आ रहा था. फिर मैंने उसे तौलिया देते हुए कहा- रजनी तुम्हारे हाथ कितने गोरे हैं?वो बोली- हट बेशर्म.

कुछ देर बाद उसने पूछा- लग तो नहीं रही?दो तीन धक्के के बाद लंड डाले रूक हुआ था. जब उनके घर पर कोई नहीं रहता, तो वो मुझे फोन करके बुला लेतीं और मैं उनके घर जाकर उनकी चुदाई कर देता. मैंने विनोद को कुछ देर रुकने को कहा, पर वो कहने लगे कि स्वाति उसके सामने खुल नहीं पाएगी, इसलिए वो नहीं रुकेंगे.

मैं उसके बेड पर लेट गई, लेटते समय मैंने जानबूझ कर अपना टॉप थोड़ा ऊपर को कर लिया ताकि कमल को मेरी कमर और चूचियां अच्छे से दिखाई दे जाएं.

हिंदी सेक्सी बीएफ गर्ल: मैंने अपना संयम खो दिया और उन्हें अपने सीने से लगा कर किस करने लगा. मैं अब क्या करती एक तरफ अवी चलने कि जिद कर रहा था और दूसरी तरफ ऐसी ड्रेस थी.

भाभी की चुत चुदाई की यह रियल स्टोरी तब की है, जब मैं फर्स्ट ईयर में था. रोशनी ने जैसे ही चिल्लाने की कोशिश की, उसके मुँह में बाम से भरा रस टपकने लगा. मैं रुका, तो वो मेरे पास आई और मुझे थैंक्स बोल कर कहा कि नवीन प्लीज़ ये बात घर पर किसी को मत बताना वरना तुम तो जानते हो ना.

मैं- सर मेरी चूत आपकी है, आप कभी भी चोद दीजिए, पर ये ऑफ़िस है कोई आ गया तो बहुत बेइज्जती होगी.

तो वो बोली- तुझे मुझमें सबसे ज्यादा क्या पसंद है?मैं कुछ नहीं बोला, वो अपने चूचे उठा कर कहने लगीं- देख शर्मा मत. मैं भी शांत हुई ही थी कि तभी वो मेरी खुली पीठ पर अपना हाथ फेरने लगा और मेरे कंधे पर अपने होंठ लगाने लगा. नताशा ने जरा भी नाराज हुए बिना हँसते हुए उसकी इस प्रक्रिया को अपने चूतड़ ऊपर की ओर उभारते हुए अपना पूरा समर्थन दिया और अपने गांड के छेद को काफी खोल दिया.