सेक्सी बीएफ हिंदी की

छवि स्रोत,সেক্স ফুল সেক্স

तस्वीर का शीर्षक ,

भोजपुरी गाने डीजे में: सेक्सी बीएफ हिंदी की, वे भी मेरा साथ दे रही थी और नॉर्मल हो चुकी थी और मेरे लंड मज़ा ले रही थी.

ब्लू और सेक्सी

मैं आपके कमेंट्स के इंतजार में रहती हूं हमेशा और उसी से मेरा उत्साह बढ़ता है, जिसके कारण मैं अपनी अगली कहानी आपके लिए लिखने की हिम्मत जुटा पाती हूं. सेक्सी हिंदी ब्लू फिल्म वीडियोकुछ तो कहानी पसंद आई, तो कुछ को नहीं, जिनको पसंद आई उनको शुक्रिया और जिनको नहीं आई उनसे ये वादा कि आगे से और अच्छा लिखने का प्रयास करूंगा.

मेरी चूची को चूसने के बाद वो मेरे निप्पल को चूसने लगा और उसको अपने दांतों से काटने लगा. एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो इंग्लिशसोनम बेटा, जरा पकड़ो इसे!” अंकल जी ने मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए कहा.

मेरा बदन अब तक अच्छा खासा भर चुका था, मेरे चेहरे पर लुनाई आ गई थी, मेरी ब्रा का साइज़ भी बदल गया था और मैं पूरी तरह से माल बन चुकी थी.सेक्सी बीएफ हिंदी की: मैं उसकी चूत में लंड डाल ही रहा था कि वो जाग गई और फिर मुझसे नाराज हो गई.

अब जब दीदी के साथ इतनी सारी बात हो ही गई थी तो मैंने सोचा क्यों न इससे आगे बढ़ा जाये?मैं- मगर दीदी मैंने तो आपको केवल कपड़ों में ही देखा है.बेबी ने मुझे सोता जानकर धीरे से मेरे लण्ड को छुआ, फिर हाथ फेरा और हाथ हटा लिया और अपनी चूत पर और चूचियों पर फेरने लगी.

সানি লিওনের চোদাচুদি - सेक्सी बीएफ हिंदी की

जब तक मैंने शर्ट उतारी तब तक अंजलि ने मेरी पैंट का हुक खोल दिया और मेरा कच्छा भी नीचे कर दिया.कभी अपनी चूचियों को दबाती, कभी अपनी उभरी हुई गांड को हिलाती और कभी अपनी चूत पर हाथ फिराने लगती.

मैं भी चुदवाने के लिए बेताब हो गई थी और मेरी चूत से पानी भी निकल रहा था. सेक्सी बीएफ हिंदी की मैंने अपने लंड को उसकी चुत के अन्दर करने के लिए हल्का सा झटका दिया, तो वो सिसक उठी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैंने देखा कि लंड उसकी चुत में नहीं गया, वो फिसल कर बाहर आ गया.

तुम अकेली?”नही, हम दोनों!”मतलब तुम और तुम्हारे पति?”वो आ के बताऊंगी.

सेक्सी बीएफ हिंदी की?

बातों ही बातों में मानसी ने हेतल से पूछ लिया- दीदी, तुम्हारे और राज भैया के बीच में क्या चल रहा है?अब मेरी गांड फट गई क्योंकि मैंने मानसी उस रात को झूठ ही कहा था हेतल के बारे में. यही ज़न्नत थी और मेरे होंठ इस जन्नत का लुत्फ़ लेने से एक-डेढ़ इंच ही दूर थे. मैंने दोबारा अन्दर देखा, तो बाप और दोनों बेटियों यानि उन तीनों को बिना कपड़े के देखकर मैं गनगना गई.

जब मुझे लगा कि अब मेरा निकलने वाला है, मैंने लंड बाहर निकाल लिया और मुठ मार कर वीर्य बाहर निकाल दिया. उसने कहा- मैं आज दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान हूँ, जो मुझे तुम जैसी अप्सरा को चोदने का सौभाग्य मिला. फिर उसने जवाब दिया- आपकी चॉइस एकदम परफेक्ट है, आपकी लाई हुई ब्रा पैन्टी, इनको पहनने के बाद मैं कल से न जाने कितनी बार आईने में खुद को देखकर अपने आपको एक मॉडल जैसा महसूस कर रही हूँ.

फिर हम दोनों ने लेस्बियन सेक्स के साथ एक दूसरे की सेक्स की चाहतों को शेयर किया तो मालूम हुआ कि वो भी बड़ी चुदक्कड़ थी. उसकी मादक सिसकारियों से पूरा कमरा गूँज उठा था, लेकिन टीवी की तेज आवाज की वजह से कोई समस्या नहीं थी. मां के जाने के बाद मैं, वरूण और ज्योति आंटी फार्म हाउस के अंदर चले गये.

और फिर उसने मेरी चुत पर थूक लगाया और कंडोम पहना और मेरी टाँगें ऊपर ले ली और चुत में अपना काला लोड़ा घुसा दिया और धक्के लगाने लगा. एग्जाम शुरू होने में कुछ ही देर बाकी रह गई थी इसलिए मैडम ने एग्जाम शीट बांटनी शुरू कर दी.

उनके संपर्क में आकर यह तो संभव था ही नहीं कि आप उनका दिल से अपने आप ही सम्मान करना शुरू न कर दें.

भाभी ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया और मैंने भाभी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया.

मैं समझ गया कि लौंडिया खेली खाई नहीं है … जबकि लंड चुसाई के समय मैं सोच रहा था कि ये पका हुआ आम है. किसी को उंगली पकड़ने का मौका दो, तो वो हाथ जरूर पकड़ने की कोशिश करता है. लेकिन इस बीच उसके पापा आ गए, तो बस हमेशा की तरह उन दोनों का दिखना मुहाल हो गया.

मैनेजर ने मुझसे मेरा मोबाइल नम्बर लिया और कहा- अगर कोई रास्ता निकला, तो तुम्हें कॉल कर देंगे. आज कौन सा भूत सवार हो गया है आपके सिर पर सेक्स करने का?जीजा ने दीदी की बात को कोई जवाब नहीं दिया. पर थोड़ी देर के बाद महसूस हुआ कि उसकी चुत फड़फड़ाने लगी थी, जिसकी वजह से में रुक नहीं सका और उसने भी मुझे रोकने की कोशिश नहीं की.

मैंने जल्दी से उसके पेटीकोट और पैन्टी को निकाला और उसकी चूत चाटने लगा.

मेरे ख्याल से मेरी ऐसी बेलगाम कामुकता मेरे अवचेतन मन की अतृप्त और दबायी गयी ख़्वाहिश … प्रिया की ख़्वाहिश का ही नतीजा था. मैं जाने लगा, तो उसने कहा- पंकज जी मैं आपको 20000 और दूंगी, पर जो मैं करूं, मुझे करने देना होगा. मैंने गौर से देखा, पारो का गोरा रंग था और साफ़ सुथरी थी, सुन्दर नैन नक्श थे.

वो बोली- तो खाने में क्या पसंद करेंगे आप?मैंने मजाक के लहजे में कहा- दिल तो आपको ही खाने का है. जब मैं भी सरिता और नीना की तरह उनसे मज़ा लेने लगूंगी, तो उन दोनों का बाप मेरी चूत भी किसी से चुदवा देंगे. मगर दो दिन बाद ही चाचा को अचानक इमरजेंसी में एक मीटिंग के लिए जाना पड़ गया.

वो कुछ देर लंड को अन्दर लेकर बैठी रही अपनी चूत से मेरे लंड की दोस्ती करवाती रही.

उसके मम्मे मसलते हुए बड़े ही कामुक अंदाज में मैं उसकी गर्दन पे हर जगह किस करता … तो वो वासना से तिलमिला उठती. सुमिना के सामने हाय-हैल्लो से ज्यादा कुछ बात होना संभव भी नहीं था फिर भी मैंने उम्मीद बांधी हुई थी कि कभी तो उसके करीब जाने का मौका मिलेगा ही.

सेक्सी बीएफ हिंदी की मैं जल्दी से उसके कमरे के पीछे के रास्ते से गया और हल्का सा धक्का देते ही दरवाजा खुल गया. वो बोली- सच बता, तूने इसमें कुछ मिलाया तो नहीं है ना?मैंने कहा- सच बोल रहा हूं, मैंने इसमें कुछ नहीं मिलाया है.

सेक्सी बीएफ हिंदी की शायद उसको दर्द हो रहा था क्योंकि मैं तो मानसी के चूचों से प्यार से खेलता था लेकिन रितेश जीजू के हाथों की पकड़ ने मानसी को चीखने पर मजबूर कर दिया. एक तो मुझे हवस चढ़ी हुई थी और ऊपर से अभी एग्जाम सेंटर में कोई दूसरी परीक्षार्थी भी नहीं पहुंचा था.

मैंने उसका सामान पकड़ने के लिए पूछा तो मेरे कहने पर उसने अपना सामान मुझे दे दिया.

राजस्थानी देसी ब्लू फिल्म

हर बात में मीन-मेख निकालना, हर शख़्स को बात-बात पर नीचा दिखाना वसुन्धरा का फुल-टाइम शुगल था. उसको मैं इससे पहले कितनी ही बार चोद चुका हूँ मगर जब भी उसको ऐसे नंगी देखता हूँ तो लगता है कि मैं पहली बार उसको नंगी देख रहा हूं. मैंने उससे पूछा- भाभी, क्या आपके पति कुछ करते नहीं … जो आप बिल्कुल कुंवारी लड़की जैसी हो.

मुझे भी चूत चाटने की ऐसी लत लगी कि मैं अब जब भी किसी को भी चोदता हूँ, तो पहले चूत चाट कर उसे 2 से 3 बार झड़ा देता हूँ, तभी लंड लगाता हूँ. काफी देर तक और अच्छे से मालिश करने के बाद उसने गप्प से लंड को अन्दर लिया और अपनी दोनों हथेलियों को मेरे सीने पर रखते हुए धक्के लगाने लगी. कुछ देर बाद मामी फिर से गर्म होने लगीं और उन्होंने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया.

मेरी उसे चोदने की इच्छा आज पूरी हो रही थी … इतनी जल्दी कैसे छोड़ देता.

मैंने जानबूझ कर दुपट्टा सही नहीं किया और अपने मम्मों का क्लीवेज दिखाती रही. मैं आंटी के निप्पल को चूसने लगा और दूसरे चूचे को अपने हाथों से दबाने लगा. उन्होंने ताऊ जी की नंगी गांड पर अपने पैर लपेट लिये और पूरा का पूरा लंड अपनी चूत में लेने लगी.

उसके बाद जब दोबारा से माँ शांत हो गई तो मैंने चूत में फिर से चुदाई शुरू की. वापस आकर मैंने सेलिना को बताया कि मैं जयपुर में इंटरव्यू के लिए जा रहा हूँ और रात को मुझे एक होटल में रुकना पड़ेगा. फिर उसने मुझे अपने ऊपर ले लिया और मैं ऊपर नीचे होकर अपनी गांड चुदवाती रही.

मैंने आस पास देखा तो कोई नहीं था। मैं सीढ़ी के पास पहुंचा। मैंने सीढ़ी के पास की लाइट ऑफ कर दी। उसे रोका तो उसने आश्चर्य भरी निगाहों से मुझे देखा. तो जैसे कि आप लोग जानते हो कि उन औरतों ने मेरे कपड़े नहीं दिए और थोड़ी देर बाद मेरे मौसी के कपड़े भी उतरवा दिए.

कुछ दिन बाद ही भाभी के हज़्बेंड का ट्रांसफर जयपुर हो गया, तो भाभी वहां चली गई. मेरे दोनों बड़े भाई आवारा किस्म के नाकारा इंसान थे जिनके बारे में कुछ बताना बेकार है, बड़ी बहिन का विवाह मध्यप्रदेश के एक बड़े शहर में हो चुका था. एक बात तो मेरे समझ में आ गयी थी कि मेरे बाप से पिछले 20 सालों में कुछ नहीं हुआ.

अब तक की कहानी में आपने पढ़ा कि मैं अपनी बहन को मूवी हॉल में लेकर गया था.

फिर अचानक एक दिन उसका कॉल आया- तुम कहां हो, मैं अजमेर में ही हूँ … तुम आ सकते हो क्या?मैंने उससे पूछा- अजमेर में तुम कहां हो?उसने बताया तो मैं जल्दी से उसे मिला और उसको लेकर एक रेस्टोरेंट में ले गया. इसके साथ ही मैं तेरे लिए और भी बड़े-बड़े लंडों का इंतजाम कर दिया करूंगा. इस बार मैं आपको एक हसीन हादसा, जो मेरे साथ हुआ, उसके बारे में बताना चाहता हूँ.

मैंने पूछा- तो फिर कैसा लगा जीजू का लंड लेकर?वो बोली- सच कहूं तो हेतल ने बड़ा ही चोदू मर्द ढूंढा है अपनी चूत के लिए. उसके बाद जीजा ने भी अपनी जीभ को दीदी की चूत से बाहर निकाल लिय़ा और दीदी को घोड़ी की पोजीशन में झुका लिया.

बिना चुदे उससे रहा नहीं जाता।मैं आपको बता दूँ कि मेरी बहन एक बहुत ही गर्म माल है। उसके मम्मे उभरे हुए 32 के साइज के हैं. फिर हम दोनों तैयार हो गये और मैं उसको स्टेशन पर छोड़ कर वापस घर आ कर सो गया. मैं जब भी अन्तर्वासना पर भाई बहन की चुदाई की कोई कहानी पढ़ती हूँ, तो मुझे अपने भाई के साथ अपनी चुदाई याद आ जाती है.

सेक्स वीडियो दिखाइए सेक्सी वीडियो

मैं उसकी गर्दन को चूमने लगा और मेरी गांड दीवार की तरफ धक्के लगाती हुई उसकी चूत में लंड को अंदर-बाहर करने लगी.

इस वजह से उसकी आंखें बंद हो गई थीं और वो मज़े ले ले कर आवाज़ निकाल रही थी. उस दिन के बाद मौसी का बर्ताव भी बदल गया … हमने कभी मौसी के घर में, तो कभी मेरे घर में, तो कभी खेत में जम कर चुदाई का मजा किया. हम घर वापस आ गये और मेरे फ्लैट पर ताला देख कर अदिति पूछ बैठी कि बाकी सब लोग कहां गये हुये हैं.

फिर फिल्म में एक सीन आया जिसमें हीरो और हिरोइन के बीच में रोमांस चल रहा था. उसके बाद मैंने उसको बेड पर लेटा दिया और उसके चूचों के बीच में तने हुए निप्पलों को चूसने लगा. सनी लियॉन की चुदाईअब शायना बुआ बोलीं- मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है, तू जल्दी अपना लंड डाल दे.

मुझे अच्छा लगेगा और मैं आप लोगों के लिए कोई और किस्सा या घटना लेकर वापस आऊंगा. दोपहर का खाना खाने के बाद ताऊ जी घर की छत पर बने ऊपर वाले कमरे में आराम कर रहे थे.

फिर हम दोनों अलग हुए और जल्दी से मैंने अपने अध-सोये लंड को अपने अंडरवियर में वापस से अंदर डाला और चेन बंद करके दरवाजे के बाहर झांका. लेकिन उसकी चूचियों को पीने‌ के लिये मैंने अपने शरीर के भार से उसे दबाया हुआ था।मेरी खामोश सेक्सी कहानी में मेरी बहन के साथ शुरू हो चुकी चुदाई की कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. सुरसुराहट क्या, कामोत्तेजना तो तभी से शुरू हो चुकी थी, जब मैं और नम्रता मेरे घर आ रहे थे.

इस आसन में दोनों प्रेमियों के मुंह एक दूसरे के बहुत ही करीब आ जाते हैं, लेकिन होंठ चूसने जितने नहीं. सेक्स तो क्रिया ही ऐसी है जो दो व्यस्कों के बीच में आपसी सहमति से ही होती है. [emailprotected]आप मुझे मेरी फेसबुक पर भी सर्च करके मुझसे जुड़ सकते हैं और चैट कर सकते हैं.

फिर नम्रता चाय बनाकर लायी और मुझे देते हुए बोली- शरद मैं तुम्हारा अहसान जिंदगी भर तक नहीं भूलूंगी.

00 बजे मेरी नींद खुली, तो मैं बिस्तर में अकेला सोया हुआ था और मेरे ऊपर चादर पड़ी थी. अंकल- वो क्या?मैं- शर्त ये है कि आप जब भी अम्मी की चुदाई करोगे, तो मैं आप दोनों की चुदाई देखूंगा.

मेरे सीने से तो लिपटी ही हुई थी, होठों में होंठ फिर आ गये और मैंने अपने हाथ से उसके चूतड़ों को सहलाना शुरू किया, सहलाते सहलाते जब उसके चूतड़ को अपनी तरफ दबाता तो लण्ड का सुपारा उसकी चूत पर दबाव बनाता. मुझे समझ आ रहा था कि वो अब झड़ने के कगार पर है, इसलिए ऐसा अकड़ रही है. कुछ ही पलों आग भड़क उठी और हम दोनों की जीभें एक दूसरे के मुँह में एक दूसरे के रस को चूस रहे थे.

दोस्तो, मेरा नाम प्रिन्स है, मैं इंदौर का रहने वाला हूँ और यह मेरी इस पटल पर पहली सेक्स कहानी है. मैंने भी अपनी उंगली तेजी से अन्दर बाहर करते हुए बहुत अन्दर तक डालना शुरू कर दिया. माँ के चूचे अब मेरी आंखों के सामने पहली बार बिल्कुल नंगे हो चुके थे.

सेक्सी बीएफ हिंदी की दूसरा बोला- हां, मैंने तो कई बार अखबारों में पढ़ा था लेकिन आज देख भी लिया. दोपहर का समय था, इस वक्त ज्यादातर गली के लोग वोटिंग करने गए थे और जो रहे होंगे, वो धूप के वजह से अपने अपने घर में थे.

एक्स एक्स चाहिए

अब मस्ती उसे भी चढ़ चुकी थी वो भी मेरे पैन्ट के ऊपर से मेरे खड़े लिंग को दबा रही थी. वो पूरे जोश के साथ धक्का लगाते और पूरा लंड बुआ की चूत में घुस कर ताऊ की जांघें बुआ की जांघों से टकरा जाती और फट्ट की आवाज होती. पर मन में चाह हमेशा रही कि कोई मुझे अच्छी तरह से रगड़ मसल कर चोद डाले.

मैंने चोद चोद कर उसकी चूत को भोसड़ा बना दिया था और गांड का छेद भी बड़ा कर दिया था. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मौसेरे भाई बहन के साथ थ्रीसम सेक्स-2. क्सक्सक्स हॉट सेक्सी वीडियोमैंने भाभी को सोफ़े पे लिटा दिया और उनका ट्रेक सूट उतार कर अलग कर दिया.

मौसी कुतिया सी बनी, तो एक औरत ने मेरे मुँह को पकड़ कर मेरी मौसी की गांड में दे दिया और चाटने के लिए बोला.

जब मैं झड़ने को होता तो मैं रुक जाता था क्योंकि मैं उसकी चूत की चुदाई के आनंद को ज्यादा देर तक भोगना चाहता था. वो चीख निकालती, इससे पहले मैंने उसके मुँह की तरफ जाकर अपना लंड उसके मुँह में अड़ा दिया.

तब वो ऊपर आयी और बोली- शर्मा जी, क्या बोर हो रहे हो?मैंने कहा- हाँ, अकेला जो हूँ!मोनिका बोली- हाँ आपकी चारों सहेलियां जो नहीं हैं. आह चोद बेटा … अपनी रांड मम्मी को पेल … आआअहह … उउउफ्फ बेटा … चोद आई लव यू बेटा … मेरा वन्शू … आआअह्ह चोद दे फाड़ दे मेरी चूत आआह्ह … बेटा चोद दे …वंश- यस मम्मी उउ … आज तो तेरी चूत का भोसड़ा ही बना दूंगा. तभी उसने मुझे बेड पर उल्टा लेटा दिया और मेरी गांड पर हाथ फेरने लगा.

शायद उसको दर्द हो रहा था क्योंकि मैं तो मानसी के चूचों से प्यार से खेलता था लेकिन रितेश जीजू के हाथों की पकड़ ने मानसी को चीखने पर मजबूर कर दिया.

नम्रता के चुचे के उतार-चढ़ाव के देखते ही मेरे लंड में सुरसुराहट होने लगी. अब मैं चाची की चूत को चाटने लगा और चूत के ऊपर के दाने को हल्का हल्का काटने लगा. जैसे ही जीजा ने दरवाजा खोला, वहां पर पहले से ही दो लोग और खड़े हुए थे.

ब्लू फिल्म नंगी सीन वीडियो? मैंने कहा- नहीं भाभी अभी तो शुरूआत हुयी है, तुम्हें तो अभी बहुत मजा मिलने वाला है. शायद उसको भी उसकी चोदाई करते हुए लड़के का चेहरा देखना बहुत सुखद लग रहा था.

भाई बहन का बफ

वो मेरे लिए सोचती थी कि उसकी जान अकेली होगी, मैं क्या कर रहा होऊंगा, क्या नहीं कर रहा होऊंगा. मैंने अब देर ना की और अपने कपड़े खोल दिए, अपना लंड उनके सामने रख दिया. निहारिका ने मुझे फोन किया और पूछने लगी- जानू, तुम मेले में जाओगे?मैंने हां कहा, तो निहारिका पूछने लगी- आज मैं क्या पहनूं?मैंने कहा- जिसमें तू बहुत सेक्सी लगे, वो पहन ले.

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी उसके बूब्स चूस लूं, पर में मजबूर था … क्योंकि में सिर्फ मसाज के लिए आया था. शैम्पू-कंडीशनर से वसुन्धरा के सिर के बालों का शायद ही कभी वास्ता पड़ा हो. नहीं रानी सोया नहीं बस थोड़ा सुस्ता रहा था … हो सकता है हल्की सी झपकी लग भी गयी हो.

ये जान कर मैं और जोश में उसका मुँह चोदने लगा और उसके निप्पल को पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से खींचने लगा, जिससे वो पागल हो गई. मेरी चूत पहले से ही गीली थी इसलिए उसका पूरा लंड मेरी चूत में चला गया उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे बहुत दर्द हुआ. जब मामी का ध्यान बंटा, तब मैंने जोर का झटका दिया, जिससे मामी की चीख निकल गई- आहहहह आहहह … मर गई …मेरा आधा लंड मामी की चुत में चला गया.

मेरी उम्र 26 साल है और मानसी की 24 साल। मानसी का शरीर बहुत अच्छे से उभरा हुआ है। उसके मम्मे और गांड बहुत ही मस्त हैं. मैं फिर से अनुषी के होंठों को चूमने लगा और अनुषी भी मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगी.

उसने एक बार अपने टी-शर्ट को देखा और फिर मेरी तरफ देखने लगी कि कहीं मैं उसकी ब्रा को तो नहीं देख रहा हूं.

हर औरत को पहली पहली बार दर्द तो होता ही है और उसे उस दर्द को बर्दाश्त करना पड़ता है. ब्लू वीडियो भोजपुरीपर अंकल जी तो अपनी ही धुन में मेरी कोरी कुंवारी चूत से रसपान किये जा रहे थे और बीच बीच में मेरे पूरे नंगे बदन को निहारते हुए सब जगह से चूम रहे थे जिससे मेरी उत्तेजना और भड़क रही थी. सेक्सी वीडियो भेजो वीडियो मेंअब प्रिया की तरफ मैंने ध्यान देना शुरू कर दिया क्योंकि प्रिया ही एक ऐसी लड़की थी जो मेरी बात उससे करवा सकती थी. मैं कसम खा के कहता हूँ कि … आपका साथ मेरे लिए सज़ा नहीं, मस्सर्रत का वाईज़ है.

मैंने आपको कोई और ही समझ बैठी!” मैंने खड़े होकर उन्हें नमस्कार किया और हाथ जोड़कर लजाते हुए उनसे माफ़ी मांगी.

मैंने थोड़ी देर में ही दूसरा झटका मार दिया और पूरा लंड शीतल की चूत में जड़ तक पेल दिया. मैं उठकर उसके पैरों की तरफ मुँह करके लेट गया और वो भी अपने बच्चे की ओर पीठ करके लेट गयी और मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगी. उसने नीचे एक काले रंग की पैंटी पहनी हुई थी जिसमें उसकी गोरी गांड को देख कर मेरा दिल मचल गया.

मैंने उसे कमर से खींच के खुद से चिपका लिया और उसके होंठों पे होंठों जड़ दिए. उसने मुझे बीच में ही रोकते हुये बताया- मेरा पहले से ही ब्वॉयफ्रेंड है. जैसे ही मैं उसकी इच्छा से ज़्यादा तेज़ झटके देता तो वो मेरी कमर से लिपटी टांगों को टाइट कर लेती और मैं फिर अपनी रफ़्तार घटा लेता.

இந்திய செக்ஸ்

मैंने दरवाजा खोला, तो उसने पूछा- मम्मी पापा कहां गए?मैंने कहा- उनको कुछ काम आ गया था, तो वो बाहर गए हैं और शायद आने में भी देरी भी हो सकती है. मैं दोनों टांगें डाल कर बाइक पर बैठ गई और उससे बिल्कुल चिपक कर बैठ गयी. मुझे डर था कि कहीं बनी बनाई बात बिगड़ न जाए … न जाने फिर मौक़ा आए न आए! यही सब दिमाग़ में था और मैं नहा कर वापस आया.

उसने मेरी टांगों को ऊपर उठा लिया था और मेरी गांड के छेद को छेड़ रहा था.

मैंने कई बार कोशिश की आगरा जाने की लेकिन मैं अभी तक दोबारा उससे नहीं मिल पाया.

उन्होंने इतना भर कहा और मेरे पूरे लंड को अपनी चूतरस की बरसात से भिगो दिया. वह भी उतावली है चुदाई के लिए! क्यों न उसकी पहली और आमिर की पहली चुदाई करवा दें?मैं और भी उतावला हो गया और बोला- जल्दी करवाओ. भाई-बहन xxxउन्होंने उस दिन हाथ में बेलन लिया हुआ था और उन्होंने उस बेलन को अपनी चुत पे सैट कर रखा था.

जिस कमरे में उनकी बहन बैठी थी उसी में मैं और भाभी भी बैठ कर बातें कर रहे थे. मैंने लंड काजल की चूत पर से हटा दिया और जैसे कि किसी ने उसका प्यारा खिलौना ले लिया हो. मैंने कमरे की लाइट बंद की, चादर ओढ़ ली और डॉली को भी चादर में ले लिया.

डीजे की हाइट 4 फुट 10 इंच है और फिगर 32-30-34 का है उम्र 20 साल की है. रवि ने जैसे ही लंड डाला और मुझे चोदने लगा, करीब नौ-दस धक्कों के बाद वह झड़ गया.

मेरी इस टीचर सेक्स स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा था मेरे साथ मेरे स्कूल में टीचर नम्रता और मैंने दूसरे के साथ सेक्स का मजा लेना शुरू कर दिया था.

फिर अचानक एक दिन उसका कॉल आया- तुम कहां हो, मैं अजमेर में ही हूँ … तुम आ सकते हो क्या?मैंने उससे पूछा- अजमेर में तुम कहां हो?उसने बताया तो मैं जल्दी से उसे मिला और उसको लेकर एक रेस्टोरेंट में ले गया. मैं हर रोज इस बात के इंतजार में रहती थी कि कब जीजा जी को मेरे साथ अकेले में रहने का टाइम मिलेगा. लेकिन मैंने सबसे पहले सोनल का नाम लिया, फिर राधिका और आखिर में दिशा का नाम लिया.

इंडियन पोर्ंस लंड ने अंगड़ाई ली और धीरे धीरे नैना की चिकनी जांघ के भार के नीचे उठना शुरू हो गया. मैंने धीरे से उनके पैरों पर हाथ फिराना शुरू किया और बाद में तेजी से मसलने लगा.

करीबन 15 मिनट लगातार दिशा की हचक कर चुदाई की तो वो शांत हो गई … मैं भी उसकी चूत से लंड निकाल कर उसके पेट पर झड़ गया. मैंने तुरंत ही नम्रता से कहा- अब मजा आएगा, तुम्हें मेरा लंड चूसने में और मुझे तुम्हारी चूत चाटने में … आओ 69 वाली पोजिशन में आकर इस गीले लंड और चूत का मजा लें. मैंने जब उसकी चुत को देखा तो पाया कि मेरा लंड का सुपारा पूरी तरह से बहन की चुत में चला गया है.

ब्लू फिल्म देसी वीडियो

यह जानकर‌ जिससे मुझे अब कुछ राहत मिल गयी।पेशाब करने के बाद मोनी ने वापस बिस्तर के पास आकर अब एक बार तो मेरी तरफ देखा फिर चुपचाप वो बिस्तर के दूसरी तरफ सो गयी। पहले मोनी अन्दर दीवार की तरफ सो रही थी और मैं बाहर किनारे की तरफ. इसी बीच बुआ की सिसकारियां निकलने लगीं, मैं समझ गया कि बुआ जाग रही हैं और उंगली से चूत चुदाई के मजे ले रही हैं. तभी मैंने उन्हें पलट दिया और डॉगी स्टाईल में चोदना शुरू कर दिया क्योंकि मैं उनकी गांड पे चमाट मारते हुए उनकी चुदाई करना चाहता था.

अब मैं एक हाथ से उनके एक मम्मे को मसल रहा था और दूसरे से उनकी बुर को रगड़ रहा था. फिर वाइन खत्म होने के बाद उसने डाइनिंग टेबल पर आ कर पहले से आर्डर से मंगाया हुआ खाना सर्व किया.

उसने मुझे बेड पर फेंक दिया और खुद मेरे ऊपर चढ़ गया और फिर से अपना लोड़ा मेरे मुंह में घुसेड़ दिया, कुछ धक्के मारने के बाद उसका छूट गया और पूरा मैंने रस पी लिया.

वे अपनी आँखें बंद करके चुदाई की मस्ती में डूबी थी और मैं मन ही मन ये सोच रहा था कि आज रजिया फँस गयी है. मैंने अपने लंड को उसके मुंह से बाहर निकाल लिया और उसको सीधी लेटा कर उसकी टांगों को चौड़ी करवा दिया. दोनों हाथों की आठों उंगलियां वक्षों के उभार जहां से शुरू होते हैं, वहां जमी थी और दोनों अंगूठे दोनों उरोजों के मध्य दरार में एक-दूजे से सटे हुए थे.

मैं बोली- वंश, हमारे पास करोड़ों रुपए हैं … हम दोनों चाहें, तो पूरी जिन्दगी ऐश करेंगे, फिर भी पैसा खत्म नहीं होगा. फ्री टाइम में चूतों को चोद कर मैं मजा लेता हूँ और मेरे पास कुछ एक्सट्रा पैसे भी आ जाते हैं. इतना कहते कहते अपने दोनों हाथों से उसकी पतली सी नाजुक सी कमर पकड़ी और लण्ड को अन्दर दबाया.

दोपहर में हम घर में ही रहते थे, तो वनिता मेरे घर आ जाती थी या मैं उसके घर चली जाती थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी की: फिर मैंने अपनी पैन्ट खोली और लंड निकाल कर उनके पेट के पास लगा दिया. दोनों के दोनों एक दूसरे के जिस्म को ऐसे भोग रहे थे जैसे एक-दूसरे का रस निकालने के लिए मरे जा रहे हों.

लेकिन उसने मुझे विश किया, जिससे मुझे एक दोस्त की कमी महसूस नहीं हुई. हम दोनों एक दूसरे से बात करने के बाद चुप हुए और मैं अपने मोबाइल में गाना सुनने लगी. इस बार वार बहुत तगड़ा था, उनकी चीख़ निकल गयी, वो बोली- धीरे कर!मैंने उनकी एक न सुनी, मैंने कहा- अभी मुझे अपनी मर्जी कर लेने दो, आपको मज़ा न आए तो कहना!उन्होंने कुछ नहीं कहा और मैं उनकी चुदाई करता रहा.

हम लोग पहले साथ में काम कर चुके थे, लेकिन मैं बाद में वहां से काम छोड़कर चला गया था.

पति- क्या बात है तुम्हें मेरी बहुत याद आ रही है?नम्रता- मैं कहां तुम्हें याद कर रही हूं, अगर मेरे जिस्म में चूत नाम की चीज नहीं होती, जिसे तुम्हारे लंड की जरूरत महसूस होती रहती है, तो मैं तुम्हें हरगिज याद नहीं करती. हम दोनों की गाण्ड फट गयी। मैंने मुँह पर उंगली रखते हुए शान्त रहने का इशारा किया।कुछ देर बाद मैं कड़कती आवाज में बोला- कौन है?बाहर से आवाज आई- कुछ नहीं भाई, चैक कर रहा था. कुछ देर बाद उन दोनों ने एक एक करके सीधे दारू की बोतल से मुँह लगाया और लम्बे लम्बे घूँट खींच लिए.