हिंदी में चलने वाला बीएफ

छवि स्रोत,लड़कियों का सेक्स फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

यादव जी की: हिंदी में चलने वाला बीएफ, उस कहानी में मैंने आपको बताया था कि कैसे मेरी चचेरी बहन पुण्या ने मेरे फोन में भाई बहन की चुदाई वाली कहानी पढ़ ली; और मैंने उसको अपनी चूत सहलाते देख लिया.

मराठी सेक्स बीपी व्हिडिओ सेक्सी

मैं- दोस्त तो होते ही है सर खाने को!वो- तुमसे दोस्ती किए दो दिन नहीं हुए हैं और तुम तो ऐसे बात कर रहे हो, जैसे की मुझे सालों से जानते हो. অ্যাডাল্ট সেক্সি ব্লু ফিল্মमैंने नीचे पैंटी पहनी थी जो मेरी चूत के पानी से गीली होती जा रही थी.

उसने इसके बाद ज़रा सा समय न लगाते हुए मेरी टी-शर्ट और ब्रा ऊपर कर दी और दोनों मम्मों को बारी बारी चूसने लगा. जंगल में ओपन सेक्सक्योंकि अभी प्रिंसिपल का फ़ोन आया था और वो बोले हैं कि आज स्कूल बंद कर दो.

इसके बाद मैंने औंधे लेटे हुए ही उससे कहा- पहले देख कर आओ कि घर में सब सो गए हैं या नहीं … फिर सब कर लेना.हिंदी में चलने वाला बीएफ: मुझे इस बात पर गुस्सा आ गया था लेकिन फिर भी मैंने उसको घर में आने दिया.

सनी बोला- अगर राहुल तुम्हें चोदेगा … तो मैं भी अपनी मां को चोद दूंगा.कुछ ही पलों में वो पागलों की तरह सिसकारी भरने लगी और थोड़ी देर में ही झड़ गयी.

सेक्स मराठी बीएफ वीडियो - हिंदी में चलने वाला बीएफ

मैं उसके पास गई और पीछे से जाकर मैं उसकी पीठ से चिपक गयी और उससे पूछा- क्या हुआ?अभिषेक- ये सब गलत है क्योंकि ऐसा करके मैं मानसी को धोखा दे रहा हूँ.फिर मैं उसके पैरों के पास गयी और उसकी जांघों को प्यार से चूमने लगी.

मैं अपने अंडरवियर के ऊपर से भाभी को लंड का उभार दिखा कर हिलाने लगा. हिंदी में चलने वाला बीएफ उनके जाते ही हमने मेन गेट को अंदर से बंद कर लिया और फिर अंदर रूम में आ गये.

मेरे पति के ऐसा कहते ही मैंने फिर अपने को पूरी तरह से पंकज के हवाले कर दिया.

हिंदी में चलने वाला बीएफ?

कपड़े उतारने के बाद हवा तेज़ चल रही थी और भीगे होने के वजह से मुझे इतनी ज़्यादा ठंड लगने लगी कि मेरे दांत बजने लगे. नीरू ने भी ये बात नोटिस की और बोली- मायूस मत हो जानू, कोई बात नहीं आप बिना कंडोम के ही कर लेना. वो- तुम्हें कैसे पता कि दिन में मकान मालकिन खाना दिया था … जो मैंने‌ खाया नहीं?मैं- आज दिन में तुम्हारे दरवाजे के पास ये खाने का डिब्बा मैं ही रख कर गया था जो वैसे का वैसे ही रखा हुआ है.

फिर उसने मेरा फोन नंबर लिया और जल्द ही मिलने का वादा करके अपने घर की ओर चली गई।मैं भी मैट्रो पकड़ कर अपने रूम पर आ गया।मेरा एक बार स्खलन हो गया था. जिससे शायरा का दर्द तो कम नहीं हुआ … पर मुझे लग रहा था कि उसका प्यार जरूर बढ़ रहा था. अनामिका ने औंधे लेटे हुए ही अपनी चुत को फैला लिया था, इससे उसकी गांड का छेद भी खुल गया था.

फ्री ग्रुप सेक्स कहानी मेरी गर्लफ्रेंड और उसकी होने वाली भाभी की है. वहीं दूसरी ओर रोहिणी की गांड में रोनित की जीभ की जीभ कमाल कर रही थी और अरुण बैठकर नजारों का मजा ले रहा था. जैसे ही मैं खिड़की के पास गया तो देखा कि मेरी मां पड़ोस के लड़के वरुण के साथ चुदाई करवा रही हैं.

तुम लोग फेरे के बाद रात में उसी कमरे में जाकर सो जाना, जहां तैयार हुए थे. उन्होंने कुछ भी रियेक्ट नहीं किया तो मैंने उनके होंठों पर अपने होंठ धर दिए और चूमने लगा.

वैसे तो मैं खुद ही चाची की चूत मारना चाह रहा था लेकिन उसके ब्लाउज खोलने की बात कहने पर न जाने क्यों मेरे हाथ कांपने लगे.

मैं आप लोगों से भी कहना चाहता हूं कि आप भी एक बार शनाया को जरूर आजमायें.

अच्छा बता, मामा तेरी गांड मारी है या नहीं!उस पर मामी ने ना बोला- मैंने आज तक कभी गांड नहीं मराई … बस अपनी चूत को ही चुदवाती हूँ. असल में यह प्लान मेरा नहीं था, ये तो हमारे ही क्लास के दूसरे दोस्तों का था. मैं बाथरूम में गया और अपनी अंडरवियर उतार कर लंगोट पहन ली।लंगोट मुझे बहुत ही सेक्सी लग रही थी।मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था इसे पहनते हुए।इसीलिए थोड़ी देर बाथरूम में खुद को नार्मल किया और फिर बाहर आया।फिर मैं बनियान और लंगोट पहन कर बाथरूम से बाहर आया.

उसने भी रुक कर मेरे अंडरवियर को पकड़ कर उतार दिया, जिससे मेरा 7 इंच लंबा लंड उछल कर उसके चेहरे पर लगा. मैं कभी उसकी उठी हुई गांड पर फेरता, तो कभी उसकी पूरी पीठ को महसूस करता. रसखलन होने से पहले तक हम दोनों ही इसी अवस्था में एक-दूसरे को चोद रहे थे.

और मैं चुदवाता जा रहा था।काफी देर के बाद चाचा जी ने मेरी गांड में ही अपना माल निकाल दिया।चाचा जी के गर्म गर्म वीर्य से मेरी गांड भर गयी।मुझे एक अलग ही अहसास हो रहा था जब उनका माल मेरी गांड में उतार रहा था।उनकी चुदाई से मैं भी बिस्तर पे ही झड़ गया.

मैंने कहा- आज तो आपकी चूत तृप्त हो गयी होगी?भाभी आंख दबा कर बोलीं- अभी कहां … अभी तो तुम्हारे साथ भी करना है. मैं उसके हल्के स्लिम शरीर को धकेलते हुए बेड के पास ले गयी और उसे खड़ा रखा. पिछले भागमौसेरे भाई ने मुझे दिन रात नंगी रखामें अब तक आपने जाना था कि मेरा भाई सनी मुझसे गांड मराने के लिए कह रहा था.

शायरा के साथ चुदाई करते हुए मुझे कोई जल्दी नहीं थी … इसलिए मैं अब धीरे धीरे ही अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगा … और लगभग दो तीन मिनट तक ऐसे ही आराम आराम से लंड को हिलाता रहा. काफी देर तक चुत चोदने पर मुझे लगा कि अब मेरा माल गिरने वाला है, तो मैंने भाभी से बोला- मेरा माल गिरने वाला है … जल्दी बोलो क्या करूँ?भाभी ने धीरे से कहा- साले तुझसे किस लिए चुद रही हूँ तुझे मालूम नहीं है क्या … तुम पूरा रस अन्दर ही टपका दो. मैंने उसको ज्यादा इंतजार नहीं करवाया और उसे नीचे लिटाकर उसकी चूत में लंड दे दिया और चोदने लगा.

हम हाइवे के एक अच्छे होटल पर रुके और सबने‌ अपनी‌ अपनी पसन्द का नाश्ता किया.

मैं- दोस्त तो होते ही है सर खाने को!वो- तुमसे दोस्ती किए दो दिन नहीं हुए हैं और तुम तो ऐसे बात कर रहे हो, जैसे की मुझे सालों से जानते हो. अब आगे:उसकी चुत की दोनों फांकें एक दूसरे से चिपकी हुई थीं … मगर कचौड़ी के जैसे बिल्कुल फूली हुई थीं.

हिंदी में चलने वाला बीएफ फिर दिल ने कहा कि आज की शाम के लिए कुछ तो ले चलूं … तो अपने लिए दो बियर की बोतल पांच नमकीन के पैकेट चखने के लिए खरीद लिए और उन्हीं चार में से एक झोले में रख कर वापिस घर की तरफ चल दिया. जी में आ रहा था कि फिर से कविता को अपनी बांहों में भर कर जीभर के उसके रसीले होंठों को चूम लूं.

हिंदी में चलने वाला बीएफ जितना दर्द होना था … वो बस हो गया, अब थोड़ी देर रूको … सब ठीक हो जाएगा. मैं रात होने का इंतजार करने लगा।रात को 11 बजे मैं उठा और घर की दीवार कूदकर निकल गया.

फिर वो डॉली और अन्नू से मेरे बारे में पूछने लगीं कि मैं उनको कैसे और कहां मिला और कितने टाइम से इनके साथ हूं, वगैरह वगैरह.

सेक्सी बीएफ फिल्म फुल एचडी में

आगे मिलते हैं तब चुत चुदाई के मजे से लबरेज इस हॉट कॉलेज गर्ल सेक्स स्टोरी में आपको भरपूर मजा आएगा. मेरी गोरी कुंवारी गुलाबी चूत उसने नंगी कर दी जिस पर छोटे छोटे रोएंदार बाल थे. दोस्तो, अब तक की सेक्स कहानी में मैंने आपको चुदाई का भरपूर मजा दिया है, ऐसा मुझे आपके मेल से मालूम पड़ रहा है.

दूसरों के‌ जैसे मेरे दिल में भी तुम्हारे लिए हवस होती प्यार की जगह … और दूसरों जैसा होता तो तुम भी तो मुझसे प्यार नहीं‌ करती. इतने में प्रियंका ने मेरी तरफ देखते हुए आंख मार दी और इशारे में पूछने लगी कि मस्त लौंडिया है न!मैंने भी इशारा कर दिया- हां कमाल की माल है यार!अनामिका प्रियंका की चूत की क्लिट को मुँह में भरकर चूसने लगी और अपने दोनों हाथों को ऊपर ले जाकर प्रियंका के चूचे दबाने मसलने लगी. थोड़ी देर बाद मैंने दोनों को टोकते हुए कहा- हम भी यहीं हैं मोरनियों … कोई हमसे भी हाल-चाल पूछ लो.

मॉम बोलीं- कोई कुछ बोलेगा, तभी तो मुझे मालूम होगा कि क्या चल रहा है.

सुहागरात सेक्स की कहानी के पहले भागसुहागरात के लिए भाई मेरे घर आयामें आपने पढ़ा कि मैं अपने मौसेरे भाई के साथ विधिवत सुहागरात मनाने की तैयारी कर चुकी थी. चाचा जी बोले- कोई बात नहीं बेटा, जब तक सूरज तुझे चोदने लायक नहीं हो जाता … तू मेरे पास ही आ जाया करना चुदवाने. मैं- अब इसमें क्या गलत कह दिया? दोस्तों के साथ तो ऐसे ही बात करते हैं.

बिन्नी ने अंदर से दरवाजा बंद किया और कई देर बाद बाहर निकली, तब तक मैंने भी कमरे की अंदर से कुंडी लगा ली थी. मैंने कमली के चूतड़ों पर एक चमाट लगाई और उससे पूछा- क्या हुआ क्या अभी तक पीछे से नहीं लिया क्या?कमली बोली- ऐसी बात नहीं है सा … अभी एक बार ही पीछे से लंड लिया था. मैं- अरे मेरी जान मैं मदहोशी में था … क्या करूं अन्दर छोड़ने का बड़ा मन था … तो कर दिया.

तभी मुझे ध्यान आया कि गेट तो बंद किया ही नहीं, अगर सच में कोई आ गया तो मुसीबत हो जायेगी. मैं- सलीम भाई अकसर बीच में ही फिस्स हो जाते, डालते ही छूट जाते या कभी गांड में छुलाते ही झड़ जाते.

मामा लोग अमीर थे और उनका घर भी दो मंजिला बना था जिसमें ग्यारह कमरे बने थे. वो मेरे ऊपर लेट गया और फिर अपना लंड मेरी गांड की दरार में फंसा दिया. बुर चाटने के बाद मैंने उससे कहा- जाओ, स्वच्छ जल से धोकर अपने कपड़े पहन लो.

चूँकि मैं शीशे में से सब कुछ देख चुका था अतः मैंने कहा- बिन्नी, इस उम्र के लड़के केवल अपना पानी निकालते हैं और भाग जाते हैं; और लड़की को बीच में ही छोड़ देते हैं.

इसके बाद मैंने सलोनी से कहा- अपनी बुर के लबों को फैलाकर मेरे लण्ड पर बैठ जाओ, तुम जैसे जैसे नीचे की ओर दबोगी यह तुम्हारी बुर में घुसता जायेगा. उस रात भतीजे के साथ चुदाई के दौरान जो आहट हुई थी, वो कौन था और क्या हुआ … वो सब भी लिखने का मन है. पहला झटका मारते ही आधा लंड संध्या चाची की चूत में उतार दिया और धकापेल चोदने लगे.

अपने बाएं हाथ से अपनी आंखें पौंछते हुए वो खड़ा हुआ … और मुझे फिर से मेरे गालों के पास हाथ रखते हुए एक किस किया. उसके कहने पर मैंने उसे अपनी गांड की फोटो भी दे दी और उसने मुझे अपने लंड की।उसके बाद वो मुझे मिलने के लिए बोलने लगा।मुझे थोड़ा डर लग रहा था इसलिए मैंने एकदम से मिलने के लिए मना कर दिया.

मैं जोश में आ गया और बोला- बस अब आगे क्या करना है?वो बोली- मेरी तो नीचे वाली भट्टी में आग लग गयी है यार … कर ले जो करना है. [emailprotected]अन्तर्वासना भाभी की सेक्स कहानी का अगला भाग:प्यासी नशीली भाभी की चुदाई की कहानी- 2. अब मैं तेज तेज ठोकने लगा और लंड झड़ने को हो गया तो मैं चाची की कमर चूमते हुए कहने लगा- मीना मेरी जान आहहह!और मैंने कसकर कमर पकड़ ली और चाची ने भी टांगों को कसकर पकड़ लिया.

हिंदी बीएफ शायरी वॉलपेपर सोंग डाउनलोड

यह अहसास पहली बार का था जब किसी को मेरे कपड़े उतारने का नैतिक अधिकार मिल गया था.

फिर मैंने धीरे धीरे हाथों की सख्ती बढ़ाई और मेरा लंड एक बार फिर से पूरा तन गया. लेकिन आज भी उनका दूसरा हाथ मेरी चूत तक नहीं जा रहा था जबकि नीचे उनका तना हुआ लंड मेरी गांड को पैन्ट के अन्दर कैद होने के बावजूद भेदने की कोशिश कर रहा था. मनमोहन जी का दिल्ली में अपना मकान था लेकिन वो अक्सर गांव में अपनी जायदाद को संभालने आ जाया करते थे.

चचेरी बहन की गांड चुदाई करते हुए मेरी जांघें जब उसके चूतड़ों से टकरा रही थीं तो फट फट की आवाज हो रही थी. अगर आपको ये सब जानकारी नहीं है तो आप इस कहानी का पहला भाग पढ़ सकते हैं. काली गांडभीतर गुदा गुलाबी और मक्खन की तरह चिकनी थी चुत के ऊपर का दाना उत्तेजना के कारण एकदम ऐसे कठोर हो चुका था मानो एक छोटा सा लिंग हो.

तुम एक बात बताओ, तुम भी इतनों के लंड से चुदी हो तुम्हें अभी तक सबसे अच्छा लंड किसका लगा!तभी मैं बोली- जिसका लगा, मैं उसके साथ ही रहती हूं. यह बात वे बताना नहीं चाहते थे, पर मेरे साथ बातों में खुद ही बता गए.

पहले तो वो बोलीं- मैं एक गृहिणी हूँ कोई पोर्नस्टार नहीं, जो ऐसी फोटो हमेशा अपने साथ रखूं. नसीम भाई की याद में असलम भाई की आंखें बन्द हो गईं, वो उनकी याद में खो गए. एक दिन की बात है, वो नहाने के बाद जैसे ही बाथरूम से बाहर निकला तो मेरी नज़र उस पर गयी.

इसलिए खिलाड़ी से चुदो … किसी को शक भी नहीं होगा और जवानी के पूरे मजे भी ले लोगी. वो समझ गयी कि मैं मुंह में लेने के लिए कह रहा हूं मगर उसने मना कर दिया. वो जानता था कि इतनी हाइ क्लास चूत उसको अपनी जिन्दगी में कभी नसीब नहीं होगी इसलिए उसने अपना सारा हुनर लगा दिया मेरी चूत को खुश करने के लिए।उसने मेरी चूत में जीभ डाली और प्यार से ऊपर नीचे करते हुए मेरी चूत में चलाने लगा.

एक हुकअप वाली फीलिंग से न जाने कब वो एक अजीब सी फीलिंग में बदल गया.

ये सुनकर मैं सोचने लगी कि ओह चाचू तो मेरी मॉम को चोदने की सोच रहे हैं. पिंकी चुदवाते हुए बोली- तुम सिर्फ बातें करते हो … और जब तक अनिल गर्म होता है, तो तुम उसे भगा देते हो.

दोस्तो, उस समय मेरी पूरी चेतना उठ कर मानो मेरे लंड के टोपे पर आ गयी थी. लंड खाली करते हुए चाचा जी मेरी चूत में ही झड़ गए और मेरे से अलग होकर साइड में बेड पर गिर गए. अस्मिता बोली- अच्छा … तुम मुझे व्हाट्सएप पर अपना लोकेशन भेजो, कल ही मिलती हूं.

मैं बोला- प्रियंका सुरभि को लेने गयी है, तुम भी चलो … आंटी के यहां से दीवान ऊपर लाना है. नौकरानी की चुदाई की अपनी हवस को शांत करने के लिए मैंने शनाया के साथ लाइव सेक्स चैट सेशन करने का सोचा. चाचा जी बोले- देखा, भैन की लौड़ी कितनी हुड़क मच रही है चुदवाने की, अब तू जल्दी ही बिल्कुल रंडी बन जाएगी!मैंने बोला- अरे चाचा जी, बाद का तो पता नहीं … पर आज के लिए तो मैं सिर्फ आपकी रंडी हूँ, प्लीज अपनी इस रंडी को चोद दो ना!फिर चाचा जी मेरे ऊपर आकर झुक गए और मेरी आंखों में देखते हुए कहा- हो सकता है थोड़ा दर्द हो, क्योंकि तू पहले चुदी नहीं है ना.

हिंदी में चलने वाला बीएफ दोस्त की बीवी की चूत और गांड के साथ साथ अब मैंने दोस्त की मां की चूत और गांड भी चोद ली थी. लंड को मुंह में लेकर जोर जोर से उसको चूसने लगी जैसे कि लंड न हो कोई लॉलीपोप हो.

हिंदी एचडी फुल बीएफ

यह कहानी मैंने आप लोगों के साथ इसलिए शेयर की क्योंकि उन पलों को याद करके मुझे बहुत खुशी मिलती है।एक बात और भी है … लोग तो बहुत मिल जाते हैं लेकिन अच्छा इंसान बहुत कम मिलता है।मैं अपनी जिंदगी में एक ऐसा दोस्त चाहती हूं जो मेरा हर तरह से साथ दे। कुछ लोग बोलते हैं कि कहानी लिखने वाली फेक होगी लेकिन ऐसा नहीं है. उसी के साथ वो चिहुंक उठीं और बोलीं- क्या कर रहा है … मेरे मम्मे क्यों दबा रहा है … अपनी मां के दूध छोड़ दे. उसने कुछ भी विरोध नहीं किया बल्कि उसने ऐसा बिहेव किया जैसे वो पूरी तरह मुझे सौंप चुकी हो.

अब मैंने अपने कमरे में आकर नाइटी को उतारा और उसके नीचे के दोनों कपड़े उतार कर सिर्फ उस नाइटी को पहन लिया, जिसमें मेरा पूरा बदन साफ दिख रहा था. थोड़ी देर बाद मैंने कटोरी में लन्ड डाल दिया और तेल में डुबोकर उसे गांड में डाल दिया। उसकी चीख निकल गयी और वो जैसे बेहोशी की कगार पर पहुंच गयी. मां बेटे के बीएफहम अगल बगल लेट गए और एक दूसरे को चूमते हुए एक दूसरे की योनि में उंगली डाल कर मैथुन करने लगे.

मोहित मेरी ठुड्डी को हिलाते हुए बोला- क्या बात है नंदिनी, तुम उदास सी दिख रही हो?मैं बोली- कुछ नहीं.

उसकी इस हरकत से अब मुझे भी मज़ा आने लगा, जिसके चलते मैं उसका कोई विरोध नहीं कर पाई. उस कहानी में मैंने आपको बताया था कि कैसे मेरी चचेरी बहन पुण्या ने मेरे फोन में भाई बहन की चुदाई वाली कहानी पढ़ ली; और मैंने उसको अपनी चूत सहलाते देख लिया.

दोस्तो, अब ये क्या मामला होने वाला था, इसका खुलासा कुकोल्ड हस्बैंड की फंतासी कहानी के अगले भाग में लिखूंगा. मेरी उत्सुकता को देखकर वो भी मेरा साथ देने लगी और मैंने उनके पेटीकोट के नाड़े को खोल दिया. मैंने फिर पूछा- मामी, आपने बताया नहीं?मामी- अरे तुम वहीं अटके हुए हो … मैं अभी 26 की हो रही हूँ.

जब मैंने अपना लोअर निकाला तो मामी मेरे लंड के उभार पर थोड़ा ध्यान दे रही थीं.

फिर मैंने सायरा को अपनी तरफ किया और उसके दोनों उरोजों को बारी-बारी से मुँह में भरते हुए नीचे की तरफ आने लगा. उसने अपनी जीभ निकाली और बिल्कुल कुत्ते की तरह ही मेरे बदन को चाटने लगा. आज मैं जो बॉयफ्रेंड सेक्स स्टोरी सुनाने जा रही हूं वह बिल्कुल सच्ची है.

सेक्स दूधउन्होंने पैंटी को नाइटी के अन्दर डाल कर चुत पौंछी और मुझे उधर ही हांफता छोड़ कर अपने घर के अन्दर चली गईं. कसम से डर के मारे इस तरह से आंखें मिचमिचाते हुए वो इतनी कमसिन और प्यारी लग रही थी कि बस पूछो मत.

हिंदी भारतीय बीएफ

हम दोनों की आंखें नशीली हो गयी थीं और मदमस्त तरीके से हम एक दूसरे के अंगों को सहलाते दबाते हुए सम्भोग का आनन्द लेने लगे. ऐसे वक्त में खुल कर बात करो तो थोड़ा और मजा बढ़ जाता है। मत सोचो कि कुछ याद रखा जायेगा। हमें बाद में कुछ नहीं याद रहता।मुझे तो रहेगा।तो अच्छा है न तुम्हारे लिये. उसके चूतड़ों की दरार में मेरा लंड रगड़ रगड़ कर छेद को चौड़ा कर रहा था.

मैंने उसको बांहों में कस कर भींचा … उसके बदन की खुशबू मुझे पागल करने लगी. ये एक तरह से 69 की ऐसी मुद्रा थी जिस्मने मेरा लंड उसके मुँह में था और वो मेरी गांड को अपने लंड से भेद रहा था. मैंने पूछा- क्या हुआ?वो हंसी और बोली- तुम कंडोम पहनना नहीं जानते … और सेक्स करने आ गए.

मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मेरी गांड में इतना मोटा और लम्बा लंड पूरा अंदर घुस गया था. तो मैंने अपने को हॉट और सेक्सी बनाने के लिए क्या किया?हाय फ्रेन्ड्स, मैं आप सभी लोगों का तहे दिल से शुक्रगुजार हूं कि आप मेरी गर्म व सेक्स कहानी बड़ी रूचि के साथ पढ़ते हैं और आनन्दित होते हैं. अगली रात भी मेरी भयानक चुदाई आप कामवासना कहानी के अगले भाग में जरूर पढ़ें कि किस तरह से मेरी गांड की वो चुदाई हुई थी कि मैं मरते दम तक उस चुदाई को नहीं भूल सकती।[emailprotected]कामवासना कहानी का अगला भाग:गेस्ट हाउस की मालकिन- 4.

फिर जो कपड़े मैंने पहने हुए थे वो मैंने उतार डाले और बैग के पास में फर्श पर डाल दिये. मगर उन्होंने दोनों हाथों से मेरी जांघों को पकड़ लिया और मेरी चूत अब खुद को छुपा नहीं सकती थी.

फ़ोटो देने के बाद उसको मुझ पर यकीन हो गया था कि मैं उसके लायक हूं और फिर वो हर रोज़ ही अपनी फोटो मुझे भेज दिया करती थी.

हॉट गर्ल की गांड की कहानी में पढ़ें कि मेरा भाई मुझे चोदना चाह रहा था पर मेरी चूत दुःख रही थी. नंगी सेक्सी बफबाथरूम में खड़ा होकर मैं उसको अच्छी तरह बताता गया कि किस तरह स्नान करना है. मेहरारू बीएफउसने अपनी दोनों टांगों को सिकोड़ लिया और भगांकुर को तेज-तेज मसलने लगी. मेनगेट जो दिखने मैं काफी नार्मल था … उससे अन्दर जाते ही यह एक खूबसूरत से महल की तरह लगता था.

और संध्या मस्ती से चिल्ला चिल्ला कर मोहित का जोश बढ़ा रही थी- आह … और जोर से … और जोर से करो.

उससे मिलकर मुझे अपनी बहन की चुदाई वाली फीलिंग आती है और मैं संतुष्ट हो जाता हूं. धीरे धीरे जब शादी पुरानी होती गयी तो जिन्दगी से वो रस भी धीरे धीरे कम होने लगा. चूंकि वो कुर्सी पर बैठा था और मैं खड़ी थी, तो मैंने उसको उठा कर अपनी छाती से लगा लिया और उसका मुँह मेरी चुचियों के बीच दबा लिया.

उसका ख़ासा ऊंचा लम्बा कद हो … या उसकी खूबसूरती, सब मेरा ध्यान खींच रहे थे. मैंने बिना हिल-डुल किए वैसे ही भाभी की गांड में अपना लंड फंसा दिया और भाभी को कसके अपने हाथों से पकड़े रहा. अजय ने पूरी ताकत झोंक दी थी मनीषा की चूत को हॉट चुदाई का पूरा रस देने के लिए.

हिंदी सेक्सी बीएफ ब्लू सेक्सी

यह कहानी एक साल पहले की है जब मैं अपने 12वीं के एक्जाम देने वाली थी. फिर जब मैं उसकी गोद से उतरी, तो उसने अपने लंड को सही किया और अंगड़ाई लेकर बोला- मेरी फीस!आज अभिषेक ने मुझे ज़्यादा सुख दिया था और ज़्यादातर प्रोजेक्ट उसने ही बनाया था. मैं कभी उसकी उठी हुई गांड पर फेरता, तो कभी उसकी पूरी पीठ को महसूस करता.

इस बार उसकी इस हरकत से मैंने अपना धैर्य खो दिया और सीधे अपने हाथों से उसका लंड बाहर निकाल कर चादर के नीचे सहलाने लगी.

वो बोली- वो कैसे करते हैं?मैंने पूछा- क्या कैसे करते हैं?वो बोली- उंगली का इस्तेमाल?मैंने कहा- अपनी किसी सहेली से पूछ ले.

बाहर जो महिलाएं अभी कुछ देर पहले गयी थीं, वे अपनी लड़कियों को लेकर आ गयी थी और कमल से बात कर रही थीं. उसके बाद लड़के को आने में देर लगी, तो मैं अपने सारे कपड़े उतार कर बिल्कुल नंगी हो गई और अभी पहनने के लिए अपने बैग से कपड़े निकालने लगी. बीएफ वीडियो देसी हिंदीमैंने कहा- मेरी जान … मेरे होंठ तो आज सारा दिन खा लेना मगर अभी घोड़ी बन जा, तुझे पीछे से पेलना है.

तो दोस्तो, अगर आप भी अपनी फंतासी पूरी करना चाहते हैं तो एक बार लाइव वीडियो सेक्स चैट सेशन करके देखें. फिर विक्की जाने लगा तो मैं उसको दरवाजे तक छोड़ने गयी और मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसके हाथ में एक पर्ची थमा दी. केवल कहानी के बारे में ही बात करें। धन्यवाद।[emailprotected]इंडियन हाउसवाइफ सेक्स कहानी का अगला भाग:ग़ैर मर्द से चुदाई की हसीन रात- 2.

नेहा ने स्नेहा को बताया कि चाचा की ये सब बात सुन कर मेरी तो हालत खराब हो गई थी. रोहिणी और निशि बुरी तरह चीख रही थीं और बोल रहीं थीं- लंड बाहर निकालो.

ये देख कर अयान ने अपने लोवर से अपने लंड को बाहर निकाल दिया और हिलाने लगा.

उन्होंने राजू चाचा का लंड मुँह में अन्दर तक भर कर चूसना शुरू कर दिया. मैंने अपनी एक उंगली भाभी की चूत में डाली और जीभ घुमा घुमाकर उसे चूसता रहा. मैं भाभी को किस करने लगा और भाभी ने मेरा लंड को अपने हाथों से हिलाने लगीं.

सेक्सी पिक्चर हिंदी में बीएफ कमली, जो अपनी बेटी को लेकर आयी थी, उसने कमल से कहा- सेठ अभी कली खिली नहीं है. ये कह कर प्रियंका ने उसका सर दबा दिया- साली चूत चोद ना … चूस ना कुतिया … बड़ा लंड देखने को मरी जा रही है.

मैंने अपने एक हाथ की दो उँगलियां उसकी चूत में घुसा दीं और उसकी क्लिटोरिस को छेड़ने लगा।सुमन के लगातार आक्रमण से उसका शिकार पंकज अब घायल हो चुका था और उसके प्राण- मतलब वीर्य … निकल जाने में थोड़ी ही कसर शेष थी. भोसड़ी का खुद 2 मिनट में डिस्चार्ज होकर ढीला पड़ जाता था और मैं और मेरी चुत प्यासी रह जाती थी. प्रिया ने उसको जकड़ लिया और फिर दोनों हॉट चुदाई के समुंदर में गोते लगाने लगे.

देवर भाभी की बीएफ देवर भाभी की बीएफ

भाभी बड़ी झुक झुक कर स्ट्राइकर चला रही थीं, जिससे उनकी पूरी चूचियां मुझे हिलती दिख रही थीं. वो मुझसे 3 साल बड़ी थी तो मैंने कभी उसे ऐसी नज़र से देखा ही नहीं था. धीरे धीरे मोहित ने स्पीड बढ़ा दी उनके धक्के से मुझे धक्के लगाने की जरूरत नहीं पड़ रही थी.

वैसे तो रात में ऊपर कोई नहीं आता, मगर गर्मी के कारण मैं रात को सोते समय दरवाजा खुला ही रखता था इसलिए मैंने अपने ऊपर एक पतली सी चादर डाल ली और चादर के अन्दर ही अपने लंड को धीरे धीरे हाथ से सहलाना शुरू कर दिया. उसके होंठों से होंठों को मिला कर मैं उस गर्म माल का चुम्बन लेने लगा.

मैंने उसकी चूची दबा कर कहा- अन्दर बाहर वाली स्टेमिना भी दमदार है मैडम.

जिस बदन को आज तक केवल रवि ने देखा था, कितनी बेशर्मी से उसने अनिल को सौंप दिया. जब निशि के मुँह में रोनित का लंड नहीं होता, तो उसकी ‘आह आह स्स्स्स स्स्स्स ओह्ह ओह्ह. विमला कुछ देर रुक कर मेरे कमरे में आयी और बोली- अभी दामाद जी जाग रहे हैं.

और हां मुझको याद है अनामिका, मैं कल तुम्हारी रोमांटिक चुदाई करूंगा. एक दिन की बात है, वो नहाने के बाद जैसे ही बाथरूम से बाहर निकला तो मेरी नज़र उस पर गयी. मैं उसके पैर फैला कर बीच में बैठ गया और अपने छह इंच के सीधे खड़े लंड को उसकी चूत के मुँह पर रगड़ने लगा.

उसके बाद उसने मुझे उल्टा किया और फिर मेरी गांड के छेद में थोड़ी से दारू डाल कर गांड के छेद को भी चाटा.

हिंदी में चलने वाला बीएफ: मैं तुम्हारे लिए जान भी नहीं दे सकता, क्योंकि मैं तुम्हारे साथ जीना चाहता. वैसे भी मैंने उसके सभी अंगों को चूस चाटकर उसे पूरी तरह से चुदासी कर दिया था.

मामी ऊपर से कूद रही थीं और मैं नीचे से गांड उठा कर उन्हें मस्त चोद रहा था. मैंने सायरा की कमर को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और सीने से चिपकाते हुए कह- हम दोनों तो पति-पत्नी है न. कभी कभी एकदम परफेक्ट निशाने के साथ उसकी चूत के छेद में मेरा अंगूठा घुस जाता, तो थोड़ी देर तक वैसे ही मैं उसकी चुत की फांकों को घिसने लगा.

फिर मैंने कुछ विराम देकर एक धक्का लगाया तो पूरा लन्ड उनकी चूत में सेट हो गया.

संजू शर्मा गई और बोली- कहां है एक नम्बर का माल!मैंने कहा- संसार का सबसे महंगा रत्न मेरे पास है. वो एक हाथ से मेरे बालों से बैंड निकाल कर मेरे सर को सहलाने लगा और दूसरे हाथ से मेरी पूरी नंगी पीठ को सहलाने लगा. मैंने कहा- अभी तो कुछ किया ही नहीं और आप अभी तृप्त हो गईं!भाभी बोलीं- कर लो यार जो करना है … मुझमें तो अब जान बची नहीं है.