भूमिका चावला सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म पंजाब

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव: भूमिका चावला सेक्सी बीएफ, मैं फटाक से उठा और दीदी के मम्मों को चूसने लगा और दीदी गरम आहें भरने लगीं ‘आह आह आह…’इससे मुझे और जोश चढ़ने लगा.

पता नहीं मुझे कौन सा नशा करता है

पर आज मेरा दोस्त मेरी बीवी के साथ गंदा सेक्स कर रहा था जो मेरी बीवी को बहुत अच्छा लग रहा था. न्यू सेक्सी 2021वो वेटर को कुछ बोलने वाले थे लेकिन मैंने उनका हाथ खींच लिया और बोला- पापा चिल करो, आज की रात मुझे कुछ देर के लिए मम्मी ही समझ लो.

वो अभी भी आंखें बंद करके ही सोई हुई थी। मैंने वक्त ना गंवाते हुए उसका टीशर्ट उसके बदन से अलग कर दिया. সেক্সি ফিলম নাঙ্গীमैं दिखने में एकदम भरे हुए जिस्म की औरत हूं। मैं अपने बारे में इससे ज्यादा और कुछ नहीं बता सकती।मैं आज आप लोगों के सामने अपनी एक सच्ची कहानी लेकर आई हूं.

वो एक हाथ से चूची दबा रही थी और दूसरे से अपनी चूत को रगड़ती जा रही थी.भूमिका चावला सेक्सी बीएफ: मैंने मंजुला को खिड़की की तरफ बैठा दिया ताकि वो बाहर के नज़ारे अच्छे से देख सके.

मेरी मां भी मॉडर्न खयालों की है और उनको भी सजने संवरने का काफी शौक है.मैं एक हाथ से उसके मम्मों को दबा रहा था और दूसरा हाथ मैं धीरे-धीरे उसकी चूत पर ले गया.

जंगली आदिवासी सेक्सी वीडियो - भूमिका चावला सेक्सी बीएफ

अब जब मैं उस कपड़े को पहन कर बाहर निकली, तो विजय मुझे देखता ही रह गया.पहली बार ही उसको देखने के बाद मेरा लौड़ा उसे चोदने के सपने देखने लगा।हम सबने खूब मस्ती की और खाना खाने के बाद 12बजे तक बातें कीं।फिर मैं ऊपर वाले रूम में आ गया और सुरभि के बारे में सोचने लगा।बार बार उसकी जवानी का रस मुझे ललचा रहा था.

ये देख कर उसने मेरी मम्मी के नीचे हाथ लगाया और उनके नीचे के कपड़े उतारने लगा. भूमिका चावला सेक्सी बीएफ जिससे उसे छेद में लंड अन्दर डालने में आसानी हो गई और उसके एक तेज झटके से लंड के आगे का भाग चुत में घुस गया.

लड़की कहो या औरत वो लंड चूसने में माहिर थी, इतनी शिद्दत और प्यार से वो ब्लो जॉब दे रही थी कि मेरी आंखें आनंद के अतिरेक से मुंद गयीं और मुझे लगने लगा कि मंजुला ही मेरा लंड चूस रही है.

भूमिका चावला सेक्सी बीएफ?

फिर ऐसे ही आपा बोली- वैसे तेरी बीवी शनाज़ हर महीने गोलियां खाकर कुछ अच्छा नहीं कर रही!मैं- क्या बताऊँ आपा … शनाज़ अभी औलाद नहीं चाहती. मेरी मामी की उम्र 32 साल है, वो दिखने में इतनी खूबसूरत है कि क्या बताऊं. रात को मैंने फ़ोन पर उससे और उसकी दीदी से बात की और मैंने उसकी दीदी से फ़ोन पर उनकी तारीफ की, जिससे वो बहुत ज्यादा खुश हो गयी.

अब वह अपने लंड को मेरी मम्मी की चुत के ऊपर रख कर बोला- रेडी हो मेरी जान … अब मैं अन्दर डाल रहा हूँ. अब उसकी पीठ की मालिश करते करते मैंने उसके मम्मों को भी छूने की कोशिश की. सामने ही मां के रूम का दरवाजा खुला हुआ दिख रहा था जिसके अंदर सामने बेड था.

मेरी चुत में चींटियां रेंगने लगी थीं, जिस वजह से जल्द ही मैंने अपना कुंवारापन गंवा दिया था. ये देख कर बलविंदर ने समझ लिया कि अब इसका इलाज ऑपरेशन टेबल पर करना ही ठीक रहेगा. वो मुझसे बोली- टंकी में पानी खत्म हो गया है … मोटर का तार लगा दो, मुझे डर लगता है.

बाजी बोली- इमरान, गांड में वैसे तो बहुत दर्द होगा पर करना हो तो कर ले. मैंने भाभी को किस किया और बोला- बिगड़े हुए लोगों की दुनिया में आपका स्वागत है.

एक चूची मुंह में लेकर मैं चूसने लगा व दूसरी चूची को मैं इस कदर बेदर्दी से मसल रहा था जैसे कि हाथ से दबाकर संतरे का रस निकाला जा रहा हो.

कुछ देर समझाने के बाद वो भी मान गया और मैं भी अब घर के कामों में बिज़ी रहने लगी.

तभी कहीं से उसके साथी आ गए और उन सज्जन से झगड़ने लगे कि उसने उस बच्ची को खाने में कुछ मिला कर दिया है. उसकी बीवी ने बारी बारी से हम दोनों के लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. क्योंकि मैं भी बाहर ही स्टडी करता था … इसलिए घर कम नहीं आना जाना रहता था.

उसके बाद मैं ऊपर संजय के साथ आज फिर दारू पीने गयी और उससे काफी देर तक बात हुई. जब माया अन्दर आयी तो मैंने कहा- इतनी सेक्सी मत लगा करो कि सोसायटी के लोगों को मुश्किल हो जाए. तुम उन्हीं में से एक हो।ये कहते ही मैं उसके लंड पर झुक गयी और उसके लंड को मुंह में पूरा भरकर चूसने लगी.

वो आदमी बोला- मैं तो आपकी मदद कर रहा हूँ भाभी जी … मेरे लिए तो बहुत सी औरतें बिछने के लिए राजी हैं मगर आपके पास तो अपनी चुत में लेने के लिए किसी का लंड ही नहीं है.

उसने मुझे घर वापिस आने के बारे में पूछा, मैं बोला- मामी जी आने नहीं दे रही हैं, कह रही हैं कि खाना खाकर जाना. रात को हम सब साथ खाना खा रहे थे तो जीजा ने बताया कि उनको काम से एक हफ्ते के लिए बाहर जाना पड़ेगा. मैं समझा कि शायद हमारे इस अकेलेपन का फायदा उठाने के लिए आपा गाउन पहन कर मेरा इंतज़ार कर रही हैं.

रजक लाल ने अपने मूत की धार रोहन के चेहरे पर मारते हुए उसके पूरे पूरे बदन को मूत से सान दिया. रुबैया की चूत में लंड देकर पता लग रहा था कि वो पहले भी काफी बार चुद चुकी है. लेकिन उस वक्त मैं इतने जोश और मजे की हालत में था कि मैंने हेमा चाची की एक न सुनी और अपने लंड को अन्दर बाहर करता रहा.

ईहचिइआ … एएह … आअंकल ने मेरी टांग उठा कर अपना लंड मेरी चुत के मुँह पर टिका दिया, जिससे मैं अपने होशो हवास खो बैठी और अपने चूतड़ों को ऊपर को उछालने लगी.

बड़ी मम्मी ने दरवाजा बंद करके मेरी तरफ देखा और बोलीं- अभी आधा घंटा है मजा ले ले … फिर रात को बाकी का मजा करेंगे. वो मुझे हटाने लगी, मारने लगी और थोड़ा छटपटाने लगी।लेकिन उसका विरोध नाम मात्र ही था, वो असल में मेरा सहयोग ही कर रही थी.

भूमिका चावला सेक्सी बीएफ कुछ ही पल में मेरी योनि पानी छोड़ने लगी और मेरे बदन में ऐंठन होने लगी. मैंने उसे किस किया और उसकी चूत पर अपना लंड टिका कर एक धक्का दे मारा.

भूमिका चावला सेक्सी बीएफ कुछ ही दिनों के बाद मैंने देखा कि उसकी चूचियों का आकार बढ़ने लगा था. मैं तो घर से देवी माँ का नाम लेकर निकली थी कि अब तू ही सब संभालना और उनकी कृपा ऐसी हुई कि आप मिल गए.

वो समझ गया कि मैं राजी हो गई हूँ, तो उसने मेरे दोनों मम्मों को दबाया और अपना लंड बाहर निकाल लिया.

ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो नई वाली

अब आगे माय इंडियन गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी:आशु का बदन सेक्स की छुअन से थिरक रहा था और मैं उसको अच्छे से फील कर सकता था. ज़ोहरा आपा और शनाज़ के बीच काफी अच्छी दोस्ती है, दोनों की शुरू से ही खूब जमती थी. वो जाने के लिए कहने लगी लेकिन मैंने उसकी चूत को फिर से सहलाना शुरू कर दिया.

उन्होंने ये सब बताते हुए जब अपनी बीवी की चुदाई की इच्छा जताई, तो मैं सोच में पड़ गया कि एक 42 साल की औरत बिस्तर में न जाने कैसी होगी. इस देसी हिंदी Xxx कहानी की नायिका मनजीत कौर मेरी बीवी के सबसे छोटे मामा जी की पत्नी है. वह घोड़ी बन गई और मैंने उसके बाल पकड़कर उसकी चूत में लन्ड डाल दिया और उसे चोदने लगा।चोदते हुए मैं उसे गाली देने लगा- साली रांड … यही लंड लेना चाहती थी न? ले … इसे अच्छे से खा जा … बहन चोद!उसने कहा- हां कुत्ते … आ जा … चोद मुझे … जितना बुरी तरह चोद सकता है चोद दे.

मेरा नाम तमन्ना है और मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव की रहने वाली हूँ.

मुझे पता था कि समर को लाल रंग बहुत अच्छा लगता है इसलिए मैंने लाल रंग की ब्रा-पैंटी और मैक्सी पहनी।जब मैं बाथरूम से बाहर आई तो वो मुझे देखता रह गया।फिर मैं उसके पास जाकर बैठ गयी. मैं भी साथ में चला गया।बाजी ने कहा- अब बताओ, क्यूं परेशान हो?मैंने कहा- बाजी, नजमा दीदी ने क्या करने के लिए कहा था?वो बोली- अरे नीचे की सफाई करने के लिए कहा था. उसने मम्मी से कहा- दूध पिला दे जानू!मम्मी ने मादक स्वर में उससे कहा- पी लो न … मैंने कब मना किया है.

मैं घर पर बोर होती थी। तो फेसबुक पर मेरा एक दोस्त बना। मुझे वो बातों से अच्छा लगा तो मैंने एक दिन उसे अपने घर बुला लिया. जब माहौल थोड़ा सा सहज हुआ तो देखा कि वो वाइट रंग की ब्रा और पैंटी में बिल्कुल परी सी लग रही थी. भाभी बोली- अच्छा, सच-सच बताओ कि क्या देख रहे थे?मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी… वो … आपकी …वो बोली- मेरी क्या… इतना घबरा क्यों रहे हो, मैं तुम्हें खा थोड़ी न जाऊंगी?मैंने हिम्मत करके बोल दिया- भाभी आप बहुत सुंदर हो.

मैंने इशारे से पूछा कि क्या हुआ तो मामी ने धीमे से कहा- क्या फिर से पानी डालना है?मैं समझ गया कि मामी लंड के पानी डालने की बात कह रही हैं. इसी का फायदा उठाकर वो मेरे पास आ गया और हल्के से मेरे हाथों को छूता हुआ उसने मुझे एक कागज थमा दिया.

और जैसे ही लंड ने रस फैंका तो उसने केबिन की दीवार पर उसने अपने पानी की छूट कर दी. अमित ने अपनी रफ्तार को बढ़ा दिया और जोर जोर से मेरी बीवी की चूचियों में दांतों से काटने लगा. मैं भी उनके पीछे ही चल दिया।नीचे आकर बाजी टॉयलेट में घुस गई तो राबिया बोली- इमरान, मुझे पता है कि तुम्हें अजीब लगेगा, मगर मैं तो रोज़ तुम दोनों को चुदाई करते देखती हूं.

मेरा ब्रश तो होटल में था सो मैंने टूथपेस्ट उंगली पर ही ले कर दांत साफ कर लिए.

इसके बाद मैं कोल्ड क्रीम ले आया, वो मैंने अपने लंड पर लगायी और थोड़ा सा दीदी की चूत पर भी लगा दी. वो मुझे अपना दोस्त मानती थी सो उस हैसियत से मेरे गले में बाहें डालकर रोने लगी। उनके छूते ही मुझे करंट लगने सा एहसास हुआ और लौड़ा तनकर सलामी देने लगा।भाभी जी शांत हुई और मेरे लिए चाय लाई. चुत की प्यास की कहानी के पिछले भागबीवी की सहेली की प्यार भरी चुदाई कीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं भाभी की चुदाई कर चुका था और उनसे उनकी फैंटेसी पूछ रहा था.

आई विल गिव यू माय बेस्ट … वैसे मेरी फीस पांच हजार है आप जो चाहो सो पे कर देना … बट प्लीज डोंट डिसअपोइंट मी. मुझे मालूम था कि जब पहली बार नथ उतरती है, तो चुत में दर्द होता ही है.

इस पर मैंने बोला कि इनका ध्यान कौन रखेगा?सासु मां बोलीं- कि मैं रख लूंगी. मैंने पहले कभी उसे इस नज़र से नहीं देखा था क्यूंकि वो ज्यादा सुंदर तो थी नहीं, सांवला रंग और उसका फिगर भी 32-26-30 का था. बलविंदर ने अलीमा के मम्मी पापा की नजर में अपना ऐसा अपना इंप्रेशन बना लिया था कि मानो वो बहुत ही अच्छा आदमी हो … संसार में इसके ऐसा जैसा कोई धर्मात्मा व्यक्ति हो ही नहीं.

हीरो हीरोइन का सेक्सी वीडियो दिखाइए

तो दोस्तो, ये थी मेरे कॉलेज के दिनों की वो हसीन पहली याद!मुझे उम्मीद है कि आप सबको माय इंडियन गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी ठीक लगी होगी.

मेरे दोस्त ने बताया था कि नंगी पंजाबन को गर्म करना बहुत आसान होता है. मैं भी जवान लौंडा था और चुदाई का मेरा भी मूड था तो मैं तैयार हो गया. मैं नीचे टॉयलेट में गया। टॉयलेट की लाइट जली हुई थी और दरवाजा बंद था तो मैं रुक गया.

मैंने भाभी का अकेलापन कैसे दूर किया?दोस्तो, मेरा नाम आकाश (बदला हुआ) है. घर लौट कर मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और मंजुला को बाहों में भर लिया. सबसे प्यारा कौनमनजीत की चुत भी साथ में ही सिकुड़ने खुलने लगी और वो दूसरी बार झड़ गई.

मैंने आरिया से पूछा कि कितनों से चुदवा चुकी है?आरिया हंस कर बोली- अभी सिर्फ दो से … आप तीसरे हो. फिर मैं वहीं नीचे सिगरेट पीने लगा और मैंने दीदी को मैसेज किया- मॉम को मेरे पीछे से एक पैग पिला दो.

इतने में उसने मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत से हटाया और मुझे साइड में करके खुद मेरे ऊपर आ गई. अब मैंने भाभी से गांड मरवाने को कहा, वो गरम हो गई थीं, तो ये कहते हुए लेट गईं कि धीरे करना. मूतने के बाद मैंने टूथब्रश का हैंडल अपनी चुत में डाला और चुत रगड़ने लगी.

ऐसी हालत में मैं मौसी के साथ कमरे में अकेला था और उनका ब्लाउज खुला हुआ था. कुछ हो जाएगा तो?अब मैंने उसे समझाया कि पहली बार में खून निकलता ही है. तो दोस्तो, ये थी मेरी सेक्सीबीवी की वासनाजो मेरे नए पड़ोसी के लंड से चुत चुदवा कर शांत होने लगी थी.

वो कहते हैं कि जिस बात की शिद्दत से कामना करो … तो वो चीज जल्द ही हासिल हो जाती है.

मैं कुछ देर के लिए वहां बैठ गई … क्योंकि मेरी चूत में और गांड में बहुत ज्यादा जलन हो रही थी. मैंने उसकी मदद कैसे की?कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे.

मैं भाभी के पैर की उंगली को किस करने लगा और एक उनके अंगूठे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. उसका ये तेज प्रहार मैं सह नहीं पाई और मेरे मुँह से जोरदार चीख निकल गई- उम्मम्म मांआआ मर गईईई … थोड़ा धीरे … अमन आह. हम दोनों के हाथ एक दूसरे के बदन को नाप रहे थे और किस पर किस चल रहा था.

क्योंकि बलदेव ने सास की चुत चूसते समय अंदाजा लगा लिया था कि चुत द्वार उसके लंड के हिसाब से बहुत छोटा है. फिर मेरी गांड में अपना कड़क लन्ड डाल कर चलती राह में मुझे भकाभक चोदने लगा. ये हरकत देख कर अलीमा घबरा गई लेकिन अगले ही पल अलीमा ने अपना हाथ छुड़ा लिया और गुस्सा दिखाया.

भूमिका चावला सेक्सी बीएफ अरे तो इसमें क्या … ऐसा ही तो होता है सबका!”कोई न होता ऐसा; शिवांश के पापा का तो इससे बहुत छोटा था, इससे दो इंच कम रहा होगा. साथ ही मैंने सब से मंजुला के लिए कोई किराए का रूम तलाशने के लिए कह दिया क्योंकि आफिशियल फ्लैट मिलने में अभी एकाध साल का वक़्त लगने वाला था और मंजुला ज्यादा दिनों तक होटल में तो रह नहीं सकती थी.

सेक्सी हिंदी में कॉमेडी

बाजी भी लंबी सांसें ले रही थी।कुछ देर आराम करने के बाद में फिर से बाजी के ऊपर चढ़ गया तो उन्होंने कहा- इमरान जल्दी करो, फिर ऊपर जाकर सोना भी है, कहीं कोई हमारी चारपाई देख लेगा तो गजब हो जाएगा।मैंने बाजी की चूत में फिर से लंड घुसा दिया और धक्के लगाता रहा. उसको दर्द हो रहा था … तो मैंने उसके एक चुचे को दबाना शुरू कर दिया और दूसरे के निप्पल को चूसना शुरू कर दिया. बस गर्दन झुका ली तो मैंने पैंट का बटन खोल कर निक्कर नीचे कर दिया और बाजी की चूत में लंड लगाने लगा.

मैंने फोन उठाया तो वो मेरी गर्लफ्रेंड का नाम लेते हुए बोला- मैं इसकी माँ बोल रही हूं. जब घर पर कोई नहीं होता है तो हम तीनों ही एक साथ चुदाई का मजा लेते हैं. भोजपुरी गर्ल सेक्सी वीडियोवो तो अच्छा है कि मैंने म्यूज़िक चला रखा था, नहीं तो उसकी चीख सुन कर पड़ोसी आ सकते थे.

मैंने पूछा- क्या प्रॉब्लम है चाची बताइए जल्दी!तब चाची ने बोला कि वह बाजू वाली सोसाइटी में प्रियंका है ना, उसने आज हमें देख लिया था.

फिर अंकल ने अपना मोबाइल निकाल कर मुझे मेरी वीडियो दिखाया, जिसको देखकर मेरे होश उड़ गए. ज़ोहरा- क्या हुआ अम्मी?अम्मी गुस्से में अब्बू को कोसने लगी- मैंने पहले ही कहा था कि वो रफ़ीक़ तेरे लिए ठीक नहीं है.

बुआ को लगा होगा कि ये मेरी पहली चुदाई है, मैं ज़्यादा देर तक नहीं टिकूंगा. वो पूछने लगी- तुम्हें कौन सी पोजीशन में चुदाई करना अच्छा लगता है?मैंने कहा- वही सब जो तुमने बोला. बस उसका साथ मुझे यूं लग रहा था कि इसके साथ न जाने मैं कब से दूर था.

मुझे उनकी जांघों के बीच में चूत के दर्शन हुए।मैं तो एकदम होश खो बैठा.

धीरे धीरे उसका बदन गर्मा रहा था। मैंने उसके मम्मों को बारी बारी दबाना शुरू किया और हल्का हल्का उसको किस करने लगा।उसका स्वाद मुझे अपने काबू में कर रहा था। धीरे धीरे करके मैं नीचे की ओर आ रहा था. और मैं उसके लंड से झड़ गई पर अभी उसका होना बाकी था। तो वह और तेज धक्के लगाने लगा. बहुत ही कामुक अहसास था; अपने सपनों की रानी की मैं ट्रेन में चुदाई कर रहा था.

टेलर सेक्सीमैंने उसकी चूत को हाथ लगाया तो वो भी ख़ुशी के मारे आंसू बहा रही थी।अब मैं उठ गया और पोजीशन ले ली. बलविंदर की नजर अलीमा पर बहुत पहले से थी … बहुत पहले से वो मौके की तलाश में था.

देहाती स्कूल की सेक्सी

मैं झड़ने को हुआ तो मैंने पूछा- रस किधर लोगी?मामी बोलीं- मुझे पिला दो. उन्होंने बलदेव को हटाने की कोशिश की पर बलदेव ने चुत को चूसना जारी रखा. उसने मेरी जांघों को थोड़ी और फैलवा दिया और हाथ को नीचे तक लाने लगा.

मैंने दिल्ली में एडमिशन के लिए कहा तो पापा अपने दोस्त से बात कर ली. अक्षय ने हिम्मत करके अपना एक हाथ मेरी पीठ से होते हुए मेरी चुचियों पर रख दिया और उन्हें सहलाने लगा. अपने दोनों हाथों से बलविंदर ने अलीमा के दोनों हाथों को पकड़ा और उसके कान के पास अपने मुँह को ले जाकर बोला- देखो तुम जवान हो … तुम्हें भी तो मर्द का साथ चाहिए होगा.

बुआ ने कुछ नहीं कहा, वो भी जोश में मेरी गर्दन के पीछे हाथ डालकर मुझे किस करने लगीं. इसमें मैंने 1 बार निधि की गांड मारी और 2 बार उसकी चूत का भोसड़ा बनाया. मॉम फ्रेश होकर गुस्से से भरा चेहरा लेकर सामने आईं और गालियां बकने लगीं.

अब मेरा रोज़ का यही काम हो गया था कि एक रात अनूप जी से और दूसरी रात विजय के बिस्तर को गर्म करती और चुदाई का सुख ले लेती. उसकी मोटी मोटी चूचियां उसकी ब्रा में ऐसे कैद थीं जैसे वो बाहर आने के लिए गुहार लगा रही हों.

मेरे निप्पलों को चूसने के बाद भाभी ने मेरी तरफ देखा, तो मैंने भाभी से कहा- भाभी जी, मेरे लंड को भी चूसिए न!भाभी मेरे लंड को अपने हाथों में लेते हुए बोलीं- यार, मुझे भाभी मत कहो … मेरा नाम लेकर बोलो.

मेरे सामने एकदम नंगी पड़ी भाभी जी अपनी एक टांग को उठा कर मेरे हाथ में देकर मुझसे अपनी टांग पर चुम्बन का मजा ले रही थीं. गुड़िया कैसे बनती हैकोई चुम्मा चाटी कर रहा तो कोई लड़का किसी लड़की की चुचियां दबा रहा था. सेक्सी फिल्म इंग्लिश फिल्ममां ने उसको देखा और मुझसे कहा- ये तुम्हारी मामी है, पैर छुओ इनके!अब मुझे मुश्किल हो गयी कि अगर मैं बाहर निकला तो तना हुआ लौड़ा दिखेगा. मगर इससे पहले कि मैं कुछ करने पर उतारू होती तब तक प्रियंका ने हाथ मेरी जांघ पर हाथ रखा और मुझे उकसाने की कोशिश करने लगी।तभी सीन में एक लड़के की एंट्री होती है और फिर वो दोनों लड़कियां उस लड़के का भी मजा लेने लगती हैं.

वो बाहर आने के लिए बेताब थे और उसकी ब्रा को जैसे अंदर से ही धकेल कर कह रहे हों कि हमें यहां से बाहर निकालो.

मेरे हरेक शॉट पर बुआ की चूचियां उछल उछल कर चुदाई की कहानी कह रही थीं. सेठ जी गुस्से से बोले- अरे पुरानी बोरी में से ही खा लेता, नई बोरी क्यों फाड़ दी?ये सुनकर कल्लू की गांड फट गयी. वहां उसने मुझे नहलाया और फिर बेड की चादर बदल दिया क्योंकि उसपे खून लग गया था।सागर ने मुझे फिर एक पैग पिलाया और मुझे लिटा कर मेरी चूत चाटने लगा।अब दारू की खुमारी और चूत चटाई ने मेरे अंदर फिर से उतेजना भर दी.

20 मिनट बाद मेरा लंड खड़ा हो गया और राखी उसे चूसने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया उसकी टांगों को चौड़ा कर दिया. मामी ने मुझे देखा और हंस कर बोलीं- मामा को तो शक नहीं हुआ न?मैंने न बोल दिया. बार बार उसके हाथ दोनों तरफ से मेरी चूचियों पर आते थे और वो उनको दबाकर चला जाता था.

यूपी का सेक्सी चाहिए

तो मैंने क्या किया?मेरा नाम राज है; मैं 36 साल का हूं और मेरी बीवी माया उम्र 35 साल की है. उस ब्लाउज में ब्रा तो पहनी नहीं जाती थी, इसलिए मैंने जान बूझ कर अपनी काली जालीदार सेक्सी पैंटी कपड़ों के सबसे ऊपर रख दी. तब मैंने उससे कहा- कुछ देर और सह लो, उसके बाद मज़ा आएगा।कुछ देर बाद मैंने धीरे धीरे धक्के लगाकर उसे चोदना शुरू किया।थोड़ी देर बाद उसने अपने दोनों पैरों को मेरी कमर में लपेट दिया और कसकर मुझे अपनी बांहों में भर लिया.

दूसरा गिफ्ट मौका देख कर देने का था और वो एक बहुत ही ज्यादा सुंदर ब्लैक कलर का ब्रा और पैंटी का सैट था, जो उस पर सबसे ज्यादा अच्छा लगता.

अलीमा बलविंदर से बोलने लगी- आह आप कितने अच्छे हैं अंकल … मुझे बहुत अच्छा लग रहा है.

तभी मामी के व्हाट्सएप में एक गुड मॉर्निंग का मैसेज आया, मैंने उसको खोल कर चैक किया, तो उसकी काफी लम्बी चैट मेरे सामने आ गई. रोहन ने भी मुठ मार दी और लंड का सारा पानी अशोक के लंड पर निकाल दिया. हीरोइन वॉलपेपरतो मैंने अपनी बचपन की सहेली शनाया की मदद से दिल्ली विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेज सर्च करना शुरू कर दिया।थोड़ी सी मेहनत के बाद ही हमें कॉलेज मिल गया लेकिन वो हमारे घर से बहुत दूर था और कार से पहुंचने में 2 घंटे का टाइम लगता था। तो मैंने शनाया के साथ ड्राइवर को लिया और कॉलेज देखने चली गई.

वो बोले- मैंने जब से तुम्हें देखा है, मैं तुम्हारा दीवाना हो गया हूँ. फिर मैंने उसके हाथ अपने चूचों पर रखवा दिये और धीरे धीरे वो उनको दबाने लगा. मैंने घुटने पर बैठकर उसे गुलाब दिया और हम एक दूसरे को किस करने लगे। मैं जन्मों जन्मों के प्यासे की तरह उसका रस पीता रहा और वो पिलाती रही।उसके बाद मैंने उसे गोद में उठाकर बेड पर लेटाया और हमने एक दूसरे के कपड़े उतारे। उसके गोल गोल गोरे गोरे मम्मों को पागलों की तरह चूसता रहा.

मैंने मनजीत को दूसरे रूम में आने का इशारा किया और उठ कर दूसरे कमरे में आ गया. कभी गांड मरवाई है?मेरा दिल जोर से धड़कने लगा, मैंने न में सर हिलाया.

ऐसे करते हुए कब मेरा हाथ उसकी लैगी से होता हुआ उसकी चूत पर पहुंच गया पता ही नहीं चला.

अब आप लोग मेरी सहायता कीजिए … मैं क्या करूं, जिससे मेरा बेटा मुझे मिल जाए. मैंने लंड को चूत के खांचे में ऊपर से नीचे तक आठ दस बार रगड़ते हुए घिसा तो उसने अपना निचला होंठ अपने दांतों से काट लिया. मैं अपनी कुंवारी बुर के लिए लंड खोजने लगी थी लेकिन अपने शहर में डर भी लगता था.

हफ्ते में कितनी बार सेक्स करना चाहिए फिर जब बलविंदर का लंड अलीमा के गले से कुछ ज्यादा ही लगने लगा तो उसे भी अहसास होने लगा कि बलविंदर का लंड पूरा टाइट हो गया है. क्या मंजुला मैं समझा नहीं, तुमने वो घर खरीद लिया क्या?” मैं फोन पर बात करते हुए बोलाअरे नहीं सर, मैं अब इस घर की बहू हूं; मैंने भट्टाचार्य जी के बेटे से विवाह कर लिया है.

फिर भी मैंने किस की बौछार जारी रखते हुए उनकी नाभि के अन्दर जीभ को डाल दी और उन्हें किस करने लगा. मैंने पूछा- तुम भी जाओगी मेले में?वो बोली- नहीं, मैं यहीं रुक जाऊंगी. वरना तुम्हारी क्लास लगा देती!बहू बोली- सॉरी डैडी जी, वो एक्सरसाइज कर रही थी इसीलिए ऐसे कपड़े पहनने पड़ते हैं.

मारवाड़ी मां बेटे की सेक्सी वीडियो

अब मुझे समझ आया कि मामी हमेशा चुदासी रहती होंगी … क्योंकि मामा को चुदाई के लिए टाइम ही नहीं है … तो क्यों न मैं ही ट्राई करूं. मैंने आरजू से उसका नंबर ले लिया और उससे कुछ देर बात करके उनसे विदा ले ली. इस पर संजय ने उससे मज़ा लेते हुए कहा- क्यों तेरी होने वाली बीवी खराब है क्या … फ़ोन लगाऊं अभी क्या?उसका दोस्त हंस कर कहने लगा- अरे रहने दे यार … शादी कैंसिल करवाएगा क्या!अब हम दोनों अन्दर आ गए और कुछ देर बैठे.

अब मैंने सागर से बोला- चलो खाना खाया जाए!टेबल पर मैंने खाना लगाया और हम दोनों ने साथ में खाया. और देखो तुम्हारी आवाज़ सुन कर मेरा लन्ड खड़ा हो गया।उस वक़्त सागर नंगा था और अपने हाथों से अपने मोटे लन्ड को, जो सोया था, मसल रहा था.

मैं एक दिन तो बस यूँ ही सब लौंडों को परखती रही कि कोई मिल जाए, जो मेरा काम उठा दे.

फिर उसकी तीन जवान बेटियों को भी चोदा!लेखक की पिछली कहानी:साली की चूत चुदाई का सपना पूरा हुआमैं अपने क्लीनिक में मरीज देख रहा था तभी 35-40 साल की एक सेक्सी महिला ने प्रवेश किया. हिंदी मस्तराम स्टोरी में अब भागीदार अदला बदली हो गये और एक नयी चूत की भी एंट्री हो गयी थी. बुआ ने कुछ नहीं कहा, वो भी जोश में मेरी गर्दन के पीछे हाथ डालकर मुझे किस करने लगीं.

मॉम ने भी मेरे होंठों से अपने होंठ चिपका दिए, तो मैं अपनी मॉम को पागलों की तरह चूमने लगा. फिर अंकल ने अपना मोबाइल निकाल कर मुझे मेरी वीडियो दिखाया, जिसको देखकर मेरे होश उड़ गए. मैंने कहा- कहीं कुछ बवाल हो गया तो?उसने मुझसे कहा कि मैं तुमें स्टोर रूम छुपा दूंगी और रात को तुम्हारे पास आ जाऊंगी.

मेरी बात का मर्म समझ कर उसने अपने सारे कागज़ मुझे दिखा दिये, उसका आधार कार्ड, वोटर आई डी, नौकरी का ज्वाइनिंग लैटर इत्यादि.

भूमिका चावला सेक्सी बीएफ: लेटे लेटे एक बार फिर से उसका लंड खड़ा हो गया और उसने एक बार फिर मेरी चूत चोद डाली. उसके बाद सोनी ने चाची के बूब्स को पकड़ लिया और उसके बूब्स को पीने लगी.

इसलिए अब मैं सीधे हिंदी भाभी सेक्स कहानी पर आता हूं क्योंकि आपका समय भी कीमती है. अब तक वो भी पूरे जोश में आ चुकी थी और मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी. मामी से मैं बोला- हम दोनों प्यासे हैं क्यों न एक दूसरे की प्यास बुझा दें?मनजीत ने मुझे हाथ जोड़ कर गाड़ी चलाने को बोला.

बनारस से ट्रांसफर होकर लखनऊ आया तो जो फ्लैट मैंने किराये पर लिया, उसके सामने वाला फ्लैट चौरसिया जी का था.

मेरे लंड की मुण्डी गप्प से चूत में घुस तो गयी पर लगा कि आगे का रास्ता बहुत तंग है. मैंने उसको दर्द की गोली दी और फिर हम दोनों अपनी अपनी जगह पर जाकर सो गये. शाम को जब मैं उसकी दीदी से मिला, तो उसकी दीदी उससे भी ज्यादा स्मार्ट और हॉट थी.