बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में

छवि स्रोत,साइकिल दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ माधुरी दीक्षित की: बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में, मैंने लंड सहलाते हुए संजू से कहा- तुम लोग चुदाई का मजा लो, मैं यहीं से देख रहा हूँ.

बहन की भोंसड़ी

इसी की आड़ लेकर मैंने अपनी ज़िंदगी में खूब मस्ती की है। जवानी में पहला कदम रखते ही मुझे सेक्स का चस्का लग गया था. राजस्थान मारवाड़ी सेक्सी वीडियो ओपनमेरे सिवा और भी लड़के आते थे पर वो इतने स्मार्ट नहीं थे कि प्रणीता मैडम को पटा सकें.

मैंने उसकी तरफ देखा और अपने मन की बात को आंखों से कहने की कोशिश करने लगा. गुजराती सेक्सी एचडीमैं आपको बता दूँ कि मुझे लिप किस और चुत चाटना बहुत ही ज्यादा पसन्द है और चुत का पानी पीना तो बेहद पसंद है.

क्या मैं ये सब तुम्हारे मम्मी पापा को बताऊं?यह सुन कर तो मैं काफी डर गया और बोला- नहीं नहीं आंटी … ऐसा मत करना.बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में: मैंने लंड की तरफ उसे इशारा किया, तो जैसे वो मेरे इशारे का ही इन्तजार कर रही थी.

वो बेहद तड़फ रही थी … मगर मेरे लगातार उसके दूध चूसने से उसका दर्द मजा भी दे रहा था.दीदी बिस्तर पर पड़ी बिन पानी के मछली की तरह तड़फ रही थी, हाथ पीछे ले जा कर कसमसा रही थी.

बाल रोल करने वाली मशीन - बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में

ऐसा ही मेरे साथ हुआ … मैंने भी ध्यान नहीं दिया कि सामने एक छोटा सा शीशा लगा हुआ है.जेल की डिब्बी से जेल निकाल कर अपने लण्ड पर मला और सुमन की चूत के लबों को फैला कर धीरे धीरे पूरा लण्ड सुमन की चूत में पेल दिया.

उसके जाने के बाद ममता ने चाय बनायी और प्रकाश के लिए मठरी और समोसे बनाए थे, वो एक प्लेट में लगाकर राजन के रूम में गयी. बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में यह अंतर्वासना पर मेरी दूसरी कहानी है, अगर आपने पहली कहानीट्रेन में मिले गाण्डू अंकलनहीं पढ़ी है तो वो जरूर पढ़ें.

लेकिन अब उसकी फैमिली दूसरी सिटी में शिफ्ट हो गई है, इसलिए अब कोई नहीं है.

बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में?

उसने आंखों में काजल लगा रखा था और तस्वीर में पोजीशन ऐसी थी कि मानो वह मुझसे ही नजरें मिला रही हो, बड़ी बड़ी चमकीली आंखें, चमन में अपनी कशिश तरंगित कर रही थीं. फिर मैंने उसकी नाक की नथ को उतार दिया और मैं उसके मुंह में अपनी जीभ डाल कर चूसने लगा. भाभी की चूत चुदाई कहानी के पिछले भागपड़ोसन भाभी ने अपनी बहन की चूत दिलायी-1में मैंने आपको बताया कि कैसे भाभी ने मेरे बच्चे को जन्म दिया और मैंने भाभी की चूची का दूध पीया और भाभी को अपने लंड का माल पिलाया.

माई के जाते ही घर पूरा खाली था, सो मैं माई का साड़ी ब्लाउज पहन कर इतरा रही थी. फिर मैंने उनसे कहा- अब मेरी बारी है तुम सीधी होकर लेट जाओ और अपनी टांगों को फैला लो. करीब पंद्रह मिनट बाद मैं नहाकर बाहर आया और तैयार होकर कमरे से बाहर आ गया.

आज भी मैं अन्तर्वासना की कहानियों का आनंद लेता रहता हूं और कई बार लंड भी हिला लेता हूं. मैंने उसको नोयडा से लिया और गाड़ी को ग्रेटर नॉएडा एक्सप्रेस-वे पर दौड़ा दिया. अपनी योनि के भगनासे पर मेरे लिंग-मुंड की बार-बार रगड़ लगने से वसुंधरा के काम-आनंद में तो सहस्र गुना वृद्धि हो गयी और वसुंधरा का काम-शिखर छूना महज़ वक़्त की बात रह गया था.

तभी प्रियंका ने संजू से पूछा- कैसा लगता है लंड का वीर्य?संजू हंसी और बोली- क्यों आपने अब तक नहीं पिया है क्या?प्रियंका ने ना में सर हिला दिया. जहां पर मैं जॉब कर रहा था, वहां ऑफिस में मिलने का कोई प्रबंध होता हुआ दिखाई नहीं दे रहा था.

लिख कर देखा तो ये जवाब भी गलत निकला और अब एक ही उत्तर बाकी था, जो सही होना चाहिए.

मुझसे चला भी नहीं जा रहा था लेकिन मैंने किसी तरह खुद को संभाला हुआ था.

साथ ही ये भी विचार मन में चल रहे थे कि पता नहीं मैं उसे खुश कर पाऊंगा या नहीं. एक रविवार के दिन मैंने संजू को बोला- चलो आज कोई मूवी देख कर आते हैं. बस कमरे में आकर मैंने लंड निकाला और चाची की चुदाई याद करके मुठ मार कर सो गया.

मेरी वासना की सेक्स कहानी से आपको पता लग रहा होगा कि मेरी चूत में कितनी आग है. उसने आश्चर्य से मेरी तरफ देखा जैसे पूछ रही हो ‘इतनी जल्दी?’मैंने मुस्कुरा के कहा- अब तुम साथ में होगी तो जल्दी ही होगा ना!सिल्क का भी दिल नहीं भरा था तो वो भी लिपट गई और मेरे लण्ड से खेलने लगी. भाभी लंड लेते ही जोर से चीखने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… उई माँ मार दिया … आहहह उईई … फट गई … प्लीज धीरे करो … आह जान!मैं चुत में लंड पेलने के साथ ही उसके होंठों को चूस रहा था.

जैसा कि मैंने पहले भी बताया था कि संजू को मेरे साथ सेक्स करते करते थोड़ा देर से झड़ने की आदत हो चुकी थी.

??मेरी मासूम आवाज पर सब हंस पड़े और परमीत कहने लगी- नहीं जानेमन, वो तो सिर्फ बच्चों का खेल था … जवानी का खेल हो और दर्द ना हो तो मजा ही क्या!उसकी बातों से सभी सहमत और अवगत थे … क्योंकि दीदी तो पुरानी खिलाड़ी थी हीं और परमीत ने कल रात मजा चख लिया था. तो अलका ने बताया कि जब आप मेरा नाड़ा खोल रहे थे, तो वो खुला नहीं था बल्कि टूट गया था और अब उसको एक नयी सलवार की जरूरत है. कमर के नीचे जब निगाह जाती थी, तो उसकी उठी हुई गांड का तो पूछो ही मत.

हील्स पहनने के बाद मेरी गांड उठ कर तोप सी लगने लगी थी और मैं एकदम पोर्नस्टार की तरह लग रही थी. दीदी हंसने लगी और बोली- अब करा दूँगी सैटिंग मेरे राजा … नाराज़ ना हो. मेरी पिछली सेक्स कहानीकॉल ब्वॉय के साथ बितायी पूरी रातमें आपने पढ़ा कि मैंने अपने पति के बाहर जाते ही एक बढ़िया कॉलब्वॉय सुहास के साथ पूरी रात चुदाई की और फिर फ्लाइट लेकर उसके साथ कैलीफोर्निया आ गई मौज मस्ती करने!अब आगे:वहां एयरपोर्ट पर हमें होटल की कार लेने आ गयी थी.

मुझसे ये भी कहते नहीं बना कि मैं अभी कुछ देर में उनसे बात करे लेती हूँ.

राजन असमंजस में था, बोला- सोना है तो अपने रूम में जाओ, मैं कहाँ सोऊंगा. कुछ तो उन्हें मेरे बिगड़ जाने का डर था और उसकी वजह से अपनी इज्जत की चिंता रहती थी और कुछ डर, मेरी खूबसूरती और जमाने में हो रहे अपराधों को लेकर भी था.

बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में भले ही वो रिश्ते में मेरी साली है मगर उसके साथ सेक्स करने के बारे में मैंने कभी भी नहीं सोचा था. मेरी जान निकाल दी तुमने; कितना दर्द दिया तुमने! पर कोई बात नहीं … इस दर्द में भी मज़ा आ रहा था.

बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में विशाल ने दबाव बनाया और उसका लंड मेरी चूत की दीवारों को चीरते हुए अंदर तक चला गया. और इधर मैं और मोनू भी नज़दीक थे, हमने भी अपने अपने लंड उसकी चूत और गांड से निकाले, और मैंने अपना लंड मुस्कान के मुंह में दे दिया और वो उसे एक हाथ में लेकर अपनी जीभ को मेरे लंड के टोपे पर घुमा कर चूसने लगी.

वो बोला- साली तू कौन है, इससे पहले मैंने इतने सेक्सी अंदाज में किसी लड़की की गांड नहीं चोदी है.

गन्ने के खेत की चुदाई

थोड़ी देर वो इधर उधर देखते रहे और मैं खुद को और समेटे झुकी हुई अधलेटी हो गयी. फिर एक दिन उन्होंने मुझे अपना एक अनुभव शेयर किया, जिससे हम दोनों के बीच होने वाली पूरी बातें बदल गईं. मगर जैसे ही हम पीछे मुड़े तो देखा कि अक्षय और सरीना दोनों नंगे हमें देख रहे थे।फिर नीलू उनके पास गयी और सरीना को अक्षय से दूर करके मेरे पास धक्का दे दिया जिससे सरीना नंगी मेरी बांहों में आ गयी और उधर नीलू ने अक्षय के खड़े हो चुके लन्ड को पकड़ कर उसे लिप किस करना शुरू कर दिया.

मैं मुन्ना को दूध पिला कर आई थी, सो मेरी नाइटी एक बटन खुला हुआ था और इसका गला भी बड़ा सा था, जिससे मेरे बड़े बड़े चूचे साफ़ दिख रहे थे. दो दिन बाद संडे आ गया और राहुल से बात हुई तो वो भला ऐसा मौका कहां छोड़ने वाला था. मैं- क्या हुआ? कोई जाग रहा है क्या?‌शबनम- नहीं शादी में सब काफी थक चुके थे, तो सब सो गए हैं.

कुछ देर बाद मेरा भी शरीर ऐंठने लगा, तो वो समझ गयी कि मेरा भी होने वाला है.

उनमें से एक अंकल तो इतने खूबसूरत लग रहे थे कि उन्हें देखकर मैं अपने आपको रोक नहीं पा रहा था. इसके बाद मैं परमीत और मनु वाले कमरे में आ गई, जिधर दीदी भी आ गईं और हम चारों ही अब ग्रुप लेस्बो का खेल खेलने में जुट गए. मैंने रानी का मुंह चूम कर कहा- अच्छा? तूने कैसे अंदाज़ा लगाया?रानी ने मेरी नाक को पकड़ के हिलाया और बोली- बुद्धूराम, तेरी सब कहानियां पढ़ने के बाद पता लग गया न कि या तो तू मेरे लिए पायल लाया होगा या कोई परफ्यूम.

मैं अपने घर के लिए उनकी ऊंची नाक थी, इसलिए मुझे रोकना टोकना अपनी इन्हीं कक्षाओं से ही शुरू हो गया था. मैं अपना लंड उनकी चूत पर रगड़ने लगा, तो भाभी कहने लगीं- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … तू जल्दी से लंड मेरी चुत के अन्दर डाल दे. कुछ देर मेरी पीठ के साथ खेलने के बाद सुहास ने मुझे लेटा दिया और फिर हमारा फोरप्ले शुरू हो गया.

सोचा कि बहाने से जाकर इसके लंड को टच करने के लिए ट्राई कर ही लिया जाये. मैंने उससे पूछा- तन्वी की चुदाई पूरी हो गयी क्या?तो उसने बोला- अभी नहीं, अभी उसका झड़ना बाकी है। उसे डेविड चोद लेगा अब।मैंने कहा- ठीक है.

फिर मैंने वो पर्ची बैग से निकाली और हाथ में पकड़ कर ऑटो के करीब गया। ऑटो वाले से पूछा- यह एड्रेस यहां से कितनी दूर है और कितने पैसे लोगे?उसने पूछा- अकेले हो?मैंने कहा- हाँ!तो वो बोला- दूर है यहाँ से, बुकिंग पे जाएगा ऑटो, 150 रुपये लगेंगे. मैं उन बर्तनों को उठाने लगी … तभी मेरा पल्लू नीचे गिर गया और मेरे बड़े बड़े मम्मों की गोलाईयां उनके सामने आ गईं. मैं मुन्ना को दूध पिला कर आई थी, सो मेरी नाइटी एक बटन खुला हुआ था और इसका गला भी बड़ा सा था, जिससे मेरे बड़े बड़े चूचे साफ़ दिख रहे थे.

अपने दहकते होंठ कविता के होठों पर रखे तो वो चूसने लगी, मैं समझ गया, ये पहले से ही गर्म है.

रवि की शादी हो चुकी है, एक दो साल की बिटिया भी है पर पत्नी रजनी सरकारी टीचर है, अच्छी तनख्वाह मिलती है, नौकरी छोड़ नहीं सकती तो अपने मायके में रहती है और पास के शहर में रोज आती जाती है. इतना कहते कहते मैंने अपनी गाड़ी एक अंडरपास में लगाई, गाड़ी में हैंडब्रेक लगाए और अलका की कमर को दोनों हाथों से पकड़ कर एक ज़ोरदार झटका उसकी चुत के नीचे से लगा दिया, जिससे मेरा करीब तीन चौथाई लंड अलका की चुत में घुस कर फंस गया. संजू की भारी चूचियां उसके भाई के हाथों में नहीं आ रही थीं वो संजू की चूचियों की घुंडियों को घुमाने लगा.

इसका एक कारण ये भी था कि मैं भी अपनी सेक्स लाइफ से उतनी खुश नहीं थी … क्योंकि पति हमेशा बाहर रहते थे … और सेक्स में भी उनका उतना इंट्रेस्ट नहीं था. एक बात चलते चलते जरूर लिखना चाहूँगा कि जब भी आपको चुदाई के लिए रजामंद भाबी मिलें या आंटी मिलें, मेरी दरखास्त है कि उनकी इज्जत करें … और उनकी प्राइवेसी का पूरा ख्याल रखें.

जिसे सुनकर सरीना खुश हो गई और बोली- मैं तैयार हूं!फिर नीलू बोली- मुझे क्या इनाम मिलेगा?तो मैंने कहा- आज इनाम में तुम अपनी गांड में लन्ड लोगी. तो वो बोली- ठीक है, तो तुम्ही उसे हटा दो।चाची मेरी बात समझ गई थी क्योंकि मैंने उन्हें कल ही रात चुदाई करते हुये उनके चूत के ऊपर के बालों के बारे में कहा था. ब्रांच के इतिहास में इतना बड़ा बिजनेस एक पार्टी से कभी नहीं मिला था.

इंग्लिश ओपन व्हिडिओ

दोस्तो, नेहा की चुत इतनी टाइट थी कि मैं अपने आपको रोक ही नहीं पा रहा था.

मैंने कराहते हुए कहा- उई … आह … नहीं लेना मुझे कोई आनन्द वानन्द … छोड़ो मुझे. आशा सामान लेकर नीतू के रूम में जाने लगी, तो मैं पीछे से आशा की मटकती हुई गांड देखने लगा. शाम को होटल वापस आते हुए हमने दारू (रम) की बोतल साथ ले ली क्योंकि ठंड बहुत थी तो रात को उसकी जरूरत पड़नी ही थी.

कविता के चूतड़ उठाकर उनके नीचे तकिया रख दिया जिससे उसकी चूत ऊंची हो गई. उनका चेहरा बता रहा था जैसे वो मन में बोल रही हों कि रॉकी ये क्या कर रहे हो. देसी सैकसकमरे में आते ही उसने दरवाजा बंद कर दिया और मेरे साथ बिस्तर पर आ गई.

मैंने उसकी ब्रा को उसकी चूचियों से आजाद करते हुए बूब्स को नंगे कर दिया. तब मैं हंस कर बोली- क्या हुआ कैसा लग रहा है मुझे पहली बार नंगी देख कर?आदी- पहली बार कहां … काफी बार देख चुका हूं.

मैंने फोन उठाया तो उसने पूछा- क्या आप अजय बात कर रहे हो?मैंने जवाब दिया- हां, मैं अजय बात कर रहा हूं. लेकिन मैं फिर भी नहीं उठी कि कहीं आस पास हुए और मेरे हिलने से वापस आ गए तो क्या होगा. बस… अब तो बढ़ते-बढ़ते वासना की आग धधकने लगी और मैंने धीरे से उसके लौड़े पर दबाव देना शुरू कर दिया.

लेकिन आपको तो मालूम ही है कि जिधर चाह होती है, उधर कोई न कोई राह निकल ही आती है. हुआ ये कि मैं आंटी के मोबाइल को देख रहा था, उसी बीच न जाने किस समय आंटी ने मेरा फोन मेरे पास से ले ले लिया. संजू की गांड और फैल गई और बेतरतीब तरीके से हिल रही थी … जैसे अब पूरी पसर ही जाएगी.

अब आगे:तभी परमीत मुझसे थोड़ा अलग हुई और उसने मुझे पांव की उंगलियों से चूमना और चाटना शुरू कर दिया.

अगले दो पल बाद मैंने आलिया की ब्रा को निकाल दिया और उसके मम्मों को चूमने लगा. अब मैंने सोच लिया था कि अगर आज शाम को कोच नहीं आया और उसकी जगह नवीन काउंटर पर मिला तो उसका काम-तमाम कर देना है.

ममता मुस्कुरा के बोली- अब इसे छिड़काव की नहीं … पूरी धुलाई की जरूरत है. मेरी बीवी संजू ये सुनकर हल्की सी मुस्कुराई, इस बात पर मेरी बांहों में लिपटी मेरी सलहज ने भी कहा- वाह संजना … वाकयी में आपका जिस्म का कोई जोड़ नहीं. आज भी मैं अन्तर्वासना की कहानियों का आनंद लेता रहता हूं और कई बार लंड भी हिला लेता हूं.

प्रीति के शब्द:स्टोर रूम में पहुंच कर हमने भीतर से दरवाजे को बंद कर लिया. मेरी हर इच्छा मेरे कहने से पहले ही पूरी कर दी जाती थी, इसीलिए मेरा स्वभाव भी चंचल हो गया. मैं आलिया के गाल पर किस करके उसके पास बैठ गया, लेकिन जीजा जी कहीं दिख नहीं रहे थे.

बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में और फिर मैंने दूसरा धक्का दिया और अपना पूरा लण्ड उसकी चूत में जड़ तक ठोक दिया. तब वे बहुत ही तड़पने लगी और जोर जोर से आहें भरने लगी- अनिकेत, ज्यादा मत तड़पाओ.

बाबा विश्वकर्मा

घोड़ी बन कर दर्द बहुत होगा यार!तो मैं नीचे लेट गया और मुस्कान मेरे सर की तरफ़ पीठ करके मेरे लंड पर गांड रख कर बैठने लगी. सबसे पहले मैं आप सभी पाठकों को दिल से धन्यवाद कहना चाहूंगा, जिन्होंने मेरी पिछली निम्नलिखित कहानियों को पढ़ कर अपना सुझाव और अपना प्यार मेल के द्वारा मुझ तक पहुँचाया. मैं वैसे ही नग्न बिस्तर पे आंख बंद करके लेटा था, लण्ड मेरा सर उठे खड़ा था.

मेरे सारे सपने वहीं पर चकनाचूर हो गये, मेरी गांड फुक गयी ‘ये तो इसकी चूत के चक्कर में पड़ा हुआ है. पर रवीना ने कहा कि उसे कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि वो भी पिछले छह माह से पीजी में रह रही है, तो देर रात आने जाने में उसे कोई टेंशन नहीं है. सेक्सी फिल्म एचडी कीजैसे ही मेरा लंड का टोपा उसकी चुत में घुसा, वो रोने और कसमसाने लगी.

जैसे मैंने उसको दर्द दिया था, वैसे ही मुझे दर्द देने के लिए वो और ज्यादा उछल कूद मचा रही थी.

मैंने गुस्से में कहा- तू मेरी ब्रा और पैंटी क्यों लेकर गया है? तुम्हें शर्म नहीं आती है क्या? मुझे मेरी ब्रा और पैंटी वापस करके जाना. ऊपर से हम सभी नग्न अवस्था में आ गए थे, बस लेडीज ने ब्रा पहन रखी थी.

उनमें से एक अंकल तो इतने खूबसूरत लग रहे थे कि उन्हें देखकर मैं अपने आपको रोक नहीं पा रहा था. रजाई के अंदर दोनों जिस्मों का तापमान अपने उच्चतम स्तर पर पहुँच गया था और गर्मी सी लग़ रही थी. इतनी उम्र की होने के बाबाजूद आंटी की चूत अभी भी काफी टाइट थी।अब मैं अपनी रफ्तार बढ़ाने लगा था जिसकी वजह से आंटी आआ हहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… हऊऊह जैसी आवाजें निकाल रही थी.

मेरा कसा हुआ सुडौल बदन और लचकती कमर ही तीनों के लंड के लिए फड़फड़ाने हेतु काफी था.

मैंने उसे देखा और थोड़ा कड़क आवाज में कहा- देखो ये मेरी एक फैंटेसी थी जिसे मैंने पूरा किया. ’ की तेज तेज सिसकारियां लेने लगीं और मेरे लंड पर झड़ कर निढाल हो गईं. मैं बार बार उनकी तरफ देखकर मुस्करा रहा था, उन्होंने भी 1-2 बार मेरी तरफ देखकर मुस्कराया.

जानवर वाला सेक्सी जानवर वाला सेक्सीइस दौरान मेरी लगातार नजर स्वीटी आंटी के गोल गोल और रसीले मम्मों पर ही लगी थी. इसलिए मैंने बिना देर किए चुत पर लंड सैट करके धक्का लगा दिया, इससे मेरा आधा लंड अन्दर घुस गया.

पूनम पांडे मॉडल

फिर भैया ने जल्दी से दीदी को सीधा लेटा कर उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया. फिर दीदी ने एक जबरदस्त अंगड़ाई ली और उसके दोनों दूध हवा में लहराने लगे. ‌शबनम ने मेरे चेहरे पर अपनी एक उंगली फिराते हुए कहा- पर किसी को पता चल गया तो?‌मैंने भी उसकी बांह को सहलाते हुए कहा- क्यों तुम किसी को बताने वाली हो क्या?‌शबनम- मेरे चेहरे पर अपनी गरम सांस छोड़ते हुए बोली- ना जी ना … मैं क्यों किसी को बताने जाउंगी … मरना है क्या मुझे.

सामने वाल-क्लॉक में दस … बस बजा ही चाहते थे कि सामने बिस्तर पर कुछ हलचल हुई और वसुंधरा थोड़ा कुनमुनाई. अपने भी सारे कपड़े उतार कर अपना लंड शाईना की चूत में डालने की तैयारी करने लगा. तभी चाचा ने अपनी पैंट निकाल कर लंड को बाहर करके सीधा उनकी चुत पर लगा दिया और धक्के मारने लगे.

उसकी सैलरी भी मुझे ही फाइनल करनी थी, तो मुझे उसके बारे में ज्यादा जानने का मौका मिला. मैंने बिंदास अंशी का हाथ पकड़ कर उठाया और उससे कहा- चल अपन चुदाई का मजा लेते हैं. अब तो भैया अपनी गांड उठा कर दीदी का सर पकड़े हुए थे और पूरा लंड जैसे दीदी के मुँह में घुसा देंगे, ऐसी पोजीशन में आ गए थे.

अविनाश- राज तो हो जाएं शुरू?हम चारों ने ड्रावर से वायग्ररा की गोली लेकर अपने पार्टनर के हाथ खोल दिए और उनके ऊपर चढ़कर ठुकाई शुरू कर दी. हम अपने-अपने बॉयफ्रेंड के साथ खुश थे, पर हम तीनों के संबंधों में छोटा-छोटा फर्क था.

सारे लंडधारी भाइयों और गर्म गर्म चूत वाली भाभियों और लड़कियों आपको मेरा नमस्कार.

दीदी की कामुक आवाजें सुनकर मैंने अपनी धक्के मारने की स्पीड को बढ़ा दिया. इंग्लिश हिंदी सेक्सइस बार मैं मौका चूकना नहीं चाहता था, तो इसलिए मैं जल्दी से आंटी की चुत की ओर बढ़ने लगा. हिंदी पिक्चर सेक्सी मेंअब किसी के इतना पर्सनल बातों को जानने के बाद आपका नज़रिया तो थोड़ा बहुत तो बदल ही जाता है. उसने तो मुझे पूरा ही नंगा कर दिया था … जब कि मैंने उसकी ब्रा और पेंटी नहीं उतारी थी.

मैंने उसकी टी-शर्ट का किनारा पकड़ा, तो उसने बांह उठा दी और खुद ही निकाल दी.

अभय ने सामने से मेरे एक पैर को पकड़ कर थोड़ा सा ऊपर की तरफ उठाकर चौड़ा किया और अपने हाथ से अपना लौड़ा पकड़ कर मेरी चूत में एक हाथ लगाया और अपने लन्ड का सुपारा जैसे ही मेरी चूत में टच कराया तो मैं बिल्कुल उछल सी गई. मेरा काम-आवेग अपने उरूज़ पर था और मेरी क़मर बिजली की रफ़्तार से चल रही थी. कह कर मेरे उसके बीच का जो फासला था वो ख़त्म करके मुझसे सट कर बैठ गई.

मैंने उनको सब्जी कटोरे में डाल के दी और पूछा- आपने रोटी बना ली क्या?उन्होंने मना किया- अभी बनाऊंगा।मैंने उनको बोला- यहीं खा लो, खाना बना हुआ है. वो मुझे ब्रा के ऊपर से अपने दूध चुसाते हुए बोली- आह चूस लो … आज मैं जितना भी चीखूँ … पर तुम मत रुकना … आज मैं पूरी तरह से एक औरत होने का सुख लेना चाहती हूँ. मैं ऐसी दौड़ती हुई धमाकेदार चुदाई पहली बार कर रहा था और अलका भी बहुत कामुक थी.

लैट्रिन करती हुई औरत

फिर हम दोनों एक दूसरे के साथ बातें करने लगे और कुछ समय में हम दोनों की दोस्ती हो गई. मैंने एक हाथ से और उसके बालों को खींच के लण्ड को सेट करके उसकी चूत में उतार दिया. नीचे मेरे हाथों की उंगलियां वसुंधरा की नाभि के नीचे, योनि के आसपास सितार बजाने में व्यस्त थी.

मैं हंस दी- अरे मेरे राजा कल पूरा मजा नहीं ले पाई थी, आदी आ गया था.

मुझसे स्वीटी आंटी के ये मालदार मम्मे और उठी हुई गांड के पहाड़ बर्दाश्त नहीं हो रहे थे.

थोड़ी देर बाद दोनों कमरों के बीच वाला दरवाजा खुला, तो शालू चाय का कप लेकर आयी. साथ ही ये भी विचार मन में चल रहे थे कि पता नहीं मैं उसे खुश कर पाऊंगा या नहीं. पुरानी हिंदी सेक्सी फिल्ममैंने अब अलका को थोड़ा धीरे धक्के लगाने को कहा और साथ ही उसको सहलाना शुरू कर दिया … जिससे कि वो मुझे खूब मज़ा दे सके.

करीब पांच मिनट तक मैं उनके बदन को चूमता रहा और मम्मों को सहलाता रहा. वो चुदास भरे स्वर में अपने मम्मे मसलते हुए बोली- तो देर किस बात की है … मैं तो कब से तुमसे चुदना चाह रही थी … पर तुम ही नहीं समझे. मैंने सोच लिया था कि आज इसे एक बार चुदने देता हूं, फिर तो ये मेरी ही है.

एक दोपहर को चोदने के बाद बाबू मुझे एक जमीन दिखाने ले गए और बोले- जानती हो बेटा, अगर तुम्हारी माई से झगड़ा न हुआ होता, तो यहां अपना आशियाना होता. हमने वादा किया है कि कभी भी किसी को एक दूसरे के बारे में नहीं बताएंगे.

वो हंस कर बोली- अभी मन नहीं भरा क्या?मैंने भी बोल दिया कि जब दो दो माल सामने नंगे हों, तो मन कैसे भरेगा.

जैसे मेरे अंदर परम-रचियता खुद बोल उठा- अपने होश कायम रखते हुए मज़बूती से थाम ले इस क्षण को, लीन हो जा इस पल में … यही है जीवन का वर्तमान एंवम इकलौता जीवंत क्षण. उसके बाद वो मेरे लंड महाराज को अपने मुख में लेकर धीरे धीरे चूसने लगी. उसके इस अंदाज को देख कर कहीं से नहीं लग रहा था कि वो कमसिन चुत वाली है.

फिल्म हीरोइन की सेक्सी वीडियो मैंने एक पल उन मम्मों की खूबसूरती को निहारा और झट से एक दूध को मुँह में रख कर जोर जोर से चूसने लगा. शायद बीस पच्चीस बार तो चरम सीमा के पार पहुँचने का आनन्द उठा चुकी थी.

तब वीडियोगेम देख कर आदी बोला- भैया मैं वीडियोगेम खेल लूं क्या?कुमार- हां हां खेल लो … और ये लो स्नैक्स खाओ. मगर फिर भी मैं जैसे तैसे करके मोटर बोटिंग का लुत्फ उठाने में लगी हुई थी. लंड के सिरे पर एक गोल उभारनुमा सुपारा था, जो मुझे आकर्षित कर रहा था.

गेन यूट्यूब डाउनलोड mp3 song

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। मैं सातवे आसमान में था जैसे।इधर मैं आशना की चूचियों के साथ खेलने में व्यस्त था। उसकी चुचियों को चूसने में अलग ही मज़ा आ रहा था।साथ में उसकी मस्त मोटी गांड पकड़ पकड़ के नीचे से धक्के जोर जोर से मार रहा था. उधर ये सब देख देख कर प्रियंका की चूत से भी पानी टपकने लगा था और वो फिगरिंग कर रही थी. मैं आगे और करने ही वाला था, तभी चाची ने टीवी ऑफ करके सोने की कह दिया.

मैंने पहले गाड़ी साइड में लगाई और डिग्गी में रखे अपने जिम बैग से अपना पजामा निकाल कर उसे पहना दिया. परमीत ने भी डिल्डो का दूसरा सिरा अपनी चूत में सैट किया और मुझे चोदने लगी.

इस बार प्रीति को अपने मोबाइल फोन में एक चुदाई वाली वीडियो चालू कर के दिया जिसमें दो आदमी एक औरत को बुरी तरीके से चोद रहे थे.

वामांगी माने सुहागशैया पर पुरुष की बायीं तरफ़ विराजने वाली, गर्भ धारण करने की इच्छुक पुरुष की अर्धांगिनी. हुआ कुछ इस तरह कि मोना और डोली की चुदाई करते करते मुझे पूरा साल हो चुका था. ”अब कोई ‘वसुंधरा’ नहीं … कोई ‘राजवीर’ भी नहीं, कुछ है तो सिर्फ प्रेम.

कमरे का दरवाजा खुला रहने के वजह से तथा मेरी बाईक बाहर नहीं देखकर सीधे मेरे कमरे में घुस गया था. मैंने कहा- सच बताना तुमको रबड़ी खाने खाने में मजा आया या नहीं?उसने मेरे सीने में मुँह छिपा लिया और धीरे से कह दिया- हां बड़ा टेस्टी लगा. मैंने सीमा को उल्टा किया और सतीश ने सीमा के मुंह में अपना लौड़ा डाल दिया.

सिल्क के मुँह से जोर जोर से ईइ इशशश्श शश … अआआह्ह … ईइशश्श शश … अआआहह … की आवाजें निकलने लगी.

बीएफ सेक्सी इंडियन हिंदी में: मैंने इशारा किया और मेरा इशारा पाकर प्रियंका मेरे मुंह पर चूत रख कर बैठ गयी. डिवोर्स के बाद में बिल्कुल अकेला महसूस करने लगा हूँ क्योंकि जिसे रूटीन में चूत लेने की आदत हो वो कैसा महसूस करेगा ये तो आप समझ सकते हो.

और इधर मेरा दायां हाथ वसुंधरा की नाईटी के अंदर-अंदर से, वसुंधरा की संदली देह पर अपनी उँगलियों से सितार के तार छेड़ने जैसी हरकत करते-करते, धीरे-धीरे वसुंधरा की कमर पर वसुंधरा की पैंटी के इलास्टिक पर इकतारा बजाता हुआ वसुंधरा की पसलियों पर से होता हुआ, वसुंधरा की ब्रा के स्ट्रैप को लांघता हुआ, उसकी बायीं कांख के ठीक नीचे तक पहुँच गया था. चाची के सांवली होने की वजह से चाचा गोरी लड़कियों और औरतों के चक्कर में अक्सर ही घर के बाहर रहते हैं. मैं उससे बात करने का बहाने ढूंढता था, पर वो मुझसे तो क्या, किसी से भी ज़्यादा बात नहीं करती थी.

मेरी पहली कहानी थीकिस्मत से मिली दीदी की चुदाईदोस्तो माफ़ करना, बहुत दिनों के बाद सेक्स कहानी लिख पा रहा हूं.

जेठजी- आज ही बात हुई थी मेरी श्वेता से … और उसने बोला था कि आज वो मुझे सरप्राइज देगी … और पीछे से तुम्हें देखा, तो मुझे लगा कि वो यहां आकर मुझे सरप्राइज देने वाली है. आंटी समझ गईं और बोलीं- हां मैं सब जानती हूं कि तू अपने मन में क्या खिचड़ी पका रहा है. फिर हम सभी गाइड के साथ समुद्र किनारे गए और सभी लोग हम स्कूबा डाइविंग करने के लिए खास कपड़े पहनने जाने के लिए वहां पर बने एक कमरे में आ गए.