रानी चटर्जी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो जीजा साली

तस्वीर का शीर्षक ,

సెక్సి వీడియో పంజాబీ: रानी चटर्जी बीएफ, भाभी रसोई में थीं और मुझे देख कर बोलीं- जरा ऊपर की अलमारी से चीनी का जार उतार दो.

गर्ल्स की सेक्स वीडियो

मेरे हर शॉट में उसकी चूत की फांकें अंदर की तरफ मुड़ जा रही थीं और लण्ड को बाहर की तरफ निकालते हुए चूत का छल्ला बाहर की तरफ आ रहा था. ब्रेस्ट से पानी आना इन हिंदीमैंने शिखा से पूछा- तुम कब उठ गई?शिखा ने मेरी तरफ देखा और कहा- अरे, तुम भी उठ गये.

तो मैंने पूछा- फिर तेरा मन क्यूँ हुआ ये सब करने को?तो वो बोली- मैंने तुम्हें और मॉम को ये सब करते कई बार देखा तो …उसके बाद मैंने उसे पकड़ा. सेकसी विडीयो एचडीरिया की गांड में एक मस्त मीठा मसाला तैयार हो रहा था। रमेश ने उसकी पैंटी निकालकर अपने गले में डाल ली.

मैंने निहारिका से कहा- जानू, मुझे रोज रात को तुम्हारी याद आती है और मुझे मुठ मार कर गुजारा करना पड़ता है.रानी चटर्जी बीएफ: शर्मा सर ने बड़े आराम से मेरा नग्न शरीर को बेड पर लिटाया और तेजी से मेरी जांघों के बीच बैठ गए.

फिर नम्रता खड़ी हुई और उसने अपनी उंगली को मेरे मुँह के अन्दर डाल दिया.उसके बड़े साइज के कठोर स्तन देखकर उसकी कमर में दोनों हाथ डाल कर अपनी तरफ खींचा.

हिंदी सेक्सी वीडियो देहाती - रानी चटर्जी बीएफ

उसकी टाईट पेंटी में क्या खूबसूरत गांड और फूली हुई चूत साफ़ दिख रही थी.मनीषा बेडरूम में छिपी हुई थी, जागृति दरवाजे के पीछे और मैं बाथरूम में छिपा हुआ था.

लगभग दस मिनट चूसने के बाद थॉमस का शरीर अकड़ने लगा और जिसका मुझे इंतज़ार था, वही हुआ. रानी चटर्जी बीएफ मेरे होंठ चूसते हुए, मेरी चूत में उंगली करते हुए उसका दूसरा हाथ मेरे बूब्स को मसल रहा था.

अंकल ने चुपके से मुझे और गोलियां लाकर दीं, जिसे मैं दो दिन छुप छुप कर लेती रही.

रानी चटर्जी बीएफ?

फिर उसकी कान की लौ को अपने होंठों में ले के चूसने लगा, तो वो सी सी करने लगी. तभी रेखा भी धड़ाम से मेरे ऊपर गिर पड़ी और लम्बी लम्बी सांसें लेने लगी. पायल महज 18-19 साल की लड़की थी, पर उसकी वाकपटुता के आगे मैं नतमस्तक था.

मेरी भाभी के साथ सेक्स की कहानी के पहले भागहोली पर देसी भाभी की रंगीन चुदाई-1अब तक आपने पढ़ा था धर्मेन्द्र भैया की पत्नी भावना भाभी ने कल रात मेरे लंड को चूसा था, जिससे मुझे आज भाभी की पूरी चुदाई की सम्भावना दिखने लगी थी. सरोज कभी साड़ी पहनती, कभी सलवार कमीज़, तो कभी स्कर्ट टॉप पहने रहती थी. कुछ देर बाद वह बोल पड़ी- क्या हुआ? अब कुछ नहीं करना है क्या? वहां पर इतने सारे लोगों थे तो मुझे नंगी कर देना चाहते थे.

तो मेरे कूल्हे पर दांत गड़ाते हुए बोले- मतलब तुम मेरा साथ नहीं दोगी. अंकल मेरे नितम्ब मसलने में व्यस्त थे, वो बड़ी बेहरहमी से मेरे नितम्ब मसले जा रहे थे. लेकिन इस नौकरानी के कारण मैं अपने बॉयफ्रेंड से रात में सेक्स नहीं कर सकती थी.

फिर उसने हाथ पीछे ले जाके ब्रा का हुक खोला और उसे भी वैसे ही बेड के नीचे गिरा दिया. हम दोनों को एक दूसरे के उत्तेजक अंगों से खेलते हुए काफी देर हो चुकी थी.

मैंने अपने हाथ से बेडशीट को कसके पकड़ा, तो भैया ने समझ लिया कि मैं रसधार देने के लिए तैयार हूँ.

मैंने कभी चुदाई नहीं की थी मगर इतना तो सब पता ही था मुझे!उसी समय बॉस ने अपनी टांग मेरे टांग से सटा दी, मैं बिल्कुल सन्न् रह गई मगर कुछ नहीं बोली.

चूंकि मेरे साथ दीपिका की यह पहली चुदाई थी तो मैं चाहता था कि वह यादगार चुदाई हो इसलिए मैंने कमरे में आकर एक कामवर्धक गोली खा ली. डॉक्टर जूली बोली- आमिर एक बार मुझे फिर तुम्हारे लंड का मुआयना करने दो ताकि चुदाई की बाद होने वाले फर्क पता चल सके. एक दिन मैंने और मेरे एक दोस्त ने उसके घर पर ब्लू फिल्म चला कर देखी.

दैटस गुड बेटा; एक बात और है कि अब से हमारे बीच कोई सेक्स सम्बन्ध नहीं होगा. मैं भी चूत चाटे जाने से एकदम मस्त हो उठी और मादक सिसकारियां लेने लगी. दोनों कन्धों के बीच … ज़रा नीचे, ब्रा के स्ट्रैप में मेरी उंगलियां उलझ-उलझ जाती थी लेकिन फिर नीचे नितम्बों की ओर गतिमान हो जातीं थी.

काजल बोली- क्या है पैकेट में?तो मेरी वाइफ बोली- खुद ही खोल कर देख लो.

मेरी ये सेक्स कहानी ज्यादा पुरानी नहीं है, इसे बस एक महीना ही हुआ है. अब तक इस सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि नम्रता और मैं, हम दोनों अपने अपने पार्टनर के साथ रात को चुदाई कर चुके थे. मैं भी समझ रहा था कि मौसी क्या चाहती हैं, पर मुझे मौसी की चुत चाटना था इसलिए मैं अपने घुटनों पर बैठ गया.

मैंने बाएं हाथ से वसुन्धरा को अपने साथ सटा लिया और अपने बाएं कंधे पर उसका सर टिका कर पीछे से अपना दायां हाथ उसके सर पर फेरने लगा. मैं झड़ने ही वाला था, मैंने दीपाली से पूछा- कहां निकालूँ?दीपाली बोली- ये मेरा पहला सेक्स है, तू अपना माल मेरी चुत में ही निकाल कर भर दे मेरी चुत को. मैं- किससे … दोस्त से या सेक्स से या मुझसे!मीता- दोस्त से … मुझे उस पर विश्वास नहीं हो रहा है.

हमने टीवी देखते हुए खाना खाया। फिर वो मेरी गोद में आकर बैठ गयी। मुझे किस किया और मेरे सीने में अपना सिर छुपाने लगी। मुझे ऐसे ही गले लगाये हुए वो टीवी देख रही थी।कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- चलो कहीं बाहर घूमने चलते हैं।उसने सिर मेरे सीने में छुपाये वैसे ही पूछा- कहाँ?मैंने कहा- वो बाद में डिसाइड करेंगे.

”मुझे इतनी गंदी बातें सुनने की आदत नहीं थी, पर मन ही मन मुझे अच्छा लग रहा था. फिर तो जैसे मुझे इसकी आदत ही लग लग गई और जब भी मुझे कोई सेक्स कहानी ज्यादा अच्छी लगती, तो उसकी लिंक मैं सुमन और खुशी को भी सेंड कर देती थी.

रानी चटर्जी बीएफ काजल की फिगर में उसके 34डी के तने हुए चूचे, बलखाती 32 की कमर और थिरकती हुई 34 साइज़ की गांड. उसको इतना तो पता चल गया था कि मैं काम की तलाश कर रही हूँ पर उसने कुछ बोला नहीं.

रानी चटर्जी बीएफ उसकी चुत को मैंने दस मिनट तक लगातार चाटा और वो इस बीच एक बार झड़ भी गयी. उसकी लंबाई और चौड़ाई देख कर मेरे मुँह में और चुत में एक साथ पानी आ गया.

फिर खाना खाते वक्त दिखने वाले सेक्सी मम्मों को देख कर मैं गर्म हुए जा रहा था.

सेक्सी फिल्म चाहिए फुल

फिर अचानक एक दिन उसका फोन आया और मैंने उससे कहा- जानू, मैं तुम्ह़ारे बिना रह नहीं सकता. वो बोली- नहीं यार, कभी न कभी तो ये दर्द सहना ही है … तो आज क्यों नहीं … और फिर मैं तुमसे ही ये दर्द लेना चाहती हूँ. मेरा लौड़ा पूरी तरह से शीना की गांड के अन्दर घुस गया था और आगे पीछे हो रहा था.

तो आते हैं दर्द भरी चुदाई की कहानी पर!थोड़ी देर पार्क में बैठने के बाद मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने हाथ के ऊपर रख दिया और उसे धीरे-धीरे रगड़ने लगा. उसके जाने के बाद सर ने कहा- तो कहिये सोनल जी, क्या सोचा है आपने? आपका तबादला आपको अपने घर के बगल वाले स्कूल में चाहिए या फिर इस स्कूल से भी 10 किलोमीटर आगे किसी और स्कूल में चाहिए है?मैंने कहा- सर अगर किसी को पता चल गया तो?वो बोले- उसकी चिंता आप क्यों करती हैं, मैं विश्वास दिलाता हूं कि किसी को हमारे बीच की बात का पता नहीं चलेगा. दैटस गुड बेटा; एक बात और है कि अब से हमारे बीच कोई सेक्स सम्बन्ध नहीं होगा.

सुधा ने झट से लहंगा उठाया और मैं उसकी चूत में लंड पेल कर उसे चोदने लगा.

अब वह मेरे बगल में आकर लेट गई और प्यार से मेरे बालों में उंगलियाँ फिराने लगी. वो भी मेरा इशारा समझ गईं और उठते हुए मेरी तरफ थोड़ा झुक कर बोलीं- बता भी दो और क्या चाहिए. मुझे आज भाभी की चूत को चूसने में मजा आ रहा था और दूसरी तरफ भाभी मेरे लंड को चूस कर मुझे और भी मजा दे रही थी.

उसने मेरी चुदास समझ ली और वो मेरे साथ सेक्स करने के लिए राजी हो गया. मैं हंस कर बोली- क्या मैं पहले सुन्दर नहीं थी?वंश बोला- वो बात नहीं है मम्मी. फिर 6 महीने बाद मुझे वापस अपने घर आना पड़ा और पूनम से फिर कभी मिलना नहीं हुआ.

”मेरी मम्मी शुरू हो गयी। पहले लण्ड को हाथ में पकड़ा, जांघों को चूमा, लौड़े को ऊपर से नीचे तक चाटा और फिर मुंह में ले लिया।मैं अपनी चुचियाँ दबवाते हुए देख रही थी कि मेरी माँ घुटनों पे थी, झुकी हुई लण्ड चूस रही थी।अंशु बोली- कैसे मज़े लेके चूस रही है। मस्त माल है तेरी माँ! चूतड़ देख … चौड़े, चिकने और गांड भी टाइट लग रही है। चूत को भी एकदम चिकनी कर के रखती है. मैंने हाथ से उसके मम्मों को मसलना शुरू कर दिया और उंगली और अंगूठे से उसके निप्पल मसलता जा रहा था.

वीर्य की आखिरी बून्द तक दीपिका ने चुदाई का आंनद लिया और अंत में मैं उसकी चूचियों और पेट के ऊपर पसर गया. फिर मैंने अपना हाथ उसकी कमर से हटाया और उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया. गति कम करने के बाद मैंने अपने एक हाथ को उसकी चूचियों की तरफ बढ़ा दिया.

उसके ज़ोर ज़ोर से धक्का देने से मेरी चूत में दर्द के साथ साथ मज़ा भी आ रहा था … और मेरी ‘आआहह …’ निकलना बंद ही नहीं हो रही थी.

बात आगे बढ़ने से पहले ही मैं बोला- मां पिताजी कहां हैं?वो बोलीं- अभी आ जाएंगे, वो कुछ काम के लिए बाहर गए हैं. जगह बनाकर जैसे ही मैं फ्री हुआ, तुरंत मौसी से लिपट गया और मौसी को किस करने लगा, थोड़ी ही देर बाद मौसी मुझे दूर करते हुए कहने लगीं- इतना टाइम नहीं है, जो करना है जल्दी करो और अपनी जगह पर पहुँचो. भाई ने मम्मी से लड़ाई करके कि कोई कुत्ता बिल्ली ना आए, ऐसा बोल कर सोच समझ कर गेट भी लगवा लिया था.

मैं उसके साथ फिर वह खेल खेलने लगा, जिसमें मैं धीरे-धीरे उसकी चूत की तरफ हाथ लेकर जाता और फिर वापस आ जाता. अगर आप और मुझे तकलीफ़ देना ही चाहते हैं तो मैं उसके लिए भी तैयार हूँ.

उनका मेरे अंगों को छेड़ने से चुत पर से मेरा कंट्रोल छूट रहा था, मुझे तो डर रहा कि कहीं सुसु पैंटी में ही ना निकल जाये. की आवाज निकली लेकिन उसने दांत नहीं भींचे।मैं इस बार फिर रुक गया और उसकी चूची को मुंह में भरने लगा. उसकी चूत में जबरदस्त चिकनाई आ गई थी जिस वजह से मेरा लंड सटासट अन्दर बाहर होकर उसकी बच्चेदानी तक जाकर उसको चुदाई का मजा दे रहा था.

कार्टून की सेक्सी पिक्चर वीडियो में

वो भी मेरे सर पर हाथ रख कर अपनी गर्दन को दूसरी ओर झुकाकर मस्ती में बिना रुकावट के मुझे ऐसा करने दे रही थी.

जैसा कि आप लोगों को पता है कि मैं अपनी मौसी के बेटे सन्नी से अनेकों बार चुदी हूं और अभी तकमौसी के बेटे से चुद रही हूं. तभी बाली रानी ने वाइन का एक सिप लिया और मेरा सर भींच के मेरे मुंह से मुंह लगा दिया. अब उसने मुझे घोड़ी बनाया और मेरी गांड को चाट कर पूरा गीला किया और अपने लंड पर खूब सारा थूक लगा लिया.

वो मेरा सर अपनी चूत पे दबा रही थी और साथ साथ अपनी गांड को भी मेरी जीभ के साथ साथ हिला रही थी, साथ में वो बड़बड़ा रही थी- अर्पित … यू आर सो गुड … मैं मर जाऊंगी … मुझे कुछ हो रहा है. दोस्तो, जैसा अपने पिछले भाग में पढ़ा कि अमीषी की मेरे साथ एक बार चुदाई हो चुकी थी. दीपावली के दूसरे दिन सुबहगुड्डी रानी चिल्लाई- तू हट परे रंडी … मस्त धक्के लग रहे हैं … बाद में पिलाइयो अमृत.

उसने भी मेरी आँखों में आंखे डालते हुए हामी भरी और धीरे से मेरे कान के पास अपना मुंह लेकर धीरे से मेरे कान में कहा- शालू, तुम हो बड़ी चालू!सच कहूँ तो तुम्हें देखते ही तुम मुझे पसंद आई थी, जब तुम्हें पहली बार रोड पर कार में लाल सूट में देखा तो तुम्हें चोदने की इच्छा पैदा हो गई थी. अचानक अंकल जी ने मुझे घास पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आ गये और मेरी आँखों में झाँका तो मैंने आँखें झुका दीं.

मैंने सोचा कि एक बार जीजू और हेतल सो गये तो मैं मानसी के रूम में जाकर ही उसको चोद कर आ जाऊंगा. इस बार उसकी पसीने से भीगी कांख को सूघने के साथ ही मैं अपनी जीभ भी चला रहा था।इसी बीच शुभ्रा अपनी कमर को हिलाने लगी। मैं समझा नहीं, लेकिन मैंने अपने लंड को हल्का सा बाहर निकाला और फिर तेज धक्के के साथ लंड को अन्दर कर दिया। इस बार उसके गले से हम्म. बरसात थम चुकी थी और मौसम शांत हो चुका था, इधर कमरे में जो तूफ़ान आया था वो भी गुजर चुका था और जीवन भर के लिए अपनी सुनहरी, मधुर स्मृतियाँ छोड़ गया था.

जब लड़की लंड की राइडिंग करती है, तो को लंड उसकी चुत के अन्दर तक जाता है, जिसका अहसास का मज़ा ही अलग आता है. मेरे तबादले के बदले में आपको जो पैसा चाहिए होगा वो आपको मिल जायेगा. तो मेरे कूल्हे पर दांत गड़ाते हुए बोले- मतलब तुम मेरा साथ नहीं दोगी.

तीन बजकर पचास मिनट पर मनोज अपने दोस्त के घर क्रिकेट खेलने के लिए चला गया.

चाची ने हंसते हुए कहा- तूने सच में आज तक किसी को नहीं चोदा है?मैंने कहा- आज लंड की ओपनिंग सेरेमनी है संगीता रानी. दिलिया बोली- रात को बहुत मजा आया, हमें एक बार फिर चोदो … तुम्हारा लण्ड भी तैयार है.

अबकी बार मेरी चूत को और भी ज्यादा मजा आ रहा था भैया के लंड से चुदने में. और मैं उसकी चूत के अंदर झड़ गया और अनिता को छोड़ दिया और उसके बगल में लेट गया।कुछ देर तक सुस्ताने के बाद मैंने उसके चूचों को पकड़ा और पूरी ताकत से दांत काट लिया. और उसने अपने पैर मेरी कमर में लपेट दिए साथ ही अपनी भुजाओं में मुझे कस लिया.

उस मस्त कामवाली के इतना करने के बाद मैं उसके साथ चिपक गया और उससे कसकर लिपटकर बिस्तर पर रोल करने लगा. उस मस्त कामवाली के इतना करने के बाद मैं उसके साथ चिपक गया और उससे कसकर लिपटकर बिस्तर पर रोल करने लगा. चूंकि मेरा पति झंडू है, इसलिए मैं भी खुशी के सामने अपनी प्यास और तड़प की बातें रख देती थी … और ये बातें वैभव तक भी पहुंच गई थीं.

रानी चटर्जी बीएफ वो हांफती हुई एक तरफ लेट गई और उसके चूचे उसकी छाती पर ऊपर नीचे हो रहे थे. रिया- मगर गांड में तो आपने खीर भर रखी है डैडी।रमेश- लण्ड अपनी जगह बना लेगा साली रंडी। तू कुतिया बन जा।रिया फिर चौपाया हो गयी और रमेश के सामने अपनी भूरी छेद वाली गाँड परोस दी।रमेश ने उसके भारी भरकम चूतड़ों पर पहले थूका और तीन चार करारे थप्पड़ मारे। रिया थप्पड़ से उठे दर्द से ज्यादा आनंद महसूस कर रही थी। उसने खुद ही अपने चूतड़ पर तमाचे मारे- सटाक … सटाक … और मारो.

इंडियन और सेक्सी वीडियो

मेरे ऐसा करने से वो पागल सी होने लगी और जोर जोर से आवाजें करती हुई कामुक सिसकारियाँ लेने लगी- आह … करो … अब रुके क्यों हो … प्रिंस चोद दो मेरी चूत को … उफ्फ. सारा बोलने लगी- रूई … कपड़ा … फूल!मैं वैसे ही दिलिया के ऊपर नीचे के ओंठ चूसते हुए धक्के मारने लगा. मैं नेहा की सुंदर और पतली कमर में हाथ डालकर खड़ा हो गया और उसके नर्म और गुदाज़ सुंदर होंठों पर किस करने लगा.

कुछ देर किस करने के बाद वो बोली- चलो अन्दर कमरे में पलंग पर चलते हैं. ”उनकी बातें मेरे कानों में गर्म लावा डाल रही थीं, मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि प्रमोशन के लिए नितिन ये भी कर सकता है. हाथ पैर को गोरा कैसे करेंजैसे ही वो अन्दर आई, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसके बिल्कुल पास आकर उससे बोला- आपने तो मुझे कल सोने ही नहीं दिया और मेरे दिलो दिमाग में छा गई हो.

मैं उसकी चूत को चाटने लगा तो वो पागल हो गयी और जोर जोर से सिसकारने लगी- आह्ह … फक मी … आआ … कमॉन डिअर … फक मी हार्ड।उसकी चूत चाटने में बहुत मस्त रस मिल रहा था.

उसके मम्मों के ऊपर बहुत ही छोटे छोटे लगभग न के बराबर गुलाबी निप्पल और उनके चारों ओर गुलाबी रंग का छोटा सा घेरा बना हुआ था. सारा मुझे कराहते देख दिलिया के ऊपर के होंठ को और जोर से चूसने और काटने लगती थी जिससे चूत और जोर से भींचने लगती थी फिर सारा ऊपर का होंठ चूसते हुए उसकी जीभ भी चूसने लगती थी जिससे चूत लण्ड को भींच कर निचोड़ने लगती थी.

मैंने उसके लंड के रस को उगल दिया … क्योंकि उसने एक झटके में अपना लंड मेरे गले में उतार कर अपना लावा निकाल दिया था, जिससे मुझे उबकाई आ गयी थी. हेतल ने मेरे लंड को अपनी चूत से निकाला तो वो सिकुड़ने की राह पर चल पड़ा था. मेरी गांड फट गई यह सोच कर कि कहीं यह घर में किसी को इस बात के बारे में बता न दे कि मैं उसको छेड़ रहा था.

उसके बाद उसने तौलिये को गीला किया और अपनी टांगें फैलाकर चूत अच्छे से साफ की.

फिर अचानक से उसने अपने दोनों पैर कुतिया की कमर पर लगा कर उसकी बुर को चोदना शुरू कर दिया. जाते जाते मीरा ने आज रात अपने घर के छत का दरवाजा खुला रहने का इशारा रितेश को दे दिया. उन्होंने मुझे देखा तो अपने पीछेपीछे आने का इशारा किया लेकिन मैंने इन्कार में सिर हिला दिया.

मौकापरस्ती पर शायरीअंकल मेरे स्तन मसल रहे थे और मुझे किस कर रहे थे, इस वजह से मेरी कामवासना भड़कने लगी थी. अदिति बोली- क्या करते हो?मैं उसकी पैंटी उतारने लगा, तो उसने अपनी टांगें ज़ोर एक दूसरे के साथ भींच लीं.

सेक्सी वीडियो दिखाओ नई

मैंने कहा- ठीक है।अगले दिन मैं ब्लैक पैंट और नेवी ब्लू कलर की शर्ट पहन कर गया. मगर शुरूआत करने से पहले मैं आप सभी पाठकों का शुक्रिया करता हूं कि आप लोगों की ओर से मुझे इतना प्यार मिला है मेरी पिछली एनल सेक्स कहानीबांके जवान दोस्त से पहली बार गांड मराईपर. मैं जो भी कहानी यहाँ पर भेजूँगी अपनी ही जिंदगी की भेजूँगी … हमेशा बिल्कुल सच्ची घटना!आज आपको पहले मैं अपने बारे में बता दूँ, मैं बहुत एक सामान्य परिवार से हूँ.

मौसी के चुचे बड़े थे, जो मेरी मुट्ठी में समा नहीं रहा था, फिर भी जितना ज्यादा हो सकता था. नम्रता- वो तो जब कहोगे, मैं तुम्हें गर्म कर दूंगी, लेकिन मुझे भूख भी लग रही है और आज के दिन के लिये मैंने तुम्हारे लिये स्पेशल चीज भी बनाई है. मेरे मुंह से जोर जोर की कामुक आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … मर गयी … ओह्ह सर … आह्ह … मैं तो गयी.

दो-तीन मिनट में उसने हथियार डाल दिये और मैंने पूरा लौड़ा उसकी गांड में उतार दिया. इसलिए मैं उसके ऊपर झुककर उसके निप्पल को बारी-बारी मुँह में भरकर चूसने लगा. मैं जानता हूं कि तुम किसी ऐसे मर्द के साथ चुदाई में सहज नहीं हो सकती हो जिसको तुम जानती तक नहीं, लेकिन वो मेरे पीछे पड़ा हुआ है.

ऐसा कहना मेरी सभी सीमाओं को लांघना था, लेकिन नम्रता मुझसे दो कदम आगे थी. आप सभी के मेल के इंतजार में- आपका अपना शरद सक्सेना।[emailprotected].

उसने फिर से अपने जिस्म के पूरे दम से मेरी चूत की चुदाई शुरू कर दी और फिर पूरे दस मिनट तक उसने मुझे चोदा। मैं एक बार फिर से झड़ गई इस दौरान।अब पवन का जिस्म अकड़ने लगा और तभी पवन के लंड ने गर्मागर्म मलाई की पिचकारी मेरी चूत में मार दी। पवन ने अपना ढेर सारा गर्म वीर्य मेरी प्यासी चूत में भर दिया।इस चुदाई से मुझे जो सुख मिला वो अवर्णनीय है.

पहली बार की चुदाई के समय तो कुछ समझ में भी नहीं आया था।मैंने उसकी चूत की फांकों को फैलाया. सेक्सी पिक्चर देखने वाली वीडियो मेंअब मैं झटके लगाने के साथ उसके चूचे पूरी बेदर्दी से मसलता जा रहा था. पांच जंगली जानवरों के नाममैं कविता दुबे … मुझे आप सभी के बहुत सारे संदेश आये, धन्यवाद सभी पाठकों को. सोनल जोरों से सिसकार रही थी- आह ओह आह भाई … आह भाई सच में कितना मजा आ रहा है … आह अह.

मैं पोर्न मूवीस देख देख कर ठाक चुकी थी, मुझे असल में एक लंड की जरूरत थी जो आपने पूरी कर दी.

मेरा नम्बर कहां लगेगा?भाभी बोलीं- रात को तुम उन्हें ज्यादा दारू पिला देना और मैं तुम्हें नींद की गोली दूंगी, तो वो तुम उनकी दारू में मिला कर उन्हें पिला देना. अब जब उसका मन होता है, तो मेरे साथ चुदाई कर लेता है और जिस दिन मेरी बहुत इच्छा होती है कि वो मुझे रगड़े, मसले, इतनी ताकत से चोदे कि मेरा रोम रोम मस्त हो जाए, तो उस दिन वो मेरी तरफ देखता भी नहीं है. सिर्फ तीन ही चीजें पहनी थीं उसने जिन पर लिखा था ‘प्रॉपर्टी ऑफ़ विशाल’ उसके हाथ पीछे बंधे हुए थे.

उस दिन मैं उसकी गांड भी मारना चाहता था मगर शिखा इसके लिए तैयार नहीं थी. इसी उत्तेजना का परिणाम था कि वो जल्दी ही खल्लास हो गई और उसका पानी मेरे मुंह में गिरने लगा। वो शायद संकोचवश मेरे मुंह को अपनी चूत से अलग करना चाह रही थी लेकिन वो असफल रही. नम्रता हल्के-हल्के अपने नाखून गड़ाकर मेरे जिस्म के एक-एक हिस्से को चाटते हुए मुझे सुकून दे रही थी.

सेक्सी गाने की चुदाई

माँ मेरी बात सुनते ही घबरा सी गयी और वो अपने पेटीकोट को नीचे करके बोलीं- क्या? तूने सच में मेरी चुत को चाटा था?मैंने कहा- हां माँ … मैंने आपको जगाने की कोशिश भी की थी, मगर आप जागी नहीं, तो मैंने भी पिताजी की तरह आपकी चुत को चाटा और मेरा लंड भी मैंने इसमें डाला था. और प्रियंका के सामने जाकर सीमा ने कहा- अब बोल साली कुतिया क्या कह रही थी?प्रियंका झड़ने के नज़दीक थी तो वो ‘उफ्फ उन्ह्ह आह्ह्ह सी सी …’ के आगे कुछ न बोली. फिर मैंने चाची से पैसे लिए और रिचार्ज करवाने दुकान पर गया। रिचार्ज करवा के मैंने मेरे दोस्त को फोन किया जिससे मैंने वो सैक्स वीडियो क्लिप ली थी। उसने मुझे काफी सारे वेबसाइट के बारे में बताया.

बदले में मुझे भी कुछ मिलना चाहिए कि नहीं?मैं समझ गयी थी कि उसे क्या चाहिए था.

कुछ 10-12 धक्के लगाने के बाद नम्रता नीचे उतरी और झुकते हुए उसने अपनी चूत का मुँह मेरे लंड की ओर कर दिया.

अब तो वैसे भी मैं तुम्हारा राज जानने वाला दोस्त बन गया हूं, सो अगर मुझसे फ्री हो कर बात नहीं करोगी, तो फिर सेक्स कैसे करोगी. कुछ देर बाद अचानक मेरी नजर बॉस पे पड़ी तो वो मेरे सीने को घूरे जा रहे थे. करवा चौथ का व्रत खोलने का समयजी भर के कूल्हे को मसलने के बाद मैंने उसके कूल्हों को फैलाया, तो उसकी काली-भूरी गांड का छेद खुलकर सामने आ गया.

तो उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- धक्का दो. जब लड़की लंड की राइडिंग करती है, तो को लंड उसकी चुत के अन्दर तक जाता है, जिसका अहसास का मज़ा ही अलग आता है. अगर आपको मेरी कहानी पसंद आई हो तो मैं साना भाभी के साथ उसकी गांड की चुदाई भी जल्दी ही लिखूंगा.

भाभी समझ गईं कि मेरा पहली बार है, वो बोलीं- कोई बात नहीं … मैं सब सिखा दूंगी. ये बात मैंने देख ली थी, लेकिन वो दोनों अभी तक इस बात से अनभिज्ञ थे.

उसकी चूत ने अपना रस बहा दिया और ठीक उसी समय मेरे लण्ड ने भी अपने गर्म वीर्य की पिचकारियों से दीपिका की चूत को गहराईयों तक भर दिया.

मैंने कभी चुदाई नहीं की थी मगर इतना तो सब पता ही था मुझे!उसी समय बॉस ने अपनी टांग मेरे टांग से सटा दी, मैं बिल्कुल सन्न् रह गई मगर कुछ नहीं बोली. मैं- चलो अब दर्द से ध्यान हटाओ औऱ मजे में ध्यान लगाओ, फिर तुम्हें दर्द महसूस नहीं होगा. भाभी समझ गईं कि मेरा पहली बार है, वो बोलीं- कोई बात नहीं … मैं सब सिखा दूंगी.

अरे पता नहीं जी कौन सा नशा करता है हम दोनों को एक दूसरे के उत्तेजक अंगों से खेलते हुए काफी देर हो चुकी थी. फिर क्या था, मैंने उसकी फ्रेंची को पकड़ा और नीचे की ओर खींचते हुए घुटनों के नीचे कर दिया.

मेरी बात सुनकर कंचन हंस पड़ी और कहने लगी- मैं तो बच गई और चाची अब आपकी गांड ठुकाई होगी।फिर मैंने मेरा लंड कंचन के मुंह में घुसा के कहा- तेरी भी मुख ठुकाई होगी. अगले दिन उस सैट को मैंने यूज किया, लेकिन शाम होते होते पता नहीं क्यों ब्रा की स्ट्रिप टूट गयी, इससे मुझे बहुत गुस्सा आया. उसके बाद भाभी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैंने कहा- अभी तक आपके जैसी कोई मिली ही नहीं.

हिंदी सेक्सी मारवाड़ी

मौसी भी जैसे इसी बात की इंतजार में थीं और मेरा इशारा पाते ही तुरंत मेरी तरफ मुँह करके मेज़ पर बैठ गईं. कुछ देर तक तो मौसी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और मैं उनके चूचों पर लगा रहा और बारी बारी से दोनों चूचों को और जोर से दबाने और मसलने लगा. चुत के मसल्स किसी इलास्टिक की तरह खुल रहे थे और लंड को अपनी बांहों में कस कर पकड़े हुए थे.

शुभ्रा सिसकारने लगी- और जोर से … और जोर से … करो आह्ह … कर गोलू।मेरा हौसला भी बढ़ता जा रहा था। फिर अचानक मुझे लगा कि मेरा जिस्म अकड़ने लगा और लंड में एक तेज खुजली सी महसूस होने लगी. बिल्कुल क्लीन शेव्ड और फूली हुई थी, अब मैं उसकी यौवन की घाटी में प्रवेश करना चाहता था.

मैं भी समय की नजाकत को समझ रहा था और पैंट में खड़े खड़े मेरे लंड की हालत भी खराब हो रही थी.

उसी समय मेरे दिमाग में ये आईडिया आ गया था कि मुझे भी तो लंड चाहिए है … और उसके पापा को चूत … क्यों न हम दोनों एक दूसरे की कमी पूरी कर दें. यस … मुझे भी अब खुद पर काबू रखना मुश्किल हो रहा है, कितने दिन से तुम्हें चोदने की इच्छा थी … तुम्हारी खूबसूरती के बारे में कंपनी की हर जूनियर की बीवी से सुना था. तो पता नहीं फिर नौकरी मिलती है या नहीं? और घर की हालत भी ठीक नहीं है.

पहले पहल तो नम्रता अपनी चूत को मेरे कूल्हे पर चलाती रही, फिर थाप देने लगी. मुझे बताएं कि आपको मेरी नंगी कहानी कैसी लगी?आपका रमनअगर आप में से कोई महिला या पति मुझसे बात करना चाहता है तो मुझे हैंगआउट पर भी मैसेज भेज सकता है. उन्होंने अपने होंठों को मेरे होंठों से लगा दिया और मेरे लबों को चूसना चालू किया तो मैंने एक बार उनको हटाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं हटे.

आज भी जब मुझे किसी चीज की जरूरत पड़ती है, चाहे वह चुदाई की हो … या चाहे वह पैसों की हो … या फिर चाहे किसी और भी चीज की, तो मेरी यह दो रखैलें हमेशा मुझे मदद करती हैं.

रानी चटर्जी बीएफ: मैं आपसे सिर्फ इतना चाहती हूं कि आप किसी भी तरह मेरा ट्रान्सफर यहां से करवा दीजिये. वो किसी नागिन की तरह बार-बार मेरी चूत के बिल में घुस कर अंदर जाती और सेक्स की चिंगारी जलाकर फिर लौट आती.

अब तुम मेरे जैसे अपने से दस साल बड़े इंसान के साथ तो वो सब करोगी नहीं … तुमको अपनी ही उम्र के साथ वाले के साथ करना है, सो मुझे कुछ बुरा नहीं लगेगा. नम्रता- क्यों नहीं? अपने हुस्न का जलवा बिखेर कर अपने मियां को और तड़पाऊंगी और फिर उसके साथ चुदाई का मजा लूंगी. बात तो उसकी सही थी इतनी छोटी सी बुर में इतना मोटा लंड जाएगा, तो उसने फटना ही था.

इधर वो बात कर रही थी, उधर मैं उसकी चूत चाट-चाट कर उसे और उत्तेजित कर रहा था.

रात की ट्रेन थी, अगले दिन मुझे ज्वाइन करना था तो वहां पहुँच कर हम स्टेशन पर ही वेटिंग रूम में फ्रेश हो कर तैयार हुए और हम ठीक दस बजे ब्रांच जा पहुंचे. एक दो तीन … तीन दो एक … एक एक दो … दो तीन तीन कहता हुआ मैं रिदम से दिलिया को चोदने लगा. जब भी मौका मिलता था, मैं उसकी साड़ी उठा कर उसकी पैन्टी नीचे कर देता था और नीचे बैठ कर कभी चूत चूमता, तो कभी उंगली से चूत के दाने को मसल देता था, तो कभी मेरे लंड से चूत के ऊपर रगड़ता था या तो मेरी जानू की कोरी चूत के अन्दर लंड डाल देता था.