हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो

छवि स्रोत,हिंदी बीपी सेक्सी वीडियो चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

बच्चों के खेलने के गेम: हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो, मैंने पहली बार दो हट्टे कट्टे मसकुलर मर्दों को इस मस्ती से एक दूसरे की गांड मारते मरवाते देखा था.

मराठी मराठी सेक्सी विडिओ

अभिलाषा कहने लगी- मैं आपसे वहां से बात नहीं कर सकती थी इसलिए आपके कमरे में आई हूँ और जूली के बारे में ही बात करने आई हूँ. सेक्सी वीडियो सेक्सी नईमैं 2-3 दिन बाद तुमको बुला लूँगी, मम्मी जी किसी के प्रोग्राम में जाएंगी, तब आ जाना.

काफी लम्बे समय से मेरी पत्नी की तबियत ख़राब चल रही थी, जिस कारण से उसे डॉक्टर ने पूरी तरह बेडरेस्ट के लिए सलाह दी थी. एचडी पॉर्न सेक्सी वीडियोअब थोड़ा कड़वा तेल ले आओ और बाथरूम में चलो।” आखिरकार वह उठता हुआ बोला।अब यह कड़वा तेल पता नहीं क्या करेगा.

दस मिनट बाद उसका पूरा लंड मेरी चूत के अन्दर जा रहा था और मेरा दर्द भी बहुत कम हो गया था.हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो: फिर उसे पता नहीं क्या सूझी, वो बोला- सुधा, तुम अपनी चूत मेरे मुँह पर रख आकर बैठ जाओ, इससे मैं अपनी प्यारी चूत को पास से देख भी सकूँगा और चाट भी सकूँगा.

तो क्यों ना इस संबंध का पूरा फायदा उठाया जाए। संबंधों को सेक्स संबंध तथा यारी को याराना बनाया जाए। ऐसा मौका सबको नहीं मिलता। वैसे तुम्हारा मन एकदम से बदल कैसे गया?श्लोक- क्या बताऊं जीजू, मैं अपने मन को दीदी से हटा नहीं पाया.उसे देखते ही बस मन किया कि अभी इसको गोद में उठा कर इसकी चुदाई कर दूँ, पर जैसे तैसे अपने ऊपर कंट्रोल किया.

सविता भाभी सेक्सी कहानी - हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो

जिससे कि मेरी इच्छा भी पूरी हो जाती है और उनकी भी चुदास मिट जाती है.मैंने अब देर न करते हुए उसकी पेंटी में हाथ डाल लिया और उसकी चूत को सहलाने लगा.

कीकु- क्या भाई, कैसे? अच्छा मज़ाक करते हो?भैया- तू किसी तरह हॉस्टल से निकल, रूम और लड़की का इन्तजाम मैं कर दूँगा. हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो मैंने उसकी बात मानी और उसके मुँह में कपड़ा देकर अपने लंड पर पहले तेल लगाया और कुछ तेल उसकी चूत पर भी लगा दिया.

मैंने मामी जी से कहा आपके नितम्ब बहुत ही बड़े बड़े हैं, तो आप अपने हाथों से उन्हें चौड़ा कीजिए.

हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो?

मैंने उससे पूछा- सुनीता ये तुम्हारा ब्लाउज कैसे फट गया और ये निशान कैसे हैं?तो वो बोली- कुछ नहीं दीदी. 4- मालिक ने बेकरी की टीम को होस्टल की तलाशी लेने भेज दिया। हालांकि किसी तरह मैंने उसे अलमारी और पलंग के नीचे छुपा के नज़र में आने से बचा लिया।5- किसी ने बता दिया था कि जो लड़का लड़की लाया है, उसने पीले रंग की टीशर्ट पहनी थी. उसकी चुत, उसके मोटे मोटे चूतड़, बड़े बड़े मम्मे देखकर मेरा लंड मस्ती करने के लिए सात इंच का आकार ले ही लेता है.

उसके बाद मेरी और उसकी धीरे धीरे फोन पर बातें होने लगीं और हम अब अच्छे दोस्त बन गए थे. रात को मैंने हमारी बिल्डिंग का मेनगेट खोला और फ्रेंड को बताया कि मैं भाभी के पास जा रहा हूँ. रोज रात को सोने से पहले एक दूसरे को फोन पर ही किस करना वगैरह करना चालू हो गया था.

तभी शिवानी बोली- भैया, मम्मी को क्यों मार रहे हो? उन्हें दर्द हो रहा है!सोनू- अरे बहन, प्यार करने का यह एक तरीका होता है, तू बड़ी होगी तो समझ जाएगी!मैंने कहा- शिवानी बेटा, तुम आंखें बंद कर के सो जाओ, भैया को प्यार करने दो मुझे!अब सोनू मेरी गांड पर भी थप्पड़ मार रहा था जिससे मेरा जोश और बढ़ता जा रहा था. मैंने फिर उसको किस करना चालू किया और ऐसे ही थोड़ी देर लंड डाल कर बैठा रहा. उन्हें इस रगड़ में मजा आया तो वो भी अपने हाथ को मेरी गांड पे लाकर गांड दबाते हुए अपनी ओर खींचने लगीं.

पद्मिनी ने खूब अच्छी तरह से अपनी गांड पर अपने बापू का मोटे लंड को महसूस किया. सादा सिम्पल सा सलवार कुर्ता पहन रखा था उसने, सीने पर दुपट्टा डाल रखा था.

एक दिन मेरी शॉप पर कोई नहीं था, मैं किसी कस्टमर का इंतजार कर रहा था, वो नहीं आया, जिस वजह से मैं लेट हो गया.

अब मैं अपने मुँह से उन्हें पेंटी के ऊपर से ही चोद रहा था और वो तड़प रही थीं- हमम्म्म.

उसका स्कर्ट और ऊपर उठता गया… और ऊपर और थोड़ा सा ऊपर… पद्मिनी अपने बापू को खुश करने के लिए स्कर्ट उठाती गयी और बापू ज़ोरों से अपना हाथ अपने लंड पर लुंगी के नीचे मारते गया… जैसे ही पद्मिनी की सफ़ेद पेंटी थोड़ा सा नज़र आयी, बापू ने अपना मुँह जल्दी से उस मुलायम पेंटी पर रख दिया और चाटने लगा. ”यह कहकर मैं आ गया, मैं जानता था कि जल्दी से कुछ नहीं मिलने वाला, बस थोड़ा टाइम और लगेगा. मैंने उसे अपने रूम पर रुकने का ऑफर किया, तो उसने बोला कि तुम्हारे मकान मालिक क्या कहेंगे?मैंने उससे बोला- तुम उसका छोड़ो, वो मेरी परेशानी है.

हम ऐसे ही बातें करने लगे तो मैंने उनसे पूछा कि आपके पति कहां पे है?उन्होंने कहा कि वो उनके दोस्त के शादी में गए है. साड़ी निकालने की वजह से वो बेड से उठ गई थीं, अब वो मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में खड़ी थीं. भाभी की मस्ती बढ़ गई और उन्होंने अपनी टांगें खोल कर अपनी चूत चटाई का सुख लेना आरम्भ कर दिया.

उन्होंने गुस्सा होते हुए कहा कि उनका पीरियड चल रहा है और उन्हें पीरियड में कमर दर्द की समस्या रहती है.

जिप खुलते ही मैंने अपना हाथ अन्दर डाल दिया और उसकी टी-शर्ट को भी ऊपर कर दिया. अब तो पद्मिनी अपनी छोटी साइज की ब्रा में थी और बापू उस ब्रा को, अपने हाथों को पद्मिनी के पीठ पर किए खोलने की चेष्टा कर रहा था. उन्होंने मुझसे पूछा कि कैसी चल रही है तैयारी विहान?मैंने बोला- बस भाभी.

आज तक देखी नहीं, मैं भी तो जरा देख लूँ कि ये ब्लू फिल्म होती कैसी है और सुन बढ़िया वाली ही देना. ट्रेनिंग रायपुर के पास होने के कारण मैं घर में रुका और वो रूम लेकर रहने लगी. फिर हम पलंग को किनारे कर के गद्दों को नीचे बिछा कर 69 पोजीशन में लन्ड और चूत चुसाई करने लगे.

मैंने पम्मी को छेड़ना शुरू किया- दो दिन बाद तो तुमको बिना कपड़ों के देखूँगा, पर अभी मुँह तो मीठा करवा दो.

कुछ किया या नहीं? या भाई की नाक कटाएगा?कीकु हंसते बोला- क्या भाई, पापा ने बाय्स हॉस्टल में डाल दिया, गॅल्स को ताड़ने भी शहर जाना पड़ता है. मुझे देख कर वो कहता था कि तुम्हारे आने से रूम में बहुत गर्मी आ जाती है.

हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो एक बार मैं रेलगाड़ी से अपने पति के पास असम जा रही थी, मेरा रिजर्वेशन राजधानी एक्सप्रेस में लखनऊ से 5. उस वक़्त तक मैंने दिल्ली में किसी लड़की को नहीं पटाया था, जो भी थी सब लखनऊ की थीं.

हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो मैंने कहा- मैं अब तुम्हारा कहना मानती रहूंगी मगर तुम भी मुझे मजबूर ना किया करो. खाला नेअपनी चूत से बाल साफ़ किये हुए थे, चूत थोड़े गुलाबी रंग की थी और गीलेपन की कुछ बूंदे साफ़ दिख रही थी.

उसके बाद हमने फोन नंबर्स एक्सचेंज कर लिए और व्हाट्सएप्प पर बातें करने लगे.

मौसी और भतीजे की चुदाई

मेरी चुत को आज पहली बार सही में कोई लंड मिल रहा था और वो भी बहुत लंबा और मोटा. कहां निकालूँ?”मैं कुछ भी बोलने के मूड में नहीं थी, मैं सिर्फ आंखें बंद कर के आनन्द ले रही थी. उस दिन हम दोनों ने इतना पी ली थी कि मैं अपने घर तक नहीं जा पा रहा था.

मेरा लंड था ही काफ़ी लम्बा और मोटा… और इसीलिए मुझे आज अपने लंड पर काफ़ी गर्व हो रहा था. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:सास विहीन घर की बहू की लघु आत्मकथा-2. दादर उतर कर मैंने टैक्सी ली और उसकी बताई हुई जगह (वडाला) पहुँच गया.

मैं जब बोलती हूँ कि बुआ मैं आपके घर नहीं जाऊँगी, तो वो बोलती हैं कि मैं तेरे घर आती हूँ तो तू मेरे घर क्यों नहीं जाएगी.

मैंने उसकी कमर को पकड़ कर उसकी नाभि में जीभ डाल कर उसे किस करना शुरू किया और अपनी लार से उसके नाभि और पेट को गीला करने लगा. मुझे देख कर उसने एक हल्की-सी स्माइल देकर हैलो कहा और अपनी सीट पर अपनी बेटी को चढ़ा कर खुद भी चढ़ गई. मामी के मुँह से तो बस मादक सिसकारियां निकली जा रही थीं- अह्ह्ह ह्ह्ह्ह.

तभी उन्होंने मेरा सिर सख्ती से पकड़ा और मेरा चेहरे को अपने लंड पर रगड़ने लगे. डिनर के बाद बेडरूम में मैं और पम्मी अकेले थे, जब तक निक्की काम खत्म करके नहीं आई थी. उनकी बातें सुनकर अपनी मम्मी के बारे में जाना तो मुझे बिल्कुल भी नहीं आश्चर्य हुआ.

मैं उनके चूचे को देखकर अपने आपको रोक नहीं पाता था और दूध पीती हुई बच्ची के गाल पर किस करने के बहाने अपने मुँह को उनके चूचे के पास ले जाता था. मैं उनको जाते हुए देखता रहा और जब वो चली गईं, तो हाल में आकर सोफे पे बैठ गया और अभी के हालातों के बारे में सोचने लगा.

बापू ने पद्मिनी के हाथों को अपने खड़े हुए लंड पर रखा और सिसकती आवाज़ में कहा- इसको सहला और सहलाती जा मेरी गुड़िया. रूबी बोली- वाह, बहुत दिन बाद जवान ताज़ा सड़का चखने को मिला!जब यह सब चल रहा था, तब मैंने और कीकु ने अपना लंड आज़ाद कर लिया था. करीब15 मिनट की चुदाई के बाद उन दोनों ने छोड़ा मगर जब छोड़ा तो गीता की चुत से खून बहना शुरू हो गया.

फिर मैंने आंटी के मैक्सी को धीरे धीरे खोला, अब वो केवल ब्रा और पैंटी में थीं.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम माहिर सिंह है, मैं उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर से कुछ दूर एक गांव में रहता हूं। मेरी उम्र 22 साल है, और लम्बाई 5. मैंने उससे पूछा- तुम्हारा झड़ क्यों नहीं रहा, कोई दवाई खायी है क्या?उसने बताया कि नहीं ये उसका रियल स्टैमिना है. वो कुछ नहीं बोली तो मैंने उसे गले से लगाया और धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ घुमाने लगा.

फिर उन्होंने जम्हाई लेना चालू किया तो मैंने उन्हें सुझाव दिया कि आप एक तरफ सो जाइए, मैं इस तरफ सो जाता हूं. उसने कहा- जब मैं यहाँ आया था तो आप एक नाइटी में थीं और उसमें सब आपका सब कुछ दिख रहा था.

इसके बाद मैंने सोनम को कुतिया बनाकर पीछे से अपना लंड चुत में डालकर चोदा. एकदम अंग्रेजों की तरह। यह चीज़ तब ही हो सकती थी जब ताज़ी-ताज़ी जवान हुई लड़की के साथ ही मुखमैथुन होना शुरू हो जाये। अगर इसके बाद भी आरिफ ने उसकी हस्तमैथुन वाली बात पर यकीन कर लिया था तो बंदा चोदू होते हुए भी नादान ही था।मैंने अब तक जितनी भी लड़कियां भोगी थीं, इतनी बड़ी क्लिट्स कभी किसी की नहीं पायीं थीं. काफी देर की मस्ती के बाद हम दोनों अपने अपने कपड़े पहन कर तैयार हो गए.

सेक्सी वीडियो हिंदी चुदाई

ये सब सुन कर मेरी आँखों में भी आंसू आ गए और सोचने लगा कि क्या कोई किसी को इतना प्यार कर सकता है.

थोड़ी देर इसी पोजीशन में रहने के बाद मैंने उन्हें अपनी गोदी में बैठा लिया और अपनी बांहों में जकड़ कर उनकी योनि में जोर से झटके देने लगा. काफी देर तक किस करने के बाद मैंने उससे बोला कि क्या आज मैं तुम्हारे साथ सेक्स कर सकता हूँ?तो उसने थोड़ा टाइम लेकर जबाब दिया कि हां कर सकते हो अगर मुझे कोई प्रॉब्लम हुई तो वहीं पर रोकना पड़ेगा. तभी एकदम से मेरे दिमाग में आया जो मैंने सेक्स कहानी में सुहागरात में चुदाई की कहानी पढ़ी थी, उसी का मजा लेती हूँ.

मेरा मेलजोल भी कई लोगों से हो चुका था और उन सबसे मैं अब पिंकी को अपनी कजिन बताती थी. मैंने उसे बुलाया और पूछा- कैसे खड़े हो?तो वो मेरी टेबल के पास आ गया और उसने अपना नाम बताया. सलमान की सेक्सीना जाने मुझे क्या हुआ कि सर जो कर रहे थे, वो बहुत अजीब लगने लगा था, पर इसमें अलग तरह का मजा आ रहा था.

आधा लंड घुसने के बाद एक जोर के झटके के साथ मैंने पूरा लंड उनकी चुत में उतार दिया. मैंने कहा- क्या बात कर रहे हैं सर आप?वो बोला- जिससे तुमको बदला लेना है, उसी का इंटरव्यू है.

जब वो बाथरूम में चला गया तो मैंने की-होल से देखा कि वो अपने लंड की मालिश करके उसका रस निकालना चाह रहा था. उसने नीचे हाथ लगाया तो देखा हल्का सा ब्लड लगा था, जो उसकी चूत की साइड की स्किन कटने से निकला था. अब मैं उनके बड़े बड़े स्तनों को बारी बारी से अपने मुँह में लेकर चूसने लगा.

मेरा ये प्रस्ताव उन्हें पसंद आया और मैंने उन्हें वो लैपटॉप वैसे ही दे दिया. वह बात बात पर रितु की तारीफ कर रहा था और बोल रहा था कि वह बहुत सुन्दर है. मैंने देखा कि वो एकदम मस्त टाइट लैगीज पहने हुई थीं और कुर्ता डाला हुआ था.

मौका मिलते ही मैंने उसको बोल दिया कि होटल विजय बार बिलकुल पास में है वहां ग्यारह बजे मिलेंगे, दिल खोल के बहुत सी बातें करेंगे.

पता नहीं क्यों मुझे ऐसे लगा कि मैडम जी कुछ ज्यादा ही गौर से पेपर्स देख रही थीं. एक दिन शाम को मैं कुछ सामान लेने पास की दुकान दुकान पर गया, तो मैंने उधर उनको भी देखा.

आजकल लड़कियां ग्रेजुएशन के बाद कोई और प्रोफेशनल कोर्स जरूर करती हैं फिर जॉब और फिर इन सबके बाद शादी. मैंने भी उसके दोनों पैरों को अपने दोनों हाथों से पूरी तरह से जकड़ लिए. एक बात समझ लो दोस्तो… किसी औरत की चूत को चाट लो तो जिंदगी भर वह तुम्हें नहीं छोड़ेगी.

उसके बाद मैंने उसकी दोनों टाँगों को फैलाया और अपना लंड उसकी चुत में पेल दिया. इस वक्त मुस्कान ने लाल रंग का सूट पहन हुआ था और वो भी एकदम कसा हुआ. मैं भी अपने मुँह से निकलते हुए पानी को काबू नहीं कर पाया और उनकी जाँघों को चूमने लगा.

हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो फिर अचानक से उसने मेरे सर को जकड़ लिया और अपना गर्म गर्म पानी मेरे मुँह पे निकाल दिया, जिसको मैं हल्का सा पी भी गया. ऐसे नंगा चला जाएगा क्या?तो पीयूष ने सामने टंगी एक टॉवल को लपेट लिया और जाकर जैसे ही गेट खोला.

मोदी का सेक्सी

की आवाज और हम दोनों की सिसकारने की आवाजों से पूरा कमरा गूँज रहा था. वो मुझे कुछ देर चोदने के बाद अलग हो गया अब उसने मुझे घोड़ी बना कर चोदना शुरू कर दिया. उसने अगले ही पल मम्मों को दबाना शुरू कर दिया और गुलाबी निपल्स को चूसना चालू कर दिया.

मैंने भी अपने हाथ उसकी कमर से नीचे सरकाकर उसके गोल गोल चूतड़ पर फिरा दिए. अपनी मनमानी करने के बाद उसने मेरी चुत में ही लंड का पानी छोड़ दिया और मुझे अपनी पकड़ से आज़ाद कर दिया. सेक्सी वीडियो ओपन प्लीजहम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए कम्बल में अपनी साँसों को लड़ा रहे थे.

तो मैंने पूछा- क्या हुआ?तो उसने बोला- क्या हम लोग किस कर सकते हैं?मैं बिना कुछ बोले ही उसके लिप्स पर अपने लिप्स रख के किस करने लगा.

वो एक हाथ से मेरे एक चूचे को दाब रहा था और दूसरे चूचे को मुँह में भर कर चूसने लगा. वह अच्छा ज़माना था, होटल बुक करने के लिए आजकल की तरह कोई आइडेंटिटी प्रूफ, कोई एड्रेस प्रूफ नहीं देना पड़ता था.

पापा के न रहने का फायदा पापा के दोस्त उठाते थे, साथ में और भी कुछ लोग थे, वे सब मम्मी की मदद करने के बहाने मेरे घर आते-जाते रहे हैं. तुम राज को रोकोगी नहीं क्या?”मंजू- राज, प्लीज़ ऐसा मत करो, मुझे कुछ हो रहा है!मैंने फिर मंजू को बोला- देखो, वो तो रुक ही नहीं रहा है, उसने अब तुम्हारी ब्रा को खोल दिया है, और मैंने खुद ही उसकी ब्रा खोल दी. उसके बाद मैं जैसा सोच रखा था, वैसा ही हुआ उसकी गाड़ी अचानक से बंद हो गयी और उसने अपनी बहन को अकेला ही कॉलेज जाने दिया.

मैंने अंकल से रूम को किराए पर लेने की बात करते हुए उन्हें अपने बारे में बताया.

मैंने महसूस किया कि उसने भी अपनी गांड मेरे लंड पर उठा कर पूरी सैट कर कर दी. इतना बोल कर उसने मेरे लंड की चुम्मी ली, फिर दो तीन मिनट लंड को चूसा फिर उठ कर कपड़े पहनने लगी. मगर पता नहीं जब से उसने तुम्हें देखा है, उसका पूरा ही मन बदल गया है.

मियां खलीफा सेक्सी चुदाई वीडियोऐसे नंगा चला जाएगा क्या?तो पीयूष ने सामने टंगी एक टॉवल को लपेट लिया और जाकर जैसे ही गेट खोला. उसने मुझे शाम को फोन किया, फिर वो ट्यूशन के बहाने मुझसे मिलने आया और हम लोग घाट पर घूमने गए.

गांव की लड़कियां कैसे नहाती है

मैं भाभी के एक निप्पल को मुँह में ले कर चूसने लगा और एक हाथ से उनकी पेंटी को टच किया. पहले हम अपन पसंद और नापसंद के बारे में बात करते थे, फिर हमने एक दूसरे की पर्सनल लाइफ के बारे में जानना शुरू किया. डिनर के बाद बेडरूम में मैं और पम्मी अकेले थे, जब तक निक्की काम खत्म करके नहीं आई थी.

वो नंगी ही किचन में चली गयी और जब वो आयी उन्होंने नाइटी पहनी हुई थी।मम्मी ससुर जी से बोली- आपने मुझे बहुत मजा दिया है. तो मैंने हाँ में सर हिलाया तो उसने बोला कि जो भी हो, अब यहाँ तक पहुँच गए तो आगे भी जाएंगे. मैंने कहा- सारिका बर्थ-डे पार्टी है और यहां कोई नहीं है?सारिका ने कहा- यहां मेरा और कोई दोस्त नहीं है तुम्हारे सिवा.

मैंने कहा- सारिका बर्थ-डे पार्टी है और यहां कोई नहीं है?सारिका ने कहा- यहां मेरा और कोई दोस्त नहीं है तुम्हारे सिवा. फिर मैंने थोड़ी देर और रुक के एक और झटका दिया तो इस बार मेरा 7 इंच लंबा लंड उसकी बुर में पूरा पूरा समा गया. तो एक दिन सिर्फ 4 लोग थे, उस दिन कोई टीचर भी क्लास लेने नहीं आया था तो सब लोग वापस चले गए.

मैं उसके सर की तरफ़ पैर को रख कर लेट गया और मैं उसकी गांड की तरफ़ मुँह घुमा कर सो गया. वो भी साला कहने लगा कि मेरे लिए तो यह लॉटरी है मुझे मौका चूकना नहीं चाहिए।मेरा दोस्त दीपक भी बहुत कमीना था, उसने भी फैज़ाबाद में एक लड़की फंसा ली थी, उससे वो रात रात भर बातें भी करता था, मेरे दोस्त दीपक को पोर्न फिल्मों का भी बहुत शौक था, वह कभी-कभी तो पूरी पूरी रात पोर्न फिल्में ही देखकर बिताता था।फिर एक दिन वह हुआ जिसकी मुझे बहुत दिनों से तलाश थी.

बाद में मैंने खुश होके 1000 रूपए शिल्पा को दिए और कहा- आपके घर आकर रीमा जैसी जन्नत की हूर को चोदने का मजा मिला.

अभी भी उसके लंड में इतना दम था कि 2 मिनट तक वो मुझे बेरहमी से चोदता रहा. सेक्सी वीडियो 16 साल लड़की केकामुकता से भरपूर जवान लड़की की सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करें. साउथ इंडियन एक्स एक्स एक्स सेक्सीउन्होंने अपने लंड के रस को मेरे मुँह में पूरा भर दिया और बोले- मस्त मलाई है. फिर मैं उठ कर गेट बंद करके आया और फिर हम दोनों मेरे रूम में आ गएकमरे में आते ही मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसने मेरा लोअर उतार दिया.

उन्होंने तुरंत फिर से अपने हाथ से मेरा मुँह बंद किया और अपनी अंडरवियर मेरे मुँह में डाल दी.

रात होने लगी तो मैंने सोचा कि आज रात मौसी मुझे अपने पास नहीं लिटायेगी. कुछ दिनों बाद मुझे वो टाइम मिल ही गया, उसने मुझे कॉल किया और बोली- सरताज, एक खुशखबरी है. डिनर के बाद बेडरूम में मैं और पम्मी अकेले थे, जब तक निक्की काम खत्म करके नहीं आई थी.

मैंने फिर से कोमल को अपनी गोद में लिटा लिया और मम्मों को दबाने लगा. अपनी टांग उसने मेरी टांग के ऊपर लपेट ली और उसके नाख़ून मेरी पीठ में चुभने लगे. तू वन्द्या बिल्कुल चिंता मत कर, हम तुझे मौका मिलते ही चोद दिया करेंगे.

चूत लंड की सेक्सी पिक्चर

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था, क्योंकि दोपहर से ही मेरा लौड़ा चूत के लिए तरस रहा था. मैं समझ गया कि अब यह लड़की गर्म हो चुकी है, फिर मैंने आधे उतरे हुए कुर्ते को उसके जिस्म से अलग किया, फिर उसकी ब्रा उतारी. साथ ही कभी कभी सर मेरी स्कर्ट में हाथ डाल कर मेरी मखमली चूत में उंगली भी करके मुझे झड़ने पर मजबूर कर देते थे.

जैसे ही वो आशिना की चूत पर पहुंचा तो झट से पैंटी को खींचकर अलग कर दिया.

जो लोग दिल्ली से हैं, वो सभी जानते हैं कि गुड़गांव से दिल्ली के लिए शाम के वक़्त बहुत भीड़ होती है.

मुझे यूं घूरते देख कर वो बोल पड़ी- इतना घूर कर क्या देख रहे हो? कभी चूत नहीं देखी क्या?मैंने बोला- चूत तो बहुत देखी हैं, मगर सिर्फ पोर्न फिल्मों में ही देखी हैं. जैसे ही रूम में पहुंचे, मैंने दरवाजा किया बन्द किया और मुस्कान को गोद में उठा कर दीवार से लगा दिया. गर्भवती औरत की सेक्सी वीडियोफिर वरुण बोला- मुझे विश्वास था मॉम, कि आप आज रात आओगी मेरे कमरे में!इतना बोलते हुए उसने मुझे अपने कमरे में खींच लिया और मेरे होंठों को अपने होंठों से दबा लिया और पागलों की तरह चूसने लगा।तभी मुझे अहसास हुआ कि उसके हाथ मेरे चूतड़ सहला रहे हैं.

शहर के बाहरी इलाके में एक मैरिज हाल में सब घर वालों के रुकने का था और वहीं शादी के सभी रस्मो रिवाज़ होने थे. माँ बेटा सेक्स की इस कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे बेटी अपनी मां को अपने भाइयों से चुदाने के लिए तैयार कर रही है. मेरे पापा इंग्लैंड में रहते हैं, मेरे घर में मेरी मम्मी हाउसवाइफ है, हम तीन भाई बहन हैं, मुझसे बड़ी बहन का नाम प्रीति है, वह मुझ से 2 साल बड़ी है और मुझसे 3 साल छोटी बहन का नाम अमनदीप कौर है.

वो बड़े प्यार से मेरे लंड को चूस रही थीं और उनकी आँखों में आँसू थे. प्रिया ने कहा कि मैंने सुमन को तुम्हारे बारे में सब बता दिया था और वो किसी ऐसे आदमी की तलाश में थी जो विश्वासपात्र हो.

हम दोनों लोग इतने अच्छे से चुदाई कर रहे थे कि जैसे लग रहा था कि हम दोनों लोग बहुत दिन से एक दूसरे के साथ चुदाई करते रहे हैं.

हरीश कहने लगा- मेरी मां तो बहुत ही घूमती रहती हैं, जब जो मन करता है, वह उस तरीके से रहती हैं. वो मेरे ऊपर निढाल होकर लेट गई और मैं भी उसे अपनी बांहों में भरे हुए लेटा रहा. एकदम सेफ भी रहूंगी और मज़े भी लूँगी और अगर ज़रूरत पड़ी तो शादी के बाद भी इसके मजे लूँगी.

देसी सेक्सी लडकीया मैंने धीरे से अपनी पेंट और अंडरवियर भी उतार दिया और धीरे से दीदी की पेंटी भी निकाल दी. प्रिय अंतर्वासना के पाठको, आपके मेल ही मुझे आगे की कहानी लिखने के लिए प्रेरित करेंगे। मेरी आपबीती पसंद आई? क्या आप मेरी कहानी आगे भी पढ़ना चाहते हैं? तो कृपया मेल करें[emailprotected]पर।कहानी का अगला भाग:याराना-4.

अपनी उंगलियों से उनकी चूत की फांकों को फैला दिया और अपने लंड का सुपारा मैंने चूत के मुहाने पर रख दिया. उसकी अन्दर की गर्मी मेरे ऊपर हावी होने लगी मेरी स्पीड बढ़ती जा रही थी और नीचे से अंजलि पूरा साथ दे रही थी. मेरे मोटे लंड के कारण उन्हें दर्द हो रहा था, उनकी आंखों में आंसू आने लगे थे.

मौसी चुदाई

अबकी बार चूत गीली होने की वजह से और उसके मानसिक रूप से तैयार होने की वजह से मेरी उंगली थोड़ी सी अन्दर चली गयी. अब मैं अपने मुँह से उन्हें पेंटी के ऊपर से ही चोद रहा था और वो तड़प रही थीं- हमम्म्म. चूंकि मैंने कॉन्डम पहना था तो किसी डर के बिना मैंने वीर्य निकाल दिया।सुबह 4:30 बजे के लगभग जब नींद खुली तो हम दोनों ऐसे ही नंगे लेटे थे, मैं फिर से उसके ऊपर चढ़ कर उसके दूध चूस चूस कर जगाया और चूत में उंगली डाल कर उसे उत्तेजित करने लगा, फिर से एक बार हम दोनों ने आधे घंटे भरपूर सेक्स का आनंद लिया.

करीब 15 मिनट मयूरी के चुत की गहराइयों को अपनी जबान से नापने के बाद विक्रम उसकी चुत से अलग हुआ. दीपक बोला कि वो रोज़ अपने लंड पर मेरे नाम की मुठ मारता रहा, जब तक मेरे यहाँ रहा.

इस हादसे से मुस्कान इतना डर गई कि वो डर के मारे मुझसे कसके चिपक गई.

मैं उसको मना कर रही थी कि नहीं मैं ये नहीं करूँगी तो वो बोला कि उसकी गर्लफ्रेंड उसका लंड बड़े मजे से चूसती है, इसमें मजा आता है. वे सीन देख कर बोले- क्या चाचा, हमें बाहर खड़ा करके क्या करने लगे हो. दोस्तो, एक बात में आपको और बता दूँ कि मैं और भाभी एक बार मिले तो थे लेकिन हम सेक्स नहीं कर सके थे.

अब में सिर्फ़ अपने सुपाड़े को ही धीरे-धीरे उनकी गांड में अन्दर बाहर करने लगा था. मयूरी ने पूछा कि फिल्म कैसी थी तो उसने जवाब दिया की अच्छी थी और फिर थोड़ी देर के बाद सब सो गए. फिर मुस्कुराते हुए बोलीं- फ्रिज में ढेर सारे आम रखे है, आपको खाने हो तो आ जाओ.

उधर विकी मेरे निप्पलों को बुरी तरह से मसले जा रहा था और मैं भी उसके लौड़े को जबरदस्त तरीके से खींच रहा थी.

हिंदी बीएफ चोदने वाली वीडियो: वो बस चलने से 2 मिनट पहले ही दौड़ते भागते पहुँची थी, जिस वजह से वो काफ़ी हांफ गयी थी. पर मुझे अपनी गांड में उनके इस हरकत से गुदगुदी बहुत हो रही थी और मैं उछल उछल जा रही थी.

यह सब सोच सोच कर कि उसको चोदने के लिए दुबारा से एक कुँवारी चूत मिल गई. अब इस घर में चुदाई की आंधी आने वाली थी… इस घर के सारे बच्चे आपस में खूब चुदाई करने वाले थे. पिछले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे अहाना ने मुझे मानसिक रूप से तैयार करके अपनी उंगली से मेरी सील तोड़ी.

बाबा ने हवा में हाथ घुमाया और चमत्कारी रूप से उनके हाथ में एक फूल आ गया.

अगर वो घर के माल की तरह उसे इस्तेमाल करेगी तो ठीक और मस्त रहेगी और अगर म्यूनिसिपॅलिटी वाले नल की तरह से उसे यूज किया. कुछ ही देर बाद मुझे भी बहुत मज़ा आने लगा था और मैं भी अपनी गांड साथ में हिलाए जा रही थी. पर अब मेरी बारी थी, मैंने रितु की चूत को कपड़े से साफ़ किया और अपना लंड पेल दिया.