वीडियो में भोजपुरी बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी में सेक्सी वीडियो साड़ी वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

बहुत सारे सेक्सी वीडियो: वीडियो में भोजपुरी बीएफ, फिर थोड़ी देर में उनका बदन अकड़ा और वो झड़ गईं। मैंने भी और 8-10 धक्के लगा कर उनकी चुत की गहराई में माल झाड़ दिया और आवेश में आकर जी भर के भाभी की चूची चूसी।हम दोनों की साँसें फूली हुई थीं, भाभी आँखें बंद किए एक मुस्कान लिए लेटी थीं और मैं उनके वक्ष पर सिर पटक कर हाँफ रहा था।वो मेरे बालों में उंगली फिरा रही थीं। भाभी- आई लव यू सओ मच अक्की.

देहाती नंगा डांस

पर मैंने देखा कि कोई मेरी तरफ आ रहा है।मैं बुदबुदाया- अरे ये तो सविता है. छठी माई के पूजाआज सारी खुजली मिटा दो।मैं और जोर से धक्के देने लगा। उसकी आवाज़ बहुत दूर तक जा रही थी। अंधेरे में ‘फट.

मुझे अच्छे से याद है एक दिन वो मौका आ गया जिस दिन की मैं तलाश किया करता था कि खुद ऐसा मौका मेरे हाथ लगे जो मेरे लिए सेफ हो और इज्जत भी बनी रहे. गोरा होने के उपाय लड़कों के लिएतू अभी तैयार नहीं है, मगर एक ना एक दिन तो चुदाई करनी ही पड़ेगी ना तुझे.

अब चाची जोरों से चिल्ला रही थी- आअहह आहह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… अशोक आययई ह्ह्ह्ह मेरे ग्ग्ग्ग गांड में सूऊ सुर सू सूऊ सुरसुराहट हो रही आह है… रुक मत और ज़ोर से पेल ईई ईई आहह…‘मज़ा आ रहा हैं चाची?’ मैं बोला.वीडियो में भोजपुरी बीएफ: अक्षिमा दिखने में बहुत ही सुन्दर है और मैं तो यहाँ तक कहता हूँ कि उससे ज्यादा सुन्दर मेरी कोई फ्रेंड नहीं है.

इसलिए मैं स्पोर्ट ब्रा पहनती थी। कभी-कभी मेरी मम्मी नहाते वक़्त मुझे बाथरूम बुलाती हैं.लेकिन इस बार उसने हाथ नहीं हटाया। वो धीरे-धीरे मेरे लंड पर अपना हाथ घुमाने लगी।मेरा लंड बहुत देर से तनकर खड़ा था जिसकी वजह से वो बहुत दर्द कर रहा था। फिर वो मेरे लंड को आगे-पीछे करने लगी।दोस्तों ये कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।फिर मैंने कुछ देर के बाद अपना लंड उसके होंठों पर रख दिया.

वेलेंटाइन डे फोटो - वीडियो में भोजपुरी बीएफ

मगर बुर की दोनों फांकें ऐसे चिपकी हुई थीं जैसे इन्हें चाकू से काटकर खोलना पड़ेगा.एक रात राधा चुत सहला रही थी और मैं बाहर खड़ा उसे देख कर मुठ मार रहा था, तभी मेरे पैर पर किसी जानवर ने काटा और मैं जोर से चिल्ला दिया। बस राधा की नज़र सीधे खिड़की पर गई और उसने मुझे देख लिया तो मैं जल्दी से वहां से भाग गया।थोड़ी देर बाद राधा मेरे कमरे में आई और मेरे पास आकर बैठ गई।मैं कुछ कहता, इतने में वो रोने लगी।राजू- अरे आप रो मत.

बिल्कुल संतुष्ट!आज मैंने चार लड़कियों की चूत चाटी थी और पूजा ने मेरा लंड भी चूसा था और साथ ही साथ आठ हजार रूपए भी कमाए थे।अगले दिन जैसा मैंने सोचा था, उन सभी लड़कियों ने आकर मेरा लंड एक-एक करके चूसा और मेरा वीर्य भी पिया. वीडियो में भोजपुरी बीएफ फूफा जी का लंड मेरी चूत के अंदर बाहर हो रहा था और अब तो फूफा जी भी नशे में ही अपनी कमर हिला हिला कर मेरी चूत में अपने लंड पेल रहे थे और उनके दोनों हाथ भी मेरी नंगी पीठ पर चल रहे थे.

शाम को भी नहीं मिलता और कॉलेज भी देरी से आता है।संजय- अरे कुछ खास नहीं, पापा ने काम में उलझा रखा है यार!सुमन- गुड मॉर्निंग फ्रेंड्स.

वीडियो में भोजपुरी बीएफ?

राजे मुझे उठाये उठाये बैडरूम में जा पहुंचा और मुझे बिस्तर पर पटक दिया. मैं तो जब मिलता हूँ, हमेशा उसे लिप लॉक किस करके मिलता हूँ, क्योंकि वो दिखने में तो है ही सुन्दर, दूसरा अपने होंठों पे रेड कलर की लिपस्टिक के साथ कातिलाना मुस्कान रखती है. शायद उसने सोने की तैयारी की थी इसीलिए ब्रा निकालकर सिर्फ टी-शर्ट पहनी हुई थी.

वरना तेरे साथ साथ मुझे भी सुनना पड़ेगा।दोस्तो, आप टेंशन में आ गए ना. मॉंटी- जाओ मैं आपसे बात नहीं करता। मुझे पता था आप मेरा मजाक बनाओगी और एक बात सुनो. फूफा जी का लंड मेरी चूत के अंदर बाहर हो रहा था और अब तो फूफा जी भी नशे में ही अपनी कमर हिला हिला कर मेरी चूत में अपने लंड पेल रहे थे और उनके दोनों हाथ भी मेरी नंगी पीठ पर चल रहे थे.

उस दिन के बाद मैं रोज स्नेहा के घर चोरी छिपे जाता रहा जब तक उसके मम्मी पापा नहीं आ गये. उसके मुख से एक आह निकली- आई ईईई ईईईइ इईई मादरचोद बिल्कुल रांड समझ कर ठोक दिया अपना हथियार माँ मम्म्म मर गई ईईई ईईई… अरे मादरचोद ईईई ईईई मेरी फट जाएगी कुत्ते जरा धीरे नहीं पेल सकता था हरामी ईईई!‘अभी तो शुरुआत है सीमा, अभी तो तेरी बुर में 3 इंच तक ही घुसा है. मेरा तो मन कर रहा था कि इसको अभी पकड़ कर इसके सारे जिस्म को भंभोड़ डालूँ.

अब मैंने भी पेस्ट्री लेकर उनके मम्मों, गांड और चुत पर लगा दी और मजे से चूसने लगा. अब तो आलम यह है कि लड़कियाँ आँखों को देखकर ही अंदाज़ा लगा लेती हैं कि मेरी नज़र कहाँ पर है और तब तक नहीं हटती जब तक लड़की का पूरा फिगर नाप ना लूँ.

अब आपने मेरी माँ से शादी की है तो आप मेरे पापा ही हुए ना? हा हा हा हा.

फिर 3 दिन बाद जब मैं वापिस चंडीगढ़ आ गया, पर मेरे मन में बस शालू के जिस्म का ही ख्याल आ रहा था कि कब मैं शालू के जिस्म को हाथ लगा सकूंगा.

उसमें मैंने बताया था कि कैसे सपना आंटी ने, जब मैं मात्र 18 वर्ष का था तो मुझसे चुदवा कर मुझे चोदने में ट्रेंड किया था. उसके पैर काँपने लगे। वो दो कदम भी नहीं चल पाई और वापस बेड पे बैठ गई, उसको बहुत दर्द हुआ- ओह मामू ये क्या हो गया. इस बार दोनों लड़कों ने बड़ी ही निर्दयता से अपने लंडों को दो अलग-अलग दिशाओं में चलाते हुए नर्म-गुलाबी गांड का भुरकस बना दिया.

चली जाओ।उन दोनों ने जाते वक़्त दरवाजा हल्का सा खींचा और चली गई, मुझे कुछ अटपटा सा लगा, पर मैं फिर से मूवी देखने लगा।कुछ समय बाद अंकिता आई और उसने धीरे से दरवाजा लॉक कर दिया और आ के मेरे ऊपर लेट गई।मैं एकदम से डर गया कि आख़िर कौन है जो मुझसे लिपट रहा है।मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो अंकिता थी।मैंने कहा- अरे अंकिता. लगभग 1 मिनट के बाद अंदर से सर की बीवी आई और मुझसे बोली- आज तुम थोड़ा जल्दी आ गए?और मुझे रूम की चाबी दे दी. फिर मैंने जल्दी से उसकी सलवार उतार कर कच्छा निकाल दिया और उसे नीचे से नंगी कर दिया और मैंने अपनी दो ऊँगलियों की सहायता से उसकी पेशाब करने वाली छेद को थोड़ा फैला कर अपनी जीभ को उसमें तेज़ी से नचाने लगा.

अंडरगार्मेंट्स उसको चुभते थे मगर पीरियड्स के चलते उसने सिर्फ़ पेंटी पहनी हुई थी.

थोड़ी देर में ही दरवाजे की बेल बजी और मैं भाग कर गया, दरवाजा खोला तो ऋतु अपनी सहेली पूजा के साथ खड़ी थी. मेरे मुख में उसका चूचुक जाते ही उसके मुख से पहली सिसकारी निकली- आह प्रतीक प्लीज!और हम दोनों बेड पर गिर गए. सब मज़े से बियर गटक रहे थे।संजय ने अजय को इशारा किया कि वो प्लान को शुरू करे।अजय- अरे यार सब ऐसे चुप क्यों हो.

यकीन ना आए तो खुद देख लो।इतना कहकर काका ने मोना का हाथ पकड़ा और अपने लंड पे रख दिया।जैसे ही मोना ने लंड को महसूस किया, उसकी आँखें फटी की फटी रह गई। क्योंकि धोती के अन्दर जो चीज थी वो काफ़ी भारी भरकम थी।मोना- काका ये क्या है. वो क्या है और मुझसे क्या नहीं होगा?टीना- हमारी पार्टी में बियर पीना, डांस करना, चुदाई करना ये सब होता है. मानसी अब मेरे से मिलने को बहुत बेचैन हो गई और बोली- तो कहीं और मिल लेंगे पर तू मेरे से मिलने आ पहले, किसी पार्क में मिल लेंगे या कहीं मॉल में.

15 मिनट तक उसकी चूची चूसने के बाद मैं उसके पूरे शरीर पर किस करने लगा… लिप्स पर, गाल पर और गर्दन पर… उसके निप्पल भी चूस रहा था.

डॉक्टर बोली- मेरी तो पिछले तीन साल की कसर निकल गई और मैं अब तुमसे एक महीना नहीं चुदुंगी. रहे होओ?मैंने टाँगे चाटते हुए उसका पैर उठाकर अपने चेहरे के सामने किया और उसकी पैर की छोटी-छोटी उँगलियों को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा.

वीडियो में भोजपुरी बीएफ वो अपनी भैंसों को निकाल कर जोहड़(तालाब) के बाहर आ गया, चप्पलें पहनीं और हाथ में डंडा लेकर भैंसों को हाँकते हुए मुझसे बोला- चल घर… अब यहीं बैठा रहेगा?मैं उदास सा चेहरा लेकर उसके पीछे-पीछे चल दिया. गुलशन जी ऊपर से नीचे अनिता को निहार रहे थे, वो किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी.

वीडियो में भोजपुरी बीएफ सुमन- माँ एक बात है जो अक्सर मेरे दिमाग़ में आती है, कई बार मैंने सोचा आपको पूछूँ… फिर भूल जाती हूँ. हरामजादी एक नंबर की चुगलखोर है।संजय- अबे सालों घर का इंतजाम हो गया है.

संजय का लंड उसके हाथ में आ गया, जोकि लोहे जैसा सख़्त और गर्म था। लंड का स्पर्श पाते ही वो घबरा गई और जल्दी से उठ गई।संजय को कुछ करने का मौका भी नहीं मिला.

सेक्सी गुजराती बीपी पिक्चर

पर उसके निप्पल्स इतने बड़े थे कि मेरे हाथ खुद बा खुद उनके ऊपर जा टिके और मैंने उन्हें मसल दिया. पर मामा जी मानने वाले कहाँ थे, मामा जी बोले- आज मैं अपनी भानजी की चूत की चुदाई किचन में ही करूँगा. मैं भी अब अपना हाथ जो‌ ‌उसके नन्हे उरोजों को मसक‌ रहा था, उसे पिंकी के मखमली पेट पर से सहलाते हुए उसकी जाँघों के जोड़ पर पहुंचा दिया, लेकि‍न मेरा हाथ उसकी योनि को छुये उससे पहले ही पिंकी ने जाँघों को भींच कर अपनी योनि को छुपा लिया।उसने दोनों जाँघों को अंग्रेजी के अक्षर ‘X’ की तरह जोरो से जांघें भींच लिया था जिनको आसानी से खोलना मुश्किल था इसलिये मैं उसकी जाँघों के ऊपर ही धीरे धीरे सहलाने लगा.

मस्ताना खड़ा था, उसको दोनों हाथों से सहलाते हुए बोली- आज तो इसका पूरा जूस पी जाऊंगी. उधर स्नेहा की बेचैनी बढ़ती जा रही थी और अब अपना निचला होंठ दांतों से दबाये मिसमिसाते हुए नीचे ऊपर खिसकने लगी और खुद चूत को उठा उठा के लंड से लड़ाने लगी और फिर उसे न जाने क्या सूझा कि उसने मेरा लंड अपने हाथ से कसके पकड़ लिया और सुपारा चूत के छेद पर दबाने लगी. साला हम उसको होटल भी नहीं ले जा सकते। मेरे पापा पुलिस में हैं साला उनको इस बारे में कोई भी खबर दे सकता है।विक्की- तेरे पापा खुद भी तो ऐसे ही हैं.

उसने बताया- पता नहीं मुझे क्या हो गया है, मेरी येचुदाई की प्यास बुझती ही नहींहै.

उसने स्पीड से मुख चोदन शुरू किया और अगले ही पल उसके लंड का सारा रस फ्लॉरा के हलक में उतर गया।फ्लॉरा- आह. प्रिया, उस रात महक के घर ही रुक गई।सो ऐसा था हमारे प्यार का पहला पड़ाव, अधूरा रहा, पर यादगार रहा। आपको कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मेल से आपके सुझाव भेजें।[emailprotected]. मैं माँ से बोला- माँ इतनी गुस्से में क्यों हो?माँ- गुस्सा नहीं करूं तुम पे… तुमने कोई ऐसी हरकत नहीं की है पाप किया है पाप!मैं भी एकदम से बोल दिया- माँ, अगर ये पाप है तो जो https://www.

मेरे मेसेज करने के बाद लगभग 20 मिनट तक न उसका कोई मेसेज आया और न ही वो आई. तभी पीटर ने मेरे पीठ से अपना पैर हटाया, लपक कर मेरे सिर के बाल पकड़े और उन्हें अपनी तरफ तेज झटका दिया. इधर रोहित मेरी ऊपर आकर मेरी चूत में जोर से धक्के देने लगा, मैं हल्के दर्द से ‘मेरी आआईईई माँ आआह ह्ह बचा लो आआहह् आराम से अह्ह्ह्ह्ह’ कर रही थी मगर वो लगातार मेरी चूत में धक्के देता रहा.

लंड की खाज मिटाने के लिए किसी पुरानी लौंडिया को तू ही बुला सकता है।वीरू- हाँ यार संजय, किसी को जाने दे. हम दोनों चुदाई की चरम सीमा पर पहुंच चुके थे, उस समय का आनन्द बढ़ता ही जा रहा था.

फिर हम दोनों ने साथ में शावर लिया और एक दूसरे को अच्छी तरह साफ़ किया और कपड़े पहन लिए और मैंने घड़ी में देखा तो करीब 4 बज रहे थे. मैं तो बस तड़फ़ गई थी… ऐसा मोटा लंड देख कर…‘मुझे पता है… मैंने जान बूझ ऐसा किया था. फिर ऊपर हाथ ले जाकर उसके दोनों मम्मे पकड़ लिए और चूत का दाना, वो छोटा सा भागंकुर अपनी जीभ से टटोलने लगा और इसे अपनी मुंह में लेकर चूसा और चूत की गहराई में जीभ घुसा कर प्यार से, बहुत ही निष्ठा पूर्वक उसकी शर्बती चूत चाटने लगा.

क्या बातें हो रही हैं सब मिलकर मेरी कोई बुराई तो नहीं कर रहे ना!वीरू- अरे, तुम्हारे अन्दर बुराई वाली बात ही कहाँ है, जो करेंगे.

मैं भी उनकी नर्म गांड का अहसास पाकर मस्त हो उठा और उनकी गांड को सूँघने लगा. वो उन्होंने नोटिस कर लिया।मैं- आंटी आपके हाथ की चाय तो बहुत टेस्टी है।आंटी- थैंक्यू. गोरी, चिकनी जांघें, कोई मोटी, कोई पतली, गोरी, चिकनी बाहें, कोई गदराई, कोई सूखी सूखी.

लगभग दस-ग्यारह बजे की बात है कि सुकांत दो लोगों को लेकर कमरे में आया, वे उसके गेस्ट थे। उन्होंने बताया कि वे लड़की की शादी के लिए लड़का देखने आए हैं. एंड्रयू का भाले की तरह तना हुआ लंड जड़ तक मेरी बीवी की गांड में घुस गया और वो अपने दोनों हाथ अपने पीछे एंड्रयू के कन्धों पर टिकाए आगे-पीछे होने लगी.

हर तरफ चुदाई का आलम था… तीनों जोड़े सिसकारियाँ निकालते हुए शानदारग्रुप सेक्स का मजाले रहे थे. बाकी सब चूतियापने की बातें कर रहे हो। अब तुमको स्कीम बताने का टाइम आ गया।अजय- जल्दी बता यार. तभी मुरुगन ने अपने कपड़े उतार दिए और जैसे ही उन्होंने अपना कच्छा खोल कर अपना लंड निकाला मेरी गांड फट गई.

एक्सएनजीएक

मैं रुचिका की दोनों चूचियों को बारी बारी सहला सहला कर चूस रहा था, रुचिका भी भरपूर मज़ा ले रही थी.

इस बार चुदाई इतनी तेज थी कि मैं दो बार झड़ चुकी थी तब मुरुगन का लंड फटने को हुआ. मैं उसके जीभ को छोड़ कर होंठों को चूमते हुये उसके निचले भाग की तरफ़ बढ़ने लगा. मेरा मन तो कर रहा था कि इसके होंठों को खा जाऊं।मैं अंकिता को किस करते हुए.

आप मेरी पहली कहानीपड़ोसन आंटी की चुत चुदाई करके चोदना सीखापढ़ चुके हो. जो भी बात है खुल कर बताओ, चाहे कैसी भी बात हो?सुधीर- अब क्या बताऊं उसने तो सारे ही काम ग़लत किए हैं. छूत कैसी होती है दिखाओउसकी आँखें हिरणी जैसी चंचल हैं… और सधी हुई लेकिन साथ ही मदमस्त चाल जैसे माधुरी दीक्षित ‘हम आपके हैं कौन’ में चलती है.

हम दोनों एकदम अचंभित हो कर कुछ देर वहीं पर खड़े रहे, फिर हमने अपने कपड़े पहन लिए. और थोड़ी देर बाद जमीला- आहहहहह…उम्म्म…साले अब फाड़ ना जोर जोर से अब कहाँ गया तेरा जोश ह्म्म्म…ओहहहहह…अब चोद फाड़ साली को बहूत आग लगी है साली फुद्दी में.

मोना- ओह सॉरी सॉरी अच्छा तुमने इन्हें कभी ऐसे नहीं दबाया क्या?नीतू- नहीं दीदी, मैं इनको क्यों दबाऊंगी?मोना- अरे नहाती है. अब सभी लेडीज़ सिर्फ ब्रा और पैंटी में आ चुकी थीं, क्या मस्त नज़ारा था, हम भी सभी मर्दों के जिस्म पर सिर्फ बनियान और अंडरवियर थे. मैंने सीमा की ओर ध्यान दिया, उसकी चूची उठी हुई थी, पीछे से चूतड़ भी निकले थे.

अपने पति पे कुछ तो रहम करो।मोना- ऐसे तुम समझने वाले भी नहीं थे। एक तो मैं बीमार हूँ और तुम उल्टा बोलोगे तो गुस्सा तो आएगा ही ना. मैं उसके बदन की गर्मी में मदहोश होने लगा… मेरी आंखें बंद हो गईं… वो धीरे-धीरे अपने लंड को मेरी नाभि पर रगड़ने लगा. उसका पानी में पी गई और दूसरे का पानी भाई के मुँह में ही निकल गया।उसके बाद मैंने दोनों को नीचे बुलाया और दोनों अपने कपड़े पहन कर चले गए।अब हम दोनों भाई-बहन या यूं कहिए कि बहन-बहन बहुत खुश हैं। वो लौंडे अब लगभग डेली आते हैं.

बहुत बढ़िया दुकान है। उसमें एसी भी लगा है और हाँ पता है चाय कितनी महंगी है.

उन्होंने अपनी शर्ट निकालकर एक तरफ रखी हुई थी और दोनों ने ही नीचे लोअर पहनी हुई थी. मगर अब मेरे में थोड़ी भी ताकत नहीं थी कि मैं उसे साफ़ करती।एक दूसरे की बाहों में हम कब सोये, ये हमें मालूम ही नहीं पड़ा.

ऋतु एकदम से चीख पड़ी- माआअर डाआअला… आआअ… आआआ आआअह… चोदो… मममुझे… डाडाआआलो… हाँ हाँ… हाँ… हाआआअ!आज वो कुछ ज्यादा ही उत्तेजित थी. पूजा अपनी मोटी गांड मटकाती हुई नंगी मेरे सामने आकर बैठ गई और मेरी आँखों में देखते हुए मेरे लंड को पकड़कर अपने मुंह में लेकर आइस क्रीम की तरह चूसने लगी. अब कोमल ने रेजर लिया और एक हाथ से योगिराज को पकड़ा और उसको हिलाते हुए और दायें बायें करके मेरी झांट साफ़ कर दी, मेरी टांग चौड़ी करवा के मेरी पूरी झांट यहाँ तक कि गान्ड के बाल भी साफ कर दिए।उसके बाद आफ्टर शेव लोशन लगाया तो मेरे तो करंट सा लग गया हल्की जलन तो होती ही है.

लड़की हल्का सा जागी और ‘ऊं… हटो’ बोली मगर उसने अपनी आँखें नहीं खोली. हम कोई कामवाली रख लेते हैं, इससे तुम्हें भी थोड़ा आराम मिल जाएगा और रात को तुम अकेली होती हो तो मुझे तुम्हारे लिए बहुत टेंशन होती है। वो साथ होगी तो ठीक रहेगा।मोना- अच्छा आइडिया है. जलपान के बाद स्नेहा मुझे अपने रूम में ले गई, उसका रूम तीसरी मंजिल पर था.

वीडियो में भोजपुरी बीएफ मॉंटी ने दस मिनट अपने लंड को अच्छे से चूत पर रगड़ा तब कहीं वो चरम पर पहुँचा और सुमन भी उसके साथ ही चरम पर पहुँच गई. पैंतीस-चालीस मिनट के इस घमासान संसर्ग में हम दोनों पसीने से भीग गए थे और हमारी सांसें फूल गई थी इसलिए अगले दस मिनट तक हम उसी तरह एक दूसरे से चिपक कर लेटे रहे.

મસાજ સેક્સ

मैंने कहा- लेकिन…उन्होंने कहा- लगता है कि तुम्हें एकहॉट सी गर्लफ्रेंडबनानी पड़ेगी. अरमान थोड़ा आगे को हुआ और उसने नेहा को पहले जैसी पोजिशन में किया तो नेहा ने अब अरमान का केक लगा लंड अपने मुंह में ले लिया. उन्होंने दोबारा मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसा, फिर मैं उनकी चूत पर आया, पहले तो मैंने उसमें थूक भरा, फिर अपना लंड लेकिन लंड भरने में मुझे दिक्कत हुई.

पढ़ाई के बाद मुझे शहर में ही नौकरी मिल गई और मैंने कॉल सेण्टर ज्वाइन कर लिया था. मैंने उसे चाटकर साफ कर दिया।फिर मैं उसके पैरों के बीच में बैठ गया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। उसने मेरे लंड को पकड़ा और मुझे कुछ देर रोक दिया। मैंने कुछ देर के बाद लंड को चूत के मुँह पर सैट किया और एक झटका मारा लेकिन लंड ऊपर की तरफ़ फिसल गया. सूट की बाजूमैंने उनके पैर पकड़ लिए और गिड़गिड़ाने लगा- प्लीज चाची, प्लीज! गलती से बाहर निकाल दी! इतनी छोटी गलती की इतनी बड़ी सजा मत दो.

फिर मैंने पूछा- माँ सीमा नजर नहीं आ रही है?माँ गुस्से से बोली- क्यों सीमा फिर चाहिए, पाप करते समय शर्म नहीं आती है… तुम्हारे चाचा आये थे वो उसे शहर ले गए.

मोना- अच्छा नाम क्या है इसका?मीना- इसका नाम नीतू है और नीतू आज से तुझे यहीं रहना है. मैंने पास में ही होटल देखा और कमरा ले लिया। इस दरमियान हमारे बीच ज्यादा बात नहीं हुई। मैंने खाना आर्डर किया और तब तक हम दोनों फ्रेश हो गए.

शुरू-शुरू में मुझे शहर के लोगों के साथ हिलने-मिलने में काफी दिक्कत हुई लेकिन मेरी रूममेट ने मुझे सब सिखला दिया. साथ में अब कस के मेरे हाथ उसके सीने को दबा रहे थे तो एक हाथ अब कस के उसके निप्पल को मसक रहा था जिससे उसके सीने पर मेरी उंगलियों के लाल निशान बनते जा रहे थे। पिंकी का रंग इतना गोरा था कि अगर उसे जोर से कोई छू भी ले तो निशान बन जाये… फिर मैं तो उसके सीने को जोर से रगड़ रहा था. तभी राजे ने हुम्म्म हुम्म्म हुम्म्म करके पूरी ताक़त से अंधाधुंध धक्के टिकाये.

जैसे किसी ने उसको अधूरा चोद दिया हो।अजय- साली को देख कर साफ पता लगता है कि बंदी खेली खाई है.

उसने मेरी टाँगें चौड़ी कीं, एक तकिया मेरे पेट के नीचे लगा दिया और मेरे चूतड़ थोड़े से ऊपर उठाये. तभी नीचे से रुचिका, सुलेखा और नेहा आईं, सभी के हाथ में कुछ न कुछ सामान था. फिर अनिता की कमर को पकड़ कर एक झटका मारा, टोपा चुत को फैलाता हुआ अन्दर घुस गया और अनिता की दर्दनाक चीख निकल गई.

नंगे चित्रइस तल पर तो तुम्हारे मम्मी-पापा और बुआ के कमरे है, उनमें से कोई भी जाग गया तो हम परेशानी में पड़ सकते हैं. अभिनव के द्वारा उसी के शब्दों में लिखी निम्नलिखित रचना आपके लिए प्रस्तुत है:अन्तर्वासना की प्रिय पाठिकाओं एवम् पाठकों को मेरा अभिनंदन!मेरा नाम अभिनव है, मेरी आयु पच्चीस वर्ष की है और मेरा शरीर बहुत हृष्ट-पुष्ट एवम् तंदरुस्त है क्योंकि मैं स्कूल और कालेज में खेल कूद में बहुत भाग लेता था.

बिपिविडियो

क्या तुम्हारे पास उसकी कोई फोटो है?मैंने कहा- हाँ हैं, हम जब भी मुंबई घूमने जाते थे तब मैंने उनकी और मामा की कई फोटो खींची थी. आप मेरी इस सेक्स स्टोरी पर मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें, सेक्स स्टोरी इन हिंदी का आनन्द लें. अब मैंने मस्ताना को सबीना की चुचियों से निकाल कर सबीना के मुँह में दे दिया जिसको सबीना ने अच्छे से चाटकर साफ़ कर दिया और मैंने सबीना की चुचियों पर बची हुई आइसक्रीम को चाट कर साफ़ कर दिया.

कुछ क्षण तो उसको कुछ समझ ही न आया कि क्या करे!?!कहानी अगले भाग में समाप्त होगी. और मेरी तरफ देखा और मुझे आँख मार कर बोला- जा गाड़ी निकाल कर ला जल्दी!मैं झट से भाग कर गया और सुमित वाली कार लेकर आया. फिर अपने थूक से भीगी उंगली मेरी गांड में घुसेड़ दी।मैं हल्के से कराहा- आह.

मैंने भी उसकी चुची को छेड़ना और उसकी चूत में उंगली शुरू कर दी जिससे थोड़ी देर बाद लंड महाराज सलामी देने लगे तो मैंने उसको सीधा लेटाया और उसकी चूत पर लंड घुमाने लगा वो लंड को पुश करने लगी. इस नज़ारे ने मेरे अंदर तूफान सा ला दिया, मैं बेशर्मों की तरह उनका खेल देखने लगा. जिनको पानी में भीगी-भीगी देखने के बाद हर कोई उनको चोदने का सोचने लगता है.

रास्ते मैं हम बात करने लगे, मेरा फ्रेंड ड्राइविंग कर रहा था और हम दोनों पीछे बैठे थे. चाची बोली- अरे अशोक, तुम कितना चोदते हो, मेरी चुत की हालत खराब हो जाती है… आह!मैं हल्का सा मुस्कुरा कर बोला- चाची, अब मुझे आपकी गांड मारनी है.

लोगों की नज़रों से छुपते बचते मैं स्नेहा के घर के सामने जा पहुँचा और घंटी बजाने को हाथ ऊपर किया.

मैंने उनको तेल डालने को कहा तो उन्होंने मुझे तेल लाकर दे दिया, मैंने तेल को धीरे धीरे उनकी पीठ पर फैलाना शुरू किया. लडकी सेकसचाची मेरे ओर देखने लगी और बोली- अरे अशोक क्या ऐसा मजा हमें नहीं मिल सकता है. दर्द भरी वीडियो डाउनलोडमम्मे तने हुए थे जैसे कि तोपों की जोड़ी निशाना साढ़े गोला दागने को तैयार हो. मैं समझ चुका था कि अब वो झड़ने वाली हैं। हालांकि मैं भी झड़ने वाला हो गया था सो मैंने भी तेजी पकड़ ली। हम दोनों की स्पीड बहुत तेज हो गई थी। पूरे रूम में बस ‘पच…पच…पच.

पर उसकी उत्तेजना के आगे मैं कुछ न कर पाया और मैं उसे चाटने में लग गया.

लगभग 2 मिनट की चुसाई में ही मेरे माल निकलने जैसा होने लगा, मैंने कहा- अक्षिमा निकल जायेगा. पर मैं तो जैसे अपनी ही दुनिया में था मुझे सिर्फ़ अपने मोटे लंड पे एक टाइट बुर का अहसास हो रहा था. मोना- ये क्या है गोपाल तुम्हारे लंड पर ये चिपचिपा क्या है… और वीर्य की महक भी आ रही है… जैसे अभी-अभी तुमने पानी निकाला हो… बोलो?गोपाल- व्व…वो तुम स…सुन ही नहीं रही मेरी बात को.

अपने लंड को मेरे मुँह में दबा-दबा कर भरने लगा, मेरी तो जैसे सांस ही अटक गई। उसका लंड आधे से भी ज्यादा मेरे मुँह में जा चुका था और वो मेरी चूत को अपने थूक से नहला रहा था।उउफ्फ. जिस पर कुछ दाल गिर गई थी।अंकल के छूने मात्र से मेरी बुर की खुजली बढ़ने लगी। मैं देख रही थी वो मेरे मम्मों को दबा रहे थे।कुछ पल बाद मैं अन्दर जा कर उनके लिए थाली में भोजन लगा लाई और अभी थाली को टेबल पर रखा ही था कि बिजली चली गई।‘सत्यानाश हो इस बिजली का. रफीक- आहह… यदि सबीना अब मेरे सामने आ गई तो उसे अपने नीचे लिटा कर उसके साथ 69 होकर उसकी चूत चाटूँगा और उससे अपना लण्ड चुसवाते हुए गांड मारवाऊंगा और तुमसे गांड चटवाऊंगा मेरी जमीला रानी.

सेक्सी वीडियो दिखाइए चुदाई

वैसे मेरे पति का लंड भी 7 इंच का है, वे मेरी चुदाई खूब करते भी हैं, फिर भी उनका टूरिंग जॉब है इसलिए मेरी प्यास तो बनी ही रहती है. मैं किताब निकाल कर देखने लगा, मेरे अंदर की आग जागने लगी, वासना इतनी भड़क गई थी कि सीमा दीदी के बारे में ख्याल आने लगा. अब मैं खड़ा हुआ और कोमल के चेहरे की तरफ आ गया और उसके कूल्हों और गान्ड के छेद और पीठ की मालिश करने लगा तो मेरा योगिराज तो खड़ा ही था, वो कोमल के होठों से टकराने लगा तो कोमल ने मुँह खोल लिया और मालिश के साथ साथ लंड चुसाई का मजा भी लेने लगी.

ऐसा कुछ नहीं होगा ओके अब चलो।ये तो गए, उधर संजय और पूजा को भी रेस्ट मिल गया था तो आओ वहाँ देख लो अब वो क्या करता है।पूजा- मामू ये चुदाई तो बहुत अच्छा खेल है.

जैसे ही अपना लंड मैंने उसकी चूत पर लगाया, उसने पैर खोल दिए और मेरे लंड के लिए रास्ता दे दिया ताकि बिना देर किए अपना लंड उसकी गर्म भट्टी जैसी चूत में पेल दूं.

शायद वो माफ़ कर देते।ममता- कैसे जाती, मेरी वजह से उनकी कितनी बदनामी हुई होगी, पता नहीं उनपर क्या गुज़री होगी?फ्लॉरा- फिर भी मॉम एक बार कम से कम एक बार तो आपको जाना चाहिए था।ममता- गए थे बेटा. तो मैंने भी बड़े प्यार से कह दिया- आज तो मैं तुम्हारी हूँ, जितना चाहे चोद लो, कर लो अपने पैसे वसूल! मैंने तो तुम से पहले ही कहा था सारी दोस्ती और प्यार बैडरूम में पूरे होते हैं. वीडियो फिल्मी गानेमैंने जब उसे देखा तो मेरे होश उड़ गए, उस वक्त वो किसी जन्नत की परी जैसी लग रही थी.

एक कमरे से दूसरे कमरे में जाते हुए बेडरूम के पास पहुँची तो देखा परदा गिरा हुआ था और अन्दर एक लाईट जल रही थी।मैंने सोची दीपा होगी. !मेरा इतना बोलना था किआंटी ने मेरे पास आकर मेरे लंड को पकड़ कर दबा दिया, मुझे बहुत दर्द हुआ। मैंने जानबूझ कर कुछ ज्यादा ही रिएक्ट किया तो वो ये देखकर थोड़ा डर गईं और मुझसे बोलीं- सॉरी गलती से हो गया।मैंने गुस्सा होने का नाटक किया तो बोलीं- दिखाओ तो क्या हुआ है?मैं शरमाने लगा तो वो बोलीं- शरमाओ मत. मैंने सोचा था कि जब शालू के साथ ऐसा चुदाई का कोई मौका मिलेगा तो उसको ज़रूर गिफ्ट करूँगा.

शुक्रवार सुबह सात बजे जब मैं उठा और मुझे लघु-शंका के लिए जाना था इसलिए बाथरूम की और बढ़ा तो वहाँ पानी चलने की आवाज़ सुन कर थोड़ा ठिठका. रश्मि ने मेरे ऊपर लेटे लेटे अपनी टाँगें चौड़ी की और मेरे लंड को अपनी सुलगती चूत के मुंह पर रख लिया.

मेरे प्यारे साथियो, मेरी हिंदी नोन वेज स्टोरी कैसी लग रही है?[emailprotected]कहानी जारी है.

ऐसी बात मत कर यार, मेरी तो पैन्ट में हलचल शुरू हो जाती है।टीना- अबे चल साले चूतिये. लंड सबका खड़ा होता है, ख़ासकर जब कोई उसे इतने प्यार से सहलाए।मॉंटी की लुल्ली भी अकड़ने लगी और जल्दी ही वो एक लंड बन गई. ऐसे तो सिर्फ ब्लू फिल्म में ही दिखाते हैं, उईइ म्मम्मम अममामा उईईई माँआआअ.

यूट्यूब डाउनलोड फिल्म 2020 उसके बाद मैंने मामी से कुछ देर तक यौनक्रीड़ा की बातें करी और जब मामी हस्तमैथुन कर के अपने आप को संतुष्ट कर लिया तब मैंने कहा- अच्छा, अब मैं फोन रखता हूँ, जब भी समय तथा मौका मिलेगा आप से बात करता रहूँगा. जॉय बड़बड़ाता हुआ सीधा कमरे में चला गया और वहाँ का नजारा देख कर उसके होश उड़ गए। फ्लॉरा बेसुध पीठ के बल सोई हुई थी.

वो मेरी बातों से और जोश में आकरमेरी चूत की चुदाईकरता जा रहा था। काफी देर बाद मेरा पानी निकल गया। मैं रिलेक्स फील करके चिल्लाने लगी- बस बस कर. हमारे पास काफी पैसे जमा हो चुके थे इसलिए अब हम एन्जॉय करना चाहते थे. मुझे देख कर वो डर गईं और अपना हाथ बाहर निकाल कर गुस्से से बोलीं- तुमको सवाल दिए थे.

ಕನ್ನಡ ಬಿಎಫ್ ವಿಡಿಯೋ

मैंने रुई रगड़ते हुए सूई चुभो दी, चाची के मुँह से सीईईई निकली, फिर सूई खींच कर रुई रगड़ने लगा और धीरे से दरार की तरफ रगड़ दिया, फिर डर के मारे छोड़ दिया. दोस्तो, मेरी कहानी के चार भाग आ चुके हैं और अभी आप पांचवां भाग पढ़ने जा रहे हैं. गोपाल- उहह सोने दो ना डार्लिंग… क्या है?मोना- बहुत देर हो गई है गोपाल… कितना सोना है तुम्हें… चलो आज तुम्हें खाने के पहले थोड़ा मज़ा दे देती हूँ.

उसके जघन-स्थल के बाल बिल्कुल रेशम की तरह मुलायम थे और उसकी योनि डबल रोटी जैसे फूली हुई थी तथा उसका भगांकुर एक मटर के दाने जितना मोटा था. चल आजा।सुमन- नहीं दीदी ये मुझसे नहीं होगा, प्लीज़ आप निकाल लो ना प्लीज़।टीना ने उसके पजामे में हाथ दिया और बड़े आराम से रिंग निकाल ली। वो आदमी हिला भी नहीं.

बुर गीली हो चुकी थी। उनका हाथ मेरी बुर पर था। अब अंकल ने अपनी उंगली मेरी बुर में डाल दी।‘उइइ.

इसलिए उसकी छोटी है और मैं बड़ा हो गया हूँ इसलिए मेरी बड़ी है, चल अब आजा बैठ जा।पूजा- मामू कल आपकी फुन्नी मुझे चुभ रही थी ना और ये इतनी गर्म क्यों है?संजय- अरे पगली कल भी यही थी और ये तो गर्म ही रहती है. मैंने उसकी चूत को ध्यान से देखा… बिल्कुल चिकनी, बिना बाल की, लगता था आज ही उसने सफाई की हो. अब मैं पीछे से साइड में हो गया और एक हाथ से कोमल के कंधों और पीठ की मालिश करने लगा और दूसरे हाथ से ढेर सारा तेल कोमल के चूतड़ों पर डाला और एक हाथ से कोमल की गान्ड के छेद तक तेल रगड़ने लगा और दूसरे हाथ से उसकी पीठ पर… फिर मैं तेल कोमल की गान्ड के छेद पर गिरा कर उंगली से अंदर करने लगा.

मैंने बुर को ऊपर से ही सहलाना शुरू किया और उससे मेरा लंड चूसने को कहा. मैंने कई नौकरी के लिए जगह जगह इंटरव्यू दिए पर कहीं पर भी नौकरी नहीं मिली. अच्छी है देखने में… गोल मटोल मांसल बदन है गोरा चिट्टा!सुमित ने खूब मज़े में कुतिया को दो बार चोदा.

मगर मज़ा बहुत ज़्यादा आ रहा था… मेरी गीली चूत कुछ ही देर में लंड को आसानी से अंदर बाहर करने लगी और पूरा लंड मेरी चूत में चला गया.

वीडियो में भोजपुरी बीएफ: इससे पहले कि वह रस बाहर फैलता मैंने तुरंत अपना हाथ उनकी योनि के मुंह पर रख कर उसे बाहर निकलने से रोक दिया. ऐसा लगता है जैसे रात यहाँ कुछ हुआ हो?मोना ने इस बात पर गौर ही नहीं किया उसे सब ठीक करना चाहिए था मगर वो भूल गई.

मुझे मजबूरन उसको पीना पड़ा क्योंकि और कोई चारा था ही नहीं मेरे पास!उसके दोस्त नशे में धुत हो चुके थे, उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींचा और अपनी गोद में लेटाकर मेरी गांड पर हाथ फेरने लगे, दूसरे ने मेरी पैंट निकाल दी और अंडरवियर को फाड़ दिया. उसके लंड ने एक ठोकर मेरे गांड के छेद में मारी…मैं पुरी झुक कर घोड़ी बन गई. कुछ ही देर में रिया ने पानी छोड़ दिया और वो बेड पे निढाल सी लेटी रही.

यह मेरी पहली कहानी है अगर कोई गलती हो तो माफ़ करना!मैं पिछली छुट्टियों में अपने मामा के घर गया था.

उसके बाद मरियम बिस्तर पर लेट गई, मैं उसकी जाँघों के बीच आ गया और सुधा बेड पर चढ़ गई और मरियम के मुंह में बैठ गई, मरियम की जीभ निकली और वो उसकी चूत को चाटने लगी, इधर मैंने भी एक बार हिम्मत की और लंड को मरियम की चूत को लंड से सहलाने लगा और ऐसा करते हुए एक बार फिर सुपारा चूत में जाकर फंस गया. इसलिए मैंने अपना रास्ता थोड़ा सा बदला और नहर की पटरी से नीचे उतरने ही वाला था कि वो दोनों मेरी ही नाक की सीध में फिर से मेरी तरफ बढ़ने लगे. आराम से जान लोगे क्या?काका ने मोना की बात अनसुनी करते हुए लंड को पीछे खींचा और फिर से एक जोरदार दे धक्का दिया। इस बार पूरा 9″ का लंड मोना की चुत में खो गया.