बीएफ छोटी लड़कियों का

छवि स्रोत,गर्म पानी में पैर डालने के फायदे

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ गुजराती चुदाई: बीएफ छोटी लड़कियों का, कुछ देर में मैंने उनको नंगा कर दिया और उनके लंड को अपने मुँह में डाल कर चूसने लगी.

एचडी का सेक्सी वीडियो

थोड़ी ही देर में मौसी ने अपनी गांड मेरे लंड से चिपका दी और लंड के साथ छेड़छाड़ करने लगी. नागिन 3 फुल एपिसोडचुदाई के बाद मैंने एक सिगरेट जलाई और वो आकर नंगी मेरे सीने से लिपट गयी.

भाभी बोलीं- लो मैंने तो अभी कुछ पकड़ा ही नहीं है और तुम कह रहे हो कि सही पकड़ा है. मणिपूर डे चार्टउसके घर में धन दौलत बाकी सब ऐशोआराम की कोई कमी नहीं है लेकिन तन और मन के सुख से वंचित है बेचारी.

दूसरे हाथ में अपना लंड पकड़कर गीला और चिकना सुपारा चूत पर ऊपर से नीचे तक रगड़ने लगा.बीएफ छोटी लड़कियों का: मैं जिस तरह की चुदाई के लिए तरसता था और मुझे कॉलगर्ल के पास जाना पड़ता था, अब वो कमी पूरी हो गई है.

मुझे उसके चेहरे पर अलग सी खुशी दिखायी दी, मैंने उसके होंठों को चूम लिया.ये सुनकर उसकी पकड़ मेरे लंड पर तेज़ हो गयी, जिसे वो मस्ती से सहलाने लगी.

गुजराती सेक्सी वीडियो फुल एचडी - बीएफ छोटी लड़कियों का

उसने एक हाथ की उंगलियों से अपनी चूत की फांकों को फैला दिया और दूसरे हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया.आज जो कहानी मैं आप लोगों के साथ साझा करने जा रही हूं, यह पूरी तरह से सत्य घटना है और अभी 2020 की ही है.

लेकिन मुझे यह मजा मिला गाँव की ओर जाने वाली एक सुनसान सड़क पर! हल्की हल्की बारिश हो रही थी. बीएफ छोटी लड़कियों का इसलिए मैंने झट से हाफ़ पैंट खोल दी और अपना हब्शी लंड उसके सामने निकाल कर खड़ा हो गया.

सोनम ने भी अब पापा के अंडरवियर में हाथ डाल दिया और उनका अजगर छूकर हाथ बाहर खींच लिया.

बीएफ छोटी लड़कियों का?

गुलाबी रंग की नाइटी में वो गोरे बदन की मल्लिका, जैसे आज इस कमरे को सेक्स की नदी में बहाने आई हो. उसे मेरे दोस्त का लंड मिल नहीं रहा था और पापा के लंड से उसकी चूत की आग भड़क उठी थी. बच्चे होने के बाद तेरे जीजू मुझे 2-3 महीने में एक ही बार चोदते हैं और वो भी बहुत कम समय में झड़ जाते हैं.

अब मैं आपका ज्यादा समय ना लेते हुए मेरी अधूरी सेक्स कहानी का अगला भाग आपके सामने पेश कर कर रहा हूँ. वो बोलीं- तेरा लंड तो खड़ा ही नहीं हो रहा है, मैं उसकी सवारी कैसे करूं?मैंने कहा- अब जरा मुँह से लंड चूसो तो अभी लंड मूसल बन जाएगा चाची. मामी मेरे लिए चाय ले आईं … फिर चाय पानी पीकर मैं ऊपर कमरे में जाकर लेट गया.

वो मेरी चादर पकड़ कर खींचने ही वाली थी कि मैंने चादर को पकड़ कर रखा- भाभी तुम जाओ, मैं उठता हूँ. मुझसे अब और रहा नहीं गया तो मैंने उससे कहा- राजा, प्लीज मेरी चूत में अपना लंड पेल दो, बड़ी आग लगी है. क्योंकि सना के फिगर 44-38-42 को देख कर उसे यही सलाह सबसे अच्छी लगी थी.

मेरे पास जुआ खेलने के लिए पैसे नहीं थे तो मुझे किसी ने बताया कि गांव का मुखिया उधार पर पैसे देता है. अगर आपको ये हॉट बहन पोर्न स्टोरी पसंद आयी हो तो मुझे मेल से जरूर बताएं.

मैं भी हल्के हल्के धक्के देते हुए उसकी चूत को मेरे लंड से परिचय करवाने लगा.

इसके लिए तुम जाकर एकदम दुल्हन की तरह तैयार होकर आ जाओ, बाकी पूजन की तैयारी हम करते हैं.

फ़लक ने भी अपनी चुत का पानी निकाला और मेरे सीने पर गिर कर हांफने लगी. फिर मुझे धीरे धीरे पता चला कि सविता के कई मर्दों के साथ संबंध थे और अमित ने रंगे हाथ सविता को चुदाई करवाते पकड़ लिया था. उन्होंने मुझसे कहा- मैं एक सप्ताह के अन्दर फाइल में जरूरी कागजों पूरा करके दुबारा से अप्लाई करूंगी.

उसे एक नजर देख उसके चेहरे पर मुस्कान आ गई और वो दूसरी तरफ देखने लगी. मौसी गर्म हो गयी थी, उसकी मांसल मुलायम गर्म हुई जांघें, मेरी जांघों से रगड़ रही थीं. वे मुझे नहाते देख कर पहले तो बड़ी देर देखते रहे, फिर बोले- बॉडी तो बढ़िया बनाई है, पर नंगे क्यों नहा रहे हो?मैंने कहा- अब कपड़े नहीं थे, तो नहाने लगा.

अब तो मेरी स्थिति और भी दयनीय हो गयी थी क्योंकि मेरे चूतड़ों से ऊपर का हिस्सा बेड के ऊपर था और मेरी टांगें नीचे लटक रही थीं.

मेरी पिछली कहानीब्लू फिल्म देखकर गांड चुदाई शुरू कीआप लोगों ने पढ़ी होगी. पर मुझे पता था कि अगर पहले झटके के बाद मैं हट जाता, तो आज उसकी सील नहीं टूट पाती. अन्तर्वासना पर मैं ज्यादातर कुंवारी लड़की की सील तोड़ने से संबंधित कहानी पढ़ता था.

उसका अंडरवियर नीचे खिसकाया, तो उसने खुद ही उतार कर दूर फैंक दिया व टांगें चौड़ी कर औंधा लेट गया. वो मेरे वीर्य को मीठी रबड़ी समझ कर चाट गया और मेरे लंड से आखिरी बूंद तक निचोड़ कर चाट ली. मुझे उसकी आवाज तो सुनाई दी लेकिन मैं अपने ख्यालों में अञ्जलि को वस्त्रहीन नग्न देख रहा था.

मैं तगड़ा लम्बा पूरा मस्त नौजवान हूं, तो कई बार लड़कियां भी मेरे हुस्न पर मर मिटती हैं.

मुझे पता था कि दोनों ने कुछ तो नशा किया है, जो दोनों का लंड खड़ा होने में देर लग रही है. राज ने उसका लंड पकड़ कर मेरे मुँह में डाल दिया और बोला- साली रंडी चूस, तेरे दोनों यार मस्त पेलते हैं तुझे!अब फिर से मेरी गांड मजबूत शॉट झेलने लगी.

बीएफ छोटी लड़कियों का मैंने सोनाली से कहा- तुम्हें याद है ना सोनाली … वो क्रीम जरूर लगाना. उसने खुद ही अपने हाथ से कुर्ती उतार दी और अपने दोनों मम्मे पर मेरे हाथ रखवा कर मसलवाने लगी.

बीएफ छोटी लड़कियों का फिर मैंने अपने आपको संभाला और सॉरी बोलकर बाहर जाने के लिए जैसे ही मुड़ा, तो उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मुझे अपनी बांहों में भर लिया. उसके पति ऑस्ट्रेलिया में थे और उनकी कंपनी, भारत से युवाओं को वर्क वीसा और टूरिस्ट वीसा पर ऑस्ट्रेलिया भेजती थी.

इससे उसकी चूत चौड़ी हो गयी और मुझे उसे चोदने में और उसे चुदने में मज़ा आने लगा.

बारिश के सेक्सी वीडियो

मैंने पूछा- मेन स्विच कहां लगा है?उसने बताया तो मैं मेन बोर्ड के पास आया और मोमबत्ती की रोशनी में देखने लगा. ललिता भाभी आंख बंद करके आहहह आहहह करके अपनी कमर हिला रही थीं और मैं तेजी तेज धक्के लगाने में लगा था. हां हर्षद … लेकिन तुम्हारा लंड इतना बड़ा है कि एक झटके में मेरी चूत फाड़ दी.

उसने अपनी ब्रा पैंटी झुक कर उठाई और जैसे ही खड़ी हुई, उसका फिर से फ़ोन बजा. मुझे भाभी की चुत चोदने में ऐसा लग रहा था जैसे मैं किसी कुंवारी लौंडिया को चोद रहा हूँ. अब हम सब नंगे तो थे ही!वह मेरी तरफ गांड करके खड़ा हो गया और पीछे देख कर मुस्कराने लगा.

मुझे पता था कि जब मैं अपने लंड पर यह कंडोम लगा कर सुमैत्री की गांड की चुदाई करूंगा, तो उसकी क्या हालत होगी.

आज तू अपनी कमसिन बुर को चोदने के लिए अच्छे से तैयार कर लेना ताकि चुदाई का मजा बढ़ जाए. फॅमिली सेक्स रिलेशन स्टोरी में पढ़ें कि एक समुदाय के लोग कैसे अपने परिवार में खुलम्म खुल्ला चुदाई कर लेते हैं, आपसी सम्बन्धों, खून के रिश्तों की परवाह भी नहीं करते. वो बोली- तो मुँह दिखाई नहीं दोगे?मैंने अपनी जेब से एक अंगूठी निकाल कर उसकी उंगली में पहना दी.

फिर मन में आया कि सबसे बेहतर विकल्प तो शनाया की सहेली सुमन और उसका बॉयफ्रेंड अमित है या फिर मेरे साथ पढ़ने वाली मेरी दोस्त श्रुति और उसका बॉयफ्रेंड गौरव है. ’मैंने अपने होंठ उसकी चूत पर रख कर अपनी जीभ उसकी छोटी सी चूत में डालने लगा. वो बोली- उम्मीद न सही … मगर दोस्ती तो कायम रख सकते हो?मैंने कहा- हां जैसे बहुत सारे दोस्त होते हैं, वैसे ही मैं तुम्हें अपना दोस्त मान सकता हूँ.

चूत में गीलापन हो जाने मेरा लंड फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज करके जल्दी जल्दी अन्दर बाहर होने लगा था. उसे याद ही नहीं रहा था शायद कि चूत की फांकों में लंड का टोपा फंसा पड़ा है.

‘आह आह ओह्ह ह्म्म्म आह अहह घुसा दो अन्दर …’वो लगातार बोल रही थी और कामुक आवाजें निकाल रही थी. आप मुझे इस वर्जिन गर्ल देसी Xxx कहानी पर अपने विचार प्रकट करना न भूलें. मैंने पूछा- क्या हुआ भाभी ऐसे क्यों चल रही हो?भाभी- कुछ नहीं, बस पैर में चोट लग गयी है.

इसलिए मैंने पीछे से गांड में धीरे धीरे पूरा लंड जड़ तक पेल दिया और चुदाई करने लगा.

उसने मुझसे अगला सवाल पूछा- क्या तुम प्यार मुहब्बत में भरोसा करते हो?मैंने उसकी तरफ देखा और कहा- मैं उसमें घर का खाना … और बाहर खाना जैसा फर्क ही समझता हूँ. अब हम दोनों ने फिर से वीडियो कॉलिंग शुरू की और अब हम दोनों दोबारा से मिलने का प्लान बना रहे हैं. सना ने हिंदुस्तान आने की इच्छा भी जाहिर की लेकिन पTकिस्तानी पासपोर्ट होने के कारण उसे वीसा नहीं मिल सकता था.

मिहिका बोली- तो फैर के इरादा है!मैं बोला- मेरा तो नेक इरादा है, तुम बताओ. जल्द ही रूना फिर से गर्म हो गई और उसकी मादक सिस्कारियां फिर कमरे में गूंजने लगीं.

मैंने उससे कहा- जान, इस बार मैं तुम्हें पीछे से भी चोदना चाहता हूँ. मैंने अपने हाथों से उसकी ब्रा की पट्टियों को नीचे सरकाया और ब्रा को कमर तक कर दिया. फिर वो बोली- प्रकाश मजा आ गया यार तूने तो सेक्स करते करते पहली बार मेरा पेशाब निकाल दिया … और साले तूने मेरे मुँह पर मेरा ही पेशाब फेंका.

सेक्सी गाना ब्लू फिल्म

बड़ी सहजता से मैंने कहा- मामी की बहन मामी ही हुई न!तभी अमरचंद ने अपने कमरे से आवाज़ लगाई- भांजे साब इधर आओ.

सुमैत्री मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड को अपनी चूत में डाल कर अपनी चूत को चुदवाने में लग गई. पर हम दोनों कैसे भी करके महीने में 2-3 मौके निकाल ही लेते हैंउसके बाद उसने दो ब्वॉयफ्रेंड भी बनाए, पर वो उसकी उम्र के ही थे तो वो उनसे संतुष्ट नहीं हो पाई. अब जब भी वो घर आती … और मामी नानी के पास बैठती, तो मैं भी वहीं आ जाता और उसे देखता रहता.

सोनाली बोली- वो कैसे?मैंने उसके होंठों को चूमते हुए पूछा- तुम्हारे पीरियड्स कब आए थे?उसने जवाब में कहा- अभी दस बारह दिन हो गए हैं हर्षद. मैंने इस कहानी को लिखने में बहुत समय लिया है क्योंकि बीच बीच में मैं नैना से फोन पर जानकारियां हासिल करती रही और उसे कहानी में जोड़ती रही. सेक्सी घोडामैंने कहा- हां मेरी जान, मैं भी झड़ने वाला हूँ … जल्दी बोलो … किधर निकलूँ?वो बोली- अन्दर ही आ जाओ.

अब मेरा लंड भी उसकी चूत में साँप की तरह फुंफकार रहा था और किसी भी पल अपना जहर छोड़ सकता था. तभी मैं उसके बूब्स पीते हुए अपने हाथों को पीछे ले गया।धीरे से मैंने अंगिका को कॉल कर दिया और प्लान के मुताबिक वो कमरे में आ गई।उसे देख कर मुग्धा का रंग ही उड़ गया और वो मुझे हटाने लगी।लेकिन मैं अनजान बना रहा था.

दो साल पहले मेरे शादी हुई थी लेकिन बैंक की उच्च पद की नौकरी के कारण मेरा तबादला कुछ ही समय में हो जाता था. मैं सांस लेने के लिए गांड से अपना मुँह बाहर निकालता तो सना अपने हाथों से मेरा मुँह पकड़ कर झट से वापस अन्दर डाल देती. आखिरी के पांच सात धक्के मैंने ऐसे लगाए कि बर्थ भी खड़खड़ाने लगी और ‘आअहह रेशमा आआ रंडी …’ चिल्लाते हुए मैंने लंड को जितना हो सकता था, उतना अन्दर घुसा कर रखा.

मैं समझ गया कि इसे इसके पति ने वो सुख नहीं दिया, जो इसकी जवानी को चाहिए था. ऐसी चुदाई करने का स्टाइल न मेरे बॉयफ्रेंड का था और न ही मेरे पति का … और न ही ऐसा लंड ही उन दोनों के पास था. रेखा की माँ के जाने के बाद मैं, भूषण और रेखा एक परिवार की तरह रहने लगे थे.

उसकी गांड की दरार में उसका गाउन घुसा जा रहा था मतलब उसने चड्डी भी नहीं पहनी हुई थी.

फिर जब मैं आयशा की कमर में बाम लगाने लगा तो उसकी नर्म और मुलायम कमर का स्पर्श होने पर मेरा लंड खड़ा होने लगा. तभी मेरे शरीर ने एक के बाद एक कई झटके खाए और पूरा माल पर्वी की चूत में छूट गया.

लेकिन जब मैंने बोला- मैं अपनी वाइफ की चुत बिना चूसे चुदाई नहीं करता. मेरे भी मन में उन्हें चोदने के लिए कई मर्तबा ख्याल आया करते थे और मैं भाभी को याद करके मुठ मार लेता था. आप मुझे बताइये क्या चाहिए आपको?उस महिला को देखकर बताने में मैं झिझक रहा था, इसलिए कुछ बोल ही नहीं सका.

फिर चाची चली गईं और मैंने भाभी की फिर से लेनी शुरू कर दी कि भाभी आपकी शादी से पहले कितने ब्वॉयफ्रेंड थे और भैया से शादी होने के बाद क्या क्या किया … वगैरह वगैरह. इस बात से आज मैंने भी सोच लिया था कि आज मैं पापा को पटा कर ही दम लूंगी. राखी का ये मैसेज पढ़ते ही मैंने उसे कॉल की और बिना बोले- आओ लव यू राखी जानू मेरी शोना मोना.

बीएफ छोटी लड़कियों का जब मौसी मुझे पानी देने के लिए झुकीं तो मुझे उनकी दोनों चूचियों के दर्शन हो गए. अब आगे हॉट बेब पोर्न स्टोरी:इस तरह एक सप्ताह बाद जब मैं ऑफिस में बैठा था, नंदा का फोन आया.

इटावा सेक्सी

दोस्तो, मेरी गाँव की Xxx चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, मेल से जरूर बताना. मैंने अपने बालों को झटकारते हुए अपना सर पीछे की तरफ किया और पीछे का नजारा देख कर मेरे पैरों के नीचे से जमीन सरक गई. मैंने सोचा कि अगर इसे दिक्क्त होती, तो ये हाथ लगाते ही चीखने चिल्लाने लगती.

हालांकि ये बात भाभी के दिमाग़ में छप गयी थी कि मैं उन्हें अपनी जीएफ बनाना चाहता हूँ. हाथ में मुझे कुछ पानी सा लगा तो मैंने धीरे से अपनी एक आंख को थोड़ा सा खोला. राजस्थानी सेक्सी फिल्म वीडियो एचडीअब मैं अपने होंठों को उसके होंठों पर चलाते, कभी जीभ से उसकी गर्दन, कभी कान, कभी उसकी जीभ से अपनी जीभ चुसवा कर उसको गर्म करने में लगा था.

मैं उस दिन रात को 11:30 बजे वाली ट्रेन से अपनी ससुराल के लिए निकल गया था.

ऐसे में बुआ ने मुझे एक दूर के रिश्ते में जाकर रीना के रिश्ते के लिए एक लड़के की जांच पड़ताल के लिए कहा. उस दिन के लिए मैंने अपनी चूत की साफ़ सफाई की; अपने जिस्म को पार्लर में जाकर चिकना करवाया.

जैसे मैंने उसकी चुत में उंगली डाली, वो एकदम गर्म थी और पूरी तरह से गीली हो चुकी थी. इसके बाद से तो मैंने भाभी की चुत गांड को अनेकों बाद चोदा और मजा लिया. जबकि पलंग पर जवान बहन अर्चना की झील सी गहरी काली आंखों में तैरते लाल डोरे वासना का आमंत्रण दे रहे थे.

मैंने कुछ धक्के नीचे से मारे, तो अदिति झड़ गयी और उसका गर्म चुतरस मेरे लंड को नहलाने लगा.

उस पोजीशन में हम दोनों ने 5 मिनट तक चुदाई की और फिर सविता अलग हो गई. मेरे पति मुझे हर तरह से संतुष्ट कर देते थे, जिससे मुझे कभी किसी और मर्द की जरूरत नहीं पड़ी. सेक्स विद फ्रेंड वाइफ की इच्छा उसे देखते ही हो गयी थी मेरी! मैंने उसे लाइन देना शुरू किया तो उसकी प्रतिक्रिया ने मेरी वासना को और भड़का दिया.

न्यू कैमरामेरी शादी को काफ़ी टाइम हो गया है और मेरे दो बच्चे भी हो गए हैं, तो अब तुमसे मैं संतुष्ट नहीं होने वाली. उसे बाजू में करने के बाद मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अपना लंड उसके मुँह में घुसेड़ना शुरू कर दिया.

चूत लंड सेक्सी वीडियो एचडी

चेतना की देसी बुर ने दो बार झड़ कर इतना अधिक मदनरस छोड़ दिया था कि बुर के नीचे बिस्तर गीला हो गया था. मैंने जोश में आकर अपनी बीच वाली उंगली अदिति की चूत में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा. मेरी कहानियाँ मेरे जीवन की सच्ची घटना है, यह कोई कल्पित घटना नहीं है।दोस्तो, यह हॉट फॅमिली Xxx कहानी मेरी मासी का लड़का, मेरी ममा और मेरी है।मैं मेरी ममा के साथ रहती हूँ और सब कुछ शेयर करती हूँ।मेरी ममा की चूचियाँ 36″ कमर 32″ और चूतड़ 38″ आकार के हैं।पापा राजधानी में रहते हैं तो यहाँ ममा का एक दोस्त है.

हमारे घर में 2 कमरे होने के कारण 1 कमरे पति और उसके दोस्त और दूसरे कमरे में अमन बैठा था।जब मैं नहाने गयी तो जब बाहर निकली तो मैं साड़ी पहनने के लिए अमन के कमरे में चली गई।वहाँ पर अमन पहले से ही पढ़ रहा था।मैं सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज में उसके सामने खड़ी थी।अब मैं साड़ी पहने लगी तो अमन मुझे बारी बारी देखे जा रहा था और मेरी क्लीवेज को घूरे जा रहा था. इसके बाद मैं और अनीशा साथ नहाने आ गए और बाथरूम में ही मैंने एक बार फिर से अनीशा की गांड मारी. मैंने कहा- जानते तो सब हो, चूतिया होने का दिखावा करके मुझे चूतिया बना रहे थे, कभी किसी का हथियार ऐसे पकड़ा है?उसके दांत निकल आए.

मैंने अपने दूसरे हाथ से उसकी गोल मटोल, कड़क चुचियां सहलाते हुए कहा- तो क्या हुआ … चोदता तो है ना तुम्हें तुम्हारा पति?सोनाली मेरे लंड को जोर से अपने दोनों हाथों से मसलती हुई बोली- वो तो दिल्ली में जॉब करता है. दोस्तो, मैं कुणाल अपनी पहली कहानी लेकर आपके सामने हाज़िर हूं।कहानी शुरू करने से पहले मैं अपने और कहानी से जुड़े किरदारों के बारे में बता देना चाहता हूं ताकि आप सभी को कहानी समझने में आसानी हो।मैं छत्तीसगढ़ के छोटे से शहर से हूं और पढ़ाई में तेज होने के साथ-साथ दोस्तों में काफी मशहूर हूं।मेरी हाइट 5. मैंने उनकी चूत में अपनी जीभ डाल रखी थी, इससे उनकी चूत का सारा रस मेरे मुँह में चला गया.

शायद ये जानकर कि उसकी बॉडी में जो चीज सबसे ज्यादा मस्त है, मैंने उसका नाम ही नहीं लिया. इस बार उसने मुझे एक कुर्सी पर उल्टा बिठाया दिया और मेरे खांचे में थूक लगा दियाफिर अपने लौड़े पर थूक लगाया और पूरी ताक़त से झटका मार कर अपना आधा लौड़ा मेरी गांड में दे दिया.

मैंने कहा- चाची, मुझे जरा सा भी अहसास होता तो मैं अब तक आपको न जाने कितनी बार चोद चुका होता.

उनकी चूत में लोहे जैसा लवड़ा घुसा था तो भाभी मस्ती से आवाजें ले लेकर गांड उठाने में लगी थीं. इंग्लिश में कहानियांउसकी एक चूची छोड़ कर दूसरी चूची को मुट्ठी में लिया और उसके निप्पल को जीभ से चाटते हुए सहलाया. सेक्सी पिक्चर देखने वाली हिंदी मेंशलाका से ही बात कर लेता हूँ … ये ही अपनी गांड में मेरे लंड को आनन्द दे दे, तो जीवन की इस अभिलाषा को भी पूरा कर लूंगा. कभी कचरा उठाने के बहाने तो कभी कुछ और बहाने से … मगर वो अपने जवान बदन को वीरू को दिखाकर उसका खून गर्म करने में जुटी हुई थी.

अपना पैग एक सांस में खींच कर बलदेव ने मुझे अपनी गोदी में बिठा लिया.

मैंने कहा- तो आप कैसे मानोगी … मूवी में देख लो?भाभी बोलीं- नहीं, आज तो मैं दूसरा वाला लाइव ही देखूंगी. रेशमा ने हल्के से मुस्कुराया और खुद पलट कर मेरे सामने झुक कर कुतिया बन गयी. मेरी चूत गीली थी, मैं बहुत चुदासी हो गयी थी, बस लंड जल्दी से जल्दी पेलवाना चाहती थी.

एक बाबा बोला- पत्नी जी, आज सुहागरात किस तरह से मनाई जाए?मैं कुछ नहीं बोली. सुमैत्री ने मेरे होंठों को चूमा और बड़ी बेताबी से मेरे लंड को सहलाने लगी. करीब पांच मिनट की धुंआधार चुदाई के बाद मैं रुका और अपना लंड बाहर निकाल लिया.

अरे इंग्लिश सेक्सी वीडियो

[emailprotected]Xxx मामी चुदाई कहानी से आगे की कहानी:ननद की गांड जानदार से मरवायी. थोड़ी देर चूत चाटने के बाद मुखिया जी ने अपने मोटे से लन्ड को माँ की चूत पर रखा और उसे चूत पर रगड़ने लगा. मैं समझ गया कि भाभी चूत चुदाने के लिए बिल्कुल तैयार हैं, बस मुझको भाभी के पास लंड लेकर जाना है.

एक रात जब सोनम पापा को उल्टा लिटा कर सलवार और शार्ट कुर्ती में उनके दोनों तरफ एक एक पैर डाल कर उनकी कमर की मालिश कर रही थी.

ये देख कर मैंने मन में सोच लिया कि आज तक मैंने भाभी से सेक्स की बातें नहीं की हैं.

लेखिका की पिछली कहानी:ब्यूटी पार्लर में लिया पहले लंड का मज़ाकहा जाता है कि ‘बीवियों की अदला बदली’ का खेल यानि ‘Wife Swapping’ पश्चिमी देशों में बहुत होता है, हमारे देश में बहुत कम होता है लेकिन ऐसा नहीं है।हमारे देश में भी यह खेल होता था और आज भी होता है लेकिन हां … खुले आम नहीं होता, चुपके चुपके छिप छिप कर होता है।लोग इस खेल का मज़ा लेते हैं और खूब लेते हैं. मैं- अरे यहां अपने कोई रिश्तेदार तो बैठे नहीं हैं, एक दूसरे को सपोर्ट नहीं करेंगे, तो कैसे काम चलेगा. ओपन सेक्सी मराठी व्हिडिओमुझे यह बात बहुत बुरी लगी और मैंने फैसला कर लिया कि इस रांड को अब मैं अपने लंड पर नंगी करके नचाऊंगा.

कुछ देर बाद मैं अपने हाथ उसके पैरों तक ले गया और धीरे धीरे उसके गाउन को ऊपर उठाने लगा. मैंने उस पर एक हाथ रख कर दूसरे हाथ को कंधे के पास रखा और झटके से उठा लिया. उसने एक मनमोहिनी मुस्कान के साथ मुझे चाबी दी और बोली- आपकी चाबी?मैंने बोला- जी मेरी चाभी नहीं, नीचे वाले फ्लैट की चाबी.

एक दिन मैं मार्किट में सामान खरीद रहा था, अचानक आनन्द जी और उनकी बीवी नेहा जी से मुलाकात हुई. मैं आहिस्ता आहिस्ता लंड अन्दर बाहर करने लगा और बीच बीच में ही लंड का दबाव बढ़ाकर अन्दर डालता रहा.

मैंने जोश में आकर आंटी की चूचियों को काटना शुरू कर दिया तो वो ऊई ऊई ऊई करके चिल्लाने लगीं.

अब तक हम दोनों काफी देर हो गई थी लेकिन पता नहीं उसका लंड झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. फ़लक मस्ती में जितनी तेज मेरा लंड चूस रही थी, उतनी ही तेजी से मैं उसकी चूत चाटने लगा था. कभी किसी पार्टी या कोई फंक्शन हो तो उधर भी फटाफट वाली चुदाई का मजा ले लेती हूँ … और कभी तो पास पड़ोस के घर में भी चुदवा लेती हूँ.

हिंदी सेक्स वीडियो ऑडियो में अब तक मैं बहुत गर्म हो चुका था और दीदी की चुत भी लंड लंड करने लगी थी. अब टाइम था देसी गर्ल फक का!मैंने अपना मुँह उसके बुर से हटा दिया और अपना लंड वहां रख दिया.

अब अदिति ने भी एक पैर बाजू में फैलाकर मुझे चूत सहलाने को जगह दे दी. अब भी मेरे दोस्त मेरा चुम्मा ले लेते हैं, मेरे चूतड़ मसक देते हैं, होंठ चूस लेते हैं. ‘आह उम्म्ह … मुझे छोड़ दो मैं तुम्हारे लंड नहीं झेल सकती … अहह … फाड़ दी मेरी कमसिन चुत हाय … याह … भैया!’वो लगातार बिलबिलाती रही.

जीरो सेक्सी वीडियो

अदिति की कमर पकड़कर मैंने जोरदार धक्के मारे और हम दोनों साथ में झड़ गए. माथे पर पसीने की कुछ बूंदें उसकी जवानी की सुंदरता को और बढ़ा रही थीं. सेक्स कहानी के पहले भागपार्टनर की जवान बीवी पर दिल आयामें अभी तक आपने पढ़ा था कि किस तरह से सविता और अमित के तलाक के बाद मुझे एक बहुत बढ़िया मौका मिला कि सविता मुझसे दोस्ती के लिए तैयार हो गई थी और आज की रात मैं उसे चोदने वाला था.

काफी देर तक पूरे कमरे में मेरी कामुक सिसकारियां गूँजती रहीं ‘उफ्फ्फ आह उफ़्फ़ आह आह मर गई आंह चोदो और तेज़ अह …’कमरे में दोनों के लंड भट भट की आवाज करते हुए मेरी चूत गांड फाड़ते रहे. पानी की वजह से लंड झट से अन्दर गया तो रेखा सिहर उठी, वो मेरे होंठों को चूसने लगी.

मैंने कहा- मजा नहीं आ रहा, तो निकाल लूं?वह चुप हो गया, तो मैं चालू हो गया.

ये कह कर मैंने एक बार फिर से उसके चूतड़ पर हाथ मारा और चूतड़ मसक दिया. यह पेनफुल सेक्स की कहानी उस समय की है, जब मैं 2018 में जॉब करने के लिए भिलाई आया था. लेकिन मेरी धार्मिक आस्था होने के कारण मेरा मन अभी भी मानने के लिए तैयार नहीं था कि मैं जिस इंसान को फ़रिश्ता की तरह मानता हूं वह मेरी बीवी के साथ कैसे संभोग कर सकता है.

उसकी गांड की गर्मी पाते ही मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया और लंड खड़ा होने लगा. दीदी और मैं एकदम सन्न रह गए थे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि क्या करें. कमरे में चेतना की मादक सिसकारियां गूंजने लगीं और पांच मिनट में ऐंठती चेतना की देसी बुर से गर्म लावा बाहर निकल आया.

मैं- आह बहनचोदी, अब तक किस किस के लौड़े चूसे है तूने रंडी, आंह बड़ा मजा दे रही है कुतिया.

बीएफ छोटी लड़कियों का: एक तो भाभी मेरे ऊपर चढ़ी हुई मुझे चूमे जा रही थीं और दूसरे मैं नीचे दबा होने के कारण कुछ कर भी नहीं पा रहा था. आज फिर से कहानी लिखने का मन हुआ तो उसी सेक्स कहानी को आगे लिखना शुरू कर रहा हूँ.

सब डेकोरेशन देखकर सरिता बहुत खुश हो गयी- अरे वाह देवर जी, आपने तो बहुत ही मस्त डेकोरेशन किया है. उसने धीरे से झट से मेरी धोती खोल दी, जिसकी मैंने कल्पना भी नहीं की थी कि मेरे साथ ऐसा भी कुछ हो सकता है. वह क्या करते हैं और क्या कहते हैं, ये देखना और वैसा करते जाना, जैसा फकीर कहें.

मैं जैसे तैसे अपना होश सम्भालती हुई बोली- छी … ये क्या कर रहे हैं आप?उसने मुझे छेड़ते हुए कहा- गर्मी बहुत बढ़ गयी है ना मेमसाब.

मेरे बात पर खिलखिलाकर हंसती हुई रेशमा बोली- वीरू जी, वो कहावत तो सुनी होगी आपने … लंगूर के हाथ में अंगूर?मैंने भी उस बात पर हंसते हुए उसकी गांड को सहलाना चालू कर दिया. उसने अपनी गांड को खोल दिया और शायद अब उसको भी गांड चटवाने में मजा आने लगा था. पापा ने उसके सीने पर हाथ फेर कर उसके हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया और बोले- बेटा ये चाहिए तुमको … ले लो.