बीएफ एचडी प्लेयर

छवि स्रोत,मां और बेटी के बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बॉलीवुड हीरोइनों की बीएफ: बीएफ एचडी प्लेयर, मुझको नंगा देख कर दोनों जोर जोर से हंसने लगे, बोले- बड़ा चिकना है रे तू तो!पहला वाला दूसरे से बोला- देख, मादरचोद को… इसकी गांड कितनी चिकनी है लौन्डियों की तरह!मैंने कहा- प्लीज, जाने दीजिये.

बीएफ फुल एचडी में सेक्सी

जल्दी से चाय पीकर अपना लोअर उतारो और लेट जाओ, मैं मालिश कर देती हूँ. एक बीएफ वीडियो! आज से मैंने तुम्हारी गर्लफ्रेंड!उसने इतना बोलते ही मेरे होंठों पर अपने दहकते हुए होंठ रख दिए.

वो बोला- अब तुम अपनी चुत फैला कर मेरे लंड पर चढ़ जाओ और अब तुम मेरी चुदाई करो. कामसूत्र बीएफ वीडियोअब मुझे भी शक हुआ क्योंकि मुझे मालूम था कि पंकज एक सेक्स एडिक्ट था.

उनके चूत चाटने के साथ साथ मैं भी एक हाथ से चिंटू के बदन को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरी चूत को ऊपर से ही मसल रही थी.बीएफ एचडी प्लेयर: मैं उसे चूमता हुआ अपने कमरे में लेकर गया और उसे बिस्तर पर लिटा कर पागलों की तरह चूमने लगा.

मैं लौड़ा पूरा चूत के बाहर निकलता और फिर धीरे से जड़ तक बुर के अंदर घुसेड़ देता.पता चला कि वहाँ कभी कोई नहीं जाता और जब फर्नीचर टूटता है, तो ही रखने जाता है और अभी कॉलेज में नया फर्नीचर था.

बीएफ वीडियो चोरी - बीएफ एचडी प्लेयर

उसके मम्मों के निप्पल का उभार उसकी टाइट टी-शर्ट में से साफ दिख रहा था.उनके मुँह से लगातार ‘आहह्ह्ह आहह ऊह्ह्ह आऔऊ आहह्ह…’ की आवाजें आ रही थीं.

उसे खूब सहलाने के बाद मैंने उसकी टी शर्ट ऊपर की तो उसकी वाइट कलर की ब्रा सामने आ गई. बीएफ एचडी प्लेयर दो मिनट बाद मैं उसके लंड पर बैठ गई और गांड हिला के उसके लंड का मज़ा लेने लगी.

उनके चेहरे के भाव लगातार एक्साइटमेंट में चेंज होते देख मुझे जोश आ गया.

बीएफ एचडी प्लेयर?

आओ जाओ जान… देखो तुम्हारे लिए मैं पूरे जमाने से बेइज्जती ले रहा हूँ. वो जोर जोर से मेरी कमर पर नाख़ून चुभो रही थी और गर्दन पर किस कर रही थी. जब वे साड़ी पहनतीं तो उनकी नाभि से नीचे साड़ी का बंधना और बिना आस्तीन के ब्लाउज जिनकी पीठ पर कपड़े का उपयोग होता ही नहीं था, उनकी पूरी पीठ लगभग नंगी दिखती थी.

उन दिनों गर्मियों के दिन थे तो बस पूरा दिन घर पर रहना और शाम को थोड़ी देर छत पर टहलना, ऐसे ही मेरे दिन निकल रहे थे. मैंने उसके लंड से हाथ हटाने की कोशिश की, पर वो मुझे किसिंग करते हुए जकड़े रहा. क्या और आगे कुछ करने की परमीशन है?पहले तो मैं कुछ नहीं बोली तो वो और आगे बढ़ गया.

चूँकि निशा का पहली बार था, तो थोड़ी तकलीफ़ हो रही थी और मैं ये भी सोच रहा था कि कहीं दर्द के डर के कारण निशा मना ना कर दे. उसने हंस कर पूछा- क्यों?मैंने कहा कि तुम्हारी खूबसूरती को देखकर सोचता हूँ कि काश तुम मेरी बीवी होती. विक्रम ने झट से कुसुम को अपने करीब खींच लिया और वो दोनों 69 में ओरल सेक्स करने लगे, एक दूसरे के लंड और चुत चूसने लगे.

दस मिनट तक उसके हाथ को सहलाने के बाद मैंने धीरे से उसके गले को अपने होंठों से सहलाना शुरू किया और गाल पर किस किया. मंदिर में कॉलोनी के सभी लोग आते जाते रहते हैं, कोई उसे घूरते हुए मुझे देख लेगा, तो क्या सोचेगा.

और मैं उसके गाल, उसके चुचे भींच भींच कर उसके होंठों को चूस चूसकर उसे मदहोश करता रहता हूँ.

फिर मुझे कुछ कुछ याद है उस रात की बात कि सैम ने अपने सारे निकले अंडरवियर भी उतार दिया.

बड़े भाई के चले जाने के बाद से हमारे घर में अब मैं और मेरी माँ हम दोनों ही रहते थे. वो बोले साड़ी ही पहननी थी तो इंडिया में ही किसी तीर्थ स्थल पर चल लेते. मेरे दोस्त को अपनी मम्मी के पास भी जाना था और वह मुझ पर बहुत विश्वास भी करता था तो उसने मुझसे कहा कि उसकी ट्रेन का समय हो रहा है और तुम अपना काम खत्म होने के बाद गेट पर ताला लगाकर चाबी अपने साथ ही ले जाना.

एक दिन उसने चैट के दौरान बोल ही दिया कि मैं काफी दिन से तुम्हारा बिहेवियर देख रही हूँ, तुम बहुत बदले बदले रहने लगे हो. तभी जीजा बोले- साली कुतिया रंडी, चिल्ला मत मोहल्ले को इकट्ठा करेगी क्या? पूरा मोहल्ला आ जाएगा फिर मुझे कोई कुछ नहीं बोलेगा समझी, सब तेरी चूत को ही चोदेंगे ये समझ ले तू! वन्द्या चुप रह 2 मिनट, बस घुसने ही वाला है, थोड़ा दर्द होता है, उसके बाद तो जन्नत का मज़ा है. गाड़ी के ड्राइवर को तो तुम जानती ही हो, क्योंकि वो ही तुम्हें छोड़ने गया था.

अब उन्होंने अपनी मैक्सी ठीक की और मुझसे गुस्सा होते हुए बोलीं- क्या चाहता है तू? मैं मॉम हूँ तेरी.

वो चीखना चाहती थी पर मैं उसे किस कर रहा था और उसके मम्मों सहला रहा था. हम दोनों साफ होने के लिए बाथरूम में गए और साफ होकर बेड पर नंगे एक दूसरे की बांहों में सो गए. लेकिन इस वक्त माँ सामने थीं और मुझे नहीं मालूम था कि ये लड़की कौन है.

वो बनारस की रहने वाली थी और एकदम से देसी इंडियन गर्ल लग रही थी, इंडियन साड़ी में बहुत खूबसूरत लग रही थी। उसके बदन की खूबसूरती, जिस्म का आकार, चूची का आकार, चूतड़ों का साइज़ बढ़िया दिख रहा था. मुझको इतना बड़ा ओर मोटा लंड लेने की आदत नहीं है, मेरे पति का पतला सा लंड है. मैं दोबारा मुठ्ठ नहीं मार सकता।मैंने उसे दीवार से लगा कर खड़ा कर दिया। शायद उसे भी मजा आ रहा था इसलिए ज्यादा विरोध नहीं कर रही थी। मैंने उसके दोनों हाथों को दीवार से लगा कर ऊपर करके पकड़ लिए.

क्या मेरा कर्ज़ा चुकता हो गया कि अभी भी कुछ बाकी है?वो मुझसे बोला- दुनिया की नज़रों में तुम चाहे कुछ भी हो मगर मेरी नज़रों में तुम मेरी बहन ही रहोगी.

उसमें भी गांड जब मेरी साली जैसी गोरी चिट्टी और एकदम साफ हो तो बात कुछ और ही होती है. उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने उनकी गांड को दबाना चालू किया.

बीएफ एचडी प्लेयर मैं- विनय ऐसी बातें कॉफ़ी शॉप में नहीं करनी चाहिए, किसी ने सुन लिया तो गलत हो जाएगा. जब मैंने उसे बताया कि अगर तुम हाँ नहीं कहती तो मैं बोल देता कि अप्रैल फूल बनाया, तो वो बहुत हँसी.

बीएफ एचडी प्लेयर तभी नवीन कपड़ा लेकर आया- मालकिन आपके पैरों से पानी पोंछ दूँ?मॉम ने मुस्कुराते हुए कहा- रहने दे नवीन अच्छा लग रहा है. जब तक मैं दूसरी बार नहीं झड़ी, तब तक परीक्षित मुझे ऐसे ही चोदते रहे.

भाभी की आँखों से आँसू बहाने लगे पर मैंने भाभी की एक ना सुनी और मैं थोड़ी देर रुका रहा और भाभी को किस करते रहा.

ब्लू पिक्चर बीपी सेक्सी हिंदी

मैंने लाख कोशिश की कि उसका लंड तीसरी बार फिर से खड़ा हो जाए मगर वो ना हो पाया. और मैं अब खड़ी भी नहीं हो पा रही हूँ।यह सुनकर मैं खुश था कि चलो ये भी ठीक हुआ। अब इस बात का भी कोई डर नहीं कि ये हमें डिस्टर्ब करेंगी. मैं उससे कभी कभी घर का सामान मंगवा लेती थी और उसे कुछ रुपए भी दे देती थी.

फिर मैंने उनके होंठों के अमृत को ऐसे पिया कि मेरी प्यास हमेशा के लिए बुझ जाए और आंटी की कामवासना को बुझाने के साथ और भी बढ़ा दिया. पल-भर के लिए मैं स्तब्ध रह गया- यह… यह क्या कर रही हो… प्रिया?कहते हुए मैंने प्रिया को दोनों कांधों से पकड़ कर उठाया।देखा तो काली कजरारी आँखों में आंसू बस गिरने की कगार तक भरे थे. उसी के थोड़ा आगे एक लेटने की जगह थी, जो वहां कुछ स्पेशल होती है, जो लोग गोवा गए हैं उनको पता होगा.

उनकी कमनीय काया इतनी दिलकश है कि मुझे वो किसी पोर्न स्टार जैसी लगती हैं.

इसको पहनने पर मेरी चूची के आगे के निप्पल ही थोड़े से बंद हो रहे थे बस बाकी निप्पल से ऊपर की पूरी चूचियां पूरी खुली थीं. एक दिन की बात है, ऐसे ही मुझे कुछ काम से ससुराल के शहर जाना था तो मेरी बीवी ने कहा कि घर पे हो आना. कामिनी बोली- वाऊ, डायमंड की रिंग!वो बोला- अरे मैडम, ये डायमंड की रिंग तो आपकी खूबसूरती के आगे कुछ नहीं है.

’ और मजे से पता नहीं क्या-क्या कहते हुए मेरे उत्साह को बढ़ाने में लगी हुयी थी।अब मैं थक गया था और गांड चटाई के कारण मेरे लंड में तनाव पैदा हो गया था इसलिये मैं सिंधु से अलग होकर चित होकर सिंधु के बगल में लेट गया. मैंने उसकी जींस को उतार कर साइड में फेंक दिया और पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत चाटने लगा. वो अकेली ही रहती थी इसलिए उसके घर पर सेक्सी बुक्स और फोटो इधर उधर पड़ी थीं.

जब ये सब आंटी बता रही थीं, तब वो थोड़ी सी झुकी हुई थीं, तो मैं पीछे से उनकी गांड देख रहा था. बिंदु माँ ने मुझे सेक्स का आदी बना दिया था, जिस कारण अब मुझे बिना लंड लिए चैन ही नहीं पड़ता था.

तो मैं 69 की पोजीशन में हो गया, मतलब मिंकी के मुँह में अपना लंड डाल दिया और मैं मिंकी की चूत चाटने लगा तो कुछ समय बाद ही मिंकी कहने लगी- साहब, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है इसलिये अपना लंड मेरी चूत में डाल दो!तो मैंने भी देर करना मुनासिब नहीं समझा और झट से मिंकी के मुँह से अपना लंड निकल लिया और उसकी चूत पर अपना लंड घिसने लगा. देखने में वह बिल्कुल इरफ़ान पठान की तरह लग रहा था बस काला था वह…आप यदि अभी इरफ़ान पठान का फोटो देखेंगे तो उसके लुक का अंदाज़ा लगा सकेंगे… वह लंबा और काफ़ी सादा आदमी लग रहा था… हाथ की आस्तीन ऊपर चढ़ी हुई और शर्ट के दो बटन खुले हुए जिसमें से सफ़ेद बनियान और छाती और हाथ पर मर्दाना काले बाल मुझे दीवाना बना रहे थे. उन्होंने भी अपने पैरों से मुझे जकड़ लिया था, जैसे कोई अजगर अपने शिकार को पकड़ लेता है.

इन सब में काफी टाइम हो गया था और उसके घर वाले भी आने वाले थे, वो कपड़े पहन कर चली गई.

मैं भी अपना चेहरा उसके पास ले आया, फिर हम दोनों एक दूसरे के होंठों को किस करने लगे. उसकी बुर से एक अजीब सी दुर्गंध आई, जैसे लगा कि वो बुर को साफ नहीं करती थी. विक्रम ने ड्राइवर को फोन किया कि मेमसाब को अभी उनके घर पर छोड़ कर आओ और वो कुसुम के दूध दबाते हुए मुझसे बोला कि आप ड्रॉइंग रूम में जाएं, ड्राइवर आपका वेट कर रहा है.

तो दोस्तो, उस रात के बाद मैंने सोचा कि अब चाहे कुछ भी हो जाए, मुझे एक दिन तो लड़की की ड्रेस पहन कर बाहर जाना ही है. फिर वह जल्दी से बाथरूम में गई और मैंने न्यूज़ पेपर और उसकी झांटों को कचरे के डिब्बे में डाल दिया.

और फिर दोनों अंदर बाहर एक साथ गांड में और चूत में अपना लन्ड करने लगे, मुझे बहुत तकलीफ हो रही थी।इतने में अंकल ने मेरे नीचे चूत की तरफ देखा और बोले- अरे यार सुरेंद्र, मैं कितना लकी हूं, यह वन्द्या तो सच बोल रही थी, उसको आज तक किसी ने नहीं चोदा, मैं बहुत भाग्यशाली हूं जो आज मैंने वन्द्या की सील तोड़ दी. अब उसका मुझे देखने का नजरिया बदल गया था, खैर जैसे तैसे हम अन्दर गए. आपको माही की गांड चुदाई की कहानी में अगले सेक्स स्टोरी में बताऊंगादोस्तो, इस चुदाई की कहानी में सभी नाम कल्पनिक हैं, लेकिन कहानी असली है.

મુંબઈ સેકસી વીડિયો

उससे प्रॉमिस किया था कि उसकी कहानी लिख कर नेट पर डालूंगी और उसका कभी जिक्र नहीं होगा.

माँ- ऐसा तो कुछ नहीं है, तुम्हें ऐसा क्यों लगता है?मैं- बस ऐसे ही लगता है कि आपसेक्स की भूखीहैं और आपके पति आपको समय नहीं देते हैं. मैंने कहा- अभी क्यों नहीं?मैं उनके चुचे दबाने लगा और पीछे से उनकी गांड में अपना खड़ा लंड लगाने लगा. अब उसके शरीर पर सिर्फ पैंटी थी, उसने मेरे पास आकर मेरे लंड को पकड़ लिया, मेरा लंड खड़ा होने लगा.

मेरी यह कहानी दो बहनों की जवानी की जरूरत पूरी करने की यानि चुत चुदाई है. वो अब उसकी चुत को जम कर चोदते थे और वो भी बहुत खुश नज़र आने लगी थी. सेक्सएक्स वीडियो बीएफमैं बोली- पीयूष और जोर से डालो मेरे अंदर अपना लन्ड… मेरी चूत में बहुत आग है और बहुत खुजली भी है । तुम्हें बहुत मजा आएगा, पीयूष जम कर चोदो मुझे, फाड़ दो मेरी चूत! और जोर से डालो, पूरा घुसा दो!पीयूष जम कर अंदर बाहर करने लगा, मुझे जरा भी ध्यान नहीं रहा कि पीयूष उंगली से चोद रहा है, मुझे लगा कि जैसे मेरे चूत में उंगली नहीं लन्ड घुसा है और मैं जल्दी जल्दी चुदाई करवाने लगी.

अब मैं आपको रेखा के बारे में बता दूँ:रेखा की उम्र लगभग 35 या 37 साल के आसपास है वो एक विधवा औरत है. और फिर हम दोनों ने एक दूसरे को साफ किया।फिर मैंने डिम्पल को बोला- पहले तुम चली जाओ कमरे में!डिम्पल के जाने के बाद में भी उसके पीछे पीछे कमरे में जाकर कर डिम्पल के साथ लेट गया और मैंने पूछा- मजा आया?उसने कहा- हां… पर दर्द हो रहा है!मैंने कहा- लाओ मालिश कर दूँ।फिर मैं डिम्पल की चुत की मालिश करने लगा.

मिलोगी नहीं?उसने दो दिन बाद के लिए कहा और बोली- मैं परसों के बाद फ्री रहूंगी, तब मिल लेंगे. मॉम भी झटके से लंड घुसने पर करीब एक मिनट तक शांत आँख बंद करके लेट गई थीं. मीषा के बारे में मैंने उससे भी कहा था कि मैं मीषा को चोदना चाहता हूँ.

मुझे नंगे जिस्म देखने की चुल्ल थी और नीला को क्या था, ये मैंने समझ ही नहीं पाया था. अब तक मेरी अंग्रेजी ठीक हो चली थी तो मैंने सोचा कि इसको पढ़ाऊंगा तो मेरी अंग्रेजी और भी सुधर जाएगी. फिर थोड़ी ही देर में मैंने एक और धक्का मारा और इस बार अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

दोस्तो, मैं आकाश एक बार फिर आपके सामने अपनी एक और नई पोर्न कहानी लेकर हाजिर हूँ.

ये बात 5 साल पहले की है, जब मैं अपनी स्कूल की पढ़ाई करके शहर कॉलेज में स्नातक करने गया. मैंने एक और जोरदार धक्का लगाया और उसके मुँह को दबाया ताकि चिल्ला न दे, लेकिन इस बार उसे इतना दर्द नहीं हुआ, जितना पहले हुआ था.

कुछ देर बाद दीदी झड़ गईं, पर मेरे लंड में अभी भी जान थी, मैं दीदी की चुदाई करता रहा. भाभी मुझे लेटा कर मेरे ऊपर आ गईं और मेरे लंड को अपनी चूत पे सैट कर के धीरे धीरे बैठने लगीं. पहले तो मैंने इन दोनों के लंड को चूमा और तुरन्त ही लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी क्योंकि मुझसे अब सब्र नहीं हो रहा था.

फिर मेरी तरफ देख कर बोला- बिंदु जी, आपने ठीक कहा था, वो साला बहुत कमीना है. फिर मैं उसके दूध पीने लगा और उसके लोअर में हाथ डाल के चुत को मसलने लगा. फिर आखिरकार वो दिन भी आ ही गया, जब उसके घर वाले एक शादी में शामिल होने के लिए मुम्बई गए और उसके एक दिन पहले उसकी कॉल आई.

बीएफ एचडी प्लेयर ” ठूँ…?? बोले तो…?”अरे बाबा! उठ कर खड़े हो जरा…!”बैड पर…?”ज़मीन पर!!… बुद्धू राम!”एक झटका और लगा. इसलिए आंटी को लंड को मुँह में लेना जम नहीं रहा था, पर थोड़ी देर बाद वो मेरे लंड को लॉलीपॉप के जैसे चूसने और चाटने लगीं.

मारवाड़ी विलेज सेक्सी वीडियो

वैसे तो उनकी उम्र 35-36 साल थी मगर वो बहुत खूबसूरत और पूरी हट्टी कट्टी भरी हुई दिखती थीं. लेकिन फर्स्ट ऐ सी में वो भी प्राइवेट कूपे में यात्रा करने का वो मेरा पहला मौका था और बहूरानी के साथ आने वाले छत्तीस घंटे बिताने के ख़याल से ही मुझे रोमांच होने लगा था. माँ- और फर्स्ट??मैं- माय माँ…माँ- रियली??मैं- यप, क्या कुछ ग़लत है इसमें?माँ- ग़लत नहीं है… अगर वे तुमको बिस्तर में पसंद करती हैं तो इसमें क्या गलत है.

कि मैंने उससे कहा- रूको रवि।उसकी आँखें चमकी- जी चाची जी बताओ?मैं- आज मैं तुम्हारे साथ सोऊँगी।वो- हाँ चाची. यूं तो मेरी बीवी को सेक्स में ज्यादा रूचि नहीं थी, वो बहुत ही ठंडी औरत है, मगर मेरी प्यारी भाभी की कृपा से मेरी लाइफ ठीक चल रही थी. मां और बेटा के बीएफहम दोनों इधर उधर की बातें कर ही रहे थे लेकिन मेरे दिमाग में तो कुछ और ही चल रहा था.

उसके बाद वो आए दिन दोपहर में मुझे चोदने आ जाता और हम दोनों मस्त चुदाई का मजा करते.

पूरा करेला दीदी के पानी में डूबा हुआ था… दीदी ने दोबारा करेला अपनी चूत में डाला और आहिस्ता आहिस्ता अपनी चुत को चोदने लगीं. तब मम्मी ने आंटी को फोन किया और कहा- नीलम यार, मुझे विकी के मामा के घर जाना है, तुम विकी और उसके पापा का खाना बना देना.

एक दिन मैं उनसे बोली- आप मेरी माँ तो नहीं हैं, मगर होतीं तो मुझे इस तरह से ना चुदवातीं. ये क्या कर रहे हैं… कोई देख लेगा!”वो देखो उस साइड… सब मस्ती कर रहे हैं…” मैंने नजर घुमाई तो वे मेरे को गले से लगा कर किस करने लगे. मुझे सतर्क रहने की जरूरत थी लेकिन एक चीज़ मेरे हक़ में थी और वो थी मेरा बिस्तर में लम्बा अनुभव.

मैंने पूजा की साड़ी को ऊपर उठा कर लंड पूजा की चूत में डाल दिया और ब्लाउज के ऊपर से ही उसके दूध मसल दिए.

तो मेरे प्यारे दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह सच्ची हिंदी पोर्न कहानी. मुझे उसके किस अच्छे लग रहे थे या कहूँ तो मेरा भी मन किस करने करवाने का था. दस मिनट बाद वो आ गई, मैं बहुत खुश हुआ, वो भी मुझे देख के स्माइल करने देने लगी.

बीएफ फिल्म सेक्सी मूवी हिंदी मेंदोस्तो, आप लोग विश्वास नहीं करोगे कि उनका लौड़ा 8 इंच लम्बा और 3 मोटा था. उसने फिर से मेरी कमर को पकड़ कर पूरा लंड निकाला और फिर झटके से पूरा लंड अन्दर तक पेल दिया.

हिंदी सेक्सी ब्लू फिल्म नई वाली

!परीक्षित ने भी बिना कुछ बोले मुझे चिंटू की गोद से उनकी गोद में ले लिया और उनके लंड को मेरी चूत में डाल दिया. इसके बाद मैंने उसकी चूत पर लंड रखा और उसको भी लंड पकड़ कर रखने को कहा. बस अब मौके का इंतज़ार था कि कब मौका मिले और कब मैं उससे कुछ बात करूँ.

मैंने अपनी आँखों से ही उसका फिगर नाप लिया था, लगभग 34-28-36 का रहा होगा. अब मेरा एक हाथ उसकी पीठ पे घूमते हुए उसे सहला रहा था, दूसरा हाथ उसकी कमर को अपनी तरफ खींचे जा रहा था. लेकिन उसने मुझे अपने मम्मों के दबने पर भी कुछ नहीं कहा, बल्कि वो और भी अधिक ऐसा करवाने के लिए मुझे टच करने आगी थी.

फिर मैंने उसकी गांड पर जोर से एक थप्पड़ लगाया, जिससे उसने अपनी गांड को लंड की तरफ जैसे सरका दिया हो. लंड का टोपा, जो फूल के कुप्पा हो गया था, रानी के मुंह के अन्दर गले से सटा हुआ था और वो मुखरस निकाल निकाल के दबादब चूसे जा रही थी. 20-25 मिनट बीत गए, कामिनी नहीं आई, मुझको बहुत तेज गुस्सा आ रहा था, मैं बाहर के कमरे में जाने के लिये निकला तो उन दोनों की हंसने की आवाज आ रही थी, मैं चुपचाप देखना चाहता था कि क्या हो रहा है.

आआआहह… बहुत दिन बाद किसी ने ऐसे मेरी मस्त चूत चूसी है…”क्यों वो नहीं चूसता था?”वो तो बस लंड अन्दर डाल के चोदना शुरू कर देते थे… जल्दी से सीधे चोद देते थे… ऐसे मस्ती नहीं करते थे…”मेरी बात सुनकर मेरी चुत की और जोर से चुसाई होने लगी. मैंने धीरे धीरे उसकी चुत को स्ट्रोक देते हुए अपने लंड को पूरा का पूरा चुत में धकेल दिया.

पारुल ने हाथ में मेरा लन्ड पकड़ा हुआ था और हाथ से लन्ड की स्किन को आगे पीछे करने लगी.

मैंने कहा- ठीक है, रात को जब तुम्हारी बहन सो जाए, तो तुम अन्दर वाले कमरे में आ जाना. सेक्स बीएफ मेंएक हाथ बालों की तरफ पकड़ के दूसरे हाथ से कमर पकड़ कर उन्हें अपने करीब कर लिया. उत्तराखंड की बीएफ सेक्सीउसने कहा- राजा अब देखो जब तुम हिलाते हो तो सिर्फ जरा सा मजा आता है और अब जब मैं जो कुछ करूँगी, उससे तुम्हें और भी ज्यादा मजा आएगा. वहां पर एक ग्राउंड फ्लोर पर बड़ी सी कैंटीन है… जहां सब लोग खाना खाने आते हैं.

यही वो प्रिया थी जो सवा डेढ़ साल पहले सुधा की मौजूदगी में भी मुझ से प्यार करने में नहीं हिचकी थी और आज जब कि घर में किसी के होने का, किसी को पता चल जाने का, मुहब्बत का राज़ फाश हो जाने जैसा कोई खतरा नहीं था तो ‘वो’ अपनी मर्ज़ी से, अपने कमरे का दरवाज़ा अंदर से बंद कर के बैठी थी.

हालांकि उन तीनों की उम्र लगभग 40 से 50 के बीच थी और मेरे लायक नहीं थे. उस दिन से मुझे एक चीज का अहसास हुआ कि लड़की कैसी भी हो, अगर वो प्यासी है और उसकी प्यास बुझाने को कोई नहीं है या उसका प्रिय उसके पास नहीं है तो इसमें कोई गलत नहीं है कि वो किसी अपने मनचाहे मर्द के साथ अपनी प्यास बुझा ले. दोस्तो, मैं आपकी प्यारी सेक्सी कामुकता से भरपूर बिलकीस बानू… उम्मीद करती हूँ कि आप लोग मुझे भूले नहीं होंगे। आपको तो याद ही होऊँगी.

कुछ करो ना।मैंने कहा- मेरी जान अभी तो बहुत कुछ बचा है। आगे-आगे देखो क्या होता है। पूरी जिंदगी तुम ये दिन भूल नहीं पाओगी।बस फिर क्या था. मैं तो अपनी जीभ निकाल कर उसकी चुत के दाने और उसकी लिसलिसाती चुत का रस पान करने लगा. मैंने बुआ को खटिया पर औंधा लिटाया और उनकी गांड पर बैठ कर लंड हिला हिलाकर घिसा.

लक्खा सेक्सी वीडियो

मैं समझ रहा था कि मैं इसे पटा रहा हूँ, पर शायद वो मुझे पटाने की सोच रही थी. बस बुर और निप्पल ही बचे थे, जो किसी ने मतलब सैम ने ना देखे हों, तो मुझे शर्म भी नहीं लगती थी. घर आकर मैंने लैपटॉप ठीक कर लिया और उसे चैक करने लगा कि लैपटॉप में क्या क्या है.

माँ- तुम बताओ तुम्हारी कल्पना कैसे लड़की के साथ सेक्स करने की है?मैं- सेकेंड तो आप.

जैसे ही बनता है, मैं बता दूँगी।ऐसे ही हमारी रोज बात होती रही और मधु भी अब बिना शर्म के खुलकर बात करती और हम सेक्स चैट करते। परन्तु मिलने का कोई प्लान नहीं बन पाया। ऐसे ही एक दिन मधु का फोन आया वो बोली- यार सुनो.

मैंने लंड उसकी गांड से निकाला और एक टांग हाथ में लेकर उसकी चुत में शॉट लगाने लगा. ’ की आवाजें भी रूम में गूँज रही थीं, रूम का माहौल एकदम रंगीन हो गया था. बीएफ वीआईपीदोस्तो, कैसी लगी मेरी हॉट सेक्स स्टोरी?रांड औरतों की कोई जाति नहीं होती.

कुछ ही क्षणों के बाद मैं प्रिया के होंठ चूम रहा था और प्रिया मेरे!अचानक प्रिया ने मेरे मुंह में अपनी जुबान धकेल दी और मैं आतुरता से प्रिया की जुबान चूसने लगा, अपनी जीभ से प्रिया की जीभ चाटी, प्रिया के उरोज़ मेरी छाती में धंसे जा रहे थे और मैं दोनों हाथों से प्रिया को आलिंगन में ले कर अपनी ओर खींचे जा रहा था. बस बुर और निप्पल ही बचे थे, जो किसी ने मतलब सैम ने ना देखे हों, तो मुझे शर्म भी नहीं लगती थी. फिर दूसरे जब वो मुझे मिला तो बोला- यार, तेरे यहां तो दारू पीने में मज़ा आ गया.

इस पर उसने कहा- ठीक है, पर मुझसे वायदा करो कि जब शादी होगी, तब यह सब काम छोड़ कर मुझे अपनी रियल मदर ही मानोगी. यह चपत वहशियाना नहीं था, इसलिए शायद प्रेरणा को भी पसंद आया और उसने लंड चूसने का अपना सारा अनुभव उस पल उड़ेल देना चाहा।पर इतने वाइल्ड फोरप्ले को मेरा लंड और बर्दाश्त ना कर सका, और लावा उगलने को आतुर होने लगा, मेरे शरीर में कंपकंपी और सिहरन होने लगी, मैंने प्रेरणा के बालों को पकड़ कर उसके सर को अपने लंड में जहाँ तक हो सके दबा लिया और पिचकारी उसके मुंह के अंदर मारने लगा.

मैंने उन्हें लंड चूसने को कहा तो उन्होंने कहा- ये मुझसे नहीं हो पाएगा.

उनकी गोरी गोरी बड़ी गांड, उस पर क़यामत ये कि दीदी पेंटी नहीं पहनती थीं. जिसके पीछे कॉलेज के सभी लड़के पड़े रहते थे, पर ये अपनी नजरें भी ऊपर नहीं करती थी। खुद मैं भी इसे पटाने की सोचता था। मैं ये भी नहीं जानता कि वो मुझे पहचानेगी भी या नहीं। क्योंकि वो कक्षा के किसी लड़के से बात तो दूर. आर्थर और एरिक बोले- हम भी झड़ गए!मैं भी दोस्तो…” मैं बोला और अपना लंड नताशा के मुंह से बाहर निकाल लिया.

जंगली बीएफ हिंदी काम्या का सेक्सी शो चालू था, वो एक एक करके बड़े कामुक अंदाज़ में अपने कपड़े उतारती जा रही थी. एक मिनट बाद वो थोड़ी संयत लग रही थी तो थोड़ा सा पीछे हो के मैंने वापस एक झटका मारा.

अब पारुल उठी और मुझे लेटा कर मेरे ऊपर आ कर मेरे लन्ड को मुँह में ले लिया. उसने आते ही आफिस का गेट अन्दर से बन्द कर दिया और लिप किस के बाद मेरा लंड चूसने लगी. तो दोस्तो, यह फ्री सेक्स कहानी करीब 6 महीने पहले की है, जब मैं दिल्ली से पुणे आया था.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी मूवी बीपी

लिफ्ट देकर चूत मिलीउस कहानी में आपने पढ़ा था कि रात में मैंने एक लड़की को लिफ्ट दी और मुझे चूत मिल गई. मेरे नुकीली नुकीली चूचियां देखकर साहब पागल हो गए और ऊपर से उसे हाथ से दबाने लगे… मसलने लगे. दूर क्यों खड़ी हो?उसने जबरदस्ती मुझे एक गिलास दे दिया और मुँह में लगा कर पिला दिया.

और हां… मैं आपको एक बात बताना भूल गया वो यह कि पारुल के मम्मे एक बच्चे के बावजूद भी बहुत टाइट थे।अब पारुल को भी लन्ड अपनी चूत में लेने की बहुत जल्दी थी लेकिन प्रॉब्लम यह थी कि अंजलि गाड़ी ड्राइव करना नहीं जानती थी और अब रोड भी ऐसा नहीं था कि कहीं गाड़ी किनारे लगाई जाए. फिर जब अगले दिन जब मैं सर के घर किसी बहाने से जाने लगी तो माँ ने मुझसे पूछा- किधर जा रही हो?मैंने माँ से कहा कि मैं अवि के घर जा रही हूँ और 2-3 घंटे में आऊंगी.

फिर पूरे सुपारे को अन्दर डाला तो वो नशीली आवाज में बोली- अब डाल दो न पूरा अन्दर.

जैसे ही उसका पूरा लंड मेरी चुत में घुसा, मेरे मुख से निकला- उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसने जोर जोर से धक्के मारने शुरू किए. मैंने बाहर की लाइट बंद की ताकि फ्लोर पर अंधेरा हो जाए और गेट खोल दिए. मैं बोला- मेरा एक फ्रेंड है, तुम उसके साथ सेक्स करोगी?मेरी बीवी बोली- उसे कोई प्राब्लम तो नहीं होगी?मैंने कहा- मुझे नहीं पता वो मानेगा या नहीं.

मैंने उसमें से झाँक कर अन्दर देखा तो रमेश अंकल मां से कुछ कह रहे थे. उसे अपने साथ एक अच्छे से होटल में ले जाकर चाय के बहाने उससे उसकी फैमिली की डिटेल्स लेने लगी. तो वो मुझे आँख मारते हुए बोलीं- तुम्हारे अंकल को ऐसी मूवी देखना पसंद ही नहीं हैं.

मैंने अपना हाथ उसके हाथ के ऊपर रख कर उसको ट्रेनिंग देना लगा, तो कुछ ही देर में उसकी साँस तेज होने लगी.

बीएफ एचडी प्लेयर: मैं उनको विजुअल डिक्शनरी से पढ़ाता था, जिसमें सारे पिक्चर बने होते हैं. अब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हो रहा था, मैंने कहा- चाची अब मुझे आपको चोदना है.

और चुदी हुई चुत को जो चोदना चाहे, ये उस पर डिपेंड करता है कि वो कितना देगा. सोनी ने धीरे से कहा- ऐसा क्यों किया??तो मैंने कहा- ताकि रूम में कुछ दिखे नहीं. मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया और चूत के ऊपर रगड़ने लगा और अपना काम-रस उसकी चूत के ऊपर गिरा दिया उसने भी मेरे लंड रस को अपनी पूरी चुत पर मल लिया.

एक दिन जब वो थक के अपने कमरे में सोया हुआ था, तब उसकी पैन्ट में उसका लंड खड़ा हुआ था.

वहाँ मुझे दो लड़कियां अन्दर ले कर गईं और उन्होंने कहा कि ऊपर का हिस्सा वो साफ़ कर देंगी और लेग्स की लिए कोई और लड़का करेगा. चाची ने पूछा- आकाश बेटा, तुम मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो?मैं- कुछ नहीं चाची, आज पहली बार मुझे पता चला है कि परियां स्वर्ग में ही नहीं, यहाँ धरती पर भी रहती हैं, जिनमें से एक आप हैं… आज आप बहुत सुन्दर लग रही हैं. जीजा साली की चूत चुदाई में आपको मजा आया? मुझे मेल करें![emailprotected].