हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी हिंदी मधून

तस्वीर का शीर्षक ,

चूत लंड चूत लंड चूत: हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो, क्योंकि मैंने ही उस पीले कार्ड में टास्क लिखा था कि अपने ऊपर का कपड़ा हटा कर वाक करो.

सेक्सी बीफ ओपन

दर्द होगा और मेरी कुंवारी चूत फट जाएगी। प्लीज़ मुझे नहीं करना सेक्स।मैंने सोचा कि ऐसे-कैसे काम चलेगा। उसकी चूत के होंठ मिले हुए थे और चूत सचमुच ही टाइट थी। मैंने तेल लेकर उसकी चूत पर और अपने लंड पर लगाया और फिर अपना लंड उसकी चूत पर रख कर ज़ोर लगाया, तो मेरा लंड फिसल कर नीचे चला गया।उसकी चूत बहुत ज्यादा टाइट थी।मैंने फिर अपना लंड उसकी चूत पर रख कर अन्दर की तरफ धक्का लगाया. पति पत्नी का नंगा सेक्सी वीडियोतो पापा बोले- इनवर्टर की लाइट जला लो और पढ़ाई कर लो।मेरी बहन और मैं पढ़ाई कर रहे थे, तभी मेरी बहन मुझसे बोली- उस दिन तू जो कर रहा था.

’ निकल रही थी, अब नेहा चुदाई से थक चुकी थी और वो भरभरा के झड़ गई।डॉक्टर सचिन इतनी जल्दी कहाँ झड़ने वाले थे, उन्होंने उसको साइड से लिटा दिया और लंड डाल कर पेलना चालू कर दिया।नेहा बोली- आह. सेक्सी बीपी वीडियो मारवाड़ी देसीऔर रहेजा मुझे प्रोमोशन का लालच देकर और एक लाख रूपए देने का कह कर मेरी बेटी मेघा को मेरे सामने ही भंभोड़ने लगा था।अब आगे.

जिसपर सिर्फ़ मेरा नाम और कमरा नंबर लिखा था।मैंने मैनेजर से इसके बारे में पूछा तो उसने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया।सिर्फ़ उसने इतना बताया कि कवर देने वाली मैडम होटल छोड़ते समय ये दे गई थीं।मैंने होटल छोड़ कर बाहर निकल कर देखा तो कवर में 1000 रु के 10 नोट थे। मैंने भी हँसते हुए उसे अपनी जेब में रख लिया और वहाँ से अपने बस स्टैंड की तरफ चल दिया।तो दोस्तो.हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो: वो मेरी बांहों पे हाथ रख कर बोला- तो भाभी जान, क्या इरादा है?मैं गुस्से से बोली- तुम चाहते क्या हो?देवर- मैं आपको चोदना चाहता हूँ.

जो मुझे किसी ना किसी बहाने तंग करता रहता था। उनमें से एक लड़का राहुल भी था। वो अच्छा सुंदर स्मार्ट बॉय था.उन्होंने बैठते हुए मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं, मेरे पूरे शरीर में बिजली दौड़ने लगी। मैं भी उनकी चूची को चूसने लगा।फिर धीरे-धीरे करके मैंने उनके सारे कपड़े उतार दिए और उनके पूरे मदमस्त बदन को चूमने लगा।जैसे ही उनकी पेंटी को उतारा.

सेक्सी वीडियो हिंदी में नाम - हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो

फिर उसके पापा उसको घर ले गए।अब हमारी फोन पर बात होती है, मुझे उसकी बहुत याद आती है।दोस्तो, मेरी हिंदी सेक्स कहानी पसंद आई या नहीं, मुझे मेल करें।[emailprotected].मैं बिना कुछ सुने लंड डाले जा रहा था। इधर पूजा आंटी मेरे लंड को पीछे से चाट रही थीं। वो कभी मेरी गांड में उंगली करतीं.

तो उसने कहा- आरू मैं तुम्हें हर जगह किस करना चाहता हूँ।मैंने कहा- रोका किसने है. हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो तो वो आ जाती।एक दिन मैंने उससे कह दिया- पूजा मैं तुमसे प्यार करता हूँ।उसने भी कहा- मी टू।फिर हम दोनों मैं खुल कर बातें होने लगीं.

अब उसकी शादी हो चुकी है। फिर भी मौका मिलते ही मैं उनकी चुदाई कर लेता हूँ।[emailprotected].

हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो?

जब तक कि सारा लहू निचुड़ नहीं गया।काफी देर बाद उसने निकाला तो ‘फच्च. क्योंकि मेरे लिए सब कुछ नया था। मैं सोच रहा था कि जहाँ पर मुझे अपना लिंग डालना चाहिए. मुझे भी ढेर सारा मूत आया। मैं ठीक उसकी मूत की धार के ऊपर ही मूत रहा था। मैंने थोड़ा उचक कर ट्रॉली के उस पार देखा तो पाया कि वो भी मेरी परछाई को देख रही थी।मैंने जब मेरी परछाई पर गौर किया तो देखा कि ज़मीन पर मेरे लंड की परछाई बहुत बड़ी नज़र आ रही थी।खैर.

और इस दुपट्टे को पर्स में रख ले।दीदी ने मुस्कुरा कर दुपट्टे को अन्दर रख लिया।निहाल- तेरा सीना बहुत अच्छा लग रहा है।दीदी- निहाल शटअप. वो उतनी ज़्यादा आवाज़ करने को होती। लेकिन मैं उसके मुँह में अपना मुँह दिए था. तो उसने मुझे रोक दिया।मैंने फिर से उसके मम्मों को मसलना शुरू कर दिया। थोड़े टाइम बाद उसने अपने हाथ से मेरा हाथ अपने मम्मे के ऊपर ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया.

तो उसने मेरा साथ देना शुरू कर दिया।मैंने उठा कर कमरे का पर्दा डाल दिया और लाइट बंद कर दी। इसके बाद मैंने उसे कसके जकड़ लिया और किस करता रहा। किस करते करते हम दोनों के कपड़े कब उतर गए. ब्लैंकेट डाल दो ऊपर और नाइटी और इनके निक्कर और टी-शर्ट इधर सिरहाने रख दो।वो दोनों नंगे ही चिपक कर सोने लगे।मैं अपना ब्लैंकेट ले कर आया और साइड में लेट गया।नेहा डॉक्टर साहब से चिपक कर चूमते हुए बीच में आँखें बन्द कर लेती थी। मुझको उसकी गांड पर हाथ फेरने का बहुत मन कर रहा था।मैंने उसकी गांड पर जैसे ही हाथ फेरा. और बड़े ज़ोरों से उनके होंठों को अपने होंठों से चूसने लगा, उन्होंने भी अपना मुँह खोल दिया और हमारी जीभ आपस में मिल गईं, हम एक-दूसरे की जीभ को मस्ती से चूसने लगे, एक-दूसरे की लार को पीते हुए गरम होने लगे.

वो आते ही बाथरूम में चली गई थीं और इसके बाद जो भी हुआ उसमें हमने ज़्यादा बात ही नहीं की थी।मैंने भी उन्हें अपने बारे में सब बता दिया। खास बात ये कि हमने एक-दूसरे से अभी तक कोई पर्सनल बात नहीं की थी। जैसे कि आपने सेक्स के लिए मुझे क्यों पसंद किया? या फिर हम एक-दूसरे की सेक्स लाइफ से संतुष्ट हैं या नहीं. तुमको बहुत मिस करता रहता हूँ। शादी से पहले की बात याद आती है।वो बोली- हाँ भईया.

टेंशन मत लो।उसने पास रखा हुआ गिलास उठाया और पानी पिया।अब वो अपने कपड़े उतारने लगी। कपड़ों में ही क्या मस्त आईटम लग रही थी साली.

मैं भी ढेर सारा मूत कर अपने आपको काफ़ी आराम महसूस कर रहा था। जब मैं आगे आया तो देखा कि वो भी हम दोनों के मूत की बहती धार को ही देख रही थी।मेरी निगाह मिलते ही वह शर्मा गई.

तो वह मेरा लंड अपने मुँह में ले कर पागलों की तरह चूसने लगी।इस सबसे मुझे काफी मजा आ रहा था। वो भी बार-बार बोल रही थी ‘आह्ह. तो तुम्हारा ही नुकसान है। तुम इस नौकरी को छोड़ोगी तो दूसरी नौकरी इतनी आसानी से नहीं मिलेगी. मेरा नाम रोहन है, औरंगाबाद महाराष्ट्र का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 21 साल है और में इंजीनियरिंग का स्टूडेंट हूँ। मैं दिखने में एक स्मार्ट और आकर्षक युवक हूँ और मेरा लन्ड औसत से काफी लंबा और मोटा है।मैं पिछले तीन सालों से अन्तर्वासना पर सेक्स कहानियां पढ़ता आ रहा हूँ.

जैसे कि किसी फिल्म में होता है। सामने सोफा और टेबल था और शायद बेडरूम अन्दर था।मैं सोफे की तरफ बढ़ी. पर वो कुछ नहीं बोला और थोड़ा शर्मा गया।मूवी में 4 लड़के एक लड़की को बुरी तरह चोद रहे थे। हम तीनों कामुकता से देखने लगे।अब ये सब देख कर राज भी पागल हो रहा था।मैं उठी और राज की गोद में बैठ गई. और मैं बोर हो रही हूँ इसलिए तुमको बुला लिया।मैं तो बस मैडम को ही देख रहा था, मैंने अपना लंड एड्जस्ट किया.

30 बजे फिल्म के लिए रवाना हुए, मैं तो इसी मौके की तलाश में था।भाभी ने ब्लैक सलवार सूट पहना था, उन्होंने अन्दर ब्रा भी नहीं पहनी थी.

तुम हो ही इतनी हॉट कि मैं अपने आपको संभाल नहीं पाया और तुम्हारी चूत में ही झड़ गया।फिर जीजू मुझे एक टैबलेट का पैकेट दिया और बोले- यह रात को खा लेना कुछ नहीं होगा।मैं बोली- अब मैं जा रही हूँ. उसका नाम नीलम था। वो देखने में एकदम कन्टाप माल लगती थी।वो ज्यादातर सलवार-सूट ही पहनती थी. वो इतनी ज्यादा रसीली थी कि जैसे मेरे लंड को अपने अन्दर लेने के लिए एकदम तैयार बैठी हो।मैंने सोनिया की दोनों टांगों को फैला दिया और झुक कर उसकी चूत में मुँह लगा कर चूसने लगा।वो छटपटा रही थी.

तो प्रिया क्या सोचा तुमने?प्रिया- सर मुझे इस नौकरी की बहुत जरूरत है. मैं उन्हें लेकर आती हूँ।मैं उनके बताई जगह पर गई तो देखा एक कार खड़ी थी और कार से बाहर एक लड़की सलवार सूट में खड़ी थी. मैं भी झड़ने वाली हूँ।मैंने फुल स्पीड से उसकी चूत में उंगली डाल कर हिलाने लगा.

पर वो किसी को भाव नहीं देती थी।दीदी ने बिस्तर ठीक कर दिया और हम दोनों सोने के लिए बिस्तर पर आ गए। सारी लाइट बंद थीं, सिर्फ़ एक नाइट बल्ब जल रहा था। कुछ ही देर में हम दोनों सो गए।रात को अचानक नींद में मेरा हाथ उसके पेट पर चला गया कि महसूस किया कि उसने अपने कपड़े को पेट पर से हटा लिया था। मेरा हाथ उनके नंगे पेट पर था। मेरी नींद खुल चुकी थी.

एकदम मखमल जैसी।अब वो पिंक ब्रा और पैंटी में थी, मैं उसे लगातार चूमे जा रहा था, मैंने उसकी पीठ पर बहुत किस किया और कमर को बहुत सहलाया और किस किया।अब मैंने उसकी ब्रा उतार दी और उसके मम्मों अपने मुँह में दबा कर खाए जा रहा था, उसकी चुदास भी भड़क रही थी।अब मेरा एक हाथ उसकी चूत पर था और एक हाथ उसके एक चूचे पर लगा था। मैं उसे सहलाते हुए किस किए जा रहा था और वो कामुकता से चिल्ला रही थी ‘आह्ह. कम से कम किसी का तो भला होगा।फिर मैं बोली- अच्छा जी किसी का भला करने के चक्कर में कहीं मेरे साथ कुछ बुरा ना हो जाए।जीजू मेरी जांघों को सहला रहे थे, वो मेरी गर्दन पर गर्म साँस छोड़ते हुए बोले- मेरी रानी.

हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो ’ और उसका बदन ढीला पड़ गया।सुहाना की बुर भी गांड चुदाई से झड़ गई थी और सुहाना का जिस्म फ़ड़क रहा था। अगर मेरा लंड सुहाना की गांड में ना फंसा होता. उसने मेरा सहयोग करते हुए जीन्स को अपने जिस्म से अलग हो जाने दिया।अब वो मेरे सामने बस एक ब्लैक कलर की पैंटी में थी। मैंने अपना हाथ उसकी बुर पर डाला.

हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो मेरे पिताजी की पहले ही डेथ हो चुकी थी सो मेरे घर में मेरे अलावा मेरी बीमार मां और जवान बीवी ही थे. मेरी आदत पड़ गई तो दिक्कत हो जाएगी।नेहा अब बिल्कुल खुल चुकी थी, वो बोली- हाँ बहुत सीधे हो ना जैसे.

फिर साड़ी को वहीं पल्ली के नीचे रखते हुए बोलीं- बारिश में गीली हो जाएगी.

सेक्सी पिक्चर चोदा वाला

के सेकेंड सेमेस्टर में था और मैं समर इंटर्नशिप के लिए गुड़गांव की एक कंपनी में सिलेक्ट हो गया था। मेरी इंटर्नशिप अप्रैल 2013 से स्टार्ट थी. वो अन्तर्वासना पर मेरी पहली कहानी है। इसलिए अगर मुझसे कोई गलती हो जाए तो मुझे माफ़ कीजिएगा।जो कहानी मैं आज आपको बताने जा रहा हूँ. उन्होंने बाथरूम की कुण्डी को बाहर से लगा दी और बोले- वह एक घंटे से पहले नहीं आने वाली है। तब तक हम निपट लेंगे।मैं बोली- ठीक है.

तब उसने उसकी चूत से जीभ निकाल ली और ऊपर को खिसक गया, वो बिल्कुल पीठ का सहारा ले कर बैठ गया।मैं बहुत बुरी तरह से पैन्ट में ही झड़ चुका था।अब नेहा उसके लंड को बुरी तरह से मसले जा रही थी। उसका मोटा लंबा लंड पूरा तना हुआ था। उसने नेहा के बाल पीछे से पकड़ रखे थे।कबीर ने मेरी तरफ पीठ कर ली और अपना लंड नेहा के मुँह में घुसा दिया. फिर दो उंगली डाल दीं।उसे भी मज़ा आने लगा।फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत से लगा दी और जोर से चाटने लगा। मैंने देर तक उसकी चूत को चाटा और चटाई में ही उसकी चूत झड़ गई।अब मैंने उसे अपना लन्ड थमा दिया और वो उसे सहलाने लगी।मैंने उसे लंड चूसने का बोला. मुझे चोट लग गई।मैंने कहा- बस झटका खा गई तो मैं क्या करता?तो कहने लगी- ठीक है.

मैम ने मुझे जाने के लिए कह दिया।कुछ दिन बीतने के बाद एक दिन मेम ने मुझे अपने पास बुलाया और उन्होंने मुझसे दिए हुए वर्क के बारे में पूछा- वर्क हो गया?तो मैंने कहा- हाँ मेम हो गया।फिर वो अपने सिस्टम में कोई काम करने लगीं.

वो उससे कुछ सामान लेने आई थी। वो तुरंत ही वापिस भी चली गई।उसके बाद वो कमरे में आई. कभी वो अपना हाथ मेरे लंड पर रखती कभी मेरा हाथ अपनी बुर पर रखवा लेती। मैं भी उसको नहीं रोकता था।हमारे पेपर करीब आ चुके थे और हम पेपर की तैयारी में जुटे थे।एक दिन मैं सुबह को उठा तो मैंने देखा कि मेरे पापा और मॉम कहीं जाने के लिए तैयार हो रहे थे।मैंने पूछा- पापा आप लोग कहाँ पर जा रहे हो?पापा ने बताया- बेटा तुम्हारी मामी की हालत ठीक नहीं है. तो क्यों ना मज़े से चूत चुदवाऊँ।बस मैंने लाइट जलाई और खाला की मैक्सी उतार दी। उनकी चूचियां बड़ी बड़ी थीं और खाला की बॉडी मस्त खुशबू दे रही थी।उन्होंने कहा- बेटा, अगर तुझे चुदाई करना ही है.

तो मुझको मालूम चल जाएगा कि उसकी और डॉक्टर की क्या बात हुई।एक घंटे के बाद मैं लौट कर आया. अब रिया एकदम बहुत उत्तेजित हो गई थी और हम दोनों के लौड़ों से भी खूब डर्टी बातें करती हुई चुद रही थी।मैंने अमन को आँख मारी और हम दोनों एक ही पोजिशन में एक साथ उसकी चूत और गांड से लौड़े पीछे खींचते और एक साथ दोनों लौड़े उसकी चूत और गांड के अन्दर डाल देते। जब एक साथ दो-दो लंड रिया की चूत और गांड में घुसते. उनका मेरी गांड पर हाथ फेरना अच्छा लगा। शायद मैं 4 महीनों से चुदी नहीं थी.

साले कुत्ते आजा लगा दे आज अपना पूरा ज़ोर।मैं भी ये सुनकर पागल हो गया और उसके मम्मों को पकड़ कर खींच दिया। वो तड़फ कर बोली- साले निर्दयी ऐसा मत कर. मुझसे बात क्यों नहीं कर रहे हो?लेकिन मैं चुप रहा।वो बहुत गिड़गिड़ाने लगी.

’मेघा यह कहकर अंगड़ाई लेने लगी।वह सही कह रही थी, रहेजा का लंड मेरे लंड से मोटा और लम्बा था, इतनी छोटी बुर में उसको ले पाना आसान काम नहीं था।‘आआहह्ह… पापा बहुत दर्द हो रहा है. ’ सुन रहा था, मैं समझ गया कि अब दोनों का पानी निकलने वाला है।मामा ने ज़ोर-जोर से ‘आह्ह. सो उसको चुदवाने के सिवा कुछ समझ में नहीं आ रहा था।उसने मेरे चूतड़ों को जकड़ लिया और मैं उसकी चूची को अपने मुँह में लेकर उसकी धकापेल चुदाई करने लगा। मैं होंठों से उसके होंठ और चूची दोनों को चूसते हुए चोदने में लगा था।मैं शबनम को पूरी ताकत और जोश से पूरा 20 मिनट तक चोदता रहा, शबनम भी मुझसे पूरे मजे से चुदवाने में लगी थी।उसने अपनी जिन्दगी में पहली बार चुदवाने का मज़ा पाया था.

ये तो बेडरूम था… मैं अब और दुविधा में पड़ गया कि अब क्या होने वाला है।तभी अँधेरा हो गया तो मुझे लगा लाइट चली गई है.

’ की आवाज निकली, चूत के गीली होने की वजह से मेरा पूरा लंड सरसराता हुआ अन्दर चला गया।भाभी भी पूरे जोश में थी. दोपहर को आएंगी।तो भाभी बोली- थोड़ी लस्सी मिल जाहगी के?मैं बोला- भाभी. साथ ही अपने लंड से उसकी चूत में एक ज़ोर का धक्का लगा दिया।मेरा सुपारा चूत में घुस गया और अन्दर किसी जगह अटक गया।वो दर्द से रोने लगी.

क्या बात करनी थी?एक बार तो मैं डर गया कि अगर दांव उल्टा पड़ गया तो बहुत बदनामी होगी, मैंने कहा- पहले आप बताओ अगर मेरी बात अच्छी नहीं लगी तो इस बात को यहीं ख़तम कर दोगी या नाराजी में कुछ और कर दोगी?वो बोली- ऐसी क्या बात करनी है जिससे मुझे बुरा लग जाएगा. तो मैं भी जोश में आ गया और लगातार आंटी की चूत में झटके देने लगा।कुछ मिनट बाद वो दूसरी बार झड़ चुकी थीं, अब मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने पूछा- कहाँ निकालूं?इतने पूजा आंटी ने कहा- मेरे मुँह में लंड देना।मैंने लंड निकाल कर उनके मुँह में दे दिया। वो काफ़ी तेजी से लंड चूसने लगीं और मेरा सारा पानी पूजा आंटी के मुँह में निकल गया।मैंने जैसे ही उनके मुँह से लंड निकाला.

तो मैंने उसे बताया- आज घर पर कोई नहीं है।उसने मुझे धीरे से कुर्सी पर बिठाया और मेरा हाथ पकड़कर माफ़ी मांगने लगी। वह नीचे बैठ कर माफ़ी मांग रही थी कि तभी अचानक वह हँसने लगी। मैंने उससे हँसने का कारण पूछा. !मैंने कहा- हाँ!मैं उसके मम्मों को दबाने लगा। उसके चूचे थोड़े सख्त थे. भाभी का क्या मस्त जिस्म है?सविता भाभी ने कहा- वरुण मैं नहाने जा रही हूँ.

देसी सेक्स एचडी वीडियो

30 बजे फिल्म के लिए रवाना हुए, मैं तो इसी मौके की तलाश में था।भाभी ने ब्लैक सलवार सूट पहना था, उन्होंने अन्दर ब्रा भी नहीं पहनी थी.

अब तो यह उस दिन वाली बात मम्मी को बता देगी या बता चुकी होगी।लेकिन मम्मी को देख कर ऐसा कुछ नहीं लगा. तो वो बोला- भाभीजी आपके पैर बहुत ही खूबसूरत हैं। आपने जो एक पैर में पायल पहनी है. रात को भी खूब मजे लेंगे।मैं बोला- हाँ मेरी जान मगर रात को मैं तेरी गांड भी मारूँगा।‘हाँ.

समझ ही न सकी कि क्या करना है।मैंने उसकी जुबान चूसनी शुरू की तो उसने भी वही किया।फिर मैं धीरे से नीचे को खिसकने लगा, उसकी गर्दन पर मुँह से गर्म साँसें छोड़ने लगा, उसकी गर्दन पर होंठों से गीला करने लगा. साली तुझे कुछ करना भी नहीं आता। अच्छा है मुझे सुनाई दिया, वरना आज तो तू किसी के हाथ पकड़ी जाती। साली चुड़ैल. सेक्सी वीडियो चुदाई खुल्लम-खुल्लातभी कांतिलाल जी मेरे ऊपर झुक गए और चूतड़ों को छोड़ मेरे स्तनों को दबोचते हुए धक्के मारने लगे।दो मिनट के धक्कों के बाद उन्होंने मेरा एक स्तन छोड़ मेरी कमर पकड़ कर अपनी ओर खींची, मैं उनका इशारा समझ गई कि वे मुझे अपनी कूल्हे उठाने को कह रहे हैं.

तो मैडम ने देख लिया।उन्होंने पूछा- क्या कोई प्राब्लम है?मैंने ‘नहीं’ कहा. उसमें एक बहुत ही चुदक्कड़ लड़की पढ़ती थी, उसका नाम शिवानी था, उसका फिगर 34-28-30 का था।मेरा स्कूल गाँव में था। वहाँ कोई स्कूल ड्रेस में नहीं आता था। शिवानी हमेशा कसी हुई सलवार सूट पहन कर आती थी।एक बार मैं और मेरे दोस्त चुदाई की बातें कर रहे थे.

मतलब पिछले दशहरे की है।हम दो दोस्त रात को दशहरे के मेले में घूम रहे थे।तभी थोड़ी देर बाद मुझे एक लड़की दिखी जो मेरी फ्रेंड थी, उसका नाम अनु था, वो देखने में बहुत ही खूबसूरत थी, उसका फिगर 32-30-36 का था।जब वह मेरे पास आई तो उसने मुझे ‘हैलो’ कहा और हम थोड़ी देर तक बातें करते रहे।बातें करते-करते मैंने उससे पूछा- कुछ खाना-पीना है?तो उसने कहा- खाना तो कुछ नहीं है. चाची आपको आवाज़ दे रही हैं।उन्होंने जल्दी जल्दी चुत को चूस कर पानी निकाला. मैं उनके मम्मों को दबाने लगा, जब वो नॉर्मल हुईं तो मैं धक्के मारने लगा।अब मैंने पूरा लंड उनकी गांड में डाल दिया, उन्हें भी मज़ा आने लगा।थोड़ी देर में ही मैं उनकी गांड में झड़ गया।अब हम दोनों नंगे ही सोने लगे।दीदी ने कहा- आई लव यू भाई.

आना कब है?प्रिया बोली- अगर कोई प्रॉब्लम न हो तुमको तो कल ही आ जाओ।मैंने कहा- ठीक है. फिर मेरी गर्दन पर अपनी जुबान से चाटने लगा।अब वो मेरी गर्दन से होते हुए मेरे दोनों चूचों को बारी-बारी से ब्रा के ऊपर से ही चूम रहा था।फिर वो नीचे कमर पर आया और मेरी कमर पर अपनी जुबान चलाने लगा, मेरी आग और भड़क उठी और मेरे मुँह से आवाज निकलने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… हम्म. तो मेरा हाथ उसकी पैन्टी को छू गया। उसकी पैन्टी गर्म और गीली हो रही थी.

पर वो नहीं मानी। तब मैंने तुरंत जा कर अपनी देवरानी को बताया- मुझसे मिलने मेरी दो सहेलियां आ रही हैं। हो सकता है कि मैं उनके साथ थोड़ा घूमने और बाज़ार करने शहर जाऊं.

वो सिर्फ मेरे बगल में सोएगी।नेहा मुस्कुरा कर बोली- जैसा तुम चाहो जानू।डॉक्टर साहब ने कहा- कपड़े तो पहन लो।नेहा बोली- ऐसे ही सोओ न।डॉक्टर साहब बोले- और तुम्हारा ये फुसफुस उठ गया तो?नेहा बोली- एक तरफ बीवी बोलते हो और इस चूत के ढक्कन से डर रहे हो।नेहा ने डॉक्टर साहब को नंगा ही अपने ऊपर खींच लिया और कम्बल ओढ़ कर दोनों चिपक कर सो गए।मैं भी क्या करता. वो आते ही बाथरूम में चली गई थीं और इसके बाद जो भी हुआ उसमें हमने ज़्यादा बात ही नहीं की थी।मैंने भी उन्हें अपने बारे में सब बता दिया। खास बात ये कि हमने एक-दूसरे से अभी तक कोई पर्सनल बात नहीं की थी। जैसे कि आपने सेक्स के लिए मुझे क्यों पसंद किया? या फिर हम एक-दूसरे की सेक्स लाइफ से संतुष्ट हैं या नहीं.

जो नहा रही थीं। मैं ड्राइंगरूम में बैठा बोर हो रहा था तो मैंने मोबाइल पर अन्तर्वासना की वेबसाइट खोली और एक सेक्सी कहानी पढ़ने लगा।तभी थोड़ी देर बाद एक माल किस्म सी लड़की आई. पर मैंने रितु को यह नहीं बताया और उसके मुख में ही स्खलित हो गया।अब मैं वहीं उसके बगल में लेट कर सुस्ताने लगा। करीब 5 मिनट के बाद मैं फिर तैयार था। इस बार मैंने उसका टॉप भी अलग कर दिया और उसकी चूत पर लंड टिका दिया।मैंने तीन बार कोशिश की. उसने सफेद रंग की किसी अच्छी कंपनी की पतली सी पेंटी पहन रखी थी।जैसे ही उसने जीन्स को शरीर से अलग किया। उसकी चिकनी टाँगों के बीच चूत के रस से दाग लग चुकी सफेद पेंटी और सर के बालों में आधुनिक तरीके से बंधा जूड़ा.

अगर सोचोगे तो कुछ नहीं मिलेगा।तो दोस्तो, मेरी प्यारी भाभी की मस्त चूत और गांड चुदाई की कहानी यहाँ खत्म होती है।आपको कैसी लगी मेरी सेक्स स्टोरी दोस्तो. इसलिए उन सभी से दूर ही रहता था। वैसे भी लड़कियों से बात करना मेरे बस का रोग नहीं है।एक बार मम्मी ने एक मेड गीता आंटी को काम पर रखा। वह बहुत सुंदर नहीं थीं. मैंने एक-दो किस की और फिर से पेलना चालू कर दिया।थोड़ी देर बाद बाहर से उसकी माँ की आवाज़ आई- अभी कितनी देर है?नज़मा बोली- बस जब यह मशीन निकले तो आती हूँ.

हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो तो मैंने तत्काल मुँह फेर लिया।वो बोली- अब आप भी फ्रेश हो लें।मैं तुरंत ट्रॉली के पीछे गया और खड़े होकर मूतने लगा. और कुछ पलों के बाद पूछा- दर्द कम हुआ।उसने कहा- हाँ भाई, अब धीरे-धीरे करो।मैंने कहा- ठीक है।फिर मैंने उसकी गांड पर कुछ और थूक लगाया और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर पेल दिया।तो वो चिल्लाई- उई.

ईडयन सेक्स

उसने अपनी आंखें खोल लीं। मैंने उसे देखा तो अब वो शर्मा रही थी।उसने अपना चेहरा घुमा लिया। मैं उसके कान के करीब गया।मेरे मुँह से फिर एक स्वाभाविक वाक्य निकल पड़ा- आई लव यू. पूरी मादरचोद है साली!यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!माया ने प्रश्नसूचक निगाहों से मेरी तरफ देखा।मैं- यार, कोई मुझसे भी तो पूछो? मैं कोई बाँट कर खाने वाली चीज़ हूँ, जो आपस में मेरा बंटवारा कर रही हो?‘हम्म. मेरी मौसी और उनका 6 साल का बेटा।अब तो मैं रोज़ ही उनकी जवानी देख कर अपने लंड का पानी निकालता था। एक बार मैं कमरे में उनकी ब्रा के साथ मुठ मार रहा था.

जिससे उनको बड़ा मज़ा आ रहा था।इसी तरह 5-10 मिनट करने से उनकी चुत ने धीरे-धीरे पानी छोड़ना शुरू कर दिया। फिर मैं भी उनको बाँहों में लिए हुए, लंड उनकी चुत में से बाहर ना निकले. तो वो गुस्सा हो जाएंगे।इतना कहते हुए वो गर्म हो गई और जोर-जोर से आगे-पीछे होकर मेरे मुँह में वो झड़ गई।अब वो मेरा लंड अपने पैर के अंगूठे से हिलाने लगी। मेरा लंड झड़ गया तो बोली- मैंने कहा था न. सेक्सी चुदाई भेज दोबस उसी में तो सारा मजा है।साधना ने कहा- लेकिन वो तो एक बार झड़ने के बाद सो जाते हैं।मैंने कहा- तू उसे सोने मत देना.

फिलहाल मैं अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन करने के लिए पुणे में रहता हूँ। इस वक़्त मेरी उम्र 24 साल की है.

पर वो नीचे जा चुकी थी। मैंने टिकट ली और हम मेट्रो से घर आ गए।मैंने नहा कर कुछ देर आराम किया और शाम हुई तो सब बातें फिर से याद आने लगीं। अभी तक प्रिया की कॉल नहीं आई थी। ऐसे ही दो दिन बीत गए. तो मेरे शरीर में तो करंट जैसा दौड़ जाता और मेरा लंड तो सातवें आसमान पर था। डांस में ही मैंने उसके पिछवाड़े को 2-3 बार छू लिया और उसके मम्मों को भी स्पर्श कर दिया।नाच वाच के बाद हम साथ ही बैठ गए और बातें करने लग गए।बातों ही बातों में मैंने उसकी बहुत तारीफ की और उसको बोल दिया- आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो.

तो वो काफ़ी टाइट था। उसकी इसके पहले कभी चुदाई नहीं हुई थी।मैंने अपने लंड को उसके अन्दर धकेला. इसलिए वो उदास रहती है।ऋचा तनु के साथ रहती थी, दोनों काफी अच्छी सहेलियां थीं. भरने आ जाओ।भाभी बोलीं- आ रही हूँ।भाभी थोड़ी देर में आ गईं, उन्होंने होंठों पर लिपस्टिक लगा रखी थी, वे शायद नहा कर आई थीं।भाभी के मटके में मैंने नल का पाइप लगा दिया और साइड में खड़ा होकर भाभी का मुँह देखने लगा। मैंने सोचा कि आज कुछ कर ही देता हूँ.

मेरी चूत खा जा भोसड़ी के!मैं उनकी चूत चाटता रहा, फिर वो मेरे मुँह में ही झड़ गईं।कुछ देर आराम करने के बाद मुझे उनकी गांड मारने इच्छा हुई, मैंने पूजा आंटी से कहा- मुझे आपकी गांड मारनी है।पहले उन्होंने मना किया.

बल्कि लाल-लाल टोपा लगभग बाहर ही निकाल लिया और आंखों के सामने किताब रख पढ़ने की एक्टिंग करने लगा।कुछ देर बाद पौंछा लगाती हुई गीता आंटी मेज के सामने पहुँची. उन दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहने। नेहा ने अपने बाल वगैरह सही किए और बिल्कुल ऐसे बन गई. तो आपका अपने आप ही छूट जाएगा।फिर एक दिन मैं कैफे में बैठ कर उसकी फोटो को देख कर हाथ से रहा था.

एक लड़का एक लड़की सेक्सीदोनों दिखने लगे।अब मैंने अपने खड़े लंड को हाथ में लिया और उसकी चूत के मुँह पर रखा। अब मैं धीरे-धीरे लंड को उसकी चूत में डालने लगा।जैसे ही लंड आधा अन्दर गया. सिर्फ चुदाई ही नहीं बहुत प्यार भी किया था। मैं पहली बार किसी से इतनी भावनात्मक रूप से जुड़ गई थी।मेरे पापा मुझे बहुत प्यार करते और मेरी हर फरमाईश को पूरा करते। बदले में मैंने उनको अपना मासूम गोरा नाज़ुक शरीर सौंप दिया था। पापा मुझे हॉस्टल से सैटरडे नाईट को ले जाते.

चोटी बहु को चोदा

तो मुझको मालूम चल जाएगा कि उसकी और डॉक्टर की क्या बात हुई।एक घंटे के बाद मैं लौट कर आया. ’यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!कुछ ही मिनट के बाद मैं रुक नहीं पाया और उसके ही मुँह में झड़ गया. मैंने तुम्हें रात में बालकनी में देखा था।मैंने कहा- हाँ अन्दर थोड़ी बेचैनी हो रही थी.

प्लीज मेरी टांगें पकड़ो।डॉक्टर साहब ने नेहा की टांगें पकड़ लीं और चूत में धक्के मारने शुरू कर दिए।अब कमरे में लंड की चूत पर पड़ने से ‘फट. बेडरूम में कोई नहीं था।मैं उसके ड्राइंग रूम के साइड में जो विंडो थी. दोस्तो, अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज का मैं नियमित पाठक हूँ। बहुत दिन से सोच रहा था कि मैं भी अपनी आप बीती आप सबको सुनाऊँ.

बनाने दो।वो मुझसे बोली- कभी-कभी कुछ सेवा कर दिया करो।मैंने कहा- यार, तुम मुझे सेवा में लगा हुआ नहीं देख रही क्या?वो बोली- क्या काम करा लिया फुसफुस साले. जो बाहर से बिल्कुल साफ़ दिखाई दे रही थी।उसने मुझसे प्यार से पूछा- और लोग अभी नहीं आए?तो मैंने बोला- और लोगों को काम था. और फिर एक-दूसरे को बांहों में लेकर चूमाचाटी करने लगे।वो क्या कमाल की फ्रेंच किस कर रही थी।मैं उसे चूमते-चूमते उसके मम्मों को सहलाने लगा जब उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसके चूचों को दबाने लगा।हम दोनों ऐसे ही दस मिनट तक फ्रेंच किस की। उसकी बाद अलग हुए.

गरदन और कन्धों पर बेतहाशा चूमना शुरू कर दिया।इस तरह के अटैक से कैसे निपटना है, मैं सोच ही रही थी कि उसने मुझे पास पड़े हुए बिस्तर पर गिरा दिया और मेरे शरीर से तौलिया अलग कर दिया।मैंने अपने नंगे बदन को बेडशीट से ढकने के कोशिश की. दोस्तो, मैं राज रोहतक से अपनी नई कहानी लेकर हाजिर हूँ। जो मुझसे अपरिचित हैं उनके लिए, मैं छह फिट का गोरा और तगड़ा लड़का हूँ, मैं जिगोलो बनना चाहता हूँ।दोस्तो, मैं आप सभी से एक बात कहना चाहता हूँ.

उनके बगल में भाभी थीं और भाभी के बगल में मैं लेट गया।भाभी बच्चे की तरफ मुँह करके लेट गईं। भाभी की गांड मेरी तरफ थी। भाभी की गांड देख कर मेरा मूड बन गया। मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया, मेरा लंड काफी लम्बा और मोटा है।भाभी की गांड की साइज़ 38 इंच लग रही थी। मुझे भाभी का साइज़ तो मुझे पूरा नहीं पता.

मैं पढ़ा दूँगा।क्योंकि मेरी फैमिली में ये चीजें आम बात थीं।लेकिन उसने बताया- मैं और मेरी दीदी किराए पर रहते हैं. एसएस सेक्सी वीडियो चुदाईहमारी कोई बात भी नहीं हुई। मैंने भी बस उसका साथ इधर तक का समझा।आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी. सेक्सी बीपी ऐपइसलिए काफी उत्सुक था और शायद वो भी।उसने घर पर बहाना बना दिया कि वो और मैं उसके मामा के यहाँ जा रहे हैं।कह कर हम दोनों घर से निकल आए।करीब सवेरे साढ़े आठ बजे हम दोनों उसकी सहेली के यहाँ पहुँच गए।उस सहेली का घर काफी बड़ा था।विभा ने डोरबेल बजाई और एक बेहद कमसिन कली जैसी हसीना ने दरवाजा खोला. दर्द हो रहा है।मैंने धीरे से दबाना शुरू कर दिया। शायद अब उसे मजा आ रहा था। मैं कपड़ों के ऊपर से ही उसकी बुर को सहलाने लगा.

मेरी उम्र 22 साल की है और मैं पिछले 3 साल से सरकारी नौकरी कर रहा हूँ। बहुत ही सेक्सी लड़का हूँ और हमेशा किसी आंटी को चोदने के चक्कर मैं रहता हूँ।मेरी एक खाला (मौसी) हैं.

तो मैंने उन्हें सीधा करके उनके मस्त बोबों पर मेरा पूरा माल छोड़ दिया और हम एक-दूसरे से लिपटे पड़े रहे। मैं एक हाथ उनकी चुत में घुसा कर लेटा हुआ था।करीबन आधा घंटे बाद मामाजी आ गए. मेरी उम्र 22 साल की है और मैं पिछले 3 साल से सरकारी नौकरी कर रहा हूँ। बहुत ही सेक्सी लड़का हूँ और हमेशा किसी आंटी को चोदने के चक्कर मैं रहता हूँ।मेरी एक खाला (मौसी) हैं. मैंने अपनी जीभ को थोड़ा कड़क करके उसकी चूत के छेद में पेल दिया और चूत के अन्दर तक पेल कर जीभ को घुमाने लगा।अब तो वो ऐसे उछल रही थी.

सलवार सरक कर उनके पैरों में गिर गई, पर्दा खुल गया था और सामने तिकोनी पैन्टी दिख रही थी।उन्होंने मुझसे पैन्टी उतारने को कहा. ’मैंने कहा- आप क्या करती हो सुमन?बोली- पढ़ाई करती हूँ।मैंने कहा- कौन की क्लास में?तो सुमन बोली- अभी 12वीं में गई हूँ।मैंने कहा- आपसे बात करने में अच्छा लगा।फिर इतना कह कर मैं चला आया और सुमित के पास आ गया।बोला- भाई बहुत प्यारी है. ब्वॉयफ्रेंड गर्ल फ्रेण्ड की भी बात हो जाती थी।मैंने पूछा- दीदी आपका ब्वॉयफ्रेंड है?तो वो बोलीं- था पहले.

मराठी सेक्स मराठी सेक्सी

इसलिए समय का पता ही नहीं चला।भाभी ने कहा- अब उठो और जल्दी से तैयार हो जाओ।भाभी इतना हँसकर और प्यार से बोल रही थीं. आपका नाप भी चलेगा।तो बुआ बोलीं- ठीक है तुम वो ब्रा और एक ड्रेस ले लो जिसकी फिटिंग 32डी-28-36 की हो।मैंने पूछा- इसका मतलब बुआ?बुआ ने कहा- अरे पागल 32डी यानि की छाती और कप का साइज़. ये तय करने में हेल्प तो करो।वो इस बात के लिए तैयार हो गई।मैंने अगले दिन डॉक्टर सचिन से कहा- सर डिनर पर आइए.

मैं मीनल दिल्ली से हूँ। मैं एक आईटी क्वालिफाइड इंजीनियर हूँ, गुड़गाँव में एक बड़ी कम्पनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हूँ। मेरी उम्र 24 साल की है। मेरा रंग गोरा.

’ की आवाज आ रही थी।तभी नेहा का ध्यान मेरी तरफ गया, मैं अपना लंड सहला रहा था, उसको बहुत गुस्सा आ गया, नेहा बोली- साले तू इतना कमीना है न भोसड़ी के भांड.

लगे रहो।मैंने उसकी उठी हुई गांड के पास अपना लंड कर दिया, प्रिया ने मेरा लंड पकड़ा और नीलू की गांड के ऊपर सैट कर दिया। अमन ने नीलू को पकड़ कर उसे थोड़ा और ऊपर को कर लिया. नीचे भी एक कमरा व साथ में भैस बाँधने का खुला स्थान था।भाभी के घर में भाभी, उसका पति, उसकी सास और उसका नशेड़ी देवर व दो बच्चे थे, जिनमें लड़की 9 साल की व लड़का 6 साल का था।अब कल की तरह मैं फिर से छत पर गया. सेक्सी पिलाने वाला वीडियोजबकि वो रोजाना वहाँ कुछ देर बैठती थी।फिर मैंने थोड़ा सा खाना खाया और शीला को फोन किया, मैंने वही बात फिर कही.

तो उसने मुझे जोर का थप्पड़ मारा और मुझसे लिपट कर रोने लगी।मैं उसके इस व्यवहार पर अचम्भित था।तब उसने मुझे बताया कि वो मुझसे बहुत प्यार करती है।अब मुझे भी उससे प्यार हो गया। मैंने भी उससे ‘आई लव यू. एकदम गोल-गोल गोरे-गोरे बिल्कुल टाइट संतरे थे, मेरा लंड खड़ा हो गया।उसने मुझे देखा और बोली- तुमने और क्या देखा था?मैंने कहा- वो सब कुछ. अब आप बताना आप सभी को मेरी कहानी कैसी लगी।आप सभी दोस्तों की ईमेल का इंतज़ार रहेगा। आप बताते रहना कि मेरी कहानियाँ आपको कैसी लग रही हैं। ख़ास करके मेरी ये कहानियाँ फीमेल्स को कैसी लगती हैं.

मैं उसको ढूंढने लगा।मैंने उसको कॉल किया लेकिन उसने उठाया नहीं।तब मैं बाहर निकल कर उसको देखने लगा. उससे पहले ही रामावतार जी भी पूरी ताकत झोंकते हुए उनकी योनि में अपना तपता हुआ लावा उगलने लगे। वे दोनों एक-दूसरे से चिपके हुए थे.

जो मैंने ले लीं।अपना अंडरवियर निकाल दिया था और बरमूडे और बनियान में लेटे-लेटे थके होने की वजह से कब सो गया.

ये काफ़ी कामुक और लंबा चुम्बन था।किस खत्म होने के बाद मैंने उनके ब्लाउज के बटन खोल दिए। उन्होंने ब्रा नहीं पहनी हुई थी। बाद में उन्होंने बताया कि वो अक्सर घर में ब्रा नहीं पहनती हैं।अब उनके मम्मे नंगे हो गए थे। उनके मम्मे ब्लाउज के पहने होने पर छोटे दिखते थे. जिससे कि मैं बहुत तनाव में रहने लगा था।मैं शराब पीता और रंडियों को लाकर चोदता. मेरा नाम विक्रम सिंह है और मैं अम्बाला सिटी से एक गांव से हूँ। मेरी उम्र लगभग 20 साल की है और मेरे लंड का साइज भी आम हिन्दुस्तानी लौंडे से बड़ा है। वैसे तो मैं सीधा-साधा हूँ.

जोधपुर सेक्सी गर्ल्स रामावतार जी ने फ़िर से अपना आधा लिंग बाहर निकाल कर दोबारा धक्का दे मारा। उसके बाद तो तेज़ और जोरदार धक्के शुरू हो गए और बबिता चीखते और सिसकी लेते हुए मजे में कमर उचका कर रामावतार जी के लिंग का जवाब अपनी योनि के झटकों से देने लगीं।उधर रमा जी की योनि भी बुरी तरह तैयार हो चुकी थी और उनके स्तन के चूचुक सख्त होकर खड़े हो गए थे।मेरे मित्र का भी लिंग भी जोर मार रहा था. और मेरा शरीर भी लड़कियों की तरह बहुत चिकना रहा है।मेरे कजिन का नाम रोहित है.

और मेरा लौड़ा भी पूरा सात इंच का हो जाता। एक दो बार तो मैंने उससे मुठ भी मरवाई. मैं हारी।अब मैं फिर से आँखें बंद करके गाने सुनने लगा और वो पेपर पढ़ते हुए ऊंघने लगी।तभी अचानक ब्रेक लगने पर मेरी आँख खुली तो देखा कि वो बैठे-बैठे ही सो रही थी।मैंने अब बड़े गौर से उसके शरीर का मुयायना किया, वो गोरे बदन की मांसल चिकनी महिला थी. छोड़ो भी।लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनको चूसने लगा।वो कसमसाने लगी थी, मैंने देर ना करते हुए उसको बिस्तर पर लिटा दिया।अब हम दोनों गर्म होने लगे थे, हमारी साँसें बहुत तेज हो चुकी थीं, मैंने अपने होंठ फिर से उसके रसीले गुलाबी होंठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगा।उसके हाथ मेरी गर्दन पर थे, मैं उसकी गरम साँसों को महसूस कर सकता था।उफ्फ.

सनी लियोन सेक्स बीपी

जिसे गौरव अपने हाथ से खींचने लगा, उसने चड्डी जांघों पर सरका दी।‘मज़ा आ गया यार. वह काम जल्दी होने वाला है। मेरे मन गुदगुदी हो रही थी कि कब मैं उससे अकेले में कुछ कहूँ।एक दिन मैं उससे उसी जगह पर शाम को अकेले में मिल ही गया और मैंने मौका पाकर उससे कहा- क्या तुम रात को नौ बजे इसी जगह पर आओगी?लेकिन वह कुछ बोली नहीं और मेरे हाथ को हल्के से छूकर चली गई। मुझे समझ में नहीं आया कि यह क्या था. ये तो बताओ?उस पर वो औरत बोली- आपके पास मोबाइल है?तो मैंने कहा- हाँ क्यों?वो बोली- मुझे सिर्फ़ दो मिनट के लिए दे दो।मैं कुछ नहीं बोला.

सो उन्होंने दोनों हाथ धरती पर टिकाए ही थे कि तब तक चंदर जोर-जोर से पागलों की तरह घस्से लगाने लगा।घुटने मोड़ कर. ’ करके चिल्लाने लगी।अगले ही पल उसका पूरा लंड मेरी चूत में अन्दर था।शायद उसको भी दर्द हुआ और वो मुझे लेकर मेरे ऊपर सोफे पर लेट गया, उसका लंड मेरी चूत के अन्दर ही था। मिन्टी ये सब देख कर अपना डिल्डो अन्दर डाल कर ‘अयायाह.

और बस एक और जोर लगा कर विनोद के लिंग से तेज़ धार निकल पड़ी, उसके लिंग का सफ़ेद गाढ़ा वीर्य शालू के दोनों स्तनों पर फ़ैल गया।विनोद झड़ते हुए धीरे-धीरे कमजोर सा पड़ता हुआ झुकता चला गया। उसका माल टपकता रहा.

’मुझे पता चल गया था कि पहले सुचिता आवाज़ क्यों नहीं कर रही थी। प्रॉब्लम साला मेरे दोस्त की स्पीड में था।मैं उससे लिपट कर उसकी जबरदस्त चुदाई कर रहा था। मैं तो जैसे जन्नत की सैर में था। उसके चूचे मेरे सीने से चिपक कर जोर-जोर से मचल रहे थे और मैं अपनी फुल स्पीड पर बना हुआ था।कुछ देर बाद मुझे काफी थकान लग रही थी. अगली बार जिस दिन भी हम मिलेंगे तो मैं पक्का तेरी गांड खोल दूंगा।वो हँस दी. और सरला भाभी को उनके चूतड़ों से पकड़ कर अपनी बांहों में उठा लिया।‘वाह.

मुझे नोंचने लगी। मैंने हल्के-हल्के धक्के लगाने शुरू किए और उसे किस करता रहा। कुछ ही पलों में एक बार फिर से लंड खींच कर अन्दर डाल दिया और हल्के-हल्के धक्के लगाने शुरू कर दिए।अब उसका दर्द कम हुआ और वो भी मज़े लेने लगी, धकापेल चुदाई होने लगी, वो ‘आह्ह्ह. चाटने के बाद तो उसका और बुरा हाल हो गया, अब तो मेरे सर को और जोर से अपनी योनि पर दबाते हुए और ज्यादा रिक्वेस्ट करने लगी- इ. वे दोनों एक-दूसरे से अलग होते हुए उठे।बबिता जी ने जवाब दिया- अकेले मजा लेने सब थोड़े इकट्ठे हुए हैं.

ये सब तुम्हारी बदौलत है।वो भावना की जगह बैठकर वैभव और सनत का लंड चूसने लगी।अब भावना टेबल पर अपना जलवा बिखेरने के लिए चढ़ी, भावना ने अपने कपड़े उतार कर माहौल को हल्का किया और कामुक हरकतें शुरू कर दीं।आज भावना ज्यादा ही खुल कर पेश आ रही थी, उसे देख कर साफ पता चल रहा था कि वो अपनी सहेली काव्या से जल रही थी।वैसे भावना काव्या से ज्यादा सुंदर थी.

हिंदी बीएफ सेक्सी पोर्न वीडियो: हम लोग नाईट पार्टी में आए थे। मेघा, ये मेरे बॉस रहेजा सर हैं।’‘हाय. तो मैंने भी लेकर एक-दो कश लगाए और उसकी तरफ देखने लगा। वो रेड कलर के सूट में बहुत सेक्सी लग रही थी। मेरी नज़र उसके बड़े-बड़े दूध पर जा अटकी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ मैं उसके दूध को एकटक देख रहा था।तभी उसकी आवाज़ ने मेरा ध्यान भंग कर दिया।अब दारु के साथ मुझे इसकी चूत चोदने की भी व्यवस्था दिखने लगी थी।आप अपने ईमेल मुझ तक जरूर भेजने के लिए अरुण भाई की मेल पर लिखिएगा.

तो तुम चाहो तो एक महीने बाद नौकरी छोड़ सकती हो। तुम्हें अपॉइंटमेंट लेटर पर नंगे ही साईन करना पड़ेगा।प्रिया ने साईन कर दिया. अब क्या पूछना?मैं उसकी मासूमियत पर हँस पड़ा और उसे चोदने लगा।मेरे हर शॉट पर वो कराह जाती. बस कह नहीं पा रही थी।मैंने तुरंत उसके होंठों को चूम लिया तो वो भी मुझे किस करने लगी।फिर क्या था, हम दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे।बहुत मस्त मजा आ रहा था।लगभग 15 मिनट बाद हम दोनों अलग हुए तो हम दोनों काफी खुश थे। फिर मैंने उसे अपने बांहों में ले लिया और उसके मम्मों को दबाने लगा।वो मचलने लगी.

पर ना छुड़ा पाई।थोड़ी देर में मुझे वो लोहे जैसी रॉड पकड़ने में मजा मिलने लग गया। मैंने संतोष को एक बहुत प्यारा सा चुम्बन लिया और कहा- तुम्हारा तो बहुत बड़ा है.

आप अपना काम कर आओ।मैं घर के बाहर आ गया और कुछ मिनट गाड़ी में यूँ ही घूमने के बाद मैं घर आ गया। मैंने धीरे से लोहे का मेन गेट खोला और दबे पाँव ड्राइंग रूम के बाहर की तरफ आ गया। वहाँ हमारा विंडो एसी लगा था और उसके साइड में एक झिरी थी. ’अब मैंने उसको कुतिया बनाया और पीछे से उसकी खुली हुई चूत में लंड पेल दिया। अब मैंने उसकी लंबे बालों की चोटी पकड़ ली और ‘दे धक्का. मैंने अपने दोस्त के नंबर पर फोन किया है, ये आपको कैसे लग गया?उसने मुझे पहचान लिया.