एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी

छवि स्रोत,बीएफ दिखाइए साड़ी वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

मिया खलिफा व्हिडिओ: एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी, दो तीन मिनट में ही मेरे मुँह से आवाजें आने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और ज़ोर से चूसो … बस अब मेरा निकलने वाला है.

उत्तर प्रदेश की बीएफ सेक्सी

मैं जब भी दादाजी के घर जाती, तो उनका पैसों से भरा पर्स पलंग के पास ही रखा होता था. सेक्सी फिल्म ब्लू देहातीमेरी बुर गीली हो गयी थी, यहां तक कि उसमें से चाशनी जैसी टपकने लगी थी.

शेफाली बोली- इन पैसों से दीदी के लिए बॉस की पसंद की ब्रा और पैंटी के साथ एक ड्रेस भी खरीद कर ले आना. बीएफ वीडियो एचडी हिंदी मेंमेरे पति अब खाना ख़त्म कर चुके थे और हाथ धो कर सामने वाले कमरे में चले गए, मैं बस उनका साथ दे रही थी।वो बार बार मेरी तरफ देख रहे थे मुझे उनका इस तरह देखना अच्छा नहीं लग रहा था।अचानक मैंने गौर किया कि वो मेरे उभरे हुए वक्ष को बार बार देख रहे हैं.

मेरी ये बात मैंने किसी को भी बताई नहीं … क्योंकि अगर बता देती, तो सब मेरी तरफ अलग नजर से देखने लगते.एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी: इस वजह से उसने मेरे तंबू को देख कर कुछ भी ऐसा-वैसा रिएक्शन नहीं दिया.

यह एक ऐसा अनुभव था, जिसमें हम अच्छे से मिले भी … और नहीं भी … क्योंकि दोनों का पहली बार था.वो ठहरी चुदाई की भूखी … एकदम से मेरे आगे झुक गयी!मैंने धीरे से लन्ड उसकी चूत के द्वार पर रखा और जोरदार प्रहार किया.

एक्स एक्स एक्स न्यू वीडियो एचडी - एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी

अब आगे की कहानी:जब अगली सुबह दरवाजे की घंटी बजी, तो मैंने नंगी ही रह कर दरवाजा खोला.भैनचोद क्या चूचे थे … मतलब क्या बताऊँ मुझे ऐसा लग रहा था कि बस खा जाऊं इनको.

वो मेरी माँ के भूरे भूरे कड़क निप्पलों को अपने मुँह में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा. एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी यदि आपका मन स्वस्थ रहेगा तो तन भी स्वत: ही स्वस्थ रहेगा। यदि इन उपायों से भी आपको राहत नहीं मिल पाती है तो आप किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं.

मैंने उसको रिप्लाई किया कि मुझे अपने से ज्यादा बड़ी उम्र की लड़कियों में रूचि है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी?

धीरे धीरे मोहिनी और मेरी बीवी को सेक्स और वोड्का का नशा चढ़ने लगा था. उस औरत ने आदमी से सिगरेट ले ली, उसने भी धुंआ उड़ाया और उस आदमी से मस्ती करने लगी. चाचा मेरी चूत में उंगली करते रहे और मैं अब तेजी के साथ सिसकारियां लेने लगी.

मेरे मुँह से और जोर से आवाज निकलने लगी थी- आह और जोर से चोद माँ के लौड़े … आह पूरा पेल दे. मम्मी की कोशिश ये होती थी कि वो घर पर अकेली रहें, तो अच्छे से मसाज करवा लें. इतना बोलकर आंटी ने मेरा कच्छे से लंड निकाल कर मुँह में लेकर चूसना शुरू कर कर दिया.

वह अपने होंठ उसकी ओर लायी और उसने उसे स्वीकार करने के लिए अपना मुँह खोला. आप मेरी आगे की कहानी का इंतजार करना।आपको मेरी यह कहानी पसंद आई या नहीं … तो लाइक करना और कमेंट करना।मेरी ईमेल[emailprotected]. बस ऐसे ही हम हर रविवार को मिलते रहे … ताकि वो मुझसे कुछ ज्यादा फ्रेंडली हो जाए.

राहुल ने सकुचाते हुए जैसे ही उसकी चूत में जीभ लगाई तो उसे मजा आ गया. पल्लवी ने हम दोनों के देखा और बिना कोई प्रश्न किये हुए चली गयी।अब हम दोनों ही बचे थे, एक सोफे पर बैठते हुए रीतिका बोली- मिस्टर सक्सेना, मुझे आपसे यौन सुख चाहिए.

धीरज बोला- देखती जाओ मेरी जान … अभी पूरी रात बाकी है, चूत का तो भोसड़ा बना कर ही छोडूंगा आज रात को.

वो चाहती थी कि वो अंकित को इसी जगह कैद कर ले और ये वक़्त यहीं पर थम जाए.

उसने धीरज के लंड को मुँह में ले लिया और चाट चाट कर उसे साफ़ कर दिया. फिर उन्होंने एक झटके में अपना पैग ख़त्म करके गिलास साइड टेबल पर रख दिया. मैं उनकी गर्दन को चाटने लगा और कहा- वाआह … सासू माँ … ऐसा चखना तो मुझे कभी नसीब नहीं हुआ … कहां छुपा कर रखा था आपने इतने सालों तक इसे?ये कहते हुए मैं उन्हें लेकर बेडरूम में ले गया.

उस दिन मैं अपने द्वार (घर के बाहर की वो जगह जहाँ बाहर के मेहमानों को बैठाया जाता है. पात्र बदल जाते हैं, काल बदल जाते हैं, परिदृश्य बदल जाता है, लेकिन सार वही रहता है. शबनम ने खुद को धीरे से अलग करते हुए अंकित को हल्का सा धक्का देते हुए अपने बगल में गिरा दिया.

”पाप … कैसे?”तुम भी बहुत भोली हो?”सच में मुझे कुछ समझ नहीं आया कि नहाने से पाप कैसे लग सकता है।अरे बुद्धू! हम जब नहाते हैं तो सारे कपड़े उतार देते हैं ना? इससे निर्वस्त्र होने से पाप लगता है। अगर यह काला धागा बाँध लो तो फिर निर्वस्त्र होकर नहाने से कोई पाप नहीं लगता। अब समझी?”हओ”गौरी!”हुम्”वो तुम्हारे लिए उस दिन हम शॉर्ट्स और टॉप लाये थे ना?”हओ”वो पहना या नहीं?”किच्च.

मेरी गोरी चिकनी टांगों पर कोमल स्पर्श से मेरी तन में झुरझुरी सी पैदा हो रही थी. मैं उसका मुँह देखती रह गई और सोच रही थी कि यह आख़िर मुझसे ही क्यों यह सब पूछ रहा था. तभी मेरी बीवी ने मेरी टी-शर्ट निकाल दी और उठ कर मेरी गोदी में बैठ गई.

उसकी पेंटी, उसके प्रीकम से गीली हो चुकी थी और प्रीकम उसकी पेंटी के साइड से बह कर बाहर उसकी जांघों से निकल रहा था. यहाँ क्लिक करके अन्तर्वासना ऐपडाउनलोड करके ऐप में दिए लिंक पर क्लिक करके ब्राउज़र में साईट खोलें. वो सही कह रहा था … क्योंकि उसके अब्बू मुझे 3 मिनट से ज्यादा नहीं चोद पाते थे.

वो मुझे जब भी हवस भरी नजरों से देखते थे, तो मुझे बहुत अजीब लगता था.

इतना कह कर उसने एक इशारा किया और हम दोनों अब सिक्स नाइन वाली अवस्था में आ गए थे. मनोज ने दीपा को बता रखा था कि शादी से पहले उसकी एक गर्लफ्रेंड थी और दोनों के जिस्मानी सम्बन्ध भी थे.

एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी खैर वो 15 दिन की छुट्टी में शादी व हनीमून निपटाकर वापस अपनी पत्नी के साथ बालघाट आ गया. रशीद थक चुका था, मुझे उस पर दया आ रही थी क्योंकि उसकी हालत हारे हुए जुआरी की तरह हो गयी थी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी अब मैं वापस उसके पीछे खड़ा होकर उसकी गांड को हिलते हुए और मटकते हुए देख रहा था. ऐसा लग रहा था कि उसी अपनी खूबसूरती पर प्रसन्नता भी हो रही थी और वो मुझे इतने पास देखकर शर्मा भी रही थी.

बस मुझे कुछ अलग करना था इसलिए मैं हमेशा फोन में व्हाट्सएप ईमेल और अपनी सहेलियों के साथ बात करती रहती थी.

ब्लू सेक्सी वाली सेक्सी

रितिका ने पूछा- क्या कहा उसने?मैंने कहा कि वो कह रही है पहले इसकी चुत और गांड ढीली कर, तब तक मैं आती हूँ. फिर मैंने अपनी टांगों को हिलाते हुए उसके लंड को अपनी चूत में एडजस्ट कर लिया और उसने मेरी चूत में पूरा लंड घुसा दिया. अब उन्होंने नीचे से अपनी गांड उठाते हुए धक्के लगाने शुरू कर दिए थे.

फिर मैंने उसको किस करते हुए वहीं फर्श पर लेटा लिया और उसकी पैंटी को निकाल कर उसकी चूत को चाटने लगा. उसने मुझे जब तक घोड़ी बनाए रखा जब तक उसका लंड सामान्य स्थिति में नहीं आ गया. सोचो अगर ये पूरे के पूरे तुम्हारे सामने आ गए तो क्या होगा?रोहन- ओह गॉड सोनिया … क्या ये वही होंगे … जो.

मेरा मानना है कि सेक्स के बारे में पढ़ने से भी ज्यादा आनन्ददायक उन घटनाओं के वर्णन को पढ़ना है, जिनके बाद हम अंतत: सेक्स करने तक पहुँचते हैं.

दोस्तो, मेरी सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरी बीवी की गैरमौजूदगी में मैंने अपनी सलहज की चूत चुदाई कर डाली. श्वेता- इस हालत में अब तू मुझे सिखाएगा कि मुझे क्या करना है और क्या नहीं? और मैं तुझे इस हालत में कैसे छोड़ सकती हूं, ये तूने सोच भी कैसे लिया … चल मेरे साथ. मैं इस बात की तसल्ली कर लेता कि चाचा चाची खेत गए हैं और कविता के भाई स्कूल गए हैं कि नहीं.

और चूत के निचले हिस्से से एक पतली पट्टी उनकी गांड के छेद को ढके हुए पीछे पीठ से ऊपर चली गई थी. संजना कहने लगी- जानू, आज तुमको मुझे बस ख्वाबों में ही नहीं चोदना है. यह सुनकर मैंने उसके सिर को अपने गोदी में ले लिया और उसके सर की मालिश करने लगा.

उनसे गांड मरवाने की आदत तो लग गयी, लेकिन मरद साला ढिल्ला है … चूत में ही बराबर नहीं करता, तो गांड क्या मारेगा. मैं कितना किस्मत वाला हूँ।अपनी इतनी तारीफ सुन मेरी तो बांछें खिल गई, मुझे अपने आप पर घमण्ड सा होने लगा, पहली बार मैं किसी मर्द से अपनी ऐसी तारीफ सुन रही थी।वो मुझे ऊपर से नीचे तक घूरे जा रहे थे।उन्होंने मेरी पीठ सहलाते हुए कहा- जानती हो, आज तक मैंने 10 से भी ज्यादा लड़कियों की चुदाई की है.

मैं खुद भी अपनी प्रेम कहानी को नेट के एक ऐसे पटल पर रहना चाह रही थी, जहां लोग मेरी कहानी को पढ़ सकें और मुझे अपनी राय दे सकें. ” महेश ने ज्योति की बात सुनकर उसे देखते हुए कहा।नहीं पिता जी, बस ठीक है,” ज्योति ने जल्दी से पिता की बात को टालने की कोशिश की।अरे वाह बेटी, यह क्या बात हुई? आओ बड़ों से ज़िद नहीं करते. वो माफ़ी मांगते हुए कहने लगा कि वो आगे से कभी दीदी से उल्टी सीधी हरकत नहीं करेगा.

मेरे अंदर एक अजीब सा अहसास हुआ और मैं अपने आप बेड पर पीछे की तरफ लेट गई.

मुकुल राय ने एक गहरी साँस ली और फिर अपनी पूरी ताक़त के साथ एक ज़ोरदार धक्का मारा।मुकुल राय के लंड का सुपारा परीशा की चूत की झिल्ली को फाड़ता हुआ अंदर घुस गया. कुछ दिन ऐसे ही गए, लेकिन जब जब मैं कुंवर साहब के पास जाती, वो हमेशा मुझे वासना की नजरों से देखते थे. रोज व्यायाम और स्विमिंग करने से मेरा शरीर हट्टा-कट्टा और मजबूत हो गया है.

” नीलम ने अपने ससुर की बात सुनकर उसकी तरफ देखते हुए कहा।कौन सी बात बेटी?” महेश ने भी इस बार अपनी बहू को छेड़ते हुए कहा।पिता जी आप भी न … वही जो आपसे कह रहा था. इस प्लान के मुताबिक हम एना के कमरे में दाखिल हुए और मैंने एना से बातचीत करनी शुरू की.

राहुल बोला- ऐसे ही बिना कपड़ों के?पिंकी हंसती हुई बोली- हाँ मैं तो चल सकती हूँ. उनके निप्पलों और ब्लाउज को देख कर पता चल रहा था उन्होंने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी. चूँकि यह मेरी पहली कहानी है तो अगर कोई गलती हो जाए तो आप लोगों से कहना चाहूँगी कि नज़रअंदाज़ कर दें। अब मैं आपको अपनी पहली ठुकाई की कहानी बताती हूँ।सबसे पहले मैं अपना परिचय दे दूं। मेरा नाम रश्मि शर्मा (काल्पनिक) है, मैं यू.

क्सक्सक्स क्सक्सक्स सेक्सी वीडियो

इसके बाद मैंने उनकी पैंटी निकाल दी और उनकी चूत को जीभ से चाटने लगा.

अब पिंकी बबलू के माल से भरे हुए अपने मुंह के साथ मेरी तरफ सरक कर आ गई. मैंने उसकी चुत से सर हटाया तो उसने मेरे लंड की तरफ इशारा किया- अब जल्दी पाइप फिट कर दे … लीक होने को है. मेरे चेहरे के करीब आते ही उसने अपने दोनों हाथ खोल दिए और मुझे उसकी चिकनी चूत के दर्शन हो गए.

उसने फिर एक दिन सागर को जब उसके साथ मीटिंग थी, तो बाद में कुछ कहा, जो उसने मुझको बाद में बताया था. फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसकी पैंटी को साइड में करके उसकी चुत चाटने लगा. देवर का लंड… बाबा प्लीज़ और चोदो मुझे … प्लीज़ प्यास बुझाओ अपनी बेटी की … बाबा जी … आह प्लीज़ और चोदो मुझे … आपका लंबा मोटा लंड मेरे अन्दर तक घुसेड़ दो मेरी चुत में … और जोर से बाबा जी प्लीज़ चोदो मुझे.

फिर कुछ देर रुक कर बोली- देख पूनम तू मेरी मान, अपनी नौकरी से जो पैसे तुझे मिलते हैं, उसे अपने लिए जोड़ना शुरू कर दे. मैंने दीदी और शेफाली को पूरी बात बताई, तो शेफाली ने कहा- आज की रात जो होना है, हो जाने दो.

मेरी सास अपना हाथ मेरे बॉक्सर में डाल कर मेरी जांघों को किस कर रही थी. पर जब से आपसे बात करने लगी, मुझे एक नई उम्मीद जगी है कि कोई तो है जो मुझे अपना समझता है. जिससे मेरी चूत का पानी उनके लंड पर लग रहा था और मेरी चूत के पानी से उनका लंड भीग गया था.

तब मैडम ने कहा- अब शुरू करोगे भी … या नहीं?ये सुनते ही संतोष ने मैडम को अपनी बांहों में जकड़ लिया और क़िस करने लगा. बैठने के बाद पूजा ने एक बार झुक कर मुझे चूमा और फिर मेरा सर अपने दोनों हाथों से पकड़ कर अपनी चूत से पेशाब की धार छोड़ दी. मेरा मन उसको अपने अकेले होने की बात बताने का हो रहा था कि उसे बता दूँ, मैं अकेली हूँ.

कहीं लटक न जाओ लास्ट ईयर में ही!राहुल भाई- अरे पापा, टॉप थ्री में तो रहता ही है ये, पास तो हो ही जायेगा वो भी अच्छे परसेंटाइल में! क्यों राघव?मैं- हाँ भाई, वैसे भी अब टीचर्स भी इंटरनल्स में अच्छे मार्क्स ही देंगे.

मैं- आलिया, क्या तुमने चित्रा को हमारे रिलेशनशिप के बारे में बता दिया है?आलिया- नहीं, जब सही समय आएगा तब बता दूंगी. थोड़ी देर तक ऐसे ही चलता रहा, फिर मैंने अपना मुँह उठा कर पूजा की गांड को चूम लिया और उसकी गांड के छेद पर अपनी जीभ लगा दी.

तो उसने कहा- आज इरादा क्या है?मैंने- कुछ नहीं … बस लग रहा है कि तुम्हें ऐसे ही देखता रहूँ. वो दोनों खाना खाने लगे मगर सुखविन्दर मुझे भी साथ खाने को कहने लगे। मैंने अपने पति की तरफ देखा तो उन्होंने भी कह दिया- तुम भी खा लो यहीं हमारे साथ!मैं भी अपना खाना ले आई और साथ बैठ कर खाने लगी. तभी वो मुझसे अलग होकर बोली- ले बस हो गई तेरे मन की … अब चुपचाप बैठ कर मुझे पीने दे.

मैं भी महसूस कर पा रहा था कि बरसों के बाद उसकी चूत को आज लंड का सुख मिल रहा है. मैं उसको पसंद तो करती थी लेकिन वो मेरा भाई था इसलिए मैंने उसके साथ सेक्स करने के ऑफर को मना कर दिया था. लेकिन कुछ समय पहले जब उसकी मम्मी ने मेरे पापा से दहेज की बात की तो मेरे पापा ने कहा ठीक है जितना हम से बन पड़ेगा हम लोग उतना आपको दहेज से देंगे लेकिन उनकी मांग कुछ ज्यादा ही थी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी ”अरे मधुर तो सोई हुई है उसे कहाँ पता चलेगा? प्लीज … गौरी मान जाओ ना … मैं तो उसकी बस एक झलक देखना चाहता हूँ?”नहीं … मुझे शल्म आती है. इसके स्वाद को महसूस करने के बाद उसके दिमाग में यही ख्याल आ रहे थे कि ये उसके मुंह और चूत में कैसा लगेगा.

जुना सेक्सी व्हिडिओ

मैंने आँखें खोलीं तो मुझे समझ आया कि वो बॉस के लंड से निकलने वाली पेशाब की धार का फव्वारा था. तब मैंने सोचा कि क्यों ना मैं ही पहल करके अपने आप को और संजना को इस मुसीबत से निकाल दूं. मैं दिखने में बहुत अच्छी लगती हूँ और शहर से हूँ तो मॉडर्न कपड़े पहनती हूँ, जिससे लोगों को मेरे जिस्म का आकार और भी अच्छे से दिखता है.

ठीक है मम्मी!” कहकर फिर मैं विक्की भैया को घर से बुलाकर लाया।जब मैं मम्मी के कमरे में आया तो मम्मी का पेटीकोट एक कोने में पड़ा था, मम्मी ने शायद उतार दिया था. तभी मसाज वाली ने मम्मी को बोला- आप बोलो तो मैं नक़ली लंड से आपकी प्यास मिटा सकती हूँ. सेक्सी इंडियन बीपी सेक्सी”नहीं … मुझे याद नहीं तू क्या कह रही है?”मेरा बेटा आया हुआ है, जो बेटा है पर बेटी जैसा है। अब समझे?”ओह, समझा। चिकना है? मज़ा देगा? छाती लड़कों की तरह सपाट तो नहीं?”अरे नहीं चौधरी साहब, छाती तो उसकी है नहीं … भरी भरी चुचियाँ हैं और चूतड़ों से तो पूरी लड़की ही है। और मज़ा देगा नहीं, मज़ा देगी और गांड भी देगी.

यहां पर बड़े पार्कों में शहर के बीचों बीच आप कहीं भी लड़की के साथ बैठ कर हल्की फुल्की मस्ती कर सकते हो.

मैंने उसके चेहरे को जोर से पकड़ा और जोर-जोर से उसके रसीले होंठों का रस पीने लगा. वैसे भी मुझे हमेशा से लड़कियों से ज्यादा आंटियों से ही प्यार रहा था.

मनोज ने दीपा को बता रखा था कि शादी से पहले उसकी एक गर्लफ्रेंड थी और दोनों के जिस्मानी सम्बन्ध भी थे. कुछ ही देर में आंटी एकदम चीखती हुई झड़ गईं और मैंने उनके नमकीन अमृत रस को पूरा पी लिया. फिर उसके मुंह में ही लन्ड पेलने लगा। उसका मुंह पूरा थूक से भर गया और लार किनारों से चूने लगी। सच में ही उसे लन्ड चूसना नहीं आता था.

वो अकेली थी, उसकी मम्मी और दादी सब लोग खेत गए थे और भाई पढ़ने गया था … पापा जॉब पर सुबह ही निकल जाते थे.

उसको हल्के से चाटने के बाद उसने बाहर निकाला और उसकी तरफ देख कर कहा- अंकित! अब और इंतज़ार नहीं होता बेटा. मैं इनके वीर्य तो अपने अन्दर महसूस कर रही थी। मैं औरत बन चुकी थी, मेरी नथ भी उतर चुकी थी।अगली सुबह मैं अपने घर वापस आ गयी।इस तरह से मैंने अपनी सुहागरात की तमन्ना पूरी की।दोस्तो, यह मेरी रियल स्टोरी थी, मुझे ईमेल करके बताएं कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी।[emailprotected]. आज मुझे अपनी किस्मत पर भरोसा नहीं हो रहा था कि मैंने आंटी को लगभग नंगी देखा था.

भाई बहन की सुहागरातउसके उछलते मम्में देखना चाहता था, उसकी चूत लंड को कैसे लीलती है इसका रसास्वादन करना चाहता था. जब उसने मेरी ब्रा भी उतार दी और मेरे तने हुए मम्मों को सहलाने-दबाने लगा तो मस्ती में मैं भी विकी के बदन से लिपटने लगी।उन दोनों ने पिंकी को निर्वस्त्र कर दिया.

xxxxदेहाती सेक्सी वीडियो

मैं एक हाथ से उसके दूसरे दूध के निप्पल को अपनी उंगलियों में भरके मसलने लगा. शबनम ने अपने स्तनों को अपने हाथों में लिया और उनको अंकित की तरफ करते हुए एक मुस्कान के साथ कहा- जैसा सोचते थे वैसे ही हैं या अलग?आंटी जितना सोचा था … उससे कहीं ज्यादा खूबसूरत!” उसने एक भूखे की तरह उसके स्तनों की तरफ देखते हुए कहा. कहां जा रही हो दीदी?” ये कहते हुए उसने मुझे खींच कर अपनी गोद में बिठा लिया.

तू सोच … और निकल इन दकियानूसी ख्यालों से … और मज़े ले मेरी तरह या दूसरी बाकी लड़कियां ऑफिस वाली ले रही हैं. उनके ओंठों को किस करते हुए मैंने उन्हें अपने ऊपर लिटा लिया और दोनों हाथों से उनकी पीठ, और कूल्हे सहलाने लगा. उसके नरम जीभ के स्पर्श मात्र से ही मेरी चुत पिघल गयी और पानी छोड़ने लगी.

मैं थोड़ी देर लंड उसकी चूत पर घुमाने के बाद धीरे धीरे लंड को उसकी चूत में डालने लगा. प्रिया के पापा ने ऑफिस से एक हफ्ते की ही छुट्टी ली हुई थी और शायद नेहा का भी गांव में दिल‌ नहीं लगा, इसलिए हफ्ते भर गांव रहने के बाद प्रिया के पापा और नेहा गांव से वापस आ गए. क्या मम्मी … जो आये तो मुझे उसके सामने मत बुलाना, मैं सलवार कमीज़ में ही ठीक हूँ, पैंट शर्ट पहनने का मन नहीं है.

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि चाची की चुदाई के बाद उनकी दोनों बहनें घर आती हैं. जब वो काले रंग की ब्रा पहनती है तो उसके चूचे बिल्कुल दूध जैसे सफेद दिखाई देने लगते हैं.

उनकी बातों की एक झलक ‘आज मैंने इस तरह से चुदवाया, या उस तरह से चुदवाया.

लंड का सुपारा लगते ही पूजा अपनी कमर आगे पीछे हिलाने लगी और बोली- हां, इधर पेलो मेरी चुत को. बीएफ वीडियो चलना चाहिएमैंने इठलाते हुए कहा- ओके … तो अब बताओ गुलाम क्या करोगे मेरे लिए?वो बोला- पहले तो मैं कुछ खाने पीने का लाता हूँ … उसके बाद आकर तुम्हें चोदता हूँ. चेन्नई का सेक्सी बीएफउससे मैंने बातचीत करने के बाद मुझे यह पता चला कि शीना भी तुमसे उतना ही प्यार करती है जितना कि मैं … और मेरी जान, तुम तो ऐसे हो ही कि कोई भी तुम्हें प्यार करेगा. ये कहते हुए मैंने उसके चेहरे को अपने दोनों हाथों में लिया और अपने होंठ उसके होंठों से लगा दिए.

और मुझे लगा कि अगर तुम मना कर दोगे तो तुम्हारे मन में मेरे लिए जो इज्ज़त है वो भी ख़त्म हो जाएगी.

फिर वो मुझे कातिलाना स्माइल देकर किचन में चली गई … मैं टीवी देखने लगा. श्वेता मैडम जब दरवाजे का ताला खोल रही थीं, तब मेरी नजर दरवाजे के सामने बनाई गई रंगोली पे जा पड़ी. यह बात आज से 3 साल पहले की है जब मैं छुट्टियों में अपने घर गया हुआ था.

उसने दूसरी सिगरेट सुलगा ली … नीचे उसकी चूत से राहुल का वीर्य टपक टपक कर टॉवल के नीचे से जमीन पर गिर रहा था … पिंकी इस सबसे बेखबर अपनी मस्ती में थी. मैंने देखा एक नई और आकर्षित करने वाली नई-नकोर कोरी चूत मेरे लंड का इंतज़ार कर रही थी. चार दिन पहले जब उसकी कॉल मेरे मोबाइल पर आयी, तो मेरे लंड ने खुलकर सलामी दी.

बंगाली सेक्सी ऑडियो

हमने कोई एक घंटे तक सेक्स किया और इतनी देर में वो 3 बार फ्री हो चुकी थी. फिर राज बोला- देखो गायत्री तुम भी जवान हो … तुम्हारी भी इच्छा होती होगी. कभी कभी उसकी चुत को भी सहला रहा था।तब मैंने उसकी टीशर्ट निकाल दी तथा सलवार के नाड़े तोड़ दिया जिससे उसकी सलवार नीचे गिर गयी.

मैं ब्रा के ऊपर से चाची के मम्मों को सहलाने लगा और ब्रा के ऊपर से ही मम्मों को काटने लगा.

मुझे यकीन हो गया कि ये नहीं करने वाली कुछ।फिर बीस मिनट के बाद जब वो उठी तो कहने लगी- मुझे कपड़े पहनने हैं.

कुछ देर उसे दर्द हुआ, पर मैं लगातार चिकनाई डालता रहा, जिससे उसे गांड मराने में मजा आने लगा. मैं अपने कमरे का दरवाजा खोलने ही वाली थी कि मुझे एक जोर का धक्का महसूस हुआ. ஆன்ட்டி எக்ஸ் எக்ஸ் வீடியோअब उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और चप्प चप्प करके उसे चूसने लगीं.

मैं इस बात को जानता था कि पट्ठी मेरा लंड देख रही है, मगर मैं भी ध्यान नहीं देता … क्योंकि मैं जानता था कि ये ज्यादा से ज्यादा दो चार दिन में मेरे नीचे सोएगी ही. इतने में अचानक उसने पीछे से कमलेश आया और मुझे कस कर पकड़ लिया, मैंने छूटने की कोशिश की, लेकिन मैं नाकाम रही. शबनम ने ध्यान दिया कि उसके शब्दों ने अंकित पर जादू कर दिया है, उसके दिमाग में अब शरारत सूझ रही थी, उसने मुस्कुराते हुए कहा- आह! तो तुम अपनी माँ के साथ भी ये करना चाहते हो.

परवीन- आआह … ऊऊऊफ्फ … मर गयी मैं … पहले वो रंडी रेशमा को मारूँगी, फिर तेरी माँ को ये सब बोलूंगी. मुझे हैरानी हुई कि वो अपने कमरे में अकेला कैसे है … पर मैंने उस वक्त उससे कुछ नहीं पूछा.

मैं अपने घर आने लगी, तो उसके बड़े भाई मोहन ने मुझे पकड़ लिया और बोलने लगे कि मैं तुमको बहुत पसंद करता हूँ और मुझे तुम्हारे बूब्स बहुत पसंद आते हैं.

तो फिर चूस ना लंड को जल्दी से, तभी तो करूंगा ना… बेटा ये एक रस्म होती है जो तू निभा दे जल्दी से!” मैंने उसे चूमते हुए कहा. हालांकि ऑफिस के बाद कई बार तुम अपनी सहेली के घर भी तो जाया करती हो. उसकी ब्रा की पट्टी को छू कर मेरे लंड के अंदर का जोश बढ़ता जा रहा था.

बरफ के पानी भोजपुरी मैंने उन दोनों की पैंट खोल दी और उनके कहने से पहले ही उनकी अंडरवियर भी खोल दी. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी जाकर उसकी चूत को चाट कर लाल कर दूं लेकिन अभी मैं उसको तड़पते हुए देखने का मजा ले रहा था.

क्या गजब का आकर्षण था उसकी चूत में … 80 साल के बुड्डे का लंड भी कड़क हो जाय. मैं कार चलाते हुए बहुत खुश था, क्योंकि आखिरकार मैं अपने प्लान में कामयाब हो गया था. मैं आज ही उसकी मक्खन सी मुलायम गांड भी मारना चाहता था, पर सोना इतनी थक चुकी थी, तो उसने मना कर दिया.

काठवाडी सेक्सी व्हिडिओ

ऐसा लग रहा था कि उसी अपनी खूबसूरती पर प्रसन्नता भी हो रही थी और वो मुझे इतने पास देखकर शर्मा भी रही थी. उन्होंने भी झट से मेरे बॉक्सर की साइड से हाथ डाल कर मेरा बॉक्सर निकाल दिया. कुछ देर बाद वो बोली- जीजू अब देर मत करो, बस अब अपना लन्ड मेरी चूत में डाल दो.

शायद संजना ने मुझे उसके घर के अंदर आते हुए देख लिया था और वह मेरा इंतजार दरवाजे पर खड़ी कर रही थी. और फिर फिर धीरे धीरे अपनी कमर को हिलाने लगा।कुछ देर बाद मुझे इतना मजा आने लगा कि मैं ख़ुद ही अपनी गांड को पीछे की तरफ हिलाने लगा.

लेकिन किस जगह?सोनिया- तुम्हें कोरमंगला मालूम है?रोहन- बिल्कुल … मेरे घर से करीब ही है.

इसलिए अपनी सास को बोल कर गया था कि काम खत्म करने के बाद आप लोगों को विदा कहने के लिए एक दिन के लिए आऊंगा. मैं घर में किसी के मैसेज का रिप्लाई नहीं करती थी लेकिन अपने भाई के मैसेज का रिप्लाई जरूर करती थी. जब ये कहानी घटी थी, तब से अब तक भी हम जब भी मिलते हैं, खूब चुदाई करते हैं.

जिस दिन वो सभी निकले, उस दिन तो मैंने अपने भोसड़ी वाले को कुछ नहीं बताया. किंतु यदि आपके मन में अपनी समस्या से छुटकारा पाने का दृढ़ निश्चय है तो आप यह आसानी से कर जायेंगे। इसलिए अपने मन को वश में करते हुए प्रयास करते रहें।अगर आप सेक्स करते समय कंडोम का प्रयोग नहीं करते तो कंडोम भी इस समस्या में आपकी मदद कर सकता है. वेरोनिका ने मेरे कंधों पर दोनों हाथ रखते हुए पूछा- बताओ न राज … क्या तुम एना को पसंद कर रहे हो? क्या आज रात तुम उसको चोदना चाहोगे?मैंने पूछा- अगर मैं आज रात एना के साथ गुजारूंगा तो उसके ब्वॉयफ्रेंड हेक्टर का क्या होगा?वेरोनिका ने तुरंत जवाब दिया- मैं हेक्टर को झेल लूंगी.

इसके बाद मैं एक हफ़्ता वहां रुका और रोज दिन के समय में, जब स्नेहा स्कूल, जसवीर शॉप पे और मौसा जी शराब पीने चले जाते, तो मैं मौसी को चोदा करता था और हर दिन में मैं उनको 2-3 बार जरूर चोदता था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ राजस्थानी: अब किसी से नहीं करता करवाता।मामा जी- इसका मतलब खूब सारे दोस्तों से करवाई। मेरे से भी हो जाए?मैं- मामा जी, अब बहुत दिनों से नहीं कराई।मामा जी- आखिरी बार कब?मैं- यही कोई चार पांच साल पहले, जब मैं अट्ठारह उन्नीस का रहा होऊंगा. उसने अंडरवियर को जांघों पर फंसा लिया था और अपने मोटे लंड को सहलाता हुआ मुझसे भी कपड़े उतारने के लिए कहने लगा और पूछने लगा कि उसके प्रपोजल के बारे में मैंने क्या सोचा है.

अब देर मत करो और बस जल्दी से हमारे दो दिनों को और दो रातों को कामुकता से पूरी तरह भर दो, हम दोनों के हर एक छेद को अपने पानी से भर दो. प्रिया की इस अदा पर मुझे बड़ा ही तरस और प्यार आ गया, सही में उसने रात में ही उस बेडशीट की धुलाई की और फिर प्रेस करके उसे सुखा लाई थी. यह सब कहानी के अगले भागों में।बहू और बेटी की गर्म जवानी की ये कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

वो काम करने लगी, तो मैंने उससे कहा कि मैं बाथरूम जा रहा हूँ, थोड़ा घर का ध्यान रखना.

आज मैं तुम्हारी होने के लिए तैयार हूं … आ जाओ हम दोनों इन सबसे कहीं दूर भाग चलते हैं. जब मैंने रोने का कारण पूछा तो भाबी ने कहा कि तुम्हारे भैया मुझे खुश नहीं कर पाते हैं … तो बच्चा कहां से होगा. वो कुछ सेकंड मेरी गांड घूरता रहा और फिर उसने मुझे अपने दोनों हाथों में ऊपर उठा लिया.