बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ

छवि स्रोत,एक्सएक्सएक्स ब्लू फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

हैप्पी बर्थडे गांव: बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ, उन्होंने मेरे लंड को हिलाकर कहा- कहां खो गए?मैंने सॉरी बोला और कहा- कहीं नहीं.

मारवाड़ी घाघरा वाली सेक्सी

लेकिन ज़रा सा अंदर जाते ही मुझे इतना दर्द हुआ कि मैंने उसे एकदम अपने पीछे से हटा दिया. सेक्सी चोदा चोदी चोदामैंने ओके कहा और उससे चिपक गया मेरे लंड ने अंगड़ाई लेना शुरू कर दिया था.

मैंने कॉल कट करके अपना गाउन उतार कर उसकी दी हुई ब्रा और पैंटी पहन ली, जो कि बहुत टाइट थी. ब्लू ब्लू फिल्म सेक्सीइस तरह से जब तक मैं कानपुर में रहूंगा, मैं उन्हें मौका देख कर बार बार चोदूंगा और उनके मुँह से चुदासी औरत के मुँह से निकलने वाली कामुक आवाजें कुछ इस तरह की होंगी- आह … ह ह … उह.

उस दिन मैं अपनी छोटी बहन श्वेता के बेटे का पहला जन्मदिन मनाने के लिए उसके ससुराल में गई हुई थी.बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ: फिर साकेत भैया ने दीदी को कमर ऊपर उठाने का इशारा किया, तो दीदी ने थोड़ा सहयोग करते हुए अपनी कमर को थोड़ा ऊपर कर दिया.

गाड़ी में बैठने के बाद मुझे फिर से नींद आ गयी, इस बार भी वही हुआ लेकिन इस बार मैं उसकी गोदी में सो गया.नाना और मामा ने हमें रोकने की कोशिश की … पर मेरे पापा ने कहा कि अगर हम आज रुक गए, तो फिर मुझे अपने छात्रों को एक दिन छुट्टी देनी पड़ेगी … इसलिए रुकना मुश्किल है.

ब्लू पिक्चर भेजिए हिंदी में - बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ

बहुत खुल कर मजे ले रहा था और मेरी बीवी के बारे में तो अंतर्वासना के लगभग सभी पाठक जानते हैं.बेबी रानी चिल्लाई- कुतिया, तू चुद क्यों नहीं लेती आज … राजे यह बहनचोद अभी तक कुमारी है … मेरे साथ हुई चार बेवफाइयों से डर के साली बॉयफ्रेंड ही नहीं बनाती … बता साली पच्चीस साल की हो गयी और अभी तक बिनचुदी पड़ी है … राजे आज चोद दे इस माँ की लौड़ी को.

अब मुझे समझ में आ गया था कि इसको आगे से चुदाई करवाने की बजाय पीछे से गांड को चुदवाना पसंद है. बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ उसने दोबारा दीपा का सर अपनी गोदी में रख लिया और धीरे धीरे उसकी गर्दन की और कन्धों की मालिश करने लगा.

मैंने उसके गुलाबी ब्लाउज के ऊपर से ही उसके दूधों को दबाना शुरू कर दिया था.

बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ?

मैंने भी ये सोच कर गोली खा ली कि किसी तरह तो इस चिंता से छुटकारा मिले. उन्होंने अन्दर आने के बाद मुझे प्यार से गले लगाया, तो उनकी चूचियों के निप्पल मुझे अपने मर्दाना सीने में गड़ से गए. उसके बाद मैंने अपनी साली को पैग बनाने के लिए कह दिया ताकि मैं डॉक्टर के साथ आसानी से सेक्स का मजा ले सकूं.

मैंने पैग होंठों से लगाया, तो उसने अपना हाथ मेरी जांघ पर रख कर सहला दिया. गोली खाने के कुछ समय बाद ही मेरी चूत से गन्दा खून निकलना शुरू हो गया. आपने मेरी कहानीगाँव की भाभी की चूत की चुदाईपढ़ी, मुझे सुझाव दिए, उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

वो दोनों मेरी चूत और गांड को पेलते हुए मुझे गंदी गंदी गालियां दे रहे थे. मैं ऑफिस में सबसे अच्छे से बात करती हूँ और मैं बहुत खूबसूरत हूँ, तो ऑफिस के लोग भी मुझे बहुत प्यार करते हैं. अब सुनील का हाथ उसके पंजे से उसके पैरों पर और धीरे धीरे घुटनों तक आ और जा रहा था.

लंड के अन्दर जाते ही वो हल्की हल्की आवाजों में चीखने चिल्लाने लगी- आ आआ आ आहहह … राज भर दो मुझे … मिटा दो मेरी प्यास … बरसों तड़पी है ये मेरी चुत … शांत कर दो इसे!वो उचकती रही और मेरे लंड को अपनी चुत में लेती रही. कोई पांच मिनट बाद सबा की बोली बदल गई और अब सबा मस्त होकर लंड ले रही थी- आह … आह जोर और जोर से चोदो … आह … आह … और जोर से.

तभी शिखा मामी मेरी ओर स्माइलिंग चेहरा देते हुए एकदम से बोल पड़ी- अरे रात को क्यों जा रहे हैं, कल सुबह चले जाइएगा.

सोनिया- तुम्हें ज्यादा इंतजार तो नहीं करना पड़ा?रोहन- नहीं बस 20 मिनट.

ज्योति ब्रा उठाने के बाद जैसे ही सीधी होकर उसे पहनने लगी उसकी नज़र अपने पिता पर गयी, जो अपने हाथ को अपनी धोती में डाले हुए था. मां मुझ पर गुस्सा होते हुए बोली- छी, तुझे शर्म नहीं आती? इतनी बेशर्म हो गई है तू. अब मेरे कोमल बदन को छूने के बाद उनके लंड में तूफान तो उठ ही गया था इसलिए वो मुझे अपनी गोद में उठाने लगे.

ज्योति ने पहले भी अपने बाप का लंड अपनी चूत में लिया था लेकिन उसके बाप के लंड से उसको अभी भी भय लगता था क्योंकि उसका लंड था ही इतना मोटा. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:शरीफ चाची को अपना लंड दिखा कर चोदा-2. मैंने मेम को कुतिया जैसे बनाया और पीछे से उनकी गांड में लंड पेलने लगा.

हम दोनों कुछ देर तक तो एक दूसरे की आँखों में देखते रहे और पता नहीं क्या सोचते रहे।वो मेरा बचपन का दोस्त था और मैं उससे बिल्कुल भी नहीं शर्माती थी.

हम भी तो देखें कि जितनी मस्त ये बाहर से देखने में लग रही है, क्या अंदर से भी वैसी ही है या इसके जीजा ने इसकी झूठी तारीफ की थी. क्योंकि एक तो इस होली में मैंने स्वीटी आंटी के साथ मस्त होली खेली और होली खेलने के दौरान हीं हम दोनों ने संभोग किया. हम दोनों रोज मिलते थे, हंसी मजाक करते और आपस की कुछ बातें एक दूसरे से साझा कर लेते थे.

मुझे इस बात का पता नहीं था कि मम्मी ने चाची को बोला हुआ है कि वो मुझे आज घर पर आ कर पढ़ाने वाली हैं. ओहो बहुत अच्छा … मुँह में लो!”जी सर!”मैंने सर का लंड अपने मुँह में ले लिया और धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगी. मैंने फोन तो उल्टा करके रख दिया मगर मेरा लंड मेरी पैंट में तना हुआ था.

पांच मिनट तक मैं ऐसे ही बेड पर बैठी रही और सोच रही थी कि आखिर क्या प्लान बनाया है इन दोनों ने.

मैंने उसके हाथ को सहला कर डिस्पोज़ेबल गिलास पकड़ा और चीयर्स कह कर एक ही सांस में पूरा पैग गटक लिया. धीरे धीरे बिना रुके ही मैंने पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया और उसको होंठों को अपने होंठों से दबाये रखा.

बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ मैंने सोचा कि बस उसको उत्सुकता हो रही है, इसी लिए देखना चाहता होगा. जब वो वीडियो खत्म हुई तो राखी गांड उठा-उठा कर अपने छेद में मेरी जीभ का मजा ले रही थी.

बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ तभी मैंने कौसर से पूछा- शहद है?वो शहद की बोतल ले आयी और कौसर मेम के मम्मों से लेकर उनकी चूत तक शहद लगा दिया. शबनम शिकायत करती तो कहता कि चूस चूसकर इन्हें नायरा के मम्मों जैसा ही बनाना चाहता हूँ.

इस तरह मेरा उनके घर टयूशन शुरू हो गया और मैं चाची के पास पढ़ने जाने लगा.

सेक्सी फिल्म नंगी अंग्रेजों की

आज उन्हें वह मिलने वाला था जिसका वह कई वर्षों से इंतजार कर रहे थे, आज मनीषा उनकी होने वाली थी. यहाँ पर ज्यादातर पुरुष जो उसके संपर्क में आते थे, उससे उम्र में काफी छोटे थे. साइट पर मैंने कहानियों के अंत में पाठकों के जबरदस्त संदेश देखे और उनके संदेशों ने मुझे लोवर टी-शर्ट उतार फेंकने पर विवश कर दिया.

फिर मैंने अपने लंड की टोपी उनकी चुत के मुँह पर रख कर एक करारा धक्का लगा दिया. मेरी दीदी की सेक्स कहानी आपको कैसी लग रही है? मेरी इस सेक्स कहानी के लिए आपके मेल की प्रतीक्षा रहेगी. जब साक्षी ने मनोज को देखा तो उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया और अपनी साड़ी के पल्लू से अपने स्तनों को ढक लिया.

मैंने एक बार फिर से लन्ड पूरा बाहर निकल कर कपड़े से साफ किया और फिर उसकी चूत में रगड़ने लगा.

जिस दिन हमको मिलना था तो उस दिन मैं तो सुबह से ही वहां पर पहुंच गया था और उसके आने से पहले उसने जो फोटो व्हाट्स पर भेजी हुई थी उसी को देख कर मैं मुठ मार चुका था. मैंने उसे मेरे मुँह के ऊपर बैठ कर चूत चटवाने को बोला तो वो मान गयी. ”अब महेश ने पूरा लंड बाहर निकाल कर ज्योति की चूत में पेलना शुरू कर दिया.

रात में उसने मुझे कॉल किया- गिफ्ट कैसा लगा?मैं- अच्छा था, पर साइज छोटा है. ऐसा करते करते मैंने अपनी उंगली से उनकी चूत की दरार को हल्का हल्का सहलाना शुरू कर दिया. मैं थोड़ा हिचक रहा था क्योंकि इससे पहले मैं रात में किसी के घर नहीं गया था.

एक दूसरे के साथ तो काफी दिनों से थे ही, अब एक दूसरे के अन्दर भी हम दोनों घुस चुके थे. तब साकेत भैया समझ गए कि अब मामला फिट है और वो फिर से दीदी की पैंटी को नीचे खींचने लगे.

उठ के कुहनियों के बल हो गयी और शिकवे के अंदाज़ में बोली- राजे मैं अब तेरे से नाराज़ हूँ … तूने मेरे साथ भेद भाव किया मादरचोद!मैंने मुस्कुराते हुए पूछा- क्या हुआ मेरी जान? क्या गुस्ताखी हुई इस ग़ुलाम से रानी जी की शान में?साले … सब रानियों को चुदाई के बाद चूत चाट के सफाई करता है … लंड चटवा के साफ़ करवाता है … बहन के लंड मेरी चूत को तौलिये से क्यों साफ किया? न ही हरामज़ादे ने लंड साफ़ करने का मौका दिया. अमन- रोहित, क्या तूने कभी गे सेक्स देखा है?मैं- हां देखा तो है … क्यों?अमन- बस यार ऐसे ही पूछ रहा था … क्या करते होंगे वो लोग?मैं- सेक्स करते हैं … और क्या करते होंगे, गांड मारते हैं … और क्या?अमन- यार मुझे भी देखना है … तेरे पास तो मुझे भी दिखा ना. मैंने सीट पर व्यवस्थित होने के बाद बैग में से लैपटॉप निकाला और फिर उसमें मूवी देखने लगा.

मेरी पिछली कहानीदोस्त की भाई की शादी में सुहागराततो आपने पढ़ी ही होगी.

हमारे यहां शादी में दुल्हन के साथ कोई एक आदमी जाता है जो कि दुल्हन को दो दिन के बाद वापस लेकर आ जाता है. जब पहली बार चाची ने मेरे लंड की टोपी अपने मुँह में ली, उस टाइम तो मैं समझो स्वर्ग में पहुंच गया था. पर मैंने मना कर दिया क्योंकि मैं और कोई लफड़े में पड़ना नहीं चाहती थी.

कुछ देर तक यहां वहां की बातें होती रहीं और उसकी सास ने बताया कि जन्मदिन की सारी तैयारियां हम दोनों के भरोसे ही हैं. स्टेफी- हाई जीशान … प्लीज़ कम … वॉयलेट बताती है मुझे तुम्हारे बारे में.

मैंने हैरान होते हुए पूछा- क्या पता है आपको मेरे बारे में?वो बोली- मैं दो साल से अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ रही हूं. सीधे हनीमून पॉइंट गए … वहां तो जिसको देखो चिपटाए खड़ा था … खुले आम चूमा चाटी हो रही थी. कोई पन्द्रह मिनट तक एक ही अवस्था में चोदने के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

करीना फोटो सेक्सी

चूंकि उसकी गांड बहुत टाइट थी तो इस वजह से मैं भी पंद्रह मिनट में ही झड़ गया.

लेकिन परेशानियों का अंत केवल खुद के विरोधाभास पर नहीं बल्कि इस काम के लिए किसको चुना जाए उस पर भी था. उसके बाद मैंने अपनी साली को पैग बनाने के लिए कह दिया ताकि मैं डॉक्टर के साथ आसानी से सेक्स का मजा ले सकूं. अब उन्होंने अपने लंड को मेरी चूत की दरार के आसपास रगड़ना शुरू कर दिया.

स्लीवलैस ब्लाउज … वो भी एकदम गहरे गले वाला था, जिसमें से उनकी रेड ब्रा की स्ट्रिप मुझे साफ नजर आ रही थी. मेरी सेक्स कहानी के पहले भागरंडी बहन की चुत में डबल लंड-1में आपने जाना कि मेरी विधवा बहन के जिस्म की प्यास उसके ससुर के लंड से बुझ रही थी, जिसे मैंने देख लिया और खुद भी अपनी बहन को चोदने का ताना बाना बुनने लगा. पोर्न सेक्सी हिंदी मेंउन्होंने मुझे देखा, हमारी आँखें मिली और मेरे लंड से एक और पिचकारी निकली जो फिर से उनकी चूत पर लगी.

विक्की- हां तुमने कभी अच्छे से दिखाए ही नहीं हैं … तो मुझे साइज़ का कैसे पता चलेगा. वर्ना तुम्हारी चूत को प्यासी ही रहना पड़ जायेगा आज रात!मैं बोली- अच्छा ठीक है मेरे सरताज, क्या शर्त है, बताओ भी अब?मनोज ने कहा- मुझे श्वेता की चुदाई करनी है.

वो अपनी चुत मेरे मुँह पर रगड़ रही थी और मैं चप-चप चप-चप उसकी चुत को चाटने में लगा था, जो पानी पानी हो रही थी. और डांस के दौरान अगर पार्टनर को बुरा नहीं लग रहा तो थोड़ी बहुत इंटिमेसी चल सकती है. मौसी बोलीं- मेरे सैयां जी का स्पर्श वैसा रसीला नहीं है … जैसा तेरा है.

मैं उसके लंड के मजे ले रही थी और मादक आवाजें निकाल रही थी- आह सुहास … चोदो मुझे … आह सुहास … चोदो मुझे!मुझे लगभग एक घंटे चोदने के बाद सुहास झड़ गया. इस बीच मैंने आदी से काफी बार दोनों का लंड चुसवाया, पर आदी अब गांड चुदवाने के लिए तड़प रहा था. सोनिया- हाय तो मेरी चूत में उंगली डालकर रब करो ना … मेरा दाने और दूसरे हाथ से मेरी चूचियों को दबाओ जानू.

अब वो भी समझ गया था कि मैं जाग रही हूं और बस सोने का नाटक कर रही हूं.

और ये बोलते हुए उसने नीरू के हाथ से अपनी पेंटी ले ली।नीरू उसका चेहरे को अपने दोनों हाथों में लेते हुए बोली- मेरी प्यारी बहना … हम यहां मस्ती करने तो आये हैं. सीमा बोली- अगर इतना सब कुछ हो गया तो फिर ग्रुप सेक्स में क्या बुराई है?अब सबको होश आया कि बातचीत कहाँ चली गयी है.

फिर हम दोनों अलग हुए और मैंने मनोज की तरफ देखा तो उसकी नजर श्वेता के स्तनों की दरार को ताड़ रही थी. मैं सोचने लगा कि मेरा तो बहुत छोटा है … और मेरे उधर बाल भी नहीं है. उसका खुद पर कोई नियंत्रण नहीं रह गया था और वो लगातार वहीं देख रही थी.

मैंने वो सब रस बड़े मजे से पी लिया और उनकी पूरी चुत चाट कर साफ कर दी. अभी तक हम दोनों में बहुत दूरियां थीं और हमारे बीच गले मिलने से ज्यादा कुछ हुआ भी नहीं था. आपको मेरी चाची की बेटी की वासना और चुदाई की कहानी अच्छी लगी या नहीं, कमेंट में जरूर बताना या मुझे मेल करना.

बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ इस बार महेश ने पूरा लंड बाहर खींच कर एक ज़बरदस्त धक्के के साथ पूरा लंड जड़ तक ज्योति की गांड में पेल दिया और ज्योति दर्द से फिर चीख पड़ी. या यूं कहें कि कॉलबॉय का काम करता हूँ, बदले में दोनों तरफ का काम बन जाता है.

सेक्सी पिक्चर जंगली जानवरों की

गीत ने दोबारा से कहना शुरू किया- अब बीच में टोकना मत, पूरी बात सुनो, अब मुझे भी बताने में मजा आ रहा है. आपका दोस्त प्रतोष सिंह फिर से अपनी एक मस्त चुदाई की कहानी के साथ हाजिर है. लेकिन मेरे ऊपर अब भूत सवार हो चुका था- रांड कहीं की … अपने खसम को छोड़ कर दूसरे के लंड से चूत चुदवा रही है, तो क्या सती सावित्री है … साली रंडी ही तो है … चल रंडी देख कैसे तेरी चूत के चीथड़े बनाता हूँ.

मैंने तुम्हें टिकट मेल कर दिया है, तुम ट्रेन में बैठ जाओ, तो फोन कर देना … ओके. परमीत ने उस आधे खड़े लंड को अपने हाथों में संभाला, ये देखते ही कोमल अपनी सहेली के साथ तालियां बजाने लगी और परमीत ने उस सांवले से बड़े लंड को हाथों से सहलाना शुरू कर दिया. बंगाली रंडी की चुदाईमैंने उसकी चूत में धक्के लगाते हुए उसकी चूत को चोदना चालू रखा और फिर जल्दी ही मेरा लंड भी बहुत ज्यादा टाइट होने लगा.

मैंने कहा- यहाँ पर कैसे?वो ज़िद करने लगीं और जैसे ही मैं लंड दिखाने वाला था, तभी किसी के रूम के पास आने के आवाज़ आने लगी.

तभी मैं सोनम को बोली- मेरे बॉस से सेक्स करेगी क्या?वो बोली- नहीं यार, वो इतने बड़े हैं. और डांस के दौरान अगर पार्टनर को बुरा नहीं लग रहा तो थोड़ी बहुत इंटिमेसी चल सकती है.

भले ही असल में रिया जान चुकी थी कि जॉली अब नाराज नहीं रहा था, लेकिन क्या फर्क पड़ता है कि चाकू खरबूजे पर गिरे … या खरबूजा चाकू पर. असल में उन सभी के मर्दों ने ऐसा कभी उनसे जिक्र भी नहीं किया था, तो बिना बात किये ग्रुप सेक्स का प्रश्न ही नहीं उठता था. मैं समझ गया कि ये पीती तो है, पर आज घर जाने की वजह से मना कर रही थी.

पहले एक बार खेत में राउंड लगा कर आते हैं और उसके बाद दोनों साथ में ही सो जायेंगे.

उसने बाल्टी उलटी कर एक पैर उस पर रख दिया, तो मुझे चाटने के लिए अच्छा स्पेस मिल गया. जो लोग पहले से वहां पर घूम कर आ चुके हैं, वो वहां की संस्कृति से अच्छी तरह परिचित होंगे. अब मैंने उसकी गांड पर लंड को बाहर ही लगा कर उसकी पीठ को चूमना शुरू कर दिया.

देसी पोर्न वीडियोउसके बाद वो खड़े हो गये और खड़े-खड़े ही मेरी चूत में लंड को घुसाने की कोशिश करने लगे. मुझसे रुका ही न गया और मैं धीरे धीरे से मासी की चुत को सहलाने लगा और उन्हें भी मजा देने लगा.

पंजाबी ट्रिपल एक्स सेक्सी वीडियो

उसने अपने शरीर पर एक ब्रांडेड परफ्युम स्प्रे किया, जिससे पूरा कमरा महकने लगा. इतनी गर्म हो चुकी लड़की को कमरे में नंगी छोड़ कर वो गया तो मुझे हैरानी हुई. ”अंशु- चल बैठ सामने और मेरी जांघों के बीच में मुंह लगा!शैली अंशु की पैंटी उतारने लगी।साली जी ऐसे ही लगा … खुशबू ले जो मेरी कच्छी में से आ रही है.

उसने अपने शरीर पर एक ब्रांडेड परफ्युम स्प्रे किया, जिससे पूरा कमरा महकने लगा. राहुल भी पूरे जोश में आ गया और अपने लंड को धकाधक रीमा के मुँह में पेलने लगा. मैंने अन्दर झांका, तो शीशे के अन्दर से ही उन्होंने मुझे आने का इशारा किया.

उसने बाल्टी उलटी कर एक पैर उस पर रख दिया, तो मुझे चाटने के लिए अच्छा स्पेस मिल गया. कोमल सीनियर होकर भी हमारी खास सहेली बन गई थी और हम अब फ्रेंक होकर बातें करने लगे थे. अभी तो तुझे घोड़ी, कुतिया बनाकर मस्त चोदूंगा। बंध्या आज तो शुरुआत है.

हम लोगों ने पिछली तीन मुलाकातों में अपने अपने पार्टनर्स बदल कर मस्ती की है, सेक्स नहीं किया. मैंने उसी वक्त ये निश्चित किया कि सुबह ही मामी से दोबारा इसको लेकर बात करूंगी.

चारों युगलों को नयी नयी शादी का खुमार अभी उतरा नहीं हैं, हालाँकि सभी कि शादी हुए डेढ़-दो साल हो चुके हैं.

ऐसे ही कुछ देर तक धीमी चुदाई करने के बाद एकदम से उन्होंने दोबारा से अपने लंड की स्पीड को बढ़ा दिया. देहाती में चुदाईमैं चाहती थी कि लंड चूसते-चूसते परमीत की गांड फट जाए और उसके लिए अनुभवी लंड जरूरी था. এক্স এক্স এক্স বিএফदीदी- पागल हो … स्कूल ड्रेस में नीचे पूरा दिखता है … मैं सूट पहन लेती हूं. मैं डरता था कि कहीं उसको पता न लग जाये कि मैंने एक औरत की चुदाई को इस तरह से कहानी के रूप में सबके सामने परोस दिया.

मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से पूरा ऊपर से नीचे तक फेरते हुए चाट रहा था.

उसके बाद मैंने गिफ्ट्स वहीं कुमार के रूम में रख दिए और हम दोनों चले आए. उस टाइम तक मेरे दिल में उनके लिए कोई गलत विचार नहीं था, बस वो मुझे अच्छी लगती थीं. सुनील ने दीपा से कहा कि वो उसकी छाती पर जेल लगा दे तो दीपा उसकी ओर मुड़ी तो पीछे से मनोज ने उसे सुनील की ओर धक्का दे दिया.

मैंने उसके गालों को अपने हाथों में पकड़ा और उसके होंठों को जोर से चूसने लगा. इसमें क्या बुरा है?मैंने आशीष को बताते हुए कहा- रही बात मेरी बड़ी दीदी की तो मैंने उनके बारे में सिर्फ सुना है. मैं नीचे उतर गया और उसने गाड़ी की खिड़की बंद कर ली और मैं अपने रास्ते हो लिया.

सेक्सी वीडियो हिंदी चुदाई वाली वीडियो

मैंने जैसे ही उसकी चुत को को छुआ तो पाया कि उसकी चुत पहले से ही पूरी गीली हो चुकी थी. पर मुझे अच्छे से मजा नहीं आ रहा था तो मैंने उससे कहा- थोड़ा कुल्फी की तरह से चूसो तो आंनद आ जाये. सुहास मेरे दूध दबाने लगा और मुझे अपनी छाती पर खींच कर मेरे चूचुकों को निचोड़ने लगा.

हफ्ते भर से चूत न चोदने के कारण मेरा लंड मानो रॉड की तरह तन गया था.

माँ बोलीं- साले तू ऐसे ही घर में घुस कर लौंडिया चोदता है … तुझे अपने घर में अपनी माँ बहन चोदने के लिए नहीं दिखती हैं.

अंत में चाची ने हाथ जोड़ लिए और बोलीं- मेरे बाप … अब तो छोड़ दे मुझे … अब मुझसे चला भी नहीं जाएगा. रात को दो बजे के करीब हम दोनों को फिर से सेक्स चढ़ गया और मैंने उसकी चूत की चुदाई रात में ही चालू कर दी. पीने वाला सेक्सीसोते सोते मैं उसके कंधे पर सर रख कर सो गया था और नींद में फिसलते हुए मेरा सिर उसके मम्मों पर टिक गया था.

भाभी जी पूछने लगीं- मिस्टर आप यहां कैसे?मैंने कहा- भाभी जी मेरा नाम मिस्टर नहीं बल्कि करन है … और मैं तो इसी होटल में रुका हूँ. यह सुन कर हम सब मुस्कुरा दिए।शैली चल बाथरूम में!”उसे फर्श पे लिटा के अंशु ने उसकी चूत पे अपने सुनहरी मूत की धार छोड़ी।फिर मैंने उसे पैंटी पहनाई, ब्रा पहनाई।शैली कपड़े पहनने लगी।कामिनी तू भी जल्दी से अजय बन जा, इसे बाहर लेके जाना है न!”मैं भी तैयार हो गया, शैली भी।बाहर से मम्मी की आवाज़ आयी- बस बस पानी पी के आ रही है. मेरी छुट्टियां चल रही थीं तब एक दिन अचानक ही बड़ी बुआ घर आई और मेरी मां से बोली- पप्पू के फूफा और बच्चे सब बाहर गये हैं.

गांड चोदते हुए कभी मैं बीवी के चुचे पी रहा था, तो कभी प्यारी बीवी के होंठों चूसने लगता. फिर कुमार खड़ा हुआ और मेरे दोनों पैर अपने कंधे पर रख कर मुझे चोदने लगा.

अब चाची से बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो गाली बकने लगीं- दीपू साले हरामी जल्दी से डाल भी दे, मादरचोद … मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा.

लंड को देख कर ऐसा लगा जैसे कछुए का ऊपरी कठोर भाग अंदर सेक्स के तूफान को दबाये हुए है. मैं धीरे धीरे उनकी चुत पर हाथ फेरने लगा और वो बिन पानी के मछली की तरफ तड़फने लगी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्म्म्म … अमन्न आह अआआह आह. मैं चिल्ला दी, पर मुझे ज्यादा दर्द नहीं हुआ … शायद नशे की वजह से ऐसा हुआ था.

सेक्सी बीपी मराठी ओपन मैं कब झड़ गई थी मुझे पता भी नहीं चला।सुखविन्दर ने तुरंत ही 3 ग्लास शराब फिर बना ली और फिर मुझे भी पिला दिया. लेकिन जॉली ने अगले पल एक हाथ उसके गोल गदरायी गांड के दाएं कूल्हे पर रखा और हल्का सा दबा दिया.

अभी मोना मुझसे चिपकी हुई थी … भाभी धीरे से मेरे कान में बोलीं- अभी चोदोगे इसको … यह तुमसे ज्यादा चुदवाने के लिए उत्तेजित है. वैसा ही हाल हमारा भी था हमारी चूत भी किसी भी हैंडसम लड़के को देखकर रस बहा देती थी. मैंने अपने अंगूठे को उनके पीछे के छेद पर रख दिया था और उसको मसल रहा था.

गाना का वीडियो सेक्सी

वैसे तो मुझे भाभियों को चोदने का बहुत शौक है लेकिन कुछ दिन पहले एक लड़के ने कैसे गांड मरवाकर मेरे लंड को मज़ा दिया था. पोर्न वीडियो में भी गांड चुदाई के सीन देखते हुए मैं काफी उत्तेजित हो जाता था. मैं- ये वीडियो तुझे अच्छा लगा?अमन- हां पसंद तो आया … क्यों?मैं- देख … मैं भी ये करना चाहता हूँ … पर मुझे कोई लड़का मिल नहीं रहा है.

मेरा ब्वॉयफ्रेंड मेरी नाभि को किस करने लगा और मुझे गुदगुदी करने लगा. मैंने मॉम से कहा- मुझे आगे के काम के लिए दो दिन बाद विदेश जाना पड़ेगा, तो मैं आज आपको पापा के पास घर में छोड़ देता हूं … फिर वहीं से निकल जाऊँगा.

खाने के बाद मोसी ने मेरे सोने की कहते हुए बोला- चल तू मेरे साथ मेरे कमरे में बेड पर ही सो जा.

मनोज ने मेरी साड़ी और पेटीकोट को एकसाथ ऊपर कर दिया और सीधे ही मेरी चूत में जीभ देकर जोर से उसको चूसने लगे. उसने एक कपड़े से चूत को साफ किया, मेरे लंड को भी पौंछा और वो घोड़ी बन कर मेरे सामने आ गयी. वे बहुत प्यार से वो मेरी बुर को चाटने लगे।मेरी आँखें अपने आप बंद होती चली गई, मुझे पहली बार स्वर्ग सा आनन्द प्राप्त हो रहा था। मेरे मुँह से अपने आप ‘सी सी’ की आवाज निकलने लगी, मेरी पूरी बुर चिपचिपे पानी से सराबोर हो गई.

मेरे इस तरह चूत चाटने से वन्दना इतनी चुदासी हो गयी कि उसने मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया और आहह आहह करने लगी. अब आंटी बोलने लगीं- और मत तड़पा यार …मैंने अपनी जीभ आंटी की चुत में डाल दी और ऊपर नीचे करने लगा. मैंने पूछा- पार्टी! किसी बड़े होटल में?उपिन्दर बोला- बड़े होटल में क्या मज़ा है, पीने खाने का सामान लेके वो शहर के कोने वाले पार्क में चलते हैं। आराम से खाएंगे पिएंगे, थोड़ी देर में जो थोड़े बहुत लोग पार्क में होंगे वो भी चले जाएंगे। उसके बाद वहाँ फूलों के बिस्तर पे तेरी बहन अपने पति से चुदवाएगी और यहाँ हरी नर्म घास पे तेरी मम्मी की सुहागरात मनेगी.

क्या कहती हो?दीदी- मैंने तो उनसे बोला था कि जो भी बोलना हो, आप लैटर में लिख कर बोल दीजियेगा.

बिहारी सेक्सी पिक्चर बीएफ: मुझे नहीं पता था फोन पर बात करके भी झड़ने में भी इतना ज्यादा मजा आ सकता है. इन्हीं दूधों को देख कर उसके जीजा अपनी साली की चूत चुदाई की जिद पर अड़ गये थे, ये बात अब मुझे अच्छी तरह समझ आ गयी थी.

मेरी चूत को चाटने के बाद उसने अपना लंड मेरी मुंह में डाल दिया और मुझसे कहने लगा कि मेरा लंड चाटो और मैं अपने भाई का लंड चाटने लगी. जिस्म भरा हुआ था जिसे देख कर मेरा लंड मानो पैंट में ही हड़ताल करने लगा और बाहर आने को बेचैन सा होने लगा।मैंने अपनी पैंट में से लंड को हाथ लगा कर ऐडजस्ट किया और फिर हल्की सी स्माइल के साथ उसको अपना परिचय दिया। उसकी आंखों की चमक देखते ही बन रही थी. उसने हल्का मेकअप भी किया हुआ था और उसका चेहरा चौदहवीं के चांद की तरह चमक रहा था.

इन्तजार कीजिये जिस्म की आग की कहानी के अगले भाग का![emailprotected].

तभी विवेक पीछे से बोला- बंध्या तू बिल्कुल चिंता नहीं कर हम तुझे फुल सेटिस्फाइड करेंगे और इतना मजा देंगे कि वो मजा तुझे कभी नहीं आया होगा। अभी हम दोनों एक साथ लन्ड डालेंगे. उसे मनु ने आगे आकर संभाला और उसका टॉप उठा कर उसे बाथरूम की ओर ले गई. तब राजेश्वर सर बोले- क्यों रजनी … फुल इंजॉय हो गया था क्या?मैंने कहा- सर, आपको मुझसे क्या काम था?सुधीर सर बोले- हमें भी वो ही काम था जो तुम उस रूम में कर रही थीमैंने कहा- सर, आपने मेरे बारे में ऐसे कैसे सोचा? मैं आपकी स्टूडेंट हूँ.