दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,लोरी गांव

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी विंडो: दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ, अबकी बार 69 में होकर हम लोगों ने एक दूसरे को पूरी तसल्ली से चूसा और दोनों का पानी जब निकला तो दोनों ने ही अपने अपने मुँह में लेते हुए पी लिया.

आंतों की सूजन

अब दोनों मुर्गी मेरी मुट्ठी में थी … एक चुप और दूसरी फड़फड़ाती हुई। लेकिन उसके पर काटने में भी मुझे ज्यादा वक्त नहीं लगेगा, यह मैं जानता था. తిరుపాల్ ఎక్స్ ఎక్స్ వీడియోमैं एक ही झटके में पूरा उसकी गांड में डालना चाहता था, पर अभी भी उसकी गांड थोड़ी टाइट थी इसलिए इस झटके में मेरा आधा लंड ही अन्दर गया होगा कि वो चीख पड़ी.

संपत जी ने मम्मी के सर पर बने बालों के जूड़े को पकड़ कर उन्हें अपनी तरफ खींचा और उनके होंठों पर किस करने लगे. indian girl सेक्समाइक ने भी तारा को पकड़ अपनी ओर खींचा और स्तनों को मुँह से चूसना शुरू किया.

तो फिर मैं राहुल भैया को बुलाने गयी उनके घर और कहा- आज घर पे कोई नहीं है, आ जाओ मिलने।वो मेरे साथ ही आ गए, मैंने घर के बाहर और पीछे के दरवाजे बंद किये और वो और मैं दोनों मेरे कमरे में एकदूसरे के साथ थे, उन्होंने मुझे गोद में उठा कर चूमना चालू कर दिया और बोले- कब से तुम्हे पाने के लिए मर रहा हूँ निशा! आज मिली हो तुम!और मुझे बेड पर पटक दिया.दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ: फिर मैं उसके बताए अनुसार उसी फ्लोर पे पहुँचा तो देखा सामने वाले रूम में वो खड़ी थी.

अब मैंने अपना लंड पायल के चुत में फिट कर दिया और पीछे रशीद ने पायल की गांड के छेद पे अपना लंड रख दिया.उसी समय भाभी कहने लगीं- तुमने तो मेरे मन की बात कह दी, क्योंकि अब मुझे भी आपके लंड को चूसने के मज़े लेने हैं.

14 साल की लड़की की सेक्सी वीडियो - दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ

थोड़ी देर बाद मेरा भाई आया और उसने मुझे आवाज़ दी- भैया चलो अपने रूम में सोने!उसने मुझे 2-3 बार आवाज़ लगाई लेकिन में नहीं उठा.प्रिया ने भी अब अपनी सांसें रोक लीं और वो अब धक्के खाने के लिए पूरी तरह से तैयार थी.

मैं यूपी के गाजियाबाद का हूँ, अच्छा ख़ासा मस्त जिस्म वाला लड़का हूँ. दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ इसलिए मैं हमेशा से लड़की को पूरी गर्म करके पूरे मजे दे कर ही चोदना पसंद करता हूँ.

तो देखा वो नंबर लिख रही थीं। मैंने जल्दी-जल्दी नंबर दिमाग में बिठा लिया। इतने में मेरा स्टॉप आ गया और मैंने उतरते ही नंबर डायल किया।रिंग गई तो मोबाइल पिक हुआ।मैं- हैलो.

दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ?

मैंने उसकी टांगों को फैला कर उनके बीच में खुद को सैट किया और लंड को अपने हाथ से पकड़ कर उसकी चुत की फांकों में लगा दिया. दूसरे ही पल पूरा लंड जोर के धक्के के साथ पहले से भी ज्यादा अन्दर तक घुसेड़ दिया. वो खुद भी गर्म सांसें जोर जोर से लेते हुए मुझे चूम रही थी, मैं उसके चुम्बनों का जवाब देते हुए लगातार चूमे जा रहा था.

ये कहते हुए उन्होंने सबसे पहले उस जॉकी को ही धोने के लिए उठाया और वो उस पर लगे वीर्य को देखा, जो सूख कर कड़क सफेद हो चुका था. तब मैं भी पूजा की बातों को मान कर उसको अपनी कमर चला चला कर चोदने लगा और अपने दोनों हाथों से उसकी चूचियों को मसलने लगा. समय बीतता गया, मेरी मामी के प्रति काम आसक्ति ज्वालामुखी की भांति धधकती रही.

शादी के बाद अनु तो नहीं देती, लेकिन बुआ जी का और मेरा रिश्ता आज भी मस्त है. तो मानसी गुस्से से बोली- अंकल जो बोल रहे थे, ठीक था … खुद तो इश्क लड़ाती हो और हमारे पर गुस्सा दिखाती हो सती सावित्री बनकर?मैं- ठीक समझी तू मानसी, अब अपनी माँ का असली रूप तो देख चुकी हो। अब मैं जो बोलूँगा वो करना … समझी … अपनी माँ की तरह तुम्हें भी हक़ है मजा लेने का। क्यूँ मानसी?और मैंने एक बार चूम लिया सुशीला के गाल को! वह अभी भी रोती जा रही थी सिसक कर!मानसी- जी अंकल … मैं आपका पूरा साथ दूंगी. कुछ देर बाद वो चाचा से बोला कि इसकी टांगें फैलाओ ताकि चूत को देख सकूँ कि यह चुदी हुई है या नहीं.

मेरी उंगली अब उसकी गुलाबी चुत के दाने पर थी और अपना कमाल दिखा रही थी. मैं बहुत उत्सुक हो गयी, तभी किसी ने दरवाजा खटखटाया … तो मैंने तुरंत मोबाइल बन्द कर दिया और दरवाजा खोला.

मैं उसके चुचों से खेलने लगा और बेड पर बैठकर उन्हें मुँह में भर कर पीने लगा.

जब सुबह वो आई तो मैं नाईट ड्रेस में सोया हुआ था और सुबह सुबह पेशाब नहीं करने की वजह से मेरा लंड तना हुआ था। पता नहीं उसने देखा होगा या नहीं … पर उस दिन के बाद वो मेरे नजदीक रहने लगी, मुझसे बात करने लगी थी और मेरी हर बात का ख्याल रखने लगी थी।फिर एक दिन कुछ काम से मेरे चाचा को राजस्थान गांव में जाना पड़ा, तो घर में मैं अकेला ही था क्योंकि चाचीजी ओर उनके बच्चे गांव में ही रहते थे.

भाभी ने अपनी बात खत्म करके मेरे लंड को झट से अपने मुँह में ले लिया और मैं भी भाभी की गीली चूत को मज़े लेकर चूसता रहा. मैंने उसका टावेल उतार दिया और किस करते हुए एक हाथ से उसकी चूचियां दबाने लगा. उनके एकदम पास जाकर उनकी चोटी को अपने एक हाथ से पकड़कर उनके होंठों पर अपने होंठों को रखकर किस करने लगा और दूसरे हाथ से उनके शरीर को सहलाने लगा.

मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ?मामी बोलीं कि मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दो. फिर आगे बढ़ते हुए मैंने अपने हाथ से उनका पेटीकोट और साड़ी को भी निकाल दिया. मेरा लंड पिस्टन की तरह अन्दर बाहर हो रहा था और भाभी के मस्त चुचे तूफ़ान मचा रहे थे.

उसकी चूत की खुशबू और स्पर्श जैसे ही पापा की मुँह और नाक पर पड़ी, वो मदहोश हो गए, एक क्षण के लिए उनको एक अलग ही रोमांच का अनुभव हुआ.

मैं काफी टाइम से अन्तर्वासना में आप सभी की सेक्स स्टोरी पढ़ रहा हूँ और आज मुझे लगा कि मैं भी आपके साथ अपनी स्टोरी शेयर करूँ. फिर उसने मुझसे पूछा- क्या आपकी कहानी वास्तव में सच्ची है, जो आपने अन्तर्वासना पे लिखी है?मैंने उनको बोला- आपको क्या लगता है?उसने बताया कि सच्ची लगी, तब ही तो सबकी कहानी छोड़ कर आपको मेल किया. तो बता अब हम पांचों तुझे एक साथ चोदें या अलग-अलग चोदें?तब मैं बोली- मैं खुलकर बोलूं.

मुस्कान मुझे अपने पहले सेक्स की कहानी बता चुकी थी, मैंने उस से पूछा- मुस्कान जब तुमने पहले सेक्स किया था. पता ही नहीं चला कि कब हम दोनों अपने चरम सुख तक पहुंच गए और एक दूसरे से लिपट गए. मैं अब लंड के सपने देखने लगी कि कब कोई लंड वाला मेरी चूत की गर्मी शान्त करेगा.

मैंने कहा- कौन, देवेन्द्र …?मुकेश बोला- इसका मतलब आप जानते हो, मैंने उसका नाम कब बताया था, बस लड़के के बारे में पूछा था.

तू तो मेरी प्यारी प्यारी गुड़िया रानी है न!” मैंने बहुत ही मीठी आवाज में उसे मक्खन लगाया. जब मैं वहां आ गई तो मेरी बगलों के बाल, मेरी चूत के बाल, लेग वगैरह सब जगह वॅक्स करके एकदम मुझे चिकनी बंदी बना दिया गया.

दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ इससे उनकी गांड मेरे लंड पे रगड़ रही थी, जिस वजह से मेरा लंड अपना आकार ले रहा था. मुन्ना अंकल बोले- अरे किसी को कुछ नहीं पता चलने वाला है, तुम इतना क्यों डर रहे हो, कौन सी तुम्हारी सगी है? आजकल तो अपनी बहन बेटी से तक से संबंध बना लेते हैं.

दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ मयूरी चिल्लायी- क्या कर रहे हो रजत?रजत थोड़ा डरते हुए- क्या हुआ दीदी?मयूरी थोड़ी झल्लाहट के साथ- ये तुम क्या कर रहे हो?रजत अब सहम गया था. मैंने उसके लंड को चाट कर साफ़ किया और उसने मेरी चूत को चाट कर साफ़ कर दिया.

मेरा पति अपने लड़के के व्यवहार से बहुत दुखी था और उसने मरने से पहले सारा कुछ मेरे नाम कर दिया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ

ऐसा काफी दिनों तक चलता रहा वे मुझे रोज रात को दवा पिलाते और मेरे बदन को चूमते सहलाते. इसी के साथ साथ अपने होंठों से मेरे लंड पर किस करने लगीं और लंड के आगे वाले भाग को अपने मुँह में लेकर अपनी जीभ से स्पर्श करते हुए चूसने लगीं. अभी तक आपने इस कहानी में पढ़ा कि बहू ने अपनी विधवा सास की कामुकता को समझा और उसकी मदद करने की कोशिश की.

अशोक को अपनेबेटी की चूततो नहीं दिख रही थी क्योंकि वो जांघों में नीचे कहीं छुपी हुई थी और वो अपने आँखें फाड़-फाड़ कर अपनी बेटी के सामने ही उसकी चूत में नजर भी नहीं डाल सकता था, पर गांड और उछलती हुई चूचियों पर से वो अपने ध्यान हटा नहीं पा रहा था. मुझे उस टाइम पर कोई गे सेक्स का आइडिया नहीं था कि ऐसा भी कुछ होता है. हम दोनों लोग बहुत देर तक चुदाई करने के बाद हम दोनों का माल निकल गया.

रह रह कर बातों ही बातों में अपनी शादी शुदा सहेली की चुदाई के पहले दर्द और उसके बाद के मजे बारे में बात करके वो उत्तेजित हो जाती, जिसको वह अपनी उंगलियों से शांत कर लिया करती थी.

जिनकी शादी नहीं हुई वो तो खुल्लम खुल्ला जाती हैं बिना झिझक के चुदवाती हैं. उनको मुन्ना अंकल बोले- आप दोनों इधर आ जाइए समाली अंकल, राजीव भाई तो पीछे गांड में चुदाई कर ही रहे हैं, आप दोनों भी आ जाओ. यह कहकर मैंने उस का लंड जोर से पकड़ कर दबाया और बोली- इसके बिना तुम्हें नहीं पता कि मेरी रातें कितनी मुश्किल से बीती हैं.

उन दोनों को सम्भोग करते देख कर तारा के चेहरे फिर से वासना भरी मुस्कान दिखी. फिर मैं उसके मम्मों पर आ गया और उसके मुँह में मैंने अपना 7 इंच का लंड निकाल के दे दिया. वे मुझे धीरे-धीरे किस करते करते नजदीक बड़े सोफे पर ले गई और मैं उनकी चूची को एक हाथ से दबाने लगा.

मेरे मन की बात मामी ने पहले ही शुरू कर दीं और पूछा- रौनक, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने जवाब ‘नहीं. हमारी नजरें टकराईं और क्या बताऊं दोस्तो, उसकी आंखों में मैं जैसे खो गया.

अब मैं उसके होंठों की ओर बढ़ने लगा, मैंने आंखें बंद कर ली ताकि उसके होंठों की कोमलता को महसूस कर सकूं।‘आआह …’ जैसे ही उसके होंठ मेरे होंठों से मिले, मेरे तन बदन में एक अजीब सी ठंडक महसूस हुई और दिव्या का शरीर कांपने लगा. माइक थोड़ा लंबा था, सो उसे अपनी कमर झुका के धक्के लगाने पड़ रहे थे, पर मुझे नहीं लगता उनके उमंग में कोई बाधा पड़ रही थी. मेरे गोलों को हाथ से पकड़कर देखते‌ हुए प्रिया ने गोलों को अपनी मुट्ठी में पकड़ कर दबा दिया.

पर वो दो दिन तक दिखे नहीं, शायद जवाब न पाकर या फिर अपनी गलती पर शर्मिन्दा होकर हमारे घर नहीं आ रहे हो!पर मैंने उन्हें खोना नहीं चाहती थी इसलिए मैं उनके घर गयी, वो अपने रूम में पढ़ाई कर रहे थे, मैं चुपचाप अंदर चली गयी और कुर्सी पर बैठ गयी।बोली- घर क्यों नहीं आये?वो बोले- तुमने आने को नहीं कहा था।मैंने कहा- अब से मत आना.

ऐसे लोग मेरी फ़िक्र भी करते हैं और मुझे मजा देते हुए धकापेल चोदते भी हैं. रेग्युलेटर का थोड़ा सा प्रोब्लम है… तेल डाला है, अभी शायद सिलेंडर में भी तेल लगाना पड़ेगा क्योंकि वो रेग्यूलेटर में नहीं जा रहा है. ब्रा पेंटी को देखते ही मेरे मन में शैतान जाग गया और मैं उनकी पेंटी को उठाकर सूंघने लगा.

तभी उन्होंने इधर उधर देखकर अपना पेटीकोट भी उतार दिया और मेरी और पीठ करके खड़ी हो गईं. फिर हम दोनों साथ ही झड़ गए। हम ऐसे ही एक दूसरे से चिपके हुए कुछ देर तक लेटे रहे, फिर मैं उठा और सिगरेट पीने बालकॉनी में चला गया.

मेरे लिए ये भी कम खुशी की बात नहीं थी कि पूर्वी मन ही मन में तैयार तो हैं एनल सेक्स के लिए …जब मैं पहली बार पूर्वी को कुतिया बना कर चोद रहा था, तभी उनकी गुलाबी गांड देख कर मन बना लिया था कि अगर मौका मिला तो मैडम की गांड भी मारूँगा … और आज वो दिन शायद आ गया था. वो बोला- क्यूं?मैंने कहा- नहीं यार, बस कर, आगे नहीं!वो बोला- ऊपर से तो हाथ फेरने दे।मैंने कहा- दुख रही है।वो बोला- दिखा … कहां से दुख रही है।मैंने कहा- नहीं!वो बोला- प्लीज़ …कुछ नहीं करूंगा … एक बार दिखा तो दे, कहां से दुख रही है।मैंने कहा- पिछली बार तुमने मुकेश के खेत में जो किया था उसके बाद बहुत दुखी थी। मैं आज वो सब नहीं करवाऊंगी।वो बोला- हां तो मैं कब अंदर डाल रहा हूं …. सायं 5 बजे मैंने हिमानी का दरवाजा खटखटाया तो उसने एकदम दरवाजा खोल दिया.

बीएफ हिंदी चलने वाली

मैं भी कमरा बंद करके नीचे आ कर डाइनिंग टेबल पर बैठ कर काम करते हुए नेहा भाभी का इंतज़ार करने लगा.

उधर माइक ने तारा को अपनी बांहों में जकड़ा और उठा कर बिस्तर से नीचे ले गया. अपने निजी जीवन को लोगों पर जाहिर करना, वैसे भी अपने सेक्स पार्टनर की इज्जत उछालने जैसा है. दोस्तो, मैं रोहित, आशा करता हूँ कि आपको मेरी पहली कहानीकॉलबॉय बनने की शुरुआत एक भाभी की चुदाई के साथपसंद आई होगी, लंडवालों ने अपना लंड हिलाया होगा.

निप्पल को कभी दांतों से हल्का हल्का काटता तो कभी टॉफी की तरह जीभ से छूकर चूसने लगता. दोस्तो, ये तो आप भी जानते हैं कि सेक्स करने का असली मज़ा तब है, जब लड़की भी गर्म हो और उसे भी मजा आए. रिंगटोन पता नहीं कौन सा नशा करता हैहम दोनों लंड चूत लगाने की बात कर रहे थे या सिलेंडर लगाने की बात कर रहे थे ये हम दोनों को समझ में आ रहा था.

स्वेटर खुलते ही फूफा जी रजनी जी की चुचियों को उनकी नाइटी के ऊपर से दबाने लगे. उसे देख कर मैं उछल पड़ी और बोली- दीदी, तुम्हें देख कर ऐसा लग रहा है.

वो सोच रहा था कि कहीं ऐसे तो नहीं कि मयूरी को अपनी सुबह की घटना पर पछतावा हो रहा हो और वो अब आगे ऐसा कुछ नहीं करने देगी. अब मैंने एक हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाल दिया और उसके मम्मे दबाने लगा. फिर उसने मुझे देखा और वयस्क साइट पर जो मेरी आईडी थी, उसने मुझे उसी नाम से मुझे पुकारा.

मुझे चुदाई की कहानियां पसंद हैं, जब कभी भी मुठ मारने का मन करता है तो मैं अन्तर्वासना पर कहानियाँ पढ़ना शुरू कर देता हूँ और मुठ मार लेता हूँ. मैं दो मिनट के लिए वैसा ही पड़ा रहा, उनके दूध चूसता रहा और उनको चूमता भी रहा. मानसी मेरे पास आयी और हम दोनों के प्यासे होंठ मिल गये। मानसी को तो लाइसेंस मिल गया था। अभी अभी वो नहा के आई थी। सुशीला हमें देखते ही रह गयी, वो गुस्से से दोनों को देख रही थी मगर कुछ बोल नहीं पा रही थी.

अब मैंने लंड को चुत पर रखकर जैसे ही धक्का लगाया, तो लंड का सुपारा चुत में गायब हो गया और दर्द का रंग एकदम साफ से उसके चेहरे पर झलकने लगा.

दो दिन के बाद मेरे बड़े भाई की लड़की और उसका पति आया था, सब मेहमान नवाजी में लग गए. तो उसने मुझे रोका और मुझे लेटने को कहा और वो मेरे लंड के ऊपर बैठकर अपनी गांड को ऊपर नीचे करने लगा.

वाह क्या धक्के मार रहे हो, तुम्हारा लंड बिल्कुल मेरी चूत की जड़ तक पहुँच रहा है और मुझे दीवानी बना रहा है. मैंने उसे रुकने का बोला और वापिस रूम खोल कर अपने बैग में से सिग्नेचर व्हिस्की का क्वार्टर निकाल के लाया. अगर मुझसे कोई गलती हुई हो तो प्लीज माफ करना और अपनी राय मुझे आप मेल भी कर सकते हैं.

पर रात को सोचते सोचते पता नहीं, अचानक मैंने निश्चय कर लिया कि मिलूंगी. प्रिया की ब्रा निकलते ही उसके चुचे ब्रा की कैद से आज़ाद हो गए और हवा में फुदकने लगे. इसी बीच मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था और मैंने उसकी दोनों टांगों को उठा कर अपने दोनों कंधों पे ले लिया.

दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ जेठानी ने पूछा- क्या हुआ गई नहीं … देर करोगी क्या?देवरानी ने उत्तर दिया कि दीदी बाजार जाएंगी … तो मैंने भी सामान मंगवा लिया. हम दोनों के बारे में थोड़ा बहुत अफवाह भी हमारे कॉलोनी में उड़ रही थी कि हम दोनों लोग का चक्कर है.

सेक्सी पिक्चर बीएफ चोदी चोदा

2 इंच का लंड देखते ही पागलों की तरह चुम्मा चाटती करते हुए मुझसे बोलीं- योगू क्या मस्त लंड है रे तेरा. तुम बस मेरी चुदाई करो, अनु की चूत का नशा उतार दो अपने दिमाग से!”दीदी, आप तो चली जाओगी ना. तो फिर मैंने उम्मीद ही छोड़ दी थी और मैं भी उसको अनदेखा करने लगा था.

घर आकर मैंने बाथरूम में जाकर लंड का पानी निकाला और अपने रूम में जाकर भाभी की वीडियो देखा. उस पते पर पहुंच कर डोर बेल बजाई तो अन्दर से एक नौकरानी सी दिखने वाली औरत आई. सेक्सी डॉट कॉम हिंदी फिल्मइस प्रक्रिया में मोटे तौर पर अगर देखा जाए तो सिर्फ हमारे टोपे ही एकसाथ नताशा के मुंह में घुस पा रहे थे, लेकिन हसीन नताशा पूरी लगन के साथ उन्हें अपनी नर्म गर्म गुलाबी जीभ से चाटती जा रही थी.

उन्होंने पूछा- क्या मैं तेरे लंड को प्यार सकता हूँ?मैंने हां में सिर हिला दिया.

देखो कितना जोर जोर से चूत में दो दो उंगलियां डाले अन्दर बाहर चला रहा है. परंतु सभी लोग मेरी मम्मी को बहुत अच्छे से जानते थे, मुझे देखकर बोलते थे कि यह तुम्हारी बेटी बड़ी हो गई.

एक दिन मैं अपने घर में झाड़ू लगा रही थी और वो लड़का मेरे घर के सामने अकेला था. अब मुझसे रहा नहीं गया और न जाने मुझे क्या हुआ, मैं हाथ ले जाकर खुद जगतदेव अंकल का लंड पकड़ कर अपनी चूत में फिट करने लगी और अपनी चूत के छेद में लंड सैट कर भी दिया. फिर मैंने धीरे से उसके कुरते को उतार दिया, जिसमें उसने भी मेरा साथ दिया.

थोड़ी देर तक उसको चोदने के बाद मैं झड़ने वाला था, तो मैंने मनीषा को बताया कि मैं झड़ने वाला हूँ.

उस झूले में एक साथ बस दो ही लोग बैठ सकते थे तो उसने उन लड़कियों को साथ में बैठा दिया और खुद एक अलग जगह जाकर बैठ गयी. अभी थोड़ी देर ही आराम किया था दोनों ने कि उनको किसी के अपने कमरे की तरफ आने की आवाज़ सुनाई दी. बस रात को मुझे नंगी करके पूरी गरम कर देता था और लंड उसका ढीला ही रहता था.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो गांववो थोड़ा सामान्य होती, इससे पहले ही माइक ने जोर जोर के 10-15 धक्के पूरी ताकत से मार दिए. इसके बाद मैं तैयार हुआ और चला गया आज मुझे बहुत बुरा लग रहा था कि पहली बार किसी से लव यू कहा और वो भी किसी और की प्रेमिका निकली.

इंग्लिश बीएफ ब्लु फिल्म

आगंतुक अन्दर आये, तो सर ने बोला- आओ सुशील बैठो?उन्होंने पूछा- ये कौन है?तो सर ने बोला- ये मेरा स्टूडेंट है. मुझे लगा भी कि खून आ गया है लेकिन वो तो मेरे होंटों को और जोर से चूमने लगी और मेरे कटे हुए होंठ को मस्त जोर जोर से चूसती रही और खून बंद कर दिया. जब रसीले चूत के होंठों पर लंड रगड़ता, तो भाभी बस उफ़ करतीं और तकिये को हाथों से दबोच लेतीं.

रशीद पायल के मम्मे को आम समझ कर उसका रसपान करने लगा … और चूसते हुए मसलने लगा. रजत के ऐसे में तौलिये से टकराने से तौलिया पूरी तरह खुल गया और वो जमीन पर गिर गया. डॉक्टर ने बताया कि इसको कोई दिमाग में किसी सोच ने असर किया है, जिससे यह बेहोश हो गया है.

मेरे अत्यंत प्रिय पाठक-पाठिकाओ,काफी लंबे अंतराल के पश्चात आज पुन: आपकी सेवा में एक नितांत अनूठे, अविस्मरणीय और आश्चर्यजनक किन्तु सुखद हादसे की प्रस्तुति कर रहा हूँ। इस कहानी से पूर्व मेरी पिछली कहानीपेट से नीचे की भूखकरीब दो साल पहले प्रकाशित हुई थी. कविता से मेरी मुलाकात 2 साल बाद हुई तब वह 18 साल की जवान हो चुकी थी. फिर अगले पल मैं खुद ही अंकल के गोद में आगे की ओर थोड़ी सी उचकी और अपनी समीज़ को दोनों हाथों से खुद ही निकालने लगी.

अब तक मैं समझ चुका था कि आग दोनों तरफ बराबर ही लगी है, पर ये समझ नहीं आ रहा था कि गरम लोहे पर हथौड़ा कब और कैसे मारूं. अशोक- मतलब मैं उनको जाके क्या बोलूं? कि चलो अपनी बहन को चोदना है तुम्हें… वो भी एक साथ… मैं भी चोदूँगा साथ में… और ये तुम्हारी बहन के जन्मदिन का तोहफा है?मयूरी- हाँ… एकदम सही.

फिर मैं अपने जीवन में व्यस्त हो गया और इसके बारे में सोचना छोड़ दिया.

मैंने अपने रूम का दरवाजा हल्के से खोला और फिर मनीषा के रूम की तरफ दबे पांव गया. इंडियन सेक्स वीडियो एचडीमैं नंगी बेड पर अपनी बिना चुदी फ़ुद्दी लेकर रो रही थी पर कोई चोदने नहीं आया!फिर मैं अपनी बिना चुदी कुँवारी चूत लिए वापस कॉलेज आ गई. सेक्सी वीडियो रोमांटिकउसे वो ड्रेस देते समय एकदम जोर से बिजली कड़की और लाईट चली गयी, वो एकदम से डर गयी और मुझे पकड़ लिया. अब मैं पागल हो गई और अंकल से बोली- अंकल, जम के चोदो मुझे… जोर से चोदो.

और मैंने आपके लिए एक सुंदर सुशील लड़की भी देखी है, वो भी मैं आपको दिखा दूँगी.

विक्रम- क्या सरप्राइज?मयूरी अब दोनों भाइयों के सामने राज का पर्दा खोलने वाली थी- तुम दोनों को अभी तक लग रहा होगा कि तुमने मेरी चूचियों के साथ खेल लिया, मेरी चूत का स्वाद चख लिया तो अपना लौड़ा मेरी चूत में डाल के मेरी इस कंवारी चूत मजा ले लोगे?विक्रम और रजत एक साथ- कककक… क्या????विक्रम और रजत… दोनों भाइयों की आँखें फ़टी की फ़टी रह गयी. जैसे जैसे उनकी किसिंग बढ़ती गयी, मैं अपने हाथों से दोनों को सहलाने लगा. थोड़ी औपचारिक बातों के बाद वे अदिति से बोले- अदिति, जरा चल के एक बार शादी के गहने, कपड़े और बाकी सामान चेक कर लो कहीं कोई कमी न रह जाय.

अभी दिन ढलना बाकी था और मुझे पैदल चलना था मुख्य सड़क तक पहुंचने के लिए।उन दोनों से वादा करके मैं वापिस कोटा आ गया, आफिस में बहुत डांट भी खानी पड़ी क्योंकि मैं उन दोनों के बारे में किसी को नहीं बता सकता था तो कोई बहाना भी नहीं बना पाया लेकिन मैंने सह लिया और अपने काम में फिर से व्यस्त हो गया. मैंने उससे साथ चलने के लिए इशारा किया तो उसने मना करते हुए कहा कि वो मुझे अपने साथ नहीं ले जा सकती क्योंकि यहां सब उसको और उसके पति को जानते हैं. जगत देव अंकल ने ठोकर मारी और बोले- वन्द्या तू हम लोगों की रखैल बन जा.

बफ वीडियो भेजो

इसी वजह से मैंने अपनी चूचियों को छुपाने के बजाए कुछ उचका कर और बाहर की ओर निकाल दी. अशोक ने मयूरी की होंठों को फिर से चूमा, उसकी चूचियों को जोर से दबाया और फिर मुस्कुराते हुए बोला- मयूरी बेटा…मयूरी- हाँ पापा…अशोक- मुझे अपनी चुदाई का मौका देने के लिए धन्यवाद… तुम्हें चोदकर मुझे जीवन का असल आनन्द मिला है. थोड़ी देर तक ऐसे ही पड़े रहने के बाद उसने अपना चेहरा थोड़ा और अंदर डालने की कोशिश की और शीतल ने इसमें उसका पूरा साथ देते हुए अपनी टाँगें खोलकर उसकी पूरी सहायता की.

भाभी ने अपनी बात खत्म करके मेरे लंड को झट से अपने मुँह में ले लिया और मैं भी भाभी की गीली चूत को मज़े लेकर चूसता रहा.

मुच्छड़- क्यों छमिया, कहाँ से आ रही है?मैं रोते हुए- छमिया क्यों कह रहे हो भैया?मुच्छड़- अरी रंडी.

जब वो चलती हैं तो मानो उनके मोटे चूतड़ों के हिलने से कयामत ही बरसती है. मैंने उनके पेटीकोट का नाड़ा अपने दांतों से खोल दिया और वो उनके पैरों के पास गिर गया. कॉलेज गर्ल्स की सेक्सी वीडियोथोड़ी देर ऐसे ही मयूरी के टॉप के ऊपर से ही उसकी चूचियों को मसनले के बाद अशोक उसकी टॉप को थोड़ा ऊपर कर दिया पर उसको निकाला नहीं!चूँकि मयूरी ने बिल्कुल ढीला-ढाला टॉप पहना हुआ था वो भी बिना ब्रा के तो इस हिसाब से उसके टॉप को निकलने की कोई जरूरत भी नहीं थी, थोड़ा सा ऊपर करते ही वो पूरी तरह दिख भी रहा था और पकड़ा भी जा सकता था, लगभग उसके उतार देने जैसी ही बात थी.

जिसका मैंने विरोध किया तो उसने कहा- सफ़र की गन्दगी को साफ कर नहा धोकर तैयार होकर कुछ खा लेते हैं. उन्होंने अलमारी खोलकर एक एलबम निकाला और मेरे सामने एक तस्वीर कर दी. कभी तुम्हें कुछ काम पड़ जाए, तो ये दूर भाग जाते हैं, जैसे अभी भाग गए थे.

मैंने उसकी थोड़ी तारीफ की और कहा- मुझे आप बहुत अच्छी लगी हो, क्या मैं आपका नम्बर जान सकता हूँ?वो मुस्कुराते हुए बोली- किस चीज का नम्बर?मैंने अचकचा गया और कहा- फोन का नम्बर दे दीजिएगा. कमोड पर वो पेट के बल लेट गई क्योंकि हर झटके से उसका मजा बढ़ता जा रहा था.

मामी की चुत पर इतने ज्यादा बाल उगे हुए थे कि पानी में भीग कर एकदम तर हो गए थे.

जब मैंने इसका कारण देखा तो समझ आया कि मैंने जो टॉप पहना था वह झुकने पर गले से बिल्कुल नीचे तरफ पूरा खुल जाता था जिससे मेरे पूरे बूब्स सीधे नजर आते थे. पिछले 3 साल से जिम जा रहा हूँ, इसलिए मेरी बॉडी बड़ी ही कसरती और आकर्षक है. उसके बाद जब मैं अपने घर आने लगा तो मौसी ने मुझे एक पैकेट में कुछ दिया और कहा कि इसमें मस्त राम की कहानियों की किताबें हैं, पढ़ कर देखना मजा आयेगा.

न्यू सेक्स वीडियोस रांड ले लंड ले… खा जा लंड को साली… अहह अहह अहह’ करते हुए उसे चोद रहा था. आज तू मुझे पूरा चोद दे और मेरी चूत भी फाड़ कर चाहे टुकड़े टुकड़े कर दे.

मैं अपनी दीदी के देवर के लिए किचन से एक गिलास ठंडा पानी और कुछ खाने के चीजें लायी. एक दिन मैंने उसे मैसेज किया- क्या कर रही हो?तो वो बोली- फ्री बैठी हूँ. और कहीं तू किसी मर्द को साथ में सोने को मिल जाए मतलब चोदने को मिल जाए तो उन मर्दों को फिर जीवन का असली मजा मिल गया.

नंगी नहाने वाली

मैंने बोला- क्या आपकी चूत चाटूँ?तो वो बोलीं- चूत क्यों?मैंने बोला- वीडियो वगैरह में करते हैं. मुझे पूरा विश्वास था कि जब मनोज को पता लगेगा, तो वो यह शादी नहीं होने देगा. उसकी हिचकिचाहट देखकर जॉन उसे मेरे पास ले आया, मेरी जांघों पर उसे लिटा कर उसको किस करने लगा.

थोड़े उसके तथा मेरे प्रयास से मेरा लिंग मुंड धीरे धीरे उसके गांड में प्रवेश कर गया तथा मैंने उसकी गांड में धीरे-धीरे धक्का देना शुरू कर दिया।अब श्लोक के आने का समय हो गया था। श्लोक ने रीना के सामने आकर रीना की टांगें थोड़ी सी और चौड़ी करके उसकी गुलाबी चिकनी चूत में अपना लिंग ठेल दिया।शुरुआत में हम तीनों को सहज महसूस नहीं हुआ तथा दोनों को झटके मारने में परेशानी हुई. वह अलमारी में वैक्स हीटर, वैक्स, वैक्स स्ट्रिप्स, टैल्कम पाउडर, स्ट्रिंजर और कोल्ड क्रीम रखी है, सब यहाँ टेबल पे रख लो और समझ लो कि एक चीज़ तो यह कि वैक्स हल्का गर्म ही लगाना है तो उसके लिये स्पेटुला पे बहुत हल्की लेयर ले कर एकाध सेकेंड हवा में रख कर फिर स्किन पे गिराते ही फ़ौरन फैलानी है.

मेरे तो जैसे होश ही उड़ गए … दिन भर सोचते हुए रात मैंने उन्हें मिलने से मना कर दिया.

ये कहते हुए गर्म हो चुके संपत जी ने मम्मी जी के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और पेंटी को भी खींच कर उतार दिया. तो क्या? मुझे तो है!तो मैं बोला- आपको क्या कमी है? इतना अच्छा घर है, गाड़ी है, पैसे वाली हो ही. पता नहीं मुझे … मेरे पास तो ऐसी कोई चीज नहीं!” मैंने कहा और उसके पेट को चूमते हुए नाभि में जीभ घुसा के गोल गोल घुमाने लगा.

मैं जब छोटा था तो अक्सर बाथरूम के बाहर छुप कर अपनी माँ और बहन की चुत की सीटी सुनता था. मैंने अपनी शर्ट और बनियान निकाल दी और उसको सीट पर लिटाते हुए उसके ऊपर लेट गया. वो फिर तड़पने लगी ‘गू गूं गु …’ करके। उसकी आँखों से पानी बह निकला था.

उसके बाद जब मेरा दर्द कम हो होता था तो वो मेरी चूत में अपना एकदम से पूरा लंड डाल मुझे चोदने लगता.

दिल्ली का सेक्सी वीडियो बीएफ: मेरे इतना कहते ही समाली अंकल ने कस के मुझे पकड़ लिया और मेरे मुँह में अपने मुँह को रखकर मेरे जीभ को चूसने लगे. मेरा ऐसे करते ही कम्मो को गुदगुदी हुई और उसकी हंसी छूट गयी; बिल्कुल बच्चों जैसी निश्छल, उल्लासपूर्ण खिलखिलाहट उसके मुंह से फूट पड़ी और उसके मोतियों से चमकते दांत ट्यूबलाइट की तेज रोशनी में दमक उठे.

जितना कामोत्तेजक प्रिया का रस्खलन हुआ था, उसे देखकर लग रहा था कि वो कम से कम अगले तीन चार मिनट तक होश में नहीं आयेगी. यह कहकर उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी, उसके चूतड़ों के मेरी जांघों से टकराने के कारण छपछप की आवाज आने लगी. रजत के लिए जीवन में यह पहली बार था जब वो किसी लड़की की नंगी चुत को इतने नजदीक से देख रहा था.

मैंने कहा- क्यों?तो उसने बताया- मैं शादीशुदा हूं और मेरी एक बिटिया भी है, अगर रात को मैं बाहर रहूंगी तो मेरे पति को मुझ पर शक हो जाएगा.

चाची की एक चुची को मुँह भर रख कर चाचा जोर जोर से चूसने लगे और चूतड़ के मांस को मुठ्ठी भर पकड़ कर अंधाधुँध चोदने लगे. उसी शादी में मुझे कमलेश नाम की ग्रामीण बाला भी मिली थी जो कि रिश्ते में मेरी बहूरानी की भतीजी लगती थी यानि मैं एक तरह से उसका दादाजी लगता था. फिर उसने गले तक जो माल बह गया था, उसको उंगलियों से पौंछा और बड़ी ही कातिलाना मुस्कराहट के साथ मेरी तरफ देखते हुए अदाओं के साथ एक एक करके उंगलियों को चाटने लगी.