बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी कहानी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

कोठे वाली सेक्सी: बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली, क्योंकि इससे मुझे आगे लिखने की प्रेरणा मिलेगी।यह बात कुछ दो साल पहले की है। जब मेरे ऑफिस में मेरे डिपार्टमेंट में दो नई लड़कियां काम के लिए आईं। मुझे तब तक दो साल का अनुभव हो चुका था। वह दोनों नई-नई होने के कारण कुछ बातों की मुझे उसे जानकारी देनी होती थीं। उसमें से एक का नाम नीलू था।नीलू की उम्र 23 साल की थी, उसकी फिगर 30-28-34 की थी.

टैक्सी टैक्सी बीएफ

फच…फ़च्छ… आवाज से कमरा गूँज रहा था।बीच में वो फिर एक बार झड़ गई लेकिन कुछ ही पलों में फिर से ताल से ताल मिला कर मेरा साथ देने लगी थी।अब मैंने उसे उठाया और सोफे के किनारे से उसे झुका कर खड़ा कर दिया, इस वक़्त सोफे पर पूरी तरह झुकी हुई थी, देखने वालों के लिए मानो झुक कर वो अपने ही घुटने को चूमना चाह रही हो. हिंदी बीएफ सेक्सी मूवी फुल एचडीउन्होंने भी चुदास के चलते पेटीकोट और साड़ी उतार दी।मॉम के कपड़े उतरते ही मुझे उनकी चुत के दीदार हो गए.

उनकी चूत पर काफ़ी बाल थे, मेरे पूरे हाथ में मानो बाल ही बाल आ रहे थे।पहले दो चार मिनट तो मैंने चाची की चूत को सहलाया।दोस्तो. बीएफ सेक्सी पीली पीलाउम्म्ह… अहह… हय… याह… जो मेरे शरीर को जोश और ताकत दे रही थीं।उसको अलग-अलग तीन आसनों में चोदने के बाद मैं उसको घोड़ी बनाकर पीछे से उसकी बुर चोदने लगा। वह कराहने लगी और चूत चुदवाने का पूरा आनन्द लेने लगी।वह भी आगे-पीछे होकर मेरा भरपूर साथ दे रही थी। वह कहने लगी- और और तेज करो.

दुबारा सवाल करने पर उसने मुस्कुराते हुए अपना चेहरा मेरे चेहरे के और करीब लाते हुए मेरे गालों पर एक प्यारी सी पप्पी ले ली और फिर मेरे नाक से अपनी नाक रगड़ने लगी… उसकी साँसें अब मेरी साँसों से मिल चुकी थीं और मेरा हाथ अब उसकी पीठ पर बड़े ही आराम से हल्के-हल्के घूमने लगा.बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली: मैंने उसके मुँह को ऊपर किया और अपने होंठ उसके होंठों से लगाते हुए अपने हाथों से उसके मम्मों को सहलाने लगा। उसके निप्पल टाइट होने लगे थे।मुझे उनको छूने में आनन्द आ रहा था.

जो कुछ हुआ वो इतना अच्छा लगा था कि मैं उसको शब्दों में बयां नहीं कर सकती.वो समय मैं कभी नहीं भूल सकता। हम दोनों ने उस दिन दो बार और सेक्स किया और उसे जब वापस बस में बिठाया.

बीएफ 2 पिक्चर - बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली

तो मैं उनके पीछे चला गया और की-होल से उन्हें देखने लगा।भाभी कपड़े उतार रही थीं, उनके गोरे मम्मों और चिकनी गांड देख कर मैं पागल सा हो रहा था। मैंने देखा कि भाभी की चुत पर एक भी बाल नहीं था। उन्होंने अपनी चुत की झांटें साफ़ कर रखी थीं।मैं वहीं अपने लंड को निकाल कर मुठ मारने लगा।तभी मैंने देखा कि भाभी ने अपने पैर चौड़े किए और अपनी चुत को मसलने लगीं.मैं तो उससे भी ज्यादा तैयार हूँ, तेरा इंतज़ार कर रही हूँ।’जब कमल भाभी के फ्लैट में आया और वो दोनों चाय के लिए बैठे तो सरला भाभी बोलीं- देख कमल अब यह देखना दिखाना, बातचीत बहुत हो गई यार.

!’अभी मैं कुछ रुक पाता कि मामी की चुत पूरी भर गई, मामी ने मुझे जकड़ कर रखा- प्लीज़ बेटे अभी लंड को निकालो नहीं. बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली इसका पूरा रस पीलो।यह सुनते ही मैं और जोर से उसके स्तन चूसने लग़ा।वो ‘आआअहह.

हम दोनों की फ़ोन पर हैंगआउट पर चैट होती रही और एक सुबह…राहुल- ऋचा, क्या हम तुम आज शाम को CP (कनाट प्लेस) में कॉफ़ी पी सकते हैं?मैं राहुल के इस अचानक ऑफर से चौंक सी गई.

बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली?

तो मेरा आधा लंड मौसी की चूत के अन्दर घुसता चला गया।मौसी जोर से चिल्ला उठीं और उन्होंने मुझसे कहा- थोड़ा धीरे और आराम से करो. उतना ही उसको चोदने में मजा आता है।उसके बाद उसने इशारा किया तो मैंने अपने लंड पर कंडोम चढ़ाया और उसकी चूत पर लंड रख कर धीरे से धक्का लगा दिया. प्लीज लंड डाल दो मेरी चूत बिल्कुल गीली होती जा रही है।डॉक्टर सचिन ने नेहा के ऊपर जा कर उसकी टाँगें हमेशा की तरह पूरी फैला कर लंड का एक जोरदार झटका मार दिया। इस बमपिलाट धक्के से डॉक्टर साहब का आधे से ज्यादा मोटा लंबा लंड नेहा की चूत में घुस गया।नेहा हमेशा की तरह जोर से चीखी- मार डाला.

इस मस्त चुदाई के बीच संध्या झड़ गई।फिर अंत में मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया, उसके बाद मैं बिस्तर पर लेट गया. कि जब तक बन्दा झड़ नहीं जाएगा, साला छोड़ेगा नहीं!पहले भी यार ने आपको पटाने में पूरा जोर लगाया। मैंने खूब गांड दिखाई, पर असल में वे पहले मुझसे मरवा कर झड़ जाते और ढीले पड़ जाते। खुद तो मेरे लंड के आशिक हो जाते, पर मेरी गांड भूखी रह जाती।एक बात और थी, मैं अब 18 साल का एक मस्त लड़का था, पांच फीट सात इंच लम्बा, रोज सबेरे दौड़ता था और हल्की कसरत भी करता था। मैंने शरीर से तगड़ा दिखता था. इसका पूरा रस पीलो।यह सुनते ही मैं और जोर से उसके स्तन चूसने लग़ा।वो ‘आआअहह.

कुछ ही पल में सर ने मुझे दीवान पर लिटा दिया, सर दवा ले कर आए और बोले- लो लगा लो!मैं बोली- सर, आप लगा दो?सर थोड़ी से हिचकिचाहट के बाद मेरे पैर अपनी गोदी में रख कर वहीं दीवान पर बैठ गए. मैंने अपना लंड उसकी चुत पर लगाया और पेलने की कोशिश की, पर लंड उसकी कसी हुई चुत में अन्दर नहीं जा रहा था।फिर मैंने लंड और चुत पर थूक लगाया और उसकी चुत के मुँह पर लंड रख कर जोर का झटका मारा, तो मेरे लंड का टोपा उसकी चुत में घुस गया।सुपारा घुसते ही वो दर्द से कराहने लगी और लंड बाहर निकालने के लिए बोलने लगी. !मैंने देर ना करते हुए उन्हें किचन कि स्लैब पर बैठाया और अपना लंड लोअर से निकाल कर उनके हाथ में दे दिया।मेरा लोहे सा सख्त और लम्बा लंड देख कर चाची खुश होकर बोलीं- ओह्ह.

तो चाची देख कर बस मुस्कुरा देती हैं। अब हमारे बीच सेक्स तो नहीं होता. क्या मस्त आनन्द आ रहा था।मैं लंड को मामी की चुत में धीरे-धीरे आगे-पीछे करने लगा।दोस्तो, गांड की तरफ से चुत चोदने का मजा ही कुछ और है.

सिमी है?सिमी मेरी बहन यानि की मामा की लड़की का नाम है।तो मैंने कहा- हाँ है।वो बोली- आप कौन बोल रहे हैं?मैंने मज़ाक में जबाव दे दिया- मैं उसका बॉयफ्रेंड बोल रहा हूँ।फिर वो बोली- मुझे पता है.

फिर आगे चल दिए।एक तो बियर का हल्का नशा और दूसरा ठंडी हवा का असर था। इसलिए नशा कुछ तेज होने लगा।कुछ देर चलने के बाद मैं बोला- यार थोड़ी देर रुक जाते हैं.

वह मस्त हो उठी और कामुक सिसकारियां भरने लगी।अब मैंने दुबारा एक धक्का लगाया, तो मेरा पूरा लंड उसकी चुत में चला गया। उसे फिर से दर्द होने लगा. और सहलाते रहा अपनी डंडी।मैं किनारे बैठ गया।नेहा डॉक्टर साहब से बोली- आओ पतिदेव. तो उसने जल्दी से तौलिया उठाया और मेरी तरफ देख कर मुस्कुराते हुए कमरे में घुस गई।इस वक्त वो बहुत सुन्दर लग रही थी। उसका साईज 38-34-38 का रहा होगा। उसे नंगा देख कर और उछलते मम्मे देख कर मेरा लंड पजामे से बाहर आने को हो रहा था।मेरे भाई की शादी को 4-5 साल हो गए हैं.

तो भाभी आईं।उस वक्त भाभी को देख कर मैं पागल सा हो गया। भाभी ने एक बहुत ही टाइट ड्रेस पहन रखी थी उनके आधे से ज़्यादा चूचे बाहर दिख रहे थे। इतनी चुस्त ड्रेस थी कि भाभी के चूचे जैसे बाहर आने को बेताब थे।उसके बाद मैंने भाभी से मस्ती की. रोमा- मामाजी गियर कहाँ है?मैं- तुम्हारे बाएं पैर के नीचे, अब उसे पीछे की ओर एक बार दबाओ. उनकी 5 फुट 6 इंच की हाईट है, चूचे बहुत ही मस्त और बड़े-बड़े एकदम तने हुए हैं।मेरी पुरानी सैटिंग मेरी चाची के कहने पर ऐना बाजी ने भी मेरी चाची जैसे ही लंबे बाल किए हैं। उनके बाल भी उनके चूतड़ों तक लहराते हैं.

आप बड़े हैण्डसम और सेक्सी हो!मैंने शिल्पा को लिटाया और उसकी बुर चाटने लगा, वह मेरे सर में हाथ फिराते हुए कराहने लगी- ओह आअह.

उसमें 4 बज रहे थे। हम लोगों ने खुद को सही किया, मैंने अपने कपड़े ठीक से पहने और उन्होंने भी अपने कपड़े ठीक किए।लेकिन मैंने यादगार के लिए उनसे उनकी ब्रा और पेंटी माँग ली. मैंने जोर दिया तब बहुत देर बाद उन्होंने मुझे बताया- आपको तो मालूम ही है कि मेरी शादी को दो साल हो चुके हैं. तो मुझे उनकी सेक्सी फ़िगर देखकर मन में गुदगुदी होती थी। मैंने उनको एक दो बार नंगी नहाते भी देखा था।मैं बचपन से ही उनके बेडरूम में सोता था, तो मॉम-डैड को कई बार सेक्स करते देखा था.

मुँह में लंड भरते हुए दो-तीन बार चूसा और झटसे वापस चली गईं।मैं मन ही मन बोल रहा था- मामी आज तो तुमने कमाल कर दिया. ओह्ह आअह्ह्ह आ आह्ह!मैंने हल्के रंग के शर्ट और रेड शॉर्ट पैंट पहनी थी, अंदर लाल रंग के ब्रा और पेंटी थी।सर ने अपने सारे कपड़े निकाल दिए, वो सिर्फ फ्रेंची में थे और उनका लंड का उभार मुझे साफ दिख रहा था।और फिर…उनके जिस्म के नीचे मैं थी और मेरे लिप्स वो चूस रहे थे, मैं भी उनको किस में साथ दे रही थी. मैं समझ गया कि मामी गर्म हो रही हैं।मैंने मामी को पलटने के लिए कहा तो वे बिना हुज्जत किए आराम से पलट गईं। मैं अब उनके पेट पर मालिश करने लगा और सूट को चूचों तक ले गया।मामी हंसी और कहने लगीं- आज क्या पूरा काम करके ही मानेगा?मैं कुछ नहीं बोला और पेट को मसलता रहा।क्या नाभि है मामी की.

वरना तो छुप-छुप कर ही पीनी पड़ती है।भाभी- मैं भी कॉलेज के दिनों के बाद आज किसी के साथ दारू पीने बैठी हूँ.

और मैं सिर्फ़ चड्डी में था। मैंने उसकी टाँगों को फैला दिया और उसकी टांगों के बीच में आ गया। वो मेरी तरफ देखने लगी. अब मैं बस शिखा के बारे में ही सोच रहा था कि आख़िर वो क्यूँ मुझसे इतना लगाव दिखा रही है।फिर कुछ देर के बाद वो खाना लेकर आई और मुझे खुद खाना खिलाया। जैसे ही खाना खत्म हुआ.

बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली अब हम बहुत अच्छे दोस्त की तरह रहने लगे थे, तो मैंने एक दिन चाय पीते-पीते किमी से उसके आत्महत्या के प्रयासों का कारण पूछ लिया। किमी ने चाय का कप टेबल पर रख कर एक लंबी गहरी सांस भरी, उसके आँखों में आंसू भर आए… और उसने मुझसे कहा कि अगर मैं उसका सच्चा दोस्त हूँ तो ये सवाल फिर कभी ना करूँ।मैंने ‘हाँ’ में सर हिलाकर तुरंत दूसरी बात छेड़ दी ताकि किमी का मन हल्का हो सके।अब ऐसे ही कुछ दिन बीत गए. पर अब मुझे बिना गांड मारे रहा ही नहीं जा रहा था।उस रोज के बाद मैं हर रोज लंड चूसने वाले की.

बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली !उसे लिटाते हुए उसकी गीली चुत पर लंड को रखा और एक बार में ही पूरा लंड उसकी चुत के अन्दर पेल दिया।लंड के अन्दर घुसते ही पर्दानशीं ने पर्दा हटा लिया और चुत पसारते हुए कहा- और अन्दर तक डाल दे विकास. मैं तुरंत उनके ऊपर चढ़ कर लेट गया और उनकी चूचियों को दबाते हुए उनके रसीले होंठ चूसने लगा। भाभी ने भी मुझे कस कर अपने आलिंगन में कस कर जकड़ लिया और चुम्मा का जवाब देते हुए मेरे मुँह में अपनी जीभ को ठेल दिया।हाय क्या स्वादिष्ट और रसीली जीभ थी.

मेरा नाम जिगर है। मैं अमदाबाद, गुजरात का रहने वाला हूँ। मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है.

क्सक्सक्स फुल सेक्सी वीडियो

क्योंकि ये मेरा दूसरी बार था, इसलिए शायद जल्दी नहीं निकल रहा था।थोड़ी देर बाद मुझे भी लगने लगा कि अब मेरा पानी गिरने वाला है, तो मैं धक्का जोर-जोर से देने लगा और दीदी की बुर में ही गिर गया।दोस्तो अगर मुझ से कोई गलती हो गई हो. लगती तो तू खुश है। पर मैंने अपनी चुदाई की मस्ती में… प्यार करते समय बहुत से ऐसे काम तेरे साथ कर डाले, जो शायद तुझे पसंद नहीं थे। जैसे गन्दी बातें करना, मेरे लंड के साथ खेलना. जिसे हम दोनों यारों ने शराब पीकर उसको बारी-बारी से हचक कर चोदा। मगर यह तो ऐसा काम है कि भूख की तरह फिर से जाग जाता है।तो 4-5 दिन बाद मेरा फिर से किसी फ़ुदिया को चोदने का दिल करने लगा। उस दलाल का मोबाइल नम्बर तो मेरे पास था ही, मैंने नंबर मिलाया और उससे बात की।मैंने उसके ज़रिये कई रंडियों को चोदा। लेकिन जल्द ही उनसे मेरा दिल भर गया।अब मुझे एक कमसिन मासूम कली की तलाश थी.

और क्या-क्या कराओगे मुझसे!इतना ही कह कर वो मेरे लिंग पर जीभ फिराने लगी. ’ निकल गई।वो मुझसे कहने लगी- भाई अब बस मेरी चुत में अपना लंड घुसा दो. फिर तेज-तेज मेरे लंड को चूस रही थी। लंड चुसाई से मेरी आँखें बंद हो गई थीं और दिमाग जन्नत के मजे लूट रहा था।कुछ ही मिनट बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और वो मेरा अमृत झट से पी गई.

तुम्हारा बहुत बड़ा है, मुझे बहुत दर्द होता है।रवि नशे में बोला- मेरी जान.

36 साइज़ के स्तन बीच में गदराया हुआ पर सपाट पेट जिस पर नाभि भी ऊपर ही रखी हुई दिख रही थी और नीचे करीब 40 साइज़ के कूल्हे उसे बहुत सेक्सी बना रहे थे. पर तुमने तो मेरी चुत का भोसड़ा बना दिया। तुमने मुझे बहुत देर तक चोदा. तो मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। वह मेरे लंड का पूरा पानी गटक गई और उसने मेरा लंड चाट कर साफ़ कर दिया।अब मैं उसकी बगल में लेट गया। कुछ पल बाद वह मेरे ऊपर उल्टी तरफ मुँह करते हुए चढ़ गई और फिर से मेरा लंड चूसने लगी, मैं उसकी चूत का दाना खींचने लगा।मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।उसने सीधे होते हुए कहा- अब मुझे और मत तड़पाओ.

मेरे मन में भी अरमान जागने लगे और एक बार फिर से जीने की चाहत होने लगी. !’भाभी के होंठों से लंड चुसाई से मेरा लंड मानो लोहे सा कड़क हो गया था।फिर भाभी ने कहा- अब और मत तड़पाओ जय. लंड से कोई चीज अपने मम्मों पर लगवातीं।बहुत बार मैं भी रोटी का कौर चुत रस में लगाकर खाता था। हम दोनों ने एक झूला भी बनाया था। मैं मामी की टांगों को खोल कर उस पर बिठा कर चोदता.

थोड़े दूर की तो बात है।वह वहाँ से उठकर उस लड़की को कहने लगा कि आप बैठ जाओ. उन्होंने मुझे बड़ी मुश्किल से छोड़ा।इस तरह मैंने दो दो लंड एक के बाद एक अपनी गांड में डलवाए.

मेरी मौसेरी बहन मुझसे चुदने की स्थिति में आ चुकी थी। मैंने उसकी चुत को चूस कर उसको झड़ा दिया था।अब आगे. ’ निकलने लगा।वो बहुत मादक तरीके से मेरे पूरे सीने और पेट को चूमने-चाटने में लगीं थीं। मैं उनके बालों की लट को उनके चेहरे से हटाता हुआ उन्हें प्यार कर रहा था। तभी वो मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लंड को दबाने लगीं।अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था. वैसे तुम किसकी तैयारी कर रहे हो?मैं- मैं आर्मी ज्वाइन करना चाहता हूँ मेम इसमें एक ऑफिसर बनना चाहता हूँ। इसी नवम्बर में मेरा एसएसबी का इंटरव्यू है.

मैंने उसको कस कर पकड़ा हुआ था, कि वो हिल भी नहीं सकती थी।फिर थोड़ी देर वो बाद शांत हुई तो मैंने धीरे-धीरे धक्के मारने शुरू किए।उसके कुछ बाद वो भी अपनी गांड उठा कर मेरा साथ देने लगी।उसके बाद मैंने उसे कई पोजीशन में 3 बार चोदा और जब भी मौका मिलता है.

मानो वो किसी और दुनिया में विचार रही थीं।तभी मैंने देखा रोहित के लंड के आसपास बहुत सारा सफ़ेद रंग का कामरस इकठ्ठा हो गया था. मेरा दिल करता था कि उनको पकड़ कर खूब चूसूँ।फिर उसके घर वालों ने उसकी शादी की फिक्स कर दी. फिर मैंने अपना एक हाथ धीरे से उनकी मस्त चुची पर रख दिया। भाभी की चुची बहुत गर्म लग रही थी।धीरे धीरे मैं भाभी की चुची को सहलाने लगा। भाभी भी अब मस्त हो रही थीं.

फिर मैं बहुत प्यार से अपने लंड को अन्दर करता रहा ताकि उसे दर्द का थोड़ा भी अहसास ना हो, लेकिन वो दांतों को भींचे हुए भी हर दर्द बर्दाश्त करने के लिए तैयार थी।जब मेरा लंड आधे से थोड़ा ज़्यादा अन्दर हो गया था. मैं थोड़ा रिलैक्स हुई, मैंने उसे छोड़ा तो उसने मेरी चूचियों पर से मेरी ब्रा उतार दी और मुझे मेरे बेड पर ले गया.

तो उन्होंने रात को वहीं रुकने का इसरार किया।मेरे मन में भी यही तमन्ना थी. जाओ ले कर आओ।मैं बैग लेने के लिए कमरे से निकला तो नेहा डॉक्टर साहब से बोली- जब टाइम होता है, तो तुमको भागने की पड़ी रहती है। घर जा कर क्या करते? एक तरफ तो बोलोगे कि बीवी हो। मैं तुम्हारी बीवी हूँ तो तुमको बीवी के साथ एंजॉय करने के बजाए भागने की पड़ी है।डॉक्टर साहब बोले- अरे यार तुम भी ना. एकदम सख्त संतरे की तरह थे।दोस्तो, अब मेरा लंड काबू से बाहर था, पर इतने में ही क्लास रूम में और स्टूडेंट्स आने लगे। हम दोनों ने एक दूसरे को जल्दी से अलग किया और इसी तरह एक हफ्ते तक हमने ऐसे ही मजा किया।लेकिन अब मुझसे संयम नहीं हो रहा था, मैंने अपने एक करीबी दोस्त के साथ प्लान बनाया और उससे दूसरे दिन क्लास के बाहर खड़े रहने के लिए तैयार करते हुए कहा- जब कल हम दोनों क्लास में होंगे.

सेक्सी कैसे करते हैं सेक्स

इसलिए वो आराम करती और कामवाली पूरे घर का काम करती। मैं उसकी बड़ी-बड़ी चुचीको देखने के लिए बार-बार उसकी मदद के लिए आ जाता।वो हर बार साड़ी को घुटनों तक उठा कर काम करती.

’मैंने उसे अपनी बाहों में खींच लिया और कहा- सच मैं बहुत लकी हूँ कि तुम मेरी जिन्दगी में हो।मैंने उसके बालों को सहलाते हुए उसके माथे पर एक किस किया।तभी मुझे लगा कि उसकी बांहों की कसावट मेरी कमर के गिर्द कसती ही जा रही थी।मैं बिस्तर पर लेट गया. लेकिन ज़्यादातर वो फेक सी लगती हैं। मैं जो इन्सिडेंट आपके साथ शेयर कर रहा हूँ. चल!उनकी एक्टिवा कोचिंग की पार्किंग में ही खड़ी रही और हम दोनों कार से उनके घर की ओर चल दिए। उनको घर छोड़ने के बाद मैंने कहा- ओके मैडम.

मत करो।मैंने उसे मेरा अंडरवियर उतारने के लिए बोला।पहले वो ‘ना’ करने लगी फिर मैंने उसे थोड़ा फोर्स किया तो वो मान गई। उसने मेरा जैसे ही अंडरवियर उतारा. वो कोई हलचल नहीं करतीं, सिर्फ़ बिस्तर पर पड़ी रहतीं।कुछ ही देर में मेरा लंड चाची के हाथ के करीब आ गया था। मैं चाची को जबरदस्त किस कर रहा था. बीएफ फिल्म सनी देओल कीक्यों कहीं डेट पे जा रही हो?हाँ… जो न्यू बॉयफ्रेंड है ना उसके साथ डेट पे जाना है!वाह.

तो ज्यादा मजा देती है।भाभी बोली- डालो न प्लीज़।मैंने ज्यादा देर न करते हुए लंड का सुपारा भाभी की चूत के मुँह पर सैट किया और धक्का मारा, मेरे गीलेपन की वजह से आधे से ज्यादा लंड भाभी की चूत के अन्दर चला गया।वो चिल्ला कर बोलीं- आह. अपनी चूचियों में दबा कर चूसना और सबसे ज्यादा मैं हर समय तुझे अलग-अलग तरीके से अलग-अलग जगहों पर चोदना चाहता हूँ।’‘ओह.

शायद उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी हुई थी, जिस कारण उसकी चूचियों के निप्पल टी-शर्ट में साफ पता चल रहा था। उसकी टी-शर्ट भी पतले कपड़े की थी। नीचे देखा तो पजामा भी ढीला-ढाला था. !मैं मुस्करा दिया।तो दोस्तो, ये थी मेरी सेक्स स्टोरी मुझे आशा है कि आपको यह हिंदी सेक्स कहानी पसन्द आई होगी।. वंदना की पकड़ धीरे धीरे और भी सख्त होती जा रही थी और इधर मेरा हाल बेहाल हुआ जा रहा था.

जब मिलोगे तब देखना!मैंने उससे कहा- बताओ कब मिलना है?तो उसने कहा- आप अपना मोबाइल नंबर दे दो. वो हल्की छुवन कामवासना को बढ़ा रही थी, हिना की पकड़ मेरे हाथ पर अब कसने लगी थी, उसके जिस्म की आग अब भड़क रही थी।तभी शायद समीर झड़ने वाला था और वो हिला. वो थक गई थी तो मान नहीं रही थी।फिर मैंने कहा- चल लंड चूस कर मुझे मजा दे दे।फिर लंड चुसवा कर मैंने अपना पानी उसके मुँह में ही डाला और नहा कर हम दोनों बाहर आ गए।अब उससे अपने कपड़े भी नहीं पहने जा रहे थे, मैंने उसे दर्द निवारक और नींद की गोली दी.

पर सहेली के वहाँ नहीं, मेरे साथ कहीं और जाएगी।हम दोनों आबू जाने पर सहमत हो गए। वो अपनी कार में जाने वाली थी.

’ बोली और स्कूल के अन्दर चली गई।अब मैं सोच में पड़ गया कि अचानक ऐसा क्या हो गया कि बाइक पर वो मुझसे काफ़ी दूर ही बैठी रही थी, उसके हाथ को छोड़ उसका कोई अंग मुझसे नहीं छू रहा था, वो काफ़ी सम्भल कर बैठी थी।मेरे मन में ख्याल आने लगा कि शायद सुबह की उसकी हरकत मेरे पकड़ से छूटने की कोई चाल तो नहीं थी। हो भी सकता है नारी के लिए कुछ भी असंभव नहीं होता. माय… माय… क्या खम्बा है!’ नोरा ने हिला कर कहा।वो पत्थर की तरह कड़क हो रहा था।रवि ने भी उसकी ब्रा ऊपर खिसका दी और उसके खड़े निप्पल और चूची चूसने लगा।नोरा के मुख से सिसकारी निकल गई- ओह.

मैं पल भर को चौंक गया… ‘यूँ इतनी जल्दी अरविन्द भैया वापस कैसे आ गए?’ अपने आप से सवाल करते हुए मैं जहाँ था, वहीं रुक गया और उनकी गाड़ी को पास आते तक देखता रहा. पर हाँ मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, मैंने तुम्हें अपनी रुह में हक देने का फैसला कर लिया है।सैम ने मेरा चेहरा अपनी हथेलियों में थामते हुए कहा- स्वाति आई लव यू!और उसकी आँखें डबडबा सी गई. तो मेरा लंड टाइट होने लगा जिसे उसने नोटिस कर लिया था।फिर वो मुझे हाथ से लगभग खींचते हुए अपने बेडरूम में लेकर आ गई और मुझे बिस्तर पर धक्का देते हुए भूखी शेरनी की तरह मुझ पर टूट पड़ी। उसने मेरे होंठों से अपने गुलाबी होंठ चिपका दिए और जोर-जोर से किस करने करने लगी।इस बीच मैं उसकी पीठ पर हाथ घुमा रहा था, बीच-बीच में उसके चूचे भी प्रेस कर देता.

और हिना भी!अधखुली आँखों से मैं देख रहा था कि समीर एक बार फिर हिना के पीछे गया और उसकी चूत और गांड से मेरा वीर्य चाट चाट कर साफ़ कर रहा था। वो साफ करने के बाद उसने मेरा लंड भी चूस कर साफ किया।इसके बाद मैं सो गया. आप चाय के साथ कुछ लोगे?मैंने ‘ना’ में सर हिला दिया और वो पलट कर चली गई।मेरी नजर उसकी मटकती हुई गांड पर टिक गई।आज के बाद मेरा रोशनी को देखने का नजरिया ही बदल सा गया था। मैं पूरे दिन अपने आपको दोषी मानता रहा था, जैसे मैंने कोई पाप किया हो।बाद में मैंने सोचा कि अगर चुदने की पहल रोशनी करेगी. एक बड़ी सी आह निकली हिना के मुख से- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह्ह्ह रोहित…उसके निप्पल एकदम कड़क हो गए… मैंने हल्के से उनको दबाया तो हिना का पूरा शरीर अकड़ गया.

बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली अब तो पूरा जंगल उग गया होगा? मैंने उसकी निकर खोलते हुए उसको चूम कर कहा।‘हट पागल. और किसी भी प्रकर से ब्लैकमेल तो नहीं करोगे?मैंने बोला- भाभी आप कैसी बातें कर रही हो.

भोजपुरी हद सेक्सी

थोड़े दूर की तो बात है।वह वहाँ से उठकर उस लड़की को कहने लगा कि आप बैठ जाओ. लेकिन पहले मैं आपके पूरे शरीर को एक बार नंगा देखूंगा।वो मान गईं।फिर मैं मामी के कपड़े खोलने लगा। पहले उनकी साड़ी खोली. फिर अगले दिन वही हुआ, मैं बाथरूम में गया, उसने नॉक किया और बोली- भैया मेरे कपड़े रह गये हैं, मैं आकर ले लूँ?मैं- आ जाओ!रमणी ने कपड़े उठाए लेकिन मैंने अबकी बार कुछ नहीं किया.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है।फिर उसने भी देर ना करते हुए अपना मूसल टाइप का लंड मेरी चूत में डाल दिया।मुझे शुरू में अपार दर्द हुआ ‘आहह. ऐसे घर में मेरी शादी क्यों हुई कि दो बच्चों के बाद पतिदेव ने तो मुझे भुला सा दिया है। बस अब ना कोई वक्त देते. सेक्सी फिल्म हिंदी बीएफ फिल्मप्यार क्यों नहीं करते थे? आप इतनी मस्त लगती हैं कि कभी-कभी लगता है कि बस…मामी- बस क्या.

आई एक सॉरी!उन्होंने मुझे बहुत खरी-खोटी सुनाईं और शर्मिंदा कर दिया।एक मिनट पहले जो लंड फुंफकार मार रहा था, वो अब ना जाने कौन से बिल में छुप गया था।मैं जाने लगा.

अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा सादर प्रणाम!मैं दिव्यम शर्मा जयपुर से हूँ, मेरी उम्र 21 साल, कद 5 फुट 10 इंच दिखने में एकदम फिट हूँ। मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ। यह मेरी पहली कहानी है।बात उन दिनों की है. इसलिए मैं भाभी के कमरे में जाकर बैठ गया और उनके आने का इन्तजार करने लगा।मुझे कुछ देर ही हुई थी कि तभी रेखा भाभी दौड़ती हुई सी सीधे कमरे में आईं।अचानक ऐसे रेखा भाभी के आने से एक बार तो मैं भी घबरा गया मगर जब मेरा ध्यान रेखा भाभी के कपड़ों की तरफ गया तो बस मैं उन्हें देखता ही रह गया। क्योंकि रेखा भाभी मात्र ब्रा व एक पेटीकोट में मेरे सामने खड़ी थीं।रेखा भाभी नहाकर आई थीं.

मैंने कहा- ठीक है!उसके बाद मैंने 6-7 दिन बाद उसका फोन मिलाया पर उसका फ़ोन नहीं लगा. उसकी आँखों से आँसू टपकने लगे। मैं उसके करीब बैठकर उसे समझाने लगा- इसमें रोने की क्या बात है?मैंने उसके आँसू पोंछते हुए कहा. तो बस उनको चोदना चाहे।चूंकि भैया आर्मी में हैं और वो दोनों यहाँ के लिए नए थे, इसलिए उन्हें यहाँ के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं था। उन्हें कोई भी काम होता, तो वो मुझे ही बोलते थे।एक दिन भैया ने कहा- अभी कल अपनी भाभी को अक्षरधाम घुमा लाओ यार.

उन्होंने काले रंग की ही ब्रा-पेंटी पहनी हुई थी। उनका सेक्सी बदन देख कर मैं और भी उत्तेजित हो गया, मैंने उन्हें पूरी नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया।मैं भाभी के मम्मों को दबा कर उनके कड़क निप्पलों को चूस रहा था।भाभी के चूचे बहुत ही सॉफ्ट थे, मैंने उन्हें दबाकर कड़क कर दिया।उनकी नाभि भी बहुत क्यूट थी.

’ शुरू हो गया।फिर वह घुटनों पर हो गया और गांड से धक्के देने लगा। जब मेरा लंड उसकी गांड में अन्दर था. लड़कपन में मैं बुरी संगत में रहकर बिगड़ गया था, लड़कियों की नंगी तस्वीरें देखना. सो मैंने पूछा- क्या बात है जीजू अचानक साली से मिलने चले आए!जीजू- क्या करें.

बीएफ वीडियो किन्नरचलो अब उठ कर सब सामान बाहर टेबल पर रखो और चादर झाड़ दो।फिर डॉक्टर साहब से बोली- बस इसको बैठ कर दारू पीना है. रवि अपने बाहर के घर में और नोरा अपने बड़े से घर में!जब नोरा की आँख खुली तो अंधेरा हो रहा था और घर में एकदम शांति थी। उसको बहुत अच्छा लग रहा था और बहुत खुश थी। उसने उठ कर अपने नंगे बदन पर सफ़ेद सिल्क का गाउन डाल लिया और रसोई में आ कर अपने लिए कॉफी बनाने लगी।उसे रवि की नज़दीकी की कमी महसूस हो रही थी तो उसने झटसे रवि को सेल पर फोन किया- हाई रवि, मेरे जालिम प्यारे सांड.

कैटरीना कैफ के सेक्सी फिल्म

फिर वो मान गया और शाम को वो आ गया, हम दोनों टीवी देखने लगे।कुछ देर बाद वो जाने लगा. पर उन्होंने अपने हाथों से मेरा चेहरा थाम लिया और अपनी ओर करते हुए कहा कि जानेमन शर्म औरत का सबसे मंहगा गहना होता है, लेकिन सुहागरात में ये गहना भी उतारना पड़ता है. तो मेरे साथ खेल सकते हो।मैंने पूछा- तुमको कौन सा खेल खेलना पसंद है?प्रमोद बोला- पहले छत पर चलो, वहाँ हम दोनों कोई खेल खेलेंगे।हम दोनों वहाँ चले गए। उधर छत पर एक छोटा सा रूम बना था जो वॉचमैन को रहने के लिए था। लेकिन हमारा वॉचमैन नीचे वाले रूम में रहता था.

कभी और मिल लूँगा।मुझे अंजाने लोगों से मिलने में कुछ अजीब सा लगता है। लेकिन वो नहीं मानीं, तो मुझे अन्दर जाना पड़ा।अन्दर जाकर देखा तो उनके घर पर मम्मी-पापा नहीं थे। उन्होंने कॉल किया. और ऐसे ही सो गए।इसके बाद तो भाभी का मैं पसंदीदा चोदू बन गया था और जब भी मौका मिलता है. यह अब मेरी जिद भी थी और ख्वाहिश भी थी।मैंने उसको किस करते करते अपना लंड उसकी बुर पर सैट किया और थोड़ा सा झटका मारा क्योंकि उसकी बुर बड़ी गीली थी और चाटने के कारण थोड़ी सी खुल भी गई थी तो मेरे लंड का टोपा उसकी बुर में जा कर अटक गया.

मैंने कहा- हाँ डोंट वरी।फिर आराम से मैं अपना लंड उसकी गांड में डालने लगा। मेरा लंड काफ़ी बड़ा और मोटा था. !मैंने बोला- हाँ अब इतना तो हो ही गया है।वो मुस्करा कर मेरे गले लग गई, मैंने धीरे से उसकी चूत पे हाथ रख दिया और उसकी चूत को मसलना शुरू कर दिया।अब वो गर्म होने लगी।मैंने पूछा- पहले कभी सेक्स किया है?वो बोली- नहीं भाई. com/RasiyaRohitNOTE : मुझे भाभी या किसी का भी नंबर या कांटेक्ट न मांगे।.

मैं तो पिछले 6 महीने से इसी प्यार के लिए प्यासा था। भाभी को मैं चूमते हुए बिस्तर पर ले गया और उनका टॉप उतार कर फेंक दिया। उनका नशीला फिगर मुझे पागल कर रहा था। मैंने देर ना करते हुए उनके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया।वो भी आप खो चुकी थीं और आहें भर रही थीं।मैंने जोर से उनके एक चूचे को काटा तो उनकी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ निकल गई। उनका एक हाथ मेरी कमर पर था. पर तभी मैं सोचने लगा कि कहीं मॉम नहीं आ जाए।मैंने सोचा कि शायद मॉम रूम में सोने चली गई हैं.

तब भी मैं धक्के लगाता रहा।अब वो भी मेरा साथ दे रही थीं और मैं उनके चूचों को बेरहमी से दबा रहा था। कुछ ही देर में दीदी की चूत ने पानी छोड़ दिया। मैं अभी झड़ा नहीं था इसलिए मैं दीदी की चूत में अपने लंड के धक्के देता रहा।उनकी चूत के पानी छोड़ने से ‘पच.

आज मैं खुद उससे चोदने जा रहा हूँ। अब मैंने उनकी काले रंग की नाइटी निकाल कर उन्हें अधनंगा कर दिया।भाभी की नाइटी उतरी तो अन्दर का नजारा एकदम हॉट था. प्यार का बीएफमुझे मार दिया साली तू भी कुतिया है रंडी कमीनी।फिर विकास और मैं हँसने लगे। हम दोनों ने उसके मम्मों को खूब दबाया। फिर जब वो सामान्य हुई तो विकास ने उसको छोड़ा। करीब दस मिनट तक 3 अलग-अलग आसनों में उसकी चुदाई की।अंत में जब विकास का माल निकलने को हुआ तो उसने शिवानी से कहा- बता कहाँ निकालूँ. नया सेक्सी हिंदी बीएफमेरा लंड वैसे ही इतनी देर से उत्तेजित होकर लोहे की रॉड बना हुआ था और गर्म हुआ पड़ा था. जिससे मेरा लिंग रेखा भाभी की चूत में अन्दर बाहर होने लगा, उनके मुँह से हल्की-हल्की सी सिसकारियाँ फूटने लगीं। साथ ही अपने आप ही रेखा भाभी के हाथ मेरी पीठ पर आ गए और मेरी पीठ पर धीरे-धीरे इधर-उधर रेंगने लगे।अभी तक मैं रेखा भाभी के होंठों को चूस रहा था.

मैंने समय न गंवाते हुए अपनी कमर को थोड़ा सा हिलाया और धीरे-धीरे वंदना को अपनी बाँहों में लिए हुए ही लगभग बैठ सा गया.

मजा आ रहा था। वो भी मेरे बॉल्स और लंड को पूरे पागलों की तरह चूस रही थी।‘जानू अह. वंदना की पकड़ धीरे धीरे और भी सख्त होती जा रही थी और इधर मेरा हाल बेहाल हुआ जा रहा था. इतनी जल्दी क्यों उठा दिया?रोमा- मुझे बाइक सीखने जाना है।मैं- पर अभी तो बाहर अंधेरा है!रोमा- मैं मैदान में नहीं.

अन्दर जाने के लिए एक गेट बना था। वहाँ एक पुरानी ट्राली खड़ी थी, जिसको हम खेल के लिए इस्तेमाल करते थे। कभी-कभी हम लोग उसके नीचे बैठ कर एक-दूसरे के लंड भी हिलाते थे। रात को वहाँ काफी अँधेरा रहता था, बिल्लू को मैंने उसको वहीं लाने को कहा।सब कुछ सही हो गया था. ’ करने लगी।मैं उसको देर तक चोदता रहा और फिर उसकी गांड में ही अपना माल निकाल दिया।अब हमने एक-दूसरे को नहलाया और बेडरूम में आकर सो गए।सुबह नींद खुली. वो सोने का नाटक कर रही थीं।मैं दीदी के मम्मों को दबाने लगा और उन्हें अपनी तरफ घुमा लिया, मैं दीदी के मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा। दीदी ने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और हिलाने लगीं।फिर मैं उनके होंठों को किस करने लगा.

भाई की सेक्सी मूवी

मैं बस चाची के बारे में ही सोचता रहा था।सुबह जब मैं उठा तब तक निशा स्कूल जा चुकी थी और चाची अपना काम कर रही थीं।जब मैं उठा तो चाची ने कहा- प्रवीण में तेरे लिए चाय बना देती हूँ।जब चाची चाय बना कर लाईं, तब मैं अखबार पढ़ रहा था। उस दिन शनिवार था. पर साथ में बहुत दर्द हो रहा था और वो जोर से चीख भी रही थीं- नहीं यार. मैं आराम से करवाने के लिए तैयार हूँ।ड्राईवर यह सुनकर अपने हाथ गर्लफ्रेंड के ऊपर फेरने लगा, वो कभी उसके मम्मे मसलता, कभी उसकी टाँगें सहलाता। ड्राईवर ने अपना हाथ मेरी गर्लफ्रेंड की स्कर्ट में डाला हुआ था। वो मेरी गर्लफ्रेंड की चूत को अपने हाथों से रगड़ रहा था।मेरी गर्लफ्रेंड को भी मजा आने लगा था।मैंने देखा कि एक गंदा सा बुड्डा.

ये सब कई दिन तक चला।अब मैं आगे कुछ करना चाहता था और वो भी उत्तेजना में थी.

पर बाढ़ की वजह से कई ट्रेनें रद्द हैं। अगर तुम्हारी ट्रेन लेट हो या रद्द हो तो शर्माना नहीं.

’मैं उसकी मादक सिसकारियों के मज़े लेता हुआ उसकी चिकनी चुत को चाटे जा रहा था। मुझे उसकी चुत चाटते समय ये लग रहा था कि आज ही पूरी चाट लो, इसके बाद पता नहीं मिलेगी भी या नहीं!ऐसी गरमागरम चूत चटवाने के कारण वो कुछ ही पलों में झड़ गई।कुछ पल रेस्ट करने के बाद शालू मेरा लंड हिला कर बोली- अब मुझे भी इसकी सेवा करने दे. मेरी उम्र 24 साल की है। मेरी हाइट 6 फिट की है और मेरी बॉडी कसरती है, लंड का साइज भी ख़ासा लम्बा है।मेरे दोस्त की बहन शालू और मैं एक-दूसरे से वासनात्मक प्यार से बंधे हुए थे। शालू की शादी के बाद मैं उससे एक बार ही मिला था, लेकिन अब तक हम दोनों को चुदाई का कभी मौका नहीं मिला।शालू फोन पर मुझसे हमेशा बोलती थी कि तू यहाँ आ जा. बीएफ सेक्सी पैकमेरा एक हाथ उसके कूल्हे के नीचे पहुँच गया और दूसरा हाथ उसकी गर्दन के नीचे था.

वो कब मेरी पैंट के ऊपर आया और मेरे लंड को सहलाने लगा, मुझे पता ही नहीं चला। लेकिन मुझे भी इतना मजा ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ आ रहा था कि क्या बताऊँ!मैंने धीरे से भाभी के कान में पूछा- भाभी आपको कैसा लग रहा है?तो उनके मुँह से ‘आअह. तो पहले उन्होंने मना किया, लेकिन मेरे कहने के बाद उन्होंने लंड चूसा।हाय. मुझे तो ऐसा लग रहा था कि अभी नीचे पटक कर साली को चोद दूँ।पर क्या करूँ मजबूरी थी.

तो उसके 34 साइज़ के दोनों चूचे उछल कर बाहर आ गए। उसके मस्त मम्मों को देखकर मैं पागल हो गया और उसके एक निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा, साथ ही उसके दूसरे चूचे को हाथ से मसलने लगा। उसके मुँह से कामुक सीत्कारें ‘आआ. मामा बोले- बेटे तुम कुछ दिन यहाँ और रहेगा तो मुझे आसानी रहेगी। मुझे दुबई में कांट्रॅक्ट मिला है.

थोड़ी देर बाद वो मेरी स्कर्ट के अंदर मेरे जांघों को और चूत को चाटने लगा.

’ निकल रहा था।अब मैं छूटने वाला था और एकदम से आंटी के मुँह में छूट भी गया।अब हम दोनों लेट गए और आंटी मेरे होंठों को चूसने लगीं और लंड को हिलाने लगीं। थोड़े देर में मेरा लंड खड़ा हो गया और मैं आंटी के ऊपर चढ़ गया।मैंने जैसे ही लंड को आंटी की चूत में लगा कर पेला. तो वो बता देंगे।अब बिल्लू ने उसकी शर्ट के बटन खोल दिए, उसने अन्दर बनियान टाइप का कुछ पहना हुआ था।बिल्लू ने अन्दर हाथ डाला और चूची मसलने लगा. थैंक्यू!मैंने कहा- आप इतनी गुड लुकिंग हो कि यक़ीन नहीं आता कि आपका कोई ब्वॉयफ्रेण्ड नहीं होगा।उसने कहा- यार यह क्या बात हुई? देखो आप से भी तो अच्छी फ्रैंकनेस है.

बीएफ सेक्सी वीडियो चोदने वाला वीडियो मेरा नाम आर्या है, गाज़ियाबाद में रहता हूँ। मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ।यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है. जिसमें भावना के बड़े-बड़े कोमल मनमोहक चूची कैद थीं। उसकी चूचियां नाईटी के ऊपर से ही दिख रही थीं। उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरा लौड़ा तो खड़ा ही हो चुका था।दोस्तो, आपके लिए अगले भाग में सामूहिक चुदाई का बड़ा ही मदमस्त नजारा पेश करने जा रहा हूँ.

शाम के वक़्त वहाँ चला जाता था। वहाँ पार्क में जाकर मैं एक कोने में बैठ कर म्यूज़िक सुनता रहता।शाम के वक़्त वहाँ बहुत सारी लड़कियां और भाभियाँ आती थीं, कोई वॉक के लिए. मैं तुझे तेरे ये मस्त रेशमी दूधिया बड़े बड़े चूतड़ दिखाता हूँ… क्या मस्त सुन्दर और सेक्सी लग रहे हैं।रवि ने फिर से उसको उठा कर कमरे के अंदर ले गया और साइड से शीशे के सामने खड़े हुए बोला- अब देख इनको भाभी. पर सोया भाई के साथ।मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं अब कैसे मामी को चोदूं और मैं उनके नाम की मुठ मार कर सोने की कोशिश करने लगा, पर नींद कहाँ आने वाली थी.

याद सेक्सी वीडियो

’फिलहाल मेरा लंड बहुत जोश में था, मैं चाची की चुत को चोदे जा रहा था। चाची की चुत से मेरे लवड़े की ठोकरों से मस्त आवाजें आ रही थीं. तो उसकी चूत से टपकता रस मैं अपनी जीभ से किसी कुत्ते की तरह चाट जाऊंगा!‘आह भैया. तो आप अब मुझको क्या दोगी?वो मेरे गाल को सहलाते हुए बोलीं- क्या चाहिए मेरे छोटे नवाब को?मैंने हिम्मत जुटा कर कहा- मुझको आपको किस करना है।चाची- नहीं किसी को पता चल गया तो.

तो चलने दो।अब एक तरह से हम दोनों ही सेक्सी ब्लू फिल्म देख रहे थे। मैंने आवाज भी हल्की खोल दी। मेरा भी लंड सख्त हो गया था, मैं पजामा पहने हुआ था।मैं पजामे के ऊपर से अपने लंड को सहलाता और पकड़ लेता था। अचानक मैं पीछे घूमा और मॉम को देखकर बोला- अरे मॉम. तो मैं खुद को बहुत ही उत्तेजित महसूस करता था और उस वक्त मुझे चोदने की बड़ी इच्छा होती थी.

तो वो थोड़ा सा झुकीं, जिससे उनकी साड़ी का पल्लू नीचे हो गया।मैंने जब उनकी तरफ देखा, तो देखते ही रह गया। उनके एकदम गोरे-चिट्टे और भरे हुई चुची दिख रही थी, मेरी नजरें उनकी चुची पर ही टिकी रहीं।तभी भाभी ने मेरी आँखों के सामने हाथ किया और कहा- ओ हैलो.

मुझे मेरे मन में उठ रहे सभी सवालों का जवाब शायद मिल चुका था… मेरी आँखों के सामने रेणुका का वो मासूम सा चेहरा बार-बार आ रहा था जिसकी चमकती आँखें मुझे मेरी तरफ अपनी कृतज्ञता दिखा रही थीं. लेकिन अब भी वे मुझे कसके पकड़े हुए थे और मेरी गर्दन में हाथ डाले थे। इस दौरान सर मेरे गाल से अपना गाल चिपकाए हुए थे, वे कभी धीरे से मेरा चुम्बन ले लेते, कभी होंठ चूम लेते. मैं रिसेप्शन पर और आंटी बॉस के केबिन में चली गईं। थोड़ी देर बाद बॉस ने मुझे बुलाया.

मुझे बहुत जल्दी चढ़ जाती है।मैंने मन में सोचा बहनचोद यही सही मौका है- कोई बात नहीं. तो अभी चलना है, बस आप जल्दी से उठो!मैं- पर कपड़े तो बदल लो!रोमा- नहीं. तो कभी धीरे से जीभ से सहला देता।मैडम उत्तेजना से मरी जा रही थीं- ओह्ह.

!अब मुझे वो और भी सेक्सी लग रही थीं। मामी ने अपना फोल्डिंग, डबल बेड के सिरहाने कुछ इस तरह बिछाया कि उनका सर से कमर भाई के सिरहाने हो गए और कमर से पैर मेरे सिरहाने हो गए। उन्होंने लाईट बंद कर दी और हम सभी बातें करने लगे। मैं मामी को मोबाईल की रोशनी से देख रहा था.

बीएफ इंग्लिश चुदाई वाली: लड़के वाले आए हैं तेरी बहन को देखने!मैंने देखा कि जिस लड़के को मैं चाहती हूँ. बहुत अच्छा लगा था।हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, भाभी ने जब मेरे लंड को अपने मुँह में लिया.

जहाँ से मुझे चुदाई के बारे में पता चला।इस कहानी की याद मुझे मेरी सुमन की याद के साथ आई तो सोचा आप दोस्तों के साथ बांट लूँ। ये कोई बनाई हुई चुदाई की कहानी नहीं है ये मेरे बचपन की हकीकत है और मैं हमेशा हकीकत में ही विश्वास करता हूँ. मैंने अगली चुदाई कब और कैसे की, अगली बार बताऊंगा।आप सबको ये हिंदी सेक्स कहानी कैसी लगी. मैं थोड़ी पतली दुबली थी, कूल्हे ज्यादा नहीं निकले थे पर सीने के उभार स्पष्ट कठोर कसे हुए नुकीले और उभरे हुए थे, 30-32 के बीच के रहे होंगे क्योंकि 32 नं.

वो मेरा सिर पकड़ कर चुत की तरफ खींचने लगी।वो मजे से कामुक सीत्कार करती हुई मुझसे चूत चटवाती रही। फिर मैंने लंड उसकी चुत पर रखा और एक ही झटके में पूरा लंड उसकी चुत के अन्दर कर दिया। एकदम से लंड पेलने से उसकी आँख से आंसू आ गए।मैं थोड़ी देर रुका फिर धीरे से पेलना चालू किया।अब वो भी मेरा साथ देने लगी और बड़बड़ाने लगी- ओह्ह.

बहुत देर मौसी के निप्पल चूसने के बाद मैं अपनी जुबान से उनके पेट को चाटने लगा। फिर नीचे होते हुए मैं अपनी जुबान मौसी की नाभि के ऊपर से फेरने लगा. आज मैंने पूरी रात के लिए मैंने घर से परमिशन ले लिया था। मैंने बोल दिया था कि मैं अपने दोस्त के यहाँ रुकूँगी।लेकिन दूसरी लड़कियां जल्दी जाने के लिए हल्ला करने लगीं।आखिर सब लोग वापसी के लिए चल पड़े।सुनीता मुझसे बोली- तुम आराम से चलना. काले कलर की ब्रा में उसे देख कर मेरा लंड सलामी देने लगा। अब मैंने उसके चूचों को दबाते हुए उसकी ब्रा उतार दी.