ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ

छवि स्रोत,भाई बहन का सेक्स भाई बहन का सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

मराठी सेक्सी चलने वाली: ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ, अब हम जब भी किसी महिला से मिलते हैं तो पहले उसका एच आई वी टेस्ट करते हैं, फिर उसकी सहायता करते हैं।दोस्तो, इस कहानी में शायद सेक्स से भरपूर शब्द न हों लेकिन भावनायें बहुत हैं।आगे और भी बहुत कहानी हैं, आपके प्रोत्साहन के बाद लिखूँगा।अन्तर्वासना का बहुत बहुत धन्यवाद.

सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो चुदाई

नौकरानी- अगर वो कहेगी कि मुझे चुदना है तो?मैं- तो मैं कह दूँगा तुझे जिससे चुदना हो चुद ले!नौकरानी- वाह रे छीनाल के जने… भोसड़ी वाले!और उसने अपनी चूत दिखाई और मुझे चटवाई. चूत चाटने से क्या होता हैवाकयी मुरुगन मुझे जबरदस्त तरीके से चोद रहे थे और मैं भी अब उनका बड़ा लंड लीलने में अभ्यस्त हो गई थी तो मुझे भी इस मूसल लंड से चुदने में मजा आ रहा था.

संदीप ने एक हाथ से मेरा कॉलर पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिया, मैं चूतडो़ं के बल धड़ाम से ज़मीन पर जा बैठा. ब्लू हिंदी ब्लू हिंदीपहले दरवाजा तो लॉक करो।मैंने झट से दरवाजा लॉक किया और आंटी को उठाकर बेड पर लिटा दिया। अब तक शाम के 7 बज गए थे.

मेरा सारा चेहरा उसके वीर्य से सन गया और वो जल्दी से अपना लंड पैंट के अंदर वापस फंसाकर झाड़ियों के पीछे से निकल गया.ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ: मुझे तो जैसे स्वर्ग मिल गया था, मैं कब से मना रही थी कि ये युवक मुझे चोद डाले.

जब उसने मुझे अपनी चूत चाटते हुए देखा तो वो सब समझ गई और उसके मुंह से सिसकारियाँ निकलने लगी.नर्म हाथों में आते ही मेरा लंड अपनी औकात पर आ गया और फूल कर कुप्पा हो गया.

मोटी भोंसड़ी - ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ

मैं उन सभी पाठकों का भी बहुत आभारी हूँ जिन्होंने मेरी उपरोक्त रचना को पढ़ने के बाद अपने मूल्यवान समय में से कुछ कपल निकाल कर उस पर अपने विचार लिख कर भेजे.मैंने पूछा- तो तुम्हारा जवाब क्या है?वो हँसते हुए बोली- हाँ बाबा हाँ, मैं तैयार हूँ.

अब उसको वैसे ही उठा कर बेड पर लेटा दिया और उसकी एकदम साफ़ और गीली चुत चूसने लगा. ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ रश्मि जोर जोर से सिसकारियाँ भरने लगी, वह लगातार मेरे लंड पर ठाप मारे जा रही थी और लगातार आह… उह… की आवाजें निकाल रही थी.

मैं ऐसा सोच ही रही थी कि तभी विकास उठ खड़ा हुआ, उसने अमित और गौरव को मुझसे थोड़ा अलग किया और कहा- कसम से यार.

ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ?

बहन को ऐसा करते हुए देख कर उस आदमी का जोश एक तो ऐसे ही बढ़ रहा था और दूसरी तरफ़ मेरी बहन के पैर में जो पायल की झनकार सुनाई देती थी, वो उसके जोश को और ज्यादा बढ़ा रही थी. मैं अकेला रहता हूँ इसलिए चाय मुझको ही बनानी पड़ती है।आंटी- तुम्हें अगर लगे तो तुम यहाँ चाय पीने आ सकते हो।अब ये मेरा रोज़ का प्रोग्राम बन गया। हम एक-दूसरे के साथ घुल-मिल गए। लेकिन वो मुझे उस तरीके से नहीं देखती थी, जो मैं चाहता था।एक दिन जब मैं उनके घर गया. तो मेरी दोनों सालियां बैठ कर टीवी देख रही थीं। फिर हम तीनों ने बाहर जाकर चिकन तंदूरी और रूमाली रोटी खाई और वापस आ गए। मेरी बड़ी साली सोने चली गईं और छोटी साली जो 18 साल की है.

इसी उधेड़बुन में मैं घर वापस आया तो मौसी ने पूछा- अरे तू कहाँ चला गया था?मैंने अपनी भावनाओं को सीने में दफन करते हुए आँसुओं को आँखों के अंदर ही कैद रखकर कहा- नहर तक टहलने चला गया था…मौसी ने कहा- ये भी कोई टहलने का वक्त है, दोपहर होने को आई है. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि सुमन ने अपने पापा से फैशनेबल कपड़ों को लेकर डांट खाई थी। इससे पहले मोना की सुधीर से बात हो गई थी और वो आज सुधीर से चुदने के मूड में उसका इन्तजार कर रही थी।अब आगे. मैं सुमित को दिखने के लिए सकुचाने का ड्रामा करते हुए धीमी सी, मरी सी आवाज़ में बोली- राज जी, बात यह है कि मेरे हस्बैंड सुमित जी चाहते हैं कि मैं इनके सामने किसी पराये मर्द से सम्भोग करूँ और वो ये नज़ारा देखते देखते खुद किसी पराई औरत से सम्भोग करें… पराई औरत तो हैं मेरी एक सहेली परन्तु पराये मर्द के लिए आपके बारे में सोच रही थी.

मेरे मुख में उसका चूचुक जाते ही उसके मुख से पहली सिसकारी निकली- आह प्रतीक प्लीज!और हम दोनों बेड पर गिर गए. और उसने मुझे और ज़ोर से पकड़ लिया, मेरे लंड की स्पीड बहुत तेज़ हो चुकी थी और उसकी टांगों को उसके चेहरे तक मोड़ चुका था मैं!चूत चोदने के चक्कर में मैं यह भूल गया था कि उसे दर्द भी हो सकता है और मैंने उसकी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया और कुछ ही पल में हम दोनों शांत हो गए. मुझे इस काम में बड़ा मज़ा आया, मैं चुपचाप लेटा इस काम के मज़े लेता रहा.

उसके मुंह से गहरी गहरी सिसकारियाँ निकल रही थीं= हाय मेरे राजदुलारे… मेरी जान… मैं तुझ पर सदके जाऊं… मरजाने तैयार पड़ा है मेरी बुर की खबर लेने को… राजे बाबू ज़रा मुझे एक चुटकी तो काटो… मुझे यकीन नहीं हो रहा कि मैं सचमुच इस कम्बख्त के साथ हूँ या ये कोई सपना तो नहीं!मैंने उसकी मोटी गोल मर्दमर्दन करने जैसी चूची को भोंपू की तरह ज़ोर से दबाया और उसकी घुंडी कस के उमेठी. पूजा- हाँ मामू पहले तो मुझे ये सब समझ नहीं आता था मगर अब तो आपने मुझे सब सिखा दिया है.

मैं 2 दिन की चुदाई से थका था तो मैं भी फ्रेश होकर बेड पे सो गया। शाम को फोन की घण्टी से आँख खुली तो देखा 8 बज गए हैं, फोन हिम्मत का था, फोन उठाया- हेलो भाई, कैसे हो?हिम्मत बोला- भाई 10 बार कॉल कर चुका हूँ, कहाँ बिजी थे?मैं बोला- सॉरी यार, अभी जस्ट आँख खुली है, सो रहा था!हिम्मत बोला- ओके, मैं ठीक 9.

थोड़ा वेट करो, संजय को फ्रेश होने दो। तब तक चलो आज सुमन को भी तो कुछ नया करना है.

दोस्तो दोपहर को कॉलेज के बाद फ्लॉरा भी तो घर ही जाती है, चलो आज हम उसके घर का हाल भी देख लेते हैं. मेरा मुंह भी उसके काम रस से लबालब भर गया और हम गहरी साँसें लेते हुए वहीं आधे नंगे लेटे रहे. सुमन- अरे मॉंटी ये दोबारा कैसे खड़ा हो गया, अभी तो इसका रस निकला था?मॉंटी- पता नहीं दीदी.

धीरे धीरे उसकी गर्दन और उसकी चूचियों को कपड़ों के ऊपर से ही चाटने लगा था. ’मैं तो शॉक हो गया और जब मैं शालू के रूम में अन्दर गया तो मुझे फिर शॉक लगा. फिराते-फिराते उसका लंड खड़ा हो गया और वो अपना लंड मुझसे चुसवाने लगा.

अजय लगता है तुमने तो सेक्स में पीएचडी कर रखी है… लगता है आज तो तुम सच में मेरी चुत और गांड के बीच में सुरंग खोद कर ही दम लोगे.

मैं सोफे पर बैठ गया तो वो आंटी मुझसे बोली- मुझे जानते हो?तो मैंने कहा- नहीं. मैंने लंड पर चुम्मी ली और सुपारे पर जीभ घुमाई, फिर लॉलीपॉप की तरह लंड चूसने लगी. जब उसने महसूस किया कि पूजा एकदम बेजान पड़ी है, तो एक बार तो संजय भी डर गया कि कहीं बुर फट तो नहीं गई.

अब उसे भी मज़ा आ रहा था।कुछ देर के धक्कों के बाद वो झड़ गई और उसकी चूत रस से गीली हो गई। अब मैंने उसे चोदने की स्पीड बढ़ा दी और उसके झड़ने के कुछ मिनट बाद मैं भी झड़ने लगा।मैंने उससे पूछा- मेरा निकालने वाला है. अब वो नीचे आ गया और मेरे पैरों के बीच अपना मुँह रखा और मेरी चूत पर अपनी जुबान रख कर मेरी चूत पर फिराने लगा. मेरी नोन वेज स्टोरी में आपने पढ़ा कि मेरा यार हम दोनों सहेलियों का लेस्बियन सेक्स देख रहा था.

दो घंटे में संजय ने पूजा को 3 बार चोदा उसको एकदम थका दिया और फिर दोनों चिपक कर सो गए.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि ग्रुप सेक्स में सब फ्लॉरा के शरीर के मज़े लेने लगे।अब आगे…अभी फ्लॉरा के जिस्म के मजे लिए ही जा रहे थे कि संजय ने अजय को एक टपली मारी।संजय- अबे सालो, मुझे अकेला छोड़ दिया. मैंने पूछा- संदीप भैया हम पहुंचने वाले हैं क्या?वो गुस्से में बोला- साले चैन नहीं है तुझे…लंड लेने की ज्यादा ही जल्दी पड़ी है क्या… तुझसे बोला था ना आराम से बैठा रह!मैं घबरा गया… संदीप के तेवर बदले-बदले से लग रहे थे.

ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ मैंने उसे तुरंत मना कर दिया कि मैं शादीशुदा हूँ और मैं इन सब चक्कर में नहीं पड़ती, अब मेरा पीछा छोड़ दो, अब मेरे पीछे मत आना!मगर वो माना नहीं- भाभी, जी मुझे पता है आप शादीशुदा हैं, पर कौन से पंडित ने कहा है कि शादी के बाद आप किसी से दोस्ती नहीं कर सकती. पर खुद को छुड़ा नहीं पाई। भाई ने छत के दरवाजे पर अपने 3 दोस्तों को बैठा कर रखा था ताकि कोई आ न सके। मैं शरम से पानी-पानी हो रही थी। भाई बहन का सेक्स शुरू हो चुका था, भैया अब तक नीचे से पूरे नंगे हो चुके थे.

ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ किसी को पता भी नहीं चलेगा और हम भाई-बहन पर शक भी नहीं होगा।पहले तो वो नाराज़ हो गई. थोड़ी देर में डॉक्टर का फ़ोन आया जिससे हमें पता चला कि उसे एडवांस स्टेज पे मलेरिया है जिसका ट्रीटमेंट लंबा चल सकता है तथा मुझे उनके साथ रूकने को कहा.

जमीला- तुम तो हर चीज में माहिर हो यार!मुझे नीचे गद्दा बिछा कर उस पर पुरानी बेड शीट बिछा कर लिटा दिया और दोनों मालिश करने लगे.

बीएफ ओपन कीजिए

मैं उसकी ओर कदम बढ़ाते हुए देख रहा था कि उसका लंड उसके लाल ढीले कच्छे में तनना शुरु हो गया है और ऊपर उठता हुआ सा दिख रहा है. फिर मैं चाची के कान के पास जा कर धीरे से बोला- जान अब ठीक है?चाची बोली- बस अशोक बस! अब बस करो! निकाल लो इसे! बहुत दर्द हो रहा है. मैंने कहा- कीकू, तुम्हारीचूत गुलाबी है क्या?उसने कोई जवाब नहीं दिया.

क्या अब भी जवाब की जरूरत है? अगर है तो बोलो?इतना सुनते ही वो मेरे सीने से चिपक गई और कुछ देर बाद हम दोनों किचन से बाहर आ गए. मैंने उनसे चाबी मांगी तो वो उसी अवस्था में उठीं और टेबल के ड्रावर से चाबी निकलने नीचे झुकी, जिससे गीला पेटिकोट उनके पिछवाड़े से चिपक गया, उनके बूब्स बहुत बड़े थे, ब्लाउज़ में कसे हुए थे. मैंने कहा- हम दोनों मिलकर बहुत सारे पैसे कमाएंगे और बहुत मज़ा भी करेंगे.

फिर मैंने सोचा कि अभी नहीं, रात को पूरे मजे करेंगे क्योंकि अभी कोई आ सकता है.

अब उसने सुपारे को बुर पर सैट किया थोड़ा सा बुर में फँसा कर वो पूजा पर चढ़ गया और उसके होंठों को कस के अपने होंठों में दबा दिया. मैं बस मानसी से साथ प्रेम की अठखेलियाँ खेलना चाहता है, उसको महसूस करना चाहता था, उसको भोगना चाहता था. मैंने उनकी टाँगें खोल दीं और मेरा चिकना 7 इंच का लंड आंटी की चुत पर रगड़ने लगा।आंटी- ओईई.

दरवाज़ खुला था और मैं सीधा माँ के पास इस तरह से गया जैसे कुछ हुआ ही नहीं है. रफ़्तार बढ़ने के साथ ही मैंने अपने बदन को और कड़ा कर लिया, मामा को और ज़ोर से लॉक कर लिया, इससे मेरी चूत और कस गई, मामा जी का लंड मेरी चूत के अंदर कस कर रगड़ खाने लगा. उसका एक हाथ पूजा के सर के ऊपर और दूसरा अपनी चूचियों को मसलने में लगा था.

मीना- अब वो तेरी मर्ज़ी है तू इसे क्या दिलाती है, चल मुझे बाहर तक छोड़ दे. फिर 3 दिन बाद जब मैं वापिस चंडीगढ़ आ गया, पर मेरे मन में बस शालू के जिस्म का ही ख्याल आ रहा था कि कब मैं शालू के जिस्म को हाथ लगा सकूंगा.

मैंने भी मौका ना गँवाते हुए कहा- चलिए आप कभी मेरे काम आ जाना, सिंपल!और हंस दिया. जब आप मेरी उसको चाट रहे थे तो जैसे मेरे बॉडी में फूल ही फूल खिल गये थे, सारे बदन में रंगीन फुलझड़ियाँ सी झर रहीं थीं. अब आप जान ही गए कि चुदक्कड़ तो मैं पहले से ही थी लेकिन शादी के बाद बहुत बंधन हो गया.

कुछ क्षण तो उसको कुछ समझ ही न आया कि क्या करे!?!कहानी अगले भाग में समाप्त होगी.

एक रात राधा चुत सहला रही थी और मैं बाहर खड़ा उसे देख कर मुठ मार रहा था, तभी मेरे पैर पर किसी जानवर ने काटा और मैं जोर से चिल्ला दिया। बस राधा की नज़र सीधे खिड़की पर गई और उसने मुझे देख लिया तो मैं जल्दी से वहां से भाग गया।थोड़ी देर बाद राधा मेरे कमरे में आई और मेरे पास आकर बैठ गई।मैं कुछ कहता, इतने में वो रोने लगी।राजू- अरे आप रो मत. हमारी पहली मुलाकात एक झप्पी के साथ शुरू हुई जिसके दौरान मुझे उसके भरे चुचों का अनुमान हुआ. तब तक आंटी होश में आ गईं थीं और साफ सफाई करके हम तीनों सोफे पर बैठ गए थे.

रफीक को मैंने मेरी इसी पोजीशन पर खड़े मस्ताना पर कंडोम चढ़ा कर मेरे मस्ताना पर बैठने को कहा अब रफीक ने कंडोम मेरे मस्ताना पर चढ़ाया और मैंने रफीक की गांड में कोल्ड क्रीम भरी जिसको रफीक ने गांड ढीली करवा कर भरवा ली और फिर रफीक मेरी टांगों के दोनों तरफ पैर रख कर मेरे कंधों पर हाथ रख कर मस्ताना पर बैठने लगा. यकायक उसने मेरे नीचे से बाहें हटा के निप्पल अंगूठे और उंगली में जकड़ लिए.

उसी रात डिनर के टाइम ऋतु ने मम्मी पापा से कहा कि उसकी सहेली पूजा कल रात यहीं पर रहेगी क्योंकि उनकी परीक्षाएं आ रही है और वो उसकी तैयारी करना चाहती हैं. कोई आ जाएगा।टीना- अच्छा रुक ना, तेरी रिंग तो दिखा मुझे कैसी है?सुमन बहुत डरी हुई थी, वो कुछ समझ ना पाई. हरामज़ादी बड़ी खुश हुई कि मेरा पति मुझे राजे से चुदवाती हुई का दृश्य देखना चाहता है, वो बोली- ठीक है, तू चिंता न कर, मैं राजे को फ़ौरन ही यह सब समझा दूंगी.

सेक्सी बीएफ वीडियो में दें

एक ही बार में घुसेड़ दो इसे मेरी चूत के अंदर!यह सुनकर रोहित ने एक जोरदार धक्का मारा और पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में पेल दिया.

जो मुझे आज रिलेक्स फील हुआ और मैं बिना किसी के जगाए जल्दी भी उठ गया?टीना- अरे कुछ नहीं किया. उसके मुँह से लंड शब्द सुन कर में चौंक गया लेकिन इतने में ही उसने मेरे लंड जो वास्तव में 5. मुझे भी मजा आ रहा था। मगर मैं ये दिखाना चाहती थी कि मेरा भाई गलत कर रहा है। मैंने उठ कर अपने भाई से कहा- भैया ये क्या कर रहे हो.

यह हिंदी चुत की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उन्होंने पीठ से और ऊपर आने को कहा ब्लाउज होने के कारण मैं बिना तेल के दबाने लगा तो उन्होंने कहा- एक मिनट रुक!और पीछे घूमकर अपना ब्लाउज और ब्रा भी उतार दी और मेरी ओऱ पीठ करके लेट गईं, मैं तेल लगाने लगा. तुझे तो बस अपनी चूत से मेरे लंड को रगड़ रगड़ के पानी छुटा देना है बस!’‘नहीं अंकल जी, मैं वो नहीं करूंगी!’‘ठीक है तो मत करो, मैं भी जा रहा हूँ. इंडियन देसी पोर्नआधा घंटा बाद मीना आ गई, उसके साथ एक लड़की थी जो फटा हुआ सा फ्रॉक पहने हुए थी.

दस बजे रात को सभी स्टाफ को छुट्टी मिल जाती थी, मुझे पूरी रात रहना पड़ता था. मैं वहाँ जाना भी चाहती थी क्योंकि वहाँ पर उनका लड़का राहुल भी था, जो मेरा हीरो है.

बोतल से धीरे धीरे व्हिस्की बह रही थी और अल्कोहल की वजह सेचुत में आगसी लगी थी. रात हो चुकी थी और बाइक पर चलते हुए संदीप ने अपना खड़ा लंड मेरे हाथों से रगड़वाया और एक वीराने रास्ते पर ले जाकर चलती बाइक पर मेरे मुंह में दे दिया. सीधे सीधे रेंगिंग दो, नहीं तो पूरा साल परेशान रहो।फ्लॉरा- हे कूल गाइस.

दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्कार। आज मैं आपको एक सच्ची घटना दीदी की चुदाई की बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपनी चचेरी बहन को अपने बच्चे की माँ बनाया।मेरी चचेरी बहन मुझसे 2 साल बड़ी है, उसका नाम साक्षी है। उसकी शादी को तीन साल हो गए हैं। वो दिल्ली में अपने पति के साथ रहती है। साक्षी दिखने में गोरी लेकिन थोड़ी दुबली है. उनकी छाती नंगी थी और फर्श पर रखे टेबल फैन से आ रही हवा के लगने के बाद भी पसीने से लथपथ हो रही थी. रोहित काफी उत्तेजित हो गया, उसने भी अपने हाथों से मेरी चूचियों को उमेठना शुरू कर दिया.

फिर रोहन ने आयेशा की गांड से लंड निकाल कर मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चुदाई शुरू कर दी.

वो चलकर पीछे से मेरी गांड पर आकर बैठ गया और अंडरवियर समेत ही अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगा. चौड़ी सड़कें, वाहनों की भीड़, सजीधजी दुकानें, सड़क की साइड में फल, चाट वालों के ठेले.

एक डेढ़ घंटे के बाद जब सुमित सोकर उठा तो मैंने पूछा- अब कर लूँ राजे से बात, मैंने उसका फोन नंबर ज्योति से ले लिया है. मैं दीदी के होंठ चूमना छोड़ कर बोला- दीदी, आप अपना जीभ बाहर निकालो!सीमा ने तुरंत जीभ बाहर निकाल ली. उफ़ सस्स बहुत जलन हो रही है।संजय- अरे अभी तो तेरी चुत में मेरा पूरा लंड गया था.

साला तन कर फड़फड़ा रहा था। मुझे फिर से किसी को चोदने की तलब लग रही थी। मेरे पास जिनके मोबाइल नंबर थे. जो भी बात है खुल कर बताओ, चाहे कैसी भी बात हो?सुधीर- अब क्या बताऊं उसने तो सारे ही काम ग़लत किए हैं. मेरा हंसी के मारे बुरा हाल था, हरामज़ादी सुलेखा चाहती थी कि किसी भी सूरत में रीना घर पर न रुके, वर्ना उसकी वर्षों की चुदास कैसे बुझती.

ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ माला की बात सुन कर मैं चुप हो गया और सुबह की नित्य क्रिया से निपट कर बैठक में अख़बार पढ़ने बैठा ही था कि वह मेरी चाय दे गई. मोना- ये क्या है गोपाल तुम्हारे लंड पर ये चिपचिपा क्या है… और वीर्य की महक भी आ रही है… जैसे अभी-अभी तुमने पानी निकाला हो… बोलो?गोपाल- व्व…वो तुम स…सुन ही नहीं रही मेरी बात को.

बीएफ वीडियो लड़की वाला

वहां दोनों ने साथ में सफ़ाई की, फिर गुलशन ने कमरे में आकर बेड को ठीक किया, चादर बदली और अनिता के साथ लेट गए. अब उस आदमी ने बिस्तर से उठ कर मेरी बहन को बिस्तर पर लेटने के लिए बोला. बाक़ी बातें लंच के टाइम कर लेंगे।गोपाल सो गया और मोना अपने काम में लग गई दोपहर को भी यहाँ कुछ खास नहीं हुआ बस वही कामवाली को लेकर बातें हुईं।मगर दूसरी तरफ सुमन की जिंदगी में आज नया मोड़ ज़रूर आएगा.

मैं झट से रूम में गया और वीडियो देखने लगा, जिसमें कि वो कपड़े चेंज करते दिख रही थी. फिर मैं मैडम की चूत से लंड निकाल कर कपड़े पहन कर बाहर आ गया, मैडम बेड पर लेटी रही. বাংলা সেক্স বিএফपर वो कहाँ रुकने वाला था। करीब 20 मिनट के बाद वो मेरी चूत में झड़ गया। उस वक्त मुझे अपनी चूत में बहुत गरम फील हुआ, वो निढाल से होकर मेरे ऊपर गिर गया। कुछ देर बाद वो जब हटा तब हमने देखा मेरी चूत और उसके लंड पर खून लगा था और कुछ चादर पर भी लग गया था।वो बोला- बधाई हो, आज तू लड़की से औरत बन गई।हम दोनों बहुत थके हुए थे तो सो गए।दोस्तो, मेरी औरत बनने की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी.

इतनी सुन्दर तस्वीर देख कर मेरे अन्दर जंगली वासना जग उठी और मैं अपना लंड हाथ में पकड़े नताशा के ऊपर चढ़ गया, अपने तपते हुए लंड को एंड्रयू के ठस्सेदार लंड से भरी हुई अपनी पतिव्रता बीवी की गांड में घुसेड़ दिया.

ये देख कर मेरी बीवी ने अपनी क्लिट सहलाते हुए मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा, तो मुझे ऐसा लगा मानो वो मुझसे कह रही हो- देखा! कितनी शानदार बीवी हूँ मैं! तुम्हारी खातिर तीन-तीन लंड ले लिए अपने सारे छेदों को चुदवाते हुए!! दोनों बेगाने लंड तुम्हारे लंड से दुगने बड़े!!!हाँ… ये सब सच था. इत्ता सा है और अभी से धमकी देना सीख गया, उससे क्या पूछता है जो पूछना है तू मुझसे पूछ! वो क्या कर रही थी और क्या नहीं.

बस दीपा से मिलने आई थी।’आंटी ने ज्यादा बातें नहीं की और चुपचाप अपने घर वापस चली गईं।दूसरे दिन अंकल भी बड़े प्यार से बातें कर मस्का मार रहे थे। मैं उनके लंड को देख चुकी थी। अंकल को देखते ही मेरा मन मचल गया था। भले ही वो 2 बच्चे का बाप था. जब लंड एकदम लोहे की रॉड जैसा सख्त हो गया तब मैंने मुँह से लंड बाहर निकाला और कहा- मार डालोगे क्या?तब उसका दोस्त बोला- जी नहीं. वो धीरे-धीरे प्यार से उसकी चूचियों को दबा रहा था और वो लड़की उसके लंड को पूरा हाथ में भर लेती थी और मसल रही थी.

मैंने सोचा, शायद किसी गांव से कोई शॉर्ट कट होगा, यही सोचकर मैं मन को तसल्ली दे रहा था.

दिखने में स्मार्ट 5’10” हाइट और बॉडी फिट!यहाँ मैं आपको एक अपनी ज़िंदगी की कहानी बताने जा रहा हूँ. डॉक्टर आंटी ने एक तेल की बोतल निकाली और हाथ में तेल लेकर मेरे लंड पर मालिश करने लगी. अब जमीला की चुचियों को मैं मसलते हुए रफीक के हाथ में मेरा मस्ताना और हम पहुंच गए बाथरूम.

बीपी सेक्सी बंगालीकरीब 15 मिनट तक ऐसे ही चुदाई करने के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और एक दूसरे को बांहों में लिपट कर सो गए. और आपकी बहन आवाज़ सुन कर आ जाएगी, फिर हम उसको भी चोद देंगे।मैं तो पूरी तरह से डर गई कि ये तो ज़बरदस्ती करने पर आ गए।तब तक दूसरे वाले ने भी अपने पूरे कपड़े निकाल दिए। उसका लंड भी पहले वाले के जितना ही लंबा था। वो लंड को हाथ में पकड़ कर आगे को आया और मेरे मुँह में लंड को टच करने लगा।तो मैंने मन में सोचा कि चुदना मुझे 100% है ही.

बीएफ वीडियो सुपरहिट

मैं अभी गुस्सा होने का नाटक करती औंधे मुंह पलंग पर लेटी ही थी कि सुमित आ गया, मेरे चूतड़ों पर हाथ फिराते हुए बोला- अरे जान-ए-मन, इतनी नाराज़ क्यों होती है… मैं तो सिर्फ अपना नजरिया तेरे से डिसकस कर रहा था… तू तो भन्ना के भाग आई… डार्लिंग गुस्सा थूक दे!उसने मुझे पलट के मेरी चुम्मी लेने की कोशिश की. अनिता- आह… आ पापा चोदो आह… बन जाओ बेटीचोद आह… मैं फिर आह… झरने वाली हूँ आह… फास्ट करो आह… फास्ट. मेरी बहन के पजामे को उतारने के बाद वो मेरी बहन के जांघ के पास बैठ गया.

अब मैं हूँ न, तुम्हारी सारी हसरतें पूरी कर दूँगा।निशा भाभी मुस्कुरा कर मेरे सीने से चिपक गईं।मेरा लंड तन गया। भाभी ने लंड को मुठ्ठी में ले लिया और सहलाने लगीं।भाभी- फिर से चोदोगे मुझे?मैं- कोई शक. जैसे ही लंड मेरी मुँह के अंदर गया, मुझे कुछ खुरदरा सा लगा और थोड़ी देर बाद मुझे लंड खट्टा और नमकीन सा लगने लगा, मैं समझ गयी कि रात की चुदाई के बाद मामा जी ने लंड नहीं धोया, इसलिए लंड में लगा रस सूख कर मामा जी के लंड में ही चिपक गया है. बाद में हम दोनों साथ में रेस्ट करेंगे।पूजा खुश हो गई और संजय उसको सच्चे मन से पढ़ाने लगा। उसने सोचा अभी कोई बुरा ख्याल नहीं.

अब जल्दी से मेरी इस सेक्सी कहानी पर मेल लिखो।कहानी जारी है।[emailprotected]. ‘अम्मा जी ने एक ठो उपाय बताया है हमका, जिससे लड्डू के भैया पर आये हुए संकट को हल किया जा सकता है. राजे- पहली शर्त ये कि मेरे साथ इस सभ्यता वाली शरीफ भाषा में बात नहीं करनी है, तू तड़ाक से गालियाँ देकर बात करनी हैं.

किसी की नजर ना लगे मेरे बेटे को।ऐसे ही प्यार से खेलते-खेलते एक साल और चला गया और मैं पूरा जवान हो गया। उस साल मैं मेरे बहुत से दोस्त बने जो मेरे से उम्र में बड़े थे। उनमें से एक दोस्त था रमेश. मगर आप तो मेरी गांड मारकर ही दम लोगे।काका- ऐसे कैसे जाने दूँगा मेरी रानी.

उसका लंड एकदम तन गया। अब उसको पूजा कच्ची कली नज़र आने लगी।संजय- ओफ क्या कर रही हो पूजा आह.

ऐसा लग रहा था मानो बस देवर मुझे चोदते ही रहे।मैं मेरी उत्तेजना में बड़बड़ा रही थी- आआह्ह्ह ऊऊऊईइ आआह्ह. हिंदी देसी ब्लू पिक्चररयान मकान ढूंढ रहा था… ऋषिका भी! उनको मकान भी ऐसा चाहिए था जो फर्निशेड हो और अच्छी लोकेलिटी में हो. चुत का पानी पियामैं तो हमेशा यही सोचता था कि काश इसका ये ब्लाउज फट जाए और मुझे मजा आ जाए… लेकिन ऐसा हो नहीं सकता था. उसकी इन्हीं सब हरकतों के चलते मुझमें धीरे-धीरे हिम्मत बढ़ने लगी थी.

उसने आँखें बंद ही रखी तो मैंने दुबारा थोड़ा जोर का झटका दे कर लगभग आधा लंड उसकी चूत में घुसेड़ दिया.

सुमन का ये पहला अहसास था कि उसकी चूत पे उंगली के अलावा कुछ और टच हुआ हो और वो भी एक कुंवारे लड़के की जीभ, उसकी तो साँसें रेलगाड़ी के इंजन की तरह फास्ट चलने लगीं. प्लीज़ टीना बुरा मत मानना मगर तुम संजय की गर्लफ्रेंड हो किसी और की?टीना- गर्लफ्रेंड तो मैं संजय की हूँ मगर हम सब अच्छे दोस्त भी हैं तो सभी मेरे ब्वॉयफ्रेंड हैं. आयेशा ने मेरी तरफ देखा तो मैंने उसे इशारे से साइड में बुला लिया, वो आते ही बोली- यार रोहन अकेले में मुझसे मिलना चाहता है.

दोनों हाथों से मेरे दूध को मसल-मसल कर सुख देने लगे।मैं भी बारी-बारी से अपने दोनों दूध उनके मुँह में देते हुए पिलाने लगी। अंकल ने मेरे दूध चूस-चूस कर मुझे मस्त कर दिया। मैं बुर को खड़े लंड में लेने लगी।मैंने कहा- दर्द होगा तो निकाल लेना।‘जबरदस्ती नहीं प्यार से चोदूँगा तुझे सुमन. जमीला ने सबीना की चूत पर किस किया और उसको अपने भाई के साथ मजा लेने की इजाजत देके खुद बेड पर ऐसे लिटा दिया कि उसका मुंह बेड के किनारे पर… अब रफीक सबीना के ऊपर लेट गया 69 में और उसको तसल्ली नहीं हुई उसने सीधा अपना मुँह सबीना की रसीली चूत पर टिकाया जो पहले ही पनिया रही थी, उसको चाटा और नमकीन चूत रस का आनन्द लिया. दीदी सिसकारियाँ भरने लगी- आअहह… आआहह… मम्म्मम… आआ आआआ आआआअहह…वो सिसकारते हुए बोल रही थी- ओह भाई, ऐसे ही, ऐसे ही अपनी दीदी की चूत चुदाई कर, हाँ हाँ और जोर से, इसी तरह से ज़ोर-ज़ोर से धक्का लगाओ भाई, इसी प्रकार से चोदो मुझे… आह… सीईईई.

हॉलीवुड बीएफ फिल्म

तो कभी मुँह में भर के चूसने लगती।इसी दौरान मैं एक बार मैं उसके मुँह में झड़ गया. वहां पर कन्डोम के पैकेट और ब्लू फिल्म की सीडी रखी थीं जिन पर ऊपर से नंगी फोटो बनी थीं. प्रयास करूंगा कि जल्दी ही समय निकाल कर इसे भी लिख कर यहाँ अन्तर्वासना पर उपलब्ध करा सकूं!यह कहानी यही समाप्त होती है.

थोड़ी देर वो सोचता रहा कि कैसे वो इस कली को निचोड़ कर इसका रस निकाले.

तभी मैं उसके पास गया और धीरे धीरे उसके शरीर में हाथ फेरने लगा और उसके साथ ही बेड पर लेट गया.

बिना सोचे समझे मैंने वाइब्रेटर रिया की चुत में पूरा का पूरा पेल दिया. मैंने भी देर ना करते हुए उसकी टी-शर्ट को उसके गले तक ऊपर कर दिया और मेरे सामने उसके दोनों कबूतर उछल कर निकल आए।अह. मारवाड़ी देसी भाभी सेक्समेरा मुंह भी उसके काम रस से लबालब भर गया और हम गहरी साँसें लेते हुए वहीं आधे नंगे लेटे रहे.

अरे बोर मत हो दोस्तो, ये तो सिर्फ हमारी इंट्रो थी, बस कहानी अब शुरू होने जा रही है. मोना- ओह सॉरी सॉरी अच्छा तुमने इन्हें कभी ऐसे नहीं दबाया क्या?नीतू- नहीं दीदी, मैं इनको क्यों दबाऊंगी?मोना- अरे नहाती है. इधर अरमान और नेहा ने अब तक अपनी चुदाई शुरू कर दी थी, अरमान ने नेहा की दोनों टांगें ऊपर उठा कर पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया था, यह देख कर सुलेखा बोली- नेहा को देखो साली को सबसे ज्यादा आग लगी है, कमीनी थोड़ा सब्र कर लेती हम भी साथ साथ हैं.

साधु बाबा ने उनकी कुंडली देख कर बताया था मगर उन्होंने बस इशारा दिया था, अब बाकी की बात आप मुझे बताओ ताकि मैं उसका इलाज ढूँढ सकूं और उनकी जान बचा सकूं. दोनों अन्दर चले गए फ्लॉरा अपनी मॉम के रूम वाले बाथरूम में चली गई और जॉन बाहर कॉमन बाथरूम में चला गया.

अब इसका मतलब ये थोड़े ही है कि पार्टी एंजाय ना करें।संजय- यही तो इसको मैं कब से समझा रहा हूँ मगर ये समझती ही नहीं।टीना- तुम तो चुप ही रहो.

अंकल, लिक मी अगेन प्लीज!’‘प्लीज अंकल जी एक बार और वैसे ही कर दो ना प्लीज!’‘क्या वैसे कर दूं. मगर चड्डी नहीं होगी तो आपके कपड़े गंदे होंगे ना?संजय- अरे मेरे होंगे तो होने दे. आपके साथ सोऊंगी तो अच्छी नींद आएगी। फिर आपके साथ मस्ती करने का आज मेरा मन भी बहुत कर रहा है। एक बार आपकी फुन्नी दिखाओ ना मुझे!संजय- अरे बदमाश कहीं की.

देसी चुदाई वीडियो दिखाएं डॉक्टर के कहे मुताबिक़ मैं 7 बजे क्लीनिक गया और डॉक्टर ने फिर से मेरी तेल से मसाज की और हमने ओरल सेक्स किया. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि काका ने पड़ोस की बहू राधा की चुत को जबरदस्त चोदा था। उधर राजू ने भी मोना की चुत को चाट-चाट कर झड़ा दिया था।अब आगे.

मैं तड़प गई, मैंने दीदी को कहा- मत करो ना दीदी!पर दीदी रुक नहीं रही थी. आज कमरे में ही रुकेंगे।वे मुझे देखते रहे।एक बोला- सुकांत, तेरा रूममेट तो बहुत हैंडसम स्मार्ट है।सुकांत ने परिचय कराया- ये मेरे सीनियर सक्सेना जी हैं।दूसरा बोला- अपने समाज के होते तो यहीं पक्की कर देते।सुकांत आंखों में शरारत भर मुस्करा कर बोला- यही तो सर से कहता हूँ. बोलो, कितने बजे आऊं?’‘अंकल जी, गुड्डू भैय्या सुबह नौ बजे स्कूल चला जाता है स्कूल के बाद वो कोचिंग पढ़ के शाम को साढ़े छह तक घर लौटता है, इस बीच आप कभी भी आ जाना!’‘ठीक है स्नेहा… मैं दोपहर में किसी टाइम आ जाऊंगा, आने के पहले तुम्हें मिस्ड कॉल दूंगा.

बीएफ सेक्स वीडियो हिंदी में दिखाइए

कुछ पाठकों एवं पाठिकाओं ने यह भी लिखा था कि रचना बहुत छोटी थी लेकिन उन्हें पसंद आई. सुधीर के पूछने पर मोना थोड़ी हिचकिचाई मगर जब सुधीर ने दोबारा पूछा तब मोना ने कहा- वो बात ऐसी है आपको मेरे सवाल शायद कुछ पर्सनल लगें मगर ये मेरी मजबूरी है. सुमित ने खुश होकर कीकू के गाल पर चूम लिया और अपनी पेंट और चड्डी उतारने लगा, झटपट वो बिल्कुल नंगा हो गया, उसका तना हुआ लंड हवा में लहरा रहा था.

आपको यह शक कैसे हुआ कि मैं मुंबई में किसी से सम्भोग करता था?चाची ने मेरा मुख चूमते हुए कहा- मेरे राजा, तुम्हारा यह राज मैं किसी को नहीं बताऊंगी यह मेरा वादा है तुमसे. अगर तुझे एतराज़ ना हो?मोना की चुत तो वैसे ही जल रही थी उसे तो बस लंड चाहिए था.

उन्होंने मुझे थैंक्स बोला लेकिन मुझे कुछ चोट लग गई थी और खून निकल रहा था.

पर आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें।[emailprotected]मामाभानजी की चुदाईहोगी या नहीं, कहानी के अगले भाग में पढ़ें!. थोड़ी देर रुकने के बाद मैं अपना लंड थोड़ा आगे-पीछे करने लगा और अब उनका दर्द भी कम हो ग्या था. उइई… माँआआआँ… उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरी… चूस ले मुझे… पी जा मेरा पानी… आआहहह…जब मैं पूरी तरह से झड़ गई तो रोहित ने अपना मुँह मेरी चूत पर से हटाया, उसका चेहरा मेरे पानी से सन चुका था, उसने भी जी भरकर मेरा पानी पिया था।मैंने रोहित से कहा- रोहित, अब अपना लंड मेरी चूत के अंदर डाल दो।रोहित ने वैसा ही किया, वो मेरे ऊपर लेट गया और अपने लंड को चूत पर रगड़ने लगा.

उसका लंड एकदम तन गया। अब उसको पूजा कच्ची कली नज़र आने लगी।संजय- ओफ क्या कर रही हो पूजा आह. पूजा ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरे लंड को ऊपर से पकड़ लिया और धीरे धीरे ऊपर नींचे करने लगी. शाम को मौसम खराब हो गया तो पिक्चर का प्रोग्राम तो कैंसिल कर दिया पर पास के एक होटल में डिनर करने चले गए.

और यह कह कर दुगने जोश के साथ ऋतु मेरे लंड को फिर मुंह में लेकर चूसने लगी.

ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ: 5 इंच की थी।हम चारू और भाभी की कामुक चुदाई देख के बिन पानी मछली की तरह तड़पने लगी, एक दूसरी को सहलाने की जगह मसलने लगी, दबाने लगी, खरोंचने लगी।उधर चारू सर ने अपनी गति बढ़ा दी थी, उसने भाभी के लटकते भारी मम्मों को थाम लिया और अपनी गति पल प्रति पल बढ़ाते चले गये, भाभी के कूल्हों से चारू की जांघों के टकराने से मन को भेदने वाली सुरमयी ध्वनि निकलने लगी. तो वो बोली कि जिस किराए के कमरे में वो रहती है वहीं पर मुझे आना है.

मैं बोला- ठीक है जानेमन, अब दो दिन कोमल की अच्छे से सेवा करने दो।उसके बाद स्काइप बन्द करके हमने 1 घण्टे रेस्ट करने का प्लान किया और बेड पर नँगे ही सो गए।गुजराती भाभी ग्रुप सेक्स की यह कहानी जारी रहेगी. मोना समझ गई कि नीतूएकदम अनछुई कली हैऔर इसे इस हालत में गोपाल को देना बहुत ख़तरनाक होगा. हम दोनों एकदम अचंभित हो कर कुछ देर वहीं पर खड़े रहे, फिर हमने अपने कपड़े पहन लिए.

जैसे ही वो दोबारा जोश में आईं मैंने कॉन्डोम चढ़ा कर बिना पूछे बताए एक बार में हीपूरा लंड उनकी चूत में उतार दिया.

रुचिका और सुलेखा ने एक साथ हमारे लौड़े पकड़े और सामने बैठ कर एक दूसरी से बदल-बदल कर लंड चूसने लगीं, कभी एक साथ और कभी बदल बदल कर, ऐसे उन दोनों ने हमारे लंड चूस-चूस कर हम दोनों की सिसकारियाँ निकाल दीं, जिससे हमारे जिस्म तड़पने लगे. उसने कहा- क्यूँ?मैंने उसके मम्मों को घूरते हुए कहा- मुझे डर लग रहा है. बहुत मज़ा आ रहा था।टीना मुस्कुराने लगी और अपने मन में बोली कि मेरा भाई अपनी पहली मुठ मुझसे मरवाना चाहता है।मॉंटी- आप हंस क्यों रही हो.