बीएफ वीडियो खून वाला

छवि स्रोत,सेक्सी भारती वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू सेक्सी नंगा चुदाई: बीएफ वीडियो खून वाला, शाम को मामी चाय लेकर आईं और उन्होंने मेरे गाल पर हाथ फेर कर कहा- मेरे लाल, पहले चाय पी ले, फिर पढ़ लेना.

बालों के झड़ने का इलाज

करीब 15 मिनट तक ऐसे ही चुदाई चलती रही और फिर मैं चाची की चूत में ही झड़ गया. कुवैत में भारतीयमीरा- देखो ऋषभ इंटरव्यू के टाइम पर सब ऐसे ही बोलते हैं क्योंकि उनको हायरिंग करनी होती है.

मामा बोले कि इतने साल में कभी बिजी नहीं हुआ और दो दिन में इतना बिजी हो गया?मामा का ये कहने का मतलब इसलिए भी था कि छोटे से बड़े साथ में हुए थे. छोटी लडकी का सेक्समैं उसके मुँह में काफी अन्दर तक लंड पेलने लगा और वो भी मुझे मेरी गोटियों को सहलाते हुए लंड चुसाई का मजा देने लगी.

वो मुझे बताने लगे कि खेतों में भेड़ बकरियां चराने के लिए जो गड़रिये आते हैं, उनकी महिलाओं और लड़कियों की चूत भी उन्होंने कई बार ली है और उन्होंने मुझसे भी पूछा कि क्या मुझे चूत के दर्शन करने हैं, यदि हां तो वह मुझे भी जल्दी ही चूत दिखाने का जुगाड़ लगाएंगे.बीएफ वीडियो खून वाला: मैंने पूछा कि जो आज समझाया था वो समझ आ गया था?तो उसने बतय- पूरा नहीं आया!और स्माइली भेज दी शर्माने वाली.

वो हल्के से सिहर गई लेकिन अगले ही पल वो भी मेरी इस मस्ती में मेरा साथ देने लगी.मैं उसके मोटे लंड को अपने होंठों से चूमना चाहती थी लेकिन कर ना सकी.

बागी 3 मूवीस - बीएफ वीडियो खून वाला

मैंने सीधा उसको 69 की पोजिशन में लिटा दिया और अपना लंड उसके मुंह में दे दिया.मैंने उसे फटकारते हुए कहा- कैसे मुँह उठा के चले आते हो सुबह सुबह?तो उसने कहा- किस दुनिया में हैं मोहतरमा? दोपहर के बारह बज चुके हैं, दो घंटे से दुकान खुलने का इंतजार कर रहा हूँ.

उन्होंने मुझसे लंड की साइज़ पूछी, तो मैंने उन्हें बताया कि ये 8 इंच+ का है और अब चार इंच गोलाई में मोटा हो गया है. बीएफ वीडियो खून वाला उधर सब लोग सामान्य बातें कर रहे थे, पर मैं अब भी उसी में खोया हुआ था.

वहाँ पर लड़के-लड़कियाँ यहाँ-वहाँ कोने में छिपे हुए चूमने-चाटने में लगे हुए थे.

बीएफ वीडियो खून वाला?

उसकी चड्डी के अंदर हाथ डालकर मैं उसको छूना चाहता मगर उसने मना कर दिया. हम दोनों ऊपर चल दिए और वह मुझे अपने साथ दोबारा ऊपर कमरे में ले गया. काम करते-करते कब 5:00 बज गए, पता ही नहीं चला और 5:00 बजे हमारी छुट्टी हो गई.

आज तुम्हें पेपर के बाद एक घंटा दे दूँगा और किसी अच्छे बच्चे का पेपर भी तुम्हारे सामने रख दूँगा. तभी उसने अपना लंड निकाल के मेरे मुँह में डाल दिया और जोर जोर से धक्के मारने लगा और एक मिनट बाद उसने अपना पूरा माल मुझे पिला दिया. धीरज पूरा खेला हुआ और बुर चोदने का खिलाड़ी था, उसे पता था कि मेरी बुर में जैसे ही लंड घुसेगा, वो फटेगी और खून भी निकलेगा और मेरी चीखें भी निकल सकती हैं.

अभी भाभी को लंड का पूरा मजा देने मैं भी पूरी ताकत के साथ उनकी चुदाई कर रहा था, जिससे मेरी भी कामुक आवाजें निकलने लगीं ‘आहहह. जब मैं उसे पटा रहा था, तो साथ के साथ हमारे बाजू में अमीषी (बदला हुआ नाम) एक मकान छोड़ कर रहती थी, जिस पर भी मैं ट्राई मार रहा था. वह बोली- जब से बाइक पर तुम्हारा टच हुआ है तब से मेरी चूत में खुजली हो रही है.

मैं तैयार हुआ, स्कूटर बाहर निकाला और हेमा भाभी को पीछे बैठाकर मार्केट की ओर निकल गया। बाहर जाते हुए लता भाभी ने हमें देख लिया था और उनके चेहरे से लगा कि वह जलकर खाक हो गई थी. मैंने लंड खींचने की कोशिश की, उनको इशारा भी किया, पर उन्होंने लंड को नहीं छोड़ा.

मामा ने भी बोल दिया- जब तक इलाज न हो जाए, तब तक तुझे ही मालिश करना है.

फिर मैंने एकदम से थोड़ी हिम्मत करके बोल दिया- कोई समस्या नहीं है, बस थोड़ा सैलरी का प्रॉब्लम है.

कल्पना भाभी चुदी चुदाई होतीं, तो खुद ही लंड के लिए अपनी चूत खोलकर बैठ जातीं. आहना ने मुझसे कहा- अब अपना लिंग मेरी योनि में डालो … मैं कब से तड़प रही हूँ … मुझे और मत तड़पाओ. मेरी चूत ने जल्दी ही पानी छोड़ना शुरू कर दिया पर बैडमैन मानने को तैयार ही नहीं था कि वो मेरी चूत छोड़े.

वहाँ पर बुलाकर मैंने कैसे उसकी चुदाई की वह सब अगली कहानी में आप लोगों को सुनाऊंगा. फिर वह बेड के किनारे पर लेट गई और अपनी दोनों टांगों को फैलाते हुए ऊपर उठा लिया. उसने लंड चूसा और मेरा पानी निकाल कर मेरे पास कान में आकर बोली- अब मेरा भी पानी निकाल.

अब तो मैं भी हर चीज़, हर बात, हर दर्द, हर चिंता भूल जाना चाहता था और बस इस सुनसान गर्मी की रात में चलती लम्बी हवाओं के बीच कई साल के इंतज़ार के बाद मिले जवान मर्द और फनफनाते लंड से जुड़ी हर चीज़ को जी भरकर जीना चाहता था.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मैंने अपनी पतिव्रता बीवी को जवान लड़के से चुदवाया-2. चाहता तो मैं भी यही था, लेकिन अंजान बनते हुए मैंने पूछा- क्यों क्या हुआ?उसने तुरंत बोल दिया- मैं तुमसे प्यार करती हूं और बस तुमसे ही शादी करना चाहती हूँ. तुम गुस्सा तो नहीं हो ना … खैर ये लो मुझे मदद करने के बदले तुम्हारा गिफ्ट.

फिर जब वो शांत हुईं, तो मैंने उनको डॉगी पोजीशन में होने को कहा और वो झट से हो गईं. चूत को ऊपर-नीचे कर वह अपने किराएदार से किराए का बोनस वसूली के काम में जुट गई. उसका एक बॉयफ्रेंड भी है जिसके साथ वह कई बार अपनी चूत भी चुदवा चुकी है.

मैं बोलने लगी- हां भड़वे कुत्ते और चाट … मस्त चाटता है आशीष तू … बहुत कमीना है … और चाट जोर से ले उंहहह ऊंहहह हां हां हां!मैं गरम आवाज निकाल रही थी.

मैं यही सब सोच ही रही थी कि इतने मम्मी जी फिर से आ गईं और मेरे पास बैठ कर मेरा सर सहलाते हुए बोलीं- देख बेटा, अब तो तुझे समझ में आ गया ना कि मैं तुझे अपनी लाइफ अपने हिसाब से जीने को क्यों बोल रही हूँ. जब भी वह मुझसे मिलती थी मेरे साथ को पाकर मुझमें पूरी तरह खो जाती थी.

बीएफ वीडियो खून वाला काफी देर तक प्रयास करने पर दोपहर तक फ़ोन लगा तो प्रीति ने बताया कि वो अपनी बेटी के यहां जा रही है, क्योंकि 2 महीने के बाद उसे बच्चा होने वाला था. एक रात मैंने पति से आखिरकार कह दिया- क्यों न आप अपनी कमजोरी के बारे में किसी डॉक्टर को दिखा लेते?इस बात पर पति इतने क्रोधित हो गए और कहने लगे- इतने साल में इस उम्र में तुम्हें अब कमी दिख रही है, दो बच्चे क्या ऐसे ही हो गए?उन्होंने मुझे उल्टा पुल्टा बहुत सुनाया.

बीएफ वीडियो खून वाला जब मेरी जवान बेटी नहा कर बाहर निकली तो मैंने अपना फोन चेक किया और देखा पहले मेरी बिटिया आरज़ू ने अपनी काली लेगी उतारी. साथ में सीमा लेटी हुई थी इस कारण से मुझे अपने आप पर कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो रहा था.

वो भूखी शेरनी की तरह मेरी गर्दन, गालों, लिप्स पर किस किये जा रही थीं.

बबीता सेक्सी व्हिडिओ

मैं भी उसकी गोद में बैठ कर उसके लंड को अपनी चूत के छेद पर सैट कर रही थी. मैंने शरमाते हुए कहा- शायद वह अपने दोस्तों के साथ बातों में लगे होंगे. मैंने उसपे छोटी सी चुम्मी दी और नीचे से ऊपर चाटा, वो तो चिल्ला उठी और लगभग चीखते हुए बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चूसो मेरी चुत.

मूल रूप से मैं राजस्थान के बीकानेर में एक छोटे से गाँव की रहने वाली हूँ. कुछ देर उसे मैंने अपनी सुंदरता का रसपान लेने दिया और फिर कड़े शब्दों में कहा- देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी?वो किसी दास की भाँति घबराते हुए बोला- सारिका जी, आप कमाल लग रही हो, मानो देसी गठरी में विदेशी सामान. एक निप्पल को मुँह में भर लिया और एक को हाथ से राउंड करने लगा, जिससे उनकी वासना से भरी हुई सिसकारियों में ज्यादा कामुकता आने लगी.

मेरी इस हरकत से भाभी का चेहरा लाल हो गया और हमारी नजरें मिली ही थीं कि भाभी शर्मा कर किचन में चली गईं.

तूने चुदाई की तस्वीरें लीं?’‘हाँ राजिंदर को भेज भी दीं और उसका जवाब भी आ गया. फिर मिसेज पाटिल की चूत तो इतने मोटे लंड के लिए एकदम सील पैक चूत ही हुई. उनकी ये सब कहने में फटी ही नहीं, क्योंकि बताना होता तो पहले ही बता देतीं.

अब मैंने अपने हाथ आगे करके पीछे से मामी जी के दोनों स्तनों को कस के पकड़ लिया और फिर से एक जोरदार धक्का दे मारा. उसने अब तक मेरे हाथ नहीं खोले थे, लेकिन जैसे ही लंड चुत के छेद पर पहुंचा, मैंने नीचे से जोर का झटका लगा दिया. उसने निक्कर के नीचे नीले रंग की पैंटी पहनी हुई थी जो पहले से पानी छोड़ रही चूत पर रगड़ खाकर गीली होने लगी थी.

मेरी सेक्स कहानी के पहले भागजिगोलो बनते ही मिली मजेदार कस्टमर-1में आपने पढ़ा कि कैसे ऑनलाइन एक भाभी से मेरा संपर्क हुआ और उसने मुझे अपने शहर में बुलाया जिगोलो सर्विस के लिए. मेरा कंबल हटा कर मुझे कुतिया की तरह झुका दिया, फिर पीछे से मेरी योनि चाटनी शुरू कर दी.

मैं- कुछ किया भी या नहीं?वो- क्या करना था … घूमे फिरे औऱ वापस आ गए. इस प्रकार अब मैं भाभी के मम्मों को चोद रहा था और साथ में वो ऊपर आते हुए लंड को भी चूस रही थी. होंठ बन्द होने से उसकी आवाज मेरे मुँह में दब गई थी, तो उसने मेरी कमर पर थप्पड़ मारने शुरू कर दिए.

यह देखकर मेरे पति ने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और अपने साथ बेड पर लेटा लिया.

इस हिंदी सेक्स कहानी की रसीली घटना पर अपने विचार प्लीज भेजना न भूलें. भाभी मुझसे पूछने लगी- तुम्हारा कितनी देर में छूटता है?तो मैंने भाभी से कहा- यह मेरे हाथ में है और मुझे औरत को चोदना और उसको संतुष्ट करना अच्छी तरह से आता है, आप चिंता न करें, जब तक चाहें आप मेरे लंड का मजा लेती रहें. तब आशीष बोला- तू मेरे लिए रंडी बन जाएगी?मैं पहले तो एकदम सोच में पड़ गई, फिर मैंने आशीष से बोला- तू बता, क्या सच बोल रहा है?आशीष- तू मेरे लिए रंडी बन सकती है?मैं बोली- हां बन सकती हूं, तेरे लिए मैं कुछ भी बस कर लूँगी … तू बोल बस दे.

चिन्टू खाट से उठा और मीना के पास जाकर उसके गले में अपनी बाहें डाल दीं. उधर उसका यार मेरी चूत का बुरा हाल कर रहा था, अपनी ज़ुबान को मेरी चूत खोल कर जितनी अंदर कर सकता था, करके अपनी ज़ुबान को घुमा रहा था.

उसने अचानक मुझे नीचे कर दिया और मेरे ऊपर आकर मेरे कपड़े उतारने चालू कर दिए. मैंने चादर उठाकर उनको निमन्त्रण दिया- आ जाओ मामी, यहीं सो जाते हैं. मैंने कॉन्डम उतार दिया और फिर उसकी गांड की छेद को चोदने के लिए लंड घुसाया.

सेक्सी लड़कियों की बातें

पापा घर आये और मम्मी से बात करने लगे, उन्होंने खाना खाया और सोने चले गए.

मैंने उसे बातों ही बातों में पूछा- अब तो तुम बड़ी हो गयी हो, कोई बॉयफ्रेंड बनाया या नहीं. अगले दिन प्रीति ने खुशी से झूमते हुए मुझे फ़ोन कर सारी बात बताई और कहा कि उसके जीवन में जैसे फिर से जवानी लौट आयी है. फिर दीदी मेरे पास आई और मेरे कपड़े उतारने लगी, मेरा दिल धड़क रहा था। मेरी चूत को हाथ लगाकर सहलाया तो मेरी आंखें बन्द होने लगीं।दीदी- रचना तेरी चूत तो बिल्कुल बह रही है!मैं शान्त रही। दीदी ने मेरी चूत में धीरे से उंगली घुसाने का प्रयास किया तो मैं सिसियाकर सिकुड़ गई। तभी अजय ने मुझे खींच लिया।अजय- कुसुम जान … तू बोले तो आज तेरी बहन की चूत का उद्घाटन कर दूं? कसम से बड़ी मस्त लग रही है तेरी बहन.

वाह … क्या टेस्ट था … पूरा साल्टी!फिर हम दोनों ने किस्सिंग शुरु की. उसका एक हाथ मेरी जांघों को सहला रहा था, तो दूसरा मेरे निपल्स को मसल रहा था, मैं आंखें बंद करके दबी आवाज में सिसकारियां भर रही थी. सेक्सी वीडियो 2020 कीअब मैं उसके लंड के थपेड़े खा रही थी, हर एक धक्का पहले से जोरदार लग रहा था.

एक रोज मैंने अपना कमरा अंदर से बंद किया और भाई का लोअर नीचे करके उसके लंड को सहलाने लगी. फिर मामी ने मुझ पर मेहरबान होकर मुझसे अपने बगल की एक आंटी और एक भाभी की मालिश भी करवाई और चुदाई भी करने को मिली.

मैं अपने हाथों से उसकी टी-शर्ट में हाथ डाल कर उसकी कमर पर हाथ घुमा रहा था. मैंने अपने लंड को सीमा की तरफ कर दिया और मेरा लंड उसके मुंह के पास जा पहुंचा. मैं खड़ा हो गया और उनको पीछे से पकड़ कर उनकी पीठ पर एक चुम्बन जड़ दिया.

फिर उनकी पैन्टी में हाथ डालकर पेटीकोट और पैन्टी दोनों को एक साथ नीचे खींच दिया. थोड़ी ही देर में मैं और चौंक गया जब दीपक ने मुझसे यह कहा- क्यों, तू इतना क्यों पूछ रहा है? तुझे भी मेरी भाभी को चोदना है क्या?यह सुनते ही मैं और दंग रह गया और दीपक ठहाके मार मार के हंसने लगा. कुछ ही देर में मैंने अपने लंड से वीर्य की पिचकारी उसके मुंह में गिरानी शुरू कर दी.

फिर भी एक और दबी-घुटी हुई हलकी सी चीख निकल ही गई- ई ई माँ … ऊऊ ऊ आ … आ आ ई ई माँ … आ आ आ … मर र र र गई … ईई ई ईई … सी … सी.

अगर आप कहानी के बारे में कुछ और कहना चाहते हैं तो कमेंट भी कर सकते हैं. मैंने उससे कहा- देख सरिता अब किस वाला खेल बहुत खेल लिया, आज हम दूसरा खेल खेलेंगे.

मैंने उससे बातचीत करके अपने करीब थोड़ा ला दिया था और वो भी मेरे साथ कुछ ज्यादा ही घुलमिल गई थी. उसके दोनों हाथ मेरी जांघों को सहला रहे थे और उसके होंठ मेरी चुत के होंठों के नजदीक आ गए थे. मुझे फोन आना शुरू हो गए और मेरे पास जिस भी लड़की या औरत का फोन आता मैं उसके पास पहुंच जाता.

जैसे ही मेरा लंड मामी जी की गांड से बाहर आया … तो मामी जी सीधी हुईं और उन्होंने घूम कर मुझे चूम लिया. हल्का काला लम्बा और मोटा बिल्कुल सीधा लंड, जिसके थोड़े से खुले गहरे गुलाबी सुपारे पर प्रीकम की एक बड़ी बूंद. मैंने डोर बेल बजाई तो भाभी ने दरवाजा खोला और आज भी मैं उन्हें देखता ही रह गया.

बीएफ वीडियो खून वाला हाथों से ऊपर से उसके मम्मों को मसलना, उसकी चूचियों को दबाना शुरू किया. बीच बीच में भाभी मेरे लंड को अपने मुंह में भी लेकर चूसने लग जाती जिससे मुझे असीम आनंद की अनुभूति होती.

హీరోయిన్ ఫోటోలు

उनसे जब भी मिलता बस मन में एक ही कामना होती कि काश भाभी को चूम लूं बांहों में भर लूं और ले चलूं कहीं इस दुनिया से दूर, जहां मैं और भाभी हों और उनके हुस्न का भोग करूं।वो कहते हैं न कि भगवान के घर देर है अंधेर नहीं. कुछ दिनों बाद किसी कारण से कॉलेज को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया और मेरे मामा का लड़का अपने घर चला गया. मैंने एक लाइट पिंक लहंगा चुन्नी का जोड़ा खरीदा शादी में पहनने के लिए.

उसके बाद मैं उठ कर खड़ा हुआ और मैंने मामी जी को पलट कर दीवार पर सटा दिया और उनको पीछे से अपनी बांहों में भर कर अपने होंठों को उनकी नंगी पीठ पर टिका दिया. मैंने उसे मैसेज करके बताया कि मुझे अच्छा लगा उससे बात करके! लेकिन मेरा बीच में बहुत मन कर रहा था उसे किस करने का … और मैंने बड़ी मुश्किल से अपने आप को काबू में रखा था. छोटी लड़कियों के सेक्सीअब आगे:मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और थोड़ी देर तक मैंने लंड को मुंह में ही रहने दिया और उसने मुझे जोर से धक्का देकर हटा दिया और थोड़ा वीर्य पी गयी मेरी प्यारी बहन.

कल्पना ने मुझे सोफे पर बैठने का इशारा करते हुए अपनी नौकरानी को आवाज दी- रत्ना, पानी लाना तो.

इसलिए मैं जल्दी से अपने लिए एक अच्छी सी सेफ जगह खोज लेना चाह रहा था. लिहाजा वह अपने पुराने पोज में आ गई और साथ ही प्रशांत ने पीछे से चूत में समूचा लंड उतार दिया.

अब वो पूरी मस्ती से गांड उठा कर लंड के मजे लेने लगी- आआहह आहहह … उउउहह … आई लव यू करीम!उसकी आंखों में मेरे लंड लेने की ख़ुशी दिखाई दे रही थी. क्या लंड चूस रही थी, बिल्कुल किसी पोर्न स्टार की तरह लंड उसके मुँह की गर्मी का मजा मिल रहा था. मेरी पिछली कहानियोंट्रेन में बुर्के वाली की चूत चुदाई कीभाभी की चुदाई के लिए वक्त नहीं था भाई के पासको आप लोगों ने खूब सराहा, इसके लिए आप सबका धन्यवाद.

जैसे कि ‘मैं उससे क्यों बात करता हूँ और बाकी कम उम्र की लड़की से नहीं.

फिर अचानक से पायल ने मेरे ऊपर आकर अपनी चुत को लंड पे सैट कर दिया और बोली- जीजू मुझे भी रहा नहीं जा रहा … चलो चुदाई शुरू करो. मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं तुमसे जी भर कर प्यार करूंगा लेकिन तुम सिर्फ मेरी बनकर रहोगी. फिर हमने धीरे धीरे मालिश करना कम कर दिया क्योंकि भविष्य में कभी दिक्कत न आये.

मां बेटी के सेक्सी वीडियोखैर … उसकी बड़ी गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और उसके अड्वेंचर में मेरा वेंचर तन कर उसको चोदने के लिए मचलने लगा. थोड़ी देर बाद वो थोड़ा ठीक हुई तो हंसती हुई बोली- ऐसे भी कोई चोदता है क्या?तो मैंने कहा- तुमने ही कहा था जोर से चोदने को.

𝓼𝓮𝔁 𝓿𝓲𝓭𝓮𝓸 𝓽𝓪𝓶𝓲𝓵

मैं उसके पास गया तो वो मुझसे चिपक गयी और बोलने लगी- ये तुमने क्या कर दिया. इसके अलावा एक झुमकों का सेट भी लिया।मैंने हॉस्टल में आकर उसे ट्राई किया अच्छे से, तन्वी ने देखा तो बोली- क्या बात है यार … तू इसमें बहुत खूबसूरत लग रही है, शादी में जाने से पहले अपने बाल स्टाइल करा के जाइयो यहीं से। मैंने कहा- ठीक है, चलेंगे।अब शादी को सिर्फ 3 दिन ही बचे थे तो मैं तन्वी के साथ पार्लर चली गयी. मैं लंड पर कूदते हुए अपने बेटे से बोली- बेबी मुझे कुछ दिन तेरी गर्लफ्रेंड बन के रहना है.

इंदु की चुत एकदम चमक रही थी चुत बिल्कुल गीली … मेरा लंड आराम से अंदर बाहर हो रहा था पर फिर भी चुत में कसावट थी जो मुझे चोदते समय महसूस होता था. जब मैं वापस दीदी और जीजू के बेडरूम में आई तो मेरे पूरे बदन में आग लगी हुई थी. जैसे ही मैंने उसकी जांघियां खींच कर नीचे किया, उसका लिंग तनतनाता हुआ किसी पेड़ की डाल की भांति कड़क होकर ऊपर नीचे झूलने लगा.

मैं बड़ी होशियारी से दो तीन किताबें जिनमें फोटो वाली भी थी, छुपा कर अपने कमरे में ले आई. धीरे-धीरे मैं अपने हाथ चादर के अंदर ले गया और उनकी चूचियों को पकड़ लिया. बातों के दौरान मैंने उसे बताया कि मेरे घरवाले 4 दिन के लिए कहीं गये हैं, मैं घर पर अकेला हूँ.

पर आज गांड मारूंगा, मंज़ूर?चाची- गांड … चल ठीक है मेरे राजा, तेरे लिए मैं गांड भी चुदवा लूंगी. इस बात से भाभी एकदम से शर्मा गईं … और बोलीं- चलो दूर हटो … अभी मुझे काम कर लेने दो, दिन में होली खेलेंगे.

मैंने सोचा कि यदि मैं अपनी लुल्ली दिख देता हूँ, तो फिर मैं रवि मामा से अपना लंड दिखाने की जिद कर पाऊँगा.

[emailprotected]अगली बार फिर नयी कहानी के साथ मिलने का वादा करता हूं, पायल और मेरी कहानी भी पढ़ना चाहते होंगे, तो भी जरूर बताइयेगा. ललिता सेक्सीएक बार की चुदाई के बाद कल्पना भाभी काफी रिलैक्स नज़र आ रही थीं, पर थकान का असर अब भी उनके चेहरे पर साफ दिख रहा था. नागालैंड का सेक्सी वीडियोभाभी मेरे लंड को पकड़ कर बोली- तू तो सच में बड़ा हो गया है, इतना बड़ा लंड तो तेरे भाई का भी नहीं है. इसलिए अगर आप इज़ाज़त दें तो आपकी कलाई में रस्सी बांधकर आपको उल्टा कर आपके दोनों हाथ बेडपोस्ट से बांध देता हूँ और आपके मुंह को कपड़े से बांध कर आपकी गांड मर लेता हूँ.

मैंने थोड़ी देर तक उंगली अन्दर ही रहने दी, फिर मैं उसके ऊपर चढ़ गया और हाथ से लंड पकड़ के उसकी चुत पे लंड रगड़ने लगा.

वह मेरे लंड को इतने प्यार से अपनी जीभ के साथ सहला रही थी कि मेरा खुद पर कंट्रोल करना बहुत मुश्किल होने लगा था. प्रेम बोला- वाह बृजेश, क्या गांडू लाया है, सिर्फ निकुंज के लिए ही? हमें चुदाई नहीं करने देगा क्या?आदिल भी बोला- मुझे भी तो अपने लंड की प्यास बुझानी है. फिर उसने मेरे हाथ पकड़कर पीछे की तरफ खींचे और मेरी गांड की चुदाई शुरू कर दी.

बैठने के बाद जब मैंने जूस पी लिया तो उसने पूछा कि पानी पूरी लाए हो या नहीं. मेरा चेहरा ठीक अपने चेहरे के सामने पाकर उन्होंने तुरंत ही फिर से आंखों को बंद कर लिया. ‘भैया, ये… ये क्या?’‘शैली, समझ मेरी बात को, ये मैं हूँ और अब उपिंदर मेरा बॉयफ्रेंड है.

बीपी वीडियो गुजराती सेक्सी

अचानक से अनुष्का ने मेरे हाथ हटा दिए और मैंने सोचा कि जोश में आकर मैंने गलती कर दी. मेरी शादी छोटी उम्र में ही हो गई थी, पर मेरा नामर्द पति मुझे सुख नहीं दे पाता है. फिर मैंने अपने आपको सम्भाल कर उसे सवाल किया- हां जी कौन?उसने कहा- मैं अमीषी.

वे दोनों भी रेस और कसरत आदि करती थीं, तो उनका शरीर भी लचीला बन गया था.

मैंने उससे पूछा- मुस्कुरा क्यों रही हो?वह कहने लगी- जो मम्मी की चूत में से निकलता है, वह निकालना है?मैंने कहा- हां, वह तुम्हारी मम्मी की चूत में से नहीं निकलता, वह तुम्हारे पापा के लंड से निकला हुआ माल होता है, जो तुम्हारी मम्मी की चूत में भर जाता है.

कुछ देर के बाद ऊषा एक कटोरे में चिकन और शोरबा लेकर मामा जी के कमरे में गयी और पूछने लगी- थोड़ा और दूं?मामा जी खाने की तारीफ कर रहे थे. आप प्लीज़ मेरी इस पहली स्टोरी को अपना समर्थन दें और अपने कमेंट मुझे ईमेल से जरूर भेजें. रक्षाबंधन की राखीफिर रूम सर्विस बॉय की हेल्प से अपने हब्बी को रूम में सुला कर एक बजे के आसपास वे हमारे कमरे में आ गईं.

मैंने भाभी के घुटनों को थोड़ा मोड़ दिया और चूत के छेद के ऊपर अपने मोटे लंड का सुपारा रखा और अपनी पीठ से ज़ोर दे कर लंड को चूत के अंदर डालना शुरू किया. शाम वर्ण, औसत कद-काठी, चेहरे पर बड़े-बड़े आकर्षक नैन बिना काजल के भी कजरारे, जिन पर आप क्या आपके मामा भी फिदा रहते हैं. मैं तो हमेशा ही तैयार रहता था कि किसी तरह कुछ जुगाड़ हो और मुझे रवि मामा का लंड देखने को मिले.

उनकी वासना भड़क उठी थी और हम दोनों बिस्तर पर चूमाचाटी का मजा लेने लगे थे. मैंने उसे काफी देर तक चूमा, फिर उसकी टीशर्ट उतार दी, उसकी छाती को चूमने लगा.

मैं उस बिना आर्म की कुर्सी पर बैठ गया और भाभी को लंड के ऊपर बैठने के लिए कहा.

यह सुनकर मैंने मामी जी को शावर की दीवार के साथ सटा कर खड़ा किया और उनके होंठों को अपने होंठों में भर लिया. मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?उसने कहा- मुझे बहुत अच्छा लगा, पर तुम्हारा दोस्त होता तो और मज़ा आता. ट्रेन के इस स्लीपर क्लास के डिब्बे में मेरी सबसे ऊपर वाली सीट थी, नीचे एक फैमिली यात्रा कर रही थी.

बिल्ली का बच्चा तब तक मेरा हाथ अपने आप ही मेरी चुत तक चला जाता और चुत को पैंटी के ऊपर से सहलाने लगता. मैं बोला- मैं तो कब से इंतजार कर रहा हूँ … लेकिन मौका मिल ही नहीं रहा है.

तब मैंने उसे समझाया कि तेरे पति में कोई कमी नहीं है बल्कि कमी तुम्हीं में है. मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं तुमसे जी भर कर प्यार करूंगा लेकिन तुम सिर्फ मेरी बनकर रहोगी. सेक्स करने के बाद हम दोनों यूं ही नंगे ही बिस्तर पर लेट कर एक दूसरे को किस करने लगे.

செக்சு சினிமா

वैसे मैं सब कुछ पहले से जानती थी, सब कुछ पढ़ चुकी थी सेक्सी कहानियों में, कमलेश सर मुझे सब पहले ही पढ़वा चुके थे. उसके बाद मैंने रीना की चूत में अपनी जीभ पूरी तरह से नुकीली करके अंदर डाल दी और उसकी सिसकारी निकल गई. उसने चूचे मेरे होंठों से लगाते हुए कहा- बताओ मेरी जान, क्या नया करने का प्लान है?मैंने उससे कहा- अबकी बार हम लोग अजनबियों से चुदाई करने का प्लान बनाते हैं.

मेरी लंड ने एक सलामी के सा‍थ अपनी उपस्थिति का संकेत दिया और मैं मुस्करा दिया. उसने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़ रखा था और उंगलियों से मेरे कानों से खेल रही थी.

मैंने सोनू से पूछा- फिर तुम्हारा दिल किया था करवाने को?सोनू ने बताया- कल तक तो आपसे मिलकर मैंने यह सोचा था कि मैं यह काम नहीं करूंगी, परंतु रात को जब मैंने मम्मी पापा को देखा तो मेरा फिर दिल किया और मैंने उंगली से करके अपनी प्यास बुझाई और मन में सोचा कि कल अगर आप कुछ करेंगे तो मैं मना नहीं करूंगी.

वे दोनों भी रेस और कसरत आदि करती थीं, तो उनका शरीर भी लचीला बन गया था. उसने कहा- मुझे रास्ते से रिसीव कर लेना!फिर मैं गया और उसको मेन रोड से लेकर आया. मीरा- ही ही ही ही ठीक है तो जल्दी आ … मुझे घर के बाहर आ के कॉल करियो … बाय बाय आई एम वेटिंग फॉर यू बेबी.

चाय पीते हुए भैया बोले- अमित, मैं और तू मेरे एक दोस्त के यहां होली खेलने चलते हैं, वहीं से दारू पी कर और मूड बना के आएंगे. जीजा जी ने मुझे पकड़ लिया और नंगी करके मेरी चूत में उंगली डालकर मेरी कामुकता और जला दी और अपना लंड मुझे चुसवाया. जब दूसरी बार मुझे महसूस हुआ कि अब मेरा पानी निकलने ही वाला है तो मैंने जीजा की तरफ अपने होंठों को बढ़ा दिया.

मैंने फिर से उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया और उनको जोर से मसलने लगा.

बीएफ वीडियो खून वाला: उसके बारे में मैंने काफी कुछ सुना था; जैसे कि उसका चाल-चलन भी ठीक नहीं है वगैरह वगैरह. सर ने अपने होंठों पर जीभ फिराई और पिंकी की ओर देख कर धीरे से बोले- इसको तो भेज दिया होता.

मुझे उसके होंठों को चूसने में दिक्कत हो रही थी क्योंकि मेरी हाइट 5 फीट 2 इंच ही है. उनका घर और खेत थोड़ा दूर था, जिससे मैं पूरे समय उन्हें नहीं देख पाता. दो चार ज़ोरदार झटकों के साथ मैंने भाभी के मुंह में अपने लंड को धकेला, और मेरे लंड से गर्म-गर्म लावा उनके मुंह में गिरने लगा.

अब मेरा लंड झड़ने वाला था, तो मैंने झट से माँ की गांड से अपना लंड बाहर निकाला और माँ के मुँह में डाला और उनके मुँह में ही झड़ गया.

वह चल कर पास आई और पूछने लगी- इतने गौर से क्या देख रहे हो?मैं ऐसे ही उसको देखता जा रहा था. कुछ देर मेरे बोबे दबा कर वो लेट गया और मुझे ऊपर करके मेरा सर पकड़ कर मेरा मुंह उसके लंड के ऊपर रख दिया. थोड़ी देर चूत पर लंड रगड़ने के बाद वो अब लंड लेने को बेकाबू होने लगी.