हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई

छवि स्रोत,बागी 3 मूवीस

तस्वीर का शीर्षक ,

करीना कपूर की नंगी फोटो: हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई, अब मैंने उसे पूरे इत्मीनान से नंगा कर दिया और उसकी चूत को चाटने लगा.

रेयान कोनर

मैंने कहा- आज तो आपका लण्ड किसी मूसल जैसा लग रहा हैजलालुद्दीन साहब धक्के मारते हुए बोले- ये सब तो अंग्रेजी दवाओं का कमाल है, इसी कारण तो आज तेरी गांड के चीथड़े हो रहे हैं. sattamatkà మోబిमैंने उसे इशारा किया तो वो अपनी चूत में मेरे लंड को समायोजित करते हुए मेरे मुँह के पास अपने एक दूध को झुलाने लगी.

अब जलालुद्दीन ने एक जोरदार झटका दिया और अपना पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में ठेल दिया. ब्यूटी प्लस ब्यूटी प्लसउन्होंने भी तड़पकर मेरी चड्डी उतार दी और मेरा लंड अपनी मुट्ठी में पकड़ लिया.

कुछ देर बाद आसन बदला, अब मैं चारों हाथ पैर पर पलंग के किनारे खड़ा हो गया.हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई: मैंने पूछा- मजा तो आया न!खाला बोलीं- साले, फाड़ कर रख दी है और पूछ रहे हो कि मजा आया?मैं हंस दिया.

अब आगे :फिर मैंने कहा- सब लड़के अब अपने अपने कपड़े उतार आकर नंगे हो जाओ.मैंने कई बार कोशिश की कि किसी और औरत से दोस्ती करूं लेकिन ऐसी कोई मिली ही नहीं.

जिम करते हुए सेक्स वीडियो - हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई

कुछ ही देर में अदीबा फिर से गर्मा गई और मेरी चुदाई का जवाब देने लगी.मैंने नजरअंदाज़ कर दिया और साइड में खड़े होकर अपने मौसा जी के आने का इंतजार करने लगा क्यूंकि वो मुझे लेने आने वाले थे.

अब मैंने माधुरी के चूचियों पर अपना सारा काम निकाला क्योंकि इतनी देर की चुसाई और चूमाचाटी में हम दोनों की सांसें फूल गयी थीं … दोनों के सीने जोर जोर से ऊपर नीचे हो रहे थे. हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई आज मैं आपको अपने जीवन की एक सच्ची सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूँ जिसमें मैंने अपनी चचेरी बहन को चोदा!मैं कॉलेज में पढ़ता था और तब मेरे एग्जाम चल रहे थे.

जैसे ही मेरी बीवी नीचे वाले कमरे के दरवाजे के पास पहुंची, जहां उसकी भतीजी बैठी थी.

हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई?

उससे वो बहुत उत्तेजित हो गई और उत्तेजना भरी आवाजें करने लगी- आह … उम्म डियर!ऐसी आवाज़ सुनकर तो मुर्दे का लंड भी खड़ा हो जाए, फिर मैं तो जिंदा आदमी था. मुझे रिप्लाई जरूर करना ताकि आगे की सारी बातें आप लोगों तक जल्दी पहुंच सकें. फिर मैंने उससे पूछा- तुम कहां से आई हो? मैंने तुमको यहां कभी नहीं देखा है.

ये सुन कर मैं मुस्कुराने लगा और मैंने उसी वक्त जोर से साक्षी के निप्पल को काट लिया. वो मेरे चक्कर में खुद भी भीग चुकी थी और मैं भी होश में आने का नाटक करने लगा था. हम दोनों बहुत दिन बाद मिले थे, इसलिए हमने कॉफ़ी शॉप पर जाकर कॉफ़ी पीने की सोची और हम दोनों कॉफ़ी पीने एक कॉफी शॉप पर आ गए,तभी वहां मेरी मुलाकात मेरे एक्स बॉयफ्रेंड समीर से हुई.

वो मस्त आवाज़ निकालने लगी- आआह पी लो आह … न जाने कब से मेरे मर्द ने इन्हें छुआ ही नहीं है. पानी निकलने के बाद होश आया कि ये मैंने क्या किया, एक कुंवारी लड़की प्रेग्नेंट हो सकती है. ये बोलते हुए उन्होंने मेरी पैंटी नीचे कर दी और ब्रा निकालकर फेंक दी.

तो उसने हंस कर कहा- अरे यार, होली पर हम सब लोग ऐसे ही मस्ती करते हैं. जब तक तुम्हारे जिस्म को लगातार बारबार रगड़ रगड़ कर चोदा नहीं जाएगा तब तक तुम्हारा चुदास का जीन तुमको जकड़े रहेगा.

जलालुद्दीन आलिम का बड़ा सा घर था जिसमें कुछ हिजड़े खादिम का काम करते थे.

मैं उसे ही देख रहा था, किस तरह उसने दोनों हाथों से बनियान को नीचे से उठाया और बाजू 90 के एंगल पर करते हुए उतारा.

मैं भी नहा धोकर, नाश्ता वगैरह करके अपने कमरे में अपना लैपटॉप खोलकर अपने काम में लग गया था. अब उसका मायके आना जाना कम ही होता था, इसलिए दोनों का इश्क, संभोग के बिना अधूरा था, उन्हें मौका ही नहीं मिल पाता था. यह कहानी मेरी और मेरी चाची की चुदाई की कहानी है, मुझे आशा है कि आपको पसंद आएगी.

तो उसने बस हाँ का इशारा किया और मुझे अपने मुंह के पास लाकर मुझे किस करने लगा. मैंने मॉम की चूत में चम्मच डाली और उनकी चूत से सारा सफ़ेद पानी निकालने लगा. चैनल बदलने के बाद उसने बस अपना दाहिना हाथ मेरी गोद में छोड़ दिया और कुछ देर वहीं रखा.

उनका रंग बिल्कुल साफ़ था और उनके प्यारे गुलाबी होंठों के ऊपर एक छोटा सा तिल था, जो मुझे बहुत ही प्यारा लगता था.

मैंने धीरे से उसकी गर्दन के पीछे अपना हाथ डाला और उसके चेहरे को मेरे चेहरे के पास ले लिया. मेरी फर्स्ट चूत की पहली चुदाई मुझे मिली पड़ोस की एक जवान गर्म भाभी से! मैं किराए के घर में रहकर पढ़ाई कर रहा था. मैं उसके कड़े स्तनों को कैद में लिए हुई उसकी सूती ब्रा को महसूस कर सकता था.

जब मैं उसे उठा कर चोद रहा था तब उसका पानी निकल गया और कुछ ही पल बाद मैंने भी अपना माल उसके अन्दर छोड़ दिया. मैंने कहा- सारी गर्मी निकल गयी क्या कुतिया … मादरचोद रंडी और ले लौड़ा खा साली. ध्यान से देखने पर मुझे यह पता चला कि उसने ब्लाउज के अंदर ब्रा नहीं पहनी है क्योंकि उसके निप्पल भी एकदम टाइट ब्लाउज के बाहर आ रहे थे।मैंने उससे कहा- अब ठीक है.

तुम जैसे चाहो वैसे चूत को चोद दो, लेकिन गांड से निकालो ना … बहुत मोटा लंड है तुम्हारा … मुझे दर्द हो रहा है.

हम लोग देर रात तक बातें करते और एक दूसरे को छूने और गुदगुदी करने का कोई मौका नहीं छोड़ते थे. हर किसी की नज़रें बस उनके भरे हुए रसीले चूचों और उठी हुई गांड पर ऐसे लगी रहती हैं कि जैसे ही उनको मौका मिलेगा, वो मेरी खाला को वहीं चोद देंगे.

हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई !दोस्तो, मेरी मॉम नींद में किसी राहुल का नाम ले रही थीं जबकि मेरे डैड का नाम तो रमेश है. आपको देसी आंटी की गोरी चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें.

हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई मैं मांड्या बस स्टॉप पर उतर गया और उस कार्यालय के लिए रवाना हो गया जहां नम्रता आंटी के पति काम करते थे. चाय पानी का सिलसिला चला, लेकिन मिष्टी के मन में ये विचार आया कि प्रिंस अपने दोस्तों को लेकर क्यों आया है.

थोड़ी देर बाद मैंने दो उंगलियां डाल दीं और उंगली को आगे पीछे करते हुए चूत को चोदना चालू कर दिया.

हिंदी बोलने वाली सेक्सी पिक्चर

मैं भी तैयार था इसलिए भाभी को लेटा कर लंड का मुँह भाभी की चूत पर रखकर जोर लगा दिया. चूंकि मेरी गांड की चुदाई पहले ही सलीम का लंड कर चुका था इसलिए हारून का लंड अन्दर लेने में मुझे कम दर्द हुआ और मजा ज्यादा आने लगा. मैं उसके वश होने लगी।उसने फिर से मेरी पैन्ट पर हाथ मारा तो मैंने रोक लिया.

मैं कोमल के हाथों को खोलकर उसके ऊपर लेट गया, जिससे मेरी छाती के बाल कोमल पीठ से रगड़ कर मस्ती करने लगे थे और मेरा लंड कोमल की गांड के दरवाजे पर दस्तक दे रहा था. पहले उन्होंने मेरी चूत पर लंड को रगड़ा और एक झटका लगाया पर उनका लंड अन्दर गया ही नहीं … और मुझे दर्द भी हुआ. मैंने भैया के सिर पर हाथ रखकर जोर से उसके मुँह को खींचकर अपने दोनों चुचों के बीच में दबा लिया.

खाना खाने के बाद चाची ने अपने कपड़े पहन लिए, पर मैं अभी भी नंगा ही था.

मैं बहुत ही सांवली हूँ पर मेरे मम्मे बहुत ही मस्त हैं, बिल्कुल गोल और बहुत ही चिकने व मक्खन से मुलायम हैं. उन्होंने कहा- हां मैंने भी पढ़ी हैं, फिर भी तुम मेरे भतीजे हो, ये सब क्या ठीक होगा?तब मैंने कहा- आपका मन करता है कि नहीं कि किसी अलग लंड का मजा लिया जाए. कुछ पल बाद मैंने अपनी एक उंगली उसके ब्लाउज के हुक के बीच में डाली और दरार को महसूस किया.

एक दिन अचानक ही मैं बचपन की दहलीज लांघ कर जवान हो गई और मुझे पता भी ना चला. Xxx फॅमिली पोर्न के बाद हम दोनों थोड़ी देर तक ऐसे ही नंगे लेटे रहे. मैंने उनका दर्द समझा और थोड़ा रुक गया लेकिन मेरा लंड अभी भी उनकी चूत में आधा घुसा हुआ था.

छेद पर लंड सैट होते ही मैंने हल्का सा ज़ोर लगाया मगर उसका छेद बहुत छोटा सा था. उसके बाद मैंने चाची की चूत को साफ़ किया और टांगों को ऊपर करके चाची की चूत को चाटना शुरू कर दिया.

उसकी चूत इतनी टाईट थी कि लंड में हल्का हल्का दर्द सा होने लगा था, पर मज़ा उस दर्द से हज़ार गुना ज्यादा था. उस वक्त बहुत जोर जोर से चुदाई के झटके लगे और हम दोनों साथ में चिपक गए. इसके बाद में उन्होंने अपना हाथ मां की साड़ी में डाल दिया और मां की पैंटी भी उतार कर फेंक दी.

मंजू दर्द से बिलबिला उठी और गाली देती हुई बोली- आंह मादरचोद … साले तुमको बार बार कहती हूं कि इस तरह से मत चोदा करो.

तीन से मैंने एक गोटी को आगे बढ़ाया, पांच आने पर उसने अपनी गोटी मेरे पाले में बढ़ा दी क्योंकि वहां कोई नहीं था. मेरा लंड मम्मी की चूत के अन्दर था और मम्मी की चूची मेरे मुँह के अन्दर. एक बार फिर उन लोगों ने मुझे नंगी किया और मेरे बदन की मालिश शुरू कर दी.

उन्होंने मेरे बाल पकड़ कर मुझे ऊपर खींच लिया- अब नहीं रुका जाता, इससे पहले मैं तड़प कर मर जाऊं, मुझे चोदो मेरी जान … फाड़ दो मेरे छेद को. जब मैं बिस्तर पर लेटी तो उन्होंने मेरी चूत पर हाथ फेरना शुरू किया और धीरे से मेरी चूत में एक उंगली डाल दी.

जब लंड चूत के छेद पर पहुंचा तो भाभी ने हाथ से मेरी पीठ दबा दी और मैं समझ गया कि लंड अंदर डालने को कहा रही हैं भाभी!मैंने अपने कूल्हों को झटका दिया और मेरा लंड भाभी की चूत के अंदर धंस गया. उसने चाय लाने का कहा तब तक उसकी मम्मी आ गईंउनसे नमस्ते हुई और औपचारिक बात होने लगी. फ्रेंड्स, मैं निहारिका एक बार फिर से आपसे मुखातिब हूँ और अपने मौसेरे भैया से अपनी सीलपैक बुर की चुदाई की कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ.

सेक्स फिल्म दिखाएं वीडियो में

जैसे ही उसने नीचे से अपने चूतड़ों को उठाया, तभी मैंने भी बराबरी से अपना लंड पेलते हुए दबाव बना दिया.

उसने कहा- तुम भी तो मुझे ऐसी नजर से देखते हो?मैंने कहा- नहीं, वो तो मैं बता रहा था कि तुम कैसी लगती हो. उसका एक स्तन मेरे एक हाथ में नहीं समा रहा था … काफी बड़े दूध से उसके!मैंने बारी बारी से उसके दाएं और बाएं बाबलों को दबाया और इतनी ज़ोर से काटा कि उसकी चीखें निकलती रही. कुछ देर बाद साक्षी की गांड का छेद थोड़ा सा खुल गया था और गुलाबी दिख रहा था.

बापू- अच्छा मैं तुझे इतना अच्छा लगता हूँ?काकी- हां लल्लू, गांव की न जाने कितनी औरतों के लिए तू रामबाण औषधि है. ये महसूस करते ही मेरे चेहरे पर मुस्कान आ गई और मेरे हाथों में एक अलग ही ताकत आ गई. हिंदी स्कूल सेक्स वीडियोउनके बारे में सोचते सोचते मैंने होंठों पर लाल लिपिस्टिक लगाई, आंखों में काजल डाला, फिर नाक में छोटी नथनी पहनी, कानों के रिंग मेरी गर्दन तक हलचल मनाने लगे.

अंकित ने मुझे गले से लगा लिया फिर मुझसे अलग होते हुए उसने मुझे गाल पर किस किया. फिर मैदान साफ़ देख कर मैं सीधा उसके घर के फाटक खोल कर अन्दर घुसा तो वो सामने खड़ी थी.

मैंने कहा- सब आपका ही किया धरा है, एक मासूम लड़की को चोद चोद कर चुड़क्कड़ रांड बना दिया. मैंने समय की नजाकत को समझते हुए खुद की उत्तेजना को शांत किया और उससे कहा कि मैं खाने पीने के लिए कुछ लेकर आता हूँ. मेरा लंड जैसे ही मॉम की चूत में गया तो वो हल्की सी चीखीं और शांत पड़ गईं.

मेरी गांड एकदम सीलपैक है, मुझे बहुत दर्द होगा प्लीज़ धीरे धीरे करना. और मर्दों का तो यह है साहब कि अगर उनसे ज्यादा ढील दे दी तो इधर उधर मुंह मारने लगते हैं।”उस दिन उसकी बातें मुझे बहुत अजीब लग रही थी. आज तुम दोनों ने मेरी ये इच्छा भी पूरी कर दी।ये बोल कर अंजलि अपनी आंखें बंद कर के लेट गई।तो ये थी मेरी पाठिका की इच्छा हुई पूरी कहानी।आप सबको मेरी सेक्सी भाभी वांट फक़ कहानी कैसी लगी?प्लीज मुझे मेल और कमेंट्स में जरूर बताएं।[emailprotected].

मैंने भाभी को फोन लगाया और कह दिया कि भाभी अगर आपको किसी चीज़ की भी ज़रूरत हो तो बता दीजिएगा.

फिर उसे अपने और करीब खींचकर उसकी छाती तक अपनी उंगली को नीचे ले जाता गया. फिर वो मुझे लिटा कर मेरी चूत की तरफ अपना मुँह ले गए और आईसक्रीम की तरह चूत चाटने लगे.

सारा कमरा मानो जन्नत बन चुका था, छोटे पलंग की जगह बड़ा सा डबलबेड, उसके बाजू में दूध, फल, पान, मेवे से सजे थाल, कमरे में चारों तरफ गुलाब मोगरे के फूलों की झालरें, और बीचों बीच रखी बिस्तर पर गुलाब के फूलों से बने हुए दो दिल जिनको एक ही तीर ने छेद रखा था. नहाकर जब मैं बाथटब से बहार निकली तो उन्होंने मुझे एक बड़े से आईने के आगे खड़ा कर दिया और मेरा बदन एक नर्म तौलिये से सुखाने लगे. कभी कभी शिक्षक अपने परिवार के साथ आते और फार्म हाउस के गेस्ट रूम में रहते.

मेरी तो खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा कि मेरी इच्छा पूरी होने जा रही है. मीनू मेरा लौड़ा बड़े मजे से चूस रही थी और मैं कोमल की दोनों चूचियों को बारी बारी से चूस रहा था. मैं छुपकर निशा के पीछे खड़ा हो गया और धीमे से बोला- ये अब नहीं रुकने वाले.

हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई मुझे गाली देते देते वो बोले- तू भी तो कुछ बोल!मैं भी शुरू हो गई, हर धक्के के साथ हम दोनों चिल्लाते थे- ये ले रंडी, चोद मादरचोद जोर से चोद. मुझे अपनी बीवी वाले कोई भी हक़ मत देना लेकिन बस अपने पास रहने दो वरना में मर जाऊंगी.

बोलने वाली सेक्स

फिर वो बेड पर आ गयी और मैंने उसे अपने ऊपर खींच लिया और किस करने लगा. चाची बोलीं- देख क्या रहे हो … आज से ये तुम्हारी है, फाड़ डालो मेरी इस कमीनी तीती को अपने मोटे लंड से और शांत कर दो इसको!मैंने कहा- मुझे आपकी गांड भी मारनी है. दोस्तो उस दिन मैंने सगी चाची की गांड फाड़ चुदाई की थी और उस दिन चाची क़ई बार झड़ी होंगी.

दूसरे दिन जब हम लोग घूम के होटल वापस आ रहे थे तभी रास्ते में एक कुत्ता और एक कुतिया अपना माहौल बनाए हुए थे. उसके कुछ देर बाद मैंने अपना एक हाथ उनकी कमर पर रखा और धीरे धीरे उनसे चिपकने लगा. खेत की सेक्सी वीडियोकमरे में आते ही उसने अपनी नाइटी उतार दी और वो मेरे सामने पूरी नंगी हो गई.

इस वर्जिन ऐस फक़ के मिल रहे आनन्द में साक्षी और भी ज्यादा आहें भरने लगी.

दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे और थोड़ी देर में मैं कपड़े पहनकर उनके साथ नीचे आ गया. लंड को वापस खड़ा करने के लिए मैं लंड को सहलाने लगी और वापस मुँह में लेकर चूसने लगी.

अब मैं बिस्तर पर लेटी थी तो जलालुद्दीन साहब मेरे ऊपर चढ़ गए और मेरी चूत में अपना लण्ड घुसा कर एक बार फिर धक्के मारने लगे. मैंने चाची को बिस्तर पर लिटा दिया और उनकी गुलाबी चूत पर होंठ रख दिए. मैं सोचता था कि चाची को मैं किस तरह से अपनी बात कहूँ कि चाची बस एक बार मेरे साथ सम्भोग कर लीजिए पर गांड में दम ही नहीं था.

उनके उछलते हुए स्तन देखकर ये अंदाज़ा तो हो गया कि उन्होंने अन्दर कुछ भी नहीं पहना है.

मगर नाटक दिखाने के लिए मैं जोर से चिल्ला पड़ी- आईई ईइआ ऐईईइ मार दिया बहन के लौड़े ने … मादरचोद आराम से नहीं कर सकता था क्या?वो बोला- साली रंडी चुप कर, आज तेरी चीख सुनने वाला कोई नहीं है. मैंने उनके बगल में लेटकर अपना एक पैर उनकी जांघों पर रख दिया और एक हाथ से उनके चेहरे को अपनी तरफ किया. मैंने उनकी दोनों टांगों को फैलाया और उनकी चूत की फांकों को खोलने लगा.

मैगी बनाना दिखाइएपैंट की जिप खोलते हुए माधुरी ने कहा- देखो बेचारा कब से इस छोटी सी अंडरवियर में कैद पड़ा है. रानी भी मस्ती से ‘आआ … उम्म्म्म … और चोद साले … आह जल्दी करो …’ की आवाज़ कर रही थी.

सरीला का मौसम

चाहे मैं मार्केट जाऊं या किसी ट्रेन में सफर करूं या फिर किसी पार्टी में जाऊं, मर्दों की नजरें मेरे तने हुए दूध और मेरी बाहर निकली मटकती गांड पर जरूर जाती है. कमरे में जीजू पलंग पर लेटे हुए थे, आपा कमरे में आई तो जीजू ने उठ कर आपा को अपनी बाँहों में कस लिया और चूमने लगे. दोपहर को मेरा काम खत्म हो गया, पर मेरी ऑफिस जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी.

मैंने लगातार तेल टपकाते हुए उसकी गांड में एक के बाद दो और फिर तीन उंगलियां चलाना शुरू कर दीं. आज मैं जो सेक्स आपको कहानी सुनाने जा रहा हूं, वह कहानी मेरी खुद की है कि कैसे मैंने एक शादीशुदा लड़की के साथ संभोग किया. अब आगे हॉट आंटी चुदाई:उसने कई सारे व्यंजन तैयार किए थे और खाना बन जाने के बाद मुझे भोजन के लिए बुलाया.

मैं जलालुद्दीन साहब से बीस पचीस बार चुदवा चुकी थी फिर भी आज उनका लण्ड काफी बड़ा, मोटा और कड़क लग रहा था. मेरा नाम राज है और मेरी पत्नी का नाम वंदना है।मैं 40 साल का हूं और वह 36 साल की है।हम दिल्ली में रहते हैं।यह वाइफ चीटिंग सेक्स कहानी मेरी अपनी पत्नी की है. मेरी जबरदस्त चुदाई के बाद मैं बुरी तरह पस्त हो चुकी थी और मुझमें उठकर कपड़े पहनने की हिम्मत भी नहीं बची थी.

समीर ने भी मेरी चूत का पूरा पानी पी लिया और चूत को चाट कर अच्छे से साफ कर दिया. मैं उन 2 औरतों को भी देख रहा था कि वो पास में तो नहीं आने वाली हैं.

मैंने लंड का टोपा उसकी गांड के छेद में फंसाया और उसकी जांघों को पकड़ कर एक ही झटके में पूरे लौड़े को उसकी गांड में उतार दिया.

फिर उन्होंने मेरी गांड के छेद पर थोड़ा तेल लगाया और अपने लंड पर भी थोड़ा तेल लगा लिया. સેકસી ક્રાઈમ બ્રાન્ચ 2020और में अपनी जीत पर इतराती हुई अपनी जान से भी प्यारे जलालुद्दीन साहब के बारे में सोचती हुई उस दिन बिना चुदे ही सो गई. ब्यूटी प्लस कैमरा downloadबुआ को चोदते चोदते मैं उनकी गांड को हाथ से सहारा देकर खड़ा हो गया और बुआ अपने दोनों हाथ मेरे गले में डालकर लंड पर ऐसे कूदने लगीं जैसे कोई घोड़ी मखमली गद्दे पर कूद रही हो. मैंने हैरानी से भाभी की तरफ देखा तो उसने कहा- ऐसे क्यों देख रहे हो.

उसकी आवाज़ में इतनी मिठास थी कि ऐसा लग रहा था न जाने कितनी मिठाई खाकर बोल रही है.

मैंने चाची से पूछा- कहां निकालूँ?चाची बोलीं- अपना सारा माल मेरी तीती में भर दे. ’‘अपनी आंटी को बताओ ना ठीक से कि उसके भतीजे को आंटी का क्या पसंद है?’ये सुनकर मेरा लंड जो अब पूरी तरह खड़ा था, अन्दर ही फुंफकार मारने लगा. आगे की सेक्स कहानी अगले भाग में लिखूँगी कि कैसे मैं भैया की शादी के फंक्शन में गई और शादी वाले दिन तक उनसे चुदाई करवाई.

कुछ ही देर में कोमल से रुका न गया और उसने भलभला कर चूत का रस छोड़ना शुरू कर दिया. ये देख कर मैंने अपनी उंगली जोर से अन्दर तक डाल दी, जिससे उसकी आह निकल गई और आंखें खुली की खुली रह गईं. एक बोतल अन्दर करने के बाद मैंने खाना खाया और सिगरेट पीने छत पर चला गया.

2019 सेक्सी व्हिडिओ

मेरी उससे बातचीत होती रहती थी; मैं उसकी पटाने की कोशिश में लगा रहता था. मैंने पीठ के बल लेटकर अपने पांव छाती की तरफ करके अपने घुटने पकड़ लिए. वो भी मेरे मुँह में जीभ डालकर अपनी चूत से निकले रस का स्वाद लेने लगीं.

फिर मैंने उनकी ब्रा को खोला और उनके गोल चूचे मेरे सामने नंगे हो गए.

इतने में मोहित ने मेरी एक टांग उठा ली और अपना लंड पकड़कर मेरी चूत में डाल दिया.

ग्यारह बजे मैंने हिम्मत करके अपने लंड को बाहर निकाला और मीना की गांड से सटाने लगा. इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने कॉलेज टाइम पर दोस्तों से शर्त लगाकर एक लड़की को पटाया और उसकी चुदाई की. 성남 맛집사쿠라테이엔 곰새우찜तापोश, नीना ने देखा कि गांव के लोग सोनी और मेरी काफी इज्जत करते हैं.

वह मुझे हटाने की कोशिश कर रही थी लेकिन कुछ बोल नहीं रही थी।वह मेरा विरोध कर रही थी और अपने हाथ से अपने चूचों को भी दबा रखा था. कुछ दिनों बाद मेरे दोस्त नितिन ने मुझे बताया कि उसकी नौकरानी ने किसी लड़की से बात की है और वो काम करने के लिए तैयार है. उसकी चूचियां ऐसे ऊपर नीचे हो रही थीं मानो कोई सिपाही जंग में खड़ा ललकार रहा हो.

उसने मेरे दूध पीने शुरू कर दिए और अपने लंड को मेरी चूत के ऊपर रगड़ने लगा. उनका मकान दो मंजिला था, जिसमें नीचे का मकान उन्होंने एक परिवार को किराए पर दे रखा था.

मैं- कोमल आप मुझ पर कम से कम टैक्सी वाले से ज्यादा बिलीव कर सकती हैं.

यह नजारा देखकर मकैनिक अब्दुल हँसते हुए बोला- भाईजान, ये रंडी तो मूड में आ गई!ड्राइवर बोला- मेरा लंड ही ऐसा है कि जिसके अंदर जाता है उसको जन्नत दिखा देता है. और ज़ोर से चोद आआह हहमम आहह हहम उई माँ … क्या चुदाई करता है तेरा लंड … मुझे बहुत मज़ा आ रहा है और ज़ोर से चोद. मेरी गांड बुरी तरह फटी हुई थी और उसमें से ढेर सारा खून निकल कर बिस्तर पर फैला हुआ था.

अनमोल सेक्सी भैया ने मेरे हाथ हटाते हुए पीछे से मेरी ब्रा की हुक खोल दिया और पीछे से ही मेरे कंधों के नीचे से अपने दोनों हाथों को फंसा कर मुझे लेटा दिया. तब धीरे से उसने मेरे हाथों को पकड़ा और मेरी चूचियों से मेरे हाथों का पर्दा हटा दिया.

अब जीजू ने मेरी छोटी सी चूत में अपनी जीभ डालकर उसको चाटना शुरू कर दिया. कुछ ही देर में शेखर का शरीर अकड़ने लगा और तभी उसके लंड ने पिचकारियां छोड दी. बोतल खाली होने तक उन दोनों ने मुझे उठाकर अपने बीच बैठा लिया था और मेरी दोनों तरफ से बैठकर मेरी गर्दन और बांहों पर, जांघों पर चूमने और सहलाने लगे थे.

वीडियो सेक्सी गांव की

मैंने उससे पूछा- अब आगे क्या करना है?उसने मेरे लंड अपना हाथ रखा और बोली- अब मेरी बारी है. सोचो दोस्तो, आपको पढ़ कर जितना मजा आ रहा है, तो करने में मुझे कितना मजा आया होगा. दोस्तो, बहुत ही जल्द ही मैं आगे की सेक्स कहानी लेकर आऊंगा और बताऊंगा कि आगे क्या हुआ.

मेरी जबरदस्त चुदाई के बाद मैं बुरी तरह पस्त हो चुकी थी और मुझमें उठकर कपड़े पहनने की हिम्मत भी नहीं बची थी. मैं तड़पती रहती हूँ पर अब नहीं तड़पूँगी, अब तो मैं तेरे से ही मजे लूँगी.

बीच बीच में माधुरी अपने हाथ से मेरे पैंट के ऊपर से मेरे लंड को मसलने लगी.

उन घटनाओं से मुझे लगा कि चाची की चूत अभी गर्म होगी, इसी वक्त उन्हें थोड़ी हिम्मत करके चाची को पीछे से आवाज़ लगाई. मैंने समझ लिया कि ये मुझे पका कर खाने की बात कर रही है इसका मतलब तो ये हुआ कि ये मुझसे चुदने आई है और मैं तो कंडोम लाया ही नहीं हूँ. उसको जलालुद्दीन आलिम इसलिए कहा जाता था क्यूंकि वो जिन्न पकड़ने में माहिर था.

दोस्तो और मेरी सहेलियो, ये बात उन दिनों की है, जब सभी जगह लॉकडाउन लगा हुआ था. वो मेरे बालों को पकड़कर मेरे मुँह को अपनी चूत के अन्दर दबाने लगी थी. मैंने सिर्फ इन सभी को यही कहा कि मैं पहले आपको नहलाता हूँ, साफ़ करता हूँ.

मैं उसके ऊपर 69 में लेट गया और मैं अपने लौड़े को उसके मुँह के पास ले गया.

हिंदी में बीएफ बुर की चुदाई: मेरी पिछली कहानीखूबसूरत लड़की पर जवानी चढ़ीमें आपने जाना कि बचपन से ही मुझे चुदास का जिन्न लग गया था और जलालुद्दीन ने कड़ी मेहनत करके उस जिन्न को मार गिराया था. उधर साक्षी भी मेरे लंड को हाथ से मसल रही थी और मैं उसकी चूची चूस रहा था.

शायद वो भी माधुरी की चूत के दर्शन के लिए बेकरार था … लेकिन अब कर भी क्या सकता था. उसने अपनी टांगें मेरी कमर के पीछे ले जाकर मुझे टांगों से कसना और जकड़ना शुरू कर दिया. मैं बोला- लेट जाओ न अर्चना … नींद लगी है तो सो जाओ!फिर मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे बेड पे अपने साथ लेटा लिया.

पोर्न भाभी फक करने का मौक़ा मुझे मिला जब मैं एक घर में पेस्ट कण्ट्रोल करने गया.

मैंने देखा कि मेरी पूरी उंगली चूत में जा चुकी है और वह एक बार झड़ कर फ्री हो चुकी है. तब चाची ने बहाना बनाया या सच में कहा- मेरा अभी कुछ दिन पहले ही पीरियड आया है, यदि तुमने नशे में कुछ कर दिया, तो मैं प्रेगनेंट हो जाऊंगी. मैंने आज तक बस मुंह और चूत ही चुदवाए थे इसलिए गांड में लण्ड घुसने की बात सुनकर ही मेरी गांड फट गई.