बिहार के बीएफ एचडी वीडियो

छवि स्रोत,गाय के साथ सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

खुल्ला सेक्सी व्हिडिओ: बिहार के बीएफ एचडी वीडियो, मैंने भाभी से हां बोल दिया और उसके बाद में बाथरूम में जाकर पूरी नंगी हो गई और वो अपने गाउन को उतार कर उस समय अपनी पेंटी ब्रा में ही बाथरूम में मेरे पीछे आ गई और मेरी चूत पर क्रीम लगार एक कपड़े से साफ करने लगी.

बीएफ youtube music

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा और मेरे मस्ताने लंड का तड़कता फड़कता नमस्कार. लड़की पूरी नंगीमैं रात का इंतज़ार करने लगा।वो 11 बजे के आसपास आई, पर उसके साथ में कोई था। मैं चौंक गया ये तो वो थी.

अब रफीक सबीना की चूत चाटते हुए और चूसते हुए उसकी गांड का छेद भी चाटने लगा, सबीना सिसकारियाँ भरने लगी. हिंदी में बीएफ पिक्चरमेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं.

दीदी को लंड बुर में लेने की बेचैनी भी हो रही थी, वह बुरड़ उछाल रही थी और सिसयाते हुए मुझे बोलने लगी- ओह मेरे बहनचोद ब्रदर! अब देर मत करो, मैं अब गर्म हो गई हूँ, अब जल्दी से अपनी इस छिनाल बहन को चोद दो और प्यास बुझा लो, ओह भाई जल्दी करो और अपने लंड को मेरी बुर में पेल दो.बिहार के बीएफ एचडी वीडियो: मैंने जाकर दरवाज़ा खोला तो उसने ऊँची आवाज़ में पूछा- मुझे मोना से मिलना है.

यदि आपको एतराज़ न हो तो क्या यह संभव होगा?राजे- ज़रूर संभव होगा मोना… लेकिन मेरी कुछ शर्तें हैं… तुम्हारा हस्बैंड साथ में हैं क्या? हैं तो फोन को स्पीकर पे लो और उनसे बात करवाओ.इसके बाद पूजा भाभी ने मुझसे कहा- चल पायल, तू अभी इस समय चल बाथरूम में… मैं तेरी भी मदद कर देती हूँ.

মুসলিমদের সেক্স - बिहार के बीएफ एचडी वीडियो

तभी उसे याद आया कि आज इसकी सील टूटेगी तो खून भी आएगा, तो वो बिना कुछ कहे उठ गया और पूजा के बैग से उसकी पुरानी टी-शर्ट निकालने लगा.संजय- जैसी तेरी मर्ज़ी चुद लेना, चल थोड़ा गर्म कर दे लंड को, फिर मैं तेरी दुबारा चुदाई करता हूँ.

मैंने उससे चलने का इशारा किया तो उसने भी सर हिला कर इशारा किया कि चलो. बिहार के बीएफ एचडी वीडियो रुचिका और सुलेखा ने एक साथ हमारे लौड़े पकड़े और सामने बैठ कर एक दूसरी से बदल-बदल कर लंड चूसने लगीं, कभी एक साथ और कभी बदल बदल कर, ऐसे उन दोनों ने हमारे लंड चूस-चूस कर हम दोनों की सिसकारियाँ निकाल दीं, जिससे हमारे जिस्म तड़पने लगे.

वो ग्रॅजुयेशन कंप्लीट कर चुकी थीं और शादी के लिए उनके घर वाले लड़का ढूँढ रहे थे.

बिहार के बीएफ एचडी वीडियो?

मैं- आज मैं थक गया हूँ, आप ही सब्जी ले आओ न?माँ- ठीक है, मैं ही ले आती हूँ. मैं अपनी उंगली उसकी चूत के अन्दर डाल करआगे-पीछे करने लगा!वो अब नियंत्रण से बाहर हो गई थी, वो आआह्ह्ह ह्ह ऊऊऊ ऊओह्ह्ह करते हुए चिल्लाने लगी- घुसाना है तो अपना लंड घुसा! इस उंगली से क्यों सहला रहा है?एकाएक उसने मेरे लंड को पकड़ लिया. ये सोच कर कि आज तो मॉंटी के होंठों से उसको अलग ही मज़ा मिलने वाला है.

ये मज़ा इसकी सज़ा बन जाएगी।पूजा- क्या सोचने लगे आप आओ ना।संजय ने दरवाजा बंद किया और कल की तरह लाइट ऑफ कर दी।पूजा- वाउ मामू आप ग्रेट हो. फिर मैं चाची के कान के पास जा कर धीरे से बोला- जान अब ठीक है?चाची बोली- बस अशोक बस! अब बस करो! निकाल लो इसे! बहुत दर्द हो रहा है. मैंने सोचा कि चलो गोल-गप्पे खाते हैं और मैं एक खोमचे पर खड़ा हो कर गोल गप्पे खाने लगा.

टीना- ओये मैडम, मेरे मासूम भाई को क्यों बलि का बकरा बना रही है? अगर सीखना ही है तो किसी मर्द के साथ करके सीख. नमस्कार दोस्तो, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और यहाँ पर अपनी चुदाई कहानी प्रस्तुत करने वाला आपका नया दोस्त हूँ।वैसे तो कई कहानी पढ़ने में लगती हैं कि झूठी हैं, पर मजा तो आता ही है।मैं अब अपना परिचय दे दूँ. उस टाइम तो मैं एकदम नंगी रहती थी, तब अपने मना क्यों नहीं किया मुझे? बोलो?जॉय- मेरी जान वो हमारी मजबूरी थी मगर अब तो वेसा कुछ नहीं है, तो प्लीज़ अब अपनी ये आदत सुधार ले.

एक रंडी की तरह तुम हरकतें कर रही हो।गोपाल ने गुस्से में जो कहा उसे सुनकर मोना का पारा सर पर चढ़ गया। एक तो वैसे ही सेक्स उसके दिमाग़ में चढ़ा हुआ था. लेकिन अब तो मेरे पूरे पूरे मज़े हैं, जब भी दिल करता है तो कभी जानवी को और कभी तमन्ना को जी भर के चोदता हूँ.

पूजा कमर को जोर-जोर से हिलाने लगी संजय ने उसकी टांगें कस के पकड़ी हुई थीं और वो अपनीबहन की बेटी की चुत के रसकी एक बूँद भी वेस्ट नहीं करना चाहता था। उसने बड़े स्वाद से चुत को पूरा चाट कर साफ किया, फिर पूजा से कहा- अब आँखें खोलो।पूजा के जिस्म से तो जैसे किसी ने सारा खून निचोड़ लिया हो.

अम्मा उन दो सप्ताह में माला को घर का काम सिखाती रही और जब माला सारा काम संतोषजनक तरीके से करने लगी तब वह माह के अंतिम दिन अपनी छोटी बहू के पास चली गई.

’ करके मादक सिस्करियाँ भरने लगतीं, जिससे मेरा जोश और बढ़ता जा रहा था. रात को मैं तो समय पर खाना खा कर सोने चला गया और मुझे नहीं पता चला कि माला कब सोने गई थी. उसके बाद मैंने अपनी झांटों को कैंची से कुतर कर नाखून जितना कर लिया.

ऐसी बात मत कर यार, मेरी तो पैन्ट में हलचल शुरू हो जाती है।टीना- अबे चल साले चूतिये. मैंने रश्मि की दोनों टांगों को थोड़ा बाँहों में उठा कर उसे स्पीड से चोदना शुरू किया. सुमित ने खुश होकर कीकू के गाल पर चूम लिया और अपनी पेंट और चड्डी उतारने लगा, झटपट वो बिल्कुल नंगा हो गया, उसका तना हुआ लंड हवा में लहरा रहा था.

आज तुझे उससे भी अच्छा मज़ा दूँगा आ जा जल्दी से!पूजा- मगर मामू आज भी अगर सूसू आया तो मुझे छोड़ देना.

‘अंकल जी, उससे मुहाँसे पक्का मिट जायेंगे न?’ वो थोड़ी अनिश्चितता से बोली. जैसे ही सुलेखा नंगी हुई तो रुचिका ने थोड़ा सा केक उठा कर उसकी गांड में लगा दिया और बोली- अब देख, तेरी तो गांड भी फाड़ दी मैंने!इधर अरमान नेहा की चूचियाँ चूसने में मग्न था, नेहा भी आँखें बंद करके सिसकार सिसकार के मज़े ले रही थी. ’मैंने पीछे से ब्लाउज का हुक खोल कर उसके मम्मों को आजाद कर दिया और उसके निप्पलों को मसलने लगा.

तो कभी मुँह में भर के चूसने लगती।इसी दौरान मैं एक बार मैं उसके मुँह में झड़ गया. उसने कहा- नहीं, ऐसी बात नहीं है, जो इसको प्यार करता है ये भी उसको खुश कर देता है, अगर यकीन न हो तो इसको टच करके देख ले. अनिता- आह… आ पापा चोदो आह… बन जाओ बेटीचोद आह… मैं फिर आह… झरने वाली हूँ आह… फास्ट करो आह… फास्ट.

! आज तो सच में मजा आ गया।तभी विकास ने कहा- पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त!जी हाँ अभी उन्माद और कामुकता के शिखर तक जाना बाकी है! उम्मीद है आप सबका सहयोग मिलता रहेगा।हिंदी चुत की कहानी पर अपनी राय इस पते पर दें…[emailprotected][emailprotected].

मैंने कहा- हरामज़ादी चुदक्कड़ रांड, तू तो बाईस सालों से चोद रही है उसको और इससे ज़्यादा खुल के चुदाई क्या बहनचोद बीच बाजार में करेगी?तो रेखा ने कहा- नहीं मोना, अब तक तो मैं छिप छिप के चुदा करती थी. इतने में अंदर से एक और लड़की आई और उस लड़के को खींच एक वापिस अंदर ले गई.

बिहार के बीएफ एचडी वीडियो उसकी चूत को मैं चोदूँगा, दोनों एक साथ उसकी चूत और गांड चोदेंगे जिससे मेरी बहना को एक साथ दो लण्ड का मजा मिले, बेचारी 6 महीने से लण्ड को तड़प रही है. बोलो?सुमन तो बेचारी अभी तक कुँवारी थी मगर आज मॉंटी ने अपनी बातों से उसकी गांड फाड़ दी थी.

बिहार के बीएफ एचडी वीडियो माला बहुत ही सुन्दर एवम् आकर्षक नैन नक्श वाली स्त्री थी जिसका वर्ण बहुत हल्का गेहुँआ था, शरीर पतला और कद लम्बा था, उठे हुए उरोज और बाहर निकले हुए नितम्ब मध्यम नाप के थे, गर्दन लम्बी तथा पेट समतल था. उसकी सांसें मेरी गर्दन पर गरम-गरम महसूस हो रहीं थीं। खटिया बुरी तरह से ‘चूं.

तो दोस्तो कैसी लगी आपको मेरी हिंदी सेक्स कहानी ज़रूर मेल्स करें![emailprotected].

गुड़िया के वीडियो

बेचारा मॉंटी इस हमले से बेख़बर था, उसका पूरा चेहरा चूत रस से भर गया और ना चाहते हुए भी उसने सुमन का रस पी लिया. ऋतु बोली- मजा आ गया…लंड चूसने में तो मजा हैही… रस पीने का मजा भी अलग ही है. चल अब ऊपर-नीचे होकर चुदवा ले, मज़ा आएगा।पूजा अब गांड को हिलाने लगी, उसको थोड़ा दर्द था मगर लंड की गर्माहट उसको सुकून दे रही थी। उसकी चुत भी गीली हो गई थी तो अब लौड़ा फिसलने लगा था। अब उसको हल्के दर्द के साथ मज़ा आने लगा।पूजा- आह.

बस मेरे पति मेरा घाघरा ऊंचा करके ही लंड पेल देते हैं और मम्मों को सिर्फ ऊपर से मसल लेते हैं।मैं काफी सेक्स के मामले में संतुष्ट महिला हूँ. हमारा घर भी एक ही था, कभी कभी तो मुझे बुखार भी हो गया तो भी मैं चुदवाने का मौका तो छोड़ती ही नहीं थी. इसलिए मेरे जाने के पश्चात मुझे मंझली बहू की सुरक्षा की चिंता लगी रहेगी.

काका तो इस वक्त रेस के घोड़े बने हुए थे और मोना हर बार चीख कर रह जाती।करीब 15 मिनट तक चुदाई चलती रही। अब मोना की चुत में लंड बराबर फिट हो गया था और उसको अब बड़ा मज़ा आ रहा था।मोना- आह.

तो सोच लेना तेरी माँ की तरह तू भी उसी जगह पहुँच जाएगी।अनीता कुछ जवाब देती, तब तक सुमन उनके बिल्कुल पास आ गई थी।गुलशन जी ने सुमन से पानी की बोतल ली और कहा- तुम अनीता के साथ जाकर कुछ और शॉपिंग कर आओ, मैं तब तक वहाँ आराम करता हूँ।सुमन- लेकिन अब क्या बाकी रह गया? मैंने तो सब ले लिया।अनीता- अरे तुम आओ तो मेरे साथ. मैंने सोचा यही मौका है, मैंने उनके ब्लाउज से साड़ी हटाई और ब्लाउज के बटन खोलने लगा. तभी मेरे लंड ने पिचकारी मार दी जो सीधे उसके गले के अन्दर टकराई पर वो रुकी नहीं और हर पिचकारी को अपने पेट में समाती चली गई और अंत में जब कुछ नहीं बचा तभी उसने मेरा लंड छोड़ा.

अब यही आगे की पढ़ाई करेगी, तो उसके पापा उसको सरप्राइज देना चाहते हैं। बस उन्होंने मुझे ये काम सौंप दिया और मैं तुझे यहाँ ले आया हूँ।सुमन- पापा मेरी तो कुछ भी समझ नहीं आ रहा, आपके दोस्त की बेटी लन्दन से यहाँ आई तो मेरा उसमें क्या काम?गुलशन- अरे मेरी भोली सुमन. मैंने रुचिका की ब्रा को तुरंत उतार दिया और उसके नंगे मम्मों को दबाते हुए बोला- अब तुझे ही नंगी करता हूँ सबसे पहले!रुचिका ने मेरे अंडरवियर को एक बार फिर उतारने की असफ़ल कोशिश की. मैं रुचिका की दोनों चूचियों को बारी बारी सहला सहला कर चूस रहा था, रुचिका भी भरपूर मज़ा ले रही थी.

पूजा पहले ही ओर्गज्म पर आ चुकी थी इसलिए उसने जल्दी पानी फेंक दिया मगर संजय को टाइम लगता है. सबसे पहले जमीला ने सबीना को मेरे मुँह पर चूत रखने को कहा और सबीना ने मेरे कंधों के दोनों तरफ घुटने रख कर चूत मेरे मुँह पर रख कर जमीला के साथ मेरा मस्ताना चूसने लगी.

मैंने कहा- उई आह आह सी सी… ले संभाल अपने यार को साली आह आह उफ़… आ गया मैं आह्ह… सी सी सी सी…जब तक मेरे लंड भी अपना फव्वारा रुचिका के मुंह के अंदर छोड़ दिया और रुचिका ने लंड को कस कर होंठों में दबा लिया और फिर तुरंत ही होंठ खोल दिए और मेरा झड़ रहा लंड उसके खुले मुंह के होंठों के पास नेहा ने पकड़ा हुआ था, लंड की बरसात कुछ उसके मुंह के अंदर और कुछ बाहर उसके गले पे, नाक पे हो रही थी. फिर मैंने भी अपनी चड्डी उतार दी। दीदी मेरे लंड को देख बोली- सही कह रहा था तू. और अबकी बार जो उसकी जांघें सिकुड़ी तो मेरी हथेली सीधे योनि के ऊपर थी।‘ओय.

मेरा दूध पी जाओ। लेकिन आप जानते हैं कि प्रताप ने अपने अहसानों की आड़ में मानो मुझे खरीद लिया है। वह मुझे अपनी मिलकियत का सामान समझता है। मुझे सदैव धमकाता रहता है। जिसकी वजह से मुझे न चाहते हुए भी उसकी सभी बातें माननी पड़ रही हैं। अगर मैं ऐसा नहीं करूंगी तो वो मुझे 24 घंटे में पैसे लौटाने की चेतावनी देता रहता है.

थोड़ी देर पहले वो नशे में कह रही थी कि तुम्हें मुझसे भगा ले जाएगी, तेरे साथ जबरदस्ती करेगी, मगर अब लगता है कि तेरा लंड देखकर इसकी फट गयी है. जैसे ही उन्होंने संदीप को देखा, वे मुस्कुराए और तीनों आपस में एक-दूसरे को देखकर हंसने लगे. आज साइन्स ने बहुत तरक्की कर ली है, सब ठीक हो जाएगा, बस तू एक बार शहर जाकर दिखा आ।राजू- सच्ची.

ऋतु बोली- या फिर मुझे लगता है कि हमें दोनों काम करने चाहियें… हमें तो पैसों से मतलब है फिर जहाँ से मर्जी आयें… है न?मैंने सोचते हुए कहा- ह्म्म्म… हाँ!मैंने ऋतु से पूछा- पर क्या पूजा इन सबके लिए राजी होगी?ऋतु ने हंसते हुए कहा- अगर तुम उसकी चूत फ्री में चाट कर झाड़ दो तो जरूर राजी हो जाएगी. मैं- भाभी चुत चिपचिपी है।भाभी बोलीं- तो कपड़े से साफ़ कर ले ना।मैंने पास में पड़े रूमाल से भाभी की चुत साफ़ की और दुबारा उनकी चुत में घुस गया।भाभी की चुत की अजीब सी महक ने मुझे मदहोश कर दिया और मैं जीभ से भाभी की चुत चाटने लगा। पहले तो मुझे गंदा सा लगा, पर थोड़ी देर में ब्लूफिल्म स्टाइल में मैं चुत को भरपूर चाटने लगा।निशा भाभी पूरी अकड़ गईं.

कमरे की लाईट की रोशनी में मुझे उसके जघन-स्थल के काले घने बालों के बीच में छुपी ही योनि और उसके गुलाबी होंठ दिखाई दिया. पूजा ने गहरी सांस लेते हुए कहा- ये सच में डिल्डो के मुकाबले कुछ ज्यादा ही है और इसे देखने में भी कितना मजा आ रहा है. मैंने उसको ब्रा पेंटी और नाइटी पहना कर बेड पर बैठा दिया और चुनरी से उसका मुँह ढक दिया.

मूवी सेक्सी ओपन

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि सुमन के पिता गुलशन जी ने उसे अपने साथ चलने को कहा तो वो कुछ कन्फ्यूज सी हो गई।अब आगे.

अब चलो सब बैठ जाओ, नहीं तो बियर गर्म हो जाएगी।सब वही गोल घेरे में बैठ गए। संजय ने शाम को टेबल कुर्सी का बंदोबस्त कर लिया था। अब पार्टी शुरू हो गई थी. लड़कियों की तो आदत ही होती है ऐसे अपनेपन से शिकायत और प्यार जताने की!मित्रो, उसी साल नवम्बर के दूसरे हफ्ते में दीवाली थी; मुझे याद है कि फर्स्ट वीक में उसका फोन आया था. ’ कहा।विक्की की नज़रें बस उसके मम्मों पर थीं, जो टी-शर्ट फाड़ कर बाहर आने को बेताब थे।अजय- कॉलेज के नियम पता है ना.

मैंने क्या किया? प्लीज़ आप मुझे ऐसे डराओ मत।संजय- सुमन ये तुम्हें डरा नहीं रहे. पर मामा जी मानने वाले कहाँ थे, मामा जी बोले- आज मैं अपनी भानजी की चूत की चुदाई किचन में ही करूँगा. बूर क्सक्सक्समैंने धक्का लगया तो इस बार एक बार में ही लंड चुत के अन्दर घुसता चला गया.

फिर वहाँ से हम दोनों साथ जाएँगे।वीरू- टीना के घर ही लेकर जाना इसको. फिर पूजा लेटी और वो भी अपनी उंगलियाँ अपनी बुर में डालकर आँखें बंद करके मजे लेने लगी.

फिर उसने अपनी आँखें खोली और मेरी तरफ मुस्कुराते हुए देखा और अपनी बुर में से भीगा हुआ डिल्डो मेरे सामने करके बोली- लो चाटो इसे… घबराओ मत… तुम्हें अच्छा लगेगा… चाटो. अब मेरा मुँह उनके एक चूचे पे, एक हाथ दूसरे चूचे पर और दूसरा हाथ चूत पे था. ‘हां अशोक ब ब्बब्ब बहुत!’‘जोर से लंड चाहिए अपनी गांड में?’‘हां… अशोक हाँ ये ये जोर अब मजा आ आ स आ रहा है.

उसने स्पीड से मुख चोदन शुरू किया और अगले ही पल उसके लंड का सारा रस फ्लॉरा के हलक में उतर गया।फ्लॉरा- आह. इससे पहले कि वह रस बाहर फैलता मैंने तुरंत अपना हाथ उनकी योनि के मुंह पर रख कर उसे बाहर निकलने से रोक दिया. जब अभिनव ने मुझसे उस घटना में मिले अनुभव को अन्तर्वासना के श्रोताओं के साथ साझा करने का अनुरोध किया तब मैंने उसे उस घटना को एक रचना के रूप में लिख कर भेजने के लिए कहा.

फिर अचानक वो और ज़ोर से ‘आआआ अहह… आआआअहह’ करके चिल्लाने लगा और मैं बहुत ही तेज़ी से गांड मारने लगा.

उसके 9 इंच लौड़े का टोपा प्रीकम से सना हुआ था और लंड उसकी पैंट के जिप के बीच से निकल कर किसी मोटे सांप की तरफ आसामान की तरफ सलामी दे रहा था. मैंने तैयार हो चाय नाश्ता किया और ऑफिस चला गया तथा शाम छह बजे के बाद रोजाना की तरह घर वापिस आया तथा शाम की चाय पी और रात को खाना खाने के बाद सो गया.

उसके बोलने से एकदम मैं डर तो गया था क्योंकि मैं तो उसकी चूत को अपने अंगूठे से ढूँढने में लगा हुआ था. तो वो कहने लगी- उसकी कोई भी समस्या नहीं है, तुम मेरे पहन कर अपने बाल साफ़ करा लो और ​फिर घर पर जाते वापस अपनी ब्रा पैंटी पहन लेना या फिर बाथरूम में जाकर पूरी नंगी होकर बाल साफ करा लो और फिर हाथ मुंह धोकर वापस अपने कपड़े पहन कर बाहर आ जाना. रयान ने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे प्यार से बेड पर बिठाया और चाय देते हुए बोला- गलती मेरी थी!ऋषिका मस्त लड़की थी, बोली- चलो हिसाब बराबर…दोनों ने हंसते हुए चाय पी.

अब कैसी शर्म! चल निकाल देर मत कर आज तुझे मैं जन्नत की सैर कराता हूँ।पूजा- ठीक है मामू. जोकि बहुत ज़रूरी होता है।डॉक्टर ने बोला कि या तो वो स्पर्म बैंक से स्पर्म ले सकती है या फिर अगर कोई आपत्ति ना हो तो वो अपने किसी सगे का वीर्य भी ले सकती है. हाथों में इतना अधिक सुधार देखकर मैंने एक उड़ती हुई निगाह सुलेखा के पैरों पर डाली तो मैं दंग रह गया.

बिहार के बीएफ एचडी वीडियो कुछ देर में उसने अपने लंड को अन्दर करने के बाद मेरी बहन की गांड में अपने बीज को गिरा दिया. और मेरा लंड उसकी पेंटी के ऊपर से उसकी चुत को टच करने लगा था।सच में मुझे तो बहुत मजा आ रहा था, मैंने उसकी पीठ सहलाते हुए उसकी ब्रा के हुक खोल दिए.

सेक्सी मूवी सेक्सी मूवी हिंदी में

मुझे पीछे से बिस्तर के साथ दबे हुए उनके बूब्स दिखाई दे रहे थे जिन्हें मैं बीच बीच मैं मालिश के बहाने छू रहा था, वो भी मजे से आँखें बंद करके लेटी हुई थी. अगले एक सप्ताह तक सब ठीक-ठाक चलता रहा और माला सुबह से रात तक घर काम करती तथा आराम एवम् सोने के लिए स्टोर में चली जाती. लेकिन वो तो एक वेश्या है, और हम उनके जैसे नहीं बनना चाहते हैं सक्सेना जी.

आज मैं आपको अपनीमेरी बहन के चुदाईकी एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा हूँ, जिसे सुन कर अपका मन भी किसी लड़की के साथ सेक्स करने का होने लगेगा. जब उंगली अन्दर घुसने लगी तो वो धीरे-धीरे उंगली को अन्दर-बाहर करने लगा. बढ़िया चोदा चोदीवो बोली- जिस दिन हम दोनों अकेले हुये घर में उस दिन तुझे इस दर्द से मुक्ति दिला दूँगी.

मगर दिन की रोशनी अलग ही होती है ना, कितना भी लाइट बुझाओ थोड़ा बहुत तो दिख ही जाता है।जैसा संजय ने कहा.

मैंने भी उसकी चुत को नहीं चूसा क्योंकि मैं यह सब पहली बार कर रहा था. शायद फूफा जी को पता नहीं था कि उनकी बगल में मैं हूँ, नहीं तो वो मेरे कंधे को नहीं सीधा मेरे चूचे पकड़ते.

मैंने अपने दोनों हाथों से उसका चेहरा पकड़ लिया और चूम चूमकर उसे गीला कर दिया. मैंने सोचा भी नहीं था कि मैं कभी इस तरह छत पर इस पोज़ में सेक्स करूंगी. मॉंटी ने ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिला दी, तो सुमन सीधी लेट गई और मॉंटी को समझाया कि लंड को ऐसे सीधा चूत पर रगड़े.

कुछ देर बाद मैंने फिर से पानी छोड़ दिया, मुझे यकीन नहीं हुआ कि मैं दूसरी बार इतने छोटे टाइम में झड़ चुकी थी! यह मेरे साथ कभी कभार ही होता था और वो भी सेक्स के बाद जब लड़का मेरे साथ और कुछ करता… तब!लेकिन इसने तो करने से पहले ही मुझे पूरा गीला कर दिया.

अब उसको वैसे ही उठा कर बेड पर लेटा दिया और उसकी एकदम साफ़ और गीली चुत चूसने लगा. नेक्स्ट टाइम करेंगे।तो वो बोलने लगे- फिर इस खड़े लंड को नेक्स्ट टाइम तक कैसे रोकेंगे?तो मैंने कहा- तुमको और मज़ा चाहिए?उन्होंने कहा- हाँ।तो मैंने कहा- जैसा मैं बोलती हूँ वैसा करना, कुछ एक्सट्रा करने की ज़रूरत नहीं है।उन्होंने कहा- ओके बेबी. कॉलेज के सर जी से ही गांड मराई, वर्मा सर को गांड का मजा दिया, कुछ दोस्तों को खुश किया.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी पोर्न वीडियोबॉयफ्रेंड साले मादरचोद होते हैं… उनको और कुछ नहीं चाहिए होता… उनको सिर्फ चूत चाहिए होती है…सिर्फ रण्डीयापा करना जानते हैं, अच्छी अच्छी लड़कियों को रण्डियों की तरह ट्रीट करना जानते हैं. मनोज बोला- अरे तुम दोनों खुद में ही मग्न हो, जरा हमारी तरफ भी देख लो!अरमान नेहा की चूचियाँ चूसता हुआ बोला- हमें मज़े करने दो यार!मैंने देखा माहौल पूरा गरमा गया था, क्योंकि इधर मनोज और सुलेखा भी दुबारा एक दूसरे में लीन हो गये थे, सुलेखा अपने हाथ से अपनी चूची मनोज के मुंह में घुसाने लगी थी, तो रुचिका ने मुझे आँख मारी और मेरी गोद में आ गई.

जैनब नाम के मायने

मैं पिंकी को देखूँगा।भाभी ने मेरे लंड पर हाथ फेरते हुए कहा- पटा ले. 5-7 मिनट बाद जब मेरा मस्ताना अकड़ से दर्द करने लगा तो मैंने रफीक को आगे झुकाया और पीछे से उसे चोदने लगा और फिर बिना लण्ड निकाले उसको घोड़ी बना के उसकी गांड चोदन लगा और रफीक को बेड के कोने पर खिसका लिया और चोदने लगा. बॉस ने सोचा होगा कि संजय को पिला कर बेहोश कर दें तो इसकी बीवी को मज़े से चोदा जा सकता है.

रंडी कहो और अभी चिढ़ रही हो।टीना- अबे वो टाइम बात कुछ और होती है और अभी कोई सुन लेगा तो क्या कहेगा. टीना- अगर तू मेरी बात माने तो तुझे मैं एक बहुत ज़्यादा मज़ा लेने का आइडिया दूँ?सुमन- हाँ दीदी बताओ, मैं आपकी बात कैसे नहीं मानूँगी. अब उसको वैसे ही उठा कर बेड पर लेटा दिया और उसकी एकदम साफ़ और गीली चुत चूसने लगा.

फूफा जी ने मुझे अपनी टाँगों और दोनों बांहों में ऐसे जकड़ रखा था कि मेरा हिल पाना भी मुश्किल था. खैर, मैंने उनकी टाँगें नीचे उतारी और टांगों को चौड़ा करके चोदने लगा और एक बार फिर जबरदस्त चुदाई करने लगा. दोस्तो, मेरा नाम साही है, मैं नियमित रूप से अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरीज पढ़ती हूँ। मुझे इधर की बहुत सी कहानियां सच्ची लगती हैं.

तो हम सारे भाई-बहन नीचे बिस्तर डालकर सोने लगे। भैया सबसे बड़े थे और उस वक्त चूंकि ठंड का टाइम था तो उन्होंने मुझे अपने पास सुला लिया।मैं सोते वक़्त सलवार कुर्ती. थोड़ी देर के बाद मैंने उसकी चड्डी उतार दी, अब उसकीफूली हुई चूतसामने थी, आंटी की चुत पूरी साफ थी.

मैंने फोन का स्पीकर चालू करके कहा- ले लिया फोन स्पीकर पे, सुमित जी हैं मेरे साथ ही, राज जी आप अपनी शर्तें कहिये.

आप क्यों इस बेचारे को चुत चाटने की ड्यूटी पे लगा रहे हो। एक काम करो, मुझे जाने दो इसकी ही गांड मार लो, क्या पता आपके लंड का पॉवर इसमें भी आ जाए हा हा हा. সানি লিওন এক্স এক্স বিএফ ভিডিওफिर मैंने कहा- बाबू इसको मुँह में डालो!पहले तो मना करने लगी, पर बाद में उसे मुँह में डाल कर प्यार से चूसने लगी, साथ ही धीरे-धीरे पूजा ने मेरे गोलियों को सहलाना शुरु कर दिया. राजस्थानी बीएफ फिल्म सेक्सीबड़ा आया नंगा होने में शर्म वाला, कल तक तो तुझे मैं ही नहलाती थी। चल निकालता है या मैं खींच कर निकाल दूँ?मॉंटी डर गया क्योंकि टीना अगर गुस्सा हो गईं तो फिर वो सब अच्छा-बुरा भूल जाती हैं इसलिए उसने चुपचाप चड्डी निकाल दी।मॉंटी की लुल्ली सोई हुई कोई 3″ की होगी, जिसे देख कर टीना की हँसी निकल गई।टीना- हा हा हा… क्या इस मूँगफली को मुझसे छुपा रहा था हा हा हा. मगर इस बात के दो या तीन महीनों के बाद उसने फिर से वही बात उठाई तो मैंने चिढ़ के उसको फटकार दिया.

फिर गुस्से से बोलीं- जल्दी से मुझे चोद, अब रहा नहीं जा रहा है, सुन नहीं रहा है?फिर मैं मैडम के ऊपर आ गया, मैडम की चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा, फिर मुझे नीचे धकेल कर कहा- अब जल्दी डाल इसे इसके घर में!मैडम मेरे लंड को पकड़ कर चूत में घुसाने की नाकाम कोशिश कर रही थीं.

उसके बदन की खुशबू मेरे अंदर तक जाने लगी… वो अपनी कमर से मेरे हाथ एकदम से हटाते हुए मुझे पलटा और कच्छा में खड़ा लंड मेरी गांड पर लगाते हुए पीछे से अपने दोनों हाथों से मुझे कवर करते हुए मेरी छाती पर लाकर मेरी निप्पलों को टटोलने लगा. आते ही मैं सीधा बाथटब में लेट गई और हाथ देकर रोहित को भी अंदर बुला लिया. दूसरी बार में मजा आएगा।मैंने बोझिल आँखों से पता नहीं किस झोंक में कह दिया कि आंटी दूसरी बार तो आपकी बेटी को चोदूंगा।आंटी मेरी बात सुनकर हंसने लगीं और बोलीं- ठीक है, मेरे साथ ही उसको भी चोद लेना.

अब नताशा तेजी से एंड्रयू के लंड को अपनी चिकनी-गुलाबी गांड में अन्दर-बाहर करवाने में कामयाब हो गई, लेकिन इसके साथ-साथ अब लंड कम लम्बाई के साथ अन्दर घुस रहा था!मेरी बीवी को नया पोज इतना पसंद आया कि वो पूरे उत्साह के साथ एंड्रयू के लंड को अपनी चुदक्कड़ गांड में यथासंभव अधिक और अधिक घुसवाने का प्रयत्न करने लगी. पढ़ाई से थक जाते तो घूमते-फिरते मस्ती करते, असल में कैरियर के टेंशन का सबसे बड़ा टेंशन एक्जाम ही रहता था। चूमा-चाटी लपटना आदि सब नॉर्मल था. मैंने गांड मरवाई है।सौरभ- मैं भी तेरी गांड मारूँगा।सोनी- आज नहीं बाद में.

सेक्सी पिक्चर वीडियो मूवीस

मैं उसको भोगने को तड़प रहा था जैसे पानी बिन मछली और वो इस आग में अपनी हरकतों से घी डाले जा रही थी. जयपुर में चाचा के यहाँ पहुंचने पर सबसे पहले मैंने राहुल के बारे में पूछा. बचा मैं तो एक बार टीना को चोद लूँगा, दूसरी बार फ्लॉरा को चोद दूँगा, हो गया ना!’टीना- साले तू दो बार मज़ा लेगा ज़्यादा होशियार बनता है.

मुझे माफ़ कर दो कोई और देख लो!मेरी बात सुन कर वो बोला- आप मुझे गलत समझ रही हैं, मुझे एक मौका तो दो, मैं आपको गलत साबित कर दूँगा कि सब लोग एक जैसे नहीं होते.

बुरा मत मानना जब तू तेरे पापा से चिपकी तो उनका लंड खड़ा हुआ था या नहीं?टीना की बात सुनकर सुमन को वो पल याद आ गया, जब उसके पापा का लंड उसकी नाभि में चुभा था और फिर उसने लुंगी में बना हुआ तंबू भी देखा था.

अगले दिन मैं फिर सांय 7 बजे क्लीनिक गया तो डॉक्टर ने पट्टी खोल कर देखा और कहा- यह ठीक है, इसे खुला रखना है और यह दवाई दो दिन और लगाकर तीसरे दिन आना है, तब तुम्हारा इलाज शुरू करुँगी. मैं अपने कमरे से उन सबके पास नहीं जा सकती थी क्योंकि संजय के मन का मुझे अभी भी पता नहीं था. सेक्सी फोटो माधुरीअगर तुम्हें कुछ हो गया तो?फ्लॉरा- मॉम, आपको हर वक़्त ये डर क्यों लगा रहता है.

दोस्तो, मैं फेहमिना इक़बाल एक बार फिर आप सबके सामने अपनी नई कहानी लेकर हाजिर हूँ. तभी रफीक ने सबीना की चूत में दो उंगली घुसा कर चूत रस से गीली करके सबीना की गांड को चाटते हुए धीरे धीरे दोनों उंगली सबीना की गांड में घुसा कर अंगूठा चूत में घुसा के चूत और गांड को चाटते हुए उंगली और अंगूठे को सबीना की चूत और गांड में धीरे धीरे आगे पीछे हिलाने लगा. ये सेक्स स्टोरी मेरी और मेरे चाचा की लड़की की है, जिसका नाम शिवानी है.

लंड को अन्दर और अन्दर करने के लिए वो मेरी बहन की कमर को पकड़ के जोर-जोर से झटके मार कर अन्दर करता जा रहा था. 5 मिनट के बाद आंटी झड़ गयी और पूरा पानी मेरे मुख पर छोड़ दिया, मैं सारा पानी चाट गया.

32 और रंग गोरा था, बस कोमल के उरोज गोल और भारी लगते थे, तो मेरे नोकदार ऊपर की ओर उठे हुए… उसकी चूत की फांकें थोड़ी सी खुली हुई थी, तो मेरी एक लकीर जैसी दिखाई देती थी। इन बातों के अलावा हमारे चेहरे में फर्क था, इसलिए मैं कोमल से भी ज्यादा कातिल नजर आने लगी थी, ऐसे भी दोनों की हाईट भी मॉडलों जैसी 5.

गुलशन- क्या कभी पहले भी तूने अपना पानी निकाला है? सही बताना या किसी के साथ ये सब किया हुआ है?अनिता- ये कैसी बातें कर रहे हो आप… मैं एकदम कुँवारी हूँ, मैंने कभी ऐसा कुछ किसी के साथ नहीं किया… हाँ बस कभी कभी नहाते वक़्त मन में कुछ उत्तेजना आ जाती तो चुत को ऊपर से रगड़ कर पानी निकाल लेती थी. जिस पर एक दारू की बोतल रखी थी और कुछ नमकीन और ड्राई फ्रूट्स रखे थे।उसने मुझे एकदम पास बैठने को कहा और मेरे कंधे पर हाथ रख दिया।मैं रोने लगी कि प्लीज मुझे छोड़ दो।वो बोला- थोड़ी देर के बाद तू बोलेगी मुझे चोद दो।मैं चुपचाप उसे देखती रही।वो हँसने लगा और बोला- मैंने इस जग़ह पर कईयों को पेला है, ये काली औरत जो तू तुझे लाई है. काका तो इस वक्त रेस के घोड़े बने हुए थे और मोना हर बार चीख कर रह जाती।करीब 15 मिनट तक चुदाई चलती रही। अब मोना की चुत में लंड बराबर फिट हो गया था और उसको अब बड़ा मज़ा आ रहा था।मोना- आह.

राजस्थानी एमएमएस वीडियो टेबल का ठंडा कांच उसके चूचों को मसल रहा था और उसके शरीर में सिहरन दौड़ा रहा था. रयान और निष्ठा अभी बच्चा नहीं चाहते अगले तीन साल तक… सेक्स लाइफ उनकी भरपूर रंगीन है.

तो चलो वहीं का नजारा देख लेते हैं।सुमन जब घर वापस आई तो रोज की तरह नॉर्मल रही। उसने चेंज किया फिर उसकी माँ ने लंच लगा दिया. उसकी इन्हीं सब हरकतों के चलते मुझमें धीरे-धीरे हिम्मत बढ़ने लगी थी. जैसे ही मैंने उसका कुर्ता उतारा, अंदर का नजारा देख कर मैं पूरी तरह पागल हो गया.

मंगल सेक्सी

एक बार की चुदाई के बाद सेकंड राउंड की चुदाई में बहुत टाइम लगता है मुझे इसीलिए एक बार बीवी को चोद लिया था कि अगर स्नेहा चोदने को मिली तो उसे अधिक से अधिक देर तक बिना झड़े चोद सकूं. फिर वो मेरी बहन के दोनों पैरों को फ़ैला कर उनके बीच में लेट गया और अपनी जीभ को मेरी बहन की चुत के ऊपर रगड़ने लगा. वो बोला- पहली बात यहाँ पे कपल एंट्री है, सिर्फ एक लड़का और एक लड़की ही अंदर जा सकते हैं.

’ वो मेरे ऊपर लेट गई और मुझे अपने पैरों और हाथों से जकड़ लिया और धीमे से मेरे कान में फुसफुसा कर बोली- अंकल जी, मेरी चूत चाटो न फिर से!‘देखो स्नेहा. इस बार मैंने उसके मम्मों को दबाते-दबाते उसकी पैंट के अन्दर हाथ डाला और उसकी चुत को रब करने लगा.

अभी मैं चूची को सहला के नार्मल भी न हो पाई थी कि मुझे अपनी गांड बिस्तर से टिकती हुई महसूस हुई.

उठे हुए चूचे चूस डालूँ और गाण्ड को छलनी कर दूँ…वो मुझे देखते ही पहचान गई. गर्म गाढ़ा वीर्य मेरी धर्मबीवी के गालों, होठों, गले, माथे, और बालों तक को सान गया!!दुबली पतली लड़की ने आखिरी बूंद तक एंड्रयू के पाइप को भींच-भींच कर बाहर निकाल दी और फिर मेरी तरफ आकर्षित हुई… मैं तो जाने कब से इस पल का इंतजार कर रहा था. अब बस ऐसे ही मुझे चोदते रहना और मज़े देते रहना।काका- अरे तू चिंता काहे करती है, ये लंड हमेशा तेरे लिए खड़ा रहेगा। अब चल तुझे मेरी बहू की गांड मारकर दिखाता हूँ, उसके बाद तेरी चुत को फिर से चोदूंगा।राधा- ठीक है मेरे काका स्वामी.

इसके होंठ देख कितने प्यारे है ना!मीना- हा हा हा तुझे किसने रोका है. जब उसको लगने लगा कि मैं वाकयी उससे दोबारा नहीं मिलूंगा तो वो मुझसे मिलने के लिए गिड़गिड़ाने लगी, बोली- यार तू एक बार मिल तो सही मेरे से. चूत में अभी से सुरसुराहट होने लगी और चुचुक में तेज़ी से बढ़ती हुई अकड़न का अनुभव होने लगा.

पास की। दोस्तों मैं अपनीगे सेक्स स्टोरीजमें पहले बता चुका हूँ कि गांड मराने के भी नए अनुभव लिए.

बिहार के बीएफ एचडी वीडियो: चूत की भट्टी की गर्मी पाकर वो कांपते हुए होठों से मेरी बीवी का चुम्बन करते हुए अपनी जीभ निकाल उसके मुंह में घुसेड़ने लगा, जबकि उसका निर्दयी चुदाई यंत्र बिना किसी दया के मेरी असहाय बीवी की चूत मारने में लगा ही हुआ था!थोड़ी देर बाद मैं एंड्रयू की बगल में लंड नताशा के चेहरे के सामने पेश करता हुआ लेट गया और मेरी प्यारी गुड़िया मुस्कुराते हुए उसे चूसने में लग गई. अन्तर्वासना की टीम को प्रणाम जिनकी वजह से आप तक हिंदी सेक्स स्टोरीज पहुँच पाती हैं.

वो बहुत रोती हुई मजा लेती रही मगर गोपाल तो उसको चोदने में लगा रहा। उसके बाद मैंने भी पूरा मज़ा लिया।’मोना- ओह गॉड बेचारी लड़की की जान निकाल दी होगी. मुझे तो खुद पर विश्वास ही नहीं हुआ तो मैंने कहा- क्या सच में?ऋतु भी बोली- हाँ… और अगर तुम चाहो तो बदले मेंमैं तुम्हारा लंड चूस दूंगीक्योंकि मेरे डिल्डो में से रस नहीं निकलता. वैसे भी ये चूतनिवास अपनी बेगम जान अंजलि रानी से इतना गहरा प्रेम करता है कि यदि वो बोले कि राजे चलती ट्रेन के आगे कूद जा तो उसका ये गुलाम बिना कोई भी सवाल किये कूद जायगा.

मैंने विक्की की तरफ घूर कर देखा तो विक्की सहमता हुआ बोला- मैं चलता हूँ.

वो मुझे डेली फोन करके बोलता है कि आज रात को बुला लो। उसको लगता है कि उस दिन उसका लंड मैंने चूसा था।ये सुनते ही उसने मुझे ‘सॉरी’ कहा, तो मैंने कहा- जो होता है. वो वैसे ही हष्ट-पुष्ट थे। यदि अंकल किसी को पकड़ लें तो छुड़ा पाना आसान ना था।मैंने नजर डालीं आस-पास कोई नहीं था. अभी निकाल देती हूँ।पूजा ने झट अपने कपड़े निकाल दिए और इधर संजय तो पहले ही भरा हुआ था, उसने भी नंगे होने में देर ना की।जब संजय की नज़र पूजा पर पड़ी.