बुलु पिक्चर बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ देवर भाभी के

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ मंडी: बुलु पिक्चर बीएफ, उसका मैसेज देख कर मुझे अपनी आंखों पर यकीन ही नहीं हो रहा था कि दूसरी टीम के मैनेजर ने मुझ उम्रदराज को मैसेज किया है.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी बीएफ

मैंने आव देखा न ताव और उसकी चूत में तुरंत बाद ही दूसरा धक्का लगा दिया. हिंदी बीएफ चाहिए हिंदीमेरी साड़ी को अलग करने के बाद अब मैं केवल पेटीकोट और ब्लाउज में रह गयी थी.

अगर आप दोनों जाने के लिए एकदम रेडी हों, तो मैं अभी व्यवस्था करवा देता हूँ. कॉलेज के बीएफ वीडियोवो मुस्कराती हुई मेरे पास आई और बोली- मैं अभी बाहर से नाश्ता करके आ रही थी तो सोचा आपके लिए भी कुछ ले चलूं.

मैंने मॉम को किस किया और बोला- मॉम क्या मस्त लग रही हो … एकदम रंडी सी दिख रही हो.बुलु पिक्चर बीएफ: मेरी बात पर इंस्पेक्टर हंसने लगा और बोला- सही बोल रही है, वैसे भी आज कल के लौंडों के लौड़ों में दम कहां रहता है.

उसने मेरी तरफ देखते हुए जीभ से चटखारा लिया और कहा- मेरे मामा की लड़की ने बताया था कि इस पानी को पीने से ज्यादा मजा आता है और उसके बाद लंड पर लगा पानी चाटने से मजा मिलता है.अन्तर्वासना से मेरा नाता पुराना है इसलिए सेक्स कहानियां भी पढ़ता रहता हूं.

बड़े-बड़े लंदन की बीएफ - बुलु पिक्चर बीएफ

मैंने उससे कहा कि शाम को मेरे साथ ही घर पर चले तो वो मेरी बात मान गयी.मामी की चुदाई से पूरा रूम फच्च फच्च की आवाज से गूंज रहा था।लण्ड मामी की चूत से निकाल कर मामी को घोड़ी बनाया और पूरा अपना मोटा मूसल एक बार में ही मामी के चूत में पेल दिया.

मैंने चौराहे से उसको अपनी कार में बिठाया और सीधे उस रूम पर उसे ले गया. बुलु पिक्चर बीएफ मेरी जान को उस समय अगर गदहे का भी लण्ड मिलता न … तो मेरी चुदक्कड़ बीवी अपनी चूत में घुसवा लेती.

उधर बुआ बेसुध सोई पड़ी थी, उसकी नाईटी भी कुछ ऊपर होकर जाँघों पर सरक आई थी.

बुलु पिक्चर बीएफ?

मैंने पल दो पल उसको नजर भर कर देखा और फिर उसकी चूचियों पर मुंह को रख दिया. तभी वो लाल लिपस्टिक वाली लड़की बोली- सुनिए … हम यहां नए रहने आए हैं … तो क्या आप बता सकते हैं कि यहां आस पास कोई दुकान है, जहां गैस चूल्हा और बाकी सामान मिल सके. तभी अजय अंकल ने किसी और को भी फोन मिलाया और बात करने लगे; कहने लगे- अरे भैया, एक माल है उसका काम लगाना है तो रूम मिल जाएगा?हां हां … वही है!”उसने कुछ बोला होगा लेकिन मैं सुन नहीं पाया।इसी तरीके से थोड़ा सा टाइम और भी बीत गया.

पापा का लंड हाथ में लेकर अपनी चूत के मुँह पर लगा दिया … और पापा ने एक झटके में लंड अन्दर ठेल दिया. जैसे जैसे इस चुदाई के खेल से पर्दा उठ रहा था वैसे वैसे मेरी हैरानी भी बढ़ रही थी. कुछ देर तक लंड चूसने के बाद मैं उसकी चुत को चूसने लगा और वो चिल्लाते हुए मजा लेने लगी.

मैं चुपके से रूम में अन्दर गया और उनकी ब्रा ओर पैंटी उठा कर ले आया. यकीन मानिए उसमें इतनी गर्मी थी … आह … उसकी चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी. मेरे मामा के यहां घर में मामा की लड़की सुमन से छोटे 3 और बच्चे भी वहीं पर बैठे थे.

दस मिनट से कम समय में ही हंस भाभी की चुत ने रोना शुरू कर दिया और वो भाभी झड़ गईं. मैंने नोटिस किया कि पापा जी के दोनों हाथ मेरी कमर पर थे और मैं अपने बूब्स पापाजी की छाती पर दबा रही थी.

खुले निमन्त्रण ने मैं खुश हो गया और मैंने कहा- चाची मैं आपको कब से चोदना चाहता था, मेरी ये इच्छा आज आपने समझ ली है.

जब उसकी तरफ से ग्रीन सिग्नल मिल ही गया तो मैंने भी तसल्ली से उसके एक एक अंग को खाने का मन बनाया.

इससे मुझे लगता है कि आपको भी बुआ की चुदाई की कहानी में मजा आ रहा होगा. मेरी माँ के उरोज देखकर अजय अंकल कहने लगे- अरे वाह सुहासिनी, तुम्हारे तो बहुत बड़े हो गए हैं. अब आगे:सहेली के पापा के मर्दाना बदन की खुशबू मुझे और उत्तेजित कर रही थी.

जब भी वो मेरे पीछे बाइक पर होती थी तो अपने चूचों को मेरी पीठ पर ऐसे दबा देती थी जैसी यही उनकी जगह है. उसने भी अपना पल्लू जल्दी से सही कर लिया, पर उसे पता चल गया था कि मैंने उसके मम्मों को देख लिया है. वो बोली- लेकिन इतना बड़ा लंड मैं गांड में कैसे लूंगी!मैंने कहा- तुम उसकी चिंता मत करो.

एक दिन वो मुझसे बोली- आज घर पर कोई नहीं है, तुम आना चाहोगे?अंधे को क्या चाहिए, दो आंखें … मैंने झट से हां कह दी.

मैंने उन्हें लंड चूसने को कहा, तो उन्होंने मना कर दिया … लेकिन फिर थोड़ा जोर दिया … तो भाभी मेरा लंड चूसने लगीं. मैंने पीछे से बिल्कुल उनसे चिपक कर उनके गाल पर रंग लगाते हुए हैप्पी होली बोला. तो कमेंट्स करके अपना प्यार दें और मुझे नीचे दी गयी मेल आईडी पर मैसेज करें.

फिर भी कोई रिएक्शन नहीं हुआ, तो मैं थोड़ा ज़ोर ज़ोर से उसके मम्मों को मसलने लगा. 32-28-34 के फीगर के साथ सबके लंड गीले करवा देती थी।मैं भी बस उसको चोदने के बारे में ही सोचता रहता था. दूसरे दिन भी दोपहर में कोई नहीं था, तो बाहर का गेट बंद करके हम दोनों मामी और भांजे चुदाई में लग गए.

अन्तर्वासना की सारी कहानियां पढ़ी हैं मैंने! मैं पहली बार कहानी लिख रहा हूँ अगर कोई गलती हो तो माफी चाहता हूँ।जो कहानी मैं लिखने जा रहा हूँ वो बिल्कुल ही सच्ची घटना है जिसमें रत्ती भर भी मिलावट नहीं है.

मैंने एक नयी कॉलोनी में रहने लगा तो वहां की एक लड़की से मेरी दोस्ती हो गयी. दो-तीन दिन तक मैं अपने भैया के घर में रहा और हम दोनों ने खूब मजे किये.

बुलु पिक्चर बीएफ मैं भी उसकी उछलती चूचियां देख कर तेजी से लंड को अंदर बाहर कर रहा था. मैं उसकी कोमल मखमली पीठ पर अपने हाथ से सहला रहा और दोनों एक दूसरे में जैसे खो गये थे.

बुलु पिक्चर बीएफ तो जैसा कि मैंने बताया कि मैं मामा की लड़की को सबके सामने पगली कह कर ही बुलाता हूँ. मगर जैसे ही मैंने उसको अपनी तरफ खींचा और किस शुरू किया, वो मुझसे भी ज़्यादा मज़े में किस करने लगी.

खाना वैसे तो प्रिया ही बना रही थी, लेकिन पीछे से हां हां ऐसे करो, हम दोनों भी बोले जा रहे थे.

एक्स वीडियो एचडी हिंदी में

मैंने पूछा- प्रिया कहां है?तो नेहा बोली- प्रिया नीचे फूलगोभी लेने गयी है. धीरे धीरे मेरे कदम आगे बढ़ रहे थे मगर आंखें वहीं उस लड़की पर टिकी थीं. उस दिन मैं ऐसी तैयारी के साथ गया था जैसे सेना का कोई जवान किसी सीक्रेट मिशन पर हो.

वो एक बड़ी शानदार कॉलोनी थी … जिधर शायद आभिजात्य और धनिक परिवार ही रहते थे. फिर तो ये हर दिनचर्या हो गई कि जब तक मैं दस मिनट तक उसके होंठ ना चूमूँ, चैन नहीं आता था. इतना कहकर मैंने धीरे धीरे दबाया तो आधा लण्ड अन्दर चला गया लेकिन उसके बाद नहीं जा रहा था.

मेरी पहली कहानीमैं अपने बेटे के ट्यूटर से चुद गईप्रकाशित हो चुकी है जिसको आप लोगों का भरपूर प्यार मिला.

मुठ मारने के बाद एक सिगरेट फूँकी और एक टॉफ़ी चूसता हुआ सीधा थिएटर में पहुंच गया. जिस लड़के से शादी तय हुई थी वो देखने में अच्छा था और अच्छी फैमिली से था. कुछ देर तक मैं लंड को उसकी चूत में घुसाये रखता और फिर लंड की नसों को फुलाता जिससे लंड में वाइब्रेशन पैदा हो रही थी.

तो जैसा कि मैंने बताया कि मैं मामा की लड़की को सबके सामने पगली कह कर ही बुलाता हूँ. 5 इंच का हो गया था जो एक बार तो उसको देख कर तन गया था।पर अभी भी हमारी बात तो होती नहीं थी. उसने पूछा- क्या देख रहे थे?मैं रोनी सी सूरत बना कर बोला- मैंने कुछ नहीं देखा.

उनकी चूचियां लगभग नंगी थीं, सिर्फ ब्रा ने उनको नीचे से सपोर्ट देते हुए उठाने के काम किया था. चूंकि उसकी चूत पहले से ही पानी छोड़ चुकी थी इसलिए उसकी चूत में गच्च से लंड चला गया.

फिर एक दिन तन्वी मैम की क्लास में मेरा दोस्त, जो मेरे साथ बैठता है. मेरी बहन राजश्री किसी रंडी की तरह आकाश का लंड चूसने में मशगूल हो गयी थी. जैसे ही मैंने उमेश का नंगा जिस्म देखा, तो मैं तो बस पागल सी हो गयी.

मैंने उससे कहा- देखते हैं, मैं सोच कर बताऊंगा … बाकी तुम माल तो हो, इसमें कोई शक नहीं है.

एक ही विभाग की वजह से हमारी दोस्ती हुई और हम दोनों में रोज़मर्रा के काम की बातें होने लगीं. इस अनजान भाभी की चुत चुदाई का मजा लेने के लिए आपको मेरे साथ अन्तर्वासना के साथ जुड़े रहना होगा. फिर मैं उनके पास गयी और उनका हाथ पकड़ के अपनी कमर पर रख दिया और खुद उनके गले में हाथ डाल कर खड़ी हो गयी.

मैंने कहा- तो फिर मेरे ख्याल से उनको मनोज जी की उपस्थिति में ही आना चाहिए था. पापा जी की नज़र मेरी फटी हुई लेग्गिंग पर थी जहाँ से उन्हें मेरी चूत के पूरे दर्शन हो रहे थे.

कुछ देर बातें होने के बाद मुझे नाश्ता कराया गया और फिर मैं आराम करने के लिये अंदर चला गया. मैं उसकी इस कामुकता भरी हरकत पर हैरान था पर मैं भी उसके खूबसूरत रसीले होंठों का मजा लेने लगा और मेरा हाथ उसके मम्मों को दबाने में लग गया. मैं उसको घूरने लगा तो वो बोली- क्या हुआ, कहां खो गये?मैंने कहा- बस कुछ नहीं, आज आप बहुत ही सेक्सी लग रही हो.

কলকাতা থ্রি এক্স ভিডিও

रानी की ये ड्रेस नीचे से एक तरफ से पूरी ओपन थी, जिस वजह से रानी की एक टांग उसकी कमर तक पूरी नंगी दिख रही थी.

क्या बताऊं यारो … क्या लग रही थी वो! फोटो में वह उतना खूबसूरत नहीं दिख रही थी लेकिन रियल में क्या लग रही थी. इसके बाद मैंने उसके ऊपर से हट कर अपने लंड को देखा, तो लौड़ा लाल हो गया था, उसकी चुत की सील टूट गई थी और उसकी चुत का खून मेरे लौड़े पर लग गया था. वो गरीबी के कारण पढ़ाई नहीं कर पा रही थीं, लेकिन देखने में मस्त थीं.

मैंने कई साल बाद अपनी साली को देखा तो साली की चूत चोदने के अरमान फिर जाग गए. मैं भी उसके ब्लाउज में भरे हुए उसके उभारों को नजरों से ही नाप रहा था. ब्लू बीएफ पिक्चर हिंदी मेंफिर मैंने उसकी बुर में जीभ डाल दी और अपनी जीभ को अंदर बाहर करने लगा.

चूंकि हम पहली बार मिले थे और वो मुझसे ऐसे चिपक कर गले मिल रही थी जैसे किसी पेड़ से कोई प्यासी लता चिपट गयी हो. मैंने अपने कपड़े निकालते समय एक पल के लिए उसको नजरअंदाज नहीं किया था.

अब वो भी धीरे धीरे सिसकारियां भरने लगी, लेकिन सोने का नाटक करती रही. उसने रोना बंद किया और फिर से आगे बताने लगी कि उसने अपनी मन की वासना को कैसे दबा कर रखा. अब मैं उसके होंठों को किस करते हुए उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स को मसल रहा था.

उसकी उम्र करीब 35 साल होगी, उसका फिगर 36 32 36 होगा! गोरा रंग बड़े बड़े बूब्स रसीले लिप्स गांड एकदम मजेदार उससे देख कर मुझे संगीता मेम की याद आ गयी थी!थोड़ी देर बाद पता चला कि ये किशोर की वाइफ है. जोकि गड्डे में गाड़ी के आ जाने से उसकी सिसकारी के रूप में निकल रहे थे. मैं दर्द में कराह रही थी पर उसने मेरी एक न सुनी।जब मैंने देखा कि वो नहीं मामने वाला तो मैं बोली- करना ही है तो आराम से करो ना प्लीज!फिर धीरे धीरे मुझे मजा आने लगा और मैं बोली- अमरीश आह … और चोदो … मेरी गांड मारो! उम्म आह.

पापा मेरी बुर चाटे जा रहे थे … और मैं गांड उठा कर पापा को अपनी चुत में घुसेड़ लेना चाहती थी.

अंकल ने अपना हाथ उनके एक चुचे पर रखा और उन्हें दबाने लगे और दूसरे हाथ से अपनी दो उंगलियां मां की चूत के अंदर डालने लगे।अंकल ज़मीन पर बैठ गए और मां को उन्होंने बेड पे बिठाया और टाँगें चौड़ी कर दी जिससे उन्हें मेरी मां की चूत के दर्शन बहुत अच्छे से हो रहे थे. कभी दो लंड चूत में जाते … तो कभी 2 लंड गांड में … और बाकी के लंड हाथ में लेकर हिलाती और चूसती.

मैंने रानी से बोला- कोई बात नहीं, यार डांस का मजा कर लो … उसमें क्या है. मैंने अगले ही पल उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और उसे चूमने लगा. सुपारा लीलते ही वो ज़ोर से चिल्लाने ही वाली थी कि मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों का ढक्कन लगा दिया और ज़ोर से झटका दे दिया.

आप सभी को मेरी जवानी की सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल जरूर से करना और प्लीज … आप सब मुझसे मिलने या नम्बर की डिमांड मत किया करो … यार चूत मचलने लगती है. वो बोली- ये कहने में तुमको बड़ी देर लग गई … अगर आज तुम मुझे प्रपोज़ नहीं करते, तो मैं तुम्हें प्रपोज़ कर देती. मैंने दो मिनट तक उसकी चूत पर लंड से सहलाया और फिर उसकी चूत में लंड को घुसाने लगा.

बुलु पिक्चर बीएफ अब मैंने अपने दोनों हाथ टी-शर्ट के ऊपर से ही उसके सुडौल मम्मों पर रखकर दबाने लगा. उसने मेरी बहन की पैंटी को निकलवा दिया और उसको अपनी जेब में रख लिया.

పల్లెటూరు సెక్స్

कुछ देर तक उसकी चूचियों को पीते हुए मैं उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से मसलता रहा और वो पागल सी हो गयी. जैसे ही मैंने मेरी चुदक्कड़ मामी का पेटीकोट खोला, उनकी काली रंग की जालीदार पैंटी देख कर मेरे मुँह से कुत्ते की तरह लार टपकने लगी. उन्होंने मेरे हाथ को पकड़ कर मुझे खड़ा किया और मुझे बांहों में उठाकर बेडरूम की तरफ चल पड़े.

मेरे जोर देने पर उसने बताया कि वो लोग सभी के सभी अपने स्पर्म डोनेशन के लिए प्लान कर रहे हैं. वह लेडी अब मेरे बिल्कुल पास आकर लेट गई और अपने फोन से घर कॉल करके बताने लगी कि वह अब बस से घर आ रही है. बीएफ सेक्सी इंडियन एचडीमैंने देखा कि वो लड़का बहाने से बार बार अपनी कमर को आगे करता और मेरी गांड को टच कर देता.

मेरी परेशानी समझकर अंकल ने मेरा हाथ पकड़ कर टॉवल से बाहर निकले उनके मूसल लंड पर रख दिया और मेरे हाथ को अपने हाथ से ही ऊपर नीचे हिलाने लगे.

मैंने भी थोड़ा सा केक लिया और उसके गाल पर लगाने के लिए हाथ उठाया लेकिन वो बचकर एक तरफ हो गयी. उनका लंड मैंने कभी नापा तो नहीं था, पर 7 इंच का तो होगा ही … और मोटा भी खूब है.

भाभी ने हामी भरी और मैंने माँ को फोन करके बता दिया कि मैं सीधे प्रोग्राम में पहुंच जाऊंगा. जब भी भैया काम के सिलसिले में कुछ दिनों तक बाहर जाते थे तो भाभी मुझे फोन कर देती थी. वो तो मैं संकोच के चलते किसी और का लंड नहीं ले पा रही थी, इसलिए मेरी उससे चुदना मजबूरी थी.

मैंने कहा- नहीं, मुझे अभी कुछ नहीं चाहिए, आप कितनी देर में वापस आओगी?मॉम ने कहा- एक घंटे में आ जाऊंगी.

फिर भाभी ने लंड बाहर निकाल कर बोला- ये सब बाद में करेंगे, अभी प्रोग्राम चालू होने वाला होगा … यदि तू जल्दी से नहीं गया, तो तुझे ढूँढते हुए तेरी माँ इधर आ जाएगी. तब मैंने सोचा शायद माँ ने सोनू के चक्कर में अपनी मरवा ली हो।शायद माँ शरीफ ही हो!शायद वह पहली बार ही हुआ होगा!लेकिन मैं गलत था क्योंकि मैंने एक बिल्डिंग के अंकल को और उनके दोस्त को जो हमारी ही बिल्डिंग में रहते हैं उनको यह कहते सुना कि जागरण में उसको चोद देंगे।मैं पहले तो समझ नहीं पाया किसकी बात चल रही है मुझे कुछ शक हुआ कि शायद यह मेरी माँ ही है. फिर मैं पापा को किस करने लगी मैं कभी उनके गले पर, तो कभी सीने पर चुम्मी करके उनके पेट से होते हुए नीचे आ गयी.

सेक्सी बीएफ पिक्चर चालूपापा मेरी बुर चाटे जा रहे थे … और मैं गांड उठा कर पापा को अपनी चुत में घुसेड़ लेना चाहती थी. Sasur Ka Lundससुर जी का लंड मैंने पकड़ लिया और अपनी जीभ तुरंत उसके मोटे सुपारे पर चलाने लगी.

बाप बेटी की चुदाई सेक्स वीडियो

मैंने अनमोल को कॉल करके बोल दिया कि तुम केक लेकर मेरे घर पहुंचो, मैं आता हूँ. वैसे तो मुझे डर भी लग रहा था लेकिन मैंने सोचा कि अगर चाची ने पुणे जाने के बाद मुझे अपने साथ सोने नहीं दिया तो चाची की नंगी फोटो मेरे काम आ जायेंगी. पूजा भाभी से मेरी नार्मल बातें होती थीं, उनके हस्बैंड कोई सीमेंट फैक्ट्री में काम करते हैं.

बाबा बोले- तुम्हारा पति भी तो यही चाहता है कि तुम उसकी सन्तान पैदा करो. मैंने उसकी ब्लाउज की ओर देखा तो उसकी चूचियां एकदम दो बड़े बड़े पहाड़ों की तरह ऊपर निकली हुई थीं. अब मेरा होने वाला था … मैंने एकदम से स्पीड बढ़ा दी और चिल्लाते हुए मेरे लंड ने अपना पानी मेरी बहन की चूत की गहराई में छोड़ दिया.

सहेली के पापा के साथ सेक्स स्टोरी के पहले भागसहेली के पापा बने मेरे चोदू यार-1में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी सहेली के पापा ने मुझे अपनी वासना में उलझा लिया था और वो मेरी चुत में उंगली करके मेरी अन्तर्वासना को जगा चुके थे. ये साले टू-व्हीलर वाले गाड़ी ऐसे चलाते हैं, जैसे अगर दस मिनट में आधा शहर नहीं चला लें, तो उनका लंड कट कर गिर जाएगा. चाची तड़पने लगी, वो बोली- बस… अब जान निकालेगा क्या?मैंने कहा- नहीं चाची, आप तो मेरी जान हो.

उसके बाद अनमोल राजा से बोला- इसकी गांड देख लो … पसंद आ रही हो तो लंड खड़ा कर लो. वॉचमैन- हैलो राजश्री, क्या बात है, आज तो तुम्हारे चेहरे में अलग ही चमक है.

मेरा 7 इंची लौड़ा लेते हुए उसे दर्द होने लगा इसलिए उसने मेरी जांघों पर हाथ रख लिये और खुद को थोड़ा सा ऊपर उठा लिया.

उसने अपने होंठों को चुम्बन करने के इरादे से गोल किये और मेरी तरफ को होंठ बढ़ा दिए. मुसलमानी बीएफ वीडियो सेक्सीफिर साराह मेरे लंड को अपने मुँह से चूसने लगी और मैं मादक आहें भरने लगा. हिंदी बुर चुदाई बीएफमेरे घर में माडर्न कपड़े पहनने की परमिशन नहीं है लेकिन बाहर जाते हुए अक्सर मैं माडर्न कपड़े पहन लेती थी. वैसे लड़ाई किस बात पर करनी है?पति बोले- सेक्स के लिए … तुम थोड़ी देर में बाहर जाना और रोने लगना.

उसके कोमल हाथ ने जब मेरे लंड पर पकड़ बनाई तो ऐसा लग रहा था जैसे उसके हाथ में ही मेरा लंड वीर्य छोड़ देगा.

वो नीले रंग का कमीज और सफेद सलवार पहने थी।दोस्तो, पहले मैं पीहू के फिगर के बारे में बता दूँ. उसके बाद मैंने अपने लंड को भी तेल से सराबोर कर लिया और उसकी गांड के छोटे से छेद पर लंड को सेट कर लिया. ”मेरे किस करते हुए भी वो इतनी ज़ोर से चीखी कि जैसे उसकी चूत को किसी ने छुरी से चीर दिया हो.

मगर ऐसे कोई जगह नहीं मिल रही थी, जहां हम दोनों एक दूसरे से खुल कर प्यार कर सकें. जब फिर से ट्रेन चली तो उसके बाद शौहर ने कहा- अब गांड चुदाई करने का मन है. मैं जैसे ही घर के अन्दर गया, मामीजान को देखा और सलाम किया तो मामी मुझे देख कर बहुत खुश हुई.

सेक्सी ब्लू ब्लू ब्लू ब्लू

इसके बाद मैंने उसके ऊपर से हट कर अपने लंड को देखा, तो लौड़ा लाल हो गया था, उसकी चुत की सील टूट गई थी और उसकी चुत का खून मेरे लौड़े पर लग गया था. प्रशांत- पर वो हमारी मम्मी हैं, उनके बारे में ये सब सोचना ठीक नहीं है. दोनों तरह के आदमियों को अपने काम की जगह, हॉल में आना मुफीद नहीं लगता था.

मैं भी उसे रोकता नहीं हूँ, मैं वक्त बे वक्त किसी न किसी को सैट करके चुदाई करता रहता हूँ.

मैं और जोर से उसकी चूचियों को पीने लगा, उनको दबाने लगा और सहलाने लगा.

मैम चाय बनाने किचन में जाने लगीं, तो मेरी आंखों में उनकी बड़ी सी गांड मटकने लगी … गांड बड़ी मस्ती से ऊपर नीचे हो रही थी. मैंने उसकी टांगें फैलाईं और लंड को सैट करके उसके मुँह पर अपना मुँह लगा दिया. हिंदी बीएफ बीएफ वीडियो बीएफमैं सेकंड फ्लोर पर गया, हर कमरे के पास कान लगाया क्योंकि उन्हें गए हुए तकरीबन 10 मिनट हो गए थे, कुछ बात होगी तो आवाज अंदर से जरूर आएगी.

फिल्मों को आधार बना कर प्यार मुहब्बत की बातें होने लगीं, जिनमें साफ़ साफ़ इशारा हम दोनों के बीच पनपने वाला प्यार झलकने लगा था. मेरी चूत की प्यासबुझा दो आह्ह।मेरा लंड सटासट उसकी चूत को चोद रहा था. उसका लंड मेरे मुंह में घुसा हुआ था और मैं उसकी गोलियों को हाथों से सहला रही थी.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी कमसिन बहन की गर्म जवानी का खेल-2. उसने बोला- आह तुम अपने मुँह में लंड पूरा अन्दर क्यों नहीं ले रही हो?इस पर उसने कोई जबाव न देते हुए चुत की तरफ उंगली करके इशारा किया कि अब चुत चुदाई करो.

पीछे से बस एक डोरी बंधी थी और आगे लो-कट वाला गहरा गला था, जिसमें से मेरे आधे चूचे, जो कि हद से ज़्यादा बड़े थे, वो बाहर दिखते थे.

अनमोल ने अंजलि से मेरे बारे में इशारा किया तो बहन ने अनमोल से कहा- वो सो रहे हैं. एक तो ब्लू फिल्म के वो गरमागरम सीन और दूसरा अंकल का स्पर्श मेरे बदन में कपकपी पैदा करने लगा. वो धीरे धीरे मेरी रफ़्तार को पार कर गयी और वो भी मुझे ज़ोरों से चूमने लगी.

बीएफ सेक्सी फुल एचडी में हिंदी में तभी उनकी नजर भी मेरी पैंट पर पड़ गयी और वो भी मेरी पैंट में बने तम्बू को देखने लगीं. उसके होंठों को पीने के बाद मैंने कहा- बस थोड़ी देर और रुक जाओ, मेरा भी होने वाला ही है.

मगर उसकी चाल देख कर मैं समझ गया कि ये मुझे हॉट सीन दिखाते हुए जा रही है. लगभग 40 साल की उम्र, गोरा चिट्टा भरा बदन, बड़ी बड़ी चूचियां और भारी भरकम चूतड़. उसका फोन नम्बर मिलना मेरे लिए काफी बड़ी बात थी क्योंकि फोन नम्बर मिल जाने से आगे बहुत सारी संभावनाएं खुल जाती हैं.

बूब्स सेक्स

मैंने उसे दिलासा दिया और करीब 11 बजे डॉक्टर दिव्या की क्लीनिक ले गया. मैंने अपने होंठ खोल कर उनके जीभ को रास्ता दे दिया, तो उन्होंने मेरे होंठों को अपने होंठों में भर लिया और चूसने लगे. उसके बाद मैंने ताबड़तोड़ उसकी चूत में लंड के धक्के लगाना शुरू कर दिया.

यह कहानी कमली के बारे में ही है इसलिए मैं इसे उसी के शब्दों में पेश करना चाहता हूं. मामी के मुंह से सिसकारियाँ निकलने लगी थीं- अह्ह्ह मेरे शेर … चोदते रहो अपनी रंडी मामी को … अह्ह्ह जोर-जोर से धक्के मारो अह्ह्ह … उफ्फ … मम्मी … मर गई … अह्ह्ह … कितना मज़ा आ रहा है.

उधर का हाल देखकर मैं दंग रह गयी।उसमें मेरी जूनियर लड़की नंगी कमोड पर बैठी हुई थी और मेरी क्लास का लड़का उसकी चूत को चाट रहा था।इस दृश्य को देखकर मैं भी गर्म हो गयी और मेरी उंगली अपनी चूत में चली गयी। यह पहली बार मैंने अपनी चूत के अंदर उंगली डाली थी.

रानी को ब्रून का लंड भा गया था और ब्रून तो पहले से ही रानी की चुत फाड़ने के चक्कर में था. क्योंकि उसको भारी नशे में होने के कारण पता ही नहीं चल सका था कि रात को जिसको उसने चोदा था, वो उसकी वाइफ नहीं थी. उसने खुद से मेरी और दोस्ती का हाथ बढ़ाया और मुझे उसकी कामुकता का पता चला.

मेरी बात सुनते ही वो मेरी नाभि में अपनी जीभ घुसाने लगीं, मुझे गुदगुदी सी होने लगी. जब वो मेरी चूमते हुए मेरे चूतड़ों को मसल देता था तो मेरी चूत में झनझनाहट होने लगती थी।अब मुझसे रुका नहीं गया, कई महीनों से मुझे लंड नहीं मिला था, मुझे लंड चूसना बहुत पसंद है तो मैं उठी और उसके लन्ड चूमने लगी. फिर कुछ देर किस करने के बाद उमेश ने मुझे पलट दिया और मेरी कमर पकड़ कर मेरी गांड को अपने लंड पर कसके सटा दिया.

पीछे अपने लंड से मेरी गांड में दबाया और चुत को अपने हाथ से मसल दिया.

बुलु पिक्चर बीएफ: दीदी के उभरे हुए चूचे और पतली कमर, गोरा रंग देख कर कोई भी गरम हो सकता था. मां कभी सोनू का लंड मुंह में लेती तो कभी अभिनव का लण्ड मुंह में लेती.

इस बार मैं फिर से उसके पैरों को कंधों पर रखे और सोचा कि इस बार इस पर जरा भी रहम नहीं करूंगा. सोनू बोला- चाची आप बस इस वक्त का मजा लो!वह अपना लंड मां के ऊपर लग रहा था और मां को गर्दन पर किस कर रहा था. नाश्ता करते टाइम ही उमेश का लंड खड़ा हो गया और ब्रेकफास्ट के बाद हम दोनों ने फिर से बाथरूम में चुदाई का मजा लिया.

बाबा ने अपने लिंग को मेरी योनि पर रख कर उसको योनि पर रगड़ा तो मैं तड़प उठी.

उसकी झलक पाते ही मेरे कदम एकदम स्लो हो गए और मैं लगभग न चलते हुए चलने की कोशिश कर रहा था. एक दिन वो मुझसे बोली- आज घर पर कोई नहीं है, तुम आना चाहोगे?अंधे को क्या चाहिए, दो आंखें … मैंने झट से हां कह दी. दूसरे वाले कोच ने मेरे दोनों हाथों को पकड़ कर पीछे कर दिया और कस कर पकड़ लिया.