बीएफ वीडियो जींस वाली

छवि स्रोत,ब्लू ब्लू सेक्सी दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगा सेक्सी पिक्चर दाखवा: बीएफ वीडियो जींस वाली, ओह शायद एक रह गया… कोई बात नहीं अगले पार्ट में बता दूँगी। वैसे मैंने स्टोरी को दोबारा सैट किया है क्योंकिमार-काट यहाँ नहीं लिख सकती हूँ इसलिए प्यार से काम निपटा दिया ओके… अब ज़्यादा बात नहीं करूँगी, जल्दी से मेरी आईडी[emailprotected]पर बताओ आज का पार्ट कैसा लगा।.

टोंक जिले की सेक्सी वीडियो

उस रात उसने इशरत को 4 बार चोदा और चारों बार मैंने इशरत की चूत से उस आदमी का माल चाटा।आख़िर में मुझे इशरत को चोदने का मौका मिला और मैं एक मिनट में ही झड़ गया…अब जब भी इशरत का मन करता है किसी मर्द को भी ले आती है. पुराने वाली सेक्सी वीडियो?उन्होंने बताया कि गैलरी से जाओ वहीं पर है।फिर मैंने अपनी बाल्टी और मग उठाया और नहाने के लिए चला गया। वहाँ जाकर मैंने देखा कि यह तो भाभी वाला ही बाथरूम है जिसमें दीवाल खड़ी करके आधा किरायेदारों के लिए बनाया गया था।पर मुझे इससे क्या.

क्योंकि कावेरी ने मेरे लौड़े पर दाँत से काट लिया था।मैंने उसको एक गाली बक दी, साली क्या कर रही है…?”कहने लगी, तेरे से एक बार और चुदना है. सॉरी सेक्सी वीडियो! खेल अब खतरनाक हो गया था। कुछ करना बहुत जरूरी हो गया था।मैंने अपने पति सुनील से कहा- मैं आज अपने घर पर कुछ काम करना चाहती हूँ। टाइम लगेगा सो आप मेरे साथ चलो।उसने कहा- तुम ऑटो से चली जाओ, मुझे आज ऑफिस में अर्जेंट मीटिंग है। मैं तो उल्टा आज देर से आ पाऊँगा।मैंने कहा- मुझसे अकेले नहीं हो पाएगा.

मैंने उन्हें हटाते हुए कहा- हो गया ! अब काम कर लूँ या अभी आग ठंडी नहीं हुई है?ननदोई जी हांफ़ते हुए कहने लगे- हो गया… कर लो…मै- अब और नहीं करेंगे… पैकिंग भी करनी है मुझे…ननदोई जी- ठीक है…मैं मैक्सी पहन कर आ गई और घर के काम में लग गई।दिन भर ननदोई जी शांत ही रहे। शाम को हमें निकलना था इसलिए मै पैकिंग में लग गई।शाम को करीब 3 बजे मैंने ननदोई जी से तैयार होने को कहा और खुद भी तैयार होने लगी.बीएफ वीडियो जींस वाली: छोड़ता है… और वाकयी बहुत प्यारी लग रही थी…रोज़ी के चेहरे से लग रहा था कि उसको मेरी बात अच्छी लग रही है.

भट्टी- बीए फेल पीएचडी लगने लगता है…सेल्सगर्ल- जी सर, हमारे लैपटॉप हैं ही ऐसे…भट्टी- फिर तो मैं एक लैपटॉप खरीद ही लेता हूं.उन्न्नन्ही …री ! और ज़ोर से चोद ! तूने तो लगता है अपने सरप्राइज का भी भुरता बना दिया। इतना ज़ोर से चोद रहा है हायय री.

सेक्सी विडिओ चुदाई वली - बीएफ वीडियो जींस वाली

पहले हम हँसे फिर नैन हँसे, फिर नैनन बीच हँसा कजराउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.कर लो, मैं किसी से नहीं कहूँगा।दीदी ने मेरे गाल पर चुम्बन किया और फिर मुझसे कहा- सारे कपड़े निकाल दे.

अब मैं अपने घुटने पर बैठ कर उसके बुर में अपनी जुबान से चाकलेट लगा चाटने और उसके बुर की सफाई करने लगा. बीएफ वीडियो जींस वाली मुझे अब चूत में मीठी मीठी गुदगुदी होने लगी, मेरे मुँह से निकल गया- शाहनवाज… लगा ना जोर से धक्का… और जोर से… अब फ़िर मजा आ रहा है.

!’मैंने उंगली निकाल ली, फिर वो सीधी लेट गई और अपनी टाँगें मोड़ कर फैला लीं।अब वो अधेड़ चूत चुदने को बेताब थी और मैं अपनी पहली चुदाई का अनुभव एक तजुर्बेकार औरत के साथ लेने जा रहा था।‘साहिल थोड़ी देर सीधे-सीधे करो.

बीएफ वीडियो जींस वाली?

उसको तो चूत चटवाने का ही चस्का लग गया था, उसने कहा- तुमको दलिया डालने की जरूरत नहीं है, वो डालती जाएगी और मैं उसको साफ़ करूं. !और मैंने उसकी गांड में थूका और लंड का सुपारा टिका दिया। वो डर रही थी और मैंने जैसे ही थोड़ा सा घुसेड़ा कि मोनी बोली- नहीं आर्यन, बहुत दर्द हो रहा है. मुझे यह समय मेरे अनुकूल लग रहा था, अब मैंने थोड़ा और आगे बढ़ने का सोचा, उसकी हथेलियों को अपने होंठों से लगाए मैं अपने होंठ उसके अधरों के पास ले गया, उसकी आँखें अब तक बंद ही थी, मैं उसकी गर्म साँसें महसूस कर सकता था, मैंने अपने होंठ उसके होंठों से लगा दिए। इस बार हमारे चुम्बन में चाहत सी थी सब कुछ पा लेने की.

!आपको आरोही की चुदाई का आनन्द आ गया न…!अब आगे क्या होता है, यह सब जानना है तो पढ़ते रहिए और मुझे संपर्क करने के लिए मेरी आईडी[emailprotected]gmail. नंगी होकर ही ज़्यादा मज़ा आएगा।दोनों ने कपड़े निकालने शुरू कर दिए।बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं. ! आधी रात के बाद वाली बात तो गाने की तुक भिड़ा कर कहा था।” मैंने अपने को छुडाते हुए चमेली से कहा- पूछ ली ना बुर-चोदी.

अरे यह तो बोरोप्लस की खुशबू थी…इसका मतलब मधु ने रात को बोरोप्लस भी लगाया… इसने एक बार भी मुझे अपने दर्द के बारे में नहीं बताया…मुझे उसके इस दर्द को छुपाने पर बहुत प्यार आया… मैंने उसके होंठों को चूम लिया. ऊँगली और अंग के घर्षण ने, रग-रग में अग्नि फूंक दईऊँगली अन्दर ऊँगली बाहर, कभी गोलाकार घुमाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. दोस्तो, यह कहानी मेरी खुद की है और इस कहानी को मैंने लिखने से पहले अंजलि का नाम बदल करइस्तेमाल किया है।मैं किसी की भावनाओं के साथ ग़लत नहीं करना चाहता हूँ, इसलिए मेरी चुदाई की इस पहली कहानी में मैंने अपनी लवर का नाम बदल दिया है।जीवन में और भी बहुत सारी लड़कियाँ मिलीं, मैं सारी कहानी आपके साथ जरूर शेयर करूँगा, पर उससे पहले मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा।आपका दोस्त टुकटुक[emailprotected].

वो बोलीं- आराम से करो… बहुत दर्द हो रहा है !मैंने कहा- भाभी… क्या भाई नहीं करते हैं, जो दर्द हो रहा है !भाभी बोलीं- उनका लण्ड इतना मोटा नहीं है, पतला सा है और तुम्हारे भाई ज्यादा देर रुकते भी नहीं है !फिर मैंने एक और धक्का लगाया तो आधा लण्ड अन्दर चला गया. !” यह बोलकर झट से मैंने पहले हाथ को चूमा और फिर उनके लबों को चूम लिया।वो बोलीं- क्या कर रहे हो?मैंने कहा- मस्ती और क्या.

!इस तरह मैंने उसे दस दिन तक चोदा, उसके बाद मेरा दोस्त आ गया था।उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता, हम दोनों नहीं चूकते थे।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected]gmail.

!ज़ोर से दबाने की वजह से शायद उसे दर्द हुआ और वो सीईईई सीईईई… करने लगी।मैंने छोड़ दिया, तो उसने खुद मेरे हाथ अपनी कमर पर रख दिए और मेरे हाथों को दबाते हुए मुझे घूरने लगी। मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ जड़ दिए, तो उसने मुझे धक्का दे दिया।मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?तो उसने कहा- ये सब शादी से पहले ग़लत है.

!रेहान आरोही के कड़क मम्मों को दबा रहा था और निप्पल को चूस रहा था। अब रेहान धीरे-धीरे आरोही के पेट पर पहुँच जाता है और उसकी चूत पर होंठ टिका देता है।क्या मस्त फूली हुई चूत थी आरोही की…! और अभी की चुदाई से और सूज गई थी।आरोही- आआ उफफफ्फ़… कककककर रहे हो रेहान जी आ. पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैंने कहा- बस एक चीज दिखानी है आपको!और कह के अपनी जींस नीचे कर दी, मेरा नौ इंच का लंड खड़ा हुआ फुफकार रहा था. थानेदार- साफ साफ बताओ कि क्या हुआ?सलमा- कल रात को एक खूबसूरत सा चोर मेरे घर आया और मेरे सारे जेवर चुरा कर ले गया.

क्या टाइट गाण्ड थी साला पानी जल्दी निकल गया, मज़ा खराब हो गया।अंकित- कोई बात नहीं राजा, अभी देख लौड़ा कैसे डालते है।संजू- हाँ देख हम दोनों साथ में डालते हैं आगे और पीछे. !’मैं घुटनों के बल उनके सामने बैठ गया। फिर उन्होंने मुझ को पकड़ कर अपने ऊपर गिरा लिया। मेरा लण्ड सीधा चाची की चूत से टकराया हम दोनों की चीख निकल गई, ‘ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह चाची. मैंने देखा सुन री ओ सखी, साजन कितना कामातुर थाऊँगली के संग-संग जिह्वा से, मेरे अंग को वो सहलाता थाआनन्द दुगुणित हुआ सखी, जिह्वा ने अपना काम कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

!अन्दर जाकर रेहान ने आरोही को एक बड़े से कमरे में बैठाया। आरोही को अजीब सा लगा कि इतने बड़े घर में कोई नहीं दिखाई दे रहा है।रेहान- क्या सोच रही हो आरोही?आरोही- कुछ नहीं.

ये रेहान हमको जानता नहीं जी हम बहुत डेंजर आदमी होना,तुम हमको खुश कर दो, हम तुमको सारे झंझट से आज़ाद कर देगा जी. कुछ हलचल हुई, मैं चौंक गई, साजन को परे हटाय दियारात में मिलूँगी साजन ने, सखी मुझसे वादा धराय लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. ! यह मैं आपको फिर कभी बताऊँगा।यह मेरी ज़िंदगी की एक अनसुनी कहानी या तो मैं जानता हूँ या गिरिजा जानती है या फिर अब आप लोग जान चुके हैं।मेरी स्टोरी कैसी है प्लीज़ अपनी राय ज़रूर देना।[emailprotected].

इन्हीं के चलते आज छोटी दूध पी पा रही है!मैं- मतलब?भाभी- अगर काका चूसें नहीं तो दूध नहीं आयेगा! तेरे भइया तो हमेशा बाहर ही रहते हैं! बड़ी आई! भैया को बता देगी!!!मैं- लेकिन. आप मम्मी से फोन पर बात कर लें।उसने झट अपने घर फोन मिला कर मम्मी को पकड़ा दिया।मेरी मम्मी कुछ देर उसकी मम्मी की आवाज़ सुनती रहीं फिर बोलीं- ऐसी बात है, तो चमेली को कल रात रुकने के लिए भेज दूँगी. इतना नाटक नहीं करना जी वरना अन्ना तुमको बहुत तकलीफ़ देगा जी अब चुपचाप हमारा बात मान लो, वरना वो पेपर मेरे पास होना जी.

उंम्ह… की तेज आवाजें निकालने लगी थी।मैंने चाची की आवाजों की परवाह नहीं की तथा उसी तरह चाची की चुदाई चालू रखी।कुछ समय के बाद जब चाची की चूत एकदम सिकुड़ गई और मुझे लंड अंदर बाहर करने में मुश्किल होने लगी, तभी चाची का बदन एकदम अकड़ गया और वह जोर से चिल्ला पड़ी- आईई… ईईईई… माईईई… ईईईईए… मर गईईई….

फिर भाभी ने मेरा लण्ड मुँह में लिया और प्यार से चूसने लगीं, चारों तरफ अपना हाथ लण्ड पर फिराने लगीं और आधा लण्ड 4 इंच मुँह में ले लिया. मैंने आपको दिखा दिया, अब मैं कपड़े पहन कर आ रही हूँ।राहुल- क्यों वो रेड, पिंक और ब्राउन भी तो हैं वो भी पहन कर दिखाओ न.

बीएफ वीडियो जींस वाली ! इतना चिकना सा और मोटा सा। कुछ भी कहो बिल्कुल ऐसा लग रहा है जैसे किसी कुंवारी चूत में लंडफंसा हो… ऊह्ह्हू ऊऊ…वऊऊओ. !फिर मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला पर बुआ ने कहा- जब मैं पूरी नंगी हो चुकी हूँ तो तू भी पूरा नंगा हो जा.

बीएफ वीडियो जींस वाली ! यह भी अपनी बहन की तरह चाँद का टुकड़ा है। इसकी अदा पर भी सब फिदा हैं, यह जब चलती है तो इसकी पतली कमर बल खाती है और चूतड़ ऐसे मटकते हैं जैसे कोई स्प्रिंग लगी हुई हो।लड़के तो क्या बुड्डों के लौड़े भी तनाव में आ जाते हैं।इन दोनों का एक भाई है राहुल उसकी उम्र 20 की है स्मार्ट. और दरवाजे से क्या झांक रहे है?मैंने उसे टालने की कोशिश की, लेकिन वो मानने को तैयार ही नहीं हो रही थी और वो मुझे पीछे हटाकर खुद देखने लगी।करीब दस सेकेंड देखने के बाद वो मेरी तरफ देखने लगी और शरमा गई।मैंने उससे कहा- मैंने मना किया था न.

मैं- किस चीज़ पर मारते हो?जय- कपड़े या पेपर पर या फिर बाथरूम में हगते या नहाते वक़्त!मैं- किसी को नंगी देखा है?जय- हाँ, दीदी को देखा है, एक बार जब वो हगने गई थी तब उसकी गांड देखी थी, गोरी गोरी गांड थी.

हिजड़ा सेक्सी फिल्म

सन्ता- और?सलमा- इमानदार हूँमेहनती हूँअनुभवी हूँकाम में तेज हूँसन्ता- और बताओ?सलमा-युवा हूँजवान हूँगोरी हूँखूबसूरत हूँस्लिम हूँसन्ता- और बताओ?सलमा-स्वस्थ हूँनिरोग हूँकॉपर टी लगवाई हुई है69 में होशियार हूँदसियों आसान आते हैंपीछे भी लेती हूँसबसे बड़ी बातअपने फ़्लैट में अकेली रहती हूँसन्ता: बस कर. तुमसे मैं कभी नाराज़ हो सकता हूँ क्या?अनुजा- सच्ची अगर मुझसे कोई ग़लती हो जाए तो भी नहीं?विकास- हाँ कभी नहीं. ! क्या आप जानना नहीं चाहते कि आगे क्या हुआ?तो पढ़ते रहिए और आनन्द लेते रहिए…मुझे आप अपने विचार मेल करें।[emailprotected].

!यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !और उसने मदन के लौड़े को अपने मुँह में ले लिया। मदन ने सिगरेट खत्म होने तक लौड़ा चुसवाने का मज़ा लिया, फिर उसे लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गए और अपना लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया।पहले तो चमेली तिलमिलाई फिर हर धक्के का मज़ा लेने लगी- जीजाजी आप आदमी नहीं सांड हैं. तो प्रिया मान गई।मैंने अपने बैग से कंडोम निकाला और उसे अपने लण्ड पर चढ़ा लिया और एक ज़ोर का धक्का प्रिया की चूत में मारा।मेरा आधा लण्ड प्रिया की चूत को फाड़ता हुआ अन्दर जा चुका था।तभी प्रिया के मुँह से एक ज़ोर की चीख निकली- उउउईई माँ… मर गई…!और मुझसे कहने लगी- सर, प्लीज़ इसे बाहर निकालो, मैं मर जाऊँगी. ! कामिनी के यहाँ नहीं चलना है क्या?जीजू बोले- जब अपने पास साफ-सुथरा लैंडिंग प्लेटफॉर्म है, तो जंगल में एयरोप्लेन उतारने की क्या ज़रूरत है.

उसको कहना बस नॉर्मल पिक लीं और अन्ना से मिलीं, उन्होंने टेस्ट के लिए कल बुलाया है। इसके अलावा ज़्यादा बात भी मत करना ओके.

उस दिन मुझे यह एहसास हुआ कि अगर औरत की चुदाई उसकी संतुष्टि तक हो जाए तो सुबह उसके चेहरे पर रौनक देखते ही बनती है…खैर अगले दिन रक्षाबन्धन था, और फिर शाम को ही मुझे वहाँ से अपने घर वापिस आना पड़ा मगर यह घटना मैं आज तक नहीं भूला. !फिर भाभी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और होंठों को चूसने लगी। मेरा लंड चूत में जाने को बेताब हो रहा था। होंठों से हटा और भाभी के पैरों के बीच बैठ गया। लंड डालने की कोशिश कर रहा था कि भाभी ने लंड पकड़ा छेद पर सैट किया और कहा- अब डालो. मेरा अंग तो उसके अंग को, लील लेने को बेसब्र रहाऐसी आवाजें आती थी, जैसे भूखा भोजन चबा रहासाजन ने अपने अंगूठे को, नितम्बों के मध्य लगाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मैं चोरी-छुपे मन्जू को देखा करता था और मन में बड़ी तमन्ना थी कि बस एक बार वो मेरे लौड़े की सवारी कर ले, पर कामयाबी नहीं मिल रही थी. तभी नीलू को कोई फोन आया और बात करने के बाद बोली- आलोक, हम लोग कल शाम को निकलेंगे, क्योंकि मुझे एक काम आ गया है. नहीं, तो मैं तो कर ही लूँगा !वो चुपचाप मेरी आँखों में देखने लगी।फिर बोली- तो आप मेरे साथ भी वही सब करना चाहते हैं जो आपने प्रिया के साथ किया है.

!”हय… उसके मुँह से ‘हनी’ सुना तो कलेजे में ठंडक पड़ गई। जीवन में पहली बार किसी लड़के ने प्यार से ‘हनी’ बोला था।घर जाकर बिस्तर पर औंधी हो कर लेट गई. लेखक : इमरानपारस- वाह यार… तुम्हारा काम तो बहुत मजेदार है।लड़का- क्या साहब… बहुत मेहनत का काम है…पारस- वो तो है यार देख मेरे कैसे पसीने छूट गए…और तेरे भी जाने कहाँ कहाँ से, सब जगह से गीला हो गया तू तो…सलोनी- बस अब तो हो गया नापारस- हाँ जानेमन हो गया… अब स्कर्ट तो नीचे कर लो, क्या ऐसे ही ऊपर पकड़े खड़े रहोगी… हा हा?लड़का- हा हा… क्या साहब?सलोनी- उउऊऊनन्न्न मारूंगी मैं अब तुमको.

पर तू कुछ करता ही नहीं था…‘चाची आज सब कुछ क़र दूंगा… मैं भी आपकी चूत के लिए बहुत तरसा हूँ! मैंने तो पहली बार जब मुठ मारी थी तो आपको ही सोच क़र मारी थी कि आपकी टांगों पर इतने बाल हैं तो आपकी चूत पर कितने बाल होंगे, मैंने आज तक जितनी बार मुठ मारी है उनमें से 98% आपको सोच क़र मारी है…!’चाची बोली- ओहो मेरे आशिक, चल अब मजे लेते हैं. इच्छा तो एक बार और उसकी मारने की हो रही थी पर क्या करें सुबह हो गई थी, मैंने उसे कपड़े पहनाये और किस किया. प्रीतो मायके जा रही थी।सन्ता ने देखा कि प्रीतो ने अलमारी से कुछ निकाल कर अपने बैग में रख लिया।यह देख कर सन्ता ने सोचा- वेखां ते की पाया ऐन्ने बैग विच!प्रीतो इधर उधर हुई तो सनता ने बैग में देखा और बोला-किन्नी भोली ऐ! मैं नाल वी नी जा रया,फ़ेर वी….

अब तू जल्दी से घर जा… हम आधे पौने घंटे में पहुँचती हैं… मैंने यहाँ सब पड़ोसियों को कह दिया है कि मुझे रात को बहुत डर लगता है… इसलिये मैं अपनी बहन के साथ रात को सोने के लिये अपने पति के एक दोस्त के घर जाया करूँगी… क्योंकि हम दो लोग हैं इसलिये किसी ने कोई बात नहीं बनाई… अगर बहन साथ ना होती तो यह नहीं हो सकता था.

बस अभी मैं उसकी चूत का मुहूरत कर दूँ, फिर रात को दोबारा मज़ा लेंगे…!रेहान वहाँ से चला गया।राहुल सीधा आरोही के रूम में गया, तब आरोही बेड पर लेटी थी और एक चादर अपने ऊपर डाल रखी थी।राहुल- क्या हुआ बहना. जल में छप-छप अंग में लप-लप, मुंह में थे आह-ओह के शब्दसाँसें थी जैसे धौंकनी हो, हमें देख प्रकृति भी थी स्तब्धउसके जोशीले नितम्बों ने, जल में लहरें कई उठाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. मुझे लगा जैसे चाचू जाग गए हों, मैं लण्ड को मुँह से निकालने ही वाली थी कि चाचू ने मेरे सिर को अपने हाथों से दबाया और लण्ड मुँह में घुसा दिया और मेरे मुँह को चोदने लगे.

उसकी चूत क्या मस्त थी! बिल्कुल गुलाबी! एक भी बाल नहीं था उसकी चूत पर! उसे सोचते सोचते ही मैं तो जैसे पागल हो गया. भाभी बोलीं- अभय तुम्हारा माल तो देखो, साण्ड की तरह पूरा कप भर कर निकला है और तुम्हारा भाई का तो सिर्फ एक चम्मच निकलता है.

उसकी अदाएँ तो जैसे जान ही लेने पे अमादा थी ! मुझे इतना तो पता था कि जैसे ही स्पर्श छूटा, वैसे ही वो दोबारा पास आने न देगी, मैंने उसकी हथेलियों को अपने होठों से चूमते हुए कहा-दूर ही रखना था तो साथ आये क्यों. !”करते ही जोर से झड़ गई।मैंने पूरा रस पी लिया और मस्त हो गई। दोनों को भी इसमे बहुत मजा आया और ढेर होकर दोनों हम एक-दूसरे से नंगी ही लिपटकर सो गईं।आज भी हम वक्त मिलने पर एक-दूसरे के साथ लेस्बीयन सेक्स करते हैं।यह मेरा पहला लेस्बीयन सेक्स का अनुभव था, आपको कैसा लगा,[emailprotected]पर जरुर बताइए।[emailprotected]. !सो वो भी नंगा ही अन्दर बाथरूम में आ गया और हम दोनों साबुन लगा कर खूब नहाए।नहाते-नहाते शिशिर का लंड फिर जवान होने लगा था। मैंने शिशिर का लंड पकड़ कर अपने चूत में ले लिया और हम खड़े-खड़े बाथरूम में ही चुदाई करने लगे।ऊपर शावर से पानी की धार.

dehati सेक्सी

फटी बुर चोदने से अच्छा है कि मस्त ताजा बुर को चोदूँ।मैंने कहा- निधि, हम दोनों के लिये यह अच्छी बात नहीं है.

चूस …!अब मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था। फिर मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए। फिर मैंने उसकी फूली हुई चूत को देखा।क्या मस्त चूत थी साली की. कैसे जाएगा।मैं बोला- लंड चाहे कितना बड़ा भी क्यों ना हो, किसी भी चूत में आराम से चला जाता है और मैं तो वैसे भी खिलाड़ी हूँ. मैं भी उसका साथ देता जा रहा था।मैंने कुर्ते के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाना शुरू किया और वो मेरे होंठ चूसती जा रही थी.

।थोड़ी देर बाद हम उठे और बाथरूम में एक साथ नहा कर बाहर आए।सुबह के करीब आठ बज गये थे और तभी पापा का कॉल आ गया तो मुझे मैम के घर से जाना पड़ा।जाते वक्त मैंने मैम को चूमा और चला आया।अपनी राय मुझे लिखें !. अरे यह तो बोरोप्लस की खुशबू थी…इसका मतलब मधु ने रात को बोरोप्लस भी लगाया… इसने एक बार भी मुझे अपने दर्द के बारे में नहीं बताया…मुझे उसके इस दर्द को छुपाने पर बहुत प्यार आया… मैंने उसके होंठों को चूम लिया. हिंदी में सेक्सी वीडियो खुलेआममैंने चाची को बोला- चाची…अपना मुँह मेरी तरफ उठाते हुए चाची बोली- हाँ…इस वक़्त चाची और मेर होंठों के बीच सिर्फ़ 2-3 इंच का फ़र्क था.

! हीरोइन का रोल नहीं होता, वो फिल्म की मेन किरदार होती है, और दूसरी बात अभी यार वो बहुत छोटी है।राहुल- अरे यार तुम बात को समझ नहीं रहे हो. और मैं अपनी इच्छा से तो कुछ भी कर सकती थी… पर श्रेया को कैसे कहूंगी?मैंने उनसे कहा- श्रेया को मैं जबरदस्ती तो नहीं कर सकती ना !वो बोले- सजा तो सिर्फ़ तुम्हारी है, श्रेया अपनी इच्छा से इस खेल में शामिल होने चाहे तो ठीक है। लेकिन अगर दोनों मिल कर यह कारनामा करेंगी तो मज़ा दस गुना हो जायेगा।श्रेया नहा कर तैयार थी, मैंने उसकी पसंद की पनीर की सब्जी बनाई.

मुझे मंजूर है ! क्योंकि अगर मैं ऐसा नहीं करती तो वे मुझे रोज नये नये करतब करने को नहीं बताते !मैं सजा भुगतने के लिए मान गई क्योंकि मैं जानती थी कि सजा में भी अब मुझे मज़ा लेना है।वे बोले- आज तुम्हें और श्रेया को घर की छत पर साथ में दोपहर का खाना खाना होगा. !रूपा- मैंने स्कर्ट पहना था, गरमी की वजह से मैंने पैंटी नहीं पहनी थी। रात को भईया मेरी बुर में दो घंटे तक अपनी उंगली पेलते रहे…मैं- फिर. वहाँ उस वक़्त बहुत शांति थी।कुली हमारे आगे चल रहा था, मैंने शोना को देखा और प्यार से उसके माथे को चूम लिया, मेरे हाथ उसकी कमर पर थे.

मैंने कहा- तो फिर बार-बार नीचे क्यों खुजा रहीं थीं?वो चोंक गई और बोलीं- थोड़ी खुजली हो रही थी, तो खुजा लिया. सारे मर्द सीधे ही चूत से चालू हो जाते हैं पर एक औरत की गुदा में भी काम वासना भरी होती है जिसे शांत करना जरूरी है. !और मैं ‘आआहह’ की आवाज़ के साथ झड़ गया। और हाँफने लगा, थोड़ी देर तक हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे।वो कहने लगी, राहुल मुझे आज तक ऐसा मज़ा मेरे पति ने नहीं दिया.

मैंने कहा- जैसे तुम्हारा नाम अच्छा है, वैसे ही तुम भी बहुत सुंदर हो!वो मेरी बातों से शरमा रही थी और चुप थी.

भाभी भी अपने चूतड़ उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगीं और बोलीं- और जोर से करो… और जोर से करो… बहुत मजा आ रहा है. आओ चोदें रगड़ रगड़ कर,साथ में छोड़ें पानी…!***कुंवारी कलि ना चोदिये, चूत पे करे घमंड;चुदी चुदाई चोदिये, जो लपक के लेवे लंड!प्रस्तुति- आर के शर्मा.

!”उन्होंने कामिनी को लिटा कर उसके पैरों को फैलाया और उसके चूतड़ के नीचे तकिया लगा कर बुर को ऊँचा किया।फिर उसे चूम लिया और बोले- हाय रानी क्या उभरी हुई बुर है; इसे चोदने के पहले इसे चूसने का मन कर रहा है. जय- सच में मुझे यकीन नहीं हो रहा!मैं- हाँ, पर अब मैं तुमसे कभी बात नहीं कर सकती क्यूंकि मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती. !रेनू को मैं नज़र बचा कर बार-बार देख रहा था कि वो क्या कर रही है।फिर जब उसने देखा मेरे पर कोई असर नहीं है, तो वो पूरे लंड को अपने हाथों में भर कर मसलने और खींचने लगी। मेरे लंड का आकार बढ़ने लगा।रेखा- क्या हुआ…!रेनू- लंड हिला रही हूँ.

खैर फिर उन्होंने ही चोली की डोरी खींची, हाथों से अलग किया।काली ब्रा में मेरा दूध सा सफ़ेद रंग का चिकना पेट. भाभी मुझे नहीं पता था कि आप इतनी हॉट हो… नहीं तो मैं कब का तुम्हें चोद चुका होता। भाभी मैं कब से किसी के साथ सेक्स करने के लिए तड़प रहा था… काश. वरना गाण्ड इतनी टाइट थी की टोपी भी नहीं घुसती।अनुजा ने दीपाली का सर ज़ोर से पकड़ कर चूत में घुसा दिया।दीपाली- आआआअ आआआ उूउउ…विकास का लौड़ा एकदम फँस सा गया था.

बीएफ वीडियो जींस वाली उसकी स्लैक्स कच्छी के साथ ही उतर गई थी इसलिए चूत पूरी तरह नंगी थी…क्या मस्त चूत थी यार !! बिल्कुल फूली हुई… चूत पर बहुत मुलायम रेशमी बाल थे… मेरे हाथों की उँगलियों ने उसके बालों को सहलाते हुए चूत के होंठों को सहलाया. जब ये ही बोल रही है तो क्यूँ शरमाऊँ, मैंने कहा- आप की पहाड़ जैसी चूचियाँ, आपकी गांड, आपकी चूत… सब कुछ.

विश्वास सेक्सी वीडियो

रूको मास्क तो लगा लूँ साली तेरी सील टूटने का वीडियो बना रहा हूँ, मेरी शक्ल थोड़े दिखानी है ग़लती हो गई, जो आरोही के टाइम मास्क नहीं लगाया, लेकिन कोई बात नहीं, उसके तो अभी बहुत वीडियो बनेंगे ! और अब साथ में तेरे भी बन जाएँगे, और वो तुम्हारा हरामी भाई है ना उसको भी इस फिल्म में रोल दे दूँगा. आशीष के लण्ड ने उस लिसलिसे और मेरी चूत के पानी लगे कंडोम में पिचकारी मार दी…मैंने मुँह से निकालने की कोशिश की. ‘अच्छा हुआ कोई और नहीं था रूम में… वरना बड़ी शर्म आती…’ दीदी मेरी मंशा को नहीं जान रही थीं और बात कर रही थीं.

पता नहीं क्या बात है इस खेल में !आज रात अपने मित्र से पूछ कर फिर कोई कारनामा करने की इच्छा है ![emailprotected]. मेरे अंग से उसके अंग का, रस रिस-रिस कर बह जाता थावह और नहीं कुछ था री सखी, मेरा सुख छलका जाता थाआह्लादित साजन को मैंने, पुनः मस्ती का एक ठौर दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. कैटरीना की सेक्सी चुदाई!”पर मैंने एक ना सुनी और धक्के मारता ही गया थोड़ी देर में वो शांत हो गई।फिर मैंने उससे पूछा- कैसा लग रहा है?तो उसने कहा- बहुत मज़ा आ रहा है.

वो हल्का सा मुस्कुराया और बोला- तू समझदार लगता है मुझे इन मामलों में, अगर कुछ नहीं बोलेगा तो तुझे भी बहुत मज़ा आएगा।मैं बोला- वो क्या?उसने अपने लंड पर हाथ फिराते हुए बोला- तेरी बहन बहुत बड़ी रंडी है, कसम से बिना चोदे रात नहीं बीतती मेरी… आज रात भी चोदूँगा उसे.

!वो हँसने लगी, तो मैंने कहा- चलो बाकी का काम भी निपटा लेते हैं। मुझे ज़रा जल्दी जाना है, घर का कुछ काम है।वो बोली- जल्दी क्या है. आ उफ़फ्फ़…!राहुल ने आरोही की टाँगों के बीच आकर अपना लौड़ा चूत पर टिकाया और एक धक्का मारा, आधा लंड चूत में चला गया।आरोही- आ.

बहुत मज़ा आएगा तुझे हा हा हा हा…!रेहान की बात सुनकर राहुल भी हँसने लगा और आरोही भी हँसने लगी।राहुल- यार एक बात तो है, मैंने सुना है गलियाँ देकर सेक्स करने में बहुत मज़ा आता है।रेहान- हाँ आता है, इसी लिए तो दे रहा हूँ। अब चल और तुम दोनों भी अपनी रासलीला बन्द करो, सीधी लेट जाओ. !” मैंने उसकी गरदन चूमते हुए जवाब दिया।मेरे चुम्बन से उसकी सिसकारी निकल गई।फिर वो मेरी तरफ घूम कर बोली- रसोई में नही प्रेम. !”मैं पागलों की तरह उनका लंड को अपने थूक से भिड़ा कर के उसको चाट रही थी। मौसा जी मेरे इस अंदाज़ से पागल हुए जा रहे थे।अह.

अब आपके कुछ सवालों के जवाब तो शायद मिल गए होंगे या फिर कोई नया सवाल खड़ा हो गया कि आख़िर यह सचिन कौन है? अचानक कहाँ से आ गया। जूही ने नकाब देख लिया है और क्या उसने सचिन को भी देखा है??अब आगे क्या होगा??जानने के लिए अगला भाग पढ़िए जो जल्द ही प्रकाशित होगा और आप भी जल्दी से अपनी राय बताएँ कि कहानी कैसी लग रही है?? कोई कमी है.

आप रुकिये…मैं आँखें बन्द करके लेटी रही !पाँच मिनट बाद एकदम मुझे अपने निप्पल पर कुछ ठंडा सा लगा, एकदम आराम मिला, सुकून मिला… आँखें खोली तो श्रेया मेरे निप्पल पर बर्फ़ लगा कर बैठी थी और उसने भी… कुछ भी नहीं पहना था, वो पूरे कपड़े नीचे उतार कर आई थी… उसका गोरा बदन धूप से लाल हो रहा था…मुझे बुरा लगा, मैंने कहा- अरे मुझे गुस्सा तुम पर थोड़े ना आया था. !कामिनी सब को रोकती हुई बोली- नहीं अभी नहीं, नाश्ता करने के बाद, लेकिन दरबार में चलने का एक कायदा है शहज़ादे. !रेहान- अन्ना अभी नहीं, तुम कल कर लेना अभी मेरे प्लान का दूसरा भाग शुरू करना है। तुम बात को समझो यार उसकी चूत को मत छेड़ो.

सेक्सी ब्लू फिल्म एक्स एक्स वीडियो!जूही दोनों पैर रेहान के साइड से निकाल कर बैठ जाती है। रेहान अपने हाथ से लौड़ा पकड़ कर चूत पर सैट कर देता है, जैसे ही जूही बैठी, लौड़ा चूत में घुस जाता है।जूही- ओई उफफफ्फ़…!रेहान- साली इतनी बार चुद चुकी है, अब भी उई उई कर रही है…!जूही- आ. !!’‘कुछ दिन पहले हम मिले और तुम सब छोड़ कर यहाँ आ गये, मैं तुमसे प्यार नहीं करती, ना आगे मिलना चाहती हू.

सेक्सी वीडियो की फोटो दिखाइए

!” कामिनी बोली।चमेली कहाँ चूकने वाली थी, बोली- हाँ दीदी, यह सब आप लोगों की बदौलत हुआ है।बात बिगड़ते देख मैं बोली- चमेली तू फालतू बहुत बोलती है। अब जा चुदक्कड़ जीजू को खाने की टेबल पर ले आ।उन्हें गोद में उठा कर लाना है क्या. रेनू खुश थी।अब हम 3 माह तक रहे, मैं रोज़ रेनू को चोदता था, रेनू भी खुल गई थी। खूब मजे से चुदवाती, लंड चूसती।एक माह के बाद बच्चा गर्भ में था, मेरी मेहनत रंग लाई, साले को खबर दी. एक दिन वो मेरे पास आई और उसने कहा- मेरे कंप्यूटर में कुछ खराबी आ गई है और मैंने एक जरूरी इमेल करनी है.

!रेहान उसको अच्छे से समझा देता है कि राहुल को क्या बोलना है और अगर वो उसको पूछे कि दोपहर को कहाँ गई थी, तो ऐसे विहेव करना जैसे किसी लड़के से मिलने गई हो तुम…!आरोही- ओके बाबा समझ गई, सारी बात लेकिन लड़के से क्यों. ऐसा लग रहा था जैसे चुदाई का बैकग्राउंड म्यूजिक चल रहा है…और मुझे अचानक होश आया…नीलू पर जैसे कोई फर्क नहीं पड़ा. मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था और उसके दाने को मसल देता था जिससे वो भी ‘आअई आईईए उफ्फ्फ’ कर रही थी.

सबके लंड 7-8 इंच के बीच थे!फिर संजीव ने मेरे चूतड़ों के नीचे तकिया लगाया और मेरी चूत पर थूक लगा कर अपने लंड का सुपारा रगड़ने लगा. जूही को भी बहुत अच्छा लगेगा सुनकर कि वो भी मेरी फिल्म में काम करेगी…!रेहान- बस जूही आ जाए, मैंने जो कहा वो काम भूलना नहीं ओके…!आरोही- ओके बाबा. मैं- ओह, बहुत उतावले हो मेरी फ़ुद्दी देखने के लिए?मैंने अपनी पेंटी उतारी और अपनी दोनों टांगें वेबकैम की तरफ कर दी, वो मेरी चूत पूरी तरह देख रहा था.

! यह तो जीवन की कला है।फिर हम दोनों के बीच एडल्ट बातें शुरू हो गईं। बातों ही बातों में मैंने उससे उसकी चूचियों का साइज़ पूछ लिया।अब तक हम दोनों बहुत खुल चुके थे।उसने भी एक मुस्कान दी और बताया- 32. मगर उस बहनचोद का क्या करोगे यार?रेहान- कल सुबह मैं आरोही के मुँह से उन दो हरामियों का नाम पूछूँगा और उसके बाद उन दोनों के साथ इस हरामी को भी खत्म कर दूँगा…साहिल- रेहान मैं मारूँगा उन कुत्तों को.

फ़क’ की आवाज़ कमरे में गूँजने लगी थी और यहाँ मैंने अपने झटकों की रफ़्तार बढ़ाई वहाँ बाहर बारिश ने अपनी भी झूम कर बरसना आरम्भ कर दिया था।‘हाँ.

उसको बिस्तर पर लिटा कर कमरे से बाहर निकल गई।दीपाली- उसके बाद तेरे मन में दीपक का ख्याल आया।प्रिया- नहीं यार उसके बाद मैं अपने कमरे में आ कर सोचने लगी. गावठी सेक्सी विडीओगुब्बारे भी नीचे खींचे… अब अच्छे से ब्लोउसे के बटन लगा दिए, नीचे का बटन नहीं लग रहा था… तभी थोड़ी सांस अंदर ली और लग गया…मुझे अलग सा लग रहा था, मैंने आईने में अपनी पीठ देखी, सुंदर दिख रही थी, खुद को आईने में देखा बहुत सुंदर लग रहा/रही थी… पर बाल छोटे थे…तभी याद आया कि मम्मा का नकली बालों का गुच्छा था. एचडी सेक्सी वीडियो जापानदिल के आँगन में चाँद का दीदार हो गया,हम उन्हें देखते ही रह गए,वो बादलों में खो गया,हमने बादलों के हटने का इन्तजार किया,जब सामने आया तो वो किसी और का हो गया।. एक हाथ से उसने सुन ओ सखी, स्तन दबाये और भींच लियामैंने गर्दन को ऊपर कर, उसके हाथों को चूम लियादोनों बाँहों से भींच मुझे, साजन ने करीब और खींच लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

आप को मेरी कहानी कैसी लगी? मैं अपने जीवन की और भी बहुत सी घटनाएँ आपसे शेयर करूँगा, फिलहाल इतना ही काफ़ी है.

बहुत खुजली हो रही है आ उफ़फ्फ़…!राहुल ने 69 का पोज़ बनाया और अपना मुँह चूत पर टिका दिया। आरोही ने जल्दी से लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी।पाँच मिनट भी नहीं हुए थे कि राहुल ने अपना कंट्रोल खो दिया।राहुल- आ. ?तब मैंने कहा- नहीं, आजकल की कोई लड़की मुझे पसंद आती ही नहीं।तो फिर कैसी लड़की पसंद है…!” उन्होंने फिर पूछा।मैं कुछ देर चुप रहा और फिर कहा- पता नही।कुछ देर बाद मैंने पूछा- आंटी, आपको अंकल की याद नहीं आती है।तब वो थोड़ी उदास हो गईं, फिर कहने लगीं- नहीं…!फिर मैंने हैरानी से पूछा- क्यों?उन्होंने जवाब दिया- क्योंकि उन्हें मेरी कोई परवाह ही नहीं…. सब दिख रहा था। मेरा लंड तो चड्डी में से बाहर आ गया, पर मैं पानी के अंदर था तो किसी को पता नहीं चला। थोड़ी देर मैं दोनों बाहर निकल गईं।मैंने कहा- मैं अभी आता हूँ।मेरा लंड बैठ नहीं रहा था, तभी सोनम दीदी ने अपने कपड़े उठाए और पेड़ों के पीछे चली गईं। मैं समझ गया कि वो कपड़े बदली करेंगी। मैं चुपचाप पेड़ के पीछे छिप गया। सोनम दीदी ने अपनी ब्रा उतार दी।अय.

पहले तो थे धीरे-धीरे, अब स्पंदन क्रमशः तेज हुएअंग ने अब अंग के अन्दर ही, सुख के थे कई-कई छोर छुएतगड़े गहरे स्पंदन से, मेरा रोम-रोम आह्लाद कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. सच क्या है प्लीज़ यार…!रेहान- जान मैं तुमको सरप्राईज देना चाहता था, पर तुम हो कि नहीं मानोगी…! तुमने सही कहा वो आदमी रूम में आया था और जानती हो वो कौन है…!जूही- मैंने कहा था न. उन्न्नन्ही …री ! और ज़ोर से चोद ! तूने तो लगता है अपने सरप्राइज का भी भुरता बना दिया। इतना ज़ोर से चोद रहा है हायय री.

चूची वाली सेक्सी

Kunvari Chacheri Bahan ko Chod Diyaदोस्तों मेरा नाम अम्बुज है और मेरी उम्र 30 वर्ष है, मैं नई दिल्ली का रहने वाला हूँ।यह कहानी एकदम सच्ची है. शोना- अच्छा जी ! तो क्या देखना है आपको?मैं- सब कुछ जो तुम दिखाना चाहो !मेरी आँखों में चमक आ गई थी। उस वक़्त शायद शोना ने भी उसे महसूस कर लिया था।शोना- मेरे लिए यह सब बिल्कुल नया सा है। बहुत अजीब सा लग रहा है। मैं नहीं कर पाऊँगी. देखो, हम थोड़ी महफ़िल सजा लें।दोनों दारु पीने लगे। मैं उनको कुछ न कुछ देने तो जाती ही जाती थी। मौसा जी की तिरछी नज़र ने मेरे जिस्म में भी कुछ पल के लिए हलचल की थी।मेरे देवता जी जल्दी टल्ली होते थे।तभी मुझे माँ का फ़ोन आया, मैं सुनने के लिए बाहर पोर्च में खड़ी बात कर रही थी, तभी किसी ने पीछे से मेरी उभरी गांड को सहलाया। मैं चौंकी और घूमी.

इसके कारण ये ऐसा लग रहा है।दीपाली चौंकते हुए विकास को देखने लगती है।विकास- अरे इसमें चौंकने वाली क्या बात है.

अब मुझे नहीं पता कि उस महिला मित्र की यह कहानी कहाँ तक सच है पर यह बात मैं मानता हूँ कि इस दुनिया में ऐसे बहुत से नर मादा होते हैं जो रिश्तों को भूल कर आपस में सेक्स करते हैं.

!”और वो छटपटा रही थी। मैंने दोनों हाथों से उनके स्तनों को दबा रहा था और मुँह से एक-एक करके पपीते चूस रहा था।फिर मैं एक हाथ से उनके चूत के बालों पर हाथ फिराने लगा।वो उछल-उछल कर चिल्ला रही थी, शिशिर और जोर से करो. मैंने तिरछी नजरों से देखा कि उसका लंड अब खड़ा होने लगा था, मेरे हिलने डुलने से मेरा कुरता मेरी जांघों तक चढ़ गया था. बिहार की सेक्सी पिक्चर हिंदी!मैं भी बोली- आप लोग बेफिक्र हो कर जाओ और मुझे एक बार सेठ जी की सेवा का मौका तो दीजिए, फिर बाद में सेठजी से पूछ लेना कि सेवा मे कोई त्रुटि तो नहीं हुई और अगर सेठ जी को कुछ कमी लगे तो नाचीज़ का सर कलम कर देना !मैंने भी पहली बार खुल कर मज़ाक कर दिया।सुनील बोला- चलो आकाश भाई.

! मेरे चोदू-बलम… तुम्हारा लौड़ा बड़ा जानदार है… मारो राजा धक्का… और ज़ोर से… हाय राजा और ज़ोर से… और ज़ोर से…… हाय. साली का तिल खा जाऊँ। आज शादी के पाँच साल बाद भी वो चूत की रानी और बुर की शहजादी है।हम रोज घंटों बात करते और रोज रात को मैं उसकी पेलाई करता और वो बहुत चिल्लाती और जब उसके बुर से पानी निकलता… तब कहीं जाकर शांत होती. नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम प्रवीण है, 24 साल। मैंने हाल ही में अपनी इंजीनियरिंग के चार साल पूरे किये हैं और M.

उसके बाद वहाँ से निकल गए।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !उधर अनुजा भी अपनी सहेली के यहाँ से घर आ गई तो उसने देखा कि विकास सोया हुआ था।दीपाली की चुदाई के बाद उसको अच्छी नींद आई।अनुजा- अरे क्या बात है मेरे सरताज. लौड़ा डालोगे तो मेरी जान ही निकल जाएगी।अनुजा- उफ़फ्फ़ अरे कुछ नहीं होगा तू बस चूत रस का मज़ा ले बाकी विकास अपने आप संभाल लेगा।दीपाली चूत चाटने में लग गई और विकास ऊँगली से उसकी गाण्ड को चोदने लगा.

मेरा तो कलेजा उछल रहा था, मेरा लौड़ा मुझे उकसा रहा था कि इसी समय पटक लो साली को और चोद दो, पर गांड फट रही थी कि कहीं बिदक गई तो हंगामा कर देगी और फिर सब गड़बड़ हो जायेगा.

तभी मैंने वैक्यूम क्लीनर लगाया और उससे अपने निप्पल चुसवाए।बड़ा मजा आया पर मैं जो रेखा के साथ करना चाहता था वही आज मैं अपने साथ कर रहा था… मैंने चिमटा लेकर वो निप्पल पार लगाया उससे उनको खींचा, ऐसा लगा कि रेखा के ही निप्पल मैं खींच रहा हूँ।मैंने और मजा करने की ठान ली… अब मैंने एक मोमबत्ती ली… उसे जला दिया… उसे एकदम से बुझा कर झट से अपने निप्पल पर लगा दिया. ज़बरदस्ती कभी करता मैं…और जो तैयार हो उसको छोड़ता नहीं…मधु के साथ भी मैं वैसे ही मजे ले रहा था… मुझे पता था कि लौंडिया घर की ही है… और बहुत से मौके आएँगे… जब कभी अकेला मिला तब ठोक दूँगा…और अगर प्यार से ले गई तो ठीक. उसने प्यार से मेरी पीठ सहलाई और कहा- बुलबुल! मैं तो समझा था कि तुम मुझसे नहीं चुदवाओगी… पर तुम तो खूब चुदी हो… मजा ले ले कर चुदी हो!मैंने एकदम कहा- मजा आ रहा था… लेकिन तू फिसड्डी निकला रे! और चोद ना… हाय रे…लेकिन वो तो झड़ चुका था, मेरी सन्तुष्टि नहीं हुई थी.

भाई बहन की चुदाई की सेक्सी पिक्चर लेखक : अमन सिंहहेलो दोस्तो, मेरा नाम अमन है, मैं हरियाणा में अम्बाला का रहने वाला हूँ। मैं आपको एक सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ, यह कहानी मेरी और मेरे दोस्त की बहन के बारे में है। उस समय मैं एन्जीनियरिंग के दूसरे साल में दिल्ली कॉलेज में था और मेरा दोस्त अमित मेरे साथ ही रहता था, अमित का घर नॉएडा में है। हम पक्के दोस्त थे।बातों बातों में उसने बताया था कि उसकी बहन बी. !रेहान- ओके, मैं 9 बजे आऊँगा लेकिन यार एक बात कहूँ मुझे उसकी कुछ पिक लेनी होगी, ताकि उसको लगे कि रियल में उसको फिल्म में रोल दिलवा रहा हूँ।राहुल- हाँ क्यों नहीं यार.

ट्रेन चल पड़ी और दो मिनट के बाद आंटी वापस आ गईं। वापस आकर आंटी ने मुझे हिलाया, जगाया, कितनी देर बैठा रहेगा, थोड़ा सा लेट जा वरना तबियत ख़राब हो जाएगी। चल तू अपना सर मेरी गोद में रख कर लेट जा. कैसे पैक करोगे… मेरे मियां को दाग पसंद नहीं है समझे बुद्धू…मनोज- कह तो ऐसे रही हो जैसे अब तक बिल्कुल साफ़ और चिकनी हो… न जाने कितने दाग लग गए होंगे…सलोनी- जी नहीं… मेरी उस पर एक भी दाग नहीं है. शोना- अच्छा जी ! तो क्या देखना है आपको?मैं- सब कुछ जो तुम दिखाना चाहो !मेरी आँखों में चमक आ गई थी। उस वक़्त शायद शोना ने भी उसे महसूस कर लिया था।शोना- मेरे लिए यह सब बिल्कुल नया सा है। बहुत अजीब सा लग रहा है। मैं नहीं कर पाऊँगी.

सेक्सी वीडियो हद २०२१

उसको कहना बस नॉर्मल पिक लीं और अन्ना से मिलीं, उन्होंने टेस्ट के लिए कल बुलाया है। इसके अलावा ज़्यादा बात भी मत करना ओके. !’ मैंने कहा।उन्होंने हाथों से अपनी चूत को फैलाया, मैंने अपने लण्ड का सुपाड़ा उनकी चिरी हुई चूत में अन्दर लगा कर ऊपर-नीचे घुमाया। मेरा लण्ड गीला हो गया।उन्होंने मुझ को कमर से पकड़ लिया और कहा- चल अब अपने लण्ड को अन्दर घुसेड़…. प्रेमशिर्ष भार्गवटिप–टिप बरसा पानी, पानी ने आग लगाई…आग लगी दिल में तो, साजन तेरी याद आई !तेरी याद आई तो, जल उठा मेरा भीगा बदन…मैं क्या करूँ….

! अब कल उसके पास जाना है, आओ मैं तुमको समझा देता हूँ कि क्या करना होगा। वहाँ आ जाओ रूम में, आराम से समझाता हूँ।दोनों रूम में चले गए।आरोही- हाँ मैं तैयार हूँ. पहले तो थे धीरे-धीरे, अब स्पंदन क्रमशः तेज हुएअंग ने अब अंग के अन्दर ही, सुख के थे कई-कई छोर छुएतगड़े गहरे स्पंदन से, मेरा रोम-रोम आह्लाद कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

…मौसी हूँ।***साम्भा- मैं इन दोस्तों का क्या करूँ जो मैसेज का जवाब नहीं देते?गब्बर- कुछ नहीं, बस इनके हाथ काट दो और रोज़ इन्हें ब्लू फिल्म के क्लिप भेजो! तड़प-तड़प के मरेंगे साले !.

मेरा 7 इंच लम्बा और 5 इंच गोलाई का लंड शांत ही नहीं हो रहा था।मैं तुरंत अपने घर गया और बाथरूम में जा कर अपना लंड हिला लिया. इमरानअंकल- अरे नहीं बेटा… तू कहे तो मैं तुझको बिना पेटीकोट के ही साड़ी बांधना सिखा दूँ… पर आजकल साड़ी इतनी पारदर्शी हो गई हैं कि सब कुछ दिखेगा…सलोनी- हाँ हाँ आप तो रहने ही दो… चलो मैं ये दोनों कपड़े पहन कर आती हूँ ! फिर आप साड़ी बांधकर दिखा देना…उसने पेटीकोट और ब्लाउज हाथ में लिये. वो बोला- देख रे, अगर तूने यह बात किसी को भी बताई तो झूठ केस में जेल में डाल कर पूरी रात तेरी गाण्ड में मिर्च का डंडा घुसा दूँगा.

!मेरा लण्ड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा, जो कि मैडम से छुपा नहीं था। जब मैंने देखा कि मैडम गर्लफ्रेंड की बात तक आ गईं, तो मैंने हिम्म्त करके पूछा- मैडम यह चैनल आप देखती हो?मैडम मेरे पास आकर बोलीं- हाँ. !”ह्म्म्म्म… बोलो”आज आप बहुत ही मूड में लग रही हो? क्या बात है?”बस यूँ ही… तुम्हारा ख्याल आ गया।”कैसा ख्याल आंटी?”मैं सोच रही थी कि इतने दिनों तक एक मर्द खुद को चुदाई के बिना कैसे रख पाएगा? इसलिए मैंने सोचा कि आज तुम्हें…!”मेरा बहुत ख्याल रखती हो आंटी।”हाँ बेटा. ओह तुम दोनों ने मेरी नींद का सत्यानाश कर दिया… तू इधर आ और अब तुम दोनों एक दूसरे की सूसू को देखते रहो.

फिर कुछ देर वो वैसे ही पड़े रहे और कुछ होने के आसार नहीं दिखे तो मैं भी नीचे आ गया।सुबह जब दीदी मुझे जगाने आई तो उनके कटे हुए होंठ को देख कर मेरी लंड ने एक बार फिर ज़ोरदार ठुमका मारा.

बीएफ वीडियो जींस वाली: !”उस रात मुझे खुलकर नींद आई, हल्का जो होकर सोया था।उसकी प्रसाद के साथ रहने वाली बात मेरे दिमाग में बैठ गई। सोचा कल ही उसके सामने प्रस्ताव रखूँगा। अभी मुझे उसके साथ ये बात करनी ही थी कि वो मुझसे पहले ही यही बात सोच चुका था।बोला- सनी यार अलग-अलग किराया देते हैं. हमारी बात हो ही रही थी कि तब तक सुनील अन्दर आ गया, अन्दर आते ही मेरे पति से बोला- यार बड़ी देर कर दी?फिर मुझसे बोला- तू तैयार हो गई?मैंने ‘हाँ’ में सिर हिलाया।फिर वो बोला- वाह….

तुम्हारी बहुत याद आ रही है !इशरत की कामुक आवाज़ सुनते ही मेरे लंड में हलचल होने लगी- इशरत क्या कर रही तो तुम, सच सच बताओ?इशरत- आह. पूरी रात हमारी है।मैं बोला- रोक मत मनु, बड़ा मजा आ रहा है।बाद में मनु ने अपने कपड़े उतारते हुए मेरे भी कपड़े उतरवाए।क्या लग रही थी वो ब्रा और चड्डी में. जान ! इसीलिए तो मैंने कुछ इंतजाम कर के रखा था। तुम चारों तो मुझे खा जाओगी और मैं थक जाता इसलिए मैंने अपने दो साथियों को और बुलाया है।श्रुति और रुबीना साथ में बोली- किसका इंतजार है.

फंस जाता तो फंस जाता। जो होना है होगा पर इस समय चुदाई में ध्यान लगाओ मेरी रानी…! आज चुदाई ना होने से मन बड़ा बेचैन था, उससे ज़्यादा तुम्हारा राज जानना चाहता था …! अब चोदने का मज़ा लेने दो.

मेरा पहली बार था तो थोड़ी चमड़ी कट गई लेकिन मैं धीरे धीरे धक्के देने लगा और गति बढ़ाई।अब उसकी और मेरी मादक आहें कमरे में गूंज रही थी, मैं कभी उसके बूब्स तो कभी कान चाट रहा था और कभी उसकी गांड में भी उंगली कर रहा था।वो चिल्ला रही थी- फक मी हार्ड ! आह और जोर से… आह चिंटू ! माह लवली फ्रेंड ! और डाल !बीच में गाली बक रही थी तो मैंने भी उससे कहा- डोंट वरी जान ! आज तुझे नहीं छोडूंगा. साजन बहके-दहके-चहके मोहे जंघा पर ही बिठाय लियामैंने भी उसकी कमर को अपनी जंघाओं में फँसाय लियाउस रात की बात न पूछ सखी जब साजन ने खोली मोरी अंगिया!. जिसके कारण विकास को अब तक कुछ पता नहीं लगा।वो बस लौड़े की चुसाई का आनन्द ले रहा था और प्रिया भी मज़े ले रही थी।विकास- ओफ्फ आह्ह.