देवर भाभी के बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,ಇಂಡಿಯನ್ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी गाना बंगाली: देवर भाभी के बीएफ पिक्चर, और मुझे मना कर रही हो।और ये कह कर मैं मौसी के जिस्म पर चढ़ गया और अपना लंड उनने मुँह में ज़बरदस्ती देकर उनके मुँह को ही चोदने लगा और धीरे धीरे वो भी लौड़ा चूसने लगीं।करीब 10 मिनट के बाद मैं उनके मुँह में ही झड़ गया और उन्हें पहले अपना पानी फिर धीरे-धीरे उनके मुँह में मूत कर उन्हें अपना मूत भी पिला दिया.

देसी सेक्सी बिहारी

क्योंकि अगर उसे दर्द हुआ तो उसका डर उसके ज़हन में हमेशा के लिए बैठ जाएगा. मराठी sexyमैंने थोड़ी देर बाद मैं उसके पेट पर अपना हाथ लगा कर सोने लगा, पर नींद तो दोनों की ही नहीं आ रही थी.

और लैपटॉप खोलकर कुछ परेशान सी है।तो मैं समझ गया कि वो अपने नेट फ्रेण्ड से चैट करना चाहती है।इसलिए मैं फ्रेश होकर बोला- मैं कुछ देर घूम कर आता हूँ।यह कहकर मैं बाहर चला गया और नेटकैफे जाकर अनु से चैट करने लगा।मैं- हाय अनु. मेहरारू सेक्सी वीडियोमैं उस समय टी-शर्ट और कैपरी पहने हुआ था जबकि उसने लोवर और टी-शर्ट पहना था।क्योंकि मैंने पहले भी कुछ लड़कियों को किस किया था.

खाली कैन रख दिया था।सुबह जब हमारी काम वाली आंटी आईं तो उसने कहा- कैन को काट कर गिलास बना लो.देवर भाभी के बीएफ पिक्चर: ।नहा कर मैंने खाना खाया और माँ को कल रात की घटना के बारे में बताया।माँ ने कहा- यह सब तो होता ही रहता है.

जीजू का लौड़ा हाथ में पकड़ कर सहलाते हुए मैंने रवि के लौड़े को पकड़ झुक कर चूम लिया.दोनों औरतों ने एक साथ एक दूसरी की चूत को चाटना और अपनी-अपनी जबान से एक दूसरी की चूत को चोदना शुरू कर दिया.

सेक्स इंग्लिश मूवी - देवर भाभी के बीएफ पिक्चर

फिर वो मेरे पीछे आ गया, इस बार उसने मुझे किस करना स्टार्ट कर दिया और शायद उसने अपने मुँह में सेक्स की गोली दबा रखी थी.मैं दरवाजे के बगल में बने रोशनदान से संतोष को देखने के लिए वहाँ रखी चेयर के ऊपर चढ़कर देखने लगी।यह क्या.

इसलिए ये छोटा हो गया है। जब तेरा बड़ा लंड अन्दर जाएगा तो यह चौड़ा हो जाएगा।मोनू शर्मा गया।मैंने कहा- मोनू मेरी चूत चाट. देवर भाभी के बीएफ पिक्चर उसने सन्नी को फ़ोन किया और बता दिया कि सारा माल यहाँ रख दिया है।तो सन्नी ने कहा- तुम वहीं रूको.

लेकिन ये महाशय अपना सारा माल तुम्हारे अन्दर डाल कर जरा लुल्ल से हो गए हैं.

देवर भाभी के बीएफ पिक्चर?

उठी हुई गाण्ड तो ऐसी थी कि देखते ही लण्ड खड़ा हो जाए। उसका रंग दूध जैसा सफेद था। उसका व्यवहार भी बहुत अच्छा था।चूंकि हम उसके पति से मिलने गए थे. क्या मैं अपनी प्यारी सी बहन से ये भी नहीं पूछ सकता?मैंने कहा- नहीं भाई. मयूरी उसके एकदम पास उसके बिस्तर पर खड़ी हो गयी, जिससे उसकी चूचियां ठीक विक्रम के चेहरे पर हों.

दादा जी ने अपनी धोती उतार कर फेंक दी और मैंने भी उनका साथ देते हुए उनका कुर्ता ऊपर को निकाल दिया. उनके साथ मेरी बात हो गयी कि वो लोग मुझे उनका एक रूम शेयरिंग में दे देंगे. वो तड़फ उठी।मैंने उसके पैर खोल दिए और अपनी जीभ को उसकी बुर के मुहाने पर टिका दिया। अपनी जीभ से उसकी बुर की फांकों को चाटते हुए जीभ को ऊपर-नीचे फिराने लगा।वो मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी, मैं जोर-जोर से चाटने लगा.

जहाँ मैं चुदाई कर रहा था।अन्दर आते ही शिखा ने मुझसे कहा- विशु, सपना तुम्हारा लंड देखना चाहती है और खुद शिखा ने शालू की चूत से मेरा लंड निकाल लिया और सपना के हाथ में पकड़ा दिया।जैसे ही शिखा ने मेरा लंड सपना के हाथ में पकड़ाया. पर उसने मुँह हटा दिया।फिर धीरे से मैंने उसे लिटा दिया और और उसके चूतड़ों के नीचे एक पिलो रख दिया. मैं और मेरी चाची दोनों छत पर सोते थे। मैं कभी चाची के बारे में ग़लत नहीं सोचता था.

पर चाचा ताबड़तोड़ मेरी चूत मारते हुए मेरी चूत में झड़ने लगे। चाचा को मेरी बातों का एहसास हो चुका था।मैं किसी तरह चाचा को ढकेल कर प्यासी और वीर्य से भरी चूत को अनमने से ना चाहते मैं अपनी छत पर जाकर सीढ़ी से नीचे उतर गई।मैंने जाकर गेट खोला. प्रीति धीरे से मुस्कुराईं और मेरे सीने से लगते हुए कहने लगीं- तेरे लंड का रस बड़ा मस्त है.

वो मस्त निगाहों से लौड़े को निहार रही थी।मैंने उसकी पैन्टी उतारनी चाही.

कभी कानों पर किस कर रहा था। थोड़ा नीचे आकर मैंने उसकी चूची पर हाथ रखा और हल्के से दबाया.

पर हिम्मत करके मैंने उसे अकेला पाते ही प्रपोज कर दिया।उसने मना कर दिया।मैं उदास होकर कक्षा में आकर बैठ गया। थोड़ी देर बाद मेरी ही कक्षा की एक लड़की पूजा ने आकर मुझसे कहा- सोनिका तुझे नीचे कॉमन रूम में बुला रही है।मैं नीचे गया तो देखा कि सोनिका वहाँ एक कोने में खड़ी मेरा इंतज़ार कर रही थी।मैं उसके पास चला गया।वो बिलकुल डरी हुई और सहमी सी खड़ी थी. पर रिश्तेदारी के कारण मैं कुछ बोल न सका और तब इतनी ज्यादा कुछ फीलिंग भी नहीं थी. जब उसने हिलना शुरू किया तो मैंने भी जोर-जोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। वो भी उछलने लगी और ‘आह्ह.

लेकिन चाची बहुत ही सुन्दर थीं।चाची के पति मतलब हमारे चाचा को ऑफिस के काम से कुछ दिन के लिए बाहर जाना पड़ा तो पहले तो हमारी चाची घर में अकेले ही सोती थीं. ’मेरा इतना कहना था कि चाचा मेरी जाँघों के बीच मुँह डाल कर मेरी मुनियाँ को चाटने लगे। अपनी चूत चाचा की जीभ का स्पर्श पाकर मैं गनगना उठी, मेरे मुँह से सिसकारी फूट पड़ी- आई सीईईई. थोड़ी देर बाद मैंने उसे नीचे उतार दिया और बोला- रानी पता चला मेरे लौड़े का दम? ये तेरे जैसी दस छिनालों को एक ही रात में जन्नत दिखा सकता है.

पर उसने कुछ नहीं कहा।यह देखकर मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने अपने दोनों हाथ उसके कंधे से ले जाकर उसके दोनों संतरे जैसे मम्मों पर रख दिए.

फार्म हाउसला आम्ही पोहचलो तेव्हाच दृश्य तुम्हाला वाचून माहित असेलच. जोकि हर लड़के के लंड में सुबह उठते समय होता है।चाची तो ये करके रसोई में चली गईं लेकिन मैं विचार में पड़ गया।तभी चाची ने आवाज़ दी. मैं जितना रो रही थी, दर्द के मारे जितना ज्यादा चिल्ला रही थी, जगत अंकल और उतनी ताकत से जोर जोर से चोदने में लग गए थे.

एकदम हँसमुख और एक्टिव औरत है।बातें करते-करते उसने मेरा मोबाइल नंबर माँगा और मैंने दे दिया. आख़िर क्या हैं ये फैंटेसीज?तो वो मुस्कुराने लगी और बोली- जब अगली बार मिलेंगे तो बताऊँगी।लगभग 20 मिनट बाद दरवाजे पर दस्तक हुई. जैसे ही मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर लगाई, उसकी सिसकारी निकलने लगी और वह उछल पड़ी.

वो होंठों से नीचे आ कर मेरे मम्मों को मसल मसल के चूस रहा था और मेरी सब बातों को इग्नोर कर रहा था.

तो वो बोली- मुझे तुम्हारी मलाई टेस्ट करनी है।मैं उसके ही मुँह में झड़ गया. यानि मैं कहीं भी लंड घुसाता और वो बड़ी खुशी से घुसवा भी लेती।यह तो हुई मेरी कहानी। यह कहानी इतनी विस्तार से बताने का कारण यह बताना है कि सोनू मेरे लिए कुछ भी कर सकती थी। आप लोगों को भी मेरी कहानी कोई झूट न लगे।मित्रो.

देवर भाभी के बीएफ पिक्चर गिलास रखा था। सामने हेंगर पर कुछ कपड़े टंगे थे जो चाचा के ही लग रहे थे।मैं पूरे कमरे का मुआयना करके वहाँ चाचा को ना पाकर मायूस होकर कमरे से बाहर आ गई। फिर ना चाहते हुए मैं भारी कदमों से अपनी छत की तरफ बढ़ी ही थी कि तभी पीछे से चाचा के पुकारने की आवाज आई- बहू यहाँ क्या कर रही हो. com पर पढ़ रहे हैं।उसकी सलवार अब जमीन पर पड़ी हुई थी, मैंने उसके सारे कपड़े एक-एक करके उतार दिए, अब मैंने अपना पैंट उतार दिया।अभी मेरा लण्ड 5 इंच का था.

देवर भाभी के बीएफ पिक्चर अब बस अब आ जाओ।वो कमर उठा-उठा कर मुझे बुला रही थी। मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी. पूछने पर उसने बताया था कि वो कम उम्र में ही चुदाई कर चुकी थी, अब तक जब मौका मिलता है तब कर लेती है.

क्या??मयूरी- अरे यही जो तुम देख रहे थे?और अपनी मनमोहक चूचियों की तरफ देखा.

देहाती सेक्सी वीडियो झकास

जिससे मेरा पूरा लण्ड अंजलि की चूत की जड़ तक घुस गया। वो बहुत तड़फ रही थी। मैं लौड़ा आगे-पीछे करते हुए अंजलि को चोदता रहा।अब उसे भी मजा आने लगा व दर्द भी नहीं हो रहा था. मुझे क्यों बुलाया है?मुझे पता तो था ही कि वो भी वही चाहती है जो मैं चाहता था. फिर वो मुझे एक पार्किंग में ले गया और उधर से अपनी बाइक उठा कर मुझे जालंधर के ही एक मुहल्ले में ले गया.

जैसे मुझ पर कोई नशा छा रहा हो। वो बीच-बीच में मेरे चूचुकों को दाँतों से काट लेता, मैं चिहुँक उठती. कितना अच्छा लग रहा है।अचानक मैंने अपना लौड़ा उसकी चूत के छेद के आस-पास घुमाया।वो सीत्कार उठी।अब खेल की शुरूआत थी. कोई फर्क नहीं पड़ने वाला।मैंने पूछा- क्यों?तो उसने कहा- मैं वैसलीन लगाकर आई हूँ।‘साली नमकीन पानी पीने का इरादा था.

मैं भी उनकी तरफ देखकर मुस्कुराया।उन्होंने हौले-हौले हाथों से पूरे लण्ड को क्रीम लगा दी.

तो मेरी चाची अपने दरवाजे पर खड़ी थीं और मेरी दादी बाल्कनी में खड़ी थीं।चाची बिल्कुल साफ सुथरी खड़ी थीं। मतलब किसी ने उनको अभी तक बिल्कुल भी रंग नहीं लगाया था. मालती ने मेरी तरफ इशारा करते हुए कहा- इसने आज तक असली लंड लिया ही नहीं है. मैं उनकी गोदी में ही रही और जहाँ मेरी मौसी का घर था, वहाँ तक गेट पर मैं यूं ही गोद में आ गई.

प्रिया मेरा इशारा समझ गयी थी, इसलिए उसने एक ही झटके में अपनी पेंटी को उतार फैंका और बिना कुछ कहे चुपचाप मेरे सिर के दोनों तरफ पैर करके अपने घुटनों के बल ऐसे बैठ गयी कि उसकी गीली चुत सीधा ही मेरे मुँह पर लग गयी. मैंने मनीष को फ़ोन करके बताया कि आज क्या हुआ तो वो बहुत खुश हुआ कि भैया पांच दिन नहीं रहेंगे तो भाभी को चोदने का मौका मिल जाएगा. दादा जी भी अपने लंड को तैयार ना देख कर मुझ पर से लुड़क कर बेड पर लेट गए.

सिम्मी एक क़ातिलाना स्माइल देते हुए बोली- अच्छा जी?मैं आँख मारते हुए बोला- वैसे भी अब आप मेरी पार्ट टाइम गर्लफ्रेंड ही तो हो. बाकी के पांचों ने भी अपना नम्बर लगा दिया। विजय ने इस बार वीर्य उसके मुँह पर ऊपर डाल दिया।बाद में अमर ने उसे उल्टा लिटा दिया।अब यह साफ था कि अब उसकी गाण्ड का बाजा बजने वाला है।अमर ने फिर एक झटके में लण्ड अन्दर धकेल दिया। आधा इंच लण्ड उसकी चूत में जा चुका था.

फ़िर कल रात से हम तीनों सेक्स करेंगे।फ़िर मैंने झटके से रीना को पकड़ा और किस करने लगा।मैं धीरे-धीरे उसकी चूचियों को दबा रहा था और फ़िर उसके कपड़ों के साथ ब्रा और पैन्टी को उतारकर उसकी चूचियों को चूसते हुए उसके हाथ में अपना लन्ड पकड़ा दिया।वो बोली- उफ़्फ़. मुनीर ने अपने दूसरे पति को तलाक दे दिया, जबकि माइक पहले से ही तलाक शुदा थे. थोड़े समय में वो भी आ गई और जिस साईड मैं खेल रहा था, वो उसी साईड लाईन के पास आ के बैठ गई.

क्योंकि मुँह में सारा वीर्य चला गया था लेकिन भाभी ने माल थूक कर लण्ड को फिर से मुँह में डाल लिया।अब मुझे से भी रुका नहीं गया और मैंने भी उनको 69 की अवस्था में लिटा कर उनकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। भाभी ‘आहह.

फिर मैंने उसे उठाया और उसे बिस्तर पर कुतिया सा झुका दिया और उसे पीछे से चोदने लगा. मैंने अपना एक हाथ उसकी पैंटी में घुसा दिया और उसकी चुत को रगड़ने लगा।वह भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी. मुझे तो बहुत मज़ा आता है। लेकिन अब तेरे जीजू ने लाना बंद कर दिया है.

प्रिया मेरे लंड को चूस तो रही थी … मगर उसे शायद मेरे लंड को चूसना अच्छा नहीं लग रहा था क्योंकि मेरे लंड को चूसते हुए वो बार बार थूक भी रही थी. उसके बाद मैंने उसको गोद में उठा लिया और उसको लेकर उसके बेडरूम में चला गया। वहाँ उसको बिस्तर पर पटक दिया और उसके ऊपर चढ़ गया।फिर उसके होंठों को चूमने लगा और उसकी ब्रा को निकाल दिया जो अभी तक उसके कंधे के सहारे चूचियों पर लटकी हुई थी।हाय.

उसकी चूत भी गीली हुई पड़ी थी और मेरे लंड को उसकी गर्मी पूरी तरह से महसूस हो रही थी. थोड़ी ही देर में हम दोनों ऐसे घुल-मिल गए थे जैसे कोई गर्लफ्रेण्ड और ब्वॉयफ्रेण्ड हो।मनप्रीत को अब नींद आने लगी. तभी मेरे करीब आना और जाकर अब सो जाओ।यह कहते हुए मैं अन्दर से दरवाजा बंद करके साँसों को नियंत्रित करने लगी। मैंने नायर को जानबूझ कर यह कही थी.

व्हिडिओ सेक्सी चुदाई चुदाई

मैं शादीशुदा हूँ और ऑनलाइन शॉपिंग साइटों के प्रोडक्ट के लिए मॉडलिंग करता हूँ।इस मॉडलिंग और लाइफ से जुड़ी काफी कई सारी बातें होती हैं.

पर डरती थी कि कहीं तुम और लड़कों की तरह मुझे धोखा न दे दो।मैंने उससे कहा- डरने की कोई बात नहीं क्योंकि मैं भी तुम्हें चाहता हूँ और बहुत पसंद करता हूँ।वो यह सुनकर बहुत खुश हुई और मेरे गले लग गई।हाँ किसी भी वक़्त कोई भी आ सकता था. कोशिश करता हूँ।उसने मेरे ही सामने उसे काल किया पहले तो वो इधर-उधर की बातें करता रहा. क्या काम है?’‘तुम चाय बना लाओ और भाई साहब के साथ जाकर मार्केट देख भी लो और सब्जी भी ले लेना.

लेकिन मैं भी गर्म हो गयी थी; जीजू जब मेरी चूची दबा रहे थे तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और मुझे अपने बॉयफ्रेंड की याद आ रही थी कि मेरा बॉयफ्रेंड भी मेरी चूची को ऐसे ही दबाता था. ’ करने लगी।कुछ टाइम बाद भाभीजान बोली- अब अपना लण्ड मेरे अन्दर डालो।तो मैंने अपना लण्ड भाभी की चूत के ऊपर रख दिया। लण्ड गीला था. सेक्सी एचडी हिंदी वीडियोउनके पति यानि मेरे फूफा जी आर्मी में हैं, इसलिए वे श्रीनगर में जॉब करते हैं.

’ की सिसकारियाँ निकल रही थीं।चूचियाँ चूसने के बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह की तरफ किया. फिर मैंने चुदाई की पोजीशन में आकर अपना लंड उनकी चूत पर सटाया और ज़ोर से धक्का लगाया.

पूरा तैयार था।मुझे मॉम-डैड का सेक्स सीन याद आ गया।मैंने अचानक कहा- उई मॉम कॉकरोच है. मैं- भाई मैं आपको अकेले में ‘आप’ ही बोलूँगी।भाई हँस कर बोले- जो हुक्म. आप कितना अच्छे और धैर्य से सेक्स का मज़ा दे सकते हैं, ये सब उसके ऊपर ही होता है.

पक्का उसकी ब्रा और क़मीज़ को उसके मम्मे सम्भालने में, माँ चुद रही होगी. उसने मेरा नाम पूछा और मैं क्या काम करता था उसकी जानकारी ली। उन्होंने मुझे बताया कि उनकी कंपनी कस्टमर सैटिस्फैक्शन का काम करती है।फिर उसने मुझे खड़ा किया और ऊपर से नीचे तक देखा और बोली- एक टेस्ट होगा. यूँ लगा मानो मेरा ही इंतज़ार कर रही हो।मैं भी दरवाजा खुलते ही उसको देखता रह गया.

मैंने विकी की तरफ़ देखा तो वो मुस्कुरा रहा था और मेरे दिमाग़ में बम फूट रहे थे कि ये सब क्या हो रहा है? मेरे पति जानते है मेरे मसाज़ बॉय सेक्स के बारे में?अपने पति को मैंने बोला कि थोड़ी देर में आपसे बात करती हूँ.

पेलोगे कैसे? मेरी चूत और गांड तो एकदम सूखी है।”अब तुम ही बताओ।” दोनों ने अर्थपूर्ण स्वर में कहा।थोड़ा सोचने की एक्टिंग करने के बाद उसने अपनी टीशर्ट उतार फेंकी और ऊपरी धड़ से नंगी हो गयी। उसके हल्के उभार मगर जबरदस्त एरोला और पफी निप्पल वाले वक्ष दोनों हवसियों के आगे अनावृत हो गये।देखो बेटा. यह बात उन दिनों की है जब हमारे रिश्तेदारी में शादी थी और घर के सभी लोग वहाँ जा रहे थे.

मैंने रेवती की तरफ देखते हुए उसे बैठने के लिए कहा और पानी पीने के लिए दिया. उसके मुँह से ‘लंड’ शब्द सुन कर मैं और गरम हो गई और मैंने कहा- चल अब अपनी रीमा दीदी की चूत और क्लिट चाट।मोनू ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा, वो कभी-कभी अपनी जीभ मेरी चूत में अन्दर-बाहर कर देता था।मैं बोली- शाबाश मोनू. मुनीर ने अपने दूसरे पति को तलाक दे दिया, जबकि माइक पहले से ही तलाक शुदा थे.

मैं भी पेशाब करने लगा। मैंने पानी से उसकी चूत धोई और उसने मेरा लण्ड धोया।फिर उसने एक गाऊन पहन लिया और मैंने एक लोअर और शर्ट। उसने फ़ोन से खाने आर्डर किया और हम टीवी देखने लगे।वो मेरे कन्धे पर सर रख कर मुझसे कहने लगी- अखिल तुम बहुत अच्छा चोदते हो. प्लीज़ मत करो।मैंने- कोमल अच्छे से घोड़ी बन जाओ ताकि तुम्हारे चूतड़ चौड़े हो जाएं और मेरी उंगली तुम्हारी गाण्ड में पूरी चली जाए।कोमल- सर आह्ह्ह्ह. क्योंकि एशियाई लोग अमरीकियों के मुकाबले शारीरिक रूप से छोटे होते हैं.

देवर भाभी के बीएफ पिक्चर वरना तेरी रीमा दीदी मर जाएगी।मैं सीधा लेट गई और मोनू को अपनी टाँगों के बीच आने को कहा।एक बार तो मैं उसका लंड देख कर सोचने लगी कि जिस चूत में हमेशा इससे कहीं छोटा लंड जाता था. तब उसने अपना हाथ हटा लिया और अपना मुँह मेरे लंड के पास ले आई और लंड सूंघने लगी और 2 मिनट के बाद अपनी जीभ से मेरे सुपारे को छुआ.

हिंदी एक्स एक्स सेक्सी मूवी

थोड़ी देर बाद मैं जब वाशरूम जाने के लिए कमरे से बाहर निकला तो मैंने देखा कि रेवती अपने कमरे में अकेले बैठकर उसी थाली में खाना खा रही थी, जिसमें उसने मुझे खिलाया था. उसका हमारे यहां आना जाना कुछ ज्यादा ही शुरू हो चुका था लेकिन उस वक्त मैं उसकी नियत नहीं समझ पाया था. मीठानंद ने तब तक चूत को चूसना जारी रखा, जब तक चूत में से पानी नहीं निकल गया.

पर लन्ड की सिर्फ़ टोपी ही अन्दर गई।वो जोर-जोर से सिसकारियाँ ले रही थी। फ़िर हमने धीरे-धीरे कोशिश की. मैंने कस कर मोनू को छाती से भींच लिया। मोनू के लंड ने मेरी गुलाबी चूत में गरम-गरम फव्वारा सा चला दिया और मैं बहुत ज़ोर से झड़ गई. हंसी मजाक वाला वीडियोपर मैं रेणु की चूत से अपना लण्ड एक पल के लिए भी बाहर नहीं निकालना चाहता था।उसके बाद तो मैं उसे कई बार चोद चुका हूँ।मुझे मेल करें कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी.

प्यार से सहलाने लगा।अब सोनी की सिसकारियाँ निकलनी शुरू हो गई थीं, मैं सोनी की ब्रा उतार कर उसके गोल-गोल चूचों को प्यार से चूसने लगा.

जब मैंने उनको पहली बार देखा था, तो उस टाइम रिया भाभी ने ब्लू जीन्स और लाल रंग का टॉप पहना हुआ था. केवल मज़ा आएगा और जब मौसा और मौसी के रहने पर तुम्हें रात में चोदूँगा.

मैंने नीतू रानी की चूत इतनी बजाई है कि साली जब देखो लौड़ा मांगती रहती है. हालाँकि मेरी कोशिश यही थी कि मेरा वजन मेरे ही पैरों और हाथों पर रहे।उसने चेहरा घुमा रखा था ताकि मुझे देख सके और मैं भी अपना चेहरा उसके इतने पास ले आया था कि मेरे होंठ उसके होंठों को छू सकें। उसने ही मेरे होंठों को पकड़ लिया और दोनों एक दूसरे के मजे लेने लगे।उफ. ’मेरा इतना कहना था कि चाचा मेरी जाँघों के बीच मुँह डाल कर मेरी मुनियाँ को चाटने लगे। अपनी चूत चाचा की जीभ का स्पर्श पाकर मैं गनगना उठी, मेरे मुँह से सिसकारी फूट पड़ी- आई सीईईई.

जल्द ही मीशू फिर गर्म हो गयी और मेरा लंड पैन्ट के ऊपर से ही मसलने लगी.

नहीं तो फाड़ दूँगी।वो एकदम से शॉक्ड हो गए और अपने गाल सहलाने लगे। इससे पहले कि मैं दूसरा थप्पड़ मारती. आ जाओ।वो मेरे कमरे में अन्दर आ गई और बिस्तर पर बैठ गई। उसके बाद मैं उसे उसकी प्रॉब्लम समझाने लगा। उस समय उसने रेड टॉप और ब्लू जीन्स पहन रखी थी। मेरी जब वो थोड़ा सा नीचे झुकी. मैं इतनी गर्म हो चुकी थी कि मेरी चूत से पानी की बौछार हो रही थी जिससे दादा जी का लंड भी भीग चुका था.

ऊंची एड़ी की सैंडलइस दम्पति ने मुझसे संपर्क करने के बहुत प्रयास किए, पर मैं ध्यान नहीं देती थी. चूचे चूसते चूसते मैं उसके ऊपर आ गया और एक हाथ नीचे ले जा के लोअर के ऊपर से ही उसकी फुद्दी को मसलने लगा.

हिंदी सेक्सी झवाझवी वीडियो

हमारे रिश्तेदारों में किसी की शादी थी, ये शादी पास ही के शहर में सम्मेलन था, उसमें होकर होने वाली थी. दर्द होगा।लेकिन सरिता के कहने पर वो मान गई।फ़िर मैंने धीरे-धीरे अपना लन्ड उसकी टाइट गाण्ड में डाला. तब तक वो भी अन्दर आ चुकी थी।वो अन्दर आकर मुझसे कहने लगी- मैं तुम्हारे गेट खोलने का ही इंतज़ार कर रही थी क्योंकि मुझे क्या पता था कि तुम दोनों में से किस टॉयलेट में हो।बस दोस्तो, बाकी की देसी कहानी आप अगले पार्ट में पढ़िएगा.

और जोर-जोर से चोदो!मैं भी उसकी दोनों टांगें ऊपर करके चोदने लगा। दोस्तों पिंकी की जो चीखें निकल रही थीं वे पूरे कमरे में गूंज रही थीं। जैसे ही उसकी चीख मेरे कान में पड़ती. फिर मैंने उन दोनों को लाइव कैमरे पे देखा, तो मुझे उन पर यकीन हो गया. गेट के सामने उतार कर राज अंकल ने अंकित को बोला- पहले तू अन्दर जाकर देख, सब सो रहे हैं या कि नहीं?तब अंकित अन्दर गया और फिर 2 मिनट में बाहर आकर बोला- राज अंकल, चुपचाप वन्द्या को अन्दर जाने दो, सब लोग अभी सो रहे हैं.

किस करते करते मैं उनकी चूत की तरफ आ गया और उनकी चूत में अपनी जीभ डालकर उनकी चूत से खेलने लग गया. मेरे पति की नौकरी की वजह से मुझे कई कई महीने बिना चुदे ही निकालने पड़ते. तभी मेरी माँ ने बताया कि वहां मेरे मामा की तरफ से रिश्ते में आने वाले भाई का परिवार रहता है और उनकी लड़की यानि मेरी भतीजी भी रहती है.

मुझे भाई से पैसे मिल जाते, तो जब भी भाभी को कुछ ख़ास मंगवाना होता या शॉपिंग करनी होती तो वो मुझे कॉल कर देती और मैं उसे घर से पिक कर लेता. ना तुम किसी को कुछ कहना। हम दोनों सब के सामने भाई बहन बन के ही रहेंगे। अब तुम ही बताओ ऋतु.

दर्द होगा।लेकिन सरिता के कहने पर वो मान गई।फ़िर मैंने धीरे-धीरे अपना लन्ड उसकी टाइट गाण्ड में डाला.

इसी लिये मैं जानबूझ कर उन तीनों भाई बहन के कमरे चला जाता ताकि अधिक से अधिक प्रिया के पास रह सकूं और हो सकता है प्रिया से अकेले में बात करने का कोई मौका ही मिल‌ जाए. सेक्सी फुल सेक्सी फुल सेक्सीराजू- आज से मैं तुझे अकेले में बीवी ही कहूँगा।मैं- आपका हुकुम सर आँखों पर।फिर हम लोगों ने खाना खाया खाते समय भी हम दोनों एक-दूसरे को खूब छेड़ रहे थे। तभी राजू भाई के फोन पर एक कॉल आया. सेक्सी सेक्सी पंजाबी वीडियोफिर जींस को उतार फेंका। फिर एक ही झटके में ब्रा उतार दी और पैन्टी को पैरों के नीचे ला दी. आज मेरी चूत पहले से ही पानी छोड़ने लगी थी क्योंकि मैं इस मूवी को देख कर आलरेडी बहुत गर्म हो चुकी थी.

सोनू क्या गजब की आइटम है तू इतनी सेक्सी इतनी चिकनी!मुन्ना अंकल मेरे पीठ से चिपक कर मेरी गान्ड में अपना लन्ड रगड़ने लगे.

दरअसल करण जिस तरह से उसके मुँह में अपना लंड डाले हुए चुसवा रहा था … वो ऐसा लग रहा था मानो पल्लवी कोई पॉर्न स्टार हो. मोनू मेरी चूत की तरफ देखने लगा, मैं अपने बाल हमेशा साफ करके रखती हूँ, मोनू बोला- दीदी आपके तो एक भी बाल नहीं हैं. मीठानंद उठते हुए बोले- क्यों प्रीति, मजा आया या नहीं इस बूढ़े से चुदाई करवा कर?प्रीति बोली- मीठानंद, आपने तो कमाल की चुदाई की है.

जो बड़े-बड़े काण्ड कर देता है।उनकी बात सुनकर हम दोनों ही हँस दिए। मैंने चाची की चूचियाँ दबानी चालू कीं. नीचे से मीता अपने कूल्हे उठाकर मेरा लन्ड अपनी चुत की गहराइयों तक ले जाती और मैं जोरदार शॉट से और अंदर तक अपने लन्ड को गाड़ देता और मीता के होंठों से आहों और सिसकारियों का जो सिलसिला शुरू होता, वो अंत में एक दूसरे को जिताकर ही खत्म होता. तो उसने मेरा हाथ पकड़ते हुए कहा- आप चाहें तो मेरी उदासी दूर कर सकते हैं।मैंने कहा- नहीं.

बहू और ससुर का सेक्सी वीडियो हिंदी

पर साइज़ कुछ-कुछ बराबर ही था।वो अपना लंड हिलाते हुए बोला- इसकी भी मसाज करो. मैंने नीरू को धीरे से हाथ लगाया तो उसने कोई विरोध नहीं किया, वह सोने का नाटक कर रही थी. लेकिन सत्य यह था कि उस साल दीवाली तक मेरा कोई चक्कर न चला।जब मैं दीवाली की छुट्टियों में अपने घर जा रहा था.

हम लोग कभी कभी सेक्स करते थे, वो भी अच्छे से सेक्स नहीं कर पाते थे.

मैं भी कभी उसकी सलवार में हाथ डालकर उसकी गांड दबाता, तो कभी उसकी कमीज में हाथ डालकार उसके चुचे दबाता.

क्यूँ पढ़ रहा है? और अगर अच्छी लगती है तो इसका मतलब यह नहीं है कि किसी को भी मैं अपनी सलवार में ही घुस जाने दूँगी. और धीरे-धीरे हमारी बात बढ़ने लगी और हम काफ़ी गहरे दोस्त बन गए थे। वो मुझसे सारी बात बताती थी. सेक्सी फुलतब पूजा की देखा देखी मैं भी अपने सीट पर से उठकर खड़ा हो गया और उसके सामने अपने बदन से अपना गाउन उतार कर पूजा के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा हो गया.

लेकिन उसे रोका। मैं जानता था कि वो मुझसे बहुत डरता है और जो कहूँगा वो करेगा।सो मैंने उसे एक गणित का सवाल दिया और कहा- अगर उसने सही किया तो उसे इनाम दूँगा और ग़लत किया तो पनिशमेंट मिलेगा।मैं जानता था कि यह लड़का मेरे काम तभी आएगा. तो मैं समझ गया कि वो भी साथ दे रही हैं और मैंने अपनी जीभ को पूरा अन्दर तक डालकर उनकी चूत को चाटने लगा। बस 5 ही मिनट के बाद ही वो अपना पानी मुझे पिला कर शान्त हो गईं और धीरे से पीछे होकर बिस्तर पर आँखें बंद करके लेट गईं।फिर मैं उठा और उनसे कहा- अब मेरा पानी भी पिओ. जिसे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता।मैं अपनी आँखें बंद करके इसका पूरी तरह से मजे ले रहा था और भाभी भी अपनी आँखें बंद करके मुझे धीरे-धीरे चोदे जा रही थीं।अब मैं थोड़ा उत्तेजित हो गया.

माइक अपनी पीठ के बल चित लेटा हुआ था और तारा उसके ऊपर झुक कर उसके लिंग को प्यार कर रही थी. वो मेरी ओर मुड़ी और बोलने लगी- भैया, ये गंदा नहीं लगता है?अब मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने कहा- इसमें बहुत मजा आता है.

वो मछली की तरह झटपटाने लगी।उसकी चूत में बहुत तेज परपराहट के साथ दर्द होने लगा.

मैंने उसकी बात मान कर झटके चालू रखे और थोड़ी देर के बाद जैसे अचानक सैलाब उमड़ता हो. तो मैंने देखा कि मेरी सीट से दो सीट छोड़ कर उसकी सीट थी। मैंने कोई ज्यादा ध्यान नहीं दिया. मगर अचानक ही पूरा लौड़ा एक साथ गाण्ड में चला गया तो दर्द होना लाजिमी है।पुनीत कुछ देर वैसे ही पायल के ऊपर लेटा रहा.

वीडियो देहाती सेक्सी मुझे उसके निप्पल कड़क से महसूस हो रहे थे। उसकी चूचियों प्रेस करने में मुझे मजा आ रहा था। उसके बाद उसे बिस्तर पर बैठा दिया. उसकी चीख निकल गई। मैं वहीं पर ही रुक गया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए औऱ उसे किस करने लगा।दो मिनट तक ऐसे ही रहा.

लेकिन अब सारी आवाज़ मेरे मुँह में दब गई थी। उधर ट्रेन छुक-पुक कर रही थी. वो मुझे मेरे हॉस्टल के पास तक छोड़ कर आया।ऐसे हुई मेरी चुदाई की कमाई की शुरुआत! और साथ में कामवासना का इलाज![emailprotected]. मैंने अपना हाथ उसकी चूत़ पर रख दिया … तो मुझे झटका लगा क्यूंकि साली ने अपनी चूत चिकनी करी हुई थी.

सेक्सी वीडियो ओपन वीडियो ओपन

मी प्रथमचा लंड जसजसा चोखत होते तो उसासे देत माझ्या तोंडात लवडा पूर्ण घुसवण्याचा प्रयत्न करू लागला. अभी 5-6 दिन पहले की बात है, मेरी एक फ्रेंड का फोन पार्टी के लिए आया, तो मैंने बोला कि मैं जरा लेट हो जाऊँगा क्लब में ही सीधे मिल लेंगे. उसने बताया कि उसकी आयु 26 साल है और अभी 6 महीने पहले ही उसकी शादी हुई है.

जिससे वो और भी पागल हो गई और बोलने लगी- डाल दो अपना लंड मेरी चूत में. तो 4 बज चुके थे।उसने कहा- अब मैं जा रही हूँ।मैंने विनय को उठाया और उसने उसे देख कर पूछा- कैसी रही चुदाई जानू?तो वो हंस कर विनय के गले से लग गई।हम दोनों काफ़ी खुश थे।विनय उसे उसके गेट तक छोड़ आया।तो दोस्तो, कैसी लगी यह मेरी सच्ची कहानी।आपके कमेंट्स का मुझे इंतजार रहेगा। इस आइडी से आप मुझे फ़ेसबुक पर भी मिल सकते हो.

लण्ड को प्यार करने लगी और तभी नीचे बैठ कर मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगी ‘आहह.

मेरी पिछली कहानी थीकमसिन साली की मस्त चूत चुदाईतो एक बार फिर आपका अपना सरस आपके सामने हाजिर है, एक नई और बेहतरीन कहानी लेकर. मैं भी जीजू का साथ दे रही थी और उनको किस कर रही थी, उनके बालों में अपना हाथ फेर रही थी. मेरे आनन्द की अब कोई सीमा नहीं थी क्योंकि प्रिया को अपना लंड चुसाते हुए मैं खुद भी अब मजे से उसकी रसीली चुत के रस को गटक रहा था‌.

में बता नहीं सकता।मैंने तो उनके मुँह में उनके सर को पकड़ कर एक-दो झटके भी मार दिए. कहीं कुछ हो गया तो?बिहारी हँसने लगा और भाभी के बाल पकड़ कर ज़ोर से खींच दिए।बिहारी- अरे मेरी जान. यह कहकर प्रीति ने प्यारा सा चुंबन मीठानंद को दिया और अपने कमरे में चली गई.

या कुछ और भी किए हो??मैं बोला- आप क्या बोल रही हो??‘वही जो तुमने सुना.

देवर भाभी के बीएफ पिक्चर: एक तो वे बड़ी-बड़ी थी और ऊपर से मयूरी उछल-उछल कर उनको हिला-हिला कर विक्रम का ध्यान आकर्षित कर रही थी. और लण्ड उसकी चूत में घुसड़ेने लगा। दो इंच लण्ड घुसते ही पिंकी बुरी तरह से चीखने लगी, मैंने जल्दी से अपना हाथ उसके मुँह पर रखा।वो दर्द से कराहते हुए बोली- प्लीज़ बाहर निकालो.

तुम्हें मैं जान बोल सकता हूँ या फिर कुछ और?मैं- राकेश जी आप कुछ भी बोलिए. बिल्कुल लेना है… मैं तो अपने दोनों बेटों से चुदवाने के लिए मरी जा रही हूँ. और ना जाने कैसे मेरा हाथ उसकी कमर पर चला गया। उसकी कमर में हाथ डाले हुए मैं घर के अन्दर चला गया।अन्दर जाकर लाइट में मैंने उसे अच्छे से देखा, वो बला की खूबसूरत लग रही थी। उसने उस समय सिल्वर कलर का नाइट गाउन पहन रखा था.

ज्योति ने मेरे बाल पकड़ लिए और मेरा मुँह अपनी चूत पर दबाने लगी ‘अअअह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहअह …’कुछ समय ऐसा करने के बाद वो बोली- रवि बस बस …मुझको लगा ये झड़ जाएगी, मैंने मुँह हटाया और खड़े होकर ज्योति को गले से लगा लिया.

किस करते करते मैं उनकी चूत की तरफ आ गया और उनकी चूत में अपनी जीभ डालकर उनकी चूत से खेलने लग गया. उसने अपनी कहानी में पिरोकर मेरे ही अनुभवों को अपने शब्दों में ढाला। लोगों को वो बड़ा ही पसंद आएगा. कोई ग़लती हो तो मुझे माफ़ कर देना।बात आज से 3 साल पहले की है यानि 2010 की है.