भाई बहन के बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,झांसी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

देहाती वीडियो ब्लू: भाई बहन के बीएफ फिल्म, मैं और दीदी चूंकि इकट्ठे ही सोते थे, तो दीदी अक्सर मेरी लुल्ली को छेड़ने लगी थी.

देशी भाभी क्सक्सक्स

जब मेरे पिता जी उससे पूछते कि क्या हुआ?तो रजनी बात पलट देती थी कि आज ये बहुत परेशान कर रहे थे. सेक्सी सेक्सी एक्स एक्स एक्स वीडियोमेरे घर में मेरे मम्मी पापा, बड़ा भाई और एक बुआ रहती थीं जो तब तक कुंवारी थीं.

ये कहते हुए निर्मला ने राजशेखर की पैंट उतार दी और उसके लिंग को पकड़ हिलाते हुए बोली- देखो कितना तगड़ा मोटा और लंबा है इसका लंड, तुम्हारी चुत में घुसाते ही तुम पानी छोड़ने लगोगी. बीएफ इमेजवो मेरे सिर को अपने मम्मों पर दबा रही थी … ताकि मैं उन्हें अच्छे से चूस सकूँ.

मेरी जीभ के स्पर्श से भाभी की सिहरन ने मुझे बता दिया था कि भाभी कितनी अधिक चुदासी हो गई हैं.भाई बहन के बीएफ फिल्म: मैं एक हाथ से उसकी सलवार का नाड़ा खोलने लगा, तभी उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- जो भी करना है ऊपर से ही कर लो.

”आह … आज ही मेरी चूत पूरी फाड़ने का इरादा कर लिया है क्या?”वो हंस कर बोला- मुझे चूत का मालिक बना दिया है, तो आज पूरी तरह से मस्ती करने दो डार्लिंग.भाभी भी मेरा पूरा माल पी गयी और मेरे लंड को चाट चाट कर पूरा साफ कर दिया.

সেক্স অ্যাডাল্ট ব্লু ফিল্ম - भाई बहन के बीएफ फिल्म

मैंने पैंटी को हाथ से रगड़ा और चाची की गीली चुत पर हाथ लगा कर देखा तो वो उभर कर ऊपर अलग से मेरे हाथ में महसूस हो रही थी.मेरे कहने का मतलब ये था कि क्या तुम यहीं खड़े खड़े मुझे खा जाओगे या अन्दर भी आओगे.

जबकि मैं पुराना खिलाड़ी था, मेरी गांड लंड पिलवाने को लपलपा रही थी, उसे वाकई बहुत दिन बाद कोई मारने वाला मिला था. भाई बहन के बीएफ फिल्म उसके बाद उसने मेरी बहन की चूत में जीभ डाल दी और जोर से उसकी चूत को अपनी जीभ से ही चोदने लगा.

अर्ध नग्न मेरी बीवी की सफेद दूध जैसे तन कर कह रहे हों कि उनसे बस अब दूध टपकने ही वाला है.

भाई बहन के बीएफ फिल्म?

चूंकि मुझे भी नशा हो गया था, तो मैंने उस पंजाबी लड़की को किस कर दिया. जिस तरह के मैसेज और फोटो मैंने देखे, उनसे साफ़ पता चल रहा था कि भाभी का उस फ्रेंड के साथ चक्कर चल रहा था. नए साल की मस्तीके बाद मैं करीब एक महीने तक शांत रही, इस बीच केवल पति के ही साथ 2 बार संभोग हुआ और फिर एक महीना ऐसे ही बिना संभोग के बीत गया.

कुछ ऐसे चिकने लौंडे भी होते हैं कि एक पिक्चर देखने के बदले वे अपनी गांड मरवा लेते हैं. फिर वो मेरे ऊपर आकर बोली- सबसे पहले तुम्हारा मूड बनना जरूरी है, तभी तुम्हें मजा आएगा. उन्होंने मुँह से लंड निकाला और मुझसे अपनी 40 इंच की चूचियां चूसने को कहा.

अब आगे:खैर, मैं नहाने गया और आकर ऊपर एक बनियान और नीचे लोअर पयजामा पहन लिया … क्योंकि नवंबर में भी वहां गर्मी ही थी और मौसम प्यार का … मैंने नहाते हुए सोच लिया था अभी नहीं तो कभी नहीं. मैंने भी मौक़ा देख कर उनकी चूचियों के किनारों तक अपने हाथों की पहुंच बनाना शुरू कर दी थी. वो मेरे बालों की और मेरे होंठों की तारीफ करते करते मेरी चूचियों को देखते हुए रुक गया.

मैं भी भाभी के होंठों को कस के चूमने लगा और उसको अपनी बांहों में कस लिया. मंगल ने उठकर एकता को एक गुड़िया के जैसे उठा लिया और अपने कंधे पर पटक कर बेडरूम की तरफ चला गया.

इस चोदा चोदी के चक्कर में हम वो खून वाली चादर साफ़ ही नहीं कर पाए और अगले दिन माँ पापा आ गए.

मैंने मोनिषा आंटी को चोद चोद कर एक हसीन हॉट सेक्सी आंटी बना दिया था, उनके दूध अब पुराने ब्लाउज़ में फिट ही नहीं आते थे.

चुदास से भरते हुए मैं उनकी साड़ी हटा कर अपने एक हाथ से उनके चुचे को प्रेस करने लगा. शादी से पहले और शादी के बाद भी मैंने बहुत सी औरतों और लड़कियों की जवानी का रस पिया है. जब वो ऑफिस से निकलीं, तो उन्होंने मुझे देखा और पूछा- तू यहां क्या कर रहा है?मैंने बोला- मैं अपने दोस्त से मिलने आया था, इधर आपको आते देखा, तो रुक गया.

आपको मेरी ये हिंदी सेक्स कहानी कैसी लगी प्लीज आप सभी मेल करके बताइएगा जरूर!आपका अभिमन्यु[emailprotected]. एक पल जहां मैं ढीली पड़ने लगी … उसने तुरंत आसन बदल सारी कमी दूर कर दी. मैंने उसके कंधे पर अपना सिर रखा और दोनों हाथ पीछे ले जाकर कपड़े खोलने लगा.

खाते पीते और बातें करते 10 बज गए और फिर पता नहीं, वो बात घुमा फिरा कर अपनी बीवी और अकेलेपन की बात करने लगा.

मेरे लंड से अभी तक पानी नहीं निकला था, तो मैंने रोनिता को बेड से उठाया और दीवार के सहारे खड़ा कर दिया. मैंने पूछा- घर में बाकी लोग भी होंगे ही ना?तो वो बोली- आप आ तो जाओ … बाकी सब समझ जाओगे. उसने कुछ पल तो मुंह को बंद रखा लेकिन फिर उसने मुंह खोल दिया और अब हम दोनों की जुबान एक दूसरे की लार को एक दूसरे के मुंह से खींचने लगी.

फिर धीरे धीरे ये बात भी उसको मालूम हो गई कि पूजा मेरे साथ मेरी बहन का रिश्ता बना कर रही थी. हम लोग गर्म हो जाते थे सेक्स के लिए लेकिन हम सेक्स नहीं कर पाते थे. मैं उनके कमरे तक गया और हिम्मत करके मैडम को जगा कर कहा कि मुझे नींद नहीं आ रही है.

उसके बाद मैंने उसके हाथों को हटा लिया और उसके चूचों को पकड़ते हुए उसकी पीठ पर झुक गया.

उस लड़के ने मुझसे दो मिनट वहीं सोफे पर बैठने को कहा और दोनों मियां बीवी एक रूम में चले गए. मैंने कहा- किसी से नहीं कहूँगा कि मैंने अपनी माँ को चोदा!माँ को बहुत थकान लग रही थी, तो वो सो गईं.

भाई बहन के बीएफ फिल्म बुआ की चूत पर छोटे छोटे बाल थे, ऐसा लगता था कि उन्होंने थोड़े दिन पहले ही अपनी झांटों को साफ किया था. फिर मैंने अपने लंड को उसकी ताजी चुदी बुर से बाहर निकला तो देखा कि उसकी बुर में से खून निकल रहा था.

भाई बहन के बीएफ फिल्म उसके बाद से मेरे दिल में मेरे ही दोस्त की माँ के प्रति गलत भावना बनने लगी. सुरेश थक कर हांफ रहा था और मैं दर्द से तड़फ रही थी, मगर चिंता केवल चरम सुख की थी.

मुझे पता था कि उसको आने में एक घंटे से ऊपर लग जाएगा, तो मैं सौम्या के बारे में सोचता हुआ बिस्तर पर लेट गया.

एक्स एक्स एक्स गर्ल बीएफ

उसके इस दबाव से सुपाड़े का मुँह मेरी बच्चेदानी के मुँह से जा चिपका और मैं न चाहते हुए भी खुद को रोक न पाई. उस दिन उसके चूचों की शेप को देख कर मुझे तुरंत जाकर बाथरूम में मुठ मारनी पड़ी थी. जब से मैंने जवानी में कदम रखा है मुझे बॉडी बिल्डिंग का बहुत शौक रहा है.

मैं थोड़ा शर्मिंदा भी हो रहा था क्योंकि मैंने अपनी बहू को कभी वासना की नजर से नहीं देखा था. सोनम अब मेरी गर्लफ्रेंड बन गई थी और मैं उसको मुफ्त में हर तीसरे दिन चोदता हूँ. पहले तो मेरी बहन छुड़ाने की कोशिश करती रही मगर दो मिनट के अंदर ही उसको मजा आने लगा.

साहब ने कुंवारी चूत में उंगली डाल कर उसको तेजी से चलाना शुरू कर दिया.

मैंने अपना लंड थोड़ा बाहर निकाल कर फिर से धक्का मारा, तो भाभी बोली- थोड़ा धीरे धीरे करो यार … कहीं भागी नहीं जा रही हूँ. मेरे मामा शरीर से काफी हट्टे कट्टे थे लेकिन उनका लंड देखा तो मुझे यकीन नहीं हुआ. मैंने फिर उसके माथे पर चूमा, तो उसने एकदम से मेरे सीने पर अपने सर को रख दिया.

फिर संजय मोनिषा आंटी की चूत की तरफ बढ़ा और जोर जोर से उनकी चूत को चूसने लगा. मुझे देखते ही उनके चेहरे पर मुस्कुराहट आ गयी। आंटी अपने छोटे बेटे को बाहर बैठा कर पढ़ा रही थी।मैं अपने घर के अंदर गया और कुर्सी ले कर आया. मैंने पूछा- कब आएंगे?उन्होंने बताया- वह बच्चों को लेकर दादा दादी के यहां पर गए हैं, परसों आएंगे.

अब उसने टांगें और फैला दीं और मेरे लंड को चूत में अच्छी तरह से एडजस्ट कर लिया. एक बस मैं ही सबसे खराब नसीब वाला हूँ … काश कोई मेरे लिए भी बनी होती.

मेरे शरीर में इतनी ताकत आ गयी थी कि मैं बिना कोई समय गंवाए उसके सामने जाकर खड़ा हो गया. सुबह मेरे पति को वापस आना था, इसलिए मैं उसको इस बार सेक्स करने से पहले ही इतना ज्यादा गर्म कर देना चाहती थी कि वो सेक्स के इस खेल को जल्दी चरम पर पहुंचा दे. चूंकि वो मुझे अपना सगा मान रही थी, तो बोली- अच्छा … आप आकर मेरी वो जगह देख लो.

भाभी पलंग में लेटी थीं और वासना के वशीभूत जोर-जोर से अपनी चूचियों को दबा रही थीं.

उसने हमारे लिए नाश्ते में आलू का परांठा बनाया था, जो वो साथ टिफ़िन में लाई थी. मैंने कहा कि मैं उतर कर देखता हूं कि गाड़ी में क्या खराबी हो गई है. मैंने उससे बोला- सुरेश जोर जोर से चोदो न मुझे … झड़ने वाली हूँ मैं … आह … आह … ओह्ह … ओह्ह …बस फिर क्या था.

आधी रात में जवान लड़की मेरे लंड के साथ छेड़खानी कर रही थी तो भला मैं कब तक खुद को कंट्रोल रख पाता. मुझे हमेशा नई नई चुत चोदने का चस्का लगा रहता था, चाहे जवान चुत हो या 45 साल की हो … बस मेरे लंड को चुत की तलाश ही रहती थी.

माँ पता नहीं क्यों बहुत मुस्कुराईं और फिर हमें होम वर्क करने को कह कर लाला की दुकान पर चली गईं. दो मिनट तक एक दूसरे के होंठों को चूसते हुए उसने लंड को तेज गति से सहलाया. मैंने बिना देरी किये उसके गोरे-गोरे गोल चूचों को अपने मुंह में भर लिया और उनको पीने लगा.

बीएफ मोटी मोटी औरतों की

फिर उसने मेरी गांड से अपना लंड निकाला और मेरी गांड को देख कर हंसने लगा- अबे भोसड़ी के तेरी तो फट गई रे … पूरा होल हो गया.

मेरे पापा बनारस में ही जॉब करते हैं और मेरी मां हाउसवाइफ है।घर में मां और पापा के अलावा मेरी तीन बहनें हैं- सरिता, स्वरा और सलोनी. वहां पर पहुंचे तो देखा कि किला देखने के लिए एंट्री प्वाइंट पर काफी लंबी लाइन लगी हुई थी. उसकी पैंटी के ऊपर से ही जब बुर पर हाथ रखा, तो मुझे उसकी चड्डी एकदम से भीगी हुई महसूस हुई.

अक्सर घर वालों के शादी ब्याह में या सरकारी कारणों से कहीं जाने पर सिर्फ हम दोनों ही घर पे होते थे. फिर हिम्मत करके मैंने वो साड़ी उनके कन्धे पर ही डाल दी ताकि पता लग सके कि वो कलर उन पर कैसा लगेगा. राजस्थानी मारवाड़ी सेक्सी बीएफवो चुत में उंगली से तेजी से अन्दर बाहर करते हुए आंखें बंद किए हुई थी.

करीब पांच मिनट के बाद वो संयत हुई और मेरी तरफ देखते हुए मेरे लंड की गति को अपनी कमर हिलाते हुए मिलाने लगी. शायद मुझे भी उसका साथ अच्छा लगा, इसलिए मैं अपने गुस्से को दिखा ही नहीं पाई.

आज की रात चुदाई की इतनी जबरदस्त रात होने वाली थी, ये मैंने सोचा ही न था. ”उसके हर धक्के से मैं दर्द से चिल्ला रही थी, पर सुनील उसकी परवाह न करते हुए मुझे तेजी से चोद रहा था. फिर धीरे धीरे ये बात भी उसको मालूम हो गई कि पूजा मेरे साथ मेरी बहन का रिश्ता बना कर रही थी.

मगर आजू बाजू की छत से सब कुछ खुला दिखता था, इसलिए मैं मनमसोस कर रह जाती थी. विभोर के पास कार भी थी तो कभी कभी वो कार में भी मुझे किस करता था और मेरी चूची को दबाता था. मैंने फिर से उसकी चूत पर लंड को हौले से रगड़ा और एक और झटके में आधा अन्दर डाल दिया.

घर के काम में उलझी रहती हूं इसलिए अन्तर्वासना पर नई कहानी लिखने का समय नहीं मिल पाया था.

उसके सीने का पसीना मेरे सीने के पसीने से मिलने लगा था और अंडकोषों से पसीना मेरी योनि के पानी जांघों के किनारों के पसीने से मिल कर मेरे चूतड़ों की घाटी से होता हुआ फर्श पर गिरने लगा. मैंने दीदी से पूछा- ये कर क्या रहे हैं?दीदी ने मेरी लुल्ली को पकड़ कर बताया कि लाला ने अपनी ये, मम्मी की उस में डाल रखी है.

अत्यधिक उत्तेजना के कारण भाभी को दस मिनट चोदने के बाद मैंने उनकी बुर में ही अपना पानी गिरा दिया. उस दिन मैंने उसे साफ साफ कह दिया था कि इस बारे में दोबारा न चर्चा करे और मैंने फ़ोन रख दिया. मैं तुरंत भाभी की गांड से लंड सटा कर उनकी गांड में अपना लंड डालने लगा.

”अब मैं हूँ … तुम चिंता मत करो … ये मजा मैं तुम्हें पूरी जिंदगी भर दूंगा. वो ऐसे कर रहा था, जैसे कोई मजदूर भारी भरकम बोरी को जगह पर लाने के लिए करता है. इस पर अनिल ने कहा- साली रंडी … केवल चूची दबाने पर मुझे रोक रही हो और सुरेश से चुदवाने में कोई दिक्कत नहीं है.

भाई बहन के बीएफ फिल्म मैंने उनके आगे से उनके कंधे को पकड़ा और तुरंत ही एक हाथ से उनकी चूची को टच करके दबा दिया. उर्वशी बाहर से तो खूबसूरत थी ही मगर अंदर से भी उसका बदन संगमरमर की तराशी मूरत से कम नहीं था.

बीएफ हिंदी देसी पिक्चर

मैं अपने हाथों को रोक नहीं पाया और भाभी के गोरे चूचों को छू कर देखने लगा. पर वो काफी डर गई थी कि अब कैसे बात करूंगी उन लोगों से … वे मुझे क्या समझेंगे वगैरह वगैरह।लेकिन मैंने कहा- आप टेंशन मत लो, सब ठीक हो जायेगा।इतने में मैंने उसको बेड पे लिटाया और उसकी आंखों में देखते हुए उसे चूमना शुरु कर दिया. आप लोग मुझे मेल करके बताना कि आंटी की गांड और चूत की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, आप अपनी राय जरूर देना.

मेरे मोटे चूतड़ और कम ऊँचाई की वजह से उसका लिंग मेरी योनि में गहराई तक नहीं जा रहा था. लगभग पांच मिनट में ही भाभी का शरीर अकड़ने लगा और वो मेरा सिर पकड़ कर अपनी बुर में दबाने लगी. भोजपुरी चोदा चोदी पिक्चरबहन की चूत को चोदते हुए इतना मजा आ रहा था कि मैं उस अहसास को शब्दों में नहीं बता सकता.

हम लोग गर्म हो जाते थे सेक्स के लिए लेकिन हम सेक्स नहीं कर पाते थे.

मेरे परिवार के लोग गाँव जा रहे थे और विभोर के मम्मी पापा दोनों लोग जॉब करते है. मैंने स्माइल किया और उसके होंठों को चूमकर बोला- कोई बात नहीं मेरी जान.

अब उन्होंने मुझे औंधा करके मेरा अंडरवियर अपने दोनों हाथों से नीचे खिसका दिया. थोड़ी देर में उसको मज़ा आने लगा और वो भी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी. उसने कहा- मैडम, अंदर नहीं आने दोगी?तो झट से मैंने उनको रास्ता दिया.

दो दिन बाद जब आप खेत में पानी देना, तो अपने ट्यूब बैल पर मुझे देख लेना.

बाद में मैंने ज़रीना से फोन से पूछा- अब दर्द कैसा है?वो बोली- वो दर्द तो ठीक है, पर आपने दूसरा दर्द दे दिया है. जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया कि मेरी हाइट बहुत कम थी तो मैं लोगों के बीच में फंस गई. मैंने अपनी चड्डी उतार फेंकी और बिस्तर के नीचे से कंडोम निकाल कर लंड का सुपारा ऊपर करके कंडोम चढ़ा लिया.

ஹிந்தி பிஎஃப் செக்ஸ்दोस्तो, मुझे आंटी और भाभी के साथ सुहागरात (हनीमून) मनाना बहुत पसंद है क्योंकि उनकी बड़ी बड़ी चूचियां चूसने में बड़ा मज़ा आता है और उनके मटकते हुए बड़े बड़े चूतड़ों को मसलने में भी बड़ा मजा आता है. मैंने सोचा कि बंदा खुद ही मुझे मिलने वाला है तो मैं क्यों कोशिश करूं.

बीएफ वीडियो हिंदी चालू

अब रोनिता को भी चुदवाने में मज़ा आ रहा था और वो मेरे हर धक्के का जवाब दे रही थी. कुछ दिनों बाद मैंने उसको उसके घर पर जाकर भी चोदा और गांड भी मारी, जिसकी हिंदी सेक्स कहानी मैं बाद में लिखूंगा. इसके बाद सुनील ने नितिन को रंग लगाया और फिर बाहर होली खेलने चला गया.

मैंने अपना लंड बाहर निकाला और आंटी की बगल में लेट गया और आंटी से बोला- सॉरी आंटी, मेरा पानी जल्दी निकल गया … पता नहीं क्यों!तो आंटी बोली- कोई बात नहीं, ऐसा होता है. मेरी बहन पूरी नंगी हो चुकी थी और बहुत सेक्सी लग रही थी बेड पर लेटी हुई. खैर मैंने उसके निमंत्रण को स्वीकार किया और उसकी चूत में जितनी अन्दर तक चाट सकता था, वहां तक चाटने लगा.

मैंने पूर्वी से कहा- सॉरी पूर्वी … ये पता नहीं … रात में अपने आप ऐसा तन जाता है. क्योंकि मुझे नहीं पता था कि निर्मला स्त्रियों के साथ भी सक्रिय रूप से कामक्रीड़ा में माहिर थी. मॉम ने भी मेरा हाथ अपनी चूची से नहीं हटाया, तो मैं समझ गया कि चुदाई का रास्ता क्लियर है.

मॉम के लंड चूसने से मेरा लंड मोटा हो गया और एकदम चुत चुदाई की हालत में फनफनाने लगा. उस दिन उन्होंने एक आसमानी रंग का चिकन सूट पहना था और आप सबको तो पता ही है कि वो कितना अच्छा लगता है जब कोई भी 32 साल की महिला पूरे विकसित दूधों पर उसको पहनती है.

इसे छूने का मौक़ा तो मिल ही रहा है, इस मौक़े को हाथ से जाने नहीं देना चाहिए।रिया दर्द के कारण इतनी परेशान थी कि उसे कुछ नहीं सूझ रहा था। वो एलोपेथिक दवा लेना पसंद नहीं करती थी।हम तीनों पार्लर के अंदर गए क्योंकि मैं कभी पार्लर नहीं आता था तो वहाँ के स्विच नहीं पता थे.

उनके बीच में भूरे रंग का दाना था और उस दाने के बीच में उसके निप्पल उठ कर ऊपर निकल आये थे. सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो चोदी चोदारूपेश पाल की एक हॉट मूवी फिल्म ‘कामसूत्र 3डी’ में भी शर्लिन ने काम किया था लेकिन वो फिल्म कभी परदे पर नहीं आयी।शर्लिन भले ही फिल्मों में काम करके अपनी पहचान न बना पाई हों, लेकिन ‘प्लेब्वॉय’ मैगजीन के लिए न्यूड फोटोशूट और विवादित ट्वीट्स से काफी शोहरत बटोर चुकी हैं। शर्लिन पहली भारतीय थी जो 2012 में न्यूड पत्रिका प्लेबॉय के कवर पेज पर आयी थी. ब्लू बीएफ सेक्सफिर मैंने अपने लंड को उसकी ताजी चुदी बुर से बाहर निकला तो देखा कि उसकी बुर में से खून निकल रहा था. उसका लंड सात इंच के करीब लग रहा था और उसकी मोटाई भी सुबह के बदले काफी ज्यादा दिख रही थी.

आज से पहले मैंने बहुत सी लड़कियों की चुत व गांड मारी है, पर मेरी चाची जैसे चुदक्कड़ औरत कोई भी नहीं मिली.

मेरी नाभि से ऐसा लगा, जैसे गांठ खुल गयी और वहां से कुछ तेज गति से बहते हुए मेरी बच्चेदानी तक पहुंच गया. मेरे लंड का साइज पहले से काफी बढ़ गया था और ये सब मोनिषा आंटी के कारण हुआ था. मैंने बिना कुछ बोले उनकी पीठ पर साबुन लगा कर मलते हुए शरीर को छूने का मजा लेना शुरू कर दिया.

वो सुबह शाम दोनों समय मेरे लंड से अपनी चुत और गांड की कामुकता शांत करवाने लगी थीं. मैंने एक हाथ हॉट आंटी की सलवार के अन्दर डाल कर पैंटी के ऊपर से चूत को छुआ, तो पूरी गीली हो चुकी थी. वो मुझे बांहों में लेकर लंड को पूरा का पूरा अंदर तक लेते हुए चुदने लगी.

आदिवासी लोकल बीएफ

उसकी टांगों को चौड़ी करवा कर मैंने उसकी चूत पर लंड को लगा दिया और उसकी चूत के मुंह पर अपने लंड को सेट कर लिया. चाची के पलटते ही उसकी भारी सी गांड मुझे साड़ी के अंदर ही उठी हुई दिखाई देने लगी. इस वक्त उसका एक हाथ दीदी की गांड को पकड़े हुए था, दूसरा टाँगों को जकड़े था.

मैंने कम्प्यूटर में विन्डोज़ इन्स्टालेशन पर लगा दी, लेकिन मेरे लंड के सॉफ्टवेयर ज्योति की चूत की गहराइयों को नापने के लिए बार-बार नोटिफिकेशन दे रहे थे.

गर्लफ्रेंड बना कर मजे करने का मन नहीं करता क्या तेरा?उसके चेहरे पर अजीब से भाव थे.

वो पहले तो मुझे घूरने लगीं और हंसते हुए बोलीं- तेरी मालिश वाली जल्द ही लानी पड़ेगी. मेरे लिए अब वह मम्मी नहीं, बल्कि एक ऐसी औरत थीं … जो सेक्स समागम के लिए प्यासी थीं. ब्लू फिल्म लगा दो ब्लू फिल्मउसके बाद मैंने भाभी को कुतिया बनाकर कहा- चल मेरी कुतिया रेडी हो जा … आज तेरी चूत नहीं गांड ही चोदूंगा.

मैंने भी उसको अपनी बांहों में भर लिया और एक एक करके उसके सभी अंग सहलाना शुरू कर दिए. रिश्तों में चुदाई की इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी बुआ को चोदा. थोड़ी ही देर बाद वो मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी, मानो उसकी सालों से प्रैक्टिस हो.

मैंने उसे इशारे से निकल जाने को कहा और वो अगले ही पल मेरे मुँह में अपनी मलाई छोड़ बैठा. जब वो चलती थीं, तो उनकी मटकती गांड देख कर मेरा आठ इंच का लंड एकदम सिग्नल सा खड़ा हो जाता था.

मामी की बात सुनकर मेरा लंड फिर से झटके देने लगा और मैं लंड को सहलाने लगा.

अब मैंने उसे अपनी तरफ घुमा दिया और उसके चूचों पर डायरेक्ट अपना मुँह रख दिया. मेरे कराहते ही उसने झुक कर मेरे होंठों को चूम लिया और अपने एक हाथ से वो मेरे बड़े मांसल स्तन को पकड़ दबाने लगा. मैंने उसकी चूत में बिना देखे ही जोर लगाना शुरू कर दिया तो लंड उसकी चूत पर यहां वहां फिसलने लगा.

ఆంటీలతో సెక్స్ వీడియో दोस्तो … जब उसने अपने सारे कपड़े उतारे तो बस मैं उसको ही देखता रहा. मैंने उसके फूल से नर्म … चूत के दाने को अपने लंड से मसलना शुरू किया.

मैं मॉम के पास गया औऱ प्यारी रंडी मॉम ये कहते हुए उनके प्यारे होंठों को चूम लिया. अनिल मेरी मॉम की चिल्लपौं को अनसुना करते हुए उनकी चिकनी गांड में लंड पेलता रहा. मैंने आज तक जितनी भी भाभियों की गांड मारी है ना … वो ज़रूर मेरी तारीफ करती हैं.

नंगा बीएफ नंगा बीएफ

मैंने कंडोम अपने लंड के ऊपर चढ़ाया और मोनिषा आंटी की गांड के मुँह पर रख दिया. भाभी ने मुझे देखा और कुछ न कहते हुए वे उठकर पेशाब करने के लिए बगल में चली गईं. उसने मुझसे कहा- मुझे मालूम है कि तुम अकेले रहते हो, इसलिए मैं कुछ नाश्ता बना कर लाई हूँ.

कुछ देर बाद मुझे अहसास हुआ कि कोई मेरी गांड पर कुछ रगड़ रहा है जो कि आप लोगों को पता है क्या होगा; होगा ना किसी मादरचोद का लंड!मैं उससे दूर होने की बहुत कोशिश कर रही थी लेकिन भीड़ बहुत थी. पांच मिनट के बाद उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने अपना लन्ड अंदर बाहर करना चालू कर दिया। थोड़ी देर बाद उसे भी मजा आने लगा और वो भी सिसकारियों के साथ मजे लेने लगी.

मगर अपनी रिश्तेदारी और आस पड़ोस में मैं बहुत मज़ाकिया और ज़िंदादिली से पेश आता हूँ.

मैंने उसके कंधे पर अपना सिर रखा और दोनों हाथ पीछे ले जाकर कपड़े खोलने लगा. वो भी अपनी चूचियों को मेरे दोस्त के मुंह में देकर मस्ती में खोने लगी. अगले दिन जब मैं दुकान पर गया, तो मैंने सबसे पहले उसको कॉल किया और बताया कि मैं दुकान पर आ गया हूं और आप अपने रूम से बाहर आओ.

रूम पर जाने के लिए मार्किट से होकर जाना पड़ता था, इसलिए मैंने सोचा कंडोम ले लूँ. माँ पता नहीं क्यों बहुत मुस्कुराईं और फिर हमें होम वर्क करने को कह कर लाला की दुकान पर चली गईं. आज भी जब भी मुझे टाइम मिलता है और वो घर पर अकेली होती हैं, तब मैं उनकी भरपूर चुदाई करता हूं.

उसने मुझे एक पल प्यार से देखा और फिर अपनी गोद में उठाकर मुझे बेडरूम में ले गया.

भाई बहन के बीएफ फिल्म: मैं अपनी बहन के लिए लड़का देखने गया तभी मुझे उसकी बहन ने मेरा लंड खड़ा कर दिया. मैं अपनी बाइक लेकर मूवी देखने चला गया, लेकिन मेरा एक दोस्त और बाकी लड़के वहीं रुक गए.

अब वो मेरे मुँह के भीतर पूरा नहीं समा रहा था, उसके लिंग की मोटाई काफी अच्छी थी. तो हुआ यूं कि पूजा-पाठ होने के कारण मॉम ने मुझसे कहा- अंकित कल गांव चलते हैं. जॉयश बोली- क्या बात है … अब लग रहा है कि हम सब नए जमाने की औरतें हैं.

वंदना मैम को जब काफी देर हो गई थी … मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि मैम को ऐसा क्या हो गया है.

कुछ समय तक ऐसे ही एक दूसरे पर पड़े रहने के बाद हमने अपने-अपने कपड़े पहने. मैंने पैसे के लालच में अपनी कुंवारी चूत का उद्घाटन कैसे करवाया? मेरी चूत की पहली बार चुदाई कैसे हुई? पढ़ें मेरी सेक्सी स्टोरी में!दोस्तो, मेरा नाम अलका है और मैं राजस्थान के जयपुर से हूं. तभी मैंने देखा माँ की गांड से खून निकल रहा था और तभी माँ भी जग गई थीं.