बीएफ फिल्म देहाती हिंदी

छवि स्रोत,वीडियो सेक्सी न्यू वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

आकर्षक सेक्सी वीडियो: बीएफ फिल्म देहाती हिंदी, मेरी पत्नी का नाम है सुधा … जिससे मेरी ज़्यादा बनती नहीं है, शादी के 10 साल निकल चुके हैं लेकिन रोज किसी न किसी बात को लेकर झगड़ा होता रहता है.

सेक्सी ब्लू पिक्चर भाई बहन का

आंटी के चूचे इतने बड़े थे कि मेरे दो हाथों की पकड़ में ही नहीं आ रहे थे. નવા સેકસીअमूमन सोसाइटी में पूल फ्लैट्स के पास होते हैं पर यहाँ पूल सोसाइटी के क्लब के पीछे की ओर बना था, जहां कुछ एकांत सा रहता है, शायद इसीलिए सात बजे के बाद लोग अपने बच्चों को नहीं भेजते थे.

हालांकि उसकी गांड एकदम कसी हुई थी, लेकिन फिर भी मेरे लंड से निकली चिकनाई की वजह से लंड धीरे धीरे आसानी से अन्दर बाहर होना शुरू हो गया. क्सक्सक्स सेक्सी क्सक्सक्समैंने कहा- हो सकता है, पार्क में ही देखा होगा … क्योंकि मैं यहां रोज़ आता हूं.

पापा के आने के बाद भी मुझे जब भी मौका मिलता है, तो आंटी अपनी चूत को मेरे हवाले कर देती हैं.बीएफ फिल्म देहाती हिंदी: बातों बातों में अंजू बोली- मामा आपकी गर्लफ्रेंड की कोई बात बताओ ना?मैंने कहा- अरे … मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं.

राहुल को सारिका वहीं रखे डिजिटल फोटो फ्रेम में अपनी और पंकज की बाहर घूमने की फोटो दिखने लगी.मैं नवनीत शर्मा पुणे से हूँ, छह फीट दो इंच हाइट का फिट और फुर्तीला इंसान हूँ.

स्टूडेंट सेक्सी मूवी - बीएफ फिल्म देहाती हिंदी

फिर रात को मैंने तीन बजे के करीब एक फिर से उसकी चूत पर अपने लंड से हमला कर दिया.चौथे दिन मुझे उसका फोन आया और उसकी आवाज़ सुनकर मेरे जान में जान आई।लेकिन वो कुछ उदास लग रही थी.

मुझे बाद में शिवानी से ही पता लगा कि उसने सागर का लंड एक बार नहीं तीन बार लिया और उसको कैसे पटाया. बीएफ फिल्म देहाती हिंदी फिर उसने अपनी बड़ी सी हथेली पर ढेर सारा थूक लेकर मेरी छोटी सी चुत पर लगा दिया.

गांड का तो पूछो मत, इतनी मोटी और कड़क गांड है उनकी कि चलती है तो ऐसा लगता है जैसे अपने पास बुला रही हो.

बीएफ फिल्म देहाती हिंदी?

हर दस मिनट में सीट से उठ कर कभी वाशरूम चला जाता, तो कभी कैंटीन में जाकर टहलता रहा. पांच-सात मिनट तक नंगी चूचियों और चूतों को मन ही मन सिसकारियां भरते हुए देखने के बाद आखिरकार मैंने अपने अंडकोषों में हवस की गर्मी से उबल रहे वीर्य पर नियंत्रण खो दिया और मेरे तने हुए लंड ने अपना सारा उबाल वीर्य के रूप में अंडरवियर में ही उड़ेल दिया. मैंने जगह का इंतजाम करने के साथ उसको नींद की गोलियां दे दी थीं … ताकि वो ये गोलियां अपनी फैमिली को खिला दे.

इस पर वो मेरी बात काटते हुए बोलीं- इसके लिए परिस्थियां अकेले ही नहीं, बल्कि हम दोनों खुद जिम्मेदार हैं. फिर मैंने वापस लंड निकाल कर जोर से चुत के अन्दर डाला, तो दो तीन धक्कों में ही मोनाली गर्म हो गयी. मेरी परीक्षाएं आने वाली थीं, इसीलिए मम्मी मुझे अकेले छोड़ कर जा रही थीं.

भाई ने मेरे सिर पर हाथ रख लिये और वो भी लंड चुसवाने के मजे लेने लगा. तो अगर अभी हम जैसे सोफे पर बैठे थे दूसरे पार्टनर के साथ चाहे तो वैसे बैठ लें या चाहे बदल लें. मैंने दोबारा से उसके होंठों को चूसने की कोशिश की लेकिन उसकी शर्म नहीं खुल पा रही थी.

मेरे इतने कहते ही उसके चेहरे पर मुस्कान आ गई, उसने कहा- सच में आप मुझे छोड़ कर कभी नहीं जाते?मैंने कहा- जाता … मैं कभी सोचता भी नहीं कि आपको छोड़ कर कहीं जाऊं भी. मुझे तो ये बात पहले से ही पता थी कि विवान भैया मुझे वासना भरी नजरों से देखते थे इसलिए मैं भी उनको अपनी चूची दिखाती रहती थी.

मैं अपनी कार से अपने घर जा रहा था, अचानक रास्ते में एक कार की दूसरी कार से भिड़न्त हो गयी.

मैंने भी न देर करते हुए उसके बुर में अपना लंड एक ही झटके में जड़ तक उतार दिया.

अब भाभी भी गरम होने लगी थीं और उनकी चूत गीली हो रही थी, जिसकी भीनी भीनी खुशबू मुझे पागल बना रही थी. ये लंड डालने पर पता चल रहा था कि सच में उसकी चूत में बहुत दिनों से लंड नहीं गया था. उन्होंने ज़ोर ज़ोर से आवाज़ करते हुए कहा- उम्म्ह… अहह… हय… याह… सीमा … अब मेरा पानी निकलने वाला है.

मैं उम्र में उससे छोटा जरूर था लेकिन औरतों के बारे में इतना अनुभव तो मुझे भी हो ही चुका था. अब मुझे उससे ब्रेक-अप करने का बहाना मिल गया और मैंने करण के साथ ब्रेक-अप कर लिया क्योंकि मेरे भाई ने मुझे करण के साथ चुदाई करते हुए देख लिया था. जब भी मैं हफ्ते के आखिरी दिन मैं घर पर आता, तो मुझे बहुत अच्छा लगता.

लेकिन मैं उसके मन की बात जानता था क्योंकि उसकी मां यानि कि मेरी सास ने तो पहले ही मुझे इजाजत दे दी थी.

मैं सोच ही रहा था कि बाहर से खाना लेकर आऊं या बाहर ही जाकर खा आऊं कि तभी वीना आंटी बाहर से कहीं जा रही थीं. आंटी बोली- हम्म … अच्छा माल है नेहा, तू दूर क्यों खड़ी है … आ जा… जिस चीज की हमें तलाश थी वो मिल गई है. ” मेरे मुंह से अचानक निकल गया।पता नहीं मधुर क्या सोच ले तो मैंने तुरंत बात को संवारते हुए कहा- हां … हाँ … बोलो क्या करना है?तुम इसे रोज थोड़ी देर अंग्रेजी पढ़ा दिया करो.

उसके चूचे मैंने पहले ही नंगे कर दिए थे तो मैं उसके ऊपर चढ़ कर उसके एक चूचे को दबाने लगा और दूसरे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. तभी मेरा भेजा चला और मैंने सोचा कि भाभी की मुस्कराहट शायद कोई और इशारा कर रही है. भाभी ने अपनी गांड उठा कर लंड पेलने का इशारा किया और मैंने जोर का एक धक्का दे मारा.

जोड़ी कैसे बनीं? यह जानिये …मुश्ताक को मिली नायरा;धीरज को मिली शबनम;राजीव को मिली पिंकीऔर राहुल को मिली सीमा.

जैसे ही मेरी जीभ उसकी चूत पर लगी, तो उसके मुँह से ‘इ … स्सस …’ की आवाज निकल गई. इससे वो थोड़ा सा झुक सी गयी और ऊपर सीधा मेरी आँखों में देखने लगी।मेरी तो आँखें हल्की सी ही खुली थी।मैंने जोश में अपने हाथ उनके शरीर पर फेरने शुरू कर दिए। वो हल्की सी कसमसाई पर मुझे ज्यादा रोका नहीं और अपने हाथों में पकड़े लंड पे तेज दबाव बना के मुठियाने लगी.

बीएफ फिल्म देहाती हिंदी लड़कियों ने बियर ली तो पिंकी ने सभी के ग्लासों में थोड़ी थोड़ी व्हिस्की डाल दी. मैं समझ गया कि पापा को बाहर गए हुए 2 महीना से अधिक हो गए हैं, इसलिए मॉम का यह हाल है.

बीएफ फिल्म देहाती हिंदी ये मौका अच्छा था, इसलिए मैंने बिंदु को फ़ोन करके बोला- तुम अपना सामान पैक कर लो, मैं आ रहा हूँ. मैं कई बार चाची की गांड और चूचों के बारे में सोच कर मुठ मार चुका था.

इसलिए बहुत बार कोशिश करने पर भी मेरा लंड उसकी कमसिन चूत में नहीं घुस पा रहा था.

बीएफ सेक्सी बुर की चुदाई वीडियो

मैं उसके ऊपर पूरा छा कर उसके मम्मों को चूस और दबा रहा था और उसे किस कर रहा था. वो चिल्लाने लगी लेकिन मैंने अपने होंठों से उसका मुंह बंद किया और लंड बाहर खींच कर थोड़ा फिर और तेज झटका लगाया और पूरा लंड चूत में समा गया।उसके मुंह से आवाज़ निकली तो सही लेकिन लिप-लॉक होने के कारण इतनी नहीं निकली।मैं धीरे-धीरे धक्के मारने लगा और वो अब शांत हो गयी और चुदने का मजा लेने लगी। उसका दर्द कम होता जा रहा था और उसके मुंह से अब सिसकारियां निकल रही थीं. इसी बीच उसका लंड मेरी चूत से बाहर निकल गया, तभी मैंने अपने हाथों से लंड को अपनी चूत में डाल लिया.

मैंने उसकी पैंटी को निकाल कर नीचे खींच दिया और अपनी मुंह उसकी चूत पर रख दिया. इस बार उसके गाल पर एक हल्के चुम्बन के बजाये, उसने अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिया कुछ सेकंड्स के लिए. सलहज की चूत और गांड के बारे में सोच कर लंड काफी देर पहले से ही तना हुआ था इसलिए उसने अंडरवियर में ही टोपे को चिकना कर रखा था.

” ज्योति ने अपनी नाइटी उतारने में अपने भैया की मदद करते हुए कहा।बहन आप बेहद ख़ूबसूरत हो.

जैसे ही मेरा लावा निकलने को हुआ, मैंने पीछे से चुत में लण्ड से जोर का झटका मारते हुए भाभी की कोहनी को एकदम से हटा दिया जिससे वो चूचियों के बल बेड पर गिर पड़ी. मैंने फिर से उससे पूछा- अब कहां निकालूं?उसने बोला- मैं आपका दही पीना चाहती हूं, प्लीज़ मेरे मुँह में निकाल दो. उनको देखते ही जैसे मन करता था कि उनको अभी अपनी बांहों में लेकर भींच लूँ और चोद दूँ.

मैंने तुझे उस लड़के के सामने कुछ नहीं कहा, इसका मतलब यह नहीं कि मुझे कुछ पता ही नहीं चला. सीमा ने शावर खोला और अपनी चूत को और मुश्ताक के लंड को धोकर साफ़ किया. हालाँकि पिछले बारह घंटों में उन सभी की जम कर चुदाई हुई थी पर अभी भी वो चुदाई को बेताब नजर आ रहीं थी.

वे अपने हाथों को मेरे पेट से लगा कर मुझे पीछे की और धकेलने लगीं, पर मैं कहां मानने वाला था. वो तो गनीमत थी कि बेड पर दस इंच वाला गद्दा पड़ा था, जिससे मुझे कोई नुकसान नहीं हुआ.

मेरे बेटे की तबियत भी ठीक नहीं है और इस तरह से तुम्हारे यहां पर रहने से मेरी भी कुछ मदद हो जाया करेगी. दूसरी बात यह भी है कि लड़की के चूतड़ बड़े हों, तो सेक्स के टाइम पर जब लंड से शॉट मारते वक्त, जो आवाज आती है, वो काबिले तारीफ है. लेकिन ये क्या मैं ज्योति के पास जैसे ही पहुंचा, उसने मुझे पकड़ कर चूमना शुरू कर दिया.

मेरे भाई सुनील ने मेरी गीली चूत सहलाते हुए कहा- साली, तू कब से रंडी बन गई रे? तूने बताया भी नहीं? अगर तू चाहे तो मेरे दो-तीन दोस्त भी हैं, तुझे चुदाई के साथ पैसा भी मिलेगा.

मगर अचानक नीलम को अपने चूतड़ों पर अपने ससुर के हाथों का स्पर्श महसूस हुआ. थोड़ी देर बाद जब वो सामान्य हुई, तो उसके चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कराहट दिखी. मैंने सोचा कि घर में भी कोई नहीं है तो क्यों न इस मौके का फायदा उठा लिया जाये.

फिर उन्होंने मुझे बेड पर सीधी लिटाकर अपने पैर मेरी कमर की बाजू में रख लिये और चूत में लंड को पेलने लगे. अब मुझे असल में ही चुदाई करनी थी लेकिन मेरे पास चूत का कोई जुगाड़ नहीं था.

पर इस चक्कर में उसके जोर लगाने से उसका खड़ा मस्त लंड मेरी गांड के छेद पर बार बार हल्के हल्के धक्के भी दे जाता था तो मुझे मजा आ जाता था. मॉम- क्या करूं बेटा … अगर इनको खुला छोड़ दूँ, तो सारा मोहल्ले के लौंडे इनका दूध पीने चले आएंगे. क्या घर था उसका जहाँ रहती थी वो … एकदम आलीशान।उसने वो पूरा घर ही किराए पर ले रखा था.

बीएफ का गाना

सीमा भी मुश्ताक के होंठों से चिपक गयी … पहली बार वो अपनी ग्रुप सेक्स की फंतासी के पहले चरण को पूरा होते देख रही थी.

मेरे गोरे गोरे चूतड़ों को देख कर उसके दोस्त बोलने लगे थे- वाह क्या माल है. मैंने आंखें खोलकर देखा तो अंजू केबल ब्रा और पेंटी में मेरे बाजू में थी और एक हाथ से मेरा लंड और एक हाथ से अपनी चूत सहला रही थी. मैं भी उसे लिया और उसमें से सिंदूर निकाल कर उसकी मांग भर दी।मैंने जैसे ही उसकी मांग भरी, वो मुझसे लिपट गयी.

कई बार तो वो पढ़ने के लिए या नोट्स वगैरह लेने के लिए मेरे पास भी आ जाता था. विवान भैया तो मुझे होटल में ले जाने के लिए बोलते थे, बोलते थे कि होटल में आराम से सेक्स करेंगे. ಸೆಕ್ಸ್ ಪಿಕ್ಚರ್ ಇಂಗ್ಲಿಷ್ ಸೆಕ್ಸ್साले आज तू मुझे जान से मारने वाला है … मादरचोद मेरी चुत को फाड़ देगा तू!”उनकी चीखें सुनकर मैं और जोर से अन्दर पेलने लगा.

क्योंकि उसको भी बदनामी का डर था और इसलिए सिर्फ हमारी सेक्स भावना के लिए हम लोग एक हुए थे. फिर बोली- आप ये सब भी देखते हो? मैंने तो आपको बहुत ही शरीफ इन्सान समझा था.

अब वो जोर जोर से मुझे गोद में बिठा कर झटके लगा रहे थे और मैं उतनी ही तेजी से अपनी हथेली में तम्बाकू रगड़ रही थी और मेरे मुँह से सिसकारियां निकल रही थीं. वो बोली- कोई नहीं … हो जाता है … इस उम्र में उनसे कंट्रोल नहीं होता और तुमसे तो बिल्कुल ही नहीं होता. थोड़ी देर में मैंने उसके मम्मों को सहलाया और चूसा तो उसको राहत मिली.

जैसे जैसे मेरे हाथ उसके बदन पर मालिश कर रहे थे वैसे वैसे ही उसके शरीर के रोंगटे अब खड़े होने लगे थे. मैंने उसके सिर से तौलिया को खुलवा दिया और उसके गाउन को गर्दन से निकलवा दिया. अब मुझे समझ आया कि मैं जिस लंड को पूरा अन्दर जा चुका मान रही थी, दरअसल वो अभी शायद आधा ही गया था.

स्वरा बोली- वाह जनाब … तूने तो लज्जत दिला दी … इससे पहले कहां था?मैं हंस दिया और हम दोनों ने फिर से एक बार चुदाई के अगले राउंड की तैयारी शुरू कर दी.

आंटी ने कहा- कल सुबह 10 बजे आ जाना, तुम्हारे अंकल भी काम पर जा चुके होंगे और बच्चे भी स्कूल जा चुके होंगे. नीलम को टीवी की आवाज़ सुनाई दे रही थी। नीलम ने सब्जी को तड़का लगा कर जैसे ही आटा गूंथना शुरू किया, उसके ससुर ने आकर उसे पीछे से जकड़ लिया.

कंघी उठाकर लम्बे बालों को मांग निकालते हुए व्यवस्थित किया और चप्पलें पहन कर दरवाजे की तरफ बढ़ा. भाभी वहीं बेड के पास खड़ी थीं तो भैया भी खड़े हुए और भाभी के पास आ गए. ” परीशा उनके कान में फुसफुसाते हुए बोली।अब मुकुल राय ने पूरा लंड बाहर निकाल के परीशा की चूत में पेलना शुरू कर दिया। सच! ज़िंदगी में चुदवाने में इतना मज़ा आएगा परीशा ने कभी सोचा नहीं था। अब परीशा को एहसास हुआ कि क्यूँ उसकी सहेलियां रोज़ चुदवाने के लिए उतावली रहती हैं।अब परीशा की चूत बहुत गीली हो गयी थी.

फिर मैं उन्हें विंडो के पास ले गया और उन्हें वहां खड़ा करके खिड़की से लॉक कर दिया. इसलिए वो इतनी जल्दी अपने हथियार डाल कर मेरी हरकतों का साथ देने लगी. इसी बीच मेरा रज छूट गया था जो मेरी चूत से होता हुआ नीचे टांगों तक आ रहा था.

बीएफ फिल्म देहाती हिंदी मैं अपने घर जा रहा था, तो उन्होंने मुझे रोका और पूछा- कहां जा रहे हो?मैं बोला- अभी कपड़े बदल कर आता हूँ. जब पहली बार बहू को घर में लाया गया, तो सब बहू की मुँह दिखाई और बहू से परिचय करने में लग गए.

ममता कुलकर्णी की बीएफ

मैं कभी उसकी गांड से खेल रहा था, तो कभी उसकी गांड पर चांटें मार रहा था, तो कभी उसके मम्मों को दबा रहा था. रीतिका बोली- पहले चाची से अकेले मज़े कर लो … फिर बाद में थ्री-सम करेंगे. बहू की चुदाई की कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि ज्योति ने अपने भाई समीर को अपने पिता महेश की करतूत के बारे में बताया.

इतना अधिक वीर्य निकला कि उसकी एक पिचकारी से ही मेरा मुँह भर गया और बाहर गिरने लगा. मैं उससे ताकतवर था और उसके लंड का सुपारा मेरी गांड में घुसा आनंद दे रहा था. सेक्सी बताओ वीडियो में” महेश ने अपना मुंह लटकाते हुए कहा।थैंक्स पिता जी, मगर आप मुझसे ख़फ़ा तो नहीं हैं?” नीलम ने अपने ससुर का लटका हुआ मुँह देखकर पूछा।नहीं बेटी, मैं भला तुमसे कैसे नाराज़ हो सकता हूं.

एक दिन मैं दोपहर में किसी काम से बाहर चला गया, तो मैं उसके भाई को अपने सेंटर पर छोड़ आया.

मैंने स्कूली शिक्षा पास कर ली थी, लेकिन मैंने अब तक चूत तो क्या, किसी के चूचे तक नहीं देखे थे. इस तरह से दो-तीन बार करने के बाद मेरी गांड में ही उसने अपना माल गिरा दिया.

अब मैंने उसको पकड़ कर पलंग के किनारे कुतिया की पोजीशन में खड़ा कर दिया. थोड़ी देर इधर उधर की बात हुई और फिर अचानक भाभी ने मुझसे पूछा- अगर बीवी की बहन यानि साली को आधी घरवाली कहते हैं, तो उसी तरह पति के भाई को क्या कह सकते हैं?मैं भाभी का इशारा नहीं समझ पाया और ठीक जवाब नहीं दे पाया. फिर जब चुदास बढ़ी और खुल कर खेल होने लगा, तो हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए.

ऐसा करके उनकी गांड में नारियल का तेल डाल कर उंगली अंदर बाहर करनी शुरू कर दी.

इस भाई-बहन के रिश्ते की आड़ में मैं दीदी को कई बार मूवी दिखाने भी लेकर चला जाता था. मैं संजना के बारे में सोचने लगा कि उसको मेरी जरूरत थी और मैं उसकी मदद नहीं कर पाया. फिर उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी पूरी बॉडी पर हाथ फिराने लगी.

टार्जन की चुदाईअब मेरा मन कर रहा था कि दीदी की पोजीशन बदलवा दूं लेकिन लंड चूसने की बात पर दीदी मुझसे गुस्सा हो गई थी इसलिए मैंने चुप रहना ही ठीक समझा. मैं आगे भी हम पति-पत्नी की चुदाई की कहानियाँ आप तक लेकर आती रहूंगी.

बीएफ में सेक्स वीडियो

एक दिन उसने मुझसे कहा- बहुत दिन हो गए, अब मिलना चाहोगी?मैंने पूछा- कहां और कैसे?तो वो बोला- मुझे अपने शहर का नाम बताओ, मैं आ जाऊंगा. क्योंकि उसका लन्ड कुछ खास नहीं था, पतला था, शायद 5 इंच का रहा होगा. मैंने नेहा की टांगें फैला दीं और उसकी चूत पर मुंह लगाकर उसकी खुशबू लेने लगा.

कहते हैं कि भारतीय चुत काली होती है, पर रीना की चुत तो हल्की लाल थी और उसके ऊपर का दना एकदम गोल किसी मटर जैसा दाना था. रेखा और अनीता को उस दिन एक खीरे से चुदाई करते देख नीता की हिम्मत पड़ गयी कि वो अपना वाइब्रेटर इन सबको दिखाए जबकि इसके बारे में तो उसने अंकित को भी नहीं बताया था. मैंने पूछा- क्या बात है आशा? तुम्हारी तबियत तो ठीक है न?वो बोली- हां सुधीर भैया, मैं तो ठीक हूँ.

वाशरूम कि डोर लॉक होते ही सारिका ने राहुल को अपनी ओर खींच लिया और उसके होंठों से होंठ मिला दिए. जब वो उचकते उचकते थक गई तो बगल में लेट गई और हाथ से करतब दिखाने लगी. शाम को सात बजे मैं घर से निकला, कुछ सामान खरीदा और टहलते हुए वापस चल पड़ा.

मैंने अब सिर्फ उसके होंठों को चूसना जारी रखा और मेरा लंड उसकी चूत में ही था. मैं बोला- मेरी ऐंजल ने वो जो किया था, उसका ब्याज मिला कर वापस कर दिया है.

उसने मेरे मुँह पर अपनी चुत रख दी और मेरे लंड को मुँह में ले कर चूसने लगी.

लेकिन लंड तो उसकी गांड में घुसता चला गया था, इसका एक कारण ये भी था कि उसकी चूत से टपकने वाला रस उसकी गांड को चिकना करता जा रहा था. डबल बेड फर्नीचर फोटोथोड़ी देर में मेरा लंड झड़ने वाला था, तो मैंने कहा- जान निकलने वाला है. एक लड़की 10 लड़के सेक्सी वीडियोआज शॉवर से गिर रही बूंदों की छुअन गर्म जिस्म पर बाकी दिनों की अपेक्षा ज्यादा ठंडी महसूस हो रही थी. फिर उसने नेहा को इशारा किया और नेहा बेड पर मेरी बगल में आकर लेट गई.

जैसे ही मैंने जीभ को उसकी चुत पर लगाया, वो बिन पानी की मछली की तरह उछलने लगी.

थोड़ी देर मेरे मम्मों को दबाने के बाद वो खड़े हुए और धीरे से मेरा स्कर्ट निकाल दिया. कुछ देर तक मैं उनके लंड के सुपारे वाले गुलाबी हिस्से को जीभ से चाटता रहा. मैंने भी अकेली जाने का मन बना लिया और अपने आने की खबर अपने घर पर बताई घर वाले बहुत खुश हुए.

जल्दी से अपना यह लौड़ा मेरी गांड में उतार दो और मुझे अपनी छिनाल बना दो. ऋतु ने अनिल का लंड जब पहली बार देखा तो उसके मुंह से निकल गया- वाऊ!उसको अनिल का लंड पसंद आ गया. फिर पता नहीं उसको क्या हुआ कि उसने मेरा लंड छोड़ दिया और अपना हाथ बाहर निकाल लिया.

बीएफ सेक्सी इंडियन बीएफ सेक्सी इंडियन

उसने मेरा लंड दबाया, तो मैंने मजाकिया स्टाइल में कहा- क्या कर रहा है कमीने … अभी लंड खड़ा हो जाएगा, तो कौन संभालेगा. बॉस अब मुझे हर शनिवार को कहीं ले जाने लगा था और मेरी खूब चुदाई करता था. मैंने चाची के चूचों के बीच में अपना लंड दे दिया और उनके चूचों की ही चुदाई करने लगा.

अब उन्होंने धीरे से अपना एक पैर मेरे दोनों पैरों के बीच में फंसा कर धीरे से उसे मेरी चूत लाए और पैर से सहलाने लगे.

अन्दर आकर मैंने दरवाजा बंद किया, अपनी बांहें फैलाईं तो डॉली करीब आकर लिपट गई.

मैंने अपना हाथ कमर से हटा कर उनके बड़े चूतड़ों के ऊपर रख दिया और उन्हें सहलाने लगा. राहुल ने वाशरूम का गेट बंद किया और जब वो यूज करके बहर आ रहा था तो उसने गेट के पीछे टंगी सारिका की लाल रंग की झीनी शोर्ट नाईट ड्रेस दिखीं. हनिमून व्हिडीओक्या हुआ नीलम … क्या अब मैं इतना गिर गया कि तुम मुझे अपने क़रीब भी आने नहीं देती?” समीर ने गुस्से और गम से अपनी पत्नी को देखते हुए कहा।हाँ तुम मुझे नहीं छू सकते क्योंकि मुझे भी तुम्हारी तरह किसी और से ज्यादा लगाव हो गया है.

मैंने अगले दिन अपने साथियों के साथ सारी लड़कियों के बारे में विचार विमर्श किया और कोई पांच लड़कियों को हमने चुन लिया और उनके नाम, आगे की कार्यवाही के लिए अपने हेड ऑफिस भेज दिए. मैंने भी इस बात का फायदा उठाया और उन्हें चुप कराने के बहाने अपना एक हाथ उनके चुचे से टच कराने लग गया. इसमें हालाँकि ऐसा कुछ अलग नहीं था, लेकिन फिर भी उसको महसूस हो रहा था.

अब धीरे धीरे मेरा लंड किसी को पेलने को उतावला हो रहा था, लेकिन चयन पहले अपने मुँह को मेरे लंड से सन्तुष्ट करना चाहता था. बॉस ने मेरे होंठों पर अपना हाथ रख दिया और लंड को ज़ोर से मेरी चूत के अन्दर पेल दिया.

कुछ देर तक चोदने के बाद उन्होंने अपना लंड परीशा की चूत से बाहर खींचा और उसके मुँह में डाल दिया। पापा का पूरा लंड और बॉल्स परीशा की चूत के रस में सने हुए थे.

जब मैं चाची के घर में पढ़ रहा था, तब भी मैं उन्हें चाची के घर में बहुत बार देख चुका था. आपने मेरी पिछली कहानियों को बहुत पसंद किया जिसमेंकलयुग का कमीना बापमाँ बेटी की मज़बूरी का फायदा उठायासर बहुत गंदे हैंऔरबाप ने बेटी को रखैल बना कर चोदाआदि शामिल हैं। उसके लिए सभी पाठकों को बहुत बहुत धन्यवाद। अब पेश है नई अन्तर्वासना स्टोरी।महेश सरकारी नौकरी से रिटायर हो चुके हैं। उनकी पत्नी का नाम सरिता देवी है। उनका मकान दो मंजिला है. साइड में दो हैण्ड टॉवल रखे थे, एक से शबनम ने अपनी चूत साफ़ करी और एक राजीव के लंड पर डाल दिया.

पांडे सेक्सी वीडियो उसने मुझसे पूछा कि एल लगना क्या होता है?मैंने उसको ऐसे ही बोल दिया कि तुमको पता ही होगा, पर तुम ऐसे ही नाटक कर रही हो. अब समझ में आ रहा है कि तू मुझे और हिना को भी क्यों फार्म हाउस बुला रहा था.

फिर मैंने रजू की पैंटी को भी निकाल दिया और अपनी फ्रेंची को नीचे करके उसकी नंगी गांड को दबाते हुए उसकी चूत में उंगली करने लगा. इसके बाद बर्थडे पार्टी वाले दिन मेरे बॉस ने मुझे एक गिफ्ट दिया और कहा- यह तुम्हारा पार्टी गिफ्ट है, आज तुम इसको ही पहन कर आना. इस बार वो लंड की गोटियां चूसते चूसते गांड के छेद तक जीभ घुमा रही थी.

बीएफ स्टेशन

आज सीमा का एक सपना पूरा हुआ था … वो मुश्ताक को देख देख मुस्कुरा रही थी. फिर उसने अपने लंड के टोपे पर भी थूक लगा दिया और मेरी गांड में लंड को रख कर घुसाने लगे. उसने भी मेरे ऊपर कभी भैया या इस तरह के कई और लंड-रोधक शब्दों का प्रयोग नहीं किया था.

अनीता ने मेरी लोअर में तने हुए मेरे लौड़े की तरफ सरसरी निगाह से देखा और फिर मेरे चेहरे से टपक रही हवस को पढ़ने की कोशिश करते हुए कहने लगी- हां, बस खाना तैयार होने ही वाला है जीजा जी. तभी मुझे लगा कि मैं स्खलित होने वाला हूँ और मैंने अपना सारा प्यार उसकी चूत में उड़ेल दिया और निढाल हो कर उसके ऊपर गिर गया.

युवराज पीछे खड़ा था और अपना खड़ा लंड मेरे नितम्ब पर रगड़ रहा था। वो पीछे से मेरी गर्दन पर और पीठ पर खुली जगह पर चुम्बन करने लगा.

इन दोनों रंडियों के कोमल हाथों की छुअन से मेरे लंड का पानी छूटने को हो गया था इसलिए मैं थोड़ा पीछे हो लिया. शुरू में जब पहली बार मैंने एक रंडी की चूत चोदी तो बहुत मजा आया लेकिन फिर धीरे-धीरे मजा आना कम होता चला गया. कभी मुझे उल्टा करके चोदता, कभी मेरी टांगें उठाकर ज़ोर ज़ोर से चुदाई करने लगता.

सीमा का टॉप मोटे कपड़े का होने से उसे ये भी अंदाज़ नहीं लग पाया था कि सीमा ने नीचे ब्रा नहीं पहनी. मैं बोली- ये क्या किया तुमने, ये गलत है।आकाश बोला- कोई नहीं जानू … सुबह तक तो तुम्हें कुछ भी याद नहीं रहेगा. बैंगलोर के एक प्रतिष्ठित कॉलेज में दाखिला मिल गया था, अतः घर छोड़ कर अपना भविष्य सुरक्षित करने के लिए चल दिया.

एक दिन हम तीनों फोन सेक्स कर रहे थे और मैं उत्तेजना में आकर प्रशांत को गाली दे रही थी- चोद साले मुझे … मैं तेरा लंड अंदर तक लेना चाहती हूं … मिटा दे मेरी चूत और गांड की खुजली मादरचोद!मेरी आवाज सुनकर मेरा भाई सुनील अचानक से मेरे कमरे में आ गया और मैं घबरा गयी कि अब क्या करूं? मेरी उंगली मेरी चूत में थी जिसे मैंने झट से निकाल लिया मगर मेरे बूब्स अभी नंगे थे.

बीएफ फिल्म देहाती हिंदी: वो बोले- कमरे तो सारे फुल हैं लेकिन हम आपके लिए व्यवस्था कर देंगे लेकिन उसके लिए आपको अतिरिक्त चार्ज देना पड़ेगा. उनकी इस दो अर्थी बात से मुझे कुछ समझ आया, तो मैंने कहा- पूरा चैन चाहिए तो फिर मुझे आपके ऊपर चढ़ना पडेगा.

मैं उसके ऊपर पूरा छा कर उसके मम्मों को चूस और दबा रहा था और उसे किस कर रहा था. मैंने भाभी को अपनी बांहों में भर लिया और उनको फिर से गर्म करने लगा. फिर उन्होंने मेरा पैंट भी निकाल दिया और चड्डी के ऊपर से ही मेरा लंड सहलाने लगीं.

जब तक दोनों का पानी नहीं निकल गया, हम लोग एक दूसरे के लंड चूत को चूसते रहे.

बस आप लेकर आ जाना और साथ में आलिया दीदी के कुछ अच्छे अच्छे ड्रेस लेकर आना. मैं बहुत कण्ट्रोल कर रही थी कि कहीं मेरी आवाज़ से मम्मी को शक न हो जाए. उसी दिन मैं समझ गई थी कि दीदी अपनी चूत में उंगली करते हुए खुद ही अपनी चूत को शांत करने की कोशिश करती रहती है.