वीआईपी हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो जबरदस्ती वाली सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थानी सकस: वीआईपी हिंदी बीएफ, पर वो जोर से चिल्ला उठी और मुझे दूर को धकेलने लगी।मैंने झट से उसे पकड़ लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए।उसे बहुत दर्द हो रहा था.

मराठी सेक्सी पिक्चर वीडियो में

मुझे लग रहा था कि मैं मार जाऊँगी।उसने एक और धक्का मार कर अपना पूरा लण्ड अन्दर डाल दिया. सेक्सी वीडियो 2020 2021उसके दो बड़े-बड़े चूचे मेरे सामने लहरा रहे थे।अनायास ही मैंने उसका एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया.

जिससे आशा के चरित्र पर सवाल खड़े हो जाएं।उसने वैसा ही किया सन्नी को भड़काया कि आशा किसी और से चोरी-छुपे यहाँ मिलने आती है। उसने खुद होटल में दोनों को जाते हुए देखा। उसकी बात सन्नी ने मान भी ली और आशा से कॉन्टेक्ट भी नहीं किया।अब हाल यह था आशा फ़ोन करती. सेक्सी वीडियो फ्री पोर्नएक-एक अंग की बनावट साफ-साफ देखी जा सकती थी।पायल हल्की सी मुस्कान के साथ धीरे-धीरे नीचे आई और दोनों की आँखों के सामने आकर ज़ोर से ‘हैलो’ कहा, तब कहीं जाकर उनको होश आया।पुनीत- वाउ पायल.

वो तो सोनी को ही समझ आ रहा था।कुछ पल बाद सोनी और मैं दोनों ही एक साथ झड़ गए और मैं सोनी को लेकर बाहर आ गया.वीआईपी हिंदी बीएफ: इसी लिए मैंने थोड़ा विस्तार से यहाँ बता दिया। अब आगे शॉर्ट में निपटा दूँगी।वो लोग काफ़ी देर तक आगे की प्लानिंग करते रहे और उधर टोनी अपने दोस्तों को उनकी प्लानिंग बता रहा था कि वहाँ क्या हो रहा है और तुम्हें क्या करना है।कुछ देर बातें करने के बाद सभी रेस्ट करने लगे और शाम तक सब सोकर फ्रेश हो गए।दोस्तो, अब वक़्त आ गया है हमारे गेम शो का.

बड़े ज़ोर का सूसू आया है।पुनीत कमोड पर बैठ गया और पायल को करीब खींच कर अपनी जाँघों पर बिठा कर उसके मम्मों को चूसने लगा। उसका लौड़ा एकदम कड़क हो गया.अब मेरा क्या होगा!आप जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिख र मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected].

सेक्सी हॉट चाची - वीआईपी हिंदी बीएफ

सो धीरे-धीरे रिचा ने उसको अपने ऊपर ले लिया और उसका ब्वॉय फ्रेंड भी उसके ऊपर चढ़कर उसके मम्मों को चूसने लगा। हमारी तो हालत खराब हो रही थी तो यहाँ हम भी स्टार्ट हो गए।मैंने अन्दर देखा कि रिचा की आवाज़ आई- उह्ह.उसने मेरा लण्ड हाथ में लिया और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी।अब मुझसे भी रहा नहीं गया.

और सीधे तेज-तेज झटके मारने लगा।सुरभि अपने सर का ज़ोर इतना अधिक दे रही थी कि प्रियंका की गाण्ड दबे जा रही थी। उसकी गाण्ड की लाइन दो फाँकों में हो रही थी. वीआईपी हिंदी बीएफ और उसके होंठों को खाने लगा।मेरे दोनों हाथ उसके चूचों से खेल रहे थे, उसके अंगूरों को मसल रहे थे। मैं थोड़ा नीचे होकर उसके चूचों को पीने लगा उसके मम्मों के ऊपर पानी ऊपर से गिरता हुआ.

बाकी तो सब वो जानता ही है।पायल- अच्छा तो सबके साथ कहीं वो भी मुझे चोद ले.

वीआईपी हिंदी बीएफ?

मैं तुम्हारे माल का पूरा मज़ा लेना चाहती हूँ… जोर-जोर से चोद कर डाल दे अपना सारा माल मेरी चूत में. नहीं मुझे सबके सामने नंगा होना पड़ जाएगा।पुनीत- पायल मैंने तुमसे एक बात छुपाई है।पायल- क्या भाई बताओ ना प्लीज़?पुनीत ने गेम के बारे में सब कुछ पायल को बता दिया. तो मैंने देर न करते हुए उसके होंठों से अपने होंठ मिला दिए और इसी के साथ अपने हाथ को पैन्टी के साइड से अन्दर घुसाकर उसकी चूत सहलाने लगा।वो तो बस पागल हुए जा रही थी और मुझे अपने ऊपर लेने की कोशिश करने लगी थी।लेकिन मैं अभी कोई रिस्क नहीं लेना चाह रहा था तो मैंने बैठे-बैठे ही उसकी चूत में उंगली डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा।वो अपनी टाँगें पसारे हुए थी.

इसलिए उसके होंठों को मैंने अपने होंठों से दबा दिया और बिना कुछ सोचे मैं धक्के मारने लगा।पहले तो 5 मिनट तक दिव्या ने मुझसे छूटने की बहुत कोशिश की. अर्जुन- मेरी जान तेरे मुँह में तो बस लौड़े को गीला करने के लिए दिया था. तो कर लो।वे दोनों उतर गए और साइड में पेशाब करने लगे। मैं भी उतर गई और ट्रक के पीछे जा कर मैंने पेशाब कर ली।जब मैं लौटी.

कहाँ निकालूँ?’ मैंने रितु को बोला।उसने कहा- हमारे प्यार का पहला मिलन है. मेरा आधे से ज्यादा लण्ड उसकी चूत में चला गया। उसकी आँखों से आंसू निकलने लगे. इसलिए उसकी स्वीकृति के बाद मैंने यह कहानी आपके सामने परोसी है।अब इसे मिठाई समझ कर खाना या चिकन.

’ करने लगी।मैं थोड़ी देर उसके ऊपर यूँ ही लेटा रहा।जब थोड़ा दर्द कम हुआ. पता नहीं चला और कुछ सोचे-समझे बिना मैं उसके मम्मों को दबाने लगा।अब आगे.

ऐसा नहीं करते।तो मैंने भी मन में कहा कि आज नहीं तो किसी और दिन तेरी गाण्ड मार कर ही मानूँगा।फिर थोड़े दिन बाद मैंने उसकी गाण्ड भी मारी.

उनकी सिसकारियाँ निकलने लगीं, वो तेज तेज मुंह को चोदने लगे और 2 मिनट बाद वीर्य की गर्म पिचकारी मेरे गले में लगने लगी.

तब भी लोग मुझे घूर-घूर कर देखते हैं।अवि- मैडम आप गाँव में सबसे सुंदर हो. मैं आता हूँ।पायल के जाने के बाद पुनीत ने सन्नी से कहा- ये अचानक एसीपी तेरा दोस्त कैसे बन गया और वहाँ इसको क्यों बुलाया. तो उसमें ही रहने लगा और धीरे-धीरे मेरे करीब आ गया।चूंकि मुझे बचपन से ग़लत आदत पड़ गई थी.

मुझे तो जैसे किसी कश्मीरी सेब की तरह मजा आ गया।अंजान और गैर अनुभवी के लिए तो यह ही काफी था।परी का चेहरा देखने लायक था।उसने मुझे गुस्से से देखा. ’ झटके देने लगा और ऊपर से अर्जुन उसकी गाण्ड का बैंड बजा रहा था।एनी- आह्ह. उसने अपना लौड़ा मेरी गाण्ड के छेद पर टिकाया और एक ही झटके में आधे से ज्यादा अन्दर घुसेड़ दिया और मेरी कमर कस कर पकड़ कर फिर और एक धक्का मार कर अपना लौड़ा पूरा का पूरा मेरी गाण्ड में ठूंस दिया। मैं कुछ कराही.

’ करते हुए भी लण्ड चूसने लगी। उनका 8 इंच का लण्ड मेरे मुँह को चोद रहा था.

मुझे मालूम है गीत ने आप दोनों से एक साथ चुदवाया है और आज हम दोनों आपसे चुदने वाली हैं। जब गीत ने आपको काल की थी. उधर पायल की चूत फट गई शायद देखो कैसे तड़प रही है।रॉनी- तड़पने दे कुतिया को. लेकिन मैंने उससे सीधे लेटते ही अपना पैर उसकी जाँघों पर रख दिया और उसको दबोचे रखा।फिर से मैंने उसके मम्मों को दबाना चालू किया और इस बार ज़ोर से दबाना और मसलना जारी रखा।मैंने देखा वो बार-बार अपनी जीभ होंठों पर फिरा रही थी और ज़ोर-ज़ोर से साँस ले रही थी। मैंने देखा कि ज़ोर से दबाने के कारण उसका टॉप आधे पेट तक आ गया है.

गाण्ड लाल करते हुए अपना लण्ड उसकी चूत में पेलता चला गया।‘ले धक्के पे धक्के. बस सामने वाले की हर ज़रूरत और खुशी का ख़याल रखिए और हर पल सेक्स में कुछ नया ट्राई करते रहिए और हाँ एक लास्ट बात यह कि ब्रूटल सेक्स की जो मर्दों की डिमाँड होती है. उसकी घर में एक रसोई और चार कमरे आमने-सामने थे।मैंने पूछा- बाकी सब कहाँ हैं?मैडम ने कहा- सब मतलब? यहाँ मैं अकेली रहती हूँ।यह सुनकर मैं बहुत खुश हो गया। फिर मैंने पूछा- आपके मिस्टर कहाँ हैं?मैडम ने बताया- मेरे उनकी पोस्टिंग कहीं और हो गई है और वो वहाँ रहने लगे हैं.

और इतने में थोड़ी देर बाद प्रीत आई और उसने मौसा-मौसी को नमस्ते किया।पर मेरी नजर उसके चेहरे पर थी और जब भी मुझे देखती तो शर्मा कर नजर नीचे कर लेती।प्रीत बोली- आंटी आज मेरा जन्मदिन है और यश मेरे यहाँ ही खाना खा लेगा.

और तेज-तेज झटकों से उसकी गाण्ड मारने लगा। जिससे उसकी गाण्ड और चूत में अलग ही गरमी का एहसास हो रहा था. और मेरी आगे की पढ़ाई अभी भी चल रही है। मैं कंप्यूटर बनाने के लिए के घर पहुँच कर सेवा देता हूँ।एक दिन की बात है.

वीआईपी हिंदी बीएफ तो सोनिया मदन के लण्ड पर से उतर गई और अच्छे से रिंकू का लण्ड चूसने लगी।मदन मेरे पास आया और मुझसे कहने लगा- अमित आज सोनिया की चूत में एक साथ दो लण्ड डाल कर देखते हैं।तो मैंने भी आँख दबाते हुए बोला- हाँ यार. फिर मैं भी सो जाता लेकिन उसने कभी घर वालों से नहीं बोला।उसके बाद मेरी शादी भी हो गई.

वीआईपी हिंदी बीएफ वह भी मेरा साथ देने लगी।किस करते हुए ही मैंने उसके सूट को निकाल दिया। फिर मैंने अपना हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा. जिससे पानी की मेरे लण्ड को गीला कर रहा था। मैंने हल्के से लण्ड को बाहर निकाला और पूरी जान से पेल दिया।इस बार तो सोनी का बुरा हाल हो गया। वो जोर से चीखने ही वाली थी कि मैंने उसका मुँह अपने हाथ से बंद कर दिया.

दूसरे कमरे में चल कर सिखा।मैं समझ गया कि इसे क्या सीखना है।दूसरे कमरे में आकर वो बोली- ब्लू फिल्म चला न।मैंने कहा- मैं नहीं रखता.

नंगा वीडियो नंगा वीडियो

और वो दर्द से चीख रही थी।फिर मैंने धीरे-धीरे अन्दर-बाहर किया तो उसका दर्द कम हुआ।फिर मैंने एक झटका मारा. लेकिन मुझे एक ज़रूरी काम से दो-तीन घंटों के लिए बाहर जाना है। जब तक सफाई वाली आए. उसके दो बड़े-बड़े चूचे मेरे सामने लहरा रहे थे।अनायास ही मैंने उसका एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया.

और फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजना स्टार्ट कर दिया।मैंने काफ़ी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी थीं. जिससे मेरी तो जैसे जान ही निकल सी गई।मगर कुछ देर बाद वो खुद ही नॉर्मल हो गई. मैं बाहर आया और जूही को गले लगा लिया और कहा- जूही तुमने तो दूधवाले का बुरा हाल कर दिया। देखा तुम्हें देख कर कैसे लण्ड मसल रहा था.

काली टी-शर्ट और काली कैपरी में बहुत ही झक्कास आइटम लग रही थी।मैं उसे देखता ही रह गया.

फिर भी मैं 20 मिनट तक मैडम को चोदता रहा।इसी बीच मैडम दो बार पानी निकाल चुकी थीं। हम दोनों हाँफने लगे। थोड़ी देर बाद हम नॉर्मल हो गए।मैडम बाथरूम में चली गईं, फिर थोड़ी देर बाद मैं भी बाथरूम हो कर आया।जब तक मैं बाथरूम में था मैडम ने हम दोनों के लिए कॉफी बनाई।मैडम- आज लाइफ में पहली बार सेक्स करते समय इतना मजा आया कि मेरे पास बताने के लिए शब्द नहीं है. अभी बारहवीं में पढ़ता हूँ।आज मैं आपको अपनी सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ जिसे सुनकर आपका चोदने का सब्र ख़त्म हो जाएगा।यह बात अभी सिर्फ दो महीने पुरानी ही है। हम लोग भोपाल के एक मध्यम वर्ग वाले परिवार से है. स्लिम बॉडी है और मेरे फिगर का साइज़ 32-28-30 का है।यह बात 4 महीने पहले की है.

पर उसके मम्मों के पास उसके कमीज़ का हिस्सा मुझे मेरी जीभ को उसके अंगूरों को चूसने से रोक रहा था. जिसके आते ही मैं शाज़िया के घर पहुँच गया और उसके कमरे में पहुँचते ही मैंने शाज़िया को पकड़ कर अपने पास खींच लिया और अपने होंठ उसके होंठों से लगा दिए।शाज़िया ने अपने आपको छुड़ाते हुए कहा- आते ही लग गए गर्म करने. अब तेरी टांगों को मैंने अपने कंधों पर रख लिया और तेरी चूत पर किस करने वाल हूँ अभी साली.

आज फिर एक बार अपने एक अन्तर्वासना के मित्र की कहानी आपके सामने प्रस्तुत करने जा रहा हूँ. भाई बहुत टाइट चूत थी उनकी।फिर मैं ऐसे ही जोर से चुदाई करने लगा।भाभी भी अब मजा लेने लगीं और झटके के साथ उनकी चूचियां भी ऊपर-नीचे हो रही थीं।थोडी़ देर बाद मैं बोला- जान.

आप तो हमें जानती भी नहीं हो और मैं भी आपको नहीं जानता?वो बोलीं- मैं चेहरे पढ़ना जानती हूँ. लेकिन उसे देखकर लगता ही नहीं था कि उसकी उम्र उतनी होगी। उसका फिगर भी काफी मेनटेन था। बातों-बातों में मैंने उसे उसका फिगर पूछा. ऐसे समझ में नहीं आएगा।वो मान गई।मगर 69 के पोज में उसने मेरा लन्ड नहीं चूसा.

और मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ।मेरी कहानी सत्य घटना है। यह घटना कुछ 4 महीने पहले की है।मेरी हाइट 6 फुट है.

बाहर आने को तरस रहे थे।मेरी नजर वहाँ से हट ही नहीं रही थी, मैं उन्हें ही देखता रहा।सविता भाभी की नजर भी मेरे ऊपर कब पड़ी. पर आप अँदाजा लगा सकते हो।उसने अपना एक हाथ मेरी शर्ट के अन्दर डाल दिया. तो मैंने उसे पूरा निकाल दिया। अब मैं सिर्फ अन्डरवियर में था और नीलम मेरे सामने नंगी पड़ी हुई थी।मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लण्ड पर रखा.

और नार्मल रियेक्ट करने लगे।फिर हम इंटरवल के बाद फिल्म देखने गए और इस बार हमारे बाजू की सीट्स खाली ही थीं. पकड़ कर नीचे खींचता।मैं थोड़ा दर्द और थोड़ा काम के आवेग में सब सह रहा था।लगभग दस मिनट हो चुके थे और मैं अभी पूरे दिल से लंड को चुसवा रहा था।वैसे नार्मल लाइफ में मैं 5 मिनट ही लंड चुसवाना पसंद करता हूँ.

सो मैं अपने सारे कपड़े उतार कर नहाने लगी और अपनी चूत में उंगली करने लगी। पता ही नहीं चला कि कब भाई आ गया. मेरे से अब बर्दाश्त नहीं होगा।भाई- मेरी जान मेरा ख़ज़ाना तो नीचे ही है. मैं समझ गया, मैंने उसको लिटा कर मोर्चा संभाल लिया।उधर नीचे लंड को धीरे-धीरे आगे-पीछे करता रहा.

किन्नर किन्नर सेक्स

पूरा लंड एक बार में ही जड़ तक अन्दर चला गया।मैंने एक हाथ से उसके लंड को पकड़ कर मुठ्ठ मारते हुए.

मेरे हाथ की उंगलियाँ और अंगूठा मिल नहीं पाए।मैं अन्दर तक सिहर उठी।मैंने कहा- मोनू तेरी नूनी तो पहले 2 इंच की थी. इतनी देर में मैंने सिमरन की तरफ देखते हुए कहा- साली चुदक्कड़ लौंडिया. उसकी चूत को अपनी दो उंगली से पेल रहा था।काफी देर ऐसा करने के बाद मैंने अपना एक हाथ उसकी चूत के नीचे से.

मेरा पॉवर इतना है कि कई-कई घंटे भर तक मैं लगातार चोद सकता हूँ और उसके बाद दोबारा भी जल्दी तैयार हो जाता हूँ. अब मुझसे नहीं जा रहा था। मैंने पहली बार उसकी बांह में चुटकी काटी। वो कुछ नहीं बोली। फिर मैंने उसके गाल पर चुटकी काटी। वो फिर भी कुछ नहीं बोली। फिर मैंने हिम्मत करके उसकी समीज़ के ऊपर से ही उसकी चूचियों पर चुटकी काटी. 12 साल की लड़की की सेक्सी वीडियो मेंमैं बाथरूम में गया और मुठ मार कर अपने आपको शांत किया।मैं वापस कमरे में आया तो मैंने मैडम को चोदने का सोचा.

तब राज ने मेरे पास आकर अपने हाथों में मेरा हाथ ले कर कहा- पूर्वा, तुमको मैं लव करता हूँ।मैंने एक स्माइल दी और उससे दूर हो गई।वो मेरे पास आता. ओह्ह्ह तो जनाब ने अम्मी की गाण्ड में उंगली ही घुसेड़ दी है।वो अपनी उंगली गाण्ड में घुमाने लगा.

ये आप पर है।आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा में आपका प्यारा लेखकअभिजीत देवाले ‘चूतचोदू’[emailprotected]. उन्होंने हमारे परिवार का स्वागत किया। वो पापा के ही विभाग में बाबू थे। आइए उनके परिवार की पहचान आप सभी से करवाता हूँ।उनकी पत्नी नीता थीं. उसकी गाण्ड फाड़ दे। उसके बदन को मसलकर अपनी हर तमन्ना पूरी कर ले।मैंने मस्ती में झूमते हुए अपनी दोनों टाँगें फैला दीं।मेरी फैली हुई जांघों के बीच आकर दोषी ने अपना लंड मेरी चूत के छेद पर लगाया।‘मालिक.

तब जाकर उन्हें आराम हुआ और वो ठीक हो पाए।आज ज़िंदगी में पहली बार वो मुझसे इतना खुश थे कि बताना मुश्क़िल है, वो बोले- आज तुमने मेरी सबसे बड़ी तमन्ना पूरी की है।अब उनका नेचर मेरे साथ पूरी तरह से बदल चुका था, वो मुझे इतना प्यार कर रहे थे. एक बार की बात है जब भाभी बच्चों को लेकर अपने मायके गई हुई थी गर्मी की छुट्टियों में. आवाजें निकालने लगी।मैंने उसके स्तनों को ब्रा से आज़ाद कर दिया।क्या बताऊँ दोस्तो.

तो मैं अन्दर ही झड़ गया और वो काफ़ी खुश हुई और ज़ोर से मेरे होंठों को चूम करके मुझे थैंक्स किया।वो बोलीं- तुमने मुझे आज बहुत मज़ा दिया है.

मैं इन चीजों से दूर रहता हूँ।तो बुआ मुस्कुरा दीं और हम लोग इधर-उधर की बातें करने लगे।इस बीच में मैं बुआ को गाण्ड और बोबों पर छूता जा रहा था। मेरे हर बार छूने पर बुआ मुस्कुरा देती थीं।थोड़ी देर बाद बुआ अपने काम करने चली गईं।रात को बुआ फिर मेरे साथ सोईं. और हम दोनों का दिल टूट गया।आज मेरी छुट्टी थी तो मैं और भाई घर में ही थे। भाई बाहर खेलने चला गया, दादा जी और पापा जी ड्यूटी पर और दादी किसी के घर चली गई थीं। मम्मी बहुत देर तक नहाती हैं। तो जब वो नहाने गईं.

फिर मैंने दबा कर धक्के मारने चालू किए और वो चिल्लाए जा रही थी आह्ह. वो अपनी चूत को मेरे हाथ पर मसल रही थी और मेरे लिंग को अपने हाथ से रगड़ रही थी।मेरा हाल भी बहुत बुरा था. ’ नेहा ने अपने उरोजों को अपने हाथों से सहलाया और अनीता दीदी की तरफ देख कर मुस्कारने लगी।अनीता दीदी की आँखों में एक शरारत भरी चमक थी और एक सवाल था… नेहा ने उनकी तरफ देखा और कहा- आप जैसा सोच रही हैं.

तो आओ हम सब कल क्या होता है वो देख लेते हैं।रात की थकान ऐसी थी कि सभी देर तक सोते रहे. इसमें मेरी कोई ग़लती नहीं है।फिर उसने कुछ नहीं कहा और मैं फिर से शुरू हो गया।बातों के साथ अपने ऑपरेशन में अभी कोई दस मिनट के बाद मैंने अपना हाथ उसके गले की तरफ से अन्दर डालने की कोशिश की और कुछ हद तक सफलता भी पा ली. उनके फेस को चाटने लगी।उन्होंने भी मेरा पूरा साथ दिया। काफ़ी देर तक हम यूँ ही एक-दूसरे को जकड़ कर प्यार करते रहे.

वीआईपी हिंदी बीएफ और लिंग पकड़ कर सुपारे को योनि में घुसा लिया।फिर मैंने उनके चूतड़ों को दोनों हाथ पीछे ले जाकर खुद को एक टांग से सहारा देकर अपनी योनि उनके तरफ धकेला. तो उसके मुँह से ‘हाय’ निकल गई। उसने मेरे सर को पकड़ लिया और दबाए रखा। मैं भी उसके लंड की खुशबू को सूँघते हुए लंड और और जाँघों को चूमने लगा.

मराठी भाभी का सेक्सी व्हिडिओ

मैं अपने भाई को उसकी क्लास से लेने चला गया। जब आया तो वो आंटी वहीं बैठी थी और मेरी तरफ ही देख रही थी।ियही सिलसिला 2-3 दिन तक चलता रहा वो रोज मेरी तरफ देखती और मैं भी उसको लालसा से देखता।फिर एक दिन मैं थोड़ा जल्दी आया. मैं एकदम से डर गई और जल्दी से तौलिया लपेट कर बाहर आ गई।मेरा मन अब भाई की तरफ खिंच रहा था. ताकि उससे दर्द ना हो और वो कहीं चूची मिंजवाना मना ना कर दे।मैं देख रहा था कि जब मैं उसके मम्मों को सहला रहा था.

तो मैं और रिंकू वहीं दरवाजे पर ही खड़े होकर मदन और सोनिया की चुदाई देखने लगे।मदन ने सोनिया को पूरी नंगी कर दिया और उसे चुम्बन करने लगा और उसके मम्मों को मसलते हुए दबाने लगा।दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. दूधवाला अभी भी वहीं खड़ा था और जूही की उभरी हुई गाण्ड को निहार रहा था।तभी जूही फिर से मुड़ी और कहा- हाँ भैया. सेक्सी वीडियो एयरटेलबस कोई जॉब न होने के कारण थोड़ा दिमाग खराब था और पार्ट टाइम जॉब में मेरा खर्च नहीं पूरा हो पाता है।मेरे इतना कहते ही वो बोलीं- बस इतनी सी बात है?मैंने कहा- हाँ.

जो कि उसकी गोरी-गोरी टाँगों में बहुत ही सुंदर लग रही थी और मुझे ज्यादा उत्तेजित कर रही थी।मैंने उसकी जाँघ पर.

पर थोड़ी देर में वो मेरे लण्ड से खेलने लगी। अब मैंने गाण्ड को मसलते हुए उसकी स्कर्ट उँची कर दी. सभी पाठकों को अंश बजाज का नमस्कार और पाठकों द्वारा दिये गए प्यार के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.

और अब वे उनके लण्ड को चाट-चाट कर साफ़ करने लगी थीं।‘इसमें आपको बहुत मजा आता है ना?’‘हाँ’ कहते हुए उनके लण्ड को अम्मी ने हिलाया. जब मेरी स्कूल की फ्रेंड्स ने मुझे सेक्स के बारे में बताया और कुछ मैंने नेट से जानकारी हासिल की। पहले मैं कभी उसके घर और कभी वो मेरे घर आकर खेला करते थे।एक दिन उसने मेरी मासूमियत और बचपना देख कर मुझसे कहा- चल ऊपर छत पर चल कर खेल खेलेंगे।मैं राजी हो गई. जो कि मेरे भैया को पसंद नहीं आता था।मेरे फिगर के वजह से ही भैया मुझे बहुत ज़्यादा टोका-टाकी करते थे, ‘कहाँ जा रही हो.

पर पुरानी बातें याद करके डर भी लग रहा था।मैंने हिचकिचाते हुए कहा- कहीं फिर से मुझे ठुकवाने का इरादा तो नहीं है?शमिका एकदम से हँस पड़ी और बोली- अरे नहीं उस दिन जो किया वो सज़ा के तौर पर काफ़ी था और वो भी पूरा मॉम का ही प्लान था.

दूसरी तरफ वो अंकल हम दोनों को ऐसे घूर रहे थे जैसे मैं उनकी लड़की के साथ बातें कर रहा हूँ।उसके बाद क्या होना था. मैं आराम से पीयूष की बगल में लेट गया।फिल्म देखने के बाद पीयूष लाइट ऑफ करके अपनी गर्लफ्रेंड से चैट करने लगा. क्या तुम उसे ठीक कर सकते हो?मेरे पास वाइरस रिमूव करने का सॉफ्टवेयर था.

सेक्सी वीडियो भोजपुरी इंग्लिशमेरा मन तो कर ही नहीं रहा था कि उसे अपने से अलग करूँ।अब मैंने प्रीत के कमीज़ को उतार दिया और देखा कि उसने गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई है।मैं एकदम उसकी गर्दन और सीने पर चुम्बन करने लगा।प्रीत सिसकारियाँ लेने लगी- ऊऊहह ऊह्ह. ऐसे बातें करते हुए हम दोनों ने फ़ोन चुदाई का खूब मज़ा लिया यहाँ तक की हम दोनों ने असली चुदाई जैसे ही मज़ा लिया और उसकी पैंटी गीली हो गई थी और मेरे लंड ने भी असल में रस छोड़ दिया था।हम अक्सर ऐसे करते रहते हैं.

मराठी ऑंटी का सेक्स

और आयशा प्रियंका के मम्मों को चूसने और दबाने लगी।वो बहुत जोर से मम्मों को मसल रही थी और मैं प्रियंका की चूत में उंगली करने लगा।उधर प्रियंका भी अपनी आँखें बंद करते हुए बोली- हाय जीजू. मैं उन्हें धीरे-धीरे अपनी उंगलियों से सहला रहा था और दूसरे हाथ से उसकी जाँघों को सहला रहा था।थोड़ी ही देर में वो अपनी टाँगों को मेरी टाँगों से रगड़ने लगी और ‘इस्स्स्स. बिना ब्रा और पैंटी के वापस अपने कमरे में चली गई।हम दोनों ने भी अपने कपड़े बदले.

तो उसने आँखें बंद करके मुझे मेरे पिछवाड़े से जकड़ लिया।अब मेरी स्पीड अपने आप बढ़ती जा रही थी।थोड़ी देर बाद जब मेरा निकलने वाला था. कुछ देर बाद वो आ गया और मैं उसको देखकर आँखें सेंकने लगा।वो फ्लोर पर आकर मस्ती में नाचने लगा. पहली बार में ही ‘मैंने लंड मुँह में दे दिया…’ अक्सर भारतीय लड़कियां आसानी से लंड चूसती नहीं हैं।मैंने लौड़े पर थूकने के बाद उसकी चिकनी चूत पर थोड़ा थूक लगाया और अपने हाथ में लंड पकड़ कर उसकी चूत पर सैट किया और आगे तो धकेला.

यहाँ आओ।ममता ने एक बार मेरी तरफ देखा और बोली- क्या है?मैं- यहाँ आओ मेरे पास. पर वो कमीना कहाँ मानने वाला था वो तो उसे चोदे ही जा रहा था। कुछ देर बाद उसका भी और साक्षी का दोनों का पानी निकल गया और वो साक्षी के ऊपर निढाल होकर गिर पड़ा।साक्षी की भी हालत उसने खराब कर दी थी।कुछ पलों बाद वो खड़ा हुआ और उसने पानी पिया. उसने मेरा बेल्ट खोलकर पैन्ट के बटन और चैन खोल कर मेरा मस्त सात इंची लण्ड बाहर निकाल लिया और जोर-जोर से हिलाने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डाट कॉम पर पढ़ रहे हैं।मेरा एक हाथ उसकी मस्त चूत पर कब जा लगा.

तो मैंने सोनिया को बोला- सोनिया बोली आज वीडियो में जैसे सन्नी लियोनी ने अपने मम्मों पर पानी निकलवाया था. उसे देखकर तो बार-बार देखने को दिल कर रहा था।एक बार तो हमारी नजरें भी टकराईं.

अब मैं और सायमा घर पर अकेले थे। कुछ देर बाद सायमा कमरे में आई और कहने लगी- रात तू मेरे साथ क्या कर रहा था?मैं डर गया और बोला- कुछ नहीं.

मैं दिल्ली का अरुण एक बार फिर से आप सभी के लौड़ों में जान डालने और लड़कियों की चूतों से पानी निकालने के लिए आप सभी के सामने अपनी एक और बिल्कुल नई कहानी लिखने जा रहा हूँ।दोस्तो, कहानी की नायिका मेरी गर्लफ्रेंड शाज़िया है. देसी फिल्म सेक्सी मूवीजिसका नाम था रानी, परी, नेहा और सबसे छोटा भाई था।जब पहली बार उन लोगों ने हमारा स्वागत किया. पुलिस मैडम की सेक्सी वीडियोतो आशीष बहुत जल्दी तैयार हो जाता है।तो सौम्या आशीष के पास बैठकर उसका लंड सहलाने लगी।इधर दोषी मेरे कपड़े उतार रहा था, सौम्या फटी आँखों से दुष्यंत के गधा ब्रांड लंड को देख रही थी।यह साली चुदेगी. मैं उनकी मस्त जवानी को देख कर हतप्रभ होकर उनकी तरफ एकटक देखता रहा।आंटी मेरे पास आईं और कामुक अंदाज में बोलीं- क्या हुआ.

तो देखा कि मेरे लण्ड पर वीर्य और खून लगा हुआ है और चादर बिल्कुल खराब हो गई है।थोड़ी देर आराम करने के बाद हम उठे और बाथरूम में अपने आपको साफ किया। फिर मैंने चादर चेंज की.

’कहकर मैं वापस छत की तरफ भागा और कमरे में जाकर उसी गद्दे पर गिर गया जिस पर पहली रात रवि के साथ सोया था. मैंने उसकी तरफ देखा और फिर मैंने हल्का सा एक और धक्का मार दिया। उसके चेहरे पर दर्द का हल्का सा अहसास था। फिर मैंने पूरा लण्ड एक ही झटके में चूत के अन्दर ठोक दिया।उसे दर्द हुआ. ।मैंने धीरे से फिर लंड को उसकी चूत पर सैट किया और धीरे से झटका दिया.

’ चोदे जा रहा था। करीब 50 से 60 झटके मारते ही मेरी गर्लफ्रेंड आयशा अकड़ गई. अपने-अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ करना।मैं समझ गया कि वो दोनों भी मैडम से खुली हुई थी।फिर मैम बाथरूम में चली गईं और उन दोनों ने अपने-अपने कपड़े खोल दिए, मैंने भी नंगे हुस्न देखे तो अपने कपड़े खोल दिए।अंकिता तो मेरे पास आकर मेरे होंठों पर ऐसे किस करने लगी. उसने मुझे कस कर अपनी बाँहों में ले लिया।अब मैं उसके नरम-नरम होंठों को बहुत प्यार से चूस रहा था.

ஆன்ட்டி செக்ஸ் படம் வீடியோ

बस उनका साथ दे रही थी।उन्होंने जी भर के मेरा स्तनपान करने के बाद मेरे पेट को चूमते हुए नीचे मेरी योनि के ऊपर अपना मुख रख दिया और ऊपर से रगड़ते हुए पेटीकोट का नाड़ा खोल कर पेटीकोट को नीचे सरका दिया।अब मैं सिर्फ पैन्टी में थी और उन्होंने एक बार अपना सर ऊपर उठा कर मेरी पैन्टी की ओर देखा. गैलरी के बाद अंदर जाकर चौड़ी और खुली जगह जिसकी सिर्फ चार दीवारी थी जिसे बरामदा भी कह सकते हैं. मेरे मुँह से मदमस्त आवाजें निकल रही थीं।थोड़ी देर बाद मुझे भी मज़ा आने लगा। करीब 20-25 झटकों के बाद मैं झड़ गई। पर वो भी लगा रहा।फिर उसने मुझे औंधा किया और मेरी गाण्ड में उंगली करने लगा।मैंने बोला- ओह्ह.

मैं तो आसमान की सैर कर रही थी और मन में थैंक्स बोली सुधा के लिए, कि लण्ड का इंतज़ाम करा दिया। इसी बीच राकेश ने अपने पूरी जीभ मेरी चूत में डाल दी।मैं छूटने वाली थी.

पर मैं तो भूल ही गया था कि मैंने कपड़े नहीं पहने हैं और मेरा लण्ड खड़ा था।मैं शर्म के मारे पानी-पानी हो गया.

हम दोस्तों का उसूल था कि अगर किसी को मदद चाहिए तो हम सब दिल से उसकी मदद करते थे।एक आंटी. नहाने के बाद मैंने फरहान से पूछा- क्या तुम चुदाई के लिए तैयार हो?तो फरहान ने ‘हाँ’ में जवाब दिया और हम दोनों बिस्तर के तरफ चल दिए।बिस्तर पर पहुँच कर मैंने फरहान को कहा- अपने घुटनों और हाथों पर हो जाओ और अपनी गाण्ड को ऊपर की तरफ उठा कर डॉगी पोजीशन बना लो।मैंने अपने लण्ड और उसकी गाण्ड के सुराख पर तेल लगाया और फरहान पर झुकते हुए उससे कहा- अब मेरे लण्ड को अपने हाथ से पकड़ो और अपने सुराख पर सही जगह रखो. 10 फिल्म सेक्सीउसके सूट की बाजू में से झाँकते उसके मम्मे बरबस मुझे अपनी तरफ खींच रहे थे।सफाई करते-करते मैं उससे इधर-उधर की बातें भी कर रहा था.

तो वो फिर कपड़े नीचे करने लगी।मैंने उसे फुसला कर मना लिया और लगातर दूध चूसने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !क्या मजा आया दोस्तो. वो कुछ नहीं बोली, मैं भी कुछ नहीं बोला।लेकिन अब मेरे अन्दर की काम-ज्वाला शुरू हो गई थी।हम फिर पढ़ने लगे. उस वक्त सोनी स्कूल ड्रेस में ही थी और एकदम भरी-पूरी जवान लड़की लग रही थी।हम लोग ने थोड़ी देर बात की और फिर रात हो गई, सबने साथ में खाना खाया। उस समय कोई साढ़े आठ बज रहे होंगे।फिर सब सोने चले गए.

इस बार मैं एक कदम और आगे बढ़ा मैंने एक पांच रुपये का सिक्का उसकी जिप पर बने उभार के नीचे उसकी जांघों के बीच में गिरा दिया जहाँ उसके आंड थे और जैसे ही मैं उसको उठाने उसकी जिप की तरफ बढ़ा उसने मेरा सिर पकड़ कर अपने जांघों के बीच में घुसा दिया- ले साले गंडवे. उसे ट्रेडीशनल कपड़े ही पहनना ही पसंद हैं इसलिए वो सलवार सूट वगैरह पहन कर ही कॉलेज आती है.

क्या आजकल किसी गाँव की दूसरी औरतों के साथ हगते हो?इतना कह कर वे जोर-जोर से हँसने लगीं।मैं शरमाते हुए बोला- भाभी आपने ही तो मेरे हगना बंद कर दिया.

आप जो भी सोचो पर वो मेरे पास आकर बैठ गई।मैंने अपना चेहरा उसकी तरफ से हटा लिया और बाहर की ओर देखने लगा।मैं नहीं चाहता था कि वो मुझे बिगड़ा हुआ समझे. मेरी पैन्टी को नीचे किया और बोला- हिमानी तू नाटक कर रही थी साली… तेरी चूत तो बिल्कुल गीली हुई पड़ी है।मैंने कहा- अब बात मत कर अनु. तो उनके उछलते चूतड़ों को देख कर तो मानो किसी का भी लंड खड़ा हो जाए।मैं टहलते हुए आंटी जी के पास गया, उन्हें ‘हैलो’ कहा।आंटी ने कहा- ओह हैलो सैम.

सेक्सी मूवी चालू करो बस यूँ ही ‘हाय हैलो’ होती थी। बाद में 2-3 महीनों के बाद हमारे बीच में कभी-कभी बातें होने लगी थीं।जब वो रविवार को सुबह अपने कपड़े धोने नीचे आती थी. क्योंकि मुझे उसके साथ जबरदस्ती नहीं करनी थी।अब मैंने वीडियो बंद करके उसकी गाण्ड साफ की और उसे कपड़े वापस पहना दिए।अगले दिन वो उठी तो शायद उसे अजीब सा लग रहा था, वो मुझे बार-बार देख रही थी।मैंने वीडियो को अपने मोबाइल में लिया और मैंने नेहा को उसकी एक छोटी क्लिप व्हाट्सअप पर भेज दी।सुबह तो सब नॉर्मल था.

जिससे उसकी चूत ऊपर उठ कर सामने आ गई।मैं अपने लंड का सुपारा उसकी चूत पर रख कर उसकी चूत पर रगड़ने लगा। तब उसने कहा- भैया इसको अन्दर म़त करना. पर एक भरोसेमन्द साथी की तलाश की कमी रह जाती है।आपके रसीले ईमेल के इन्तजार में आपका रोहित. तो ये सब होना फितरती अमल था।उस रात हम दोनों चुपचाप सोने के लिए लेट गए और आपस में कोई बात नहीं की।अगली रात हमने अपना वो ही हिडन फोल्डर ओपन किया.

xxx.iii वीडियो

तो इसी कारण खड़ा हो गया होगा।मैं और भाभी हँसने लगे।अब हमने अपनी-अपनी गाण्ड धोई. लेकिन कमसिन उम्र की होने के बावजूद उसकी बुर गीली हो चुकी थी और उसके ताजे रस की कुछ बूंदें भी निकलीं. वो भी कुछ और पूछे बिना ही मेरी स्कर्ट को उठाने लगा, फिर टॉप को ऊपर करने लगा और मेरे मम्मों को दबाने लगा.

और बोलीं- वेट और हाइट का मैं मानती हूँ कि डाइट चार्ट में ज़रूरत पड़ती है. अब दूसरी बार मैं आप मुझे पैन्टी निकालने को कहोगे यही ना?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पायल ने यह बात जल्दी से बोली.

वो मेरे खड़े लण्ड पर एक बार में ही बैठ गई और उछलने लगी।थोड़ी देर में उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी और ज़ोर-ज़ोर से उछलने लगी।शायद वो झड़ने वाली थी और वो ‘ईसस्स.

आज देखो न यहाँ का माहौल कितना प्यारा हो रहा है।मैंने बोला- हाँ जानू. तो आपने कैसे चोद लिया?दोस्तो, उम्मीद है कि आपको कहानी पसंद आ रही होगी. प्लीज़।मेरे रिक्वेस्ट करने से वो मान गई और उसने मेरी कैपरी की चैन खोली और अन्दर उंगली डाल कर मेरे लिंग को दोनों उंगलियों से पकड़ कर बाहर निकाला और अपने मुँह से ‘श्श्सश्.

एक सन्डे मेरा दोस्त तो सुबह नहा-धोकर घूमने चला गया, मैं कमरे पर ही था।पहले तो मैंने टीवी ऑन किया. उन्होंने शादी के पहले 2-3 महीनों को छोड़ कर कभी चुदाई का दूसरा राउंड नहीं खेला।मैंने भाभी से पूछ ही लिया- भाभी, भैया आपको कितना चोदते हैं?तो वो बोलीं- मुश्किल से हफ्ते में एक बार. ताकि यह कुछ उसके थूक से नरम हो ज़ाए। दस मिनट तक लण्ड चुसवाने के बाद मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसकी गाण्ड को अपनी ज़बान से चाटने लगा.

तो मैं अन्दर दौड़ते हुए गया और माँ से जल्दी से पानी माँगने लगा।वो मुझे डांटने लगीं।मैंने देखा कि सपना भैया बिस्तर में बैठे हैं और अपना पसीना पौंछ रहे हैं। मैंने पानी पिया और वापस बाहर आ गया।तब मुझे कुछ मालूम नहीं था।लेकिन एक दिन सपन भैया रात को 8.

वीआईपी हिंदी बीएफ: वो क्रीम बहुत सारी मैंने उनकी गाण्ड में घुसेड़ दी। इस क्रीम की ख़ासियत यह है कि इसे स्किन में जहाँ भी लगाया जाता है वहाँ की स्किन 3-4 घंटों के लिए सुन्न हो जाती है। बस इस क्रीम को ठीक से लगाकर 15 मिनिट वेट करना पड़ता है। क्रीम लगाकर मैं टॉयलेट चली गई।फिर वापस आकर मैंने वो रबर का लंड दोबारा पहना. लेकिन बड़ी फुर्ती के साथ मैंने उसके मुँह पर हाथ रख दिया क्योंकि मेरा लंड उसकी सील तोड़ कर आधा अन्दर चला गया था।मैंने हाथ हटाकर उसके होंठ चूसना चालू किया.

दिल तो उस पर पहली बार देखते ही आ गया था जब उसने सफेद रंग की कॉटन वाली आधी बाजू वाली फिट शर्ट पहन रखी थी. कहानी का पहला भाग :खिलता बदन मचलती जवानी और मेरी बेकरारी-1कहानी का दूसरा भाग :खिलता बदन मचलती जवानी और मेरी बेकरारी-2अब तक आपने पढ़ा. पर उसकी चुदास से लबरेज कसमसाहट को देख कर लग रहा था कि वो ज़ोर-ज़ोर चीख कर चुदना चाहती हो।मेरे धक्कों के साथ वो अपनी गाण्ड भी पीछे कर लेती थी.

तो याद आया, मैंने एक कंडोम का पैकेट भी ले लिया, सोचा शायद काम आ ही जाएगा।मैं वापस आ गया। उसके बाद सब सोने लगे तो मैं साली के पास गया और हम दोनों बिस्तर पर पास-पास बैठे थे। उसका चेहरा देखकर ही मेरा खड़ा हो गया.

पर कभी दिल की बात नहीं कह पाए।ऐसे ही काफी दिन बीत गए।एक दिन मेरा एक दोस्त मेरे घर आया। उसने वहाँ सीमा को देखा. उसने मेरी आवाज़ सुनके फोन काट दिया।रिया बाथरूम से आई तो मैंने पूछा- कोई लड़के का फोन था. तो मुझे महसूस हुआ कि उसकी पैन्टी गीली हो चुकी थी। मतलब वो बहुत गरमा गई थी।वो मेरे कान के पास आकर बोली- आह्ह.