बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में

छवि स्रोत,xxx.iii वीडियो हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

न्यू सेक्सी हिंदी बीएफ: बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में, करीब 10 मिनट तक मैं उससे इसी तरह चोदता रहा, फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उससे चूमने लगा.

मोठी औरत की चुदाई

कुछ ही क्षणों बाद माला भी मेरे पीछे बैडरूम में आ कर मेरे पैरों को पकड़ लिया तथा मेरे लोअर के ऊपर से ही मेरे लिंग को चूमने लगी. நடிகை ஆபாச வீடியோजवाब में लड़की उम्म्ह… अहह… हय… याह… करके अपने होंठ चबाने लगती, उसके बाद उस आदमी ने अपना लंड निकाला, अपनी हथेली को मुंह के पास लाया और अपनी लार हथेली पर गिराई और फिर अपने लंड पर उसको मलने लगा.

तो साथियो, पूजा तो इस चुसाई से इतनी गर्म हो गई थी कि उसका पूरा जिस्म हरकत करने लगा था। वो कमर को हिला-हिला कर मज़ा ले रही थी और आँखें बंद किए हुए गरम आहें भर रही थी।पूजा- आह. ब्लू पिक्चर ब्लू फिल्मयह सुनकर रम्भा चाची ने कहा- पिताजी, मैं तो आपको कह रही थी लेकिन आप ही चुदाई देखने में व्यस्त थे!इतना बोलकर रम्भा चाची ने अपना ब्लाउज और पेटीकोट उतार कर दादाजी की धोती उठाई और वो विशाल काला मोटा लंड मुख में लिया.

अब मैंने लंड को धीरे से थोड़ा बाहर किया और फिर एक ज़ोर का धक्का देकर पूरा अंदर डाल दिया जिसकी वजह से मैडम की चीखने की आवाज़ मेरे मुँह में दबकर रह गई.बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में: ‘लेकिन क्या अंकल जी? आप कहते कहते रुक क्यों गये?’‘स्नेहा, तुम्हारे चेहरे पर ये फुंसियाँ सी कैसी हैं.

मैंने अब पेंटी के अंदर हाथ डाल कर मुनिया के होंठों पर रखा तो मेरी उंगलियां मुनिया के चूत रस में भीग गई जिनको मैंने बाहर निकाल कर बिमलेश को दिखा के चाट गया।बिमलेश मुस्कुरा के मेरे सीने से लग गई.उम्र के इस पड़ाव में लड़कियों के साथ ये सब होता ही है। पर जब तुझे नीचे योनि से खून आये तब मुझे बताना, उस वक्त मैं तुम्हें और बहुत सी बातें बताऊंगी।मैं तो डर ही गई.

घरवाली को चोदा - बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि संजय अपनी मुँहबोली बहन की बेटी यानि भांजी पूजा को बिस्तर पर लिटा कर उसकी चुत चाट कर उसको मजा दे रहा था। मजा रस को लेकर अब पूजा भी कहने लगी थी कि उसको भी ये रस चाट कर मजा लेना है।अब आगे.जिसके कारण उनका ऊपर का हिस्सा पूरी तरह से नंगा हो गया था।उन्होंने अपने हाथों से अपने मम्मों को छुपाने की कोशिश की.

परीक्षित ने रानी को घोड़ी बनाया और फिर से उसकी गांड में लंड डाल उसे चोदने लगे. बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में मेरी उम्र 22 साल है और मेरी बॉडी दिखने में बहुत बढ़िया है क्योंकि मैं रोज ज़िम जाकर कसरत करता हूँ।मैं अपनी सेक्सी कहानी पर आता हूँ। वैसे मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी सेक्स कहानियाँ पढ़ी हैं.

मानसी की आँखें बोझिल होती जा रही थीं और उसकी पकड़ भी ढीली हो चली थी.

बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में?

आह क्या खुशबू थी उनकी चुत की! मैंने चुत को दो उंगलियों से फैलाया और उसमें थूक कर उनकी चुत को चाटना शुरू किया। वो कामुक सिसकारियाँ लेने लगीं. शुक्र है कि उसका मासिक धर्म आने ही वाला था तो गर्भवती नहीं होने वाली थी जैसा उसने मुझे बताया. पर आज तुम्हारे लंड को पैंट में फूला हुआ देखकर मैं खुद को कंट्रोल नहीं कर सकी।चूंकि मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था तो मैंने भी बिना सोचे उनको किस किया और कहा- मैं भी कंट्रोल नहीं कर सकता.

नहीं तो कॉल करता रहूँगा। मैंने फिर उसको उत्तर दिया।फिर हमारी मैसेज में चैट होना स्टार्ट हुई।‘बेबी मुझसे रहा नहीं जा रहा. आहहहह… तुम्हारे लंड ने… आहहह… मुझे पागल कर दिया है… मेरे राजा… आहहह. उसकी चूत एकदम टाइट थी। अब मैं अपने लंड को उसकी चूत डालने लगा, उसकी चूत बहुत ही टाइट थी। मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और एक तेज धक्का दे मारा। उसकी चीख निकल गई। वो बोली- दर्द हो रहा है।मैं बोला- शुरूआत में होता है.

पीस डालो…ऑडियो सेक्स स्टोरी-ऑडियो सेक्स स्टोरी- श्वेता और शब्दिता ब्यूटी पार्लर में लेस्बियन सेक्ससेक्सी लड़कियों की आवाज में सेक्सी बातचीत का मजा लें!मैंने तुरन्त निप्पल को कस के काटा और फिर अपने दाँत चूची में गाड़ दिये. हमने उस रात पूरी रात चुदाई की, सचिन ने कम से कम 5 बार उस रात में मुझे चोदा. मैं उन्हें चोदने की सोचता था पर घर का पता लगा कर कैसे उन्हें पटा कर चोदूँ, कुछ समझ नहीं आ रहा था.

मैंने कबर्ड में से एक टॉवल निकाला और अंजलि की बुर के नीचे एक तकिया लगा कर उस पर बिछा दिया. काका स्पीड से मोना की चुत में लंड के झटके मार रहे थे। अब मोना भी वापस गर्म हो गई और गांड को उछाल-उछाल के काका का साथ देने लगी। काका ने मोना को घोड़ी बना कर चोदना शुरू किया। अब हर झटके के साथ मोना की आह.

रेस्तरां में जो भी जोड़े थे कपड़े कुल मिला कर सभी के न के बराबर थे और जो उन लोगों ने खाना खाया उसका वजन पहने कपड़ों से ज्यादा था.

’आगे से राहुल राहुल के अधखुले कच्छे से उसका लौड़ा माँ के मुँह से निकल गया तो माँ ने राहुल का लंड हाथ में ले लिया। पवन अंकल झटके मारते रहे ओर माँ ‘म्मा.

फिर सुबह हुई और हम नाश्ता कर रहे थे, मैं अब चोर नज़र से मैडम को ही बार बार देख रहा था और तभी मैडम मुझसे बोली- क्या बात है, आज तुम बहुत चुपचाप हो?मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है. दिन पर दिन बीतते चले गये वो मुझे दिखी भी नहीं… हालांकि मेरे पास उसका फोन नंबर था लेकिन मैंने उसे फोन करना ठीक नहीं समझा क्योंकि हो सकता था कि वो मुझसे बहुत नाराज़ रही हो! पता नहीं बात करे या ना करे?इसी तरह करीब पन्द्रह बीस दिन निकल गये. वो स्पर्श बड़ा ही सुखदायक था। मैं उस समय तक बहुत गर्म हो चुका था।अब मेरी हिम्मत बढ़ी तो मैंने अपना हाथ धीरे से उनके गाउन के अन्दर स्तन वाले हिस्से से हाथ अन्दर कर दिया और ब्रा के ऊपर हाथ रखकर थोड़ी देर सोने का नाटक किया, पर बुआ नहीं उठीं। अब मैंने हाथ बढ़ाया और ब्रा को थोड़ा ऊपर कर स्तन की ओर हाथ किया। मुझे बुआ का स्तन आसानी से स्पर्श हो रहा था।हय.

वो मेरे सामने खड़ी थी, टाइट पिंक टॉप और टाइट पायजामा पहना हुआ था उसने…मेरी नज़र एकदम से उसके मम्मों की तरफ गई… इतने मोटे और कसे हुए मम्में और गोल शेप थी उनकी… मेरे दिल ने कहा कि आज लॉटरी लगने वाली है. काजल ने फिर मुझे एक जोर का चुम्मा दिया और बोली- प्रेम ये दिन मुझे हमेशा याद रहेगा. अपना ले उसे।मैंने उसकी इतनी तारीफ सुन कर अपना लिया। मैंने उससे फोन पर ‘आई लव यू.

बारिश के मौसम ने हम दोनों के बदनों में कामुकता भर दी और हमारे बदन आपस में खेलने लगे.

अभी तुम बस इतना जानो कि मैं अकेलेपन की शिकार हूं, और मुझे तुम्हारा साथ चाहिए।कहानी लंबी है धैर्य के साथ पठन करें। कहानी कैसी लग रही है, आप अपनी राय इस पते पर या डिस्कस बॉक्स पर दे सकते हैं।[emailprotected][emailprotected]. कुछ ही पलों में वो मेरे मुँह में झड़ गई। फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके चूचे पीने लगा। लगभग दस मिनट बाद वो भी फिर से गर्म हो गई और मेरा लंड अपनी बुर पे रख कर दबाने लगी। वो बोलने लगी- अब और मत तड़पाओ भाई. फिर सचिन थोड़ा और ज़ोर लगाने लगे और साथ ही मेरे निप्पल को मुँह में चूस रहे थे.

’मैंने उठा कर गाउन पहना, दरवाजे पर कुछ हलचल दिखी, शायद पेंटर नीचे चला गया था. यही मैं चाहता था कि उसके दिमाग में यह बात बैठ जाए कि मुहाँसे मिटाने का पक्का इलाज कोई लंड ही कर सकता है चूत में घुस के. एक हाथ में ब्रा पेंटी लिए जब वह बाहर आई तो ऐसा लगा कि कोई अप्सरा हो, मैं तो बस उसे ही देखता रह गया, उसने अपनी ब्रा पेंटी सूखने डाली, तब मैं उसे देख रहा था और ऐसा करते हुए उसने मुझे देख लिया.

वो भी 9 बजे लुढ़क गईं। अब ये कैसे सोईं ये भी जान लो आप काका आज खुलकर मज़ा लेना चाहता था इसलिए दोनों को खाने में धतूरा के बीज खिला दिए थे। अब ये दोनों तो सुबह तक उठने से रहीं।काका जब मोना के पास गए वो नाइटी पहन रही थी, जिसे देख कर काका को हँसी आ गई।काका- हा हा हा अरे मेरी मोना रानी.

उठ जाएगी।गायत्री ने भी ज़्यादा ध्यान नहीं दिया, वो अपने काम में लग गई। कोई 8 बजे मोना उठी तो उसका पूरा बदन दर्द कर रहा था. उस वक्त उसने सिर्फ़ तौलिया लपेटा हुआ था। अंजलि इस वक्त बहुत खूबसूरत लग रही थी।बहन की बुर की चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने उसे देखा तो वो मुस्कुरा दी। मैंने उसे फिर से अपने आगोश में खींच लिया और फिर से लंड खोल कर उसको चोदना चालू कर दिया।तो वो मुझे चूमते हुए कहने लगी- भाई… रात भर में जी नहीं भरा क्या.

बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में उस दिन चिंटू भी मेरे साथ में ही था और दुकान में भी हम दोनों ही थे, तभी एक लड़की मेरी दुकान पर सामान लेने आई, मैंने कुछ देर बैठने के लिये कहा, क्योंकि मैं उस समय दूसरे कस्टमर के साथ व्यस्त था. तभी दिमाग में ख्याल आया क्यों ना इसे पटाने की कोशिश की जाये।थोड़ी देर तक यही सोचता रहा.

बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में कमला दर्द के मारे रोने लगी।मैंने अब थोड़ा इन्तजार करने के बाद लंड को अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे चुत में चिकनापन आने लगा और लंड को अन्दर-बाहर होने में आसानी होने लगी। मैंने एक अब बार अपना पूरा लंड बाहर निकाल के फिर से जोर का धक्का मारा. सब अन्दर आ गए, साथ में टीना भी आ गई। वो इस यादगार चुदाई को देखना चाहती थी।अन्दर आने के साथ ही सब एक झटके में नंगे हो गए और गोल घेरा बना कर खड़े हो गए।फ्लॉरा- वाउ यार तुम सबके लंड तो ज़बरदस्त हैं.

दोनों साथ साथ झड़ेंगे और मजा लेंगे रानी… हाँ… हाँ… ले… और… ले।’जैसे ही मैंने अपनी पिचकारी उसकी फुद्दी की गहराई में मारी, सोनिया भी एक बार और झड़ कर मेरे ऊपर लेट गई- उफ़ राजा… जान निकाल डाली आज तो!‘तेरी फुद्दी ने मेरे लन्ड को निचोड़ डाला मेरी भाभी जान! मेरे हाथ उसके चूतड़ों से खेल रहे थे और होंठ उसके होंठों से जुड़े थे.

शिल्पा शेट्टी की सेक्सी विडियो

ज़्यादा बारिश होने पर दादाजी बोले- साईड के पेड़ के नीचे इंतजार कर लेते हैं बारिश कम होने का!हम पेड़ के नीचे खड़े हो गए लेकिन तब तक हम पूरे तर हो चुके थे. इससे दोस्ती का अहसास होता है और मेरे आने की वजह है तुम्हारा टास्क जो तुम्हें देने आई हूँ।सुमन- इस टाइम वो भी मेरे घर में. थोड़ी देर बाद ट्रेन आ गई और हम लोग ट्रेन में बैठ गए।रात को दस बजे हमारी ट्रेन नैनीताल पहुँच गई… हमने वहां से टैक्सी बुक की और अपने होटल में पहुंच गए.

मुझे करीब सुबह के समय नींद लगी।अब मैं डेली रात में छत में जाकर ये सब देखने लगा और मुठ मार कर सो जाता था।एक दिन घर की बेल बजी. और वो पूरी तरह बारिश में भीग चुकी थीं। उनकी सफेद कलर की साड़ी उनके शरीर से बिल्कुल चिपकी हुई थी. ’ कहते हुए वो अकड़ने लगी और ज़ोर से आवाजें निकालने लगी ‘आह आह उफ़ आह आह तेज़ जानू आह आह विक्की.

कुछ ही पलों में मैं भी नज़दीक आ गया- आआह्ह्ह… स्स्स्स स्साआ अह्ह्ह… म्म्म म्म्माआआह्ह… ओह येस… ओह येस… ओह येस… ओह येस बेबी सक इट… ओह येस बेबी सक इट अंजलि मेरा हो जायेगा!मेरे चूतड़ भी स्ट्रोक्स लगाने लगे, मैंने उसके मुँह से लंड को निकाला और ढेर सारा अमृत उसके चेहरे और चुची पर निकाल दिया और अपनी सांसों को व्यवस्थित करने लगा.

आविष्कारी राजू भी कम न था, उसने किसी तरह नताशा की कमर के ऊपर स्थान बना कर खड़ा होते हुए अपना लंड उर्ध्वाधर स्थिति में मेरी प्राणप्यारी पत्नी की गांड में घुसेड़ दिया. इसलिए उसने आगे बात करना ठीक नहीं समझा और चुपचाप कपड़े पहन कर बिस्तर पर लेट गई।संजय- क्या हुआ मेरी जान क्या मुझसे नाराज़ हो गई?पूजा- नहीं मामू आपसे कैसे नाराज़ हो सकती हूँ. खाना खाने के बाद पति ने पेंटर को बोला- मोहन काम जल्दी खत्म करो!‘हाँ साहब, लेकिन क्या करें, आदमी लोगों का प्रॉब्लम है, देखता हूँ नहीं तो नाईट शिफ्ट में भी काम करता हूँ.

फिर मैं चॉकलेट्स ले आया, निकी के हाथ पैर बेड से बांध दिए और उसकी चुची, पेट और जांघों पर चॉकलेट और शहद लगाया, अपने हाथ से चूत के चारों ओर चॉकलेट लगाई, बूब्स और चूत पर चॉकलेट लगाते टाइम निकी पागल सी हो गई, वो बहुत उत्तेजित हो गई थी. उस वक्त मैं ग्वालियर संभाग के एक शहर में पोस्टेड था। वहां से बस से चल कर लगभग सात-आठ घंटे में ग्वालियर आ पाता था। ये मेरी नई नौकरी थी।एक बार मुझे एक वर्कशॉप अटेन्ड करने का आदेश प्राप्त हुआ। तब मेरी यही कोई छब्बीस-सत्ताईस साल की उम्र रही होगी। कोई खास काम रहता नहीं था. तभी वो आदमी आया और उसके मुंह के पास अपने लंड को हिलाते हुए बोला- yhe baby, lick my dick, please me, I will fuck you hard.

तूने ऐसा क्या किया कि तेरे चूचे इतने बड़े-बड़े हो गए।मैंने कहा- क्या करूँ, रोज अपने हाथों से इनको खूब दबाया है. हैलो फ्रेंड्स, आपने इस सेक्स स्टोरी में अब तक मोना और गोपाल की चुदाई के बारे में पढ़ा था।अब आगे.

चाट रहे थे… सहला रहे थे।मन में उस जगह को लेकर डर तो था पर उतना ही रोमांच भी था।मैंने अपना हाथ रोहन के लंड पे पहुंचा दिया और रोहन ने मेरे कोमल मम्मों के ऊपर सख्त हो चुकी चूचुकों को ऐंठ दिया। और उस दर्द के मजे में मेरी आँखें मुंदती चली गई. अब आप लोग अंदाजा लगा सकते हो कि यह कितनी उत्तेजक क्लिप थी और इसे देखने के बाद स्नेहा की क्या हालत होगी, उसकी चूत से रस की नदिया बहना तो तय था. मैं तुरंत नीचे झुक कर उस स्तन की चूचुक को मुंह में ले कर चूसने लगा और उसमें से निकल रहे अमृत को पीने लगा.

लेकिन मैं मां के पास नहीं गया, मुझे पता था कि अगर मां ने मेरी आंखों में आंसू देखे तो वो पूरी बात पूछे बिना नहीं छोड़ेगी इसलिए मैं सीधा ऊपर वाले कमरे में जाकर गद्दे पर गिर गया.

हमने शाम को हँसते खेलते गुज़ारा और रात को रजनी का बिस्तर हमारे ही बैडरूम में लगा दिया और रजनी ने थोड़ा सा ऊपर से न नुकर किया तो मेरी पत्नी ने हंसते हुए इस बात को घुमा दिया. मेरे चेहरे को देख कर उसकी हंसी और बढ़ गई, मैं समझ रही थी ऐसा कुछ जरूर है जो मेरे आस-पास की ही बात है, पर मैं नहीं जानती।मैं कुछ नाराज सी होने लगी, तो रोहन ने हंसना बंद कर दिया और मेरी आंखों में आंखें डाल कर बोलने लगा- जब हम टूर में लड़ाई कर रहे थे, तब कुछ लोग मौके का फायदा उठा कर प्यार में डूबे हुए थे। उनमें से एक जोड़ा था मेरे दोस्त विशाल और तुम्हारी सहेली प्रेरणा का. और ऐसे अचानक पानी आता है तो अजीब लगता है। हाँ अगर पता हो पानी आएगा.

मैंने कहा- नेहा को पता चला तो प्रोब्लम होगी?उसने कहा- किसी को कुछ नहीं पता चलेगा… ना नेहा को… ना मेरे पति को!उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रखे और चूसने लगी. निष्ठा… मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ और एक बात बताना चाहता हूँ कि अगर यहाँ ऋषिका नहीं होती तो मैं यहाँ नहीं रह पाता.

थोड़ी देर में मेरा माल निकलने लगा और निशा उसे अपने मुख में इकठ्ठा करने लगी पर माल इतना ज्यादा था कि पूरा मुंह में नहीं ले पाई और फर्श पर निकाल दिया. मोना- हाँ बड़े आए मज़ा देने वाले, ऐसे करते हो जैसे मैं कहीं भागी जा रही हूँ. सलोनी के कहे मैंने सलोनी को नीचे उतारा, वो सोफे पर बैठ गई और अपनी चूत को सहलाने लगी और जोर-जोर से आह-ओह करने लगी- आओ रवीश, आओ मेरी चूत का रस निकल रहा है!मैंने देखा, सफेद रंग का गाढ़ा सा पदार्थ बूंद रूप में टपक रहा था.

सेक्सी हिंदी सेक्स वीडियो हिंदी

मामी सेक्स की पुरानी खिलाड़िन है तो वो पूरा आन्नद ले रही थी इस वक़्त सेक्स का, चूत चुदाई का!दस मिनट में हम दोनों थक गये और कब दोनों का कामरस आपस में मिला, पता ही नहीं चला दोस्तो…कुछ पल साथ लेटे रहने के बाद जब हम खड़े हुए तो दोबारा से उनको अपनी बांहों में जकड़ लिया.

उसमें बैठ गए। मैडम बिजली घर मुख्यालय के पास रूकीं वहां उनका छोटा भाई रहता था। उसने ही दरवाजा खोला हम दोनों उतर गए।भाई मेरा हमउम्र ही था, वो बिजली विभाग में ही था। उसने नाश्ता कराया। वहां से चल कर मैं इन्दर गंज चौराहे पर आ गया। वर्कशॉप बारह बजे से थी. वो बाइक के साथ अपनी गांड लगाकर खड़ा हुआ था, उसने दोनों हाथ छाती के पास लाकर बांध रखे थे और उसकी खाकी पैंट में से उसका मोटा सा सोया हुआ सा लंड अलग से दिख रहा था जो आधी सोई हुई अवस्था में मालूम हो रहा था. मुझे एक लहंगा पहनाया गया और हाथ में कुछ चूड़ियाँ और दुल्हन वाला चूड़ा पहनाया और पैरों में पायल पहनाई.

तभी शायद सुन्दर ने मेरे उभरे हुए स्तन देख लिए और इसके लंड का कीड़ा चूत मांगने लगा. पिंकी की जीभ ने भी हरकत करना शुरू कर दिया, वो अब हल्के से मेरे जीभ के साथ खिलवाड़ करने लगी। उसके रसीले होंठ भी अब मेरे होंठों को धीरे धीरे कभी कभी चूमने लगे थे. ಸೆಕ್ಸ್ ಫಿಲಂ ಸೆಕ್ಸ್ ಫಿಲಂ‘देखो बहूरानी, तुम्हारे बारे में स्नेहा ने मुझे सब कुछ बता दिया है.

कामवाली की मंझली बहू-1कामवाली की मंझली बहू-2अभी तक आपने इस सेक्सी कहानी में पढ़ा कि मेरे घर में काम करने वाली अम्मा अपनी छोटी बहू के बच्चे की डिलीवरी के लिए गई तो अपनी मंझली बहू को मेरे काम के लिए छोड़ गई और हमारे बीच यौन सम्बन्ध स्थापित हो गए. फिर मैंने बेडरूम का दरवाजा खोला तो दंग रह गया, सामने अमिता लाल ब्रा पेंटी पहने तैयार तो रही थी, उसके गोर बदन पर ये कसावटी ब्रा पेंटी गजब लग रहे थे.

‘देखो स्नेहा, उस वीडियो को तुमने कई कई बार देखा होगा और देखते देखते हर बार तुम्हारी जाँघों के बीच में तुम्हारी सू सू करने वाली जगह गीली हो गई होगी और उसमें सनसनाहट भरी खुजली सी मची होगी, है ना?’ मैंने उसकी जांघों के बीच उसकी चूत की तरफ इशारा करके कहा. तो मुझे अच्छा लगा। फिर मेरी उससे पूरे दिन बात नहीं हो पाई क्योंकि घर में सभी लोग थे तो मैंने भी ज्यादा बात करने की कोशिश नहीं की।रात में हम सभी लोग एक खेल रहे थे, थोड़ी देर तो बड़े भी खेले पर बाद में हम छोटे लोग ही रह गए।रीना और मैं अलग-अलग टीम में थे, मेरी टीम में मैं और मेरी बुआ की लड़की थी। उसकी टीम में मेरी बुआ का लड़का भी था।जैसे-जैसे गेम आगे बढ़ा. मेरी साँसें तेज हो गईं।उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मुझे चूमने लगा.

मैंने रीना रानी के मस्त निप्पल्स को ज़ोर से भींचा और निप्पल्स से ही घसीटते हुए इतनी ज़ोर से अपनी तरफ खींचा की फूल सी कोमल रांड खींचती हुई मेरे कंधे से टकराई. भैया-भाभी और उनका 9 साल का बेटा मुंबई में रहते हैं। सोना एक गोरी 5. ! मैं पानी लाऊं?’वो रोहन था, आज तक वो मुझसे अच्छे से बात नहीं कर पाया था, पर आज उसने मुझसे बात करने की हिम्मत कहाँ से जुटाई मैं नहीं जानती पर उसका ये पूछना मुझे अच्छा लगा। मैंने उसे कहा.

क्या बताऊँ दोस्तो, मेरा कुंवारा लंड तो टाइट होकर पैन्ट में ही तंबू बना देता था.

निष्ठा जब रयान के पास आई तो दोपहर बाद ऋषिका ने बैंक से छुट्टी ले ली और निष्ठा को समय दिया. अब धीरे-धीरे करता हूं।अंकल मुझे किस करने लगे और में उनको नीचे चोद रहा था। बस 5 मिनट की चुदाई के बाद मेरा निकलने को हुआ।मैं बोला- अंकल मेरा निकल रहा है.

इस वादे के साथ कि जो हुआ वो एक हसीन सपना था… इससे ज्यादा कुछ नहीं!दोस्तो, कैसी लगी कहानी… लिखियेगा मुझे[emailprotected]. बातचीत का सिलसिला यहीं रोकना पड़ा क्योंकि मेरा कोई परिचित हाय हेल्लो करने आ पहुँचा. वो बोली- आज ये बिल्ली भूखी है, मलाई चटनी है इसको!मैंने अपने कपड़े उतार दिए.

रयान के पास तो टाइम नहीं था, इसलिए उसने कुशल से बात करके अपने पिताजी से मिलने को कह दिया और जब तक मकान न मिले वो रयान के घर ही रह ले, ऐसा उसने कुशल से कहा. तभी मेरे भूखे लंड की उम्मीद जागी और मैंने आंटी से गुजरात को लेकर इधर उधर की बातें करना शुरू कर दिया. ! आह आह उई मर गई… मज़ा… आ… सी सी सी उई!सुनीता मेरे लंड से चुद रही थी और मजा ले रही थी.

बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में मैं इसी पोज में धक्के लगाने के साथ साथ उसकी पीठ को चूमता हुआ हिप्स पर चांटे भी मारता जा रहा था जिससे वो और उत्तेजित हो हो कर कमर हिला रही थी. शरीर पर मिट्टी लगी थी और दिल में घाव हो गए थे लेकिन पानी से मिट्टी को तो धो लिया परंतु दिल के घावों पर मरहम कौन लगाए.

इंग्लिश सेक्सी बीपी सेक्सी वीडियो

गीता ने अपना गिलास उठाया और मेरी तरफ देखती हुई, उसमें से दारू पीने लगी. सुल्लू रानी के गरम गरम चूत रस में डूबकर मेरे लंड का भी सबर टूट गया, सुल्लू रानी की कमर जकड़कर मैंने भी दन दन दन अपने चूतड़ उछाल उछाल के कई ज़बरदस्त धक्के लगाये और बड़े ज़ोर से मैं भी स्खलित हो गया. मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि किसी सुनसान रास्ते पर मेरी चुदाई होगी.

चल एक बार और तेरी मस्त ठुकाई कर देता हूँ, फिर मैं भी सो जाऊंगा।ऐसे ही बड़बड़ाते हुए काका मोना के पास गए और अपने लंड को मोना के होंठों पर फिराने लगे।मोना नींद में थी. तो मैंने अपना लंड उसकी गांड में लगा दिया। उसने कुछ नहीं कहा और अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी गांड में सैट कर लिया। फिर वो अपनी गांड को हिलाने लगा. मुसलमान एक्स एक्स’ बोलकर बात टाल देता था। पार्लर में अकेली होने के कारण हमारी चैट बढ़ गई। फिर एक दिन छुट्टी मनाने के लिए उनका परिवार नासिक आ गया।काफी दिनों बाद इस बार जब मैंने भाभी को देखा तो देखता ही रह गया.

झड़ गए हो क्या?मैंने कहा- हाँ भाभी।तब सोनू ने कहा- अब तुम नीचे लेटो।मैंने वैसा ही किया। सोनू भाभी मेरे ऊपर आ गईं। उन्होंने कंडोम मेरे लंड पर से निकाल दिया और उसमें गाँठ लगा कर उसे साइड में रख दिया। फिर भाभी ने एक कपड़े से मेरा लंड साफ़ किया। उसके बाद सोनू भाभी ने मुझे खूब किस किए.

मैंने उसे सॉरी बोला लेकिन वो नहीं मानी… वो भाव खा रही थी इसलिए मैंने ज़्यादा मनुहार नहीं की और कहा- ठीक है, मत बात कर!फिर थोड़ी देर बाद उसका कॉल आया मेरे दोस्त के नम्बर पर… वो बोला- बात कर!मैंने मना कर दिया क्योंकि अब मेरा टाइम था भाव खाने का!फिर तीसरी कॉल आने पर मैंने उससे बात की, फिर वो मान गई, थोड़े दिन बाद फिर हम डेट पर गये. कामुकता की आग पर प्यार की बारिश-1बारिश के कारण मुझे स्कूल के सिक्योरिटी गार्ड के घर में रुकना पड़ा.

माँ मेरे दरवाजे को पीट कर आवाज देने लगी, मैं मोबाइल बंद कर के दरवाजे पर गया, मेरे लंड पैन्ट के अंदर इतना टाईट था कि पैन्ट उठी हुई थी. सैक्स की कहानी लिखते हैं! पर हमारे अंदर भी इंसानियत है, हम भी तो सामाजिक प्राणी ही हैं।अब यार, मैं लेखक हूँ तो लौड़ा खड़ा करके घूमूँ क्या. मक्खन मत लगा यार! सामने देख, दोनों लंड सामने हैं।सचमुच एक से लग रहे थे.

कुछ देर बाद वो अपने शरीर की टॉवल से पौंछने लगे, एक बार तो उन्होंने अपना लंड चड्डी से बाहर निकाला और फिर जल्दी से उसे टॉवल से पौंछा और फिर अंदर कर लिया.

क्या ख्याल है, पहले लंड चूसोगी या अपना गोरा बदन मुझसे चटवाओगी?‘बड़ी जल्दी है बहनचोद बनने की? क्या बात है, इतनी सी उम्र में चुदाई का ज्ञान… क्या बात है कितनी औरतें चोदी हैं आज तक? चुदाई यहाँ खुली हवा में करोगे या अन्दर बंद कमरे में, वैसे यहाँ खुली हवा में ठीक है, और यहाँ चुदाई का फायदा है कि सबको पता भी चल जायेगा लंड सिर्फ नाम के लिए ही इतना बड़ा है जितना पेंट में लग रहा है या कुछ दम भी है. मैंने सोचा यहाँ से निकल जाना चाहिए वरना सुबह सब उठ गए और चेहरा पहचान लिया तो मारे जाएंगे।फिर हम दोनों दोस्त वहाँ से रवाना हो गए।इसके बाद फिर कभी उस गांव की ओर नहीं गए।मैंने जो मेरे साथ रात में घटना हुई इसे आज तक किसी को नहीं बताया है. उम्म्ह… अहह… हय… याह… अजय ने उसके टॉप के अंदर हाथ डाल कर उसके मम्मे अच्छे से दबा दिए.

হিন্দি সেক্স‘ऐसे नहीं ठीक से बोल के वादा करो!’‘स्नेहा, मैं तुम्हारे साथ तुम्हारी इच्छा के विरुद्ध जबरदस्ती सेक्स या ऐसा कोई भी काम नहीं करूंगा जिसमें तुम्हारी मर्जी न हो!’‘भगवान की कसम खा के कहो?’‘मैं भगवान की कसम खा के कहता हूँ कि तुम्हारे साथ जबरदस्ती संभोग नहीं करूंगा. तभी सुजाता बोली- मेरे हगने का और कंडोम का क्या संबंध?मैंने उसको बोला- रुको ना यार… तुम देखती जाओ…और दोनों टायलेट के ऊपर जाकर खड़े हो गये। उसको कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था… बोली- साहब क्या कर रहो हो?मैंने उसको बोला- अभी झुको…और मैं लंड उसकी गांड में डालने लगा.

विदेशी मूवी सेक्सी वीडियो

बस तेज गति से सड़क पर दौड़ रही थी और मेरी धड़कन मेरे दिल में उससे भी तेज गति से दौड़ रही थी. जो अपने पति से संतुष्ट नहीं थी। उसका पति हमेशा अपने काम में व्यस्त रहता था। दुशाली ने कुछ घूमा भी नहीं था. ! पर अभी बिस्तर पर तो मैं ही पड़ी हूं। और जो लहू लुहान है वो है मेरी योनि।माँ वापस आई और उसके हाथ में सफेद रंग की नैपकिन थी जिसका आकार 3×7 इंच का रहा होगा। मैंने उस नैपकिन को पहले भी माँ की आलमारी में देखा था। पर यह क्या चीज है, कैसे इस्तेमाल करते हैं मुझे ये कुछ नहीं पता था।माँ ने मुझे सहारा देकर उठाया और एक साफ पेंटी पकड़ कर बाथरूम चलने को कहा.

मेरी तो आदत ही है क्योंकि काम मेरा फेवरेट हे और मैं जॉब नहीं करता हूँ. मुझे पता था कि ऐसे मौके जिन्दगी में रोज-2 नहीं मिलते… और आज मिले मौके का मैं पूरा-2 फायदा उठाना चाहता था. यह स्कूल की यूनिफॉर्म अजीब सी लगती है।मैंने कहा- मेरे पास और कोई कपड़े नहीं हैं।तो वो बोलीं- ऋषि के कपड़े पहन लेना।यह कहकर वो ऋषि की एक ड्रेस निकाल लाईं। तब मेरा साइज़ ऋषि से थोड़ा ज़्यादा था.

लेकिन मैं मां के पास नहीं गया, मुझे पता था कि अगर मां ने मेरी आंखों में आंसू देखे तो वो पूरी बात पूछे बिना नहीं छोड़ेगी इसलिए मैं सीधा ऊपर वाले कमरे में जाकर गद्दे पर गिर गया. और एक अजीब सी मनमोहक खुशबू बाथरूम में फैलने लगी थी।फिर उसने पानी की धार को अपनी गांड. लेकिन बाली दीदी ने उसे रोक दिया कि ऐसा करेगी तो तेरे बच्चों को एक न एक दिन ये भेद खुल जायगा कि तू राजे से चुदती है.

क्योंकि हो सकता है मुझसे कोई भूल हो जाए।मैंने झिझकते हुए कहा- लेकिन मैडम. ’ वो कामांध हो कर बोल रही थी, मैं भी जोरों से उसकी चुत को चोद रहा था।कुछ देर बाद मैंने उसे वहीं घोड़ी बना कर कमर पकड़ कर लंड पेलकर चोदना शुरू कर दिया। सामने शीशे में खुद को चुदती हुई देखकर वो खुश हो रही थी। शीशे में उसके चेहरे के कामुक भाव मुझे मजा दे रहे थे।तभी ‘आ.

और जोर-जोर से लंड को सहलाने लगी। वो अपने मुँह से मादक सिसकारियाँ भर रही थी। उसकी चुत पूरी गीली हो चुकी थी और मेरा लंड भी फूल कर लंबा और मोटा हो चुका था।मैंने देर ना करते हुए.

मेरी हथेली उसकी कमर से लेकर ऊपर गर्दन तक फिसलती रही, बीच में कहीं कोई अवरोध महसूस नहीं हुआ, मतलब साफ़ था कि वो ब्रा नहीं पहने थी. देवर से चुदवाया’‘हाँ चलेगा, दो तीन नाईट शिफ्ट में हो जायेगा क्या?’‘देखते हैं लेकिन पूरा जोर लगा दूंगा सहाब, नाईट शिफ्ट में कोई डिस्टर्ब करने वाला भी नहीं रहता न!’ वो डबल मीनिंग बोल रहा था. xxx सनी लियोनये लड़कियाँ अंग्रेजन हेरोइनों की देखादेखी पैसे के लिए कुछ भी कर लेतीं हैं, सचमुच में कोई कैसे उस गन्दी जगह पर अपना मुंह लगा सकता है?’‘अरे कोई जगह गन्दी होती है तो फिर साफ़ भी तो हो जाती है कि नहीं?’‘अंकल जी, साफ़ करने से क्या. वरना दुकान वाले बाबा आवाज देने लगेंगे।मैंने थोड़ी तेज चुदाई शुरू की।वह बोला- सर आपका बहुत बड़ा है मस्त है।मैंने कहा- लग तो नहीं रही?वह बोला- आप धीरे कर रहे हो थोड़ी थोड़ी लग रही है.

थोड़ा-थोड़ा करके बताऊंगी। शायद बात पूरी करने के लिए मुझे रोज आना पड़े।मैंने कहा- आपकी अपनी ही दुकान है, आप चाहो तो रोज आइये या फिर रोज हमें बुला लीजिये!मैंने तुरुप का इक्का फेंक दिया था, अब मैं उस इक्के के चलने का इंतजार कर रहा था।कहानी बहुत लंबी है, धैर्य के साथ पठन करें। कहानी कैसी जा रही है अपनी राय इस पते पर दें।[emailprotected][emailprotected]लेखक सन्दीप साहू की सभी कहानियाँ.

सोनिया जी की मेरी मम्मी से अच्छी दोस्ती थी और हर रोज़ शाम को ऑफिस से आने के बाद वो मेरी मम्मी के साथ बैठ कर अपना समय बिताती थी।जब मैं ऑफिस से वापिस आता और कपड़े बदल कर उन दोनों के साथ बैठ कर चाय पीता, मुझे उनको देख कर बहुत अच्छा लगता था। उनका पल्लू फिसल जाता और उनकी ब्लाउज में मस्त तनी चुची… चिकनी-चिकनी नंगी कमर. फिर मैं उसकी चूत पर पहुंचा एकदम सफ चिकनी चूत थी, कोई बाल नहीं था, लग रहा था कि उसने आज ही शेव किया है. चलो सीधे शाम की पार्टी का मज़ा लेते हैं।जैसे कि संजय ने पहले ही सबको समझा दिया था कि क्या करना है। टीना के दिल में आया कि वो सुमन को भी साथ ले ले, मगर संजय ने उसको मना कर दिया।शाम को 7 बजे सब संजय के पुराने घर पर पार्टी की तैयारी कर रहे थे।टीना ने रेड गाउन पहना हुआ था वो बहुत मस्त आइटम लग रही थी, जिसे देख कर विक्की और अजय लार टपका रहे थे।अजय- हे टीना क्या लग रही है तू.

उसकी आँखों में आँसू आ गए, मगर मैंने लंड नहीं निकाला और उसकी चूचियाँ को चाटने लगा. ‘गुड़िया बेटा, कितनी टाइट कसी हुई चूत है तेरी!’ मैं ऐसे सोचता हुआ मन ही मन स्नेहा को चूमते हुए अपनी बीवी को चोदता और मेरी बीवी मेरी चुदाई से निहाल तृप्त हो उठती और मुझे चूम चूम के मुझ पे न्यौछावर हो जाती. आपको जबरदस्त चुदाई की यह कहानी कैसी लगी, आप मुझे अपने सुझाव मेरी ईमेल पर जरूर देना।[emailprotected].

सेक्सी वीडियोस डॉक्टर

उसकी चुत से लगातार पानी निकलने लगा, उसका जिस्म आग की तरह जलने लगा।टीना- हाँ तो सुमन रानी अब ये दो वीडियो से क्या सीखी तुम?सुमन- सब समझ गई दीदी. मैडम बोली- उईईई उफ्फ कुत्ते साले… तेरा बहुत बड़ा है! थोड़ा मेरे ऊपर रहम कर! आह्ह्ह्ह!मैं थोड़ा रुककर ऐसे ही अपने लंड को डाले कुछ देर रुका रहा, फिर मैंने मैडम के दोनों बूब्स को एक एक हाथ में पकड़ा और बूब्स को दबाते हुए बूब्स के बीच में अपनी जीभ से चाटने लगा. इसमें हर किस्म के इंसान मौजूद हैं।अब आगे चलो यहाँ क्या ज्ञान ले रहे हो आप लोग.

उसको नहीं पता था कि मैं रजनी का ही बेटा हूँ। वो वहीं खड़े दूसरे गार्ड को बता रहा था कि रजनी कैसी औरत है.

उसने साराह को बहुत परेशान किया था तो अब साराह और विवेक को एकांत जरूरी था.

अब सुन इसको फुन्नी नहीं लंड या लौड़ा कहा कर समझी और तेरी ये जो है इसको चुत बोला कर. अन्तर्वासना हिन्दी सेक्स स्टोरीज के प्रिय पाठकों, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर सुंदर भाषा में सभ्य कमेंट्स करें. भोजपुरी लड़की चुदाईपता नहीं रात को मेरी गांड का क्या हाल होने वाला है।मोना नीचे बैठ गई और काका के लंड को चूसने लगी। अब इसे इन दोनों की किस्मत कहो या कहानी की ज़रूरत.

हरियाणा में रहता हूँ। मुझे मेरी गर्लफ्रेंड फेसबुक पर मिली थी। कुछ दिन बातें करने के बाद मैंने उसे प्रपोज कर दिया और उसने थोड़ा सोचकर हाँ कर दी।इससे मैं बहुत खुश हुआ।मेरी गर्लफ्रेंड का फिगर 34-30-34 का है। मुझे हमेशा से अपनी गर्लफ्रेंड को चोदने का मन करता था। मेरी गर्लफ्रेंड को बारिश बहुत पसंद है। हम अभी तक एक बार भी नहीं मिले थे. जो कि वो अगले दिन स्कूल में चौथे लेक्चर के बाद की बुक थी। साथ ही मैं बुधवार की राह देखने लगा।उसका स्कूल मॉर्निंग का स्कूल था तो वो रोज 6 बजे उठ जाती थी। उसके बाद मैं 6. फिर अंश मुझे किस करने लगा, थोड़ी देर के बाद मेरा दर्द कम हुआ तो उसने पूरा दम लगाकर एक और धक्का मारा उसका लन्ड मेरी बुर को फाड़ते हुए अन्दर तक घुस गया.

और मैंने भी बताया कि मैंने तुम्हारे का नाम लालू रखा है तो आज तुम मुझे राजेश के योगीराज से (धीरे से बोली) चोदोगे। फिर हमने रात भर चुदाई की और आज तो बिमलेश को तीन बार चोदा। आज तुम भी पूछना कि रात को चुदाई कैसे की।फिर हमारी बात खत्म हो गई, वो बोला- ग्यारह बजे फोन कर लेना तुम बिमलेश को।कहानी जारी रहेगी. हमारे पड़ोस में में एक नया परिवार रहने आया, उस परिवार में एक पति पत्नी और उनके पिताजी थे.

आपका चूस कर सारा रस निकाल दूँगी तो दर्द अपने आप चला जाएगा।संजय- नहीं पगली.

वरुण थोड़ा सा डर गया, मैं चुप लेटी रही उसने फिर से मेरे मोम्मे पे धीरे से हाथ रखा और दबाने लगा!कुछ देर बाद वरुण धीरे धीरे मेरा गाउन ऊपर सरकने लगा. 2 मिनट बाद दर्द कुछ कम हुआ, सचिन बहुत ही धीरे से अपना लंड वापिस निकालने लगे, मैं लंड की तरफ देख रही थी और जैसा सोचा था वही दिखाई पड़ा… लंड खून से लाल हो चुका था. उसके बाद क्रीम मेरी गांड के अन्दर सरर्रर्रर्रर्रर्र करते हुए गिरने लगी.

एक्स एक्स एक्स ट्रिपल वीडियो पर सभी फोटो बिना चेहरे के थे और आखिरी एक फोटो में बिमलेश का लाल साड़ी में फुल फोटो था चेहरे के साथ में…मेरा तो योगीराज बिमलेश की चूचियों और चूत को देख के तनाव में आ गया, जिसको मैंने दो बार मुठ मारकर शांत किया. एक दिन उन्होंने कहा- आज अपने दोस्त से मैंने बात की है और उसने तुम्हारी फ़ोटो मांगी है नंगी!मैंने कहा- मुझे ये सब पसंद नहीं है!लेकिन वो ज़बरदस्ती करने लगे कि सिर्फ तुम्हारी चूत और बूब्स का फोटो भेजूंगा.

भाभी थोड़ी पीछे हुई और चूतड़ हिलाते हुए मेरे हाथ पकड़ कर अपने चुचों पर रख दिये।मैं उनके चुचे दबाते हुए उनके गालों को चूमने लगा. भाभी के बालों की मादक खुशबू मुझे मदमस्त किए जा रही थी।मैंने धीरे से उनके पाँव से पाँव रगड़ा। बाजार से निपट कर हम घर वापस आ गए।अब तो छूना और किस करना आम हो गया। सब दोस्तों को बता दूँ कि अब तक मैंने सोना भाभी के नाम की मुठ नहीं मारी थी। मेरी सोच थी कि लंड सोना भाभी की चुत में ही उल्टी करेगा।एक दिन भाभी मुझे नाश्ता देने मेरे रूम में आईं. मैंने उसकी चूत को सलवार उतार कर फिर से अपनी मुट्ठी में कैद कर लिया था.

ब्लू फिल्म नंगी ब्लू फिल्म सेक्सी

भाभी की तो हालत खराब हो गई।भाभी ने गर्म होकर कहा- रोमी प्लीज़ मुझे अब ना तड़पाओ. मुझे नीचे दिये ई-मेल पर अपनी प्रतिक्रिया भेजें!आपका अपना शरद[emailprotected][emailprotected]. चाची सिहर गई और मैंने अपने होंठों से चाची की चूत के बाल खींच दिए… मैं उनको तड़पा रहा था.

अगले दिन भी दिन में और रात में सुल्लू रानी को मुंह, चूत और गांड में अच्छे से चोदा. मेरे अंदर इतना जोश था कि दिल कर रहा था कि अभी इसकी बुर में लंड डाल दू पर गर मैं ऐसा करता तो मेरा वीर्य तुरंत या जल्दी निकल जाता, जो मैं नहीं चाहता था.

फिर उनके राईट वाले चूचे को खूब चूसा और चाटा और लेफ्ट वाले की अपने हाथ से अच्छी मालिश की.

मुझे सच में नहीं पता।टीना- क्यों तू अंडरगार्मेंट्स नहीं पहनती क्या. और जब मेरा माल निकला तो उसने सारा अपने मुँह में लिया, माल गिरा भी बहुत, और शायद थोड़ा बहुत उसके गले में भी उतर गया, मगर उसने मेरा लंड तब तक अपने मुँह से नहीं निकाला जब तक मैं खाली न हो गया. तब उसकी गुलाबी गांड दिखी। उसके चारों ओर हल्के-हल्के मुलायम रेशमी बाल थे।मैंने दोनों चूतड़ जोर से मसले फिर उसकी वह गांड देख कर रूक न पाया और मैंने अपने होंठ लगा दिए व जीभ बढ़ाकर गांड चाट ली। फिर मैंने ढेर सारा थूक लगाया.

लेकिन मैं उसके साथ अब सेक्स नहीं करती हूँ क्योंकि मेरे बॉयफ्रेंड को पता चल गया तो वो मुझसे ब्रेकअप कर लेगा. लेकिन यह क्या… फिर लंड फिसल कर अलग हो जाता!‘मादरचोद इसी समय नखरे मार रहा है?’ कहकर उसने सुपारे को पकड़ गांड में सेट किया और अपने जिस्म का दबाव वो धीरे-धीरे देने लगा. मन किया साली की चुत चाट लूँ।संजय- मेरी जान मैं तो उसको पहली बार देख कर ही समझ गया था, इसी लिए ये गेम खेला.

अब मेरा दर्द आनन्द में बदल गया था और अपने आप ही मेरे मुँह से मादक आह आह आह की आवाज़ निकलनी शुरू हो गई थी.

बीएफ फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में: जब पीछे से पकड़ता तो वो थोड़ा गुस्सा हो जाती।ऐसा ही एक महीने तक चला।एक दिन माँ मामा के घर गई थीं। घर पर अकेले हम दोनों ही खाना खा कर पास-पास में ही लेटे हुए थे। उसी वक्त मैंने फिर माँ की चुदाई के बारे में बोलना शुरू कर दिया, नीलू कुछ नहीं बोली।कुछ समय बाद वो बोली- पापा शायद बाहर रहते हैं. बहुत देर तक इमोशनल होते हैं। हर बार इतनी दूर का ट्रैवल करने के बाद भी जल्दी फ्रेश होकर मुझे मूवी दिखाने लेकर जाते हैं। फिर हम शॉपिंग करने जाते हैं। साथ ही किसी अच्छे से रेस्तरां में जाकर खाना खाकर हम लोग घर वापस आते हैं। फिर पूरी रात वो सोते भी नहीं.

अब मैं भी राज को लाइन देने लगी।बस 3 दिन बाद एक रात को मेरे रूम का दरवाजा किसी ने बजाया. पूरी बात जानने के बाद वो मुझे मोटरसाइकल से बैंक के रास्ते और बैंक से हॉस्टल के रास्ते ले गया पर कुछ नहीं मिला. अन्दर फिट करके राधा के चूचे सहलाने लगे।मोना को लगा कहीं इसका दम ना निकल जाए.

लगभग दस मिनट के बाद जब मैंने माला के दोनों स्तनों का सारा दूध पी लिया और मेरा लिंग भी खड़ा हो गया था तब मैंने माला को अपनी ओर खींचा और उसके होंठों को अपने होंठों से चिपका दिया.

पर अंत में वो जीत गई। जैसा कि हर खेल में होता है, हारने वाली टीम को जीतने वाला टीम का कहा मानना पड़ता है. फ्रेंड्स, यह मेरा पहले गे सेक्स की स्टोरी है। मेरा नाम आयुष है, मैं इंदौर का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 20 साल है, मैं दिखने में साधारण हूँ, कद भी ठीक है। मेरा लंड 6. बाद में चाहो तो सो जाना। मैं उसे पप्पी लेकर उठा और बाथरूम में चला गया। वापिस आया तो बेडशीट बदल चुकी तो मैं सो गया। वो बेडशीट धोने चली गई थी।मेरी बहन ने करीब 7.