हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में

छवि स्रोत,बीएफ आंध्रा व्हिडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

अमेरिकन सेक्सी ओपन: हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में, थोड़ी देर बाद उसको भी मज़ा आने लगा और वह नीचे से अपनी गांड उठा कर चुदने लगी और बोलने लगी- मामा और तेज … और तेज मामा … चोदो मुझे भी, जैसे आप अम्मी को चोद रहे थे, वैसे ही मुझे भी चोदो … मैं भी आपके लंड से चुदना चाहती थी.

पुरानी बीएफ वीडियो

माहौल बहुत गर्म हो गया था और मैं अपनी जीत पर मन ही मन खुश होते हुए मामी को चूसे जा रहा था. पंजाबी बीएफ पंजाबी बीएफ सेक्सीएक तो दिव्या पहले से ही काफी गर्म थी और उसकी चुत ने पानी भी छोड़ दिया था.

ब्रा ना पहने होने की वजह से उनके निप्पल एकदम कड़क थे और मुझे मेरे गाल में हल्के हल्के से चुभ रहे थे. नई लड़कियों की सेक्सी बीएफमैंने भी अपने फ़ोन को चालू किया और इयरफोन लगाकर चुदाई का कार्यक्रम देखना चालू कर दिया.

हॉट सेक्सी मॉम स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी मां के साथ बाइक पर घर आ रहा था.हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में: मेरी बातों को अंकिता बड़ी ध्यान से सुन रही थी और बस वो मेरी तरफ ही देखे जा रही थी.

मैंने उससे पूछा- आप कौन सा परफ्यूम लगाती हैं?उसने कहा- मैं परफ्यूम नहीं लगाती.बिरजू- क्या पता ये लड़का क्या करता रहता है … सुबह अच्छा भला काम कर रहा था, दोपहर को बोला कि तबीयत ठीक नहीं है.

मराठी सेक्सी बीएफ बीपी - हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में

अब उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, तो बोली कि अब तो डाल दो!मैं बोला- क्या डाल दूं?अंकिता समझ गई और इठला कर बोली- अपना लंड मेरे पुसी में डाल दो.मेरी बीवी की चूत बहुत सेक्सी है और मैं उसको चोद चोदकर बहुत मजे लेता हूं.

मैं- हम पहले भी तो ये सब कर ही चुके है ना! तो आज क्यों नहीं अच्छा लग रहा है?भाभी बोलीं- नहीं कुणाल, अभी ये सब मैं नहीं करना चाहती. हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में मुखिया सुमन के घर से सीधा एक मकान में जा पहुंचा, जहां पहले से दो आदमी एक आदमी को पकड़े हुए बैठे थे.

सन्नो- अब जाने भी दो … और सब जल्दी से खाना खा लो, सरजू तेरे बापू का खाना लेकर जाना, तू भूल मत जाना.

हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में?

आपका चुदने का बहुत मन होता होगा, तो कैसे करती हो?वो बोलीं- मैं क्या कर सकती हूँ. उसके होंठ अभी भी मेरे होंठों की गिरफ्त में थे। उसकी धड़कनों को मैं महसूस कर सकता था। मेरा लंड कामरस छोड़ छोड़कर मेरी चड्डी को गीला करने में लगा हुआ था. बलराम चौधरी बहुत देर तक वहां बैठा बातें करता रहा, मगर बात भूत के आगे बढ़ी ही नहीं … और वो चाय पीकर चला गया.

समीना उसकी चूचियों को पी रही थी और मैं उसकी कुंवारी चूत को जीभ से चोद चोदकर मजा दे रहा था. मैंने पूछा- आंटी पहले भी चुदवा चुकी हो क्या पीछे वाला छेद?वो बोली- नहीं रे, तेरे अंकल से चूत तो चोदी नहीं जाती, गांड क्या खाक चोदेंगे?ये सुनकर मैं खुश हो गया. मैंने जल्दी से सारा काम खत्म किया और भाबी के फोन का इंतजार करने लगा.

फिर मैं उसे गोदी में उठाके बेड पर ले गया और उसके चुचो के साथ खेलने लगा. इधर मैं भी बस झड़ने ही वाला था, तो मैंने भाभी के हाथ को पकड़ के लंड को ऊपर नीचे करने लगा और मैं भी झड़ गया. उसने मेरी एक टांग उसने हवा में उठा रखी थी और खड़े खड़े उसका लंड मेरी चूत की ताबड़तोड़ पेलाई कर रहा था.

उसने आवाज देते हुए मुझे बुलाया और कहा- प्लीज, तुम मुझे अपनी स्टूडेंट बनाकर चोद दो. उस दिन मुखिया ने डॉक्टर सुरेश की बीवी सुमन की प्यासी चुत को चोद चोद कर धन्य कर दिया था.

फिर मैं आपको गाल पर किस करूंगा, आपके गले पर, फिर गले के नीचे आपकी चूची के ऊपर वाले हिस्से पर किस करूंगा.

मैंने उसे गोद में उठाया और चुत अशोक की तरफ रख कर उसकी टांगें खोल दीं.

ज्यादातर वो घर से बाहर ही रहते और देर रात शराब के नशे में लौटते और खाना खा कर सो जाते. सुमन के नॉर्मल होने से मुखिया की जान में जान आई- देखो गुस्सा मत होना … मगर जंगल वाला कांड मैंने नहीं किया. मैंने उनसे कहा- मुझे कोई दिक्कत नहीं नही, लेकिन आप वहां क्या बताओगी कि मैं कौन हूँ.

मैं बोला- प्लीज … एक बार भाभी … एक बार और डालने दो तुम्हारी चूत में … प्लीज।वो बोली- नहीं, बस … बहुत हो गया. अब वो मस्त होकर सिसकार रही थी- आह्ह … अम्म … रोहित … बहुत अच्छा लग रहा है … तेरे मामा ने इतने प्यार से मुझे कभी नहीं चूमा. वैसे तो कई लोग अपनी पहली चुदाई की कहानी सुनाते हैं, पर मेरी ये सेक्स कहानी नीला और मेरी शायद 10-12 बाद सेक्स का मजा लेने के बाद की चुदाई की कहानी है.

उसके मुँह में जीभ डालकर उसकी जीभ को चाटने चूसने लगा और अपने मुँह का सारा रस उसे पिलाने लगा.

कभी रूचि की जीभ राहुल चूसता, तो कभी रूचि राहुल की जीभ अपने मुँह में ले लेती. अब ये नए नए किरदार आ रहे हैं … तो जरूरी नहीं कि सबका अहम रोल हो, कुछ खास का ही कहानी में रोल है बाकी तो बस नाम के हैं. नीला भी हम दोनों को गालियां दे रही थी और साथ में इन हसीन लम्हों को एन्जॉय कर रही थी.

मैंने उसको कूदने का इशारा किया तो वो ऊपर नीचे होने लगी लेकिन वो पूरा अंदर नहीं ले रही थी. दोपहर 12 बजे का समय था। जिन्दगी में पहली बार मैं किसी लड़की को होटल लेकर जा रहा था. मैंने सफेद कुर्ता पहना था, उन्होंने उसको ऊपर कर दिया और मेरी चुचियों को चूसने लगे.

तो मैं भी उनके सर को पकड़कर उनके मुँह में लंड को अन्दर-बाहर करने लगा.

खैर … कभी मैं, तो कभी वो दीदी जिनका नाम रुक्मणी था, वो भाभी को चुप कराए जा रही थीं. ये बात सुनकर एकदम मेरे मुंह से निकला- ओह्ह तो सील पैक चूत है! वाह … मज़ा आयेगा.

हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में फिर मैंने अपने दोनों हाथों को आगे छाती पर बांध लिया और एक हाथ को अपनी बगल से निकालते हुए भाभी की बगल में ले जाकर उसकी चूची को छू लिया. मैंने भी झट से बोल दिया- तुझे तेरी बड़ी साली निकिता की चुत मारने को देनी पड़ेगी.

हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में मैं सेक्स कहानी में आगे बढ़ने से पहले आपको इन भाभी के बारे में बता दूं. उससे सेक्स की शुरुआत कैसे हुई और मेरी सील कैसे खुली?हैलो फ्रेंड्स, मैं नेक्षा फिर से आपके सामने लॉकडाउन में हुए सेक्स को लेकर हाजिर हूँ.

बलराम- हम्म … लगता है मुझे ही अब इस भूत को पकड़ने की कुछ प्लानिंग करनी होगी … मगर दिमाग़ हल्का हो तो कुछ सोचूं ना.

ट्रिपल एक्स पंजाबी

तभी अचानक से एक लड़का उसके सामने गुलाब के फूलों का गुच्छा लेकर आ गया. इन दो दिनों में रुक्मणी भाभी मुझसे काफी घुल मिल गयी थीं, मुझसे हंसी मज़ाक करने लगी थीं. भाभी- तुम्हारे भाई को कॉल करना पड़ेगा क्योंकि उसकी बीवी को कोई तंग करे, ये उसको पंसद नहीं है.

घर जाकर मैंने उसे मैसेज भेजा और अब हमारे बीच बातें और खुल कर होने लगी थीं. उसके हाथ मेरे सिर के पीछे मेरे बालों को सहला रहे थे। मैं अपने हाथों से कपड़ों के ऊपर से ही उसके मस्त 34 साइज़ के चूचों को दबा रहा था।वो धीरे-धीरे गर्म होने लगी थी. उनके लंड के आकार देख कर लग रहा था कि औजार 8 इंच का तो कम से कम होगा ही.

मैंने टांगें घुटनों में से मोड़कर ऊपर उठा लीं और अवनी को अपनी टांगों के उठाव के बीच में कर लिया ताकि कोई एकदम से अंदर आ भी जाये तो कुछ पता न चले.

कमरे में अंधेरा था, तो मैंने चुत पर लंड रगड़ते हुए उसकी एक टांग ऊपर को उठाई और लंड के सुपारे को चूत की दरार में रखकर धक्का दिया. अब मैं लंड को उसकी बुर की पूरी गहराई में अंदर-बाहर करने लगा। उसकी बुर में पूरा लंड जाता तो वो चिल्ला उठती थी. फिर ऐसे ही लंड को लगभग पूरा बाहर तक लाकर मैं पूरा अंदर तक घुसाने लगा.

कहानी के पहले भागकामुक अम्मी अब्बू की मस्त चुदाई- 1में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं बाहर से देख रहा था कि अम्मी अब्बू नंगे चिपके हुए थे. उसको देखकर मन करने लगा कि उसके पास जाऊं और उसके कोमल बदन से अपने बदन को रगड़ कर सुख की गंगा में गोते लगाऊं. अब मेरा लिंग उसके मुंह में था और उसकी चूत मेरे मुंह के ऊपर थी। दोनों एक दूसरे को जोर जोर से चूसने लगे.

मैं भी अपनी नींद में शायद अपनी गर्लफ्रेंड के साथ कुछ ऐसा ही कर रहा था. फिर भाभी ने भी उसके मुंह को अपनी चूत में दबा लिया और वो भी झड़ गयी.

गीता- मुझसे से क्या काम है काका?मुखिया- ज़्यादा सवाल मत कर … और तू अपने बाप को ना बताना कि मैं तुझे मिला था. मेरे मन में बस यही चल रहा था कि आज की रात भाभी की चुदाई में बहुत मजा आने वाला है. रात को चूत न मिली तो क्या हुआ, लेस्बियन सेक्स के नजारे तो मिल ही जायेंगे.

मगर उसको कोई हल समझ नहीं आया- चल अभी जाने दे, वक़्त आने पर खुद पता चल जाएगा.

उधर नीचे मेरी योनि भी कुलबुला रही थी और मैं सबके बीच आंख बचा कर हर दो मिनट में योनि को कपड़ों के ऊपर से ही खुजला लेती और उसका मोती दबा के रगड़ डालती. बहुत मस्त है तू; तेरी चूत के चंगुल में फंस कर मेरा लंड तो निहाल हो गया बेटा; अब तू खुद उचक उचक के मेरा लंड खिला अपनी चूत को!” मेरी जीभ चूसते हुए मौसा जी बोले और अपना लंड बाहर निकाल कर अपनी कमर और उठा कर स्थिर हो गए. इस पर मैंने मोनिषा से कहा- इतने दिनों से तुझे नींद आ रही थी … और आज तुझे क्या हुआ?मोनिषा ने कहा- भैया मैं ज़मीन पर ही बिस्तर बिछा लेती हूं.

मैंने उसकी चूत में सुपारा थोड़ा और धकेला तो वो फिर से सिसकारी और बोली- अब डाल दो मेरी चूत में … यह बहुत दिन से चुदासी है … आप दोनों की चुदाई देख देखकर मैं थक चुकी हूं. इसी तरह मैंने जोर से उसको पेलना जारी रखा और लगभग चौदह-पंद्रह मिनट बाद पसीने से मेरा पूरा बदन तर हो गया.

मेरा लंड अब और ज्यादा उसकी चूत में अंदर तक जाने लगा और वो चिल्लाते हुए लंड को लेती रही. वो मेरे करीब आकर बैठ गया और उसने अपना लंड मेरे चेहरे के सामने कर दिया. फिर उन्होंने बताया कि ये शादी उनकी एक सहेली की थी, जहां वो पहली ही बार जा रही थीं, तो उन्हें वहां कोई नहीं जानता था.

ٹرپل ایکس ویڈیو

ये थी मेरी स्टोरी, आपको मेरी पड़ोसन देसी गर्ल की चुदाई की ये कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताना.

नमस्ते मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओ, मैं आपको एक बार फिर से गाँव की न्यू चूत की सेक्स कहानी की नदी में डुबकी लगवाने आ गई हूँ. मैं और मोनिषा रूम में जाकर पढ़ाई करने लगे और मां पिताजी भी सोने के लिए हॉल मैं चले गए. कामवासना अब हम दोनों के ही अंदर भड़क चुकी थी। बस अब दोनों ही जल्दी से चुदाई का मजा लेना चाहते थे। उसकी आँखें मूक सहमति दे चुकी थीं। उसने कंडोम के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मैं दवाई ला दूंगा.

मॉम की चूत वाला हिस्सा मेरे लंड के बिल्कुल करीब था और मैं नीचे से देख पा रहा था कि मॉम की नजर मेरे लंड पर ही थी. जब वो बिल्कुल शांत हो गयी तो मैंने धीरे धीरे लंड को चूत में चलाना शुरू किया. बीएफ सेक्सी शुद्ध हिंदी मेंउसकी टांगों को फैलाकर मैंने उसकी चूत पर लंड लगाया और अंदर घुसेड़ दिया.

उसने मुझे फोन किया- हैलो, क्या तुम यहां आ सकते हो, मैं बोर हो गई हूँ. अपनी मस्त जवानी की सेक्स कहानी के पहले भागपति ने मुझे मेरे बॉस से चुदवा दिया- 1में मैंने आपको बताया था कि शादी के बाद मैं और मेरे पति सोनीपत चले गये थे.

कारण स्पष्ट था, अब जिन परिस्तिथियों से मैं ग्रस्त हुआ वो मेरे लिए असीम थीं। अवनी के यौवन का रस मेरे मुंह लग चुका था. मेरी बढ़ती चुदास को देखते हुए शिखा ने एकाएक पलटी मारी और वह अपना पोज बदलते हुए मेरे ऊपर आ गई. मैं जोर लगाकर उनके होंठ चूसने लगा और फिर वो नर्म पड़ गयीं और मेरा साथ देने लगीं.

फिर मैं पूरी तरह से उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों को चूसने लगा और नीचे से लंड उसकी चूत में पेलता रहा. मैं बोला- जब वो शाम को क्लास से लौटकर आये तो आप नहाने का बहाना कर लेना और दरवाजा मत खोलना. मुझसे ज्यादा रुका न गया और मैंने उसकी चूचियों को बारी बारी से पीना शुरू कर दिया.

मैं उसको बेड के एक कोने पर ले गया और उधर तेल की शीशी उठा कर उसकी बुर में … और अपने लंड में लगा लिया, ताकि उसको दर्द न हो.

फिर लंड को मेरी गांड पर सेट कर लिया और एक धक्के में पूरा लंड मेरी गांड में उतार दिया. मैं- मुझे तो वो तेरा बीएफ ही लगता है, बता न, मैं किसी को नहीं बताऊंगा.

दोनों गिलास में बियर डालते हुए उसने कहा- पहली बार पी रहे तुम, इसलिए नाक बंद करके घूंट लेना. मैंने थोड़ी देर इंतज़ार करके फिर से बेल बजायी, फिर भी कोई जवाब नहीं आया. मैंने उसको बेड पर लेटने को कहा और खुद उसके साइड पर आकर उसको चूमने लगा। अब माहौल गर्म होने लगा.

पापा ने कहा- ठीक है, तुम जिस होटल में रुकना, मुझे उसका एड्रेस मैसज कर देना. फिर तीन-चार मिनट के बाद उसने अपनी टांग कंधे पर से उतार ली और मुझे खड़ा कर लिया. दोस्तो, यहां मुखिया के खेत में एक कुंआ है, जिससे वो कई खेतों को पानी देता है.

हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में वैसे भी रूम में हम दोनों के अलावा और कोई थोड़ी है? आप कर दो, कुछ फर्क नहीं पड़ता।ये कहकर कपिला ने अपनी जीन्स का बटन खोल दिया और बोली कि इसको पकड़ कर नीचे की ओर सरका लो. ट्रेन सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने एक अनजान जवान भाभी को चलती रेलगाड़ी चोद दिया.

பெண் xxx கிராமம்

उसने मेरे गाल पर चूम लिया और बोली- प्लीज … बन जाओ ना … एक रात के लिये. वो नाराज हो गयी और ये कहकर पैंटी पहनने लगी। ये सब देखकर मेरी तो जान ही हलक में आ गई। अभी भाभी ने पैंटी आधी ही पहनी थी कि मैंने भाभी की पैंटी को पकड़ लिया और खींचने लगा।भाभी बोली- ये तूने बहुत बड़ी गलत हरकत की है। मैं तुम्हें सब कुछ करने दे रही थी लेकिन तूने तो हवस की हद पार कर दी।मैं भाभी की पैंटी को खींचते हुए माफी मांगने लगा. मैं झड़ने के बाद एक मिनट वैसा ही खड़ा रहा और पूरा शांत होने के बाद फ्रेश होकर बाहर आ गया.

मुझे न जाने क्या मस्त अनुभूति सी होने लगी कि मैं उस मजे को लिख ही नहीं पा रही हूँ. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उसके दूध मेरी गर्लफ्रेंड मधु के मम्मों से बड़े हों. बीएफ सेक्स खुल्लम खुल्लामेरी आंख खुली, तो देखा विक्रम मेरे ऊपर चढ़ा हुआ था और अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ रहा था.

वो भी बेड पर आ कूदा और हम दोनों ने एक दूसरे की बांहों में लिपट कर एक दूसरे को चूमना शुरू कर दिया.

उन्होंने कहा- राजा अब तुम खड़े हो जाओ, ताकि मैं तुम्हारे पैरों की भी सफाई कर दूँ. गीला हो चुका लंड अब फच … फच … की आवाज के साथ उनकी चूत को पेल रहा था.

क्योंकि मुझे पता था कि उसने मुझे चादर उढ़ाया था और टीवी भी उसी ने ऑफ किया था. मगर मैंने उसकी बात नहीं सुनी और कमर को पकड़ कर उसकी गांड में लंड को पेलने लगा. अभी मैं नीला की मस्ती के मजे ले ही रह था, तभी उसने मेरे कानों के पास आकर कहा- अब देख भड़वे … असली मजा किसे कहते हैं.

मुखिया- चलो जाने दो, गांव की लड़की नहीं होगी … शायद पास के गांव से कोई आई होगी.

उफ्फ … ” मेरी चूत की मांसपेशियां खिंच गयीं और तेज पीड़ा की लहर क्षण भर के लिए मेरे बदन में उठी. अगले दिन मैं भाभी के आने से पहले ही दोपहर में बाथरूम में नहाने गया। मैंने साबुन लाने के लिए सीमा मामी को आवाज़ लगाई तो पूजा भाभी बोली- वो तो यहां नहीं हैं।मैंने कहा- तो फिर आप ही साबुन ले आओ।जब वो साबुन लेकर मेरे पास आयी तो मुझे अंडरवियर में देखकर उनकी आंखें फैल गयीं. इसी बीच मैंने उसकी पैंट खोल दी थी और उसकी पैंटी में हाथ देकर उसकी चूत को सहला रहा था.

सास ससुर की सेक्सी बीएफतभी पीछे से कालू बोल पड़ा- आप ठीक बोल रही हो मैडम जी, यहां से आवाज़ आती है. सिसकारते हुए मैं बोला- इस्स … जल्दी करो मामी, भाभी की चूत को चूसने के लिए मरा जा रहा हूं.

বাংলা বৌদির চূদাচূদি

मेरे पास से गुजरते हुए आंटी बोली- राज, तुम्हारी लोअर में तो चूहा घुसा हुआ है. कभी कभी जब मैं उन्हें घूरता था, तो वो मुझे चोर नज़रों से देखा करती थीं और मुस्कुरा देती थीं. मधु के दूध बहुत ही बड़े बड़े थे वो तो ब्रा की वजह से टाइट दिखते थे, लेकिन मैं मधु के मम्मों को दबा दबा कर बड़ा करता जा रहा था.

वो मेरे लंड से मिला आनंद बर्दाश्त नहीं कर पाई और एक बार फिर से झड़ गयी. बर्तन धोने ले जाने के लिए मैं उठा, तो उसने कहा- मैं भी तुम्हारी हेल्प करती हूं. कमरे में मादक आवाजों का संगीत गूंजने लगा … अअअआआ उन्ह ओओओहह की सिसकारियां गूंजने लगीं.

आयशा को समझाने की मैंने बहुत कोशिश की लेकिन वो मेरे अलावा किसी और से शादी नहीं करना चाहती थी. फिर मैं उसे गोदी में उठाके बेड पर ले गया और उसके चुचो के साथ खेलने लगा. मुझे चोदने के बाद मौसा जी का फोन अक्सर आता रहता और कई बार वो किसी न किसी बहाने से हमारे घर भी आ के दो तीन दिन रुक जाते और मौका देख हम चुदाई के अपने अरमान पूरे कर लेते.

जब वो घर पहुंची, तो उसकी मां ने कहा कि आने में देर कैसे हो गई, तो मीता ने बहाना बना दिया कि मरीज बहुत थे इसलिए. मैंने मॉम से कहा कि सामने वाली बिल्डिंग में जाकर खड़े हो जाते हैं ताकि बारिश से बच सकें.

अब आगे की देसी विर्जिन सेक्स स्टोरी इन हिंदी:भाभी की चुदाई के बाद वो प्रेग्नेंट हो चुकी थी और उसके साथ मज़े करने के लिए मैं ऊपर शिफ्ट हुआ था.

भाभी की चूचियों की बात ही कुछ अलग थी … उन्हें जितना भी दबाओ … मन ही नहीं भर रहा था. हिंदी बीएफ सेक्सी जंगलीमैंने उसे मकान के अन्दर कर लिया और उसके अन्दर आते ही गेट बंद कर दिया. बीएफ xxnxसुहागरात की बातों में मैं विस्तार से न जाकर मैं संक्षेप में ही कहूंगी की जब कुछ देर के फोरप्ले के बाद नमन का लिंग मेरी सील तोड़ कर पूरी तरह से मेरी योनि में प्रवेश कर गया. दोस्तो, अब अंधे को क्या चाहिए? दो आँखें! मेरी मनोकामना पूरी होते देख मेरा दिल बल्लियों उछलने लगा.

मेरा लंड किसी भी लड़की या औरत का पानी निकालने के लिए पर्याप्त है। मगर पहली बार उसको मेरी बहन की ही चूत मिली थी.

जैसे ही मेरी उंगली उनकी चूत के अंदर घुसी तो उनकी सिसकारी निकल गयी- आह्ह … क्या कर रहा है रोहित … ऐसे मत कर … अहाह् … नहीं, रहने दे पागल … मत छेड़ इसे।चूत अन्दर से बहुत ज्यादा गर्म थी। अब मैं उनकी चूत को उंगली से कुरेदने लगा। इधर अब वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थीं। मगर वो अभी भी मेरा हाथ हटाने की कोशिश कर रही थी लेकिन कामयाब नहीं हो पा रही थी. मैं घर की ओर अपने चरमसुख की लालसा में बिना कहीं रुके पहुंचना चाहता था। परंतु समय ने करवट ली और बीच रास्ते मेरे पास मेरी माँ का फ़ोन आया।माँ बोली- तेरी मामी भी आएंगीं, उनसे बात कर कि तू उनको कैसे और कहां मिलेगा?सुनकर मेरा माथा ठनक गया. मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]भाभी न्यूली मैरिड सेक्स स्टोरी जारी रहेगी.

आशा है यह काल्पनिक इंडियन सेक्सी गर्ल स्टोरी आप सबको अच्छी लगी होगी. अब मैं भी चाहती थी ये दोनों मिलकर मेरी चूत को भी वैसे ही चोद दें … रातभर मुझे बेरहमी से पेलें. मैंने भी ज्यादा गुस्सा न दिखाते हुए उसका एक हाथ मेरे लंड पर रख दिया.

इंडियन भाभी व्हिडिओ

थोड़ी देर सुस्ताने के बाद भाभी बोलीं- कुणाल, तुमने मुझे आज बहुत मजा दिया. उनके चेहरे पर आनंद के ऐसे भाव बिखरे कि मैं भी उसको जोर से चोदने के लिए मजबूर हो गया. आपकी पिंकी सेन[emailprotected]देसी लंड की चुदाई कहानी का अगला भाग:गांव की चुत चुदाई की दुनिया- 11.

सुहानी की चूचियां दबाते दबाते चाचा के मुंह से सिसकारियां फूट रही थीं.

30 मिनट तक लगातार हमारी हसीन चुदाई जारी रही लेकिन दोनों में से कोई पीछे नहीं हट रहा था.

मेरी सास कह रही थीं- दीदी लड़का कैसा लगा?वो मेरी तरफ देखते हुए बोलीं- अच्छा है … परंतु अभी पांच दिन तक परीक्षा लेनी है. अपनी देसी चुदाई की कहानी के पिछले भागपति ने मुझे मेरे बॉस से चुदवा दिया- 2में मैं आपको बता रही थी कि कैसे मैंने अपने पति और अपने बॉस को एक साथ मेरी चूत चोदने के लिए राजी किया. बीएफ सेक्सी दो हजार अट्ठारहमैंने पूछा- तो फिर कैसे होगी!इसके जवाब में उसने मुझे घोड़ी बनाया और पीछे आकर मेरे चूतड़ों की दरार पर लंड रख दिया.

अब दोनों खुलकर मज़ा करना … क्योंकि तुम्हारी चुत अब ठीक से खुल गई है. उस रात दोनों पागलों की तरह सेक्स के मजे ले रहे थे क्योंकि करीब दो महीने बाद वो दोनों सेक्स कर रहे थे. फिर नीचे आते हुए नाक पर, गाल पर, होंठ पर किस करते करते उसके मम्मों को दबाने लगा.

मुनिया- क्या सोचने लगीं आप … क्या भाई मान जाएंगे मुझसे अपना चुसवाने के लिए!सन्नो- अरे मानेगे कैसे नहीं, तेरे भाई को तू नहीं जानती. मैं दोनों के मुँह में चूचे ठूंस ठूंस कर अपना दूध पिला रही थी और सिसकारियां भरते हुए बड़बड़ाये जा रही थी- आह्ह … कस कर मसलो … आह्ह काट लो मेरी घुंडियों को … चूस डालो इनको, सारा रस निचोड़ लो.

फिर मधु ने मेरे लंड पर थोड़ा सा तेल लगा कर संजना को लंड के ऊपर चूत रख कर बैठने का इशारा किया.

कुछ मिनटों में ही उसने होंठों को चूसना बंद कर दिया और अब उसके मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … जीत … ओह्ह … जीत … मजा आ रहा है … चुदने में … आह्ह … और चोदो मुझे यार … मुझे चूत में लंड लेना बहुत अच्छा लग रहा है … आह्ह जीत. मैंने मेरी फूफी की कुंवारी बेटी को अपने घर की छत पर रात को सोते हुए चोद दिया. चुदाई की उत्तेजना में वो मेरे बोबे कस कर मसल देता, जिससे मैं चीख पड़ती.

इंग्लिश बीएफ सॉन्ग सुरेश- अरे रघु आओ बैठो … ये मीनू है ना तुम्हारे साथ!रघु- जी बाबूजी, मैंने इसको सब समझा दिया है. सन्नो- मैं क्या कह रही थी, वो ये मुनिया कल रात को …सन्नो आगे कुछ बोलती, मुखिया भड़क गया और गुस्से में उसको वहां से जाने को बोला, तो दोनों वहां से भाग गईं.

लंड को चूत पर रखकर मैंने अपने दोनों हाथों को उनकी बगल से डालकर उनके दोनों कंधों को कसकर पकड़ लिया. मैं आंटी की चूचियों के निप्पलों को बारी बारी से चूस रहा था और बीच बीच में दांत से काट रहा था. उसने बताया- इस जींस के बारे में सिर्फ उसकी दीदी जानती है … या अब मैं.

एक्स एक्स एक्स सेक्स चुदाई वीडियो

वहां खेतों में एक मज़े की बात हो गई … वो देखते हैं कि वहां क्या हुआ. उसके भूरे रंग के निप्पल मेरे काटने से लाल हो चुके थे। उसकी चूचियों को मसल मसल कर मैंने टमाटर जैसी लाल बना दिया. सुमन- अगर ऐसी बात है तो सिर्फ़ आपके लिए मैं तैयार हूँ … मगर आप कान खोलकर सुन लें, ये सिर्फ़ एक बार होगा … उसके बाद नहीं.

क्या बताऊँ दोस्तो, क्या मस्त हुमक हुमक के चोदते हैं पांडेय सर … जब अपना पूरा लौड़ा बाहर निकाल कर सट्ट से पूरी ताकत से अंदर पेलते तो मैं चिहुंक उठती. मैं भाभी को लेने पहुंचा और देखा कि भाभी भी ऐसे तैयार हुई थीं, जैसे आज उनकी सुहागरात हो और चुत की आग बुझने वाली हो.

मेरी हालत को देख कर मॉम ने कहा- जब इतनी ठंड लग रही है तो अपने कपड़े उतार कर तू सुखा क्यों नहीं लेता?मॉम के कहने पर मैंने अपनी शर्ट को उतार दिया.

फिर दिमाग में आया कि जिस तरह से सीमा मामी को योजना बनाकर चोदा था उसी तरह पूजा भाभी को भी चोदने के लिए कोई न कोई योजना बनानी ही पड़ेगी. हालांकि इस मामले की पूरी जानकारी के लिए आपको एक बार मेरी पिछली कहानी को जरूर पढ़ना चाहिए. मैंने अपनी शर्ट-पेंट नीचे जमीन पर डाल दी और भाभी को पैर फैला कर लिटा दिया.

मीता के साथ तुम्हारी रासलीला मुझसे छिपी नहीं है … और वो बेचारी भोली भली मीनू की चुदाई जो तुमने की, वो भी मैं जानता हूँ. वो बोली- तो क्या हुआ, फसल तो लहलहाएगी ही … आप इतने परेशान क्यों हो रहे हो. थोड़ी ही देर में मैंने अपना सारा लावा उनके मुँह में भर दिया, जिसे वो पी गईं.

अब्बू ने कहा- कासिब … अब जल्दी से तू दिलकश की चुदाई कर … तेरे बाद मैं भी अब अपनी बेटी को अपनी बेगम बनाने को उत्सुक हूँ.

हिंदी बीएफ वीडियो आवाज में: वो मेरा इशारा समझ कर बोले- नहीं मेरी जान … चुदाई का पहला हक आज हमारे घर आये मेहमान का है. क्योंकि मेरे दोस्त ने कहा था कि लड़कियों को गांड में लंड लेना और भी अच्छा लगता है.

काल का चक्र कुछ ऐसा चला कि मैं किसी अन्य पुरुष से जानबूझ कर अपने जिस्म में धधकती वासना की आग बुझवाने लगी; ये सब बातें मैं आगे आप सब से साझा करूंगी. [emailprotected]न्यूड भाभी देसी बूब कहानी का अगला भाग:मामी ने भाभी की चूत दिलवाई- 3. मेरा दिल उसके इन कच्चे नींबुओं का सारा रस निचोड़ कर पी जाने को करने लगा था.

कई बार तो केवल लंड चूसने के लिए ही वो मुझे जबरदस्ती अपने घर बुला लेती थी.

चूचियां देखकर ही मैं पूरे जोश में आ गया और मन करने लगा कि इनको जोर से भींच भींच कर पी लूं. मेरी गांड की प्यास बुझी या नहीं?दोस्तो, मैं प्रेम शर्मा आपको अपनी कहानी का अंतिम भाग बता रहा हूं. उसकी आंखों से आंसू निकल रहे और गांड से मेरा पानी और थोड़ा खून भी आ रहा था.