गर्म जवानी बीएफ

छवि स्रोत,करीना कपूर के वीडियो सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ मोटे लंड की: गर्म जवानी बीएफ, अनिता- आह… आ पापा चोदो आह… बन जाओ बेटीचोद आह… मैं फिर आह… झरने वाली हूँ आह… फास्ट करो आह… फास्ट.

क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष

लड़कियों की तो आदत ही होती है ऐसे अपनेपन से शिकायत और प्यार जताने की!मित्रो, उसी साल नवम्बर के दूसरे हफ्ते में दीवाली थी; मुझे याद है कि फर्स्ट वीक में उसका फोन आया था. ब्लू पिक्चर देखने वाली वीडियोबिल्कुल संतुष्ट!आज मैंने चार लड़कियों की चूत चाटी थी और पूजा ने मेरा लंड भी चूसा था और साथ ही साथ आठ हजार रूपए भी कमाए थे।अगले दिन जैसा मैंने सोचा था, उन सभी लड़कियों ने आकर मेरा लंड एक-एक करके चूसा और मेरा वीर्य भी पिया.

फिर मामा ने मेरी झट से मेरी पेंटी और टॉप उतार दिए और मेरी चुची को मुँह में लेकर चूसने लगे. सेक्स फिल्म नंगीसिर्फ़ दिक्कत अगर होती है भी तो सिर्फ़ प्राइवेसी और सेक्यूरिटी को लेकर ही होती है वरना कोई परेशानी नहीं होती.

कहीं आप ये तो नहीं सोचती कि मैं भी आपकी तरह घर से भाग जाऊंगी, बोलो मॉम?ममता- हाँ डरती हूँ मैं.गर्म जवानी बीएफ: सुमन इतनी जोर से चिपकी थी कि उसके चूचे गुलशन के सीने में चुभने लगे थे.

बहुत बड़ी परेशानी है अब आप ही मेरी मदद कर सकते हो। हाँ आप ही उसकी पुरानी कहानी जानते होगे.फिर पापा ने मुझे और शालू को बहुत डांट लगाई और मुझे चंडीगढ़ स्टडी करने भेज दिया.

माधुरी दीक्षित के सेक्सी वीडियो - गर्म जवानी बीएफ

तुझे एक आइडिया बताता हूँ, जिससे उन बदमाश लड़कों की सब हँसी उड़ाएंगे.बस तक तक सब्र कर!फिर उसने मुझे छोड़ दिया तो मैंने अपने कपड़े ठीक किए और फिर से पढ़ने बैठ गया क्योंकि माँ पिताजी का मंदिर से वापिस आने का समय हो गया था.

गुलशन- अरे कुछ नहीं होगा भला चोदने से कोई मरता है क्या? मैंने कहा ना… बस आज सहन कर ले, फिर मज़ा ही मज़ा है… तू बोलेगी तब आगे चोदूंगा ठीक है. गर्म जवानी बीएफ रवि की यादों के सिवा दिमाग ने और कुछ भी सोचना जैसे बंद ही कर दिया था.

कॉम के फर्स्ट ईयर की स्टूडेंट हूँ। मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ। मैं बहुत गोरी और सुंदर भी हूँ। मेरी हाइट 5 फुट 3 इंच है। मेरा शरीर मीडियम है.

गर्म जवानी बीएफ?

टोपा अंदर जाते ही उसने लंड को अंदर करवाने के लिए अपने चूतड़ों को थोड़ा ऊपर उछाला. चलिए सेक्स स्टोरी के अगले पार्ट में देखते हैं।प्लीज़ आपके मेल भी मुझे अपनी इस स्टोरी पर मिलते रहने चाहिए।[emailprotected]कहानी जारी है।. काफी देर से लंड हिला रहा है।मुझे आश्चर्य हुआ कि इससे पहले वो इतनी जल्दी यह सब स्वीकार नहीं करती थी। ऐसा लगने लगा था जैसे वो फैन्टेसी में पूरी तरह डूब गई थी।मैंने चुत में धक्का मारते हुए कहा- लो रानी.

जिसे देख कर सबके लंड खड़े हो गए। सच में आज खुले बालों में सुमन का लुक बड़ा सेक्सी आ रहा था।वो दोनों पास आईं. मोना- अच्छा ऐसी बात है तो उसका बहुत ध्यान रखना पड़ेगा, कहीं गोपाल उसकी चुत ही न फाड़ दे और मेरी मेहनत बेकार चली जाए. मैं तो यह कहने आई थी की नाश्ता तैयार है आप जल्दी से तैयार हो कर खाने की मेज़ पर आ जाइये.

फिर खड़े होकर मैंनेआंटी को बाँहों में भर लिया और खड़े खड़े उनकी चूत और चूतड़ों को सहलाता रहा. मैंने अपने दोस्त आलोक को फोन किया कि जल्दी से आ मेरे घर जा… रात का खाना तूने यहीं पर खाना है. उसने खुद ही अपनी दोनों टाँगें खोली और मेरे लुल्ले को पकड़ कर अपनी दोनों टाँगों के बीच में रखा.

10 मिनट के बाद वो झड़ गयी पर मैं अभी झड़ा नहीं था, मैं लगातार शॉट लगा रहा था. फिर बोली- मुझे जरा काम से जाना है, तुम यहीं रुको, मैं बाजार से होकर आती हूँ.

मैडम ने मुझसे मुरुगन को हर प्रकार की यौन संतुष्टि देने के लिए कहा और ये भी कहा कि पूरी ट्रिप में मुझे मुरुगन की बीवी बन कर रहना होगा.

पसीने से भीग रही माला हाँफते हुए बोली- बस, मैं थक गई हूँ और नहीं कर सकती.

जिसमें किसी और के वीर्य से तुमको बच्चा हो सकता है।दीदी ने मुझे कसम खिलाई कि ये बात किसी को नहीं बताना।मैंने उससे अगले दिन फिर से डॉक्टर के पास चलने को बोला. मैं बहुत डर गया और मैंने उससे कहा कि अगर उसने ऐसा किया तो मैं उसका वीडियो इंटरनेट पर डाल दूँगा और उसे वीडियो दिखाने लगा. फिर उन्होंने मुझे पलंग पर धक्का दिया और एक लड़का मेरे ऊपर चढ़ गया और अपनी चिकना लंड मेरी चूत में दबा दिया.

मगर इस चूसा चुसाई में मेरा लुल्ला फिर से तन गया, जिससे मुझे दर्द होने लगा. मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच की है और फिगर 36-28-38 का है। मुझे लगता है कि कोई भी मर्द मुझे एक बार देख लेगा तो यकीन से कह सकती हूँ उसका लंड खड़ा हो जाएगा।वैसे तो शादी से पहले मेरे काफी अफेयर रहे हैं. तो वो बस देखता रह गया।जैसा मैंने पहले बताया था, पूजा बहुत खूबसूरत लड़की है.

अगले पन्द्रह मिनट तक मैंने बहुत तेज़ी से धक्के लगाते हुए संसर्ग किया और इस दौरान माला ने तीन बार बहुत जोर से सीत्कार ली तथा उसकी योनि में से रस का स्त्राव हुआ.

मगर ये नई चुत का क्या चक्कर है काका?काका ने मोना को सारी बातें विस्तार से बताईं. इसलिए मैंने पापा से मना कर दिया है कि मेरे टेस्ट्स हैं कॉलेज में… इसलिए मैं नहीं जा रही!’‘चलो ठीक है, तो फिर पढ़ाई करो अच्छे से!’ मैंने उसकी बातों का मतलब समझते हुए भी भोला बना रहा. मैंने चाची की नाईटी के हुक खोल के हाथ अन्दर घुसा दिया और कमर पे हाथ घुमाते हुए उनकी ब्रा की स्ट्रिप्स में उंगली घुसा दी.

मैं इसकी गांड को ठोकता हूँ।डबल चुदाई के नाम से ही फ्लॉरा की चुत पानी-पानी हो गई, उसको दर्द तो हो रहा था मगर ऐसी चुदाई उसने सिर्फ़ ट्रिपल एक्स वीडियोज में ही देखी थी. तभी अरमान कहने लगा- यार, क्यों न इस बार कुछ अलग किया जाये!मैंने कहा- अलग मतलब?वो बोला- अलग मतलब कुछ ऐसा करें जिस से हम सभी को अच्छा मज़ा भी आए और हमारी तीनों हिरोइनें भी खुश हो जाएँ!तो मनोज कहने लगा- यार ऐसा करो, ऐसे कल्पना से कुछ नहीं होने वाला, जब करेंगे, जैसे जैसे कंफर्टेबल होता जायेगा करते जायेंगे!मैंने मनोज की इस बात पर ही हामी भर दी. चलो फिर एक काम करो मैं लेट जाता हूँ तुम मेरे ऊपर बैठ के मेरे लंड को अपनी चूत की दरार में दबा के रगड़े लगाओ इससे भी मेरा पानी छूट जाएगा जल्दी!’ मैंने उसे दूसरा तरीका समझाया.

पर प्रॉब्लम ये थी कि जाएं कहाँ। फिर हमने खंडवा रोड जाने का निश्चय किया।मैंने अमन से कहा- हम दोनों पीछे बैठते हैं।‘अरे नहीं इस कमीने का पूरा ध्यान हमारी तरफ रहेगा और एक्सीडेंट कर देगा, अपन आगे ही बैठते हैं।’मैं दोनों के बीच में बैठा था। राहुल ड्राइव कर रहा था। कोई 20 मिनट में हमने बायपास क्रॉस कर दिया था। जैसे ही थोड़ा सुनसान रोड हुआ.

फाड़ दे मेरी चूत को आज!मैं- साली रांड… इतना चोदूँगा कि याद रखेगी… ले साली. मगर मुझे पता नहीं था कि मेरा अपना सगा भाई रात को सोते हुए मज़ा ले रहा था और मुझे पता भी नहीं लगा.

गर्म जवानी बीएफ मैं बारम्बार उसके बदन को छूने का यत्न करता रहा… कभी उसके हाथ को तो कभी उसके कंधे को पकड़ता… उसने एक बार भी मुझे छूने से नहीं रोका तो मुझे लगा कि उसकी मूक सहमति है जो मैं कर रहा हूँ. आप सबने मेरी पिछली कहानियों को बहुत पसंद करा, मैं आप सबका दिल से धन्यवाद करती हूँ! और जो दोस्त मेरी कहानी पहली बार पढ़ रहे हैं, वे मेरीपिछली xxx हिंदी स्टोरीजरूर पढ़ें और मज़ा लें.

गर्म जवानी बीएफ हम दोनों एक साथ सो जाएंगे।अंकल बोले- दो मोटे तेरे सिगंल बेड पर बनेगे नहीं. थोड़ी देर मुँह की चुदाई करने के बाद वो वापस नीचे उतरा और पूजा के पैरों को मोड़ कर लंड को पूजा की चुत में पेल दिया.

उसका लंड अब पूरा टाइट था- नाउ बेबी… थिस बुल विल राइड ओन यू… आर यू रेडी नाऊ?और वो मेरे करीब आया, मेरे दोनों पैरों को उसने उठाया और दोनों को एक दूसरे से दूर कर दिया, इसकी वजह से मेरी चूत काफ़ी खुल गई थी.

बाबाजी बाबाजी

जब 2 मिनट बाद सब निकालने ही हैं, तो बदलने से क्या हो जाएगा हा हा हा हा. अक्सर सोचता हूँ, कोई लड़की मिले जिसे मैं चोद सकूँ, मगर ऐसा कोई मौका नहीं मिल रहा था. ’ कुछ ही देर बाद वो बोली और मिसमिसा कर अपनी उंगलियाँ मेरे कंधे में गड़ा दीं और झड़ने लगी.

शराब का सुरूर छा रहा था और पीटर की उंगलियाँ मेरी चुत और गांड में भूकंप मचा रही थी. मैं बोली- मैं आती हूँ ना बाथरूम से सू सू करके!तो मामा ने मना नहीं किया, मैं उठ कर कपड़े पहनने लगी तो मामा ने पूछा- कपड़े क्यों पहन रही हो? नंगी ही जाकर आ जाओ ना!मैं बोली- बाहर के रूम की खिड़की खुली हुई है, कोई देख लेगा क्यूंकि हम लोगों का कामन बाथरूम है. लेकिन मेरा एक हाथ संदीप ने अपने दोनों हाथों से पकड़ कर पीछे की तरफ अपनी ओर खींचे रखा और दूसरा हाथ राजू ने पकड़ लिया, मेरे दोनों हाथों को अपनी तरफ खींचने पर उनके लंड मेरी गांड में और अंदर रास्ता बनाने लगे और मैं दर्द के मारे बेहोशी के कगार पर पहुंच गया.

मैंने बाथरूम से निकल कर दरवाज़े के पास खड़ा हो कर माला के निकलने की प्रतीक्षा करने लगा.

और फिर हाथ को सीट के ऊपर से जमीला के कंधे और थोड़ा नीचे खुली शर्ट से जमीला के बूब्स सहलाने लगा. मम्मे तने हुए थे जैसे कि तोपों की जोड़ी निशाना साढ़े गोला दागने को तैयार हो. हाँ अगर टीना साथ होगी तो शायद कर सकते हैं।टीना- तू मुझे क्यों घसीट रही है, ये साले कुत्ते हैं। तेरी हालत मैंने देखी है.

’‘तुम्हारी जांघें कितनी चिकनी हैं… मुझे तुम्हारे होंठों का रस पीना है. फिर मैंने लंड को बाहर खींच कर फिर लंड को उसकी चूत के छेद पर रखा और एक झटका मारा तो मेरा आधा लंड उसकी चूत के अन्दर चला गया, उसके मुँह से आवाज निकली- ऊऊईई आआह्ह आआह्ह्ह आऔऊउ मर गई रे आआह्ह आआह्ह ईईआअ!मैं थोड़ा रुका और फिर एक झटका मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया था. रिया एक उम्दा सा, ट्रांसपैरंट, बेबीडॉल नाइटी और पैरों में हाय हील पहन कर, बेड पे सेक्सी मुद्रा में बैठी थी.

लंड को अन्दर और अन्दर करने के लिए वो मेरी बहन की कमर को पकड़ के जोर-जोर से झटके मार कर अन्दर करता जा रहा था. और अगर कोई दिक्कत होगी तो मैं हूँ न!उसी समय चाची आ गई चाची बोली- हाँ बेटी, अब ठीक हूँ… वैसे अशोक ने पूरा ख्याल रखा है.

ऋतु बोली- या फिर मुझे लगता है कि हमें दोनों काम करने चाहियें… हमें तो पैसों से मतलब है फिर जहाँ से मर्जी आयें… है न?मैंने सोचते हुए कहा- ह्म्म्म… हाँ!मैंने ऋतु से पूछा- पर क्या पूजा इन सबके लिए राजी होगी?ऋतु ने हंसते हुए कहा- अगर तुम उसकी चूत फ्री में चाट कर झाड़ दो तो जरूर राजी हो जाएगी. कल रात जब मैं तुम्हारे कमरे का दरवाज़ा खोलने लगी थी तब तुम फोन पर शायद अपनी मामी से ही यौनक्रीड़ा की बाते कर रहे थे. मैंने एकाएक लंड को पीछे लाकर जोरदार धक्का दिया जिससे मेरा लंड उसकी चूत में पूरा चला गया.

‘लेकिन भाबी माँ, मैं किसी एक को जानता हूँ जो आपकी इस कार्य में मदद कर सकता है.

दस मिनट के संसर्ग के बाद चाची जब थक कर हाँफने लगी तब वह बिस्तर का सहारा लेकर घोड़ी बन कर खड़ी हो गई और मैंने उनके पीछे से जा कर अपना लिंग उनकी योनि में घुसा कर धक्के लगाने लगा. और चूचियाँ आम के जैसी नुकीली हैं।मेरी यह सेक्सी स्टोरी सन 2014 की है. वो बोली- पहले आप बताओ अपने बारे में?मैंने बोला- मैं दिल्ली एग्जाम देने जा रहा था। लेकिन आप इतनी खूबसूरत है कि एग्जाम को भूल गया और यहाँ आ गया।वो मुस्कुराई और बोली- मैं अध्यापिका हूँ.

खैर छोड़िये, अपनी आत्मकथा पर आता हूँ जो ऐसे ही सच है जैसे चाँद और सूरज हैं।मैं 33 साल का साधारण सा लड़का हूँ. एक के बाद एक करके तीन बार चोदने से सुमित थका हुआ महसूस करने लगा था और थोड़ी ही देर में सो भी गया.

मैं तुम्हें कपड़े ही पहनने न दूं और दिन रात तुम्हारी देसी चुत मारता रहूं. उसके बाद वो अपनी सलवार खोलने लगी और मुझे बोली- जा बाहर वाले दरवाजे को लॉक करके आ!मैं भाग कर गया और जब दरवाजा बंद करके वापिस आया तो वो बेड पे बिल्कुल नंगी पड़ी थी, मुझसे बोली- किचन में ऊपर की अलमारी में एक सफ़ेद शीशी पड़ी है तेल वाली, वो भी ले आ!मैं वो तेल वाली शीशी भी लेकर उसके पास गया तो वो बोली- चल अब तू अपने कपड़े भी उतार दे. फिर मौसी ने अपना कमीज़ ऊपर उठा कर अपने दोनों बोबे बाहर निकाल दिये और मेरे हाथ पकड़ कर अपने बोबों रखे, मैंने उसके दोनों बोबे हल्के से दबाये तो मौसी ने अपने हाथ मेरे हाथों पर रख कर ज़ोर दबाये और मेरे कान में फुसफुसाई- ज़ोर से दबाओ इन्हें, मसल डालो.

अनिता भाभी का सेक्सी

फिर उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर कहा- अशोक, अब मत तड़पा, जल्दी से घुसा दे, अपने मोटा लंड मेरी चूत में.

मैंने सोचा कि शायद ये लोग भी मेरी तरह ही टहलने आए होंगे क्योंकि गांव में अक्सर जवान लड़के शाम को घूमने फिरने शौच आदि करने या फिर दारू-वारू पीने नहर जैसी जगहों पर ही जाते हैं. फरीदा की चूत के सब तरफ सुमित का वीर्य और चूत से निकला हुआ पानी फैला हुआ था, देख के मुझे घिन आने लगी, मैंने फ़ौरन मुंह दूसरी तरफ कर लिया. ‘आआआ… क्लास! मजेदार… बड़े शानदार तरीके से तुम मेरी ओवरी में घुसे हो जान! सुपर… बस अब ऐसे ही दोनोंमेरी चुदक्कड़ चूतको चोदते रहो…’ मेरी हमसफ़र के मुंह से इतनी अश्लील बात इतने नेचुरल तरीके से निकली और वो दुबारा उत्तेजना से अपने लंड को सहलाते स्वान का लंड चूसने लगी.

इस बार उसने मेरे सिर को अपने सिर से ऊँचा कर लिया था जिसके कारण मेरे मुंह से तेज़ी से बहती हुई लार उसके मुंह में जा रही थी. रफीक अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए बोला- अब आ ही गई हो सबीना तो शर्माना छोड़ो और आओ मजे लो, मुझे पता है तुम बहुत तड़प रही हो और मैं भी तड़प रहा हूँ तेरी रसीली के लिए, राजेश भाई रुको थोड़ी देर और अपना मस्ताना निकालो पहले बहन को लिटा लूँ फिर तुम बहना को मेरी गांड चुदाई दिखाना. यूक्रेन सेक्सी वीडियोमैं उसकी आँखों में देखता रहा, फिर मेरा ध्यान उसके बोबों की तरफ गया, तो उसने अपना दुपट्टा हटा कर मुझे अपने बोबे दिखाये.

फिर मैंने डॉक्टर को बेड पर लिटा कर उसकी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रखा और ताबड़तोड़ चुदाई में जुट गया. सारा बोझ निप्पल्स पर आ गया और ऐसा लगा कि निप्पल चूची से अलग हो जायेंगे.

इधर हमारी साइड पे आपस में मग्न अरमान खड़ा हो गया, उसने अपना अंडरवियर और बनियान उतार दी थी, नेहा अल्फ नंगी होकर नीचे बैठी अरमान के टटों को पकड़ कर उन्हें सहला रही थी और उन पर केक लगा रही थी. उसका लंड अभी भी खड़ा था… जाहिर सी बात थी यह सब मेरे नंगे बदन के कारण ही था। उसका खड़ा लंड देखकर मैं समझ गई कि रोहित क्यों इतना शर्मा रहा है. शादी के बाद में 4 और लोगों के साथ चुदाई का मज़ा लिया है और मेरे पति सब जानते है उन्हें भी मेरी चुदाई दूसरे से करने में मज़ा आता है!बात कुछ दिनों पहले की है, मैं घर का कुछ सामान लेने बाजार गई थी.

जो मैं आपको बताने जा रहा हूँ।मेरा नाम सौरभ है, मेरी उम्र 27 साल की है, मैं यूपी का रहने वाला हूँ लेकिन अभी मैं दिल्ली में रहता हूँ। मेरे घर में पापा-मम्मी भाई-भाभी और एक भतीजी है। मेरी एक छोटी सिस्टर सोनी भी है. ऐसे तो शताब्दी के ललितपुर आने का टाइम दोपहर में साढ़े बारह के करीब है लेकिन उस दिन वो डेढ़ घंटे की देरी से आई; खैर जाना तो था ही तो चढ़ गया. सुलेखा के मुंह से एक चीत्कार निकली और उसने मचल के लौड़े को मुंह में ले लिया.

आप तो जानते हो भाई के मरने के बाद राधा को हम घर ले आए थे। वो अक्सर रात को रोती रहती है। अब मैं तो ठहरा फालतू लड़का.

वो मुस्कुराते हुए बोली- वाउ यार मतलब मेरा आइडिया काम कर गया गुड, मगर तू अभी वो कपड़े मत पहनना, जब मैं कहूँ तब पहनना ओके!सुमन- अच्छा ठीक है दीदी मगर आप कुछ पार्टी की बात कर रही थीं. गुलशन- हा हा हा ऐसा कुछ नहीं होगा… तू कोशिश तो कर… फिर मज़ा आएगा तुझे.

मैं भाभी के होंठ को चूसने लगा और दस मिनट बाद भाभी गर्म हो गईं, उनके मुँह से ‘उह उह आह. होटल पास ही था तो पैदल ही चले गए, पर लौटते में तेज बारिश में भीग गए. दो विकराल लंडों से मेरी बीवी की गांड फटी जा रही थी, यह देख कर पोर्न डायरेक्टर ने इशारा किया और नीचे लेटे हुए चंगेज़ ने अपना लंड बाहर निकाल लिया.

और कुछ दिन ऐसे ही गुज़र गए।एक दिन मैं छत पर बने अपने रूम में सोकर देर से उठा. मेरी चूत अभी कुंवारी थी और बहुत छोटी सी थी लेकिन उस लड़के ने बड़ी ही तन्मयता से अपना लंड मेरी चूत के ऊपर रखा था और हाथ से अपना लंड दबाने लगा और जब उसको लगा कि लंड सही जगह पर है, एकदम अन्दर पूरी तरह से घुसा दिया. स्वान ने बेसब्री के साथ अपना हाथी जैसा लंड खाली हुए नाता के मुंह में घुसेड़ दिया.

गर्म जवानी बीएफ साथियो, आप मुझे मेरी हिंदी सेक्स स्टोरी पर मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें. मैंने तुम्हें पहले भी कहा था कि मैं इन सब चक्कर में नहीं पड़ना चाहती तो तुम क्यों मेरे पीछे पड़े हो?तो वो बोला- भाभी, सिर्फ दोस्ती कसम से और कुछ नहीं… आपसे दोस्ती करने के लिए मैं कुछ भी कर सकता हूँ चाहे आप मुझे एक बार आजमा कर देख लो, आप जो कहोगे, मैं वो करूंगा, आप एक बार बोल के तो देखो!मैं मन में सोच रही थी कि इसको क्या कहूँ, इसने करना कुछ नहीं है, मैंने भी सोचा आजमा कर देखते हैं.

कॉल गर्ल लड़कियां

बहन को ऐसा करते हुए देख कर उस आदमी का जोश एक तो ऐसे ही बढ़ रहा था और दूसरी तरफ़ मेरी बहन के पैर में जो पायल की झनकार सुनाई देती थी, वो उसके जोश को और ज्यादा बढ़ा रही थी. अबकी बार उनका अज़गर चुत को फाड़ता हुआ पूरा अन्दर घुस गया और इस बार दर्द की इंतेहा हो गई, बेचारी अनिता इस दर्द से बेहोश हो गई मगर गुलशन अब लंड को स्पीड से आगे-पीछे करने लगे. पिताजी तो पहले ही नशे की हालत में मुश्किल से खड़े थे, इसलिए वो भी बोले- हाँ बहू, तुम भाई साहिब को लिटा कर आ जाना और रात को भी एक दो बार देख लेना और पानी वग़ैरा पिला देना.

तभी राजे ने हुम्म्म हुम्म्म हुम्म्म करके पूरी ताक़त से अंधाधुंध धक्के टिकाये. मैं भी उसका पूरा साथ दे रही थी और मेरे मुंह से सिसकारियाँ निकल रही थी, मुझे तो खूब मजा आ रहा था. 7 साल का सेक्सदूसरे दिन मैं अंदर गया तो वो चाय बना रही थी, मुझसे बोलीं- बाहर नोटिस नहीं देखा? आज छुट्टी है, तुम्हारे सर बाहर गए हैं.

मैंने दर्द भारी आवाज में कहा- एआइईईई जानू, धीरे से दबाओ, मैं कहीं भाग नहीं रही हूँ.

मुझे लगा कि जैसे उसकी चूत से रस की बरसात हुई हो, मेरी झांटें तक नहा गईं. ये तो अभी नॉर्मल साइज़ है, अब ये बाकी सबका 7″ 8″ का है तो मेरा तुझे छोटा हे लगेगा ना।संजय- अबे साले बंद कर.

जो ये सब करके जाता है हाँ बोलो?मोना ने थोड़ा गुस्सा होकर ये बात कही तो गोपाल चुप हो गया।मोना को पता था उसने रात ग़लती की है मगर अब वो गुस्सा नहीं करेगी तो गोपाल उस पर चढ़ाई कर लेगा तो बस उसने बड़बड़ा करना शुरू कर दिया।गोपाल- अरे जान सॉरी ना. उसने पलटकर मेरी तरफ मुंह किया और मेरा सर पकड़ कर जोर से चीख मारने लगी- ईईईई… क्याआआ… कर. एक काम कर, वो सामने से तेरा स्कूल बैग उठा कर तो ला ज़रा!पूजा- उससे क्या होगा मामू बताओ?संजय- अरे तू उठकर जा और बैग उठा कर ला.

तो देवर आधा पति क्यों नहीं हो सकता।बात तब की है जब मेरी शादी को 3 साल हो गए थे। मेरे पति को बिज़नेस के काम से एक महीने के लिए विदेश जाना पड़ा था। वैसे तो हमारी सेक्स लाइफ बहुत अच्छी चल रही थी.

एक तो टोपे की यह स्किन जो लंड के निचले हिस्से से जुड़ी है, हटानी पड़ेगी. चल तू खुद उसको आज़ाद कर दे।मोना धीरे से काका के पास को हो गई और उनकी धोती को खोल कर साइड में रख दी। अन्दर से काका का 9″ का लंड फनफनाता हुआ बाहर निकला, उसकी मोटाई भी बहुत थी जिसे देख कर एक बार तो मोना डर गई- हे राम. मेरे भाग जाने के बाद पापा को हार्ट अटॅक हुआ था। वो लोगों की बातें सहन ना कर सके और फिर उन्होंने सब कुछ बेच दिया और उसके बाद न जाने कहाँ चले गए, किसी को कुछ पता नहीं।फ्लॉरा- ओह.

बीडियो बिलूकुछ देर बाद मैंने भी 10-12 तेज तेज धक्के मार कर उसकी चूत में अपनी पिचकारियाँ चला दीं. मैंने जकूज़ी से बाहर निकलते हुए पीटर से कहा- बच के रहना जान, आज तेरी खैर नहीं!पीटर ने मुझे पास खींचा, अपने दोनों हाथों से मेरे निप्पल जोर से खींचे और कहा- वो तो समय ही बताएगा कि आज किसका क़त्ल होगा.

बीपी मराठी हिंदी

या ऐसे ही हवा में तीर मार रहे हो?साहिल- अबे चूतिये तेरे को पता है ना संजय बिना प्लान के कोई बात नहीं कहता।विक्की- अरे बाप रे, वो देखो अपनी कली क्या मस्त लग रही है आज. कुछ दिन के अंदर ही मुझे पता चल गया कि मेरा देवर मुझे नोटिस करने लगा है। और मैं भी यही चाहती थी कि वो मुझे नोटिस करे. शादी के बाद में 4 और लोगों के साथ चुदाई का मज़ा लिया है और मेरे पति सब जानते है उन्हें भी मेरी चुदाई दूसरे से करने में मज़ा आता है!बात कुछ दिनों पहले की है, मैं घर का कुछ सामान लेने बाजार गई थी.

अजय स्पीड से धक्के दे रहा था। अब फ्लॉरा भी उसका साथ देने लगी गांड को हिला-हिला कर चुदने लगी।अजय- आह. ? मैंने तो किसी दोस्त को नहीं देखा, दरअसल गोपाल थोड़ा अजीब ही है। उसके इतने कोई खास दोस्त हैं भी नहीं. और अभी खाना वो शुरू करती कि तभी गुलशन जी आ गए, जिसे देख दोनों माँ बेटी चौंक गई क्योंकि दोपहर में उनका आना होता ही नहीं था। वो सुबह निकलते तो सीधे रात को ही आते.

मतलब चाची को सभी तरफ से मजा आ रहा था और उनके मुँह से आवाजें रुक ही नहीं रही थीं. ’ की आवाज़ निकल गई।मुझे ऐसा लगा जैसे मैं जन्नत में था। उस अहसास को मैं बता नहीं सकता।वो मेरे लंड को मुँह में अन्दर-बाहर कर रही थी. अक्सर सोचता हूँ, कोई लड़की मिले जिसे मैं चोद सकूँ, मगर ऐसा कोई मौका नहीं मिल रहा था.

’उसके ऐसे कहने से मेरे में दुगना जोश आ गया और मैंने जीभ उसकी चुत के अन्दर तक फिराने लगा। वो जोर-जोर से मुझे गालियां देने लगी- आआहह. तो रोहित शर्मा गया पर उसने अपने हाथों में साबुन ले लिया और फिर उसने मेरे उरोजों को अपने हाथों में भर लिया और उन पर साबुन लगाने लगा.

हम नेहा के घर पहुंची तो वहाँ नेहा और उसके मम्मी पापा ने हमारा बहुत अच्छे से स्वागत किया.

और उन्होंने मेरे लंड को चूत के दरवाज़े पर रखा, जैसे ही मुझे रास्ता मिला, मैंने लंड को पेल दिया. मुंबईचा सेक्सबस अब लंड डाल दे।मैं भी झट से उठा और उन पर लेट गया और लंड अन्दर डालने के लिए धक्के देने लगा। दो बार में लंड नहीं घुसा तो निशा भाभी ने हाथ से लंड पकड़ कर चुत पर लगाया और पेलने का इशारा किया।मैं तो जोश में था ही. सेक्सी हीशाम की चाय जब मैंने दादा जी और दादी जी के साथ बैठ कर पी, तब वे काफी देर तक मुझसे मेरी मुंबई की यात्रा एवं वहाँ की ट्रेनिंग के बारे में पूछते रहे और मैं उनके प्रश्नों का उत्तर देता रहा. राजे मुझे उठाये उठाये बैडरूम में जा पहुंचा और मुझे बिस्तर पर पटक दिया.

मेरे पास सिवाए उसके हिसाब से चलने के कोई और चारा नहीं था पर मैं एक बार पक्का करना चाहता था कि मैं और वो एक ही स्तर पर हैं या नहीं.

हम तुमसे मिलने ही आए हैं, भोलेनाथ की तुझपे बहुत दया है मगर तेरे सर पे बहुत बड़ा संकट आने वाला है।मोना- आपको मेरा नाम कैसे पता लगा बाबा. अगले दस मिनटों तक इस क्रिया के करते रहने से हम दोनों इतने उत्तेजित हो गए की माला के अंगूर जितने मोटे चूचुक बहुत सख्त हो गए और मेरे लिंग की नस फूलने लगी. क्या बात है खाना तो बाद में खा लूँगा, तू बात बता?सुमन- पापा वो कॉलेज में सब कहते हैं कि मैं ओल्ड फॅशन के कपड़े पहनती हूँ.

मैंने भी मौका ना गँवाते हुए कहा- चलिए आप कभी मेरे काम आ जाना, सिंपल!और हंस दिया. जब उससे सहा नहीं गया तो उसने लपक कर पीटर का लंड अपने मुँह में ले लिया और किसी आइस क्रीम की तरह चूसने लगी. जब मैं मूत्र विसर्जन कर रहा था तब मैंने देखा कि माला मुड़ कर मेरे आठ इंच लम्बे लिंग को बहुत ध्यान से घूर रही थी.

xx व्हिडिओ

बस बोल नहीं पाया।मोना- अच्छा मगर यहाँ कामवाली मिलना आसान है क्या?गोपाल- आसान तो नहीं है मगर ढूँढ लेंगे. और यह बोल कर मैं वहां से आ गया।अब मैं भाभी से बात नहीं कर रहा था और दो दिन निकल चुके थे तो शाम के टाइम भाभी का मेरे पास फ़ोन आया और बोली- मेरे रूम में आओ।मैं काफी गुस्से में था तो मैं जाकर बोला- अब क्या काम है?भाभी बोली- क्या बात है तुम मुझसे बात क्यों नहीं करते?तो मैंने साफ़ साफ़ बोल दिया कि आपने मेरे साथ ठीक नहीं किया।भाभी बोली- तुझे क्या चाहिए?मैंने बोल दिया- मुझे तो आपकी सेवा चाहिए. बस, मैंने आगे का दाव खेला और उसको बोला- देख मानसी, मैं ऐसा कुछ नहीं कर सकता.

जब वो अंदर आता था, मैं पूरी हिल जाती थी, मेरा पूरा शरीर हिलता था, बेड भी आवाज़ करता था.

हालांकि भाई बहन के बीच ये सब पाप की नजर से देखा जाता है पर ना जाने क्यों ये पाप करना मुझे अच्छा लग रहा था.

मुझे कुछ खाने की गोलियां दीं और कहा कि कल इसी टाइम पट्टी चेंज करवा लेना. मैं मन ही मन मुस्कुरा रहा था कि जैसा हमने सोचा था, सब वैसा ही हुआ बल्कि उससे भी अच्छा हुआ क्योंकि पैसों के साथ साथ पूजा ने मेरा लंड भी चूसा और अपनी चूत भी चुसवाई. अमेरिकन एक्स एक्स एक्समैं उसको भोगने को तड़प रहा था जैसे पानी बिन मछली और वो इस आग में अपनी हरकतों से घी डाले जा रही थी.

मुझे खींचकर वो बेड के पास तक ले गई और वहाँ बैठी पूजा के पास बैठ गई. बन जा तू भी काका के लंड की दीवानी।ये दोनों छज्जे से उतर कर काका की छत पर आ गए थे। उस वक़्त काका अपने चरम पे थे और मोना की टाँगें उठा कर उसकी ज़बरदस्त चुदाई कर रहे थे। वैसे उनको आवाज़ सुनाई दे गई थी कि राजू और राधा ठीक उनके पीछे आ गए हैं।मोना- आह. और फिर मुझे कब नींद आ गई, पता ही नहीं चला…रात के 12 बजे होंगे कि मुझे अक्षिमा ने उठाया और हल्का सा नाराज होते बोली- इतने दिन बाद मिले फिर भी सो गए, इससे ज्यादा देर तो हम मोबाइल पर बात करते जागते हैं यार!मैं बोला- नहीं यार, मैंने वेट किया पर तू आई ही नहीं तो आँख लग गई.

’‘आआआह… समीर आज मेरी प्यास बुझा देना… मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है. ऐसा करने से उसको बहुत जल्दी नींद आ जाती है और एक बार वो सो जाए तो ढोल नगाड़े भी बजा दो.

इस प्रक्रिया में एंड्रयू का लंड पूरा तो नहीं, लेकिन आधा-अधूरा गोरी रुसी लड़की की गांड के अन्दर-बाहर होने लगा.

नीचे से चूत उछाल उछाल कर मैं भी धक्के लगाने लगी… साथ में मेरे मुंह से आनन्द भरी आवाजे निकलने लगी… हाय. प्लेयर को टीवी से कनेक्ट किया और सीडी डालने के बाद वो आकर मेरी बहन के पास बैठ गया. इसमें सुमन का वो वीडियो भी है जब वो पूरी नंगी होकर मॉंटी के साथ मज़े ले रही थी.

बलात्कार के वीडियो मैडम ज़ोर-ज़ोर से ‘आहहा अम्म्म’ की आवाजें निकालकर चूत को उछाल-उछाल कर मेरे मुँह पर रग़ड़ रही थीं. आज मैं पहली बार चुद रही थी, वो भी दो लंड एक साथ चूत में!मुझे लगने लगा कि आज मेरी जान जाने वाली है.

रफीक- आहहहह… यार राजेश मेरी गांड फाड़ दी उम्म्म… साले तेरा लण्ड है या मूसल?थोड़ी देर रुक कर जब रफीक थोड़ा रिलेक्स हुआ तो मेरे लण्ड पर उछलने लगा. फिर मौसी ने अपनी सलवार खोली, और घुटनों तक उतार दी और अपनी मजबूत बाजुओं का सहारा लेकर मेरे ऊपर आकर लेट गई. आप लंच कर लो फिर थोड़ा रेस्ट भी कर लो, उसके बाद आपका मन करे, तब पढ़ा देना, इतनी देर में अपना होमवर्क कर लूँगी।शारदा- देखो कितनी समझदार है ये.

बांग्लादेशी सेक्सी

तभी बॉस ने मेरे कान में कहा- तू चिंता न कर, संजय खुद ही तुझे चुदवाने लाया है. मैं अपने घुटनों के बल उसके सामने बैठ गया और उसकी जांघों को पकड़ कर अपनी जीभ उसकी बुर में डाल दी. मेरी फिगर के बारे में भी आपको पता है कि मेरा गोरा बदन, पतली कमर, लम्बे रेशमी बाल, कसे हुए चूतड़ और मोटे चूचों को देख देख लड़के तो क्या बूढ़े भी मुठ मारने के लिए मजबूर हो जाते हैं.

बस चल पड़ी, थोड़ा अंधेरा भी हो गया था तो हम ऐसे ही बात करने लगे तो पता चला कि वो भी देहरादून जा रही है और वहीं रहती है. कुछ देर बाद उठकर वह बाथरूम जाने लगी तो मैंने ध्यान से उसके जिस्म को देखा.

आगेपूजा की चूत चुसाई और लंड पिलाई के बाद ऋतु ने उसे सब डिटेल में बताया कि अगर वो अपनी सहेलियों को ये सब मजे दिलवा सकती है, फिर और भी मजा आएगा.

थोड़ी देर बाद मैं सो गई लेकिन अचानक रात को किसी हलचल से मेरी नींद खुल गयी. मैं कपड़े पहनने लगी, दूध वाले के दोस्त ने मेरा हाथ पकड़ा और अपने ऊपर खींच कर बोला- कहाँ जा रही हो रानी, एक बार तो और चुदवा लो. उठे हुए चूचे चूस डालूँ और गाण्ड को छलनी कर दूँ…वो मुझे देखते ही पहचान गई.

लगभग 2 घंटे के बाद मेडम ने मुझे कॉल करके घर आने को कहा और साथ में दो कॉन्डोम लाने को कहा. बाहर मेरा दोस्त आया था जिसे मेरी मुंबई की प्रोजेक्ट रिपोर्ट की एक प्रतिलिपि चाहिए थी जिसके अनुसार वह भी अपने प्रोजेक्ट रिपोर्ट लिख सके. सुमित भी उसकी चुदाई में न थकने वाली ऊर्जा देखकर आश्चर्यचकित रह गया.

एक बार की बात है जब मैं और रोहित उसके घर पर स्टडी कर रहे थे तब वो पौंछा लगाने आई, वो झुक कर पौंछा लगाने लगी, उनके पूरे बूब्स नंगे दिख रहे थे, मेरा तो लंड पूरा खड़ा हो गया.

गर्म जवानी बीएफ: आप लंच कर लो फिर थोड़ा रेस्ट भी कर लो, उसके बाद आपका मन करे, तब पढ़ा देना, इतनी देर में अपना होमवर्क कर लूँगी।शारदा- देखो कितनी समझदार है ये. फिर अमित और गौरव खुद ही साईड हो गये और मेरा ध्यान केवल और केवल चुदाई पर रह गया.

फिर मैंने भी अपने चोदू राजा राजे के कान में कहा- राजे मेरी जान… तूने आज जैसे चुदाई की न, मज़े का तूफान ला दिया… अंग अंग की तृप्ति हो गई… लेकिन यह बता साले कुत्ते जो इतना दर्द मेरे चूचों में और जांघों में हो रहा उसका क्या…. कहाँ तक पहुँच गई वो?टीना- बड़ी आग लगी है तेरे अन्दर सुमन के नाम की? बताती हूँ पहले तू ये बता कि पूजा के क्या हाल हैं. उस समय तो मैंने सोचा कि तुमने मुंबई में सम्भोग के लिए किसी युवती को फंसाया होगा और उसी से बात कर रहे थे.

उसके बाद मैंने अपनी झांटों को कैंची से कुतर कर नाखून जितना कर लिया.

उसने मरीज को देख कर उसे दवा लिख दी, मरीज को भर्ती कर उसे ग्लूकोस चढ़ाने की लिए बोली. हम पहुंचने ही वाले थे लेकिन संदीप मुझे नेवली खुर्द गांव की तरफ एक सुनसान रास्ते पर वीराने में एक कोठरी में ले गया जहाँ पर उसके दो दोस्त जग्गी और राजू पहले से ही दारु की पी रहे थे. चाची की चुत तक का सुहाना सफ़र-1चाची की चुत तक का सुहाना सफ़र-2अब तक की इस चाची सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि चाची भी मुझसे चुदने को मचल उठी थीं पर चाचा के कारण उन्होंने दूसरे दिन चुदाई का कार्यक्रम तय कर लिया था.