हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात

छवि स्रोत,सांड की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

अंग्रेजी चुत: हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात, तो मैंने उनसे कहा कि मेरी उसी सहेली की बहन का इधर कुछ काम है और वो हमारे यहां दो दिन ठहरना चाहती है … तो क्या मैं उसे तभी बुला लूं?पति ने उसके बारे में मुझसे पूछा.

काजल अग्रवाल की सेक्सी वीडियो

रूबी- क्या?मैं- मगर डर भी लग रहा है कि तू इस बात को किसी से बता ही न दे. എക്സ് എക്സ് വീഡിയോസ്हम दोनों की कमर की रफ्तार बढ़ने लगी और मैं जल्दी जल्दी झटके लगाकर ललिता भाभी की गांड में अपना लंड अन्दर बाहर करके चोद रहा था.

मगर उसने अब शोर नहीं मचाया और बैठे बैठे ही वो अब धीरे धीरे रसोई की तरफ बढ़ने लगी. क्रेजी सेक्सीतेरी चुत में अब हर रोज लंड घूम कर ही आएगा, चाहे फिर वो नकली ही क्यों ना हो.

मैं उससे नज़रें हटा ही नहीं पा रहा था कि अचानक मुझे लगा कि ‘नहीं अवि बस कर.हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात: मैंने उनके सामने गिलास कर दिया और उन्होंने मेरे हाथ से गिलास पकड़ लिया.

फिर अचानक से उन्होंने मुझे खड़ा किया और मेरी साड़ी का दुप्पटा जो मेरे कंधे पर था, उसे खींचा और मेरी साड़ी उतारनी शुरू कर दी.धीरे धीरे मेरी ममेरी बहन सामान्य होने लगी और मेरी पकड़ से निकलने की बेकार कोशिश करने लगी.

आंटी रोमांस - हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात

मेरा लौड़ा पूरे उफान में था और मेरे अंडरवियर में तोप की तरह मुंह उठाये हुए था.फिर आपा ने बातों ही बातों में कब मेरा लंड फिर से खड़ा कर दिया, कुछ पता ही नहीं चला.

विडो सेक्स कहानी के पिछले भागपुराने प्रेमी के लंड का मजा लियामें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी ननद अनन्या को मनोज पसंद आ गया था. हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात पति बहुत परेशान रखता है इसलिए इससे बात शुरू की।फिर मैंने पूछा- क्या तुम मोहित से सच में प्यार करती हो?मीना ने बताया- शुरू में तो करती थी मगर ये धीरे धीरे सनकी होता गया और अब मुझसे ये बहुत जबरदस्ती करता है मिलने की, घर पर बार बार फोन करता है.

झुककर मुझे देने लगी तो मैंने ब्लाउज में झूल रही उनकी चूचियों को देखा.

हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात?

चुदाई में तभी मजा आता है जब वो औरत खुद ही चुदवाने के लिए मन से इच्छा रखती हो. उंगलियों की चूत के भीतर डालने के बाद मैंने उनके साबुन से हाथ धुलवाए थे. उधर दूसरे दीवान पर अनामिका होश में आ गई थी और वो लेटे लेटे ही हम दोनों को देख रही थी.

तभी मीना के पति का दोबारा फोन आया और वो पूछने लगा कि कहा पहुँच गयी?मीना ने उसे बताया कि करनाल से निकल चुकी है और अपनी दीदी के घर पहुंचकर फोन कर देगी।फिर मीना मुझसे वहां से जल्दी निकलने के लिए बोलने लगी।मगर अभी मेरा काम पूरा नहीं हुआ था. मेरा लंड उसकी गांड में घुसने को तैयार हो गया था, जिसको वो बहुत अच्छे से फील कर रही थी और पूरे मज़े भी ले रही थी. कुछ देर बाद अचानक से बस की लाइट जलना शुरू हो गई थी, शायद किसी ढाबे पर बस रूक गई थी.

आवाज तक नहीं निकल पा रही थी मेरी।करीब 10 मिनट बाद मेरा दर्द कुछ कम हुआ और मेरी बुर ने भी पानी छोड़ना शुरू कर दिया. बुआ एकदम छोटी सी दिखने वाली ब्रा पैंटी ले रही थीं, जिसमें से उनका कुछ भी छुपने वाला नहीं था. नीता ने पूछा- क्या हुआ हर्षद?मैंने कहा- यार, बहुत जोर से पेशाब लगी है.

मेरी बात बुरी लग गई क्या?मैंने उसे बताया- नहीं यार, मैं और मेरी बीवी शादी के बाद दो साल तक एक की थाली में खाते थे, लेकिन उसके बाद से उसे कुछ भी अच्छा नहीं लगता था. उनकी चड्डी में पीछे से हाथ डालकर उनके चूतड़ों की दरार में हाथ घुसा दिया और चूतड़ दबाने लगा.

मैं एक छोटी जगह से आई थी और मुंबई जैसे शहर की चकाचौंध मुझे डरा रही थी.

जब हम दौड़ रहे थे जंगल में, एक फॅारेस्ट रोड पर एक पुलिया पर बैठ जाते थे जो लगभग डेढ़ किलोमीटर के फासले पर होगी.

उसने जैसे ही लंड मुंह में लिया तो दोस्तो, मैं मानो सातवें आसमान में था. मैं तो सिर्फ देखता ही रह गया।भाभी ने कहा- क्या देख रहे हो देवर जी?मैंने कहा- भाभी, आपका शरीर तो चाची को भी दूर बिठा रहा है. मेरी उम्र अभी 27 साल है और जिस वक्त की ये घटना है उस वक्त मेरी नई नई नौकरी लगी थी.

मैंने चाची जी की बड़ी सी गांड को खूब जोरों से मसलते हुए उनकी चुत चाट कर चिकनी कर दी. भाभी गपागप गपागप लंड चूसने लगी और मैं चूत में जीभ डाल कर चोदने लगा. भाभी ने स्माइल करके कहा- अच्छा राजा जी … तो फिर आ जाओ, कुश्ती लड़ लेते हैं.

अब मैंने उसकी पैंट को और पैंटी को सरका कर नीचे कर दिया और कंबल के अन्दर से होते हुए उसके पैरों के बीच में आ गया.

उस पर उसके चूचों पर टंके हुए भूरे दाने, किसी पहाड़ की चोटी की तरह खड़े अपने आपको फतह किए जाने का इंतजार कर रहे थे. कॉलर आईडी पर मैंने चेक किया तो पाया कि वह नम्बर किसी शगुफ्ता का था. पहले तो सोनी ने एक झटके से हाथ बाहर निकाला मगर सुरेश ने उसके चूतड़ चौड़े किये और फिर अपना चेहरा दाएं बाएं किया और उसकी चूत-गांड को चाटकर सोनी की सिसकारी निकाल दी.

ननिहाल पहुंचने तक रास्ते में अन्तर्वासना वश मामी की चुदाई की योजना बनाता रहा. मैं नहीं चाहती हूँ कि मेरा अगला साथी मुझसे कुछ ऐसी बातें पूछे, जिसका जवाब देने में मुझे अच्छा ना लगे. वो मेरे बालों को पकड़ कर सिर को हटाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रखवा दिया.

मुझे लगने लगा कि चलो इतने दिनों के सब्र का फल बहुत मीठा होने वाला है.

गोल गोल कटोरे जैसे भारी चूतड़ और चिकनी मोटी मोटी कदली जैसी जांघों को बीच पावरोटी की तरह फूली सुनहरे रोएंदार टाईट बुर किसी भी मर्द को घायल करने की माद्दा रखती थी. ऊपर से मैं ये बात शायरा को भी सुनाना चाहता था कि हमें उसके बारे में पता नहीं है.

हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात आँटी ने मेरे लोअर में खड़े लंड को सहलाना शुरु कर दिया और मेरी टी-शर्ट निकालने लगी. भाई बहन सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मामा की जवान बेटी ऐसी सेक्सी माल है.

हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात लगभग 5 मिनट की जोरदार चूमाचाटी के बाद हम अलग हुए तो वो मेरी साड़ी मेरे जिस्म से अलग करने लगे. बचाओ … भैन के लंड ने फाड़ दीईई … आह मेरीईई ईईई चुत … कोई ऐसी बर्बरता से चोदता है … आह बाहर निकाल इसेय माँ के लौड़े.

”जानू, मुझे पता है तुम मुझसे बहुत प्यार करती हो, पर मुझसे तेरा दर्द नहीं देखा जाएगा.

सेक्सी वीडियो बच्चा बच्ची

फिर अचानक से भाभी आ धमकी और उन्होंने मुझे किताब देखकर लंड सहलाते हुए देख लिया. उन हाथों पर अपने हाथ फिराते हुए कहा- हेड आफिस से तीन इंटर्न रखने की मंजूरी आई हुई है और उनको मैंने ही रखना है. वो शायद शायरा थी, जो कि किचन के रास्ते से बालकनी‌ में आ गयी थी और एसी के पीछे छुपकर खिड़की से हमें देखने‌ की कोशिश कर रही थी.

मैं क्या बोलूंगी पापा को कि मैं जिससे शादी करना चाहती हूँ, वो एक दुकानदार है? फिर जब मेरी जॉब पर्मानेंट हो जाएगी और मैं अपने पैरों पर खड़ी हो जाऊंगी, तब कोई भी मुझे किसी भी फैसले के लिए फ़ोर्स नहीं कर पाएगा. कुछ मिनट चाटने के बाद मां ने भाई का लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. हालांकि ये हम दोनों का पहली बार वाला सेक्स नहीं था लेकिन उसकी बुर इतनी ज़्यादा टाइट थी कि ये साफ़ लग रहा था कि उसकी चुदाई या तो बहुत पहले हुई है या अच्छे से नहीं हुई है.

जब कभी उन्हें घर जाने का साधन नहीं मिलता था तो वो मुझसे घर छोड़ने के लिए भी कह देती थीं.

अगले दिन से मैंने ध्यान दिया कि कविता बहुत कम मुझसे बातें करने लगी थी. अब तो ऐसा लगा रहा था मानो मैं उन्हें नहीं, बल्कि वो मुझे चोदने के मूड में हों. चुदाई में तभी मजा आता है जब वो औरत खुद ही चुदवाने के लिए मन से इच्छा रखती हो.

एक दूसरे की बांहों में खड़े हम वासना के पंछी अपना सामान भी ठीक से नहीं रख सके थे. मैंने उसके मुंह को चोदने की स्पीड और तेज कर दी और तेजी से उसके मुंह में लंड को अंदर बाहर करने लगा. तेज चोद साली रांड को।वो बोला- हां साली … पूरी रांड है ये … मेरे लंड को गांड में भींच रही है.

आंटी की पूरी नाभि को किस करने के बाद मैंने अपनी जीभ को आंटी की नाभि के छेद में डाल दी और उसको कुरेदने लगा. उसने एक बड़े बैग को बस की डिक्की में रखवा दिया था और 2 छोटे बैग साथ में रख लिए.

मेरी आंखों में आंखें डाल कर भाभी ने पूछा- सच में आता है?आज भाभी की आंखों शरारत कुछ अलग ही थी. वो अपनी गांड उछालने लगी और उसने मुझे कसके जकड़ लिया, बोलने लगी- आह आह भैया और तेज़ करो … आह अब रुकना मत भैया प्लीज … मुझे कुछ हो रहा है. मेरा हाथ नीचे जाते ही अनामिका हल्के से उठ गई और मैंने ब्रा का हुक खोल कर ब्रा को उसकी टी-शर्ट के साथ कर दिया.

वो बाईक पर झुकी और बोली- चल अपना लंड डाल चूत के अन्दर, आज चूत सुबह से बहुत तंग कर रही है.

पर दिक्कत ये थी कि हम रहते कहां?क्योंकि रोहण 3-4 लड़कों के साथ मिलकर एक घर भाड़े पर लेकर रह रहा था. पांच मिनट के बाद हम लोग उठकर बाथरूम में आ गए और बढ़िया शॉवर लेने लगे. धीरे धीरे मैंने चॉकलेट लगाना कम कर दिया था और समीना ऐसे ही मेरा लौड़ा चूस देती थी.

अब वो मस्त हो चली थी, तो मैं धीरे धीरे लंड को चुत में अन्दर-बाहर करने लगा. लेकिन मेरी चूत मेरा साथ नहीं दे रही थी; उसके अंदर जबरदस्त आग लगी हुई थी और वह कब से पानी छोड़ रही थी.

[emailprotected]पार्क सेक्स कहानी का अगला भाग:चढ़ती जवानी में सेक्स की चाह- 5. वो टॉप और एक शॉर्ट्स पहन कर नीचे आ गई, जहां पहले से उसके जीजू मनीष अखबार पढ़ रहे थे. कुछ देर बाद मैंने ललिता भाभी को उठाकर अपने लौड़े पर बैठा दिया और पोर्नस्टार की तरह चोदने लगा.

हिंदी में सेक्सी विडियो हिंदी

ऊपर तीन बेडरूम और एक स्टोर रूम है, जिसमें घर का पुराना टूटा फूटा फर्नीचर और भी अटाला भरा पड़ा है.

उंगलियों की चूत के भीतर डालने के बाद मैंने उनके साबुन से हाथ धुलवाए थे. उसके दस मिनट के बाद फिर मैंने पूरी स्पीड बढ़ा दी और उसकी चूत के चिथड़े होने लगे. फिर कई दिनों बाद मैंने डॉक्टर के यहां हॉस्पिटल ज्वाइन कर लिया क्योंकि हर महीना राकेश कि जॉब में कुछ ना कुछ प्राब्लम होती ही रहती थी.

ललिता भाभी की रफ्तार अचानक तेज हो गई और उसकी चूत ने जल्दी पानी छोड़ दिया. रूचिका आंटी रिक्वेस्ट करती हुई बोलीं- बेटा प्लीज मैं मर जाऊंगी … थोड़ा धीरे धीरे पेलो न. अंग्रेजी सेक्सी चुदाईमुझे समझते देर न लगी कि अंदर जिस महिला की चुदाई चल रही है वो कल्लू की ही लुगाई है.

जब मैं पार्क से बाहर आया, तो मैंने देखा कि वो अपनी सहेली की मदद से स्कूटर हटाने में लगी हुई थीं. मैंने कहा- ये सब क्या है, मैं नहीं करूंगी यहां पर!विपिन बोला- अरे दीदी नखरे मत करो … जल्दी से आ जाओ.

मैं- अरे मेरी जान चुचे चूसना और उनका दूध पीना मेरी कमज़ोरी है, लेकिन उनसे दूध पीकर मैं पूरी रात चोद सकता हूँ. वह रोज़ रात को नंगी नंगी मेरे लण्ड से खेलती है और मैं भी उसके नंगे जिस्म से खेलता हूँ।यह वाइफ एक्सचेंज Xxx कहानी मेरी बीवी की अन्तर्वासना के कारण ही बन पायी है. हॉट आंटी बस सेक्स स्टोरी में मैंने अपनी मकान मालकिन आंटी की चूत मारी चलती बस में! आंटी को जयपुर जाना था, मैं उनके साथ गया था डीलक्स बस में!नमस्कार दोस्तो, मैं पड़ोसन चुदाई कहानी में आपके लिए मजा लेकर आया हूं.

इस पर उन्होंने मुझे फिर से किस किया और कहा- नहीं मेरी जान, तुम्हें आगे से कभी दर्द नहीं होगा, यह पहली बार ही होता है … तुम्हें आगे अपने आप मजा आएगा. उसने मेरी एक खूबसूरत सहेली को देखा तो …नमस्कार दोस्तो, मैं सारिका कंवल आज फिर से आपके लिए एक रोचक लेस्बियन सहेली की कहानी लेकर प्रस्तुत हूँ. मैं उसकी टांग उठाए हुए अब थक सा गया था, तो मैंने उससे कहा- तुम बाल्टी पकड़ कर डॉगी पोज़ में आ जाओ.

आँटी एक हाथ से नीचे मेरे लंड को सहलाती रही और मैं एक हाथ से उनकी पाव रोटी की तरह फूली चिकनी चूत को सहलाता रहा, उसके बीच में अपनी उंगली चलाता रहा.

मेरे दिमाग में खुराफात सूझी, तो मैंने उन दोनों बाबाओं से कहा- बाबा जी मेरा हाथ देख कर बताइए न कि मेरी शादी कब तक होगी?इस पर दोनों बाबाओं ने एक दूसरे को देखते हुए कुछ इशारा किया. तभी घंटी बजी और निर्मला जी को मैंने अन्दर आमंत्रित करते हुए सोफे पर बैठने को बोला.

मैंने ताई जी की दोनों टांगों को फैलाया और अपने सात इंच के लौड़े के सुपारे को उनकी चूत पर धीरे धीरे रगड़ने लगा. अंकल मेरी घबराहट देख कर बोले- घबराओ मत बेटा, तुम बहुत ही प्यारे हो. वैसे भी इस समाज की औरतें ज़्यादातर घर में और बुरके में रहने के कारण ज्यादा ग़ोरी-चिट्टी होती है.

खुद मुझे बर्थ पर धकेल कर अब रेशमा मेरे ऊपर आ गई; उसने मेरा लौड़ा अपने हाथ में ले लिया. फिर चादर ठीक करने के लिए जैसे ही उसने लैपटॉप उठाया तो उसमें पोर्न पिक्चर लगी हुई थी. मेरे इस तरह से दूध पीने से भाभी की चूत भी गर्म हो गई थी और वो अपनी दोनों टांगों को आपस में रह रह कर रगड़ रही थीं.

हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात तभी उस लड़की जिसका नाम तेनजिंग था, ने पीछे से आवाज दी कि आप नॉर्थ साइड से हो?उसकी आवाज सुनते ही मेरे दिल में एक खुशी की लहर सी दौड़ गई. समय के साथ मैं अपने काम में माहिर हो गया और इस वजह से टीम का काम भी आसान हो गया.

हरियाणवी सेक्सी वीडियो दीजिए

रचना के दोनों मम्मे एक दूसरे से चिपक गए थे, मम्मों के बीच में बिल्कुल भी जगह नहीं थी. अंकल इतने में ही बड़े खुश थे, वो मुझे चूम कर बोले- बेटे, मैं आपको कुछ गिफ्ट देना चाहता हूँ. पहले तो उसने मना किया था, पर मैंने फिर उसे कहा- तुमको मैंने चुत में उंगली करते देखा है और तुम्हारी ये बात मैं तुम्हारी मालकिन को बता दूंगा कि तुम हमारी चुदाई देख कर अपनी चूत में उंगली करती हो.

इस तरह से मैं गया तो था उसकी बहू को चोदने लेकिन मगर सास की चुदाई करके आ गया. उसने मेरे होंठों को चूम कर कहा- हाथों से नहीं … होंठों से वायदा किया जाता है. घड़ी वाला सेक्सीमैंने कैसे उस सेक्सी माल को चोदा?दोस्तो, मैं राज आप सभी को नमस्कार करता हूं.

मैंने रात की 9 की बस में स्लीपर की पीछे तरफ की एक पूरी सीट बुक कर ली.

फिर जब उससे रहा न गया तो बोली- मेरा बहुत मन कर रहा है, एक बार अंदर लेने का ट्राई करके देखूं?मैं बोला- क्या कह रही हो? अगर तुझे बच्चा हो गया तो?वो बोली- एक बार में क्या बच्चा होगा, तुम इतना कर रहे हो मेरे लिये, मैं भी तुम्हें थोड़ा मजा देना चाहती हूं. उसने अपने धक्के धीरे कर दिए, पर अब वो अपना लंड लगभग पूरा निकाल कर पूरा डाल रहा था.

हम दोनों एक दिन जब डिनर ले रहे थे तो शेखर जी बोले- यह भूरा आपका बड़ा अहसानमंद है. लगभग 15 मिनट की चुसाई के बाद उनका पानी निकलने को हुआ तो वो बिस्तर पर खड़े हो गये. फिर बातों बातों में हम दोनों गर्म हो गये और करिश्मा भाभी को मैंने नंगी कर लिया.

मैंने पूरा दबाव दे दिया था जिससे आधे से ज्यादा लंड उसकी चूत में समा गया था.

जब भी मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत पर रगड़ खाता तो वो लम्बी लम्बी सांसें लेने लगती. अब सुरेश ने अपनी हथेली से सोनी की जांघों के बीच का मांस दबा लिया था और सोनी की आह निकल गयी. आपकी करतूत के बारे में किसी को पता चला क्या?मां बोली- मैं और सबकी बात नहीं करती … मगर तुम्हारे पापा को पता चला तो क्या होगा?मैंने कहा- ये कौन बताएगा?मां बोली- मेरा मतलब समझो बेटा … अब इस खेल से अनिकेत विवेक लोगों को किसी तरह हटाओ.

पिक्चर चोदा चोदी वीडियोमैंने चाची को उठा कर उन्हें घोड़ी बना दिया और उनके पीछे से उनके चुचे पकड़ कर लंड को उनकी उभरी हुई गांड में फंसा दिया. फिर सनी चोदने लगा मगर मेरी गांड में दो लंड फंस गये थे इसलिए चुदाई सही से नहीं हो पा रही थी.

सेक्सी विद्या वीडियो

मुझे ऐसे देखकर उनके तो जैसे होश ही उड़ गए!वो बहुत देर तक मुझे ऐसे निहारते रहे. मेरे घर में मेरी चाची और मुझमें पिछले 4 महीने से दोस्ती हो गई थी, लेकिन वो कहानी फिर कभी, घर की बात है. मुझे आज भी याद है … जब मुझे ताई जी ने अपने पीठ की मसाज के लिए पहली बार अपने कमरे में बुलाया था.

मैंने उससे कहा- अदिति, ये भी कोई पूछने वाली बात है क्या? अब ये लंड सिर्फ तुम्हारा ही है. भाभी की चूत में धक्के लगाते हुए उसकी चूचियां तेजी के साथ डोल रही थीं. मैं- क्या तुम्हारी उम्र इतनी है कि तुम्हारी लड़की ने प्लस टू पास कर रखा है?यामिना- सर, छोटी उम्र में शादी हो गई और 9 महीने में ही बेटी हो गई.

तूने मुझे सुबह चोदने नहीं दिया था ना … तो अब ये दर्द झेल।अंकल को मैंने बाँहों में भर लिया और बोली- डाल मादरचोद … दिखा अपना दम!मेरे मुंह से गाली सुनकर उनमें भी जोश आ गया और बोले- ले साली रंडी … बहन की लोड़ी … आज तुझे चोद चोदकर तेरी चूत का भोसड़ा बना दूंगा. अब आगे सिस्टर सेक्स्क्स स्टोरी:मनीष के ऑफिस निकलते ही घर के अन्दर नेहा और स्नेहा दोनों बहनें सोफे पर आ गईं. ऊपर से पकड़ने में क्या हो रहा है तुझे?फिर मैंने उसके हाथ में लंड पकड़ा दिया और उसने अबकी बार हाथ नहीं हटाया.

ग्लास में चिपके वीर्य को भी उसने अपनी उंगली से चाट चाट कर साफ कर दिया. इतनी देर में कुकर की सीटी खुल गई और ढक्कन उसी में गिरने की हल्की सी आवाज आई.

नहाते नहाते एक बार और चुदाई करने का मन कर रहा था पर टाइम नहीं होने के कारण हम दोनों जल्दी तैयार होकर बाहर आ गए.

लेकिन कल की घटना की वजह से मैं बहुत शर्मिंदा महसूस कर रहा था इसलिए मैं आज उसके पास ना बैठ कर थोड़ी दूर पर बैठ गया. सिक्स फिल्मउसने अपने दोनों पैर मेरी गांड से चिपका दिए और दोनों हाथ पीछे टेक लेकर अपनी चूत को मेरे लंड में पेलने की कोशिश करने लगी. ओड़िया ब्लू पिक्चरतो मैंने उससे कहा- ओ मैडम ये बस है आपका घर नहीं … ज्यादा ऊ आ की आवाज मत निकालो. फिर मैंने छत पर जाना बंद कर दिया और अगर छत पर जाता, तो भाभी से बात नहीं करता.

अब वो मदरजात मेरे सामने नंगे थे; उनका मूसल लंड मेरे सामने लटक रहा था.

तो बुआ आह करते हुए बोलीं- आह इसी को ठीक से मसल दे … मेरे पूरे शरीर का दर्द यहीं है. मैंने कहा- अरे नहीं मम्मी, आप नयी हैं हमारे घर में, आपको अभी काम करने में परेशानी होगी. छोटे मगर ठोस चूंचे वाली रंजू अपनी उठी हुई गांड में पैंटी के ऊपर नेट की लांग कुर्ती भर पहनी हुई थी, बिना ब्रा के उसकी नंगी नोकदार चूचियां आंखों को चुभ रही थीं.

हम दोनों ऐसी सेक्सी बातें कर रहे थे और हम दोनों फिर से गर्म होने लगे थे. मैंने करीब 20 और झटके मारे होंगे कि वो एकदम से मेरे हाथों को नौंचते हुए अपना पानी छोड़ बैठी … और उस पर बेहोशी छा गई. मेरी कहानियों के बीच में इतना लम्बा अन्तराल आने के लिए मैं आपसे क्षमा चाहता हूं.

हिंदी सेक्सी ब्लू वीडियो दिखाओ

देसी चाची पोर्न कहानी में पढ़ें कि मैं मेरी चाची की भारी गांड मारना चाहता था. उसकी इन सब बातों से तय हो गया था कि वो मेरे साथ सेक्स करने को मर रही है. जब पहली बार मैंने उसको अपनी बिल्डिंग की छत पर देखा था, तो वो कपड़े धो रही थी.

अब आगे देसी विलेज सेक्स कहानी:मैं खुद को साफ़ करके विपिन को देख ही रही थी कि तब तक उसने एक सरिए की मदद से दरवाजा खोल दिया.

तभी उसकी चूत ने अपना फव्वारा छोड़ दिया और मेरे लन्ड को पूरा भिगाते हुए अंदर चूत में और चिकनाई बना दी, जिससे मेरा लौड़ा और तेजी से अंदर बाहर होने लगा।अब मेरा भी माल निकलने वाला था.

हेलीमा से गुलजान की चूत चूसने को बोला और पीछे से हेलीमा की गांड में लंड घुसने लगा. ज़ारा- मुझे बहुत डर लगता है जुदाई का सोचकर!इसलिये जीना चाहती हूं आपके साथ एक-एक पल को!मैं- और मैं तुम्हें इसलिये दूर रखने की कोशिश करता हूं ताकि तुम्हारी आने वाली जिंदगी में तुम्हें कोई तकलीफ ना हो. भाई ने बहन की चुदाई कीललिता अकेली है बेटा, तू इसके साथ चला जाएगा क्या? कल शाम तक वापस आ जाओगे.

उस वक्त मुझे ऐसा लगा कि कोई बहुत बड़ी चीज मेरी गांड से बाहर निकल गई हो. उसने हाथ हटा लिया तो मैंने और जोर से उसको अपनी बांहों में भींच लिया. अनन्या- भाबी कह तो तुम सही रही हो, मगर क्या किया जा सकता है सिवाए वो जो कहे, उसको मानने के.

इस पर अनन्या ने कहा- भाबी दिल तो मेरा भी कई बार करता है कि किसी और का लंड ले लिया जाए, मगर बहुत डर लगता है. मामी मामा नजदीक के ही एक हाउसिंग सोसाइटी के फ्लैट में अपने दो बेटों और एक बेटी के साथ रहते थे.

मेरी आंखों में नाराजगी देख कर कविता वहां से बाहर चली गयी और किसी से फ़ोन पर बातें करने लगी.

बस और शादी के कुछ टाइम बाद वो अपने पति को छोड़कर हमेशा के लिए मेरे पास आ जाएगी. फिर धीरे धीरे अपने होंठों को बिना अलग किए उसके मम्मों तक ले जाने लगा. पहले तो उसने मना किया था, पर मैंने फिर उसे कहा- तुमको मैंने चुत में उंगली करते देखा है और तुम्हारी ये बात मैं तुम्हारी मालकिन को बता दूंगा कि तुम हमारी चुदाई देख कर अपनी चूत में उंगली करती हो.

सेक्स देखने के लिए क्या मस्त अनुभव था उनके होंठों को चूसने का!बहुत ही मस्त और कोमल होंठ थे भाभी के!फिर भाभी ने अपना एक हाथ नीचे ले जा कर मेरा अंडरवियर निकाल दिया और मेरे लंड के साथ खेलने लगी. ये मेरी चुदाई स्टोरी आज से 3 साल पहले की है जब मेरी नई नई नौकरी लगी थी।मुझे मुंबई में रहते हुए 3 साल हो चुके हैं और मैं यहाँ एक बड़ी कंपनी में काम करती हूं।मेरे पापा की कमाई इतनी नहीं थी कि वो हम दो बहनों की पढ़ाई का खर्च सही तरह से उठा सकें.

कमरा बहुत ही सुंदर था जिसमें एक बेड लगा हुआ था और एक टेबल चेयर लगी हुई थी. शर्ट को फाड़कर बाहर झांकते 34 साइज के चूचे, गदरायी कमर और बाहर निकली हुई लण्ड खड़ा कर देने वाली 36 साइज की गाँड. आज भी मैं अपनी सास की चुदाई करता हूँ लेकिन मेरी बीवी को इस बारे में नहीं पता है कि उसकी मां की चुदाई उसका पति ही कर रहा है.

कल्पना सेक्सी व्हिडिओ

मैं बोला- यार बात को समझा करो, संजू के साथ नहाने का मजा ही कुछ अलग है. मैं तैयार होकर उसके ऑफिस पहुंच गई।इससे पहले मेरी उस आदमी से फोन पर ही बात हुई थी. उसने मुझे नीचे लिटाया और अपने हाथों से लिंग को योनिछिद्र में प्रवेश करवाकर मेरे ऊपर उछलने लगी.

मैंने अगले ही पल उसको बिस्तर पर चित लिटा दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया. बड़े संतरे के साइज की चूचियां मसलते हुए मैं उसकी बुर में जीभ चलाता रहा.

उसने फिर से गाली देना शुरू कर दिया- भोसड़ी वाले, समीना क्या क्या बोलती थी तेरे बारे में … और तू इतनी जल्दी बह गया मादरचोद … अपनी बहन को घर से चोद कर आया था क्या … जो बह गया.

तभी मैंने उनसे पूछा- यदि आप प्रेग्नेंट हो गईं तो सबसे क्या कहेंगी?उन्होंने तुरंत जवाब दिया- केवल मुझे, तुमको और रागिनी को यह पता होगा कि इस बच्चे का बाप कौन है. रोहन उसके मम्मों को दबाने लगा और साथ ही वो मेरी चुत को भी चूस रहा था. मैंने एक दो बार अपनी कोहनी से उसके बूब्स को भी टच किया, तो वह मेरे और नजदीक आ गई.

उसके स्तन भी धक्कों के साथ उछल पड़ते थे।और तेज … और अदंर डालो … फाड़ दो आज … आह्ह … और तेज … और तेज!” कहते हुए वो धीरे-धीरे बड़बड़ाने लगी,10 मिनट के भरपूर गुदामैथुन का रेनू ने सम्पूर्ण आनन्द लिया. संजू बोली- अरे बाबा, तुम समझते नहीं हो … इसका बहुत मोटा है, मेरी फट जाएगी. मैं धीरे से बाथरूम के दरवाजे के पास गया और अंदर झांकने की कोशिश करने लगा.

तभी शामली का फोन आया- तुम निकल जाना, मुझे आज ऑफिस से निकलने में देर हो जाएगी.

हिंदी बीएफ चुदाई सुहागरात: उस घटना के होने तक मुझे ये सब नॉर्मल लगता था कि चाचा जान मुझे प्यार करते हैं और इसलिए सहलाते हैं. फिर चलती गाड़ी में मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उन्हें चूमने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।फिर कुछ पल बाद वो बोली- जल्दी चलो, नहीं तो फिर देर हो जाएगी।मैंने गाड़ी फुल स्पीड पर भगा दी।थोड़ी देर बाद ही मीना के पति का फोन आया तो मीना ने कहा कि वो पानीपत बस अड्डे से करनाल वाली बस में बैठी है। करनाल से आगे की बस पकड़ लेगी.

एक लुंगी लपेटकर मैं अपना तौलिया लेकर बाहर आया, तो नीता चाय बना रही थी. ये देख कर मैंने उसे पलटाया और उसकी पीठ दीवार से सटा कर उसकी पैंटी के बाहर से ही उसकी बुर को कसके मसल दिया. मैंने होंठों से एक पल की मुक्ति पाकर उन्हें देखा तो वो नशीली आंखों से मेरी तरफ देखने लगीं.

मैं इतना तो जानती थी कि जहां औरतें ही सिर्फ हों, मर्दों को कोई शक नहीं होता.

अंतत: उसने अपनी टांगें ढीली छोड़ दीं और मैंने उसी पल फट से कब्ज़ा कर लिया. अब भाभी की चूचियां एकदम से तनकर कसाव में आ गयी थीं और निप्पल कड़क हो गये थे. फिर मीना बुआ भी मुझे छोड़ना नहीं चाहती थीं इस वजह से रेखा बुआ की चुत मिलने में कुछ समस्या आ रही थी.