सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी

छवि स्रोत,घोड़े और लड़कियों की सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ मेरठ: सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी, ताकि गेम के बारे में कुछ बात करनी हो तो एक-दूसरे को पता ना लग पाए।हाँ। हमारे एसीपी यानि अर्जुन को आराम के लिए अलग कमरा दिया गया।मुनिया मौका देख कर अर्जुन के कमरे में चली गई।अर्जुन- मुनिया तू यहाँ क्यों चली आई.

गांड मारते हुए सेक्सी पिक्चर

और साथ में ही मेरे से व्हाट्सप्प में भी लगी थी।सुरभि सोच में पड़ी थी कि आखिर ये किसके साथ चैट में लगी हुई है. राजस्थानी सेक्सी हिंदी ब्लू फिल्ममेरे लौड़े में फिर से जान आने लगी थी।ऋतु ने लंड को मुँह में से बाहर निकाला और कहने लगी- बस अब मेरा मुँह दर्द करने लगा है.

जब जांघों पर ऊपर की ओर साबुन मलते हुए हाथ अंडरवियर पर आंडों के ऊपर पहुंचा देता तो मेरे मुंह में आई लार को मैं अंदर गटक जाता और एक लंबी आंह छोड़ देता. अलका कुबल सेक्सीतो मेरी चीख नहीं तो क्या हँसी निकलेगी?राकेश- इसी लिए तो मैं तुम्हारे बच्चों को पिक्चर देखने भेजता हूँ।बुआ- तुम बहुत चालाक हो.

उसने धीरे-धीरे मेरे कपड़े उतारना शुरू कर दिए।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !देखते ही देखते हम दोनों नंगे हो गए। मैं उसके होंठ चूमते-चूमते उसके दूध चूसने लगा। फिर उसकी जाँघों को.सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी: मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागमेरी हॉट सेक्सी मॉम -1में अब तक आपने पढ़ा.

’मैंने अब आहिस्ता-आहिस्ता झटके मारने शुरू कर दिए।आंटी ने कस के मुझे गले से लगा लिया। अब उनको भी बहुत मज़ा आ रहा था। आंटी की चूत बहुत सॉफ्ट थी.मैंने हैरानी से कहा- यह तुम क्या कह रहे हो? लेकिन मैं अपनी बीवी को किसी और मर्द को चोदने नहीं दूँगा।राजेश बोला- मुझे भी वैसी कोई इच्छा नहीं है। मैंने कहा ना.

द्रके वय २ सेक्सी - सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी

कई बार जब मेरा बाहर जाना होता तो संजय और मेरी बीवी चुदाई करते और मस्ती करते।संजय बाद में और पहले सब बता देता.मैंने वो उतार फेंकी और उंगली डाल-डाल कर ज़ोर-ज़ोर से चूत चूसने लगा।वो ‘आहें.

लगता है मुझे ही सिखाना होगा।बस परी वहीं पास के पेड़ों के पास जा कर बैठ गई और मुझे अपनी ओर आने का इशारा किया।उसने कहा- यहाँ तुम मेरी गोद में सर रख के लेट जाओ।मैंने वैसा ही किया।परी- मैं तुम्हें कैसी लगती हूँ?सचिन- परी मैंने आज तक तुम्हारे जैसी सुन्दर और प्यारी लड़की नहीं देखी. सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी मैंने उसे अपने कमरे में अन्दर कर लिया। वो मेरे बिस्तर पर बैठ गई। कोई 2 मिनट तक नॉर्मली बातें करने के बाद मैंने कहा- आप अपनी चप्पल उतार दो और आराम से बैठ जाओ न.

छत से नीचे चली आई और मैं सीधे बेडरूम में जाकर बाथरूम में घुस गई और अपने बदन पर लगे वीर्य को साफ करके मैं पति के बगल में सो गई।मेरी नींद पति के जगाने पर खुली, फिर मैंने बाथरूम जाकर नहाकर कपड़े पहन लिए। तब तक पति और जेठ नाश्ता कर चुके थे। मैं भी चाय पीकर पति के ऑफिस जाने के लिए तैयारी में हाथ बंटाने लगी।तभी पति ने कहा- रात में मेरी नींद खुली.

सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी?

मुझे पसंद नहीं इस टाइप की हरकत?तो उसने बोला- मैं जानता हूँ कि तू अब बड़ी हो गई है. उसको अन्दर बुला कर ले आओ।नौकर बाहर गया और अर्जुन को लेकर अन्दर आ गया।उसको देख कर एनी के होंठों पर हल्की सी मुस्कान आ गई।अर्जुन की निगाह जब एनी पर गई. मैं तो आसमान की सैर कर रही थी और मन में थैंक्स बोली सुधा के लिए, कि लण्ड का इंतज़ाम करा दिया। इसी बीच राकेश ने अपने पूरी जीभ मेरी चूत में डाल दी।मैं छूटने वाली थी.

वो बहुत गरम होने लगी।फिर मैं उसको पेट से चूमता हुआ उसकी गोरी चिकनी चूत पर पहुँचा और उसे चूसने लगा।उसकी चूत तो पूरी गीली थी. लेकिन अब वो वापस नहीं आ पा रहा था, उसके घरवालों ने उसका एडमीशन वहीं करवा दिया था।वो कभी-कभी आता था. जिसके आते ही मैं शाज़िया के घर पहुँच गया और उसके कमरे में पहुँचते ही मैंने शाज़िया को पकड़ कर अपने पास खींच लिया और अपने होंठ उसके होंठों से लगा दिए।शाज़िया ने अपने आपको छुड़ाते हुए कहा- आते ही लग गए गर्म करने.

पूरा लौड़ा सीधा उनकी चूत में उतार दिया।भाभी ने पूरा दर्द बर्दाश्त कर लिया उनकी आँखों में आँसू आ गए थे।कुछ ही देर में उन्हें भी चुदाई का मज़ा आने लगा, वो मज़े लेकर चूत चुदवाने लगीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !करीब 20 मिनट तक धकापेल चोदने के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ. बताओ मुझे हम पहले भी कहीं मिले हैं क्या?अर्जुन- हाँ मिले हैं कहाँ मिले हैं ये सबके सामने बताऊँ या अकेले में?अर्जुन के तेवर देख कर सन्नी को लगा कि जरुरू दाल में कुछ काला है। उसने बिहारी को वहाँ से भेज दिया और उसको लेकर दूसरे कमरे में चला गया।अन्दर जाते ही अर्जुन ने बिस्तर की हालत देखी. उसका लंड आधे तनाव में लग रहा था।आगे की कहानी दूसरे भाग में…[emailprotected].

मैं बाहर आया और जूही को गले लगा लिया और कहा- जूही तुमने तो दूधवाले का बुरा हाल कर दिया। देखा तुम्हें देख कर कैसे लण्ड मसल रहा था. सो मैंने मेरे भाई-भाभीजान के साथ अपना टिकट बुक करवा लिया।हमारी ट्रेन 26 नवंबर को रात 8 बजे थी। हम तय समय पर प्लेटफार्म पर पहुँच गए। वहाँ पर एक औरत अपने एक दस साल के बच्चे और अपनी सास के साथ बैठी थी और बार-बार हम सबको घूर रही थी.

तो कभी मैं उसके निचले होंठ को चूसता। हम एक-दूसरे के होंठों को छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे हमारे होंठ आपस में सिल गए हो। हम तो तब जाकर रुके.

क्योंकि अब तो दोनों तरफ ही आग बराबर लग चुकी थी।अगले दिन जब मैं इंस्टीट्यट पहुँचा.

तो मैंने अपना टाइम पास करने की लिए दीपक को बुला लिया।अब रिचा और उसका ब्वॉयफ्रेण्ड जो पहली बार कुछ करने जा रहे थे. फिर उसे धीरे से नीचे उतार दिया। अंकल का सात इंच का लण्ड बाहर आ गया. चोदो फाड़ डालो मेरी गांड को… आह चोदो।’फिर 15 मिनट के बाद मैं और वो झड़ गए।इस तरह मैंने चार बार उसे चोदा और अब फिर अगली छुट्टियों में वहाँ जाकर चोदने का प्लान बना रहा हूँ।दोस्तो, यह थी मेरी कहानी.

अगर तुमको ज्यादा दर्द होगा तो नहीं करेंगे।सोनिया तैयार हो गई और बोली- ठीक है. वो अपने नितम्बों को ऊपर की ओर उठा देती और एक लम्बी सिसकारी लेती।मैं ऑफ़ कंट्रोल हो चुका था और मैंने अपना लण्ड उसके मुँह में डाल दिया। वो इस कदर मेरे लण्ड को चूसने लगी कि मेरी सांस बिल्कुल रुकने को हो जाती।जब वो मेरे लण्ड को अन्दर की तरफ लेती. धीरे-धीरे गर्म हो रही थी।मैं यहाँ प्रियंका की चूत में लण्ड तेजी से अन्दर-बाहर पेल रहा था।प्रियंका ने मुझे जोश दिलाते हुए कहा- आह जीजू.

पापा इसे ग़लत नहीं समझते थे। घर के खुले माहौल में हम सबके लिए यह आम बात थी।बिस्तर पर लेटते ही मेरे जिस्म में और भी तरंगें उठने लगीं। मेरा एक हाथ आहिस्ता-आहिस्ता नीचे चूत से जा लगा और दूसरा हाथ एक चूचे के निप्पल पर चला गया।मेरी नंगी टाँगों और मम्मों पर बेहद नर्म कम्बल का एहसास मुझे और भी उत्तेजित करने लगा। एक इंच तक उंगली अपनी बुर में डाल कर अन्दर-बाहर करने लगी.

पर सोनिया दो लौड़ों का दर्द झेल नहीं पा रही थी। फिर मैंने रिंकू को तेल लाने को बोला।रिंकू तेल लेकर आया और फिर मैंने और मदन ने अपने लण्ड पर तेल लगा लिया और सोनिया की चूत में भी तेल लगा दिया।तभी सोनिया बोली- अमित तुम्हारा लण्ड ज्यादा मोटा है. माँ मेरे लण्ड की तेल से मालिश करती थीं।भाभी के आने के बाद कई बार मैं भाभी के साथ भी जाता था। कई बार भाभी ने भी मेरे लण्ड की मालिश की है। भाभी भी मुझे अपने पास ही हगने के लिए बिठाती थीं।अब जब मैं बड़ा होने लगा. मैंने भाभी से कहा- उस दिन तो आप कह रही थीं कि मैंने तो इसका भोसड़ा बना दिया है और आज आप चूत कह रही हो?तो उन्होंने कहा- हाँ.

’‘ठीक है पर ध्यान से टीवी बंद करके सो जाना… कभी पिछली बार की तरह टीवी खुला ही छोड़ कर सो जाओ!’‘आप चिंता ना करो. तो उसमें वो और सेक्सी लगती थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !रात को करीब 10 बजे वो कमरे में आई। उसने वाइट शर्ट और डार्क ब्लू रंग की स्कर्ट पहनी हुई थी। उसे देख कर ही मेरा लण्ड सलामी दे रहा था। मेरा मन कर रहा था कि खड़े-खड़े उसे चोद दूँ. हमारे घर से कुछ ही दूर पर मेरे मामाजी का घर था। उनके घर में मामा-मामी और उनके एक लड़का जो दसवीं में है.

और वो खुद ऊपर के हिस्से में रहती थी।उसके फोन पर बात करते समय मैं उसके पैरों पर अधलेटा सा हो गया। वो फोन पर लगभग 30 मिनट तक बात करती रही। मैं धीरे-धीरे उसकी जाँघों को सहलाने लगा.

मगर उसने खुद को रोके रखा और बस मज़ा लेती रही।अर्जुन ने ब्रा अलग कर दी तो पायल के मम्मों नंगे हो गए. इससे एक बार बात हो जाए तो लाइफ बन जाए…इसलिए दोस्तो, अगली बार जब भी आपको कोई लड़का नज़र भर कर देख रहा हो तो उसे गंडवा ना समझ कर यह सोचना कि आप में जरुर कुछ न कुछ ऐसी खास बात है जो किसी और में उसको नज़र नहीं आ रही… क्योंकि प्यार एक ऐसा अहसास है जो किसी के दिल में किसी के लिए भी पैदा हो सकता है.

सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी मेरा और पूनम का कमरा सेकंड फ्लोर पर था क्योंकि नीचे सारे डबल बेडरूम थे।हम सब अपने-अपने कमरों में चले गए. उसने मेरे होंठों को चबाना शुरू कर दिया।अब धीरे-धीरे मेरे हाथ उसके कन्धों की तरफ बढ़े.

सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी मेरा नाम सेक्स का राजा है, मेरी उम्र 20 साल है, मेरा लण्ड पूरा 6 इंच का है।मैं जानता हूँ कि रंडियों के लिए ये नाप छोटा है. तो उसने सन्नी के एक दोस्त को अपनी समस्या एक चिठ्ठी में लिखकर दी और कहा कि सन्नी जैसे ही आए उसको ये दे देना.

उस कहानी को मैं अपनी अगली कहानी में लिखूँगा।दोस्तो, मेरी कहानी आपको कैसी लगी.

गुजराती सेक्सी वीडियो गुजराती सेक्सी

आइसक्रीम खाई और मैं उसे उसके घर से थोड़ा दूर छोड़ आया।उसका दूसरे दिन फ़ोन आया, वो बोल रही थी- थैंक्यू. उसके सूट की बाजू में से झाँकते उसके मम्मे बरबस मुझे अपनी तरफ खींच रहे थे।सफाई करते-करते मैं उससे इधर-उधर की बातें भी कर रहा था. जहाँ हम लोगों ने खाना खाया और बाद में रिचा और राहुल को उनके घर छोड़ दिया।इसके बाद दीपक और मैं अपने कमरे पर आ गए।अगली कहानी में आपको बताऊँगी कि कमरे पर आने के बाद दीपक और मैंने क्या किया.

उसने वाइट कलर की ब्रा पहन रखी थी। मैंने ब्रा उतारे बिना ही उसके कबूतरों को बाहर निकाल लिया।हाय. दोनों थोड़ी देर तक ऐसे ही बात करने लगे। फिर से उन दोनों ने एक बार चुदाई की।ये थी मेरी वास्तविक आँखों देखी घटना आपको कैसी लगी प्लीज़ अपने कमेंट्स मुझे मेरी मेल पर भेजिएगा।[emailprotected]. तो सीमा मैडम ने मुझसे उसी समय बात की- कंप्यूटर इंजीनियर लोग तो ज्यादा चाय पीते हैं और आप चाय के लिए नहीं बोल रहे हो.

पर पहले अपने मोबाइल में मुझे कोई मूवी दिखाओ।मैंने उसे अपने फ़ोन में मूवी लगा कर दे दी और मैं सो गया।सोनी वहीं मेरे पास लेट कर मूवी देखने लगी.

दोनों मेरे सामने खड़े थे और दोनों के ही लंड पैंट में तने हुए एक साइड में आकर लग गए थे। आस पास गेहूं के खेत थे चिड़िया की भी आवाज नहीं थी… बस था तो रात का सन्नाटा. मैं सब जानती हूँ।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने शर्म के मारे नजरें नीची कर लीं।वो बोली- इसकी सजा तो मिलेगी।मैंने कहा- गलती हो गई सायमा प्लीज़. मैं तो सोनू को बिलकुल सीधा-साधा और शरीफ समझती थी। मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा कि वो ऐसी किताबें भी पढ़ता है।‘इसमें कौन सी बुराई है दीदी.

उसने गाउन के नीचे सिर्फ़ कच्छी पहनी हुई थी, उसकी चूचियाँ साफ साफ दिख रही थीं।मैं बार-बार उसकी चूचियों को देख रहा था. जिसके कारण मेरा लंड और नजदीक से दीदी की चूत को छूने लगा और उत्तेजना में और मैं झड़ गया।कुछ देर यूं ही निढाल पड़ा रहने के बाद मैंने एक हाथ से दीदी की नाइटी को आगे से खोल दिया. इसलिए मकान ढूँढने में दिक्कत नहीं हुई। मैं सोच रहा था कि अब तो मुठ्ठ मारके ही काम चलाना पड़ेगा।मकान पर लॉक लगा था। मकान-मलिक से पूछा तो पता चला कि घर वाले किसी रिश्तेदार की मौत पर नगीना गए हैं.

उन्होंने अपना सवाल पूछा और इस बार मेरे हार जाने पर उन्होंने मेरी जीन्स खोल दी, मेरा अंडरवियर अब एकदम भाभी की नजरों के सामने था और मेरा लौड़ा भी खड़ा हो चुका था।भाभी मेरे लण्ड की साइज को देख कर खुश हो गईं और उनके चेहरे पर एक चमक आ गई। फिर मैंने उनसे अपना सवाल पूछा और इस बार वो जीत गईं. मेरा हो जायेगा।मैंने भी देर ना करते हुए उसे घोड़ी बनाया और एक झटके से पूरा लण्ड उसकी चूत में उतार दिया।ममता- आआह्ह.

टीवी में थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि पिंकी का चेहरा सुर्ख हो गया था. तो पूरी रात इसकी चूत बजा कर मस्ती करना चाहिए।बस फिर क्या था पूरी रात चुदाई और चुदाई ही चलती रही।दोस्तो, यह थी मेरी कहानी लड़की को 2 साल के प्यार के बाद मुझे चोदने को चूत मिली।फिर हम दोनों का चुदाई वाला प्यार कुछ महीने तक चला. यही सोच कर वो तलाशी के लिए रेडी हो गई।बदल सिंग तो खुश हो गया। उसको ऐसी हुस्न परी के जिस्म को छूने का जो मौका मिल रहा था।बदल सिंग पायल के करीब आया और गले से हाथ को ले जाता हुआ उसके मम्मों पर जाकर रुक गया और धीरे-धीरे उनको दबाने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पुनीत- हैलो.

मैंने कामदेव का नाम लेकर अपने लण्ड का एक तगड़ा झटका लगा दिया और उसकी चूत का कौमार्य भेदन होने से उसकी चूत से खून की धार बहने लगी.

और वो अब भी टीवी देख रही थी।मैंने अपना एक हाथ उसके कन्धे पर रख दिया।दोस्तो, जब लड़की इतने करीब हो. तो अचानक मैंने अपना हाथ अंकल के हाथ से छुड़ा लिया और उठ कर अपने कमरे में आ गई. जिससे मेरी तो जैसे जान ही निकल सी गई।मगर कुछ देर बाद वो खुद ही नॉर्मल हो गई.

मैं भी अभी आती हूँ।तभी सामने वाले टॉयलेट का दरवाजा खुलने और लगने की आवाज आई।अब हमने जल्दी से अपने-अपने कपड़े पहने और बाहर निकल आए। हमारी चुदाई अधूरी रह गई…यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मनप्रीत सीट पर जाकर बैठ चुकी थी और मैं गेट के पास चला गया था और मनप्रीत की माँ ने आते ही पूछा- तू और अरुण दोनों ही यहाँ नहीं थे. किसी को नहीं मिली तो वो साइड के डंडे पर बैठ गया। वो लड़की मेरे पास बैठी थी और जगह कम होने की वजह से वो मुझसे बहुत ज्यादा चिपककर बैठ गई थी.

शायद वो गहरी नींद में थी।अब मैं मौके का इन्तजार करने लगा। तकरीबन एक बजे जब सब सो गए. मैंने गेट खोला और एक आंटी अन्दर आईं और बोलीं- मुझे सुधा से मिलना है।सुधा- आओ शांति. ड्राइवर ने लाइट्स बंद कर दीं। मैं बिना वक़्त गंवाए उसकी ठोस चूचियों को चूसने लगा.

मजबूर लड़की

तो मैंने सोचा अब तो काम होने वाला ही है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !दोस्तो, लड़कियां कभी अपने से पहल नहीं करती हैं पहले लड़कों को ही करना पड़ता है.

तो उनकी बातें मैं भी सुन रहा था। मैं जानता था कि सामने वाले की शादी होने वाली है. शायद वे नए-नए आए थे।मैं लगभग 2-3 दिन में एक बार उसके साथ रात में ऐसा करता था. और अगर मुझसे कोई गलती हुई हो तो उसके लिए माफ़ कीजिएगा।[emailprotected].

?’अंकल ने अम्मी की गर्दन को चूमते हुए कहा।मुस्कुराते हुए अम्मी धीरे से नीचे बैठ गईं और उनकी जीन्स को नीचे खिसका दिया. इन्हें पता नहीं चलेगा।बस मैं अपनी पूरी ताक़त और फुल स्पीड में उनकी गाण्ड मारती रही। लगभग आधे घण्टे में ही मैं बुरी तरह से थक गई. सेक्सी वीडियो बैडरूमजो अपने दोस्त को नंबर देने के लिए मजबूर किया।मेरी समझ में कुछ नहीं आ रहा था.

सांसों से भरा हुआ पसीने से लथ-पथ वो आगे खड़ी लड़कियों को ताड़ने लगा. तो मैं भी ठीक से बैठ गया। फिर भी हमारी जांघें आपस में रगड़ खा रही थीं और उत्तेजना पैदा कर रही थीं। इस रगड़ा-रगड़ी में कब मेरी आँख लग गई.

दोनों थोड़ी देर तक ऐसे ही बात करने लगे। फिर से उन दोनों ने एक बार चुदाई की।ये थी मेरी वास्तविक आँखों देखी घटना आपको कैसी लगी प्लीज़ अपने कमेंट्स मुझे मेरी मेल पर भेजिएगा।[emailprotected]. ये निधि कैसे सह गई?अर्जुन- अरे ये हथियार की वजह से ही लौंडियाँ मिलती हैं. अगर मार्केट में किसी सेक्सी लड़के को देख लिया तो बस उसी के लंड के बारे में सोच सोच कर मुठ मारता था रात को.

जब वो हमारे घर आई तो कुछ लम्हों के लिए तो मैं उसके मासूम हुस्न के जलवों में खो कर ही रह गई, मुझे लगा जैसे मेरा दिल धड़कना भूल गया है।उस पर नया-नया शवाब आ रहा था. लेकिन उस दिन फिल्मी स्टाइल में वो दोनों तरफ अपनी टाँगें फैला कर बाइक पर बैठी. कोमल की बातों से दोनों को जोश आ गया और ऊपर से अर्जुन स्पीड से उसकी गाण्ड मारने लगा.

मैं उससे बात भी नहीं कर पाया।फिर मैं भी दोस्तों के साथ घर आ गया। मैं 2-3 दिन उसी के बारे में सोचता रहा.

जिसमें मैं बहुत एक्सपर्ट हूँ।ब्रा खुलते ही उसके भारी मम्मे जो 36 भी साइज़ के हैं. मेरे पहले ही झटके में मेरा आधा लण्ड चूत में अन्दर घुस गया।वो एकदम दर्द से तड़प गई.

अगर वक़्त रहते सन्नी अपने होंठों से कोमल के होंठ ना बन्द करता तो एक दर्दनाक चीख कमरे में गूँज जाती।अर्जुन ने पूरा लौड़ा बाहर निकाला और डबल स्पीड से वापस अन्दर कर दिया. और प्रियंका से बातें करने लगी। प्रियंका तैयार होने बाद बातों के जवाब भी देती जा रही थी. सो चुपचाप बैठा रहा।फिर उसने खनकती आवाज़ ने मुझसे कहा- क्या आप मेरे साथ ड्रिंक करना चाहेंगे।मैंने भी अपना सिर ‘हाँ’ में हिला दिया। उसके बाद वो सिग्नेचर की एक बोतल गिलास और स्नैक्स ले कर आ गई और हम लोगों पैग लगाने शुरू किए। लेकिन जूही को 2-3 पैग में ही नशा होने लगा और अचानक से जूही मेरी गोदी में आ कर बैठ गई। लेकिन मैं नौकरी के लालच में शांत बैठा रहा और अपनी वासना पर काबू किए रहा.

यह सुन कर मुझे बहुत बुरा लगा पर मैं कर भी क्या सकती थी। फिर सोचा जो भाग्य में लिखा है. फ़िर थोड़ी देर बाद वो भी अपनी गाण्ड उठा-उठा कर चुदवाने लगी।उसकी चूत इतनी गीली थी कि धक्कों से ‘फ़क. पर हवस की वजह से मैं नहीं रुका और भाभी को चोदे जा रहा था।थोड़ी ही देर में भाभी ने अपना पानी छोड़ दिया.

सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी जो होना था वो तो होना ही था। मैंने काफी डरने के बाद उसके गाल पर एक चुम्बन किया।आह्ह. मैं उठा और उसका हाथ पकड़ कर उसको बिस्तर पर ले आया और बोला- एक बार और करते हैं।ममता- एक बार और.

कॉलेज लड़की का सेक्स वीडियो

क्योंकि तेरे लंड से चुदने के बाद सौम्या दो दिन तक किसी दूसरे लंड को हाथ भी नहीं लगाएगी. तो ऐसे अधनंगी अपने भाई के साथ ना घूमती और वो ससुरा जेब में कन्डोम लेकर ना घूमता. धीरे-धीरे वो लौड़े को चूसने लगी, एक हाथ से अर्जुन की गोटियों से खेलने लगी.

और वो मेरे लण्ड के गोटे को सहलाते हुए मेरा लण्ड चूसने में मस्त हो गई। कभी वो अपने एक हाथ से मेरी गोटियों को छेड़ती. चलो घूमने चलते हैं।पार्टी के बाद हम हमारी ही कालोनी में कुछ सुनसान सी जगह थी। उस वक्त रात के कुछ 9 बज रहे होंगे। हम दोनों गार्डन में घूमने निकल लिए. सुहागरात सेक्सी फिल्म एचडीवो नीचे दिए मेल आईडी पर आकर मेरी पिक देख सकती हैं।मुझे भाभी आंटी बहुत पसंद हैं.

फिर मैंने कहा- तुम कॉलेज इतनी सिंपल बन कर क्यों जाती हो?तो उसने कहा- लड़की हॉट दिखती है तो लड़के 100 बार कमेंट करते हैं और वो सब मेरे भाई को अच्छा नहीं लगेगा.

आज से पहले मैंने अनीता दीदी को इतना खूबसूरत नहीं समझा था।वो बिस्तर पर सिर्फ अपनी ब्रा और पैंटी में खड़ी थीं। दूधिया बदन. वो मुझे एक लड़की समझ कर कैसे प्यार कर सकता था और ना ही मैं उसको इस बात के लिए बाध्य कर सकता था.

अब हम दोनों बातें करते हुए अपनी सीट पर आ चुके थे। मैं और मन्नू दोनों ने एक प्लान किया कि हमारे पेपर का टाइम 1 बजे का है. पता भी नहीं चला।लेकिन जब सुबह मेरी आँख खुली तो आमिर सो रहा था और उसका हाथ और पैर मेरे ऊपर थे।मैंने उठने की कोशिश की. ’ की आवाज आने लगी।वहाँ सुरभि एक हाथ से टॉप के अन्दर हाथ डाल कर अपने ही निप्पल मसल रही थी और एक हाथ से अपनी चूत बैंगन से मार रही थी। प्रियंका एक हाथ से मेरे निप्पल मसल रही थी और उसका दूसरा हाथ मेरे कंधे पर था।मैं तेजी से उसकी चुदाई करने लगा, करीब 15 से 20 झटके मारने के बाद प्रियंका बोली- आह.

ऐसा ही समलैंगिक!तब जाकर मुझे अपने गुस्से पर अफसोस हुआ कि मैंने बिना सोच-विचार के उस अनजाने लड़के की भावना को समझे बिना ही उसको थप्पड़ मार दिया जिसे वो बर्दाश्त नहीं कर पाया और उसने अपनी जिंदगी खत्म कर ली.

नंगा तड़फता हुआ। जब मैंने इस चीज़ को गूगल किया तो मुझे पता लगा इसे ‘फेस सिटिंग’ कहते हैं। जिसमें लड़की मेल के मुँह पर बैठकर उसकी जीभ और होंठों से अपनी ‘पुसी’ को चटवाती है. रिजल्ट आया तो मैं पास हो गया।फिर मैंने कॉलेज में दाखिला ले लिया और कॉलेज जाने लगा।एक महीने बीतने के बाद अचानक वही लड़की मुझे कॉलेज में दिखी. और मुझे बिस्तर पर लिटाकर मेरे चूचों को चूसने लगे।उसके बाद वो मेरे पेट को चाटने लगे.

देवर भाभी वीडियो सेक्सी हिंदीवरना घर में लोग तरह-तरह के सवाल करेंगे।पर उन्होंने मेरी योनि को चूमते हुए कहा- अभी तो मजा आना बाकी है. और उसके गाल पर चुम्मा कर दिया।मैं बोला- यह भी एक मस्ती भरा चैलेन्ज ही है.

कुर्ला डे सत्ता मटका

अब चुदाई पूरे जोरों पर चल रही थी और अब मैंने अपनी स्पीड का मीटर बढ़ा दिया था। फिर 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड शाज़िया की चूत में पिचकारी मारते हुए झड़ गया।कुछ देर मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा। उस दिन हमने 3 बार चुदाई का मजा लिया. लेकिन मैं उसे चोदे ही जा रही थी।करीबन 15 मिनट तक मैं ऐसे ही करती रही. जब मैं बहुत छोटा था। मेरे पापा की शिफ्ट वाली ड्यूटी रहती थी और उनकी अनुपस्थिति में मेरे मोहल्ले का एक भैया आता था.

बाकी सब लोग गांव में रहते हैं।मैडम को कोई बच्चा नहीं था।मैंने कहा- मैम कंप्यूटर कहाँ है?मैम मुझे अपने कमरे में ले गईं. जहाँ आयशा और मेरी चड्डी और ब्रा नीचे दबी थी।वो थोड़ा ढंग से बैठने की एक्टिंग करती है. अपना वजन रोकने के लिए मैंने पेड़ को पीछे से पकड़ा जिससे मेरी बाहों ने उसको घेर लिया और उसकी बाहें मेरी कमर पर थीं.

धीरे से सीधा हुआ।अब मुझे सब कुछ साफ दिखाई दे रहा था। मेरे सीधे होने के कारण दीदी की नाइटी और थोड़ी ऊपर उठ गई। मेरा लंड अब लोहे की रॉड की तरह तना हुआ था।मैंने धीरे से दीदी की नाइटी कमर तक ऊपर कर दी, अब दीदी की पैन्टी मुझे साफ दिखाई दे रही थी। मैं एकदम खुश हो गया।अब मैं धीरे से और थोड़ा उससे सट गया और अब मेरा लंड दीदी की चूत पर टच होने लगा था।डर और ख़ुशी के मारे मेरी साँस फूल रही थी. ’ और वो उत्तेजना से कांपने लगी।चूंकि मैं चोदने से पहले पूजा के मुँह में एक बार झड़ चुका था. मैंने उसके पैरों को छोड़ा और उसकी ब्रा और पैंटी को उतार दिया। अब मैंने उसकी मदभरी चूचियों को चूसना शुरू किया और अपना लण्ड निकाल कर उसके हाथों में पकड़ा दिया.

उस कुत्ते ने क्या कहा पायल के बारे में? और वो फार्म वाली बात भी सबको बता दी।सन्नी- हाँ तो ठीक है ना. उसे अन्दर डालना।फिर एक झटका मार कर दो इंच तक अन्दर डालना, फिर एक झटका मार कर और 2 इंच तक अन्दर डालना।फिर थोड़ी देर रुक कर मेरे दूध के साथ खेलना, फिर और एक झटका मारना जिससे तुम्हारा आधे से ज्यादा लण्ड मेरी चूत में होगा.

और रवि अपनी भारी सी गांड को ऊपर नीचे करते हुए धक्के लगा रहा था।एकाएक उसकी नजर मुझ पर पड़ी उसने एक नजर मुझे देखा लेकिन उसने कुछ रिएक्ट नहीं किया, बस एक आंख मारी और अपने काम में लगा रहा।लड़की नीचे थी तो मुझे देख नहीं पाई.

धीरे-धीरे दो उंगली पूरी तरह से अन्दर जाने लगी।जब मैंने प्रियंका की कमर पकड़ी तो बहुत ही मुलायम लगी. सेक्सी पिक्चर अच्छी वीडियोतो मैंने एक महिला को ट्रक वाले को हाथ से लिफ्ट मांगते देखा।चूँकि मैं पीछे था और ट्रक वाले ने ट्रक नहीं रोका।मैंने रात होने की वजह से तुरंत कुछ सोचा और उसकी सहायता करने के लिए अपनी बाईक रोक दी।मैंने उसके पास बाइक रोकते हुए पूछा- कहाँ जाना है?पर जब उसने जवाब दिया तो समझ में आया कि मेरे सामने एक हिजड़ा साड़ी पहने हुए खड़ा था, वो बोला- मुझे शहर तक लिफ्ट दे दो. जेंट्स जेंट्स सेक्सी फिल्महे भगवान वो एकदम पटाखा बन गई थी, वो अब बहुत हसीन दिखने लगी थी।जब एक दिन वो नहाने के बाद बाहर आई. मुझे मजा आने लगा था।उसके मम्मों को दोनों हाथों से पकड़ कर मैं मसलने लगा।किरण चुदाई की मस्ती में डूब चुकी थी, वो पागलों की तरह मुझसे चुदाए जा रही थी।उसकी चूत से खून निकल रहा था.

तो मैं समझ गया कि अब समय आ गया है कि अपने लण्ड की इच्छा पूरी की जाए।मैं अपना मोटा टाइट लण्ड उसकी चूत में डालने लग गया। मुझे पता था कि अगर एक ही बार में डालूँगा तो इसकी फट जाएगी.

और पीना चाहते हो।मैडम ने मुझे शर्बत लाकर दिया।मैडम- चलो अब आखिरी चैप्टर भी पढ़ लो।अवि- मतलब चुदाई।मैडम- हाँ चुदाई अब इतना भी खुश मत हो. और 5 मिनट बाद उसने मेरी चूत में अपना पानी छोड़ दिया।फिर उसने अपना लण्ड निकाला. और मैं सामने वाले कमरे में बैठ कर पढ़ने लगा। पढ़ने में तो झांट मन नहीं था.

फिर अपने आप मेरा हाथ उनके पेट पर चला गया और उन्होंने भी मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया जैसे एक पति पत्नी सोते समय रख लेते हैं वैसे ही हाथों की स्थिति हो गई।हमारे इस खेल को शुरू हुए लगभग 15 मिनट हो गए थे। मेरा लण्ड बुरी तरह से सख्त हो चुका था. कि कहीं कोई परेशानी न हो जाए।मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और उसके मुँह पर पानी के छींटे दिए. खूब दारू पी।फिर दोस्त ने कहा- चल किसी कॉलगर्ल को चोदा जाए।अब मुझे भी नशा हो गया था.

जापानी सेक्स वीडियो एचडी

फिर उसका अहसास स्खलन के बाद ही होता है।मेरी आंख से आंसू गिरने लगे और फिर मैं भाभी के बाजू में ही बिस्तर पर गिर गया।भाभी की आंख में भी आंसू थे. मुझे शाम तक जाना है।इतना सुनने की देर थी कि उन्होंने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और मेरे चेहरे को एक हाथ से ऊपर उठा के बोला- मुझे लगता है. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !दोस्तो, क्या बताऊं उस अहसास को.

मेरे लण्ड को प्यार करने लगी।फिर हमने ड्रिंक और नाश्ता किया और एक बार फिर चुदाई का दौर चला।मैंने उसे कई आसनों में चोदा.

जबकि एक-दूसरे के लण्ड का जूस हम दोनों के मुँह में मौजूद था। ये एक जबरदस्त किस थी.

मेरे सामने कैमरा ऑन हो गया और मेरे को बोला गया- अपने सारे कपड़े उतारने हैं और बताना है कि ये किस काम आता है।मैंने कहा- ओके. तुम अपना लंड पेलकर मिटा दो।मैंने लंड को उसकी चूत में पेलकर झटके लगाने शुरू कर दिए और उसने भी अपनी गाण्ड उठा-उठाकर मेरा पूरा साथ अपनी सिसकारियों के साथ दिया।‘आआआगह. सेक्सी टॉकिंग वीडियोडरने की जरूरत नहीं है।लेकिन दीदी डरते-डरते बच्चों के बैठने वाली टाट पर बैठ गईं।मैं भी आराम से टाट पर बैठ गया और दीदी के चूचियों को मींजने लगा।दीदी पानी-पानी हो गई थीं। मैंने दीदी के ब्लाउज को खोल दिया। दीदी ने काले रंग का गद्देदार ब्रा पहनी थी। मैंने उसको भी खोल दिया.

क्योंकि अभी शादी में 4 रातें बाकी थीं। शादी भाई की हो रही थी और हनीमून मैं मना रहा था।मैंने उससे स्कर्ट और शर्ट पहन कर आने को कहा. पर उम्र में मुझसे छोटी है। उसने मुझ से कई बार मोनिका से दूर रहने को कहा. जैसे कि मुझे नहीं ही पता कि मेरा हाथ क्या कर रहा है।उसने थोड़ी देर में कहना शुरू कर दिया- आप यह क्या कर रहे हो?मैंने बोला- सॉरी मुझे पता ही नहीं चला.

बहुत कोशिश के बाद भी मैं उसको अपने आपसे अलग नहीं कर पा रही थी।वो तो अपनी पूरी ताक़त से मेरी गाण्ड मारे जा रहा था। करीब 15 मिनट के बाद वो झड़ गया और उसने अपना माल मेरी गाण्ड में निकाल दिया।थोड़ी देर वहीं लेटे रहे. क्योंकि मैंने पहली बार ऐसी कोई बात उनसे की थी। उन्होंने एक स्माइल पास की और कहने लगीं- अच्छा बस बस.

मैंने प्रीत की चूत पर लंड को रख कर एक जोरदार झटका मार दिया।प्रीत- आआह्ह्ह्ह्ह्.

पर उम्र में मुझसे छोटी है। उसने मुझ से कई बार मोनिका से दूर रहने को कहा. मैंने कभी इतना खूबसूरत एहसास नहीं किया था।थोड़ी देर में मम्मी-पापा आ गए. ’वो सीत्कार कर रही थी।कुछ देर के बाद मैंने पाया कि मेरा लंड पानी से भीग रहा है.

ब्लैकेड कॉम सेक्सी वीडियो और बोली- क्या कर रहे हो?तो मैं बोला- वो प्रीत का वेट कर रहा था।इतने में प्रीत भी आ गई. वो अकड़ सी गई और झड़ गई उसकी गरमी पाकर कुछ देर बाद मैं भी झड़ गया।दोस्तो.

पर उससे कहा- फिर आज दोपहर 2 बजे कॉलेज से आ जाऊँ क्या? घर पर तो कोई और नहीं रहता।उसने ‘हाँ’ कह दिया।मैं वहीं रुका और वो नीचे चली गई और जब वो बाथरूम में चली गई. तो उन्होंने अपना एक हाथ मेरी जाँघों को पकड़ते हुए मुझे बिस्तर पर घसीटते हुए बीचों-बीच ले आए और फिर उसी हालत में मुझे लिटा दिया।मैं उन्हें अभी भी पकड़े हुए थी। उन्होंने करवट ली. उसकी एक नज़र किसी भी लड़के का ईमान हिला देती थी।रिचा जो कि बहुत ही सुंदर थी.

सेक्सी पिक्चर वीडियो मूवी

जो अब फूल गए थे और पहले से ज्यादा कड़क हो गए थे।मैंने जब उसे देखा तो वो ये देख कर इतराने और मुस्कुराने लगी। मैंने देर ना करके उसके मम्मों को मुठ्ठी में पकड़ा और बड़े प्यार से सहलाने लगा और सहलाने के साथ-साथ मस्त रसीले आमों को बीच-बीच में थोड़ा दबा भी लेता था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तब उसने अपना हाथ मेरे हाथों पर रख कर कहा।रिया- क्या यार अर्शित. चूसना बंद कर देती हूँ। तब वो मुझसे एक बार चोदने देने की कुत्ते की तरह भीख माँगते हैं। सच मुझे उन्हें यूँ चुदाई की आग में जलाने और तड़पाने में बहुत मज़ा आता है। थोड़ी देर उन्हें तड़पने के बाद सच्ची उनसे चुदवाने में बहुत मज़ा आता है।मुझे आपके मेल का इंतज़ार रहेगा. टोनी अब खुले शब्दों में बोल रहा था और उसके दोस्त उसका साथ दे रहे थे मगर पुनीत को सन्नी ने चुप रहने का इशारा किया।पुनीत भी समझ गया था कि अब बोलने से कोई फायदा नहीं.

जबकि वो सही थीं।मैं सिर्फ़ खामोश खड़ा था।तब वो बोली- बात ऐसी है कि हम सहेलियों ने कुछ दिन पहले एक ब्लू फिल्म देखी थी. देख तेरा प्रॉमिस खुद पूरा हो गया। ये तो अपने आप रंडी बनने को तैयार है!और वो हँसने लगी।शांति- देख ऋतु.

एक सन्डे मेरा दोस्त तो सुबह नहा-धोकर घूमने चला गया, मैं कमरे पर ही था।पहले तो मैंने टीवी ऑन किया.

मैं उनके साथ सेक्स के मजे लूँगा और सेक्स मैं सिर्फ अपने घर पर करूँगा।मम्मी ने बोला- ये मैं रेखा से बात करके बताऊँगी।मम्मी ने रेखा से बात की… थोड़ी नानुकुर के बाद रेखा तैयार हो गई।फिर एक दिन रेखा दीदी घर आईं. जिसका जिस्म देख कर कोई भी लण्ड बग़ावत किए बिना बाज़ नहीं आएगा।सोनाली की कमनीय काया क़रीब 38-30-36 की होगी. क्योंकि अभी शादी में 4 रातें बाकी थीं। शादी भाई की हो रही थी और हनीमून मैं मना रहा था।मैंने उससे स्कर्ट और शर्ट पहन कर आने को कहा.

जिसे मैं कई बार तालाब और खेत में चोद चुका था।उनके साथ वो लड़की चली गई।मेरे लिए ये और एक नई कली के रूप में मिली थी. जिससे मेरा लंड भाभी की चूत में करीब 7 इंच तक घुस गया।उसके बाद अब तक मैंने जितनी ताक़त लगाई थी. मैं दोबारा ऐसा कभी नहीं करूंगा।वो मान गईं।मेरा लंड एकदम से तन गया था.

एक छोटे चाचा और दादी हैं।मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और 2014 से पहले लगता था इसमें प्रकाशित कहानियाँ सब यूँ ही बनावटी होती हैं लेकिन जब मेरे साथ उस साल हादसा हुआ.

सेक्सी बीएफ मूवी बीएफ मूवी: कोई आ जाएगा।मैंने 10-12 धक्कों के बाद उनकी सलवार पर ही माल छोड़ दिया।भाभी बोलीं- बस इतना ही दम था?मैं बोला- जान. मेरी चूत प्यासी है… इसकी प्यास तो मिटानी ही होगी।किशोर कहने लगा- मेरा नाम किशोर है.

अब तुझे दिखता हूँ अपना पावर।इतना कहकर अर्जुन पायल के पैरों के पास बैठ गया और उसके पैर उठा कर अपने कंधे पर डाल लिए।पायल- उफ़फ्फ़. कि हम दोनों को अलग होना पड़ा।वो बात मैं यहाँ नहीं लिख रहा हूँ और आज भी मैं उसे मिस करता हूँ।आई मिस यू प्रीति डार्लिंग. अर्जुन ने एनी की कमर को पकड़ लिया और तेज़ी से झटके देने लगा।इधर सन्नी भी बेताब था.

तो आमिर को मेरे मम्मे दबा के चूसने में बड़ा मजा आ रहा था।मैं भी उसके बदन पर हाथ फेरते हुए मम्मे चुसवा रहा था। मेरी जिन्दगी का सबसे सुखद अनुभव था वो.

मैं बुरा नहीं मानूंगी।मैंने बोला- क्या मैं तुम्हें चुम्बन कर सकता हूँ?वो तनिक हैरत से बोली- क्या?मैंने बोला- हाँ. आधे रास्ते जाने के बाद वो भीड़ से बाहर निकला और थोड़ा अलग सा जाकर फोन पर बात करने लगा. वो लंबी साँसें लेने लगी और झड़ने का मज़ा लेने लग गई। कुछ देर बाद सन्नी का रस भी निकलने को तैयार था। उसने एनी को बताया तो एनी ने कहा- चूत में मत निकालना.