ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती

छवि स्रोत,गांव वाली देहाती बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ खून निकलने वाली: ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती, आज मैं आपको अन्तर्वासना के माध्यम से अपनी रियल औरसच्ची सेक्स कहानीबताने जा रहा हूं.

बीएफ फिल्म हिंदी चुदाई वाली

उसके रसीले होंठों पर मम्मों के ऊपर, कंधों पर मैंने उसको चूम चूम कर खुद को जिस्म की मदिरा के नशे से चूर कर लिया था. देहाती लड़की का ब्लू पिक्चरतभी आंटी ने मेरे तने हुए लौड़े पर हाथ रखा और बोली- क्या बात है, कुछ ज्यादा ही गर्म हो रहे हो राज!मैं बोला- हां आंटी, बस आपकी गर्मी से इस गर्मी की काट ढूंढ रहा हूं.

ऊपर से उनकी चूचियों में दूध भरे होने की वजह से वो टाइट और तनी हुई थीं. सेक्सी वीडियो इंडिया बीएफवो अपनी गांड हिला हिला कर चोदने का सिगनल देने लगी।मैंने अब दूसरा झटका मारा और पूरा लन्ड उसकी चूत में पेश कर दिया.

मैं नीचे बैठ गया और उनकी नाभि, चूत के इर्द-गिर्द के भागों को चूमने लगा.ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती: तभी आँटी ने अपनी पकड़ तेज की और उन्होंने अपने चूतड़ों और अपनी चूत के हिस्से की हरकत बढ़ाते हुए चूत को लण्ड पर ज़ोर से रगड़ना शुरू कर दिया.

मैं जोर से चिल्ला उठी- आहह … विजय! क्या कर रहे हो? पागल मत बनो छोड़ो मुझे!और मैं विजय से दूर हट कर शीशे के सामने चली गई … और बिना शर्म के ही विजय के सामने ही अपनी पेंटी पहन ली और ब्रा को अपने बूब्स पर डालकर पीछे से हुक लगाने लगी.सुरेश शुरू में तो उसकी चूत में लंड को फिट करता रहा और फिर दो मिनट बाद उसकी गांड ऊपर नीचे हिलने लगी.

बीएफ पिक्चर टीवी चैनल लाइव - ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती

उसके गोल-गोल माँसल नितंब लिंग को गुदाद्वार में प्रवेश की चुनौती दे रहे थे।उसने गाउन पहन कर अपनी बेटी को चाय-बिस्कुट और कुछ चॉकलेट देकर फिर से दरवाजा बाहर से बन्द कर दिया।बेडरूम में आकर उसने गाउन उतार दिया.मैं उनकी भरी हुई गांड को भी जोर-जोर से दबा रहा था, बीच-बीच में मैं शॉवर भी शुरू कर देता था.

मैंने इससे और आगे जाने के बारे में नहीं सोचा और लंड हिलाने का मजा लेते हुए रस झाड़ कर सो गया. ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती तुम्हें सब मालूम है कि औरतों की कौन सी जगह छेड़ने से औरत गर्मा जाती है.

कुछ ही देर बाद हम कुछ इस तरह एडजस्ट हो गए थे कि उसका सिर मेरी गोदी में आ गया था.

ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती?

ये सुनकर वो बोली- तो क्या तुमने अभी मेरे लोअर के नीचे कुछ नहीं पहना है?मैं हंस दिया और बोला- नहीं, तभी तो छोटे उस्ताद बाहर टहल रहे हैं. स्नेहा- बाप रे, भाई का भी लंड ले लिया, ये तो बहुत बड़ी वाली रांड है साली?नेहा- हां, ये एक लंबी कहानी है, जिसे सुनाने में ही चार पांच दिन लग जाएंगे. रूबी- आह … मादरचोद … मैं मर गयी साले कुत्ते … आह बस एक बार तो निकाल ले … फिर डाल लिए भैन के लंड.

इस पर वो बोली- जब कोई भी ज्यादा उत्तेजित हो जाता है तो उसके शरीर के सारे अंग तन जाते हैं, जैसे कि तुम्हारे लोअर में टेंट बना हुआ है. ये बात मेरे दिमाग में आते ही मैं तुरन्त ममता जी को लेकर नीचे शायरा के घर में उसके एसी वाले कमरे में आ गया. मैंने कुछ जबरदस्त धक्के मारे, तो अदिति जोर जोर से सीत्कारने लगी- ऊंई मां आह स् स् स्ह स्ह उफ्फ उफ्फ ऊंई हर्षद झड़ गयी रे मैं!उसने मुझे अपने ऊपर खींच कर जकड़ लिया.

और दोस्ती में इतना कर दिया तो कोई भी ज्यादा नहीं है।आपने मेरे लिए इतना कुछ किया है. अनामिका आवाजें निकाल निकाल कर चुद रही थी- आह आह जीजू उम्हा … मुआह आह … जीजू बड़ा मजा आ रहा है … और तेज पेलो … और तेज पेलो … आह मेरा पानी निकाल दो. रेल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि बैंक ट्रेनिंग में मेरी दोस्ती एक नवविवाहिता सहकर्मी से हुई.

एकदम से मैंने अपने होंठ उसकी गर्दन पर रख दिये और मैं उसकी गर्दन को चूमते हुए उसके बूब्स को जोर जोर से भींचने लगा. तब से मामी और अर्चना दोनों ने ही मुझे चुदाई के लिए कभी भी मना नहीं किया.

भैया मदभरी आवाज में बोले- हां मेरी रवीना डार्लिंग, यही तो वो बड़ी वाली लॉलीपॉप है, जिसे तुमने मुँह में लेकर आगे पीछे करके चूसना है.

मैंने मौका देख कर बोल दिया- आपको चोट भी लगी है या सिर्फ लचक आई है?उन्होंने कहा- नहीं चोट नहीं है, बस पांव मुड़ गया है.

मेरी बेटी ने सुरेश का कच्छा खींचना चाहा मगर उसके कच्छे के इलास्टिक के साथ ही उसका लण्ड भी खिंचता चला गया. वो बड़े प्यार से सब करेंगे, मुझे भी वो भी बहुत बार प्यार से चोद चुके हैं. कहानी के पहले भागलॉक डाउन में चोदमपट्टी की कमीमें अपने पढ़ा कि कोरोना लॉक डाउन के कारण मैं अपने घर में कैद सी हो गयी.

तब तक उसने बोला कि आपको कोई दिक्कत ना हो, तो मैं आज की रात आपके ही कमरे पर रूक जाऊं?मैंने बोला- क्या आप अकेले लड़के के साथ रह लेंगी?इतने में वो मुस्कुरा कर बोली- हां क्यों नहीं. आज भी मैंने भी मज़ाक ही किया था कि आ जाओ … अब मुझे क्या पता था कि वो आ ही जाएंगी. वो बोली- मैं वापस इसलिए नहीं गयी कि शाम को किसी से अकेले में मिलना चाह रही थी, वो मिले नहीं, इसलिए रात में वहीं रूक गयी.

’उस पर वो सब मेरे साथ एकदम चिपक कर नाचने लगे और मैं भी पूरे मूड में आ गयी थी.

मेरे मुँह से आनन्द भरी सिसकारियां निकल रही थीं और उसके काम की तारीफ करते हुए मैंने कहा- आहह साली चूस कुतिया … पूरा ले ले मुँह में छिनाल. कहानी के पहले भागभाभी मेरे ऊपर चढ़ गईंमें अब तक आपने पढ़ा था कि काजल भाभी मेरे साथ बिस्तर में मजा देने लगी थीं. इतने में नीता ने आवाज लगाई- सो गए क्या हर्षद?उसने मेरी तरफ देखकर कहा.

बड़ी मुश्किल से तो उसने मुझसे बात‌ करना शुरू किया था … और अब ये हो गया. हेलीमा अपनी बहन गुलजान की चुत चूसने में मस्त हुई तो उसकी गांड एक पल के लिए ढीली हुई. मैंने उससे मजाक में कहा कि मेरे पास के एफसी का बकेट है, उसमें कर लो.

चूचियों की चुसाई इतनी ज्यादा मस्त थी कि उसके दोनों दूध लाल हो गए थे.

अगली सेक्स कहानी में आपको समीना के साथ ब्लोजॉब और अनल सेक्स के बारे में लिखूंगा, जो कि उसका पहला अनुभव था. हिंदी सेक्स सेक्स Xxx कहानी में पढ़ें कि मुझे रात दिन सेक्स ही सेक्स की सूझती थी.

ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती अनामिका आवाजें निकाल निकाल कर चुद रही थी- आह आह जीजू उम्हा … मुआह आह … जीजू बड़ा मजा आ रहा है … और तेज पेलो … और तेज पेलो … आह मेरा पानी निकाल दो. वो तुरंत समझ गई और तुरंत अनामिका को छोड़ कर दूसरे दीवान में अपनी गांड के नीचे तकिया लगा कर लेट गई.

ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती मैं ढीली होकर राज के बदन से लिपट गयी और जय के लंड के धक्के मेरी गांड में लगते रहे. कहते हुए मैंने थोड़ा उदास सा मुंह कर लिया और वो बोली- बुरा मान गया क्या?मैं बोला- नहीं, मगर दोनों ही खुश होकर करें तभी तो मजा है ना?वो बोली- ठीक है, वैसे तुम अच्छे लड़के हो.

मैंने उसे सहलाना चालू किया, उसके होंठों पर किस करने लगा, उसकी पलकों को किस किया और आंसुओं को चाट लिया.

కాజల్ సెక్స్

वो गर्म आवाज में मेरे कान में बोली- आह यही चाहिए मुझे … मेरी चूत मारो अच्छे से … मैं तुम्हें अब कहीं जाने नहीं दूंगी. उसको मना करने के बाद मैंने खुद भी उसको कोई अपना काम नहीं बताया।मैंने खुद भी उससे दूरियां बना लीं।इन बातों को सिर्फ 10 दिन ही बीते होंगे और उससे मुझको देखे बिना नहीं रह गया।वह मुझसे मिलने के लिए घर पर आ गया।मेरे हस्बैंड जॉब पर गए हुए थे।मैंने उसे देखते ही कहा- तुम यहां क्या कर रहे हो?वो बोला- आपको देखने मिलने ही आया हूं. मैं बस आआ आअह्ह ह्हहांआ आआईईई ईईईई बहन चोद … साले कुत्ते मादरचोद … फाड़ दी मेरी चूत! गधे के लंड … आराम से नहीं कर सकता था.

ये बात दिव्या ने भी सुनी, वो कुर्सी से उठ कर मेरे पास आयी और बोली- बनारस कैसे जाएंगे आप?मैंने बोला- बाइक से. इनमें पुराने जैसा सिस्टम नहीं है … बल्कि एक मोटर लगी है, जिससे कंपन पैदा होती है. निर्मला जी सुन्दर महिला हैं, वो सोसाइटी के मार्किट में ब्यूटी प्रोडक्ट्स की शॉप चलाती हैं.

चूत का छेद भी अपने आप खुल रहा था, भीतर के गुलाबी रंग का इलाका मैं अपनी आंखों से साफ़ देख पा रहा था.

इसलिए हमारी नींद न खुलने पर सुबह सासुजी ने दरवाजा खटखटाकर हमें उठाया. क्या कर रहा है मारेगा क्या? आराम से कर ना … आह कितने दिन बाद तेरा ले रही हूँ. अगली बार उसने अपने दांतों में स्ट्राबेरी पकड़ ली और मेरी तरफ करने लगी.

मैंने धीरे-धीरे उसके गुदाद्वार में नारियल के तेल से भीगी हुई उंगलियां घुसानी शुरू कर दीं।नारियल की चिकनाहट उसे दर्द का अहसास नहीं होने दे रही थी और वो रोटियाँ बनाने में व्यस्त रही। मेरी उंगलियों ने नारियल के तेल के साथ उसके गुदाद्वार का रास्ता थोड़ा सा सुगम कर दिया. बाकी दिनों तो शायरा जब सुबह सीढ़ियों पर झाड़ू लगाने आती थी … तो मुझे जगा देती थी मगर आज सुबह वो मुझे जगाने नहीं आई. पांच मिनट तक मैंने उसके दोनों बोबों के ऊपर सिर्फ हाथ घुमाया, लेकिन बोबे दबाये नहीं.

एक तो दिव्या एक बहुत ही अच्छी धाविका थी और उसके साथ साथ एक ख़ूबसूरत शरीर की मालकिन भी थी. कुछ ही देर में भाभी ने अपना कामरस मेरे मुँह में ही निकाल दिया और आहह की आवाज़ करके शांति से मेरा लंड चूसने लगीं.

मैंने अदिति से कहा- हां अदिति … अब मैं भी झड़ने वाला हूँ … हम दोनों साथ में ही झड़ेंगे अदिति. मम्मी के होंठ मेरे मुँह के अन्दर होने की वजह से वो चिल्ला नहीं पाईं, पर वो छटपटाने लगीं और उनकी आंखों से आंसू निकल आए. उसकी गर्म चूत का पेशाब पीकर मैं तो खुद को रोक ही नहीं पाया क्योंकि इससे मुझे बहुत ज्यादा उत्तेजना हुई.

मैंने उसे थोड़ी सी जगह दी, तो वो मेरे लंड को आगे पीछे करते हुए लंड की मुठ मारने लगी.

बुआ ने कहा- हां ये तो है योगी … चल जब जागे तब सवेरा … अब तो मुझे तृप्त कर दे. जब उसने मुझे पीछे से पकड़ा था तो उसकी चूचियां मेरी पीठ में दब रही थीं. धीरे धीरे मेरे हाथ आँटी के सुडौल चिकने पटों (जांघ) पर पहुँच गए और पटों से होते हुए मैं उनके चूतड़ों को सहलाने लगा.

जब मैं घर आया तो उस रात ताऊ जी राजनीति के काम के सिलसिले में रायपुर गए हुए थे. मैंने भी हैरान होने का नाटक किया और उसके सामने ही वो लैपटॉप उठा लिया.

जब वो चलती है तो उनकी गांड के दोनों पलड़े जबरदस्त हिलते हैं जिनको देख कर बूढ़े के लंड में भी जान आ जाए. वो गांड मरवाने की आदी थी तो कुछ ही देर की पीड़ा के बाद उसने लंड को अपनी गांड में झेल लिया. आंटी ने पीहू को बुलाया और बोल दिया- तुम कान्हा के साथ जाओ और कोई अच्छा सा मैरिज प्लेस बुक कर लो.

कॉल bomber

मैंने उसे कामवर्धक गोली और पैन किलर दे दी … ताकि उसे दर्द कम हो और वह मूड में आ सके.

ऐसे ही बातें करते करते पता नहीं चला कि कब हम दोनों सेक्स की बातें करने लगे. तभी मेरे रूम का दरवाजा खुला और रूचिका आंटी अन्दर आ गईं- सन्नी बेटा सो गए हो क्या?मैंने जागने का नाटक करते हुए कहा- क्या हुआ आंटी?रूचिका- बेटा मैंने एक बुरा सपना देखा और मेरी नींद खुल गई. मैं गुलजान को किस करने लगा और अपने हाथ से उसकी मोटी मोटी चुचियां दबाने लगा.

उनमें एक लेडी पियोन भी थी जो पेपर्स आदि इधर उधर देने का काम करती थी और केवल मेरा चाय आदि बनाने और पानी पिलाने का काम करती थी. मैंने उसकी चूत को ऊपर से ही पकड़ लिया और फिर जोर से अपनी हथेली से रगड़ दिया. बीएफ वीडियो मराठीएक बात और कहना चाहता हूं कि आपके जो भी मेल मुझे प्राप्त होते हैं उनको पढ़कर बहुत अच्छा लगता है.

उसके कहने पर मैंने उसकी टांगें खोलीं और अपना लण्ड उसकी छोटी सी चूत पर रख दिया. मुझे भी एक चाह थी कि मेरा पति मेरी गांड चाटे और ये सब करे, जो तूने किया है.

मैंने भी आँटी को अब ऊपर की बजाये उनके निचले हिस्से कमर और चूतड़ों से पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया. मैंने मुस्कुराते हुए कहा- तो क्या घर ले कर जाऊं इस प्यार को?उसने बोला- हां, ऐसे ही अन्दर कर लो सारा. ममता की उस गहरी गुफा की गर्मी अपने लंड पर पाकर मैं तो जैसे पागल ही हो गया था.

कैसी भी नखरैल लौंडिया हो, यह पटा लेता है।मैं- बात बनाने में भी चालू है. उस दिन मैं कॉलेज तो गया, मगर एक घंटे बाद ही ममता को साथ लेकर अपने कमरे पर आ गया. मैंने तो उससे सुझाव दिया था कि उसे भी अपने खेल में इन्वॉल्व कर लो … थ्री-सम सेक्स करते हैं.

इसके बाद ऐसा कुछ हुआ कि अगले बीस पच्चीस दिनों तक शायरा से बातचीत करना तो दूर, उससे मिलना भी नसीब नहीं हुआ.

विपिन भी अब भी तेज तेज भरी हुई चूत में फच्छ फच्छ धक्के मार रहा था और अगले कुछ पलों के बाद वो एकदम से रुका और जोर से ‘आहह …’ करते हुए मेरी चूत में ही झड़ गया. मैंने अपने लंड एक दो बार और आगे पीछे करके सारा माल प्रियंका की नाभि में भर दिया और खाली पड़े दीवान में जाकर आंख बन्द करके लेट गया.

दूसरी तरफ रूचिका आंटी- प्रभात डार्लिंग, आज आप मेरी गांड भी मार दो प्लीज. उधर दूसरे दीवान पर अनामिका होश में आ गई थी और वो लेटे लेटे ही हम दोनों को देख रही थी. मैंने डांटते हुए कहा- तुम्हें जॉब चाहिए तो चुपचाप वैसा करो जैसा मैं बोल रही हूं.

मेरी पत्नी मेरे बेटे को लेकर मायके गई हुई थी क्योंकि मेरे बेटे की भी छुट्टियाँ चल रही थी. मेरे कदम अपने आप शैली की तरफ बढ़ गए हर कदम के साथ उसके शरीर से उठती लहर की तरह वह खुशबू मुझमें और जोश भर रही थी. एक बार फिर से मेरे होंठों को चूमते हुए मेरे बदन से कपड़े लगभग उधेड़ते हुए मुझे एकदम नंगी कर दिया.

ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती उसकी योनि अभी भी कमसिन थी। शायद मेरे चचेरे भाई के लिंग ने उसकी योनि को वह प्यार नहीं दिया था जिसकी वो हकदार थी. वहीं प्रीति भी एक कामुक और सुंदर शरीर की मालकिन थी, मगर जब तक दोनों के भीतर एक दूसरे के प्रति सकारात्मक भाव न पैदा हों, संतुष्टि कहां से मिलेगी.

छूट स्टोरी

तो फिर हमने क्या किया, हमने मोनिका की बहन को कैसे मनाया और फिर उसको कैसे अपने ही ग्रुप में शामिल किया वो सब भी आपको जल्द ही पता चलेगा. उसने मॉम को 5 मिनट और चोदा और कहा कि मैं झड़ने वाला हूँ, कहां लेगी माल?मॉम ने कहा- मुँह में. मैं उसके होंठों को चूसने लगा तो वो कुछ देर में बिल्कुल नॉर्मल हो गयी.

आँटी एक हाथ से नीचे मेरे लंड को सहलाती रही और मैं एक हाथ से उनकी पाव रोटी की तरह फूली चिकनी चूत को सहलाता रहा, उसके बीच में अपनी उंगली चलाता रहा. भाभी के गुलाबी होंठों का रसपान करते हुए मैं एक हाथ से उनका बूब दबा रहा था तो दूसरे हाथ से उनकी गांड को दबा रहा था. एचडी चुदाई हिंदी मेंमैं अब अपनी आगे की पढ़ाई का सोच रहा था और फिलहाल घर में ही रह रहा था.

दोस्तो, मैं जय दत्ता फिर से अपनी बीवी की रसीली चुदाई की कहानी में स्वागत करता हूँ.

अंकल ने पलटकर मुझे किस किया और पूछा- कैसा लगा?मैंने शर्मा कर आंखें झुका लीं. उसके दर्द को देखकर मेरी आंखों में पानी आ गया- जानू इतना दर्द हो रहा था तो रात को क्यों नहीं बताया?रचना ने पहले मेरे आंसू पौंछे और बोली- चलो फिर से चुदाई शुरू करते हैं.

उधर के कई मॉल आदि में जाकर हम दोनों ने मिल कर बहुत सारी शॉपिंग भी की. अपने पुसी कम टेस्ट करने का मजा दिया मुझे मेरे एक रिश्तेदार की बीवी ने. मैं तुरंत चारपाई पर सीधी होकर लेट गयी और बोला- अब जल्दी से शुरू करो विपिन.

मैंने भी जोर जोर से अपनी उंगलियां चलाते हुए उसकी चूत का दाना दांतों से हल्का सा चुभलाना चालू कर दिया और कुछ ही देर में मेरी मेहनत रंग ले आयी.

जैसे जैसे डॉक्टर की स्पीड बढ़ रही थी, मेरी आ आ की आवाज़ बढ़ रही थी और मुझे काफ़ी मज़ा आने लगा था. उसका भी साइज 36-34-36 था, रंग की बिल्कुल गोरी, मोटी सेक्सी आंखें, हाथ की सुंदर नरम उंगलियां, थोड़ा नाटा कद, दरअसल यामिना भी पहाड़ों की ही रहने वाली थी और उसका रंग रूप, चाल ढाल और अदायें लिली की तरह ही थीं. उसका हफ्ते में दो-तीन बार फोन आता है और वो मेरे साथ फोन सेक्स करता है.

गुजराती सेक्सी वीडियो ब्लूदस मिनट बाद मैंने विक्रम को बोला- यार जाओ … तुम भी उसके साथ में नहा लो. इस घटना से उसके अहम् को काफी धक्का लगा और वो क्लास के बाद वो मेरे पास आकर माफी मांगने लगा और फिर से एक चान्स देने की बात कहने लगा.

हिंदी में बोलने वाला सेक्स

अब घर में किसी एक का रुकना जरूरी था तो मम्मी ने मुझे रुकने को बोला और वो तीनों मतलब पापा मम्मी और मेरा छोटा भाई, जाने की तैयारी करने लगे. उस रात मैंने उसे तीन बार चोदा और हम दोनों सुबह 4:00 बजे तक सेक्स का मजा लेते रहे. उनकी नजर मेरे लंड पर थी और मेरी नजर उनके जिस्म पर!शरबत पीकर उसने गिलास रख दिया.

गोरा रंग, लम्बे काले बाल, गुलाबी होंठ और आंखें तो ऐसी कि जो उनमें देख ले उसका दिल घायल ही हो जाये. जब भाभी ने सही से लंड को चूत में एडजस्ट कर लिया तो मैंने फिर धक्के देने शुरू किये. प्यार में सब कुछ जायज है, सेक्स इन लव रिलेशन … यह सोचकर हम यहां तक आ गए थे.

पर तुम्हें इस रूप में देख कर मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाया और यह सब कुछ कर बैठा … अगर तुम्हें बुरा लगा हो तो उसके लिए सॉरी! जब तक तुम मेरे दोस्ती के प्रस्ताव पर हां नहीं बोलोगी मैं वादा करता हूं कि मैं तुम्हें टच भी नहीं करूंगा।मुझे पता था कि विजय पर अब सेक्स का भूत सर चढ़कर बोल रहा है और करीब-करीब वही हालत मेरी थी. जब तक रेशमा के साथ सेक्स की बात खत्म हुई तब तक मैंने पानी निकाल दिया था. मगर मैं सजग था, अपनी तरफ से कुछ भी ऐसा जाहिर नहीं कर रहा था कि मुझे बुआ के साथ कुछ करने का मन है.

शायरा का मुँह दूसरी तरफ था मगर फिर भी अब जैसे ही मैं नीचे आया, उसने पलटकर तुरन्त मुझे देखा. वो अपने नितंबों को उछालने लगी थी।उसने ना जाने कितनी बार योनिरस छोड़ा और मैं सारा योनिरस पीता गया.

हम दोनों के लिप किस करते हुए, वह मेरे बूब्स चूसते हुए, अपनी जीभ मेरी चूत में डालते हुए, पीछे से मेरी गांड में अपनी जीभ डालते हुए अलग-अलग स्टाइल में उसने फोटो ली।मैंने अपने मोबाइल का फ्रंट कैमरा ऑन करके उसमें वीडियो रिकॉर्डिंग चालू कर दी और कैमरा विजय को दे दिया … वह तुरंत पलंग के साइड में जाकर मोबाइल इस तरह से रख दिया कि हम दोनों की पूरी चुदाई उसमें रिकॉर्ड हो सके और तुरंत पलंग पर वापस आ गया.

कुछ देर सोचकर बसंत जी अपनी बीवी सरिता से बोले- सरिता, क्या तुम्हारे ध्यान में कोई आस पास कमरा खाली है?सरिता- नहीं, मुझे तो नहीं लगता. बीएफ चुदाई वीडियो ओपनइस बार प्रियंका ने मेरी तरफ मुँह करके अपनी चूत अनामिका के मुँह पर रख दी. செக்ஸ்படம் இங்கிலீஷ் படம் வீடியோलगातार निप्पल का रसपान करते हुए मेरी गांड मारने वाला ये आसन मुझे बहुत अच्छा लगता है. पर इस दौरान उस बुजुर्ग व्यक्ति ने एक काम बढ़िया किया; उन्होंने हमसे पूछा- बेटा क्या आप ऊपर वाली सीट पर चले जाएंगे!तो इस पर वंदना ने झट से कह दिया- हां अंकल ठीक है.

कमरे से बाहर निकला, तो पता चला की रंगोली को बुखार आ गया है और वो अब तक सो रही है.

रास्ते में मैंने कई बार ब्रेक मारे और वो भी हंस हंस कर बात करती जा रही थीं. वैसे तो मैं सांस्कृतिक क्षेत्र से ज़्यादा जुड़ा हुआ था लेकिन फिर भी खेल में रुचि बराबर रही है. रिसेप्शन वाली लड़की ने मुझे थोड़ी इंतज़ार करने को बोला।3:10 हो गये लेकिन कोई रेस्पॉन्स नहीं मिला।फिर मैं थोड़ी गुस्से में उस लड़की से पूछा- क्या हुआ? इतना टाइम क्यों लग रहा है?उसने किसी को कॉल की; फिर मुझे बोली- सॉरी मेम, नीलम जिस दुल्हन को तैयार करने गयी थी। वो अभी उसे नहीं छोड़ रही है।मैं बोली- कोई बात नहीं.

कुछ दिनों बाद किसी मीटिंग में मनोज को दो दिनों के लिए चेन्नई जाना पड़ा. दरअसल मैं उसे चुदाई की वीडियो दिखाते हुए चोदता था और उससे ग्रुप सेक्स के लिए कहता था. दोस्तो, मैं संदीप गुड़गांव से, मेरी उम्र 25 साल है और मैं एक बॉटम हूं.

मधु शर्मा का वीडियो

डॉक्टर ने मेरे बदन से बेबीडॉल ड्रेस को निकाल दिया और मैं ब्रा और पैंटी में रह गई थी. लेकिन जिस दिन मैं वापस आया, मम्मी के चहरे पर उस दिन अलग ही ख़ुशी नजर आ रही थी. [emailprotected]जवान भाभी की कहानी का अगला भाग:चचेरे भाई की दिलकश बीवी- 2.

इस बार प्रियंका ने मेरी तरफ मुँह करके अपनी चूत अनामिका के मुँह पर रख दी.

वो भी मेरा साथ देने लगी थी और पीठ पर हाथ फेरते हुए अपनी कमर चलाने लगी थी.

सेक्स चैट के दौरान पता नहीं वो संतुष्ट हाती थीं या नहीं, लेकिन अगर उनको मजा आता था तो उसके बाद मैं उनसे पर्सनली मिलने जाया करता था. उसी रात को करीब 9 बजे मेरे पास व्हाट्सएप पर एक अन्जान नम्बर से हैलो का मैसेज आया।मैं देखते ही समझ गया कि ये पक्का उसी का नम्बर है लेकिन फिर भी मैंन अन्जान बनते हुए पूछा- कौन हो?फिर उसने अपने बारे में बताया और हमने बातें कीं. हिंदी बीएफ चालूइस पर मैंने जल्दी से अपने आपको अलग किया और भैया से कहा- मेरा मुँह दर्द हो रहा है.

मैंने किसी तरह बहाना बनाया और कुछ देर के बाद सरस्वती से सारी बात कह-समझा उससे पति की बात करा दी. हाल यह था कि लगभग रोज ही मुझे उनके जिस्म की महक और स्पर्श मिलने लगा था. सेक्स चैट के दौरान पता नहीं वो संतुष्ट हाती थीं या नहीं, लेकिन अगर उनको मजा आता था तो उसके बाद मैं उनसे पर्सनली मिलने जाया करता था.

आपको मेरी ये थ्रीसम चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं … कुछ सुधारना हो … या तारीफें या शिकायतों के लिए आप मुझे निम्न जगह पर संपर्क कर सकते हैं. हैलो फ्रेंड्स, मैं सन्नी आपको आपको अपने मम्मी पापा की ग्रुप सेक्स वाली चुदाई की कहानी सुना रहा था.

वो इस दौरान सनसनी से पागल हो गई थी तथा उसने अपनी एक टांग हवा में उठाने की कोशिश भी की थी.

उसके बाद मैं नीचे लेट गया और वो बैठ कर मेरे लंड पर लगे हुए पानी को चाटने लगीं. उनका लंड मेरे दोनों चूतड़ों के बीच बार बार टक्कर पर टक्कर दे रहा था. हम दोनों लग गए और धकापेल चुदाई के बाद जब वो पूरी तरह से ठंडी हो चुकी तो मैंने वो ही लंड उनकी कमर से बांध दिया.

बीएफ आदिवासी सभी लोग मेरी मॉम को गंदी नज़र से देखने लगे थे क्योंकि मेरी मॉम सुबह झाड़ू लगाने जब बाहर जाती थीं, तब लोग मेरी मॉम की चूचियां जो शर्ट से बाहर झाँक रही होती थीं, उन्हें देख कर लंड हिलाने लगते थे. दोस्तो, सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको पीहू की चुदाई की कहानी लिखूँगा व आपको ये भी बताऊंगा कि दोस्त की गर्लफ्रेंड भी मेरे लंड से चुदने को कैसे मचली.

मैंने टी-शर्ट निकाल दी और आँटी ने जैसे ही मेरा लोअर नीचे किया, मेरा लंबा और मूसल सा मोटा लंड फनफनाता हुआ बाहर आकर झूलने लगा. उसने मुझसे पूछा कि क्या हुआ … कुछ पता चला?मैंने उससे तुरंत ही कह दिया कि वो प्रेत आपका शरीर मांग रहा है. बेडरूम में मेरे पलंग के पास मेज़ पर रखे कंडोम के पैकेट को देख कर बोलीं- अच्छा, ये सब भी होता है यहां!‘निर्मला जी, प्रोटेक्शन तो ज़रूरी है ही.

தமிழ்நாடுசெக்ஸ்

उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया तो मैंने भी उनका लंड सहलाना शुरू कर दिया. अब ज्यादा देरी न करते हुए मैंने उसे बेड पर लेटाया और उसकी गांड के नीचे दो तकिये लगा दिए. मैंने सोचा मौका है, पर जैसे वो मुझे घूर कर देखती थीं, उससे मेरी उनसे कुछ बात करने की हिम्मत ही नहीं हुई.

उनकी गांड इतनी बड़ी है कि पीछे उनकी गांड पर आराम से एक ट्रे रखी जा सकती है. वो मदहोशी में सराबोर होकर चिल्लाने लगीं- आंह अक्की तेरे नामर्द भैया से कुछ नहीं होता … बस वो लंड डाल कर हिलाकर सो जाता है और एक तू है जो बिना मुझे चोदे एक बार और चोदने पर अब तक दूसरी बार झड़वाने जा रहा है.

थोड़ी देर बाद अंकल ने कहा- बेटा, अब मैं पूरा डालने वाला हूं, सह लेना.

वहां से लौटकर अपने घर आया और कम्पनी ज्वाइन करने के लिए बंगलौर रवाना हो गया. अभी थोड़ा सा ही लौड़ा गांड में गया था कि समीना चीखने लगी- आह निकालो … बहुत दर्द कर रहा है. उसका सात इंची मेरी चूत को खोलता हुआ अंदर जा घुसा और मैं उसके सीने से लिपट गयी.

अब उसने कान के पास मुंह करके धीरे से कहा- डाल रहा हूं, ढीली रखना!इतना बोलकर उसने लंड अंदर पेल दिया. मेरी चूत की आग अब बर्दाश्त से बाहर हो चुकी थी … मैं भी बेशर्म होकर उसके सामने नंगी पड़ी थी; बार-बार अपनी गांड उठाकर उसका लोड़ा अपनी चूत में लेना चाह रही थी. उसने मेरे चूतड़ों पर हाथ लगाया और मुझे अपनी ओर खींचा।मेरी चूत लार और कामरस से एकदम गीली और चिकनी हो रही थी।उसने अपने लंड को मेरी चूत पर सटा दिया.

मैं- चलो आज मैं तुम्हारा मेकअप करता हूं!ज़ारा- आप नहीं कर पाओगे!मैं- मुझे आता है मेकअप करना! सीखा है मैंने!ज़ारा- आपको कैमरा और लाइटिंग के हिसाब से आता होगा.

ब्लू बीएफ सेक्सी देहाती: अनन्या- नहीं भाबी, ऐसी बात नहीं है, तुम मेरी बात का उल्टा मतलब निकाल रही हो. उसी रात को करीब 9 बजे मेरे पास व्हाट्सएप पर एक अन्जान नम्बर से हैलो का मैसेज आया।मैं देखते ही समझ गया कि ये पक्का उसी का नम्बर है लेकिन फिर भी मैंन अन्जान बनते हुए पूछा- कौन हो?फिर उसने अपने बारे में बताया और हमने बातें कीं.

[emailprotected]फोन सेक्स चैट कहानी का अगला भाग:दोस्त की भतीजी की सील पैक चूत मिली- 1. मॉम का पेट फूलने लगा था तो हॉट विडो मॉम ने मुझे भी अपने भरोसे में लेकर नमन से अपनेजिस्मानी रिश्तोंकी बात कबूल कर ली थी. मेरे मुंह से सिसकारियां निकल पड़ीं- आह्ह … आह् … आराम से … ओह्ह … आह्ह … इस्स … ओह्ह … धीरे … उम्म … ओह्ह … पूरी पी जाओ.

मैं पूरे मन से चूत चाटने में ऐसा लगा हुआ था, जैसे ये मेरा पसंदीदा खेल हो और मैं इस खेल का पारंगत खिलाड़ी हूं.

मामा जी को दोनों लड़के महंत (20) और सुमंत (19) पढ़ने में बहुत इंटेलिजेंस रहे और 22 साल की एक बेटी अर्चना, बहुत सुंदर और आकर्षक थी. चूंकि बस में ज्यादा जगह तो होती नहीं है, इसलिए मैं ज्यादा आसन ट्राई नहीं कर पाया, पर लेट कर साइड से और मिशनरी पोजीशन में मैंने अक्कू की चुदाई बहुत देर तक की. लोवर में लंड के उभर आने से चाची जी को भी ये एहसास हो गया था कि लंड अकड़ गया है.