देसी औरत के बीएफ

छवि स्रोत,नागपुर का सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी सेक्सी लड़की का: देसी औरत के बीएफ, शांत होने के बाद चाची बोली- वाह रे कमीने! तू तो बड़ा खिलाड़ी है … कल तुझे अपनी बहन से मिलवाऊंगी।अगले दिन चाची ने अपनी बहन को बुला लिया और हमारा परिचय करवाया। चाची की बहन का नाम पूनम (बदला हुआ) था.

सेक्सी गाना सॉन्ग

इसकी हाइट लगभग साढ़े पांच फीट की थी, वो थोड़ी मोटी पर बहुत हॉट लेडी थी. बिना तार के दांत अंदर करनाबस माल मिलने की उम्मीद में मेरे पैंट में तंबू बनना शुरू हो गया, लेकिन मैं कोई भी पहल करने से डर रहा था.

मैं कभी-कभी रात को भी भैया के घर जाती हूँ घूमने के लिए, तो उनकी पत्नी मुझे खाना खिलाये बगैर मुझे घर से आने नहीं देती है. ओपन बीपी इंडियनलेकिन एक बात तो पक्की थी कि वो राधिका नहीं थी, क्योंकि राधिका को मैं अच्छे से पहचानता था.

रिया पीछे मुड़ते हुए बड़बड़ायी- आह्हह डैडी, बहुत मजा आ रहा है … आह्ह चोदते रहो डैडी, मेरे प्यारे डैडी, मेरी गांड को दिन रात चोदते रहो.देसी औरत के बीएफ: एक काम करो नम्रता, तुम भी अपनी चूत का मुँह मेरे मुँह के पास कर दो, ताकि मैं भी मजा ले सकूं.

रात की ठंडी ठंडी हवाएं मेरे नंगे कूल्हों से टकरा कर मुझे और ज्यादा उत्तेजित कर रही थी,मैंने अपने होंठ उसके होंठों से अलग करते हुए उसको अलग करते हुए उसको बड़े ही शरारती ढंग में पूछा- ड्यूटी से फ्री हो गए क्या? तो तुम्हारे लिए भी एक पेग बना दूं!उसने कहा- हां शालिनी जी, अब तो आज की रात शराब और शवाब दोनों को मजा लेना चाहता हूं.जैसे उन दोनों ने मुझसे वादा किया था कि वह मुझे और भी चूतें दिलवा देंगी.

इंग्लिश पिक्चर नंगी ब्लू - देसी औरत के बीएफ

मैंने पढ़ाते समय मैंने कई बार इस बात को महसूस भी किया था कि कोई कोई लड़की इतनी अधिक चुदैल किस्म की आ जाती थी कि उसके करीब से गुजरने पर वो अपने टॉप या कुरते से दूध दिखाते हुए मुझे रिझाने की कोशिश करती.फिर अपने हाथ को उसकी चूत से हटाते हुए कहा- अभी तुम अपनी पेशाब रोक लो.

’ की आवाजें निकल रही थीं- आआह थॉमस फक मी बेबी … हां आह आह्ह चोदो … मुझे चोदो मुझे … आह थॉमस फक मी. देसी औरत के बीएफ लंड पर मीना की जीभ का अहसास पाते ही मैं अपने आपको हवा में उड़ता हुआ पाने लगा.

अब पूरा कमरा, मीना की आनन्दमयी सीत्कारें और मेरे शॉट की आवाजों से गूँज़ रहा था.

देसी औरत के बीएफ?

पहले तो मुझे उनको देख डर लगने लगा कि ये तो मेरी चूत का कीमा बना देगा. शिखा मेरे लंड पर आकर बैठ गयी और मैंने उसको फर्श पर ही चोदना शुरू कर दिया. रिया की गांड में एक मस्त मीठा मसाला तैयार हो रहा था। रमेश ने उसकी पैंटी निकालकर अपने गले में डाल ली.

एक बार फिर हम लोग नंगे ही छत पर हो लिए, देखा तो आस-पास के लोग नीचे जाने लगे. मैं भी लंड सहलाता हुआ बोला- ठीक है मेरी जाने बहार … आपका हुकुम मेरे सर माथे. आपको हमारी यह भाई-बहन की चुदाई वाली कहानी पसंद आई होगी ना? तो आप जरूर कमेंट करें.

मैंने धीरे से लण्ड निकाला तो वह और सूज चूका था और बड़ा दर्द हो रहा था. फिर भार्गव कपड़े उठाकर बाहर निकला और अंधेरे में कपड़े पहनने के बाद रुमित के साथ आगे चला गया. अन्दर के कमरे का दरवाजा बन्द था लेकिन एसी चालू था तो मुझे पक्का यकीन हो गया कि अन्दर जरूर कोई है।चुपचाप से मैंने उस खिड़की के काँच से देखा तो अन्दर की लाईट जल रही थी.

तब मुझे मेरे दोस्त ने अपने मोबाइल में एक वीडियो दिखाया और उसने बताया कि औरतों की टांगों के बीच में चुत होती है. और ले ले मेरा लण्ड!पिता पुत्री दोनों मजे से चुदायी का आनन्द ले रहे थे.

खैर … एक दिन लखनऊ यूनिवर्सिटी के पास ही मैंने उसको एक लड़के के साथ देखा … जो बिल्कुल घोंचू सा था.

मैंने टिकट कन्फर्मेशन के लिए तत्काल श्रेणी ऑफिस जाकर पता किया मगर हमारा टिकट कन्फर्म नहीं हो पाया.

थोड़ा बहुत ब्राउनिश कलर के साथ उसकी चूत की पुत्तियां भी ऐसी लग रही थीं कि जैसे कि कच्ची सब्जियों के बीच दो कलियां फंसी हों. पर एक बार किसी चीज की आदत लग जाती है, तो फिर जल्दी से छूटती नहीं, कॉलेज में रहकर भी मन अंकल के ख्यालों में ही डूबा रहता. हम लोगों का खाना खत्म होते होते मामा भी बाहर से आ गये और सीधा अपने कमरे में चले गये।सब कुछ समेटने के बाद मामी भी कमरे की तरफ जाते हुए बोली- देखो अब चुपचाप जाकर अपनी पढ़ाई कर लो, आपस में लड़ना मत, हम लोग मामी की बात सुनकर अपने-अपने कमरे में चले गये।करीब आधे घंटे के बाद जब मामा-मामी के कमरे की लाईट बन्द हो गयी तो शुभ्रा मेरे कमरे में आ गयी और बोली- आओ तुम्हें एक नजारा दिखाती हूं.

थोड़ी देर में मेरे लंड ने एक जोर से वीर्य की पिचकारी निकाली और सीधी बाथरूम की सामने की दीवार पर गई. वसुन्धरा बेचैन होकर फ़ौरन जोर-ज़ोर से कसमसाने लगी लेकिन मेरी पुख़्ता पकड़ से छूट पाना संभव नहीं था. ओके सर!” मैं धीमी आवाज में बोली और रवि सर के सामने पड़ी कुर्सी पर बैठ गयी.

जूली बोली- इसको समझने के लिए मुझे ये पूरी चुदाई देखनी पड़ेगी, क्या तुम सब दुबारा कर सकोगे?मैं बोला- अभी तो दर्द हो रहा है, दर्द कम होगा तो सब दिखा दूंगा.

मुस्कुराते हुए बोली- मैंने भी जिस दिन आपको देखा था यही कहा था कि काश मेरा पति ऐसा होता. फिर वे मुझसे बोले- नम्रता एक बात बताओ, जैसे मैं तुम्हारी गांड और चूत चाटकर तुम्हें मजा दे रहा हूं, क्या तुम वैसे ही मेरे लंड को चूसते हुए मेरी गांड भी चाटोगी. मेरा भी निकलने वाला था, नीचे से झटके मारते हुए मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

वो बोली कि वो मौसी के पास जा रही है और मुझे उनको छोड़ने जाना है।मैंने यह बात शुभ्रा को बताई तो बोली- चल कोई बात नहीं, अभी मम्मी नहाने जायेगी और फिर तैयार होगी तो कम से कम 30-40 मिनट तो लग ही जायेंगे, तब तक हम लोगों के पास मौका है।तभी मामी की आवाज आयी- लल्ला, मैं नहाने जा रही हूं. रानी ने जब दो चार इसी प्रकार बड़े बड़े सिप लेकर जो मुझे वाइन पिलाई तो मुख सुरा का सरूर पूरा परवान चढ़ गया. कुछ दिन बाद नितिन का दिल भर गया, तो उसने सीमा जी से शादी ना करने का विचार रखा.

अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार!मेरा नाम शैलेश (बदला हुआ) है.

मैं उसके एक निप्पल को मुँह में ले के चूसने लगा और दूसरे को उंगली और अंगूठे से मींजने लगा. सीमा और नितिन का चुदाई का खेल चालू हो गया, सारे दरवाजे खिड़कियां बंद करके दोनों एक दूसरे से ऐसे चिपक गए, जैसे जन्म जन्म से प्यासे हों.

देसी औरत के बीएफ उसने अपनी ड्रेस पहनी और हम शैम्पेन लेने चल दिए … एक नयी शुरुआत करने. अब आप सोच ही सकते हैं कि एक गोरी चिट्टी औरत जिसका फिगर भी इतना कमाल हो और जो देखने में भी इतनी सुंदर हो, उसके लिये एक मर्द की नियत भला कैसे न फिसल जाती.

देसी औरत के बीएफ पूरे हाथों में मम्मे और चुटकियों के बीच निप्पलों की मसलाई शुरू हो गयी. पर मैंने अभी भी अपने कपड़े नहीं पहने थे, मेरी चुदाई की भूख अभी शांत नहीं हुई थी.

फिर मैंने उसकी सफ़ेद ब्रा को भी निकाल फेंका और जब मैंने उसकी उठी हुई चूचियों को देखा, तो मेरा लंड बिल्कुल अकड़ गया.

सेकसी बहन भाई

मैं भी चूतड़ उठाते हुए लंड पेलने की कोशिश करता हुआ बोल रहा था- आह मेरी संगीता डार्लिंग … मेरा ये लंड भी पहली बार किसी की बुर में गया है. जैसे उन दोनों ने मुझसे वादा किया था कि वह मुझे और भी चूतें दिलवा देंगी. दो-तीन बार पोजीशन बदलने के बाद मैंने जूली को नीचे उतारा और उससे बोला- अगर तुम चाहो तो मैं तुम्हारी चूत के बाहर अपना पानी निकाल सकता हूँ और अगर तुम चाहो तो मेरी मलाई को अपने मुंह में ले सकती हो!मेरी बात सुनने के बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया.

तो भाभी की बात सुनकर मैंने भाभी को तुरन्त नए जोश के साथ बांहों में भर लिया और मन ही मन बिन्दू और नेहा की नई चूतों को चोदने का इशारा पाकर आनन्दित होने लगा. इधर उधर सिर हिलाते हुए गुड्डी रानी चिल्ला रही थी- आह आह आह कुत्ते … और ज़ोर से चोद कमीने … आह आह आआआह आआह जानू तेरा लंड क्या है बिजली का खम्बा है … अहा अहा अहा अहा … ज़ोर से ज़ोर से ज़ोर से … अहा अहा अहा अहा … उफ्फ फ़फ़फ़ मादरचोद अब जान लेगा क्या?मैं भी गुड्डी रानी के हुकम के अनुसार धम्म धम्म धम्म शॉट पे शॉट पेले जा रहा था. लगभग डेढ़ साल से अपनी माँ के पास रह रही थी, अर्थात प्रेग्नेंसी के बाद से ही लगभग डेढ़ साल से पति से संसर्ग नहीं हुआ था.

मैंने उसे खींच कर चोरी चोरी बस में ले गया और वहां बैठ कर हम दोनों बातें करने लगे.

ये सुनकर मैंने खुश होकर एक बार फिर से प्रतिभा को बांहों में भर लिया और कहा- तुम बहुत अच्छी हो. मैंने अपना लोअर उतारा और मैंने दीपाली से कहा- दीपाली मेरा लंड चूसो. अमित ने खड़े हुए ही मेरे सलवार का नाड़ा खोल दिया, जिससे सलवार नीचे गिर गयी.

[emailprotected]भाई बहन का सेक्स कहानी का अगला भाग:छोटी बहन ने मस्तराम कहानी पढ़ते पकड़ लिया-2. शलाका का मुंह मेरी तरफ था और उसकी चूचियां मेरी छाती पर आकर दब गई थीं. लेकिन वो नहीं माने और जोर के धक्के लगाते हुए सारा पानी सुमीना की चूत में ही निकाल दिया और बोले- नहीं सुमीना, तेरे पापा को बाहर मजा निकालना अच्छा नहीं लगता.

तभी नीचे से अमन की आवाज आई- विपुल कितनी देर लग रही है?मैं- अमन भाई, बस आ रहा हूँ. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि बहन की चूत को चोदने के बाद मैंने उसकी गांड को भी चोद दिया.

मैंने भाभी को पलंग पर लिटाया और इस बार बिना उनके बिना कहे उनको ऊपर से चूमना शुरू किया. मैं अभी सम्भल पाती कि उस हब्शी न्जे लंड के चुत में धक्के लगाने शुरू कर दिए. मैंने खड़े हो कर उसे बांहों में भर लिया और खड़े खड़े उसके कान के निचले हिस्से को झुमके समेत अपने होंठों में दबा लिया.

अब इस बार मुझे तीनों के मम्मे दबाकर पहचानना था, जो पहले से थोड़ा मुश्किल था.

उसने मुझे कॉल करके बताया कि उसने डॉटेड वाले कंडोम का पैकेट खरीद लिया है. सोनल जोरों से सिसकार रही थी- आह ओह आह भाई … आह भाई सच में कितना मजा आ रहा है … आह अह. इस मजे में वह भूल गयी कि मैं उसकी गांड में लंड को अंदर धकेलने की कोशिश कर रहा हूँ.

छत पर रितेश उसे चूमता हुआ एक हाथ उसके स्तनों को दबा रहा था, दूसरे हाथ से उसकी चुत को सहला रहा था. इसलिए मैं उसके ऊपर झुककर उसके निप्पल को बारी-बारी मुँह में भरकर चूसने लगा.

मेरी नौकरानी को इस बात का पता भी नहीं चलता था कि मैं अपने बॉयफ्रेंड को अपने घर बुलाकर चुदवाती हूँ. मैं- इतनी उतावली न बनो, अगर मैं तुम्हें मेरी मूत पीने को कहूँगा, तो वो भी पी लोगी?नम्रता- बिल्कुल मेरी जान. ठीक है हाथ निकालता हूँ … पर चिल्लाना नहीं … किसी ने सुन लिया, तो आफत आ जाएगी.

जिओगेम्स खोलो

मेरी चूत को सहलाने के बाद वो मेरी कुर्ती के ऊपर से मेरी चूची को दबाने लगा.

मैं किताब के बीच छिपाकर मस्तराम की कहानी पढ़ रहा था और पढ़ने में इतना मग्न था कि कब मेरी छोटी बहन मेरे पीछे आकर खड़ी हो गयी मुझे पता ही नहीं चला। पता तब चला, जब एक तेज थपकी मेरी पीठ पर पड़ी. सुमन जोर से चिल्लाई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मम्मीईई ईईईई नहीईई ईई! नहीं … मत करो … मर जाऊंगी. आप लोग उसके फीगर की दीपिका पादुकोन के फीगर के साथ तुलना कर सकते हैं.

उसने पूछा कि मैंने पहले भी किसी लेडी को डेट किया है?मैंने ना में सिर हिलाया और कहा- लड़कियां तो बहुत चोद चुका हूँ, पर आप जैसी लेडी आज तक नहीं मिली. वो बोली- अर्पित मैंने अपना सब कुछ तुम्हें दे दिया है, अब मुझे छोड़ना मत!मैंने बोला- नहीं अदिति, मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ, बोलो तो कल ही अपनी माँ पापा को तुम्हारे घर भेज दूँ. शायरी सेक्सीमैं उनके बोबे मसलता हुआ बोला- पर रात में तो भैया ही आपको नहीं छोड़ते.

अब खेल शुरू हो गया है, अब मैं आप लोगों को एक एक करके सभी के कमरे में हुई चुदाई की दास्तान सुनाऊंगा जैसा कि मुझे मेरे दोस्तों ने बाद में बताया था. शीघ्र ही महायाराना के आगाज़ का अगला अंक प्रकाशित होगा जिसमें आप विक्रम और प्रिया के सेक्स का मजा लेंगे.

उधर एक दिन मेरी बात मानसी से हुई जिसकी आईडी हमेशा मानसी (25) के नाम से होती थी. मौसी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगीं, जिससे मेरा लंड फुंफकारने लगा, जो मौसी भी महसूस कर रही थीं. वो मेरे कान की लौ को चाटने के बाद मेरे पेट को चाटने लगा और उसके बाद मेरी नाभि को चाटने लगा.

आह मुलायम-मुलायम, गोल-गोल मम्मों पर हाथ पड़ते ही हथेलियां उसको मसलने के लिए मचल उठे. मैं बोली- हाँ मेरे राजा … आज तू मेरा पूरा मज़ा ले ले … मैं तेरे बिस्तर की रानी हूँ. मेरे इतना बोलते ही उसने कहा- यू वान्ट टू सक्? (क्या तुम इनको चूसना चाहते हो)मैंने कहा- जरूर … आपके बूब्स बहुत मस्त हैं।मैं उसके पास जाकर उसको किस करने लग गया.

जब कुप्पी पूरी तरह से चूत के अन्दर चली गयी, तो मैंने उसकी टांगों को ढीला करके नीचे की तरफ सरका दिया.

रास्ते में मुझे टिकट चेकर दिखाई दिया तो मैंने उससे पूछा- कोई है नहीं क्या सिनेमा हॉल में?उसने कहा- दो-चार लड़कियों का झुंड था, वो भी अभी यह कहते हुए निकल गई कि बकवास फिल्म है. अंकल जी वहीं पेड़ की ओट में खड़े मेरा इंतज़ार करते मिले; मैं उनके पास जाकर सिर झुका कर खड़ी हो गयी.

मैं नेहा की सुंदर और पतली कमर में हाथ डालकर खड़ा हो गया और उसके नर्म और गुदाज़ सुंदर होंठों पर किस करने लगा. इस खेल में तुझे लगता है 100 रुपये में तेरी हालत खराब हो गयी है … तो ये ले 100 रुपये तेरे दर्द सहने के और 100 रुपये और दूंगा खेल खत्म होने के बाद. मैंने फोन में मेसेज और फोटो देखी तो …अब आगे की कॉलेज गर्ल सेक्सी कहानी:मैं बंगलुरु ट्रेनिंग के प्रोग्राम के बारे में सोचने लगा। साली यह किस्मत भी अजीब है जिन्दगी झंड हो गई है। एक बेचारा दिल और चार राहें। अजीब इत्तेफाक है चारों दिल फरेब हसीनाएं सामने खड़ी MPK(मुझे प्यार करो) बोल कर जैसे ललचा रही हैं।मैं अभी अपने ख्यालों में खोया हुआ ही था कि मोबाइल की घंटी बजी.

उफ्फ्फ्फ … अपनी चूत पर एक मर्दाना हाथ पाते ही मैं तो समझो, मर ही गयी. यह मैंने तब जाना जब राज मेरे नंगे जिस्म से लिपट कर मुझे चूम रहा था. मेरे अब्बू, अम्मी और बहन, सब मेरी ममेरी बहन के शादी में गए थे, मेरा बीए के तीसरे साल की परीक्षा होने के कारण मैं उस शादी में नहीं जा सका.

देसी औरत के बीएफ तभी तुषार बोला- अरे भार्गव … तुम आशना का मोबाइल चार्ज कर रहे हो या आशना को चार्ज कर रहे हो … अच्छा बच्चू … अकेले अकेले मज़े लिए जा रहे हैं!उन दोनों के आ जाने पर मुझे बहुत शरम आने लगी. तभी शीना भी संजना का साथ देने के लिए मेरा लंड अपने मुँह में लेने के लिए आगे आ गई.

सेक्स मराठी व्हिडिओ

उस कमरे में एक जवान लड़की जिसकी उम्र लगभग 19 – 20 साल थी, कुछ सेक्स क्रियाएं कर रही थी. मैंने दीपिका को उल्टा घुमाया और अपना खड़ा लण्ड उसके चूतड़ों में फिट करके सामने से उसके दोंनों मम्मों को पकड़ लिया और जोर जोर से मसलने लगा. मैं मस्ती में डूब के कराहा- आआह आह्हः आह्ह्ह्ह रानी, रानी, मेरी रानी, हाल बिगड़ा हुआ लंड का … कुछ कर जानू इसका इलाज.

अब वो 69 की पोजीशन में आ गई और मेरे लंड को हाथों में लेकर सहलाने लगी … चूमने लगी. मैंने पढ़ाते समय मैंने कई बार इस बात को महसूस भी किया था कि कोई कोई लड़की इतनी अधिक चुदैल किस्म की आ जाती थी कि उसके करीब से गुजरने पर वो अपने टॉप या कुरते से दूध दिखाते हुए मुझे रिझाने की कोशिश करती. ओल्ड मुंबई चार्टमेरी चूत को सहलाने के बाद वो मेरी कुर्ती के ऊपर से मेरी चूची को दबाने लगा.

उस रात मैंने फिर से तरह तरह के आसनों के साथ भाभी को जम कर चोदा और उन्हें पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया.

क्या उसका भी पहली बार है?मीता- हांमैं- उसने कभी किस करते हुए तुम्हारी चूची दबाई है और तुमने उसका लंड पकड़ा है?मैंने जानबूझ कर एक कदम आगे जाकर लंड चूची जैसे शब्द बोले. भैया मार्किट के लिए निकल गए, तो मैं जल्दी से भाभी के रूम में आ गया, जहां भाभी उल्टी लेटी हुई थीं और मस्त लग रही थीं.

डॉक्टर ने लण्ड को रूमाल से साफ़ किया और फिर पकड़ कर ऊपर नीचे और घूमा कर मुयायना किया और बोली- आमिर, चुदाई के दौरान अंदर की कुछ नसें दब गयी हैं जिससे लण्ड अब बैठ नहीं रहा है. मेरी उंगलियाँ उसकी चिकनी और सफाचट चूत को केवल सहला रही थीं। अब बाल का नामोनिशान नहीं था उसकी चूत पर. क्या कर रहा हूँ मतलब, तुम्हारी चुत के रस की खुशबू सूंघ रहा हूँ … आह … क्या खुशबू है … कच्ची चुत की खुशबू का मजा ही कुछ और है.

कंपनी ने मुझे मेरी नियुक्ति का पत्र भी दे दिया और अगले हफ्ते ज्वाइन करने को कहा.

वो अक्सर टाइट टॉप और लैगी पहन आती थीं, जिससे उनका फिगर बिल्कुल साफ झलकता था. वो हंसकर बोलीं- अरे हर्षद मैं तुम पर गुस्सा नहीं कर रही हूँ … मैंने तो तुम्हें ऐसे ही बोला. उन्होंने मेरी पेंटी को खींच कर मेरी टांगों से अलग कर दिया और फिर चूत को गौर से देखने लगे.

गार्डन इमेजफिर जब मैं बाथरूम से बाहर आई, तो वंश मुझे देखता ही रह गया मुझे!उसके बाद हम दोनों बातें करने लगे. मैं दीदी से मिल चुकी थी और उनकी सास से दीदी के घर रुकने की बात भी हो चुकी थी.

बच्ची सेक्सी

” हे भगवान्! इतना ज़ुल्म!!! … वसुन्धरा! मुझे पता नहीं था, कसम ले लो … चाहे! मुझे इस बारे में सच में कोई इल्म नहीं था. एक दिन मैं घर पे अकेला ही था तब भाभी आईं और मेरी मम्मी को आवाज देने लगीं. मैंने भी उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया और उसके धक्के का अहसास करने लगा.

फिर कुछ देर तक वो मेरी पीठ और बालो को सहलाते रहे और मैं उनकी पीठ और चूतड़ को सहलाती रही. मैं उन्हें किस करता रहा और उनकी बुर को अपनी उंगलियों से सहलाता रहा. मैं उसके उरोजों को अच्छे से मसलकर और मुँह में भरकर चूसते हुए उसकी चूत को सहलाने लगा.

थैंक्यू अंकल जी, पर इत्ती भी सुन्दर नहीं हूं मैं … जो आप इतनी तारीफ़ कर रहे हो. ”उनका हाथ अब मेरी पैंटी पर आ गया था, मेरी मदनमणि को वो मेरी पैंटी के ऊपर से सहलाने लगे. वह हर धक्के के साथ हां … हांह्ह … हांआ … और जोर से … और जोर से … हां तेजी से करो मेरे अंशु! … बोल रही थी। उसके इस तरह के संबोधन से मेरे अंदर का आनंद और जोश दोनों ही चरम पर पहुंचने लगे.

अंगूठा उनकी मखमली और चिकनी चूत में आगे पीछे करते हुए मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने उसकी चूत के मुंह पर लंड को धीरे से सेट किया और एक धक्का दे दिया.

फिर उन्होंने मुझे अपने से अलग किया और करवट लेकर मुझे चिपकाते हुए बोले- नम्रता, तुम्हारा रस तो बहुत ही स्वादिष्ट था.

मैंने उसका हाथ पकड़ कर पूछा- डर लग रहा है क्या?जैसे ही उसका हाथ पकड़ा … मेरे लंड में तीखा करेंट दौड़ गया. दीपिका का सेक्सी वीडियोमैंने उनके कूल्हों के दोनों और अपने दोनों पैर टिकाए और गांड को उनके मुँह के पास लाकर खड़ा रहा. माधुरी दिक्षित सेक्सी फोटोमेरा ऐसा इस वक्त मन कर रहा था कि अभी सोनल को लेटाकर चोद दूँ, लेकिन कहते हैं न कि सब्र का फल मीठा होता है. इसकी वजह से शीना बहुत ज्यादा मज़े लेने लगी और वो एक बार झड़ने के करीब आ गई.

भाभी बोली- राज, कल परसों में मेरी मेंसिज आने वाली हैं, अतः अब चार पांच दिन तुम बेशक अपने कमरे में ऊपर ही सो जाना.

एक दिन वो मशीन में बैठ कर शोल्डर की एक्सरसाइज कर रही थीं और मैं लगातार उनको घूर रहा था. मेरा इतना कहना था कि वो बड़े प्यार से बोली- मेरे राजा, मैं भी कह रही हूं. ”नीतू … इधर भी बाल हैं क्या?”मैं नहीं बताऊंगी … आप खुद ही पता कर लो.

यह बात सुन कर रितेश ने भी जोश में आकर मीरा के चूतड़ों पर दो थप्पड़ लगाए और पीछे से मीरा की रस छोड़ती चुत में अपना लंड ठांस दिया. मैं सीधा लेट गया और पूनम ने मेरे सोये हुए लंड को अपने मुंह में भर कर फिर से चूसना शुरू कर दिया. उसने ब्लाउस के सभी 4 बटन खोल दिये और मेरे दोनों कन्धों से उसे उतार दिया.

सेक्सी पिक्चर दिखाओ पंजाबी

तब मैंने उससे पूछा कि कौन था, जिसे तुम्हारी चूत का छेद भी चौड़ा भी नहीं हुआ. लंड का मजा मिलते ही वो गर्म होकर बोलने लगी- आह मेरी फुद्दी को फाड़ दो और तेज़ और तेज़ करो … आह आह आई आई शी शी शी. मैंने माँ से पूछा कि माँ ये आपकी टांगों के बीच में क्या है?माँ ने मुझसे ‘कुछ नहीं है.

इतने में भी जब मन नहीं भरा तो मैंने रात को सोते समय फिर से उसकी योनि की चुदाई के आनंद के बारे में सोच कर फिर से लिंग को तेजी के साथ हिलाते हुए मुट्ठ मारी.

मैंने उनके पैरों को उनके पिंडलियों से दोनों हाथों से कसकर ऐसे पकड़ लिया, जैसे कि बाइक पर पकड़ा था.

नम्रता- तुम अपने लंड का माल ऐसे मत खराब करो, मेरी चूत के लिए छोड़ दो. मैं उनके पीछे पीछे … वो आगे आगे … भागते भागते कभी रूम में, कभी हॉल में … फाइनली भाभी अपने रूम का दरवाजा बन्द ही कर रही थीं कि मैंने उन्हें धकेल कर पकड़ लिया. चूत चाटनेमुझको ऐसे ही नंगी पड़ी छोड़ कर उसके सोने के बाद मैं खुद उंगली या कैंडल अपनी चूत में डाल कर अपने आपको शांत करती हूं.

सफर जारी था मस्ती लेते हुए!मैंने अपना मोबाईल निकाला इशारा करके उसका नंबर माँगा. मगर उसके बार बार कहने पर मैंने एक ऑटो वाले से बात की और उसने हमें एक पास के ही होटल में छोड़ दिया. बात के दौरान मैं उसकी अन्दर की जिस्मानी प्यास को समझ चुका था और मैं पहल करने की हिम्मत जुटा रहा था.

अगर मैं उसकी गांड पर लंड रगड़ने में थोड़ा सा भी शिथिल पड़ता तो शुभ्रा अपनी गांड हिला-हिलाकर मेरे लंड से रगड़ने लगती. मुझे उसके मुलायम-मुलायम मम्मे दबाने में बहुत मजा आ रहा था और उसको मेरे लंड के खोल को खींचने में.

मेरी इज्जत जो मेरी चूत के साथ ही नंगी हो गयी थी अब मैं कुछ नहीं कर सकती थी क्योंकि मेरी चूत को तो उस ठरकी प्रिंसीपल ने देख ही लिया था.

दो चार धक्के लगाये कि मेरे लंड से भी गर्म गर्म लावा निकल कर सीमा की चूत में गिरने लगा. मेरी गलती थी कि यदि मैं नेहा की शरीर की जरूरतों का प्रबंध कर देती तो आज ये रोहित हमारे लिए मुसीबत नहीं बनता. दोस्तो, अब तक की सेक्स कहानीहॉस्टल की सेक्सी लड़की की मस्त चुदाईमें आपने सुधा के संग मेरी चुदाई का मजा लिया था.

इंग्लिश सुदा सुदी वंश को दूल्हे के रूप में देख के लग रहा था कि इससे एक बार अभी ही चुद जाऊं, उसके बाद शादी करूं, पर वंश ने मेरी भावनाओं को समझते हुए मुझे रोक लिया. मैंने नाश्ता खत्म किया और वो पानी का गिलास ले कर मुझे देने ही जा रही थी कि उसका हाथ मेरे हाथ से टकरा गया.

जब थकान कुछ कम हुई तो उसके चूतड़ के नीचे दोनों हाथों से ऊपर लाता और वापिस छोड़ देता. तुम जल्दी से मेरी चूत की चुदाई शुरू कर दो जानू …वो बोला- तुम हो ही इतनी सेक्सी, तुम तो बिल्कुल रंडी लगती हो मुझे. मुझे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, लेकिन मैं फिर भी सोने का नाटक किये पड़ी हुई थी.

डॉटर्स डे

मैंने साबुन लिया और भाभी के बोबों और चूत पर साबुन लगा कर साबुन किनारे रख दिया. … अपना पानी मुझे पिला दे आज।दस मिनट तक और मैंने उसकी चूत को जमकर चोदा और फिर मेरा पानी निकलने को हो गया. वो हांफती हुई एक तरफ लेट गई और उसके चूचे उसकी छाती पर ऊपर नीचे हो रहे थे.

जवान लड़की की चूत की कहानी आपको कैसी लग रही है?लड़की की चूत की कहानी जारी रहेगी. भाभी ने मेरी लोअर के ऊपर से मेरे लंड को किस करते हुए मेरी ग्रे रंग की लोअर को पूरी गीली कर दिया.

बस तुम तैयार रहना उसके स्वागत के लिए!थोड़ी असमंजस में रकुल- ओके जान। बस थोड़ा डर है कि कहीं कुछ गलत न हो जाये.

इस तरह की बातें करते हुए पता नहीं कब हल्की रोशनी के साथ पौ फटने लगी, ध्यान ही नहीं रहा. मैंने भी बोला- यार बहुत दिनों से तेरी गांड नहीं मारी थी, इसलिए ये हुआ. मुझे पता नहीं क्या हो गया था भाभी की बात सुनकर कि मेरे अंदर की हवस जाग गई थी.

पर ये बात मेरे और तुम्हारे बीच रहेगी, सो तुम इस बात को लेकर हमेशा बेफिक्र रहना कि तुम्हारा राज हम दोनों का राज रहेगा. मैं मम्मे मसल रहा था, मुझे ये राधिका लग रही थी, इसलिए मैं एक पल के लिए रुक गया. पर चूत चपटी और लंड लम्बा होता है, तो लंड से निकलने वाली धार दूर तक मार कर रही थी.

फिर उसके भगनासा पर अपनी जीभ चलाते हुए उसकी फांकों को भी चाटता और उसके अनारदाने को चुटकियों से मींजते हुए अपने लंड को भी मसल देता.

देसी औरत के बीएफ: अब आगे:राधिका ने अपना गिलास खाली करते हुए कहा- सोनल, अब तुम अपने भाई का लंड चूसो. जैसे ही मैं सीधा खड़ा हुआ तो मैंने पाया कि वसुन्धरा ने अपनी आँखें कस के बंद कर रखी हैं और उसकी साँसों की गति अस्त-व्यस्त है.

यह शहर का सबसे अच्छा सिनेमा हॉल था। मैं उसके साथ पहले भी यहाँ आ चुका हूँ। यहाँ भीड़ काफी कम होती है. एक दूसरे को किस करने के बाद बांहों में बांहें डाल कर सो से गए और आराम करने लगे. उसके बाद मैंने साना को नीचे लेटा दिया और उसकी चूत पर लंड को रख कर रगड़ने लगा.

नीचे की तरफ उनका लंड मेरी चूत के आस-पास रगड़ खा रहा था और चूत से बार-बार टकरा रहा था.

मौसी की लड़की सुजीना की मंगनी थी और उसी के फंक्शन में हम वहाँ पर गये हुए थे. फोन पर ही हमने सेक्स की बातें की।और जब भी छुट्टियाँ शुरू होती थी तो हम साथ आकर अपनी सेक्स की प्यास बुझाते थे।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी चाची और गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स की कहानी? मुझे जरूर बताएं।और मुझसे गलती से कोई भूल चूक हुई है तो माफ करना। मेरी कहानी जरूर पढ़ते रहना। और अगर आपको सेक्स स्टोरी पोस्ट करने में कोई परेशानी या झिझक हो रही हो तो मेरे मेल पर बात करें, मैं आपकी मदद जरूर करूँगा. उन्होंने मेरे दोनों हाथों को पीछे ले जाकर अपने हाथ से पकड़ लिया और दूसरे हाथ से फिर मेरी चूत को छेड़ना शुरू कर दिया.