बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो

छवि स्रोत,ننگی فلمیں

तस्वीर का शीर्षक ,

जरीन खान की सेक्सी फिल्म: बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो, मैं समझ गया कि ये अब अपनी चूत दे देगीं।चाची ने लण्ड को लॉलीपॉप जैसे चूसना चालू कर दिया। मेरे लण्ड का पूरा सुपारा उनके मुँह में था। मेरा मन कर रहा था कि धक्का मार कर पूरा लण्ड मुँह में डाल दूँ.

मराठी व्हिडिओ सेक्सी बीपी

अल्मारी में नील के कपड़े हैं पहन लो और ड्रावर में निक्कर है।मैं संजय की बात को स्तब्धता से सुन रहा था… मुझे लगा यहाँ से संबध बनाने के लिए वे दोनों आगे बढ़े होंगे।‘फिर?’संजय- फिर मैंने तुम्हारे कपड़े लिए और बदलने के लिए बाथरूम की ओर जाने लगा।तब भाभी बोली- रुको. नर्स बीएफपर उसने कुछ नहीं कहा।यह देखकर मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने अपने दोनों हाथ उसके कंधे से ले जाकर उसके दोनों संतरे जैसे मम्मों पर रख दिए.

पूरी रात में उन दोनों ने मुझे 2 बार गांड में और 6 बार चुत में डाल कर चोदा. गांड विडिओतो मुझे भी घबराहट हो रही थी कि पहली बार 7 इंच का लंबा और मोटा लंड अन्दर ले रही हूँ बहुत दर्द होगा।उसने फिर से मेरे होंठों को अपने होंठों में भर लिया.

सब ठीक हो जाएगा।उन्होंने डॉक्टर से सारी बात कर ली और हम सबको घर जाने के लिए कहा।पहले तो हम कोई भी घर जाने को तैयार नहीं थे.बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो: अभी तो पिक्चर शुरू हुई है।फिर दोषी (दुष्यंत को चुदते वक्त मैं दोषी कहती थी) ने भी अपनी पैंट की जिप खोल दी। उसका गदहे जैसा लंड जैसे ही बाहर आया.

जो नए पाठक हैं, उनको बता दूँ मेरा नाम कविता है और मैं गुड़गाँव से हूँ.इस ब्रा में सिर्फ निप्पल पर ढक्कन होता है बाकी सब डोरियों से कसी रहती हैं.

सनी लियोन का सेक्सी वीडियो एक्स एक्स - बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो

मेरे मुंह से सिसकारियाँ निकल रही थी ‘आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उम्म्ह…’ और जीजू मेरी चूत को चोद रहे थे.अंकल-आंटी कहीं सात दिन की यात्रा पर मुंबई गए थे। अब हम लोगों को तो मानो खजाना मिल गया हो.

यह सुनकर रेवती तकिये के कवर को हाथ में लिए खड़ी की खड़ी रह गई और मुझे देखने लगी. बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो मैंने अपने हाथों से उसकी पेंटी निकाल दी और उसको चूमते चूमते मैं नीचे की तरफ बढ़ने लगा.

’ ये कहते हुए मेरी चूत पर चाचा ने दो कड़क शॉट लगाकर लण्ड को बुर से खींच लिया और अंधेरे में गायब हो गए।इधर जेठ जी मेरे करीब आ चुके थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो?

रंग भी गोरा है और हमेशा साड़ी पहनती हैं।सुधा- ठीक है मैं अभी 2 घन्टे में आऊँगी. हालांकि मुझे भी ऐसा लगता था कि यदि लड़के मुझ पर कमेन्ट पास नहीं करेंगे, तो मेरा सजना संवारना बेकार है. पर मेरी बुर चुदने के लिए फूल के कुप्पा हो रही थी। मैं कुछ देर यूँ ही चूत और चूचियों से खेलती रही।लेकिन मेरा मन शान्त होने के बजाए भड़कता रहा और मैं एक बार फिर से डिसाईड करके बुड्ढे से चुदने के लिए छत पर चली गई।पर छत पर कोई भी नहीं था.

मेरे साथ बने रहिए।आप अपने ईमेल जरूर लिखिएगा।कहानी जारी है।[emailprotected]पोर्न स्टोरी का अगला भाग :लेस्बो मकान-मालकिन की चूत की प्यास -2. मेरी पत्नी ने मुझे इशारा किया कि आप इसको थोड़ा छेड़ो तो सही!मैंने धीरे से उसके पेट पर हाथ लगाया उसने कोई विरोध नहीं किया. तूने जो करना है मेरे सामने कर!अपने दादा जी के सामने विकास कुछ भी बोल नहीं पाया और वो अपनी पैंट और अंडरवियर उतार कर मेरे पास आक़र लेट गया.

मधु की चूत फिर से पनियाने लगी और वो जोर जोर से मेरा लन्ड पकड़ के मसलने लगी और बड़ी ही कामुक आवाजें निकालने लगी. प्रिया ने अपने होंठों को दांतों से भींच लिया और एकदम से मेरे लंड पर बैठ गयी, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चुत में उतर गया और प्रिया के मुँह से ‘आअह्ह्ह् … मर गई मम्मीईई …’ की एक जोरदार कराह फूट पड़ी. पर उम्र में ज़्यादा फ़र्क ना होने की वजह से हम दोस्तों की तरह ही रहते थे और बातें करते थे।वो देखने में पूरी मस्त माल थी और उसकी फिगर 34-26-34 थी.

वो झुक कर झाड़ू लगा रही, जिससे उसके गहरे गले वाले कुरते में से उसके हिलते हुए मम्मे दिख रहे थे. मैं तो कभी सपने में भी नहीं सोच सकता था कि ऐसा कभी होगा।फिर हम दोनों फ्रेश होकर एक-दूसरे से लिपट कर सो गए।[emailprotected].

मुझे तैयार होते देख कर ही मेरे वो लवर केयर टेकर का तो लंड एकदम से खड़ा हो जाता था.

वापिस घर पहुँचने पर …भाई ने एक्सायट्मेंट में पूछा- कैसी थी?मैं- ऐश्वर्या जैसी आँखें हैं यार … तो रिश्ता फ़िक्स या अभी नहीं?भाई- फ़िक्स फ़िक्स फ़िक्स …शादी की तारीख़ एक साल बाद की रखी गयी.

इसी तरह से चूमाचाटी के बाद एक दूसरे के अंगों को टच करने का सिलसिला भी चल पड़ा था. खैर, सबको खाना खिलाने और साफ-सफाई करने के बाद शीतल नहाने के लिए बाथरूम में घुस गयी, दोनों लड़के हॉल में बैठकर टीवी देख रहे थे. फिर मैंने उसे इसके लिए थैंक्स कहा, तो वो बोली- पागल हो … इतने दिनों में आये हो … ऐसे कैसे जाने देती.

मगर सन्नी जैसे चालाक आदमी से वो जीत थोड़े ही सकती थी। वो ठहरा एक नंबर का कमीना आदमी. वो अभी इसके लिए छोटी है।मैंने कहा- नहीं उसका जिस्म पूरा गदराया हुआ है. मैंने उसे अपने गोद में उठाया और खड़े होकर अपने तने हुए लौड़े को उसकी चूत में पेल दिया.

उन्हें मजा आने लगा और साथ ही वह गांड उचका उचकाकर मेरा साथ देने लगीं.

तो मैं आपको देख कर चकित रह गई थी और तभी मैंने यह सोच लिया था कि मैं अपनी प्यास आप से ही बुझवाऊँगी।इतना कह कर वो मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगी- प्लीज़ मना मत करो. आप लोगों को तो पता ही होगा कि भाभियों के हँसी-मज़ाक वगैरह सब चलता रहता है. उसके उन गोल चूतड़ों पर एक तिल तक नहीं था।वो झुककर बाल्टी से पानी निकालने लगी.

लौड़े को जन्नत का आनन्द प्राप्त हो रहा था। मैं लगातार स्वाति की चूत में धक्के लगाता जा रहा था और उसकी हिलती हुई चूचियों को देखकर पागल हो रहा था।मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि स्वाति जैसी अप्सरा मेरे नीचे मेरे लौड़े से चुद रही है। मेरा मन तो कर रहा था कि उसकी चूत को चोदता ही रहूँ. गुलाबी होंठ … उस पर इसकी गुलाबी लिपस्टिक आँखों में काजल उसकी सुंदरता पर चार चाँद लगा रहे थे. जैसे ही मैंने दो उंगलियां डाली, सट से वन्द्या की चूत में घुस गई। इसकी चूत से रस भी बहुत निकल रहा है पर बहुत टेस्टी और अलग ही तरह की सुगंध है.

फिर सुबह 5 बजे वहां से निकलने लगा तो उसने अलमारी से 4000 रुपये निकाले और वो मुझे देने लगी.

ठीक वैसा ही उसने किया। करीब 15 मिनट के बाद उसने पैर को ऐसे मोड़ा कि उसकी स्कर्ट उसके घुटनों से बहुत ऊपर हो गई और उसकी पैन्टी मुझे साफ़ दिखने लगी।मैं तो जानता था कि जैसा चैट करते समय मैंने उससे कहा था. उसके होंठ देख कर लगता है कि उसे लिपस्टिक लगाने की ज़रूरत ही नहीं है और उसकी छाती संतरों के जैसे फूल चुकी है.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो उस कमरे के आखिरी कोने में हम दोनों बैठ गए।अअन्धेरे और कोहरे की वजह से वहाँ हमें कोई नहीं देख सकता था।हम दोनों ने इससे पहले कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था. क्योंकि एशियाई लोग अमरीकियों के मुकाबले शारीरिक रूप से छोटे होते हैं.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो बाकी दो ने पैर पकड़ लिए। अब वो पूरी तरह से तड़प रही थी।मेरे कमीने दोस्त कहाँ रुकने वाले थे।उसने और एक जोर का झटका मारा और इसी के साथ उसका 9 इंच का लण्ड पूरा अन्दर चला गया।सलोनी की गाण्ड ‘छप छप’ करके बजने लगी। अब उसकी गाण्ड ज़ोर-ज़ोर से बजनी चालू थी। उसे भी अब मज़ा आ रहा था। करीब 30 मिनट तक सबने सलोनी की गाण्ड मारी. मैं दिल्ली से हूँ और अन्तर्वासना की कहानियाँ रोज़ पढ़ता हूँ मैं 25 का जवान हट्टा-कट्टा मर्द हूँ.

मैं भी तुम सबसे चुदवाना चाहती थी।पप्पू बोला- ये तुम्हारी कौन सी बार की चुदाई थी.

सेक्सी फिल्म लड़की के साथ

परन्तु असल में चुदने के लिए रेडी है और वो खुद भी ऐसा चाहती है।तभी गीत चाय लेकर आ गई. फिर अपनी गुलाबी पैन्टी नीचे की। उनकी जाँघें देख कर तो ऐसा लगा कि अभी जा कर उसे चूम लूँ।भाभी अब मूतने लगी थीं. मैंने उसकी कमर से हाथ फेरते हुए उसकी ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा.

तो ऐसा ही होता है।मैंने पूछा- मेरा जन्मदिन का गिफ्ट कहाँ है??उसने शरमाते हुए मेरे दोनों हाथ अपने जवां कबूतरों पर रख दिए। आग दोनों तरफ लगी हुई थी. गीत को शायद मेरा इस तरह करना अच्छा लगा। जब उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की. तो वह मुझे प्यार से सहलाने लगा। मैं पलटा और उसकी तरफ पीठ करके लेट गया। धीरे से मैंने अपने कूल्हे उससे सटा दिए। उसने मुझे बाँहों में भर लिया और मुझे सहलाने लगा। मैंने धीरे से अपनी लुंगी ऊपर को की.

अब मादक सिसकारियों में बदल गई थीं।मैंने सोनी की चुदाई करने की स्पीड बढ़ा दी और सोनी की सिस्कारियां पूरे कमरे में गूँजने लगीं, फिर मैंने फुल स्पीड से चुदाई की।अभी 5 मिनट ही हुए होंगे.

वहां तीनों चिपक चिपक नहाये और प्रीति आंटी की चूत और गांड को फिर चोदा. मैंने जीजू से कहा- कोई बात नहीं!और उसके बाद शाम को हम दोनों लोग घर में अकेले थे. सुबह रीतिका करीब 5 बजे मुझे जगाने आई तब मैंने दरवाजा खोला तो रीतिका नाईटी में थी.

मैं घबरा गयी क्यूँकि मेरा पति बाहर बैठा हुआ है और विकी नंगा मेरे रूम में है. मैं खिड़की पर जा कर देखने लगा, भैया भाभी को किस कर रहे थे और बूब्स दबा रहे थे. लेकिन फिर भी नहीं घुस पा रहा था।मैं जाकर वैसलीन ले आया और गाण्ड और लंड पर लगा कर उसे बिल्कुल चिकना बना दिया और गाण्ड के छेद पर लंड को रखकर धीरे अन्दर पेलने लगा।मेरा लंड धीरे-धीरे गाण्ड की गहराई में ड्रिल करता हुआ घुसता जा रहा था, अनु तड़पती जा रही थी।लण्ड करीब आधा घुस चुका था.

और मेरे साथ एंजाय कर सकें।एक बार हमेशा की तरह मैं काम से पुणे गया और वहाँ पर एक होटल में रूम लिया।जब वेटर मेरा सामान रखने आया. बस एक बात थी कि मैं अपनी फैमिली की आर्थिक जरूरतों कैसे पूरा करूँ। मैं आगे भी बढ़ना चाहती थी।आज कल मॉडल्स और हीरोइन्स भी तो प्रोग्रेस पाने के लिए अपना जिस्म दूसरे को सौंप देती हैं.

प्राची ने मुझसे पूछा कि मैं वापस कब आऊंगा तो मैंने कहा 5 से 6 दिन में!तो उसने भी बताया कि वह भी जल्दी ही आ जाएगी।इस तरह कब हम एक दूसरे के इतने करीब आ गए कि हमें पता भी नहीं चला. लेकिन उसे रोका। मैं जानता था कि वो मुझसे बहुत डरता है और जो कहूँगा वो करेगा।सो मैंने उसे एक गणित का सवाल दिया और कहा- अगर उसने सही किया तो उसे इनाम दूँगा और ग़लत किया तो पनिशमेंट मिलेगा।मैं जानता था कि यह लड़का मेरे काम तभी आएगा. ठीक है मैं तुम्हें भाई-बहन की कुछ कहानी भेज रहा हूँ। तुम उसे पढ़ लो.

आआआह मम्मी मर गईई… आह आह ओफ्फ ओह प्लीज मैं आपके पैर पकड़ती हूँ… इसे बाहर निकाल लीजिए…” मेरी आँखें आँसू से भर गई थीं और मैं छूटने की प्रयास कर रही थी.

फिर मैं साड़ी पहन कर गई और ऊपर ही उनके रूम में मैंने उनके लिए खाना बनाया. मगर तभी ‘उऊऊह … ओओययय …’ जोरों से चीखते हुए प्रिया ने अपनी पूरी ताकत से मुझे धकेल‌कर अपने से दूर कर दिया. तभी मज़ा डबल होगा।इतना कहकर सन्नी ने लौड़े को चूत पर रखा और एक ज़ोर का धक्का मार दिया पूरा 8″ का लौड़ा सरसराता हुआ चूत में समा गया।निधि- आइई.

जब उन लोगों ने मुझसे बातचीत शुरू की और हमने एक दूसरे को जाना, तब से मुनीर मुझसे मिलने का प्रार्थना कर रही थी. क्योंकि मैंने आज तक संजय के अलावा और किसी का लंड नहीं पकड़ा था।मैंने लंड की मसाज शुरू कर दी.

जैसा कि आपने पिछली कहानी में पढ़ा था कि कैसे विकी ने मुझे मसाज़ देते हुए मेरे साथ सेक्स किया. पता नहीं इस बार मेरी वो घिन और जो बात मुझे गंदी लग रही थी, वो कहां चली गयी. मैं तुम्हारी हर बात मानूँगी।सुधा- लेकिन तुम्हारी मम्मी और तुम्हें ‘कम्प्रोमाइज’ भी करना पड़ सकता है.

सेक्सी पोर्न वीडियो डाउनलोड

अभी तो सुपारा ही अन्दर गया होगा, लेकिन वो दर्द से से रोने लगी- ऊऊह … ये क्या कर रहे हो प्लीज बाहर निकालो … ओह्ह … मुझे बहुत दर्द हो रहा है!मैंने लंड को निकाला नहीं … कुछ देर उसको प्यार करने लगा.

बिना समय बर्बाद किये, मैं उसे अन्दर कमरे में ले गया, जहां संदूक रखा था. चूत को चौड़ी करके चूत के छल्लों को गोल-गोल घुमा कर जीभ से चाटने लगा।जैसे-जैसे मेरी जीभ उसकी चूत के अन्दर गुलाबी वाले हिस्से में गई. उन्होंने नीचे गुलाबी रंग की पैन्टी पहनी हुई थी।वो मेरी छत की ओर मुँह करके मूतने के लिए बैठ गईं।मैंने जब ये देखा तो मेरा लंड तुरंत खड़ा हो गया।तभी मुझे मम्मी ने आवाज लगाई और मैंने उनको ‘अभी आया.

ये मेरे जीवन का एक सच है।उसके साथ फिर कभी कोई घटना होगी तो फिर लिखूंगा. तो मेरी नजर उनकी हरकतों पर पड़ी और उस दिन मेरे मन में कोमल के प्रति सेक्स करने की इच्छा करने लगी. ब्लू पिक्चर बफ हिंदीपर मेरा मन नहीं था।उसने खुद मुझे अपनी बाँहों में जकड़ा और धक्के मारने लगा। इस बार भी पहले ही मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया था और वो मुझे पेलता रहा था।करीब 5 मिनट बाद वो भी झड़ गया।मैं निढाल हो कर बिस्तर पर ही गिर गई। करीब सुबह के 6 बज रहे थे मेरी आंख खुली.

वैसे तो ये कहानी बहुत पहले से ही शुरू हो चुकी थी जब मम्मी और पापा की चुदाई देख कर मेरा चुदाई करने का मन होने लगता था. बाद में मुझे कॉल करके बुला लेना।और वो दूसरे कमरे में चला गया।भाभी मेरे पास बिस्तर पर बैठी थी। मुझे लग रहा था कि वो मुझसे शरमा रही है।मैंने उनसे बात करना स्टार्ट की। मैंने सबसे पहले उनका नाम पूछा.

?अब निधि एक अनजान आदमी के सामने कैसे सब साफ-साफ बता देती कि उसकी भाभी को वो चोद रहा था और वो देखकर मज़ा ले रही थी।निधि- व्व. लेकिन अब सारी आवाज़ मेरे मुँह में दब गई थी। उधर ट्रेन छुक-पुक कर रही थी. तब आपकी खिदमत में पेश करूँगा।आपके इमेल का इन्तजार है।[emailprotected].

लंड चूत के अन्दर ही डाले हुए दादा जी ने कुछ देर के बाद मुझे पीछे को करते हुए बेड पर लिटा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गए. वो उठी और बेड पर टांगें फैला कर लेट गई और मुझे ऊपर आने का इशारा करने लगी. कमर के निचले हिस्से पर एक तिल था।मैं पूरी पीठ और उसके कान पर किस करने लगा और मेरे हाथ उसके मम्मों को पूरी तरह जकड़े हुए थे। फिर वो पलट गई अब उसका हाथ मेरी कैपरी के अन्दर जाने लगा.

यदि मंजूर हो तो आगे बात करेंगे।वो बोली- क्या?मैं बोला- ये बात किसी और के सामने नहीं आनी चाहिए और दूसरी तुम मुझे उस दौरान किसी बात के लिए रोकोगी नहीं।वो मान गई.

ये कहते हुए मैंने उसको होंठों पर एक किस कर दी और संजय ने भी उसकी गाल पर किस कर दी।वो ‘थैंक्स’ कहती हुई साइड में हुई और बोली- अरे वहीं रुको।मैंने कहा- डार्लिंग. पहला भाग:मेरी बीवी पांचाली-2एक बोला- अरे यार इतना हसीन मौसम (रीना) है, और तू इस बेकार से मोबाइल में क्या झांक रहा है।वो बोला- अरे यार मौसम (रीना) बहुत हसीन है, हसीन क्या सेक्सी मौसम (रीना) है। मगर मैं तो इस माहौल को थोड़ा और रंगीन बनाना चाहता हूँ। इस लिए ये देख रहा हूँ.

और हम दोनों साथ में ही झड़ गए। फिर कुछ देर में मेरा लंड उसकी चूत में वैसे ही डाल कर पड़ा रहा।हम दोनों एक-दूसरे से चिपक कर सोए रहे।कुछ देर बाद वो मेरे लंड के साथ खेलने लगी, हमने फ़िर से सेक्स किया, उस दिन हमने 4 बार सेक्स किया।उसके बाद फ़िर हम दोनों शाम को मुंबई घूमने चले गए।हम मरीन ड्राइव पर बैठे रहे. कुछ दिनों के बाद उन्होंने मुझसे फिर से संपर्क करने का प्रयास किया तो मैंने भी उत्तर दे दिया. लेकिन अगले दिन जो हुआ जिसके बारे में मैंने कभी सोचा नहीं था।मैं सो रहा था.

मुझे बहुत चुदवाना है, मैं जब तक यहाँ हूं तब तक तुम लोग जमकर चोदते रहना. अब मैंने अपनी पूरी ताकत से लंड की चोट मारी और ज्योति की चूत में पूरा लंड एक बार में ही उतार दिया. जो लड़कों के लण्ड को खड़ा करने वाली और लड़कियों की भोसी (योनि) में पानी निकालने वाली है।मैं बारहवीं कक्षा में पढ़ता था, मेरे साथ में सितारा नाम की लड़की पढ़ती थी।क्या मस्त जिस्म था.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो आप लोगों ने मेरी मसाज़ बॉय सेक्स कहानीमसाज़ बॉय से घर पर चुदाई का मजाको पढ़ा और पसंद किया, उसका बहुत बहुत धन्यवाद. पर जेठ का लण्ड अब भी मेरी चूत को ‘भचाभच’ चोद रहा था।जेठ मेरे छातियों को मसकते हुए मेरी फुद्दी की अपने लण्ड से ताबड़तोड़ चुदाई करते जा रहे थे, मेरी झड़ी हुई चूत में जेठ का लौड़ा ‘फ़च-फ़च’ की आवाज करता मुझे चोदता जा रहा था।तभी जेठ सिसियाकर बोले- बहू मेरा लण्ड भी.

आदिवासी हिंदी वीडियो सेक्सी

कुछ देर बाद ज्योति अपने शरीर को ऐंठते हुए बोली- मेरा होने वाला है राजा … आह … मैं गई …यह बोल कर वो झड़ने लगी. सो मैं तैयार हुआ और निकल गया। बाहर ही मुझे ऑफिस से फोन आया कि अर्जेंट काम है तो मैं होटल वापस आया और अर्जेंट्ली निकलने लगा।वो लड़का मेरे पास आया और चिपकने लगा तो मैंने उससे कहा- अभी नहीं. अंकित वहाँ से उठा और जो बाकी के दो कमरे थे, दोनों में गया, देखा पर जब वहाँ दोनों कमरों में कोई ना कोई एक या दो लोग सोए हुए थे तो लौट के आ गया और बोला कि कमरे में तो जगह नहीं है, इसे यहीं कर लीजिए मैं देखता रहूंगा.

तो मैंने देखा वो जाहनवी थी और उसने मुझे ‘गुड मॉर्निंग’ किस किया था. क्योंकि एशियाई लोग अमरीकियों के मुकाबले शारीरिक रूप से छोटे होते हैं. बीएफ फिल्म बुर की चुदाईउसको देखते ही मुझे लगा कि कोई जन्नत की हूर हो।मैं उसे देखते ही रह गया.

संतोष अपने कमरे में नहीं था, मैं बाथरूम से आती आवाज सुनकर बाथरूम की तरफ चली गई और ध्यान से आवाज सुनने की कोशिश करने लगी शायद अन्दर संतोष कुछ कर रहा था। यह देखने के लिए कि वह कर क्या रहा है.

वो झिझकते हुए बिस्तर के किनारे पर बैठ गया।मैंने अपना ड्रिंक बनाया और ड्रिंक करने लगा।वो बात करने में ज़्यादा इंट्रेस्टेड नहीं था. जब मैं इन्जीनियरिंग के अंतिम साल में था और किराए पर दो कमरे का फ्लैट लेकर रहता था.

प्लीज मुझे गुदगुदी होती है।मैंने वहाँ से हाथ हटा लिया और उसके पेट पर और मम्मों को चूमने लगा। वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी।फिर उसने कहा- अब रहने दो और ऊपर आ जाओ।फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसे समझाया- पहले थोड़ा दर्द होगा सहन कर लेना।रेणु ने कहा- हाँ. तो लड़के मेरी गाण्ड और मम्मों को देख कर आहें भरते थे।लेकिन मैं पढ़ने में लगी रहती थी। मेरी शादी 24 साल के होने पर हो गई थी।यह बात तब की है. उसकी आंखों से आंसू निकल आये।मैं थोड़ी देर तक उसको प्यार करता रहा जब उसका दर्द कम हुआ तो उसने अपनी गांड उठा-उठाकर मेरा लंड अपनी चुत में लेने लगी।करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद वो एक बार फिर से झड़ गयी पर मेरे लंड ने अभी तक हार नहीं मानी थी तो मैंने उसे चोदना जारी रखा करीब 10 मिनट बाद जब मेरा होने वाला था तो मैं प्राची की चुत में ही झड़ गया और उसके ऊपर लेट गया और वो मुझे बेतहाशा चूम रही थी.

ऐसे लोग जो बिल्कुल ज़िंदगी से हार जाते हैं और जो अपनी ज़िंदगी में अपनी कोई भी इच्छा पूरी नहीं कर पाते। ऐसे लोग भी ऐसा सेक्स चाहते हैं। वैसे ब्रूटल सेक्स की बहुत ज़्यादा ब्लू-फिल्म देखना भी एक कारण है।फिर उसने कहा- अब तू खुद सोच कि तेरे पति के साथ कौन-कौन सा रीज़न है जितने ज़्यादा रीज़न होंगे.

तो वो हाँ शिफ्ट हो गए और भाभी यहाँ अकेली रह गईं।उनके साथ में उनकी बूढ़ी सास रहती हैं।एक दिन हुआ यूँ कि मैं हमेशा की तरह भाभी के घर में बैठ कर टी वी देख रहा था। ठंड होने के कारण सब दरवाजे और खिड़कियाँ बंद थीं. प्रिया मेरा इशारा समझ गयी थी, इसलिए उसने एक ही झटके में अपनी पेंटी को उतार फैंका और बिना कुछ कहे चुपचाप मेरे सिर के दोनों तरफ पैर करके अपने घुटनों के बल ऐसे बैठ गयी कि उसकी गीली चुत सीधा ही मेरे मुँह पर लग गयी. हम दोनों रोजाना चुदाई करते थे और उसके बाद जब भी मौका मिलता है हम उसे गंवाते नहीं हैं। अब चाची को 2 बच्चे भी हो गए हैं.

मोटी आंटी की गांड मारीउसके बाद संतोष ने उसकी जम कर चूत मारी और वीर्य उसकी चूत में ही छोड़ा।इसी तरह मेरे सभी 6 दोस्तों ने जम कर उसकी चूत मारी।सलोनी भी लगभग 9 बार झड़ चुकी थी. ’ मैंने कहा।‘तो अभी क्या कुंवारी हो तुम? आज तक स्वेपिंग में कितनों का तो ले चुकी हो.

सेक्सी वीडियो फोटो चाहिए

दादा जी ने मुझे करीब बीस मिनट तक चोदा और फिर मेरी चूत के अन्दर ही उन्होंने अपना लावा छोड़ दिया. तो मुझे भी जोश चढ़ने लगा और मेरे लण्ड से पानी बहने लगा।वो समझ गईं कि मैं गर्म हो गया हूँ और झड़ने वाला हूँ।तो उन्होंने कहा- जल्दी से अपना पैन्ट उतारो।मैंने कहा- क्यों?तो उन्होंने खुद ही मेरा पैन्ट उतार दिया और जल्दी से मेरे लण्ड को अपने मुँह में लेकर हिला कर चूसने लगीं।मुझे भी बहुत मजा आने लगा. इधर एक तो उनकी चिकनी सलवार और ऊपर से उनकी चूत भी गीली हो चुकी थी, पर मैंने अपना काम जारी रखा.

मेरा लंड बिल्कुल फटा जा रहा था।मैंने उससे कहा- इसे भी उतार फेंको जानू. मैंने रिया को गांड मरवाने के लिए कैसे राज़ी कर लिया, ये मैं आपको अपनी अगली चुदाई की कहानी में लिखूंगा. दोनों से एक साथ चुदवाने से प्रीति आंटी जोश में आ गईं और गौरव को अपनी बांहों में जकड़ लिया.

मुझसे भी ज्यादा देर ऐसे खड़े नहीं हुआ गया और अब मैंने उसे अपने पसंदीदा पोज़ में आने को बोला. चुदाई के बाद मैं झड़ गया और हम दोनों ने थोड़ी देर के लिए रेस्ट किया. तो वह मुझे प्यार से सहलाने लगा। मैं पलटा और उसकी तरफ पीठ करके लेट गया। धीरे से मैंने अपने कूल्हे उससे सटा दिए। उसने मुझे बाँहों में भर लिया और मुझे सहलाने लगा। मैंने धीरे से अपनी लुंगी ऊपर को की.

’ की आवाजें निकल रही थीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसकी चूचियाँ इतनी जोर से मसलीं कि वे लाल हो गईं और फिर मैंने उसकी बुर में हाथ लगाया और अपना हथियार उसकी बुर में पेलने लगा।मुझे ऐसा लग रहा था कि वो पहले कहीं चुदवा चुकी है. पीछे की बाकी है।कोमल- सर आज तक मैंने पीछे से नहीं मरवाई है।मैं- आज मारूँगा.

अन्दर कमरे में डैड ने मॉम को कपड़ों के ढलान से टिका लिया था और मॉम अपने बालों को दबने के चक्कर में अधलेटी सी उचक उचक कर लंड पर झूल रही थीं.

पर हमारे पड़ोसी यानि कि मेरे मुँहबोले जीजाजी ने सब कुछ सम्भाल लिया।हम सब लोग अस्पताल में थे और डॉक्टर से मिलने के लिए बेताब थे।डॉक्टर ने पापा को चैक किया और कहा- उनके रीढ़ की हड्डी में कुछ परेशानी है और उन्हें ऑपरेशन की जरूरत है।हम लोग फ़िर से घबरा गए और रोने लगे।जीजाजी ने हम लोगों को सम्भाला और कहा- चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. इंडियन आंटी बीएफ सेक्समेरी गांड की खुजली भी मिटने लगी थी इसलिए मैंने अपनी गांड को हल्के हल्के हिलाना शुरू कर दिया. एन एक्स बीएफ वीडियोमैंने उसकी चूत पर अपने होंठ रखे और चूत के ऊपरी हिस्से को चाटने लगा। कोमल मेरी जीभ को अपनी चूत से हटाने की कोशिश कर रही थी. फिर जींस को उतार फेंका। फिर एक ही झटके में ब्रा उतार दी और पैन्टी को पैरों के नीचे ला दी.

मेरा नाम अम्मू है, मैं पंजाब के संगरूर ज़िले का रहने वाला हूँ, उम्र चौबीस साल है.

मैंने पूछा- वहाँ से क्यों आ गई?रीतिका बोली- दीदी, उन्होंने पूरी रात सोने नहीं दिया!तो मैं हंस पड़ी. वो ज़ोर ज़ोर से हँसने लगी और बोली- सच ही बोल रहे थे तुम, कुछ नहीं किया होगा, एक हग से यह हाल है … तो आगे क्या करोगे?उसकी यह बात सुन कर मेरा हौसला बढ़ गया. तभी एक दिन अचानक भैया का कॉल आया कि वो और भाभी कहीं शादी में जा रहे हैं और घर में छोटी मामी और दोनों भतीजी लोग हैं.

लण्ड को तेल लगा कर खड़ा रखा और उसके आने का वेट करने लगा।ठीक 11 बजे का टाइम दिया था. लेकिन कभी मौका मिलने पर कर लेंगे।इतना कहती हुईं वो मेरे ऊपर से उठीं और खींच कर मेरा पायजामा चड्डी के साथ ही उतार दिया. वो चिल्ला रही थी, लेकिन मैं बिना परवाह किए, उसकी गांड को चोदे जा रहा था.

सेक्सी हिंदी में जानकारी

जिसमें मेरा लण्ड फूला हुआ दिख रहा था और ऊपरी हिस्सा फ्रेंची के बाहर आ रहा था।दोस्तो, काफी समय के बाद मैं अपने लण्ड में इतना कसाव और कड़ापन देख रहा था। ममता ने मुझको इस हालत में देख कर शर्म से अपनी आँख ढक लीं।मैंने धीरे से उसके हाथों को उसकी आँखों से हटाया और फिर उनको अपनी फ्रेंची के ऊपर रख दिया।उसने तुरंत हाथ हटा लिया. आप जल्दी जा रहे हो क्या? बस दो मिनट रुकिए, मैं चाय लेकर आती हूँ।मैंने सोचा अन्दर जाने से अच्छा यह है कि बाइक के पास ही रुका रहूँ।मैं नीचे बैठकर बाइक के टायर साफ़ कर रहा था उतने में स्वाति भाभी चाय लेकर आ गईं।मैंने कहा- नीचे रख दीजिए. क्योंकि जो कुछ मैंने पढ़ा और देखा वो करना मेरे लिए नामुमकिन था। दो-तीन दिन तो इसी सोच में पार हो गए.

उसने मुझे दोपहर में एक बजे आने का बोल दिया।दोपहर में जब मैं टेस्ट के लिए गया.

मैंने भी उसके ऊपर लेट कर उसके लबों को चूमना शुरू कर दिया। थोड़ी देर में किस और उसकी चूची के मसलने का नतीजा सामने आया.

मयूरी की चूचियां बहुत ही भारी-भारी थी जिससे अगर कोई गलती से भी उधर एक बार देख ले तो बार-बार देखे. तो मैं नीचे बैठ कर उसकी साड़ी के अन्दर घुस गया। मैंने उसकी पैन्टी खींच कर उतार दी और उसकी चूत चाटने लगा। वो भी मदहोश होने लगी थी. भोजपुरी बीएफ साड़ी वालीसुबह जब हुई तो मुझसे उठा नहीं जा रहा था, पूरे बदन पर इतना दर्द था कि बता नहीं सकती.

।नहा कर मैंने खाना खाया और माँ को कल रात की घटना के बारे में बताया।माँ ने कहा- यह सब तो होता ही रहता है. उसके बाल खुले थे।मैं उसे देखकर पागल हो रहा था। मैंने उसे बैठने को कहा। शायद उस वक़्त वो घबरा रही थी. मगर दादा जी मेरी चूत में अपना लंड ना डाल कर मुझे बुरी तरह से तड़पा रहे थे.

मैं एकदम से उठा और उसे पकड़ कर बोला- अभी बताता हूँ कि आगे क्या करूँगा. आप सबने मेरी पिछली कहानियों को खूब सराहा और मुझे प्रेरित किया कि मैं अपनी एक और कहानी लिखूँ.

फिर मैंने अपना एक हाथ मैंने उसके मम्मों पर रख दिया और उसे दबाना चालू कर दिया।अब धीरे से नीचे आकर उसके टॉप के बटन खोलने लगा, उसके सारे बटन खोल दिये.

कुछ ही पलों बाद हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए और एक दूसरे के गुप्तांगों को चूसने लगे. सच में उन लोगों ने मेरा बहुत ख्याल रखा और जब मैं वहाँ से आई थी तो मेरे अकाउंट में पैसे भी काफी डाल दिए थे. मेरा पूरा लंड अपनी चुत में उतारने के बाद कुछ देर तो प्रिया वैसे ही रुक कर हल्के हल्के सिसकती‌ रही.

रानी चटर्जी के बीएफ उतना ही मेरा लंड तुझे ज़्यादा चोदेगा… आह ले!दादा जी के मुँह से ऐसी बात सुनकर मैं और भी ज़्यादा चिल्लाने लगी और ज़ोर ज़ोर से आहें भरने लगी. मैंने चूत में से लंड निकाला और उनके मुँह में पेल दिया।थोड़ा हिलाने के बाद मेरा रस निकल गया और आँटी सारा माल पी गई।उस रात मैंने भाभी को 3 बार चोदा।फिर सुबह हम दोनों साथ में नहाने चले गए।मैंने भाभी की गाण्ड भी मारी.

हाँ… माँ… आह…शीतल- तुम्हारी चूत तो बहुत खूबसूरत है… एकदम गुलाबी… टाइट… रसीली…मयूरी- तुम्हें अच्छी लगी माँ?शीतल- हाँ बेटा… जी करता है कि इसको चूम लूँ. फिर मैंने उसे बिस्तर पर उठा कर रखा और लटकती साड़ी पूरी तरह अलग कर दी. मैंने उसकी एक चूची को जोर से दबा दिया, तो उसकी आह निकली और मुँह खुल गया.

सेक्सी वाली वीडियो चुदाई

मैं बुरा नहीं मानूँगी।मुझे लगा कि भाई मेरी फ्रेंड्स के बारे कहेंगे।भाई- मुझे तुम जैसी लड़की पसंद है और तुम जैसी लड़की कोई मिलती नहीं है।मैं- भाई मेरे जैसी. फिर आज पता नहीं कैसे वो एक बार बोलते ही मेरे लंड को अपने मुँह में लेने के लिए तैयार हो गयी थी. इतनी अधिक ख़ुशी हो रही थी कि हमसे ख़ुशी कंट्रोल ही नहीं हो रहा था।अंकल मेरे घर पर अपनी बेटी के लिए खाना की बोल कर गए थे और वो मुझे रात को उनकी बेटी के पास सोने को कह गए।आप ये स्टोरी अन्तर्वासना कॉम पर पढ़ रहे हैं।रात हो चुकी थी तो वो खाना खाने नहीं आई.

जिसमें एक गोरी लड़की को एक काला आदमी चोद रहा था।तब मैं बोला- क्या बात है सितारा. तो वो मेरे पति के साथ ही सोती। कई बार तो हमने थ्री-सम किया था। पक्की चुदक्कड़ है और साली निम्फ़ो भी थी वो.

अब मैं गीत की चूत को इस कदर चूसने लगा था कि गीत की चूत से रस बाहर आने लगा था, मैं उसके रस को पीने लगा था।गीत मस्त होकर चुदने को तैयार थी, मैंने गीत की चूत को इतना चूसा कि गीत जोर-जोर से सिसकारियाँ लेते हुए एक बार छूट गई थी।उसकी चूत का रस मेरे मुँह में निकल चुका था, अब गीत पूरी तरह से झड़ गई थी।कुछ पलों के लिए गीत को हमने छोड़ दिया।गीत वाशरूम में गई और फ्रेश होकर फिर वापिस आ गई।अभी हम सभी नंगे ही थे.

मुझे इस बात को जानने की बड़ी जल्दी थी कि भाभी ने मेरी सब तैयारी कर लेने की हिदायत को कहां तक समझा था. मैं समझ गया वो उसकी झिल्ली थी।मैंने लण्ड को थोड़ा बाहर किया और एक ज़ोर के धक्के के साथ पूरा लण्ड उसकी चूत में उतार दिया।मेरे इस हमले से वो बेहोश सी हो गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसके मम्मों को मसकना चालू कर दिया और उसके निप्पल को चूसने लगा, उसकी आँखें आँसू से भर गई थीं. जो कि किस करने से मेरे मुँह में आ गई।गोली खाने के कुछ पलों बाद मैं अपने कंट्रोल से बाहर हो गई.

उसकी तारीफ में उसने उसका चूतरस मुझे मेरे मुँह पर बैठकर पिलाया।मेरी किस्मत में एक ऐसी लड़की थी. तो मॉम ने आंटी को मशीन निकाल दी। मैं आंटी से अपना पजामा ठीक करवा रहा था और आंटी के पास बैठा था।उस दिन मेरे हाथ पर चोट भी लगी थी. मी कळवळले ‘आअह स्स्स्स्स्स्स्स्स’ प्रथमने माझी पुद्दी चोळायला सुरवात केली.

तब पूजा की देखा देखी मैं भी अपने सीट पर से उठकर खड़ा हो गया और उसके सामने अपने बदन से अपना गाउन उतार कर पूजा के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा हो गया.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फोटो: ’मैंने फिर लण्ड को अन्दर-बाहर करना चालू कर दिया। फिर उसको थोड़ी देर तक चोदने के बाद घोड़ी बना दिया और जोर-जोर से पिंकी की गाण्ड चुदाई चालू कर दी।मैंने जो घोड़ी वाले पोज़ में पिंकी चोदा तो उसकी चीखें निकल पड़ीं ‘ऊऊह्ह्ह्ह ह्ह्ह्. तेरी गांड सच में गजब की है, तेरी गांड ने राजीव का लंड खाया है और उसका पूरा रस भी भरा है.

लेकिन भोसड़ा नहीं बनती। यह चूत चोदने वाला बड़ी किस्मत वाला होता है क्योंकि इस नारी ने एक ही लंड लिया होता है। अगर ये चोदने मिल जाए तो किस्मत खुल जाती है। लेकिन इस किस्म की औरतें बड़ी संकोची होती हैं।तीसरी टाइप होती है चूत को सुख का दरवाजा समझने वाली. मेरा गला सूख रहा था।चाची ने फिर से पूछा- क्या देख रहे हो?मेरे तो होश उड़ गए थे, मैंने प्रश्नांकित चेहरे से उनकी तरफ देखा तो वो और हँसने लगीं।हँसते हुए ही उन्होंने मेरे पजामे को देखकर कहा- तुम बड़े बुद्धू हो. तो उसकी गाण्ड के दोनों उभारों के बीच में घुसी साड़ी साफ़ दिखा रही थी कि उसके चूतड़ कितने मोटे और गोल हैं।मेरा तो लण्ड पागल हो रहा था कि पकड़ कर गाण्ड में अपना मुँह लगाकर चूस डालूँ साली को.

आपको यहां मैं बता दूँ कि रात में मुझे अंडरवियर पहनने की आदत नहीं है तो मैं अपना लोवर शॉर्ट और बनियान पहन कर ही सोता हूँ.

मगर आज तुम्हारी गांड मारकर मुझे जो सुख मिला वो वैसा ही है जैसा मेरी वाइफ को चोद कर मिला था. मैं क्या कहता, भैया को मैंने भी हां भर दी, मगर मेरा दिल छुट्टियों में पढ़ाई या फिर कम्प्यूटर कोर्स करने का बिल्कुल भी नहीं था. पूजा मेरी बातों को सुनकर बेहद खुश हो गयी और मुझको अपने बांहों में भरकर मुझे तीन-चार चुम्बन मेरे होंठों में दे दिए.