जीजा साली हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,भोजपुरी सेक्सी वीडियो बढ़िया-बढ़िया

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी चूत चुदाई फिल्म: जीजा साली हिंदी बीएफ, मेरा लंड पूरा का पूरा उसकी चूत के रस से भीगा हुआ था और काफी चिकना भी हो गया था.

डाउनलोडिंग सेक्सी पिक्चर वीडियो

उसने मुझसे कहा- तुम बहुत दिनों के बाद मिली हो, इसलिए तुम्हारे लिए मैंने एक नई बात सोची है. सेक्सी फुल वीडियो फुल एचडीइसके बाद उसने अपने तनतनाए हुए लंड पर चॉकलेट लगा ली और न चाहते हुए भी मैंने उसका लंड मुँह में ले लिया.

हम दोनों कभी जुबान को चूसते, तो कभी होंठों को … और एक दूसरे से ऐसे लिपट लिपट कर अंगों को सहलाते प्यार करते, जैसे एक दूसरे में समा जाना चाहते हों. बाड़मेर जैसलमेर देसी सेक्सीउसने साड़ी का पल्लू लपेट कर इस तरह मेरे कंधों पर रखा कि स्तन, पेट और पीठ का भाग ज्यादातर खुला ही रहे.

भाभी कहने लगी- हमने कई जगह टेस्ट कराया लेकिन कुछ पता नहीं लग पा रहा है कि कहां पर कमी है.जीजा साली हिंदी बीएफ: रमा ने बताया कि आज और कल यानि 31 दिसंबर और 1 जनवरी को सब लोग बहुत मजे करने वाले हैं.

नमिता ने अपने मुँह से मेरा लण्ड निकाला और मुझे प्यास लगी है, पानी पीकर आती हूँ.मैं तो बस उन्हें ही घूरे जा रहा था … सच में यार उस दिन दीदी क्या कांटा माल लग रही थीं.

हिरो सेक्सी पिक्चर - जीजा साली हिंदी बीएफ

मैंने चुदाई करते टाइम उनको बता दिया था कि मुझे 50- 60 साल की औरतों को चोदने में ज्यादा मजा आता है.उसने अंदर झांक कर देखा तो मैं उसको पहले तो दिखाई नहीं दिया लेकिन फिर जब उसने ध्यान से अंधेरे में देखा तो मैं उसको दिख गया और वो एकदम से डर गई.

मेरा लंड पूरा खड़ा हो चुका था और मेरी भांजी के चूतड़ों पर स्पर्श कर रहा था. जीजा साली हिंदी बीएफ हम आपस में एक दूसरे के साथ फोटो, बियर और बाकी बातें शेयर कर रहे थे.

वो- ओहो … तो तुमको क्यों बुरा लग रहा है … देने दो गालियां और करने दो कमेंट्स!मैं- ठीक है फिर से उसी कोने में चली जाओ और इस बार पीछे से नहीं … थोड़ा सा आगे से दिखा दो … और सुनो सभी के मजेदार कमेंट्स.

जीजा साली हिंदी बीएफ?

यहां पर मैं अपने शहर का नाम नहीं बताना चाहता हूं उसके लिए मुझे क्षमा करें. मेरी शादी के 4 साल बाद भी आज भी ऐसा लगता है, जैसे अभी भी हमारी नई नई शादी हुई है. इसलिए अंतरा ने भी अगले ही अपने हाथ उसकी पीठ पर ले जाकर नीचे से एक जोर का जबावी धक्का लगा दिया.

फिर मैंने भाबी को दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से उनकी चूत नीचे बैठकर चाटने लगा. फिर मैंने उसे उसके दोनों मम्मों वाली तरफ से पकड़ लिया और उसने पुशअप लगाने स्टार्ट कर दिए. की आवाजें भी तेज होने लगी थी लेकिन मैंने इसकी परवाह किये बिना उनकी चुदाई चालू रखी।एक समय आया जब भाबी कि चूत एकदम चिकनी हो गई और मुझे लंड अंदर बाहर करने में बहुत मजा आने लगा।तभी भाबी एकदम अकड़ गई और उन्होंने अपनी दोनों टांगें सिकोड़ ली तथा जोर से चिल्ला भी पड़ी- आईईई.

सो मैंने उसके लिंग को पकड़ कर हाथ से ऊपर नीचे किया, तो सुपारा खुलकर निकल आया. फिर उसने मेरे हाथों को हाथों से पकड़ कर बिस्तर के दोनों तरफ फैला कर दबा दिया. फिर धीरे-धीरे हम दोनों की सांसें एक दूसरे से टकराने लगीं और मैंने ही पहल करते हुए उसके सिर के पीछे से हाथ ले जाकर उसके कंधों पर रख लिया.

उसने मेरी चूत पर लंड को रख दिया और फिर मेरी चूत पर लंड को रख कर उसको मेरी चूत पर रगड़ने लगा. दोनों तरफ से ही बराबर चिकनाई हो गई थी और चुदाई मक्खन के माफिक चल रही थी.

एक घंटे बाद जब मैं वापस आया, तो अंतरा अपने रूम में बैठ कर पढ़ रही थी.

अब मैं किसी और दुनिया में था, उसके लब इतने मुलायम थे कि मैं तो उसे चूसता ही रह गया.

भाभी के साथ उसका पति ही उस मकान में रह रहा था जिसको मैं भैया कह कर बुलाता था. मैंने अपनी बीवी की पैंटी उठा ली और अपने लंड से पैंटी को लपेटकर हिलाने लग गया. वो तो आपका लंड किसी के मुँह से चुसे न, तब आपको लंड चुसाई के मजे का अंदाजा हो सकता है.

मुझे तो तब मालूम हुआ जब सोनू बोली- देख यही देखता है ना तू ऑफिस में?मैंने सोनू को देखा तो उसके दोनों दूध उसके हाथ में थे. लंड गीला होने के बाद मैंने फिर से लंड को घुसाने की कोशिश की लेकिन लंड नहीं जा रहा था. दोस्तो, यह मेरी पहली और सच्ची कहानी है। कुँवारी बुर की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बतायें।मेरा मेल आई डी है[emailprotected].

मैंने घर के सारे दरवाजे खिड़कियां बंद कीं और छुपाई हुई सेक्स कहानियों की किताब निकाल कर पढ़ने लगी।कहानी पढ़ते हुए मुझे काफी समय बीत गया.

उन्होंने अपने होंठ जबरदस्ती मेरे होंठों से छुड़ाए और मुझसे कहा- मुझे वाइल्ड सेक्स में बड़ा मजा आता है. इस कम्पनी में मेरी रिपोर्टिंग कम्पनी की स्टेट हेड एक महिला लेती थी. जैसे जैसे संभोग बढ़ता जा रहा था, वैसे वैसे हम दोनों में जोश भी बढ़ता जा रहा था.

उसका लिंग मेरी बच्चेदानी में जोर जोर से चोट करने लगा और मेरे मुँह से कामुक आवाजें निकलने लगीं. मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसने मेरे ब्लाउज के बटन खोल दिए और मेरी ब्लैक कलर की ब्रा का हुक भी खोल दिया. मैंने अपनी जांघें उसके मुंह की ओर कर लीं और उसकी चूत पर लेट कर अपनी जीभ उसकी चूत में अंदर तक घुसा कर अंदर ही अंदर घुमाने लगा.

अंगिका- आपका अपॉइंटमेंट थोडा जल्दी मिल सकता है क्या?मैं बोला- मैम, मैंने 5 आर्डर बुक किये हैं और 3 का तो एडवांस भी आ चुका है.

अब मैं आपका ज्यादा समय न लेकर आपको सीधे कहानी की तरफ लेकर चलता हूं. मैंने कॉल किया, तो मेरे कुछ बोलने से पहले ही वह बोल उठी- कहां थे अब तक? कितने फोन किए … सुबह कुछ करने नहीं दिया, तो क्या नाराज हो गए?फिर मैंने उसे समझाया कि मैं नाराज नहीं हुआ हूं … मैं तुम्हारा ही वेट कर रहा था और मुझे कब नींद आ गई, पता ही नहीं लगा.

जीजा साली हिंदी बीएफ इस पर उसने मुझे हस्तमैथुन के बारे में बताया कि लड़के खुद को शांत कैसे करते हैं. इतना बोल कर मैंने उसको दीवार से चिपका दिया, उसके दोनों हाथों को ऊपर करके पकड़ लिया और उसके होंठों को चूसने लगा.

जीजा साली हिंदी बीएफ उधर राजशेखर कविता की एक टांग उठा सोफे पर टिका कर सामने से खड़े खड़े ही धक्के दे रहा था. इसलिए मैं आप लोगों से यही प्रार्थना करती हूं कि आप फालतू के सेक्स आमंत्रण वाले ईमेल भेज कर अपना समय व्यर्थ न करें.

वैसे मुझे जहां तक लग रहा था कि वो भी मेरे मन की इच्छा को जान चुकी थी लेकिन कुछ कह नहीं रही थी.

सेक्सी नंगा सेक्स

उसके बाद मैं पूरा लंड पेल कर अपनी बहन अंतरा की झटके देते हुए चुदाई करने लगा. पहली बार मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने जब मेरी चुत में लंड डाला था, तो मुझे बहुत दर्द हुआ था. इसके आगे क्या हुआ, ये जानने के लिए इस सेक्स कहानी के अगले भाग का थोड़ा इंतज़ार कीजिए.

भाभी की गर्म चूत में जाते ही मैंने उसकी कमर को अपने हाथों में थाम लिया और बिल्कुल धीरे-धीरे अपनी गांड को हिलाते हुए मैं भाभी की चूत में धक्के लगाने लगा. तो मैंने कहा- घर पर कोई नहीं है और मैं नीचे से आपका दरवाजा बंद करके आया हूं. धीरे धीरे उनका दबाव बढ़ने लगा और देखते ही देखते अंकल का लंड मेरी चूत में घुसता हुआ पूरा का पूरा अंदर समा गया.

जब भाभी को लंड से मजा मिलने लगा, तब उनकी गांड हिलने लगी और वो भी अपनी गांड उठाते हुए लंड का जवाब देने लगीं.

चूंकि मैं और मैडम काफी अच्छे फ्रेंड्स की तरह ही थे, तो मैंने पूछ लिया- मैडम क्या हुआ? आप क्यों रो रही थीं?उन्होंने मेरी बात टाल दी. मामी ने मुझसे पूछा- ऐसे क्यों देख रहा है?मैंने शर्म के मारे नजर नीचे कर ली. ऐसा करते करते मैं उसको अपने गांड के छेद तक ले गया और बोला- मेरी गांड को जीभ से चाटो.

फिर कांतिलाल, रवि और राजशेखर के लिंग से हम सबने बारी बारी से क्रीम को चखा. यह बोल कर मैं उनकी जांघों को हाथ से सहलाते हुए हट कर कमरे में आ गया. उसकी इस आदत को ठीक उसी तरह से समझा जा सकता है, जैसे अगर हम खाना खा रहे हों, उसी वक्त बिजली चली जाए और अंधेरा हो जाए, तब भी हम अपने हाथ में उतना ही कौर लेते हैं … जितना हमेशा लेते हैं.

इस बात को मैं अपनी बीवी से करता तो वो भी खूब एन्जॉय करते हुए हंस देती. वो अपनी बहन को लेकर फिक्रमंद था इसलिए दोस्ती की खातिर मैंने उसकी बात मान ली.

ऐसा ही तो होता है, जब दो बदन एक दूसरे से मिलकर एक दूसरे को अपना लेते हैं और केवल आनन्द ही आनन्द होता है. मुझे पहले की भांति इस बार का लिंग कुछ अलग सा लगा, इससे मैं समझ गई ये राजशेखर नहीं है. अंकल आंटी की शादी को अभी 7 साल ही हुए थे और उनके एक 3 साल का लड़का भी है।हमारे घर अगल बगल में ही है, तो हमारा उनसे संबंध घर जैसा ही है.

फिर सारी पैकिंग होने के बाद हम लोग शाम का खाना खाने के बाद सो गये थे.

अन्तर्वासना डॉट कॉम स्टोरी में पढ़ें कि पड़ोस की एक आंटी और उनकी बड़ी बेटी को चोदने के बाद मेरी नजर आंटी की छोटी बेटी पर थी. मैंने उसको खुल कर चूत लंड चुदाई बोलते देखा तो मैंने कहा- तो क्यों ना हम आपस में ही सेक्स करें?लेकिन प्रिया ने साफ मना कर दिया और बोली- भाई बहन में ये सब नहीं हो सकता. मैं जहां तक अपने अनुभव से जानती हूं कि इस तरह के आसन में मर्दों को ज्यादा आनन्द आता है … क्योंकि लिंग का ऊपरी हिस्सा योनि के अन्दर सीधे जाता है, जबकि योनि का रास्ता पेट की तरफ होता है.

मेरे अगल बगल भी बाकी के लोग धीरे धीरे एक दूसरे के अंगों को सहलाते, चूसते, चाटते हुए एक दूसरे को संभोग के लिए तैयार करने लगे थे. मैं अचानक उसके मम्मों और चूतड़ों के बारे में सोचने लगा कि इतने मस्त चूचे और चूतड़ हैं, पता नहीं साली कितनों से चुदी होगी.

जब भी कोई जवान लड़की सामने होती थी तो सबसे पहले नजर उसके चूचों पर जाती थी. आराम से मार न … फाड़ ही देगा क्या अब?कांतिलाल ने सांस रोक तेज़ धक्के मारते हुए कहा- बस ऐसे ही झुकी रह … मेरा निकलने वाला है. वो दर्द के मारे कराहने लगी लेकिन उसके चेहरे पर आनंद भी साफ दिखाई दे रहा था.

সানি লিওনের ভিডিও সেক্স

मां मुझसे कई बार अपनी ब्रा और पैंटी के सेट को दिखा कर पूछ लेती थी कि कौन सा रंग सही रहेगा और मैं मां की मदद भी कर दिया करता था.

उसका लंड थोड़ा थोड़ा सा ही अन्दर गया होगा और मेरे मुँह से उम्म्ह … अहह … हय … ओह … निकल गई. मैंने उससे किसी होटल में रुकने के लिए कहा तो उसने कहा कि नहीं उधर मेरा दोस्त रहता है. फिर मामी ने मेरे कान के पास मुंह लाकर मुझे वापस जाने के लिए कह दिया.

चूत में पूरा लौड़ा घुसते ही डॉली जोर से चिल्लाने लगी- आआअह्ह … मर गई … उईईई … मम्मी रे फट गई मेरी चुत … आह निकाल ले … मर गई रे मम्मी. लेकिन मैं उन सबकी तरह नहीं थी, सो मैंने मुस्कुराते हुए शर्मीले अंदाज़ में उसके कथन का पालन किया और मैं रवि की गोद से उतर गई. नोट के सेक्सी पिक्चरपर मैंने किसी तरह कंट्रोल किया। फिर मैंने जाकर बाथरूम में मुठ मारी और फिर उनके साथ खाना खाया और सो गया।फिर शाम को बुआ ने बताया कि उनके पैर और पीठ में दर्द हो रहा है.

मैंने ठोके और जोर जोर से मारे और कहा- अम्मा मुझे देखना है कि तू हस्तमैथुन कैसे करती हो. मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं, इतने नुकीले चूचे मैंने जिंदगी में कभी नहीं देखे थे.

जबकि कुछ देर पहले उसने मुझे न सिर्फ नंगी देखा था, बल्कि अपने मित्रों के साथ कामक्रीड़ा में संलग्न भी देखा था. उसके पहले भी दो बॉयफ्रेंड रह चुके थे … जिनसे उनका ब्रेकअप हो चुका था. जब भी कभी मेरे पति की नाईट ड्यूटी होती थी, तो मैं पहले से ही सुरेश को बता देती थी.

वो जोर से भाभी के चूचों को पीने में लगा हुआ था भाभी के मुंह से सीत्कार फूट रहे थे. मैंने मौके का फायदा उठाने की सोची और फिर जाकर दीदी से माफी मांग ली. दोस्तो, मैं आपको यहां बताता चलूँ कि मुझे यहां रहते हुए दो साल का समय हो चला था और सोनाली से मेरी बात भी बहुत बार हुई थी.

मैंने उसके होंठों को जैसे ही चूसना शुरू किया, वो भी मेरा साथ देने लगा और मेरे होंठों को चूसते हुए जुबान के साथ खेलने लगा.

उसने कहा- क्या हुआ? अब तक तुम्हारा हुआ नहीं था क्या?मैंने कहा- देखो ना कितना खड़ा है. मैंने मौसी के चूचों में मुंह दे दिया और मौसी की चूत में धक्के देने लगा.

उस वक्त उसकी चुचियां 34 साइज़ की थीं … कमर 26 की पीछे उसकी गांड 32 की उभरी हुई थी. मेरी योनि की पंखुड़ियों को अपनी उंगलियों से फैला कर बोला- वाह कितनी प्यारी, सुंदर और कामुक है तुम्हारी चुत … और देखो यही तो है स्वर्ग जाने का रास्ता. अब मैंने उसको उसके बिस्तर पर लिटा दिया और पूरा गाउन गले तक ऊपर करके उसके दूध चूसने लगा.

धीरे धीरे मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और खुद भी पूरा नंगा हो गया. उसके घर जाने का उसका समय करीब 11 बजे दिन का रहता था तो मैंने उसको तुरंत हां कर दी और अगले दिन से वो काम पर आने लगी. लेकिन मम्मी ने कहा कि वो तुम्हारी बहन जैसी है।मेरी तो अंदर से बैंड बज गयी ये सुन कर … मैंने कहा- ठीक है।उस दिन तो बिना कुछ किये ही मुझे अपने रूम में सोना पड़ा लेकिन शायद समय मेरे साथ था इसीलिए अगले दिन मम्मी को नानी के यहां जाना पड़ा.

जीजा साली हिंदी बीएफ फिर मैंने उनसे पूछा- आप यहां पर कैसे?उसने थकावट भरी आवाज में जवाब दिया- बहुत देर से बस का इंतजार कर रही हूँ लेकिन अभी तक कोई उस तरफ की बस नहीं आई है. वो बोली- सर, क्या आपको यहां छूने से बहुत मजा आता है? उसने मेरे लंड के टोपे को मसलते हुए कहा.

अभी की चुदाई

इसलिए उसके कहने पर मैंने गाड़ी को वहीं घर से कुछ दूरी पर ही रोक दिया. उसने मेरी चूत दो उंगलियां में डालीं और हल्के हल्के उन्हें मोड़कर अन्दर घुमाने लगा. मगर अब दिव्या के मुंह से कोई दर्दभरी चीख नहीं निकली, उसकी आँखें फटी हुई, और चेहरा फक्क पड़ा था और मैं ज़ोर लगा लगा कर अपने लंड को उसके जिस्म में पिरोने में लगा था।जब तक दिव्या अपने होशो हवस में वापिस आई, तब तक मैंने अपना पूरा लंड उसकी फुद्दी में घुसेड़ दिया था.

भाभी से मैंने कहा कि अब मैं जरा खाना खाने के लिए बाहर जा रहा हूं क्योंकि मुझे काफी भूख लगने लगी थी. मगर मां किसी को इस बारे में नहीं बताती थी क्योंकि वो घर की बात को घर में रखना चाह रही थी. इंडिया सेक्सी ट्रिपल एक्सजो शांत स्वभाव की थी और दिखने में किसी स्वर्ग की अप्सरा से कम नहीं थी.

उसके बाद फिर मेरी जॉब दिल्ली में लग गई थी तो मैं दिल्ली में आ गया था.

मैंने उन्हें इशारे से बताया, तो उन्होंने औऱ जोर जोर से लौड़ा चूसना शुरू कर दिया. ये पैंटी इतनी ज्यादा छोटी थी कि सिर्फ़ मेरी चुत के ऊपर ढक्कन सा बना रही थी.

वो कमरे के नाम पर पूरा एक घर था, उसके भीतर एक सोने का कमरा, जो कि काफी बड़ा था. होटल वाले को कोई शक न हो जाए, इससे पहले तुम और रोशनी दोनों अपने रूम में चली जाओ. अमन ने मेरी बीवी के बाल पकड़े और अपने हाथों से उसके गाल दबाते हुए उसका मुँह खोल दिया और अपना लंड उसके मुँह में डालने लगा.

लेकिन अब मुझसे नहीं रुका जा रहा था, मैंने आंटी को अपनी बांहों में भर लिया और उनको किस करने की कोशिश करने लगा.

उनको देख कर लग रहा था कि जैसे कह रहे हों कि आ जाओ, आकर हमें दबा लो. मैंने धक्का लगाया तो मां की चीख निकल गयी- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मैं मर गयी … जान निकल गयी. सबसे पहले कमलनाथ तैयार हो गया और उसने मुझे बुलाया, पर मैंने मना कर दिया, तो सब लोग मुझे जोर देने लगे.

ऐश्वर्या राय हॉट सेक्सी फोटोफिर लाल सुपारा उसकी योनि में फंसा कर हल्के हल्के धकेलना शुरू कर दिया. उस घटना के बाद मैं अक्सर इस तरह से ट्रेन के सफर के दौरान यह ट्रेन सेक्स स्टोरी बनाने की कोशिश करता रहता हूं.

ब्लू पंजाबी फिल्म

दर्द से कराहती नमिता ने कहा- तुम्हारा लण्ड बहुत लम्बा है और मोटा भी. उनकी वक्षरेखा देख कर मेरा लंड एकदम से अंदर ही अंदर तनना शुरू हो गया. ऐसा मैं इसलिए कह रही हूँ क्योंकि मर्दों के अक्सर एक बार झड़ने के बाद दोबारा झड़ने में काफी समय लगता है.

फिर उसने मुझे जोर से पकड़ा और मेरी चुत को थोड़ा सा हाथ से चौड़ा करके धीरे से अपना लंड फंसा दिया. उसके बाद मैंने उसको फोन करने की कोशिश की लेकिन उसका वो नम्बर बंद हो चुका था. यदि आपकी बहू आपके साथ ऐसा व्यवहार कर रही है तो यह बिल्कुल ही उचित नहीं है.

इसमें मैच क्या करना होता है? मगर मुझे एक बात सच बताओ कि क्या तुम मुझको पसंद करती हो?वो बोली- हां …इतना कहकर वो फिर से शरमाने लगी. रमा की बात खत्म होते होते रवि ने अपना लिंग एक झटके में मेरी योनि में घुसा दिया. पांच मिनट के बाद वो मुझे अपनी बांहों में कस कर पकड़ने लगी और उसकी बुर मेरे लंड पर कसने लगी.

इसलिए वो जब जब ऊपर आती, तो वो मेरे लंड को अपनी गांड में लेने के लिए थोड़ी उत्सुक लगती. क्यों जब वो झुक कर पत्ते बांटती थी तो मुझी चूचियों के दीदार हो जाते थे.

ऐसे ही एक दिन हम दोनों सुबह फोन पर बात कर रहे थे तो साराह मैम ने पूछा कि तुमने अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स नहीं किया?तो मैंने भी कहा- नहीं, सिर्फ फोन पर किया है.

मेरे लिए तुम्हारे पास टाइम ही कितना है!सनी- ऐसा नहीं है बहुत टाइम बाद ऐसे मिलना हुआ … तो उसने मौका जाने नहीं दिया. कॉलेज की टीचर की सेक्सी वीडियोफिल्म में सेक्स के सीन थे और मेरे दोस्त ने अपनी पैंट से लंड को निकाल कर मेरे सामने ही अपने लंड को हिलाना शुरू कर दिया. सेक्सी चुदाई वीडियो गांव कीमेरी गांड मारके उसे पूरी ढीली कर देना … आह और तू क्या मुझे चुदक्कड़ बनाएगा, मैं ही तुझे पूरा चुदक्कड़ बना दूंगी … बेटे तुझे क्या लगता है, एक बार चोद कर तू मेरी प्यास बुझा पाएगा. उस छेद से सब कुछ साफ नजर आ रहा था क्योंकि बाथरूम का वो छेद थोड़ा बड़ा था.

अब कभी कभी मेर मन में ख्याल उठने लगा है कि मैं किसी के साथ सेक्स करके बच्चा पैदा कर लूं.

आधे घंटे के बाद उसका फिर से फ़ोन आया और उसने कहा- तुम कल तैयार रहना, मैं तुमको लेने आ रही हूँ. मैं उसकी बेइज्जती भारी बातें दरकिनार करती हुई मुख पर बनावटी हँसी दिखाते हुए उसके बगल बैठ गई. ये देख कर मैं भी नहीं रुका और मैंने उसकी चुचियों को बारी बारी से चूसना शुरू कर दिया.

कभी मेरी गोलियों को छेड़ रही थी तो कभी मेरे लंड के सुपारे को मसल रही थी. वैसे जो भी हो हम सभी महिलाओं में कविता ही सबसे कम उम्र की थी, तो स्वाभाविक है कि उसकी नसें और मांसपेशियां हम बाकी की महिलाओं से थोड़ी ज्यादा मजबूत और सख्त होंगी ही. पहले तो मैंने नहीं उठाया, फिर डरते डरते कॉल उठाया, तो सामने नलिनी थी.

ડોક્ટર બીપી

मैंने भी उसे उत्तर दिया- रमा ने ही मेरा सब कायाकल्प किया है … वरना मैं तो पहले की ही तरह हूँ. उसके दर्द की परवाह किए बिना मैंने और ज़ोर लगाया और अपने लंड को और उसकी फुद्दी में घुसेड़ा. हमारी कहानी हर लड़की की जिन्दगी में हुई असली घटनाएं हैं जिनको हम आप तक लेकर आयेंगी.

चोदेगा? कभी चोदी है?वह बहुत ज्यादा प्रभावित था, बार बार हाथ में मेरा लंड लेकर कह रहा था- इतना बड़ा तो कम लोगों का होता है.

सेक्स की प्यास के बारे में कई बार मैंने अपने मां और पापा को बातें करते हुए अपने ही कानों से सुना हुआ था.

उसने मेरी चूत दो उंगलियां में डालीं और हल्के हल्के उन्हें मोड़कर अन्दर घुमाने लगा. मुझे ऐसा लगा कि जैसे मुझे बहुत जोरों से पेशाब लगी हो, पर मैं उसे रोकना चाह रही हूँ. सेक्सी वीडियो छोटी लड़की छोटा लड़काएक दिन उन्होंने मुझे इस बारे में टोक ही दिया, दीदी बोली- मैं देख रही हूं कि तू आजकल मुझ पर लाइन मारने की कोशिश कर रहा है.

पर समझ नहीं आ रहा था कि कैसे किया जाए। मैं उनकी मुस्कान पर फिदा था, उनकी मुस्कान बहुत ही खूबसूरत थी, वो जब हँसती थी तो मेरा दिल उनको देख कर और उनके प्यार में पागल हो जाता था।मेरी आदत थी कि मैं हमेशा घर के बाहर नाले के पास पेशाब किया करता था और वो जगह मेरे घर के छत से साफ दिखती थी. पर आंटी तो जब भी मुझसे सट कर निकलतीं, तो वे और भी जानबूझ कर मेरे सीने से अपने मम्मों को रगड़ने की कोशिश कर रही थीं. जिस तरह से वो मेरी जुबान को चूस रहा था और मेरे स्तनों को मसल रहा था, उससे लग रहा था … मानो अब वो झड़ जाएगा.

अब मैंने राज को थोड़ा और ओपन करने की सोचा … क्योंकि मैं भी एन्जॉय करना चाहती थी … कब तक ऐसे ही सूखी सूखी रहती. मेरा सोचना था कि उसकी मदमस्त चूचियों और उठी हुई गांड को देखकर कोई भी अपना लंड हिला लेगा.

क्या चुदाई की … साली चूत सहला रही होगी।वह मुस्कराया।मैं चित लेटा था.

कुछ पल यूं ही रुके रहने के बाद मैंने आराम आराम से लंड को अन्दर बाहर करना चालू कर दिया. मैं बिना कोई परवाह किये पूरा का पूरा लंड भाभी की रसीली चुत में डालने लगा. उसकी नजर जब मुझ पर पड़ी तो एकदम से घबरा गई और वापस से बाथरूम की तरफ भागने की कोशिश करने लगी.

कुत्र्यांचा सेक्सी व्हिडिओ वो मुझे तड़पता हुआ देखता रहा और बहुत समय के बाद जब मैंने अपनी आंखें खोलीं, तो वो मुझे मुस्कुराते हुए देख रहा था. उसकी चूचियों को भींचा और उसकी चूत में उंगली करके उसको चुदाई के लिये तैयार कर दिया.

मैं तेज़ी से धक्के मारने लगी और रवि भी अपने चूतड़ तेज़ी से उछालने लगा. दूसरी चुदाई में तो फरजाना ने खुद मुझे बहुत चूसा, मेरे होंठ चबा जाने तक चली गई. वैसे तो उसकी मां ने भी मुझे देख लिया था कि मैं उसी पर नज़र रखे हुए हूं लेकिन वो कुछ नहीं बोल रही थी.

नंगा चुदाई वीडियो

वो निर्मला के पीछे जाकर अपना लिंग उसकी योनि में प्रवेश करा के किसी दुश्मन की भांति उसे धक्के मारने लगा था. मैं तो आपको यही कहूंगा कि अगर आपको मौका मिल रहा है मजे लेने का तो उसको हाथ से क्यों जाने दे रही हो. मेरी आंखों के सामने क्या गज़ब माल था … एकदम दूध की तरह सफ़ेद संध्या मैडम एकदम नंगी मेरे सामने चुदने के लिए बेकरार दिख रही थीं.

ये सब जानकर मेरा दिल जोरों से धड़क रहा था और मैं भगवान से मना रही थी कि वो नेता जैसा आदमी आए और बिना कुछ किए बस चला जाए. फिर मैंने अपना हाथ नीचे ले जाकर प्रिया की चूत पर फिराया और अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी.

मैं उन दोनों के साथ बैठा और बातों ही बातों में अनीता जी ने मुझे इशारा कर दिया कि आपके लिए ही सीमा जी को साथ लायी हूँ.

मैं कुछ कहती कि तभी उन्होंने खुद आगे बढ़कर कहा- तू भी राहुल के साथ में मजे कर लेना. तो दोस्तो, मिलते हैं बिंदास ग्रुप की सदस्या की पहली कहानी के साथ, बहुत ही जल्द। अगले अंक में आप लोगों के बीच में होगी मेरी निजी जिन्दगी और चुदाई की कहानी।मैं बिंदास सोनम वर्मा जल्दी ही अपनी पहली बिंदास कहानी के साथ लौटूंगी. मेरे प्यार दोस्तो, मेरा नाम मुस्तफा खान है, मैं बरेली के पास एक छोटे से कस्बे में रहता हूँ। मेरी उम्र 27 साल है, मैं शादीशुदा हूँ, मेरे निकाह को चार साल हो चुके हैं.

मैं भी चुपके से उसके नहाने वाली जगह पर चला गया और फिर हमेशा की तरह जब वो अंदर आई तो हम दोनों शुरू हो गये. वो मेरे ऊपर झुक कर अपना लिंग मेरी योनि में घुसाते हुए पूरी तरह से मेरे ऊपर आ गया. उसके घर जाते हुए मुझे एक महीना हो चुका था, तो जाहिर सी बात है कि हम दोनों में अच्छी जान पहचान हो चुकी थी.

मैंने सोचा था कि उसकी कुँवारी चूत आज ही चोदने को मिल जायेगी लेकिन मेरे सारे सपने टूट गये।उस रात को मैंने अपनी साली को सोच कर दो बार मुठ मारी और अपनी वासना शांत कर ली.

जीजा साली हिंदी बीएफ: कुछ दिन में रोशनी और मेरी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और मेरे पति और उनके पति की भी अच्छी दोस्ती जमने लगी. पर जाते हुए समय मैंने देखा कि कांतिलाल और राजशेखर के चेहरे पर वासना की भूख थी.

वो एकदम से हट कर बोली- नहीं, पीछे वाले में नहीं विक्की। वहां बहुत दर्द होता है. चूंकि अस्पताल दूर था, तो उन्होंने मुझसे कहा कि उनको वापस घर आने में रात हो जाएगी. जहां इतनी देर जांघें फैलाये हुए अब मुझे मेरी जांघों में अकड़न होने लगी थी … वहीं कमलनाथ भी धक्के मारते हुए थकान महसूस करने लगा था.

मैंने सोचा था कि एक बार और मुझे अनीता की मोटी चूत को चोदने का मौका मिलने वाला है.

हमारी बात शुरू हुई, तो उसने पूछा कि तुम्हें मेरी बीवी में क्या अच्छा लगा?मैंने लिखा- खुल कर सच बोलूँ?उसने हामी भर दी, तो मैंने बोला कि मुझे तो सबसे ज़्यादा लड़कियों की चुचियां पसंद हैं और तुम्हारी बीवी की चुचियां तो सच में बहुत मस्त हैं. उसने मुझसे कहा कि मैं हवाई जहाज से चली जाऊं, पर मैं तो आज तक केवल बस और ऑटो से ही घूमती आयी थी. होटल पहुंच कर मैंने उससे पूछा भी कि आखिर क्या बात है … और मुझे किस लिए इतना सजा-धजा रही हो?उसने मुझे अपनी बात बतानी शुरू की, उसके हिसाब से वो मुझे एक खेल खेलने को कह रही थी.