ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,क्रिकेट सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सुहागरात sex: ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी, पर स्नेहा का मुँह अभी भी दरवाजे की तरफ ओर था और उनकी पीठ मेरी तरफ थी.

देहाती ब्लू फिल्म वीडियो में

मैंने जल्दी से प्रिया भाभी के बदन से सारे कपड़े एक एक करके उतार दिये. સેક્સ વિડિઓमैं हैरान होते हुए- चुप कर! ऐसे थोड़ी न होता है?वो बोली- अरे, होता है मेरी जान.

फिर मैंने भाभी से पूछा- आप कैसी हैं? आप क्या करती हैं? आप कहां से हैं? मैं आपकी क्या हेल्प कर सकता हूँ?वहां से जवाब आया- मैं भी अच्छी हूँ. सेक्सी द वीडियोसिर्फ मेरी कराहती आवाजें कमरे में गूंज रही थी- आअह आह आआआआह उफ़ ईश शस्सशआ आआ हहह ह ह!मेरा पूरा चेहरा उसके जुबान के रस से गीला हो गया था.

दीदी ने एक लंबी गहरी ठंडी सांस लेते हुए, मेरी ठोड़ी को पकड़कर हिलाया और कहा- मेरी बहना रानी, तुझे तो जो भी भोगेगा … वो दुनिया का सबसे खुशकिस्मत इंसान होगा.ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी: इस कारण मैं खुद को रोक नहीं पाया और मैंने उसके मुंह में लंड को पूरा घुसा दिया.

और तुम तो अभी नई माल हो।उसने कहा कि वो 49 साल का है और उसे कम उम्र की लड़कियां बहुत पसन्द हैं।वो बोला- आज बहुत दिनों के बाद तेरी जैसी खूबसूरत लड़की मिली है.मुझसे रहा न गया और मैंने दीदी से पूछा- दूधवाले के साथ क्या कर रही थीं आप?वो बोली- ओह्ह, तो तूने देख लिया.

क्सक्सक्स देसी इंडियन - ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी

फिर वो मूत कर आई और पैंटी डालते हुए बोली- घर कितने बजे जाना है?उसने अभी निक्कर नहीं डाली थी.यही सब कहते-कहते मैंने उसके मुँह से अपना मुँह लगा दिया और संदीप ने भी बिना कुछ कहे मौन स्वीकृति देते हुए मेरा साथ देना शुरू कर दिया.

मैंने कहा- मैं तेरी गांड की चुदाई का स्वाद भी चखना चाह रहा हूं मेरी रानी. ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी मुझे उसका ये व्यवहार समझ नहीं आया, लेकिन परमीत जान गई कि मनु ऐसा क्यों कर रही है.

श्वेता- नहीं आंटी, मम्मी इंतज़ार कर रही होंगी, मैं उनसे बोल कर आई थी कि जल्दी आ जाऊंगी और एक घंटे से अधिक हो गया है.

ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी?

इतना कहने के बाद मैंने 15-20 जोर के शॉट मारे और हम दोनों साथ में ही झड़ने लगे. तो उसने बोला- ओके तुम अपना नंबर दो, जब समय होगा तो मैं मेसेज कर दूंगी. इसी बीच मेरे पति ने हाथ से अब तक अपना माल निकाल दिया था और वो वहीं सोफे पर ही लेट गये थे.

आंखों में वासना की मस्ती और चाल में चंचल हिरनी की अदा … होंठ जैसे मद से भरे प्याले हों. मुँह से लंड चुसाई के बाद मामी ने अपने हाथ से मेरे लंड को सहलाना जारी रखा. उस पर मेरी गांड तक लंबे मेरे काले रेशमी स्ट्रेट बाल लहराते हुए देख कर तो लड़के और बुड्ढे मुझे सीने से लगाने को तड़प जाते हैं.

दीदी ने गांड उठाते हुए आकाश का लंड अन्दर लिया और कहा- राज … अब जिया को और मत तड़पा … जल्दी से उसे चोद डाल. कुछ पल बाद मैंने स्नेहा भाभी को पीठ के बल लेटा दिया और उनकी दोनों टांगों के बीच में आ गया. वैसे सभी लोग सो रहे थे, फिर भी मुझे थोड़ा सा डर लग रहा था कि किसी ने देख लिया तो मुसीबत हो जायेगी.

मैंने कभी मना किया क्या?भैया- बस 2 साल और रुक जा … तुझसे मन नहीं भरा अभी. ऐसे करते करते वो मेरे पास 7 दिन रुकी और सात दिन मैंने उसे अलग अलग पोज़ में चोदा।अब वो अपने रूम में रहती है लेकिन हम हर वीकेंड में मिलते है और चुदाई करते हैं।अब वो कहती है कि उसे अब ब्रूटल सेक्स मतलब निर्दयी जंगली चुदाई करना है.

अगर आप बुरा ना माने तो मैं रात यहीं रुक जाऊँ?उसने कहा- आप मुझे एक कंबल दे दो और मैं अपने ऑटो में ही सो जाऊँगा.

इस वक्त मैं अपने एक हाथ में सिगरेट दूसरे हाथ में अपना लवड़ा पकड़ कर हिलाने लगा था.

हम आपस में गुत्थम गुत्था करते हुए एकाकार होने का प्रयत्न कर रहे थे. फिर मैंने चाची को अपने ऊपर लिया और मेरा लंड उनकी चूत में डाला और चोदता रहा। फिर मैं उनके पीछे से गया और एक पैर ऊपर किया और चुदाई करता रहा।इस तरह हमने बहुत सारी स्टाइल और पोजीशन में चुदाई की और करीब 20 मिनट तक हम चुदाई करते रहे।चाची को बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी चाची की चूत चुदाई करने में बहुत मजा आ रहा था. पर उस वक्त मेरा पूरा शरीर कांपने लगा, जब मामी ने मुझे देखा और उन्होंने मेरे गाल पर एक किस कर ली.

मन कर रहा था कि बस पूरा का पूरा लंड जड़ तक उसके मुंह में घुसेड़ दूं और सारा माल उसको पिला दूं. मैंने फिर अपने हाथ से उसके पैर और हाथ को हटाया।लेकिन अब मुझे नींद नहीं आ रही थी और मेरे मन में गलत ख्याल चलने लगे थे। अब मैंने सोच लिया कि कुछ भी हो जाए अब इसे चोदना है।तो मैंने धीरे धीरे अपनी हरकत शुरू कर दी सबसे पहले मैंने अपना हाथ उसके पेट पर रख दिया और उससे सट कर सोने लगा. मैंने पूछा- आह्ह आरती … तुमने ऐसे मस्त तरीके से लंड चूसना कैसे सीखा.

मैंने डिल्डो यकायक बाहर निकाल लिया, दीदी ने आहहह की आवाज निकाली और मेरी तरफ देखने लगीं.

”ये सारी बातचीत मीना सुन रही थी और उसे सुनाने के लिए ही हम लोग कर रहे थे. वो खुद बेबी होने के बाद 34 से 36 नाप के हो गए हैं … और मेरे हिप्स भी अब 36+ के हो गए हैं. गाड़ी से उतरते समय भी उसने मुझे बात करना चाहा लेकिन मैंने उसे अनदेखा कर दिया और वहाँ भीड़ के साथ हो लिये हम दोनों.

मैंने पूछा- कहां ले जा रही हो?तो वो बोलीं कि जिस तरह की चुदाई तुम्हें चाहिए, वैसी चुदाई में काफी आवाजें होती हैं. पन्द्रह बीस तक उसको रोज देखकर मुझे लगा कि यह चुदाई के लिए राजी हो जाये तो मेरा काम चलता रहेगा. मैं समझ गया कि अब अंकल का वीर्य दीदी की चुत में गिरने वाला हो गया है क्योंकि वो दीदी की चुत में जोर जोर से झटके मार रहे थे.

गहने पहनाने के बाद उन्होंने मुझे एक ब्रा, पैंटी और एक ब्लाउज दिया और कहा कि इसे पहन लो.

मैंने उनसे दोनों चॉकलेट ले लीं और बोला- ठीक है भैया … अब मैं खेलने जा रहा हूं. संजय ने मेरी आंखो में देखा और फिर संजय मेरे ऊपर आ गया और उसका लंड मेरी चूत पर टक्कर मारने लगा.

ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी यहाँ से आगे आप सोनम के द्वारा बतायी गई एक एक बात उसके अनुसार पढ़ेंगे. एक बात यहां पर मैं पाठकों को बता देना चाहता हूं कि औरत के शरीर में दो प्रकार होंठ होते हैं.

ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी मुझे देखते ही स्वीटी आंटी शरमाई नहीं … बल्कि मुस्कुराते हुए अब तो वो और जोर जोर से कामुक आवाजें निकाल कर चुदने लगीं. फिर वो गांड उठाते हुए अपने मन से ही बोली- हां भैया, आपके लंड से बहुत मजा आ रहा है … और जोर से चोदिए मुझे.

मैंने तुरंत उसका हाथ पकड़ कर अपनी तरफ इतनी जोर से खींचा कि वो मेरे सीने से आ लगी.

सेक्सी वीडियो भोजपुरी साड़ी वाली

मैं आपके लिए आगे भी इसी तरह चुदाई की गर्म कहानियां लेकर आती रहूंगी. ई … !! राज … !! ”वसुंधरा सिसियाते हुए उत्तेजना वश रह-रह कर मेरे सर पर चुम्बन पर चुम्बन लिए जा रही थी. तभी सागर ने मुझे और कस कर गले से लगा लिया और मेरे गले पर एक किस कर दिया.

हालांकि मुझे नहीं मालूम था कि मालकिन मुझसे कहां तक मजा लेती या देती हैं. और उसने भी मेरे मम्मों को अपने दोनों हाथों में पकड़ कर अच्छे से दबा दिया. दीदी और श्वेता दीदी आपस में बातें करते हुए जा रही थीं और मैं उनके पीछे-पीछे चल रहा था.

उसकी आवाजें निकलने लगी थींमैं बोली- चुप रहो यार … मेरा भाई भी है घर पर ज्यादा आवाज़ मत करो.

अब जब भी मौका मिलता, हम दोनों भाई बहन प्रीत से चुदा लेते और अब वो आदी को अकेले भी ले जा कर चोदता था. उसके बाद हम कभी कभी तो आफिस निकलने से पहले … या सुबह ही चुदाई का मज़ा ले लेते और कई बार हमने आफिस में भी चुदाई का मज़ा लिया. उसके गोरे हाथों का लाल चूड़ा और मांग का सिंदूर मेरे लंड के पास देख कर ऐसा लग रहा था जैसे वो भैया की नहीं बल्कि मेरी बीवी हो.

खाना चबाने की प्रक्रिया में वसुंधरा के जबड़े के मसलज़ बार-बार कसने से, वसुंधरा के गालों में बार-बार पड़ते गड्डे, फिर खाना गले के नीचे उतारते वक़्त फ़ूड-पाइप की हिलोर, सब कुछ अद्भुत था. मन कर रहा था कि किसी नंगे मर्द की बांहों में नंगी होकर आराम से सुबह तक सोती रहूं!खैर!आपको हॉट भाभी की चुदाई का किस्सा कैसा लगा? मुझे ज़रूर बताना. अब वो मेरी चूत के दाने को सहलाते हुए उंगलियां अन्दर बाहर कर रही थीं.

अविनाश- तैयार हो न मेरी प्यारी बहना!आलिया- भाई इस समय में बहुत थकी हुई हूँ और मुझे नीचे बहुत दर्द हो रहा है. उसके बाद बड़ी इत्मीनान के साथ उसने अपने कपड़े पहनने शुरू किया और फिर बाल्टी उठाकर कपड़े सुखाने के लिये बारजे पर आ गयी।फिर रसोई में आकर दोपहर के खाने की तैयारी करने लगी।इस बीच मैं भी बाहर टहलने के लिये चला गया क्योंकि मैं घर में रहता तो उसको देख-देख कर या तो लंड को मरोड़ता या फिर उसको काम से रोककर चुदाई करता.

अब केला आधे से थोड़ा ज्यादा चूत में घुस चुका था और मैंने उसे वैसे ही रहने दिया. वैसे संदीप और संजय पहले भी हमारे पास आने की कोशिश करते थे, पर हम लोगों ने ही कभी भाव नहीं दिया था. उस खुली और फूली चूत में डिल्डो के लगातार और खतरनाक हमले ऐसे लग रहे थे, मानो आज चूत के इस्तेमाल का आखिरी दिन हो.

उस पर कब से नजर है मेरी जान?मैंने कहा- प्लीज, एक बार सैट करा दो ना!वो हंसकर बोली- अरे वो आपको सह भी पाएगी … कहां आप 78 किलो के और कहां वो बेचारी मुश्किल से 40 किलो की.

अंकल ने अपने लंड को मम्मी को चुदाई की पोजीशन में लिटा कर उनकी चूत पर लंड को रखा और एक जोर का धक्का मार दिया. उसकी रूममेट उसे चिढ़ाती हैं और इसी वजह से उसकी शादी में भी दिक्कत आ रही थी. भाभी खड़ी थीं, तो मैं उनके लम्बे कुरते के अन्दर हाथ डाल कर चुत का मजा ले रहा था.

मैं अपनी कामयाबी पर अन्दर ही अन्दर प्रसन्न भी थी और मुझे संदीप पर तरस भी आ रहा था. उसने मुझसे कुछ नहीं कहा, परन्तु अपने बहन को ‘रंडी’ कह कर दूर हट गई.

मेरा नाम संदीप है, मैं उत्तरप्रदेश का रहने वाला हूँ और आजकल मुंबई में हूँ. राजन ने ममता के सर को अपने दोनों हाथों से पकड़ा हुआ था और अपनी ओर भींचा हुआ था. बहुत देर तक ऐसे ही चूसने के बाद जब मेरी चूत पूरी गीली हो गई तो उसने मुझसे कहा- भाभी, अब आप मेरा लौड़ा चूसो।मैं बहुत गर्म हो गई थी तो मैंने उसे मना नहीं किया और उसका लौड़ा पहले तो अपने हाथ में लेकर सहलाया, उसके सुपारे पर जीभ फिरायी, फिर उसे अपने होंठों में दबा लिया और चूसने लगी.

जयमाला दिखाइए

तभी अचानक भाभी मेरे कमरे में आयी और उसकी नज़र मेरे खड़े लंड पर पड़ गयी.

मैंने कहा- ये क्या कमीनी … तू बेशर्म हो गई है … गाली खाकर भी मुस्कुरा रही है. कई बार उत्तेजना में आकर मैं उससे कह देता था कि जब हम मिलेंगे तो मैं तेरे बूब्स को दबाऊंगा, तेरी चूत में उंगली करूंगा. शर्मा अंकल- गुरु की मॉम, तैयार हो जाइये, आपको रॉकेट की सवारी कराने वाला हूँ.

मैं- ले लंड ले मेरी रानी … आज तेरी चुत का भर्ता नहीं, चबूतरा बनेगा आज तेरी चुत फटेगी … ले भैनचोद. दीदी- कुछ नहीं बस ऐसे ही … तुम कॉपी किताब क्यों लेकर आई हो?श्वेता दीदी- अरे कुछ नहीं ऐसे ही … क्या हुआ … तुमने उनके लैटर का जवाब दिया या नहीं?दीदी कुछ देर चुप रही. ट्रिपल एक्स मराठीतो संजय बारी बारी से मेरी गोरी चूचियों को चूसने लगा और बीच बीच में काट भी लेता.

मारिया आंटी- अच्छा … तुम तो काफी बड़े हो गए हो हां … वैसे आज मुझे ऑफिस में कुछ ज्यादा काम नहीं है. फिर उसने बड़ी अदा से मेरे लंड को अंडरवियर से भी आजाद कर दिया और फिर उसने मेरे लंड को गप से मुँह के अन्दर लेकर ओरल चुदाई शुरू कर दी.

मेरी पहली कहानियांमहिला मित्र की दोबारा सुहागरात में चुदाई की कामनावदो बहनों के साथ थ्रीसमको आप लोगों ने बहुत सराहा. अंकल ने अपने लंड को मम्मी को चुदाई की पोजीशन में लिटा कर उनकी चूत पर लंड को रखा और एक जोर का धक्का मार दिया. मेरा लंड उस जांघिया में कैद किसी प्यासे सांप की तरह अलग से मुड़ा-तुड़ा हुआ दिखाई दे रहा था.

मुझसे रुका न गया और मैंने उसके सिर को पकड़ कर अपने लंड पर दबा दिया. वो फिर से बहुत तेज चिल्लाई, पर इस बार मेरे होंठ उसके होंठों से चिपके थे, तो उसकी आवाज मुँह से बाहर ही नहीं आई. ”तुमने कभी सेक्स इन्ज्वॉय किया है?”हनी ने हैरान होते हुए उत्तर दिया- नहीं दादू.

मैंने अपनी जीभ को छुटकी चूत से बाहर निकाल कर अब उंगलियों का प्रयोग करना शुरू कर दिया.

मैंने अपने कपड़े ठीक किये और थोड़ा सा मेकअप किया और फिर से नीचे आ गयी. मैंने जिस दिन बाथरूम में तेरे लंड को देखा था उस दिन से ही मेरी चूत तेरे लंड को लेने के लिए मचल रही थी.

मेरी कामुकता भरी सेक्स कहानी में आपको खूब मजा आ रहा है ना? मुझे आपके मेल का इन्तजार रहेगा. तभी मालकिन बोली- अब एक काम कर!मैंने उनकी तरफ देखा तो मालकिन ने बिस्तर पर पड़े पड़े ही अपनी साड़ी एकदम से घुटनों के ऊपर तक कर ली. स्वीटी आंटी ने कहा- सिर्फ सुंदर … सेक्सी नहीं?मैंने कहा- सेक्सी नहीं, बल्कि सेक्स करने लायक लग रही हो.

शायद हम जान ही चुके थे, पर खुद की आंखों पर ही भरोसा नहीं कर पा रहे थे. दीदी ने अब कुछ पलों का ब्रेक लिया और अपनी अल्मारी की तरफ चली गईं, वो अल्मारी से कुछ निकालने लगीं. राजन ने जल्दी से नहा कर शॉर्ट्स और टी शर्ट पहनी और बेड पर बैठ कर टी वी ऑन कर लिया.

ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी मैंने बहुत आहिस्ता से वसुंधरा के जिस्म को गोद में संभाल कर उठाया और आराम से बिस्तर पर लिटा कर रजाई ओढ़ा दी. आप ही सोच लो, उसका पति चूत को कितनी यूज़ कर पाया होगा, जो महीने में बस 3-4 दिन के लिए घर आता हो.

தமிழ் xvideos

बहुत समय से मैं अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़ता रहा हूँ … तो सोचा कि आज मैं आप सभी को अपनी एक मस्त और रसीली घटना आप लोगों के साथ शेयर करूं. मैं उठ कर बाहर गई और जानने की कोशिश करने लगी कि दरवाजे पर कौन आया था. इस वजह से मैं मामी के साथ समय नहीं बिता पाया, जिसका मुझे बहुत दुख था.

वो घुटनों के बल ज़मीन पर बैठ कर मेरी ओर देखा और कहा- अब अपनी इस सजा के लिए तैयार हो जाओ. चलो जल्दी से खाने की टेबल पर बैठ जाओ, मैंने तुम्हारे लिए बढ़िया सा पास्ता बनाया है. राजस्थानी वीडियो xxxमैं जोर से चिल्ला कर बोली- ये क्या कर रहे हो?आदी घबरा गया और ‘आ बा आ बा.

जिसको देखने के लिए मैं तीन चार साल से तड़प रहा था आज उसको अपनी आंखों के सामने नंगी देख कर मुझसे रहा नहीं जा रहा है.

बच्चा होने के बाद पता चला कि उसने बच्चे का नाम अपने और मेरे नाम को मिला कर रखा था. कुछ ही देर में उसने बोला- खाने में टाइम है, जब तक चाय लाऊं?मैंने कहाँ- जो मन हो, वो पिला दो.

मैंने जिया की ब्रा को खोल दी और पीछे से उसके रसीले मम्मों को दबाने लगा. फिर मैंने दीदी को देख कर सॉरी कहा- दीदी ने कहा- कोई गल नहीं, सब चलता है … चलो अब तुम लोग भी कपड़े बदल कर फ्रेश हो जाओ, फिर खाना बनाते हैं. दीदी- नहीं, आपको जो भी कहना हो लैटर में लिख कर दे दीजिएगा … मैं वापस उसका जवाब दे दूंगी.

फिर विश्वकर्मा पूजा के दिन छुट्टी थी लेकिन सारा स्टाफ पूजा करने के लिए बुलाया हुआ था मैंने.

इसके बाद मालकिन पलंग पर आराम से पेट के बल होकर लेट गई और उन्होंने अपने दोनों हाथों से अपना पेटीकोट ऊपर करके खींच लिया. मेरी मदद को करने से हर उस शख्स ने इंकार किया जिसको मैं अपना समझता था. ये सुन कर मैं उसके पीछे गया और उसकी गांड से थोंग की डोरी साइड की गांड पर हाथ फेरा और उसे झुका कर पीछे से उसकी चूत चाटने लगा.

गुजराती एक्स व्हिडीओभाभी ने मेरी मांग में सिंदूर भरा और कहा- अब तुम मेरी धर्मपत्नी हो गई हो. अभी मैंने सारे बर्तनों को सिंक में रखा ही था कि इतने में जेठजी ने पीछे से आकर मुझे फिर से पकड़ लिया और मुझे बेसिन के पास से हटाकर रसोई के बीचों बीच करके अपनी तरफ घुमा दिया.

राजस्थानी सेक्सी एचडी वीडियो

पिंकी के लिए इतने दिनों की उत्ते =जना, नए बदन की लज़्ज़त, प्यार और सेक्स का मिश्रण इन सबके परिणाम स्वरूप मैं बहुत देर नहीं टिक पाया और पांच मिनट में ही स्खलित हो गया. अभी मैं पहले झटके से संभली भी नहीं थी कि ड्राइवर ने फिर से गियर बदला और उसका हाथ फिर से मेरी फुदी के ऊपर टकरा गया. मेरे होंठों के पास अपने होंठ लाकर बोला- दीदी, आपको मेरी बात सुननी ही होगी.

पूजा के बड़े भाई का नाम मनोज है, उसकी दो बेटियां हैं, इक्कीस साल की रीना व उन्नीस साल की मीना. भाभी के बारे में सोचते हुए ही मैंने अपने लंड की मुठ मारना शुरू कर दिया. यह कहानी आप संदीप की जुबानी ही पढ़ियेगा, इसमें कामुकता और वासना का तड़का मैंने लगाया है, उम्मीद है आपको पसंद आएगा.

मैंने धक्का मारकर पूरा लण्ड मीना की चूत में पेल दिया और धकाधक चोदने लगा,जब डिस्चार्ज का समय आया तो मैंने पूछा- माल अन्दर ही गिरा दूं?गिरा दो, मेरे राजा. मैंने देर ना करते हुए अपना मुँह प्रिया भाभी की गीली चुत पर लगा दिया. ये कहते हुए उन्होंने एक वी-नेक की टी-शर्ट और एक शॉर्ट स्कर्ट पहनने को दिया.

वो आगे बोली- क्या तुमको मुझे देख कर मेरे फिगर का अंदाजा नहीं हुआ था?मैंने समझ तो लिया था कि प्रीति आज मुझे किस तरफ ले जाना चाह रही है, मगर मैंने उससे ज्यादा कुछ नहीं कहा. जैसे ही वो अंतिम छोर पर जा कर बच्चेदानी से छुआ मेरे मुंह से निकला- ऊऊऊ ऊऊईई ईईईई मम्मी!क्या हुआ मेरी जान? मोटा है क्या?”हाँ मोटा तो है ही … मेरी चूत में समा नहीं रहा.

ये हमारे लिए कुछ अलग था क्योंकि आजकल तो सब नमस्ते से काम चला लेते हैं.

उसकी चूत के आस-पास वाले एरिया में एक भी बाल मुझे दिखाई नहीं पड़ रहा था. નાગા ચૌદવાના વિડિયોधीरे से मैंने अपना हाथ उसकी सलवार के अंदर डाल दिया और पैंटी के ऊपर से ही हाथ फिराना शुरू कर दिया. इंडिया सेक्सी व्हिडिओ बीपीअब वो लाल रंग की ब्रा में मस्त माल दिख रही थी और मेरे लन्ड को बड़े प्यार से मुंह में लेकर वो मस्त आइसक्रीम जैसे चूस रही थी और मैं उसके दूध दबाने की नाकाम कोशिश कर रहा था. ताज़ी वैक्सिंग होने के कारण, एकदम रुई की तरह मुलायम त्वचा को चाटते हुए ऊपर बढ़ता गया.

मगर मेरे लंड में कुछ दर्द सा हो रहा था, क्योंकि लंड में चिकनाई नहीं थी.

उन्होंने मामी से कहा- इसे क्यों उठा दिया, कल सफ़र में थक गया होगा और सोने देतीं. मेरी हथेली से वसुंधरा के जिस्म के पसीने और डियो की मिलीजुली, सौंधी सी महक आ रही थी और मेरे हाथ के पोरों से वसुंधरा की योनि की वही जानी-पहचानी, होश उड़ा देने वाली, नशीली सी मादक खुशबू आ रही थी. मैंने कहा- ममता, जब तुम काम करने आई थी तो तुमने पांच हजार रुपये मांगे थे लेकिन मैं चार हजार देना चाहता था.

कुछ देर बाद मैंने प्रीति को बाथरूम में ही डॉगी स्टाईल में पोजीशन बनाया और पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया. हम दोनों के नंगे बदन एक दूसरे से चिपके हुए थे और हम दोनों एक दूसरे के बदन से खेलते हुए सो गए. वसुंधरा के दोनों हाथों की उंगलियां मेरी पीठ के निचले भाग पर दाएं से बाएं, बाएं से दाएं गश्त लगा रही थी.

अरमानी पैंट

उनको भी अपनी चूत पर एक जवान लड़की की चूत के घर्षण में बहुत मजा आ रहा था. फिर संदीप अपनी जीभ बाहर निकाल कर मेरे नाजुक जिस्म पर फिराते हुए ऊपर की ओर बढ़ने लगा. और तुम तो अभी नई माल हो।उसने कहा कि वो 49 साल का है और उसे कम उम्र की लड़कियां बहुत पसन्द हैं।वो बोला- आज बहुत दिनों के बाद तेरी जैसी खूबसूरत लड़की मिली है.

दीदी की चूत पर घने बालों से मुझे कोई आश्चर्य नहीं हुआ, क्योंकि परमीत ने पहले ही बता रखा था कि हम सरदारियां शरीर के किसी भी हिस्से के बाल साफ नहीं करतीं.

लेकिन वो मुझे एक अच्छा दोस्त समझती थी, इसीलिए मैंने कभी प्रयास नहीं किया.

वॉल टू वॉल कार्पेटिड बैडरूम में एक डबलबेड के दूर वाली तरफ़ एक वार्डरोब और उसके साथ कोने में एक अटैच वॉशरूम का दरवाज़ा और बेड के इस तरफ़ आमने-सामने दो कुर्सियां और एक छोटी सी ग्लॉस-टॉप वाली राउंड काफ़ी-टेबल थी. एक दिन मैं और मोना मेरे कमरे में चुदाई का कार्यक्रम चला रहे थे कि हमसे एक गलती हो गयी. सेक्सी चाहिए ब्लू पिक्चरमीना के एग्जाम खत्म होने के बाद एक दिन मनोज ने मीना को फ्लाइट में बैठा दिया और उसे रिसीव करने के लिए मैं एयरपोर्ट पहुंच गया.

मैं तुम्हारे प्यार की प्यासी हूँ, अपनी प्रेम वर्षा से मुझे तृप्त कर दो संदीप. मैं भी कुछ देर बाद सो गई फिर तो मेरी सुबह ही नींद खुली।सुबह मैंने देखा तो वह तैयार होकर जाने की तैयारी में था. उसी दिन जब हम दोनों अपने घर आए, तो मैं दीदी से ये पूछ लिया- वो लड़का आपसे क्या मांग रहा था?दीदी- कौन लड़का और कब?मैं- वही, जिससे कॉलेज से आते समय झगड़ा हुआ था.

फिर वो मूत कर आई और पैंटी डालते हुए बोली- घर कितने बजे जाना है?उसने अभी निक्कर नहीं डाली थी. उन्होंने अपने जीभ से ही मेरे लंड को साफ़ किया और फिर उठकर मुँह धो लिया.

क्या मस्त फिगर है उसका 34-32-34 का! उषा के जाने के बाद मैं प्रीति से कोई भी भी मौका मिलने का नहीं छोड़ता था.

इसके बाद वह दूसरे कमरे में से अपने भैया का एक अच्छा वाला ड्रेस पहन कर आ गईं. अचानक भैया को किसी का कॉल आया और उन्होंने भाभी से कहा- मुझे जाना अर्जेंट होगा … एक काम आ गया है. धीरे-धीरे लंड ने अपना आकार ले लिया और वह जोर से मेरे मुंह को चोदने लगा.

हिंदी देसी सेक्सी वीडियो फिर उन्होंने अपने पॉकेट से दो चॉकलेट निकाल कर दीं और बोले- तुम्हें चॉकलेट पसंद है न. पर मजा भी तो इसमें ही आएगा।फिर मेरे दोनों दूध को हाथों से दबाते हुए बोला- चल शुरू हो जा।मैं भी अपनी कमर को गोल गोल घुमाते हुए लंड लेने लगी।फिर मैं अपनी चुदाई को तेज रफ्तार देने लगी- आआह आआ हहह आआ आहहह ओ ओह मम्मी आह ऊऊ ऊऊऊई ईईईईई रे आआह!क्या हुआ जान … मजा आ रहा है मेरी जान को?”हां, बहुत मजा आ रहा है.

मैंने अपने दोनों हाथों से जोर लगा कर वसुंधरा को जोर से अपने साथ भींच लिया और कुछ देर तक भींचे रखा. इस बार मैं जल्द ही थक गया और करीब पांच मिनट चुदाई के बाद हम दोनों शांत हो गए. उन्होंने दीदी को खड़ा करके बेड पर लेटा दिया और मैंने भी दीदी के बाजू में ही आलिया को बेड पर लेटा दिया.

गोंधळ सेक्स

तब तक के लिए विदा! मेल करके जरूर बताना कि मेरी कहानी कैसी लगी?[emailprotected]. मैंने पूछा- तूने आशू के कानों में उस दिन ऐसा क्या कहा था जो वो अगले ही दिन मेरे पैरों में गिर गया था?वो बात पलटने की कोशिश करते हुए बोला- छोड़ो न दीदी. जब पैसे की कमी न हो और बीवी जवान और सेक्सी हो, तो मर्द बहुत मजा देते हैं.

मैंने चुदाई शुरू कर दी, पहले धीरे धीरे फिर तेज तेज धक्के और बीच बीच में रुककर उसकी चूचियां चूस रहा था, उसकी चूचियां चूसने के दौरान उसके निप्पल्स दांत से काटता तो चिहुँक उठती. उन्होंने मामी से कहा- इसे क्यों उठा दिया, कल सफ़र में थक गया होगा और सोने देतीं.

आपको जवान लड़की की चुदाई की मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी प्लीज़ मेल करके मुझे जरूर बताएं.

इसलिए अब मैं कोई जगह ढूंढने लगी और साथ में कोई प्लेब्वॉय भी खोजने लगी थी, जो गांड मारने में निपुण हो. एक बार मैंने उससे पूछा भी था कि तुम मेरे पास अकेली क्यों नहीं आ जाती. हम कभी एक दूसरे के स्तनों को सहलाते, तो कभी पीठ पर हाथ फेरते कभी नितम्बों को भींच लेते.

मैं समझा कि कहीं स्कूल में किसी से तू तू मैं मैं हो गयी होगी तो प्रीति कुछ गुस्से में होगी. मैंने कहा- तुम किस प्रोजेक्ट की बात कर रही हो?उसने मेरे लंड को हाथ से मसला और कहा- इसको अन्दर करने वाला प्रोजेक्ट कह रही हूँ. उनसे बात करके मुझे ये अहसास हुआ कि उन्होंने अपनी शादी के बाद कभी सुख नहीं मिला था.

अब आप सोच रहे होंगे कि मुझे ही भैया के घर पर क्यों रुकने के लिए कहा गया था?दरअसल मेरे भैया सुबह ही काम पर चले जाते थे और शाम को वापस आते थे.

ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफ हिंदी: जब डोली का खड़े रह पाना मुश्किल हो गया तो वो एकदम से पीछे हटी और बेड पर गिर पड़ी. ‘नहीं … नहीं’ कहती क़ामयानी को अभिसार के लिए मनाने के लिए उस से थोड़ी सी जबरदस्ती करने में उसे अपनी जीत का अहसास होता है और जिस-जिस आसन या जिस-जिस मुद्रा को स्त्री ‘न’ कहती है, बारबार वही आसन या मुद्रा अपनाता है या उसी क्रीड़ा में लिप्त होना चाहता है जिस में स्त्री को कुछ कष्ट होता हो.

उसके बाद मैंने पूछा- आप हंस क्यों रही हो?वो बोलीं- तुमने मेरी सारी ख्वाहिशों को पूरा किया … मैं तुम्हारे साथ नाइंसाफी कैसे कर सकती हूं. उसने पूरी ताकत लगाते हुए ही मेरे दूधों को मेरी ब्रा के ऊपर से ही दबा दिया. मैं अन्दर गई, मैं वहां पहले भी प्रीत के साथ आ चुकी थी, सो मुझे सब पता था.

तो उन्होंने मेरा डर कम करने की कोशिश की- पूरा नहीं, जितना ले सकता है उतना ही ले, ज़्यादा ज़बरदस्ती नहीं है।मैंने उनके आंड से लंड तक अपनी जीभ को बाहर निकाल कर चाटा और उनको मज़े आने लगे। मैंने उनका लंड मुँह में लिया जो मुश्किल से आधा ही मेरे मुँह के अंदर गया।भैया ने थोड़ा सा धक्का दिया तो थोड़ा सा और अंदर चला गया पर मेरी जैसे साँसें रुक सी गयी.

उस दिन मैं घर वालों को नींद की गोली खिला देती थी और अपनी चुत की खुजली शांत करवा लेती थी. तो मैंने कहा- तो मुझे रोका क्यूँ?संदीप ने आंखें नचाते हुए कहा- बस यूँ ही. मगर जब उसने अपनी सलवार उतारी तो उसकी सफेद पैंटी हल्की सी दिख रही थी.