हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो प्लीज वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ 2019 के: हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली, अब मेरे पति ने अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ फैलाकर पीछे से अपना तगड़ा लंड मेरी चुत में घुसाने लगे.

ब्लू फिल्म वीडियो में भेजो

मैं- फिर कहां दर्द कर रहा है?कल्पना ने झल्लाते हुए कहा- अभी थोड़ी देर पहले जहां आप मुँह मार रहे थे. एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स भोजपुरीउसने मेरी कमर पर अपने दोनों हाथ लेकर मेरी गांड को अपने लण्ड पर दबाया जिससे मैं भी उसके लण्ड पर बैठने लगी.

मैंने पूछा- क्या हुआ?वो मुस्कराने लगी और बोली- तुम बताओ … तुम्हें क्या हुआ है, सुबह से ही खोए हुए हो?मैंने झेंप के आंखें नीची कर लीं. बिलुफिल्ममैं समझ गया था कि इसकी गर्म भट्टी अब मेरे धक्कों से और ज्यादा गर्म हो रही है.

मर्दों की नजर ज्यादातर मेरे बड़े बड़े मम्मों, मोटी गांड तथा पतली कमर को निहारती हैं.हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली: इस पर सारा ने कहा- क्यों मेरे रहते तुम्हारा लंड खड़ा नहीं होगा क्या? दो-दो को देख़ कर गांड फ़ट गई, या दोनों को एक साथ झेलने की हिम्मत नहीं है?मैंने कहा- मेरा लंड तो कमरे में घुसने से पहले ही खड़ा हो गया था, परन्तु क्या तुम्हारे सामने तुम्हारी बहन का मन कुछ करने को करेगा? और रही बात दोनों को झेलने की, तो रात भर दोनों को इतना चोदूँगा कि दोनों की दोनों सुबह उठने लायक नहीं रहोगी.

छह दिन बाद मम्मी पापा भाई भी आ गए तो अब हम दोनों कोदिन में चुदाईका मौक़ा नहीं मिलता था.फिर एक दिन शाम को मैं कमरे पर से खाना खाने के बाद पड़ोस में चला गयावहां पर उस रात सुमन भी रुकी हुई थी; वह पढ़ रही थी.

સેક્સ કરતા વીડિયો - हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली

मैंने उसके हाथ को पकड़ कर अपनी ओर खींचा और उसके होंठों पर अपने होंठ लगा कर किस करने लगा.तब मैं उसे खींचकर चारपाई पर ले आया और उसकी सलवार के नाड़े को खोल दिया.

मैं कोई जबरदस्ती नहीं करना चाहता था, इसलिये मैंने सोचा कि रात को इसको मना कर चोद लूँगा. हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझ पर चिल्लाकर बोली- ये क्या कर रहा है तू?मैं समझ रहा था कि इसको मजा आ रहा होगा.

प्लीज़ उठा लो न फिर से!मैंने उसे फिर से उठा लिया और कहा- बहुत नटखट हो तुम.

हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली?

बाद में मैं जब उठी, तो देखा कि मेरी सहेली का भाई मेरी चूत को चाट रहा था. मामी की चूत में जीभ तो डाल ही रहे थे और साथ ही अब उनकी गांड में अपनी उंगली भी करने लगे थे. 1 मिनट तक ऐसे ही वो पड़ी रही, फिर मुझे गाली देते हुए बोली- मादरचोद भोसड़ी के … रुक क्यों गया? चोद न कुत्ते मुझे … कमर चला!उसके मुख से गाली सुन के मैं पागल से हो गया। मैंने भी उसके मुँह में अपनी उंगलियों को घुसेड़ दिया.

मैं दोबारा चिल्लाई- चाचा जी कहाँ हैं? मैं उनको आपकी इस करतूत के बारे में सब कुछ बता दूंगी. अन्तर्वासना पर कहानी पढ़ने वाले सभी मित्रों और भाभियों को कुमार का नमस्कार. अंकल ने दरवाजा खोला, उनके गाल पर शेविंग क्रीम का फोम लगा हुआ था- बैठो नीतू, तब तक मैं शेविंग कर लेता हूँ.

फिर हमने बैठ के पढ़ाई और दूसरी इधर की बातें की … और इसके बाद मैं घर लौट गयी. फिर जल्दी ही मैंने दो उंगलियां डाल दीं और वो और जोर से ओओ ह्ह्ह करने लगी. तब भी मैं आदतों को पसंद नहीं करती थी, बाकी उसके अन्दर सब कुछ ठीक था.

दोस्तो, सभी लड़कियों को मेरे खड़े लंड का नमस्कार और सभी भाइयों को लड़कियों की चूत की तरफ से नमस्कार. वह भी मुझसे रात को देर तक ज्यादातर इनडायरेक्टली रोमांस और लव की बातें किया करता था.

मम्मा भी उत्तेजित होकर मुझे और तेज़ स्पीड के लिए कहने लगीं- हां मेरे राजा … आंह और तेज़ और तेज़ … मेरी बच्चेदानी पर अपने लंड की चोट मारो मेरे राजा … और तेज़ और तेज़ आह आह सी … स!ऐसे ही लगभग 10 मिनट तक चलता रहा, फिर मम्मा झड़ गईं.

उन्होंने मेरी नाक को बंद कर दिया था, तो उनका वीर्य सीधा मेरे पेट में चला गया.

मैं उठी और विपिन पर बिगड़ते हुए बोली- चलिये मेरी चूत ने आपको माफ किया. अगली सेक्स स्टोरी में मैं आपको बताऊंगा कि मेरी मम्मी और कैसे कैसे चुदीं. मैंने आंटी से पूछा- मेरी मम्मी कल घर जाने को क्यों बोल रही थीं?आंटी ने जो बताया, वो सुन कर मैं भौचक्का रह गया कि मम्मी का दिमाग कितना चलने लगा.

अब भाभी बोली- कोई बात नहीं, मैं इन 10 दिनों में तुझे पूरा चोदू बना दूंगी. दोस्तो, सभी लड़कियों को मेरे खड़े लंड का नमस्कार और सभी भाइयों को लड़कियों की चूत की तरफ से नमस्कार. तब मैंने अपने रूम का दरवाजा खोल कर कहा- कोई चेंज करने की ज़रूरत नहीं, सब कुछ उतार कर मेरे पास आ जाओ.

पूरे पांच फिट पांच इंच की मेरी हाइट, मेरी 34-26-34 के फिगर से भरी हुई साइज, लंबी नाक, गुलाबी होंठ.

मुझको भी बस उस जाटनी को नंगी करके जबरदस्त चोदना था … ना कि उससे प्यार करना था. अब बताओ आपको क्या तकलीफ है?मैं शर्म के मारे बात ही नहीं कर पा रहा था. मैंने हंसते हुए उसे फिर से पकड़ लिया और उसके गले और उसके पूरे चेहरे पर किस करने लगा.

मुझे पता था कि एक बार अगर किसी औरत के बदन में आग लग जाए, तो लंड लिए बिना नहीं बुझती. अब मुझे देर हो रही थी तो मैं तैयार होकर वहाँ से अपने घर को निकल गया।बहुत मज़ा आया दोस्तो … बहुत अच्छा सफर रहा ये चुदाई का भाभी के साथ।घर आके रात को जब मैंने आईडी ओपन किया और उससे बात की और पूछा कि भाभी को कैसा लगा. क्या हुआ मेरे जानू को?”कुछ नहीं यार … मैं तो पसीने से तंग आ गयी हूँ … सब जगह चिप चिप हो रहा है … कपड़े भी पूरे गीले हो गए हैं.

देसी सेक्सी गर्ल चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरी सगी मौसी ने मुझे लंड चूत की बातें सिखायी, मुझे पहला लंड दिलवाकर मेरी बुर की सील तुड़वाई.

उस दिन हम दोनों ने काफी देर तक बात की और उसी बीच अंजलि ने मुझे खाना खाने का कहा. थोड़ी देर तक उंगली से करने के बाद मैं उसी पोजीशन में उनकी चूत को चाटने लगा.

हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली मम्मी ने कहा- आआह … अगर तुम मुझे पति की तरह सुख दे सकते हो तो … मुझे सुख दे दो … मुझे चोद दो. मेरे लंड में दर्द सा हो गया था और जब लंड बाहर आया तो मेरे लंड पर खून लगा हुआ था.

हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली मुझे देख कर उन्हें थोड़ा शॉक लगा और हड़बड़ाते हुए उन्होंने मुझसे कहा- अरे सोनू, तुम कब आए?मैं- अभी 5 मिनट पहले ही आया, कोई दिखा नहीं, तो यही रुक कर इंतजार करने लगा. अंकल ने मेरे दोनों स्तनों को अपने दोनों हाथों से सहलाना शुरू कर दिया था.

उनकी आंखों से दर्द साफ झलक रहा था परंतु साथ ही संतुष्टि की भाव भी टपक रहा था.

सेक्सी वि

चूंकि अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, तो गलती होना लाजिमी है. टी आ गया क्या? फिर बातों ही बातों में पता चला कि उसको भी भुवनेश्वर जाना है कोई एग्जाम देने, दोस्तो बहुत काली थी वो, पर उसमें एक नशा था. वह बोली- क्या?मैंने कहा- हाँ, जैसे मैंने तुम्हारी चूत को चाटा है वैसे तुम भी तो मुझे मुंह में लेकर मजा दो.

आप सभी से निवेदन है सेक्स कहानी को पूरा जरूर पढ़िएगा और अपने विचार दीजिएगा. थोड़ी देर के बाद नफीसा ने मुझसे कहा- प्लीज़ जुल्फी, पहले दरवाजा बंद कर दो. प्रिया- अपनी बहन को कोई ऐसे प्यार करता है!मैं- तुम तो दूर की बहन हो.

उसके मुंह से यह कामुक बात सुनकर मैंने उसके पैरों को फैला दिया, अपना लंड उसकी चूत पर लगाकर अंदर करने की कोशिश करने लगा.

मैं बहुत खुश हो गया कि आज पहली बार अपनी मौसी की लड़की की फुद्दी को छूने का मौका मिला है. मैं उत्तेजना में चिल्ला रही थी और उन तीनों में से कोई भी रुक नहीं रहा था. इस कोर्स की पढ़ाइ शुरू हुई तो प्रेक्टिकल के लिए 3-3 स्टूडेंट्स के ग्रुप बनाये गए थे.

भाभी ने शायद सब समझ लिया था, इसलिए उन्होंने बेख़ौफ़ मेरा फ्रेंची भी उतार दिया. थोड़ी देर बाद डोर बेल बजी और मैंने गेट खोला तो एलेक्स और जॉन आ गए थे. शाम को उपिंदर ने मुझसे कहा- परसों डैडी का जन्मदिन है, अपनी बहन और मम्मी को जालंधर बुला ले.

बड़ी देर तक अन्दर घुमाते रहे, फिर तेल से लसड़ा लंड मेरी गांड पर रखा और धक्का दे दिया. यह मेरा पहली बार का मामला था और मुझसे बिल्कुल भी सब्र नहीं हो रहा था.

इससे अच्छा तो अभी पहनूँ ही न।वो मुस्कुराया और मेरे पास आ कर बैठ गया।कहानी जारी रहेगी. मैंने कहा- आपको शर्म नहीं आयी?वो बोलीं- नंगे तुम थे, मुझे क्यों शर्म आएगी?उनकी इस बात पर मैं चुप हो गया. मैं उसकी चूत के पास लंड को ले गया और उसकी चूत के मुंह पर लंड को रख कर कहा- जान, अब तैयार हो जाओ.

यानि कि ये सब आपकी प्लानिंग थी।मैं सिर्फ हंस दिया और बोला- कि तुम इसी अवस्था में रहना।मैं बाहर गया और रोहित को कहा- अन्दर आ जाओ, भाभी से पैसा ले लो।वो बेचारा मासूम जैसे ही मेरे बेडरुम में घुसा, वो संजना को नंगी देखकर उल्टे पैर पीछे भागा.

मैं भी उनके बगल में आकर लेट गया और उनके मासूम से चेहरे को देखने लगा. हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में एक दूसरे के रस का मजा लेने लगी थीं. हम लोगों को ऐसे अँधेरे में एकांत झाड़ियों में लेट्रीन करने नहीं आना चाहिए.

मेरा हर ब्लाउज डीप गले का ही होता है, इस वजह से स्तनों के बीच की घाटी साफ साफ दिख रही थी. मेरी नजरें उसके मम्मों को निहारने लगीं और मैंने उसके बूब्स को धीरे धीरे सहलाना चालू कर दिया.

उसके बाद पहले उसके पांव और फिर उसके हाथ खोलकर उसे बैठाया। अब हम चारों पूर्ण रूप से नग्न एक ही बिस्तर पर बैठे हुए थे. उसकी 32 की चुचियां बड़ी-बड़ी और एकदम तोप सी तनी हुई नुकीली सी हैं, कमर 28 इंच की है और 38 इंच की पहाड़ सी उठी हुई गांड है. अभी मैं इस हमले से खुद को संभाल पाती कि तभी मेरे पति ने अपना लंड मेरे चुत से बाहर निकालकर दूसरा हमला कर दिया.

सेक्सी बीपी बीपी सेक्सी सेक्सी

रानी धक्के पे धक्के, धक्के पे धक्के मारे जा रही थी, आआह आआह आआह आआह.

प्रिया- अब खूब कस कसके पेलिए … आंह बड़ी खुजली हो रही है मेरी चूत में!मैंने प्रिया की चूत में लंड अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. ऊपर जाने के लिए सीढ़ियों पर गेट लगा था, जिसको अमीषी ने अन्दर से कुंडी लगाई थी. मेरे चूचे इस तरह तन गए थे कि लगने लगा था कि बस अब उनमें से दूध निकलने ही वाला है.

मैंने धीरे से अपना मुंह उसके कान के पास ले जाकर कहा- आप बहुत सुंदर हैं. मेरी चीखें निकलने लगी- अह्ह आह येस अह्ह येस्स आह्ह अह्ह आह मजा आ गया. सेक्सी पिक्चर ब्लू पिक्चर भेजिएमैंने कैसे भी करके उसको मनाया और उसके बाद मैं रिम्पी को लेने के लिए होटल में गयी.

मैंने निशा को हाथ से पकड़कर अपने पास खींचा और उसके कान में बोला कि बेड के नीचे आओ. मेरी चाची ने सारे कपड़े उतारे हुए थे और वह मेरे भाई के लिंग से खेल रही थी.

इसके बाद वो बोली- काश तुम्हारे जैसा पार्टनर मुझे मिल जाए, तो मजा आ जाए. इसी तरह गाहे बगाहे मेरी उनसे बातचीत होने लगी और उनसे मेरी अच्छी दोस्ती हो गयी. यह सोचते ही मेरी धड़कन और सांसें तेज हो जा रही थीं और नीचे मेरी पैंटी बार-बार गीली हो जाती.

मैं भी एक हाथ से उनके चुचे दबा रहा था और दूसरे हाथ से उनकी पेंटी में हाथ डाल कर भाभी की चूत को मसल रहा था. अपनी पिछली कहानीदोस्त की बहन की चुदाने की चाहतमें मैंने बताया था कैसे ज्योति को मैंने बीच गांव में चोदा था. मैंने पूजा से पूछा- अपना वीर्य तुम्हारी गांड में डाल दूँ या चुत में लोगी?पूजा इठला कर बोली- इतनी अच्छी गांड चोद कर तुम अपना वीर्य मेरी चुत में क्यों डालोगे.

कुछ ही देर में मैंने रानी का चूत प्रदेश, झांटें इत्यादि सब साफ कर दी थी.

उस समय मौसी किसी से बात कर रही थीं, तो मैं और मेरी मम्मी बची हुई जगह में एडजस्ट करके सोने को कोशिश करने लगे. [emailprotected]हॉट भाभी सेक्सी चुदाई कहानी का अगला भाग:दीवाली पर भाभी की अतृप्त चुत चुदाई हुई- 2.

अब रोहन का लंड मेरी गांड में था और जॉन का लंड मेरी चूत में और एलेक्स का मेरे मुँह में. अंकल का रंग एकदम गोरा, मोटा सा शरीर, बड़ी बड़ी काली मूछें, चेहरा बिल्कुल फूला हुआ और चमकदार था और वो बहुत प्यारे लग रहे थे. मैं- इसे कुछ कहते भी हैं या बस इशारे में बताते है इसके बारे में?कल्पना- पुसीउसने इंग्लिश में नाम बताया.

मैंने मौक़े की नज़ाकत को देखते हुए वसुन्धरा के बाएं निप्पल को अपने मुंह में लिया और चुमलाने लगा. यह सब कुछ मेरी चाची छुपकर देख रही थीं और मेरे लंड का साईज़ देखकर मानो वो अब मेरे साथ सेक्स करने के लिए तड़प गईं. हालांकि उसकी ये सैटिंग ज्यादा दिन तक नहीं चली और उन दोनों की आपस में लड़ाई हो गई.

हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली मैंने भी इस पल का भरपूर लाभ उठाया और दिशा के एक मम्मे भी जोर से मसल दिया. पर सन्जू की चूत सूख चुकी थी। मैंने उसकी चूत में थोड़ा वेसलीन लगा दिया।अब रोहित ने दोबारा अपना लंड मेरी बीवी की चूत में घुसाया तो उसका लंड चूत में घप्प के आवाज के साथ प्रवेश कर गया।सन्जू को कुछ ज्यादा भराव महसूस हुआ उसकी टाईटनेस के वजह से। लंड घुसने के साथ ही रोहित शांत हो गया और संजना के नंगे शरीर पर लेट गया।संजना को अजीब लगा, उसने पूछा- क्या हुआ?मुझे लगा जैसे वो झड़ गया.

चुत कि कहानी

उस दिन वो मुझसे बोली- मैं पोस्ट ग्रेजुएट हूँ, पर क्या फायदा घर में ही रहती हूँ. उसने मीरा के घुटने चादर से बाहर निकाल कर उसके घुटनों पर क्रीम को मलते हुए लगा दिया. मैं अभी उन्हें देख ही रहा था, तभी उस लड़की के पापा ने मुझे बुलाया और कहा- बेटा क्या आप हमारी थोड़ी हेल्प कर दोगे?मैंने हां में सर हिलाकर उनकी मदद करने लगा.

शायद इसी वजह से उसने अपना हाथ अपनी सलवार के अन्दर डाल दिया और धीरे धीरे आहें भरने लगी. तभी शीतल भाभी ने भी झट से कह दिया- हां, वो तो तुम्हारी जीन्स को देख कर लग ही रहा है. भोजपुरी एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियोमेरे लंड से खूब सारी मलाई निकली जिसे वेलम्मा बस स्वाद लेती हुई चट कर गई.

जैसे ही हाथ नीचे चुत पर गया, तो मैंने महसूस किया कि भाभी की चुत का इलाका नीचे से पूरा गीला हो रखा है.

मैं भाविका चंद्रवाडिया उर्फ भाव (मेरे प्रेमी द्वारा दिया गया नाम) गुजरात के एज्यूकेशन हब आणंद की रहने वाली हूँ. किस तरह से मेरा जीवन रोमांच और आनन्द से भरपूर आगे बढ़ा, आप सच्चाई जानेंगे तो बिल्कुल हैरान रह जाएंगे.

मैं देखना चाहता था कि मीना अब भी खुद को बचाना चाहेगी?मगर मीना अब खुद को समर्पित कर देने की अवस्था में आ चुकी थी तो उसने किसी प्रकार की कोई गतिविधि नहीं की. नम्रता ने मेरी तरफ देखा, मैंने अपने हाथ झटक कर चुप रहने का इशारा किया. बुर की दोनों फांकें एकदम फूली हुई थीं, जैसे पावरोटी एक दूसरे से चिपकी हुई हों.

अब रूपा बोली- भैया, क्यों ना आप मुझको ही अपनी गर्लफ्रेंड नहीं बना लो.

अपनी मम्मा सौम्या ने आज क्यान कलर का सूट और बादामी रंग की पजामी पहनी हुई थी. सुरभि ने एक दिन बताया कि उसके जीजा जी उसके ऊपर काफी शक करते हैं कि उसका किसी लड़के के साथ चक्कर है, इसलिए वो उसके साथ और उसकी दीदी के साथ काफी सख्त रहते हैं. जब अंकल ने मेरे शरीर पर हाथ फेरा, तो मैंने इस बात का थोड़ा विरोध किया.

देसी चोदाअमर इसको और भी सहमति समझ चुका था इसलिए अमर का मूड बन गया और अगली बार जैसे ही पिंकी खाने के बाद अमर को पानी देने के लिए आई तो अमर ने पिंकी के दोनों हाथ पकड़ लिए और पिंकी को अपनी तरफ खींचने लगा. पहले तो मेरी तरफ देख कर कल्पना मुस्कुराईं, फिर छत की तरफ देखते हुए कहने लगीं- नीचे …मैंने अनजान बनते हुए कहा- पेट पर या नाभि पर?इस बार उन्होंने मेरी तरफ गुस्से से देखा और छत की तरफ देखते हुए कहा- पेट और नाभि से थोड़ा और नीचे.

इंडियन मॉडल

!उसकी इस तरह की बातों के बाद क्या हुआ, वो मैं अगले भाग में लिखूंगी. अब वो भी आगे पीछे होकर चुदने लगी और कामुक सिसकारियों भरी आवाजें निकालने लगी- आह … ह्म्म्म … हम्मम्म ओह … अअअअअ चोद दे … आई माँ. जब मैं उनके मोमे दबाता था और फिर सारा को लिप किस करता तो इससे मेरा लण्ड अंदर बाहर जाता रहा.

शर्मा सर जो मुझे ही देखे जा रहे थे, मुझे बैचैन देख कर पूछा- तुम्हें कुछ चाहिए क्या?अब उनको क्या बताती, पास मैं बैठे नितिन को मैंने कान में बोला, तो वो अपने लिए व्हिस्की का तीसरा गिलास भरते हुए हंसने लगा और अपने हाथ की उंगली ऊपर करके शर्मा सर को दिखाई. मैं नाम से तो नहीं जानती, पर पहचानती थी … और एक गांव का नहीं, बाहर का लड़का था. यार उस दिन समय भी कम था और साथ में घर पर किसी आने का डर भी लग रहा था.

मैंने उसके जी-पॉइंट यानि चुत के दाने को हल्के से काटा, तो वो उछल पड़ी. उसकी चुत गीली थी, मेरी एक उंगली उसकी चुत में घुसती चली गई और आन्या की एक मादक आह निकल गई. मैं कुछ देर के लिए उसके ऊपर ही पड़ा रहा तो कुछ देर के बाद वो शांत हुई.

थोड़ी देर तो उसने कुछ नहीं कहा, लेकिन थोड़ी देर बाद उसका रिप्लाई आया कि मैं कल शाम को तुमसे मिलना चाहती हूँ. जैसे ही मेरा ध्यान गया, मैं उनकी बात सुन कर दूसरे सोफे की ओर जाने लगा.

और इससे पहले वसुन्धरा कोई प्रतिक्रिया करती, फ़ौरन अपने लिंग को वसुन्धरा की योनि से वापिस बाहर खींच लिया लेकिन लिंग की योनि के अंदर आने-जाने की प्रक्रिया में मेरे लिंग-मुण्ड की जो योनि की दीवारों पर रगड़ लगी उसके कारण वसुन्धरा की उत्तेजित योनि ने और काम-रस उगल दिया.

उसकी चुत से कुछ अलग सी खुशबू आ रही थी, जो मुझे और भी ज्यादा पागल कर रही थी. आदिवासी सेक्सी पिक्चर ओपनतभी सोनम बोली- हम तीनों बहनें बाहर दरवाजे पर रहेंगी, तुम चिंता नहीं करना, आराम से मिलना बंध्या … पर मिलने का पूरा बताना. इंडियन सेक्स .com’‘ओह, तो मतलब तूने उसका …’‘हाँ मम्मी बातें छोड़िए, उसने आपको भी चोदा है और मुझे भी. ये एक सी ग्रेड की फिल्म थी, तो इस तरह की फिल्मों में सेक्स के सीन कुछ ज्यादा ही भड़काऊ होते हैं.

अजय ने मीना का एक एक पेग और बनाकर खुद ही उसके मुंह में गिलास लगाकर उसे पिला दी.

स्टेप मॉम सेक्स स्टोरी के पिछले भागमम्मी ने मेरा लंड पकड़ लियामें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी मम्मी अपनी आंखों पर और चेहरे पर पट्टी बांध कर मुझसे चुदवाने के लिए राजी हो गई थीं. नहाते हुए घर की डोर बेल बजी तो मैं ब्रा और पैंटी में दरवाजा खोलने के लिए बाहर आई. फिर धीरे से अपने मुँह को उसके बूब्स पर रखकर चूसने लगा और उसकी निप्पल को दांतों से काट देता था.

मैंने कहा- मेरा पहली बार है, इसलिए मैं तुमसे बिल्कुल अकेले में मिलना चाह रहा हूँ. और तुम मुझे देख कर चौंक क्यों गए? मत चौंको … मैं तुम्हारे पास ही हूँ. उसने अपना हाथ सलवार से खींचना चाहा लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने खड़े लौड़े पर रख दिया.

सेक्सी पिक्चर छोटी लड़कियों की

प्रिया सिर्फ़ मेरी आंखों में देख रही थी और बड़बड़ा रही रही- आंह और तेज … और तेज. कुछ देर सोचने के बाद डिसाइड किया कि कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा और ऐसा मौका बार बार आता भी नहीं. और मैं इंस्टाग्राम से ही पटा कर एक लड़की को अपने घर लाया था, उस टाइम उसका बॉयफ्रेंड था। फिर भी मैंने उसे सेट किया, घर लाया और चोदा.

जैसे ही ऊपर खिसकी, तो वो मेरे पेट के पास बैठकर मेरे जींस के बटन खोलने लगा.

मैंने एक हाथ उसकी कमर में डालकर उसे सहारा दिया और दूसरे हाथ से अपना लंड पकड़ कर सुपारे को चूत के छेद पर रगड़ने लगा.

उंगली करने के साथ ही अपने गोल-मटोल चूचे भी एक हाथ से दबाये जा रही थी. हम दोनों डर के मारे एक दूसरे की आंखों में देखने लगे कि अचानक सबसे आगे की सीटों की एक लाइट ऑन हो चुकी थी. जंगली बीपी सेक्सइसलिये मैं अपनी एक और नई मस्तराम कहानी लेकर आपके सामने आई हूँ, शायद आपको पसंद आ जाए.

अचानक हम दोनों के शरीर एकदम से कांपने लगे और जीजू ने पूरी ताकत से लंड को आखिरी बार मेरी चूत में धक्का मारा और मेरी चूत के अंदर ही अपने लंड से पिचकारी मारने लगे. उसके स्थान पर एक भारतीय मर्द होता तो शायद वो इतना खुला नहीं कह पाता. फिर मैंने दिलिया की जम कर चुदाई की और उनको जन्नत की सैर कराई।मैं दिलिया के ओंठ चूस रहा था.

अब उसने धीरे धीरे नीचे झुक कर साड़ी को कमर तक ऊंची करके अपनी चूत की दर्शन करवाए. अब उसकी फुद्दी मेरे लन के ऊपर आ गई थी और उसके मम्में मेरे मुंह के सामने.

रूम में जाते ही जागृति मेम ने रूम बंद किया और हम दोनों किस करने लगे.

जब पहले दिन उनके अंडरवियर के अंदर से ही चूत ने उनके टोपे के अहसास को महसूस किया था, मेरी हालत तो उसी पल से खराब होने लगी थी. मैं दिखने में इतना सुंदर तो नहीं हूँ कि लड़कियां मुझे देखते ही अपनी खोल दें मगर जब उनकी खुलती है तो फाड़ने में कोई कसर भी नहीं रहती है. मैंने शर्माकर कहा- नहीं भाभी सिर्फ लड़के दोस्त हैं और वैसे भी मुझे लड़कियों से ज्यादा भाभियों में इंटरेस्ट रहता है.

ब्लू फिल्म करने वाला अचानक से रानी ने ज़ोर की किलकारी मारी- ईईईई ईईईई ईईई … अईईई ईईईईई …. मैंने भी उनका इशारा समझ कर उन्हें इशारों से ही बता दिया कि अब आगे वैसा कुछ नहीं करूँगा.

इसके बाद उन्होंने मुझे घुटनों के बल बिठा कर मेरा सिर पकड़ कर जबरदस्ती अपना काला लंड मेरे मुँह में डाल दिया. उसके अगले दिन सन्डे था तो दोपहर में मैं डॉली के घर चली गयी और उसे अपनी पहली चुदाई की खबर दी. मेरी तरफ से हां का इशारा पाते ही अंकल जी ने मुझे फिर से अपनी बांहों में भर लिया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मेरा निचला होंठ चूसने लगे साथ ही अपना हाथ नीचे लेजाकर मेरी सलवार के ऊपर से ही मेरी झांटों वाली चूत सहलाने लगे और उसे मुट्ठी में भर के मसल दिया.

सेक्सी इंग्लिश फिल्म हिंदी

फिर उसने एक ड्रेस ली और हम खाना खाने के लिए मॉल के फ़ूड कोर्ट में आ गए. सेक्स ना होने की वजह से तुम्हारे शरीर में गर्मी बढ़ गयी है, इसलिए कभी कभी ऐसा हो जाता है. मगर जिस छोटे से गांव से मैं ताल्लुक रखता हूँ, उधर ये सब इतना खुला नहीं था.

मैं तुरंत चड्डी पहन कर गेट खोल कर उसे अंदर लाया और उसे भी चोदा।अगले दिन साली ने गिफ्ट मांगा तो मैंने तुरंत उसे अपनी चड्डी जो पहनकर रखी थी दे दी. जब सिकाई करने के लिए मैंने उनकी दोनों टांगों को अलग किया तो उनकी बुर की हालत देख कर मुझे दया सी आ गयी … और खुद पर थोड़ा गर्व भी महसूस हुआ.

सुबह जब भाभी के घर पहुंचा तो उन्होंने दरवाजा खोला और देखते ही मेरा लंड सनक गया.

फिर मुझे अपनी गलती का एहसास हो गया कि मैंने क्या बोल दिया। मैंने सॉरी कहा और बोला- दूसरी कोई जगह है नहीं और मुझे फर्श पर नींद नहीं आती. मैं रुका, अपने हाथों में उसका चेहरा लिया और किस करके हाथों से उसकी चूचियां धीरे धीरे सहलाईं. वो मेरे इतने पास खड़ी हुई थी कि उसकी गर्म सांसें मेरे चेहरे से टकरा रही थीं.

उनके दो बच्चे हैं जो कि ग्रेजुएशन करने के बाद बंगलौर और चेन्नई में एमबीए कर रहे हैं. भाभी अब बाथरूम में नहाने जातीं तो मैं चुपके से उनकी चुत और गांड देख कर मुठ मार लिया करता था. हर झटके के साथ 3-4 इंच लंड मेरी मम्मा सौम्या के अन्दर जाता और बाहर आ जाता.

कल्पना- आहहह … आहहह … ऐसे ही करते रहो, अच्छा लग रहा है … इस्सस कितना अच्छा लग रहा है … रुकना मत प्लीज, करते रहो.

हिंदी बीएफ पिक्चर चलने वाली: !उसकी इस तरह की बातों के बाद क्या हुआ, वो मैं अगले भाग में लिखूंगी. उसके बड़े बड़े बूब्स देखकर मेरे मन में भी चुदाई का कीड़ा कुलबुलाने लगा.

फिर अचानक ही वसुन्धरा की योनि ने काम-ऱज़ की जम कर बौछार कर दी और इस के साथ ही उसकी आँखें उलट गयी और वसुन्धरा बेहोश सी हो गयी. मैं खड़ा हो गया तो सरिता ने मेरे होंठों को किस किया और मेरे होंठों को चूसकर अपने चूतरस का स्वाद अनुभव करने लगी. शादीशुदा भाभी की कुंवारी बुर के चोदन की कहानी के इस भाग से संबंधित आपके सुझाव मुझे भेजें.

वे- हां हां हां हूं हूं हूं आज मजा आया!मैंने कहा- हां अब आप एक्सपर्ट हो गए हैं.

मैं आशीष में खो गई थी, मेरी सांसें और सीना इतना तेज गति से चलने लगे कि मैं बता नहीं सकती. अब मेरे मन में भी एक जिज्ञासा पैदा होने लगी थी कि पापा मेरी माँ की चूत को किस तरह चोदते होंगे. मुझे आपके मेल से पता चला कि मेरी कहानियों की कायल कुंवारी लड़कियां भी हैं.