खेत में चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी भाभी पोर्न वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बंदर इमेज: खेत में चुदाई बीएफ, दीदी ने कहा- अरे डिस्को शहर में है और यहां से 40 किमी दूर है, मैं जाऊँगी किस के साथ?मैंने कहा- दीदी आप तैयार हो जाओ, मैं ले चलता हूं और शाम तक लौट आएंगे.

दुल्हन की चूत

जब मैं लेडीज टॉयलेट में घुसा तो क्या देखता हूँ उसने अपनी सलवार उतारी हुई है. इंग्लिश सेक्सी वीडियो विदेशीपूनम मेरे मुँह के ऊपर अपनी चुत को ले आई और मैं उसकी मरमरी चुत को सक करने लगा.

मैं ये भी सोच रहा था कि नवीन के जाने से पहले मॉम उससे ज़रूर मिलेंगी. ಸನ್ನಿ ಲಿಯೋನ್ ಬಿಎಫ್पूनम बोली- ठीक है!फिर क्या… मैंने कमरे को लॉक कर लिया और फिर मैंने पूनम को पकड़ लिया और उसके होठों को किस करने लगी.

उसका 7″ लंबा और 3″ मोटा (डायामीटर) मेरी अनचुदी चुत में 15 से 20 मिनट तक अपना काम करता रहा था, इस वजह से उसके मूसल लंड को झेल कर मेरे शरीर में दम ही नहीं बचा था.खेत में चुदाई बीएफ: मुस्कुरा कर कहो।थोड़ा तड़प के साथ वो मुस्कुराती हुई बोली- ठीक है।मैं उसे इसी तरह की बातों में बहकाने की कोशिश कर रहा था।तभी मुझे लगा कि सोनी मेरी पीठ को चूम चाट रही है।मैं अब धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर कर रहा था। जब रेशमा की चूत थोड़ी और ढीली हुयी तो मैंने इस बार एक तेज झटका दिया।आईईई.

अगर आपके पास चूत या लंड का इंतज़ाम नहीं है तो लड़के मुट्ठ मारेंगे और लड़कियां अपनी चूत में उंगली डालकर अपनी चूत का पानी निकालेंगी.मगर इधर बिंदु की सूजी हुई चुत को देख कर मेरी चुत भी लपलापने लग गई थी कि उसके साथ भी ऐसा ही हो.

मोटी भाभी - खेत में चुदाई बीएफ

अब तक मेरी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि ड्राईवर से मन भर गया तो मैंने एक और नए लंड की तलाश की जो मुझे मेरे कॉलेज में मिला.समीर कभी कभी मेरे गाल पर एक धीमे से चांटा भी मारता था और गालियाँ देते हुए बोलता था- चूस, अंदर तक ले!इसी बीच समीर ने अपना लंड मेरे मुँह से खीच लिया और अपनी गोली मेरे मुँह में भर दी.

इस वक्त मैं भाभी की चुत को पूरे ज़ोर से चाट रहा था तो उस दौरान भाभी की मदभरी आवाज निकल रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… क्या खा ही जाओगे… आह…उनकी कामुक आवाज़ मुझे और अधिक गरम कर रही थी. खेत में चुदाई बीएफ ऐसा करने में मुझे बहुत मजा आ रहा था पर मैं डर भी रहा था कि कहीं चाची जी जाग न जाये.

लेकिन हमारी कोई संतान नहीं है, क्योंकि मेरे पति अभी कोई इश्यू नहीं चाहते इसलिए उन्होंने बच्चा पैदा नहीं किया है.

खेत में चुदाई बीएफ?

करीब दस मिनट बाद कमरे की ख़ामोशी को भंग करते हुए किचन के दरवाज़े की खुलने की आवाज़ आई. मैंने फ़ौरन बाहर जाकर मेरे दोस्त को बताया कि माल चुदाई के मतलब का एकदम मस्त है. आंटी अब सिसकारियां भरने लगी, ‘अ आ ई आ ईईईईआआ आ आ…’ की आवाजें करने लगी.

अभी मेरे लंड का टोपा ही उसकी गांड में गया था कि वह जोर जोर से चिल्लाने लगी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरे टीचर ने की मेरी पहली चुदाई-3. मैंने उसे ऐसे देखकर चुपचाप उसे छिपाने लगा तब तक उसने मेरा हाथ पकड़ लिया, बोली- ये क्या है?मैं- खुद देख लो.

जब मैं घर पहुंची तो उसका मैसेज था ‘घर जाते ही बता देना, फ़िक्र नहीं होगी. इसके बाद मैं नीचे लेट गया और वह मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे लंड को अपनी चूत में डाल कर ऊपर नीचे उछलने लगी. मैंने अगले ही पल उनका एक बूब ब्रा के ऊपर से ही मुँह में भर लिया और चूसने लगा.

पूजा के आते ही मैंने उसे नंगी किया और उस पर चढ़ बैठा और उसको चोदने लगा. इसके बाद शॉपिंग पूरी हो गई, उसने मेरी शॉपिंग का पैसा भी दे दिया था.

पहली बार तो मेरा सुपारा फिसल गया, मैंने दोबारा से उसे सेट किया और फिर से धक्का लगा दिया.

मौसी मुझे सोच में पडा देख कर बोली- राजीव, सोच मत… बेटा किसी को पता कुछ पता नहीं चलेगा! तुम मेरी मदद कर दो! मुझे बच्चे का सुख दे दो!मेरी मौसी मेरे सामने गिड़गिड़ाने सी लगी.

पहले तो उसने मुझे ऐसे घूर कर देखा कि उसे अंदाज़ा ही ना हो कि मैं उससे ये सब भी बोल सकता हूँ. मैं उनकी चुत को बड़ी बेदर्दी और प्यार के मिले जुले प्रयासों से चाटे जा रहा था. मेरे चुचे बिल्कुल उसकी छाती में गड़े हुए थे और उसके उठे हुए लंड का आभास मुझे मेरी चूत के ऊपर हो रहा था.

हाय फ्रेंड्स, आज जो मैं आपको जो सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ, वो असल में मेरी और मेरे पापा के साथ सेक्स की स्टोरी है. इस तरह उन्होंने मुझे आधे घंटे तक लगातार चोदा और इस दौरान में दो बार झड़ चुकी थी. आजकल तुम्हारा बिजनेस कैसा चल रहा है?मैंने जब कुछ जवाब नहीं दिया तो वो बोली- मुझसे क्यों नाराज़ हो.

मौसी जाग गई और एक बार तो हैरानी से मुझे देखा, फिर खुश हो कर मुझे अपने नंगे बदन से चिपका लिया.

कुछ दिनों के बाद जूसी रानी को दस दिन के लिए अपने मायके जाना था, तो मैंने सत्येन को भी एक लम्बे टूर पर रवाना कर दिया. काफी देर की चुदाई के बाद अब उसे मेरा भार लग रहा था तो वो बोली- जीजू, प्लीज अब खत्म कीजिए ना. आशीष बोला- मैं अब झड़ने वाला हूं। बता वन्द्या, मेरा लन्ड रस पिएगी या चूत में ही डाल दूं?मैं बोली- अपना लन्ड रस मुंह में मेरे डालो!और सच में आशीष ने मेरे मुंह में लंड डालकर अपना पूरा रस मेरे मुंह पर भर दिया, मैंने उसे चाट लिया.

इसके बाद उसने भी अपने कपड़े उतारे और धीरे से मेरी पैंटी को खिसका दिया. यह कहते हुए अपना मोबाइल निकला और उसका चुदाई वाला वीडियो चला दिया, पूरा बीस मिनट का वीडियो था. इससे पहले कि वो मुझे चुदाई की रकम देता, उस आदमी ने बुड्डे के कान में कुछ कहा.

मैंने उनकी बात को न मानते हुए लंड एक झटके में चुत से खींच कर उनकी गांड में पेल दिया.

एक बार उनके पति दो दिन के लिए बाहर जाने लगे तो उन्होंने मुझे बुला कर इन दो दिनों में उनकी बीवी की दोबारा से अच्छी तरह से चुदाई करके उनकी बीवी की कामुकता को शांत करने को कहा. अब तक भाभी की वासना की कहानी के पहले भागकामुक भाभी की चुदाई का सुख-1में आपने पढ़ा था कि मेरे पड़ोस की सेजल भाभी ने मुझे सूदखोरों के चंगुल से बचाया था और अब वे मुझे एक अजीब तरह की सजा दे रही थीं, जो मेरे भेजे से बाहर थी.

खेत में चुदाई बीएफ मैंने दी को आवाज़ दी, उन्होंने मुझे देखा और एकदम से स्टैंडबाई पे चली गईं. कुछ देर हम यों ही खड़े रहे, मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा लंड खड़ा हो गया और भाभी छुप छुप कर मेरे लंड को देखने लगी.

खेत में चुदाई बीएफ मैं तुम्हें सुबह 7 बजे ही छोड़ूँगा क्योंकि तुम 7 बजे मेरे पास आई थीं. उनका सर नीचे चुत की तरफ था, जिससे शायद भाबी को मेरे आने का पता नहीं चला.

पहले भाबी की आँखों पर पट्टी बंधी और भाबी ने मुझे ही पकड़ लिया और मेरा टॉप जानबूझ कर खींचते हुए फाड़ दिया.

बनाने का तरीका दिखाइए

जैसा हर लड़की को यह अहसास हो जाता है कि कोई आदमी उसको घूर रहा है, वैसे ही अलका भी ताड़ गई थी कि मैं उसे ध्यानपूर्वक देख रहा हूँ. इसके बाद मैंने मेरी सहेली के मकान मालिक से पर बहुत दिन तक बातें की और मैं उसके साथ काफी हद तक खुल गई. मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने आँख दबाते हुए लंड को मेरी खुली चुत में पेल दिया.

ये कहते हुए उसने उसे खुश किया और उससे फिर से पूछा- अगर आपको बुरा ना लगे तो मैं आपसे एक निजी सवाल पूछूँ. मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मैं उससे अलग हुआ और अपने कपड़े भी उतार दिए. मैं डॉली के बाल पकड़ कर मेरा लंड उसके मुँह में पूरा डालने की कोशिश कर रहा था.

कुछ देर तक एक दूसरे की जीभ का रस पीने के बाद मेरे लंड में आग सी लगने लगी.

मकान मालिक बोल रहा था कि मैं तुमको बहुत दिनों से चोदना चाहता था लेकिन आज तुमको चोदने का मौका मिला. ”मैं घुटने के बल बैठ गया, भाभी ने अपनी दोनों टाँगें खोल दी और एक हाथ से मेरा लण्ड पकड़ा और चूत के मुँह पर रखते हुए बोलीं- दो बात का ध्यान रखना, एक तो एकदम मत डालना, धीरे धीरे डालना क्योंकि तुम्हारा लण्ड बहुत मोटा और बड़ा है. सीमा ने पूछा- ये सब क्या है?उसने बताया कि हमारे बीच गलत कुछ नहीं है, बस हम दोस्त हैं.

कामिनी ने पूरी ताकत से पीछे से मेरे बाल पकड़ लिए और बोली- जल्दी कर साले चादर गन्दी हो जाएगी, जल्दी जीभ निकाल कुत्ते की तरह… जो तू है भी… और चाट जल्दी. मैं पेशे से इंजीनियर हूँ और यहां जयपुर में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ. नताशा एक साथ अपने दोनों छेदों में दो दो लंड प्राप्त करती हुई किसी बिल्ली की तरह म्याऊँ म्याऊँ कर रही थी.

उसके चुचे बहुत ही कड़क थे और चूत तो ऐसे लग रही थी जैसे कभी उस चूत में कभी लंड गया ही न हो, मैं उस पर टूट पड़ा और एक हाथ से उसके चुचे मसल रहा था तो दूसरे हाथ से उसकी चूत में उंगली कर रहा था. कोई इस रसभरी को छू कर न चख ले, इसलिए मैंने कहा- आप बस के पास पहुँचिए, मैं चाय लेकर आता हूँ.

उनके पूरे सुर्ख गुलाबी भरे भरे होंठ और इन सबसे ऊपर उनकी आँखें, जिनमें पता नहीं, मेरे लिए कितना प्यार था. तभी मॉम ने मुझे हिलाया- क्या हुआ सोनू कहाँ खोया है? मैं तुझसे ही बात कर रही हूँ. इसलिए चाची ने मुझे मेरे कमरे में छोड़ बाहर निकल गईं और चाचा को जगा कर घर के कामों में ऐसे व्यस्त हो गईं मानो कुछ हुआ ही नहीं था.

सारी रात में और वो एक बिस्तर पर…मैं ऐसे सोचते सोचते उसके घर पहुँच गया तो उसको फ़ोन किया, वो आई… नाईट ड्रेस में बहुत हॉट लग रही थी.

उनका 38-34-38 का फिगर बड़ा ही जानलेवा दिख रहा था उनका ये फिगर उनकी झीनी सी नाईटी में पूरा साफ़ नजर आ रहा था. हम दोनों कभी कभी आधा घन्टा, तो कभी एक घन्टा तक बैठ कर बातें करते रहते थे. मैं उससे बात करने की काफी कोशिश करता रहा, पर मैं जब सर घुमाता उसकी माँ मुझे टेढ़ी नजरों से घूर रही होती और मैं डर के मारे अपनी नजरें आगे कर लेता.

तभी प्रिया अपने बाल व्यवस्थित करने के उपरान्त मेरी ओर झुकी, उसकी कज़रारी आँखों में शरारत की गहन झलक थी. जब पूरा लंड उसकी चूत में उतर गया तो मैंने तेज-तेज उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया.

हालांकि वो गे नहीं है, पर जिनका तुम लंड चूस के आए हो, वो जरूर तुम्हरी गांड मार के वीडियो बना लेंगे. कुछ ही देर मैं भाभी के मम्मों का मीठा दूध मेरे गले को तर करने लगा, मैं दबा दबा कर भाभी के मम्मों का रस निचोड़ने में लगा हुआ था. ”ठीक है…”आआहह…”टांगें खोलो न…”लो… ऊपर मत रगड़ो… अन्दर डालो अब… नहीं तो मैं मर जाउंगी.

यामी सेक्सी

मैं अन्तर्वासना का बहुत आभारी हूँ जिसने सभी चोदू और चुदक्कड़ों को अपने अनुभव शेयर करने का प्लेटफॉर्म दिया.

उसकी बुर काफी लपलपा रही थी, उसमें से प्रीकम निकल रहा था, जो चुदाई के लिए चिकनाहट बना रहा था. पर मैं नहीं रुका, मैं घर आ कर सीधा रूम में घुस गया और अन्दर से लॉक करके बिस्तर में लेट गया. जो मैंने 32 इंच के छोड़े थे, आज वो 36 इंच के हो गए थे और काली ब्रा में क़यामत ढा रहे थे.

मैंने ब्लाउज के बटन खोलकर मोहन का पांव पकड़ कर अपने मम्मों पर टिका दिया, वो अपने पांवों से मेरे मम्मों को रगड़ने लगा. मैंने कहा- अब ये तुम्हारी चूत में जाने के तड़प रहा है इसलिए कुछ ज्यादा ही बड़ा हो गया!उसने कहा- फिर रोका किसने है?मैंने भी ज्यादा देर करना ठीक नहीं समझा, हम दोनों ही गरम हो रहे थे, सोचा कि लोहा गरम है, मार दे हथौड़ा!मैं उसके नंगे बदन के ऊपर आ गया और उसकी टांगों को चौड़ी करवा दिया और अपना लोडा उसकी चूत पर रख के रगड़ने लग गया. देसी बीपी फिल्मवो पूरी पीठ पर हाथ फेर रही थीं, कभी बालों को पकड़ रही थीं, कभी हाथ फेरतीं.

मैं उनके किस से बहुत ज्यादा गर्म हो गया था और मेरी गांड में खुजली होने लगी. बात करने के बाद भाभी ने मुझे कस कर पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया, इसके बाद जो हुआ वो बताने से कोई मतलब नहीं है। किस करने के बाद उन्होंने मेरे बूब्स को फ्रॉक के ऊपर ही मसलना शुरू कर दिया, मैंने भी थोडा डरते हुए कपड़ों के ऊपर ही उनके बूब्स को मसला, पर कुछ देर बाद हाथ उनके बूब्स से हटा लिया।पर थोड़ी हिम्मत करके फिर से उनके बूब्स को मसलने लगी.

जैसे ही सॉरी कहते हुए मैं आगे बढ़ा, मेरा तौलिया खुल कर नीचे गिर गया. आंटी बोली- चलो मेरे साथ मेरे घर पर!मैं बोला- नहीं आंटी, मैंने बस की टिकट नेट से बुक कर रखी है तो मैं नहीं जा सकता. आप ठीक कह रही हैं, लेकिन आज मैं उसे घर से बाहर लेकर निकला हूँ तो इस उम्मीद में किसी लड़की से जान पहचान हो जाए… लड़की के साथ तो मैं मजे मजे में रूसी सीख जाऊँगा!”अच्छा आईडिया है… क्या मिली कोई लड़की?” नताशा ने पूछा.

कामिनी बोली- अरे यार विवेक, क्या कर रहे हो?वो बोला- तुमको तो मालूम है. पहले दीदी की ब्रा का साइज 40 डी था, मुझे लगता है, अब बढ़ गया होगा क्यूंकि दीदी पैडेड ब्रा पहनती हैं, इसलिए उनके चूचे और भी ज्यादा राउंड मेलॉन्स की तरह दिखते हैं. कुछ देर बाद मैं वहाँ से उठ कर नीचे अपने कमरे में जाने लगा तो उसने मुझे बुलाया और पूछा कि मैं क्या करता हूँ और मेरा नाम भी पूछा.

बस फिर क्या था, उसने मुझे अपने गले से लगा लिया और ब्रा का हुक पीछे से खोल दिया, जिसका असर यह हुआ ब्रा उतर गई और मैं ऊपर से पूरी नंगी हो चुकी थी.

मेरी गांड भी फट रही थी कि कहीं अगर वो जाग गई और किसी को कुछ बोल दिया तो मेरा क्या होगा. अब वो मेरे सर को पकड़ कर अपने लंड की चुसाई करने में मशगूल हो गया था.

मैं आप सभी दोस्तों को बता दूँ कि मेरा लंड का साइज लगभग नौ इंच का है और ये किसी खीरे जैसा मोटा है. मैंने कहा- अब मैं चलता हूँ!तो रश्मि ने कहा- यह कैसे हो सकता है? यहाँ मैं सुबह से आप लोगों की इन्तजार कर रही हूँ और आप अभी जाने की बातें कर रहे हो? आप आये अपनी मर्जी से हैं, जाएंगे मेरी मर्जी से!मैंने कहा- मेरी एक क्लाइंट से आज सायं को मीटिंग है, अतः मैं कल आऊंगा. जब वो नहीं होता था तो मैं अलका को फोन करके पूछ लेता कि कोई काम हो तो बता दे, मैं करवा दूंगा.

अब तक की चुदाई की स्टोरी में आपने पढ़ा था कि मेरे बेटे आशीष के दोस्त चंदर ने मुझे चोदने के लिए अपने कमरे में बुलाया था, जहां आशीष भी था. क्या नज़ारा था…!!! साक्षात् रति भी इतनी सुन्दर ना होगी जितनी उस वक़्त प्रिया लग रही थी. मैं आपको एक बार फिर बता दूं कि मैं एक 30 साल का 177 सेंटीमीटर लंबा एथलीट टाइप की बॉडी वाला बांका जवान मर्द हूँ.

खेत में चुदाई बीएफ भाबी के गहरे गले वाले ब्लाउज में से उनके मम्मे पूरी तरह से तने हुए थे. अब मैं आंटी के बारे में आपको बता दूँ, उन्होंने काले रंग की साड़ी पहनी हुई थी जो उसके गोरे रंग पर गजब ढा रही थी.

स्मार्ट गर्ल सेक्स वीडियो

राम सुख- चलो माफ किया, यहां कैसे?मैंने उसे अपनी राम कहानी सुनाई बताया… उसे बताया कि मैं नौकरी में हूँ… और काम पर वापस जा रहा हूँ. पता ही नहीं चला कि कब हम दोनों पर कामवासना सवार हो गई… मैं उनके गोरे गोरे मम्मों को दबाने लगा था और एक एक करके दोनों मम्मों के गुलाबी निपल्स को चूसने और काटने लग गया था. मेरी चूत पर अभी बाल पूरी तरह से नहीं निकले थे मगर फिर भी बहुत ही मुलायम से निकले हुए थे.

तो दोस्तो, यह थी मेरी ग्रुप में चुत चुदाई की कहानी, कैसी लगी बताइएगा जरूर. अंत में जब कॉफ़ी आयी तो मैंने अलका से पूछा कि उसकी हॉबी क्या क्या हैं. चूत चुदाई के वीडियोमैंने जो हाथ उसके कूल्हों पर रखा हुआ था उसे धीरे से थोड़ा नीचे उसके चूतड़ों की गहराई की तरफ बढ़ दिया… मैंने पीछे से बस अपनी उंगलियों को ही उसकी दोनों जांघों के बीच की तरफ बढ़ाया था कि डर व उत्तेजना से मेरा पूरा शरीर कम्पकपा गया….

इस बार भी काफ़ी वीर्य निकला था… मैंने उसके काले मोटे लंड के खुले हुए सुपारे को जुबान से चाटकर साफ़ किया.

उस भाभी रूपाली की उम्र करीब 32 थी, उनका फिगर एकदम मस्त था, उनके फिगर का साइज़ 34-32-36 का था. अब तक मैंने बहुत सी लड़कियों, आटियों व भाभियों के साथ चुदाई का मजा लिया है और उन्हें खूब मजा दिया भी है.

सुहानी की आँखों में आंसू आ गए, मैंने सुहानी को दबा कर रखा और किस करने लगा. मैंने उसकी पेंटी के अन्दर हाथ डाल कर चूत को सहलाया और पेंटी को खींच कर अलग कर दिया. अब भीतर से दरवाजा बंद करने के बाद मेरी जान नीना बिल्कुल बिंदास हो गई, जैसे उसे कोई बहुत बड़ा खजाना मिल गया हो.

कामिनी बोली- हां साले, तू तो छक्का है भोसड़ी के… तेरे तो लंड हुआ न हुआ बराबर है.

लड़की- मगर आपको देख कर कोई नहीं कह सकता कि आप 35 साल से ऊपर की होंगी. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के प्रशंसक मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम पंकज है और मैं अजमेर राजस्थान का रहने वाला हूँ. वो मुझसे कुछ कम बात करती थीं और मैं अगर कुछ पूछती भी थी तो छोटा सा जवाब देकर अपने रूम में चली जाती थीं.

भाभी की सेक्सी वीडियो हिंदीतो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी पहली फ्री चुदाई की कहानी? मुझे मेल करके जरूर बताइये और अगर आपको कुछ कमी लगे कहानी में तो वो भी बताइये ताकि मैं आगे अपनी कहानी में सुधार कर सकूं![emailprotected]. मैं सीधा जिम में गया और दरवाज़ा बंद कर दिया और अपनी तैयारी करने लगा.

जानवर औरत सेक्स

जब मैंने ध्यान से देखा तो थोड़ी सी लैंगिंग्स उसकी गांड की दरार में घुसी हुई थी. कुछ देर बाद उसने कहा- अब शायद तुम्हें तुम्हारी जोरदार कहानी मिल गई होगी. दोस्तों मेरा अपना अनुभव है, जो मज़ा एक नई लड़की नहीं देती, वहीं एक शादीशुदा चुदी चुदाई चूत देती है.

उसके बाद मैंने एक जोर से झटका मारा और पूरा लंड की उसकी चूत में चला गया. भाभी ने मेरे हाथ से ताला लिया और बाहर जाकर मेरे कमरे को लगाकर वापस आ गईं. जब उनको मौका मिलता तो वो उसको ऐसे वीडियो दिखाते हुए उसके मम्मों को दबाती भी थीं और उसकी चुत में भी हाथ मार देती थीं.

उसमें काफ़ी सारी लड़कियों के मेल भी थे, मैंने उनमें से कई के साथ भी बात की और कुछ के साथ ज्यादा ही बात की. इसी तरह उसने मेरे दोनों हाथों को भी फैला कर इधर उधर से खीच कर बाँध दिए. अब तक की चुदाई की स्टोरी में आपने पढ़ा था कि मेरे बेटे आशीष के दोस्त चंदर ने मुझे चोदने के लिए अपने कमरे में बुलाया था, जहां आशीष भी था.

बिस्तर की चादर पर मुट्ठियाँ कस रही थी, रह रह कर बिस्तर पर पाँव पटक रही थी, ऊँची ऊँची सिसकारियाँ ले रही थी, लम्बी लम्बी सीत्कारें भर रही थी. तुम्हारे लंड पर ऐसे ही तेल लगा लगा कर मैं भी मालिश करूँ तो!विवेक मेरी तरफ देख कर बोला- मैडम को केला खाना है.

मुझे अब मौसी की चुत का रस पीने की लत लग गई थी और उनकी हर सुबह चुत चाटने की आदत मुझे इतनी अधिक लग गई थी कि बिना चुत चाटे मुझसे रहा ही जा रहा था.

करीब 20 मिनट तक लंड चूसने के बाद मेरे मुँह में कुछ दर्द सा होने लगा. सुहागरात की सेक्सी फिल्मफिर एक दिन उस से फेसबुक पे बात हुई तो वो बोल रही थी- अगर मुझे रात में आपकी याद आये तो मैं क्या करुँगी?मैंने उसको अपना मोबाइल नंबर भेज दिया और कहा- अगर रात में मेरी याद आये तो मुझे कॉल कर लेना!इतना बोल कर मैं सो गया. सेक्स सेक्स सेक्स सेक्स सेक्सी वीडियोमैडम ने मेरी तरफ देखा और आँख मारी और मेरे असाइनमेंट बुक में लिखा कि आज रात कुछ तूफानी हो जाए. मैं बोला- सोनिया एक बात बताएगी?वो बोली- बोलो न भैया?मैं बोला- अगर सच सच बताएगी तो बोलूँ?वो बोली- हां भैया सच सच बताऊंगी.

तभी मैं उसकी गांड में ही झड़ गया, हम लोगों ने जल्दी से कपड़े पहने और बस में चढ़ गए.

चूंकि लंड चुत की चुसाई के दौरान हम दोनों एक एक बार झड़ चुके थे तो जल्दी झड़ने का कोई सवाल ही नहीं था. दीदी मुझे चूमते हुए बोली- भाई तूने मेरीचुत चुदाईकरके मेरी बरसों की प्यास बुझा दी. मैंने एक बार रजाई में से अपना मुँह निकाल कर उसे देखने की कोशिश की, कमरे में बिल्कुल घुप अन्धेरा था इसलिये साफ तो दिखाई नहीं दे रहा था मगर उसका साया नजरा आ रहा था, जो ठण्ड कारण दोहरी हो रही थी। मैं सोचने लगा कि क्यों ना मैं इसे अपनी ही रजाई ओढ़ा दूँ मगर मुझे डर भी था कि कहीं यह मुझे ही गलत ना समझ ले.

जैसे ही उसने बैठ कर अपनी बांहों को पसीना सुखाने के लिए ऊपर को किया. मैंने झुक कर प्रिया के होंठों पर एक चुम्बन लिया, फिर धीरे से एक एक चुम्बन दोनों कपोलों पर लिया… एक ठोड़ी पर, एक गर्दन के बीच में ज़रा बायीं और दूसरा ज़रा दायीं ओर…प्रिया की गहरी साँसों में अब आनन्दमयी सीत्कारें निकलने लगी थी. थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद मैंने उसकी चूत देखी वो फूल कर लाल हो रखी थी.

मारवाड़ी सेक्स राजस्थानी सेक्स

मुझे मालूम है और आपको भी बता देना चाहता हूँ कि गुजरात की लड़कियां इतनी जल्दी ऐसे ही चोदने नहीं देती हैं इसलिए वो भी अभी चुत देने के नहीं मान रही थी. मैंने आपको अपनी पिछली कहानीमेरे दोस्त का भाई मेरा पति बन गयामें बताया था कि मैं अमित जी से कैसे चुदा. मैंने भी हामी भरते हुए उसका हाथ पकड़ लिया, वो तो बस मुस्कुराए जा रही थी.

उसके इस एक्शन से मुझे राहत सी मिली कि आज इसकी चूत चुदाई का खेल किया जा सकता है.

एक दिन मैं सुबह सुबह उनके घर गया तो भाबी नीचे झुक कर पौंछा लगा रही थीं.

करीब 15-20 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे के चिपक कर लेटे रहे और किस करते रहे मैं उठी और मैंने पूनम की साड़ी को खोल दिया और अब वो पेटीकोट ब्लाउज में थी. कमरे से निकल कर सामने चाय की दुकान पर बैठ के चाय ऑर्डर की और मोबाइल में गेम खेलने लगा. हिन्दी पोर्नखुद नीचे से अपनी गांड उठा कर लंड ले रही थी ‘आआआहह… आअहह…’भैया जब तेज झटके मारते थे तो मैं ‘उईईईई मम्मीं… मर गई…’ मचल कर कामुकता से बोलने लगती थी.

वो मुझे अपनी गोद में बिठा कर मेरे मम्मों को और चुत को हाथों से सहलाता रहा. फिर मैं मान गया और आंटी न गाड़ी का यू टर्न ले लिया और लगभग 25 मिनट के बाद हम उनके घर पहुँच गए. उस रात तो मैं सो गया, फिर अगले दिन कविता का कॉल आया, उसने कहा- जीतू तुम अपनी गर्लफ्रैंड को छोड़ दो और मुझ से फ्रेंडशिप कर लो! मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं, और हमेशा करती रहूंगी!फिर उसने कहा- अगर तुमने सपना (मेरी गर्लफ्रैंड का नाम) से बात करना बंद नहीं किया तो मैं तुम्हारी मम्मी से बोल दूँगी.

मुझे तो सीधा छेद ही नजर आ रहा था कोई सील तो नहीं दिख रही थी, तो मैंने कहा- साली साहिबा आपकी चूत तो बहुत गहरी है, इसमें कोई सील तो है ही नहीं. मेरे प्यारे पाठको, आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे कमेंट्स में सूचित करें.

मैंने उसी वक़्त उसके बूब्स को मुख में भर लिया और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा.

उसने मुझसे पूछा कि क्या चाहिए?मैंने भी हिम्मत करके बोल दिया कि आपका लंड चाहिए. ताकि यदि कोई दूसरा इस सीट पर आए तो मेरी गांड के लिए लंड का जुगाड़ हो जाए. मैंने धीरे धीरे पैंटी को भी उतार दिया और पैंटी के उतरते ही मैंने अपना पूरा मुँह सोनिया की चूत पर रख दिया.

এক্স এক্স এক্স এক্স ই ভিডিও फिर एक दिन अचानक दोपहर में हम एक साथ बाथरूम गए और अन्दर जाने के बाद दोस्तों मैं बता नहीं सकता, दीदी की एक एक हरकत मुझे साफ महसूस होने लगी या शायद वो मुझे महसूस कराना चाहती थीं. फिर विवेक ने कामिनी को सीधा कर दिया और दोनों टांगें कंधों पर रख कर दोनों हाथों से कामिनी की बड़ी बड़ी गोरी गोरी चूचियों को मसलने लगा और फुल स्पीड में धक्का देने लगा.

उसकी बातें सुन सुन कर मेरा लंड भी टाइट हो गया जिसका पूरा मज़ा अब मंजू ले रही थी. थोड़ी देर के बाद डॉली ने एकता का हाथ पकड़ कर नीचे घुटनों पर बैठाया और लंड को एकता की तरफ बढ़ा दिया. पाठकों, अब बताता हूँ नीना के शब्दों में डॉ भगत के साथ खेली गई चुदाई की होली का आँखों देखा हाल:तब तक करीब सवा दो बज चुके थे और डॉ भगत अपने सभी पेशेंट निबटा चुके थे; रूटीन के काम बंद होने का समय था, असिस्टेंट जा चुका था और डॉक्टर साहब अपनी रिपोर्ट बनाने में जुटे हुए थे.

रक्षाबंधन कब है

उसने स्माईल देते हुए कहा- तो आज तुम्हारी नथ उतरने वाली है और लड़के से मर्द बन जाओगे. गिड़गड़ाने लगी- राजे, अब तो बख्श दे अब इतना तो मज़ा भी बर्दाश्त नहीं हो रहा. हालांकि अब तक कभी भी चाची ने मुझे कोई इशारा ऐसा नहीं दिया था जिससे मैं ये साफ़ समझ सकूँ कि चाची मुझ पर फ़िदा हैं या मुझसे चुदना चाहती हैं.

मैं उत्तर प्रदेश के आगरा में रहता हूँ। मैंने इस अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज साइट के बारे में अपने कई दोस्तों से सुन रखा था। तो मैंने भी इस साईट पर सेक्सी कहानी पढ़नी शुरू कर दी थी. मैंने कहा- आज तो चुदवा रही थी ना!वो बोली कि कहां चुदवाया है?मैंने बोला- तो क्या गांड दिखा रही थी उसको?वो अब थोड़ा घबराई और बोली कि सिर्फ कपड़े ही निकाले थे.

खैर दोपहर तो अनु की चुदाई से रंगीन हो गई; साली को दो बार चोदा और एक बार लंड चुसवा के वीर्य पीने को दिया.

मुझे उन लोगों के घावों में थोड़ा और नमक डालने की इजाज़त दें, जो अपना पैसा इस तरह की ठगी के चक्कर में गंवा चुके हैं. अब तो जब भी हम दोनों को कोई भी मौका मिलता है तो हम मिल कर खूब मजे करते हैं चुदाई के!तो दोस्तो, मैं आपके मेल का इंतज़ार करूँगा, मुझे जरूर बताएं कि मेरी कहानी कैसी लगी।मेरा मेल आईडी[emailprotected]है।आप फेसबुक पर भी कांटेक्ट के सकते हो। मेरी विनती है आपसे कोई गलत मेल न करें।धन्यवाद।. मैंने कहीं पढ़ा था कि सेक्स के दौरान अगर थोड़ा ब्रेक लेकर सांसों पे कंट्रोल करो, तो सेक्स का समय बढ़ जाता है.

जब उसने लंड पेला तो मुझे दर्द तो हुआ लेकिन बहुत अच्छा भी लगा क्योंकि मेरे पति कभी ऐसा नहीं करते थे. चंदर ने पलंग पर मेरे दोनों टांगें अच्छी तरह से फैला कर दोनों तरफ से टांगों को एक रस्सी से बांध दिया. जब मैं कुछ बोलती थी तो बोलता था कि मैं इनको ढीले करके ही यहाँ से जाऊंगा.

ऐसे जीभ का कमाल दिखते हो तो पता नहीं क्यों मेरे बदन में बिजली दौड़ने लगती है.

खेत में चुदाई बीएफ: उस वीडियो में जो सुबह मेरे रूम पे हुआ था, उसकी रिकॉर्डिंग थी, जो उन्होंने चुपके से रिकॉर्ड कर ली थी. एरिक ने नताशा की सहायता करने के लिए स्वयं ही अपनी पैंट उतारनी शुरू कर दी, और नताशा ने बगल में खड़े आर्थर के लटकते हुए लंड को अपने बाएँ हाथ से सहलाते हुए नीचे को झुक कर अपने मुंह में भर लिया.

मैंने ध्यान नहीं दिया लेकिन मेरे दोस्त ने उसकी स्माइल नोट कर ली। उसके चले जाने के बाद वो मुझे बोला- यार क्या पटाखा है ये लड़की। कुछ भी हो ये लड़की मुझे पटवा दे।मैंने कहा- साले स्टूडेंट हैं मेरी। ऐसे लड़की चाहिए तो ओवरब्रिज के निचे से ले आ।हम दोनों हंसने लगे।फिर वो दोस्त चला गया और मैं अपनी क्लास मैं आ गया. फिर आंटी कामवासना से पागल होकर जोर जोर से चिल्लाने लगी- चोद दो मुझे… उम्म्ह… अहह… हय… याह… फाड़ दो मेरी चुत को!आंटी की ऎसी बातें सुनकर मैं भी और ज्यादा जोश में आ गया और आंटी के नंगे बदन के ऊपर आकर मैंने अपना 8 इंच लम्बा लंड आंटी की चूत में डाल दिया और धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा. करीब बीस मिनट गांड चाटने के बाद मैंने उनको चित्त लिटा दिया और उनकी चूत को चूसने लगा.

मैं जब भी उनके घर से होकर गुजरता था, तो भाबी मुझे देख कर स्माईल किया करती थीं.

मैं जैसे स्वर्ग में था और फिर मैंने वो शीशी महक के बदन पे उड़ेल दी और उसके बदन को बेतहाशा चूमने लगा. पहले भाबी की आँखों पर पट्टी बंधी और भाबी ने मुझे ही पकड़ लिया और मेरा टॉप जानबूझ कर खींचते हुए फाड़ दिया. यूं ही चूचियों को मसलता सहलाता मैं कब सो गया मुझे कोई होश ही नहीं रहा.