ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो ब्लू मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ भोजपुरी सुहागरात: ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी, फिर अपनी गुलाबी पैन्टी नीचे की। उनकी जाँघें देख कर तो ऐसा लगा कि अभी जा कर उसे चूम लूँ।भाभी अब मूतने लगी थीं.

बिहारी पोर्न

सॉरी दोस्तों में थोड़ा फिल्मी हो गया।उसने मुझे बड़े प्यार से अन्दर बुलाया. बिहारी सेक्सी सुहागराततो मैंने उससे पूछा- तुम्हारे दोनों बच्चे कहाँ हैं?उसने बतय- दोनों दादी वाले हैं, तो साथ में शादी में गए हुए हैं.

हम दोनों लोग एक दूसरे को बहुत अच्छे से किस कर रहे थे और मेरा देवर मेरे होंठों को चूस रहा था. एक्स एक्स भोजपुरीमगर सन्नी जैसे चालाक आदमी से वो जीत थोड़े ही सकती थी। वो ठहरा एक नंबर का कमीना आदमी.

यहां मैं बता दूँ कि माइक के मुकाबले मुनीर योनि के खेल में माहिर लग रही थी.ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी: उसने मेरे लोवर के नीचे के हिस्से से लंड को बाहर निकाला और फिर उस से खेलने लगी.

फिर मैं संतोष को बाहर बने सर्वेन्ट क्वार्टर को दिखा कर बोली- तुमको यहीं रहना है और जो भी जरूरत हो.इस बार विजय ने मेरी टाँगें ऊपर कर दीं और सीधा लण्ड चूत में डाल दिया और आगे-पीछे करना चालू हो गया।इस बार विजय पूरी जोश के साथ लगा हुआ था.

देसी सेक्सी वीडियो चलने वाला - ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी

शायद कोई नया अनुभव हो सो मैंने उनसे आग्रह किया कि मैं उन्हें देखना चाहती हूँ.मुझे आया देख कर वो चाय ले कर आई और मेरे सामने बैठकर खुद भी चाय पीने लगी.

वही पहन लेती हूँ।मैं यहाँ पति का जबाब देना उचित समझ कर बोल पड़ी- हाँ. ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी उसने फिर कोशिश की लेकिन इस बार भी लंड फिसल गया।मोनू बोला- रीमा दीदी आपका छेद बहुत छोटा है.

प्रिया ने उस समय हरे रंग का लहँगा टाइप का कुछ पहना हुआ था, जो उसके ऊपर बहुत फब रहा था और वो पूरी तरह से परी लग रही थी.

ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी?

तब वो वापस दोबारा मेरे कमरे की तरफ आने लगे। मैं जल्दी ही आकर सो गई. मैंने अपने आप को ठीक किया और रेवती को एक बार फिर से धन्यवाद दिया तथा उनको हुई परेशानी के लिए माफी मांगी. मैंने उसकी चूत को थोड़ा सहलाया तो उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया और उसने मुझसे धीरे से कान में कहा- जीजू, मैं फिर किसी दिन आऊंगी.

’ बोला।वो मेरे इस भाव को समझ गई और थोड़ा मुस्कराते हुए तुरंत बोली- अन्दर भी आएंगे. जो कि पढ़ाई में ध्यान देता और घर के छोटे-मोटे काम भी कर देता था। ज़िंदगी एक सीधी सी रेखा की तरह चलती जा रही थी. मैं उसके पास गया।मैडम- यू आर सो स्वीट… कैन आई हग यू?इतने में मैडम ने मुझे हग किया और मैंने भी उसको हग कर लिया… कसम से मेरे तुलु महाराज खुश हो गए।उस टाइम घर में कोई नहीं था.

डैड ने मॉम की गांड पर जैसे ही लंड रखा, वो उचक कर बोलीं- गड़बड़ नहीं करना. मैंने जब उसे देखा तो मेरा दिल उसकी जवानी को भागने के लिए मचलने लगा. वो जोर-जोर से सीत्कारें भर रही थी और मैं दूसरे हाथ से उनके दूसरे स्तन को मसल रहा था.

अबकी बार लौड़ा गाण्ड में घुस गया और एक दर्द की लहर मेरी गाण्ड में होने लगी- आःह्ह्ह आईईइ. अर्जुन को क्यों रोक दिया वहाँ?बिहारी- इतनी भी भोली ना बनो मेरी जान.

क्योंकि कमरे में बल्ब बुझाने के बाद भी दो तरफ से सूरज की रोशनी आ रही थी।कमरे का नज़ारा भी बहुत सुन्दर था। कमरा बड़ा नहीं था.

हर दिन या रात तुमसे बिना चुदे छोड़ती नहीं तुम्हें!”यही तो है… इंसान को भविष्य पता हो तो कई गलतियां करने से बच जाये।”अच्छा.

तब पूजा की देखा देखी मैं भी अपने सीट पर से उठकर खड़ा हो गया और उसके सामने अपने बदन से अपना गाउन उतार कर पूजा के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा हो गया. मेरा देवर यह बात सुनकर बोला- भाभी मैं हूँ ना आपका देवर … मैं आपसे प्यार करूँगा. ’‘ये फोन सेक्स तुम्हें कैसा लगता है?’‘जानू तुम जब मुझसे पूछते हो ना कि तुम्हारे कितना अन्दर घुसा है.

वह मेरी कराह देख कर काफी देर तक चूत में लण्ड डाले पड़ा रहा।मुझे ही कहना पड़ा- चोदो ना. थोड़े समय में वो भी आ गई और जिस साईड मैं खेल रहा था, वो उसी साईड लाईन के पास आ के बैठ गई. उनका ये रुझान देख कर मेरा मन भी उनसे सेक्स करने को बहुत ज्यादा करने लगा था.

मेरा नाम विधि है। मैं एक 36 साल की महिला हूँ। मैं अपनी दोनों बेटियों और पति के साथ रोहतक में रहती हूँ। मेरी बड़ी बेटी स्नेहा 18 साल की है और छोटी बेटी उससे छोटी है.

जिससे मेरा पूरा लण्ड अंजलि की चूत की जड़ तक घुस गया। वो बहुत तड़फ रही थी। मैं लौड़ा आगे-पीछे करते हुए अंजलि को चोदता रहा।अब उसे भी मजा आने लगा व दर्द भी नहीं हो रहा था. मैं धीरे-धीरे करूँगा।मैंने उसकी ठुड्डी को पकड़ते हुए उसके लाल-लाल होंठों पर हल्का सा चुम्बन कर दिया।फिर उसको बिस्तर से नीचे खड़ा करके देखने लगा। कोमल लाल साड़ी में मस्त लग रही थी। उसकी कमर उफ्फ्फ्फ़. भाभी लेट कर कोई मैगजीन पढ़ रही थीं और मनीष पास में बैठा कुछ बातें कर रहा था, लेकिन मुझे कुछ सुनाई नहीं दे रहा था.

मुझसे अब रहा नहीं गया, मैंने आगे बढ़कर उसकी छिलने वाली जगह को अपनी जीभ से चाट लिया. इतना कह कर मैं अपना लंड उनकी गांड में डालने की कोशिश करने लगा, पर हर बार मेरा लंड फिसल जाता रहा. मेरा साथ देने लगी और मुझे पागलों की तरह किस करने लगी। इसके बाद मैंने उसकी मस्त चूचियों को मसलना शुरू कर दिया और उसके होंठ चूसने लगा.

गौरव की मम्मी दादाजी का खूब सम्मान करती हैं, इसलिये उनके सामने घूंघट में ही रहती हैं.

उनकी चूत मेरे सुपारे से लेकर पूरे लंड तक एकदम टाईट रबर की रिंग की तरह महसूस हो रही थी।इससे पहले भाभी को मैंने उनके ऊपर से ही चोदा था इस दौरान मुझे उनकी चूत इतनी टाईट नहीं महसूस हुई थी और जब मैं ऊपर होता था. तो मैंने सोनी की चूत पर अपना लंड रखा, चूंकि उसकी चूत में चिकनाई लगी हुई थी.

ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी प्रिया के इतना बोलने की देर थी कि मैंने उसको कस के पकड़ कर दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और अब उसके कान के पीछे के हिस्से को चूमने और चूसने लगा. पर अजीब लग रहा था। तो उसने मेरा सिर पकड़ कर अपना लंड मुँह में पेल दिया।थोड़ी देर बाद मुझे भी मज़ा आने लगा, अब वो मेरी चूत से खेल रहा था, मेरी झाँटों को खींच रहा था।फिर अचानक से उसने बोला- अपनी टाँगें फैलाओ।मैं डर गई.

ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी साक्षी को देखकर उसने ‘हाँ’ कर दी और पूरी रात का वो आदमी 3000 रूपए देने तो तैयार हो गया।यह सुन कर साक्षी ने मना कर दिया वो औरत समझाने लग गई कि इतने भी बहुत है. लेकिन साथ में थ्रिल और मज़ा दोनों मिल रहा था।वो पहले ही बहुत गरम हो चुका था और अब जल्दी-जल्दी धक्के लगाने लगा। मेरी गाण्ड में उसका आधा ही लंड घुसा था और उसका पानी निकल गया। जैसे ही पानी निकलने को आया.

मैंने उसकी चूत में उंगली अन्दर बाहर करने की रफ्तार और तेज कर दी, जिससे कुछ ही देर में प्रिया ‘ओह्ह … बेबी मैं गई …’ कहते हुए झड़ गई.

हिंदी बीएफ सेक्सी जंगल

और ना ही मुझे किसी से कोई सर्विसेज़ आदि चाहिए… तो कृपया करके फ़ालतू के मेल करके ख़ुद को शर्मिंदा ना करें. ऐसे लोग जो बिल्कुल ज़िंदगी से हार जाते हैं और जो अपनी ज़िंदगी में अपनी कोई भी इच्छा पूरी नहीं कर पाते। ऐसे लोग भी ऐसा सेक्स चाहते हैं। वैसे ब्रूटल सेक्स की बहुत ज़्यादा ब्लू-फिल्म देखना भी एक कारण है।फिर उसने कहा- अब तू खुद सोच कि तेरे पति के साथ कौन-कौन सा रीज़न है जितने ज़्यादा रीज़न होंगे. तो मैंने थोड़ा आगे होकर उसकी गर्दन पर किस किया और उसकी गर्दन को चूमता हुआ उसकी पीठ की तरफ अपनी जीभ घिसने लगा।उसकी कमीज़ बीच में फंस रही थी.

तब तक वेटर हम लोगों के लिए ड्रिंक्स ले आया और मैंने पूजा को एक ग्लास ब्लडी मेरी पकड़ा दिया. विकास भी मेरी चुत की प्यास को जान गया और मुझसे बोला- आज मेरे घर में कोई नहीं है, क्या मेरे साथ जाना चाहोगी?ऐसे बढ़िया मौके को भला मैं कैसे छोड़ सकती थी. हम दोनों सेक्स करने के बाद एक दूसरे से चिपक कर लेट गए और ऐसे ही कुछ देर तक लेटे रहे.

नहीं तो अब तक तुझे चोद-चोद कर तेरी जान हलक में ला देता।फिर काफ़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और चुसाने लगा.

भाभी से बातें कर रहा था।सन्नी- ये अर्जुन नाम कहीं सुना हुआ सा लगता है. हमारी बातें सेक्स पर होने लगीं, मैं फोन पर उसको कसम देकर उसके कपड़े उतरवा देता. गलती हो गई।सोनी ने कहा- यार ये सब ठीक नहीं है।मैंने कहा- अब नहीं होगा यार.

जब मेरा काम हुआ तो धक्के इतनी जोर से लगे कि सारंगी बेहोश सी हो कर नीचे गिर गई और मैं उसके ऊपर … मैंने अपने माल से उसकी फुद्दी भर दी और उसके ऊपर ही लेट गया. मैं सोनी के चूचों को दबाए जा रहा था और अब सोनी मेरे काबू में आने लगी। उसकी कामपिपासा जाग उठी और उसके कंठ से चुदासी आवाजें आने लगीं ‘आआहह. तो पास की चीज़ भी नहीं दिखाई दे रही थी।भाभी साड़ी में मेरे पास आई थी और ठंड इतनी थी कि मैं तो काँप रहा था।आते ही मैंने भाभी को पीछे से कसकर पकड़ लिया और बोला- भाभी मैं तुम्हें चोदने के लिए 3 साल से पागल हूँ।भाभी ने कहा- मैं भी कब से तेरे इंतजार में गर्म थी.

साक्षी को देखकर उसने ‘हाँ’ कर दी और पूरी रात का वो आदमी 3000 रूपए देने तो तैयार हो गया।यह सुन कर साक्षी ने मना कर दिया वो औरत समझाने लग गई कि इतने भी बहुत है. मैंने अपने होठों से लंड को दबा रखा था … जिससे कि लंड आसानी से मुँह में आ जा रहा था.

रात के करीब 11 बजे थे तो मैंने कहा- रीतिका, तुम लोग सो जाओ, मैं अपने रूम में जाती हूँ. तभी चाची एकदम से मेरा सिर जोर से दबाए हुए टाँगें चौड़ी करके बैठ गईं. मैंने उसकी चूत के दाने को जैसे ही अपनी जीभ से चाटा, वो थोड़ा उछल सी गई.

पर उसने मुझे मना लिया और एक दिन उसने मुझे अपने घर बुला लिया।वो किराए के मकान में रहती थी। उसके घर में मकान-मालिक.

राजीव अंकल का लंड रस मेरी गांड में लगा था, सब कुछ राज अंकल ने चाट कर साफ़ कर दिया और बोले- राजीव का लंड रस तेरी गांड से निकल रहा है वो भी बहुत टेस्टी हो गया है सोनू. अपनी भतीजी की गांड मारने की और सगाई व शादी के दिन की चुदाई की कहानी मैं आपको फिर कभी सुनाऊंगा. अन्दर कोई नहीं था, एक चौकी थी जिस पर गद्दा लगा था और एक पानी का जग.

मैं तुम्हारे जिस्म को आज पाना चाहता हूँ और तुम्हें अपना बनाना चाहता हूँ. मैंने आंखें नहीं खोली तो अंकित मेरी आंखों को चूमने लगा और बोला- मुझे पता है कि तू जग रही है मेरी डार्लिंग, बस आंखें खोल, तू भी अपने मन की बातें बोल!और मुझे हिलाने लगा.

उसका बदन एकदम मुलायम था। पहले तो मेरे मन में उसके लिए कुछ ग़लत नहीं था. पर मैंने सोनी को दबाए रखा और सोनी को किस करने लगा।मैं उसके दर्द को भुलाने के लिए उसके मम्मों को चूसने लगा. अपने गुलाबी होंठ गोल किए और लौड़े को किस किया।मोनू के बदन मैं झुरझुरी से दौड़ गई।फिर धीरे से लंड की चमड़ी हटा दी.

भारत की बीएफ हिंदी

मैंने तुरंत उनकी चूत में अपना मूसल पेल दिया। पहली बार में तो मेरा लण्ड आधा ही अन्दर गया.

अब तो भाभी ने मुझे प्रॉमिस किया है कि वो अपनी सहलियों की चूत भी मुझे दिलाएंगी. मैं तुम्हें हर बात से खुश रखूँगा और किसी भी मुश्किल में नहीं फसाऊँगा।उसने कहा- क्या तुम सच कह रहे हो?मैंने कहा- इतनी ठण्ड में इतनी सुबह उठकर मैं क्या मज़ाक कर रहा हूँ?वो हँस पड़ी और मेरे कान में बोली- ये लोग बहुत खतरनाक हैं। मुझे बस इनका ही डर है और मेरा बच्चा भी छोटा है. और मुझे उन्होंने चुम्बन करना सिखा दिया।उसके बाद मेरे साथ मेरी रजाई में लेट गईं और मेरे हाथ अपने स्तन पर रखवा लिए और धीरे-धीरे दबाने के लिए कहने लगीं।मैंने वैसा ही किया.

थोड़ी देर में जब उसके लंड से वीर्य का भंडार छूटा तो माँ ने उसके सारे वीर्य को पी लिया. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पहले हम 69 की अवस्था में आ गए फिर मैंने अपना लण्ड उसके मुँह में डाला और मैं उसकी बुर को चाटने लगा।वो गर्म हो चुकी थी ब्ल्यू फ़िल्म देख कर तो वो बड़े मजे लण्ड चूस रही थी।इस चुसाई से वो मेरे मुँह में झड़ गई और मैं उसके मुँह में झड़ गया, हम दोनों बड़े मजे से पी गए।उसने फिर से चूसकर लण्ड को खड़ा करके कहा- अब रहा नहीं जाता. राजस्थानी सुदाइ वीडियोमयूरी बीच में सोती थी क्योंकि पिछले कुछ महीनों से दोनों भाइयों में बातचीत बंद थी.

जैसे ही मेरी चूत में हाथ रखा तो वहाँ चूतरस बह रहा था तो बहुत धीरे से बोले- यह वन्द्या की चूत तो पूरी बह रही है, यह बहुत चुदासी है. , मुझे अपनी बाँहों में ले कर वो बिस्तर पर आ गए।अब मैं एक दुल्हन की तरह बैठ गई लाइट ऑन थी.

मैंने गीत के मम्मों को अपने मुँह में ले लिया और गीत के निप्पलों को अपनी जीभ से कुरेदने लगा।मैं इसी के साथ अपने दांतों से भी उसके चूचुकों को काट रहा था।अब गीत और गर्म हो चुकी थी और पूरी गर्म हो चुकी थी, वो ‘आह सी सी. और अमर उसकी चूत में झड़ने लगा, पूरा वीर्य उसने सलोनी की चूत में छोड़ा. जो बड़े-बड़े काण्ड कर देता है।उनकी बात सुनकर हम दोनों ही हँस दिए। मैंने चाची की चूचियाँ दबानी चालू कीं.

तो मुझे नंगा देखकर डोर लॉक करने लगीं।लेकिन तब तक मैं बाथरूम में घुस चुका था। ऐसा मैंने इसलिए किया कि मैं जानता था कि मौसी बिना नहाए मुझे अन्दर आने नहीं देंगी।मौसी ने कहा- प्लीज़ हर्ष… बाद में कर लेना. बिल्कुल लेना है… मैं तो अपने दोनों बेटों से चुदवाने के लिए मरी जा रही हूँ. फिर बोली- कुछ करना है या मैं जाऊं?मैं उसके पास गया और उसके हाथों को उसकी चुचियों से हटाकर अपने हाथों से पकड़ कर मुँह में लेकर बारी बारी से पीने लगा.

मैं अपने किए पर बहुत खुश था। मुझे लगा कि अब मुझे वह पीटना शुरू कर देगी.

आपको पता है?मैं गुस्से से उनसे बोली और उन्हें कहा- चले जाओ आप मेरे कमरे से. ’ ये कहकर और ज़ोर से खींच रहा था। तभी पिंकी को मेरे लण्ड का एहसास हुआ.

अरे ये चीटिंग है … पलंग पर क्यों ले आये मुझे? मतलब नहीं मानोगे?” मीता बनावटी नाराजगी से बोली. मैं अपने घबड़ाहट पर कंट्रोल कर रही थी कि पति सामने आ गए।कहानी कैसी लग रही है. सबीना एक मस्त लड़की थी, उसकी अभी तक शादी नहीं हुई थी लेकिन चुदाई का स्वाद बहुत बार ले चुकी थी.

मैं जानता था कि मेरी बहन का चक्कर बहुत सारे लड़कों के साथ चल रहा था. प्रिया के इतनी जोरों से मेरे होंठों को चूसने और काटने पर मुझे दर्द होने लगा था. जिसके लिए मैं आया था। उसकी कराहटों से कमरे में अनोखा संगीत गूँज रहा था.

ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी लेकिन मेरी हालत को समझने बाला कोई नहीं था।मैं बड़ी मुश्किल से बिस्तर से उठी. पायल को अब मज़ा आने लगा था। वो हाथों पर ज़ोर देकर फिर से घोड़ी बन गई थी और पुनीत अब उसके कूल्हे पकड़ कर ‘दे दनादन.

बीएफ पिक्चर बता दो

उनके घर पर पहले ही पता था कि मैं आने वाला हूँ इसलिये उन्होंने पहले से ही मेरे लिये कमरा तैयार कर दिया था. जिससे उसकी गदराई हुई जांघें और खिलती जवानी साफ दिख रही थी।बिस्तर एक ही होने के नाते हम दोनों उस पर बैठ कर टीवी देखने लगे. दोस्तो, मैं बैडमैन एक बार फिर से आप लोग के सामने कहानी पेश कर रहा हूँ, मेरी पिछली कुछ कहानियां जो प्रकाशित हुई है उसके आप सभी के ढेर सरे मेल मुझे मिले उसके लिए आभारी हूँ, अब तक मेरी आखिरी कहानीबॉयज होस्टल में गर्लफ्रैंड का प्यारथी, उन ढेर सारे मेल में से एक भाभी का मेल भी आया, नाम चलो मधु रख लेते हैं.

मैंने नहाना शुरू कर दिया था।स्वाति ने सोचा कि मैं सफ़र से आया हूँ इसलिए मुझे नहाने में वक्त लगेगा. जब राजेश अपनी जीभ से मेरी गाण्ड का छेद चाटने लगा।मैंने हाँफते हुए कहा- यह क्या कर रहे हो?उसने कहा- अपनी जीभ से भी तुम्हारी गाण्ड मारना चाहता हूँ।मैंने कहा- लेकिन वह जगह तो गन्दी होती है।उसने कहा- बिल्कुल नहीं. সেক্স ভিডিও কउस वक्त वो सिर्फ ब्लू कलर की शर्ट और वाइट कलर की पैन्ट पहने खेतों में काम करता रहता था.

गोपनीयता के चलते कहानी में किसी का नाम या कोई निजी जानकारी नाम मात्र की है.

मैं दिल्ली से हूँ और अन्तर्वासना की कहानियाँ रोज़ पढ़ता हूँ मैं 25 का जवान हट्टा-कट्टा मर्द हूँ. तो मैं इसी लड़की से जरूर शादी करता।आपके विचारों से मेरा आत्मविश्वास बढ़ता है.

भाभी से बातें कर रहा था।सन्नी- ये अर्जुन नाम कहीं सुना हुआ सा लगता है. और दर्द भी बहुत हो रहा है। देखो बिस्तर पर ठीक से गाण्ड टिक भी नहीं रही. जिससे मेरा पूरा लण्ड अंजलि की चूत की जड़ तक घुस गया। वो बहुत तड़फ रही थी। मैं लौड़ा आगे-पीछे करते हुए अंजलि को चोदता रहा।अब उसे भी मजा आने लगा व दर्द भी नहीं हो रहा था.

तो उसका लंड मेरी चूत फाड़ते हुए अन्दर समा गया।मुझे अब अपना होश ही नहीं रहा.

पर उसने कुछ नहीं कहा।यह देखकर मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने अपने दोनों हाथ उसके कंधे से ले जाकर उसके दोनों संतरे जैसे मम्मों पर रख दिए. मैं तो देख कर पागल सा हो गया। वो बहुत ही खूबसूरत थी… उसका 36-30-40 के आस-पास का साइज़ था. हमारे रिश्तेदारों में किसी की शादी थी, ये शादी पास ही के शहर में सम्मेलन था, उसमें होकर होने वाली थी.

सेक्स वीडियो चुदाई हिंदीमाइक अपनी पीठ के बल चित लेटा हुआ था और तारा उसके ऊपर झुक कर उसके लिंग को प्यार कर रही थी. पक्की रहोगी तो तकलीफ़ कम होगी।पायल- ये क्या बकवास बात कर रहे हो आप? मैं क्यों चुदूँगी.

बीएफ सेक्सी नई दुल्हन

सुनयना- मेरे पति कनाडा में रहते हैं और मैं और मेरी 2 साल की बच्ची है. मैं आज अपनी पहली कहानी लिखने जा रहा हूँ जो मेरी सच्ची आपबीती है। यह बात आज मैं पहली बार किसी को बताने जा रहा हूँ। मैं जब स्कूल में था तो मैंने पहली बार हस्तमैथुन किया था. थोड़ी देर बाद मैंने एक और धक्का मारा और उसकी एक जोर की आवाज आई- आह हा … हह ह …उसकी आँखों से आंसू आने लगे.

तो मैंने अपने बैग से खाना निकाला और प्राची से पूछा- क्या तुम खाना नहीं खाओगी?तो उसने कहा- नहीं, मैं जल्दीबाजी मैं खाना लाना भूल गई. किसी की नई-नई शादी हुई है और वाइफ को ये डर है कि जब सेक्स होगा तो बहुत दर्द होगा. कि किस प्लेटफॉर्म पर मिलेगी?तो आंटी ने जबाव दिया- मैं अभी-अभी यहाँ पहुँची हूँ और तब से तो कोई अनाउंसमेंट नहीं हुई है.

हर जगह नाखूनों के निशान और शौच करते समय बहुत दर्द हुआ और थोड़ा सा खून भी निकला. अगली बार।और मैं उसे अच्छी सी टिप देके निकल गया।अगली बार जब मैं वापस पुणे गया तो आगे की स्टोरी बहुत ही मजेदार है. मैंने भाभी को चुदाई की पोजीशन में लिटाया और अपने लंड को उनकी चिकनी चुत पर रख कर ज़ोर से झटका दे दिया.

खुद पर काबू पाया और हमने कॉफ़ी पीना शुरू किया।मैंने बोला- सुनयना जी आप तो ज़न्नत की मलिका लग रही हो. मैं उसका ऊपर वाला होंठ चूसने लगा।करीब 15 मिनट तक होंठ चुसाई और जीभ चुसाई चली.

मैंने उसे बताया कि इतनी स्पीड और ताकत ग्राउंड में हर रोज़ की गई मेहनत से आई.

मैंने उन्हें अपने हाथों में ले लिया और उसकी एक निप्पल को चूसने लगा. ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो दिखाओअब आगे …जैसे ही मैं अपने सारे कपड़े उतारकर बिल्कुल नंगा हुआ, प्रिया की नजर मेरे मुर्झाये लंड पर चली गयी, जिससे वो सवालिया निगाहों से मेरी तरफ देखने लगी. देहाती सेक्सी आंटीएक कमरा बुक किया। जैसे ही हम कमरे में पहुँचे मैं अंजलि पर टूट पड़ा. मैंने बहुत सारी ब्लू फिल्में देखी हैं, पर ऐसे कभी नहीं देखा, जैसे तुझे चुदते देख रहा हूं.

कभी गाण्ड टच करता।एक दिन वो बोली- ये सब कब तक चलता रहेगा?तो मैं बोला- सब्र करो.

और पता नहीं सुबह अपने पैरों से उठ कर अपने कमरे पर जा पाऊँगी या नहीं. मेरे पति मुझे अच्छे से नहीं चोद पाते थे या मैं ही थोड़ा ज्यादा चुदासी थी कि मुझे अपने पति के लंड के अलावा भी दूसरे के लंड से चुदवाने का मन करता था. जिसकी वजह से मैं हमेशा इसी ताक में रहने लगा कि कही ना कहीं से फ़ुद्दी का जुगाड़ हो जाए।तीन महीने से ज्यादा बीत गए लेकिन कुछ ना हुआ, मैं दुबारा मुठ्ठ मारने लग गया था।नवम्बर महीना शुरू हो गया था और सर्दी तेजी से बढ़ने लगी थी।मेरे बिल्कुल साथ वाले घर में एक चाचा रहते हैं.

मैं आज आप सबको अपनी एक रियल सेक्स कहानी सुनाने वाला हूँ, जो मेरे साथ हुआ. फिर वो मेरे नजदीक आई और धीरे से मेरे कान में बोली- मैडम जा चुकी हैं. थोड़ी देर बाद मैं जब वाशरूम जाने के लिए कमरे से बाहर निकला तो मैंने देखा कि रेवती अपने कमरे में अकेले बैठकर उसी थाली में खाना खा रही थी, जिसमें उसने मुझे खिलाया था.

बीएफ बनाने वाली लड़कियों के नंबर

जो लोग विदेश में पढ़ाई करने आते हैं उन लोगों ही को स्टूडेंट की हालत पता होती है. शायद मेरे हाथों के कोमल स्पर्श का वे भी मजा ले रही थीं। जब मैंने उनके मम्मों पर हाथ लगाया और उन्होंने कुछ नहीं कहा तो मैं उनके मम्मों को मसलने लगा और कहा- यहाँ का भी मैल साफ़ कर देता हूँ।उनके चूचों की मुलायमियत ने मेरे लौड़े की सख्ती को और बढ़ा दिया था और अब मुझसे नहीं रहा जा रहा था।मेरा लंड तन गया था. कुछ देर बाद मैंने उसे मेरे केबिन की तरफ आते हुए देखा और मैं देखता हूं कि वो वाकयी मेरे तरफ ही आ रही है और कुछ देर बाद वो मेरे सामने खड़ी थी.

मैं उसका ऊपर वाला होंठ चूसने लगा।करीब 15 मिनट तक होंठ चुसाई और जीभ चुसाई चली.

ऐसा व्यक्ति इस टाइप का सेक्स चाहने लगता है क्योंकि वो अपने आपको बेहद दर्द और तक़लीफ़ देना चाहता है। अगर फिज़िकल दर्द बहुत ज़्यादा होगा तो शायद वो मेंटली दर्द भूल जाएगा।दूसरा.

मैंने कोमल की एक ना सुनते हुए उसके मुँह पर हाथ रख कर और दूसरे हाथ से अपने लंड को जोकि थोड़ा उसकी गाण्ड में घुस गया था. ।नहा कर मैंने खाना खाया और माँ को कल रात की घटना के बारे में बताया।माँ ने कहा- यह सब तो होता ही रहता है. सेक्सी ब्लू नंगी फिल्मयह मैंने तय कर लिया था, आज तो उसको घनघोर चुदाई का प्रोग्राम दिखाना था।उसको पूरी नंगी करके मैंने डबलबेड पर लिटाया, वो मेरी तरफ देख ही रही थी, मेरा साढ़े पांच इन्च का लंड जैसे रॉड की तरह कड़ा होकर.

जल्द ही अगले भाग में आप सभी को लिखूँगा।दोस्तो, मैं यह कहानी जब आगे लिखूंगा. मेरी पीठ पर थोड़ा सा खून निकला पर परम आनंद की अनुभूति हो रही थी, पर मन नहीं भर रहा था. यूँ लगा मानो मेरा ही इंतज़ार कर रही हो।मैं भी दरवाजा खुलते ही उसको देखता रह गया.

और झड़ गई।अब मैंने उनकी मोटी मांसल जाँघों को अपने कंधे पर लिया और मोटा गरम लण्ड का सुपाड़ा उसकी चूत के छेद में हल्का सा घुसाया।उसके मुँह से ‘आहह…’ निकला. मेरे जीजू कुछ दिन के लिए रहने आये थे दीदी के साथ हमारे घर तो हम दोनों लोग एक दूसरे को अच्छे से एक दूसरे समझ गए थे.

तभी सपना शिखा से मिलने के लिए आई और उसने हमारे घर की कॉलबेल बजाई।कॉलबेल सुनते ही हम सब एकदम से घबरा गए और मैं शालू, शिखा और मोनिका को लेकर अन्दर के कमरे में लेकर चला गया और शांति को गाउन पहना कर मेन गेट पर देखने को भेजा, साथ ही उससे कहा- यदि कोई फालतू में परेशान करने वाला हो.

फिर मैंने बात की शुरूआत की- चलो बच गए झंझट से वरना चुदाई भी हो जाती हा हा हा हा. अब मैं बेड पर बैठी और वो दोनों बेड पर चढ़ कर खड़े हो गए, जिससे दोनों के लंड मेरे मुँह पर आ गए और मैं बारी बारी से दोनों के लंड मुँह में लेके चूसने लगी. ’अनु को अपनी चूत की खुजली और जलन शांत करवाने में बड़ा मज़ा मिल रहा था। मेरी ज़बान अनु की बुर में अन्दर-बाहर साँप की तरह आ-जा रही थी।‘लॅप.

सविता भाभी वीडियो वहीं खेत था तो मैंने उनसे कहा- आप झाड़ियों में जाकर कर लो।उन्होंने कहा- नहीं. अभी नींद लग ही रही थी कि अंकल कमरे में आए और लाइट ऑन कर दी। मैं चुपके से देख रही थी। फिर अंकल ने फोन निकाल कर किसी से पूछा कि दवा का असर कितनी देर में शुरू होता है?फिर और कुछ बात की और कमरे से निकल गए।मैं पीछे-पीछे गई और देखा कि वो भाई को जगा रहे हैं.

अब तो यह हाल हो चुका था कि सारंगी लंड निकालने के लिए आगे को भागने लगी. हाँ कर दी।वो रेड वाइन की बोतल लेकर पैग बना कर पीने लगी और मुझे भी पिलाने लगी।गीतिका- कभी सेक्स किया है?मैं- हाँ. कुछ दिन ऐसे ही बात करने के बाद उसने मुझे अपने घर पर बुलाया। हम सेक्स चैट करते हुए अपनी नंगी फोटो भी एक-दूसरे को भेज चुके थे और बस चुदाई का प्लान था।मैं रात को 9 बजे उसके घर गया। दरवाज़े पर डोरबेल थी.

साउथ पिक्चर बीएफ

फिर सुनयना ने मुझे अपने ऊपर खींचा और मुझे लेटने के लिए बोली।उसने मेरा अंडरवियर उतार कर मेरा लंड. तो मेरा लंड उसकी चूत के मुँह में लग रहा था। वो भी वहाँ से हिलना नहीं चाहती थी।मैंने कहा- अंकु. और हाँ फिर से ‘उस भोसड़ी वाले’ से बोल रही हूँ कि मेल भेजते टाइम अपनी हद में रहे… मुझे जिसको मौक़ा देना था, दे चुकी हूँ.

ये अपने सोचा है क्या?पुनीत ने बोतल को मुँह से लगाया और बाकी की बीयर एक सांस में पीकर बोला- देख यार. प्रीति आंटी उसे देखकर एकदम घबरा गईं और उन्होंने मेरा लंड बाहर निकाल दिया.

वो मुझे मिल गया।अब हमारी बात फोन पर होने लगी हम फोन पर सेक्स चैट किया करते थे। जब उसके घर पर कोई नहीं रहता था.

नीतू रानी तुरंत ही पलट गई और अपनी गांड उठाते हुए बोली- पेलो राजा जी, तुम्हीं मेरी चूत का कल्याण करो. संजय ने भी अपने लंड से गीत की गाण्ड को नहला दिया।जैसे ही संजय ने अपना लंड साइड में किया. शायद इसलिए कि मेरे साले की शादी को अभी कुछ महीने ही हुए थे और वो ज़्यादातर ट्रिप पर रहता था।मैंने अपने प्रयास ज़ारी रखे और धीरे-धीरे धक्का लगाने लगा।चूत भी धीरे-धीरे खुलने लगी और मेरे लौड़े को अन्दर जाने का रास्ता मिल गया।मैंने धक्के लगाने शुरू कर दिए.

मैंने चाची को अपने नीचे आने को कहा, तो चाची झट से मेरे लंड के नीचे आ गईंमैंने उनकी टाँगें खोल कर एकदम से अपना पूरा लंड पेल दिया और अपनी स्पीड बढ़ा दी. उसका लौड़ा लोहे जैसा सख़्त हो रहा था, पायल पेट के बल लेट गई और लौड़े को प्यार से चूसने लग गई।पुनीत- आह्ह. फिर उसका ब्लाउज निकाल दिया। वो दोनों हाथ से अपना शरीर छुपाने लगी।मैं ब्रा के ऊपर से उसके चूचे सहलाने लगा, फिर मैंने उसके होंठों को चुम्बन करने लगा और साथ में उसकी चूचियों को भी दबाने लगा।अब वो मेरा साथ देने लगी।मैंने चुम्बन करते हुए धीरे उसके पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया। वो सिर्फ ब्रा में मेरे सामने थी.

फिर मैंने जोर से झटका मारा और अपने पूरे लंड को उनकी चुत में अन्दर डाल दिया.

ससुर बहू की बीएफ सेक्सी मूवी: क्योंकि मैंने उसे प्रोमिस किया है और मैं नहीं चाहता कि किसी का घर बर्बाद हो।उसकी जानकारी भी इसलिए गुप्त रखी है।अगर मेरा यह किस्सा अच्छा लगा या नहीं, प्लीज़ कमेंट्स और ईमेल कीजिएगा![emailprotected]. ?’अब भाभी ने मुस्कुराते हुए कहा- वो क्या है न… तुम्हारे अंकल साल में एक बार आते हैं.

पर उस शख्स ने मेरी एक ना सुनी।अंत में मुझे बताना पड़ा कि मैं यहाँ चुदने आई थी चाचा से. अच्छा नहीं लग रहा है क्या?भाभी- नहीं अच्छा तो लग रहा है पर अब रहने दो. भाभी भी मुझसे ऐसे लिपट गईं, जैसे न जाने उनका कब का खोया हुआ खिलौना मिल गया हो.

मयूरी की चूचियां बहुत ही भारी-भारी थी जिससे अगर कोई गलती से भी उधर एक बार देख ले तो बार-बार देखे.

एक बार हम सभी दोस्त ऐसे ही पूना सिटी के एफसी रोड के एरिया में घूम रहे थे. अब उसका लंड, जो सलामी दे रहा था, उसने मालती की चूत पर टिका कर मालती को नीचे की तरफ दबाया और लंड पूरा उस की चूत में चला गया. प्रिय अन्तर्वासना पाठकोमार्च महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…मेरी कहानीवाइफ़ स्वैपिंग की चाहत में दो दीवानेके तीन भाग अन्तर्वासना के चहेते लेखक वरिन्द्र सिंह द्वारा भेजे गए थे।पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए….