देखने बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी फिल्म दे

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी औरत का सेक्स: देखने बीएफ, वो लड़की मेरी तरफ ही देख रही थी लेकिन मेरी तो हिम्मत ही नहीं हो रही थी कि उसके पास जाकर कुछ बात करूं.

सेक्स वीडियो घोड़ा वाला

नीता की इन्हीं बातों ने मुझे और जोश आ गया और अब मैं अपने लंड को सुपारे तक बाहर निकाल कर तेज गति से गांड में डालने लगा. ऑनलाइन जॉब ७१५ मोबाइल नंबरसनी बोला- खड़ा होने के बाद कितने इंच का होता है?राजीव बोला- अपनी बहन से पूछ लेना इसी लंड से मैंने उसकी चीख निकाल दी थी.

मैंने थोड़ा लोशन लेकर उसके शोल्डर को भी मसाज करना शुरू किया लेकिन टी-शर्ट की वजह से हाथों का मूवमेंट सही से नहीं हो पा रहा था. सेक्स सेक्स फिल्महैलो फ्रेंड्स, मैं अविनाश आपको अपनी कहानी के पहले भागपहले चुम्बन का वो अद्भुत अहसासमें सुना रहा था कि हमारे बीच पहले प्यार कैसे हुआ और इकरार हो गया.

रास्ता थोड़ा सुनसान होने पर अब मैंने उससे गाड़ी को रुकवाया और पहली बार उसको बांहों में भर लिया.देखने बीएफ: वो ड्रेस बदलती हुई बोली- ठीक है, तुम्हारे कहने से साड़ी पहन लेती हूं.

तो उसने भी फुर्ती दिखते हुए मेरे लौड़े को कच्छे से बाहर का रास्ता दिखाते हुए अपने मुँह में भर लिया.चूत की आग तो रीमा की भी भड़क गई थी, पर कल के दिन वो पूरे इत्मीनान से चुदवाना चाहती थी.

मुंबई का सीन - देखने बीएफ

मैं ऐसे ही गांड में लंड पेलूँगा साली रंडी की औलाद … कुतिया भैन की लौड़ी मेरी रखैल.मोहिनी के मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं, उसकी आंखें बंद थीं.

करिश्मा खुश हो गई और उसने मुझे बताया कि शिमला पहुंच कर एक सरप्राइज भी है. देखने बीएफ ये देख कर भैया ने मेरे मम्मों के बीच से लंड आगे पीछे करते हुए मेरे मुँह में लंड पेलना शुरू कर दिया था.

मैंने कहा- लोशन? और तुम्हारी टी-शर्ट?उसने कहा- टी-शर्ट थोड़ा ऊपर कर देना, अन्दर हाथ डाल कर लगा देना.

देखने बीएफ?

अंजलि ने लंड चूसने से मना कर दिया और बोली- हम नार्मल सेक्स ही करेंगे. बाहर लिविंग रूम में आज मुझे चाय वसुंधरा भाभी ने लाकर दी और मेरी ओर देखकर दिलकश मुस्कुराट दे दी. फिर जैसे ही मैं पेशाब करके उठी और बाहर निकल कर आ ही रही थी कि मेरा पैर फिसल गया और मैं जोर से चिल्ला पड़ी.

करीब दस मिनट बाद उसने अपने लौड़े का माल मेरी गांड में छोड़ दिया तो मेरी गांड को एक अजीब सी शांत मिली. न जाने मेरे मन को क्या हुआ … मेरी आंखें बंद हो गईं और मैं उस पैंटी को बेतहाशा सूंघ रहा था. आखिरी बूंद तक मैंने वैसे ही मेरे लंड का सुपारा उसकी बच्चेदानी में घुसाए रखा.

उनका सीना बालों से भरा हुआ था, जो कि मुझे अजीब सा तो लग रहा था लेकिन अच्छा लग रहा था. गांव वापस जाने के बाद उन्होंने मुझे एक दिन फोन किया और कहा कि हमारे यहां जो काम वाली है गोमा, उसे पैसों की बहुत दिक्कत रहती है और वो अपनी बेटी को कहीं काम पर लगाना चाहती है. मैंने कहा- ऐसे नहीं भाभी जी, जब मैं अपनी जीभ आपके मुँह में डालूं, तो डालने देना.

ये सब सोच कर मेरे अन्दर एक अजीब सी सिरहन दौड़ गई और मैंने आने वाले कल के लिए खुद को तैयार कर लिया. उसने मुझसे कहा- चाची आप ये क्या कर रही हैं?उसकी आवाज सुनते ही मैं हड़बड़ा गई और खुद को ठीक किया.

अब गर्लफ्रेंड की गांड फक़ में मजा आने लगा था, तो वो भी जोर जोर से अपनी गांड से लंड पर धक्के मारने लगी थी.

जब मेरी वाइफ सो जाया करती थी, तब मैं धीरे से उठ कर अपने रूम को लॉक करके उसके रूम में आ जाता.

मेरे घर में मुझे पिटवाने का बंदोबस्त भी कर दिया … और तो और, मेरे और साहिल में बनती भी नहीं है. उस समय मैं समय की नजाकत को देखते हुए चुप हो गया और मैंने सॉरी बोल दिया. उधर मेरे ऊपर काम का लोड भी बढ़ रहा था, तो मैं भी इस विषय में ज्यादा नहीं सोच पा रहा था.

मम्मी के चूतड़ों के बीच के दरार भी ऐसी थी मानो उनकी गांड से किसी गर्म भट्टी की आंच आ रही हो. रोहित ने फ़ोन उठाया और मैंने जल्दी से उसे अपनी चूत दिखाते हुए काम वासना की बात कही. फिर कुणाल का पानी निकलने वाला था तो उसने लंड निकाल कर पानी बेड पर ही गिरा दिया पर स्नेहा की गांड अभी भी बज रही थी.

मैंने कहा- क्यों सही नहीं है? इतनी खूबसूरत है, मुझे तो अच्छी लगती है.

तुम्हारे मम्मी पापा को भी पता भी न चले, तो क्या तुम तैयार हो?वंदना ने बोला- क्या भैया ने ऐसा बोला है?उसने कहा- उसने नहीं बोला, मैंने उससे बोल दिया था कि अगर तुम किसी से नहीं बताओगे तो तुमको तुम्हारी बहन को चोदने का मौका मिलेगा. तुम्हें भी मजा लेने का पूरा हक है … पर कैसे लोगी, कोई लड़का है तुम्हारी नजर में?मेरी Xxx वाइफ की बात सही थी. अब जब भी मम्मी और मेरा छोटा भाई उज्ज्वल बाजार जाते और अंकित घर पर होता तो मैं उसके पास जाकर लेट जाती.

मेरे लौड़े को मुँह में लेकर चूसते पॉल को देख कर रीना मेरी तरफ देख कर कुटिल मुस्कान भरने लगी. मैंने उसको जोर से थप्पड़ मारते हुए कहा- अब कहां सो रही है बहनचोद, चल आ जा बैठ, मेरे लौड़े पर बहन की लौड़ी. इससे उसको समझ आ गया कि मैं आज बहुत गर्म हो गई हूं और शायद उसकी बात बन सकती है.

अपनी बीवी के सामने अगर कोई उसे जलील करे, तो उसकी कामवासना भड़क जाती है और वो किसी भी तरीक़े से चुदने तैयार हो जाता है.

एकदम से दोनों के फव्वारे छूटने के साथ मुँह से आह उह की आवाज आई और इसी के साथ दोनों ने एक दूसरे को जकड़ लिया था. अब जैसे ही वो पीछे को गईं, उनके निप्पल में खिंचाव के साथ साथ उन्हें दांत के नुकीलेपन का अहसास भी हुआ.

देखने बीएफ मेरे गांव के घर पर जो काम करती है, उसका नाम गोमा है और उसकी उम्र लगभग 45 साल है. मोहिनी में मम्मे एकदम टाइट थे, चालीस की उम्र पार करने के बाद भी ढीले नहीं पड़े थे.

देखने बीएफ यह Xxx गर्ल ओरल सेक्स कहानी आपको मजेदार लगी या नहीं? आप मुझे मेल करें और प्लीज़ कोई गंदे कमेंट्स न करें. जैसे ही मैंने उसकी पैंटी निकालने की कोशिश की, उसने मुझे हटाया और मेरे ऊपर आ गयी.

जब वो कुछ बोलने वाला था तो फाटक से उठ कर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसके लंड पर अपनी बुर रगड़ने लगी.

ट्रिपल सेक्स हिंदी में बीएफ

फिर थोड़ी देर बाद उसे कुतिया बना कर मैंने अपना मुँह उसकी गांड में घुसाया और उसकी गांड को चाटना और पीटना शुरू कर दिया. उसने पूछा- क्या हुआ दीदी?मैंने एक पल को बहुत ही गंभीर भाव से उसे देखा, फिर अगले ही पल मैं भी मुस्कुरा दी और घुटनों के बल बैठ गयी. रात रात तक मुझे कामकाज़ करना पड़ता था और इसीलिए मैंने पापा की अनुमति से एक निजी सेक्रेटरी रखने का फैसला किया.

उसने एक हाथ से अपनी पैंटी चूत पर रख ली और उसको ढक ली; दूसरे हाथ से उसने अपने चुचे ढांप लिए. मैंने कहा- कैसा है?वो बोलीं- इतना टाइम लगा दिया तुमने … कब से मैं इसके लिए तड़प रही थी. करीब 5 मिनट बाद भैया ने मुझे उठाया और खुद लेट कर मुझे अपने ऊपर बिठा लिया.

दोस्तो, मैं आपको अपनी मित्र अंकिता के साथ बिताए अन्तरंग पलों को बड़ी बेबाकी और विस्तार से लिखना चाहता हूँ.

दोपहर में पड़ोस में ही सगाई कार्यक्रम था तो सासुजी रजनी के साथ वहां चली गईं. वैसे आपसे संभाला तो जाएगा ना?मेरी ऐसी नटखट बात से रेशमा शर्मा गयी और उसने अपना चेहरा मेरे सीने में छुपाते हुए कहा- कब से इन्तजार है आपको संभालने का वीरू जी, आप हैं कि मेरी तरफ देखते भी नहीं हैं. मैं चिल्ला चिल्ला कर लंड ले रही थी- आह सालो, क्या चोदते हो … आज तो मजा आ गया … आह पेलो और पेलो.

कहानी के पिछले भागटीचर के साथ ओरल सेक्स का मजामें अब तक आपने पढ़ा था कि समर सर मुझे अपने कमरे पर ले आए थे और मेरे जिस्म के साथ खेल रहे थे. एक उंगली के बाद अब मैंने एक और उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसे 2 उंगलियों से जोर जोर से चोदने लगा. इस पर उसने कहा- यहीं नहा लो, थोड़े टाइम के लिए मेरा लोअर पहन लेना, टी- शर्ट तो आएगी नहीं.

बिल्कुल गोरे रंग के बूब्स, उन पर हल्के भूरे रंग के चूचुक, जो बिल्कुल सख्त हो चुके थे. उनके जाने के बाद बच्चियों साथ में सोती थी और उन अचानक जाने का गम उनकी नौकरी की जगह मुझे नौकरी मिल गयी.

और जैसे ही उसने पानी पीना खत्म किया, पता नहीं मुझे क्या जुनून सा आया, मैंने एकदम से उसको बांहों में भर लिया और जोर से उसके होंठों पर किस कर दिया. अर्णव भी फ्रेश होकर किचन में आ गया और पीछे से मोहिनी को अपनी बांहों में भर लिया. मेरा मन तो कर रहा था कि साली को अभी जाकर इतना चोदूं कि इसकी चूत का भोसड़ा बना दूं.

अन्दर वो अपने बिस्तर पर एकदम नंगे होकर मोबाइल में कुछ देख रहे थे और लंड की मुट्ठ मार रहे थे.

मैंने जैसे ही भैया के लंड को थामा, उनके लंड की फूली हुई नसें मुझे गड़ने लगीं. जॉन का लंड अंडरवियर में से फूला हुआ साफ़ दिख रहा था कि बहुत बड़ा लंड है. लेकिन इसके बारे में मैंने अन्तर्वासना की फ्री सेक्स कहानी में इतना ज्यादा पढ़ा था और उसमें दी गई ब्लूफिल्म की लिंक्स को क्लिक करके देखा था कि मेरे दिल में लंड लेने की भूख बढ़ गई थी.

मैं मेडिकल स्टोर गया, उधर से कुछ कंडोम और भाई के लिए नींद की गोली ले आया. बिल्कुल मेरी बहू निदा की तरह। मुझे उसके मुंह से गालियां बहुत पसंद हैं।मैंने कहा- तेरी बुरचोदी बहू की की माँ की चूत … पहले यह बताओ क्या तुम अपनी बेटी बहू की बुर लेते हो?वह बोला- हां, वो ख़ुशी ख़ुशी देती है तो मैं ख़ुशी ख़ुशी लेता हूँ.

मैंने सोचने लगा- ये क्या हुआ?भाभी ने उठ कर अल्मारी में निकाल कर मुझे दिया और बोलीं- इसे पहनो. मेरे बर्थडे के यही कोई 10-12 दिन बाद हम वैसे ही लॉज में गए थे और हम दोनों एक दूसरे के साथ चूमाचाटी में लगे थे. मैंने उससे कहा कि तुम अपने पहले बॉयफ्रेंड से इस मामले में कोई मदद क्यों नहीं ले लेती हो?उसने बोला- जब मेरी शादी हुई थी तो हम दोनों में बहुत लड़ाई हुई थी और उसने मुझे उस समय समझा ही नहीं.

हिंदी में बीएफ एचडी वाली

जैसे ही ज्योति को थोड़ा सा अहसास हुआ कि मैं जाग गया हूँ, उसने मेरे होंठों को चूमना चालू कर दिया.

उसने बड़े प्यार से कहा- दीदी, आप घबराओ मत … हमारी ये बात किसी को पता नहीं चलेगी. मैंने उन दोनों से कहा- तुम दोनों बैठो, मैं थोड़ी देर टैरेस पर जाकर आता हूं, ठंडी हवा चल रही होगी. पाटिल जी का लौड़ा साफ करते करते रेशमा ने अपना एक हाथ किरण के सर पर रखा और वो उसका मुँह अपनी चूत पर दबाने लगी.

नीता मुझे चूमकर बोली- हर्षद जब सुबह तुम गीता की गांड में अपना मोटा लंड डालकर चोद रहे थे न, वो देखकर मेरा भी बहुत मन कर रहा है पीछे से लेने का. फिर रात में हम दोनों को स्नेहा ने अपने साथ में सुलाया और सेक्स करवाया. केक कैसे बनाते हैं घर परफिर मैंने उसकी टांगों को फैला कर उसकी चूत में अपनी जीभ को घुसा दिया.

मैंने छुट्टी ले ली थी लेकिन अचानक से मेरा मन बदल गया और मैंने गांव जाना कैंसिल कर दिया. फिर एक दिन कोशिश करके हिम्मत जुटा कर मैंने दीदी को फिर से सॉरी बोला और कहा- उस दिन वो सब गलती से हो गया था दीदी, मैं अब ऐसा कुछ नहीं करूंगा, प्लीज़ मुझे माफ कर दीजिए.

वो अपनी जीभ को मेरे लंड के टोपे पर ऐसे घुमा रही थीं कि मैं पागल हुए जा रहा था. लॉज की सभी प्रक्रिया पूरी करने के बाद हम फिर से एक कमरे में बंद हो गए. आपने मेरी पहली सेक्स कहानीमैंने अपनी दुल्हन के साथ सुहागरात मनाईमें अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने अपनी सुहागरात कैसे मनाई और अपनी बीवी से लंड कैसे चुसवाया.

मोहिनी ने स्पोर्ट्स ब्रा और जॉगिंग पेंट पहन रखी थी, वो इन कपड़ों में बेहद सेक्सी लग रही थी. लगभग हर बार मुझे तुम्हारी दीदी ऊपर मिलती है, बस इसी लिए तुम्हें संगीता समझकर मार दिया. अब मेरा लावा उसकी चूत में गिरने वाला था, मैंने उसे कसके अपनी बांहों में भर लिया और उसकी चूत में पूरा माल डाल दिया.

कुछ देर के बाद मैंने उसकी शर्ट निकाल दी और उसके तने हुए बूब्स देखने लगा.

बस फिर क्या था … मैं तो रेखा के होंठों को अपने होंठों में दबाकर चूमने लगा. उसी का नतीजा था कि आज मैंने मुँह को जल्दी से किसी रोज़ चुदने वाली रंडी के जितना खोल दिया और लंड मुँह में ले लिया.

हम दोनों काफी थके हुए थे तो मैंने रेनू से कहा- पहले किसी होटल में चलते हैं. मैं चिल्ला दी- आह मादरचोदो … अब क्या ऐसे ही नौचते रहोगे, दम नहीं है क्या भोसड़ी के … तुम्हारे लौड़े मर गए हैं क्या … साले चूसते ही रहोगे अब चुदाई भी कर लो. मैं बस चुदायी ही देखता था, कभी अपनी मम्मी को चोदने का ख्याल मेरे मन में नहीं आया.

अब मैं अक्सर उसके घर जाने लगा कि फिर से रेखा के वैसे ही दर्शन देखने को मिल जाएं, लेकिन नहीं मिले. मैं अपनी उंगलियों को अपने मुँह में लेता, फिर उसकी प्यारी सी चूत में डाल देता. अब तुम बोलो भाभी कि तुम क्या कहती हो?रसिका भाभी- बात तो तुम सही कह रहे हो, पर मैं क्या करूं.

देखने बीएफ उसकी पैंटी को मैंने अपने लंड से लपेट दिया और अपने लंड को हिलाने लगा. गुलाबी होंठ, गोरा रंग मेरी भरी गोरी जांघें और मेरी उभरी हुई गांड है, जो अन्दर से बहुत ही नर्म और मुलायम है.

नंगा नंगा बीएफ

मेरा नाम सिड कपूर है, मैं दिल्ली में अपने माता-पिता और भाई के साथ रहता हूँ. दोस्तो मैं अगर उसके जिस्म के बारे में बताऊं, तो आप पढ़ने वालों का ईमान डगमगा जाए. मेरा ब्वॉयफ्रेंड रोहित कल सुबह आने वाला था तो मुझे अभी किसी बात की टेंशन नहीं थी.

वो किसी प्यासे की तरह मेरे होंठों को जोर जोर से चूस चूस कर अपनी प्यास बुझाता रहा. इसलिए लच्छो ने कई बार मुझसे कहा कि मेरा और जगह पर भी काम लगवा दीजिए, जिससे मैं कुछ ज्यादा पैसे कमा सकूं. 2021 की सेक्सी फिल्मेंमैंने वहां एक मैसेज पढ़ा, जिसमें लिखा था ‘गुड मॉर्निंग बाबू …’मैसेज पढ़ कर मैं हक्का बक्का रह गया.

वह भी खुश हो गया कि उसे भी बहुत दिनों के बाद में उसकी जान की चूत गांड चोदने मिल रही थी.

वो पता नहीं मेरा हाथ अपने हाथ में ले कर कंधे पर सिर रख कर लेट सी गई. मैंने उसकी तरफ देखा, तो उसने धीमी आवाज में कहा- मैंने इतना बड़ा लौड़ा सिर्फ फिल्मों में देखा है.

आज रात उस ऑटो वाले लड़के से काफी गर्म बातें हुईं और उसको मैंने अपनी नंगी फोटो भी दी. इसलिए मैंने चालू बैच खत्म करके वहां पढ़ाना छोड़ दिया और फिर से अपनी दुकान पर आ गया. अर्णव ने आगे बढ़ कर मोहिनी को अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठ चूसने लगा.

मैं आज जो सेक्स कहानी आपके सामने पेश करने जा रहा हूँ, उसमें मैं बताऊंगा कि कैसे मैंने एक रंडी को अपनी दुल्हन बनाया था.

हमारे रिश्ते को करीब डेढ़ साल होने वाला था, पिछले साल मेरे बर्थडे से लॉज या होटल में जाने का सिलसिला अभी भी जारी था. मैंने अपनी जींस को साफ़ किया लेकिन वो पानी में भीग गयी थी और उस पर स्पॉट बन गया था. मेरी बुआ पिछले एक साल में बहुत चुदक्कड़ बन गई थी क्योंकि मैं उसे पिछले एक साल से जमकर चोद रहा था.

अरे यार मैसेजवो मुझसे बोली- मेरे राजा अब और न तड़पाओ … जल्दी अपने लंड को मेरी चूत में घुसा दो. पांच मिनट बाद मैंने उसे घोड़ी बनने के लिए कहा और पीछे से लंड डालकर चुदाई शुरू कर दी.

बीएफ लोकल सेक्सी वीडियो

आज समझ सकती हूं कि वो इस काम के लिए एकदम नया था लेकिन उस समय तो वो ही मेरे लिए जॉनी सीन्स था. मैंने उससे पूछा- तुमने कभी ड्रिंक की है?वो बोली- हां की है … मगर मुझे चढ़ जाती है इसलिए कभी नहीं करती. मेरे जवाब न देने से चाची रूम में आ गईं और मुझे सेक्स वीडियो देखते हुए पकड़ लिया.

फिर जब मेरी दोस्त लड़की आई तो मैंने उसे लेने गया और उसे अपने कमरे में लेकर आ गया. मैंने आहिस्ता से अपना लंड नीता की गांड से बाहर निकाला और बेड के नीचे खड़ा हो गया. आपको इस सेक्स कहानी को पढ़ कर पता लग जाएगा कि ये मेरी एक सच्ची चुदाई कहानी है.

वो मेरी पड़ोसन थी तो उसको कहीं से पता चल गया था कि मां का ऑपरेशन हुआ है. मेरे आने की ख़ुशी में रीना और पॉल ने झट से मुझे अगले ही हफ़्ते गोवा आने का निमंत्रण दे दिया. आप मुझे मेल से बताएं कि आपको मेरे ऐस फक़ एक्स्पीरिएंस में मजा आया?[emailprotected]ऐस फक़ एक्स्पीरिएंस का अगला भाग:चढ़ती जवानी में सेक्स की चाह- 4.

मेरे लंड का चिकना सुपारा गीता की गांड के छेद पर रगड़ खाते हुए निशाने पर सैट हो गया. अगर कोई लौंडिया ज्वाइन करना चाहेगी, तोथ्रीसम सेक्स की कहानीबन जाएगी.

मैं मां को बिना बताए उनकी चूत में ही झड़ गया और उन्हीं के ऊपर लेट गया.

उनकी इस हरकत से मेरे पूरे तन बदन में बिजली दौड़ गयी, ये मेरा जीवन का पहला अनुभव था इसलिए मैं बुरी तरह छटपटा रहा था।इसके बाद ऑन्टी ने अपने ब्लाउज के हुक खोल कर अपनी सफेद रंग की ब्रा निकाल दी और अपने बड़े बड़े स्तनों को पूरी तरह आजाद कर दिया. सेक्सी अंग्रेज कीउसने जंगली अंदाज़ में मेरी बीवी की पैंटी फाड़ दी और उसके एक दूध को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. सेक्सी फूल हदफिर ब्लाउज के खोलते ही उनके दूध हिलने डुलने लगे, अन्दर ब्रा नहीं थी. लॉकडाउन की वजह से मैं अपने दोस्त विलास के बेटे के नामकरण विधि पर भी नहीं जा सका था.

मैंने कहा- जान शुरू करें?रूमी- साले जब दर्द हो रहा था, तब नहीं पूछा … अब पूछ रहे हो, पर अब दर्द कम है, तुम चोदना शुरू करो.

वैसे तो अजमेर से कोटा की बहुत सी ट्रेन हैं पर मैं कार लेकर जाना पसंद करता हूँ. किस किस की बुर में पेलते हो अपना लण्ड?उसने कहा- रात में जिसकी बुर खाली होती है उसी की बुर में घुसा देता हूँ लण्ड!शेखू ऐसा कह कर शन्नो की चूत की धज्जियाँ उड़ाने लगा।सबके मुंह से मस्ती में कुछ न कुछ निकलने लगा।जैसे कि- हाय रब्बा बड़ा मज़ा आ रहा है. आपको यह फर्स्ट किस की कहानी कैसी लग रही है? मुझे मेल करके मेरा हौसला बढ़ाएं.

कभी कभी मजाक में उसको जानेमन, जान और गुलबदन जैसे शब्द से संबोधित करता, तो वो शरमा कर मुस्कुरा देती. अली- अबे इतनी जल्दी कुश्ती भी?मैंने कहा- और क्या … बिना कुश्ती के काहे का मजा. आंखों में काजल और चेहरे का मेकअप हॉट सेक्सी लेडी रेशमा की जवानी को चार चांद लगा रहा था.

बीएफ बीएफ ऑनलाइन

मैंने धीरे धीरे उसकी आंखों पर किस किया और गर्दन पर चूमता हुआ उसके होंठों पर आ गया. आप मेरे भाई की चुदाई का अंदाज़ा इसी बात से लगा सकते हैं कि मेरा साइज़ आज 28-26-32 की जगह 34-30-36 का हो गया है. मैंने उसको और तड़फाने के लिए कहा- किसे डाल दूँ और कहां डाल दूँ!तो उसने हाथ से अपनी चूत की ओर इशारा किया.

थोड़ी देर बाद मैं बुआ के ऊपर से उठ गया फोन में देखा तो 2 बज चुके थे.

मैंने गेट खोल दिए और अंकित एकदम से अन्दर आ गया और उसने मुझे एक बार ज़ोर से हग किया, साथ ही एक किस कर दिया.

करीब 15 मिनट तक अली की गांड मारने के बाद मैंने उससे पूछा- मेरा होने वाला है. अब वो सिर्फ एक पैंटी पहने हुए अपने पेट के बल लेटी हुई इतनी सेक्सी लग रही थी कि पूछो मत. इंडियन सेक्सी हिंदी वीडियोहर बात को लेकर सबसे पहले उससे ही बात करना पसंद करती थी इसलिए मैंने अपने घर में किसी की बात नहीं मानी.

ये कहने के बाद मुझे याद आया कि मैंने अनंग के सामने कुछ ज्यादा बोल दिया, मैं अपने आपको कोसने लगी. मैं अपने इरादे में कैसे कामयाब हुआ?फ्रेंड्स, मैं राजेश शर्मा, नागपुर पुनः आपके सामने अपनी दूसरी कहानी के साथ हाजिर हूँ. उनके अन्दर महीनों से आग लगी हुई थी और मेरे अन्दर भी चिंगारी ने आग का रूप ले लिया था.

वो रुक गए और मेरी पीठ को चूमने लगे; मुझे शांत करने के लिए मुझे सहलाने लगे. पाटिल जी जरा देखिए न आपकी कुतिया कैसे सड़कछाप लावारिस रंडी की तरह मेरे मालिक का लौड़ा ले रही है.

यह कहानी है सुहानी (काल्पनिक नाम) की, जो मुझे मिली या बोलो तो मैं उससे मिला.

मुझे अपनी गांड का सुख देने के बाद वो अब पाटिल जी से गांड मराने लगी थी. फ़ज़लू ने शीरीं को घोड़ी बनाकर जब गांड में लंड घुसाया, तो शीरीं और फ़ज़लू दोनों के मुँह से आवाज निकलने लगी. मैं काफ़ी गर्म हो चुकी थी और मुझे महसूस हुआ कि अंकित के लंड में कसावट आ रही है.

फुल मूवी सेक्सी वो बोली- अगर ये सब बात आप किसी को नहीं बताएंगे तो मैं आपकी बात मानने के लिए तैयार हूं. वो ‘यस माई सन … फकिंग हार्ड … या या गुड गुड फक मी …’ करके अपनी गांड आगे पीछे करके चुदवा रही थी.

मैं अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को पकड़कर उठाने लगा, तो दोनों तरफ से उंगलियों से खींचने के कारण नीता की गांड का छेद खुलने लगा था. मैंने उसको अपनी बांहों में दबा कर भर लिया था और उसकी पीठ को मसलने लगी थी. मेरा एक हाथ उनके मुँह पर था, वो जोर से चिल्लाईं लेकिन उनकी आवाज मुँह में ही घुटकर रह गई.

बीएफ नंगी पुंगी

थोड़ी देर बाद मैं उठने लगा, तो गीता बोली- हर्षद उठो मत, अपना लंड ऐसे ही मेरी चूत में थोड़ी देर मेरे ऊपर ही पड़े रहो. एक थे फ़ज़लू मियां, चालीस साल की उम्र में भी भले उसकी शादी नहीं हो पाई थी मगर उसे इस बात का जरा भी गम नहीं था. तब भी एक बात कहना चाहूँगा कि हम किसी बात को जब शिद्दत से चाहने लगते हैं तो ये कायनात भी उस चाहत को पूरा करने के लिए मौके और अवसर बना देती है.

हम दोनों दुनिया की फिक्र छोड़ कर खूब मस्ती से ट्यूबवेल के पानी में नहाए. अभी तक आपने जो पढ़ा, वो थी मेरी इमोशनल कहानी कि कैसे मैं कुछ नहीं कर पाया.

दोस्तो, मैं सौम्या एक बार फिर से अपनी नंगी जवानी का परसा हुआ थाल लेकर आपकी अदालत में हाजिर हूँ.

घर पहुंच कर मैंने उसे सॉरी का मैसेज किया और अपने लॉज वाली हरकत के लिए माफ़ी मांगी. थोड़ी देर में उसके धक्कों की स्पीड इतनी बढ़ गई कि लौड़ा पूरा बाहर आकर एक झटके में पूरा घुसने लगा था. तो मैंने भाभी को कसकर पकड़ लिया और बेताबी से उनके होंठों को चूमने लगा.

जैसे ही रीना ने ये हरकत की, तो मैंने रीना के बाल पकड़ते हुए मेरा लौड़ा उसके मुँह की तरफ कर दिया. मैंने कहा- भाभी, मुझे किसी से प्यार हो गया है, पर मैं उसका नाम बता नहीं सकता. कुछ देर तक चूत चुसने के बाद कुणाल ने अपना लंड स्नेहा की चुद पर सैट किया और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

वैसे तो मेरे घर पर ज्यादा कोई आता जाता नहीं था, बस एक दो दोस्त कभी कभी आते थे और हम लोग कभी कभी शराब पीते थे.

देखने बीएफ: उन्होंने मुझे झुकने के लिए कहा, जब मैं झुका तो उन्होंने पीछे से मेरी चड्डी भी खींच कर नीचे कर दी. किस किस की बुर में पेलते हो अपना लण्ड?उसने कहा- रात में जिसकी बुर खाली होती है उसी की बुर में घुसा देता हूँ लण्ड!शेखू ऐसा कह कर शन्नो की चूत की धज्जियाँ उड़ाने लगा।सबके मुंह से मस्ती में कुछ न कुछ निकलने लगा।जैसे कि- हाय रब्बा बड़ा मज़ा आ रहा है.

मैं अम्मी की चूत को फैला कर सीधा बिना कुछ कहे उसकी चूत चाटने लगा और जोर जोर से अम्मी की चूत को चूसकर गीला करने में लग गया. फूफा जी बोले- हां हां क्यों नहीं, जाओ खेतों में घूम आओ, तुम शहर के बच्चों को गांव की ताज़ी हवा कम ही मिलती है. शायद मेरे कहने की ही देर थी कि शैली मेरी तरफ आ गई और मुझे कसके अपने सीने से लगा लिया.

मैंने अपना पैग खत्म किया और शालिनी से कहा- बस लंड चूसोगी ही या और कुछ भी करना है?शालिनी ने कहा- जीजू आज तो मुझे आज इस लंड का पूरा मजा लेना है.

पाटिल जी- तेरी मां की भोसड़ी कुतिया, चल गीला कर मेरा लौड़ा रंडी की पैदाइश, आज देख तेरे अम्मी की पाकीज़ा गांड कैसे खोल देता हूँ छिनाल. बेटा और मैं दोनों, चूचियों को दबा कर चुदाई करने लगे थे और वो दोनों रांडें अपनी गांड आगे पीछे करके मस्ती से चुदाई में भरपूर साथ देने लगी थीं. अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार।मैं हरदेव सिंह उर्फ हरी आज मैं आपको मेरी आंखों देखी घटना बताने जा रहा हूं।अभी मेरी उम्र 19 साल है.