देसी बीएफ औरत

छवि स्रोत,बीएफ पंजाबी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

சமந்தா செஸ் விதேஒஸ்: देसी बीएफ औरत, मैं अपने घुटनों पे फर्श पे आ गयी और एक उत्तेजना के साथ उसके अंडरवियर को उतारने लगी.

एचडी बीएफ सेक्सी वाला

मेरे मम्मों को पकड़ते ही आशीष ने बोला- बंध्या, पहले से तुम्हारे दूध बहुत बड़े हो गए हैं … इन पांच-छह महीनों में किसी से दबवाई हो क्या?मैं बोली- नहीं आशीष, मैंने किसी को हाथ नहीं लगाने दिया, तुम पहले हो जो उस दिन किए थे, फिर तुम्हारी याद जब आती थी, तो सच सच कहूं अपने हाथों से खुद ही दबा लेती थी. इंडियन सेक्सी बीएफ बीएफसाथ ही वो दोनों स्तनों को दबाने लगे। विनय जीजू थोड़ा अलग होकर लेटे रहे.

मैंने संजीव की पहल का इंतज़ार नहीं किया और उसकी छाती पर हाथ रख दिया. हिंदी सेक्स बीएफ सेक्सीआकर उसने अपना लॅपटॉप खोला और एक पिक्चर दिखाने लगा, उसमें चुदाई का पूरा नंगा डॅन्स था.

इतना कहकर उसने मुझे धक्का देकर सोफे पर नीचे गिरा लिया और खुद मेरे ऊपर आ गई.देसी बीएफ औरत: चुदाई का मजा लेने के बाद मैं वहां से अपनी सूजी हुई चूत को लेकर अपने किराए के रूम पर आ गई.

मैंने पहले तो उस योनि को छुआ और जैसे ही मैंने उसे हाथ लगाया, तो आहना ने एक जोर से आह भरी और अपना कामरस एकदम से निकाल दिया.फिर जब वो शांत हुईं, तो मैंने उनको डॉगी पोजीशन में होने को कहा और वो झट से हो गईं.

सनी देओल की इंडियन फिल्म - देसी बीएफ औरत

सुबह उठने पर सारा ने मुझसे पूछा- रात कैसी गुजरी?मेरे मुँह से सिर्फ इतना ही निकला:गर फिरदौस बर रूये ज़मी अस्त/ हमी अस्तो हमी अस्तो हमी अस्त(धरती पर अगर कहीं स्वर्ग है, तो यहीं है, यहीं है, यही हैं)मैं बोला- जन्नत की सैर की रात भर.उसे देख कर मैं भी उसकी हिलती चूचियों को दबोच कर मसलता हुआ, पूरा मजा ले रहा था.

जब हम घूम रहे थे, तब उसका फ़ोन आया था, और उसको लग रहा है कि वो उसे धोखा दे रही है. देसी बीएफ औरत अब तो अंकल की छवि मेरी आंखों के सामने आ गई थी और चुत एक झटका दे कर झड़ने लगी थी.

अन्तर्वासना का नाम सुनते ही वो लेडी एकदम से चहक उठी और बोली- वाह, तुम भी अन्तर्वासना साईट के फैन हो.

देसी बीएफ औरत?

मैंने जल्दी से कंडोम का पैकेट फाड़ कर एक कंडोम निकाला और अपने लंड पर पहन लिया. अंडर आर्म्स से लेकर नीना के बालों को सूंघते वक्त वह भैंसे की तरह फों-फों की आवाज निकालने लगा, जिससे मेरी बीवी मदहोश होने लगी. थोड़ी देर बाद जब मैं सीढ़ियों के पास खड़ी हुई तो फिर से आया, वो बोला- प्लीज अपना नाम बता दो, नहीं तो मैं खाना नहीं खाऊंगा.

वो नीचे मेरा लंड मुँह में लेकर मजे से अन्दर बाहर कर रही थी, हल्के हल्के काट रही थी. कुछ पल बाद वो फिर से एक सिगरेट सुलगा कर मुझसे अपना लंड चूसने के लिए बोलने लगे. उपिंदर ने उसकी कमीज और ब्रा उतारी पीछे से दबोचा और गांड में लौड़ा पेल दिया और उसकी गांड ठोकने लगा.

इसके बाद मैंने उसकी कुर्ती और ब्रा निकाल दिए और उसकी छोटी छोटी चूचियों को चूसने लगा. मैंने फिर से थोड़ा सैट करके एक जोरदार धक्का मारा, तो भाभी के मुँह से उनकी घुटी हुई आवाज निकली. सच बोलूँ तो ये कोई मनगढ़ंत कहानी नहीं है और न ही इसमें कोई कल्पना है.

मैं उसके माँ-पापा से मिला और सीमा को अपनी दीदी के घर ले जाने के लिए कहा. मेरी नजर अनुष्का की छाती पर गई तो उसकी क्लीवेज देखकर मेरे लंड ने एक जोर का झटका दे दिया.

मेरे पति का तो तेरे लंड से आधा ही है और वो तो कुछ कर भी नहीं पाता है.

इस पर पहले तो बहुत शरमाई, पर उसे लगा कि मैं कोई समाधान निकाल सकती हूं.

दो इंच लंड अन्दर गया और उसकी आंखों से आंसू निकल आये, पर वो भी चुदक्कड़ थी, दर्द सहती रही, पर कुछ कहा नहीं. नवीन का लंड झटके देने लगा था और उसने मेरी पैंट में पीछे से हाथ डालकर मेरे चूतड़ों को दबाना और मसलना शुरू कर दिया था. अब मैं उसकी गोद मैं उसकी तरफ मुँह करके अपनी बुर में उसका लंड डलवाए हुए थी.

मैंने शिखा से कहा- तो क्या आज हम दोनों घर पर अकेले हैं?शिखा ने कहा- जी हाँ … और वह मेरी तरफ देख कर मुस्कराने लगी. कुछ देर तक हम दोनों पड़े रहे वहीं बेड पर और एक-दूसरे को किस करते रहे. अब देखो मेरी रचना कितना तड़प रही है … चुदवाने के लिये पागल हो रही है.

मेरे सिर के पीछे से दबाव डालकर मेरे चेहरे को उनकी तरफ ले जाते हुए उन्होंने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

थोड़ी ही देर में एक 18-19 साल की लड़की, जो शायद रत्ना ही थी, मेरे लिए पानी लेकर आई. दीदी की सासू माँ ने कहा- क्या चल रहा है ये? चलो बेडरूम में दोनों बात करते हैं. मैं कुछ देर के लिए उसके ऊपर ही पड़ा रहा … कुछ देर के बाद वो भी शांत हो गई.

थोड़ी देर के बाद उसने अपनी चूत में मेरे सिर को दबा लिया और मेरी नाक भी उसकी चूत में जा घुसी. और कमाल की बात यह है कि गर्मियों की छुट्टी में शादी होने वाली है तो तुम्हें भी छुट्टी होगी. मैंने अपनी दो उँगलियाँ उनकी गीली चूत में घुसा दीं, और अंदर बाहर करने लगा.

आज यह दूसरी सेक्स कहानी लिख रहा हूँ, अगर कोई गलती हो जाए तो मुझे माफ़ कर देना.

लगभग 5 मिनट बाद उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया और मैं उसकी चुत का पूरा पानी पी गया. आप मेरे बारे में पिछली कहानियों में पढ़ चुके होंगे, जिन्होंने नहीं पढ़ा है, उनको बता देता हूं.

देसी बीएफ औरत फिर दस मिनट गांड चाटने के बाद मैंने उससे कहा- अब तुम घोड़ी बन जाओ, यह मूली चूत में ले लो. मैं उसके माँ-पापा से मिला और सीमा को अपनी दीदी के घर ले जाने के लिए कहा.

देसी बीएफ औरत हम लोगों ने जल्दी से नाश्ता किया और फिर मामी और मैं बाइक से बाजार के लिए निकल गए. उठने से पहले मैंने अपने रूमाल से उसकी चुत को साफ़ कियाफिर हम दोनों अपने कपड़े पहन कर पार्क के मुख्य एरिया में चले गए.

वरना तो मैं सपने में भी नही सोच पाता कि यहाँ स्कूल में मुझे तुझ जैसी लौंडिया मिल सकती है.

करिश्मा कपूर सेक्सी वीडियो बीएफ

ऊषा ने थाली में खाना परोस कर मामा जी के रूम में पहुंचा दिया और हम लोगों के सामने भी खाना थाली में सजा कर रख दिया. वेरी गुड … ऐसा करना … पेपर के बाद यहीं रहकर सारा पेपर कर लेना … तुझे तो मैं 2 घंटे भी दे दूँगा … तू तो बड़े काम की चीज़ है यार … अपनी सहेली को जाने के लिए बोल देना. वैसे मुझे डर था कि कैसे बहन को गर्लफ्रेंड बता कर जाऊंगा साथ में?लेकिन वो न तो मेरे शहर का था और न बहुत ख़ास दोस्त.

सतना में बस स्टैंड सबेरा होटेल के नीचे आशीष मुझे मिलने को बोला था, वह वहीं पर खड़ा मिला. फिर चुदास चढ़ी तो मैनेजर सर ने मुझे चित्त लिटा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगे. उसका फिगर ऐसा है कि जो भी उसे देख ले, वह उसे चोदने के ख्वाब देखने लगे.

मैडम जैसी अति सुन्दर स्त्री को किस करने के नाम से ही दिल की धड़कनें तेज़ हो गयीं.

मैनेजर सर ने मेरी चुदास देखी, तो एकदम से मेरा टॉप निकाल दिया और मेरी चूची को मेरे ब्रा के ऊपर से दबाने लगे. मैंने एक हाथ से उसके दूध पकड़ कर जोर से दबा दिए और वह सिसकिया लेने लगी अहहह अम्म्म ऊऊऊ मम्मम और वह कहने लगी की और जोर से दबावों. उसने मेरे हाथों से कंडोम का पैकेट ले लिया और उसे देख कर मेरी तरफ देखा.

वो मेरे लंड से अपना मुँह चुदवा रही थी और मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था. मेरी बॉटल देख के पायल बोली- क्या जीजू आज भी? लेकिन चलो अच्छी बात है, आपके वो कमीने, गुंडे दोस्त तो नहीं है आज. मेरे लंड की रगड़ को अपनी गांड के अन्दर महसूस करके, मामी जी भी अब पूरी मदहोश हो चुकी थीं.

मैं तो हैरान हो रही थी कि दीदी इतने बड़े लंड से चुदवा कैसे लेती है? मुझे तो अजय का लंड देख कर ही घबराहट होने लगती थी. अब तो चूत को छूने से ही वह दर्द कर रही थी। अजय ने मेरी चूत को फाड़ कर रख दिया था.

जैसे ही वो सामने आई, मैं तो चौंक गया, वो कोई और नहीं बल्कि मोहिनी जी थी जिनके साथ मैंने आन जाने में शारीरिक संबंध बनाया था, जिसका उलेख मैंने अपनी पिछली कहानी ‘गांडू लड़के की रंगीन मम्मी’ में किया है।मोहिनी जी- अरे प्रधान जी आप, वाह क्या बात है, आज तो पार्टी और भी रंगीन हो गयी. और दोनों हाथों से उसकी गोल गांड को पकड़ा और लंड को दे दनादन उसकी चूत में पेलने लगा. मिसेज पाटिल साँस रोक कर अपना मुँह ऊपर कर के पूरा लंड अन्दर लेने का प्रयास करने लगीं और बड़बड़ाने लगीं- आह साला … ये लंड भी बहुत बड़ा है.

वो कहने लगी- जीजू, अब तो करो!और खुद ही मेरे ऊपर आकर लंड पे बैठ गयी और एक हल्की से आहहह उनके मुंह से निकली.

मैंने हल्की सी आवाज में ‘आई लव यू गुलाबो’ कहा और बोला- आपको मालूम नहीं है कि मेरी क्या हालत है. दोनों को ही बच्चों से बहुत प्यार था पर शादी के 7 साल बाद भी उनकी गोद खाली थी. अब मैंने उस लड़के आशीष की आंखों में आंखें मिला दीं और एकटक देखने लगी.

मैं उनको चोदने के पहले बहुत प्यार करता हूँ, क्योंकि वो सेक्स खुल कर करती हैं. जब मैं शादी करके पहली बार अपने पति के घर गई थी तो वहाँ पर मुझे काफी बड़ी फैमिली मिली थी.

वो बोली- यही तो अड्वेंचर है … और मुझे ऐसे करने से ही तो डंडे मिलेंगे. चूत से पेशाब की धार बंद होते ही लंड को हाथ से हिलाकर खड़ा कर दिया और चूत की सीध में टिका कर गप्प से लंड को अंदर ले गई मामी. थोड़ी देर बाद मुझे इस दर्द में भी मज़ा आने लगा और मैं मज़े से अपने पापा से चुदने लगी। मेरी चुदाई की चाहत इतनी ज्यादा थी कि मैं पापा से ‘और जोर से … और जोर से …’ कहने लगी और वो मुझे जोरदार धक्के लगाने लगे लेकिन मैं उनके धक्कों से और तगड़ा झटका चाहती थी.

बीएफ सेक्सी गांड में

आज पहली बार में ही दो बार मेरी चूत को दो अलग अलग मर्दों ने चाटा था.

उसके बाद मैंने एक हाथ को उसकी चूत पर लगाया और उसकी चूत को रगड़ना शुरू कर दिया. इसलिए मैंने उससे सेक्स चैट करने की कोशिश की, पर वह बहुत ही साधारण लड़की थी, उसे यह सब समझ नहीं आता था. उसके बाद कुछ ही धक्के मुंह में गये होंगे कि मेरे लंड ने पानी को उसके मुंह में छोड़ दिया.

रूम की लाल लाइट में उसके वो मादक बोबे सच में क्या छटा बिखेर रहे थे, क्या बताऊं आपको … मैं वो फीलिंग बयान नहीं कर सकता. तब मैंने भी मन बना लिया कि इस बर्थडे पे इसे गिफ्ट में मैं अपना लंड दूंगा. एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स हिंदी फिल्मपहले झाड़ी के पीछे वह पटेल ने चाटा था और अब यह मामा भी वही कर रहे थे.

‘भैया, ये… ये क्या?’‘शैली, समझ मेरी बात को, ये मैं हूँ और अब उपिंदर मेरा बॉयफ्रेंड है. नहाते हुए रीना ने मेरा लंड फिर से खड़ा कर दिया और मैंने शॉवर के नीचे ही उसकी चुदाई का दूसरा राउंड शुरू कर दिया.

वह कहती रही कि एक बार निकालो, मेरी जान निकल रही है, बहुत जलन हो रही है, ऐसा लगता है जैसे चूत के अंदर सबकुछ फट गया है. उसकी स्किन कितनी सॉफ्ट थी, मैंने पहले भी कॉलेज में लड़कियों की चुदाई की है, पर ऐसी मलमल सी गदराई लड़की कभी नहीं मिली. मगर सर … आधा टाइम पहले ही निकल चुका है पेपर का!” मैंने डरते डरते कहा।आज के पेपर को तो भूल ही जाओ.

मैंने मन ही मन सोचा कि कहीं उसका भाई फ़ोन न करा रहा हो, ये सोच कर मैंने उसको ऐसा फील कराया जैसे उसने नंबर गलत मिलाया हो. मैंने उसकी ब्रा उतारी, तो मोनिका की चुचियां पहले से कुछ ज्यादा बड़ी लगीं, मैंने उससे कुछ नहीं पूछा. इसके अलावा वो मेरे मामा थे इसलिए लिहाज भी था और उनसे गन्दी बातें भी नहीं कर सकता था, क्योंकि डरता था.

खैर, अल्ला अल्ला खैर सल्ला … आखिरकार मैं उस नाईटी को उतारने में सफल हो गया तो मेरी निगाह उस अलौकिक, इंद्रलोक की अप्सराओं को चुनौती देने वाले शरीर पर अटक गयी.

कुछ ही देर में सारा ने मेरा लंड अपनी चूत में डाल लिया और हम लिप किस करते हुए चुदाई करने लगे. वो बेचैन हो रही थी लंड के लिए, कहने लगी- जल्दी करो ना!मैंने उसकी चूत में वेसलीन लगाई और अपना पेनिस सेट करके उसकी क्लिट पर रगड़ने लगा.

मैंने कुछ देर तक उसकी जीभ को अपनी जीभ से लड़ाया और फिर मुँह में मुँह लगा कर देर तक चुसाई का मजा लिए. मैंने उसको दूर किया और पूछा- क्या सच में तुम ऐसा चाहती हो या सिर्फ पति से गुस्से के कारण ऐसा कह रही हो?वो बोली- नहीं … ये एक औरत की चाहत बोल रही है. मेरी उत्तेजना और अधिक बढ़ने लगी और मैं पूरी तरह से उसका सहयोग देने लगी.

भाभी एकदम मस्ती से अपने सिर को इधर-उधर मारने लगी और बोली देवर जी- करो … ज़ोर … ज़ोर … से करो … ठोको!मैंने भाभी की चूत में पीछे से लंड चलाना जारी रखा, कभी मैं उनको कमर से पकड़ता, तो कभी उनके चूतड़ों पर हाथ रखता, कभी उनके चूचों को पकड़ता, तो कभी उनकी जांघों में हाथ डालकर ज़ोर ज़ोर से चुदाई करने लगा।सारा कमरा फच … फच … की आवाज़ से गूंजने लगा, यहां तक की हर धक्के पर बेड आवाज़ करने लगा था. उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके होंठों को चूसना चालू कर दिया. उसे देखकर मुस्कराई, फिर हाथ से थाम कर पहले की तरह आगे-पीछे करने लगी.

देसी बीएफ औरत सच्ची कहानी का ये भाग कैसा लगा, कमेंट में या ईमेल करके मुझे जरूर बताएं. काफी मना करने के बाद भी जब वो नहीं मानीं, तो मजबूरी में मैंने ये सब ले लिया.

मोटे लंड से चुदाई बीएफ

अब वो मुझे बोलने लगी- मेरी चूत में लंड डाल!मैं मना करता रहा पर वो नहीं मानी, वो बोली- तेरा लंड तो तेरे भाई से भी तगड़ा है. वो बोला- तुम कहां जा रही हो?मैं पहली बार उसे सामने पाकर देख कर घबरा गई. भाभी ने तब तक मेरे लंड को चूसना जारी रखा, जब तक मेरा लंड सिकुड़ कर अपने आप उनके मुंह से निकल न आया.

मामी जी ने थोड़ी करवट ली और अपनी चुदी हुई गांड को देखने लगीं और बोली- राहुल, देखिए क्या हालत कर दी आपने मेरी गांड की, कितनी छोटे से छेद वाली गांड थी. मेरे लंड के धक्कों के साथ उसकी आवाज़ें और ज्यादा तेज होती जा रही थीं. इंग्लिश पिक्चर सेक्सी नंगी पिक्चरये थी मेरी मामी की चुदाई की सेक्स स्टोरी, अच्छी लगे तो मुझे जरूर बताना.

मैं बोली- तेरे लिये ही तो जिम और योग करके शरीर को ऐसा मस्त बनाया है.

दस मिनट में ही उसकी हालत खराब हो गयी और वो बोलने लगी- बस करो मेरी चूत फट गयी है. भाभी कहने लगी- राज! इससे पहले कि कोई आ जाए तुम मेरी इस चूत की आग को शांत कर दो.

मैंने उससे पूछा कि उसे मज़ा आया या नहीं तो बोली- ऐसा कभी किसी के साथ नहीं आया. उसने धीरे धीरे मस्ती से चूस कर मेरे लंड को लोहे की रॉड जैसा कर दिया. मैं मन ही मन में सोच रहा था कि यहां तो मैं भाभी को चोदने की जुगाड़ लगा रहा था और भैया ही इन्हें नहीं छोड़ रहे हैं.

जब लंड जड़ तक घुस गया तो माला की आंख दर्द से पूरी तरह से खुल गईं और वो चीखने लगी- बस करो बस करो … बहुत अन्दर तक पेल दिया.

मैंने उसे बताया कि पहले अपनी वेशभूषा बदलो और रात में सोने के समय कुछ ऐसा पहनो, जिससे उसकी कामुकता झलके. मामा का इतना कहना हुआ कि तभी उस जगह पर कोई बुड्ढा सा आदमी अचानक अन्दर आ गया. तभी मैंने मीना को पलटने को कहा और उसके ऊपर लेट कर उसकी चुत में लंड डाल दिया.

ಸೆಕ್ಸ್ ಆಡಿಯೋचूंकि वे काफी लम्बे थे लगभग 6 फिट और क्योंकि वह खेत में मेहनत करते थे, तो उनकी बॉडी किसी खिलाड़ी की तरह ही काफी सुडौल और मस्त थी. हालांकि वह मुझे यह जताने की कोशिश कर रहे थे कि उनकी कई सारी जुगाड़ हैं और अक्सर वो चुदाई का खेल खेलते ही रहते हैं.

बीएफ ब्लू फिल्म ब्लू फिल्म ब्लू

अगली सुबह मणि ने कोमल की चूत में लंड पेल दिया और उसे चोदने के बाद संजय को उठाया. भाभी मेरे सामने घोड़ी बन गई, उनकी चिकनी गांड और उसमें से बाहर आई हुई चूत बहुत ही सुंदर लग रही थी. अब्बू ने अम्मी को, भाई ने भाभी को और बैडमैन ने मेरे को!अब्बू ने अम्मी के कपड़े सीधे उतार दिए और उनकी ब्रा में हाथ डाल कर उनके चूचे दबाने लगे और उनके गले में और कान में किस करने लगे.

मेरा नाम कवि पाठक है और मैं अभिनेत्री अनुष्का वर्मा की वेनिटी वैन का ड्राइवर हूँ. तब उसने मुझसे पूछा कि क्या हम कभी रतिक्रिया नहीं करते?मैंने कहा- हां करते हैं, पर बहुत कम करते हैं. मेरी समस्या को सुनने और समझने के बाद मेरे मित्र ने मुझे एक काम के बारे में बताया.

मैंने भाभी के दोनों घुटनों को मोड़ा और बेड से नीचे खड़े होकर उनकी चूत में दोबारा लंड डाला और उनकी चुदाई शुरू की. फिर वे लंड को चुत पर सैट करने लगीं और उसे अपनी चुत में फिट करने लगीं. फिर बोला- बंध्या तुम अब कोई चिंता नहीं करो, मैं तुमसे वादा करता हूं कभी उस तरह से नहीं होगा.

दीदी अनन्त जीजू से लिपटी हुई हर धक्के पर अपनी कमर उछालते हुऐ बोल रही थी- और तेज चोदो! आह्ह … और तेज करो मेरी जान। तब मुझे समझ आया कि दीदी को कोई तकलीफ नहीं हो रही बल्कि अच्छा लग रहा है. मैंने तुरंत उस लड़के की तरफ देखा और अपनी आंखें उसकी आंखों में डाल दीं.

अगर आप दर्द बर्दाश्त करने के लिए तैयार हैं, तो हम शुरू करें?कल्पना- ह्म्म्म.

मेरा नाम कवि पाठक है और मैं अभिनेत्री अनुष्का वर्मा की वेनिटी वैन का ड्राइवर हूँ. سیکسی تصویرअब मैं उसको जोर-जोर से चोदने लगा और वो भी अजीब-अजीब आवाजें अपने मुंह से निकालने लगी, बोलने लगी- बहुत अच्छा लग रहा है जान … मुझे ऐसे ही चोदते रहो … मैं तुम्हारी रानी हूं।फिर मैंने उसको उठा दिया और घोड़ी बनने के लिए कहा. ब्लू फिल्म सेक्सी बताओउन्होंने फिर से दोहराया- क्या तुम दोबारा वह सब देखना चाहोगी?मैंने भी उतावलेपन में जीजू को हाँ बोल दिया. मीरा- तुम्हारे पीजी वालों को कॉल करके मैं बोल दूंगी कि आज ऋषभ की नाइट शिफ्ट है … ऑफिस में काम थोड़ा ज्यादा है.

अब इंदु भाभी को भी पूरा मजा आ रहा था, वो भी फिर से गर्म हो गयी थी और मेरा साथ देने लगी.

उसने मेरे एक एक करके सारे कपड़े उतार दिए, तो मैं भला कैसे पीछे रहता मैंने भी उसकी नाइटी उतार कर फेंक दी. जब मेरी आंखों से आंसू आने लगे तो जीजा जी कहने लगे कि अब पूरा घुस गया है और अब दर्द नहीं होगा. तब दीपक ने कहा- ठीक है मेरे दोस्त, तुम्हारी यह तमन्ना बहुत जल्द पूरी हो जाएगी.

हाल यह हुआ कि अगर कभी पति-पत्नी में झगड़ा हो गया, भाभी रूठ गई, या उदास हुई, तो मंसूर भाई मुझे बुलवाते थे ताकि मैं भाभी को हँसा सकूँ. उसने फिर से मेरा हाथ हटाने की कोशिश की मगर अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था. मामी भानजा की यह चुदाई बीस मिनट तक चलती रही होगी।फिर उसके दस मिनट के बाद मैंने उनसे कहा- मामी जी, मैं भी झड़ने वाला हूं.

वीडियो बीएफ देखना

आखिर एक स्लीपर वाली बस मिली, लेकिन उसमें एक ही सीट बची थी और अगली बस सुबह की थी. उसकी घर वाली ने खाना दिया और बोला- ये आप माला का खाना ले जाओ … और आप उधर ही रात को सो लेना, लड़की अकेली है और आप रहेंगे तो घर का भी ख्याल रख जाएगा. अब वो खुद बोल रही थी कि आउच्च … च … च च और तेज … और तेज फाड़ दो मेरी चूत को … मैं तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ … आह चोदो मुझे … आज जी भरके चोदो!कुछ देर की चुदाई के बाद वो अकड़ने लगी और उसने मुझे अपनी बांहों में जोर से जकड़ लिया और वो झड़ गयी.

जब उसने देखा, कि मैं उसकी चुचियों को देख रहा हूँ, तो रूपा के होंठों पर मुस्कान से फैल गयी.

मैंने पूनम का टॉप ऊपर किया और ब्रा को पीछे से खोलकर उसके चूचों को ब्रा से बाहर निकाल लिया और दबाने लगा.

अब आगे:वहां से तो मैं अपने रूम में आ गयी, पर अभी भी समझ में नहीं आ रहा था कि अभी जो कुछ हुआ या मम्मी जी ने जो कुछ कहा, क्या वो सब सच था या मैं अभी कोई सपना देख रही हूँ. मैं उसकी हूँ… फिर तो मैं उसे जीजा जी कहूंगी, क्यों दीदी?’और मेरे चेहरे पे बरबस मुस्कान आ गयी. एक्स एक्स एक्स सेक्सी देहातीमैंने लंड को पूनम की चूत के अन्दर डाला और एक धक्के से पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.

मैं सीमा के साथ में लेट गया तो सीमा ने लेटने के तुरंत बाद ही मुझे किस करना शुरू कर दिया. उसके जुबान का स्पर्श पड़ते ही मेरी योनि की नशे कड़क होने लगीं और योनि की दीवारों से चिपचिपा पानी रिसना शुरू हो गया. मैंने अपना लंड उसकी चूत के छिद्र पर रखा और धीरे धीरे अंदर डालने लगा.

(पहले ही काफी गीली हो चुकी है)तभी मेरे ध्यान में आया कि अभी से मेरी योनि कितना पानी छोड़ चुकी है. मैं मीना के चुप पड़े होने का कारण उसकी शर्मिंदगी मान रहा था, किंतु वो तो हैंगओवर से परेशान थी.

उनके 34 इंच के तने हुए चुचे देखने में ऐसे लगते थे कि मानो दोनों ने तोतापरी आम लगा रखे हों.

हैलो फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सभी लंडधारी … सभी अपना लंड हाथ में लेने को तैयार हो जाओ. मैंने ही वासना से उत्तेजित होकर उसके कूल्हों पर जोर से थप्पड़ मार दिया था. मैं उसे बड़ी मुश्किल से बिस्तर पे लेकर आया और समझाया- कोई बात नहीं अगर मेरा नहीं निकला तो.

सनी लियोनी xx वो भी अपनी गांड उठा कर मेरा लंड एक बार में ही पूरा अन्दर लेने के लिए मचल रही थी. उसने मेरी पिक मेरे से मांगी मैंने अपने ऑफिस के एक लड़के की पिक भेज दी.

उसके ऊपर लेटे लेटे मिशनरी पोजीशन में ही थोड़ा अपने चूतड़ों का दबाव डाला, तो लण्ड अंदर जाने लगा. फिर मैंने उसको सीधा लेटा दिया और उसके चूचों पर एक बार फिर से टूट पड़ा. एक ही बार में पैग खाली होते देखा, तो मीरा मैडम ने बैक टू बैक दो पैग और बना दिए.

बीएफ भोजपुरिया सेक्सी

बहुत देर तक उसके कमर की मसाज करने के बाद धीरे धीरे ऊपर की ओर बढ़ने लगा. मैंने हाथ और अन्दर डाला तो मेरा हाथ सीधा उसकी ब्रा की पट्टी पर लगा. अब मेरा भी लंड खड़ा हो चुका था और कोमल को भी बार-बार टच होने से वो भी बेचैन होने लगी थी.

मैंने अपने लंड को और ज्यादा तेज गति के साथ सीमा की चूत के अंदर और बाहर करना शुरू कर दिया. मैं उन्हें चोदने में लगा हुआ था और साथ ही उनकी गोरी गांड पर थप्पड़ लगाने लगा.

आज मैं मानो रवि मामा का मूसल सा लंड अपने मुँह में भरने को उतावला हो रहा था.

2 मिनट तक दबाने के बाद उन्होंने मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत पर हाथ फेरा और फिर मेरी पेंटी को उतार दिया. क्या बात है?मैंने डर के मारे कुछ नहीं बोला और उसके बाद अनुष्का ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया. एक दिन भाभी ने ये बात सुन ली तो वो मुझसे ही पूछने लगी- किस बात का जिक्र हो रहा है?मैंने कहा- पता नहीं क्या बताने की कहता है, मुझे खुद कुछ नहीं मालूम?मेरे जाने के बाद उसने अपने लड़के से धमका कर पूछा- क्या बात है, क्या बताने की बात करता है?उसने भाभी को बता दिया कि मोनी ने चाचू को चॉकलेट दी थी.

मैं ग्रेजुएशन के पहले साल की परीक्षा के बाद गर्मियों में मामा के घर छुट्टियां बिताने पहुंचा था. जीजाजी मेरी इस हरकत से खुश हो कर जोरों से मेरे रसीले होंठों को पीने लगे. अनुष्का की स्माइल को देखकर तो अच्छे अच्छों के लंड मचल जाते हैं मैं तो फिर भी एक ड्राइवर था.

मैं उनको देखता तो मेरा मन करने लगता था कि उसको अभी अपने दबा के चोद दूँ.

देसी बीएफ औरत: मैंने अपने हाथ पीछे ले जाकर उसके दोनों चूतड़ों अपने दोनों हाथों में पकड़ लिए, जो मेरे हाथों में समा चुके थे. भाभी कहने लगी- देवर जी थोड़ा धीरे करना, ऐसा न हो कि मेरी चूत ही फट जाए, पहली बार इतना मोटा लंड लेना तो दूर की बात है देखा भी आज ही है, पता नहीं चूत इसे ले पाएगी या नहीं?मैंने भाभी की चूत को थोड़ा हाथों से और चौड़ा किया और भाभी के पांव को फैलाया, और चूत में एक झटका दिया जिससे आधे से भी ज्यादा लंड अंदर बैठ गया.

मैंने कहा- प्लीज़ हनी आज ये रहने दो, बहुत दिन बाद किया है नहीं झेल पाऊंगी. मिसेज पाटिल डॉली को सुन भी रही थीं और मेरे लंड का मजा भी ले रही थीं. मैं उसके कहे मुताबिक जब पानी पूरी लेकर उसके घर पर पहुंचा तो मैं उसे देखता ही रह गया.

प्रीति ने ये भी बताया कि उसने लिंग चूसने में कोई अच्छा काम नहीं किया क्योंकि उसे सही तरीके से लिंग चूसना आता ही नहीं था … पर प्रयास किया.

जब मैंने उनका घाघरा और ऊपर किया, तो मैंने देखा उसने पेंटी नहीं पहन रखी थी. फिर अचानक उसने मेरा मुँह अपने मम्मों पे गाड़ने की कोशिश की और मेरे सर के पीछे से एक हाथ से हलके से दबाया. इसीलिए मुझे उन पर थोड़ा तरस भी आ रहा था क्योंकि वो हमेशा ही यहां वहां मुँह मारते ही रहते थे.