गांव की देसी हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,फिल्म हिंदी फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

સેક્સી યોગા: गांव की देसी हिंदी बीएफ, मेरी आंखें मजे में बंद हो गई थीं और मैं उसकी उंगलियों से अपनी गांड की खुजली को शांत करवाते आनन्द ल रहा था.

बिहारी सेक्सी वीडियो जंगल में

अब मैं अपने मुँह से उनके लंड को चोद रही थी और वो अपनी जीभ से मेरी बुर चोद रहे थे. सेक्सी हिंदी में चुदाई चुदाईभाभी को मैंने बहुत बार छत पर बाल सुखाते हुए देखा भी था, वो इतनी हॉट लगती थीं कि मैं अपने आपको रोक ही नहीं पाता था और किसी न किसी बहाने उनके पास चला जाता.

मैंने कॉल की तो शीना सीधा बोली- अब बताओ अंकल, ऐसी क्या मजबूरी है मम्मी की?मैं बोला- शीना, तुम्हारी मम्मी की जो मजबूरी है, वो मैं तुम्हें बता नहीं सकता. लावणी गाणीप्रभा- तुम्हारे घर में क्या मम्मी पापा नहीं हैं?मैं- नहीं हैं, वो दोनों शिक्षक हैं और अभी स्कूल गए हैं.

एक महीने बाद मेरे दोस्त की मम्मी का मैसेज आया कि मेरीमाहवारी रुक गईहै और मैं पेट से हो गई हूँ.गांव की देसी हिंदी बीएफ: एक दिन मैंने फेसबुक पर एक सेक्सी कहानी पढ़ी तो मन में ख्याल आया कि क्यों न गूगल पर कहानी सर्च की जाये.

धारा- अच्छा जी… अभी तक तो आपने ना मुझे देखा है और ना ही कभी मिले हैं फिर मेरे ख़्याल कैसे आ गए आपको?शेखर- धारा जी, मैं कल्पनाओं का मुरीद हूँ… और सच कहूँ तो अपनी कल्पना में ना जाने मैं कितनी बार मिल चुका हूँ आपसे.मेरे मन में ख्याल आने लगे कि अगर इसने अपनी माँ को बताया तो क्या होगा.

सेक्सी वीडियो अनुष्का - गांव की देसी हिंदी बीएफ

मगर उन्होंने मुझसे पूछा- तुम्हें कैसा काम है?मैंने बिना कोई जवाब दिए भाभी के दोनों बाजुओं को पकड़ लिया.अब वो आह हहह करके तेज़ी से गांड आगे पीछे करने लगी और बोली- राज, तुम आज मुझे जमकर चोदो.

उन्हें लंड चुसवाने में तेज़ी चाहिए थी तो वो मेरे बाल पकड़ कर धक्के लगाने लगे. गांव की देसी हिंदी बीएफ उस दिन मैं वहां से आने के बाद सीधे अपने उसी चोदूमल टेलर के यहां कपड़ा लेकर गयी.

उसी समय सैम ने मुफीद मौका समझते हुए एक पल की देर न की … और तुरंत अपना बॉक्सर निकालकर सीधे आगे बढ़ गया.

गांव की देसी हिंदी बीएफ?

मेरा लन्ड कड़क होने के साथ साथ फूलता जा रहा था और रोहन मस्त हो उसे चूसने में व्यस्त था।कुछ देर चूसने के बाद रोहन बाथरूम में मुंह का पानी थूक कर मेरे पास आया और मेरी जाँघों को सहलाते हुए मेरे लन्ड के आसपास चाटने लगा. कुछ पल बाद मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और फांकों को खींच खींच कर चूसने लगा. मैं उसको अपने से अलग करते हुए बोली- दीदी को चोदकर तुम्हें मजा लेना है!वो बोला- आप मेरी बहन थोड़ी ना हो.

मैं तेल लेकर वॉशरूम में गया लेकिन थोड़ी देर बाद निकल कर बोला- मैं नहीं लगा पा रहा. उफ़्फ़ … गुलाबी साड़ी में लिपटा वो कसा हुआ बदन, ऊपर बिना बाहों वाला सुनहरे रंग का ब्लाउज़ जिसमें सितारे झिलमिला रहे थे. उनकी मोटी मोटी गांड को देख ऐसा मन किया कि साली को अभी जाकर नंगी कर दूँ और अपना 7 इंच का लंड उनकी चूत में पेल दूँ.

उसे इतना तो पता था कि धारा भी ललित की तरह बिल्कुल खुले विचारों की है और दोनों मिलकर अपनी जवानी और ज़िंदगी का भरपूर मज़ा लेते हैं लेकिन कहीं ना कहीं एक संकोच की दीवार थी जिसे शेखर झट से पार नहीं कर पा रहा था. वैसे तो हमेशा वो रुबिका के कॉलेज से घर आ जाने के बाद ही आता था लेकिन आज जब मैं सारा काम करके बिना कपड़ों के नहा कर बाहर वाले कमरे में आयी थी कि तभी मेरे दरवाज़े पर दस्तक हुई. मैं दीदी को आप से तुम पर और वैशाली बोलते हुए बोला- वैशाली, क्या तुम मुझसे शादी करोगी … अगर मैं तुम्हारी और तुम्हारे हस्बैंड की हर ज़िम्मेदारी उठा लूं तो?ठीक है कर लूंगी, पर अब जो करने आए हो, वो करो.

बाद में हमारी दिन में बहुत बार बात हुई और अब रोज ही बातें होने लगीं. मेरी आंखें मजे में बंद हो गई थीं और मैं उसकी उंगलियों से अपनी गांड की खुजली को शांत करवाते आनन्द ल रहा था.

धीरे से मैंने उसकी जींस नीचे की ओर सरकायी … और मैं उसे दूर करके उसे जी भर देखने लगा.

बीवी अपने पति के दफ्तर में गयी तो वहां उसने चपरासी को बाथरूम में मुठ मारते देखा.

वो- बहुत दिन से चुदाई नहीं हुई है … मेरी बुर तुम्हारे लंड के लिए तरस रही है चाचा … पहले मुझे चोद दो. मैं- आह आह मेरी जान कितनी गर्मी है तेरे मुँह में!उधर से मौसी की सिर्फ चप्प चप्प की आवाज आ रही थी. डॉक्टर सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी सेक्सी बीवी ने हॉस्पिटल के डॉक्टर संग टांका भिड़ा कर सेक्स का मजा लिया.

धारा के दिए हुए पते पर पहुँच कर बिल्डिंग के नंबर और फ़्लैट के नम्बर को ढूँढते हुए शेखर उस फ़्लैट तक पहुँचा जहां शायद धारा रहती थी. अब आग तो मेरी चुत में भी लगी हुई थी तो मैंने कहा- ठीक है, पर बस तू एक बार ही करेगा, उसके बाद नहीं … और ना ही तू इस बात को किसी को बताएगा. ऐसे कैसे सो जाएगी? आज तो रात भर तेरी चूत की मालिश करूंगा। और उसके साथ साथ तेरे पिछवाड़े की भी!” जीजा ने गांड दबाते हुए बोला.

उसके जाते ही मैंने उसके फ़ोन से वीडियो अपने फ़ोन में ट्रांसफर की और फिर वैसे ही किसी को कॉल की और फ़ोन रख दिया.

दोस्त की बीवी की चुदाई कहानी के पिछले भागमेरे सेक्सी जिस्म को मिले दो और लंडमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे पति अमित के दो दोस्त राजेश और प्रशांत मेरी चुदाई के लिए मुझे पटाने में लगे थे. अब वह मेरी चूचियों को बारी-बारी से चूसते हुए अपने एक हाथ से मेरी बुर को सहलाने लगे. उभरी हुई चूत का मुँह नीचे चाची की एड़ियों की ओर हो गया जिससे मेरे पेट की तरफ खड़ा मेरा लौड़ा चूत को उसी पोजीशन में अच्छी तरह ठोक सकता था.

हैलो, मैं पार्थ एक बार फिर से आपके सामने अपनी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. जिस लंड से मेरी मां चुद रही थी मैं भी देखना चाहती थी कि उस लंड में ऐसी क्या खास बात है?अनिकेत भैया ने मेरी चूचियों को नंगी कर दिया और उन पर होंठ लगाकर पीने लगा. फिर मुझे एक आईडिया आया और मैंने उनसे कहा- आंटी टीवी चालू कीजिए ना!उन्हें शायद याद ही नहीं था कि सीडी प्लेयर चालू है.

धारा की उंगलियां पीठ पर घूमते-घूमते शेखर के अंदर के लावे को उछाल मारने पर मजबूर कर रही थी.

शेखर- हम्म … कोई बात नहीं!इतना कह कर शेखर थोड़ी देर के लिए चुप सा हो गया और सोचने लगा कि आख़िर आगे कैसे बढ़े. धारा- ललित दो हफ़्तों के लिए दुबई गए हैं, शाम को उनकी फ़्लाइट थी और मैं उन्हें ही छोड़ने गयी थी तभी.

गांव की देसी हिंदी बीएफ अब आगे परिवार में चुदाई स्टोरी:मैंने कहा कि मैं आप दोनों की चुत को चाटूंगा, उससे आपको गर्मी महसूस हो जाएगी और कुछ अनुचित भी नहीं होगा. धारा की उंगलियां पीठ पर घूमते-घूमते शेखर के अंदर के लावे को उछाल मारने पर मजबूर कर रही थी.

गांव की देसी हिंदी बीएफ उसके वीर्य के निशान देखकर मैं भी उनको चाट लेती थी और अपनी चूत में उंगली करती थी. इस आसन में उसके उछलते हुए स्तनों को देखने का आनन्द मैं आज भी कई बार याद करता हूँ.

मैं गर्म तो थी ही मगर सामने मेरा मौसेरा भाई था तो थोड़ी हिचक हो रही थी.

ससुर बहू की सेक्सी बीएफ पिक्चर

उस चपरासी का काला मूसल लौड़ा देख कर उसकी चुत ने अपना आपा खो दिया था. तब मैंने उसकी पैंटी को खोला, तो देखा की एकदम चिकनी पाव की तरह फूली हुई चूत थी. लगभग 7 बजे शाम को शेखर ने महसूस किया कि शायद अब तक धारा ने कोई जवाब दे ही दिया होगा, एक बार चेक किया जाए.

बर्थडे सेक्स गिफ्ट की कहानी का अगला भाग:लंड चुत गांड चुदाई का रसिया परिवार- 7. मैंने फिर से उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया और उसके प्यारे प्यारे होंठों पर किस करने लगा. मैं पूरी तेजी से चोद रहा था और नेहा आह्ह … राज … ओह्ह राज … करके अपनी चुदास को दिखा रही थी.

तब मैंने उसकी पैंटी को खोला, तो देखा की एकदम चिकनी पाव की तरह फूली हुई चूत थी.

ज्योति- तुझे इससे क्या लेना देना? ये हमारी मियां बीवी के बीच की बात है. इन दोनों की कथा गर्म होने दीजिए फिर बाद में देखते हैं कि क्या खेल होता है. मेरा मन कर रहा था कि वो मेरे निप्पलों को यूं ही चूसता रहे बस!आकाश ने बड़े आराम से मेरे दोनों निप्पलों को प्यार से चूसा.

जैसा उन्होंने मुझे देखा, मुझे उठा पाकर तीनों मेरे सीने से चिपक गईं. अब बच्चे को स्कूल छोड़ने जा रही थी, तो उसे तो रोज ही निकलना होता होगा, ये सोच कर मैंने सोचा कि बाद में देखता हूँ. मैंने उसको धीरे से अपनी ओर कमर पकड़ कर खींचा तो वो मेरी छाती पर सर रखकर लेट गई.

इतने में भाबी भी बोल पड़ीं- कोई बात नहीं रवि, आज तुम भी इधर ही सो जाओ … क्या फर्क पड़ जाएगा. मैंने उन्हें तकिए की ओर चेहरा करके उल्टा लेट जाने को कहा और मैंने खड़े होकर तुरंत ही अपना पजामा और ब्रीफ शरीर से अलग कर दिया.

सोनम की धमकी सुन कर उस चपरासी ने अपने हाथ जोड़े और वो सोनम से माफ़ी मांगने लगा- मैडम, गलती हो गयी आगे से नहीं होगा मैडम, प्लीज गरीब की नौकरी पर लात मत मारो, आप जो चाहें, मैं करने के लिए तैयार हूँ … पर किसी को मत बोलो, प्लीज मैडम. भाभी बोलीं- बड़ी मस्ती आ रही है, अभी बताती हूँ तुझे!वे मुझे फिर से चुम्बन करने लगीं. अब उसने धीरे-धीरे धक्के देने शुरू कर दिए मुझे ऐसा लग रहा था कि वह मेरा मुंह नहीं मेरी चूत चोद रहा है.

उनके हस्बैंड सी आर पी एफ में थे, तो 7-8 महीने में एक बार ही कुछ दिनों के लिए आ पाते थे.

धारा- ह्म्म्।एक लम्बी सी ख़ामोशी रही उस तरफ़, कोई जवाब नहीं आ रहा था. अब भाभी ने मुझसे कहा- पहले एक बार जल्दी से चोद कर मेरी चूत की खुजली मिटा दो, फिर जो चाहे करते रहना!मैंने अपना अंडरवियर हटा दिया और भाभी अपने दोनों पैर फैला कर अपनी नंगी चूत से मेरे लंड को आमंत्रण देने लगीं. वो पूरे मदहोश हो चुके थे और जोरों से मेरे होंठों को चूमने में लगे थे बल्कि अब तो अंकल काटने भी लगे थे.

उसके बाद चाचा ने अपना लंड चाची की चूत पर रख कर एक धक्का मारा तो आधा लंड चाची की चूत में घुस गया. मेरी गांड और चुत को गर्म करके वो खड़ा हो गया और उसने अपना पजामा और कच्छा उतार फेंका.

नमस्ते दोस्तो, कैसे हो आप लोग? मैं नक्श एक बार फिर से एक नयी सेक्स कहानी के साथ हाजिर हूं. इसी वजह से अचानक से मां की आंख खुली और वो एकदम से मुझसे अलग हो गईं. मैं- तुम्हारा साइज क्या है?फ़लक- 34-32-34मैं- और गहराई?फ़लक- किस चीज की गहराई ?मैं- चूत की!फ़लक- मुझे क्या पता?मैं- आज नापकर बताऊँगा.

हिंदी बीएफ पिक्चर व्हिडिओ

मैंने आशारा की चुत की फांकों को फैलाकर एक एक को मुँह में भरकर जी भर कर चूसा.

’सोनम के मुँह से निकलता थूक अब मानस के गोटे और उसकी जांघों को भिगो रहा था, पर उन दोनों को किसी बात की फ़िक्र जैसे थी ही नहीं. मैंने पूछा- इतनी सी उम्र में तुझे चुदने का शौक कैसे लग गया!उसने हंस कर बताया कि उसके मामा उसे कैसे बुर चुदाई का स्वाद दे चुके हैं. ”‘आपके मुंह में घी शक्कर …’ कहते हुए कविता ने अपनी आँख से टपके आँसू पोंछ लिये.

लेकिन काफी देर तक मेरे मनाने के बाद वह मान गई और हम रात होने का इंतजार करने लगे. निखिल को क्या पता था कि उसकी मौसी खुद चुदाई का खेल खेलने में व्यस्त है. ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो गुजरातीफिर भी उसने धारा को कुरेदने के लिए सवाल किया- अरे हाँ … ये तो मैंने सोचा ही नहीं.

आंटी की सास हमारे घर पर थीं, मैं आंटी से मिलने गया उनकी दुकान पर गया तो वो बंद थी. भाभी गर्म आवाजें निकालने लगी थीं- आह चूस लो मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है.

भाभी भी हमेशा मुझसे मज़ाक करती रहती थीं और मुझे लगता था कि वो मेरी तरफ कुछ आक़र्षित थीं. अंकल उसी साल रिटायर हो रहे थे तो उनकी उम्र 60 या 62 की रही होगी और उनकी वाइफ 55 से 60 के बीच की थीं. मौसी- क्यों कैसा है मेरा शेर?मैं- मैं ठीक हूँ आप बताओ … आज फोटो क्यों भेजी आपने!मौसी- सोच रही थी कि तुझे थोड़ा तरसाऊं!मुझे पता चल गया कि फिलहाल मौसी गर्म हुई हैं.

मैं- लेकिन जब तुम्हारी चूत में इतना बड़ा और मोटा लण्ड गया तो खून तो आया नहीं?फ़लक- वो एक दिन मेरे दिमाग में सेक्स की गर्मी बहुत चढ़ गई थी तो मैंने जोश में आकर एक लम्बा खीरा अंदर तक घुसेड़ लिया था जिससे खून निकल गया था. ये सोच कर उसने तुरंत धारा को जवाब भेजा।उसने सावधानी से इस मैसेज को लिखा जिसमें उसने कहा- मैं आपकी भावनाओं का सम्मान करता हूँ धारा … और शुक्रिया इस बात के लिए कि आपने मुझे बाक़ी मर्दों की श्रेणी में ना रखते हुए मुझसे मिलने की इच्छा जतायी. मुझे अहसास हुआ कि मैं जितना ज्यादा चूत चूस कर सुख पहुंचाता हूँ, आशारा भी लंड को उसी तेजी से चूस कर मेरा जवाब देती है.

करती भी कैसे?पहली बार खुद को अपने पति के सामने दूसरे मर्द की गोद में बैठाना इतना आसान भी नहीं होता, वह भी अचानक से।मैंने हालात को देखते हुए नेहा की पीठ में चूमना शुरू कर दिया और उसकी ब्रा खोलकर उसके स्तनों को आजाद कर दिया।अब मेरे हाथ उसके स्तनों को दबा रहे थे.

वो बोलीं- हां, काफी मन कर रहा है लंड का रस पीने को … लेकिन निकल क्यों नहीं रहा. अब मैं भाभी के कूल्हों पर जोर जोर से झापड़ मार रहा था और गांड में लंड मार रहा था.

दो मिनट में ही उसने अपनी चूत से पानी छोड़ दिया जो कुछ मेरे मुँह में भी आ गया. मैं हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही पर उन्होंने लंड को चूत में नहीं घुसाया। मैं चूत समेत उछलती रही पर वे नहीं माने और थोड़ी देर बाद मेरा बदन ऐंठने लगा और मैं बिना लंड से चुदे ही झड़ गयी. उसने कहा- गौतम की इच्छा क्यों नहीं पूरी कर देती यार … बेचारे का आज जन्मदिन है.

उसने कहा, तो मैंने उसे चूम कर कहा- यहां नहीं रानी … तुझे तुम्हारी मां के बगल में लिटा कर चोदूंगा. जॉब सेक्स कहानी मेरे ऑफिस की पियोन की जवान बेटी की नौकरी के इंटरव्यू की है. एक दिन बातों बातों में मुझे पता चला कि जो पहले उनका बॉयफ्रेंड था, उससे उनकी दोस्ती इसलिए खत्म हुई थी कि वो उनके साथ जबरदस्ती सेक्स करने की कोशिश करने लगा था.

गांव की देसी हिंदी बीएफ जल्दी ही भाभी की चूत ने प्रीकम छोड़ दिया और उनकी चूत से लिसलिसा सा पानी निकलने लगा. उसके बाद मैं खुद जल्दी से जल्दी वहां पहुंच जाना चाहता था, क्योंकि 9 बजे के बाद किसी को भी शहर में एंट्री नहीं थी.

चोदी चोदा बीएफ पिक्चर

यही सोच कर उसने मानस का लंड अपने मुँह से बाहर निकाला और उसके टट्टे दबाकर कहा- भोसड़ी के, आगे भी कुछ करेगा या बस मुँह ही चोदेगा … डाल दे अब ये मादरचोद लौड़ा मेरी भोसड़ी में हरामी … चोद मुझे और बना ले अपनी रंडी. इस बात से मुझे और तेज गुस्सा आ गयी और मैं बोली- साले जब लंड में ताकत ही नहीं थी, तो ये सब नाटक क्यों किया. सोनू मुझसे छुड़ाने की कोशिश कर रही थी लेकिन मैं उसकी चूत को धमाधम पेलने में लगा हुआ था.

शेखर ने उस मद्धम सी रोशनी में अपनी दाहिनी ओर टटोलते हुए टेबल पर रखी उस पट्टी को ढूँढा. तुम कब आईं?रीमा ने शर्माते हुए कहा- जब तुम मेरा नाम लेकर अपने प्यार की वर्षा कर रहे थे. ब्लू पिक्चर भेजो सेक्सी फोटोमैं उनका बहुत सम्मान भी करता था क्योंकि वो बहुत ही सीधे स्वभाव की हैं.

अब तो उसे भी एक साथ अपनी चूत और गांड में हथियार लेना बहुत पसंद आने लगा है.

निखिल ने मीरा की कराहती हुई आवाज़ सुनी तो वो रुक कर बोला- मौसी दर्द हो रहा है क्या?वो बोली- नहीं, बस तू धक्के देता जा. मगर चाचा लोगों की नौकरी पास के शहरों में थी, इस वजह से उस मकान में सिर्फ मैं और मेरी मम्मी मीनू ही रहती थीं.

”‘आपके मुंह में घी शक्कर …’ कहते हुए कविता ने अपनी आँख से टपके आँसू पोंछ लिये. ये हॉट वुमन सेक्स कहानी पिछले साल की है, मेरे पास एक लड़की मैसेज आया … तो कुछ देर उससे बात हुई और हमारी मीटिंग एक होटल में फ़िक्स हो गयी. मैंने उसके दर्द को अनदेखा करते हुए अपने लिंग को योनि की जड़ तक पूर्ण प्रवेश करवा दिया.

अब इसके बाद प्रशांत और राजेश जब भी घर आते और सनी मिल जाता, तो वो दोनों उससे जमकर मजे लेते.

तो उसने गुर्राते हुए कहा- चुप साली रंडी … मुझे पता है तू बहुत बड़ी छिनाल है. बाद में मुझे पता चला कि उसने मम्मी को फोन करके कह दिया था कि मेरे पेट में आज बहुत दर्द है और फीवर भी है इसलिए मम्मी ने उसे रुक जाने को कहा था. दस मिनट बाद वो बाथरूम से बाहर आई तो उसने पीले कलर की बेबी डॉल पहन रखी थी.

सेक्सी फिल्म वीडियो अच्छी वालीमैं झट से लेट गया और उसने थोड़ा सा तेल हाथ में लिया और टॉवेल ऊपर करके लंड के पास लगाने लगी. मगर मैं अपनी ताकत से उनके पैरों के बंधन को तोड़ कर उन्हें फिर से चोदने लगा.

काजल के बीएफ वीडियो सेक्सी

चाची उठी तो मैं भी लण्ड को निकाले निकाले उनके पीछे किचन में चला गया. दो तीन बार लंड चुत पर घिसा और फांकों में लंड का सुपारा सैट कर दिया. तन्वी- सेम टू सेम तेरे जैसी, शायद तुझसे भी ज्यादा … तुझे नहीं पता हमारा एक ग्रुप है, जिसमें मेरे सहित 4 लड़कियां और आकाश सहित 4 लड़के हैं.

उसकी गांड में लंड ने पिचकारी छोड़ दी और गांड से वीर्य बाहर निकलने लगा. मैंने कहा- साली रंडी कुतिया चोद तो रहा हूं … अब तो रोज तुझे कुतिया बना कर चोदूंगा साली रंडी छिनाल. भाभी बोली- रियली में आप हमसे प्यार करते हैं … कितना करते हैं! मेरे लिए आप क्या क्या कर सकते हैं?मैं बोला- आप जो बोलें.

मैंने शन्नो रंडी को बोला- साली तुझे लंड से चुदने का बहुत चस्का है?वो बोली- हां लंड मुझे बहुत पसंद हैं और मैं हमेशा सोचती थी कि मेरी चूत गांड में ऐसा लंड कब जाएगा. ललित को इस बात से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि मेरे मन में क्या चल रहा है या फिर मैं क्या चाहती हूँ!शायद ये पहला मौक़ा है जब मैं किसी से ये सारी बातें शेयर कर रही हूँ. मैंने कहा- चल कड़क कर मेरे लौड़े को … फिर इसे तेरी चुत में घुसाते हैं.

जैसा मैंने बताया कि शीना मेरी पड़ोसन व मित्र नीरू की 20 साल की लड़की है. उसके साथ बातचीत होने लगी, तो उसने एक दिन बातों ही बातों में बताया- मेरा नाम आशा (बदला हुआ नाम) है और मैं एक गांव की रहने वाली हूँ.

डांस के बाद ठंड लगने लगी, तो मैं दोस्त की बहन रिंकी, अवनि, एक आंटी और मेरा दोस्त, हम सभी लोग बैठ कर मजा लेने लगे.

उसकी उठती गांड देख कर मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी और उसको जोर जोर से चोदने लगा. भोजपुरी हीरोइन नंगी फोटोक्योंकि मेरी चूचियां 36 इंच की हैं और अभी भी एकदम ऐसी तनी हुई रहती हैं, जैसे एक नवयौवना लड़की की होती हैं. सेक्सी फिल्म चुदाई की सेक्सी फिल्मवैसे तो हमेशा वो रुबिका के कॉलेज से घर आ जाने के बाद ही आता था लेकिन आज जब मैं सारा काम करके बिना कपड़ों के नहा कर बाहर वाले कमरे में आयी थी कि तभी मेरे दरवाज़े पर दस्तक हुई. उसकी तस्वीर देख कर मुझे मेरे मन में हिलोरें सी उठने लगी थीं और हमेशा ही मुझे उसके ही ख्याल आने लगे थे.

मेरे नये पाठकों को अगर नीरू के बारे जानना है तो मेरी कहानीगर्लफ्रैंड की बहन के साथ थ्रीसम चोदनजरूर पढ़ें.

मैंने उसकी मरमरी जांघों को सहलाते हुए पैंटी निकाल कर एक बार सूंघी और दूर फैंक दी. मैं मां को देखते हुए बोला कि करूं!मां ने जोरों से सांस लेते हुए हां का इशारा कर दिया. वो मान गए, तो मैंने अपने कपड़ों के ऊपर से एक बड़ी शाल ले ली और अपना पूरा सेक्स जिस्म ढक लिया.

चोद दो ना इससे मेरी चूत को … आह्ह … इसका स्वाद दे दो मेरी भट्टी को।कहते हुए मैंने अपना ब्लाउज़ और पेटीकोट भी उतार दिया और पूरी नंगी हो गई।उनका लंड मेरी चूत को खोदने के लिए तैयार हो गया था।मैंने लंड को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया और वे मम्मों को सहलाते हुए बोले- चूस छिनाल … चूस!वे बेदर्दी से मम्मों को निचोड़ते हुए अपना लंड चुसवा रहे थे. मैंने लंड पेलते हुए कहा- शन्नो अब तू मेरी रंडी है … और मैं तुझे रोज ऐसे ही चोदूंगा. टॉयलेट सेक्स के बाद हम दोनों एक दूसरे को जकड़ कर थोड़ी देर खड़े रहे, अपनी सांसों को संभालने के बाद हमने एक दूसरे को अलग किया और हांफने लगे.

स्कूल गर्ल बीएफ सेक्सी

उन्होंने अपने घुटनों को थोड़ा चौड़ा करके मुझे वहाँ समा जाने की जगह बना दी और मैं चाची की जांघों में अपनी जांघें रख कर उनके पेट पर लेट गया. भाभी की गर्म सांसों की आग मुझे मेरे चेहरे पर पड़ रही थी जो मुझे और भी पागल बना रही थी. अब संगीता की एक टांग को हवा में उठा लिया और गांड में लंड डालकर तेज गति से चुदाई शुरू कर दी.

मेरी सांस बंद थी और उनका वीर्य बाहर नहीं आ सकता था तो जबरदस्ती मुझे गटकना पड़ा.

सैम अपनी कमर पर एक हाथ रखे हुए था और वो अपने दूसरे हाथ से मेरी मां का सर अपने लंड की तरफ दबा रहा था.

ये देख कर मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा. पहले पहल तो आंटी मेरे किस का जवाब नहीं दे रही थीं, फिर अपने आप ही उन्होंने मुझको किस करना शुरू कर दिया. अंजना सिंहxxxमैंने मना किया … मगर वो बोले- भाभी, सैंडविच सेक्स में बहुत मजा आता है.

मैं इतना ज्यादा उत्तेजित हो गया था कि सिर्फ़ दो मिनट में ही झड़ गया. आज मज़ा आ जाएगा यार … तुम पहले क्यों नहीं आए मेरे पास!मैंने बोला- अब तो आ गया हूँ न मेरी रंडी … अब चल घोड़ी बन जा. तो मैंने बाथरूम में जाकर अपनी पेंटी उतार कर अपने बैग में रख ली और मैं ऐसे ही बिना ब्रा और पेंटी के जाने लगी.

आज तक जिसने भी मेरा लंड पकड़ा था, सबने हैरानी जताई थी और बोला था कि सच तुम्हारा लंड बहुत मोटा और लंबा है. भाभी मेरे पास ही कुर्सी पर बैठी थीं, उनका शरीर देखकर मैं पागल हो रहा था.

मगर एक खुशी भी थी मुझे कि मेरा भाई मेरी चूत का प्यासा होगा।विवेक इतना मादरचोद निकलेगा मुझे अंदाजा नहीं था। वो अपनी बहन की चूत का स्वाद लेने के लिए तैयार था।एक दिन घर पर कोई नहीं था और हमने उसी रात को चुदाई का प्लान बनाया।शाम को खाना खाने के बाद विवेक और लूसी अपने नाना नानी से कह आये कि हम वहीं पढ़कर सो जाएंगे.

आशारा के हाथ मेरे बालों पर आ गए और उन्होंने मेरे बाल खींचना शुरू कर दिए. मैं और भाभी अब बहुत खुश हैं और हर रोज़ मुझे मेरी खूबसूरत, सेक्सी भाभी के साथ चुदाई करने का मौक़ा मिल रहा है. भाभी देखने में इतनी मस्त माल हैं कि उनकी मचलती जवानी को देख कर बुड्ढों का भी लंड पानी फैंक दे!यह घटना इसी मार्च महीने की तेईस तारीख की है.

एक्सएक्सएक्स रिटर्न video मगर जैसे ही अंकल स्पीड में आए, उनका लंड भी पूरा जाने लगा और मुझे सांस लेने में तकलीफ होने लगी. उसके मुँह से चुत की बात सुनकर मैं दंग रह गयी और बोली- तुम पागल हो गए हो.

तो मैंने लंड पेलना रोक दिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा, पीठ चूमने लगा. अब चूंकि हम दोनों स्कूल में थे, तो हम दोनों साथ मिलकर पढ़ाई कर लेते थे. ये फोन जब आया, तब छत पर उन दोनों की चुदाई का खेल शुरू होने वाला था.

हिंदी सेक्सी बीएफ डाउनलोड

मगर जैसे ही प्रिया गगन के लौड़े से उठी तो उसने अपनी चुत गगन के लंड पर अड़ा दी और कमर झटका कर चुत चुदवाने लगी. फिर आज मुझ जैसे एक अनजान मर्द से उन सब बातों पर खुल कर बात ना करना चाहें. पहले तो मैंने भाभी को थोड़ा दूर धकेलना चाहा तो वो मुझे किस करने लगीं.

नगर की रीति रिवाज के अनुसार प्रिया के सामने ही नगर के सब लोग चुदाई करेंगे और उसकी चुत की आग को भड़काएंगे. दो मिनट बाद मैंने उसे झटके से हटाया और बोला- आप ये क्या कर रही हो … कोई देख लेगा … सार्थक आ जाएगा!वो वासना भरे स्वर में बोली- आज घर पर कोई नहीं है … और सार्थक तो शाम तक आएगा.

थोड़ी देर बाद दोनों बाथरूम जाकर साथ नहाये एक दूसरे को साबुन लगाया और शन्नो को लंड में बैठाकर साथ में नहाया.

उसने इन बातों पर ध्यान न देते हुए हल्के झटकों से चुदाई की शुरुआत कर दी. उसने आते ही मेरी दोनों टाँगें अपने कंधों पर रख ली और मेरी चूत में लंड उतार दिया. उनकी ये बातें राज को उकसा रही थी और वह जोर-जोर से मेरी गांड पर थप्पड़ मारे जा रहा था.

जैसे ही चाची मुझे जगह देने के लिए ऊपर खिसकी तो वह सोए हुए मोंटू से टकरा गई और मोंटू रोने लगा. थोड़ी देर इसी तरह धारा की नाभि से खेलने के बाद शेखर ने अपनी उंगलियों को धारा की कमर पर बंधी साड़ी के अंदर सरकाना शुरू किया. चूत महारानी पहले ही इतनी गीली हो चुकी थी कि उसे किसी तरह की चिकनाई की ज़रूरत ही नहीं थी। लंड का सुपारा चूत की दरार को खोलता हुआ चूत के गुलाबी होंठों को रगड़ रहा था.

मैंने उन सबसे इस नगर के रीति रिवाज के बारे में भी बताया और अपनी डील के बारे में भी बताया है.

गांव की देसी हिंदी बीएफ: इन बातों में न तो शेखर ने और ना ही धारा ने कोई सेक्स का टॉपिक छेड़ा. तो मामी ने एक कातिल मुस्कान दी और आगे की तरफ झुक गयी और अपनी गांड मेरी तरफ कर दी.

उसने तुरंत ही नहीं बोलते हुए कह दिया- मेरे साथ गंदी-शंदी बात मत किया करो. मैंने साहिल और राज का लंड पकड़ लिया और उनको अपने पीछे खींचने लगी जैसे कि वे मेरे कुत्ते हों. उस दिन मैंने कोमल को दो बार रगड़ा और उससे किसी दूसरे मर्द के साथ मिल कर सैंडविच चुदाई की बात भी की.

शेखर झट से अपने बिस्तर से उठा और बिजली की गति से रघु को आवाज़ लगा कर उससे चाय की माँग की.

उस वक़्त मौसी के ये सेक्सी फोटो, मेरी फटी हुई गांड के बावजूद मेरे अन्दर उत्तेजना भर रहे थे. भाभी ने ही मुझे किस करना चालू कर दिया और बोलीं- मुझे बहुत आग लगी है. वो ज्योति की चूत पैंटी के ऊपर से मसलते हुए आगे बोली- एक शर्त पर माफ करूंगी.