छोटी बच्ची के साथ बीएफ

छवि स्रोत,ब्लू फिल्म सेक्स सेक्स बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी सेक्सी बीएफ एचडी: छोटी बच्ची के साथ बीएफ, कुछ देर बाद मेरे लंड ने वीर्य की धार छोड़ दी और मैं उसके ऊपर लेट गया.

सेक्सी बीएफ वीडियो सेक्सी सेक्सी बीएफ

उसका प्रेम देख कर मुझे समझ आ गया था कि औरत अपने प्यार को पाने के लिए मर्द के पेट का रास्ता चुनती है. हिंदी बीएफ दिखाओ हिंदी बीएफ दिखाओअमिता की नजर मेरे लंड पर पड़ी, वो शर्मा गई और मुझे भी शर्म सी आने लगी.

अपने वादे के मुताबिक़ मैंने खुद से अरविन्द को चूमना शुरू कर दिया था. बीएफ बीएफ बीएफ दिखाओ बीएफमैडम ने हंस कर कहा- मुझे क्या दिक्कत होगी, तुम मुझसे बेहिचक पूछ सकते हो.

मेरी समझ में ही नहीं आ रहा था कि उससे क्या और कैसे बात शुरू करूं, तो मैंने खाना खिलाने की बात से उससे बात करनी शुरू कर दी.छोटी बच्ची के साथ बीएफ: अब मैंने उसके लिंग पर अपनी घूमती उंगली की गति बढ़ा दी और बीच बीच में लिंग को आगे पीछे रगड़ने लगी.

दोस्तो, मैं ऋषि मेहता आपको अपनी मौसी की अतृप्त चुत चुदाई की कहानी में एक बार फिर से स्वागत करता हूँ.तब मैंने उसके दोनों पैर के बीच मैं अपना पर डाल दिया तो वो एकदम से मेरी तरफ देखने लगी.

बीएफ सेक्सी फिल्म चुदाई वीडियो - छोटी बच्ची के साथ बीएफ

इन सेक्स कहानी पढ़ कर मुझे बड़ी उत्तेजना होती है और अक्सर लंड को मुठ मार कर शांत करना पढ़ाता है.क्लासरूम सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी कक्षा की एक खूबसूरत लड़की मुझे पसंद करती थी.

वो मुझे अपनी बांहों में कस कर चिपक गई और बोली- राज अपना पूरा वीर्य अन्दर बच्चेदानी में निकाल दे!मैंने दो तीन झटके लगाकर लंड का सारा वीर्य अन्दर बच्चेदानी में निकाल दिया और उसके ऊपर चढ़ कर लेट गया. छोटी बच्ची के साथ बीएफ मैंने भी बोतल से मुँह लगाया और एक लम्बा घूंट लेकर उससे चिपक कर सो गया.

उन्होंने मुझसे फिर से मिलने के लिए कहा तो मेरा भी होटल हॉट सेक्स के लिए मन हो गया.

छोटी बच्ची के साथ बीएफ?

इस पर उन्होंने पूछा- आप इंदौर क्या करने जा रहे हो?मैंने कहा- घूमने. सलमा ही समझ गई थी कि मैं कुछ नहीं बोलूंगा, मगर अलीज़ा की चुत मुझे चोदना ही है. मैंने हम दोनों के लिए एक और पैग बनाया और वो भी मेरे काफी करीब मुझसे लिपट कर बैठ गए.

वो हंस कर बोलीं- मतलब … कहीं शहर से बाहर चले गए हो क्या?मैंने कहा- नहीं मैम … जो सामान लेना है, वो बाजार खुलने के बाद ही मिलेगा न … इसीलिए कहा कि मेरे वश में होता तो पंख लगा कर उड़ आता. अभी इस माहौल में सब लोग घर में ही हैं, मैं सभी से इल्तिजा करता हूं कि आप अपने घरों से बाहर ना निकलें. इस वजह से मेरा बिजनेस भी फिलाहल थोड़ा डाउन चल रहा था … तो मेरे पास समय की कोई दिक्कत नहीं थी.

कपड़े पहनकर जब मैं हॉल में आया तो जो मैंने देखा उसको देखकर मेरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया. मेरे हाथ कभी भाभी के बड़े बड़े मम्मों को जोर जोर से मसलते तो कभी मैं अपनी दाढ़ी से और जीभ से गांड चूत को चूसते चाटने लग जाता. उसकी साफ़ चमकती चिकनी टांगों को देख कर मैं उत्तेजित हो गया और मेरे दिमाग में रितिका को चोदने के ख्याल आने लगे थे.

उनकी उम्र 40 साल की थी, पर उनके 34 के दूध इतने मस्त उठे हुए थे कि लंड की क्या औकात जो उनको खड़े होकर सलामी न दे. ब्रा खुलते ही उसके जरूरत से ज्यादा बड़े स्तन, जो उसके मर्द ने बहुत दबाए थे, खुलकर सामने आ गए.

तभी अंकल ने मेरी नाइटी की डोरी सामने से खोल कर उसको नीचे गिरा दिया और मैं एक बार में ही पूरी नंगी उनके सामने खड़ी हो गई थी.

हैलो मैं संजना … मेच्योर लेडी सेक्स कहानी के पिछले भागबस में जवान लड़के ने छेड़ा तो आंटी को मस्ती सूझीमें आपने पढ़ा था कि एक 19-20 साल का नौजवान मेरे जैसी अधेड़ उम्र वाली महिला के अन्दर दबी हुई वासना की आग को भड़का रहा था.

तभी उन्होंने मुँह ऊपर उठा कर अपने होंठ मेरे होंठों से चिपका दिए और मुझे चूमने लगीं. और मैं इतनी सेक्सी हूँ कि मेरे पड़ोस के लड़के मुझे लाइन मारते रहते हैं और मैं कितनों के साथ चुदाई के मजे भी ले चुकी हूँ. क्योंकि जिस पल ये हुआ, वो बस कुछ सेकंड का था … पर इतना मधुरम था कि सोचने समझने की क्षमता समाप्त सी हो गई थी.

वो हंस कर बोली- अब पैंट में अन्दर घुस जाएगा … छोटा हो गया है ना!फिर लंड बैठा, तो उसने अन्दर घुसा दिया और जाकर अपना मुँह धो आई. जब मैं खाना खाने के लिए मेस में गई, तो रोहन की नजर मेरे मम्मों पर थी. झड़ जाने के बाद जेबा मुझसे रुकने को बोलीं लेकिन मैं उन्हें अनसुना करके चोदता रहा.

फिर मैंने पैंटी के ऊपर से ही अपने हाथ दीदी की गांड पर रख दिए और उनकी गांड की मालिश करने लगा; दीदी के मोटे चूतड़ों को खूब दबा दबा कर मालिश की.

इतने दिनों से बाहर भटकता हुआ बाकी का लंड भी सिस्टर की गांड के अन्दर घुस गया. मैं वही तुम्हारी चिकनी चुत के मस्त मजे लूंगा जान!मैं- अच्छा अच्छा तुरंत दिमाग लगा लिए मेरे राजा डॉक्टर साहब. फिर साली साहिबा ने मुझसे मेरा नंबर ले लिया और कहा- मेरे मतलब का कोई जॉब हो, तो मुझे बताइएगा.

लता- वाह … इतनी मस्त सेक्स कहानी और वो भी एक सच्ची घटना … मुझे तो सच में कुछ कुछ होने लगा है. मैंने बाथरूम में अन्दर झांककर देखा तो आंटी आधी नंगी होकर नहा रही थीं. वो बोले- जब मैंने तुझको पहली बार देखा था तो मुझको पता था कि तू मस्त माल है.

ये सब कैसे हुआ?दोस्तो, मैं अंकित एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूँ.

एक दिन आंटी ने कहा- तुम मेरे बच्चे को ट्यूशन देने लगो तो उसकी पढ़ाई सुधर जाएगी. दीदी अपनी चुदाई में बहुत चिल्ला रही थीं, जिससे मुझे मालूम चल गया कि अभी तक वो भी अनचुदी माल थीं.

छोटी बच्ची के साथ बीएफ अंत में मैं सुशी जी के मुंह में ही झड़ गया और वो मज़े के साथ रस को पीने लगी थीं. मेरा मुँह उसकी चूत पर लगा था लेकिन हाथों से मैंने उसके मम्मों की मां चोद रहा था.

छोटी बच्ची के साथ बीएफ लेकिन अभी तक निशा ने अपने हाथ को मेरे हाथ से छुड़ाने की कोशिश नहीं की थी. मैंने पूछा- तुम अपने पति के अलावा किसी और से चुदवाती हो?वो बोली- मेरी ससुराल में पति तीन भाई हैं.

खैर … मैंने दो दिन बाद से निशा को पढ़ाना शुरू कर दिया और किसी न किसी बहाने से अब रूपा भाभी को मुझे बुलाने का मौका भी मिलने लगा.

सनी लियोन का मस्त सेक्सी वीडियो

मैं अपने काम के सिलसिले में मुंबई, गुजरात, गोवा और कोल्हापुर बेलगांव आता-जाता रहता हूँ. अब अगली किसी सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगी कि मैंने आशीष के लंड से अपनी बहनों के सामने कैसे चुदवाया और उनको भी अपने साथ ग्रुप सेक्स में लेकर चुदाई का मजा लिया. हम दोनों को चुदाई का पूरा मज़ा आ रहा था और मैं तो दो बार झड़ भी चुकी थी.

मैंने पूछा- क्या हुआ मैडम … आप ठीक तो हैं!मेरे अचानक से इस तरीके से प्रश्न पूछने पर वह घबरा गईं. अब उससे रहा नहीं गया और वो गिड़गिड़ाने सी लगी- आह रॉकी प्लीज … मुझसे रहा नहीं जाता … अब मुझे चोद दो. होंठ चूसते हुए उसकी चुत पर पहला धक्का लगाया, तो लंड छिटक कर ऊपर आ गया.

मैं तड़फ उठी थी और चीखने ही वाली थी कि नरेंद्र ने अपने होंठों का ढक्कन मेरे होंठों पर कस दिया.

यह सिलसिला चलता चला आ रहा था कि तभी एक दिन सामान लेने के लिए जुम्मन की छोटी बेटी मुमताज आ गई. फिर उसे अपने गोगी पुत्तर की याद आई तो वो अपने पति सोढ़ी से कहने लगी- आ तू शु करे छे सोढ़ी? तुझे नहीं पता गोगी पुत्तर अन्दर सो रहा है?’मगर सोढ़ी पर उसकी बात का कोई असर नहीं हो रहा था. ”उम्र में वो मुझसे 22-23 साल छोटा लग रहा था तो मैंने उसे बेटा ही कहना उचित समझा.

मैंने इसी पोजीशन में भाभी को घुमा दिया और उसकी मांसल गांड को चाटना शुरू कर दिया. ये बात मां सुन रही थीं और खुश भी हो रही थीं … लेकिन मेरा प्लान कुछ और ही था. वो मेरी तरफ देख कर बोली- क्यों तुम एसी में ठंडे हो गए क्या?मैंने उसका मतलब समझ गया और बोला- कहां यार … मेरी तो गर्मी बढ़ गई.

वो मुझे अपने दोस्तों के सामने भी लंड चुसवा देता था … और मेरी चूचियां भी मुँह में ले लेता था. मैम तो बस किसी भी तरह लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही अपने हाथ में भरना चाह रही थीं.

मेरे दोस्त के घर में मेरा दोस्त गौतम, उसकी बहन ज़ीनिया और उसके पापा अमरेश सिंह और उसकी मां रहती थींज़ीनिया की मां सविता सिंह के बारे में भी कुछ बताना चाहता हूँ. ये देख कर उन दोनों ने परेश को नजरअंदाज करते हुए मेरी तरफ देखा और शर्माते हुए थैंक्स कहा. वहां हमने खाना खाया और हम ट्रेन की बजाए बस से ग्वालियर के लिए रवाना हो गए.

लेकिन बाद में …लेखक की पिछली कहानी:मेरी चूत में घुसें सबके लंडयहाँ कहानी सुनें.

हाउस मेड सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं घर में अकेला था और अपनी गर्लफ्रेंड को बुलाने की सोच रहा था. डॉक्टर ने मेरी एक टांग को उठा लिया और चोदने लगा।अब डाक्टर ने अपने लंड की रफ़्तार बढ़ा दी और मेरी चूचियों को मुंह में लेकर चूसने लगा।कुछ देर बाद डाक्टर ने मुझे वापस घोड़ी बना दिया और चोदने लगा।अब हर झटके से मेरी चीख तेज होने लगी और मेरी चूचियां हवा में झूलने लगी।डाक्टर ने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और दोनों की सिसकारियां तेज़ हो गई. मैंने अपना लौड़ा मॉम की चूत पर सेट किया और पहली बार में एक जोरदार धक्का मारा.

नंगी लड़की होटल Xxx कहानी पर आप अपने सुझाव और विचार के लिए मुझे मेल करें. इसलिए मैं कुछ नहीं बोली; अपने कपड़े उठा कर बाथरूम में चली गई और जल्दी ही अपने कपड़े पहन कर वहां से चली आई.

सेक्स के वक़्त शरद अक्सर कंडोम का इस्तेमाल करता था, पर जब कभी भी हमने बिना कंडोम के चुदाई की, मैं हमेशा उसे अपने वीर्य से मेरी चुत भरने को कह देती थी. बस कुछ 5 मिनटों में ही मैंने असीम को बुला लिया और राजीव सर के यहां से निकल गयी. वो बोली- अरे उधर कहां जा रहे हो, मेरे ही बाथरूम में नहा लो न!मैंने कहा- ओके.

वीडियो सेक्सी चोदा चोदी फिल्म

मैंने दीदी से पूछा- जीजा जी के अलावा भी किसी और को भी सैट किया है?तब दीदी ने हंस कर बताया कि अभी नहीं … मगर तुम्हारे जीजा का छोटा भाई भी मेरी चूचियों को घूरता रहता है.

इधर वो लड़का इस कदर मुझमें धंसा हुआ था कि उसका घुटना मेरे घुटने से थोड़ा आगे था. सब कुछ मस्त था सिवाय मेरे लण्ड के … जो पूरा अन्दर जाना चाहता था लेकिन नाज की बुर की झिल्ली अवरोध बनी हुई थी. उस दिन के लिए सॉरी!वो बोली- ठीक है, मगर जब भी मुझे कोई काम होगा वो तुझे करना होगा.

अंकल ने पूछा- किस लड़के से बात कर रही हो?मैंने इठला कर बोला- किसी से नहीं. ये भी बताया कि जब आंटी उसके घर गई थी … तब मैंने उन्हें 20000 रूपए भी दिए थे. बीएफ वॉलपेपर बीएफ वॉलपेपरउसने मेरे लंड के पास अपने नथुने लाकर एक लम्बी सांस खींची और होंठों से लंड को छुआ.

मैं कुछ नहीं बोला, तो एक ही झटके में मेरी गांड के अन्दर अपना पूरा का पूरा लंड में पेल दिया. मैं उनकी चुत को चाटते हुए कभी कभी अपनी जीभ को उनकी गांड में भी डाल दे रहा था.

मैंने उनकी आंखों से आंखें मिलाईं, तो मैम की हल्की सी मुस्कान के साथ एक नारीसुलभ लज्जा भी झलक गई. मैंने उसका मुंह पकड़ कर अपनी स्पीड को बनाये रखा और 15-16 झटकों के बाद अपना पानी उसकी चूत में छोड़ दिया. किसी बंगालन के जैसे सेक्स के मज़े वो ही आपके लंड को दे सकती है … और कोई रांड भी आपको वैसा मजा नहीं दे पाएगी.

उस टाइम मैंने उसको कैसे चोदा और कैसे उसकी गांड में लंड पेल कर बहुत भयंकर वाली चुदाई की. वह मुझे गले से पकड़ कर अपने ऊपर जोर जोर से खींच रही थी और बोल रही थी- मुझे खा जाओ … मेरी जान मुझे खा जाओ. शादी को तीन साल होते होते जुम्मन की दो बेटियां नाज व मुमताज हो गईं.

मेरे पास फ्लैट की दूसरी चाबी थी, तो मैंने दरवाजा खोला और अन्दर आ गया.

अब मैंने उसकी टी-शर्ट को और ऊपर किया, तो नीचे उसकी सफेद ब्रा नजर आई. कुछ ही झटकों के बाद उसकी गांड भी हिलने लगी थी और अब वो पूरे मज़े से चुदाई का मज़ा ले रही थी.

’ की आवाजें निकलने लगीं और उसकी इन आवाजों को सुनकर मेरा लंड तो लोहे से भी मजबूत होता जा रहा था. जैसे ही मैंने भाभी के आंसू देखे, तो रुक गया और कहा- आपने मुझे बताया क्यों नहीं कि इतना ज्यादा दर्द हो सकता है. मगर कार्तिकेय ने एक अनुभवी चोदू की तरह लंड को जरा सा खींचा और फिर से तेज झटका दे दिया.

अगले 2 दिन तक, जब तक मेरे घरवाले वापस नहीं आ गए, उसने मुझे बहुत प्यार किया. जब तक हमारा पूरा पानी नहीं निकल गया, हम दोनों अपने जिस्मों को थिरकाते रहे. गांड में चिकनाहट हुई तो मैंने अपने लौड़े को तेजी से अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया.

छोटी बच्ची के साथ बीएफ मैंने उनकी आंखों से आंखें मिलाईं, तो मैम की हल्की सी मुस्कान के साथ एक नारीसुलभ लज्जा भी झलक गई. ”शबाना ने मेरा लण्ड छोड़ दिया, अपने चेहरे से नकाब हटाया, मेरे गले लग गई.

राजस्थानी सेक्स सेक्स सेक्सी

हम दोनों होटल से आते थे और एक लड़की नई शादीशुदा थी तो वो अपने हस्बैंड के साथ दूसरे होटल में रहती थी. एक बार की बात है, गर्मियों की छुट्टी में जेठानी जी अपने मायके गई थीं तो जेठजी खाना खाने हमारे घर आ जाते थे. मैंने उनके एक मम्मे को अपने मुंह में लिया और धीरे-धीरे चूसना दबाना शुरू कर दिया.

मैंने कहा- ओके … आपकी किस स्ट्रीम से एमए कर रही हैं?उन्होंने बताया- इंग्लिश से. आप का गिलास कहाँ है?”गिलास से तुम लोग पियो, मैं गिलास से नहीं पियूँगा. एक्स एक्स एक्स चुदाई की बीएफजब से जुम्मन की शादी हुई थी और उसकी बीवी की खूबसूरती की शोहरत सुनी थी, तब से उसके दीदार की तमन्ना थी.

वो अंकल का पूरा लंड अपनी चुत में अन्दर तक लेने की कोशिश कर रही थीं.

इसके बाद मैंने उसे ग्वालियर में कई बार चोदा और ग्वालियर को ही अपना कर्मक्षेत्र बना लिया. मैं भी उनका साथ दे रहा था और अपने हाथों से भाभी के मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही मसल रहा था.

तभी उन्होंने मेरी ब्रा निकाल दिया और मेरी चूची को अपने हाथों में लेकर मसलने लगे. वो मुझे हमारी क्लास के ऊपर वाले माले पर ले गया जो हमेशा बंद रहता था. वो कुछ समझ पातीं कि मैंने बिजली की गति से अपना लंड उनकी चूत के मुँह पर रख कर एक जोरदार धक्का दे दिया.

अचानक ही उसको ध्यान आया कि उसने बाथरूम का दरवाजा बंद नहीं किया है वो अगले ही पल पलटी तो उसकी नजर सीधी मेरे ऊपर गयी.

फिर जेठ जी मेरे आगे हुए और मुझे अपनी गोदी में उठा कर बेड की ओर ले गए. अभी मुश्किल से 30 सेकंड ही उसकी रसभरी चूत को चूसा था कि एक गर्म धार उसकी चूत से निकल कर मेरे मुँह में गिरने लगी और मैं जितना हो सकता था, उसके मूत को पीने लगा. उसकी आंखों में शोखी देख कर मुझे लगने लगा था कि दिल्ली की लौंडिया है, साली लंड लेने में ज्यादा नखरे नहीं करेगी.

एचडी बीएफ एचडी बीएफ बीएफ एचडी बीएफइस बीच मैंने उसकी कमर में हाथ भी डाला और उसके ब्लाउज के ऊपर से उसके बूब्स भी दबाए. उसका लहंगा ऊपर करके उसकी टांगें खोल दीं और उसे आगे को खींच कर लंड चूत के अन्दर डालने लगा.

एक्सएक्सएसए

मैं लगातार मैडम की चूची को खींच खींच कर पी रहा था और मैडम खुद अपने हाथ से अपने दूध पकड़ कर मुझसे चुसवा रही थीं. अब्बू के लण्ड का सुपारा मेरी बुर के लबों में फँसा हुआ था, तभी अब्बू के लण्ड से गरम गरम रस निकला. अगर तुम इस राज़ को राज़ ही रखना चाहते हो, तो मैं जैसा कहूं … वैसा करना पड़ेगा.

अमित के कहने पर उस दिन मैं अपनी शादी का जोड़ा पहन कर तैयार हो गई थी. सामने मुझे दो बहुत सुंदर गोल अमृत कलश दिख रहे थे, जिस पर भूरे रंग के दो रुपये के सिक्के के नाप के बड़े अरोला थे, जिन पर अनार के दाने जितने बड़े निप्पल उसकी जवानी पर चार चांद लगा रहे थे. मैंने अपने प्यासे होंठों को उसके सुर्ख ओर गर्म होंठों से चिपका दिया.

अब मैं उठकर उसकी बगल में लेट गया और अपनी एक टांग को उसकी मखमली टांग पर रख दिया. ट्रेन की छुक छुक और उनकी सीसीईई की आवाज पूरे वातावरण में एक मधुर संगीत सी गूंजने लगी. अर्शिया के बोबों से खेलने का और उनको चूसने का मेरा एक सपना तो पूरा हो गया था.

मैं चोदने से पहले उसे खूब तड़पाना चाहता था इसलिए उसकी चुत को जीभ से चाटने लगा. मुझ पर कण्ट्रोल नहीं हुआ तो मैंने उसे अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

वो अपनी टांगें सामने टेबल पर पसारती हुई बोलीं- अंश एक सिगरेट सुलगाओ.

इस बात पर मुझे हंसी आ गई और मैंने भाभी के बोबों पर हल्का सा दबाव डाला, तो उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और मेरा हाथ अपने दूध पर पूरी ताकत से दबा दिया. बीएफ सेक्स भोजपुरी बीएफअंजुमन की चूत पानी निकलने से चिकनी हो चुकी थी इसलिए एक ही झटके में उसकी चुत ने मेरा आधा लंड अन्दर तक ले लिया था. बीएफ दिखाओ बीएफ पिक्चर बीएफथैंक्स दोस्तो, अपनी पहली चुदाई की देसी अंकल सेक्स स्टोरी के लिए मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा. ये मेरी पहली यंग सिस्टर सेक्स कहानी है, इसलिए कोई गलती हो तो माफ कीजिएगा.

अब वो आंख बंद किए हुए मेरे लंड को हिलाती रहीं और मैंने भी उनकी पैंटी को साइड में करके उनकी चुत को दो उंगलियों से रगड़ने लगा.

अस्पताल से बाहर निकल कर अंकल बोले- चलो पहले कुछ खा लो, तुमने सुबह से कुछ नहीं खाया. यह सुनकर मैंने राजधानी की गति की तरह अपने लौड़े को उसकी चूत में डालना निकालना चालू कर दिया. अपनी भाभी से हरी झंडी मिलने के बाद वो तुरंत ही मेरी दीदी के होंठों को चूसने लगा … किस करते करते वो पीछे से ही मेरी दीदी की गांड भी दबाने लगा.

वो जब भी मुझे देखता था, तो मैं उसे अपनी नशीली आंखों से देख कर एक कातिल सा इशारा कर देती थी. फिर मैंने चुदाई की पोजीशन बनाई और अपने लंड के टोपे को उसकी चुत की फांकों में फंसा कर लंड रगड़ने लगा. हालांकि इन 6 महीनों में शरद एक सप्ताह की छुट्टी डाल कर मुझसे मिलने दो बार आए थे और दोनों बार हमने पूरे सप्ताह का भरपूर आनन्द उठाया.

बकरा बकरी की सेक्सी वीडियो

उन्होंने बात का रुख बदलते हुए कहा- अरे अपने बॉयफ्रेंड से कर रही होगी, क्यों कोई तो होगा ही!अब तक मुझे समझ आ गया कि इस तरह से अंकल बात आगे बढ़ाना चाहते हैं. मैंने कहा- ये तुम्हारी नशीले आंखें, इनको देखते ही मैं इनमें डूब जाता हूँ. फिर वो अचानक से मुझे छोड़ कर बाथरूम में गईं और अपनी चूत को अच्छे से साबुन लगा कर धोकर आ गईं.

मैंने सरोज को लंड पर झुका लिया और वो लॉलीपॉप के जैसे लंड चूसने लगी.

वो बिना कुछ बोले बस अपना मुँह मेरी चुत में घुसाए रहा और मुझे मस्त करता रहा.

जैसा कि मैंने आप सभी को बताया कि मैं अपनी ट्रेनिंग के बाद 1 महीने की छुट्टी पर आया था. जिसके जवाब में मेरी बीवी ने उसको अपने नंगे मम्मों की फोटो भेजी हुई थी. मूवी सेक्सी बीएफ चुदाईशायद मेरे इस प्रतिक्रियाहीन रवैये को उसने हां समझा और एक जोरदार रगड़ से उसने मेरे कंधे पर अपना पूरा लिंग दबाकर मुझे महसूस करा दिया.

उसके कड़क हो चुके निप्पलों को भी अपनी उंगलियों में भर कर मींजने लगा. शादी के अगले दिन जब मैं वापस घर आ रही थी तो उसने मुझे अपना फोन नम्बर दिया और बात करने को बोला. मैंने उससे पूछा- भाई तुम यहां कैसे आए हो?उसने बताया कि वो फैमिली के साथ आया है.

उन तीन लड़कियों में से एक लड़की आजकल उसी शहर में पढ़ रही थी जहां मैं पढ़ाई कर रहा था. हैलो फ्रेंड्स, मैं आपको मेरी और मेरी मौसेरी बहन अर्शिया की सेक्स कहानी सुनाना चाहता हूँ.

जैसे जैसे डिस्चार्ज का समय करीब आ रहा था, लण्ड मोटा और कड़क होता जा रहा था.

मौका भी था और दस्तूर भी … क्योंकि आग दोनों तरफ अब बराबर की लग चुकी थी. उन्होंने भी देरी नहीं और मुझे जोर से पकड़ कर बिस्तर की ओर धकेल दिया और मेरे ऊपर ऐसे चढ़ गए जैसे कोई कसाई अपने जानवर के ऊपर आ गया हो. मैं उसकी बात से चौंक गई और हंसने लगी- ये कैसी बात … पहले गर्म फिर ठंडा!वो मेरे बदले हुए रूप से अचकचा गया और बोला- आहहां … गर्म ठंडा बाद में होता रहेगा.

गरमा गरम सेक्सी बीएफ मैंने चिकनी चूत में अपनी जीभ लगा दी और वो मेरे लौड़े को मुंह में लेकर चूसने लगी।अब दोनों एक-दूसरे के अंगों को चूसने लगे।वो लंड को बड़े मजे से चूस रही थी और मैं उसकी चूत को चाटने लगा।मैंने उसकी चूत में जीभ घुसा दी वो लंड को दांतों से दबाने लगी।अब मैंने उसकी गीली गर्म चूत को अपनी जीभ से चोदना शुरू कर दिया और तेज़ तेज़ झटके लगाने लगा. वो भी लंड की प्यासी लग रही थी इसलिए कुछ देर बाद नीचे से अपनी गांड उठाकर चूत को लंड की ओर धकेलने लगी।अब ऐसा लग रहा था जैसे कि मेरा लंड उसकी चूत की चुदाई नहीं कर रहा है बल्कि उसकी चूत ही मेरे लंड को चोद रही है.

उसने अपने बदन पर केवल एक तौलिया लपेट रखा था और सिर पर भी तौलिया बांधा हुआ था. वो पूरे मज़े ले रही थी और इधर मेरा बेचारा लंड ऐसी सजा काट रहा था, जैसे भूख से तड़प रहा था. सिस्टर Xxx सेक्स कहानी कैसी लगी कृपया कमेंट में बताइए, या मेल कीजिएगा.

सेक्सी का वीडियो सेक्सी फिल्म

मैं एक लम्बे अरसे से अपने चाचा के घर के लोगों से मिला भी नहीं था, तो मुझे बहुत खुशी थी कि शादी में सब मिलेंगे और काफ़ी मज़ा आएगा. वो मुझे चोदता हुआ बोला- चुप साली भोसड़ी की … चुप रह रंडी … बस मजा ले. बचपन से ही पढ़ाकू रही हूँ और साथ ही साथ अपनी निजी जिंदगी में भी मैंने अब तक भरपूर मज़े लिए हैं.

जब मैं उससे मिलने के लिए दिल्ली गया, तो होटल में रुका और मिलने के लिए उसे होटल में बुलाया. यदि आपको कोई दिक्कत न हो, तो मैं आपके कमरे पर आ जाऊं?मैं उस टाइम अपने रूम पर रेस्ट कर रहा था तो मैंने अलीज़ा को बोला- हां इसमें दिक्कत कि क्या बात है, तुम मेरे रूम पर आ जाओ.

ये देख कर मैंने झट से उसके होंठों को अपने होंठों से चिपका लिया और चूमने लगा.

मैं समझ चुका था कि अब दीदी की चूत को मेरा 8 इंच का काला मोटा मूसल लंड का इंतज़ार है. निशा ने चड्डी भी सफेद रंग की ही पहन रखी थी, जो आगे से पूरी तरह गीली थी. इस बीच मेरी चाची एक बार झड़ चुकी थी; उनकी चूत और मेरे लंड की टकराहट से चप चप की आवाज आना शुरू हो गई थी.

अब आगे भाभी के साथ माउथ सेक्स:दूसरे दिन करीब रात के दस बजे में उनके घर पहुंच गया. मैंने मॉम से पूछा- मेरे दिमाग में एक सवाल आया था … क्या सभी लोग अपनी मॉम या सिस्टर के साथ सेक्स करते हैं?मॉम ने कहा- सभी मॉम का मन तो होता है अपने बेटे से चुदाने का … लेकिन हिम्मत नहीं जुटा पाती. तभी मेरे नज़र अपने कमरे के दरवाजे पर जा पड़ी … जहां मैंने देखा हमारी काम वाली बाई दीवार से सटी अपने एक हाथ को अपनी दोनों जांघों के बीच की जगह को बार बार कुदेरने की कोशिश कर रही थी.

मुझे मालूम है, सबसे पहले मैं, फिर अम्मी और लास्ट में मुमताज को आपका प्यार मिला.

छोटी बच्ची के साथ बीएफ: मेरे पास लंड की कमी नहीं थी लेकिन मुझे कार्तिकेय की याद बड़ी सताती थी. मैं अपने मम्मों के ऊपर हाथ रखकर उन्हें छुपा रही थी क्योंकि मैंने ब्रा नहीं पहनी थी.

मैंने मेरा एक हाथ उस चादर में डाला और अर्शिया की चुत के पास ले गया. करीब 10 मिनट ऐसी चुदाई के बाद मैंने उसको डॉगी स्टाइल में किया और लण्ड को पीछे से एक ही झटके में अंदर कर दिया. ”मैंने उसको अपने से नीचे उतारते हुए कहा और मैंने सोफे से उतर कर उसको अपनी गोद में उठाकर अपने गद्देदार बेड पर लाकर रख दिया और तुरंत ही उसके ऊपर चढ़ गया.

साथियो, मेरा नाम अरिजीत सिंह है और मैं चंडीगढ़ से थोड़ी दूर के एक छोटे कस्बे में रहता हूँ.

मैं कुछ जोर से दबाव देते हुए उसके निप्पलों को मरोड़ने लगा और पीठ और कंधों पर अपने दांत गड़ाने लगा. काफी देर लंड चूसने के बाद अमित के अन्दर न जाने कैसा करंट दौड़ने लगा कि वो मेरे मुँह में काफी लंबे लंबे शॉट मारने लगा. जेठ जी ने कहा- आखिर मैं इस चेहरे को इतना प्यार करता हूं, इसके लिए मैं सारी मर्यादा भूल चुका हूँ.